छत्तीसगढ़ » सूरजपुर

Previous12Next
15-Jul-2020 8:24 AM

बिश्रामपुर,14 जुलाई। एसईसीएल बिश्रामपुर क्षेत्र में कोयला कर्मचारियों के लंबित पदोन्नति प्रकरण का निराकरण करते हुए क्षेत्रीय प्रबंधन ने 18 कोयला कर्मचारियों का पदोन्नति आदेश जारी कर दिया है। पदोन्नति के साथ ही अधिकांश पदोन्नत कर्मचारियों का क्षेत्रीय स्तर पर स्थानांतरण भी किया गया है।

ओवरमैन से सीनियर ओवरमैन के पद पर पदोन्नत ललन साहू को आमगांव ओपन कास्ट परियोजना स्थानांतरित किया गया है। वहीं कृष्णा प्रसाद सोनी आरजीके सब एरिया समेत कृष्णा प्रसाद सोनी व भोला कुमार सूर्यवंशी कुमदा न्यू एवं स्वरूप कुमार देवनाथ बलरामपुर प्रधान को पदोन्नति के साथ ही उसी खदान में रखा गया है।

इसी क्रम में कार्यालय अधीक्षक ए ग्रेड से ए वन ग्रेड में पदोन्नत एचएमएस यूनियन के प्रभारी क्षेत्रीय अध्यक्ष उदय प्रताप सिंह को गायत्री भूमिगत खदान से आरजीके सब एरिया, एसके त्रिपाठी को बिश्रामपुर आमगांव सब एरिया से सिविल विभाग क्षेत्रीय मुख्यालय एवं मीरा मंडल को क्षेत्रीय मुख्यालय से रीजनल स्टोर स्थानांतरित किया गया है। जबकि संदीप कुमार पाल को आरजीके सब एरिया में ही रखा गया है। वहीं सीनियर क्लर्क से कार्यालय अधीक्षक के पद पर पदोन्नत एटक यूनियन के क्षेत्रीय अध्यक्ष हीरालाल को कुमदा सब एरिया, नंदलाल जायसवाल को रेहर खदान से आरजीके सब एरिया, महेंद्र प्रसाद गुप्ता को विश्रामपुर ओपन कास्ट खदान से बिश्रामपुर आमगांव सब एरिया में पदस्थ किया गया है, जबकि मृत्युंजय प्रसाद को क्षेत्रीय मुख्यालय में यथावत रखा गया है। हेड चेनमैन से सीनियर हेड चेनमैन के पद पर पदोन्नत रेहर खदान के संजय पाल, आमगांव खदान के अशोक अधिकारी, अमेरा खदान के सुख सागर एवं कुमदा खदान के सत्य प्रकाश सिंह को संबंधित खदान में ही रखा गया है। वहीं रीजनल वर्कशप में मैकेनिकल फिटर केटेगरी पांच को मैकेनिकल फिटर कैटेगरी छह के पद पर पदोन्नति दी गई है।

 

 


14-Jul-2020 7:52 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बिश्रामपुर, 14 जुलाई।
सीबीएसई बारहवीं में डीएवी पब्लिक स्कूल विश्रामपुर के विद्यार्थियों ने उत्कृष्ट परिणाम दिया है। परीक्षा में विज्ञान, वाणिज्य और कला संकायों के 120 विद्यार्थी सम्मलित हुए, जिसमें से 30विद्यार्थियों ने 90 फीसदी से अधिक अंक अर्जित किए। 

विद्यालय की मेधावी छात्र समीक्षा सारंगी ने सर्वोच्च 98.4 फीसदी अंक अर्जित कर विद्यालय में बड़ा कीर्तिमान रचा है। सहज कौर खेड़ा एवं सुदीपा पाल ने संयुक्त रूप से 96 प्रतिशत अंक के साथ द्वितीय तथा कीर्ति अग्रवाल 95.8 प्रतिशत अंक अर्जित कर तृतीय स्थान हासिल किया। विद्यालय का परीक्षा परिणाम 79.26 फीसदी रहा। कुल पाँच विद्यार्थियों ने सौ अंक अर्जित कर उत्कृष्ट प्रदर्शन किया।

विद्यालय के प्राचार्य आर जे के रेड्डी ने बच्चों को शानदार परीक्षा परिणाम पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि विद्यार्थियों के कठिन परिश्रम एवं लगन तथा शिक्षकों को समर्पण भाव से कार्य करने से ही उत्कृष्ट परिणाम संभव हो पाया है। लोकल मैनेजिंग कमिटी डी.ए.वी पब्लिक स्कूल विश्रामपुर के चेयरमैन एवं महाप्रबंधक व्हीएन झा ने विद्यालय के शानदार अच्छा परिणाम पर अपनी ख़ुशी व्यक्त की और कहा कि कठिन परिश्रम मेहनत और धैर्य के बलबूते पर बड़ी बड़ी सफलता प्राप्त होती है। 

 परीक्षा परिणाम में 12वीं गणित संकाय में समीक्षा सारंगी 98.4 प्रतिशत, झनक चौरसिया 95.2 प्रतिशत, अनुराग देव 94.2 प्रतिशत, विज्ञान संकाय सहज कौर खेड़ा प्रथम सुदीपा पाल 96.2 प्रतिशत दीपशिखा अग्रवाल 95.6, ख़ुशी मिश्रा 94.8, कॉमर्स कृति अग्रवाल 95.8, मीनाक्षी गुप्ता 94.6 कला संकाय रूपी दुबे 94.6 अनुराग मलिक 94, रश्मि कौर 93.2 फीसदी अंक लाकर विद्यालय का नाम रोशन किया।

 


14-Jul-2020 7:51 PM

सीतापुर, 14 जुलाई। नगर पंचायत क्षेत्र अंतर्गत व्यापारी संघ एवं जनप्रतिनिधियों की बैठक जनपद पंचायत सीतापुर के सभाकक्ष में संपन्न हुई। 
जिसमें नगर पंचायत सीतापुर में सप्ताह में दो दिवस शनिवार व रविवार को संपूर्ण लॉकडाउन करने के साथ-साथ अन्य कई निर्णय लिए गए तथा बैठक में नगर पंचायत सीतापुर में बुधवार को लगने वाली सप्ताहिक बाजार को बंद रखने का निर्णय लिया गया। 

सोमवार से शुक्रवार प्रात: 8 से सांय 6 बजे तक खुली रहेंगी। सभी दुकानों में मास्क लगाना एवं पालन कराने का भी निर्णय लिया गया। इस बैठक में अनुविभागीय अधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार,नगर पंचायत अध्यक्ष व उपाध्यक्ष, मुख्य नगरपालिका अधिकारी, व्यापारी संघ व व्यापारी गण उपस्थित थे।

 

 


13-Jul-2020 8:04 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बिश्रामपुर,13 जुलाई।
आरटीआई कॉलोनी में जगह-जगह पड़े कचरे के ढेर के साथ ही नालियों के बाहर पड़ी गंदगी ने इलाके के लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। स्ट्रीट लाइट लगे होने के बावजूद कनेक्शन में खराबी से गलियों में अंधेरा छाया रहता है। 

एसईसीएल बिश्रामपुर क्षेत्र का नगर में स्थित कॉलोनी क्षेत्र ही नगर पंचायत बिश्रामपुर का क्षेत्र है। स्वच्छता के नाम पर दोनों ही विभागों द्वारा कॉलोनी क्षेत्र में राशि खर्च की जाती है। उसके बावजूद कॉलोनी क्षेत्र सह नगर पंचायत क्षेत्र में जगह जगह गंदगी पसरी रहती हैं। एसईसीएल की आरटीआई कॉलोनी स्थित नगर पंचायत के वार्ड क्रमांक एक में क्वार्टर नंबर 1196 के सामने गणेश पंडाल के बगल में लंबे अरसे से कचरा एवं मलबा का ढेर पड़ा है। लाखों रुपये लागत से डिसेंट हाउसिंग योजना के तहत नाली निर्माण का कार्य कराया गया है, लेकिन नालियों की सफाई के बाद निकाले गए मलबे को नालियों के दोनों और छोड़ दिए जाने से उससे फैलने वाली दुगर्ध से कॉलोनी में मच्छरों का प्रकोप बढऩे के साथ ही वार्ड वासियों का जीना दूभर हो गया है।

गणेश चबूतरा के जीर्णोद्धार की मांग
नगर पंचायत के वार्ड क्रमांक एक में स्थित गणेश चबूतरा के जीर्णोद्धार की मांग वार्ड वासियों ने नगर पंचायत प्रशासन एवं एसईसीएल प्रबंधन से की है। उन्होंने मांग की है कि गणेश पूजा से पूर्व वार्डवासियों के आस्था के केंद्र गणेश चबूतरा का कायाकल्प कर उसमें गेट लगाया जाए। साथ ही उन्होंने गणेश चबूतरा के बगल में लंबे समय से पड़े कचरा एवं मलबे के ढेर को तत्काल हटाने की मांग की है।

स्ट्रीट लाइट चालू करने की मांग
कॉलोनी के गणेश चबूतरा वाली लाइन में लंबे समय से स्ट्रीट लाइट बंद रहने से बरसात में गली के अंधकार में रहने से लोग परेशान हैं। लोगों का कहना है कि नगर पंचायत एवं एसईसीएल प्रबंधन की लापरवाह कार्यशैली से रात में कॉलोनी की गलियों में अंधकार की स्थिति निर्मित होती है। गलियों में लंबे समय से बंद पड़ी स्ट्रीट लाइट को सुधार कराने की मांग की गई है।

वार्ड की रुचि चौधरी समेत आशा त्रिपाठी, उर्मिला पैकरा, अन्नू दुबे, लक्ष्मी यादव, मंजू गुप्ता, फूलमती ने वार्ड की समस्या को लेकर एसईसीएल प्रबंधन एवं नगर पंचायत प्रशासन पर उदासीनता का आरोप लगाते हुए नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि स्वच्छता के नाम पर दोनों ही विभागों द्वारा अनियमितता बरत कर गड़बड़झाला किया जा रहा है। वार्ड की महिलाओं ने कहा कि समस्या का अविलंब निराकरण नहीं होने पर उन्हें मजबूर होकर आंदोलन करना पड़ेगा।

 


10-Jul-2020 9:18 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता
प्रतापपुर, 10 जुलाई।
सूरजपुर जिले में हाथियों ने पूर्व जिला पंचायत सदस्य की जान ले ली है। घटना प्रतापपुर रेंज अंतर्गत ग्राम खरसोता जंगल की है।  ग्रामीणों ने बताया कि 60 वर्षीय मृतक अपने गांव पकनी से खरसोता जाने सोमवार को पैदल जंगल के रास्ते निकले थे। तीन दिन से उनके नहीं दिखने के कारण जब कल शाम को ग्रामीण उन्हें ढूंढने निकले तो गांव से कुछ दूर जंगल में उनका शव मिला। पूर्व जिला पंचायत सदस्य की जान लेने वाला हाथियों का दल प्यारे हाथी के होने की आशंका जताई जा रही है।

प्रतापपुर के गणेशपुर में कई दिन रहने व इनमें से तीन मादा हाथियों की मौत के बाद प्यारे हाथी का दल घुइ रेंज के पकनी व आसपास के जंगलों में रह रहा था। इतने दिनों से यह दल जंगल में ही था और प्यारे व एक अन्य हाथी आबादी की ओर आकर फसलों व घरों को नुकसान पहुंचा रहे थे, लेकिन अब इनके द्वारा एक बुजुर्ग की जान लेने की जानकारी मिल रही है, मृतक पूर्व जिला पंचायत सदस्य शंकर सिंह है।

शंकर सिंह अपने गृहग्राम पकनी में अकेले रहते थे क्योंकि उनके दोनों बेटे नौकरी के कारण गांव से बाहर रहते हैं और परिवार में और कोई नहीं हैं। सोमवार को वे खरसोता जाने के लिए अकेले पैदल ही जंगल के रास्ते निकले थे जिन्हें स्थानीय कुछ  लोगों ने जाते देखा था। कल कुछ लोगों ने आपस में चर्चा की कि शंकर सिंह तीन दिनों से गाँव में दिख नहीं रहे हैं, जिसके बाद लोगों ने खरसोता में भी पता लगाने का प्रयास किया और जब कोई जानकारी नहीं मिल पाई तो कुछ लोग कल दोपहर 3 बजे के करीब जंगल के रास्ते उन्हें ढूंढने निकल गए।
जंगल में वे कुछ दूर गए ही थे कि उन्हें शंकर सिंह का शव दिखाई दिया, उन्होंने तुरंत इसकी जानकारी गांव में दी जिससे वहां हडक़ंप मच गया। गांव वालों ने इसकी जानकारी वन विभाग को दी। मिली जानकारी के अनुसार वन विभाग के साथ पुलिस के अधिकारी कर्मचारी शाम तक गांव तो पहुंच गए थे, यह भी स्पष्ट नहीं हो पाया है कि उनकी मौत कब हुई है, लेकिन बताया जा रहा है कि शव बुरी तरह सड़ चुका है।

 


09-Jul-2020 10:07 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
भैयाथान, 9 जुलाई।
ब्लाक मुख्यालय के  ग्राम पंचायत गोविंदगढ़ में पंaचायत भवन का मामला विवादों में आ गया है। अब मामला उच्चाधिकारियों सहित एसडीएम न्यायालय में पहुंच गया है।

 गौरतलब हो कि ग्राम पंचायत सावरावा से विभाजित होकर नवीन ग्राम पंचायत गोविंदगढ़ का निर्माण हुआ। जहां शासन के द्वारा पंचायत भवन बनाने की स्वीकृति मिली है। पंचायत भवन  निर्माण को लेकर  ग्राम ग्रामवासी दो गुटों में बट गए हैं।  ग्रामीणों का आरोप है कि सरपंच के द्वारा पंचायत भवन का निर्माण अपने मोहल्ले नावापारा में कराया जा रहा है, जबकि उपसरपंच सहित अन्य ग्रामीणों का कहना है कि पंचायत भवन जहां अन्य शासकीय भवन बनाए गए हैं वहां पर पंचायत भवन बनाए जाना उपयुक्त होगा। 

वहीं ग्रामीणों के द्वारा यह भी तर्क रखा गया कि ग्राम पंचायत का सृजन गोविंदगढ़ के नाम से हुआ है तो पंचायत मुख्यालय गोविंदगढ़ में ही पंचायत भवन बनाना उचित होगा ना कि पारा टोला में और इसके बाद भी जब सरपंच अपने अडिय़ल रवैय से पीछे नहीं हटा और अंतत: पंचायत भवन का निर्माण का कार्य अपने मुहल्ले नावापारा में प्रारंभ कर दिया और दो कालम भी खड़ा कर दिया गया है। जिससे नाराज होकर उपसरपंच सहित ग्रामीणों ने एसडीएम न्यायालय भैयाथान में निर्माण कार्य को स्थगन लगाने हेतु आवेदन दिया गया है, जिसकी सुनवाई चल रही है।

   उपसरपंच उपेंद्र सिंह ने बताया कि पहले गोविंदनगढ़ के स्कूल के पास ले आउट दिया गया था, जिसे बाद में बदलकर नावापारा में ले आउट देकर भवन निर्माण कार्य चालू कराया गया है।

 

 

 


07-Jul-2020 10:08 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

भैयाथान, 7 जुलाई। सूरजपुर जिले के विकासखंड भैयाथान अंतर्गत ग्राम पंचायत बड़सरा से सूरजपुर जोडऩे वाली प्रमुख पीएमजीएसवाई सड़क पर विगत कई वर्षों से जलभराव होने के कारण डबरी बन गया है। मोहल्ले वासियों ने आपसी खींचतान में पानी निकासी के लिए नाली निर्माण हेतु जमीन नहीं दी जिससे सड़क बदहाल हो गई। 

गौरतलब है कि पीएमजीएसवाई अंतर्गत बड़सरा चौक से डुमरिया, बसदेई, सूरजपुर जोडऩे वाली सड़क को 10 वर्ष पूर्व सीसी सड़क तो बना दिया गया लेकिन नाली नहीं बनाया गया, क्योंकि मोहल्ले वासियों ने नाली निर्माण हेतु जमीन नहीं दी। परंतु पंचायत ने 7 वर्ष पूर्व एक तरफ से नाली निर्माण कराया था, उसे भी आपसी खींचतान में मोहल्लेवासियों ने पाट कर घर बना दिया। बरसात में जब घरों में पानी घुसने लगा तो मोहल्ले वासियों ने अपने घर के सामने मिट्टी डालकर ऊंचा कर दिए जिससे अब सड़क पर जलभराव हो रहा है। राहगीर व वाहन चालक आए दिन गिर रहे हैं।

ग्राम पंचायत बड़सरा के सरपंच, पंच, जनपद सदस्य ने 3 वर्षों में कई बार रायशुमारी से नाली निकालने हेतु मोहल्लेवासियों के साथ बैठक की, लेकिन सहमति नहीं बन सकी।
  ज्ञात हो कि इसी वर्ष अप्रैल में भैयाथान अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मौके पर आए थे, तो पटवारी से जमीन नपवाया था तो सड़क के नाम की जमीन तो है लेकिन वर्तमान में मोहल्लेवासियों ने सड़क पर ही घर बना बैठे हंै। 

इस संबंध में सत्येंद्र पांडेय एसडीओ पीएमजीएसवाई का कहना है कि जमीन ना मिलने से नाली नहीं बनाया जा सका। हम तो आज भी रिन्यूल के तहत नाली बनाने को तैयार हैं लेकिन वहां तो कच्ची नाली के लिए भी कोई जमीन नहीं देता। वहां पर एसडीएम रवि सिंह भी गए थे लेकिन कोई हल नहीं निकला। जलभराव हो रही स्थान पर डब्लयू एम एम मटेरियल से ऊंचा करके तत्कालिक व्यवस्था बनाया जा सकता है।

  जनपद सदस्य सुनील साहू का कहना है कि यह पीएमजीएसवाई जलाशय सड़क के समाधान हेतु मैंने विगत कई वर्षों से शासन-प्रशासन के अधिकारियों को लिखित व मौखिक रूप से आवेदन निवेदन करते आ रहा हूं, लेकिन अधिकारियों ने कोई सार्थक पहल आज तक नहीं की। इसके समाधान हेतु मुझे इस जलभराव डबरी में ही बैठकर निदान ढूंढऩा पड़ेगा।

 


07-Jul-2020 8:21 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बिश्रामपुर, 7 जुलाई। सूरजपुर जिले के बिश्रामपुर में कार्यरत एसईसीएल कर्मी समेत उसके परिवार के 6 सदस्य कोरोना पॉजिटिव मिले हंै। ये सभी भोपाल से शादी समारोह से 4 दिन पहले ही लौटे थे। स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी को क्वॉरंटीन करने के बाद सैंपल जांच के लिए भेजा गया था। सोमवार की रात आई रिपोर्ट में ये पॉजिटिव निकले। सभी को कोविड अस्पताल सूरजपुर में भर्ती कराया गया है।

जानकारी के मुताबिक बिश्रामपुर निवासी एसईसीएल कर्मी व उसके परिवार के 5 सदस्य 28 जून को रिश्तेदार के घर शादी में शामिल होने भोपाल गए थे। शादी खत्म होने के बाद सभी 1 जुलाई को बिश्रामपुर लौटे थे। इन्हें स्वास्थ्य विभाग द्वारा एसईसीएल के गेस्ट हाउस में क्वारंटीन किया गया था। चार जुलाई को सैंपल जांच के लिए भेजा गया था। वहां से सोमवार की रात आई रिपोर्ट में सभी 6 कोरोना पॉजिटिव निकले। छ: सदस्यों में तीन महिला और तीन पुरूष हंै। इनकी उम्र 24 वर्ष से लेकर 85 वर्ष तक है। दो पुरुष व 1 महिला जिनको पहले से कुछ बीमारी थी व बुजुर्ग भी थे, जिन्हें रायपुर एम्स में भर्ती के लिए भेज दिया गया है। तीन लोगों को सूरजपुर में स्थित कोविड 19 अस्पताल में भर्ती कर इलाज किया जा रहा है।

22 और लोग हैं क्वॉरंटीन में

भोपाल से लौटे परिवार को एसईसीएल के जिस गेस्ट हाउस में उन्हें क्वॉरंटीन किया गया था, वहां 22 और लोग क्वारंटीन हैं। हालांकि परिवार के सभी 6 सदस्यों को अलग रखा गया था।

 


07-Jul-2020 8:20 PM

लखनपुर, 7 जुलाई। थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत केवरा में 50 वर्षीय व्यक्ति ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ग्राम जयपुर थाना दरिमा निवासी देवनाथ पोर्ते ग्राम केवरा में 9 माह के नाती प्रदीप पिता राजकुमार मरकाम की निमोनिया बीमारी से मौत होने पर 6 जुलाई को देवनाथ कफऩ दफन देने ग्राम केवरा आया हुआ था। कफन दफन देने के बाद शाम को पड़ोसी करीमन गोड़ खाना खाने के लिए बुलाया था। देवनाथ भी खाना खाने गया था। देवनाथ ने खाना खाने से मना कर करीमन गोड से शराब की मांग रखी। शराब नहीं होने पर देवनाथ वहां से चला गया।  इसके बाद राजकुमार मरकाम का पूरा परिवार लगभग रात 9 बजे खाना पीना खाकर सो गया। सात जुलाई की सुबह लगभग 5 बजे बाहर निकलने के लिए दरवाजा खोल कर देखा तो देवनाथ दरवाजे के सामने बांस की कंडी में लूंगी से फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया था।

 


06-Jul-2020 8:29 PM

लखनपुर, 6 जुलाई। विकासखंड के 25 वर्षीय युवक ने 6 जुलाई की सुबह लगभग 4 बजे अज्ञात कारणों से कीटनाशक का सेवन कर लिया। परिजनों को पता चलने पर प्राथमिक उपचार के लिए युवक को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लखनपुर लाया गया जहां युवक का उपचार कर डॉक्टरों ने जान बचाई। पचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लखनपुर लाया गया जहां शिव नारायण का उपचार जारी है। घटना की सूचना लखनपुर थाने में दी गई है।


06-Jul-2020 8:28 PM

किसान पर डंडे से वार, घायल

लखनपुर, 6 जुलाई। थाना क्षेत्र के ग्राम कटिन्दा में 50 वर्षीय शिवनारायण राजवाड़े अपने खेत में हल जोतने के दौरान गांव के ही अमोल शिव प्रसाद ने सुबह लगभग 9 बजे जमीन विवाद को लेकर डंडे से सिर में प्रहार कर दिया।

बाद इसके परिजनों ने शिवनारायण को प्राथमिक उ


06-Jul-2020 6:18 PM

भैयाथान, 6 जुलाई। सूरजपुर जिले के भैयाथान सहकारिता विभाग हेतु वरुण सिंह को सांसद प्रतिनिधि मनोनीत किया गया है। इस संदर्भ में राज्यमंत्री जनजातीय कार्य मंत्रालय भारत सरकार एवं सरगुजा सांसद रेणुका सिंह ने विभागीय अधिकारी को एक मनोनयन पत्र भी जारी किया है। वरुण सिंह के समर्थकों में हर्ष व्याप्त है।
 


06-Jul-2020 6:17 PM

भैयाथान, 6 जुलाई। ब्लॉक मुख्यालय से महज 2 किमी दूर ग्राम पंचायत करकोटी के केनापारा में बीते तीन दिनों से ट्रांसफार्मर जल गया, जिससे ग्रामीण अंधेरे में रहने मजबूर हैं। ग्रामीणों का कहना है कि इस संबंध में विभाग को कई बार अवगत कराने के बाद भी आज तक इस ओर ध्यान नहीं दिया गया, जिससे चिमनी के सहारे जीवन यापन करना पड़ रहा है।

गौरतलब है कि करकोटी में बारिश के साथ आकाशीय बिजली गिरी थी, जिससे ट्रांसफार्मर जल गया। ग्रामीणों ने बताया कि ट्रांसफार्मर जलने की सूचना भैयाथान के सहायक अभियंता को दे दिया गया था, लेकिन आज तक नया ट्रांसफार्मर नहीं लगाया गया है। जिससे यहां के ग्रामीणों को पानी की किल्लत से जूझना पड़ रहा है, वहीं इस बारिश में कई प्रकार के सांप बिछु निकल रहे हैं। इस दौरान महेंद्र सिंह,एस.पी. कुशवाहा, सूर्योदय कुशवाहा, अनिल कुशवाहा सुखलाल सिंह, जागेश्वर सिंह, आशिष कुमार, मुकेश कुमार, राजकुमार एवं अन्य ग्रामवासी उपस्थित थे।


05-Jul-2020 9:58 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

भैयाथान, 5 जुलाई। विकासखंड प्रतापपुर का प्राथमिक शाला सारसताल सोनगरा का शाला भवन के छत से बारिश में पानी टपकता है, वहीं छत का प्लास्टर टूट-टूट कर गिरता है जिसमें बैठ कर शिक्षा ग्रहण कर पाना संभव नहीं है। ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन से ध्यान देकर समस्या का समाधान कर शाला भवन की मरम्मत शीघ्र कराने की मांग की है।
प्राथमिक शाला सारसताल शिक्षकों की मेहनत के कारण मॉडल विद्यालय में बदल गया है। शैक्षिक वातावरण बहुत अच्छी हो गई है परन्तु भवन में मरम्मत नहीं होने के कारण छत की प्लास्टर उखड़ रही है है। ज्ञात हो कि शाला के आकस्मिक निरीक्षण में पहुंचे जिला पंचायत सीईओ को शिक्षक ने समस्याओं की ओर ध्यान आकृष्ट कराया तो उन्होंने त्वरित कार्रवाई करते हुए जनपद सीईओ एवं इंजीनियरिंग से प्राक्कलन तैयार कर मरम्मत कराने का निर्देश दिया था एवं किचन गार्डन की सिंचाई हेतु पम्प लगाने का निर्देश दिया था। सीईओ के निर्देश पर हैण्डपम्प में पम्प तत्काल डाल कर चालू कर दिया गया, परन्तु छत की मरम्मत अभी भी लंबित है। जिला सीईओ का स्थानांतरण भी हो गया है 

 ग्रामीणों ने बताया कि विद्यालय के भवन के छत की स्थिति जर्जर है। बच्चों को विद्यालय भेजने में हमेशा दुर्घटना का भय रहता है परंतु अच्छी शिक्षा हेतु बच्चों को विद्यालय भेजना मजबूरी है। 

ग्रामीणों ने बताया कि यहां पदस्थ शिक्षक बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं, परंतु शाला भवन जर्जर  स्थिति में है। अतिरिक्त कक्ष में शिक्षक एक से ज्यादा कक्षा के बच्चों को एक साथ बैठाकर अध्यापन कराते हैं जिसमें अत्यधिक परेशानी होती है। 

अच्छी शिक्षा के कारण विद्यालय की दर्ज संख्या में भी अत्यधिक वृद्धि हो रही है। शिक्षामंत्री के क्षेत्र भ्रमण के दौरान भी ग्रामीणों ने समस्या से अवगत करा शाला भवन के मरम्मत की बात रखी थी, परंतु शाला भवन की मरम्मत का कार्य अभी तक नहीं हो पाया है। शाला भवन की दीवार अच्छी स्थिति में है सिर्फ छत पर पानी रुकने के कारण कमजोर है यदि छत की मरम्मत करा दी जावे तो विद्यालय भवन की स्थिति अच्छी हो जाएगी । 


04-Jul-2020 10:22 PM

भैयाथान, 4 जुलाई। केंद्रीय राज्य मंत्री व सरगुजा सांसद रेणुका सिंह ने शिव कुमार पांडेय को शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बड़सरा के शाला विकास एवं प्रबंधन समिति हेतु सांसद प्रतिनिधि मनोनीत किया है।

 ज्ञात हो कि शिव कुमार पांडेय पिछले एक दशक से भाजपा पार्टी व संगठन के कार्यक्रम में लगातार तत्पर रहते हैं। वे सामाजिक धार्मिक स्वच्छता व शिक्षा क्षेत्र में सक्रिय भूमिका निभाते आ रहे हैं। वे पूर्व में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बड़सरा के सांसद प्रतिनिधि व शाला विकास व प्रबंधन समिति के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। इनके कार्यकाल में विद्यालय के संसाधन जैसे विद्यालय भवन, डेस्क बेंच, विषय शिक्षक उपलब्धता हेतु काफी संघर्ष किया है। बताया जाता है कि 2017 में डेस्क बेंच व परीक्षा केंद्र के मांग को लेकर छात्रों के साथ हड़ताल में बैठकर अपनी मांगों को पूरा कराया था।

 

 

 

 

 


03-Jul-2020 10:22 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बिश्रामपुर, 3 जुलाई।
कोयला खनन क्षेत्र में कमर्शियल माइनिंग को मंजूरी दिए जाने के साथ ही कोयला खदानों के निजीकरण एवं केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ ट्रेड यूनियनों द्वारा दो से चार जुलाई तक घोषित राष्ट्रव्यापी हड़ताल के दूसरे दिन शुक्रवार को एसईसीएल बिश्रामपुर क्षेत्र में शत-प्रतिशत कामकाज प्रभावित रहा। 

हड़ताल के दूसरे दिन सुबह से ही बीएमएस समेत एटक, एचएमएस, इंटक एवं सीटू के पदाधिकारी पूरी टीम के साथ सभी खदानों के बाहर सक्रिय नजर आए। वहीं श्रमिक संगठनों ने भूमिगत खदानों में प्रबंधन की मांग पर आपातकालीन सेवा के कर्मचारियों को ड्यूटी जाने की अनुमति दी। 

क्षेत्र की बंद तीनों ओपन कास्ट खदानों में कामगारों की उपस्थिति काफ़ी कम रही। उसके बावजूद कोयला खदान में उत्पादन एवं डिस्पैच पूरी तरह प्रभावित रहा। इस दौरान केंद्र सरकार के फैसले से नाराज कामगारों ने मोदी सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी करते हुए अपनी नाराजगी का इजहार किया।
 ट्रेड यूनियनों के तीन दिनी राष्ट्रव्यापी हड़ताल के एलान के बाद गुरुवार को पांचों मान्यता प्राप्त श्रमिक संगठनों ने संयुक्त रूप से बिश्रामपुर क्षेत्र में तीन दिवसीय हड़ताल का शंखनाद कोयला उत्पादन एवं डिस्पैच पूरी तरह ठप कर दिया है।

बीएमएस के कंपनी समन्वयक एवं आइआर प्रभारी मजहरूल हक अंसारी ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा एक के बाद एक मजदूर विरोधी निर्णय लेकर कोल इंडिया के निजीकरण का रास्ता साफ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोल इंडिया का अस्तित्व खतरे में है। कोयला मजदूरों की एकता का ही परिणाम है कि वर्ष 2000 का संशोधन विधायक बिल राज्यसभा में आज भी लंबित है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ आंदोलन जारी रहेगा। 

एटक के एसईसीएल अध्यक्ष अजय विश्वकर्मा ने मोदी सरकार को कर्पोरेट घरानों की कठपुतली बताते हुए कहा कि मोदी सरकार द्वारा कमर्शियल माइनिंग को मंजूरी दिए जाने के साथ ही श्रम कानूनों में बदलाव एवं सीएमपीडीआईएल को कोल इंडिया से अलग करने की साजिश के जरिये कोल इंडिया को सुनियोजित ढंग से निजी हाथों में सौंपने की तैयारी की जा रही है। कोयला मजदूरों की एकजुटता से ही केंद्र सरकार को फैसला वापस लेने के लिए मजबूर किया जा सकता है। 

एचएमएस नेता देवेंद्र मिश्रा समेत इंटक नेता अमरजीत सिंह एवं सीटू नेता ललन सोनी ने भी मोदी सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों पर हल्ला बोलते हुए कहा कि मोदी सरकार कमर्शियल माइनिंग की मंजूरी को लेकर कोल इंडिया को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी में है। मोदी सरकार लगातार मजदूर विरोधी निर्णय ले रही है। 

 हड़ताल को सफल बनाने पहले दिन श्रमिक नेता सुजीत सिंह, महेंद्र लांडेय, राजेश सिंह, अशोक सिंह समेत हीरालाल, पंकज गर्ग, अभय प्रकाश सिन्हा, दीप सिंह, प्रेमचंद सिंह, परमजीत सिंह, अरविंद सिंह, रामचंद्र जायसवाल, ललन सोनी, डीएस सोढ़ी, सुनील गर्ग समेत श्रमिक संगठनों के कार्यकर्ता सक्रिय रहे।
 


03-Jul-2020 8:25 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

भैयाथान, 3 जुलाई। आज दोपहर सूरजपुर जिले के झिलमिली थाना अंतर्गत ग्राम पंचायत दलौनी में निर्माणाधीन पंचायत भवन में काम कर रहे एक मजदूर की हाईटेंशन तार की चपेट में आने से मौत हो गई।

 ग्राम खड़ापारा से अलग हुए नवीन ग्राम पंचायत दलौनी में पंचायत का भवन निर्माण कार्य चल रहा था और उक्त निर्माण कार्य में 5 से 7 मजदूर कार्य कर रहे थे। बताया गया है कि मृष्णा लोहार (32) ने जैसे ही कॉलम को गड्ढे में खड़ा किया, उसी समय वहां से गुजरे बिजली के हाईटेंशन तार की चपेट में आने से वह गिर गया, जिससे वहां काम कर रहे अन्य मजदूरों में अफरा-तफरी मच गई।

बताया जाता है कि मृतक अपने घर बसकर से ग्राम दलौनी में नाना के यहां आकर मजदूरी का काम करता था। इसकी सूचना तत्काल उनके परिजनों को दी गई तो परिजन ग्राम बसकर से टेम्पो में जब तक घटनास्थल पहुँच पाते तब तक एक घण्टा गुजर चुका था और मृतक को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भैयाथान लाया गया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया गया। मृतक के दो छोटे-छोटे बच्चें हैं। पंचायत ने10 हजार रूपए की तात्कालिक सहायता राशि दी है।

 जनपद सदस्य सुनील साहू ने लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि सभी निर्माण कार्यों में जल्द बनाने का दबाव इस कदर है कि सरपंच व सचिव के द्वारा दिन तो दिन रात में भी पेट्रोमैक्स या लाईट जलाकर निर्माण कार्य कराया जा रहा है, जिसमें किसी भी सुरक्षा मानकों का ध्यान नहीं रखा जा रहा है जिसका जीता जागता उदाहरण आज हुए मौत को बताया।

प्रशासन से मृतक के परिजनों को तत्काल मुआवजा राशि दिलाने की मांग की गई, वहीं इस निर्माण कार्य के दौरान हुई लापरवाही को देखते हुए संबंधित दोषियों पर कार्रवाई की मांग की गई।


03-Jul-2020 7:10 PM

बल्लियों के सहारे बांधे तार, हादसे की आशंका

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भैयाथान, 3 जुलाई।
विकासखंड भैयाथान के ग्राम पंचायत बसकर के खडिय़ापारा में विगत दो माह पूर्व क्षेत्र में आए तेज आंधी तूफान से बिजली के पोल से टूट कर तार जमीन पर गिर गए थे, बिजली तार को ग्रामीण लकड़ी की बल्लियों व पेड़ों की शाखाओं से बांधकर काम चला रहे हैं। जिसको लेकर अभी बरसात दिनों में ग्रामीणों को खतरे के बीच गुजरना पड़ रहा है।  ग्रामीणों का कहना है कि बिजली विभाग को कई बार लिखित व मौखिक सूचना देने के बाद भी सुधार हेतु आज तक इस ओर कोई पहल नहीं किया गया।

ज्ञात हो कि खडिय़ापारा बसोर बस्ती के ग्रामीण रामअधीन, राजेश सिंह, हरीशचंद्र घर के पास दो महिने पूर्व 25 अप्रैल को आए तेज आंधी व तूफान से 5 खम्भे से बिजली के तार जमीन पर आ गिरा था जिसकी सूचना ग्रामीणों ने तत्काल संबंधित विद्युत विभाग को दी, लेकिन दो माह बीत जाने के बाद भी अब तक बिजली विभाग का अमला सुधारने नहीं पहुंचा तो मजबूरन ग्रामीणों ने लकड़ी के खम्भे गाडक़र पेड़ों के शाखाओं में तार को बांधकर बिजली जला रहे हैं। इसी दौरान पेड़ से गिरकर ग्रामीण हरिश्चंद्र घायल हो गया था।

खडिय़ापारा के ग्रामीण राजेश ने बताया कि मैंने बिजली विभाग के कार्यालय पहुंच लिखित व मौखिक रूप से सुधार हेतु निवेदन किया लेकिन 2 महीने बीत जाने के बाद भी अब तक कोई सुधार करने आज तक नहीं पहुंचा है।

इस संबंध में भैयाथान के सहायक अभियंता लोकनाथ नेताम ने 'छत्तीसगढ़’ को कहा कि आपके द्वारा यह जानकारी मिली है, तत्काल वहां कर्मचारी भेज कर सुधार करवाता हूं।
 


03-Jul-2020 7:09 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भैयाथान, 3 जुलाई।
ब्लॉक मुख्यालय में कोरोना संकट के बीच पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों को लेकर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी ने केंद्र सरकार के खिलाफ भैयाथान में प्रदर्शन किया और एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। साथ ही केंद्र सरकार से पेट्रोल व डीजल के दामों को कम करने की मांग की गई।

वर्तमान में तेल कंपनियों ने कच्चे तेल के भाव बढ़ा दिए हैं जिसके चलते अब पेट्रोल और डीजल महंगा हो गया है। इस महंगाई ने आम लोगों की जिंदगी में बुरा असर डाला है। पहली बार ऐसा हुआ है जब डीजल की कीमत पेट्रोल की कीमत से ज्यादा है। कोरोना संकट में जहां सभी व्यापारी और नौकरीपेशा लोग आर्थिक रुप से तंगी का सामना कर रहे हैं, इस बीच इस तरह की महंगाई को कांग्रेस जनों ने केंद्र सरकार की नाकामी बताई है। 

इस दौरान प्रदेश कांग्रेस सचिव अखिलेश प्रताप सिंह, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष रावेंद्र प्रताप सिंह, राजू गुप्ता, नूर आलम, निर्मल सिंह, कृष्ण मुरारी, उमाशंकर साहू, आशीष सिंह, दीपेश नाविक, विनय पावले सहित काफी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।
 


02-Jul-2020 10:54 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

उदयपुर, 2जुलाई। थाना उदयपुर अंतर्गत ग्राम निम्हा से जंगल में अज्ञात शव पेड़ पर लटके होने की सूचना बुधवार को देर शाम मिलने थाना उदयपुर की टीम जंगल में जाकर देखा तो साल के पेड़ पर एक सफेद बोरे में कुछ टंगा हुआ था। बोरे से दुर्गंध आ रही थी लाश सड़ चुकी थी कीड़े लगकर जमीन में गिर रहा था। 
उदयपुर पुलिस द्वारा उच्चाधिकारियों को इस बारे सूचना दी गई। गुरुवार को सुबह एफ एस एल की टीम सहित एस डी ओ पी चंचल तिवारी टी आई मनीष धुर्वे मौके पर सुबह 9 बजे निम्हा जंगल पहुंचे पेड़ पर टंगे बोरे को उतरवाकर देखा गया तो उसमें बकरे का लाश था। बोरे में बकरे की लाश मिलने से पुलिस अमला सहित ग्रामीणों ने राहत की सांस ली। कागजी कार्रवाई पूर्ण कर पुलिस अमला जंगल से लौट आया।


Previous12Next