छत्तीसगढ़ » सुकमा

Previous123456789...1415Next
17-Oct-2021 7:43 PM (24)

ग्रामीणों व पुलिस ने किया रावण का दहन

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोन्टा, 17 अक्टूबर। सुकमा जिले के अतिसंवेदनशील व नक्सल प्रान्त के नाम से वाकिफ ग्राम किस्टाराम सुरक्षा बलों के जवानों व ग्रामीणों ने मिलकर कर विजयदशमी पर्व को हर्षोल्लास के साथ मनाया। पुलिस व ग्रामीणों ने मिलकर रावण के पुतला को बना कर शुक्रवार के शाम को थाना किस्टाराम के सामने स्थित मैदान में सभी ग्रामीण एक जुट होकर दशहरा को मनाया।

थाना प्रभारी प्रमोद ने बताया कि असत्य पर सत्य की विजय को चरितार्थ करते हुए ग्रामीणों एवं पुलिस बल के जवानों ने एक साथ मिलकर बहुत ही हर्ष उल्लास के साथ गाजे बाजे व बैंड के साथ मनाया है। इससे पहले 1982 में यहां रावण दहन हुआ था। नक्सलियों के आतंक को अब यहां के ग्रामीण धीरे-धीरे दरकिनार कर रहे है। इस प्रान्त में नक्सली ही रावण रूपी राक्षस है, जिसको आज ग्रामीणों ने पुतला बना कर दहन किया। विकास विरोधी नक्सलियों के फोटो लगा कर रावण का पुतला बनाया गया। जिसके दहन पर ग्रामीणों ने खूब नाचा।


16-Oct-2021 5:20 PM (25)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
तोंगपाल, 15 अक्टूबर।
227 वी वाहिनी केरिपुबल के द्वारा महानवमी एंव विजय दशमी पर पूजा का आयोजन एंव भण्डारे में स्थानीय नागरिको को  भोजन के लिए आमंत्रित किया साथ ही केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की 227 वीं वाहिनी द्वारा तोंगपाल स्थित मुख्यालय परिसर में आज वाहिनी के सभी जवानो एवं अधिकारीयो द्वारा महानवमी एंव विजय दशमी बडे हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया तथा कैम्प में स्थित मदिंर में हवन आहुती दी गई एंव वाहिनी की ओर से भण्डारे का आयोजन किया गया । इस अवसर पर वाहिनी प्रमुख पी.मनोज कुमार कमाण्डेन्ट ने पूजा अर्चना कर शांति , सौहार्द एवं सदभावना की कामना करते हुए भण्डारे में वाहिनी के जवानों के साथ प्रसाद ग्रहण किया एवं आपसी प्रेम तथा बल के प्रति विश्वास बनाये रखने के लिए प्रेरित किया । इस अवसर पर वाहिनी प्रमुख पी . मनोज कुमार , कमाण्डेन्ट ,  ओम जी शुक्ला ( द्वितीय कमान अधिकारी )  बद्री लाल जाट ( उप 0 कमा 0 ) , अधिकारीगण , चिकित्सा अधिकारीगण  एंव जवान उपस्थित रहे ।
 


09-Oct-2021 7:00 PM (31)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

सुकमा, 9 अक्टूबर। पिरामल फाउंडेशन द्वारा प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला झलियारास में सक्षम बिटिया अभियान कार्यक्रम का आयोजन किया  गया।  कार्यक्रम  का मुख्य उद्देश्य गांव के सभी को शिक्षा के महत्व के प्रति जागरूक करना है ताकि गाँव का कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न हो।

कार्यक्रम के दौरान सक्षम बिटिया अभियान में बताया कि बालिकाओं को आत्मनिर्भर एवं उनके आसपास की दुनिया की बेहतर समझ विकसित करने में सक्षम बनाना है। उनको किताबी ज्ञान न देकर सामाजिक व्यावसायिक ज्ञान देना है, साथ ही महत्वपूर्ण सोच कौशल को मजबूत करने के लिए, सहयोग, सहानुभूति और रचनात्मक को भी मजबूत करना है।

एक कदम शिक्षा की ओर

 टैग लाइन है ‘सक्षम बिटिया अभियान’  ‘संगिनी के संग पढ़ाई के नए रंग’ जैसे बड़े लक्ष्य व उन्हें पूर्ण करने के लिए फाउंडेशन के सदस्य हर समय तत्पर रहेंगे, ऐसे संकल्पों से कार्यक्रम स्थल गुंजायमान हो उठा।

 पिरमल फाउंडेशन से काजल  फटिंग और धु्रव , मुन्नालाल ठाकुर, शिवनाथ चुरेन्द व सभी स्वयंसेवकों की उपस्थिति में सभी ने बालिकाओं के सम्मान और सक्षम बिटिया अभियान का समर्थन करने की शपथ ली।

 


04-Oct-2021 10:16 PM (120)

एसपी-भाजपा नेताओं ने वापसी में की मदद

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

दोरनापाल, 4 अक्टूबर। नारायणपुर जिले के कई गांव की बेटियां आंधप्रदेश के कमलूर जिले के एक गाँव में लगभग 1 माह तक ठेकेदार के चंगुल में फंसी रही। एसपी-भाजयुमो प्रदेश उपाध्यक्ष दीपिका शोरी एवं प्रधानमंत्री जनकल्याण कारी योजना जागरुकता अभियान के जिला अध्यक्ष के संयुक्त प्रयास से आज छत्तीसगढ़ के  कोंटा पहुंचीं, जहां दीपिका एवं विजय के साथ स्थानीय युवकों ने इन्हें खाना खिलाकर नारायणपुर रवाना किया ।

मिली जानकारी के अनुसार नारायणपुर जिले के कोरेन्डा गाँव की बेटियों को चिंतूर के बाशा नामक होटल संचालक ने अपने घर में भवन निर्माण का कार्य कहकर बुलाया, परन्तु जब ये लड़कियां दो पुरुषों के साथ बाशा के घर चिंतूर पहुंची तो बाशा ने उन्हें भद्राचलम में काम है, कहकर गाड़ी में बिठाकर सीधे विजयवाड़ा होते हुए कमलूर जिले के सन्तोषीनगर ले गया एवं वहां इन्हें किसी ठेकेदार के हाथों सौंप कर वापस आ गया। उनके वहां पहुंचते ही ठेकेदार ने इन सभी का शोषण प्रारम्भ कर दिया। सुबह 3 से लेकर रात के 9 बजे तक कार्य करवाया जाता जिससे ये सभी बहुत परेशान हो गए थे।

आधार व मोबाइल ठेकेदार के द्वारा जब्त कर लिया गया था

इन सभी मजदूरों के मोबाइल एवं आधारकार्ड ठेकेदार के द्वारा जब्त कर लिया गया था  जिसके कारण ये लोग किसी से भी सम्पर्क करने में असमर्थ थे।

 मजदूरों ने आरोप लगाया कि इनकी प्रताडऩा से तंग आकर हम लोगों ने स्थानीय पुलिस थामा सन्तोषी नगर  में जाकर अपनी परेशानी बताई, परन्तु उन्होंने किसी भी प्रकार से हमारा कोई सहयोग नहीं किया जिसके कारण मजबूर होकर हमें वहीं शरण लेना पड़ा

युवतियों से की छेडख़ानी

पीडि़तों ने बताया कि कार्य करने के बाद रात में हम छत पर सोते थे, परन्तु ठेकेदार के द्वारा हमसे छेडख़ानी की जाती थी और गलत काम करने का प्रयास भी किया। जब हम सहमत नहीं हुए तो हमारे साथ मारपीट भी की गई इसके बाद डरकर हम सब एक दूसरे के साथ साथ सोते थे।

अधिवक्ता दीपिका शोरी(प्रदेश उपाध्यक्ष भाजयुमो छत्तीसगढ़) का कहना है कि इन सभी मजदूरों के विषय में जानकारी मिलते ही यह मामला एसपी नारायणपुर के संज्ञान लाकर सभी को सकुशल वापस छत्तीसगढ़ लाया गया,ये मानव तस्करी के श्रेणी के अंर्तगत आता है जो कि गैरकानूनी है और आदिवासी बालिकाओं को बंधक बनाकर रखा गया उनसे मारपीट कर अमानवीय एवं क्रूरतापूर्ण व्यवहार किया गया जो कि शारीरिक शोषण करने के उद्देश्य से किया गया था ऐसे कितने ही मामले हैं जो हमारे संज्ञान में नहीं है शासन को तत्काल सर्वे ऐसे लोगों की वापसी हेतु अभियान शुरू करना चाहिए एवं बिना कलेक्टर व एसपी के अनुमति व शासकीय रजिस्ट्रेशन के आदिवासी बालिकाओं का अन्य राज्यों में पलायन बन्द किया जाना चाहिए साथ ही अंतरराज्यीय स्तर पर चलने वाली बसों का आकस्मिक निरीक्षण किया जाना चाहिए जिससे आदिवासी बालिकाओं का शोषण बन्द हो सके।

पी.विजय(जिला अध्यक्ष प्रधानमंत्री जनकल्याणकारी योजना जागरुकता अभियान सुकमा ) का कहना है कि मुझे इन आदिवासी बालिकाओं के साथ कुछ पुरुषों को करनूर के सन्तोषीनगर में बंधक बनाए जाने की व इनके आधार व मोबाइल छीनकर मारपीट करने की जानकारी मिली थी। मैंने नारायणपुर एसपी साहब उदय किरण से बात कर उन्हें राहत पहुंचाई

नारायणपुर  के एसपी ने उदय किरण  ने बताया कि इस विषय में मुझे सूचना मिली थी, मैंने एसपी करनूर सुधीर कुमार रेड्डी से बात कर नारायणपुर के इन सभी मजदूरों छत्तीसगढ़ वापसी की व्यवस्था करवाई।


04-Oct-2021 10:13 PM (44)

सुकमा, 4 अक्टूबर। सुकमा पूना नर्कोम अभियान ‘ नई सुबह नई शुरुआत’ के तहत शिक्षित बेरोजगारों युवक / युवतियों को बस्तर बटालियन पुलिस भर्ती के तहत पुलिस अधीक्षक सुनील शर्मा के नेतृत्व में सुकमा जिला के सभी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत के सभी बेरोजगारों को राष्ट्र सेवा के रूप में बस्तर बटालियन भर्ती हेतु ट्रेनिंग / कोचिग खेलकूदों में आ कर राष्ट्रसेवा के साथ रोजगार देने के उद्देश्य से यह कार्यक्रम किया जा रहा है ।

कल से सीआरपीएफ बटालियन 227 के ट्रेनरों द्वारा युवक / युवतियों को भर्ती प्रक्रियाओं के समस्त विद्याओं दौड़ , लम्बी कूद- ऊंची कूद , इत्यादि में ट्रेनिंग दिया जा रहा है , वहीं लिखित परीक्षा में अच्छे अंक हासिल करने सामान्य ज्ञान प्रश्नों की तैयारी व्याख्याता शिक्षकों द्वारा प्रतिदिन सुबह 8 से 10 बजे 2 घंटे की कोचिंग भी दिया जा रहा है।

इस कार्यक्रम के दौरान जिले सभी अधिकारी मौजूद थे, जिसमें अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अंजनेय वैष्णव सीआरपीएफ के प्रभाकरन मनोज कुमार - कमांडेंट 227वीं बटालियन  ओम जी शुक्ला - द्वितीय कमाण्ड अधिकारी- परिचालनिक ( 227वी बीएन )एवं तोंगपाल थाना प्रभारी विजय पटेल मौजूद थे।


02-Oct-2021 8:53 PM (53)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

दोरनापाल,  2 अक्टूबर। सुकमा जिले के दोरनापाल थाना अंतर्गत  सर्व आदिवासी समाज के माध्यम से पीडीएस की कालाबाजारी पर पुलिस ने दबिश दी है। प्रथम दृष्टया खाद्य विभाग ने इसे पीडीएस का चावल होना बताया है, इसके साथ ही जांच की प्रक्रिया शुरू हुई। वहीं सर्व आदिवासी समाज ने कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।

चावल पोलमपल्ली के एक व्यापारी हरेंद्र सिंह द्वारा पोलमपल्ली इलाके से सुकमा की ओर ले जाया जा रहा था। इसी दौरान सर्व आदिवासी समाज के सदस्यों द्वारा वाहन को रोककर उसकी तलाशी ली गई, जहां वाहन में चावल की संदिग्धता को देखने के बाद इसकी जानकारी पुलिस को दी गई जिसके बाद वाहन को पुलिस के सुपुर्द किया गया। थाने में तलाशी के दौरान वाहन में खुली बोरी में चावल की 36 बोरिया और इनके ऊपर के लेयर में महुए की बोरियों को रखा पाया गया।

 सुकमा जिले के दोरनापाल में सुबह एक पिकअप वाहन में सर्व आदिवासी समाज के सदस्यों द्वारा पीडीएस का चावल होने की जानकारी पुलिस को दी गई, जिसके बाद पुलिस व खाद्य विभाग की टीम ने वाहन की तलाशी और तफ्तीश की, जिसमें वाहन मालिक के पास किसी भी तरह का बिल तत्कालीन रूप से नहीं पाया गया। इसके साथ ही वाहन मालिक द्वारा यह बताया गया कि वह एक व्यापारी है, उसने जगदलपुर से चावल को खरीदा था। तफ्तीश में यह भी सवाल किया गया कि जब चावल की खरीदी जगदलपुर से की गई तो वापस सील खोलकर क्यों भेजा जा रहा?

 कोंटा के  खाद्य निरीक्षक विक्रांत नायडू ने बताया कि आज सुबह ग्रामीणों के द्वारा नगर पंचायत निवासियों के द्वारा एक शिकायत की गई कि एक गाड़ी पोलमपल्ली से आ रही है, जिसमें पीडीएस का चावल प्रतीत हो रहा है। दोरनापाल थाने में वाहन को खड़ा किया गया। मेरे द्वारा प्रथम दृष्टया जो जांच की गई, उसमें पीडीएस का चावल प्रतीत होता है। जिसका चावल मैंने जब्त किया है, वह कहता है कि वह चावल जगदलपुर से खरीदा गया, लेकिन तत्कालीन रूप से उसके द्वारा किसी भी तरह का दस्तावेज नहीं जमा किया गया। सोमवार तक मेरे द्वारा अंतिम जांच प्रतिवेदन कलेक्टर कार्य शाखा में प्रस्तुत कर दिया जाएगा।

सर्व आदिवासी समाज ने दी आंदोलन की चेतावनी

इस पूरे मामले में सामने आए सर्व आदिवासी समाज के ब्लॉक अध्यक्ष गणेश मंडावी और संभागीय अध्यक्ष उमेश सुंडाम ने बताया कि जिला का आदिवासी बहुल है और आदिवासियों के हक के राशन पर कालाबाजारी लंबे समय से चल रही है, जिसे रोकने का प्रयास सर्व आदिवासी समाज के लोग भी करना चाह रहे हैं। आज जो वाहन हमारे माध्यम से पुलिस के सुपुर्द कराया गया, उसमें प्लास्टिक की बोरियों में चावल बगैर सील पैक जिसमें संबंधित व्यापारी द्वारा पीडीएस का ना होना बताया जा रहा है। अगर चावल पीडीएस का नहीं था तो उसे छुपाकर क्यों ले जाया जा रहा था। इस तरह से कालाबाजारी चल रही है वह सर्व आदिवासी समाज नहीं बर्दास्त करेगा। खाद्य विभाग संबंधित व्यापारी पर कड़ी कार्यवाही करें, अन्यथा सर्व आदिवासी समाज इसके खिलाफ आने वाले दिनों में उग्र आंदोलन को मजबूर होगा।

पीडीएस की कालाबाजारी सफेद बोरी में की जाने लगी

गौरतलब है कि पीडीएस की कालाबाजारी सुकमा जिले में कोई नया नहीं है। कई सालों से पीडीएस की कालाबाजारी की जा रही है। चावल तस्करों द्वारा इन दिनों कालाबाजारी के दौरान कार्यवाही से बचने नए तरीके का उपयोग किया जा रहा है।

 चावल तस्करों में एक मानसिकता बनी हुई है कि कार्यवाही से बचना है तो चावल को सील पैक रखने की बजाय प्लास्टिक की बोरियों में टुकडिय़ों में बेचा जाए, फिर कोई कुछ नहीं कर सकता।


27-Sep-2021 9:05 PM (91)

भारी बारिश की आशंका, अलर्ट जारी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

सुकमा, 27 सितंबर। मौसम विज्ञान केन्द्र उष्ण कटिबंधीय चक्रवात नई दिल्ली से जारी मौसम जानकारी के अनुसार एक अवदाब उत्तर पूर्व बंगाल की खाड़ी और उससे लगे पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर स्थित हैं। इस गहरे अवदाब का अगले 12 घंटे में और प्रबल होकर एक चक्रवाती तूफान के रूप में परिवर्तित होने की आशंका है। इसका प्रभाव मुख्य से दक्षिण छत्तीसगढ़ में रहने की आशंका है। इसके कारण जिले में भारी से अतिभारी वर्षा हो सकती है। साथ ही बहुत ही तेज हवा चलने की संभावना रहेगी।

उपरोक्त दृष्टिकोण से आगामी 48 घण्टे में अति भारी वर्षा अथवा चकवाती तूफान की संभावनों को देखते हए सुकमा प्रशासन  द्वारा आम नागरिकों से जर्जर भवनों, झोपडिय़ों, विद्युत पोलों, सूखे खड़े पेड़ों आदि से दूर रहने की अपील की गई है। यदि आपका घर असुरक्षित हैं, तो चक्रवात आने से पहले किसी सुरक्षित स्थान पर चले जाएं। टूटे हुए बिजली के खम्भों, तारों व दूसरी नुकीली चीजों से बचें, दरवाजे व खिड़कियां बंद रखे। मवेशियों व पशुओं की सुरक्षा के लिए उन्हें बांध कर न रखें। नदियों, जलाशयों में न जावे।

प्रसासन द्वारा दूरभाष नम्बर जारी
किसी भी प्रकार की आपात स्थिति निर्मित होने पर  कण्ट्रोल रूम दूरभाष नम्बर 07864-284012 पर तथा तहसील छिन्दगढ़ क्षेत्र हेतु मोबाईल नम्बर 7000298003, तहसीलदार कोण्टा क्षेत्र हेतु मोबाईल नम्बर 7489117113 तथा तहसीलदार सुकमा 9399903009 मोबाईल नम्बर पर तत्काल अवगत करावें।
 


27-Sep-2021 7:03 PM (32)

सुकमा का साप्ताहिक बाजार भी नहीं लगा

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोंटा,  27 सितंबर। जिला कांग्रेस ने केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए ‘भारत बंद’ को समर्थन देते हुए सुकमा जिला मुख्यालय में नगरपालिका अध्यक्ष जगन्नाथ राजू साहू के नेतृत्व में सुबह 6 बजे से ही सुकमा के मुख्य मार्केट को बंद कराया। सोमवार को सुकमा का साप्ताहिक बाजार भी नहीं लगा।

 प्रदर्शन कर रहे किसानों से वार्ता बहाल करने की मांग उठाई। पालिकाध्यक्ष जगन्नाथ राजू साहू ने कहा कि किसान संगठनों व किसानों द्वारा 27 सितंबर को बुलाए गए शांतिपूर्ण भारत बंद का समर्थन छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने समस्त जिला कांग्रेस को करने निर्देश दिया था।

उन्होंने कहा, ‘हम मांग करते हैं कि किसानों के साथ वार्ता प्रक्रिया शुरू की जानी चाहिए, क्योंकि वे पिछले नौ महीने से अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हुए हैं। हम मांग करते हैं कि बिना चर्चा के लागू किए गए ये तीनों काले कानून वापस लिए जाने चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के वादे का भी उल्लेख किया. साहू ने दावा किया कि अगर एक किसान परिवार की 2012-2013 की आय के साथ 2018-2019 की आय की तुलना की जाए तो एक किसान की आय 48 फीसदी से घटकर 38 फीसदी रह गई है।

उन्होंने आगे कहा कि केंद्र की मोदी सरकार की ओर से पारित तीन किसान विरोधी कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर किसान करीब 300 दिन से दिल्ली की सीमा पर धरने पर बैठे हैं। इस धरने के दौरान 600 से अधिक किसानों की मौत हो चुकी है, लेकिन मोदी सरकार ने किसानों के साथ इस मामले पर चर्चा करने की जहमत नहीं उठाई और न ही किसानों की दुर्दशा पर दया की।

पालिकाध्यक्ष जगन्नाथ राजू साहू ने बन्द के समर्थन में सहयोग करने के लिए व्यापारी संघ एवं सुकमा जिले के समस्त छोटे-बड़े, फुटकर व्यापारियों का आभार जताया।

इस दौरान नगर कांग्रेस के अध्यक्ष  शेख सजार, जेल संदेशक मनोज चौरसिया, भूतपूर्व पार्षद रम्मू राठी, एल्डरमैन दिनेश दास, कांग्रेस पार्टी के कर्मठ कार्यकर्ता सत्येंद्र गुप्ता रिंकू दास दिनेश दास विशाल शाह, सूर्यप्रकाश कोरी,महेश, सफरूद्दीन एवं कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता मौजूद रहे।


25-Sep-2021 9:00 PM (58)

सुकमा, 25 सितम्बर। जिले के विकासखण्ड छिंदगढ़ के ग्रामपंचायत सौतनार के नक्सल प्रभावित ग्राम काचीररास के ग्रामीण जर्जर कच्चे सडक़ से बेहद परेशान हैं। बुधवार को ग्रामीणों के बुलावे पर उनके बीच पहुंची भाजयुमो प्रदेश उपाध्यक्ष दीपिका शोरी ने प्रशासन से ग्रामीणों की इस समस्या को दूर करने की अपील की है।

 

उन्होंने कहा कि पुल के साथ एक अच्छी सडक़ का इंतजार काचीररास के ग्रामीणों को वर्षों से था, परन्तु प्रधानमंत्री सडक़ निर्माण विभाग ने प्राक्कलन बनाते समय इस बात का ध्यान नहीं दिया व सडक़ बनाना भूल गए।

 

दीपिका के साथ गांव के पतिराम, मनीराम, सुखमन, श्यामलाल, कुर्ती, फगनू राम, सीताराम, ईश्वर, वारे, महादेव सोमाराम, घेनवाराम, राजू चैतूराम, लच्छूराम, चैनूराम, लक्ष्मण,जोगा, आसाराम, सोमारू एवं ग्राम के प्रमुख डोमूराम आदि ग्रामीणों ने पूरे ग्राम का भ्रमण कर गाँव में सडक़ एवं प्रधानमंत्री आवास की भी स्थिति दिखाई। काचीररास में पीएम आवास की यह स्थिति है दीवारें तो खड़ी हो गई है पर आज भी छत अधूरा है। ग्रामीण पुराने जर्जर मकान में ही रहने को मजबूर हैं।

जर्जर मार्ग पर फंस जाती है एम्बुलेंस
ग्रामीणों ने बताया कि सडक़ की हालत इतनी ज्यादा जर्जर है कि एम्बुलेंस भी हमारे गाँव तक नहीं आ पाता है। रास्ते में ही फंस जाता है। विगत दिनों ऐसी ही समस्या का सामना करना पड़ा। गोविंदपाल जाने वाला एम्बुलेंस रास्ता खराब होने के कारण वहीं से लौट गया व मरीज को सही वक्त पर स्वास्थ्य सुविधा नहीं मिल पाई, जिससे मरीज को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

इस संबंध में अनिल राठौर, ईई प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना की कहना है कि सडक़ बनने का प्रपोजल आया है परन्तु स्वीकृत नहीं मिली है। स्वीकृति मिलने के पश्चात सडक़ निर्माण किया जाएगा।


24-Sep-2021 8:07 PM (87)

समेली में आयोजित सुविधा शिविर में सैकड़ों हुए शामिल  

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
सुकमा, 24 सितंबर।
ग्राम पंचायत समेली, जिला दंतेवाड़ा में आयोजित सुविधा शिविर में भारी संख्या में कामाराम, कोंडासांवली, गुमोड़ी, तारलागुड़ा, मिलमपल्ली और ताड़मेटला के ग्रामीण पहुंचे। उनके चेहरे पर खुशी और संतोष साफ तौर पर झलक रही थी। आखिर उन्हें आधार, राशन कार्ड, आयुष्मान कार्ड और पेंशन जैसी मूलभूत सुविधाओं का लाभ पहली बार मिला। भारी संख्या में महिला, पुरुष और युवा शिविर में पहुंचकर अपना आधार कार्ड, राशन कार्ड, आयुष्मान कार्ड बनवा रहे हैं। 

इन्ही ग्रामीणों की बीच कोंडासांवली के रितेश माड़वी ने भी अपना राशन कार्ड बनवाने पहुंचा था। यह वही युवा है जो कोंडासांवली में कैंप स्थापना को लेकर विरोध प्रदर्शन करने जिला मुख्यालय आया था, जिसे कलेक्टर विनीत नंदनवार ने उपहार स्वरूप अपनी कलम भेंट की थी। रितेश ने कहा कि कलेक्टर श्री नंदनवार ने मुझे उस वक्त आश्वाशन दिया था  कि जल्द ही उसके ग्राम वासियों को मूलभूत सुविधाओं सहित अन्य शासकीय योजनाओं का लाभ प्रदान किया जाएगा। आज सुविधा शिविर आयोजित कर उन्होंने अपना वादा पूरा किया। इससे कोंडासावली सहित शिविर में आए अन्य ग्राम के लोगों में हर्ष व्याप्त है। इसके साथ ही कामाराम निवासी अशोक कुमार ने शिविर का आयोजन और ग्रामीणों को शिविर स्थल लाने के लिए वाहन की व्यवस्था, भोजन आदि की व्यवस्था से ग्रामीणों को सुविधा मिल रही है। उन्होंने शासन प्रशासन का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इन शिविर के कारण बहुत से ग्रामीणों को उनके गांव के निकट ही आधार कार्ड, राशन कार्ड आदि प्रदाय हो रहे है, जिसके लिए पहले उन्हे बहुत मशक्कत करनी पड़ती थी। 

जिला पंचायत सदस्य आदम्मा मरकाम ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा के अथक प्रयासों से सुकमा जिले के सुदूर अंचल एवं संवेदनशील क्षेत्र के निवासियों को शासकीय योजनाओं का लाभ मिल रहा है। आधार कार्ड, राशन कार्ड जैसी मूलभूत चीजों के अभाव में अधिकतर ग्रामीण शासकीय योजनाओं का लाभ लेने से वंचित थे। अब प्रशासन द्वारा सुविधा शिविर के माध्यम से ये कमी भी पूर्ण की जा रही है। शिविर के संचालन और शिविर तक पहुंचने के लिए की गई व्यवस्थाओं के कारण संबंधित क्षेत्र के ग्रामीण बड़ी आसानी से शिविर पहुंच कर सुविधा का लाभ ले रहे हैं। इस दौरान दंतेवाड़ा जिला पंचायत सदस्य समेली पाइके मरकाम भी उपस्थित रही।
 


24-Sep-2021 6:48 PM (101)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोंटा, 24 सितंबर। राज्य में नक्सल मोर्च पर तैनात रहे सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट विनोद कुमार टंडन को राजनीति विज्ञान में पीएचडी की उपाधि मिली है। उन्होंने छत्तीसगढ़ में नक्सल उन्मूलन पर पुलिस प्रशासन की भूमिका का विषलेषण करते (सुकमा जिले के विशेष संदर्भ में) शोध पूरा किया है।

डॉ. अलका मेश्राम प्राचार्य शासकीय कला और वाणिज्य स्नातकोत्तर महाविद्यालय वैशाली नगर भिलाई के निर्देशन तथा डॉ. डीएन सूर्यवंशी, सेवानिवृत्त प्राचार्य एसआरसीएस कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय दुर्ग के सह पर्यवेक्षण में उन्होंने अपना शोध पूरा किया।

गौरतलब है कि श्री टंडन दंतेवाड़ा में भी लंबे समय तक पदस्थ रहे। 2004 बैच के प्रथम श्रेणी के सहायक कमांडेंट के रूप में सीधे नियुक्त अधिकारी है। वर्तमान में सीपीआरपीएफ डिप्टी कमांडेंट के रूप में ओडिशा में सेवारत् हंै।

12 जुलाई 1981 को बलौदाबाजार जिले के जैतपुर सरसींवा जन्मे विनोद ग्रामीण परिवेश में पल-बढऩे के बावजूद उच्च शिक्षा प्राप्त की। वे रामेश्वरी देवी एवं सेवानिवृत्त ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी भागवत टंडन के बेटे हंै।

 प्राइमरी शिक्षा  गरियाबंद जिले के फिंगेश्वर में, माध्यमिक शिक्षा पटेवा महासमुंद में, स्नातक छत्तीसगढ़ महाविद्यालय रायपुर और लोक प्रशासन विषय पर पंडित रविशंकर शुक्ल विवि से स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की, इसके अलावा यूजीसी नेट जेआरएफ की परीक्षा भी उन्होंने उत्तीर्ण की।

श्री टंडन ने शोध केंद्र एसआरसीएस कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय दुर्ग से अपना शोध पूरा किया। 30 जुलाई को मौखिक परीक्षा में भाग लेने के बाद उन्हें पीएचडी की डिग्री से नवाजा गया।

उन्होंने अपने शोध के लिए चुनौतीपूर्ण विषय का चयन किया, जो न केवल वास्तविक समय की जानकारी  के साथ तथ्यात्मक डेटा एकत्रित करने में जोखिम भरा है बल्कि सैन्य बलों में सेवारत् अधिकारियों की पेशेवर क्षमता के लिए एक उपकरण भी है।

वर्ष 2005 में बेसिक प्रशिक्षण उपरांत देश के उग्रवाद ग्रस्त राज्यों मणिपुर, त्रिपुरा, ओडिशा, जम्मू एवं कश्मीर में उन्होंने अपनी सेवाएं दी। सोलह साल की सेवा अवधि में 9 साल देश के सर्वोत्तम माओवाद ग्रस्त इलाके में भी अपनी सेवाएं दीं। जिसके चलते उन्होंने अपने शोध विषय के रूप में वर्तमान में देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौती बने नक्सलवाद जैसे गंभीर मुद्दे को चुना। जिसमें इस गंभीर समस्या के निवारण को लेकर उपयोगी विचार, सुझाव भी शोध में सामने आए हैं।


23-Sep-2021 6:06 PM (58)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
सुकमा, 23 सितंबर।
यातायात विभाग द्वारा यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों पर चालानी कार्रवाई के साथ समझाईश दी गई।
यातायात प्रभारी शंकर लाल पॉल ने बताया कि 21 सितंबर को पुलिस अधीक्षक के निर्देशानुसार उप पुलिस अधीक्षक यातायात रजत नाग, द्वारा पुलिस लाईन सुकमा के आगे एन.एच.30 पर वाहनों की चेकिंग की गई। इस दौरान बिना लायसेंस, दोपहिया वाहन में तीन सवारी, चार पहिया वाहन में बिना सीट बेल्ट लगाकर वाहन चलाने एवं मोबाईल से बात करते वाहन चलाते पाये जाने पर मोटर व्हीकल एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत् कुल बीस प्रकरणों में कुल आठ हजार एक सौ रुपए की चालानी कार्रवाई के साथ ही लगभग साठ वाहन चालको को ट्रैफिक नियमों के बारे में जानकारी देकर यातायात नियमों का पालन करने समझाईश दी गई। इस कार्रवाई में मुख्य रूप से यातायात प्रभारी शंकर लाल पॉल व उनकी टीम की महत्वपूर्ण भूमिका रही।
 


22-Sep-2021 8:34 PM (63)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

सुकमा, 22 सितंबर। प्रशासन द्वारा दूरस्थ नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में शिविर के माध्यम से आधार कार्ड, राशन कार्ड आदि बनाए जा रहे हैं। कलेक्टर विनीत नंदनवार सहित एसपी सुनील शर्मा एवं एसपी दंतेवाड़ा डॉ. अभिषेक पल्लव ने आज समेली में आयोजित सुविधा शिविर का जायजा लिया और ग्रामीणों से मुलाकात की।

समेली शिविर में कलेक्टर  नंदनवार ने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में ग्रामीणों की उपस्थिति यह स्पष्ट करती है कि ग्रामीण जन विकास की ओर अग्रसर हैं। आधार  कार्ड, राशन कार्ड आदि नही होने के कारण बहुत से ग्रामीण मूलभूत सुविधाओं से लाभान्वित होने से वंचित थे। इसी समस्या को देखते हुए सुविधा शिविर का आयोजन किया जा रहा है।

 सुकमा जिले के दूरस्थ क्षेत्रों में नक्सल प्रभाव के कारण इन ग्रामों में निवासरत लोगों को बड़े अरसे से इन सुविधाओं की आस रही है। नक्सल अवरोध के कारण वर्षों से इन मूलभूत सुविधाओं से वंचित लोगों को अब राहत मिल रही है। जिला प्रशासन के अथक प्रयासों से आज इन दुर्गम क्षेत्रों के ग्रामीण का वर्षों का इंतजार खत्म हुआ, जब प्रशासन स्वयं ग्रामीणों तक पहुंच कर उनके समस्याओं का निदान कर रही है।

कलेक्टर विनीत नंदनवार के मार्गदर्शन में सुकमा जिले अंतर्गत ऐसे अंदरूनी गांव जहां के ग्रामीणों को ब्लॉक मुख्यालय तक आने में मशक्कत करनी पड़ती थी, वहां सुविधा शिविर लगाकर ग्रामीण को हाथों हाथ राशन कार्ड, आधार कार्ड, आयुष्मान कार्ड, पेंशन सुविधा प्रदान की जा रही है।


19-Sep-2021 9:32 PM (79)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

सुकमा, 19 सितंबर। भूपेश बघेल ने आज अपने निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में  सुकमावासियों को 78 करोड़ रुपए से अधिक के विकास कार्यों की सौगात दी।

दोपहर 12 बजे वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित लोकार्पण के  अवसर पर सुकमा जिले में किकिरपाल माता मंदिर से नयापारा तक लगभग तीन करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली सडक़, सुकमा से मलकानगिरी मार्ग में 6 करोड़ 37 लाख रुपए की लागत से बनने वाली पुल, चिन्नापारा से जीरमपाल मार्ग में मलंगेर नदी पर 7 करोड़ 52 लाख रुपए की लागत से बनने वाली पुल, केरलापाल में बटनवाड़ा घाट पर लगभग 19 करोड़ 37 लाख रुपए की लागत के पुल, बकुलाघाट से कांजीपानी मार्ग में फुल नदी पर लगभग 7 करोड़ 14 लाख रुपए की लागत की पुल,और क्षेत्रीय विकास के लिए बड़ी घोषणा किए।

ग्रामीण अंचलों में सुगम होगी यात्रा

श्री लखमा ने सुकमा जिलेवासियों को विकास कार्यों की सौगात देने के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि सडक़ और पुल पुलिया बनने से जिले में विकास की लहर तेज हुई है। सडक़ बन जाने से क्षेत्रवासियों को हर मौसम में आवागमन में सुविधा मिल रही है।उद्योग मंत्री  कवासी लखमा, जिला पंचायत अध्यक्ष  हरीश कवासी, सुकमा नगरपालिका अध्यक्ष जगन्नाथ साहू, कलेक्टर विनीत नन्दनवार, एसपी  सुनील शर्मा सहित जनप्रतिनिधिगण एवं अधिकारीगण जिला कार्यालय के विडियो कांफ्रेंसिंग कक्ष में उपस्थित रहेे।


19-Sep-2021 5:06 PM (71)

वार्ड में पानी की समस्या पर नपं अध्यक्ष के बयान पर भाजपा का पलटवार

दोरनापाल, 19 सितंबर।  दोरनापाल में आबकारी एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा के शासकीय कार्यक्रम के दौरान कुछ लोगों के द्वारा पार्टी प्रवेश के बाद इसका खंडन करते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं वर्तमान भाजपा मंडल अध्यक्ष दुलाल शाहा ने कांग्रेस पर तंज कसा है कि मंत्री कार्यक्रम में अपनी साख बचाने एवं वाहवाही बटोरने के उद्देश्य से काँग्रेसी  एक ही व्यक्ति को बार बार पार्टी प्रवेश करवाने में सफल साबित हो रहे हैं और मंत्री जी इस बात से अनभिज्ञ हैं कि उनके नाक के नीचे उनके ही कार्यकर्ता उन्हीं की आँखों में धूल झोंक रहे हैं। भूमिपूजन कार्यक्रम में जितने भी लोगों ने पार्टी प्रवेश किया है उसमें  से अधिकतर लोग पिछले समय मंत्री जी के ही कार्यक्रम में पार्टी प्रवेश किए थे जो कि उस कार्यक्रम के पूर्व में भी काँग्रेसी कार्यकर्ता ही रहे।

उन्होंने जारी विज्ञप्ति में कहा कि  हमारे कोंटा विधानसभा के लोकप्रिय विधायक माने जाने वाले कवासी लखमा जी जब से मंत्री पदभार सम्हाले हैं, तब से कोंटा विधानसभा में भरपूर समय नहीं देने के कारण उन्हें उनके ही कार्यकर्ता धोखे में रखते हुए इस प्रकार की जुमलेबाजी करते आए दिन नजर आ रहे हैं जिसमें एक उदाहरण बंशी नायक नाम के कार्यकर्ता को ही ले अगर तो ये पूर्व से काँग्रेसी कार्यकर्ता रहे हैं और पिछले फरवरी 2020  में मंत्री कार्यक्रम में ही इन्हें पटका पहनाकर पार्टी प्रवेश करवाया गया था और इस कार्यक्रम में फिर से वही व्यक्ति पार्टी प्रवेश करता है तो इससे साफ पता चलता है कि दोरनापाल में काँग्रेस की क्या स्थिति है, वहीं हमारी नगर की प्रथम नागरिक आदरणीय नगर पंचायत अध्यक्षा कहती हैं कि नगर के वार्डों में पेयजल की समस्या नहीं है और नगरवासी अपनी समस्या को लेकर नगर पंचायत सी.एम.ओ. को अपनी समस्या बताते हुए ज्ञापन सौंपते हैं तो मैडम इसे भाजपा का नाटक बताते हुए प्रेस विज्ञप्ति जारी करती हैं जो कि दोरनापाल से न छपकर कोंटा से छपता है। अध्यक्षा कहती हंै वार्ड क्र 02 में सबसे ज्यादा पानी जाता है। अध्यक्षा कुर्सी से उतर कर वार्डों में आइए वार्डवासियों के घर पड़े बर्तनों में झांकिए कि उन्हें बराबर पानी मिल रहा है या नहीं, आपका अहंकार टूट जाएगा। 

 दुलाल ने कहा, अध्यक्षा मैं आपको याद दिलाना चाहूँगा कि आप एक बार उस ज्ञापन की प्रति पढ़ें और ज्ञापन देने पहुँचे लोगों पर दृष्टि डालेंगी, तब आपको यह बोध होगा कि वह पेयजल की समस्या का विरोध भाजपा के बैनर तले नहीं हुआ बल्कि वार्डवासी या यूँ कहें नगरवासी आए दिन पेयजल आपूर्ति की समस्या से परेशान हो रहे हैं, तब उन्होंने वार्ड पार्षद के नेतृत्व में आपकी गैरमौजूदगी में मुख्य नगरपालिका अधिकारी को अपनी समस्या के विषय में ज्ञापन सौंपा है ।

जिसमें आपकी काँग्रेस पार्टी के भी काँग्रेस समर्थित सदस्य भी शामिल हैं, जिसमें किंकर मल्लिक  एवं अन्य साथी भी शामिल रहे जिन्होंने आबकारी मंत्री के रायपुर स्थित बंगले में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की थी अब यदि आप इसे भाजपा का विरोध कार्यक्रम मान रही हैं तो इसका तात्पर्य वो लोग फिर से भाजपा के ही साथ हैं और उनकी सदस्यता भी इसी पार्टी प्रवेश कार्यक्रम की तरह ही छलावा रही है। इन्हीं रवैया के कारण आपके स्वयं के कार्यकर्ता आपसे दूर हो रहे हैं।

शुक्रवार का कार्यक्रम जिसमें आपके मार्गदर्शन में नियोजित भूमिपूजन कार्यक्रम में मीडिया एवं पत्रकार बन्धुओं को दरकिनार करते हुए उन्हें बैठक की व्यवस्था तक सुचारु रुप सुनिश्चित नहीं की गई थी एवं उन्हें उस सम्मान से वंचित रखा गया जिनके वो हकदार हैं ।

 मंडल अध्यक्ष ने आरोप लगाते हुए कहा, यह तो स्थिति है आपके काँग्रेस राज में जहाँ कभी किसी पत्रकार  को सरेआम काँग्रेसी मारते पीटते नजर आते हैं तो कहीं आमंत्रित किए गए पत्रकारों को सम्मान न देते हुए बैठक हेतु कुर्सी की अलग समूचित व्यवस्था नहीं की जाती है।


18-Sep-2021 1:48 PM (101)

नक्सली नेता हरिभूषण की पत्नी थीं 
'छत्तीसगढ़' संवाददाता
कोंटा, 18 सितंबर।
महिला नक्सली नेता शारदक्का ने पुलिस के सामने शुक्रवार को आत्मसमर्पण कर दिया। बताया जाता है कि नक्सली नेता पति की मौत के बाद संगठन से मोह भंग हो गया था। उसके खिलाफ दो दर्जन से अधिक मामले दर्ज थे। वह कई बड़ी घटनाओं में शामिल थी। उस पर लाखों का ईनाम घोषित था। 

कुछ समय से बीमार बज्जरा सम्मक्का उर्फ शारदक्का ने शुक्रवार सुबह तेलंगाना डीजीपी महेंद्र रेड्डी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।  शारदक्का का गृहनगर महबूबाबाद जिले में गंगाराम है।  पीपुल्स वार पार्टी से आकर्षित होकर, वह 1994 में छिप गई। वर्तमान में जिला समिति के सदस्य के रूप में कार्यरत थीं।  पूर्व में चारला-सबरी क्षेत्र समिति के सचिव के रूप में कार्य किया।  इस बीच शारदक्का के पति माओवादी पार्टी तेलंगाना राज्य समिति के सचिव और केंद्रीय समिति के सदस्य हरिभूषण (यप नारायण)की इसी साल 21 जून को कोरोना से मौत हो गई थी। 

 


14-Sep-2021 10:12 PM (123)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

 दोरनापाल,  14 सितंबर। भाजपा दोरनापाल के नेतृत्व में मंगलवार को भाजपा के कार्यकर्ताओं ने दोरनापाल तहसील का घेराव कर 14 सूत्रीय मांगों को लेकर तहसीलदार को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।

भाजपाइयों ने दोरनापाल थाना चौक से लगभग 1 किलोमीटर पैदल मार्च करते हुये व नारेबाजी करते हुये तहसील कार्यालय का घेराव किया, जिसके बाद तहसीलदार की गैरमौजूदगी में दोरनापाल आरआई को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। जिलाध्यक्ष हूंगाराम ने कहा कि मांगें पूरी न होने पर आने वाले दिनों में सडक़ पर चक्काजाम जैसी स्थिति भी बन सकती है ।

 इस दौरान जिलाध्यक्ष हूँगाराम मरकाम ,अरुण सिंह भदौरिया, महेन्द्र सिंह भदौरिया,दुलाल शाह, युवामोर्चा जिलाध्यक्ष मडक़म भीमा,  ऋषभ गुप्ता, धर्मेंद्र भदौरिया, वार्ड पार्षद राधा मंडावी, कोसी ठाकुर ,पुष्पलता भदौरिया,मडक़म पोदीये,  सोढ़ी मंगली, मंगी, लक्ष्मी चौहान,  राजकुमार कश्यप, सोहनलाल नायक, प्रदीप शुक्ला, अभय भदौरिया, आशिफ अली ,जावेद के साथ तमाम कार्यकर्ता मौजूद रहे ।

 भाजपा जिलाध्यक्ष हूँगाराम मरकाम ने कहा कि आज वे भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ 14 सूत्रीय मांगों को लेकर गादीरास तहसील का घेराव करने आये, जिसमें अहम मुद्दे - चिंतलनार पोटाकेबिन में चांवल घोटाले के दोषियों की गिरफ्तारी, दुब्बाटोटा में हितग्राहियों के तेंदूपत्ता का बकाया 55 लाख भुगतान के साथ हितग्राहियों का पत्ता अवैध रूप से ओडि़सा बिकवाने वाले प्रबंधक पर कार्यवाही की रखी मांग ,धर्मान्तरण रोकने, मनरेगा भुगतान निर्माण पूरा करवाने,दोरनापाल अधूरे सडक़ काम को जल्द पूरा करने,किसानों को 2 वर्षो का बोनस, सुकमा जिले में पोलावरम बांध से प्रभावित होने वाले परिवार को उचित मुआवजा , बेरोजगार युवाओं को 2500 रु.भत्ता जो सरकार ने घोषणा कर मुंह फेर लिया , सुकमा जिले के तीनों विकासखण्ड को सूखा घोषित किये जाने की मांग, के साथ ही प्रदेश व जिला स्तरीय 14 मांगो को लेकर हमने तहसील स्तर पर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा है, साथ ही इन मांगों को पूरा करने व जनहित मुद्दों पर मांगों को पूरा करवाने की मांग की है और मांगें पूरी न होने पर आने वाले दिनों में सडक़ पर चक्काजाम जैसी स्थिति भी बन सकती है ।


14-Sep-2021 8:29 PM (53)

सुकमा, 14 सितंबर। धर्मांतरण सहित स्थानीय मुद्दों को लेकर भाजपाइयों ने तहसील कार्यालय का घेराव किया। इस दौरान जमकर प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। तहसील कार्यालय घेराव करने पहुंचे भाजपा और पुलिसकर्मियों के बीच जमकर धक्का-मुक्की हुई। जिसके बाद भाजपाइयों ने राज्यपाल के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा।

भाजपा ने इस वर्ष छत्तीसगढ़ में बारिश कम होने पर किसानों व स्थानीय समस्याओं को देखते हुए आज 14 सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर हमारी मांगें पूरी नहीं होती है तो अगले महीने से चरणबद्ध तरीके से उग्र आंदोलन करेंगे।

लच्छुराम कश्यप ने कहा कि धर्मांतरण, बिजली बिल में वृद्धि, भूपेश बघेल की वादाखिलाफी के खिलाफ आज धरना प्रदर्शन किया गया। भूपेश बघेल ने जो वादा किया था, उस वादा को पूरा करने के लिए समय-समय पर रैली एवं धरना प्रदर्शन किया जाएगा। आज इसी तारतम्य में 14 सूत्री मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया है।

इस दौरान पूर्व सांसद दिनेश कश्यप, लच्छुराम कश्यप, सुकमा जिलाध्यक्ष हूँगाराम, नंदलाल मुड़ामी, धनीराम बारसे, अरूण सिंह भदौरिया, लक्ष्मी बाई, महेंद्र सिंह भदौरिया, विनोद बैस, विश्वराज सिंह चौहान, दिलीप पेद्दी, भुवनेश्वरी यादव, ऋषभ गुप्ता, चंद्रिका गुप्ता, बारसे माड़े, साई रेड्डी, संग्राम सिंह राणा, मडक़म भीमा, गौरव राठौड़, राजकुमार कश्यप, शिल्पा मंडावी, विमला माड़वी, दीपक नेताम समेत बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे।


12-Sep-2021 9:10 PM (96)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

सुकमा, 12 सितंबर। जिला मुख्यालय में शनिवार को आजादी के अमृत महोत्सव पर फिट इंडिया फ्रीडम रन 2.0 का आयोजन हुआ।

राष्ट्रीय सेवा योजना शास. महाविद्यालय सुकमा एंव नेहरू युवा केंद्र संगठन सुकमा युवा कार्यक्रम एंव खेल मंत्रालय के संयुक्त तत्वावधान में आजादी के अमृत महोत्सव पर युवाओं में फिटनेस के प्रति जागरूकता लाने के लिए फिट इंडिया फ्रीडम रन 2.0 का शुभारंभ गादीरास चौक सुकमा में हुआ। फिट इंडिया फ्रीडम रन में 200 से अधिक की संख्या में (एन.एस.स्वयंसेवक, (एन.सी. सी. कैंडेट नेहरू युवा केंद्र के स्वयंसेवक एंव जिला पुलिस बल के जवानों ने हिस्सा लिया।

कलेक्टर विनीत नंदनवार एवं नपाध्यक्ष  राजू साहू ने फिट इंडिया फ्रीडम रन को हरी झंडी दिखाई। प्रतिभागी युवाओं के साथ कलेक्टर विनीत नंदनवार, पालिका अध्यक्ष राजू साहू एन.एस. एस गावस्कर नेहरू युवा केंद्र अंजली ने दौड़ लगाते हुए फिट इंडिया के लिए जन भागेदारी से जन आंदोलन मुहिम की शुरुआत गादीरास चौक सुकमा से स्थान मिनीस्टेडियम पहुंचे। विनीत नंदनवार ने युवाओं को फिटनेस की डोज आधा घंटा रोज की शपथ दिलाकर युवाओं को फिट रहने का मंत्र बताते हुए कहा कि फिट रहने से न केवल शारीरीक अपीतु मानसिक शक्तियों का भी विकास होता है।उन्होंने युवाओं को अपनी दिनचर्या में ऐक्सरसाइज को समिलित करने को कहा  जिससे स्वस्थ और फिट इंडिया का सपना पूरा हो सके। अंत में अंजली नेहरू युवा केन्द्र द्वारा कलेक्टर एंव नपाध्यक्ष को स्मृति भेंट किया गया।

इस अवसर पर विशेष रूप से  अनिल पाल व प्रीति सिंह खेल अधिकारी विरूपाक्ष पुराणिक, सी.एल. पाटले,एच एस सिदार आयोजन में मौजूद रहे।

 


11-Sep-2021 10:19 PM (77)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

दोरनापाल, 11 सितंबर। सुकमा जिले के कोंटा ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पंचायत दुब्बाटोटा में वन प्रबंधन दुब्बाटोटा अन्तर्गत हुई तेंदूपत्ता खरीदी के बाद टारगेट से अधिक बचे पत्ते की खरीदी पर नाराज ग्रामीणों ने खुद प्रबंधक पर सवाल खड़े कर दिए हैं। आज स्थिति ऐसी है कि इन आदिवासी ग्रामीणों को आपने ही मेहनताने के लिए पिछले 4 महीने से प्रबंधक के घर के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं पर ये कोई सरकारी खरीदी का मामला नही है ये टारगेट से अधिक तोड़ाई किये गए तेंदूपत्ता का मामला है जो प्रबंधक ने ओडिसा के एक ठेकेदार को बिकवाया था।

इस तेंदूपत्ते की खरीदी किसी तरह का रॉयल्टी भुगतान शासन के खाते पर नही हुआ। ग्रामीणों द्वारा लगाए गए आरोप के अनुसार उक्त बचे हुए पत्ते की खरीदी दुब्बाटोटा प्रबंधक देवदास जांगड़े के माध्यम से हुआ औऱ प्रबंधक ने जल्द भुगतान करवाने का आश्वासन देकर पत्ते का उठाव करवाया और 4 महीने बाद भी 2 दिन या 1 हफ्ते का आश्वासन दे रहा है । ज्ञात हो कि पिछले महीने भी नाराज ग्रामीणों ने कलेक्टर सुकमा के नाम लिखित शिकायत बनाकर कलेक्टर को शिकायत करने की तैयारी बनाई थी मगर उसी दौरान प्रबंधक द्वारा सरपंच व ग्रामीणों से थोड़ा वक्त मांगकर शिकायत को टाल दिया।

इस मामले पर नाराज ग्रामीण 8 सितम्बर को भी प्रबंधक के घर के सामने बड़ी संख्या में ग्रामीण पहुंचे थे। जहां उन्हें प्रबंधक ने अंतिम वक्त देने को कहते हुए दिए गए वक्त में भुगतान का आश्वासन दिया गया बावजूद 4 दिन बाद भी जब भुगतान नहीं हुआ, तो ग्रामीणों ने पत्रकारों को इसकी जानकारी देते हुए मामले पर प्रबंधक पर भुगतान के लिए घुमाने का आरोप लगाया औऱ उक्त मामले पर सोमवार को कलेक्टर और डीएफओ से शिकायत के लिए बड़ी संख्या में ग्रामीणों के पहुंचने की बात भी कही गई ।

ज्ञात हो कि इस मामले पर 8 सितंबर को बसपा के स्थानीय भी डीएफओ को लिखित शिकायत कर चुके हैं । इस मामले पर मौके पर मौजूद प्रबंधक देवदास जांगड़े से उनका पक्ष मांगा गया मगर उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया । ग्रामीणों को उनके अधिकार का पैसा मिलने के साथ जानकारी के बावजूद अवैध खरीदी का समर्थन करने वाले जिम्मेदार पर कार्यवाही की भी आवश्यकता है । क्योंकि अगर पत्ता अतिरिक्त बचा था हो अन्य सरकारी खरीदी कर रहे ठेकेदारों के माध्यम से रॉयल्टी भुगतान पर भी पत्ता उठवाया जा सकता था इससे शासन को राजस्व भी मिलता ग्रामीणों को समय पर उनका हक भी मिलता और शासन के बनाए नियमो की अवहेलना भी नही होती।

स्थानीय ग्रामीण करको सोमा ने छत्तीसगढ़ को बताया कि मई महीने में ग्रामीणों द्वारा जो पत्ता तोड़ाई किया गया था उसी दौरान प्रबंधक द्वारा ओडिसा के ठेकेदार को बुलवाया गया था पर पत्ता खरीदी होते ही 5 रु प्रति गद्दी में भुगतान करवाने की बात कही गई थी और पत्ता की ख़ूनदाई  व ढुलाई के काम मे लगाया गया था । फिर भुगतान के लिए 1 महीने रुकने का हवाला दिया गया 1 माह बाद ग्रामीणों ने ठेकेदार को बुलवाया जहां ठेकेदार द्वारा 15 दिन में पूरा भुगतान करवाने का हवाला दिया।  सोमा ने यह भी बताया कि बिना भुगतान माल से भरी ट्रक को भी ले जाने के खिलाफ ग्रामीणों ने ट्रक के सामने लकडिय़ां लगा दी थी मगर आधी रात उन लकडिय़ों को हटाकर गाडिय़ों को निकाल लिया गया।

उक्त मामले पर मुझे स्थानीय लडक़ो से लिखित शिकायत मिली है मैने कोंटा एसडीएम को मामले की जांच का आदेश दिया है । ओडिसा का ठेकेदार उसी शर्त में खरीद सकता है अगर उसे सरकारी खरीदी का ठेका मिला हो बगैर सरकारी ठेके के खरीदी भी अवैध मानी जाएगी फिलहाल वास्तविकता जांच में पता चल जाएगी अगर जांच में ये पाया जाता है कि जानकारी के बावजूद अगर प्रबंधक द्वारा अवैध रूप से ओडिसा पत्ता बिकवाने का काम किया गया है तो प्रबंधक पर कार्यवाही होगी।


Previous123456789...1415Next