छत्तीसगढ़ » बस्तर

Previous123456Next
Date : 03-Apr-2020

गांव को सुरक्षित करने प्रवेश द्वार में नाका बना रहे ग्रामीण
बस्तर में कोरोना पॉजिटीव एक भी नहीं 

जगदलपुर, 3 अप्रैल। बस्तर में फिलहाल कोरोना के एक भी मरीज नहीं हैं। वहीं बस्तर जिले के ग्राम पंचायतों के युवाओं ने अपने-अपने गांव को सुरक्षित करने प्रवेश द्वार में नाका बना कर जांच शुरु कर दिया है। वहीं दूसरे प्रांत से वापस आये मजदूरों का भी ग्राम प्रमुख व युवा मिलकर जांच कर पुलिस को सूचित कर रहे हैं। 

लॉकडाउन का पालन ग्रामीण क्षेत्रों में बखूबी निभाई जा रही है तो वहीं कुछ असामाजिक तत्वों का झुंड दिखता रहता था, लेकिन पुलिस की लगातार पेट्रोलिंग के चलते वे लोग भी गायब हो गए हैं। पिछले दिनों बस्तर के डिमरापाल में अलग अलग जगह से आये तीन लोग जो कोरोना संदिग्ध थे उनकी रिपोर्ट भी नेगेटीव आ गई है, जिससे यहां लोगों में भय का साया हट गया है। 

डॉ. आजाद अधीक्षक मेडिकल कॉलेज डिमरापाल ने बताया कि तीन मरीजों का कोरोना टेस्ट कराया गया था और तीनों का रिपोर्ट निगेटिव आया है, फिलहाल अभी कोई मरीज संदिग्ध स्थिति में नहीं हैं।
 


Date : 03-Apr-2020

लॉकडाउन के दौरान ब्लॉक में 534 लोगों की जांच
स्वास्थ्य टीम गांव-गांव जाकर बाहर से आए लोगों की कर रही जांच

सुमन कार्तिक 
किलेपाल, 3 अप्रैल (छत्तीसगढ़)।
कोरोना से बचाव के लिए कलेक्टर के निर्देशानुसार अस्पताल में प्रतिदिन बाहर से आये लोगों की जांच हो रही है और उन्हें घर पर रहने की सलाह दी जा रही है। इस कार्यक्रम में स्वास्थ्य विभाग के स्टॉफ के साथ मितानिन सभी स्टाफ से मिलकर बारी-बारी से ड्यूटी कर रहे हैं और प्रतिदिन ओपीडी लग रहा है। बाहर काम पर गए लोगों के लिए हमेशा ओपीडी खुला रहता है।

बीएमओ प्रदीप बघेल ने बताया कि कलेक्टर के निर्देश अनुसार टीम बनाया गया है, लोग बाहर से आये है उन पर नजर रखी जा रही है। होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों की मॉनिटरिंग होती रहती है। यदि कोई लॉकडाउन का उल्लंघन करेगा, उसकी सूचना पुलिस औऱ जिला प्रशासन को दी जाएगी। हमारी टीम पूरी तरह मुस्तैदी से कम कर रही है। हमारे पास मास्क और सेनिटाइजर की कमी है, जिला स्तर से मांग की गई है, जल्द ही उपलब्ध हो जाएगी। 

बस्तर जिले के बास्तानार ब्लॉक के पूरे पंचायतों में कुल 30 टीम काम कर रही है, जिसमें डॉक्टर के एएनएम व मितानिनों के साथ डॉ रोटेशन कर काम कर रहे हैं। गांव के सरपंच-सचिव, तहसीलदार, थाना प्रभारी सभी फील्ड सर्वे का तालमेल कर एक दूसरे से सूचना अदान-प्रदान करते रहते है। अभी हमने स्थिति को देखते हुये आयुष विभाग को भी शामिल कर साथ मिलकर काम रहे हंै। लॉकडाउन से अभी तक ब्लॉक में 534 लोग जांच के लिए आ चुके हैं। सर्वे टीम द्वारा लोगों को हाथ धोने के संबंध मे कोरोना से कैसे बचाव करना है, होम आइसोलेशन के बारे में जागरूकता किया जा रहा है और सभी गांवों में जो लोग बाहर गये थे। उनको होम आइसोलेशन में रखा गया है , टीम उन्हें समझाइश देते और निरीक्षण में बराबर रहते हैं । हमनें सामान्य ओपीडी और अभी कोरोना ओपीडी अलग अलग बना के रखे हैं। आवश्यकता पड़े तो उसके लिए भी एक अलग से वार्ड तैयार कर रखें है ।
 


Date : 02-Apr-2020

राशन दुकानों में हो रहा सोशल डिस्टेंस का पालन

छत्तीसगढ़ संवाददाता
किलेपाल, 2 अप्रैल। 
विश्व भर में चल रहे वैश्विक महामारी का बचाव ही उपाय हैं। इसमें प्रत्येक व्यक्ति अपना-अपना बचाव करें। शारीरिक दूरियां (सोशल  डिस्टेंस )रखें। कोड़ेनार थाना प्रभारी दिलेश्वर चंद्रवंशी की अगुवाई में मुख्यमार्ग के अलावा क्षेत्र के पारा टोला मंजरा में भी जाकर लोगों को ये जानकारी दे रहे हैं और उल्लंघन करने पर कार्रवाई की बात भी कह रहे हैं।
 थाना क्षेत्रों में भ्रमण दौरान ये बात विशेष कर ध्यान में रख रहे हैं। भीड़ किसी हालात में नहीं होने देना है और अब इस प्रकार भीड़ होने के संभावित जगहों को चिन्हित कर बराबर निगरानी कर रहे हैं। मेला मड़ाई, मुर्गा बाजार, मरनी जैसे जगहों पर नजर हैं। अभी सबसे ज्यादा उचित मूल्य दुकानों पर नजर रखें हैं। आज अपने दौरे के दौरान सालेपल उचित मूल्य दुकान कोड़ेनार बांको पारा जनपद बास्तानार, मंडवा जनपद तोकापाल, बड़े कड़़मा दरभा को शारीरिक दूरियां का पालन करते पाया गया। ज्ञात हो कि कोड़ेनार थाना के अगुवाई में लॉकडाउन के पहले शारीरिक दूरियां के बारे में कला जत्था के माध्यम लोगों को जागरुक किया था।

 


Date : 02-Apr-2020

खुफिया तंत्र को बढ़ाकर आदिवासियों को मौत का रास्ता दिखा रही है सरकार-मद्देड़ एरिया कमेटी 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 2 अप्रैल।
बीजापुर जिले के मद्देड़ एरिया के माओवाद कमेटी के द्वारा विज्ञप्ति जारी कर कहा गया है कि देश विदेश के बड़े पूंजीपति, नौकरशाह, साम्राज्यवाद, कारपोरेट, उद्योगपतियों का बढ़ावा सरकार कर रही है। सरकार पुलिस चुगली खुफिया तंत्र को बढ़ाकर गरीब ग्रामीण आदिवासियों को मौत का रास्ता दिखा रहा है और एरिया डोमिनेशन के नाम पर गरीब आदिवासियों पर अमानवीय कृत्य कर रहे हैं और फर्जी मुठभेड़ करा रहे हैं। सरकार के बड़े अधिकारी ग्रामीण गरीब आदिवासियों को लालच देकर उन्हें सेलफोन देकर खुफिया तंत्र का काम करा रहा है हम इसका विरोध करते हैं। देश विदेश के पूंजीपति, उद्योगपति, नौकरशाह, साम्राज्यवाद, भूस्वामी जैसे करोड़पतियों के साथ लड़ाई लडऩे की बात कही है और मोदी सरकार ग्रह मंत्री रक्षा मंत्री जैसे लोगों का दमनकारी नीतियों का खंडन करते हैं और उसका पुरजोर विरोध करते हैं और वर्तमान में देश में चल रहे एनआरसी, सीएए एवं जीएसटी, नोटबंदी, ऑनलाइन आदि का भी विरोध करते हैं। खासकर चुगली खोर खुफिया तंत्र मुखबिरी को सचेत रहने की चेतावनी देते हैं। यह बातें मद्देड़ कमेटी एरिया के माओवाद कमेटी द्वारा कही गई है।


Date : 01-Apr-2020

पोल्ट्री फार्म द्वारा मरी मुर्गियां फेंकने से बदबू, ग्रामीण में रोष

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बकावण्ड, 1 अप्रैल।
ब्लॉक के अन्तर्गत ग्राम पंचायत कौडावंड सिवनागुड़ा के पोल्ट्री फार्म में कई दिनों से  मुर्गियां  मर रही हंै। जिसे गांव के नजदीक के गड्ढे में फेंक दिया जाता है। जिससे आसपास के खेतों में भी किसानों को बदबू से दिक्कत  होती   है। 

किसानों का कहना है कि मरी हुई मुर्गियां सड़ कर बदबू फैलाती है। जिससे गांव वालों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। वातावरण भी दूषित हो रहा है।  विभिन्न प्रकार की बीमारी होने  की आशंका बनी हुई है तथा सिवनागुड़ा, कौडावंड ,बकावंड, अमडीगुड़ा आवासपारा में गंदगी के कारण मक्खियां बढ़ गई है। 
ग्रामीण हलदर कश्यप, बुधराम भारती, मजर खान, गोनैसा यादव  आदि ने परेशान होकर बकावंड तहसीलदार से गुहार लगाई है। 


Date : 01-Apr-2020

लॉकडाउन के बीच पेयजल समस्या, महिलाओं ने एनएच पर खाली बर्तन रख किया प्रदर्शन

दिलीप देवांगन
जगदलपुर, 1 अप्रैल(छत्तीसगढ़)।
लॉकडाउन के बीच पेयजल समस्या गरमा रही है। सोमवार को पेयजल समस्या से जूझ रही महिलाएं घर से बाहर निकल कर नेशनल हाईवे 16 पर खाली बर्तनों को रख कर प्रदर्शन करने लगी थीं। यह मामला तोकापाल जनपद के अंतर्गत आनेवाला ग्राम पंचायत बेड़ा गुड़ा का मामला है। 

बेड़ा गुड़ा पंचायत के मिरगान पारा के करीब 1 दर्जन महिलाओं का कहना है कि उनके घरों में लगे नलों में पानी की एक बूंद भी नहीं आ रही है, जिसके कारण पानी लेने मोहल्ला से निकल कर रोड साइड में आ कर पानी भरना पड़ता है और यहां से घर तक पानी ले जाने में समय लगता है और इसी बीच नल भी बंद हो जाता है। इस समस्या को लेकर कई बार सरपंच को बताया गया है लेकिन सरपंच ने बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रहे हैं, जबकि नल कनेक्शन सभी के घर लगाया गया है लेकिन पंचायत द्वारा इसे सही संचालन न करने की वजह से कई घरों में पानी नहीं जा रहा है और भारी समस्या हो रही है।

 इस समस्या को लेकर मोहल्ले की महिलाएं तोकापाल नायब तहसीलदार को शिकायत की। नायब तहसीलदार मौके पर पहुंच कर सरपंच पति को फोन कर बुलाया और समस्या के बारे में पूछा। महिलाओं ने अधिकारी को अपने-अपने घरों में ले जाकर खाली बर्तनों को दिखाया। नायब तहसीलदार इस बीच नल खोलने को कहा जिससे महिलाएं रोड साइड से पानी भरने लगीं। 

सरपंच पर लापरवाही का आरोप लगाया ग्रामीण ने ग्रामीण ने आरोप लगाया कि पंचायत ने पूर्व में लगे बोरिंग को हटा कर उसमें पम्प मोटर लगा दिया और पाईप लाईन घरों तक पहुंचाया, लेकिन यह पाईप लाईन नाली के अंदर से ले जाया गया है जो बहुत बड़ी लापरवाही है और लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ भी। सही प्रेशर के साथ पानी न पहुंचने के कारण नाली के अंदर से पानी भरने को महिलाएं मजबूर हैं। पर इनकी समस्या पंचायत तो सुनती ही नहीं है और प्रशासन भी ध्यान नहीं देता, जिससे समस्या बरकरार  है।

नायब तहसीलदार राहुल गुप्ता का कहना है कि लोगों की समस्या पेयजल संबंधी है और गंभीर भी। फिलहाल नल चालू करा दिया गया है। सरपंच को सुचारू रूप से पानी लोगों को देने के लिए कहा है।


Date : 31-Mar-2020

कोरोना वायरस को रोकने घर पर रहें लोग- चित्रकोट विधायक 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
किलेपाल, 31 मार्च।
चित्रकोट विधायक राजमन बेंजाम ने कोरोना वायरस को रोकने के लिए लोगों को घर पर रहने और सरकार के प्रयासों का समर्थन करने लिए धन्यवाद दिया है। उन्होंने कहा कि मुझे यकीन है कि आप सभी साबुन से हाथ धो रहे हैं और सोशल डिस्टेंस बनाए हुए हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार ने हमारे बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए सभी स्कूलों को बंद कर दिया। आप में से कई लोग उनकी शिक्षा और सीखने के बारे में चिंतित होंगे। मैं सभी माता-पिता और दादा-दादी से अपील करना चाहूंगा कि वे बच्चों को इस स्थिति से निपटने में मदद करें। मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप उनके साथ ईमानदारी के साथ स्थिति पर बातचीत करें। साथ ही आप सभी के लिए एक साथ समय बिताने का यह एक शानदार अवसर है। आप अपने बच्चों के साथ खेलते हैं। उन्हें सीखने में मदद करें। उनके साथ खाना बनाना, उन्हें कहानियां पढऩा, उन्हें एक शिल्प या कौशल सिखाना, ये सभी कार्यों से समय बिता रहे होंगे, स्कूल केवल सीखने का स्थान नहीं है घर भी शिक्षा का प्रथम पाठशाला माना गया है, इस पाठशाला का भरपूर आनंद उठाने के मौका को अच्छे से निभाये। विधायक ने कहा, मैं स्थिति से निपटने के लिए बच्चों का समर्थन करूंगा और उन्हें शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ होने में मदद करूँगा, इसके लिए मैं हमेशा क्षेत्र के जनता के बीच हर प्रकार के मदद के लिए तैयार हूं।

राजमन ने बताया कि क्षेत्र के सभी अधिकारी -कर्मचारी को धन्यवाद देता हूं जो इस घड़ी अपना फिक्र न करके लोगों को सुझाव संदेश ओर सेवा दे रहे हैं ,मैं भी हमेशा फोन से सभी अधिकारियों-कर्मचारियों के सम्पर्क में रहता हूं हाल समाचार पूछते रहता हूं। मेरे क्षेत्र के अंदुरुनी इलाकों को ज्यादा ध्यान दे रहा हूँ और समाज से जुड़े ओर मेरे कार्यकर्ताओं बड़े बुजुर्गों से भी अपील किया हूं कि कार्यक्रमों में भीड़ बिल्कुल न करें। कम से कम दो चार लोगों के बीच सिर्फ सामाजिक दायित्व को निभाये वो भी शारिरिक दूरियों के साथ। 

 


Date : 30-Mar-2020

बस्तर के रास्ते आंध्र से राजस्थान जा रहे 17 मजदूरों को पुलिस ने रोका

जगदलपुर, 30 मार्च। आंध्रप्रदेश के गुंटूर जिले से अपने घर राजस्थान जा रहे 17 मजदूरों को कल देर रात चेकिंग के दौरान बस्तर पुलिस ने रोक लिया है। ये सभी मजदूर गुंटूर जिले के अलग-अलग जगहों में मजदूरी का काम करते हैं। लॉकडाउन की स्थिति में मजदूर बस्तर के रास्ते होते हुए राजस्थान जा रहे थे और इसी दौरान पुलिस ने ओडिशा और छत्तीसगढ़ के सीमा से पैदल आ रहे इन सभी 17 मजदूरों से पूछताछ की। 

मजदूरों ने पुलिस को बताया कि घर जाने की अनुमति नहीं मिलने के चलते वे चोरी छिपे अलग-अलग ट्रकों में बैठकर बस्तर से रायपुर होते हुए राजस्थान जाने की फिराक में थे। फिलहाल पुलिस ने सभी 17 मजदूरों को अपनी निगरानी में मेडिकल जांच कराने के बाद अगले 14 दिनों तक क्वारंटाइन में रखा गया है और इनके खाने-पीने की भी प्रशासन द्वारा व्यवस्था की जा रही है। सत्रह मजदूरों में सभी राजस्थान के अलग-अलग शहरों के रहने वाले हैं।
 


Date : 30-Mar-2020

कोरोना से बचने जागरूक कर रहे वन कर्मी

जगदलपुर, 30 मार्च। शहरों के साथ-साथ अब ग्रामीण इलाकों में वनकर्मी लोगों को हाथ धुला कर कोरोना से बचने जागरूक करने का काम कर रहे हैं।

बस्तर जिले के ग्राम पंचायत परपा में वन विभाग की एसडीओ सुषमा नेताम, चित्रकोट रेंज के डिप्टी रेंजर मोहमद सलीम, राजकुमार मिश्रा, नरसिंग कश्यप एवं वन कर्मी के द्वारा कोरोना से बचने एक जागरूक कार्यक्रम किया गया, जिसमें घर से बाहर रोजमर्रा के समान लेने निकले लोगों को हाथ धुला कर घर पर रहने व धारा 144 का पालन करने का आह्वान किया।
सुषमा नेताम एसडीओ वन विभाग चित्रकोट ने कहा कि सरकार द्वारा दिये गए दिशा-निर्देश का पालन करें, लॉक डाउन का पालन करें, घर पर ही रहें।


Date : 30-Mar-2020

जरूरतमंदों के घर पहुंचे सुकमा नपाध्यक्ष, राशन बांटा

छत्तीसगढ़ संवाददाता

जगदलपुर, 30 मार्च। छत्तीसगढ़ के कैबिनेट मंत्री कवासी लखमा एवं सुकमा के जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी के दिशा निर्देश अनुसार सुकमा नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष जगन्नाथ राजू साहू कार्यकर्ताओं के साथ जरूरतमंदों के घर पहुंचकर राशन बांटा।

वार्डों में नपाध्यक्ष अपने कार्यकर्ताओं के साथ जरूरतमंदों तक उनकी जरूरतों के सामान को पहुंचाया और सभी नगर वासियों से अनुरोध किया कि घर पर रहे अंदर रहे। अपने परिवार की देखभाल करें। किसी भी वक्त किसी भी घड़ी अगर किसी भी प्रकार की समस्या है हम एवं छत्तीसगढ़ शासन, भारत सरकार, एवं जिला प्रशासन आपके सामने आपकी मदद के लिए खड़े हैं।

सुकमा नगरपालिका अंतर्गत वार्ड नं 1 में स्थित सोड़ी पारा, वार्ड 6 के नयापारा, वार्ड 14 के पावारास, पटनम पारा, वार्ड 11 बगीचापारा, लाईन पारा में जाकर जरूरतमन्द परिवारों को सूखा राशन वितरण किया गया। नगरपालिका अध्यक्ष द्वारा लोगों को समझाईश दी गई कि अपने घरों से बाहर नहीं निकले एवं अपने हाथों को बार बार साबुन से 20 सेकण्ड तक अच्छे से सफाई करें।

इस दौरान वरिष्ठ युवा कांग्रेस नेता मनोज चौरसिया, भूतपूर्व पार्षद रम्मू राठी, नगरपालिका विधायक प्रतिनिधि कपिल सिंह ठाकुर, जिला कांग्रेस के प्रवक्ता मो. हुसैन, एल्डरमैन हरि सेठिया, शेख मुन्ना, अनीश सुना मौजूद थे।

 

 


Date : 29-Mar-2020

कोरोना से बचने ग्रामीणों को दी जानकारी

छत्तीसगढ़ संवाददाता                                                                                                                                                                                                               
भोपालपटनम, 29 मार्च।
भोपालपटनम ब्लॉक के जर्नलिस्ट वेलफेयर ब्लॉक अध्यक्ष प्रांतीय सचिव संगठन संयोजक ब्लॉक सचिव एवं सामाजिक कार्यकर्ता की टीम ने शनिवार को भोपालपटनम के ब्लॉक सीमा अंत तारलागुड़ा तक भ्रमण कर गांव के लोगों को कोरोना से बचने के लिए शासन प्रशासन के द्वारा बताए गए नियमों का पालन करने का जानकारी दी गई। इस संक्रमण से बचाव हेतु सामाजिक दूरी बनाये रखने की जानकारी भी लोगों को दी गई।  सीमा पर ब्लॉक के स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर एवं नर्स, पंचायत सचिव, एयर फोर्स तरलागुड़ा की थाना प्रभारी समस्त टीम अपनी अपनी सेवाएं दे रहे हैं। 

छत्तीसगढ़ से हर वर्ष बीजापुर जिले एवं भोपालपटनम ब्लॉक के ज्यादातर गांव के लोग मिर्ची तोडऩे तेलंगाना जाते हैं। कुछ मजदूर इस कोरोना की भनक लगते ही गाडिय़ों में भरकर बंद से पहले अपने-अपने घर पहुंच गए और कुछ मजदूर आज भी तेलंगाना से पाईदल रनागारम, चेरला, वेंकटापुरम से पैदल यात्रा करते हुए अपने अपने घर आ रहे हैं, जिन्हें सीमा पर डॉक्टरों का दल रोककर स्वास्थ्य परीक्षण कर और इस संक्रमण से सतर्क रहने की चेतावनी देते हुए इन्हें एक 1 मीटर की दूरी बनाते हुए कतारबद्ध पैदल जाने की सलाह दिया है।  स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी मजदूरों का इंफ्रारेड थर्मामीटर द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। जिसमें देवला, दुलमगुड़ा के मजदूर मौजूद थे। इनकी ब्लॉक में आने की जानकारी इन मीडिया कर्मियों द्वारा स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों एवं पुलिस विभाग को दिया गया है।

 पुलिस विभाग भी अपनी-अपनी थाना एवं चौकियों में आने जाने वालों को रोककर अति आवश्यक होने से घर से बाहर निकलने की सलाह लोगों को दे रही है। स्वास्थ्य विभाग एवं पुलिस विभाग इस क्षेत्र में अपने जान की परवाह ना करते हुए क्षेत्र के लोगों को इस महामारी संक्रमण से सतर्क रहने का सलाह दे रहे हैं और अपनी कर्तव्य निर्वहन सफलतापूर्वक कर रहे हैं। मीडियाकर्मियों द्वारा गांवों में जाकर इस संक्रमण की बचाव और सतर्क रहने की सलाह देते हुए लाकडाउन का पालन करने की हिदायत दी गई और अपने क्षेत्र में कोई नया मेहमान यहां बाहर से आए हुए व्यक्ति यह किसी प्रकार की बीमारी होने से स्वास्थ्य विभाग को तत्काल जानकारी देने की सलाह दी। लॉकडाउन का मिलकर पालन कर इस महामारी संक्रमण को दूर भगाने में सफल रहने का आह्वान किया है।

 


Date : 29-Mar-2020

बस्तर युवा कांग्रेस ने ग्रामीणों की मदद के लिए बढ़ाया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 29 मार्च।
देश में बढ़ते कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए कुछ लोग ग्रामीण मजदूरों एवं जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। बस्तर जिले में भी आदिवासी अंचलों में लॉकडाउन के दौरान अपनी जरूरत सामानों के लिए ग्रामीणों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में युवा कांग्रेस इन ग्रामीणों की मदद के लिए आगे आया है। 

जिला युवा कांग्रेस के जिला अध्यक्ष एवं जनपद सदस्य जीशान कुरैशी के नेतृत्व में युवा कांग्रेस के सदस्यों ने जगदलपुर ब्लॉक के ग्राम पंचायत कलचा, उपनपाल और करणपुर पंचायत के ग्रामीणों को एक हफ्ते का राशन वितरण किया। जिसमें दाल चावल और खाने पीने का सामान शामिल हंै। साथ ही कोरोना वायरस से बचाव के लिए ग्रामीणों को मास्क वितरण कर उन्हें इस वायरस से बचाव के की जानकारी दी। दरअसल इस संकट की घड़ी में युवा कांग्रेस लगातार बस्तर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में अपने पैसों से ग्रामीणों के लिए एक-एक हफ्ते का राशन तैयार कर गरीब परिवारों को वितरण कर रहा है। ग्रामीण अंचलों में दिहाड़ी मजदूरों को इस लॉक डाउन के दौरान काफी खाने पीने के जरूरत समान जुटाने में दिक्कतें हो रही है। ऐसे में युवा कांग्रेस के द्वारा अंदरूनी क्षेत्रों में इन ग्रामीणों को एक हफ्ते का राशन वितरण करने की काफी तारीफ हो रही है।


Date : 28-Mar-2020

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सुकमा जिपं अध्यक्ष ने जेलों में कैद आदिवासियों को रिहा करने सीएम को लिखा पत्र 

जगदलपुर, 27 मार्च। सुकमा जिला पंचायत अध्यक्ष कवासी हरीश ने कोरोना कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए जेलों में कैद आदिवासियों को रिहा किए जाने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखा है। 

 उन्होंने अपील करते हुए कहा है कि छत्तीसगढ़ के विभिन्न जेलों में नक्सली और अन्य प्रकरणों में बहुतायत संख्या में आदिवासी कैद हैं, उन्हें न्याय नहीं मिला है। जबकि पूर्व में भी जिलों में निरुद्ध अनेक निर्दोष आदिवासियों को न्यायालय ने दोषमुक्त किया है।

कवासी हरीश ने कहा कि बहुसंख्यक आदिवासी समाज से पहले ही आर्थिक- संसाधनों से वंचित है, जिसके कारण इस समाज का अन्य प्रगतिशील समाज की तरह विकास नहीं हो पाया है और आज 21वीं सदी में भी आदिवासी विकास की मुख्यधारा से नहीं जुड़ पाए हैं। कोरोना कोविड-19 का संक्रमण की स्थिति चिंताजनक हो चुकी है और इस संक्रमणकाल में भी बहुतायक संख्या में गरीब-मासूम आदिवासी जेलों में कैद है, जिनके लिए यह संक्रमण बेहद खतरनाक हो सकता है, उन्होंने भूपेश बघेल से अनुरोध करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के विभिन्न जेलों में कैद आदिवासियों को कोरोना से बचाने के लिए तत्काल रिहा करने की अपील की है।
 


Date : 28-Mar-2020

सब्जी खरीदने आए लोगों पर लाठियां भांजने व वाहनों में तोडफ़ोड़ का आरोप, कलेक्टर से शिकायत

जगदलपुर, 27 मार्च। देश में प्रधानमंत्री द्वारा 21 दिनों के लिए लॉक डाउन किया गया है किन्तु खाद्य सामाग्री व सब्जी बाजार को सुबह 9 से 5 बजे तक के लिए खुली रखे जाने का आदेश दिया गया है। शहर के लोगों द्वारा सब्जी खरीदने के लिए बाजार का रुख किया गया है किन्तु पुलिस द्वारा इन लोगों पर भी लाठियां भांजने का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले को लेकर अधिवक्ता श्री सोनी ने बस्तर कलेक्टर को लिखित शिकायत की है। 

अधिवक्ता कृष्ण कुमार सोनी ने बताया कि शुक्रवार को वे लगभग 10 बजे संजय बाजार में सब्जी खरीदने गए हुए थे। इसी दौरान सब्जी खरीदने आये लोगों की वाहन बाजार में खड़ी थी, जिसे एसडीएम और कुछ पुलिस कर्मियों द्वारा तोड़ा जा रहा था, जिस पर अधिवक्ता ने आपत्ति जताई और एसडीएम से अनुरोध किया कि वे वाहनों को जब्त कर कार्रवाई करे न कि वाहनों को तोड़ फोड़। जिस पर एसडीएम नाराज हो गए और पुलिस को आदेशित किया कि इसे भी दो डंडा मारो और पुलिस द्वारा उन्हें भी मारा गया। श्री सोनी ने बताया कि नियमत: एसडीएम को वाहनों को जब्त कर कार्रवाई करनी चाहिए न कि वाहनों को तोड़-फोड़ करना चाहिए।

इस संबंध में एसडीएम जी एस मरकाम ने बताया कि बाजार में अफरा-तफरी मची हुई थी। इसी बीच कुछ वाहन गिर गए है, इस प्रकार की कोई घटना नहीं हुई है। 


Date : 26-Mar-2020

सरपंच-व्यापारी ने गरीबों को खाद्य सामान बांटे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
भानपुरी, 26 मार्च।
लॉकडाउन होने के कारण गरीबों का ध्यान रखते हुए बस्तर ब्लॉक के ग्राम पंचायत बोडऩपाल सरपंच एवं भानपुरी के व्यापारी द्वारा खाद्य सामग्री का वितरण किया गया।   कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए सरकार द्वारा लगाये गये लॉकडाउन के कारण गरीब परिवार की आर्थिक स्थिति काफी खराब हो गई है, एैसे समय में बस्तर ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम पंचायत बोडऩपाल के सरपंच उमाकांत कश्यप एवं भानपुरी के व्यापारी गिरीश चोपड़ा द्वारा आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के लोगों को जरूरी खाद्य सामान बोडऩपाल में वितरित किया गया। 
सरपंच उमाकांत कश्यप एवं व्यापारी गिरीश चोपड़ा ने कहा कि लापरवाही ना करें। सभी से निवेदन है कि घर पर रहें। बार-बार साबुन से हाथ धोएं।


Date : 25-Mar-2020

सात हजार से अधिक मास्क बांटे अंजू सिलाई शिक्षण संस्थान ने

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 25 मार्च।
करोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जहां मास्क की कमी महसूस की जा रही है। दवा दुकानों में भी मास्क उपलब्ध नहीं है। इन परिस्थितियों में अंजू सिलाई शिक्षण संस्थान की संस्थापक अंजू राय अपने सहयोगियों के साथ गरीब लोगों को नि:शुल्क मास्क उपलब्ध करा रही है। विशेषकर हमाल मजदूर और घरों में काम करने वाली महिलाओं को नि:शुल्क मास्क उपलब्ध करा रहे हैं। उनका लक्ष्य है कि पूरे बस्तर संभाग में एक लाख से अधिक मास्क का वितरण कर उन लोगों को करोना वायरस से बचाने में अपना सहयोग देगी। अब तक सात हजार से अधिक मास्क का वितरण कर चुकी हैं। 

इस संबंध में उन्होंने 'छत्तीसगढ़Ó संवाददाता से चर्चा करते हुए बताया कि पूरे बस्तर संभाग में उनकी लगभग 40 केंद्र संचालित हैं। इनमें से 15 केंद्रों में मास्क निर्माण कर नि:शुल्क वितरण का कार्य किया जा रहा है। इसके लिए कपड़े व सूट की व्यवस्था भी सस्था के द्वारा ही की गई है। 

उन्होंने बताया कि उनके जीवन में जो संघर्ष के दिन थे, उसे याद करते हुए उन्होंने गरीबजनों की सेवा करने का निर्णय लिया था और अंजू सिलाई शिक्षण संस्थान एक सिलाई मशीन से प्रारंभ किया था और आज उनके ही केंद्र में 15 से अधित सिलाई मशीन है। बस्तर संभाग के विभिन्न क्षेत्रों में 40 शाखाओं का संचालन भी हो रहा है। संस्था के माध्यम से कई महिलाओं को स्वरोजगार भी उपलब्ध हुआ है। वर्तमान परिस्थिति में नि:शुल्क मास्क वितरण कर निश्चित ही कोरोना वायरस की लड़ाई में अपना महत्वपूर्ण योगदान अंजू राय दे रही हैं। 

 


Date : 25-Mar-2020

कोरोना वायरस से लड़ाई में आमजनों का मिल रहा सहयोग, आवश्यक सेवा कार्यालयों के सामने सैनिटाइजेशन की व्यवस्था

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 23 मार्च।
कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए सभी स्तर पर व्यवस्था की जा रही है और लोग भी इसमें पूरा सहयोग दे रहे हैं। जो आवश्यक सेवाओं के कार्यालय जैसे कि बैंक एवं अन्य स्थान खुले हुए हैं। उनके कार्यालयों के सामने सैनिटाइजेशन की व्यवस्था भी की गई है। लोगों को हाथ धोने के लिए साबुन एवं पानी की व्यवस्था की गई है। हाथ धोने के  बाद ही व्यक्ति बैंक में या अन्य कार्यालयों में जा पा रहे हैं। यह भी एक सकारात्मक व्यवहार देखा जा रहा है कि लोग कार्यालय में प्रवेश के पूर्व साबुन से अच्छी तरह से अपने हाथ धो रहे हैं। उसके बाद ही कार्यालय के अंदर प्रवेश कर रहे हैं। इसी तरह कई घरों में भी व्यवस्था रखी गई है, जो भी घर आ रहे हैं। सबसे पहले उन्हें हाथ धोने के लिए साबुन पानी और सैनिटाइजर उपलब्ध कराया जा रहा है।


Date : 25-Mar-2020

बेवजह घूमने वालों पर प्रशासन का कड़ा रूख, दो पहिये व चार पहिये वाहन में आने जाने वालों की जांच कर भेज रहे घर वापस

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 25 मार्च।
कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए प्रशासन द्वारा कड़ाई बरती जा रही है। बेवजह घूमने वालों को रोककर उनके विरुद्ध कार्रवाई की चेतावनी देकर उन्हें वापस घर भेजा जा रहा है। आवश्यक कार्य से आने-जाने वालों के लिए कोई रुकावट नहीं है। इसी तरह दो पहिया वाहन व चार पहिया वाहन में बेवजह घूमने वालों की जांच कर, उन्हें समझाईश देकर घर वापस भेजा जा रहा है। इस कार्य में एसडीएम श्री मरकाम एवं उनका पूरा राजस्व अमला लगा हुआ है।
 इसी क्रम में अनुपमा चौक पर उपस्थित होकर आने जाने वालों की जांच की गई एवं उन्हें समझाईश देकर घर वापस भेजा गया। इसी तरह जो आवश्यक वस्तुओं की दुकानें हैं वह भी सुबह 9 से शाम 5 बजे तक खुली रहेगी। आज सुबह कुछ दैनिक उपयोग की दुकानें 9 बजे से पहले खुली थी, उन्हें भी पुलिस द्वारा बंद कराया गया और हिदायत दी गई कि 9 से 5 बजे तक ही दुकान खुला रखेंगे। इसके बाद सभी दुकानों को बंद कर दिया जाएगा। कलेक्टर द्वारा यह भी सूचना जारी की गई है कि मोटरसाइकिल में केवल एक ही व्यक्ति किसी कार्य के लिए आवश्यक सामानों की खरीदी के लिए एक व्यक्ति ही जाएगा। दो या तीन व्यक्तियों को जाने की अनुमति नहीं होगी उन्हें परिवार माना जाएगा और इसके लिए अनुमति की आवश्यकता होगी। परिवार को कहीं जाना होगा, तो इसके लिए संबंधित थाना प्रभारी से अनुमति लेनी होगी। प्रशासन द्वारा अपनाई जा रही कड़ी रुख के चलते आज सड़कों पर लोगों की भीड़ कम नजर आई सुबह-सुबह कुछ लोग निकले भी थे। 

इस संबंध में जानकारी देते हुए एसडीएम श्री मरकाम ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए यह जरूरी है कि आपसे संपर्क को जितना हो सके दूर किया जाए। इसका एकमात्र बचाव का उपाय यही है। प्रशासन की और आम जनता की सजगता से निश्चित ही कोरोनावायरस के खिलाफ  लड़ाई हम सभी जीतेंगे। 


Date : 25-Mar-2020

दुनिया की सबसे डरावनी महामारी के मुकाबले के लिए बस्तर की समझ

तामेश्वर सिन्हा

बस्तर- कहते हैं ग्रामीण भारत मे संसाधनों की कमी नहीं होती जरूरत के हिसाब से वो अपने आस-पास के चीजों से अपनी जरूरत पूरी कर लेते हैं अभी देश मे वैश्विक कोरेना वायरस का संक्रमण के चलते पूरी देश में 21 दिनों के लिए लॉक डाउन है। जनता मास्क-और सेनेटाइजर लेने मेडिकल स्टोरों में भीड़ उमड़ पड़ी है लेकिन गांव के लोग कहां से मास्क लाएंगे और लाएंगे भी तो क्या वो उसकी कीमत अदा कर सकते हैं? इन्ही जरूरत को पूरा करने छत्तीसगढ़ के बस्तर में  आदिवासी ग्रामीणों ने अपना खुद का मास्क और सेनेटाइजर तैयार कर लिया है।

इनके लिए मास्क का सधान सराई पेड़ का पत्ता है और हाथ धोने के लिए चूल्हे की राख। जिससे वो अपना हाथ की सफाई कर रहे है  ग्रामीणों का कहना है। इस बीमारी के बारे में वे सुने हंै कि किसी को छूने से ही फैलता है। इसलिए वे ये निर्णय लिया और पूरे गांव के लोग पत्ते का मास्क पहनकर इस कोरोना से जंग लड़ रहे हंै।

ये तस्वीरें उत्तर बस्तर कांकेर जिले के सुदूर आदिवासी बाहुल्य आमाबेड़ा के ग्राम कुरुटोला का है जहां न कोई संचार की व्यवस्था है कि देश में क्या हो रहा है जान सके। लोगों के मुंह से ही सुने हैं कि देश में कोरोना वायरस का प्रकोप है और इससे बचने के लिए मुंह में मास्क व बार-बार हाथ धोना जरूरी है। लेकिन इस अंदरूनी इलाके में न कोई मेडिकल दूकान है जहां से वे मास्क खरीद सके और न ही नजदीक में कोई अस्पताल जहां से वे इस वायरस के लिए कुछ संसाधन जुटा सके इसलिए ये लोग एक कोरोना से लडऩे के लिए देशी जुगाड़ से एक अनोखा मास्क का तैयार किए।

जिला प्रशासन ने जरूर शहरी क्षेत्र में सभी माकूल व्यवस्था की होगी लेकिन सुदूर अंचलों में  कोई व्यवस्था नहीं करने से ग्रामीण खुद इस वायरस से लडऩे का बीड़ा उठाया और पत्ते का मास्क बनाकर सभी गांव के लोग पहन रहे है। सिर्फ इतना ही नहीं लोग अपने गांव को भी लॉकडाउन कर रखा है कोई भी अनजान व्यक्ति इस गांव में नहीं आ सके ग्रामीणों का कहना है कि 31 मार्च तक वे अपने घर में ही रहेंगे। 

 


Date : 25-Mar-2020

दीगर प्रांतों से आने वाले वाहनों की जांच
छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 25 मार्च।
लॉक डाउन में कुछ सिरफिरों की लापरवाही से आम लोगों को भारी कीमत कोरोना की संक्रमण से चुकानी पड़ सकती है। जिसके लिए छतीसगढ़ पुलिस द्वारा इन बेपरवाह सिरफिरों को रोक कर समझाइश दी जा रही है। बस्तर जिले की संवेदनशील इलाकों में से एक दरभा में पुलिस द्वारा वाहनों की जांच की जा रही है। 

ज्ञात हो कि बस्तर से सैकड़ों मजदूर आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, पंजाब आदि राज्यों में मजदूरी के लिए जाते हैं और अभी हालात खराब होने के कारण काफी संख्या में ये मजदूर छत्तीसगढ़ के अलग- अलग जिलों में प्रवेश हो रहे हैं जिनका स्वास्थ्य परीक्षण होना बेहद जरूरी है। 

दरभा थाना प्रभारी लालजी सिन्हा ने बताया कि पिछले दो दिनों से दरभा नाका में अन्य राज्यों से आने वाली सभी वाहनों को जांच कर उसमें सवार लोगों की जांच करने पर ही आगे जाने की अनुमति दी जा रही है।

 


Previous123456Next