छत्तीसगढ़ » सुकमा

Previous1234567Next
25-Sep-2020 9:30 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

तोंगपाल, 25 सितम्बर। सुकमा जिले के विकासखंड छिन्दगढ़ के नवीन ग्राम पंचायत सगुनघाट के आश्रित ग्राम गुफऩपाल में बारिश के दिनों में पानी की विकराल समस्या देखने को मिली है। समाज सेविका अधिवक्ता दीपिका शोरी गुफऩपाल की महिलाओं के साथ पानी भरने चुआं पहुंच कर उनकी समस्या को नजदीक से समझने का प्रयास किया।

मिली जानकारी के अनुसार 58 घर के 380 रहवासियों वाले इस ग्राम में 4 हैंडपंप हैं परन्तु इनमें से 3 पुजारी पारा,नयापारा व स्कूलपारा के हैंडपंप महीनों से बिगड़े हुए हैं व इनकी सुध लेने वाला कोई भी नहीं है।

गुफऩपाल की शान्ति,सुखमती, बसंती,पाकली, रंजना, देवे, वारे, जोगी, मुन्नी, सोमडी, मोती, काड़े, रामबती,रीता ने अपनी समस्या सुश्री शोरी से बताते हुए कहा कि हमारे गांव में एक भी हैंडपंप में व न ही चुआं के पास स्नानागार है जिसके कारण हमें खुले में स्नान करना पड़ता हैं जिससे हमें बहुत ही शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है।

गुफऩपाल के ग्रामीण अपने गाँव से बाहर लगभग 600 मीटर दूर एक खेत में पानी के रिसाव वाले स्थान पर लकड़ी के गोले को जो अंदर से पोला है उसे जमीन पर गाड़कर उससे निकलने वाले पानी से अपनी प्यास बुझा रहे हैं। पूरी तरह गंदगी व काई से भरे इस स्थान से पानी पीने से इनके स्वास्थ्य पर कोई बुरा असर नहीं पड़ रहा होगा, इस बात से इंकार नही किया जा सकता। परन्तु गुफऩपाल के सैकड़ों ग्रामीण इस स्थान से पानी पीने को मजबूर हैं।

हैंडपंपों के खराब होने के संबंध में जब 'छत्तीसगढ़Óने सुकमा जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग के एसडीओ आरएल मंडावी से चर्चा किया तो उन्होंने दो दिनों के अंदर समस्त हैंडपम्पों की मरम्मत करवाने की बात कही।


25-Sep-2020 9:28 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

तोंगपाल, 25 सितम्बर। सुकमा जिले के विकासखण्ड छिन्दगढ़ में मधुमेह से पीडि़त युवक हाथ और पैरों की अंगुलिया भी धीरे धीरे खो रहा है और जिंदगी से जंग लडऩे के बीच उसे अपनी पत्नी व तीन बच्चों के रहने हेतु पीएम आवास की उम्मीद शासन से है।

जानकारी के अनुसार सुकमा जिले के वि.ख.छिन्दगढ़ के ग्रा.पं. कुमाकोलेंग के धुरनक्सल प्रभावित ग्राम नयापारा के 35 वर्षीय युवक बामन जो मधुमेह रोग से पीडि़त है व इस रोग के कारण उसके हांथ और पैर की अंगुलियां गल गई हैं व पूरे शरीर मे घाव हो गया है। जीवन यापन हेतु कुछ भी कार्य करने में असमर्थ बामन अपने तीन बच्चों एवं पत्नि के  साथ छोटी सी झोपड़ी में रहता हैं वो भी टूटफूट गई है जिसमें बारिश का पानी भी भर जाता है व रहने लायक नहीं है। अपनी परेशानी को पंचायत व ग्राम सभा में कई दफा बताने के बाद भी आज तक बामन को पीएम आवास स्वीकृत नहीं हो पाया है जिससे बामन व उसका परिवार बहुत दुखी है।

कोरोना काल के प्रारंभ होते ही दवा बंद

बामन ने बताया कि उसका इलाज रायपुर से चल रहा था, परन्तु कोरोना काल के शुरू होते ही उसकी दवा बन्द हो गई है, क्योंकि बसों का संचालन बन्द हो गया था और गरीब बामन के पास इतने पैसे नही थे कि वो गाड़ी बुक करवाकर रायपुर जा पाए। साथ ही उसे इस बात की भी जानकारी नहीं थी कि उसकी दवा पास के शहरों में भी मिल सकती है

'छत्तीसगढ़' ने बामन की तश्वीर व वीडियो तोंगपाल के डॉ. अनिल टण्डन को दिखाया तो डॉ. टण्डन का कहना था कि बामन को लेप्रोसी (कुष्ठ रोग) भी हो सकती है जिसके कारण उसके हाथ व पैरों की यह हालत हो गई हैं क्योंकि इस रोग में निरन्तर दवा लेनी पड़ती है।


25-Sep-2020 9:06 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 25 सितंबर। एनएचएम कर्मचारियों के हड़ताल को आज सीपीआई का समर्थन मिला। एनएचएम कर्मचारियों ने पूर्व विधायक एवं सीपीआई नेता मनीष कुंजाम को अपनी मांगों एवं उनको होने वाली परेशानियों से अवगत कराया। मनीष कुंजाम ने भी कहा कि हम आप लोगों के साथ है।

मनीष कुंजाम ने कहा कि वर्तमान सरकार ने विपक्ष में रहते हुए भी और सरकार में आने के बाद भी कहा था कि वे सरकार में आने के 10 दिन में ही अनियमित कर्मचारियों को नियमित करेंगे, परन्तु आज तक ये नहीं हुआ। कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार को इन कर्मचारियों से बात करनी चाहिए और इन कर्मचारियों के लिए उचित समाधान निकालना चाहिए।


25-Sep-2020 5:59 PM

अधिकारी और जवानों से हुए रूबरू 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
दोरनापाल, 25 सितंबर। 
गुरुवार को पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज द्वारा जिला बीजापुर के  बासागुड़ा एवं जिला सुकमा के जगरगुण्डा क्षेत्र का भ्रमण किया गया। इस दौरान थाना व कैम्प में पदस्थ अधिकारी और जवानों से रूबरू होकर क्षेत्र में नक्सल गतिविधियों के संबंध चर्चा की गई। 

बस्तर के आईजी सुंदरराज पी.द्वारा बताया गया कि  माओवादियों के विरूद्ध आक्रामक अभियान चलाये जाने हेतु अधिकारी व जवानों को निर्देश दिया गया तथा क्षेत्र में नक्सल गतिविधियों पर अंकुश लगाने हेतु पुलिस अधीक्षक एवं केन्द्रीय अर्द्धसैनिक बल के वरिष्ठ अधिकारियों से अंदरूनी संवेदनशील क्षेत्र और सीमावर्ती इलाकों में माओवादियों के विरूद्ध विशेष कार्ययोजना बनाने के साथ-साथ क्षेत्र की विकास एवं ग्रामीणों की सुरक्षा के संबंध में चर्चाएं  की गई। इस दौरान पुलिस महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस  अधिकारियों द्वारा क्षेत्र के ग्रामीणों से मुलाकात कर उन्हें आश्वस्त किया गया है कि उनके क्षेत्र के सर्वांगिण विकास एवं शांति स्थापित करने हेतु शासन-प्रशासन एवं सुरक्षाबल द्वारा समन्वय के साथ समर्पित होकर विकास कार्य किया जा रहा है।

सुंदरराज पी. द्वारा डीआरजी/एसटीएफ/कोबरा एवं सीआरपीएफ के अधिकारी व जवानों को क्षेत्र में कार्य करने के दौरान आवश्यक सुरक्षा निर्देशों का पालन के संबंध में समझाईश दी गई। जिला सुकमा के जगरगुण्डा एवं जिला बीजापुर बासागुड़ा भ्रमण कर जनसुविधा हेतु क्रियान्वित सडक़, पुल-पुलिया निर्माण कार्यों की समीक्षा की गई। भ्रमण के दौरान उप पुलिस महानिरीक्षक, सीआरपीएफ कोमल सिंह, पुलिस अधीक्षक बीजापुर कमलोचन कश्यप एवं अन्य अधिकारी व जवान उपस्थित रहे।
 


25-Sep-2020 5:57 PM

दोरनापाल, 25 सितंबर। भाजपा जिला सुकमा के जिलाध्यक्ष हूंगाराम मरकाम ने केंद्र सरकार की किसान हित में लाये गये विधेयक को क्रांतिकारी कदम बताते हुए विपक्ष के द्वारा  किसानों को गुमराह कर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है। जिलाध्यक्ष का कहना है कि इस बिल से कृषि के क्षेत्र में अभूतपूर्व बदलाव होगा जिससे किसानों की आय दुगुनी होगी व बिचौलियों से किसान भाई बच सकेंगे। हूंगाराम मरकाम भी किसान हैं उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार का फैसला अब तक के किसानों के हित में लिये गये फैसलों में सबसे बेहतर निर्णय साबित होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को पहले से आश्वस्त कर चुके हैं  कि सरकारी खरीदी होगी व एपीएमसी हैं और रहेगी व एमएसपी भी रहेगी व किसानों को पूरी आजादी रहेगी कि किसान भाई अपने फसल को कहीं भी बेच सकते हैं बिचौलियों से मुक्ति देने वाला ये विधेयक लाया गया है।

बिचौलियों के हमदर्द विपक्षी पार्टी किसानों में भ्रम पैदा कर रही है। इससे साफ होता है कि विपक्षियों को किसानों का नहीं बिचौलियों की चिंता है। वैसे भी राज्य की कांग्रेस सरकार किसानों को ठगते आई है। भारत का अन्नदाता आर्थिक  रुप से विकसित होगा,जिससे कांग्रेस पार्टी सहित अन्य विपक्षियों को पीड़ा हो रही है।
 


25-Sep-2020 5:54 PM

सर्व आदिवासी समाज ने की थी रिहाई अपील 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
दोरनापाल, 25 सितंबर।
नक्सलियों ने अगवा 4 ग्रामीणों को कल देर रात रिहा कर दिया। वे रात को ही सकुशल घर पहुंच गए। ज्ञात हो कि कल शाम को सर्व आदिवासी समाज ने नक्सलियों से अपील की थी कि अगवा ग्रामीणों को जल्द रिहा करेंं।

ज्ञात हो कि सुकमा जिले के कुन्देड़ इलाके में नक्सलियों ने 22 सितंबर को अगवा युवक उईका हुंगा की मुखबिरी के शक में हत्या कर दी। वहीं युवक के परिजन समेत 4 ग्रामीण तलाश में जंगल की ओर गए हुए थे, उन्हें नक्सलियों ने अगवा कर लिया था। जिला मुख्यालय में गुरुवार देर शाम सर्व आदिवासी समाज की बैठक हुई, जिसमें समाज प्रमुखों ने मीडिया के माध्यम से नक्सल संगठन से अपील की है कि निर्दोष आदिवासियों को जल्द रिहा करें। जिसके बाद नक्सलियों ने देर रात 2 बजे ग्रामीणों को छोड़ दिया और सभी ग्रामीण सुरक्षित अपने घर पहुंच गए।

इस संबंध में जगरगुंडा एसडीओपी ईश्वर त्रिवेदी ने ‘छत्तीसगढ़’ को बताया कि 4 लोगों को नक्सलियों ने अगवा कर लिया था, जिनकी सकुशल रिहाई देर रात हुई है। उसकी जानकारी हमें उनके परिजनों से मिली है।


24-Sep-2020 10:17 PM

मीडिया के माध्यम से सर्व आदिवासी समाज ने की रिहाई अपील

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
दोरनापाल, 24 सितंबर।
सुकमा जिले के कुन्देड़ इलाके में नक्सलियों ने 22 सितंबर को अगवा युवक की मुखबिरी के शक में हत्या कर दी। वहीं युवक के परिजन समेत 4 ग्रामीण तलाश में जंगल की ओर गए हुए थे, जो आज तक नहीं लौटे हैं। बताया जाता है कि वे ग्रामीण नक्सलियों के कब्जे में है। जिला मुख्यालय में आज सर्व आदिवासी समाज की बैठक हुई, जिसमें समाज प्रमुखों ने मीडिया के माध्यम से नक्सल संगठन से अपील की है कि निर्दोष आदिवासियों को जल्द रिहा करें।

आज जिला मुख्यालय स्थित कुम्माहरास भवन में सर्व आदिवासी समाज की बैठक आयोजित की गई। जिसमें तीनों ब्लाक के समाज प्रमुख उपस्थित हुए। वहीं उईका सोमडू कुन्देड़ निवासी ने एक आवेदन देकर कहा कि नक्सलियों ने चार ग्रामीणों को बंधक बना लिया है। उनकी माने तो 14 सितंबर को उईका हुंगा (22)अपनी बहन को छोडऩे के लिए बीजापुर जिले के कोटकपल्ली गया हुआ था। रास्ते में नक्सलियों ने उसे अगवा कर लिया और बंधक बनाने के बाद 22 सितंबर को मार कर शव फेंक दिया। वहीं मृतक को खोजने के लिए 19 सिंतबर को उसके परिजन उईका पाण्डू, उईका धु्ररवा, उईका सीते, उईका जोगी जंगल की और गए थे, जो आज तक नहीं पहुंचे है। अभी भी नक्सल संगठन के कब्जे में हंै।
 
मीडिया से चर्चा करते हुए ब्लॉक अध्यक्ष संजय सोढ़ी ने कहा कि कुन्देड़ के चार ग्रामीण अभी भी नक्सलियों के कब्जे में है। उनके परिजनों ने आज बैठक में समाज के समक्ष अपनी बातें रखी है। समाज के प्रमुख नक्सल संगठन से अपील करता है कि उन ग्रामीणों को जल्द रिहा करें। क्योंकि वो ग्रामीण निर्दोष है। उनका कोई कसूर नहीं है।  


24-Sep-2020 8:06 PM

दोरनापाल, 24 सितंबर।  गुरुवार को पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज द्वारा जिला बीजापुर के  बासागुड़ा एवं जिला सुकमा के जगरगुण्डा क्षेत्र का भ्रमण किया गया। इस दौरान थाना व कैम्प में पदस्थ अधिकारी और जवानों से रूबरू होकर क्षेत्र में नक्सल गतिविधियों के संबंध चर्चा की गई। 

 बस्तर के आईजी सुंदरराज पी.द्वारा बताया गया कि  माओवादियों के विरूद्ध आक्रामक अभियान चलाये जाने हेतु अधिकारी व जवानों को निर्देश दिया गया तथा क्षेत्र में नक्सल गतिविधियों पर अंकुश लगाने हेतु पुलिस अधीक्षक एवं केन्द्रीय अर्द्धसैनिक बल के वरिष्ठ अधिकारियों से अंदरूनी संवेदनशील क्षेत्र और सीमावर्ती इलाकों में माओवादियों के विरूद्ध विशेष कार्ययोजना बनाने के साथ-साथ क्षेत्र की विकास एवं ग्रामीणों की सुरक्षा के संबंध में चर्चाएं  की गई। 

इस दौरान पुलिस महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस  अधिकारियों द्वारा क्षेत्र के ग्रामीणों से मुलाकात कर उन्हें आश्वस्त किया गया है कि उनके क्षेत्र के सर्वांगिण विकास एवं शांति स्थापित करने हेतु शासन-प्रशासन एवं सुरक्षाबल द्वारा समन्वय के साथ समर्पित होकर विकास कार्य किया जा रहा है।

 सुंदरराज पी. द्वारा डीआरजी/एसटीएफ/कोबरा एवं सीआरपीएफ के अधिकारी व जवानों को क्षेत्र में कार्य करने के दौरान आवश्यक सुरक्षा निर्देशों का पालन के संबंध में समझाईश दी गई।

जिला सुकमा के जगरगुण्डा एवं जिला बीजापुर बासागुड़ा भ्रमण कर जनसुविधा हेतु क्रियान्वित सड़क, पुल-पुलिया निर्माण कार्यों की समीक्षा की गई। भ्रमण के दौरान उप पुलिस महानिरीक्षक, सीआरपीएफ कोमल सिंह, पुलिस अधीक्षक बीजापुर कमलोचन कश्यप एवं अन्य अधिकारी व जवान उपस्थित रहे।


24-Sep-2020 8:05 PM

दोरनापाल, 24 सितंबर। भाजपा जिला सुकमा के जिलाध्यक्ष हूंगाराम मरकाम ने केंद्र सरकार की किसान हित में लाये गये विधेयक को क्रांतिकारी कदम बताते हुए विपक्ष के द्वारा  किसानों को गुमराह कर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है।

जिलाध्यक्ष का कहना है कि इस बिल से कृषि के क्षेत्र में अभूतपूर्व बदलाव होगा जिससे किसानों की आय दुगुनी होगी व बिचौलियों से किसान भाई बच सकेंगे। हूंगाराम मरकाम भी किसान हैं उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार का फैसला अब तक के किसानों के हित में लिये गये फैसलों में सबसे बेहतर निर्णय साबित होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को पहले से आश्वस्त कर चुके हैं  कि सरकारी खरीदी होगी व एपीएमसी हैं और रहेगी व एमएसपी भी रहेगी व किसानों को पूरी आजादी रहेगी कि किसान भाई अपने फसल को कहीं भी बेच सकते हैं बिचौलियों से मुक्ति देने वाला ये विधेयक लाया गया है।

बिचौलियों के हमदर्द विपक्षी पार्टी किसानों में भ्रम पैदा कर रही है। इससे साफ होता है कि विपक्षियों को किसानों का नहीं बिचौलियों की चिंता है। वैसे भी राज्य की कांग्रेस सरकार किसानों को ठगते आई है। भारत का अन्नदाता आर्थिक  रुप से विकसित होगा,जिससे कांग्रेस पार्टी सहित अन्य विपक्षियों को पीड़ा हो रही है।


24-Sep-2020 8:00 PM

 

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

दोरनापाल, 24 सितंबर। सुकमा जिले के कुन्देड़ इलाके में नक्सलियों ने 22 सितंबर को अगवा युवक की मुखबिरी के शक में हत्या कर दी। वहीं युवक के परिजन समेत 4 ग्रामीण तलाश में जंगल की ओर गए हुए थे, जो आज तक नहीं लौटे हैं। बताया जाता है कि वे ग्रामीण नक्सलियों के कब्जे में है। जिला मुख्यालय में आज सर्व आदिवासी समाज की बैठक हुई, जिसमें समाज प्रमुखों ने मीडिया के माध्यम से नक्सल संगठन से अपील की है कि निर्दोष आदिवासियों को जल्द रिहा करें।

            आज जिला मुख्यालय स्थित कुम्माहरास भवन में सर्व आदिवासी समाज की बैठक आयोजित की गई। जिसमें तीनों ब्लाक के समाज प्रमुख उपस्थित हुए। वहीं उईका सोमडू कुन्देड़ निवासी ने एक आवेदन देकर कहा कि नक्सलियों ने चार ग्रामीणों को बंधक बना लिया है। उनकी माने तो 14 सितंबर को उईका हुंगा (22)अपनी बहन को छोडऩे के लिए बीजापुर जिले के कोटकपल्ली गया हुआ था। रास्ते में नक्सलियों ने उसे अगवा कर लिया और बंधक बनाने के बाद 22 सितंबर को मार कर शव फेंक दिया। वहीं मृतक को खोजने के लिए 19 सिंतबर को उसके परिजन उईका पाण्डू, उईका धु्ररवा, उईका सीते, उईका जोगी जंगल की और गए थे, जो आज तक नहीं पहुंचे है। अभी भी नक्सल संगठन के कब्जे में हंै।

मीडिया से चर्चा करते हुए ब्लॉक अध्यक्ष संजय सोढ़ी ने कहा कि कुन्देड़ के चार ग्रामीण अभी भी नक्सलियों के कब्जे में है। उनके परिजनों ने आज बैठक में समाज के समक्ष अपनी बातें रखी है। समाज के प्रमुख नक्सल संगठन से अपील करता है कि उन ग्रामीणों को जल्द रिहा करें। क्योंकि वो ग्रामीण निर्दोष है। उनका कोई कसूर नहीं है।  


24-Sep-2020 1:41 PM

सुकमा, 24 सितंबर। जिले में बुधवार 23 सितंबर शाम 6.30 बजे तक की स्थिति में 89 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार सुकमा क्षेत्र से 22, छिंदगढ़ से 9 व कोन्टा क्षेत्र से 58 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई है। पॉजिटिव पाए गए मरीजों  लोगों में 61 लोगों के सैंपल एंटीजन टेस्ट किट से लिए गए थे वहीं 28 लोगों के सैंपल आरटीपीसीआर टेस्ट द्वारा जांच किए गए हैं। 
 


23-Sep-2020 10:48 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

दोरनापाल, 23 सितंबर। एनएचएम कर्मचारियों ने आज स्वास्थ्य विभाग पहुंचकर सामूहिक इस्तीफा दिया। पिछले तीन दिनों से हड़ताल कर रहे एनएचएम कर्मचारियों ने स्वास्थ्य विभाग के समक्ष प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने जमकर नारेबाजी की और प्रदेश सरकार को अपना वादा पूरा करने की बात कही। कल 120 कर्मचारियों ने इस्तीफा स्वास्थ्य विभाग के जिला अधिकारी को सौंपा। वहीं कल जिला प्रशासन ने 16 कर्मचारियों की सेवा समाप्ति कर दी थी।

आज जिला मुख्यालय स्थित ऑडिटोरियम से एनएचएम कर्मचारी हाथो में बैनर लिए व नारेबाजी करते हुए स्वास्थ्य विभाग पहुंचे। जहां कार्यालय के समक्ष मांगें पूरी करने को लेकर नारेबाजी की। उसके बाद जिला स्वास्थ्य अधिकारी सीबी बंसोड़ को 120 कर्मचारियों ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया। ज्ञात हो कि अपनी मांगों को लेकर एनएचएम कर्मचारी हड़ताल कर रहे हंै। जिले के तीनों ब्लाक में कर्मचारी हड़ताल कर रहे हैं। जिसका असर स्वास्थ्य कार्यों में पड़ रहा है।

'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा करते हुए सीएमएचओ सीबी बंसोड़ ने कहा कि हमारे यहां 127 एनएचएम कर्मचारी जिले में पदस्थ हैं। हड़ताल होने से काम प्रभावित जरूर हो रहा है। लेकिन वैकल्पिक व्यवस्था से काम किया जा रहा है।

'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा करते हुए एनएचएम संघ के जिला अध्यक्ष नवीन पाठक ने कहा कि हमारी मांगे जायज हैं। क्योंकि प्रदेश सरकार ने वादा किया था कि एनएचएम कर्मचारियों का नियमितीकरण किया जाएगा और संघ मांगों को लेकर लड़ाई जारी रखेगा। आज कुल 120 कर्मचारियों ने सामूहिक इस्तीफा दिया है। वहीं उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने दमनात्मक कदम उठाते हुए कुछ सदस्यों की सेवा समाप्ति की गई वो गलत है। हमारी लड़ाई जारी रहेगी।

 

 

 

 


23-Sep-2020 10:39 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

दोरनापाल, 23 सितंबर। एनएचएम कर्मचारियों ने आज स्वास्थ्य विभाग पहुंचकर सामूहिक इस्तीफा दिया। पिछले तीन दिनों से हड़ताल कर रहे एनएचएम कर्मचारियों ने स्वास्थ्य विभाग के समक्ष प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने जमकर नारेबाजी की और प्रदेश सरकार को अपना वादा पूरा करने की बात कही। कल 120 कर्मचारियों ने इस्तीफा स्वास्थ्य विभाग के जिला अधिकारी को सौंपा। वहीं कल जिला प्रशासन ने 16 कर्मचारियों की सेवा समाप्ति कर दी थी।

आज जिला मुख्यालय स्थित ऑडिटोरियम से एनएचएम कर्मचारी हाथो में बैनर लिए व नारेबाजी करते हुए स्वास्थ्य विभाग पहुंचे। जहां कार्यालय के समक्ष मांगें पूरी करने को लेकर नारेबाजी की। उसके बाद जिला स्वास्थ्य अधिकारी सीबी बंसोड़ को 120 कर्मचारियों ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया। ज्ञात हो कि अपनी मांगों को लेकर एनएचएम कर्मचारी हड़ताल कर रहे हंै। जिले के तीनों ब्लाक में कर्मचारी हड़ताल कर रहे हैं। जिसका असर स्वास्थ्य कार्यों में पड़ रहा है।

'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा करते हुए सीएमएचओ सीबी बंसोड़ ने कहा कि हमारे यहां 127 एनएचएम कर्मचारी जिले में पदस्थ हैं। हड़ताल होने से काम प्रभावित जरूर हो रहा है। लेकिन वैकल्पिक व्यवस्था से काम किया जा रहा है।

'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा करते हुए एनएचएम संघ के जिला अध्यक्ष नवीन पाठक ने कहा कि हमारी मांगे जायज हैं। क्योंकि प्रदेश सरकार ने वादा किया था कि एनएचएम कर्मचारियों का नियमितीकरण किया जाएगा और संघ मांगों को लेकर लड़ाई जारी रखेगा। आज कुल 120 कर्मचारियों ने सामूहिक इस्तीफा दिया है। वहीं उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने दमनात्मक कदम उठाते हुए कुछ सदस्यों की सेवा समाप्ति की गई वो गलत है। हमारी लड़ाई जारी रहेगी।

 

 

 

 


23-Sep-2020 10:37 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

दोरनापाल, 23 सितंबर। एनएचएम कर्मचारियों ने आज स्वास्थ्य विभाग पहुंचकर सामूहिक इस्तीफा दिया। पिछले तीन दिनों से हड़ताल कर रहे एनएचएम कर्मचारियों ने स्वास्थ्य विभाग के समक्ष प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने जमकर नारेबाजी की और प्रदेश सरकार को अपना वादा पूरा करने की बात कही। कल 120 कर्मचारियों ने इस्तीफा स्वास्थ्य विभाग के जिला अधिकारी को सौंपा। वहीं कल जिला प्रशासन ने 16 कर्मचारियों की सेवा समाप्ति कर दी थी।

आज जिला मुख्यालय स्थित ऑडिटोरियम से एनएचएम कर्मचारी हाथो में बैनर लिए व नारेबाजी करते हुए स्वास्थ्य विभाग पहुंचे। जहां कार्यालय के समक्ष मांगें पूरी करने को लेकर नारेबाजी की। उसके बाद जिला स्वास्थ्य अधिकारी सीबी बंसोड़ को 120 कर्मचारियों ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया। ज्ञात हो कि अपनी मांगों को लेकर एनएचएम कर्मचारी हड़ताल कर रहे हंै। जिले के तीनों ब्लाक में कर्मचारी हड़ताल कर रहे हैं। जिसका असर स्वास्थ्य कार्यों में पड़ रहा है।

'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा करते हुए सीएमएचओ सीबी बंसोड़ ने कहा कि हमारे यहां 127 एनएचएम कर्मचारी जिले में पदस्थ हैं। हड़ताल होने से काम प्रभावित जरूर हो रहा है। लेकिन वैकल्पिक व्यवस्था से काम किया जा रहा है।

'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा करते हुए एनएचएम संघ के जिला अध्यक्ष नवीन पाठक ने कहा कि हमारी मांगे जायज हैं। क्योंकि प्रदेश सरकार ने वादा किया था कि एनएचएम कर्मचारियों का नियमितीकरण किया जाएगा और संघ मांगों को लेकर लड़ाई जारी रखेगा। आज कुल 120 कर्मचारियों ने सामूहिक इस्तीफा दिया है। वहीं उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने दमनात्मक कदम उठाते हुए कुछ सदस्यों की सेवा समाप्ति की गई वो गलत है। हमारी लड़ाई जारी रहेगी।

 

 


23-Sep-2020 10:18 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

तोंगपाल, 23 सितम्बर। नाबालिग से बलात्कार के आरोपी को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया है। थाना तोंगपाल क्षेत्र के ग्राम में 31 जुलाई 2020 को नाबालिग से बलात्कार होने के संबंध में  रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। आरोपी कृष्णा सेठिया (23) लेदा घटना दिनांक से लगातार फरार चल रहा था। फरार आरोपी की लगातार तलाश जारी थी। थाना प्रभारी तोंगपाल प्रमोद कश्यप को सूचना मिली कि आरोपी दंतेवाड़ा के आसपास छुपा हुआ है।  टीम बनाकर दबिश दी गई और मंगलवार को आरोपी को हिरासत में लिया गया।

 

 


23-Sep-2020 10:09 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

तोंगपाल, 23 सितम्बर। नाबालिग से बलात्कार के आरोपी को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया है। थाना तोंगपाल क्षेत्र के ग्राम में 31 जुलाई 2020 को नाबालिग से बलात्कार होने के संबंध में  रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। आरोपी कृष्णा सेठिया (23) लेदा घटना दिनांक से लगातार फरार चल रहा था। फरार आरोपी की लगातार तलाश जारी थी। थाना प्रभारी तोंगपाल प्रमोद कश्यप को सूचना मिली कि आरोपी दंतेवाड़ा के आसपास छुपा हुआ है।  टीम बनाकर दबिश दी गई और मंगलवार को आरोपी को हिरासत में लिया गया।

 

 


22-Sep-2020 10:26 PM

तोंगपाल, 22 सितंबर। कल शाम को लेदा में दो बाइक सवारों के आपस में टकरा जाने से दोनों बाइक सवारों में से एक महिला व बच्ची एवं एक पुरुष दुर्घटनाग्रस्त हो गए। रास्ते गुजर रही समाज सेविका अधिवक्ता दीपिका शोरी ने घायलों को अस्पताल पहुंचा कर मानवता का परिचय दिया।

मिली जानकारी के अनुसार कल देर शाम तोंगपाल के नजदीक लेदा में टहकवाड़ा निवासी घेनवा पिता दुर्जन बालसिंह व केशव के साथ एवं किंदरवाड़ा निवासी बलराम अपनी बहन दशमी व बहनोई तुलसीराम व 2 वर्षीय भांजी राधिका निवासी मारेंगा के साथ अपनी-अपनी बाइक में तीन तीन सवारी बिठा कर अपने घर की ओर जा रहे थे। सड़क में लोगों की भीड़ की वजह से अचानक बाइक अनियंत्रित हो गई व आपस में टकरा गई। जिससे किंदरवाड़ा की बाइक में बैठी दशमी व बच्ची राधिका बुरी तरह घायल हो गई व टहकवाड़ा के बाइक में सवार घेनवा का पैर फ्रेक्चर हो गया। 

घटनास्थल पर भारी भीड़ थी , बावजूद कोई भी इन्हें अस्पताल नहीं पहुंचा रहा था, 108 को फोन करने पर गाड़ी भी उपलब्ध नहीं थी। उसी वक्त कोकावाड़ा से एक कार्यक्रम में शरीक होकर लौट रही समाज सेविका अधिवक्ता दीपिका शोरी ने वहाँ की स्थिति को देखते हुए तत्काल अपनी वाहन में घायलों को लेकर तोंगपाल अस्पताल पहुंच कर अस्पताल प्रबंधन से बात कर उन्हें चिकित्सकीय लाभ दिलाया।


22-Sep-2020 9:05 PM

सुकमा, 22 सितंबर। कोरोना वायरस के संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम को दृष्टिगत रखते हुए नवरात्र पर्व के संबंध कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी चन्दन कुमार ने दिशा निर्देश जारी किये है। जारी दिशा निर्देश में उन्होने कहा है कि मूर्ति की ऊंचाई एवं चौड़ाई 6 गुणा 5 फीट से अधिक नही होनी चाहिए। मूर्ति स्थापना वाले पंडाल का आकार 15 गुणा 15 फीट से अधिक न हो। मूर्ति स्थापित करने वाले व्यक्ति अथवा समिति 4 सीसीटीवी लगाएगा ताकि उनमें से कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित होने पर कांटेक्ट ट्रेसिंग किया जा सके। मूर्ति दर्शन अथवा पूजा में शामिल होने वाला कोई भी व्यक्ति बिना मास्क के नहीं जाएगा। ऐसा पाए जाने पर संबंधित व्यक्ति एवं समिति के विरुद्ध वैधानिक कार्यवाही की जाएगी। मूर्ति विसर्जन के लिए पिकअप टाटा एस (छोटा हाथी) से बड़े वाहन का उपयोग प्रतिबंधित होगा। मूर्ति विसर्जन के वाहन में किसी भी प्रकार के अतिरिक्त साज-सज्जा झांकी की अनुमति नहीं होगी। पंडाल के लिए पहले आओ पहले पाओ निति के तहत जो आवेदन पहले प्राप्त होगा उनसे प्राथमिकता दिया जाएगा। इन सभी शर्तो के अतिरिक्त समय समय पर  भारत सरकार, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी एस.ओ.पी. का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। आदेश का उल्लंघन करने पर एपीडेमिक डिसीज एक्ट एवं विधि अनुकूल नियमानुसार अन्य धाराओं के तहत कठोर कार्यवाही की जाएगी।


22-Sep-2020 8:59 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

सुकमा, 22 सितंबर। भारतीय जनता पार्टी जिलाध्यक्ष हूंगाराम मरकाम के समक्ष एवं तोंगपाल मण्डल अध्यक्ष  रघुनाथ मुचाकी व भाजपा जिला कोषाध्यक्ष  उपेन्द्र अंशु सिंह चौहान  के नेतृत्व में हमीरगढ़ पंचायत (जैमेर नया पंचायत) के पूर्व सरपंच ने अपने 70 समर्थक कांग्रेसियों सहित भारतीय जनता पार्टी में प्रवेश किया। प्रवेश करने वालों में लखमू राम नाग भूतपूर्व सरपंच, हड़मा पोडियामी, महादेव नाग, लछिन्दर नाग, बदरू नाग, नीला बघेल, जोगा माड़वी, चेतन नाग, बलधर नाग, मंगतू नाग, इन्दर नाग, राजेश नाग, चैतू नाग, आयताराम नाग, सुखमन नाग, परदेशी नाग, साधु राम बघेल, सोनाधर नाग, सहादेव नाग, लक्षमण बघेल, अर्जुन बघेल, बामन नाग, संतु राम नाग, देवनाथ नाग, बली नाग, महंगू नाग, चेतन बघेल, सैनासु नाग, मुन्नाराम नाग, रामाराम नाग, लक्षमण नाग, घांसी नाग, सुकदेव नाग, नितेश नाग, बालसिंह नाग, धनसाय नाग, चैतू नाग, सकाराम नाग, चैतुराम नाग, मानसाय नाग, मनीराम नाग, फूलमती नाग, राधा नाग, चन्द्रमणी नाग, कमला नाग, चम्पा नाग, कमला नाग, मुंगई बघेल, जेमा नाग, बसन्ती नाग, बिमला नाग, सोनादाई नाग, माया राम बघेल, आसमति नाग, बालमती बघेल, कनकदई बघेल, बसन्ती नाग, रामदई नाग, मीना नाग, महादाई नाग, बुरसी नाग, सुकमन नाग, बुधरी नाग, महादई नाग, फूलमती नाग, ललिता नाग, सामबती बघेल, रजनी बघेल, भूरसी बघेल, रीता नाग, बालमती नाग इन 70 कांग्रेसियों ने थामा भारतीय जनता पार्टी का दामन।

इस अवसर पर भाजपा जिला महामंत्री महेन्द्र सिंह भदौरिया, भाजयुमो जिला उपाध्यक्ष मड़कम भीमा, छिन्दगढ़ मंडल महामंत्री चन्नाराम मरकाम, अन्नू मण्डावी, भाजयुमो जिला कार्यालय मंत्री राजकुमार कश्यप,  सुनेर, जैमेर पटेल गंगाराम,  गंगा,  मारेंगा पटेल  व अन्य भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे।


22-Sep-2020 8:58 PM

सुकमा, 22 सितंबर। बस्तर के सबसे बड़े प्लांट नगरनार के निजीकरण को लेकर जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी ने 23 सितंबर से पदयात्रा करने की घोषणा की थी। लेकिन कोविड 19 के चलते प्रशासन ने इस पदयात्रा की अनुमति नहीं दी। अब पदयात्रा को फिलहाल स्थगित किया गया।

नगरनार पदयात्रा प्रभारी जगन्नाथ राजू साहू ने कहा कि आगामी दिनों में अनुमति मिलते ही पदयात्रा की जाएगी। वह 24 तारीख से 2 अक्टूम्बर तक 5 सदस्यों की टीम नगरनार के समक्ष धरना देंगे।

राजू साहू ने बताया कि जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी ने बस्तर के सपनों का कारखाना नगरनार प्लांट के निजीकरण के फैसले का विरोध किया। केंद्र सरकार की गलत नीति के विरोध में युवाओं के साथ सुकमा से नगरनार प्लांट तक पदयात्रा करने का फैसला लिया था। पदयात्रा करने के किये जिला प्रशासन से 23 सितंबर से अनुमति मांगी थी। लेकिन जिला प्रशासन ने कोविड 19 और प्रदेश के कई जगहों पर लॉक डॉउन की स्थिति के चलते पदयात्रा की अनुमति नही दी। लिहाजा पदयात्रा को आगे करने का फैसला लिया गया। जब प्रशासन अनुमति देगा तब पदयात्रा की जाएगी। अब विरोध का नया तरीका अपनाया जा रहा है। प्लांट के निजीकरण को लेकर बस्तर के युवाओं में काफी आक्रोश है। जिसकी भावनाओं के अनुरुप अब प्लांट के सामने हर दिन 5-5 युवा सदस्य हर दिन धरने पर रहेंगे। इस तरीके से निजीकरण का विरोध किया जाएगा।


Previous1234567Next