छत्तीसगढ़ » कांकेर

06-Nov-2020 8:08 PM 32

छत्तीसगढ़ संवाददाता

भानुप्रतापपुर, 6 नवंबर। नगर के मुख्य चौक पर देर रात को एक अधेड़ की पत्थर मार कर हत्या कर दी गई। भानुप्रतापपुर पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज से आरोपी युवक को घटना के कुछ ही घंटों में पकड़ लिया।

पुलिस के अनुसार रात लगभग 3 से 5 बजे के बीच भानुप्रतापपुर मुख्य चौक पर विगत कई वर्षों से जीवनयापन कर रहे अधेड़ सुनील मिश्रा उर्फ भोकलु मुंगेली की पत्थर से वार कर हत्या कर दी गई। इसकी सूचना मिलते ही एसडीओपी अमोलक सिंह ढिल्लो एवं थाना प्रभारी शशिकला उइके घटना स्थल पर पहुंचकर जांच शुरु की।  चौक में लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए।

सीसीटीवी फुटेज  के आधार पर हत्यारा युवक पुलिस के पकड़ में आ गया। आरोपी मानसिक बीमार युवक हत्या के बाद फरार हो गया था, जिसे पुलिस ने भानबेड़ा कोरर के पास से गिरफ्तार किया।


01-Nov-2020 7:13 PM 14

कार्रवाई नहीं होने पर 3 को आंदोलन

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भानुप्रतापपुर, 1 नवंबर।
ग्राम पंचायत भानबेड़ा में गोठान चारागाह के लिये आरक्षित की गई 0.38 हेक्टेयर शासकीय भूमि खसरा नंबर 811 को पूर्व सरपंच के द्वारा कब्जा करने का आरोप जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों ने लगाया है। उक्त भूमि से कब्जा हटाने के लिए जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों के द्वारा पूर्व में तहसील कार्यालय भानुप्रतापपुर को आवेदन के माध्यम से अवगत कराया जा चुका है, लेकिन आज तक कार्रवाई नहीं होते देखकर शनिवार को ग्रामीणों द्वारा कार्यालय पहुंच कर पुन: तहसीलदार आनंद राम नेताम को आवेदन सौंपते हुए कब्जा हटाने की मांग की गई है। कब्जा नहीं हटाये जाने के स्थिति में 3 नवम्बर को ग्रामीणों द्वारा उग्र प्रदर्शन किया जाएगा।

भानबेड़ा सरपंच जागेश्वर दर्रो ने बताया कि राज्य शासन के महत्वपूर्ण योजना नरवा गरवा घुरूवा एवं बाड़ी योजना के तहत ग्राम भानबेड़ा में गोठान बनाया गया है, वहीं पशुओं के चारागाह के लिये शासकीय भूमि जिस पर पूर्व वन विभाग के द्वारा पौधरोपण भी किया जा चुका है, उक्त भूमि पर पानी के लिए बोर खनन व कुआं है, जिस पर ग्रामीणों बीज बुवाई भी किया गया है। जिसे पूर्व सरपंच अशोक सर्फे द्वारा कब्जा किया गया है, जिसकी जानकारी 3 अक्टूबर को जानकारी हुई कि उक्त भूमि पर सजनिबत्ती पति अशोक सर्फे के नाम से अवैध पट्टा बनाया गया है।  

श्री दर्रो ने कहा कि यदि प्रशासन तत्काल कार्रवाई नहीं करती है तो 3 नवम्बर का भानबेड़ा में उग्र प्रदर्शन किया जाएगा, जिसकी सम्पूर्ण जानकारी शासन प्रशासन की होगी।

ज्ञापन सौंपते जागेश्वर दर्रो सरपंच, रमेश कोर्राम उप सरपंच, दुर्योधन सिंह ग्राम पटेल, पंच राम मिलन शोरी, चरण मरकाम, महावीर, संगीता बाई, रीतू बाई, सत्तो, हमीन, शशि कुंजाम, चमेली, चंद्रिका, लता चौरे, सुकन्या नरेटी, बीरझ बाई आदि उपस्थित रहे।


26-Oct-2020 5:38 PM 23

कांकेर, 26 अक्टूबर। जेपीआईएस प्राचार्य रितेश चौबे ने बताया कि जैसा कि आपको विदित है स्पीक मैके देश के युवा पीढ़ी भारतीय संगीत व संस्कृति का प्रचार प्रसार करने के लिए समर्पित संस्था है तथा हमारा विद्यालय भी हमारी प्राचीन कला व संस्कृति को परिचय कराने के लिए समय समय पर स्पीक मैके के माध्यम से कार्यक्रम का आयोजन करवाते रहता है। इसी कड़ी मे दशहरा के पावन पर्व पर स्पीक मैके छत्तीसगढ़ चैप्टर द्वारा ऑनलाइन आयोजित स्टेट कनवेनसन मे जे पी आई एस कांकेर के विद्यार्थियों ने भाग लिया ।

श्री चौबे ने बताया कि इस कनवेंशन मे मुख्य रूप से पद्मश्री अनूप रंजन पाण्डेय, ममता चंद्राकार लोक गायिका व वाइस चान्सलर इन्दिरा कला व संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़, स्पीक मैके के प्रणेता डॉ किरण सेठ, चेयरपरसन  कुंदा माहुरकर, अशोक जैन, पंकज मल्होत्रा स्पीक मैके छत्तीसगढ़ चैप्टर के अध्यक्ष डॉ अजय श्रीवास्तव, समन्वयक गोविंद मुदलियार, बाबा मार्तंड प्रसाद आशीष खंडेलवाल व विभिन्न विद्यालयों के प्राचार्य , शिक्षक व विद्यार्थी तथा बंगलुरु, मैसुरु, पुणे व ओड़ीशा के स्पीक मैके वॉलंटियर उपस्थित रहे।

श्री चौबे ने बताया कि इस ऑनलाइन स्टेट कनवेंशन की शुरुआत स्पीक मैके छत्तीसगढ़ चैप्टर अध्यक्ष डॉ. अजय श्रीवास्तव के उद्बोधन से हुई तत्पश्चात छत्तीसगढ़ के माटीपुत्र व कलाकार पद्मभूषण ने अपना सम्बोधन प्रस्तुत किया।  तत्पश्चात हमारी कला व संस्कृति के युवा साथीगण विद्यार्थियों से प्रश्नोत्तरी रखी गई। हमारे विद्यालय के विद्यार्थियों मे से कुटिया देवांगन व मल्लिका गोस्वामी के जिज्ञासा स्वरूप पूछे गए प्रश्नों का गणमान्य लोगों ने  उत्तर दिया।  इस ऑनलाइन  स्टेट कनवेनसन मे विद्यालय से लगभग 20 विद्यार्थियों का चयन किया गया था।

विद्यालय के निदेशक शंकर गिदवानी ने बताया कि स्पीक मैके के माध्यम से देश की कला व संस्कृति से विद्यार्थियों को  रुबरु कराने के लिए विद्यालय प्रतिबद्ध है तथा भविष्य मे इस प्रकार के कार्यक्रम व कनवेंशन का आयोजन विद्यालय मे कराने का प्रयास किया जाएगा ताकि विद्यालय तथा कांकेर परिक्षेत्र के विद्यार्थी व रहवासी गण देश  की  कला व संस्कृति से परिचित हो सके।


19-Oct-2020 2:14 PM 100

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भानुप्रतापपुर, 19 अक्टूबर।
रविवार शाम को हाथियों का दल बालोद जिले के डौंडी क्षेत्र के रजोलीडीह जंगल से होते हुए कांकेर जिले के भानुप्रतापपुर वन परिक्षेत्र के साल्हे-ईरागांव के पहाड़ी क्षेत्र से होते हुए तुमरीसुर जंगल की ओर बढ़ रहे हैं। 

भानुप्रतापपुर परिक्षेत्र के वन परिक्षेत्र अधिकारी मुकेश नेताम ने बताया कि हाथियों के आने की सूचना मिलते ही वनअमल द्वारा हाथियों की सतत निगरानी रखी जा रही है, हालांकि हाथियों के दल में कुल कितनी संख्या है, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है।
 
वहीं हाथियों द्वारा कुछ खेतों में फसल रौंदे जाने की सूचना मिली है। हाथियों की निगरानी के लिये भानुप्रतापपुर से मुकेश नेताम, डौंडी से पुष्पेंद्र साहू एवं दुर्गुकोंदल से अनिता रावटे की अगुवाई में तीन अलग-अलग टीम बनाकर नजर रखी जा रही है।