छत्तीसगढ़ » कोण्डागांव

Previous1234Next
Date : 19-Jul-2019

संयुक्त सचिव ने महिला सशक्तिकरण केन्द्र आशा का किया अवलोकन

कांच की चुड़ी प्रशिक्षण सह उत्पादन केन्द्र देखकर हुए प्रभावित

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 जुलाई।
नीति आयोग के संयुक्त सचिव दिलीप कुमार ने 18 जुलाई को कलेक्ट्रेट परिसर में स्थित महिला सशक्तिकरण केन्द्र आशा (कांच की चुड़ी प्रशिक्षण सह उत्पादन केन्द्र व सिलाई प्रशिक्षण) का अवलोकन किया गया।
 इस दौरान उन्होंने जिला प्रशासन के माध्यम से स्थानीय महिला स्व-सहायता समूहो के स्व-रोजगार के लिए किए जा रहे विविध उत्कृष्ट योजनाओं का क्रियान्वयन व उनके कार्य कलापो को सराहनीय बताया। इस मौके पर कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने जानकारी दी कि महिलाओं के लिए अन्य परम्परागत स्वरोजगार के अलावा चुड़ी निर्माण, सेनेटरी नैपकिन पेड निर्माण, फैंसिग तार निर्माण से जुडऩे के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है और इसके अच्छे प्रतिसाद भी मिले है।

जानकारी है कि, जिला कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के मार्गदर्शन में 19 फरवरी 2018 को कलेक्ट्रेट परिसर अंतर्गत आशा एक उम्मीद की किरण महिला सशक्तिकरण केंद्र की स्थापना की गई और 20 मार्च 2019 को यह केन्द्र संस्था के रूप में पंजीकृत हुआ है। इस केंद्र में मुख्य रूप से महिलाओं को सिलाई कार्य प्रशिक्षित कर केंद्र में ही अन्य विभागीय सिलाई कार्य जैसे आंगनबाड़ी केंद्र के बच्चो के लिए गणवेश, स्कूल यूनीफार्म आदि आवश्यकता अनुसार उपलब्ध कराकर आय के अतिरिक्त जरिए का साधन दिया गया है। इस केन्द्र में अब तक कौशल विकास योजना के तहत 80 महिलाओं को प्रशिक्षण मिला, जिसमें से 61 महिलाएं पूर्णत: प्रशिक्षित हो चुकी हैं। इस प्रकार वर्तमान में कुल 150 से भी अधिक महिलाऐं संस्था में कार्यरत हैं।

जानकारी हो कि, विगत समय में संस्था के माध्यम से महिला बाल विकास विभाग अंतर्गत प्राप्त कार्य आदेश के तहत आंगनबाड़ी केंद्र के 20 हजार बच्चों के लिए गणवेश की सिलाई, एकलव्य आदिवासी विद्यालय गोलावण्ड अंतर्गत 360 जोड़ी गणवेश की सिलाई व राजीव गांधी शिक्षा मिशन अंतर्गत 3 हजार बच्चों की गणवेश की सिलाई का कार्य पूर्ण किया गया है। इसमें उपरोक्त सभी सिलाई कार्यो से जुड़ी 100 महिलाओं को लगभग 3 लाख रुपए मजदूरी भुगतान किया जा चुका है। इसके साथ ही उक्त केन्द्र में 2 जुलाई 2018 से सेनेटरी नैपकिन पैड निर्माण कार्य भी प्रारंभ किया गया है। इस कार्य के लिए केन्द्र में दो महिला स्व सहायता समूहों सहित आसपास की महिलाओं को प्रशिक्षण भी दिया गया। जो सेनेटरी पैड उत्पादन का कार्य कर रही है और वर्तमान में स्थानीय जिला चिकित्सालय में उक्त केन्द्र की महिलाओं द्वारा बनाये गए सेनेटरी पैड की आपूर्ति की जा रही है। कलेक्टर ने संयुक्त सचिव को अवगत कराया कि आगामी समय में केन्द्र के आधुनिक मशीनों से परिपूर्ण कर और अधिक गुणवत्तायुक्त बनाया जाना प्रस्तावित है। साथ ही शासकीय विभागों से प्राप्त कार्य आदेशों के साथ-साथ निजी फर्मों से भी संपर्क स्थापित कर और अधिक स्वरोजगार व आय के साधनों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। इस दौरान एसडीएम टेकचंद अग्रवाल, डिप्टी कलेक्टर आस्था राजपूत, कार्यपालन अधिकारी अंत्यावसायी बाबूभाई श्रीवास, परियोजना अधिकारी लाईवलीहुड पुनेश्वर वर्मा उपस्थित रहे।


Date : 19-Jul-2019

वन मंडल केशकाल और कोण्डागांव के उद्यान विभाग द्वारा घर-घर पौधारोपण के लिए बांटा गया पौधा

कोण्डागांव, 19 जुलाई। उत्तर वन मंडल केशकाल और कोण्डागांव के उद्यान विभाग जिला उदार सहयोग से ग्राम पंचायत लंजोड़ा में निवासरत 900 परिवारों के प्रत्येक घरों में फलदार पौधों के रोपण के लिए 18 जुलाई को वृहद पौधारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पूर्व सांसद करुणा शुक्ला, पद्मश्री धर्मपाल सैनी, नगर पंचायत अध्यक्ष राज मरकाम, कांकेर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भुनेश्वर नागराज, पूर्व जिला पंचायत सदस्य मनहेर कोर्राम, फरसगांव जनपद उपाध्यक्ष शाम नेताम, के मुख्य आतिथ्य में कार्यक्रम की शुरुआत की गई।

आयोजन के दौरान मुख्य अतिथियों ने उपस्थित छात्र-छात्राओं व ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि, पूरा विश्व प्रदूषण की चपेट में है और इसका एक ही मात्र कारगर उपाय पौधा रोपण है। प्रकृति संतुलन बनाए रखने के लिए पौधा रोपण करने के साथ उसका संरक्षण करना बेहद जरूरी है। वनों के अंधाधुंध कटाई का ही दुष्परिणाम है कि प्रकृति पूरी तरह से असंतुलित हो चुकी है और वर्तमान पीढ़ी ही है जो प्रकृति के बचाव के लिए कुछ कर सकती है। इस महत्वाकांक्षी कार्ययोजना को व्यावहारिक स्वरूप देने के लिए शासकीय आयुर्वेद औषधालय के कर्मचारी, शाउमा विद्यालय लंजोड़ा के छात्र-छात्राओं, स्काउट गाइड, के छात्र-छात्राओं, राष्ट्रीय सेवा योजना के छात्र, रेड क्रॉस सोसायटी के विद्यार्थियों, ऋषि विद्यालय लंजोड़ा, के विद्यार्थियों व लंजोड़ा स्थित समस्त विद्यालयों के विद्यार्थियों अध्यापकों के माध्यम से उत्साह पूर्वक इस ऐतिहासिक कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिए। इस दौरान मुख्य अतिथियों द्वारा सभी बच्चों को अपने घर और आस पड़ोस में रोपित करने के लिए 2000 फलदार पौधों का वितरण किया गया। वैसे 15000 पौधारोपण का लक्ष्य था जिसमें 2000 पौधे उपलब्ध हो पाया। आयोजक समिति ने कहा कि, अभी आगे भी लगातार घर-घर पौधारोपण कार्यक्रम चलता रहेगा।

 


Date : 19-Jul-2019

नीति आयोग के संयुक्त सचिव ने किया जिला अस्पताल का निरीक्षण

अस्पताल प्रबंधन के बेहतर संचालन के लिए जिला प्रशासन के प्रयासो को सराहा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 जुलाई।
नीति आयोग भारत सरकार के संयुक्त सचिव दिलीप कुमार के माध्यम से कोण्डागांव जिले के जिला अस्पताल आरएनटी का 18 जुलाई को निरीक्षण किया। उन्होंने अस्पताल के विभिन्न वाडों का अवलोकन किया और संबंधित अधिकारियों से व्यवस्था की जानकारी ली। इसके साथ ही उन्होंने अस्पताल परिसर में ही पोषण पुर्नवास केन्द्र को देखा, जहां बच्चो को दी जा रही सुविधाओं की जानकारी ली। 

केन्द्र में भर्ती बच्चो की माताओं को समझाईश देते हुए कहा कि, डॉक्टरो के माध्यम से बच्चो के स्वास्थ्य व पौष्टिक आहार के विषय में जो कुछ भी जानकारी दिया गया है। उसका घर मे भी नियमत: पालन करें। 

10 बिस्तर वाले पोषण पुर्नवास केन्द्र में उपस्थित चिकित्सक ने मौके पर बताया कि, जिले के समस्त ग्रामीण क्षेत्रों के कुपोषित बच्चों को 15 दिन अथवा उससे अधिक दिन तक यहां रखने की व्यवस्था की गई है। यहां बच्चों को पौष्टिक आहार नियमित रुप से दिए जाते है और इसके सकारात्मक परिणाम भी निकले है। इसके साथ ही उन्होंने गहन नवजात पालन कक्ष का अवलोकन कर वहां उपस्थित नर्सो से उनके कार्यो की जानकारी ली। चिकित्सको की कमी के विषय में संयुक्त सचिव का कहना था कि डॉक्टरो को बेहतर पैकेज देकर यहां पदस्थ किया जा सकता है। अंत में उन्होंने अस्पताल प्रबंधन की पूरी व्यवस्था पर संतोष जताया। इसके साथ ही चिकित्सको के माध्यम से उन्हें यह भी बताया गया कि, कलेक्टर नीलकंठ टीकाम प्रत्येक सोमवार को नियमित रूप से जिला अस्पताल का निरीक्षण कर वहां की मूलभूत आवश्यकताओ की मानिटरिंग की जाती है। 

 


Date : 19-Jul-2019

बस से लैपटॉप पार करने वाला बंदी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 जुलाई।
जगदलपुर से रायपुर जा रहे रायपुर के युवकों का किसी अज्ञात व्यक्ति ने कोण्डागांव के पास बस से लैपटॉप पार कर दिया था। इस मामले की सूचना जैसे ही सिटी कोतवाली कोण्डागांव पुलिस को मिली पुलिस ने एक्शन मोड में आकर तुरंत ही लैपटॉप पार करने वाले युवक को धर दबोचा है। पुलिस ने पकड़े गए युवक के पास से लैपटॉप भी बरामद कर लिया है। फिलहाल आरोपी युवक के विरूद्ध मामला बना कर न्यायालय में पेश कर दिया गया है।

जानकारी अनुसार, रायपुर निवासी सुभम जैन और लोमास मंकुपिया  अपने एचडीव्ही फायनेंस कम्पनी के कार्य से जगदलपुर पहुंचे हुए थे। कार्य पूरा कर दोनों कर्मचारी 18 जुलाई को महिंद्रा बस में सवार होकर रायपुर लौट रहे थे, लेकिन कोण्डागांव के पास किसी ने उनका लैपटॉप बस से पार कर दिया था। इसके बाद दोनों युवकों ने मामले की शिकायत सिटी कोतवाली कोण्डागांव में पहुंचकर की थी। मामले की शिकायत मिलते ही कोतवाली पुलिस  पुछताछ और बस स्टैण्ड में लगे सीसीटीवी कैमरा की मदद से लैपटॉप पार करने वाले युवक तक जा पहुंची। पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि, जगदलपुर नयामुंडा निवासी विजय कुमार यादव कल कोण्डागांव कोर्ट में पेशी के लिए इसी बस से पहुंचा था। बस से उतरते समय उसने लोमास मंकुपिया का लैपटॉप बस से पार कर दिया था। फिलहाल विजय यादव की गिरफ्तारी कर उसे न्यायालय में पेश कर दिया गया है।

 

 


Date : 19-Jul-2019

जिला अंत्यावसायी प्रशिक्षण केन्द्र पहुंचे नीति आयोग के संयुक्त सचिव

फ्लैक्स प्रिटिंग मशीन प्रशिक्षण, एलईडी बल्ब निर्माण, चुड़ी निर्माण जैसे नए ट्रेडो में युवाओं का बढ़ा आकर्षण

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 जुलाई।
इसमें कोई दो राय नहीं कि युवाओं की ऊर्जा को नई दिशा मिलना निहायत जरुरी होता है अन्यथा उनमें भटकाव की स्थिति आने में देर नहीं लगती। यह भी कड़वी सच्चाई है कि वर्तमान परिदृष्य में सभी क्षेत्रों में नौकरियों के अवसर सीमित होते जा रहे है। ऐसे में एक मात्र विकल्प स्वरोजगार ही रह जाता है। इस क्रम में ग्रामीण क्षेत्रो के युवाओं के लिए स्थिति और भी विकट हो जाती है। अत: आज के युग में जो युवा पढ़ाई के साथ-साथ अपनी रुचि अनुसार अपने हुनर को संवारता है, वह कभी भी बेरोजगार नहीं होता और तो और वर्तमान में ऐसे कई क्षेत्र है। जहां थोड़ी लगन और मेहनत से अपनी प्रतिभा को निखारा जा सकता है। यह क्षेत्र इलेक्ट्रानिक्स हो या ड्राइविंग, सिलाई हो या ऑटोमोबाईल या फिर कम्प्युटर प्रशिक्षण भी हो सकता है। जिले के अंत्यावसायी व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र चिखलपुटी में भी इसी उद्देश्य को लक्ष्य बनाकर विभिन्न ट्रेडो की शुरुवात की गई है। यहां यह बताना जरुरी होगा कि जिला कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के माध्यम से अपनी पदस्थापना के पश्चात ही इस अंत्यावसायी प्रशिक्षण केन्द्र में स्किल डव्हलपमेंट के क्षेत्र में नए-नए ट्रेड प्रारंभ करने के निर्देष दिए गए थे। फलस्वरुप आज यहां अन्य परम्परागत ट्रेड के साथ-साथ नए प्रशिक्षण कोर्स प्रारंभ कर दिए गए है। जिनमें एलईडी बल्ब निर्माण, फ्लैक्स प्रिटिंग मशीन प्रशिक्षण, सीमेंट ईंट निर्माण, चुड़ी निर्माण जैसे प्रशिक्षण शालाऐं कार्यरत है। 

इस क्रम में 19 जुलाई को नीति आयोग के संयुक्त सचिव दिलीप कुमार उक्त अंत्यावसायी व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र चिखलपुटी पहुंचकर प्रशिक्षण शालाओं का निरीक्षण किया गया। मौके पर कलेक्टर द्वारा उन्हें बताया गया कि, विगत् एक वर्ष से जिला प्रशासन की पहल पर फ्लाईएष ब्रिक्स निर्माण युनिट स्थापित कर स्थानीय महिला स्व सहायता समूहो को संचालित करने का अवसर दिया गया। फलस्वरुप समूह के हितग्राही प्रतिदिन 250 से 300 रुपए आय अर्जन कर रहे है। इसी प्रकार वर्तमान में फ्लाई एष ब्रिक्स, आई पेवर ब्लाक, आरसीसी पोल, फैंसिंग तार जाली का निर्माण महिला स्व सहायता समूहो के माध्यम से किया जा रहा है। 

इस निर्मित सामग्रियों की मांग जिले के सभी शासकीय व निजी निर्माण कार्यो में निरंतर की जा रही है। इस प्रकार वर्तमान में इस ईंट यूनिट में 20 हितग्राही लाभान्वित है। एलईडी बल्ब निर्माण सह प्रशिक्षण कार्यशाला में भी इसी प्रकार लगभग 80 युवक-युवती जुड़कर सात से आठ हजार प्रतिमाह लाभ ले रहे है। मौके पर प्रशिक्षक महीप सिंह ने संयुक्त सचिव को बताया कि, यहां से निर्मित एलईडी बल्ब व ट्यूब लाईट का विपणन क्षेत्र आसपास के अन्य जिलो के अलावा उडि़सा क्षेत्र में भी है। इस क्रम में संयुक्त सचिव ने अंत्यावसायी परिसर में ही स्थित चुड़ी निर्माण भट्टी व फ्लैक्स प्रिटिंग मशीन का भी अवलोकन किया। 

बिहान केन्द्र मेें स्व सहायता समूह द्वारा निर्मित सामग्रियों का क्रय किया
इस क्रम में नीति आयोग के संयुक्त सचिव दिलीप कुमार ने रजबंधा तालाब के किनारे स्थित बिहान केन्द्र में महिला स्व सहायता समूहो द्वारा निर्मित सामग्रियों का भी अवलोकन किया। उल्लेखनीय है कि अलग-अलग विकासखण्डो से आई महिला स्व सहायता समूहो ने अपने द्वारा निर्मित विभिन्न उत्पाद व सामग्रियों जैसे अचार, मसाले, मिष्ठान, अगरबत्ती, ईमली के पैकेट, सूखे शरुम, महुआ के लड्डू, चिरौंजी के पैकेट व अन्य शिल्प सामग्रियों को बड़ी रुचि से संयुक्त सचिव को दिखाया। मौके पर संयुक्त सचिव ने भी उनकी कुछ सामग्रियों की खरीदारी करके हौसला अफजाई की।


Date : 18-Jul-2019

सामुदायिक वन अधिकार से जल, जंगल, जमीन पर ग्रामीणों को मिलेंगे विशेषाधिकार - कलेक्टर

कोण्डागांव, 18 जुलाई। राज्य शासन के माध्यम से वन अधिकार अधिनियम 2006 व संशोधित नियम 2012 के अंतर्गत सामुदायिक वनाधिकार को और परिभाषित करते हुए इसका क्षेत्र विस्तार कर दिया गया है। इसके तहत ग्राम वन अधिकार समिति के माध्यम से मूल समुदाय के हितो को सुरक्षित करते हुए, बसाहट की सीमांकन क्षेत्र की भूमि, वन व जल संसाधन पर स्वंय समिति का विशेषाधिकार होगा। फलस्वरुप इससे क्षेत्रीय वन सम्पदा का संरक्षण, पुनरुज्जीवन, प्रबंधन बेहतर ढंग से होंगे और ग्रामीणों द्वारा अर्जित वनोपज के व्यवसायिक उपयोग को बढ़ावा दिया जा सकेगा। इस संबंध में 17 जुलाई को विकासखण्ड फरसगांव के ग्राम कोनगुड़ के अलावा बढग़ई, हाटचपई, फुण्डेर, बारदा, तोयेपाल के ग्रामीणों की कार्यशाला आयोजित की गई थी। 

इसमें कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के माध्यम से विस्तारपूर्वक इसकी जानकारी देते हुए बताया गया कि, सामुदायिक वन अधिकार वास्तव में ग्राम सम्पदा पर स्थानीय सामुदायिक उपभोग का दस्तावेज है। इसमें ग्राम वन अधिकार समिति का अपने ग्राम के सीमांकन का दायित्व होगा और इस चिन्हित भूमि में ग्रामवासियों के वनोपज संग्रहण के लिए वन भूमि, पशुचारण भूमि, मत्स्याखेट, परम्परागत दैवीय स्थल, तालाब इत्यादि पर विशेषाधिकार होंगे। इससे उनके के माध्यम से संग्रहित वनोपज जैसे महुआ, तेन्दुपत्ता, चिरौंजी, साल बीज, हर्रा, बेहड़ा, शहद, मत्स्य उत्पादन का अधिक व वास्तविक मूल्य मिलेगा। इसके साथ ही इससे अवैध वन कटाई, अतिक्रमण जैसे मामलो में भी कमी आएगी।

इसके लिए ग्राम स्तरीय समिति के माध्यम से वन व राजस्व विभाग के माध्यम से अनुमोदित प्रस्ताव अनुभाग स्तरीय समिति को प्रेशित किया जाएगा। जहां इन दावो को जिला स्तरीय वन अधिकार समिति के समक्ष रखी जाएगी। इन सब कार्रवाही में 15 दिवस का समय निर्धारित किया गया है। इस संबंध में सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग जीएस सोरी के माध्यम से बताया गया कि, सामुदायिक वन अधिकार अधिनियम में सामुदायिक अधिकार, गौंण वन उत्पादो पर अधिकार, उपयोग या पात्रता, पशु चराई के लिए पारम्परिक संसाधनो पर पशुपालको की पहुंच, समुदायो के लिए प्राकृतिक बसाहट, जैव विविधता तक बौद्धिक सम्पदा और पारम्परिक ज्ञान तक पहुंच के अधिकार को स्पष्ट कर दिया गया है। कलेक्टर ने ग्रामवासियों को अधिक से अधिक संख्या में शामिल होकर इस योजना के क्रियान्वयन को समझने का आग्रह करते हुए कहा कि, वे ग्राम वन अधिकार समिति के सदस्यो को हर संभव सहयोग देवे। क्योंकि यह न केवल स्वंय के लिए बल्कि भावी पीढ़ी के भविष्य के लिए क्रांतिकारी कदम होगा। इस दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित रहे। 

 


Date : 18-Jul-2019

केयरिंग हैंड्स ने मवेशियों के गले में बांधा टाई

कोण्डागांव, 18 जुलाई। सड़कों में आवारा मवेशियों के कारण कई गंभीर हादसे होते हैं। खासकर हादसे अंधेरे में मवेशियों के दिखाई नहीं देने के कारण बढ़ जाते हैं। होने वाले हादसों को कम करने के उद्देश्य से केयरिंग हैंड्स के सदस्यों ने सड़क पर भटकने वाले मवेशियों के गले में रिफ्लेक्टर बेल्ट बांध सड़क हादसों के अंदेशा को कम किया। 

सड़क पर भटकने वाले मवेशियों के गले में रिफ्लेक्टर बेल्ट बांधने के बारे में संस्था की सदस्य रश्मि राज ने बताया, विगत 5 महीनों से केयरिंग हैंड्स कोण्डागांव के माध्यम से आवारा मवेशियों को रिफ्लेक्टर बेल्ट बांधा जा रहा है। अब तक कुल 478 मपेशियों को रिफ्लेक्टर बेल्ट बांधा जा चुका है। इसका मुख्या उद्देश्य रात्रिकालीन दुर्घटना से बचाना है। 17 जुलाई की रात भी केयरिंग हैंड्स के सदस्य ने जिला अस्पताल आरएनटी से लेकर आड़काछेपड़ा पारा तक लगभग 80 मवेशियों को रिफ्लेक्टर बेल्ट बांधा। रश्मि राज ने आगे बताया कि, केयरिंग हैंड्स कोण्डागांव ग्रुप का मुख्य उद्देश्य भटके हुए जानवरो की सुरक्षा, चिकित्सा सुविधा, जानवरो के साथ हो रही अप्रिय घटनाओ के रोकथाम कर उपचार और जानवरो के प्रति लगाओ को प्रोत्साहन देना है। साथ ही गरीब व अनाथ बच्चो की मदद व हर संभव सहायता करना है। विगत 2 दिनों से मवेशियों को रिफ्लेक्टर बेल्ट बांधने के कार्यक्रम में केयरिंग हैंड्स कोण्डागांव ग्रुप के सदस्य अनीता श्रीवास्तव, नविन संचेती, सौरभ मड़ामें, प्रियंका जांगड़े, सौम्या उपाध्याय, शैलेश टावरी, राजू सोनी, हर्ष, कविता गोलछा, श्रद्धा वर्मा, ऋषि व अन्य का योगदान रहा।


Date : 18-Jul-2019

शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय करंजी मे छात्रों का समूह विभाजन

कोण्डागांव, 18 जुलाई। शिक्षा गुणवत्ता मे बेहतर परिणाम लाने के लिए कलेक्टर नीलकंठ टीकाम व जिला शिक्षा अधिकारी राजेश मिश्रा के मार्ग दर्शन मे दिए गए निर्देशानुसार प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय करंजी मे प्राचार्य भुपेश्वरी ठाकुर की अध्यक्षता मे कक्षा छटवीं से बारहवी तक के अध्यनरत छात्र-छात्राओं को सत्यम, शिवाम, सुन्दरम् और मधुरम समूह मे विभाजित किया गया। 

इस अवसर पर छात्र-छात्राओं को शिक्षा गुणवत्ता पर दिए गए दिशानिर्देशों की जानकारी दी गयी। इसके अंतर्गत प्रार्थना मे सामन्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी, प्रति सोमवार विषय वार परीक्षा, नियमित उपस्थिति, साहित्यिक, सांस्कृतिक, खेलकूद गतिविधियों का आयोजन, छात्र-छात्राओं के बौद्धिक विकास के लिए वाद-विवाद, निबंध, भाषण प्रतियोगिताओ का आयोजन, स्वच्छता, स्वास्थ्य, पौधरोपण आदि की जानकारी दी गई।  संस्था मे कार्यरत शिक्षक-शिक्षिकाओं व अन्य कर्मचारियों को भी अलग-अलग समूह का प्रभारी बना कर समूह मे संचालित होने वाले गतिविधियों सुचारू रूप से चलाने की जिम्मेदारी दी गई। 


Date : 18-Jul-2019

जुआ के सौदागर गिरफ्तार

कोण्डागांव, 18 जुलाई। हॉट बाजारों में खुलेआम खुडख़ुड़ी खेलते हुए सौदा लगाना चार लोगों को भारी पड़ गया। सिटी कोतवाली पुलिस ने गांव के हाट बाजार से तीन युवकों को जुआ पर दांव लगाते और एक युवक को खिलाते हुए पकड़ा है। इनके पास से 2 हजार रुपए भी बरामद किए गए है।

जानकारी अनुसार, कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले गोलावंड गांव में बुधवार को साप्ताहिक बाजार भराता है। 
इस साप्ताहिक बाजार में कुछ लोग खुडख़ुड़ी के माध्यम से खुलेआम दाव लगा रहे थे। इसकी सूचना सिटी कोतवाली कोण्डागांव पुलिस को लग गई। सूचना के आधार पर पुलिस ने बाजार में जाकर रेट कार्रवाई करते हुए खुडख़ुड़ी खिला रहे युवक गणेश कोर्राम बाजारपारा गोलावंड को 1510 रुपए के साथ पकड़ा। वहीं मौके से पुलिस ने दाव लगा रहे कवल सिंह सेठिया मालगुजारपारा गोलावंड, सुबेचन्द सोरी  मड़ानार, किशन चंद सेठिया  निवासी मालगुजार पारा गोलावंड को भी पकड़ा। इन सभी के पास से कुल 2070 रुपए बरामद किए गए।

 


Date : 18-Jul-2019

सीआरपीएफ ने किया पौधारोपण

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 18 जुलाई।
विकासखंड फरसगांव के जुगानीकलार स्थित सीआरपीएफ 188वीं बटालियन कंपनी ने कमाण्डेन्ट सुनील कुमार के निर्देश पर 17 जुलाई को कंपनी परिसर व इसके आसपास पौधारोपण किया। पौधारोपण कार्यक्रम में निरीक्षक कमलेश कुमार व कंपनी के जवानों के माध्यम से गांव के सरपंच सरोज मंडावी, उप सरपंच भुवन पांडे, सचिव मोहन भारद्वाज व ग्रामीणों सहित शासकीय हाई स्कूल जुगानीकलार के बच्चों को पौधा वितरण किया गया। सभी ने मिलकर स्कूल परिसर, गांव आदि में पौधारोपण किया।

जानकारी अनुसार, मौनसून के आगमन के साथ सीआरपीएफ 188वीं बटालियन पौधारोपण और पौधा वितरण कार्यक्रम चला रही है। इसी कड़ी में 17 जुलाई को स्कूली बच्चें, सीआरपीएफ के जवानों, शिक्षकों सहित ग्रामीणों ने मिलकर 250 से अधिक फलदार और फूलदार पौधों का रोपण किया। इतना ही नहीं सीआरपीएफ कैंप जवानों के माध्यम से सभी बच्चों को अपने-अपने घर में पौधे लगाने के लिए पौधें प्रदान किया। इस अवसर पर निरीक्षक जीडी कमलेश कुमार ने सभी बच्चों व ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि, पौधे लगाने के साथ-साथ उसका संरक्षण भी बहुत जरूरी है। पौधे लगाकर उसका संरक्षण जरूर करें और पर्यावरण संरक्षण में भागीदारी बने। उन्होंने आगे कहा कि, पर्यावरण संतुलन को बनाए रखने के लिए ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण करें व अपने आसपास एवं घरवालों को भी पौधारोपण के लिए प्रेरित करें। पौधारोपण के दौरान ग्रमीणों में भारी खुशी का माहौल देखा। सभी ने उत्साहित होकर पौधारोपण में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिए।

 


Date : 18-Jul-2019

राशन कार्ड नवीनीकरण, शिविरों का आयोजन

फरसगांव, 18 जुलाई। फरसगांव नगर पंचायत मुख्यालय में आज 15 वार्डों में तीन अलग-अलग शिविर राशन कार्ड बनाने हेतु लगाए गए, जिसमें से एक पासंगी में एक मंडी प्रांगण में , और एक शिविर नगर पंचायत कार्यालय के सामने लगाया गया, जिसमें छत्तीसगढ़ सरकार की मंशा के अनुरूप सभी राशन कार्ड धारियों में एकरूपता लाने के लिए राशन कार्ड का नवीनीकरण किया जा रहा है। जिसके तहत ग्राम पंचायतों में एवं नगर पंचायतों में नोडल अधिकारी भी बनाए गए हैं । राशन कार्ड नवीनीकरण के लिए राशन कार्ड के प्रथम पृष्ठ की छाया प्रति एवं मुख्य आवेदक की दो फोटो एवं मुखिया सहित परिवार के समस्त सदस्यों का आधार कार्ड की छायाप्रति जमा करना आवश्यक है।

फरसगांव जनपद पंचायत के अंतर्गत 59 ग्राम पंचायतों में लगभग 20000 राशन कार्ड धारियों का राशन कार्ड का नवीनीकरण ग्राम पंचायत भवनों एवं शिविरों के माध्यम से किया जा रहा है , नवीनीकरण का कार्य 15 जुलाई से लेकर 29 जुलाई तक किया जाना है, आज नगर पंचायत के वार्ड क्रमांक 13 14 और 15 हेतु पासंगी में शिविर लगाया गया जिसमें उक्त वार्ड के राशन कार्डधारी पहुंचे इसके अलावा वार्ड क्रमांक 1 से लेकर 7 तक के निवासियों के लिए नगर पंचायत कार्यालय के सामने शिविर लगाया गया जिसमें काफी संख्या में नवीनीकरण कराने के लिए महिला कार्ड धारियों की भीड़ देखी गई। इसके अतिरिक्त वार्ड क्रमांक 8 से 12 तक के निवासियों के लिए मंडी प्रांगण फरसगांव में शिविर लगाया गया इसमें भी काफी संख्या में आवेदक गण पहुंचे। समय-समय पर खाद्य निरीक्षक शशी सिंह एवं नगर पंचायत की सीएमओ शांति बाजपाई , नगर पंचायत अध्यक्ष श्रीमती राज मरकाम , एवं उपाध्यक्ष विजय लांडगे के अतिरिक्त कार्यालय के कर्मचारी तीनों शिविर में पहुंचकर मार्गदर्शन देते हुए देखे गए। 

 


Date : 18-Jul-2019

देश के आकांक्षी जिलों में कोण्डागांव जिला अव्वल

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 18 जुलाई।
नीति आयोग की मई माह की जारी डेल्टा रैकिंग में छत्तीसगढ़ के कोण्डागांव जिला ने बाजी मारी है। पूरे देश में आकांक्षी जिलों में प्रथम स्थान हासिल किया है। नीति आयोग द्वारा देश के आकांक्षी जिलों में से पांच मोस्ट इम्पू्रवड डिस्ट्रिक्ट (पांच सबसे ज्यादा सुधार वाले जिलों) की सूची जारी की गई है। इसमें छत्तीसगढ़ का कोण्डागांव जिला पहले स्थान पर है। दूसरे स्थान पर उत्तरप्रदेश का फतेहपुर जिला, तीसरे स्थान पर झारखण्ड का पाकुर, चैथे स्थान पर राजस्थान का धौलपुर तथा पंाचवे स्थान पर उत्तरप्रदेश का चित्रकूट जिला है। 

कोण्डागांव जिले में स्वास्थ्य और पोषण के साथ ही अधोसंरचना विकास के कार्यो का बेहतर तरीके से क्रियान्वयन सुनिश्चित कर आमजन जीवन को बेहतर और आसान किया गया है। नीति आयोग द्वारा जारी डेल्टा सूची में कोण्डागांव जिले को पहला स्थान मिलने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों और जिला प्रशासन सहित पूरे जिलेवासियों को इसके लिए बधाई दी है।

 


Date : 18-Jul-2019

अब दूध उत्पादन में भी नई पहचान बनेगी कोण्डागांव की

नीति आयोग के संयुक्त सचिव दिलीप कुमार चुरेगांव पहुंचे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 18 जुलाई।
राज्य में मक्का प्रसंस्करण केन्द्र, चुड़ी डिजाईनिंग, एलईडी बल्ब निर्माण, तार फेंसिग निर्माण जैसी नवाचार रोजगार कार्यक्रमों से युवाओं और महिलाओं को जोडऩे के बाद अब दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में भी जिला कोण्डागांव अपनी नई पहचान बनाने के लिए अग्रसर है। यंू तो पूरे बस्तर संभाग में गौवंशीय दुधारू पशुओं की बहुतायत है। जिनसे प्राप्त दुग्ध का स्थानीय घरेलू खपत तो होता ही रहा है, पर इसका बड़े पैमाने पर व्यावसायिक नहीं के बराबर है। इस देखते हुए प्रथम बार जिला प्रशासन द्वारा जिले में होने वाले दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में रोजगार की संभावनाए तलाशी जा रही है। इसके तहत विकासखण्ड फरसगांव के ग्राम चुरेगांव कैंप मे दुग्ध संग्रहण सह प्रशीतन केन्द्र की स्थापना की जाएगी।

इस क्रम में आज मुख्य कार्यपालन अधिकारी नीति आयोग नई दिल्ली के निर्देशानुसार केन्द्रीय प्रभारी अधिकारी दिलीप कुमार (आईएएस) विशेष कार्य अधिकारी अध्यक्ष लोकपाल भारत सरकार द्वारा ग्राम चुरेगांव स्थित दुग्ध संग्रहण सह प्रशीतन केन्द्र का दौरा किया गया। इस दौरान उन्होंने केन्द्र का संचालन करने वाले समिति को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि, वे अधिक से अधिक मात्रा मे दुग्ध संग्रहण व विपणन करके इसे एक सफल व्यवसाय का रूप देंवे। 

इस अवसर पर कलेक्टर नीलकण्ठ टीकाम ने बताया कि, जिले में हो रहा दुग्ध उत्पादन खाद्य सुरक्षा (पौष्टिक आहार सुरक्षा) व स्वरोजगार सुनिश्चित करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम हो सकता है। इससे किसानों की आय दुगूनी करने के साथ-साथ दुग्ध उत्पादन व विपणन के कार्य को नई दिशा दी जा सकती है। इसके तहत् जिले में छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी दुग्ध महासंघ मर्यादित रायपुर के द्वारा फरसगांव विकासखण्ड के पांच ग्रामों चुरेगांव कैंप पूर्वी बोरगांव, सिंगारपुरी, मध्यम बोरगांव, का सर्वेक्षण किया गया था। सर्वेक्षण में यह पाया गया कि इस क्षेत्र में प्रतिदिन लगभग 3200 लीटर दुग्ध उत्पादन होता हैं। जिसमें से घरेलू उपयोग के उपरान्त 3000 लीटर दुग्ध प्रतिदिन अतिशेष रह जाता है। चूंकि इससे दुग्ध संग्रहण व विपणन की अच्छी व्यवस्था के अभाव मे स्थानीय पशु पालको को उनके दुग्ध का उचित मूल्य नहीं मिल पा रहा था। इसे देखते हुए जिला प्रशासन के माध्यम से नई कार्ययोजना बनाई गई और प्रस्ताव के तहत 3000 लीटर क्षमता बल्क मिल्क कूलर ईकाई केन स्क्रबर, 5000 लीटर क्षमता का स्टोरज टैंक, 5000 लीटर क्षमता कूलर ईकाई टैंकर डबल चैम्बर, दुग्ध परीक्षण किट, अभिलेख मिल्क केन, केमिकल, इलेक्ट्रानिक वजन मशीन, इलेक्ट्रनिक मिल्को टेस्टर, बोरवेल्स पंप पाइप, विद्युत कनेक्शन एंव अन्य अधोसंरचना विकास का निर्माण किया गया। वर्तमान में सभी कार्य पूर्ण हो चूके है और शीघ्र ही दुग्ध संग्रहण का कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा। इस प्रवास के दौरान नीति आयोग के संयुक्त सचिव दिलीप कुमार द्वारा व जिला कलेक्टर के माध्यम से प्रशीतन केन्द्र के प्रांगण मे पौधरोपण भी किया गया।

प्रगतिशील मत्स्य उत्पादक कृषक तारक बाला को मिली शाबासी
इस मौके पर संयुक्त सचिव दिलीप कुमार के माध्यम से ग्राम चुरेगांव मे ही मत्स्य बीज उत्पादन कर रहे कृषक तारक बाला के मत्स्य उत्पादक फार्म का निरीक्षण किया गया। इस कृषक ने मौके पर जानकारी देते हुए बताया कि, उसने लगभग अपने 5 एकड़ के फार्म मे मत्स्य उत्पादन का कार्य प्रारंभ किया है। जिसमें मृगल, कतला, कॉमनकार्प, तेलापिया, रोहू, मछलियो के साथ-साथ उनके बीज भी स्थानीय व्यापारियों को उपलब्ध कराते हंै। इस दौरान संयुक्त सचिव ने उस पूरे फार्म का निरीक्षण करते हुए उसकी सराहना किया। साथ ही जिला कलेक्टर ने उसे अन्य कृषको को भी मत्स्य उत्पादन संबंधी मार्गदर्शन देने की सलाह दी। इस मौके पर एसडीएम टेकचन्द अग्रवाल, उप संचालक पशुधन विभाग डॉ. देवेन्द्र नेताम, डॉ. सुरेन्द्र नाग, कार्यपालन अभियंता अरूण शर्मा, सचिन मिश्रा, स्थानीय ग्राम समुदाय व स्व-सहायता समुह की महिलाए उपस्थित रहे।


Date : 17-Jul-2019

शांति फाउंडेशन को मिली पहली सहयोग राशि

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 17 जुलाई।
शांति फाउंडेशन के कार्य को देखते हुए विकास खण्ड फरसगांव अंतर्गत आने वाले जैतपुरी गांव निवासी पदम नेताम ने तीन हजार रुपए की सहायता दी है। इस बारे में जानकारी देते हुए यतिंद्र (छोटू) सलाम ने बताया कि, पदम नेताम की बहन पिछले चार वर्ष से मानसिक रूप से विक्षिप्त थी और आये दिन घर से गायब रहती थी। इन सब के बाद भी परिवार ईलाज के लिए कोई कदम नहीं उठा पा रहा था। अब शांति फाउंडेशन के मदद से पदम नेताम की बहन प्रमिला पति स्व सुनील पोयाम को ईलाज के लिए 12 जुलाई को सेन्दरी सुधार गृह बिलासपुर भेजा गया है। शांति फाउंडेशन के कार्य को देखते हुए पदम नेताम ने संस्था के पदाधिकारियों से गुजारिस की है कि, विक्षिप्त लोगों के लिए आगे भी यह सरहानिय कदम जारी रहे। दान राशि यतिंद्र (छोटू) सलाम, संतोष सावरकर, गौरव ठाकुर, टोएस चंदेल, मुकेश मारकंडे, अतुल ठाकुर, गजांद चोरे, बब्लु श्रीवास, संजय तिवारी, पिला मरकाम और जय मरकाम के हाथों में सौपा गया।


Date : 17-Jul-2019

कलेक्टर नीलकंठ टीकाम की अध्यक्षता स्वतंत्रता दिवस समारोह की तैयारी के लिए बैठक सम्पन्न

कोण्डागांव, 17 जुलाई। जिला मुख्यालय कोण्डागांव में राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त गरिमामय तरीके से मनाया जायेगा। इसके लिए जिला कलेक्टर नीलकंठ टीकाम की अध्यक्षता में 16 जुलाई को आयोजित अधिकारियों की समय-सीमा बैठक में स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त के अवसर पर आयोजित समारोह की तैयारी के लिए अधिकारियों को विभागवार कार्यो की जिम्मेदारियां सौंपी गई।

कलेक्टर ने कहा कि इस वर्ष भी जिले में राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त परम्परागत हर्षोल्लास व गरिमामय तरीके से मनाया जायेगा। इसके पूर्व 14 अगस्त को सवेरे 6.30 बजे जगदलपुर नाका से जय स्तम्भ चैक तक स्वतंत्रता दौड़ आयोजित की जायेगी। इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस पर समारोह स्थल में बैठक, पानी, विद्युत, जनरेटर सहित आवश्यक व्यवस्थाओं के लिए संबंधित विभाग के अधिकारी पूर्व से ही तैयारी कर ले और इसकी समीक्षा 6 अगस्त को की जावेगी। ज्ञातव्य है कि परेड रिहर्सल 1 अगस्त से प्रारंभ होगा। सांस्कृतिक कार्यक्रमो के संबंध में कलेक्टर ने कहा कि समारोह के लिए चयनित सांस्कृतिक कार्यकमों की थीम में गरिमा के साथ विविधता भी होनी चाहिए। साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों में स्व-सहायता समूह की महिलाओं की भी प्रस्तुति शामिल किए जाये। इस प्रकार समस्त कार्यक्रमों के लिए सभी विभाग के अधिकारी आपसी समन्वय से कार्य करें। बैठक में पुलिस अधीक्षक सुजीत कुमार व सम्पूर्ण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी सहित समस्त विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

 


Date : 17-Jul-2019

सीआरपीएफ 188वीं बटालियन ने बांटे नि:शुल्क पौंधे

कोण्डागांव, 17 जुलाई। बस्तर और कोण्डागांव जिला के सरहद व लोहाण्डीगुडा थाना अंर्तगत तैनात सीआरपीएफ की 188वीं बटालियन की एफ कम्पनी के माध्यम से कैम्प परिसर मे चारों ओर आम, अमरूद, आवला, सीताफल, काजू, गुलमोहर, पीपल, बेल, सजना, सागवान, जामुन, बरगद जैसे एक हजार फलदार पौधे लगाए गए। इनता नही नहीं कैम्प के पहुंच व गोद लिए गए परौदा गांव में विभिन्न प्रकार के 300 पौधों का वितरण कर पौधारोपण किया गया। इस अवसर पर सहायक कमांडेंट चंदन कुमार, उप निरीक्षक शांतिलाल जटिया, ग्राम पंचायत खड़पड़ी सरपंच अनिता कश्यप, गांव की महिला, पुरूष और स्कूलीं बच्चें उपस्थित रहे। कार्यक्रम के अन्त में सहायक कमांडेंट चंदन कुमार ने अपने सम्बोधन में लोगों को पेड़ो से होने वाले लाभ के विषय में जानकारी दी और ग्रामीणो को अधिक से अधिक फलदार पेड़ लगाने के लिए प्रोत्साहित किया।  


Date : 17-Jul-2019

पंख फाउंडेशन की अनुकरणीय सराहनीय कदम

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 17 जुलाई।
पंख फाउंडेशन कोण्डागांव ने बच्चों को पढ़ाई में मदद के अलावा एक और भी अनुकरणीय व सराहनीय ने कार्य किया है, जो सभी के लिए प्रेरणादायक है। पंख फाउंडेशन के प्रतिनिधि प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी पठन सामग्री वितरण करने जब ग्राम नेवता के प्राइमरी स्कूल पहुंचे तो स्कूल परिसर की अस्थाई घेराबंदी पूर्ण रूप से ध्वस्त हो गई। परिसर में गाय बैल व अन्य जानवर स्वच्छंद विचरण करते देखे गए। इससे स्कूली बच्चों के साथ कभी भी अप्रिय घटना हो सकती थी। 

पंख के सदस्यों ने इस दृश्य को देखकर अपने स्थानीय कार्यकर्ताओं के साथ ध्वस्त अस्थाई घेराबंदी को बनाने का निर्णय लिया। और रविवार को स्थानीय व पंख कार्यकर्ताओं के सहयोग से प्राथमिक शाला व उच्च प्राथमिक शाला परिसर का घेराबंदी किया। इस कार्य में पंख फाउंडेशन के अध्यक्ष मुकेश कुमार देवांगन, हितेन झा, धर्मेंद्र साहू, गोमेश्वर ठाकुर, गोविंदराज नायडु, पीलाराम मौर्य, ऐनु करण, चिंतेश्वर पाण्डे, अनिल यादव, खेमसिंह मंडावी, धनसु मरकाम, मनोज शार्दुल, दिलीप नेताम, मूलचंद देवांगन व अन्य का भरपूर सहयोग रहा। इस कार्य के लिए स्कूल के सभी शिक्षक और स्थानीय ग्रामीणों ने पंख के इस कार्य की प्रशंसा की है।

 


Date : 17-Jul-2019

पूर्व सीएम जोगी से मिला राज्य प्रेरक संघ

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 17 जुलाई।
साक्षर भारत कार्यक्रम के तहत नियुक्त प्रेरक संघ के पदाधारियों ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी से उनके निवास पर मुलाकात किया। इसमें विगत 10 वर्षों से कार्य करने के बाद कार्यक्रम 31 मार्च 2018 को बंद करने को लेकर प्रेरको ने अपनी बात पूर्व मुख्यमंत्री जोगी के समक्ष रखा। प्रदेश सचिव लखन लाल देवांगन, सालिक बघेल, संतोष यादव, भोलेश्वर वर्मा ने पूर्व सीएम को बताया कि वर्तमान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के घोषणा पत्र में प्रेरकों को स्थाई रोजगार देने का वादा किया था। साथ मे तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंह देव वर्तमान पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री ने चुनाव पूर्व अपने लेटर पेड में प्रेरकों को नियमित करने का लिखित आश्वासन दिया था। चुनाव जीतने के बाद स्वयं मुख्यमंत्री बघेल ने प्रेरकों को दोबारा पद देने का घोषणा किया था। आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने मीडिया में प्रेरकों को अथिति शिक्षक बनाने की घोषणा किया था, लेकिन शासन के द्वारा हमारे प्रति ठोस पहल नहीं किया गया।

प्रदेश सचिव लखन लाल देवांगन ने आगे बताया कि, प्रदेश के 16 हजार 802 प्रेरक आज बेरोजगार के शिकार है। इधर प्रेरकों की बाते जब पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने बाते सुनी तो कहा कि, आप चिंता न करे निश्चित रहे हम सरकार से चर्चा करेंग।े क्योकि प्रेरकों ने पंचायतो में अपनी सेवा दी है। मैं प्रेरक को पंचायत सहायक सचिव बनाने के लिए मांग रखूंगा।

 


Date : 16-Jul-2019

गुरूपूर्णिमा पर मड़ानार में विविध कार्यक्रम का आयोजन

कोण्डागांव, 16 जुलाई। गुरूपूर्णिमा के अवसर पर मड़ानार में विविध कार्यक्रम का आयोजन किया गया। गांव के युवाओं व बच्चों के साथ-साथ शिक्षकों के माध्यम से शाला प्रांगण में अपने प्रथम गुरु माता पिता का पूजन वंदन किया। इसके बाद अपने व्यक्तित्व जीवन के विकास गुरु अपने शिक्षक शिक्षिकाओं के साथ केक काटकर, मधुर गीतों की गान से सम्मान कर आशीर्वाद प्राप्त किए।

 बच्चों ने मानव श्रृंखला के माध्यम से गुरू की आकृति तैयार कर मानव जीवन में गुरु की महिमा का महत्त्व का संदेश जनमानस तक पहुंचने का प्रयास किया गया। इस अवसर पर शिक्षक शिवचरण साहू के माध्यम से नवाचारी पहल करते हुए बच्चों के बस्ते की बोझ को दूर करते हुए आज से बोझ रहित बस्ते की शुरुवात किया। कार्यक्रम में उपस्थित पालकों, ग्रामीण, युवाओं, शिक्षकों व बच्चों के माध्यम से पौधों का रोपण के साथ देखभाल की जिम्मेदारी का संकल्प लिया गया। 
शिक्षा सत्र 2019-20 के लिए नए शाला विकास समिति का गठन उपस्थित पालकों के माध्यम से जयसिंह सोरी को अध्यक्ष, पीएल नाग प्राधान अध्यापक को सचिव, आरती बेर शिक्षिका को कोषाध्यक्ष, उज्जैन ठाकुर, जयराम नेताम, गोपाल सोरी, गोबरदाई जायबती, मेटिबाई, बुधियारिन, सुदरी, मतिभारती ठाकुर, सुकबती को सदस्य के रूप में सर्वसम्मति से निर्विरोध चुना गया।

 


Date : 16-Jul-2019

अब हर हाट बाजारों में लगेंगे स्वास्थ्य, शिक्षा, सुपोषण व कृषक पंजीयन शिविर

कोण्डागांव, 16 जुलाई। कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के निर्देशानुसार अब हर हाट बाजारों में स्वास्थ्य, शिक्षा, सुपोषण एवं मक्का प्रसंस्करण केन्द्र के लिए कृषक पंजीयन शिविर संयुक्त रुप से आयोजित किए जायेंगे। इन शिविरों में ग्रामीण समुदाय को स्वास्थ्य, शिक्षा, सुपोषण के प्रति जागरुक करने के साथ उनके मक्का प्रसंस्करण केन्द्र के लिए पंजीयन करने के लिए प्रक्रिया होगी। इसके अलावा ग्रामीणजनों की मानसिकता को और भी ज्यादा प्रभावित करने के लिए कला जत्थाओं की मदद भी ली जा रही है। जो स्थानीय बोली में नृत्य नाटक प्रस्तुत कर ग्रामीणों को प्रेरित कर रहे है। इस तरह कुल मिलाकर इन भगीरथ प्रयासो का मूल लक्ष्य कोण्डागांव जिले को स्वास्थ्य के साथ-साथ शिक्षा एवं रोजगार के क्षेत्र में भी तेजी से अग्रसर हो रहे जिले के रुप में प्रस्तुत करना है। जिला कलेक्टर द्वारा शिविरो के लिए जिला कार्यालय के प्रत्येक अधिकारी को नोडल भी बनाया गया है और हर सप्ताह समय-सीमा बैठक में उनके द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन की कलेक्टर द्वारा स्वंय समीक्षा की जाती है। 

स्वास्थ्य विभाग का अमला रहे सतर्क - कलेक्टर
समय-सीमा बैठक में कलेक्टर ने स्पष्ट लहजे से कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अमले के पास जिले में किसी भी परिस्थिति में मौसमी बीमारियों के प्रकोप से निपटने के लिए पर्याप्त इंताजमात होनी चाहिए और इसके लिए जिला चिकित्सक ही जिम्मेदार होंगे। ऐसी अंदेशाओ और असामान्य घटनाओं से निपटने के लिए चिकित्सको, स्वास्थ्य कार्यकर्ता और मितानिनो की टीम तैयार रहे। इसके साथ ही उन्होंने ग्रामों में मौजूद झोलाछाप डाक्टरो से सख्ती से निपटने के लिए बड़ी कार्यवाही करने के निर्देश देते हुए कहा कि इन झोलाछाप डाक्टरो के गलत उपचार से स्थिति और बिगड़ जाती है और इनके विरुद्ध लगातार कार्यवाही करके स्वास्थ्य एवं राजस्व विभाग जिला प्रशासन को अवगत कराये। इस मौके पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा जानकारी दिया गया कि 26 जून से 15 जुलाई तक लगभग 45 ग्रामों में स्वास्थ्य शिविर लगाये गए जिनमें 4 हजार 877 मरीजो का स्वास्थ्य परीक्षण, 25 कुपोषित बच्चों का उपचार, 2 हजार 504 मरीजो का रक्तचाप और 1 हजार 618 मरीजो की शुगर जांच की गई। जबकि मौसमी बुखार से उपचारित मरीजो की संख्या 207 दर्ज हुई। 

लंबित प्रकरणों का तत्परतापूर्वक निराकरण करें अधिकारी
इसके पूर्व बैठक में जिला कलेक्टर ने लंबित प्रकरणो एवं आवेदनो का त्वरित निराकरण करने के निर्देश दिए। इनमें मसोरा, माकड़ी एवं करंजी में लंबित आहाता निर्माण, बाखरा, कुकाडग़ारकापाल एवं टेण्ढ़मुड़ा में अतिरिक्त शालेय भवन निर्माण, ग्राम करंजी के मुनगापारा, नयापारा और डोंगरीपारा में मिनी आंगनबाड़ी केन्द्र के संचालन, ग्राम करमरी में पेयजल समस्या, दहिकोंगा से राजागांव और कमेला रोड के दूरुस्तीकरण तथा कोनगुड़, रांधना, शामपुर में सामुदायिक वन अधिकार के लिए आयोजित होने वाले विशेष शिविरों के प्रकरण शामिल थे। जिला कलेक्टर ने मौके पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों को प्राथमिक शालाओं में खीर और अंडा के वितरण को सुनिश्चित करने का निर्देश देते हुए कहा कि बच्चों के लिए इन पौष्टिक खाद्य सामग्रियों का वितरण मुख्यालय के समीपस्थ प्राथमिक शालाओं के अलावा दूरस्थ गांव के स्कूलों जैसे कुधूर, तुड़की, कलेपाल, पेरमापाल, भण्डारपाल, चिपरैल, हात्मा, अनतपुर की शालाओं में निर्बाध रुप से होनी चाहिए और इनके फोटोग्राफ्स भी उपलब्ध कराये जाये। 

 मेधावी छात्र अतुल-रिंकु सम्मानित
समय सीमा बैठक में जिला कलेक्टर द्वारा नीट परीक्षा 2019 में चयनित जिले के मेघावी छात्रो में से एक अतुल नेताम एवं रिंकू मरकाम को सम्मानित किया गया। उल्लेखनीय है कि जिले के ग्राम बफना के छात्र अतुल नेताम और ग्राम आलोर के रिंकू मरकाम ने जिला प्रशासन द्वारा संचालित ''लक्ष्य कोचिंग'' संस्थान से अध्ययन करने के उपरांत नीट परीक्षा में सफलता अर्जित किया। इसमें अतुल नेताम को मेडिकल कॉलेज जगदलपुर तथा रिंकू मरकाम को बिलासपुर स्थित चिकित्सा संस्थान में सीट मिली है।


Previous1234Next