छत्तीसगढ़ » राजनांदगांव

Previous123456789...6263Next
14-Apr-2021 2:37 PM 25

किराना दुकान को किया सील

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 14 अप्रैल।
नगर निगम की टीम ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर शहर के अलग-अलग स्थानों में दबिश देकर दो दुकानों पर कार्रवाई करते 12 हजार रुपए का अर्थदंड वसूला है। 

मिली जानकारी के अनुसार नगर निगम की टीम ने वर्धमान नगर स्थित उत्सव किराना स्टोर्स द्वारा दुकान खोलकर व्यवसाय किया जा रहा था। पुलिस पेट्रोलिंग टीम द्वारा समझाईश देने पर बहस करने की शिकयत पर निगम के राजस्व अमला ने दुकानदार से 7 हजार रुपए जुर्माना वसूला और दुकान सील की गई। इसी तरह गोल बाजार के गंगाराम फल दुकान में फल विक्रय करते पाए जाने पर उसे बंद कराकर 5 हजार रुपए अर्थदंड वसूला गया। बताया जा रहा है कि निगम की टीम द्वारा लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर कार्रवाई की जाएगी।
 
नगर निगम आयुक्त आशुतोष चतुर्वेदी ने बताया कि कोरोना प्रभावित क्षेत्रों, कोविड सेंटरों, मेडिकल कॉलेज, जिला चिकित्सालय, कोरोना जॉच सेंटर आदि में निगम की टीम द्वारा प्रतिदिन सेनेटाईज किया जा रहा है। इसी कडी में पेंड्री, हल्दी, मोहड़ राजीव नगर, नेहरू नगर सहित शहर के आंतरिक एवं बाह्य क्षेत्रों में आवश्यकता अनुसार प्रतिदिन सेनेटाईज किया जा रहा है। इसी प्रकार लॉकडाउन का उल्लंघन कर दुकानें खोलने पर उनके विरूद्ध अर्थदंड लगाकर दुकानें बंद कराने की कार्रवाई भी की जा रही है। उन्होंने बताया कि आज वर्धमान नगर स्थित उत्सव किराना स्टोर्स द्वारा दुकान खोलकर व्यवसाय किया जा रहा था तथा पुलिस पेट्रोलिंग टीम द्वारा समझाईस देने पर बहस करने की शिकायत की सूचना पर निगम के राजस्व अमला ने दुकानदार से 7 हजार रुपए जुर्माना वसूला एवं दुकान सील की गयी। इसी प्रकार गोल बाजार के गंगाराम फल दुकान में फल विक्रय करते पाया गया, जिसे बंद कराकर 5 हजार रुपए अर्थदंड वसूला गया। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के इस गंभीर परिस्थिति में लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


14-Apr-2021 1:34 PM 30

10 से 13 अप्रैल के बीच रोजाना 10 की कोरोना ने ली जान

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 14 अप्रैल।
राजनांदगांव में अप्रैल के पहले पखवाड़े में कोरोना से मौत होने की रफ्तार कम नहीं हो रही है। कोरोना के चलते जहां रोज हजार से ज्यादा संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। वहीं कोरोना मौतों की संख्या भी दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। आलम यह है कि कोरोनाग्रस्त होने के बाद लोगों को अपनी जान गंवाने का डर परेशान कर रहा है। लोग संक्रमण से बचाव से ज्यादा जान की सुरक्षा को लेकर चिंताग्रस्त हो गए हैं। 

गुजरे 4 दिनों में कोरोना मौतों की संख्या 40 पार हो गई है। 10 से 13 अप्रैल के बीच 41 लोगों की जान चली गई। कोरोना मौतों में अलग-अलग पेशे से जुड़े लोग शामिल हैं। वहीं 35- 40 आयु के लोगों को भी कोरोना ने अपना शिकार बनाया है। अस्पतालों की हालत देखकर इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि हालात में सुधार होता नहीं दिख रहा है। कोरोना संक्रमितों की तादाद में गिरावट भी कम नहीं हो रही है। हर रोज हजार से 1300 के बीच संक्रमित सामने आ रहे हैं। यह आंकड़ा ऐसे वक्त में आ रहा है जब समूचा राजनांदगांव जिला लॉकडाउन के गिरफ्त में है। इसके बावजूद संक्रमण के मामलों में कमी नहीं आ रही है। संक्रमण चेन तोडऩे के लिए 10 से 19 अप्रैल तक जिले को लॉक कर दिया गया है। 

राजनांदगांव शहर की श्रमिक बाहुल्य  वालों की दशा बेहद खराब है। श्रमिक इलाके बसंतपुर, शांति नगर, चिखली, गौरीनगर, नंदई, तथा लखोली इलाके में रोज दर्जनों मामले सामने आ रहे हैं। शहर का अंदरूनी इलाका भी कोरोना से अछूता नहीं है। आने वाले कुछ दिनों में स्थिति भयावह हो सकती है।  इसके पीछे कारण यह है कि सरकारी और निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों की भरमार है। हालांकि प्रशासन रोजाना नए-नए जगहों को कोविड केयर सेंटर के रूप में तब्दील कर रहा है। 

इसी कड़ी में राजनांदगांव प्रेस क्लब ने भी कोरोना से जंग लडऩे के लिए अपने भवन को कोविड सेंटर के रूप में बदल दिया है। प्रदेश के मशहूर उद्योगपति बहादुर अली ने इंदामरा स्थित अपने स्कूल को भी कोविड केयर सेंटर का रूप दिया है। कुल मिलाकर जिले के लिए गुजरा 4  दिन भयानक साबित हो रहा है। वैसे तो अप्रैल का पहला पखवाड़ा मौतों की संख्या के लिहाज से डरावना साबित हो रहा है। 

इधर जिलेभर में बीते 10 अप्रैल को जिलेभर से 997 संक्रमित सामने आए थे। जिसमें 344 शहरी और ग्रामीण क्षेत्र से 653 शामिल हैं। इस दिन 10 लोगों ने कोरोना से अपनी जान गंवाई थी। इसी तरह 11 अप्रैल को जिलेभर से 961 संक्रमित, शहर से 451 व ग्रामीण से 510 और 10 लोगों की मौत हुई। वहीं 12 अप्रैल को 1284 लोग संक्रमित हुए थे। जिसमें शहर से 460 और ग्रामीण क्षेत्र से 824 लोग शामिल थे। इस दिन 11 लोगों की कोरोना से मौत हुई। वहीं 13 अप्रैल को 1368 लोग जिलेभर से कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए थे। जिसमें शहरी क्षेत्र से 404 और ग्रामीण क्षेत्र से 964 लोग शामिल हैं। इस दिन 10 लोगों ने कोरोना  से अपनी जान गंवाई। इसी तरह चार दिन में 41 लोगों ने अपनी जान कोरोना से गंवाई है। 


14-Apr-2021 1:32 PM 17

खेतों में खराब हो रही सब्जियां, राहत देने की उठी मांग

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
अंबागढ़ चौकी, 14 अप्रैल।
वैश्विक महामारी कोविड-19 कोरोना संक्रमण के दूसरे दौर में लगाए गए लॉकडाउन में सब्जी उत्पादन करने वाले किसानों के समक्ष बड़ा संकट खड़ा हो गया है। लॉकडाउन के चलते सब्जी उत्पादक किसान अपनी फसल को बाजार बंद होने के चलते नहीं बेच पा रहे हैं। वहीं कोई व्यापारी उनकी फसल लेने तैयार नहीं है। ऐसी स्थिति में किसानों की सब्जियां खेतों में खराब हो रही है। जिससे किसानों को आर्थिक क्षति का सामना करना पड़ रहा है। किसानों ने शासन से इस समस्या के निराकरण के लिए उन्हें राहत देने की मांग की है।

वनांचल के सब्जी उत्पादन करने वाले किसान बीते 10 अप्रैल से जारी लॉकडाउन के चलते मुश्किलों में पड़ गए हैं। वे लॉकडाउन के चलते अपनी फसल को न तो बाजार में बेच पा रहे हैं और न ही उनकी फसल खरीदने कोई खरीददार सामने आ रहा है। ऐसी स्थिति में उनकी फसलें खेत में ही खराब हो रही है, जिससे उन्हें आर्थिक क्षति का सामना करना पड़ रहा है। 

मोहला के द्वारिका सोरी, मोहन निषाद, गोपेश भुआर्य व चौकी में सब्जी उत्पादन करने वाले किसान शैलेन्द्र मिश्रा, प्रज्ञारत्न गोडबोले, केकतीटोला के द्वारका परतेती, मेरेगंाव के एस.कुमार मिलिंद, जोरातराई के कोमल सिन्हा ने बताया कि वे गर्मी में टमाटर, लौकी, ककडी, खीरा, पपीता, भटा की फसल का उत्पादन करते हैं। इन सब्जी उत्पादकों ने बताया कि फसल अच्छी हुई है, लेकिन 10 अप्रैल से जारी लॉकडाउन के कारण वे अपनी फसल को खुले बाजार में बेच नहीं पा रहे हैं और न ही उनकी फसल खरीदने कोई व्यापारी या खरीददार पहुंच रहा है। जिससे उनकी फसल खेत में ही खराब हो रही है। यदि वे फसल तुड़वाकर रखते हैं तो वह घर में ही रखे-रखे खराब हो जाएगी और फसल तुड़ाई के लिए मजदूरों की मजदूरी का भी अतिरिक्त भार पड़ेगा। कृषकों ने अपनी पीड़ा बताते हुए कहा कि यदि उनकी फसल नहीं बिकी तो उन्हें लाखों की क्षति का सामना करना पड़ेगा। सब्जी उत्पादक कृषकों ने छग शासन से लॉकडाउन की अवधि में कृषकों को राहत देने की मांग की है।


13-Apr-2021 10:11 PM 20

गंडई, 13 अप्रैल। गंडई नगर के अदरूनी चौक चौराहों में लॉक डाउन का धजिय्या उड़ाया गया।  कलेक्टर ने पूरे जिले भर में लाकडाउन लागू कर दिया है नियम कायदे और धाराएं पिछले बार हुए लॉक डाउन से ज्यादा सख्त बनाया गया है जिसकी कड़ाई से पालन करवाने प्रशाशनिक अमले के जिम्मे दिया गया है। 

गंडई नगर के मुख्य चौक, हाइवे सडक़ एवं थाना के सामने लाकडाउन का पूरा असर देखने को मिलता है इन जगहों पर विरानीयत छाई रहती है परंतु नगर के सभी वार्डों के अंदुरुनी इलाकों में लोग बेख़ौफ़ होकर घूम रहे है और सामाजिक दुरी जैसे नियमों को ठेंगा दिखा रहे है वहीं कुछ दुकानदार अपनी दुकानदारी भी दुकान बंद करके बाहर से समानों को बेच रहे है। अभी बीते दिन ईंट भ_े में मजदूरों द्वारा कार्य कराया जा रहा था। बीते कल वार्ड नम्बर 09 में मछली और मुर्गा बेचा जा रहा था । इस प्रकार लगातार लॉक डाउन के नियमों को तोड़ा जा रहा है।

 


13-Apr-2021 10:10 PM 19

शाहिद की सजगता से कोविड मरीजों को राहत 

राजनांदगांव, 13 अप्रैल। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री शाहिद भाई ने कोरोना संक्रमण की भयावता एवं लॉकडाउन के बाद बिगड़ते हालात को देखते जनता को राहत देने एवं मरीजों को उचित स्वास्थ्य व्यवस्था कराने के उद्देश्य से सोमनी में पूर्व संचालित ऑक्सीजन सिस्टमयुक्त सेंटर एवं मॉडल कॉलेज की व्यवस्था से कलेक्टर को पत्र के माध्यम से अवगत कराया। जिसकी जानकारी उन्होंने प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव एवं जिले के प्रभारी मंत्री मोहम्मद अकबर को भी दी। जिसका सुखद परिणाम यह रहा कि जिलाधीश राजनांदगांव ने तत्परता दिखाते अपने मातहत अधिकारियों को निर्देश देकर सोमनी के ऑक्सीजनयुक्त वाले बेडो को तत्काल प्रारंभ करने एवं मॉडल कॉलेज का निरीक्षण कर वहां भी मरीजों को सुविधा एवं चिकित्सा के लिए पर्याप्त इंतजाम के निर्देश दिए और स्वयं निरीक्षण करने किया। 

उन्होंने वहां कोरोना संक्रमण के इस भीषण काल में जहां लोगों की ऑक्सीजन की कमी से मौत के मुंह में समा रहे थे, ऐसे समय में सकारात्मक व मजबूत सुझाव देकर शाहिद ने अपने समाजसेवा के प्रति जागरूकता प्रदर्शित किया। वहीं राज्य शासन की सुविधाओं का लाभ की जनता को मिले, इस ओर सार्थक कदम बढ़ाया। लॉकडाउन की अवधि में सभी कार्यालय बंद हैं और आवागमन में भी बंदिशें हैं। ऐसी स्थिति में सोशल मीडिया के माध्यम से शहर के प्रमुख व्हाट्सएप ग्रुप में एवं कलेक्टर, स्वास्थ्य मंत्री, प्रभारी मंत्री को पत्र लिखकर उक्त व्यवस्था को पुन: प्रारंभ करने का आग्रह किया था, जिस पर तत्काल कार्रवाई हुई। यह निश्चित रूप से राजनांदगांव में कोविड संक्रमण के बढ़ते दबाव से राहत देने वाला सुझाव और निर्णय है।

प्रदेश कांग्रेस महामंत्री शाहिद ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार की योजनाओं का लाभ सभी लोगों को मिले। कांग्रेस का कार्यकर्ता होने के नाते व्यवस्था को सुनिश्चित कराना भी हमारा फर्ज है, ताकि जनता को सरकार की योजना, सुविधा का लाभ हो।

लगातार निधन व संक्रमितों की जानकारी से मन दुखी होता है, इसी के चलते सोमनी के संसाधन पर व माडल कॉलेज में कोविड सेंटर चालू करने के लिए जिला प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराया।
 


13-Apr-2021 10:09 PM 19

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
 अंबागढ़ चौकी, 13 अप्रैल।
वैश्विक महामारी कोविड-19 कोरोना संक्रमण के दूसरे दौर में राजनांदगांव जिले में फैली भयावह स्थिति एवं लचर स्वास्थ्य व चिकित्सा व्यवस्था पर असंतोष जाहिर करते  खुज्जी विधायक छन्नी साहू ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से जिले में आक्सीजन आपूर्ति, वेंटिलेटर बेड एवं जीवनरक्षक रेमडेशिविर इंजेक्शन की आपूर्ति बढ़ाने की मांग की है।

विधायक श्रीमती साहू ने सोमवार को छग प्रभारी पीएल पुनिया, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम के निर्देश पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से वर्चुअल बैठक में शामिल हुई। विधायक श्रीमती साहू ने बताया कि बैठक में प्रदेश प्रभारी श्री पुनिया के अलावा सीएम श्री बघेल, स्वास्थ्य मंत्री श्री सिहंदेव के अलावा अन्य मंत्री व विधायकगण शामिल हुए। बैठक में विधायक श्रीमती साहू ने कोविड-19 कोरोना संक्रमण के हालातों में मिल रहे स्वास्थ्य व चिकित्सीय सुविधाओ पर चिंता जाहिर करते जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने की मांग की। उन्होंने जिला अस्पताल मेडिकल कॉलेज में वेंटिलेटर बेड व आक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने की मांग की। उन्होंने कोरोना से पीडि़त मरीजों के लिए आवश्यक रेमडेशिविर इंजेक्शन की व्यवस्था सुनिश्चित कराने की मांग रखी। उन्होंने विभिन्न प्रयासों के लिए सीएम बघेल व स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंहदेव का आभार व्यक्त किया।
 


13-Apr-2021 10:09 PM 22

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
गंडई, 13 अप्रैल।
वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रशासन ने जिलेभर में लॉकडाउन लगाया गया है। प्रशासनिक अधिकारियों ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर अर्थदंड की कार्रवाई करते 6500 रुपए वसूली की।

मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को प्रशासनिक अधिकारियों ने नगर में भ्रमण करते उल्लंघन करने वालों से अर्थदंड की वसूली की। सोमवार को राजस्व विभाग, पुलिस विभाग एवं नगर पंचायतत गंडई की टीम ने सब्जी बेचते एक व्यक्ति को पकडक़र एक हजार का अर्थदंड लगाते प्रोटोकॉल का पालन करने समझाईश दी। वहीं मुर्गी फार्म में मटन बेचने पर कार्रवाई करते 5 हजार तथा एक व्यक्ति को मास्क नहीं लगाने पर 500 रुपए का जुर्माना वसूल किया गया। 

इस तरह टीम ने कार्रवाई करते 6 हजार 500 रुपए का अर्थदंड वसूला। उक्त कार्रवाई के दौरान नायाब तहसीलदार भरतलाल ब्रम्हें, सीएमओ प्रमोद शुक्ला, थाना प्रभारी शशिकांत सिन्हा एवं तीनों विभाग की टीम मौजूद थी।
 


13-Apr-2021 10:08 PM 18

राजनांदगांव, 13 अप्रैल। छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन राजनांदगांव के जिला संयोजक डॉ. केएल टांडेकर एवं जिला महासचिव सतीश ब्यौहरे ने जिले के शासकीय सेवकों से कोरोना वैक्सीनेशन अभियान का तत्काल लाभ लेते कोरोना टीका लगवाने की अपील की है। फेडेरेशन के पदाधिकारियों ने बताया कि  कोविड-19 कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं नागरिकों की सुरक्षा के लिए जनता को कोरोना वैक्सीनेशन का अधिक से अधिक लाभ उठाना चाहिए, क्योंकि वर्तमान समय में देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर चल रही है। जिसमें पॉजिटिव संक्रमण के बढ़ते प्रकरणों के कारण लोगों की मृत्यु दर में भी अप्रत्याशित वृद्धि देखने को मिली है। फेडरेशन के पदाधिकारियों ने बताया कि शासन प्रशासन द्वारा भी 45 या अधिक उम्र के शासकीय सेवकों को कोरोना का टीका अनिवार्यत: लगवाने हेतु निर्देशित किया गया है।
अन्यथा कोषालय से उनका आगामी माह का वेतन आहरण नहीं किया जा सकेगा।
 


13-Apr-2021 10:07 PM 16

चिन्हांकित स्थानों में ले सैम्पल

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 13 अप्रैल।
दिग्विजय स्टेडियम स्थित सेंटर वार रूम में कलेक्टर टीके वर्मा ने सोमवार को कोविड-19 लॉकडाउन की समीक्षा करते कहा कि जिले के राजनांदगांव, डोंगरगढ़, खैरागढ़ और छुईखदान में कोविड-19 के केस ज्यादा आ रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि चिन्हांकित स्थानों में आरटीपीसीआर एवं ट्रूनॉट के ज्यादा सैम्पल लें। उन्होंने कोविड-19 जांच की गति बढ़ाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि सभी नोडल अधिकारी अपने कार्यों की पूरी जानकारी रखें और दिनभर की गतिविधियों की जानकारी देंगे, ताकि कोरोना से लड़ाई के लिए रणनीति तैयार की जा सके।  उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल एवं कोविड केयर सेंटर में स्टाफ की भर्ती प्राथमिकता से करें। इसके लिए मेडिकल कॉलेज एवं नर्सिंग स्टॉफ को भी लेना है। मानव संसाधन की कमी नहीं होनी चाहिए। सभी एसडीएम जहां ज्यादा केस हैं, वहां कंटेन्मेंट जोन घोषित करें।

उन्होंने कहा कि सैम्पल लेने वाली जगह पर सुविधाओं पर भी ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने सैम्पलिंग किट, लॉकडाउन की स्थिति, कोविड संक्रमित शव के अंतिम संस्कार के संबंध में जानकारी ली। कलेक्टर ने कहा कि वैक्सीनेशन की गति बढ़ाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 ट्रीटमेंट हॉस्पिटल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सोमनी, उद्याचल राजनांदगांव, प्रेस क्लब, अजीज पब्लिक स्कूल इंदामरा, फतेह सिंह हॉल (गुरूनानक स्कूल) में कोविड केयर सेंटर प्रारंभ होने से कोविड-19 संक्रमितों का उपचार किया जा सकेगा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने कहा कि सर्दी, खांसी, बुखार के मरीजों के लिए डोर-टू-डोर सर्वे कराएंगे। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन के मरीजों को उनकी स्थिति के अनुसार उपचार प्रदान करेंगे। उन्होंने बताया कि अभी भी लोग सैम्पल देते समय अपने घर का गलत पता दे रहे हंै। जिससे ट्रेस नहीं हो पा रहा है। कलेक्टर ने कहा कि सैम्पल देते समय नागरिकों का आईडी कार्ड जरूर देखें।

इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ अजीत वसंत, अपर कलेक्टर हरिकृष्ण शर्मा, अपर कलेक्टर  सीएल मारकण्डेय, नगर निगम आयुक्त आशुतोष चतुर्वेदी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कविलाश टंडन, शासकीय मेडिकल कॉलेज अधीक्षक डॉ. प्रदीप बेक, एसडीएम मुकेश रावटे, डिप्टी कलेक्टर विरेन्द्र सिंह, राहुल रजक, डीपीएम गिरीश कुर्रे, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. बीएल कुमरे, कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग रेणु प्रकाश, जिला शिक्षा अधिकारी एचआर सोम, ईडीएम सौरभ मिश्रा एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
 


13-Apr-2021 10:06 PM 15

राजनांदगांव, 13 अप्रैल। संविधान निर्माता डॉ. भीमराव बाबा साहेब आम्बेडकर की जयंती पर महापौर हेमा देशमुख ने आम्बेडकर अनुयायियों को शुभकामनाएं देते उनके सिद्धांतो, मार्गों का अनुशरण कर घर में जयंती मनाने की अपील की है

महापौर देशमुख ने कहा कि कोरोना वायरस का कहर बढ़ता जा रहा है, लेकिन हमें घबराना नहीं है, बल्कि सावधानी बरतनी है। लॉकडाउन का पालन करना है, घर में रहना हैै, घर से बाहर नहीं निकलना है। संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आने से बचना है, नियमित रूप से दिन में कई बार हाथों को हैंडवास, साबुन एवं साफ पानी से धोना है, संक्रमित सामग्रियों के संपर्क में आने के बाद बिना हाथ धोये अपनी आंख, नाक एवं मुंह को नहीं छूना है। 45 वर्ष से अधिक के व्यक्तियों को कोरोना वैक्सीन लगवाना है। धैर्य रखकर सावधानी बरतकर, सुरक्षित रहकर ही हम इस कोरोना वायरस से लड़ सकते हैं।
 


13-Apr-2021 10:04 PM 20

पॉजिटिव रिपोर्ट पर किया जाएगा क्वारेंटाईन

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 13 अप्रैल।
वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए प्रशासन ने अब अन्य प्रदेशों से जिले में आने वाले रेल यात्रियों की कोरोना जांच की व्यवस्था शुरू कर दी है। कलेक्टर टीके वर्मा ने सोमवार को व्यवस्था के संबंध में राजनांदगांव रेल्वे स्टेशन का निरीक्षण कर संक्रमण पर नियंत्रण के लिए रेल के माध्यम से छत्तीसगढ़ आने वाले यात्रियों की कोरोना जांच अनिवार्य रूप से करने के निर्देश दिए। 

उन्होंने कहा कि रेल्वे स्टेशन पर ट्रेन पहुंचने से पूर्व 72 घंटे के भीतर कराए गए कोरोना जांच टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट होना अनिवार्य होगा। जारी निर्देश के अनुसार ऐसे यात्री जिनके पास निर्धारित समयावधि की कोरोना जांच टेस्ट रिपोर्ट नहीं होगी, उनकी कोविड जांच रेल्वे स्टेशन पर की जाएगी। कोविड टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव होने पर उन्हें संस्थागत क्वांरेनटाइन, कोविड केयर सेंटर अस्पताल में रखा जाएगा। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को ट्रेन के समय के अनुसार कोविड-19 टेस्ट के लिए ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने इस अवसर पर कोरोना जांच के लिए काउंटर बनाने के निर्देश दिए और यात्रियों का सैम्पल लेने के लिए टीम का गठन करने और ड्यूटी लगाने के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि व्यवस्था बनाने रखने के लिए रेल्वे पुलिस की ड्यूटी रहेगी। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी, एसडीएम मुकेश रावटे एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 

एसडीएम ने किया डोंगरगढ़ स्टेशन का निरीक्षण
अनुविभागीय अधिकारी राजस्व डोंगरगढ़ अविनाश भोई ने कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए रेल से आने वाले यात्रियों के कोविड परीक्षण के मद्देनजर डोंगरगढ़ रेल्वे स्टेशन का निरीक्षण किया। उन्होंने मुख्य स्टेशन प्रबंधक को यात्रियों से रेल्वे स्टेशन पर ट्रेन पहुंचने से पूर्व 72 घंटे के भीतर कराए गए कोरोना जांच टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट की जांच करने कहा। रिपोर्ट नहीं होने पर स्टेशन पर ही कोरोना जांच के लिए सैंपल लेने और रिपोर्ट आने तक संबंधित यात्री को क्वारेंटाईन करने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि इस कार्य के लिए आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 एवं महामारी नियंत्रण अधिनियम के तहत आवश्यक मेडिकल स्टॉफ, अधिकारियों, शिक्षकों एवं पुलिस बल की टीम तैनात किए गए हैं। इस अवसर पर अनुविभागीय अधिकारी पुलिस चंद्रेश ठाकुर, डोंगरगढ़ मुख्य स्टेशन प्रबंधक एके मंडल एवं मुख्य वाणिज्य निरीक्षक प्रमोद यादव उपस्थित थे।
 


13-Apr-2021 9:59 PM 15

राजनांदगांव, 13 अप्रैल। बर्फानी सेवाश्रम समिति ने वर्तमान में कोरोना के बढ़ते प्रकोप की भयावह स्थिति को देखते 13 अप्रैल से प्रारंभ होने वाली चैत्र नवरात्र व हिन्दू नववर्ष प्रारंभ को सादगी से श्रद्धा भक्तिभाव के साथ मनाने का निर्णय लिया है। संस्था ने श्रद्धालुओं के सिद्धपीठ प्रवेश पर रोक के साथ सभी से कोरोना गाईड लाइन का पालन करते घरों में ही पूजा-अर्चना करने की अपेक्षा की है।

संस्था के सचिव गणेश प्रसाद शर्मा गन्नू ने बताया कि मां पाताल भैरवी मंदिर में हिन्दू नववर्ष चैत्र नवरात्र 13 अप्रैल से प्रारंभ हो रही है। संस्था ने कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण और जिला प्रशासन द्वारा लगाए गए लॉकडाउन को देखते नवरात्र पर मां और देवी-देवताओं का पूजा-पाठ, पंडित-पुजारी व संस्था के सदस्यों द्वारा की जाएगी। आम श्रद्धालुओं के लिए मंदिर बंद रहेगा। आम श्रद्धालुओं द्वारा स्थापित लगभग 1151 ज्योति कलश पुजारी व बैगा द्वारा प्रज्जवलित की जाएगी। नवरात्र की पंचमी 17 अप्रैल को माता सहित समस्त देवी-देवताओं का विशेष श्रृंगार किया जाएगा। 20 अप्रैल को महाष्टमी हवन, 21 अप्रैल को ज्योति कलश विसर्जन प्रशासन की गाईड लाइन के तहत संस्था के सदस्यों व पुजारियों द्वारा किया जाएगा। संस्था द्वारा इस बार नवरात्र के अवसर पर होने वाला सार्वजनिक भंडारा-प्रसादी व कुंवारी कन्या भोजन भी नहीं किए जाने का निर्णय लिया गया है।
 


13-Apr-2021 9:59 PM 15

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 13 अप्रैल।
कोविड-19 संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के दृष्टिगत कलेक्टर टीके वर्मा ने सोमवार को कोविड-19 ट्रीटमेंट हॉस्पिटल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सोमनी एवं एबीस ग्रुप द्वारा संचालित कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया। जिले में कोविड-19 के बढ़ते मरीजों की संख्या चुनौतीपूर्ण है। इन विषम परिस्थितियों में कोविड संक्रमित मरीजों के क्वारेंटाईन के लिए व्यवस्था की जा रही है। कलेक्टर वर्मा ने निरीक्षण के दौरान कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते समस्त व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने बताया कि कोविड-19 ट्रीटमेंट हॉस्पिटल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सोमनी में आज से 40 बेड के लिए सेवाएं प्रारंभ की जा रही है। जिसमें से 15 ऑक्सीजन बेड हैं। 24 घंटों के लिए डॉक्टर एवं स्टाफ की ड्यूटी लगा दी गई है।

कलेक्टर वर्मा ने एबीस ग्रुप द्वारा शीघ्र ही आरंभ किए जाने वाले कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि इस सेंटर के आरंभ हो जाने से लक्षणविहीन कोरोना संक्रमित मरीज यहां भर्ती होंगे और उन्हें मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा मानवता की सेवा के लिए आगे आकर कार्य करना सराहनीय है। एबीस ग्रुप के संचालक अंजुम अल्वी ने बताया कि 126 बेड के लिए यहां शीघ्र ही सेवाएं प्रारंभ कर दी जाएगी।

इस अवसर पर एसडीएम मुकेश रावटे, सोमनी हॉस्पिटल इंचार्ज डॉ. प्रवीण कुमार गोस्वामी, कोविड-19 ट्रीटमेंट हॉस्पिटल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सोमनी के प्रभारी अधिकारी डॉ. बीएल तुलावी, बीएमओ एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 
 


13-Apr-2021 9:58 PM 14

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 13 अप्रैल।
महापौर हेमा देशमुख ने सोमवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से वर्चुअल बैठक में चर्चा की। उन्होंने राजनांदगांव की स्थिति से अवगत कराते कोविड टेस्ट पाईंट बढ़ाने और पेंड्री मेडिकल हास्पिटल मेें आक्सीजन बेड व वेंटिलेटर बढ़ाने की मांग की। उन्होंने कहा कि रेमडिसीवर इंजेक्शन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं है। इसकी कालाबाजारी हो रही है। उन्होंने इंजेक्शन अधिक मात्रा में उपलब्ध कराने की मांग की। 

महापौर देशमुख ने बताया कि पूर्व मेें मुख्यमंत्री द्वारा कोरोना काल में मुख्यमंत्री आपदा सहायता कोष से 4 करोड़ राशि राजनांदगांव के लिए दिए थे। जिसमें से 2 करोड़ 85 लाख रुपए खर्च हुई थी। इसके अलावा राजनांदगांव के दानदाताओं ने भी एक करोड़ 30 लाख रुपए की राशि दी थी, जिसे कोरोना प्रभावित लोगों को दवाई के साथ-साथ अन्य राहत सामग्री उपलब्ध कराए थे। मुख्यमंत्री सहायता कोष की शेष राशि से आज कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप से लडऩे हेतु उपयोग किया जा रहा है। जैसे 120 बेड, आक्सीजन सिलेंडर, दवाईयों में लगातार खर्च किया जा रहा है। दानदाताओं की शेष राशि से 10 वेंटिलेटर एवं आक्सीजन सिलेंडर भी खरीदे गए हैं। उन्होंने बताया कि इस विपरीत परिस्थितियों में भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लगातार कोरोना संक्रमण के लिए हर जिले में पर्याप्त राशि दे रहे हैं।

महापौर देशमुख ने बताया कि राजनांदगांव जिले में अपै्रल माह तक 3 लाख वैक्सीनेशन टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है और अब तक 2 लाख 20 हजार तक पहुंच चुके हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को धन्यवाद देते कहा कि आज जनता को वैक्सीनेशन कराने में कोई कमी नहीं की। महापौर ने केन्द्र की मोदी सरकार से भी मांग करते कहा कि छत्तीसगढ़ को अधिक से अधिक वैक्सीन दिया जाए एवं वैक्सीनेशन कराने की आयु 18 वर्ष की जाए, ताकि अधिक से अधिक लोग सुरक्षित रह सके।
 


13-Apr-2021 8:00 PM 13

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 13 अप्रैल।
कोरेाना के भयावह हालात के बीच रोजाना अलग-अलग पेशे से लोगों की मौत की खबर सुनकर डर का माहौल बन गया है। राजनांदगांव शहर में दो शिक्षकों की कोरोना से जान चले जाने के बाद शिक्षा जगत में शोक की लहर है। दोनों शिक्षक काफी सक्रिय और हष्टपुष्ट रहे हैं। कोरोना ग्रस्त होने के बाद सेहत में सुधार नहीं आने से दोनों की मौत हो गई। 

शहर के बसंतपुर स्कूल में पदस्थ शिक्षक चोवाराम साहू के निधन से शैक्षणिक जगत हिल गया है। वह पिछले दो-तीन दिनों रायपुर में इलाज करा रहे थे, लेकिन उनकी स्थिति सामान्य नहीं हो पाई। साहू घुमका के गिधवा गांव के रहने वाले हैं। वह बसंतपुर स्कूल में काफी समय से पदस्थ थे। इसी तरह दूसरे शिक्षक ज्योतिन्द्र श्रीवास्तव की कोरोना ने जान ले ली। वह डोंगरगढ़ के कन्हारगांव में पदस्थ थे। श्रीवास्तव लखोली के जनता कालोनी के रहने वाले थे। दोनों की मौत की खबर से न सिर्फ शिक्षा बल्कि गैर शिक्षा वर्ग के लोग भी सदमे में है। 
 


13-Apr-2021 3:03 PM 15

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 13 अप्रैल।
जिले के खडग़ांव थाना क्षेत्र के परसघाट गांव में एक दंपत्ति के बीच खाना खाने के दौरान विवाद के बाद पति ने पत्नी पर प्राणघातक हमला कर उसकी जान ले ली। वहीं शव को छुपाने के आरोप में पुलिस ने आरोपी के पिता पर भी कार्रवाई की है। 

मिली जानकारी के अनुसार परसघाट निवासी जयपाल जामड़े 29 वर्ष और हेमलाल जामड़े 55 वर्ष 3 अप्रैल को तुलेश्वरी बाई को लकड़ी काटने जाने की बात कहरकर जबकसा जंगल ले गए। इस दौरान खाना खाते समय किसी बात को लेकर जयपाल जामड़े का अपनी पत्नी तुलेश्वरी के साथ विवाद हो गया। विवाद के दौरान आक्रोशित पति जयपाल जामड़े ने अपनी पत्नी तुलेश्वरी पर टंगिया से हमला कर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद आरोपी पुत्र जयपाल अपने पिता हेमलाल के साथ पत्नी तुलेश्वरी के शव को नाला के पास ले जाकर झाडिय़ों व मिट्टी से ढंंककर छिपाकर गांव चले गए। गांव पहुंचकर घटना में प्रयुक्त कुल्हाड़ी और गैंती को धोकर छुपा दिया। वहीं पुलिस व परिजनों को गुमराह करने 8 अप्रैल को आरोपी जयपाल द्वारा खडग़ांव थाना में अपनी पत्नी के 3 अप्रैल को गुम इंसान की रिपोर्ट दर्ज कराया। 

मिली जानकारी के अनुसार 10 अप्रैल को मृतिका के मायके पक्ष के लोग परसघाट आकर पूछताछ की। शंका जाहिर होने पर गांव में बैठक की। आरोपियों द्वारा मृतिका का हत्या करना स्वीकार किया गया। इसके बाद आरोपियों को थाना लाया गया। थाना में आरोपियों ने मृतिका की हत्या कर जंगल में शव को छुपाने की बात बताई।
 
एसडीओपी मानपुर हरिश पाटिल के नेतृत्व में थाना प्रभारी कार्तिकेश्वर जांगडे, उप निरी. एमएल साहू, प्र. आर. पुरूषोत्तम निर्मलकर, आर. नरेन्द्र धु्रव, आर. मिथुन वर्मा, आर. रामनारायण चंदेल आरोपियों के निशानदेही पर पांडरवानी-जबकसा जंगल पहुंचकर एसडीएम मोहला से अनुमति लेकर नायब तहसीलदार चुम्मनलाल ध्रुव व मेडिकल स्टॉफ के समक्ष शव उत्खनन किया गया। मृतिका का शव गल चुका था, केवल कंकाल को पंचनामा कार्रवाई के बाद मोहला अस्पताल भेजा गया। इसके बाद घटना में प्रयुक्त टंगिया व गैंती को आरोपियों के निशानदेही पर बरामद कर जब्त किया गया। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर कार्रवाई की।


13-Apr-2021 1:42 PM 17

भोजन-नाश्ता की गुणवत्ता खराब का आरोप  

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
अंबागढ़ चौकी, 13 अप्रैल।
ब्लॉक मुख्यालय के कोविड सेंटर में अव्यवस्था की शिकायत का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि कोविड सेंटर में भर्ती मरीजों को अधपका चावल व कच्ची रोटी दी जा रही है। वहीं भर्ती मरीजों का कहना है कि ऐसे भोजन से सेहत और बिगडऩे की संभावना है। मरीजों ने कोविड सेंटर की व्यवस्था में सुधार की मांग की है।

मिली जानकारी के अनुसार सप्ताहभर पूर्व मुख्यालय में दोबारा खोला गया कोविड केयर सेंटर को लेकर गंभीर शिकायतें सामने आ रही है। केंद्र में भर्ती ग्राम बांधाबाजार, सेम्हरबांधा, थुहाडबरी के मरीज की शिकायत है कि यहां मरीजों को भोजन ढंग से नहीं मिल पा रहा है। मरीजों ने आरोप लगाते कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी मरीजों बेहतर सुविधा देने के बजाय पैसे बनाने में जुटे हैं। मरीजों ने बताया कि खाना व नाश्ता के नाम पर यहां भ्रष्टाचार हो रहा है। उन्होंने कहा कि यहां चावल का सेवन करने से सेहत और बिगडऩे लगी है। चावल और रोटियां अधपकी मिल रही है। जबकि नाश्ते के रूप में पिछले दिनों का पोहा परोसा जा रहा है। मरीजों ने कोविड सेंटर में भोजन की गुणवत्ता में सुधार तथा स्वास्थ्य को ध्यान में रखते देने की मांग की। 

कर्मियों की भी शिकायतें
उक्त कोविड सेंटर में मरीजों की देखरेख के लिए तीन शिफ्ट में दो-दो आरएचओ की ड्यूटी लगाई गई है। स्वास्थ्य कार्यकर्ता 8-8 घंटे सेवाएं दे रहे हैं। ड्यूटी में तैनात कर्मियों की शिकायत है कि उन्हें सेंटर में जो रूम दिया गया है वहां कूलर तो क्या पंखे की व्यवस्था भी ठीक नहीं है। कर्मियों का कहना है कि दिन में तापमान अधिक होने से ड्यूटी करने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कर्मियों ने बताया कि मरीजों से संपर्क एवं मार्गदर्शन देने जो लाड स्पीकर व माईक सेट की व्यवस्था की गई है, वह खराब पड़ी है। इससे उन्हें मरीजों से संपर्क करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। कर्मियों ने शिकायत की है कि यहां भोजन की क्वालिटी ठीक नहीं है।

मरीजों में आक्रोश
कोविड केयर सेंटर क्षेत्र में पदस्थ आरएचओ के भरोसे चल रहा है। भर्ती मरीजों की शिकायत है कि यहां डॉक्टर ही नहीं आते। इससे उन्हें बेहतर सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। सेंटर में 7 अप्रैल को खोर्राटोला निवासी सुकलाल खरे की मौत हुई थी। मृतक के परिजनों का आरोप था कि बीएमओ व बीपीएम की लापरवाही के चलते सुकलाल की मौत हो गई। मरीजों का आरोप है कि सेंटर को आरएचओ के भरोसे छोड़ दिया गया है। 

बीएमओ डॉ. आरआर धु्रवे का कहना है कि कोविड केयर सेंटर के मरीजों से शिकायतें मिली है। भोजन व नाश्ते की गुणवत्ता सुधारने को निर्देश दिया गया है। बीएमओ ने इस बात को गलत बताया कि कोविड केयर सेंटर में डॉक्टर नहीं जा रहे है। उन्होंने बताया कि डॉक्टर यहां प्रतिदिन पहुंच रहे हैं।


13-Apr-2021 12:44 PM 22

नांदगांव मेडिकल कॉलेज के दर्जनों तृतीय-चतुर्थ श्रेणी कर्मी जूझ रहे आर्थिक तंगी से

राजनांदगांव, 13 अप्रैल। कोरोनाकाल में मेडिकल स्टॉफ का वेतन तकनीकी अड़चन से बैंक में फंस गया है। ऐसे में नांदगांव मेडिकल कॉलेज के दर्जनों तृतीय-चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। 

मिली जानकारी के अनुसार भारत रत्न स्व. श्री अटल बिहारी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय राजनांदगांव में वर्ष 2018 में तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी नियमित कर्मचारियों की नियुक्ति की गई थी। उक्त वर्ष में नियुक्त कर्मचारियों को ओरिएंटल बैंक ऑफ  कामर्स में वेतन भुगतान हेतु खाता खुलवाने कहा गया था। जिसमें आज तक नियमित रूप से वेतन भुगतान होते आ रहा था, लेकिन कोरोनाकाल में तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को मार्च का वेतन उसी महीने में जमा न होकर अप्रैल में जमा किया गया। तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी जिनका ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स में खाता है, उनका भुगतान 12 अप्रैल तक नहीं हुआ है। विदित हो कि ओरिएंटल बैंक आफ कामर्स विगत कुछ पूर्व से पंजाब नेशनल बैंक में मर्ज किया जा चुका है। 

इस संबंध में ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा करते मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. रेणुका गहिने ने कहा कि नए वित्तीय वर्ष में तकनीकी अड़चनों के चलते तनख्वाह मिलने में देरी हुई है। ज्यादातर कर्मियों के ओरिएंटल बैंक में खाता है। बैंक के पंजाब नेशनल बैंक में विलय होने के कारण भी तनख्वाह ट्रांसफार में विलंब हुआ है।
वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की चेन को तोडऩे जिला प्रशासन ने 10 से 19 अप्रैल सुबह तक जिलेभर में लॉकडाउन घोषित किया गया है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी आज इस कोरोना काल में वेतन नहीं मिलने की दशा में पैसों के लिए मोहताज हो रहे हैं। 

सूत्रों का कहना है कि कर्मचारियों को मोबाइल में मैसेज तो आ गए कि आपका वेतन जमा कर दिया गया है, लेकिन एटीएम से जैसे ही अपने बैंक एकाउंट का बैलेंस या मिनी स्टेटमेंट चेक किया जाता है, उनके एकाउंट में वेतन जमा नहीं होना दर्शाया जाता है। सिस्टम में गलती कहां हो रही इसे सुधार करने की ओर ध्यान देना जरूरी है। कहीं न कहीं अंदेशा है कि लॉकडाउन का बहाना बना रहे बैंकों की लापरवाही का नतीजा कर्मचारी भुगत रहे हैं। जबकि आज बैंक भी हाईटेक हो गए हैं। प्रत्येक कार्य ऑनलाइन सिस्टम से किया जा सकता है।


12-Apr-2021 7:54 PM 16

राजनांदगांव, 12 अप्रैल। उदयाचल एवं श्री शांति विजय सेवा समिति ने 164 बिस्तरों वाला आईसोलेशन सेंटर उदयाचल भवन में शुभारंभ किया। शुभारंभ अवसर पर अपर कलेक्टर श्री मारकंडेय, अनुविभागीय अधिकारी मुकेश राव, मुख्य जिला एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथिलेश चौधरी, कोतवाली टीआई वीरेंद्र चौधरी, उमेश सोनवानी, सुरेंद्र राजपूत सहित तहसीलदार राजेश मोर उपस्थित थे।

संस्था के प्रवक्ता तेजकरण जैन और दिनेश चोपड़ा ने बताया कि इस दौरान अशोक मोदी, नितिश अग्रवाल, राजेंद्र बाफना, विनेश चोपड़ा,  भावेश मोदी, आदित्य कोचर, मयंक बाफना, ललित भंसाली, अतुल रायचा सहित श्री शांति विजय सेवा समिति की ओर से पवन चौरडिय़ा, चिंतामणि बोथरा, मनोज वैद्य, अक्षय मनोज, पवन जैन, राजकुमार बैद, नयन कोठारी, ज्ञानचंद नौलखा, संजय बैद, महेश गोलछा, हरक आदि उपस्थित थे।
 


12-Apr-2021 7:53 PM 14

राजनांदगांव, 12 अप्रैल। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर के निर्देशानुसार विकासखंड राजनांदगांव, डोंगरगढ़ एवं डोंगरगांव के शेष 62 परीक्षा केन्द्रों के प्रश्र पत्रों एवं गोपनीय सामग्री का वितरण डॉ. बल्देव प्रसाद मिश्र शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बसंतपुर में किया गया। वितरण के दौरान शासन द्वारा जारी कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन करते केन्द्राध्यक्षों को 10वीं एवं 12वीं के सामग्री का वितरण किया गया। ज्ञातव्य हो कि छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर द्वारा दसवीं बोर्ड परीक्षा आगामी आदेश पर्यन्त तक स्थगित की गई है।

 


Previous123456789...6263Next