छत्तीसगढ़ » कोण्डागांव

Previous12Next
Date : 21-Sep-2019

निर्माणाधीन भवन में काम कर रही महिला हाई वोल्टेज करंट की चपेट में गंभीर

कोण्डागांव, 21 सितंबर। निर्माणाधीन भवन में काम कर रही महिला हाई वोल्टेज करंट की चपेट में आ गई। करंट की चपेट में आते ही वह 2 माला की बिल्डिंग से नीचे गिर गई। इसके बाद उसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल आरएनटी में दाखिल कराया गया है। आरएनटी में उपचार कर रहे सिविल सर्जन डॉ. संजय बसाक के अनुसार महिला की हालत अत्यंत गंभीर बनी हुई है। प्राथमिक उपचार कर तत्काल हायर सेंटर के लिए रेफर किया जा रहा है।

जानकारी अनुसार, कोण्डागांव के विकास नगर स्थित साईं मंदिर के पास महेंद्र साइकिल स्टोर के संचालक अपने भवन का निर्माण कार्य करवा रहे हैं। इस भवन निर्माण कार्य में लगी महिला मजदूर श्याम नेताम (28) पति आसाराम निवासी करंजी दोपहर में खाना खाने के बाद अचानक हाई वोल्टेज बिजली लाइन के चपेट में आ गई। बिजली विभाग के कर्मचारियों के अनुसार, श्यामा नेताम जिस हाई वोल्टेज बिजली लाइन के चपेट में आई है वह बुनागांव क्षेत्र में पहुंचने वाले 11000 केवी का मेन बिजली लाइन है। केवल अलावा महिला दूसरे माले के छत से नीचे गिरी है, ऐसे में वह गंभीर रूप घायल हो गई है। गंभीर हालत के चलते उसका प्राथमिकि जिला अस्पताल आरएनटी में किया गया, जिसके बाद उसे हायर सेंटर जगदलपुर भेज दिया गया है।

 


Date : 21-Sep-2019

चोरी करते दो युवकों को ग्रामीणों ने पुलिस को सौंपा

कोण्डागांव,  21 सितंबर। देर रात मकान में चोरी करने घुसे दो युवकों को ग्रामीणों ने धर दबोचा। दोनों युवकों को ग्रामीणों ने सिटी कोतवाली पुलिस के हवाले कर दिया है। ग्रामीणों ने जब पकड़े गए दोनों युवकों को पुलिस के हवाले किया तो वे पुलिसिया डर के चलते बेहोश हो गए। ऐसे में दोनों को उपचार के लिए जिला अस्पताल आरएनटी में भर्ती कराया गया है। पुलिस के अनुसार, पकड़े गए दोनों युवकों के पास से चोरी किए गए नगदी 1200 रकम, मोबाइल फोन और बोलेरो की चाबी बरामद की गई है।

जानकारी अनुसार, विकास खण्ड कोण्डागांव अंतर्गत उमरकोट(ओडिशा)-कोण्डागांव मार्ग पर चिपावंड गांव में 19-20 सितंबर की मध्य रात काफी गहमा-गहमी भरा रहा। यहां के ग्रामीणों ने देर रात चोरी की नीयत से स्थानीय व्यापारी तुलसी राम पटेल (55) के घर घुसे दो युवकों को रंगे हाथों पकड़ा। ग्रामीणों ने कोण्डागांव के बाजारपारा वार्ड निवासी राजेश शर्मा (35) और डीएनके वार्ड निवासी शेख अली (25) को पकड़ कर सिटी कोतवाली पुलिस के हवाले कर दिया। 

कोतवाली पुलिस के अनुसार, दोनों युवक तुलसी पटेल के घर चोरी करने के लिए दुकान का सटर तोड़ कर अंदर घुसे थे। तुलसी पटेल के जीस दुकान में चोरी करने के उद्देश्य से दोनों घुसे थे, उसी दुकान के साथ लगे मकान में वे निवास भी करते है। ऐसे में चोरी की चहल-पहल से तुलसी पटेल का परिवार नींद से जाग गया। इसके बाद हुए शोर-शराबा के चलते ग्रामीणों ने दोनों युवकों को घेर कर दबोच लिया और पुलिस के हवाले सौंप दिया।

ग्रामीणों ने जब दोनों युवकों राजेश शर्मा व शेख अली को पुलिस के हाथों सौपा तो वे पुलिसिया भय से बेहोस हो गए। इसके बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों को जिला अस्पताल आरएनटी में उपचार के लिए भर्ती करवाया है। यहां दोनों युवकों के साथ पुलिस जवानों को भी बतौर सुरक्षा कर्मी तैनात किया गया है।


Date : 21-Sep-2019

शिक्षक सीख रहे हैं हाव-भाव और लिप रीडिंग, सांकेतिक भाषा का प्रशिक्षण

कोण्डागांव, 21 सितंबर। सामान्य स्कूलों में पढऩे वाले दिव्यांग बच्चों की शिक्षा व्यवस्था को प्रभावी बनाने के लिए जिला शिक्षा विभाग और प्रशिक्षण संस्थान शिक्षकों को ब्रेल लिपि व संकेत भाषा की ट्रेनिंग दे रहा है। स्कूलों में दृष्टि बाधित बच्चें अध्ययनरत हैं, उन्ही स्कूल के शिक्षकों को ही ब्रेल लिपि के जरिए पढ़ाने-लिखाने का तरीका सिखाया जा रहा है। इसी तरह जिन संस्थाओं में श्रवण बाधित बच्चे अध्ययनरत हैं, उन स्कूलों के शिक्षकों को संकेत भाषा से शिक्षा देने की विधि बताई जा रही है।

इसी तारतम्य में समग्र शिक्षा अभियान जिला कोण्डागांव के तत्वाधान में विकास खण्ड फरसगांव में चार दिवसीय सांकेतिक भाषा का प्रशिक्षण 17 सितंबर से 20 सितंबर तक सम्पन्न हुआ। यहां ऐसे शिक्षण संस्थान के 27 शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया गया, जहां श्रवण बाधित दिव्यांग बच्चे अध्ययनरत है। इस ट्रेनिंग से सामान्य स्कूल के दिव्यांग बच्चों को अपनी ही संस्था में ब्रेललिपि और संकेत भाषा में पढ़ाई की पूरी सुविधा मिलेगी। उनके पालकों को विशेष आवश्यकता वाले संस्थान को खोजने की जरूरत नहीं रहेगी। शिक्षकों को इस ट्रेनिंग के फायदे आने वाले समय में मिल सकेंगे।


Date : 21-Sep-2019

कई स्कूलों का कलेक्टर ने किया निरीक्षण

कोण्डागांव, 21 सितंबर। विकास खण्ड फरसगांव के दूरस्थ सीमावर्ती गांव मैनपुर से लेकर विकास खण्ड केशकाल के सीमा पर स्थित कानागांव के प्राथमिक, माध्यमिक व उच्चतर माध्यमिक विद्यालय का कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने औचक निरीक्षण किया। गया। इस दौरान कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने शाला में जाकर उपस्थित छात्र-छात्राओं के शैक्षणिक स्तर को परखने के लिए उनकी कक्षाऐं ली और उनसे कोर्स से संबंधित सवाल पूछे। 

ज्ञात हो कि विगत् कुछ दिनों से इन दूरस्थ गांव में स्थित स्कूलों में शैक्षणिक अव्यवस्था की शिकायते लगातार आ रही थी। कई-कई स्कूलों में शिक्षक ने केवल देर से शाला पहुंचते थे, बल्कि समय से पूर्व ही छात्रों को छुट्टी दे दी जाती है। इसके साथ ही नियमों को ताक में रखकर कुछ एक शिक्षको ने ना केवल अवकाश बल्कि बिना औचित्यपूर्ण कारण बताये शालाओं से अनुपस्थित रहने की भी शिकायते आम हो रही थी। छात्रों की मानें तो इन लापरवाह शिक्षकों के कारण अभी तक कक्षाओं का विषयवार समय-सारणी भी तैयार नहीं किया गया है और शाला प्रारंभ होने के तीन माह उपरांत भी अभी तक किसी भी विषय की शुरुवात नहीं की जा सकी है।

कलेक्टर ने मौके पर शैक्षणिक कार्य में लापरवाही बरतने वाले शिक्षको के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने का निर्देश देते हुए कहा कि बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने वाले शिक्षको को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा और नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी। इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा टीम बनाकर दूरस्थ शालाओं का औचक निरीक्षण करने के साथ-साथ बच्चों के पढ़ाई के स्तर को उनके कक्षाओं के मापदंड पर परखा जायेगा कि अब तक उनके शिक्षकों ने किस स्तर तक पढ़ाया है। 
अगर कोई भी छात्र अपनी कक्षा के स्तर पर सामान्य जानकारी नहीं दे पाता तो इसके लिए शिक्षक ही जिम्मेदार होंगे। इसके साथ ही उन्होंने पंचायत जनप्रतिनिधियों जैसे सरपंच, पटेल एवं अन्य सदस्यों को भी शालाओं का मानिटरिंग करने का भी आग्रह किया। साथ ही अन्य अधिकारियों ने दूसरे कक्षाओं में जाकर विषय संबंधी कक्षाऐं ली। इसी प्रकार जिला कलेक्टर ने नेतृत्व में ग्राम कोण्डापखना, बडग़ई, बड़ेओड़ागांव, चिंगनार, भोंगापाल, कानागांव के स्कूलों का भी निरीक्षण करते हुए शिक्षको को निर्देश दिए।

चार  शिक्षकों पर गिरी गाज
इस दौरान दूरस्थ ऐतिहासिक ग्राम भोंगापाल के उच्चतर माध्यमिक शालाओं में शिक्षको की भर्राशाही भी देखने को मिली। यहां एक स्वीपर के भरोसे ही स्कूल एवं छात्रों को छोड़ दिया गया था। इस पर कलेक्टर ने कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को तत्काल अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के निर्देश दिए। 
इस कार्यवाही के फलस्वरुप इनमें अनुपस्थित शिक्षक संतुराम नेताम व प्रधान अध्यापक चंद्रहास मरकाम का एक दिन का वेतन काटने के अलावा दो अतिथि शिक्षको अरुण कुमार घोष, उमेश कुमार मरकाम को सेवा से पृथक कर दिया गया। इसके अलावा बीईओ तीजूराम सिन्हा की एक वेतनवृद्धि असचंयी प्रभाव से रोकने के भी निर्देश जिला कलेक्टर द्वारा दिए गए। मौके पर छात्रों ने अवगत कराया कि शिक्षक समय पर आते नहीं है, आते भी है तो शिक्षक समय से पहले शाला छोड़ देते है। कलेक्टर द्वारा इस दौरान संकेत दिया गया कि सभी विकासखण्डों की शालाओं में इस प्रकार के औचक निरीक्षण लगातार जारी रहेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि शाला परिसर में मुनगा के वृक्ष अनिवार्य रुप से रोपे जाए और मध्यान्ह भोजन में इसका उपयोग हो। इस दौरान अनुविभागीय अधिकारी (फरसगांव) डीआर ठाकुर, जिला शिक्षा अधिकारी राजेश मिश्रा, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास जीएस सोरी, सीईओ जनपद पंचायत आरके वट्टी, एसडीओ (आरईएस) सचिन मिश्रा सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।


Date : 21-Sep-2019

कलेक्टर ने ग्रामीण महिलाओं को बताई सुपोषण मिशन का महत्व

कोण्डागांव, 21 सितंबर। कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने विकास खण्ड फरसगांव और केशकाल के सुदूर स्थित मैनपुर, बड़ेओड़ागांव, कानागांव, चिंगनार जैसे गांव के आंगनबाड़ी, स्वास्थ्य केन्द्रो का निरीक्षण किया गया। इस मौके पर सदस्य जिला पंचायत लद्दू राम उईके, सीएमएचओं डॉ. एसके कनवर, महिला बाल विकास अधिकारी वरुण नागेश, सहायक संचालक उद्यान बीएल दर्रो, सीईओ जनपद पंचायत फरसगांव आरके वट्टी, केशकाल एलएन नाग सहित क्षेत्र के जनप्रतिनिधिगण समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 

कलेक्टर ने स्वास्थ्य केन्द्रो में जाकर जहां दवाईयों की उपलब्धता, संस्थागत प्रसव, स्वच्छता जैसी जानकारी चाही, वहीं आंगनबाड़ी केन्द्रो में उन्होंने कार्यकर्ताओं से बच्चों की उपस्थिति उनके भोजन इत्यादि के संबंध में भी निर्देश दिए। 
मैनपुर के प्लाटपारा स्थित स्वास्थ्य केन्द्र में महिलाओं का हीमोग्लोबिन जांच शिविर को भी उन्होंने अवलोकन किया। मौके पर उन्होंने महिलाओं से चर्चा करते हुए बताया कि 11 ग्राम से कम रक्त वाली महिलाऐं एनीमिक श्रेणी में आती है। इस प्रकार जिले की लगभग 56 हजार महिलाऐं एनीमिया से ग्रस्त है जो कि एक शोचनीय स्थिति है। इसे देखते हुए संपूर्ण जिले में मुख्यमंत्री सुपोषण मिशन प्रारंभ किया जा रहा है जिसके तहत एनीमिया से ग्रस्त महिलाओं को आंगनबाड़ी केन्द्र, पंचायत भवन, अस्पताल में पौष्टिक भोजन यथा अंकुरित अनाज गुड़, चना, पौष्टिक भाजियाँ प्रतिदिन नि:शुल्क सेवन कराया जायेगा और इसमें सभी महिलाओं की सहभागिता होनी चाहिए और इस मिशन के व्यापक प्रचार-प्रसार करने हेतु सुपोषण रथ, पदयात्रा, रैली, कठपुतली संदेश, कला जत्था के शिक्षाप्रद कार्यक्रम प्रस्तुत किए जायेंगे। इसका उद्देश्य प्रत्येक ग्राम पंचायत और प्रत्येक गांव में कुपोषण एवं एनीमिया के खिलाफ सकारात्मक माहौल बनाना है। 

इस दौरान चिंगनार सेक्टर की स्वास्थ्य पर्यवेक्षिका ने बताया कि, महिलाओं के हीमोग्लोबिन परीक्षण के तहत 2250 महिलाओं के लक्ष्य के विरुद्ध 1 हजार 345 महिलाओं का परीक्षण कर चिन्हांकित किया जा चुका है।

 इसी प्रकार ग्राम बड़ेओड़ागांव में भी कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने महिलाओं को मुख्यमंत्री सुपोषण मिशन में उत्साहपूर्वक भाग लेने की अपील करते हुए कहा कि महिला शक्ति की एकजुटता से मुख्यमंत्री सुपोषण मिशन को हरहाल में सफल बनाया जायेगा।

 


Date : 20-Sep-2019

कोंडागांव के प्रवेश द्वार पर लगेगी लौह शिल्प की भव्य कलाकृति

शंभू यादव 

कोण्डागांव, 20 सितंबर(छत्तीसगढ़)। शिल्पनगरी के नाम से देश-विदेश में पहचान बना चुके कोंडागांव के प्रवेशद्वार में अब जिला प्रशासन शिल्पकारों के हाथों से बनी भव्य कलाकृति स्थापित करवाने जा रहा है। यहां रायपुर नाका के पास नेशनल हाईवे 30 पर स्थापित होने जा रहा है। इसे जीवंत कला का रूप देने वाले कलाकारों की मानें तो लौह द्वार का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है, अब केवल इसे स्थापित किया जा रहा है। इसके निर्माण के लिए आठ माह के अंतराल में लगभग 50 कलाकारों ने अपना योगदान दिया है।

कोण्डागांव, अंतराष्ट्रीय कला बाजार में अपनी एक खास छाप छोड़ चुका है। कोण्डागांव को विश्व के कला बाजार में शिल्प नगरी के नाम से जाना जाता है। इसे विडंबना ही कहा जाएगा कि, आज तक जिला में ऐसी कोई भी भव्य कलाकृति नहीं है, जिसे देख कर कोण्डागांव को शिल्प नगरी के रूप में पहचाना जा सके। इसी कमी को दूर करने के उद्देश्य से स्थानीय विधायक व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम की पहल से, जिला के कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के निर्देशन पर स्थानीय लौह शिल्प (आयरन क्राफ्ट) कलाकारों के माध्यम से भव्य शिल्पकारी का निर्माण किया जा रहा है। यहां के शिल्पकारों का एक दल कोण्डागांव में प्रवेश के साथ ही कलाधानी में प्रवेश का एहसास दिलाने के लिए लौह निर्माण द्वार का निर्माण कर चुकी है। इसकी जल्द ही स्थापना भी की जाने वाली है। स्थापना के पहले कलेक्टर नीलकंठ टीकाम, कलाकारों, स्थानीय निवासियों के उपस्थिति में गेट स्थापना स्थल पर भूमिपूजन किया गया। 

लौह शिल्प की पहचान दिलाने वाले भव्य द्वार को स्थापना के बाद मां दंतेश्वरी व बुड़ादेव द्वार के नाम से संबोधित किया जा सकता है। मां दंतेश्वरी-बुड़ादेव द्वार निर्माण करने वाले कलाकार सोनाधर पोयाम विश्वकर्मा ने चर्चा के दौरान बताया कि, लौहशिल्प के साथ निर्मित होने वाले द्वार के निर्माण के लिए इसी वर्ष जनवरी में उन्होंने कलेक्टर नीलकंठ टीकाम और विधायक मोहन मरकाम के समक्ष प्रस्ताव रखा था। इस प्रस्ताव को विधायक और कलेक्टर ने हामी देते हुए तत्काल स्वीकृति दे दी। इसके चलते द्वार का निर्माण फरवरी से शुरू किया गया। सोनाधर पोयाम विश्वकर्मा ने आगे बताया कि, इस द्वार के निर्माण के लिए कोण्डागांव समेत आस-पास के गांव कुसमा, जामकोटपार, किड़ईछेपड़ा, उमरगांव, जैतपुर व अन्य गांव के लगभग 40-50 कलाकार ने अपना सहयोग दिया है।

बता दें, इस भव्य द्वार का निर्माण नेशनल हाईवे के मापडंड के अनुरूप ही किया जा रहा है। जब द्वार का निर्माण कार्य शुरू किया गया था, तब अनुमान लगाया गया था कि, इसकी दोनों ओर चैड़ाई 25-25 फीट रहेगी। लेकिन बाद में नेशनल हाईवे विभाग ने हाईवे के मापडंड के बारे में कलाकारों को बताया। इसके बाद से द्वार की एक ओर की चौड़ाई 45 फीट व ऊंचाई 30 फीट कर दी गई। ऐसे में अब हाइवे के दोनों तरफ मिला कर लोह-शिल्प वाले इस भव्य द्वार की चौड़ाई 90 फीट की होगी।

 


Date : 20-Sep-2019

राहगीरों की जान बचाने टीआई ने हाथ में थामा ब्रश और पेंट

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोंडागांव, 20 सितंबर।
नेशनल हाईवे नंबर 30 पर लगातार होते सड़क को रोकने के उद्देश्य से फरसगांव के थाना प्रभारी विनोद साहू ने हाथों में ब्रश और पेंट थाम लिया है।  विनोद साहू और थाना फरसगांव की टीम नेशनल हाईवे के सबसे अधिक संभावित दुर्घटना क्षेत्रों पर टायर लगाकर उन्हें ना केवल रंग रोगन कर रहे हैं, बल्कि बल्कि संबंधित स्थानों पर सांकेतिक चेन भी लगाए जा रहे हैं । 

जानकारी अनुसार पुलिस अधीक्षक सुजीत कुमार के निर्देशन और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनंत साहू के मार्गदर्शन में इन दिनों कोंडागांव पुलिस सामुदायिक पुलिसिंग व सुरक्षित यातायात संबंधित जन जागरूकता अभियान चला रही है।
 इसी कड़ी में आज फरसगांव टीआई विनोद साहू व उनका अमला नेशनल हाईवे 30 पर स्थित संभावित सड़क हादसों वाले क्षेत्र पर डायल लगाकर उन्हें रंग रोगन कर रहे हैं। इसके अलावा रात में मोरों का आसानी से पता चल सके इसलिए लाइट रिफ्लेक्टर और सांकेतिक चिन्ह भी लगाए जा रहे हैं। फरसगांव के चिचाड़ी नाला के पास टीआई विनोद साहू टायरों को पेंट करते दिखाई दिए।

 


Date : 20-Sep-2019

अंतरराष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन में छाए बस्तर के हर्बल प्रोडक्ट

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोंडागांव, 20 सितंबर।
शुक्रवार से तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन रायपुर में शुरू हुआ। जिसमें प्रमुख रूप से बस्तर की मां दंतेश्वरी हर्बल समूह के खेतों में तैयार किसानों के सर्टिफाइड ऑर्गेनिक हर्बल उत्पादों ने देश तथा विदेश के सभी व्यापारियों, निर्माताओं तथा निर्यातकों का ध्यान आकर्षित किया है। 

बस्तर में उगाई गई, पूर्णत: जैविक, बिना कड़वाहट वाली शक्कर से 30 गुना मीठी होने के बावजूद जीरो कैलोरी वाली वंडर प्लांट, स्टीविया ( मीठी तुलसी) की पत्तियां, काली मिर्च सफेद मूसली, केसर का विकल्प अनाटो अर्थात सिंदूरी  सहित कई अंतरराष्ट्रीय गुणवत्ता की मापदंडों के अनुरूप सर्टिफाइड ऑर्गेनिक हर्बल फूड सप्लीमेंट ,सफेद मुसली की कैप्सूल आदि इस स्टाल में देश-विदेश से आए अतिथियों, मैनुफैक्चरर्स तथा एक्सपोर्टर्स के अवलोकनार्थ एवं विपणन अनुबंध हेतु रखे गए हैं। इस स्टॉल का संचालन मां दंतेश्वरी हर्बल समूह के विपणन एवं गुणवत्ता नियंत्रण प्रभाग की प्रमुख अपूर्व त्रिपाठी  मुख्य प्रबंधक विपणन मनोज साहू कथा प्रबंधक विपणन राजेंद्र पटेल कर रहे हंै।

 उल्लेखनीय है कि मां दंतेश्वरी हर्बल समूह बस्तर की 700 से भी अधिक आदिवासी परिवारों के साथ मिलकर जैविक पद्धति से लगभग 3 दशकों से वनऔषधियों की खेती तथा विपणन कर रहा है, तथा क्षेत्र के किसानों को भी जैविक खेती हेतु प्रशिक्षित  कर रहा है। 

 


Date : 19-Sep-2019

हैण्डलूम से भी जुड़ रही हैं महिलाएं, हाथकरघा सेंटरों का कलेक्टर ने किया अवलोकन

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 सितंबर।
कलेक्टर नीलकण्ठ टीकाम ने विकासखण्ड केशकाल के ग्राम मस्सूकोकोड़ा, बेड़मा अरण्डी मे संचालित हथकरघा केन्द्रो का 18 सितंबर को अवलोकन किया। इस दौरान उन्होने केन्द्र की प्रशिक्षु महिलाओ से चर्चा करते हुए कहा कि प्रशासन द्वारा विगत डेढ़ वर्षो से महिलाओ को आत्मनिर्भर बनाने के लिए नए नए अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इस क्रम मे महिलाओं के लिए हथकरघा प्रशिक्षण केन्द्रो का प्रारंभ करना इसकी अगली कड़ी है। हथकरघा के माध्यम से महिलाएं घर बैठेकम लागत, मेहनत से अतिरिक्त आमदनी अर्जित कर सकती है। 

इस प्रकार हथकरघा महिलाओ के लिए लघु रोजगार का साधन हो सकता है। जिला प्रशासन द्वारा इसके लिए हर संभव मदद की जायेगी। इसमे प्रशिक्षण के साथ साथ हेण्डलुम यंत्र, अन्य सामग्रिया भी शामिल हैं। साथ ही महिलाओ को बिना ब्याज का अनुदान भी उपलब्ध कराया जायेगा। इसके अलावा इस कार्य मे लगी महिलाओ का श्रमविभाग द्वारा पंजीयन भी होगा। ताकि उन्हे विभागीय योजनाओ का लाभ मिल सके। 

अत: महिलाये जिम्मेदारी और लगन के साथ इस कार्य को सीखे। आने वाले समय मे हेण्डलुम कार्य से जिले की लगभग 3 से 4 हजार महिलाओ को जोडऩे के प्रयास किये जायेगें। कलेक्टर ने इसके अलावा गांव मे स्थित प्राथमिक शालाओ का भी औचक निरीक्षण किया। बच्चों से कविता, पहाड़ा, अन्य सामान्य ज्ञान के प्रश्न भी पूछे और जिन  बच्चो ने सही उत्तर दिया उन्हे शाबासी दी। 

 


Date : 19-Sep-2019

राष्ट्रीय राजमार्ग की दयनीय स्थिति, बायपास मार्ग निर्माण व टोल प्लाजा में टैक्स वसूली के विरोध में मांगों को लेकर जिला युवा कांग्रेसियों का धरना, चक्काजाम

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोंडागांव, 19 सितंबर।
जिला युवा कांग्रेस कोंडागांव के तत्वावधान में आज राष्ट्रीय राजमार्ग की दयनीय स्थिति, बायपास मार्ग निर्माण की मांग व टोल प्लाजा में टैक्स वसूली के विरोध में एक दिवसीय धरना खाले मुरवेंड में दिया गया। इस दौरान मांगों को लेकर आधे घंटे चक्काजाम किया गया।

इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष देवचंद मतलाम सदस्य लद्दू राम उईके प्रदेश कांग्रेस सचिव सग़ीर अहमद क़ुरैशी ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष द्वय प्रवीण अग्निहोत्री गिरधारी सिन्हा विधायक प्रतिनिधि अरुण अग्निहोत्री प्रदेश युवा कांग्रेस सचिव श्री पाल कटारिया जिला युवा कांग्रेस अध्यक्ष कपिल कांत नाग अमित दुबे नीलकंठ सेन सन्तराम नरेटी मेघराज सलाम मंगल राम नेताम सालिग राम जायसवाल युवा कांग्रेस के शुभम राणा रोहित कटारिया रवि गोयल शाहिद मेमन इमरान वीरानी राकेश ध्रुव उग्रेश नेताम जयलाल नाग प्रवीण बरनवाल शिव कुलदीप मुकेश पांडेय नीतू डे कौनेन अहमद वसीम शेख़ श्री राम नेवर तौफ़ीक़ मेमन इरमान पारेख लाल बहादुर लांबा विहान नाग अरमान मेमन सतीश नरेटी हिमांशु मरापी हेमंत दुग्गा नवीन शोरी खिलेश बघेल पंकज रजक गन्नी मेमन हरीश मंडावी हरिवंश सूर्यवंशी पवन मरकाम अमरसिंह उसेंडी  जोहन नाग राजा मरकाम मनोहर कोरोटी अशोक पटेल सुमित गुप्ता सहित ग्रामीण क्षेत्र के निवासी उपस्थित रहे।

 


Date : 19-Sep-2019

सामुदायिक पुलिसिंग के तहत एक दिवसीय शिविर 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 सितंबर।
इन दिनों कोण्डागांव जिला की पुलिस थाना स्तर पर सामुदायिक पुलिसिंग के तहत ग्रामीणों के लिए शिविर का आयोजन कर रही है। इसी कड़ी में पुलिस अधीक्षक सुजीत कुमार के आदेशानुसार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनंत कुमार साहू व अनुविभागीय अधिकारी फरसगांव पुष्पेंद्र कुमार नायक के मार्गदर्शन में फरसगांव और उरन्दाबेड़ा थाना के संयुक्त टीम ने फरसगांव थाना परिसर में एक दिवसीय शिविर का आयोजन किया। इसमे बड़ी संख्या में ग्रामीणों का आधार कार्ड बनवाया  गया। 

फरसगांव थाना परिसर में आयोजित शिविर में विकास खण्ड फरसगांव के सुदूर गांव के ग्रामीणों को आमंत्रित किया गया था। यहां ऐसे ग्रामीण जिनका आधार कार्ड नही है उन सभी ग्रामीणों और बच्चों को अपनी सरकारी वाहन से सुरक्षित लाया गया। यहां सभी का आधार कार्ड बनवाने के बाद दोपहर भोजन भी करवाया गया। आधार कार्ड शिविर में पहुंचने के लिए वाहन व्यवस्था भी की गई थी। आधार कार्ड बनवाने पहुंचे ग्रामीणों ने बताया कि, उनको अपने गांव से इतनी दूर मुख्यालय में सवारी वाहन या अपनी बाइक से आना पडता है। जहां आधार कार्ड केंद्र में भीड़ होने के चलते दिन भर समय लगता था, कई बार तो अधिक भीड़ होने से उनको मायुष होकर खाली हाथ भी लौटना पड़ता था। इस शिविर में मोदे, आमगांव, नेट, कुलानार, उरन्दाबेडा सहित कांकेर जिले के अंतागढ़ ब्लाक के तेलंगा से सैकड़ो की संख्या में पहुंचे ग्रामीणों ने लाभ प्राप्त किया। बता दे, शिविर के दौरान फरसगांव थाना प्रभारी विनोद साहू, उरन्दाबेड़ा थाना प्रभारी ओंकार दीवान सहित फरसगांव थाना स्टाप के जवान मौजूद रहे।

टीआई ने अपने हाथों से परोखा भोजन
बता दे, सामुदायिक पुलिसिंग के तहत फरसगांव थाना परिसर में आयोजित शिविर में दूरस्था गांव से ग्रामीण पहुंचे थे। शिविर में पहुंचे ग्रामीणों के लिए थाना परिसर में ही भोजन व्यवस्था की गई थी। भोजन अंतराल के दौरान फरसगांव थाना प्रभारी विनोद साहू ने अपने हाथों से ग्रामीणों को भोजन परोसा।

 


Date : 19-Sep-2019

बारिश के दौरान पाइप लाइन बिछाने वाले ठेकेदार की लापरवाही, घर में घुसा नाली का पानी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 सितंबर।
बारिश के दौरान ठेकेदार की लापरवाही मुसीबत बन कर सामने आई है।  मामला कोण्डागांव जिला के नगर पंचायत फरसगांव मुख्यालय का है। फरसगांव में पाइप लाइन बिछाने वाले ठेकेदार ने पाइप लाईन के लिए गड्ढा कर उसका मलबा नाली में छोड़ दिया है। ऐसे में नाली का पटाव हो गया है और नाली का पानी लोगों के घरों में घुस रहा है।
विकास खण्ड फरसगांव के वार्ड क्रमांक 9 में ठेकेदार के माध्यम से पाइप लाइन बिछाने का कार्य किया जा रहा है। यहां पाइप बिछाने के लिए खोदे गए गड्ढों से निकले मिट्टी को रोड किनारे डाल दिया। इसके चलते नालियों में मिट्टी भर गया है। ऐसे में बीती शाम हुई तेज बारिश के कारण रावण भांटा निवासी प्रेमिन सेन के घर के सभी कमरों में नाली का पानी भर गया, जिसे बड़ी मशक्कत के बाद घर की महिलाओं और पड़ोसियों की मदद से बाहर निकाला गया। 

बता दे, महिला का घर मिट्टी का है, अत्यधिक पानी भरने से मिट्टी के दीवारों में नमी आ रही थीं। मिट्टी की दीवार पानी की वजह से न टूट जाए, इसीलिए आननफन में पड़ोसियों की सहायता से बाल्टी व अन्य बर्तनों की मदद से कमरों में भरे नाली के पानी को बाहर निकल फेका गया।  पीडि़त परिवार ने बताया कि, ठेकेदार की लापरवाही के कारण आज नालियों का पानी उनके घर में गुस गया, जिससे उन्हें आर्थिक नुकसान उठना पड़ा। वहीं पूरे घटना क्रम के दौरान जिम्मेदार नदारद रहे।

 


Date : 19-Sep-2019

कोण्डागांव जिले को 18 नए गांव की सौगात

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 सितंबर।
कोण्डागांव जिला के 18 आश्रित गांव को राजस्व गांव बनाया गया है। इनमें केशकाल और बड़ेराजपुर के 18 आश्रित गांव शामिल है। विकास खण्ड केशकाल की बात करे तो, केशकाल के ग्राम पंचायत धनोरा, सिंगनपुर, अड़ेंगा, मांझीचेर्रा, खालेमुरवेण्ड और अरण्डी के 16 आश्रित गांव और बड़ेराजपुर के ग्राम पंचायत बांसकोट और कोरगांव के 2 आश्रित गांव को राजस्व गांव का दर्जा प्राप्त हो चुका है। 

धनोरा, खालेमुरवेण्ड, सिंगनपुर जैसे बड़े-बड़े ग्राम पंचायतों के आश्रित पारे-टोला के निवासी एक अर्से से अलग ग्राम पंचायत की मांग कर रहे थे। बड़े पंचायतों पर निर्भर होने से इन गांवो में पूरी मूलभूत सुविधाऐं जैसे-सड़क, पेयजल, बिजली आदि के लिए समस्याऐं आती थी। इसके अलावा घने वन, पहाड़ी आदि प्राकृतिक अवरोधों के होने से अलग-थलग से गांव एक प्रकार से उपेक्षित थे। कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने बड़े पंचायतों के विभाजन को जरुरी बताते हुए बताया कि छोटे ग्राम पंचायतों में मूलभूत विकास की संभावना बढ़ती है और हम ज्यादा आसानी से उन तक सुविधाओं को पहुंचा सकते है। इन पारा-टोलो के निवासियों ने बार-बार अलग ग्राम पंचायत की मांग की जा रही थी, इसे देखते हुए ग्रामवासियों की मांग को पूरा किया गया। 
अब विकासखण्ड केशकाल के ग्राम पंचायत धनोरा के आश्रित गांव ध्रुवापारा, सुकबेड़ा व आंचलापारा, ग्राम पंचायत सिंगनपुर के आश्रित गांव गारका, गुलबापारा, बंधापारा व टाटीरास, ग्राम पंचायत अड़ेंगा के गांव डोहलापारा, एटेकोन्हाड़ी, बांडापारा व ठाकुरपाल, ग्राम पंचायत मांझीचेर्रा के आश्रित गांव गुडरीपारा, ग्राम पंचायत खालेमुरवेण्ड के गांव खुटापारा, ग्राम पंचायत अरण्डी के तेन्दूभाटा, डूमरपदर व बकानभाटा, इसी प्रकार विकासखण्ड बड़ेराजपुर के ग्राम पंचायत बांसकोट के आश्रित गांव केरागांव और ग्राम पंचायत कोरगांव के रामपुर को राजस्व ग्राम घोषित कर दिया गया।  


Date : 19-Sep-2019

मानसिक रोगी के ठीक होने पर आंगनबाड़ी में नियुक्ति

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 19 सितंबर
। मानसिक बीमारों के लिए कोण्डागांव जिला में पहल की जा रही है। यहां जिला प्रशासन की सखी वन स्टॉप केन्द्र और शांति फाउंडेशन के माध्यम से सडक़ में भटकने वाले मानसिक बीमारों के इलाज का जिम्मा उठाया गया है। 

सखी केन्द्र और शांति फाउंडेशन ने अब तक 25 से अधिक सडक़ में भटकने वाले मानसिक बीमारों को इलाज के लिए बिलासपुर के सेन्द्री अस्पताल पहुंचाया है। अब अस्पताल से पूरी तरह ठीक होकर ये मानसिक बीमार वापस घर लौटने लगे हैं। 

पहली पारी में बिलासपुर अस्पताल से 9 महिला-पुरूष ठीक होकर घर लौटे हैं। इनमें से एक महिला 14 साल से विक्षिप्त की स्थिति से सामान्य स्थिति में लौटी है। उसे जिला प्रशासन आंगनबाड़ी में कार्यकर्ता के पद पर नियुक्त करने जा रहा है। ठीक हो चुकी महिला का कहना है कि, प्रशासन मुझे नौकरी दे या ना दे मैं आंगनबाड़ी में ही कार्य करूंगी। इसी तरह से एक को आवास योजना का तत्काल लाभ दिया जा रहा है। एक युवती जो मूकबधिर है उसे दंतेवाड़ा के जवांगा में पढ़ाई के लिए भेजा जा रहा है।

कोण्डागांव के जिला प्रशासन की सखी वन स्टॉप केन्द्र और शांति फाउंडेशन के माध्यम से मानसिक बीमारों के इलाज का जिम्मा उठाते हुए उन्हें बिलासपुर सेन्द्री स्थित मानसिक आरोग्य अस्पताल में भेजा गया है। यहां से भेजे गए 25 मानसिक बीमारों में से 9 अपने घर वापस लौट चुके हैं। वापस लौटे लोगों से कोण्डागांव कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने मुलाकात किया। कलेक्टर ने उपचार करा लौटे लोगों से उनका हाल जाना। कलेक्टर ने इस दौरान महिलाओं के परिजनों को उनकी सही देखरेख करने की नसीहत दी। 
समान जनजीवन और अधिकार की राह पर लौटे
मानसिक बीमारों के लिए चलाए जा रहे मुहीम समान जनजीवन और अधिकार के तहत 25 में से 9 विक्षिप्त अब पूर्ण रूप से ठीक हो चुके हैं। अब यह समान जनजीवन और अपने मौलिक अधिकार के साथ सम्मान की जिंदगी जिएंगे। 9 विक्षिप्तो में 3 पुरुष और 6  महिलाएं शामिल है। इनमें सुरेश भाई काले जो गुजरात से यहां पहुंच कर कोण्डागांव की सडक़ों में भटक रहे थे। 
मूरजी भाई परमार जो ग्राम धनेली कन्हार जिला कांकेर में मिले थे। अश्वनी राठौर जो भानूप्रतापपुर की सडक़ों पर भटक रहे थे। बृजबत्ती जो अंतागढ़ में बाजार लाड़ी के पास गर्भवती मिली थी, उसके बच्चे को आश्रम में रखकर उसे नारी निकेतन दंतेवाड़ा भेजा गया। मालबत्ती हांडीगांव कोण्डागांव को उनके पति के आवेदन पर उनके साथ घर भेजा गया। सोनाली जो कि मयूरभंज जिला धम धरपुर ओडि़सा से यहां पहुंच कर सडक़ों पर भटक रही थी, इसे भी घर भेजा जा रहा है। 
सरोज यादव जिसका रहने का ठिकाना आज भी नहीं है, उसका सफल उपचार हो चुका है। प्रमिला जैतपुर जो पिछले 14 साल से मानसिक रूप से कमजोर थी आज अपने घर जैतपुरी कोण्डागांव लौट चुकी है। इन सब के अलावा माटा नाम की युवती जो मूकबधिर मर्दापाल की सडक़ में मिली थी, उसे जिला प्रशासन की मदद से जावांगा दंतेवाड़ा के स्कूल में भर्ती करावाया जा रहा है।
किसी को रोजगार 
तो किसी को मकान
उपचार के बाद वापस लौट चुके महिलाओं के पास अब सम्मान से जीवन यापन के लिए कई चुनौतियां खड़ी हो चुकी हैं। ऐसे में कोण्डागांव के कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने सरोज यादव निवासी बाजारपारा को अटल आवास, प्रमिला पोयाम निवासी जैतपुरी कोण्डागांव को आंगनबाड़ी कार्यकर्ता नियुक्त करने का आश्वासन दिया है। 


Date : 18-Sep-2019

बैंक ऑफ बड़ौदा के सामने से पिकअप पार, सीसीटीवी कैमरे में दिखे चोर

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 18 सितंबर।
स्थानीय आलू प्याज थोक व्यापारी अरोरा बंधु की पिकअप 16-17 सितंबर की मध्य रात चोरी हो गई है। पिकअप जिस समय चोरी हुई, वह अरोरा बंदू के घर के पास बैंक ऑफ बड़ौदा के सामने खड़ी थी। ऐसे में बैंक और आसपास लगे सीसीटीवी कैमरा में चोरों की हरकत कैद हुई है।

कोण्डागांव के जय स्तंभ चैक के पास के निवास करने वाले आलू-प्याज के थोक व्यापारी प्रदीप अरोरा (50) पिता स्व. वेदप्रकाश अरोरा की पिकअप वाहन सीजी 27 जी 0102, 16-17 सितंबर की मध्य रात करीबन 12.30 बजे घर के पास से चोरी हो गई है। इस संबंध में प्रदीप अरोड़ा के भतीजे लक्की अरोरा ने बताया कि, हर रोज की तरह उनके घर की पिकअप सीजी 27 जी 0102 घर के पास बैंक ऑफ बड़ौदा के सामने पार्क की गई थी। इसी बीच 16-17 सितंबर की रात चोरों ने उनके पिकअप को निशाना बनाते हुए पार कर दिया है। चोरी की घटना के बाद उन्होंने आसपास की सीसीटीवी कैमरा को खंगाला तो चोर जगदलपुर की ओर से आते और फिर पिकअप को चोरी कर जगदलपुर की ही ओर ले जाते कैद हुए हैं। लक्की अरोरा ने आगे बताया कि, बनियागांव स्थित पेट्रोल पंप तक सीसीटीवी फुटेज को चेक करवाया गया है, जिसके अनुसार पिकअप बनियागांव से आगे जाते कैमरे में दिखाई दे रहे हैं, लेकिन टोल नाका बस्तर तक नहीं पहुंचा।

मौके पर चोरों ने छोड़ी चोरी की स्कूटी
 चोरों ने मौके पर एक चोरी की हीरो मेस्ट्रो क्रमांक सीजी 17 केके 1892 छोड़ दिया है। पंजीयन क्रमांक जांच करने पर पता चला कि मेस्ट्रो जगदलपुर की है और लगभग 4 महीना इसकी चोरी की शिकायत पुलिस में दर्ज करवाई जा चुकी है। हीरो मेस्ट्रो का जगदलपुर से चार माह पहले चोरी होना, चोरों का जगदलपुर की ओर से आना और वापस उसी ओर जाना आदि से उनका जगदलपुर क्षेत्र में सक्रिय होने का अंदेशा लगाया जा रहा है। फिलहाल कोण्डागांव की सिटी कोतवाली पुलिस एफआईआर दर्ज कर मामले की विवेचना कर रही है।

 


Date : 18-Sep-2019

कोण्डागांव पहुंचे देश के दिग्गज किसान नेता

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 18 सितंबर।
अंतरराष्ट्रीय किसान महासंघ के दक्षिण एशिया चैप्टर के प्रमुख और राष्ट्रीय महासचिव भारतीय किसान यूनियन युद्धवीर सिंह चौधरी, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत, अखिल भारतीय किसान महासंघ के राष्ट्रीय समन्वयक डॉ राजाराम त्रिपाठी के साथ महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश उत्तराखंड मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ कुल 5 राज्यों के प्रगतिशील किसानों ने उच्च लाभदायक बहुस्तरीय जैविक खेती के कोण्डागांव मॉडल का निरीक्षण किया।

विशेष रूप से इस दल ने डॉ. त्रिपाठी के द्वारा विगत तीन दशकों के निरंतर शोध के उपरांत तैयार किए गए उच्च लाभदायक बहुस्तरीय जैविक खेती के कोण्डागांव मॉडल को देखा। इसके सभी पहलुओं को बारीकी से समझा। मुख्य रूप से काली मिर्च ऑस्ट्रेलियन तीक स्टीविया अर्थात मीठी तुलसी, सफेद मूसली जैविक हल्दी आदि वन औषधियों की खड़ी फसलों के उत्पादन तथा लाभदायकता का खेतों पर ही व्यावहारिक आकलन किया। आस्ट्रेलियन टीक के पेड़ों पर पर औसतन 25 किलो काली मिर्च के फल लगे देखकर किसान नेता हैरान हो गए। 

 


Date : 18-Sep-2019

आदिवासी समाज के खिलाफ फेसबुक पर टिप्पणी, बंदी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 18 सितंबर।
कोण्डागांव जिला अंतर्गत नारायणपुर-कोण्डागांव पहुंच मार्ग के कोकोड़ी गांव निवासी टिवेन्द्र (करन) कौशल ने फेसबुक के सीजीपीएससी नामक पेज पर 27 प्रतिशत आरक्षण के संबंध में पोस्ट कर जातिगत टिप्पणी किया था। इससे आहत हो कर कोण्डागाव जिले से भी आदिवासी युवा प्रभाग के पदाधिकारी कार्यकर्ताओं ने नारायणपुर के बेनूर थाना में शिकायत दर्ज करा कर कार्रवाई की मांग की थी। मंगलवार को बेनुर थाना टीआई नरेश देशमुख व प्रहलाद साहू ने त्वरित कार्रवाई करते हुए टिवेन्द्र करन कोसल को गिरफ्त कर लिया है।


Date : 18-Sep-2019

वर्षाकालीन संभाग स्तरीय चार दिवसीय फुटबॉल प्रतियोगिता​ में नारायणपुर ने मारी बाजी

फरसगांव, 18 सितंबर। वर्षाकालीन संभाग स्तरीय चार दिवसीय फुटबॉल प्रतियोगिता का आयोजन जागृति क्लब फरसगांव द्वारा शासकीय हाई स्कूल मैदान में 13 सितंबर से प्रारंभ किया गया। प्रतियोगिता में बस्तर संभाग की 32 टीमों ने भाग लिया।

प्रथम सेमीफाइनल माहका विरुद्ध नारायणपुर (एनएफसी) के मध्य खेला गया। दूसरा सेमीफाइनल जागृति बी विरुद्ध बीजापुर के मध्य खेला गया। फाईनल मैच नारायणपुर (एनएफसी) विरुद्ध बीजापुर के मध्य खेला गया जिसमें नारायणपुर (एनएफसी) ने 3-2 से जीतकर प्रथम ईनाम 21000 रुपये और ट्राफी पर अपना कब्जा बनाया, वहीं बीजापुर की टीम द्वितीय स्थान 11000 रुपये और ट्राफी प्रदान की गई। बेस्ट गोलकीपर का ईनाम अशोक कुमार कुमेटी (माहका), बेस्ट खिलाड़ी का ईनाम सबसे ज्यादा 7 गोल करने वाले नारायणपुर (एनएफसी) के मेहतर को दिया गया। जागृति क्लब फरसगांव के द्वारा इस आयोजन में दूर दराज से पहुंची टीमों के लिए रुकने और भोजन की व्यवस्था की गई।  यह आयोजन जागृति क्लब समिति एवं नगर वासियों के द्वारा की गई है।  मैच का आंखों देखा हाल हरीश साहू के द्वारा सुनाया गया।

समापन कार्यक्रम के दौरान उपास्थित अतिथि नगर पंचायत अध्यक्ष राज मरकाम, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष गणेश दुग्गा, उग्रेश मरकाम, अनिल बाजपई, जनक नेताम, कुलजोत संधु, सुरेद्र साहु, छेदी नेताम, संता मरकाम उपस्थित रहे।

 


Date : 17-Sep-2019

भाजपाईओं ने फल वितरण कर मनाया प्रधानमंत्री का जन्मदिन

कोण्डागांव, 17 सितंबर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस के अवसर में सेवा सप्ताह का कार्यक्रम कोण्डागांव जिला में गोपाल दीक्षित के मार्ग दर्शन में मनाया गया। इसके तहत कोण्डागांव शहर मण्डल के द्वारा जिला अस्पताल में मरीजो को फल वितरण क्या गया। इस कार्यक्रम में प्रभारी गोपाल दीक्षित, दीपेश अरोरा, दिनेश चैरडिय़ा, ज्ञानु गोलछा, अश्वनी पांडे, बालसिंह बघेल, उत्तम मण्डल, जैनेंद्र सिंह ठाकुर, प्रदीप साहू, सुकू सरकार मुख्य रूप से मौजूद रहे। वहीं इस कार्यक्रम में युवा मोर्चा ने भी अपनी सहभागिता दर्ज कराई। युवा मोर्चा की ओर से जिला अध्यक्ष जसकेतु उसेण्डी, जिला महामंत्री मनीष देवांगन, संतोष पात्रे, मनीष साहू, रवी मिश्रा, सुदीप रचित, बालचंद बघेल, विमान हलधर, सुजीत सिकदर, तोएश चंदेल, नागेश देवांगन, रौनक पटेल, योगेंद्र नेताम, संतोष मरकाम, प्रकाश मानिकपुरी, विश्वजीत चक्रवती, भाऊ, संदीप सोरी आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

 


Date : 17-Sep-2019

सभ्य समाज में कुपोषण के लिए कोई जगह नहीं- अनिला 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 17 सितंबर।
कोण्डागांव के चैपाटी मैदान में 17 सितंबर को जिला स्तरीय कुपोषण एवं एनीमिया मुक्त कोण्डागांव जिला निर्माण और पोषण आहार माह जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

 इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से प्रदेश सरकार की महिला बाल विकास और समाज कल्याण मंत्री अनिला भेंडिय़ा मौजूद रहीं। मंत्री अनिला भेंडिय़ा के साथ यहां राज्य सभा सांसद छाया वर्मा, पूर्व विधायक प्रतिमा चंद्राकर, जिला पंचायत अध्यक्ष देवचंद मातलाम, कलेक्टर नीलकंठ टीकाम, पुलिस अधीक्षक सुजीत कुमार, जिला पंचायत सदस्य परनिया पटेल, जनपद पंचायत अध्यक्ष संगीता मरावी सहित जिला, जनपद और नगरीय निकाय के जनप्रतिनिधि आदि मंचासीन रहे। कार्यक्रम में कुपोषण और एनीमिया उन्मूलन विषय को लेकर ज्ञानवर्धक कार्यक्रम आयोजित किए गए।

मुख्य अतिथि मंत्री अनिला भेंडिय़ा ने मंच से कहा कि, वर्तमान स्थिति को देखते हुए एक सभ्य समाज में कुपोषण के लिए अब कोई जगह नहीं है। अब यह सभी के लिए चिंतन-मनन करने का समय है कि समाज में कुपोषण जैसे बुराईयां क्यों मौजूद है और इसे जड़ से मिटाने के लिए क्या किया जाना चाहिए। जब तक समुदाय में एक बच्चा या मां कुपोषित है तो विकास की बात करनी अधूरी है। इसलिए प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा महत्वाकांक्षी सुपोषण मिशन प्रारंभ किया गया है और यह हम सभी का दायित्व है कि इस मानवीय अभियान के जरिए संयुक्त प्रयासो और जागरुकता से कुपोषण को मिटाने का संकल्प लेवे। 

 सांसद छाया वर्मा ने कहा कि एक राज्य की आधी आबादी में कुपोषण का होना एक विडम्बना है। मुख्यमंत्री ने इस गंभीर विषय से निपटने के लिए ही सुपोषण मिशन को प्रारंभ किया है इसका उद्देश्य महिलाओं और किशोरियों को स्वास्थ्य और सुपोषण का अधिकार देना है।  देवचंद मातलाम ने भी इस मौके पर कहा कि ग्रामीण समुदाय अपने नन्हें बच्चों को नियमित रुप से आंगनबाड़ी भेजकर शुरुवात में ही बच्चों को सुपोषित और स्वस्थ बना सकते हैं। 

कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने इस दौरान जिले मे ंकुपोषण और उससे निपटने के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में विस्तारपूर्वक बताया।  इस दौरान ग्राम धनोरा की नन्हीं बच्ची काजल नाग को जिले का पहला हेल्थ कार्ड दिया गया। 
कुपोषण व एनीमिया उन्मूलन विषय को लेकर सही पोषण देश रोशन के स्लोगन पर ज्ञानवर्धक कार्यक्रम आयोजित किए गए। इनमें रंगोली, चित्रकारी, कला जत्थों के लोक नृत्य, पपेट-शो (कठपुतली), कुपोषण व सुपोषण व्यक्तियो ंके सजीव उदाहरण, पोस्टर बैलेट, हस्ताक्षर अभियान के माध्यम लोगों को जागरुक किया गया।

कार्यक्रम में बिलासपुर से आए कलाकार के दलो द्वारा कठपुतली नृत्य, भीमकाय पुतलियों के माध्यम से उपस्थित लोगो का मनोरंजन के साथ-साथ सुपोषण के महत्व को बेहतरीन तरीके से समझाया। इन कलाकारो के दलो द्वारा आगामी दस दिवस तक कोण्डागांव जिले के सभी विकासखण्डों में जाकर अपने कार्यक्रम के माध्यम से लोगो का जनजागरण किया जायेगा। कार्यक्रम के अंत में स्वच्छता रथ को हरी झण्डी दिखाकर मुख्य अतिथि अनिला भेंडिय़ा द्वारा कुपोषण मुक्त कोण्डागांव अभियान स्टॉल में जाकर सेल्फी सहित हस्ताक्षर किया गया। 


Previous12Next