छत्तीसगढ़ » रायपुर

Previous12345678Next
Date : 11-Nov-2019

अवैध फोन टैपिंग की शिकायतों पर सरकार गंभीर, सीएम ने बनाई तीन सदस्यीय जांच समिति

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 नवम्बर। सरकार ने अवैध फोन टैपिंग की शिकायतों को गंभीरता से लिया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इन शिकायतों की जांच के लिए गृह विभाग के प्रमुख सचिव की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय समिति का गठन किया है।

मुख्यमंत्री ने स्मार्ट फोन टेप करने संबंधी शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए इसे नागरिकों की स्वतंत्रता के हनन से जुड़ा प्रश्न बताया है।  उन्होंने इन शिकायतों की जांच के लिए प्रमुख सचिव गृह की अध्यक्षता में समिति गठित करने के निर्देश दिए हैं। समिति के अन्य सदस्यों में पुलिस महानिरीक्षक रायपुर एवं संचालक जनसम्पर्क होंगे। समिति सम्पूर्ण घटना की विस्तृत जांच कर एक माह में तथ्यात्मक प्रतिवेदन प्रस्तुत करेगी। पुलिस महानिदेशक समिति को जांच केे लिए सभी आवश्यक सहयोग प्रदान करेंगे।

बताया गया कि सामाजिक कार्यकर्ता आलोक शुक्ला सहित कई अन्य लोगों ने अवैध रूप से फोन टैपिंग की आशंका जाहिर की थी। यह आशंका तब जाहिर की गई, जब सरकार ने अवैध फोन टैपिंग को लेकर सख्त हिदायत दे रखी है। शपथ लेने के बाद खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि राज्य में अवैध रूप से किसी के फोन टैप नहीं होंगे, जबकि पिछली सरकार में अवैध टैपिंग की शिकायतें चर्चा में रही है। उल्लेखनीय है कि  देश भर में जिस इजरायली सॉफ्टवेयर, पेगासस के जरिए टैपिंग की चर्चा सुर्खियों में है।  यह सॉफ्टवेयर वॉट्सऐप जैसे सुरक्षित माने जाने वाले मैसेंजर को भी टैप कर सकता है, और इसकी मदद से दुनिया के कई देशों में सरकारों ने ऐसा किया भी।

कंपनी यह दावा भी करती है कि वह इसे सरकारों और सरकारी एजेंसियों के अलावा किसी को नहीं बेचती है। पेगासस बनाने वाली इजरायली साइबर इंटेलीजेंस कंपनी, एनएसओ, ने 2017 में छत्तीसगढ़ पुलिस के बड़े अफसरों के सामने राज्य के पुलिस मुख्यालय में इसका प्रदर्शन किया था। ‘छत्तीसगढ़’ ने अपने दैनिक कॉलम राजपथ-जनपथ में इस आशय की खबर को प्रकाशित किया था।

संडे गार्डियन ने यह भी लिखा है कि 2017 में रायपुर पुलिस मुख्यालय में यह प्रजेंटेशन 20-25 मिनट चला, लेकिन कंपनी ने उसके 60 करोड़ दाम बताए जिसे बहुत अधिक मानते हुए बात उसी समय खत्म हो गई। इस अखबार की पूछताछ पर इस कंपनी एनएसओ ने कहा कि वे इस बात से इंकार नहीं करते कि हिन्दुस्तान में उनके इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया है, लेकिन वे यह नहीं बता सकते कि उन्होंने इसे किस एजेंसी या सरकार को बेचा था।

राज्य के पुलिस अफसर इजरायली कंपनी के प्रेजेंटेशन से भी इंकार कर रहे हैं। मगर हल्ला यह भी है कि इस तरह के साफ्टवेयर की खरीदी के लिए मैन्यूअल टेंडर हुए थे और खरीदी भी हुई थी। ईओडब्ल्यू की एक महिला कर्मचारी को इजरायल प्रशिक्षण के लिए भेजे जाने की भी खबर सुर्खियों में रही है।

ऐसे में जांच होने के बाद साफ्टवेयर की खरीदी और फोन टैपिंग से जुड़े तमाम बिंदुओं पर स्थिति साफ हो सकती है।


Date : 11-Nov-2019

टल सकते हैं जिलाध्यक्षों के चुनाव, भाजपा में मंथन, प्रदेश में 14 तारीख के बाद कभी भी नगरीय निकाय चुनाव तारीखों का ऐलान हो सकता है

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 नवम्बर। भाजपा में जिलाध्यक्षों का चुनाव टल सकता है। नगरीय निकाय चुनाव के चलते अध्यक्षों के चुनाव टलने की संभावना जताई जा रही है। हालांकि प्रदेश के चुनाव अधिकारी रामप्रताप सिंह ने कहा कि जिलाध्यक्षों के चुनाव अभी टाले नहीं गए हैं।

श्री सिंह ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि चुनाव टालने को लेकर केन्द्रीय नेतृत्व से अभी कोई निर्देश नहीं मिले हैं। चुनाव प्रक्रिया यथावत चल रही है। चुनाव के कारण बस्तर और दंतेवाड़ा में मंडल चुनाव टाले गए थे। दोनों जिलों में भी चुनाव हो रहे हैं। बताया गया कि पार्टी में नगरीय निकाय चुनाव को देखते हुए जिलाध्यक्षों के चुनाव टालने पर चर्चा चल रही है।

प्रदेश में 14 तारीख के बाद कभी भी नगरीय निकाय चुनाव तारीखों का ऐलान हो सकता है। सूत्रों के मुताबिक पार्टी नेताओं ने इसकी जानकारी केन्द्रीय नेतृत्व को दे दी है। यह सब देखते हुए चुनाव कुछ समय के लिए टल सकते हैं। प्रदेश में 20 नवम्बर के बाद जिलाध्यक्षों के चुनाव होंगे। इसकी तैयारी चल रही है। जिलाध्यक्षों के नामों को लेकर स्थानीय बड़े नेता सक्रिय भी हैं। ज्यादा विवाद रायपुर, बिलासपुर और महासमुंद जिले में हैं। चूंकि भिलाई-दुर्ग के जिलाध्यक्षों के चुनाव अभी टाल दिए गए हैं। इसलिए यहां विचार नहीं हो रहा है। दोनों जगहों में मंडल के चुनाव स्थगित कर दिए गए हैं।

रायपुर जिले में सभी बड़े नेता यहां दखल दे रहे हैं। पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह के खेमे से रायपुर शहर अध्यक्ष पद के लिए संजय श्रीवास्तव के नाम सामने आए हैं। पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और सांसद सुनील सोनी, पार्षद दल के नेता सूर्यकांत राठौर के नाम पर सहमत हो सकते हैं। इसके अलावा युवा मोर्चा के महामंत्री संजूनारायण सिंह ठाकुर का नाम भी चर्चा में है। जबकि पूर्व मंत्री राजेश मूणत, ओंकार बैस या सत्यम दुआ का नाम तय करने के लिए दबाव बना सकते हैं।

ग्रामीण जिलाध्यक्ष पद के लिए भी काफी किचकिच है। यहां से पूर्व निगम अध्यक्ष देवजी पटेल का नाम प्रमुखता से उभरा है। इसके अलावा मौजूदा महामंत्री अनिमेश कश्यप(बॉबी), सुनील मिश्रा और पूर्व विधायक नंदकुमार साहू के नाम की चर्चा है। हल्ला है कि त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस भी अपनी तरफ से कुछ सुझाव दे सकते हैं। इससे पहले तक बैस की पसंद पर ही ग्रामीण जिलाध्यक्ष तय किए जाते रहे हैं।

इसी तरह बिलासपुर जिले में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक और पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल का खेमा आमने-सामने आ सकता है। कुल मिलाकर मौजूदा स्थिति में कई नेता चुनाव टालने पर जोर दे रहे हैं। उनका मानना है कि  इसका असर नगरीय निकाय चुनाव पर पड़ सकता है। बहरहाल, एक-दो दिनों में इसको लेकर तस्वीर साफ होने की उम्मीद है।


Date : 11-Nov-2019

नई सरकार के गठन के बाद साढ़े पांच लाख लोगों को मिला रोजगार, अधिक से अधिक लोगों को रोजगार के अवसर दिलाने के लिए राज्य में अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 नवम्बर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृृत्व में सरकार बनने के बाद माह जनवरी से अक्टूबर तक 10 माह में प्रदेश में 5 लाख 41 हजार 259 लोगों को रोजगार प्रदान किया गया है। इनमें से ग्रामीण क्षेत्रों में 5 लाख 10 हजार 117 लोगों को शासकीय सेवा के क्षेत्र में 20 हजार 502 लोगों को और उद्योगों में 10 हजार 640 लोगों को रोजगार प्रदान किया गया है।

ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए राज्य सरकार द्वारा नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना प्रारंभ की गई है। जिसके माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के बीच उद्यमियता के विकास के साथ रोजगार के अवसर उत्पन्न करने के प्रयास किए जा रहे हैं। अधिक से अधिक लोगों को रोजगार के अवसर दिलाने के लिए राज्य में अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं। इनमें से ग्रामीण क्षेत्र में छत्तीसगढ़ राज्य आजीविका मिशन के तहत लगभग 2 लाख 29 हजार 374 महिलाओं को रोजगार मिला है। राज्य सरकार द्वारा शासकीय उपयोग के वस्त्रों की खरीदी प्रदेश के राज्य बुनकर सहकारी संघ के माध्यम से की जा रही हैं। इस फैसले से प्रदेश में लगभग 51 हजार बुनकरों को रोजगार मिला है। छत्तीसगढ़ में लगभग 32 प्रतिशत जनसंख्या आदिवासी लोगों की है। इनकी आजीविका और रोजगार वनों पर निर्भर है। लघु वनोपजों के संग्रह में लगे आदिवासी महिलाओं समूहों के माध्यम से भी बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिला है। राज्य सरकार द्वारा आदिवासियों की आय में वृद्धि के उद्ेदश्य से लघु वनोपजों की खरीदी 3500 महिला समूहों के माध्यम से 821 हाट बाजारों में की जा रही है। इसके माध्यम से लगभग 42 हजार महिलाओं को रोजगार मिला है।

गणवेश तैयार करने के काम में प्रदेश के लगभग 900 महिला समूह कार्यरत हैं। स्कूल के विद्यार्थियों के गणवेश तैयार करने में लगभग नौ हजार महिलाओं को रोजगार मिला है। वनोत्पादों के माध्यम से लगभग 35 हजार वनवासियों को गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के काम में लगभग पांच हजार ग्रामीणों को, माहुल पत्ता, कपड़े और जूट से पत्तल और प्लेट तैयार करने के काम में लगभग पांच हजार बांस से ट्री-गार्ड और टोकरी तैयार करने में लगभग पांच हजार लोगों को रोजगार मिला है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत खेती-किसानी संबंधी गतिविधियों आर्गेनिक खाद (वर्मी कम्पोस्ट) आर्गेनिक औषधियां के क्षेत्र में लगभग 61 हजार 991 लोगों को, गैर कृषि क्षेत्र में 22 हजार 762 लोगों को रोजगार मिला है। इसी प्रकार नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना के तहत बनाएं गए क्रियाशील गौठानों में महिला समूह द्वारा वर्मी कम्पोस्ट और चारा उत्पादन का कार्य किया जा रहा है। प्रत्येक गौठान में 14 से 15 महिला कार्यरत हैं। गौठानों में लगभग 27 हजार 990 महिलाओं को इसी प्रकार महिला और बाल विकास विभाग के सुपोषण अभियान के कार्यो में लगभग 16 हजार महिलाओं को रोजगार के अवसर मिल रहें हैं। इन महिलाओं को 2750 रूपए प्रतिमाह आमदनी हो रही है। इस प्रकार ग्रामीण अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में पिछले 10 माह में पांच लाख 10 हजार 117 लोगों को रोजगार मिला।

 इसी प्रकार शासकीय क्षेत्र में लगभग 20 हजार 502 लोगों को नौकरी मिली है।

 पिछले 10 माह में स्कूलों में 5441 शिक्षकों, 4000 सहायक शिक्षकों, 2767 व्याख्याताओं, विज्ञान प्रयोगशाला में 1200 सहायक शिक्षकों, 410 अंग्रेजी व्याख्याता, 306 अंग्रजी माध्यम के सहायक शिक्षकों के साथ अन्य पदों पर 1420 लोगों की भर्ती की गयी है। पुलिस विभाग में 3682 कॉन्सटेबल के पदों पर भर्ती की जा रही है।  छत्तीसगढ़ लोक सेवा के माध्यम से 503 पदों पर भर्ती की गई तथा 1972 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग में 250 पटवारियों, स्वास्थ्य विभाग 228 लेब टेक्निशियन, उच्च न्यायालय में हेल्पर गे्रड-3 और कम्प्यूटर ऑपरेटर के 177 पदों तथा लोक निर्माण विभाग में 118 सब इंजीनियर (सिविल) की भर्ती की गई है।

उद्योगों के माध्यम से पिछले 10 माह में लगभग 10 हजार 640 लोगों को रोजगार के अवसर मिलें हैं। राज्य सरकार द्वारा उद्योगों को दी जा रही सुविधाओं और प्रोत्साहन से पूरे देश में आर्थिक मंदी के माहौल के बीच छत्तीसगढ़ में उद्योगों और इससे जुड़े क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति दर्ज की गई है। पिछले 10 माह में अल्ट्रा-मेगा उद्योगों की 2 यूनिट स्थापित की गई है, जिनमें  411 लोगों को प्रबंधन के क्षेत्र में, 1520 कुशल श्रमिकों तथा 948 अकुशल श्रमिकों को रोजगार के अवसर मिले। इस अवधि में एक मेगा उद्योग की स्थापना हुई जिसमें 170 लोगों को प्रबंधन में, 551 कुशल श्रमिकों तथा 194 अकुशल श्रमिकों और सात बड़े उद्योगों स्थापना में 73 लोगों को प्रबंधन, 192 कुशल श्रमिकों और 374 अकुशल श्रमिकों को रोजगार मिला। इसके अलावा मध्यम श्रेणी के 17 उद्योग स्थापित हुए, जिनमें 94 लोगों को प्रबंधन, 251 कुशल श्रमिकों और 431 अकुशल श्रमिकों इसी प्रकार 274 छोटे उद्योग की स्थापना हुई जिसमें 570 लोगों प्रबंधन में, 1138 कुशल श्रमिकों और 2146 अकुशल श्रमिकों, इसी अवधि में स्थापित किए गए 215 सूक्ष्म उद्योगों में 248 लोगों को प्रबंधन, 493 कुशल श्रमिकों और 836 अकुशल श्रमिकों को रोजगार मिला।

 


Date : 11-Nov-2019

रायपुर की ट्रैफिक व्यवस्था सुधारने सीएस ने अफसरों की बैठक ली, चौक-चौराहों पर जाम से निपटने सडक़ मरम्मत के निर्देश
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 11 नवम्बर।
मुख्य सचिव आरपी मण्डल ने सोमवार को पीडब्ल्यूडी व नगरीय प्रशासन अफसरों की बैठक लेकर उन्हें रायपुर की यातायात व्यवस्था को और व्यवस्थित करने के निर्देश दिए। खासकर चौक-चौराहों पर जाम की स्थिति से निपटने सडक़ों की मरम्मत जल्द कराने कहा। 

 मुख्य सचिव श्री मण्डल ने अफसरों को नगर निगम क्षेत्र रायपुर में पीडब्ल्यूडी की सडक़ों को दुरूस्त रखने के निर्देश देते हुए कहा कि लोक निर्माण विभाग, नगर निगम, नगरीय प्रशासन विकास विभाग तथा जिला प्रशासन के अधिकारी तालमेल बनाकर इस काम को प्राथमिकता से पूरा करें। उन्होंने शहर के मध्य से निकलने वाले एक्सप्रेस-वे की समीक्षा करते हुए इसका व्यवस्थित रूप से संधारण तय करने कहा, ताकि शहर की ट्रैफिक व्यवस्था और सुदृढ़ हो सके। 

श्री मंडल ने अफसरों को निर्देश दिए हैं कि शहर में अतिक्रमण न हो, इसकी पूरी मॉनिटरिंग की जाए। बैठक में अपर मुख्य सचिव लोक निर्माण विभाग अमिताभ जैन, विशेष सचिव नगरीय प्रशासन अलरमेल मंगई डी, ईएनसी पीडब्ल्यूडी डीके अग्रवाल सहित लोक निर्माण विभाग के सभी सीई और अधीक्षक यंत्री व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

 

 

 


Date : 11-Nov-2019

गुजरात विस अध्यक्ष त्रिवेदी ने की डॉ. महंत से मुलाकात, पुष्पगुच्छ शाल श्रीफल भेंट कर स्वागत किया
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 11 नवम्बर।
गुजरात विधानसभा अध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद त्रिवेदी सोमवार को रायपुर स्पीकर हाउस पहुंचे और वहां छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत से मुलाकात की। 

विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने गुजरात के विधानसभा अध्यक्ष राजेन्द्र त्रिवेदी और उनकी पत्नी का पुष्पगुच्छ शाल श्रीफल भेंट कर स्वागत किया और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति प्रतीक स्वरूप भेंट की। 

विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत के निज प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने बताया कि, वे एक कार्यक्रम के सिलसिले में यहां आए हुए हैं। इस अवसर पर कोरबा लोकसभा सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत, छत्तीशगढ विधानसभा सचिव चंद्रशेखर गंगराड़े, दिनेश शर्मा, अमित पांडे उपस्थित रहे। 

 

 

 

 


Date : 11-Nov-2019

एशियन टेनिस फेडरेशन एवं ऑल इंडिया टेनिस एसोसिएशन के तत्वाधान में प्रदेश टेनिस संघ द्वारा एशियन अंडर 14 रैंकिंग टेनिस चैंपियनशिप शुरू
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 11 नवंबर। 
एशियन टेनिस फेडरेशन एवं ऑल इंडिया टेनिस एसोसिएशन के तत्वाधान में छग प्रदेश टेनिस संघ द्वारा वीआईपी क्लब में 11 से 17 नवंबर तक आयोजित एशियन अंडर 14 रैंकिंग टेनिस चैंपियनशिप के मेन ड्रा के मैचेस सोमवार से प्रारम्भ हुए। इस अवसर पर प्रदेश टेनिस संघ के अध्यक्ष विक्रम सिंह सिसोदिया, महासचिव गुरुचरण सिंह होरा जॉइंट सेक्रेटरी सुशील बलानी ने खिलाडिय़ों से मिलकर उन्हें प्रतियोगिता हेतु शुभकामनाएं दी।

 इस प्रतियोगिता के लिए रेफरी प्रबीन नायक [व्हाइट बेज] को नियुक्त किया गया है। टूर्नामेंट कोर्डिनेटर रूपेंद्र सिंह चौहान है।सोमवार को बॉयज एवं गल्र्स के प्रथम दौर के खेले गए मैचेस के परिणाम इस प्रकार रहे-समप्रित शर्मा ने निमय अग्रवाल को 6-0 , प्रणव अमातापू [यूएसए] ने आकाश जेनिश को 6-3,6-2 से, हैग्रीव अतरेया ने पार्थ सोमानी को 6-4,6-0 से ध्रुव कुमार ने बिस्वा प्रधान को 6-0,6-0 से, क्रिश त्यागी ने अथर्व राज बालानी को 6-3,6-4 से, सर्वेश झवर ने दक्ष जोतवानी को 6-3,6-7[4],6-3 से, मयंद तिवारी ने देव मेहता को 6-4,6-4 से,प्रणव तनेजा ने आर्या सोनी को 6-2,6-1 से, हरिशरण भास्करन ने ओम गंगराड़े को 6-0,7-5 से,हराकर दूसरे दौर में प्रवेश किया। 

गल्र्स प्रथम दौर में एंजेल झामनानी ने रिद्धिमा शॉव को 6-1,6-4 से, वंशिका जैन ने संस्कृति तायल को 6-2,6-0 से, डानिका फर्नांडो ने अर्शप्रीत कौर हंस को 6-3,6-0 से,हर्षलीन कौर चंडोक ने भर्ती मिश्रा को 6-0,6-0 से, नंदिका अग्रवाल ने आद्या मिश्रा को 6-2,6-2 से, हराकर दूसरे दौर में प्रवेश किया।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


Date : 11-Nov-2019

पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय द्वारा डॉ रमेश चंद्र मेहरोत्रा की स्मृति में व्याख्यान माला का आयोजन, अतिथियों को स्मृति चिन्ह ,तांबुल पत्र और गांधी साहित्य की पुस्तक स्मृति स्वरूप प्रदान किये 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 11 नवम्बर।
पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर के भाषा एवं साहित्य अध्ययन शाला तथा शासकीय नागार्जुन स्नातकोत्तर विज्ञान महाविद्यालय, रायपुर के ग्रंथालय विज्ञान विभाग द्वारा संयुक्त रुप से शासकीय नवीन महाविदयालय, खरोरा में डॉ रमेश चंद्र मेहरोत्रा की स्मृति में व्याख्यान माला का विगत दिवस आयोजन किया गया। इस आयोजन के मुख्य अतिथि डॉ शैल शर्मा, भाषा एवं भाषा विज्ञान अध्ययन शाला एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ मधुलता सारा, प्राध्यापक, रविवि ने की। कार्यकम के विशेष अतिथि डॉ प्रवीण शर्मा थे।

व्याख्यान के दौरान डॉ शैल शर्मा, ने कहा कि भाषा में परिमार्जन समय के साथ आता है आदमी अनुभव से भाषा को परिस्थितियों के अनुसार उपयोग करता है। डॉ मधु लता बारा ने कहा कि डॉ मेहरोत्रा ने हमें परिस्थितियों से लडऩा सिखाया। उनकी सादगी ने हमें सादगी से जीवन जीना सिखाया। वे भाषा विज्ञान के युग पुरुष थे उन्होंने अपने शोध कार्यो से भाषा विज्ञान विभाग को अंतरराष्ट्रीय स्तर ख्याति दिलाई ।  

इस अवसर पर डॉ प्रवीण शर्मा ने डा मेहरोत्रा के योगदान के संदर्भ में विस्तृत जानकारी दी। भाषा विज्ञान अध्यन शाला के प्राध्यापक डॉ गिरजा शंकर गौतम ने कहा कि भाषा का उपयोग मनुष्य जीवन भर अपने आप को व्यक्त करने के लिए करता है। समाज एवं परिस्थितियों के अनुरूप उसकी भाषा परिमार्जित होती है। भाषा मनुष्य के व्यवहार का आईना है । धन्यवाद ज्ञापन महाविद्यालय के प्राध्यापक डॉ  डी के वर्मा के द्वारा किया गया। अतिथियों को स्मृति चिन्ह ,तांबुल  पत्र और गांधी साहित्य की पुस्तक स्मृति स्वरूप प्रदान की गई । कार्यक्रम का संचालन शासकीय  नवीन महाविद्यालय, खरोरा के हिंदी विभाग के प्राध्यापक डॉ बाल्मीकि साहु ने किया।

कार्यक्रम में डॉ. सी. एस. ओझा, रमेश कुमार साहू, जगदीश खटकर,  रचना मिश्रा, स्वाति सहित महाविद्यालय परिवार के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे। 

 


Date : 11-Nov-2019

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव की तैयारियां शुरू, देशभर के आदिवासी नृत्यों की रहेगी धूम, मुख्य सचिव ने ली अंतरविभागीय समिति की बैठक


रायपुर, 11 नवम्बर। छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव की तैयारियां शुरू हो गई है। इस महोत्सव की विकासखण्ड और जिला स्तर पर प्रतियोगिताएं प्रारंभ हो गई है। फायनल प्रतियोगिताएं 27, 28 एवं 29 दिसम्बर को राजधानी रायपुर में आयोजित होंगी। इस महोत्सव में छत्तीसगढ़ सहित देश भर के परंपरागत आदिवासी नृत्य शामिल होंगे। महोत्सव की तैयारियों के संबंध में मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल की अध्यक्षता में आज मंत्रालय महानदी भवन में अंतर्विभागीय समिति की बैठक हुई। 
बैठक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के सफल आयोजन के लिए विभिन्न पहलुओं पर व्यापक चर्चा की गई। महोत्सव की तैयारी के तहत देश के अन्य राज्यों से आने वाले कलाकारों के ठहराने, उन्हें लाने-ले जाने तथा भोजन सहित सभी आवश्यक व्यवस्थाओं और महोत्सव के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए संबंधित विभागों को जिम्मेदारी दी गई। बैठक में स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर आगामी 12 से 14 जनवरी तक राज्य स्तर पर आयोजित किए जाने वाले युवा महोत्सव के आयोजन की तैयारियों के संबंध में भी चर्चा की गई। 

बैठक में खेल एवं युवा कल्याण विभाग के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी ने बताया कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में किया जाएगा। इसके साथ ही महोत्सव के लिए दीनदयाल उपाध्यय ऑडिटोरियम और सरदार बलबीर सिंह जुनेजा इंडोर एवं आउटडोर स्टेडियम को भी आरक्षित कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के भव्य आयोजन में अतिथियों एवं कलाकारों को शामिल होने के लिए छत्तीसगढ़ के मंत्रीगण स्वयं देश के राज्यों में जाकर निमंत्रण देंगे। 
इस महोत्सव में देश भर के दो हजार से अधिक आदिवासी लोक कलाकारों के आने की संभावना है। आयोजन स्थल पर छत्तीसगढ़ की आदिवासी संस्कृति पर आधारित विशेष प्रदर्शनी के साथ ही छत्तीसगढ़ के इतिहास पर आधारित प्रदर्शनी भी लगायी जाएगी। अतिथि कलाकारों को छत्तीसगढ़ के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों-जंगल सफारी, सिरपुर आदि दिखाने के लिए पर्यटन विभाग द्वारा व्यवस्था की जाएगी। खेल विभाग के सचिव श्री परदेशी ने बताया कि युवा महोत्सव का आयोजन विकासखण्ड एवं जिला स्तर पर शुरू हो गया है। राज्य स्तरीय आयोजन 12 से 14 जनवरी तक साइंस कॉलेज मैदान में होगा। 

बैठक में अपर मुख्य सचिव लोक निर्माण अमिताभ जैन, प्रमुख सचिव कौशल विकास रेणु पिल्ले, सचिव आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति विकास डी.डी. सिंह, सचिव खाद्य डॉ. कमलप्रीत सिंह, सचिव ग्रामोद्योग हेमंत पहारे, विशेष सचिव नगरीय प्रशासन अलरमेल मंगई डी., विशेष सचिव पर्यटन अन्बलगन पी., आयुक्त जनसम्पर्क तारन प्रकाश सिन्हा, आयुक्त संस्कृति अनिल साहू, प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी,  रायपुर संभाग के कमिश्नर दिलीप वासनिकर, पुसिल महानिरीक्षक आनंद छाबड़ा, रायपुर कलेक्टर भारतीदासन एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख एवं रायपुर नगर निगम के आयुक्त शिवअनंत तायल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।       

 


Date : 11-Nov-2019

पार्षद चुनाव लडऩे तैयार, बशर्ते पार्टी टिकट दे- मीनल चौबे

डीडी नगर वार्ड 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 11 नवंबर।
पं. दीनदयाल उपाध्याय नगर वार्ड की वर्तमान पार्षद मीनल चौबे तीसरी बार पार्षद चुनाव लडऩे के लिए तैयार हैं बशर्ते पार्टी उन्हें टिकट दे।‘छत्तीसगढ़’ से बातचीत के दौरान मीनल चौबे ने बताया कि वह नगर निगम चुनाव लडऩा चाहती हैं, लेकिन टिकट का फैसला उन्होंने पूरी तरह से पार्टी पर छोड़ दिया है। दीनदयाल वार्ड से पार्षद रहते हुए उन्होंने वार्ड की सडक़, बिजली पानी की बुनियादी सुविधाओं के लिए हरसंभव प्रयास किया है। तालाब, उद्यान सौंदर्यीकरण जैसे काम भी उनकी प्राथमिकता में रहे। ऐसे में वह एक बार फिर पार्षद बनकर सफाई जैसे अधूरे काम को पूरा करना चाहेगी। मीनल चौबे का मानना है भाजपा की ओर से नगर निगम चुनाव महिलाओं को बेहतर मौका मिलेगा। 

मीनल चौबे कहती हैं परिसीमन के बाद पं. दीनदयाल वार्ड की आबादी 25 से 15 हजार हो गई है ऐसे में मैं वार्ड के लिए पहले से बेहतर काम कर सकूंगी। पार्षद कार्यकाल के दौरान पति से सलाह मशविरा जरूर लेती रहीं, लेकिन सारा काम मैंने खुद किया। पति का मॉरल सपोर्ट हमेशा मेरे साथ रहा। मैं अपने क्षेत्र में किसी को प्रतिद्वंदी नहीं मानती हूं। मेरे प्रतिद्वंदिता दूसरे से नहीं वरन खुद से है। 


Date : 11-Nov-2019

एचआईवी, टीबी नियंत्रण कार्यक्रमों का जायजा लेने डब्ल्यूएचओ की टीम आएगी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 11 नवम्बर।
स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रदेश में संचालित एचआईवी व टीबी नियंत्रण कार्यक्रमों का जायजा लेेने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की 15 सदस्यीय टीम आज शाम-रात रायपुर पहुंचेगी। मंगलवार को यह टीम दो अलग-अलग भागों में बंटकर रायपुर-बिलासपुर जिले में एचआईवी, टीबी नियंत्रण के लिए संचालित अलग-अलग केन्द्रों का दौरा कर वहां पीडि़त लोगों से चर्चा करेगी। इस दौरान नए मरीजों की खोज करते हुए केन्द्रों में इलाज संबंधी गतिविधियों की जानकारी भी लेगी। 

 राज्य एड्स नियंत्रण कार्यक्रम के परियोजना संचालक डॉ. एसके बिंझवार ने बताया कि ज्वाइंट मॉनेटरिंग मिशन की टीम के साथ भारत सरकार एवं विश्व स्वास्थ्य संगठन के राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय संगठन के अफसर छत्तीसगढ़ प्रवास पर आ रहे हैं। ज्वाइंट मॉनेटरिंग मिशन की टीम 11 नवम्बर की शाम-रात से 14 नवंबर तक प्रदेश में ही रहेगी। ज्वाइंट मॉनेटरिंग मिशन की टीम में 15 सदस्य केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के होंगे। वहीं 15 सदस्य डब्लूएचओ से हेल्थ विभाग के होंगे। 

उन्होंने बताया कि रायपुर, बिलासपुर में जायजा लेने के लिए दो टीम बनेगी। पहले यह टीम रायपुर पहुंच कर स्वास्थ्य विभाग के आला अफसरों से मुलाकात करेगी। इसके बाद एक टीम में 15-15 सदस्यों वाली संयुक्त अधिकारियों के साथ बिलासपुर के लिए रवाना होगी। रायपुर व बिलासपुर में 12 से 14 नवंबर तक टीम अस्पतालों के अलावा हितग्राहियों से मुलाकात करेगी। निरीक्षण के दौरान एड्स व टीबी कार्यक्रमों को लेकर फिल्ड स्तर पर मिलने वाली खामियों व उपलब्धियों की पूरी रिपोर्ट कलेक्टरों को सौंपी जाएगी। वहीं केंद्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय और डब्लूएचओ को भी छत्तीसगढ में एचआईव्ही व टीबी के नियंत्रण के लिए इलाज व बचाव में संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन की रिपोर्ट सौंपेगी।

मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल भी पहुंचेगी टीम
 रायपुर सीएमएचओ डॉ मीरा बघेल ने बताया एड्स और क्षय रोग के नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल, और टीबी अस्पताल में संचालित योजनाओं का निरीक्षण टीम करेगी। केंद्र व राज्य सरकार द्वारा डब्ल्यूएचओ के दिशा निर्देशों के अनुरुप एड्स और क्षय रोगों के नियंत्रण को लेकर मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा लेंगे। ज्वाइंट मॉनेटरिंग मिशन टीम में देश व विदेश के अफसरों द्वारा मरीजों से मुलाकात भी करेंगे।


Date : 11-Nov-2019

रायपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल के डॉक्टर सांकेतिक हड़ताल पर रहे

अंबिकापुर डीन के साथ दुव्र्यवहार, निंदा

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 नवम्बर। अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के डीन के साथ दुव्र्यवहार के विरोध में रायपुर मेेडिकल कॉलेज अस्पताल के जूनियर-सीनियर डॉक्टरों ने सोमवार को काली पट्टी लगाकर सांकेतिक विरोध जताया। उनका कहना है कि अंबिकापुर कलेक्टर द्वारा वहां के मेडिकल कॉलेज के डीन के साथ हाल ही में दुव्र्यवहार किया गया, पर उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने चेतावनी दी है कि दुव्र्यवहार पर कार्रवाई न होने पर प्रदेश के सभी मेडिकल शिक्षक बेमियादी हड़ताल पर जा सकते हैं।

अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में डीन के पद पर डॉ. विष्णु पिछले कुछ समय से कार्यरत हैं और वहां वे मेडिकल शिक्षक, नर्सिंग स्टाफ व वर्ग-3 कर्मियों की भर्ती में लगे हैं। इसके अलावा वे वहां मेडिकल कॉलेज अस्पताल व्यवस्था को भी चुस्त बनाने में लगे हैं। ऐसे समय में मेडिकल शिक्षकों की भर्ती को लेकर कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने उनके साथ दुव्र्यवहार किया, जिसका वहां के डॉक्टरों द्वारा कड़ी निंदा करते हुए विरोध किया गया।

अब रायपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल के जूनियर-सीनियर डॉक्टर उनके समर्थन में सांकेतिक विरोध पर उतर आए हैं। मेडिकल कॉलेज टीचर्स एसोसिएशन के डॉ. अरविंद नेरल व अन्य मेडिकल शिक्षकों का कड़ी निंदा करते हुए कहना है कि डॉक्टरों के साथ हमेशा दुव्र्यवहार शिकायत रहती है। अब डीन के साथ भी दुव्र्यवहार होने लगे हैं, जिसका कड़ा विरोध किया जाएगा। उन्होंने इसकी शिकायत शासन-प्रशासन से भी की है।

आईएमएका भी समर्थन

आईएमए प्रदेश अध्यक्ष डॉ अनिल जैन, महासचिव डॉ आशा जैन ने भी अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में डीन के साथ दुव्र्यवहार की कड़ी निंदा करते हुए सांकेतिक आंदोलन का समर्थन किया है। उन्होंने कहा है कि प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के टीचिंग स्टाफ से पिछले 3 वर्षों में कई बार दुव्र्यवहार किए गए हैं, जिससे यहां की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। नए मेडिकल टीचर्स के ज्वाइन करने में भी बाधा आ सकती है। उन्होंने मांग की है कि स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के गृह क्षेत्र में हो रही इन घटनाओं पर रोक लगाई जाए।

 


Date : 11-Nov-2019

तेलीबांधा तालाब में भाजपा पार्षद प्रजापति के भाई का शव बरामद, पुलिस जांच में जुटी है और शुरूआती दौर में उसे खुदकुशी का मामला मानकर चल रही है

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 नवम्बर। तेलीबांधा तालाब में सोमवार सुबह भाजपा नेता, शंकर नगर पार्षद मनोज प्रजापति के छोटे भाई राजेश प्रजापति (43) का शव संदिग्ध अवस्था में बरामद किया गया। उसके शरीर पर कहीं भी चोट के निशान नहीं पाए गए हंै। पुलिस जांच में जुटी है और शुरूआती दौर में उसे खुदकुशी का मामला मानकर चल रही है।

पुलिस के मुताबिक राजेश प्रजापति हर रोज की तरह आज सुबह करीब पांच बजे मार्निंग वॉक के लिए मरीन ड्राइव तेलीबांधा की ओर निकला था। सुबह मार्निंग वॉक पर वहां पहुंचे कुछ लोगों की नजर तेलीबांधा तालाब में तैरते शव पर पड़ी। कुछ देर बाद वहां तेलीबांधा पुलिस भी पहुंच गई। शव बाहर निकालने और पूछताछ करने पर पता चला कि यह शंकर नगर पार्षद के भाई का शव है।

पुलिस का कहना है कि शव की पहचान के बाद उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। शुरूआती जांच में उसके शरीर पर चोट के कहीं कोई निशान नहीं है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि उसने वहां छलांग लगाकर अपनी जान दी है। फिर भी पुलिस जांच करते हुए पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल

तेलीबांधा तालाब में सुबह-सुबह शव मिलने से वहां की सुरक्षा पर सवाल खड़े होने लगे हैं। लोगों का कहना है कि हर रोज सुबह मरीन ड्राइव में सैकड़ों लोग मार्निंग वॉक के लिए पहुंचते हैं। पाथवे पर सुबह-शाम सैकड़ों लोग मार्निंग वॉक करते हैं। तालाब में अचानक शव मिलने से अब वहां जाने वाले लोग दहशत में आ गए हैं।


Date : 11-Nov-2019

मेडिकल कॉलेज में मल्टी डिसिप्लिनरी रिसर्च यूनिट, स्वास्थ्य मंत्री ने किया उद्घाटन

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 नवंबर। रायपुर मेडिकल कॉलेज में बीमारियों के फैलने के कारणों एवं उनके उपचार की कारगर दवा का पता लगाने के लिए रिसर्च की शुरूआत हो गई है। इसके लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 5 करोड़ रुपये की लागत से बनकर तैयार बहु-विषयक अनुसंधान इकाई यानी मल्टी डिसिप्लिनरी रिसर्च यूनिट (एमआरयू) का स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने सोमवार को उद्घाटन किया।

बताया गया कि मल्टी डिसिप्लिनरी रिसर्च यूनिट का उद्देश्य मेडिकल कॉलेजों में अनुसंधान के माहौल को प्रोत्साहित और मजबूत करना है। इसके अलावा स्वास्थ्य को बेहतर बनाने की दृष्टि से बहु-विषयक अनुसंधान सुविधाओं को स्थापित करने में सहायता करना तथा स्वास्थ्य की समग्र स्थिति जैसे-जांच प्रक्रिया, निदान के तरीकों में भी सुधार करना है। रिसर्च के व्यापक उद्ेश्य के साथ स्थापित एमआरयू में वर्तमान में कोशिका जीव विज्ञान, नए नैदानिक विकास व दवा की खोज जैसी अनुसंधानात्मक सुविधाएं उपलब्ध हैं।

कार्यक्रम में विधायक कुलदीप जुनेजा, स्वास्थ्य सचिव सुश्री निहारिक बारिक, डीएमई डॉ. एसएल आदिले, डीन डॉ. आभा सिंह, अधीक्षक डॉ. विवेक चौधरी प्रमुख रूप से मौजूद थे।


Date : 11-Nov-2019

दिव्यांगजनों को कृत्रिम अंग प्रदान करना नया जीवन देने जैसा-उइके, नि:शुल्क कृत्रिम हाथ वितरण शिविर के समापन समारोह में हुई शामिल 

रायपुर, 11 नवंबर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा कि दिव्यांगजनों को कृत्रिम अंग प्रदान करना, उन्हें नया जीवन देने जैसा है। यह ईश्वरीय कार्य है और यह कार्य उनके सपने पूरे करने जैसा है। यह कार्य मानवता की सेवा के लिए एक बड़ा कार्य है। उन्होंने कहा कि जब हम किसी जरूरतमंद की मदद करते हैं तो सबसे अधिक आत्मसंतुष्टि मिलती है। राज्यपाल आज सुधर्म जैन समाज, रायपुर एवं श्री वर्धमान मित्र मंडल के संयुक्त रूप से आयोजित नि:शुल्क कृत्रिम हाथ वितरण शिविर के समापन समारोह को संबोधित कर रही थी। कार्यक्रम में राज्यपाल सहित अन्य अतिथियों ने दिव्यांगजनों को कृत्रिम हाथ का वितरण भी किया।

राज्यपाल ने कहा कि मन में दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो कितनी भी बाधा आए फिर भी लक्ष्य को प्राप्त करने से कोई रोक नहीं सकता। हमारे समक्ष अनेकों उदाहरण हैं, जिसमें शारीरिक रूप बाधित व्यक्ति भी अपनी इच्छाशक्ति एवं हिम्मत से बेहतर तरीके से जीवन जी रहे हैं। राज्यपाल ने पर्वतारोही अरूणिमा सिन्हा और छत्तीसगढ़ के दिव्यांग पर्वतारोही श्री चित्रसेन साहू का उदाहरण देते हुए कहा कि इन्होंने अपने दृढ़ इच्छा शक्ति से माउंट एवरेस्ट तथा माउंट किलमिंजारो चोटी को फतह किया। ऐसे लोग पूरे समाज के लिए प्रेरणास्रोत होते हैं, जिन्होंने हिम्मत हारने के बजाय दृढ़ संकल्प से दुनिया जीती है तथा अपने कार्यों एवं उपलब्धियों से दूसरों के लिए प्रेरणास्त्रोत बनते हैं।

सुश्री उइके ने कहा कि हमारे समाज में मानवीय सेवा को सबसे बड़ी सेवा के रूप में महत्व दिया जाता है। ऐसे हर संभव प्रयास किए जाने चाहिए जिससे शारीरिक रूप से बाधित व्यक्ति आत्मनिर्भरता और सम्मान के साथ बेहतर जीवन-यापन कर सकें। उन्होंने नि:शक्तजनों की भावनाओं को समझने का आग्रह करते हुए कहा कि उन्हें यह बताने का प्रयत्न करें कि शारीरिक रूप से नि:शक्त होते हुए भी वे स्वयं को किसी से कम नहीं समझें। उन्होंने कहा कि कृत्रिम हाथ एवं पैर निर्माण तथा उससे लाभान्वित होने वाले लोगों की गाथाओं का भी प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए, जिससे अन्य लोग भी इससे प्रेरणा ले सकें। ऐसे व्यक्तियों को कृत्रिम अंगों के माध्यम से उनकी नि:शक्तता से काफी हद तक छुटकारा दिलाया जाना संभव है। कार्यक्रम में कृत्रिम हाथ बनाने वाले संस्था के सदस्यों को भी सम्मानित किया गया। राज्यपाल को आयोजकों को स्मृति चिन्ह भी प्रदान किया। इस अवसर पर विधायक कुलदीप जुनेजा और संस्था के प्रतिनिधिगण उपस्थित थे।


Date : 11-Nov-2019

डॉ रमेश चंद मेहरोत्रा भाषा विज्ञान के युग पुरूष थे, शासकीय नवीन महाविदयालय, खरोरा में डॉ रमेश चंद्र मेहरोत्रा की स्मृति में व्याख्यान माला का विगत दिवस आयोजन किया गया

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 नवम्बर। पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर के भाषा एवं साहित्य अध्ययन शाला तथा शासकीय नागार्जुन स्नातकोत्तर विज्ञान महाविद्यालय, रायपुर के ग्रंथालय विज्ञान विभाग द्वारा संयुक्त रुप से शासकीय नवीन महाविदयालय, खरोरा में डॉ रमेश चंद्र मेहरोत्रा की स्मृति में व्याख्यान माला का विगत दिवस आयोजन किया गया। इस आयोजन के मुख्य अतिथि डॉ शैल शर्मा, भाषा एवं भाषा विज्ञान अध्ययन शाला एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ मधुलता सारा, प्राध्यापक, रविवि ने की। कार्यकम के विशेष अतिथि डॉ प्रवीण शर्मा थे।

व्याख्यान के दौरान डॉ शैल शर्मा, ने कहा कि भाषा में परिमार्जन समय के साथ आता है आदमी अनुभव से भाषा को परिस्थितियों के अनुसार उपयोग करता है। डॉ मधु लता बारा ने कहा कि डॉ मेहरोत्रा ने हमें परिस्थितियों से लडऩा सिखाया। उनकी सादगी ने हमें सादगी से जीवन जीना सिखाया। वे भाषा विज्ञान के युग पुरुष थे उन्होंने अपने शोध कार्यो से भाषा विज्ञान विभाग को अंतरराष्ट्रीय स्तर ख्याति दिलाई । 

इस अवसर पर डॉ प्रवीण शर्मा ने डा मेहरोत्रा के योगदान के संदर्भ में विस्तृत जानकारी दी। भाषा विज्ञान अध्यन शाला के प्राध्यापक डॉ गिरजा शंकर गौतम ने कहा कि भाषा का उपयोग मनुष्य जीवन भर अपने आप को व्यक्त करने के लिए करता है। समाज एवं परिस्थितियों के अनुरूप उसकी भाषा परिमार्जित होती है। भाषा मनुष्य के व्यवहार का आईना है । धन्यवाद ज्ञापन महाविद्यालय के प्राध्यापक डॉ  डी के वर्मा के द्वारा किया गया। अतिथियों को स्मृति चिन्ह ,तांबुल  पत्र और गांधी साहित्य की पुस्तक स्मृति स्वरूप प्रदान की गई । कार्यक्रम का संचालन शासकीय  नवीन महाविद्यालय, खरोरा के हिंदी विभाग के प्राध्यापक डॉ बाल्मीकि साहु ने किया ।

कार्यक्रम में डॉ. सी. एस. ओझा, रमेश कुमार साहू, जगदीश खटकर,  रचना मिश्रा, स्वाति सहित महाविद्यालय परिवार के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।


Date : 11-Nov-2019

कार्तिक पूर्णिमा पर प्रदेशवासियों को मुख्यमंत्री की बधाई, इस दिन छत्तीसगढ़ में विभिन्न स्थानों में पवित्र नदियों और देवालयों के स्थान में मेला लगता है

रायपुर, 11 नवम्बर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को कार्तिक पूर्णिमा पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में खुशहाली और अमन चैन की कामना की है। मुख्यमंत्री ने अपने संदेश में कहा है कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने और भगवान शिव की आराधना करने की परम्परा है। इस दिन छत्तीसगढ़ में विभिन्न स्थानों में पवित्र नदियों और देवालयों के स्थान में मेला लगता है।

राजधानी के रायपुरा स्थित खारून नदी के किनारे महादेव घाट पर दो दिवसीय मेला का आयोजन होता है, जहां पर प्रदेश भर के श्रद्धालु आकर स्नान करते हैं, पूजा अर्चना करते हैं और मेला का आनंद उठाते हैं।


Date : 11-Nov-2019

सीएम ने गुरू नानक जयंती-प्रकाश पर्व की दी बधाई, श्री बघेल ने अपने शुभकामना संदेश में कहा है कि गुरू नानक देव ने मनुष्यों को प्रेम, एकता, समानता और भाई-चारा का संदेश दिया है

रायपुर, 11 नवम्बर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को सिख धर्म के पहले गुरू नानक देव जी की जयंती जिसे प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है कि बधाई और शुभकामनाएं दी है। श्री बघेल ने अपने शुभकामना संदेश में कहा है कि गुरू नानक देव ने मनुष्यों को प्रेम, एकता, समानता और भाई-चारा का संदेश दिया है। गुरू नानक देव ने लोभ का त्याग करने, मेहनत से धन कमाने, जरूरतमंदो की सहायता के लिए हमेशा तैयार रहने, महिलाओं का आदर करने, तनावमुक्त रहकर अपने कार्य को निरंतर करते रहने और हमेशा खुश रहने का संदेश दिया, जो आज भी प्रासंगिक है।


Date : 11-Nov-2019

स्वास्थ्य योजनाओं में मानसिक स्वास्थ्य के एकीकरण के लिए जुटेंगे विशेषज्ञ

विशेषज्ञ परामर्श कार्यशाला 13 और 14 नवंबर को रायपुर में

रायपुर 11 नवंबर। जीवन भर व्यापक मानसिक स्वास्थ्य देखभाल पर दो दिवसीय विशेषज्ञ परामर्श कार्यशाला 13 और 14 नवंबर को रायपुर में आयोजित की जाएगी।  इसका उद्देश्य स्वास्थ्य योजनाओं में मानसिक स्वास्थ्य  के एकीकरण के लिए एक कार्य योजना तैयार करना है।

वैश्विक शोधों से मिली जानकारी के अनुसार मानसिक रोग 14 साल की उम्र के पहले से ही शुरू हो जाती हैं या उनके लक्षण दिखने लगते हैं। वहीं 20 फीसदी महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान या जन्म देने के एक साल के भीतर मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं विकसित होती हैं। हालांकि, 75 फीसदी महिलाओं का निदान नहीं किया जाता है और उन्हें पर्याप्त उपचार और सहायता नहीं मिलती हैं ।

2010 की  रिपोर्ट के अनुसार भारत में लगभग 3.7 मिलियन लोग अल्जाइमर बीमारी के शिकार हैं। विश्व अल्जाइमर रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 4 मिलियन से अधिक लोगों को विभिन्न प्रकार का मानसिक रोग है। मधुमेह, उच्च रक्तचाप एवं अन्य सामान्य शारीरिक स्वास्थ्य बीमारियों के समान ही अल्जाइमर, पार्किंसंस और मनोभ्रंश अवसाद, चिंता और अन्य मानसिक स्वास्थ्य मुद्दे भी हैं।

मानसिक स्वास्थ्य के बढ़ते और विकसित होते पहलुओं को पहचानने के लिए बहुत कुछ करना होगा। इसके लिए मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम को एक स्थायी प्रयास के वर्तमान परिदृश्य से हमें परे जाना होगा। मानसिक स्वास्थ्य सभी आयु समूहों और लिंगों को प्रभावित करता है, इसलिए इसे सभी मौजूदा स्वास्थ्य योजनाओं जैसे मातृ स्वास्थ्य, बच्चे और किशोर स्वास्थ्य और यहां तक कि जरा चिकित्सा स्वास्थ्य सेवा में एकीकृत करना महत्वपूर्ण है।

दो दिवसीय कार्यशाला के दौरान विशेषज्ञ समूह मातृ मानसिक स्वास्थ्य, बाल और किशोर मानसिक स्वास्थ्य, मातृत्व मानसिक स्वास्थ्य, आयुष्मान भारत / स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों के तहत मानसिक स्वास्थ्य, और कमजोर जनसंख्या में मानसिक स्वास्थ्य पर चर्चा करेंगे।

उपसंचालक (एनएमएचपी) डॉ. महेन्द्र सिंह ने बताया गर्भवती महिलाओं और माताओं में मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं प्रसव काल के दौरान मानसिक विकार के रूप में देखा जाता है । इसी तरह किशोरों, वयोवृद्धों और बच्चों में भी तनाव एवं मानसिक अवसाद के कई कारण देखे जा रहे हैं। इसे देखते हुए वर्तमान में मातृत्व और मानसिक स्वास्थ्य, वृद्धावस्था और मानसिक स्वास्थ्य, वयस्क, किशोर -किशोरी और मानसिक स्वास्थ्य इलाज एवं परामर्श की जरूरत महसूस हो रही है। 

उन्होंने बताया कार्यशाला परामर्श में मुख्य रूप से  डॉ. अत्रेयी गांगुली, डॉ. आलोक माथुर अतिरिक्त महानिदेशक, निहारिका बरीक सिंह, सचिव, नीरज बंसोड़, और डॉ. प्रियंका शुक्ला, एमडी मौजूद रहेंगे। इनके अलावा देश भर से विशेषज्ञ और राज्य के मानसिक स्वास्थ्य और न्यूरो साइंसेज विशेषज्ञ छत्तीसगढ़ के लिए रणनीतिक योजना तैयार करेंगे। जिसे राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के साथ जोडक़र संपूर्ण छत्तीसगढ़ में क्रियान्वित किया जाएगा।


Date : 11-Nov-2019

बाल महोत्सव 16 को चित्रकला, फैंसी ड्रेस, गायन एवं रंगोली प्रतियोगिता होगी

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 11 नवम्बर। छत्तीसगढ़ राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा 16 नवम्बर को बाल महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। रविन्द्र मंच कालीबाड़ी में आयोजित बाल महोत्सव में चित्रकला, फैंसीडे्रस, गायन, रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। प्रतियोगिता के विजेताओं को नई दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में अतिविशिष्ट व्यक्तियों द्वारा मैडल एवं प्रशस्तिपत्र देकर सम्मानित किया जाएगा।

कार्यक्रम से संयोजक राजेन्द्र निगम, कार्यकारिणी सदस्य छत्तीसगढ़ बाल कल्याण परिषद एवं शैलेष श्रीवास्तव ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि चित्रकला प्रतियोगिता चार समूहों में आयोजित की जाएगी। पांच से 18 वर्ष तक के बच्चों के लिए आयोजित स्पर्धा में सामान्य बच्चों के अलावा नि:शक्त बच्चों की भागीदारी रहेगी। फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में 6 से 12 वर्ष के विद्यार्थी शामिल हो सकते हैं। एकल गायन प्रतियोगिता  मैं भी सुपरस्टार के तहत पहले समूह में 12 से 15 वर्ष आयु वर्ग के विद्यार्थी एवं दूसरे समूह में 15 से 18 वर्ष के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं।  12 से 15 वर्ष आयु वर्ग के विद्यार्थियों के लिए रंगोली स्पर्धा आयोजित की जा रही है। प्रत्येक समूह के लिए प्रति विद्यालय से चयनित पांच-पांच प्रतिभागी भाग ले सकते हैं। चित्रकला स्पर्धा के लिए छात्र-छात्राओं को ड्राईंग शीट परिषद द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी। अन्य प्रतियोगिता के लिए आवश्यक समाग्री प्रतिभागियों को स्वयं लाना होगा।

 

 


Date : 11-Nov-2019

गुजरात विस अध्यक्ष त्रिवेदी ने की डॉ. महंत से मुलाकात, वे एक कार्यक्रम के सिलसिले में यहां आए हुए हैं

रायपुर, 11 नवम्बर। गुजरात विधानसभा अध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद त्रिवेदी सोमवार को रायपुर स्पीकर हाउस पहुंचे और वहां छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत से मुलाकात की।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने गुजरात के विधानसभा अध्यक्ष राजेन्द्र त्रिवेदी और उनकी पत्नी का पुष्पगुच्छ शाल श्रीफल भेंट कर स्वागत किया और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति प्रतीक स्वरूप भेंट की।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत के निज प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने बताया कि, वे एक कार्यक्रम के सिलसिले में यहां आए हुए हैं। इस अवसर पर कोरबा लोकसभा सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत, छत्तीशगढ विधानसभा सचिव चंद्रशेखर गंगराड़े, दिनेश शर्मा, अमित पांडे उपस्थित रहे।

 


Previous12345678Next