छत्तीसगढ़ » सुकमा

Date : 15-Sep-2019

सुकमा में मुठभेड़, 3 नक्सली ढेर, हथियार मिले

छत्तीसगढ़ संवाददाता
दोरनापाल, 15 सितंबर।
सुकमा जिले में शनिवार को मुकरम ताड़मेटला इलाके में डीआरजी और नक्सलियों के बीच तकरीबन डेढ़ घंटे हुई मुठभेड़ में जवानों ने 1 लाख के इनामी मिलिशिया कमांडर मुचाकी हिड़मा समेत 3 नक्सलियों को ढेर किया है। मौके से जवानों ने 3 भरमार समेत 1 इंसास रायफल भी बरामद किया है, वहीं दैनिक उपयोगी समान भी मौके से बरामद हुए हैं। 

रविवार को सुकमा एसपी शलभ सिन्हा ने प्रेसवार्ता में बताया है कि सड़क काटने के दौरान जब जवानों को सूचना मिली तब कैम्प से मुआयने के लिए ड्रोन उड़ाया गया तो मौके पर 100 से अधिक नक्सली मौजूद मिले, जिनमें बड़ी संख्या में काली वर्दी में भी कई नक्सली दिखाई पड़े। एसपी ने बताया कि नक्सली बड़ा विस्फोटक लिए घूम रहे थे। जब डीआरजी के 100 जवानों ने उनका पीछा किया तो ढाई किमी दूर नक्सलियों ने जवानों के लिए एम्बुश बनाया, पर जवानों ने एम्बुश का काउंटर करते हुए करारा जवाब दिया। पूरी घटना में इंसास राइफल मिलने पर शलभ सिन्हा ने कहा कि इंसास के कैडर के नक्सली नहीं मारे गए। जाहिर है किसी बड़े नक्सली लीडर को भी गोली लगी जो घायल या मारा गया होगा। मुठभेड़ में 1 लाख के मिलिशिया कमांडर के अलावा 2 अन्य मिलिशया सदस्य भी मारे गए हैं। मुठभेड़ में मारे गए नक्सली में मुचाकि हिड़मा 1 लाख इनामी मिलिशिया कमांडर, भीमा मिलीशिया सदस्य, सोढ़ी देवा मिलिशिया सदस्य सभी नक्सली कोत्तगुडा के रहने वाले थे।

एसपी ने बताया कि नक्सलियों की संख्या अधिक थी और मौके से 3 नक्सलियों के शव मिले साथ ही 3 भरमार और 1 इंसास भी। एसपी सिन्हा ने दावा किया कि कई नक्सलियों को गोली लगी है उनमें से 1 बड़े कैडर का नक्सली भी है जो घायल होने की वजह से इंसास रायफल छोड़कर भाग गया। एसपी ने बताया कि मौके पर बटालियन मेम्बर्स और जगरगुंडा एरिया कमेटी के नक्सली थे, जिन्हें लोकल नक्सली कमांडर नागमणि लीड करती हैं।

 


Date : 15-Sep-2019

बदहाल सड़क ने रोकी एंबुलेंस की राह, पुसपल्ली समेत दर्जनों गांव तक नहीं पहुंच पाती

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोंटा, 15 सितंबर।
सुकमा जिला मुख्यालय से करीब 7 किमी दूर झापरा से पुसपल्ली सड़क जर्जर अवस्था में पहुंच गई है। सड़क की बदहाली का आलम ऐसा है कि गांव तक एंबुलेंस नहीं पहुंच पाती है। आपातकालीन स्थिति में प्रसूताओं को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा हैे। गर्भवती महिलाओं को खाट या फिर कपड़ों की झोली में टांगकर पैदल स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाना पड़ता है। शिकायत के बाद कलेक्टर ने ठेकेदार को सड़क पर बने गड्ढों को भरने का निर्देश दिया था। रविवार सुबह से ठेकेदार ने गड्ढों को भरने का काम शुरू कर दिया है, लेकिन ग्रामीण उक्त कार्य से असंतुष्ट हैं। 

 झापरा से कोसाबंदर, कुड़कूरास, पुसपल्ली, दरभा समेत एक दर्जन ज्यादा गांवों को जोडऩे वाली सड़क बदहाल हो गई है। सड़क पर बड़े—बड़े गड्ढे बन गये हैं। जिसके चलते लोगों को सड़क चलना मुश्किल हो गया है। स्थिति तब दयनीय हो जाती है, जब गर्भवती को स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाना रहता है। ग्रामीणों के अनुसार कई बार शिकायतों के बाद भी सड़क को नहीं सुधारा गया है। हाल ही में पुसपल्ली पंचायत के दर्जनों ग्रामीण जिला मुख्यालय पहुंच कर सड़क को सुधारने की मांग कलेक्टर से कर चुके हैं।

कुड़कूरास निवासी नूरजहां बेगम ने बताया कि सड़क की हालत दिन ब दिन बिगड़ती जा रही है। संबंधित विभाग के अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। गांव तक पक्की सड़क नहीं होने से गांव तक एंबुलेंस नहीं पहुंच पाती है। सोमवार को ही गांव की गर्भवती प्रसव पीड़ा होने पर 102 महतारी एक्सप्रेस को फोन किया गया। कुड़कूरास से करीब दो किमी पहले तलाब के पास सड़क खराब होने के कारण एंबुलेंस गांव तक नहीं पहुंच सकी। ग्रामीणों ने किसी तरह खाट पर महिला को लेटाकर एंबुलेंस तक पहुंचाया।

मरम्मत में लापरवाही का आरोप
शिकायत के बाद कलेक्टर ने संबंधित ठेकेदार को सड़क पर बने गड्ढों को भरने का निर्देश दिया था। रविवार सुबह से ठेकेदार ने गड्ढों को भरने का काम शुरू कर दिया है, लेकिन ग्रामीण उक्त कार्य से असंतुष्ट हैं। पुसपल्ली पंचायत के सरपंच पति कलिम खाने ने बताया कि कुड़कूरास के पास सड़क के दोनों ओर तलाब होने की वजह से सड़क पर हमेशा नमी रहता है। बारिश में चार पहिया वाहन से ही सड़क धसने लगती है। ठेकेदार ने सड़क के एक किनारे रिटर्निंग वॉल बनाया है। लेकिन वॉल की ऊंचाई सड़क से डेढ़ फीट नीचे होनेे से सड़क का किनारा बारिश में बह गया है।


Date : 14-Sep-2019

नक्सलियों ने गाडिय़ों को रोका, 5 जगह काटी सड़क

छत्तीसगढ़ संवाददाता
सुकमा, 14 सितंबर।
आज नक्सलियों ने जगरगुंडा मार्ग पर गाडिय़ों को रोका और करीब 5 जगह सड़क काटी। मिली जानकारी अनुसार नक्सलियों ने बुरकापाल चिंतलनार के बीच चलने वाली गाडिय़ों को रोका, वहीं जगरगुंडा मार्ग में करीब 5 जगह सड़क काटी। मौके से दोरनापाल से चिन्तलनार, जगरगुंडा जा रहे यात्रियों को रोका। 

जगरगुंडा के युवक के साथ पूछताछ के दौरान नक्सलियों ने पीटा। खबर मिलते ही मौके पर पहुंचे डीआरजी के जवानों को आता देख मौक़े से नक्सली भाग गए। उक्त घटना चिन्तलनार थाना क्षेत्र की है।