छत्तीसगढ़ » राजनांदगांव

शर्तों के साथ रास, गरबा, डांडिया व भजन को अनुमति
09-Oct-2021 1:05 PM (37)

 

दोनों डोज वालों को आयोजनों में शामिल होने की छूट

राजनांदगांव, 9 अक्टूबर। शारदीय नवरात्र में रास, गरबा, डांडिया एवं भजन के आयोजनों के लिए प्रशासन ने अनुमति दे दी है। वहीं कोरोना प्रोटोकॉल के तहत  दो डोज वैक्सीन लगाने वालों को ही आयोजन में शामिल होने की छूट दी गई है। जिसमें 150 लोग ही शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा आयोजनों में शामिल होने वाले लोगों के संदर्भ में रजिस्टर रखना अनिवार्य तथा आयोजन के दौरान अस्त्र-शस्त्र का प्रदर्शन नहीं करने  के निर्देश दिए गए हैं।

कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने आदेश जारी करते कहा कि आयोजन स्थल की क्षमता का 50 प्रतिशत अथवा 150 व्यक्ति जो भी कम हो सम्मिलित होने की अनुमति होगी। कार्यक्रम का आयोजन रात्रि 10 बजे तक ही किया जाए। आयोजन स्थल पर प्रवेश एवं निकासी द्वार पृथक-पृथक रखी जाए, जो टच फ्री मोड अवस्था में हो तथा आयोजन स्थल को दिन में कम से कम दो बार सेनेटाईज्ड किया जाए। आयोजन में शामिल  होने वाले सभी व्यक्तियों का थर्मल स्क्रीनिंग कराया जाना, मास्क पहनना, समय-समय पर हैंड सेनेटाइजर का उपयोग करना, फिजिकल डिस्टेंशिंग तथा सोशल डिस्टेंशिग अर्थात व्यक्तियों के मध्य कम से कम दो मीटर (6 फीट) की दूरी रखना अनिवार्य होगा।

आयोजन में सम्मिलित होने वाले व्यक्तियों के संदर्भ में रजिस्टर रखना अनिवार्य होगा, ताकि भविष्य में यदि कोई व्यक्ति संक्रमित पाया जाता है, तो उसका आसानी से कांटेक्ट ट्रेसिंग किया जा सके। आयोजन करने वाले व्यक्ति द्वारा सेनेटाइज थर्मल स्क्रीनिंग, ऑक्सीमीटर, हेंडवाश एवं क्यू मैनेजमेंट सिस्टम की व्यवस्था की जाएगी। थर्मल स्क्रिीनिंग में बुखार पाए जाने अथवा कोरोना से संबंधित कोई भी सामान्य या विशेष लक्षण पाए जाने पर आयोजन स्थल में सम्मिलित व प्रवेश नहीं देने की जिम्मेदारी आयोजक की होगी। कार्यक्रम में सम्मिलित होने वाले समस्त व्यक्तियों को भारत सरकार व राज्य शासन एवं जिला प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए जारी समस्त निर्देशों का पालन किया जाना होगा।

आयोजन में ध्वनि विस्तारक यंत्रों का उपयोग माननीय सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा जारी मार्गदर्शी निर्देश के अनुरूप किया जाए। आयोजन के पूर्व स्थानीय थाना प्रभारी को सूचित करना अनिवार्य होगा। आयोजन से आम जनता बाधित ना हो। पार्किंग की व्यवस्था स्वयं द्वारा की जाए। आयोजन के दौरान किसी प्रकार के अस्त्र-शस्त्र का प्रदर्शन न किया जाए। किसी प्रकार की फूहड़ता अश्लीलता प्रदर्शित न हो। आयोजन के दौरान किसी प्रकार की अव्यवस्था न हो, इस हेतु पर्याप्त स्वयं सेवक रखा जाए एवं स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाए।

मंदिरों में मनोकामना के जोत जले
08-Oct-2021 7:50 PM (37)

पंडालों में विराजी मां की प्रतिमाएं, जस गीत से बना भक्ति का माहौल

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

राजनांदगांव, 8 अक्टूबर। नवरात्र के पहले दिन मंदिरों और पूजा पंडालों में आस्था के साथ ज्योति कलश की स्थापना की गई। श्रद्धालुओं ने मनोकामना लेकर पूरे उत्साह के साथ जोत प्रज्जवलित किया।

पिछले डेढ़ साल के बाद यह पहला मौका है, जब कोरोना का असर कम होने से प्रशासन ने मंदिरों में भक्तों को नियमों का पालन करते प्रवेश की अनुमति दी है। ज्योति कलश की स्थापना को लेकर श्रद्धालुओं में उत्साह नजर आया। इधर मां की मूर्तियों की स्थापना पंडालों में की गई। देर रात तक जस गीत के साथ पंडालों में मूर्तियों की स्थापना का सिलसिला चला।

 नौ दिन तक नवरात्रि की धूम पंडालों और मंदिरों में नजर आएगी। हालांकि गरबा और दूसरे धार्मिक आयोजनों को लेकर प्रशासन ने मंजूरी नहीं दी है। सिर्फ मंदिरों और पंडालों में ही देवी दर्शन के लिए भक्त पहुंचेंगे।  इस बीच नवरात्र के दूसरे दिन लोगों ने मंदिरों में पहुंचकर देवी दर्शन किए। नवरात्र पर भक्तों ने कठिन व्रत भी रखे हैं। महिलाएं और युवतियां उपवास के साथ पूजा-अर्चना कर रही है। घरों में भी विशेष पूजा करते हुए भक्त अपनी मनोकामना लिए मां दुर्गा की स्तुति गान कर रहे हैं। रोजाना घरों में दुर्गा की आरती के साथ पूजा-अर्चना की जा रही है। शारदीय नवरात्र का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है। इस बीच विधि-विधान से ज्योति कलश स्थापना के बाद दर्शन के लिए परिवारों का मंदिरों में पहुंचने का दौर शुरू हो गया है। मंदिरों के पुजारी सुबह आरती के साथ पूजा-अर्चना कर भक्तों की मनोकामना पूरी करने मां से गुजारिश कर रहे हैं।  इस बीच मंदिरों के बाहर लंबे समय बाद भक्तों की मौजूदगी से चहल-पहल बनी हुई है। पूजन सामग्रियों की खरीदी-बिक्री शुरू होने से दुकानदारों को भी कमाई का एक अच्छा अवसर मिला है। शहर के शीतला मंदिर, पाताल भैरवी मंदिर, सिंघोला स्थित मां भानेश्वरी मंदिर में प्रसाद कारोबारी को एक तरह से आय मिलना शुरू हुआ है।

प्रयास बालक व कन्या आवासीय विद्यालयों में 9वीं में प्रवेश परीक्षा 10 को
08-Oct-2021 6:09 PM (36)

राजनांदगांव, 8 अक्टूबर। प्रयास बालक व कन्या आवासीय विद्यालयों में शैक्षणिक सत्र 2021-22 में कक्षा 9वीं के लिए प्रवेश परीक्षा 10 अक्टूबर को सुबह 10.30 बजे से दोपहर 1 बजे तक आयोजित की गई है।  केन्द्राध्यक्ष द्वारा परीक्षा केन्द्र में किसी विद्यार्थी का स्वास्थ्य खराब होने पर उनकी बैठक व्यवस्था पृथक से करते हुए सोशल डिस्टेसिंग एवं शासन-प्रशासन द्वारा समय-समय पर जारी दिशा-निर्देश के अनुसार प्रवेश परीक्षा संचालन के लिए आवश्यक व्यवस्था की जाएगी।

कोविड-19 संक्रमण से बचाव व सावधानी को ध्यान मेें रखते हुए प्रयास आवासीय विद्यालय में प्रवेश परीक्षा के लिए विकासखंड स्तर पर परीक्षा केन्द्र बनाया गया है। खैरागढ़ विकासखंड के शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला खैरागढ़ में रोल नंबर 220001 से 220053 तक बैठक व्यवस्था की गई है।

इसी तरह डोंगरगढ़ विकासखंड के शासकीय बालक उच्चतर माध्यमिक शाला डोंगरगढ़ में रोल नंबर 220054 से 220093 तक, डोंगरगांव विकासखंड के शासकीय बालक उच्चतर माध्यमिक शाला डोंगरगांव में रोल नंबर 220094 से 220114 तक, मानपुर विकासखंड के शासकीय महाविद्यालय मानपुर में रोल नंबर 220115 से 220295 तक, छुरिया विकासखंड के सरस्वती उच्चतर माध्यमिक शाला छुरिया में रोल नंबर 220296 से 220442 तक, अंबागढ़ चौकी विकासखंड के शासकीय कन्या शिक्षा परिसर चौकी में रोल नंबर 220443 से 220602 तक, शासकीय बालक उच्चतर माध्यमिक शाला चौकी में रोल नंबर 220603 से 220730 तक, मोहला विकासखंड के शासकीय बालक पूर्व माध्यमिक शाला मोहला में रोल नंबर 220731 से 220831 तक, शासकीय कन्या पूर्व माध्यमिक शाला मोहला में रोल नंबर 220832 से 220931 तक, शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला में रोल नंबर 220932 से 221101 तक तथा शासकीय महाविद्यालय मोहला में रोल नंबर 221102 से 221269 तक बैठक व्यवस्था की गई है।
 

अंबागढ़ चौकी के प्राकृतिक सीताफल के मिठास का स्वाद अब ले सकेंगे जनसामान्य
08-Oct-2021 5:28 PM (33)

कलेक्टर ने अंबागढ़ फ्रेश सीताफल का किया शुभारंभ

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
राजनांदगांव, 8 अक्टूबर।
अंबागढ़ चौकी के प्राकृतिक सीताफल के मिठास का स्वाद अब जनसामान्य ले सकेंगे। अंबागढ़ चौकी विकासखंड के सघन वनों में सीताफल प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। वहीं आदिवासी परिवारों ने अपने घर के आंगन में भी सीताफल लगाएं है। इन वनों में आदिवासी परिवार आजीविका के लिए सीताफल संग्रहण का कार्य करते हंै। कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने गत् दिनों कलेक्टोरेट सभाकक्ष में अंबागढ़ फ्रेश सीताफल का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि सीताफल की ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग से समूह की महिलाओं की आर्थिक स्थिति मजबूत बनेगी। उन्होंने समूह की महिलाओं से सीताफल खरीदा और उनका उत्साहवर्धन किया। कलेक्टोरेट में समूह की महिलाओं ने सीताफल का स्टाल लगाया तथा उन्होंने 110 रुपए में 3 किलो के हिसाब से विक्रय किया। स्टाल से लगभग 444 किलो सीताफल का विक्रय किया गया। जिससे समूह की महिलाओं को लगभग 16 हजार 280 रूपए की आय हुई। 

गौरतलब है कि कई वर्षों तक बिचौलियों के माध्यम से आदिवासी परिवार सीताफल विक्रय करते थे और अब उनकी मेहनत को दिशा मिली है। आत्मा योजना के तहत अंबागढ़ चौकी विकासखंड के वनांचल ग्राम मुंजाल के जय मां दुर्गा स्वसहायता समूह को सीताफल संग्रहण, पैकेजिंग, ग्रेडिंग एवं ट्रांसपोर्टिंग का प्रशिक्षण दिया गया। सीताफल खाने के अनेक फायदे हैं। यह बच्चों के शारीरिक एवं मानसिक विकास में सहायक है तथा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। त्वचा एवं बालों के लिए लाभदायक है। दांत की समस्याओं को दूर करने में लाभप्रद तथा रक्तचाप का नियंत्रित करने में सहायक है। सीताफल से शरीर में ऊर्जा का विकास होता है तथा यह पानी की कमी को पूरा करता है। अस्थमा, हार्ट अटैक से बचाव तथा पाचन हेतु लाभदायक है। इससे खून की कमी दूर होती है तथा सोडियम, पोटेशियम एवं मैग्नीशियम जैसे आवश्यक पोषक तत्वों का उच्च स्रोत होता है। 

इस प्रोजेक्ट के लिए उप संचालक कृषि जीएस धु्रर्वे के मार्गदर्शन में कार्य किया गया। आत्मा योजना के डिप्टी प्रोजेक्ट डायरेक्टर आत्मा राजू कुमार, फिल्ड ऑफिसर स्वाति वासनिक, सुनीता कोर्राम, पुष्पा जुरेशिया ने सहयोग किया। 

आपसी सौहाद्र्र के साथ मनाएं त्यौहार
08-Oct-2021 5:27 PM (31)

कलेक्टर ने ली शांति समिति की बैठक

राजनांदगांव, 8 अक्टूबर। कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने आगामी त्यौहारों के दृष्टिगत शहर में शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था के लिए गत् दिनों पुलिस अधीक्षक कार्यालय सभाकक्ष में शांति समिति की बैठक ली। 
इस अवसर पर महापौर हेमा देशमुख उपस्थित थी। कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने कहा कि पितृपक्ष के बाद नवरात्रि, विजय दशमी और ईद-ए-मिलाद (मिलाद-उन-नबी) का त्यौहार आ रहा है। सभी आपसी सौहाद्र्र की भावना से त्यौहार मनाएं।
उन्होंने कहा कि ऐसा कोई कार्य नहीं करना चाहिए, जिससे विवाद की स्थिति उत्पन्न हो। प्रशासन आपस में समन्वय बनाने का कार्य करती है। सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाह फैलाने या असामाजिक तत्वों द्वारा तनाव फैलाने की कोशिश करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान विवादित स्थलों का चिन्हांकन किया जाएगा।

 उन्होंने कहा कि छोटी-छोटी घटनाओं से उत्तेजित होने की संभावना अधिक होती है, इसे दूर करना चाहिए। कानून व्यवस्था को बिगाडऩे वालों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। आम नागरिकों के सहयोग से ही शांति स्थापित किया जा सकता है। 
वर्षों पुरानी परंपरा और त्यौहारों को आपसी सद्भावना के साथ मनाएं। उन्होंने कहा कि नवरात्रि में मां बम्लेश्वरी मंदिर में प्रतिबंधों के साथ दर्शन करने की अनुमति रहेगी। पदयात्रा पर प्रतिबंध रहेगा। मां बम्लेश्वरी मंदिर में दर्शन के लिए कोविड-19 जांच निगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य है। वहीं टीका का दोनों डोज जरूर होना चाहिए।

महापौर हेमा देशमुख ने कहा कि यहां विभिन्न समुदाय के लोग रहते हैं और भेदभाव के बिना त्यौहारों को मनाते हैं। असामाजिक तत्वों की पहचान पहले ही कर ली जानी चाहिए। जिससे कोई भी विवाद की स्थिति होने के पहले ही रोक ली जाएं। उन्होंने कहा कि अवैध नशीले पदार्थों के स्थानों पर छापामार कार्रवाई की जानी चाहिए। 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रज्ञा मेश्राम ने कहा कि सोशल मीडिया पर नजर रखनी चाहिए। विवादित पोस्ट को शेयर करने से रोकना चाहिए। उन्होंने कहा कि त्यौहारों के दौरान चलायमान गतिविधियों पर प्रतिबंध रहेगा। असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगरानी रखते हुए कार्रवाई की जाएगी। बैठक में उपस्थित विभिन्न समाज प्रमुखों ने शहर में शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करने सुझाव दिए।

इस अवसर पर पूर्व महापौर मधुसूदन यादव, लीलाराम भोजवानी, पद्म कोठारी, कुलबीर छाबड़ा, एडीएम सीएल मारकण्डेय, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आकाश मरकाम, नगर निगम आयुक्त आशुतोष चतुर्वेदी, एसडीएम मुकेश रावटे सहित विभिन्न समाज प्रमुख एवं जिला व पुलिस प्रशासन के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

प्रतियोगिता में वनांचल के बच्चों ने किया उम्दा प्रदर्शन
08-Oct-2021 5:23 PM (37)

राजनांदगांव, 8 अक्टूबर। स्कूल शिक्षा विभाग छत्तीसगढ़ शासन के महत्वकांक्षी योजना पढ़ई तुंहर दुआर 2.0 के अंतर्गत स्कूली बच्चों में विकसित हुए कौशल एवं बौद्धिक स्तर को परखने के उद्देश्य से सभी विकासखंडों में चयनित छात्रों के पठन, लेखन एवं गणितीय कौशल की प्रतियोगिता जिला स्तर पर राजनांदगांव जिले में भी आयोजित की गई। इस प्रतियोगिता में मोहला वनांचल के बच्चों ने बीईओ राजेन्द्र कुमार देवांगन, बीआरसीसी खोमलाल वर्मा एवं शिक्षकों के कुशल मार्गदर्शन में भाग लेते बेहतरीन प्रदर्शन कर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते मोहला विकासखंड का मान बढ़ाया है।

मोहला बीआरसी खोमलाल वर्मा ने बताया कि जिला स्तरीय इस प्रतियोगिता में मोहला विकासखंड से प्राथमिक शाला कोटरालपारा से संस्कृति, शिक्षक संतोषी सलामे, प्राथमिक शाला बम्हनी से मोनिका, खोमेश्वरी, शिक्षक शैलेश उके, प्राथमिक शाला काड़े से गीतिका, शिक्षक खेमचंद ठाकुर, प्राथमिक शाला जडंगाटोला से सलिना गोटे, शिक्षक शिवचरण गावड़े, प्राथमिक शाला खमटोला से पुष्पेंद्र धनकर, शिक्षक केशव साहू ने भाग लिया। 
 

गांव-गांव तक पहुंच रही विधिक सहायता
08-Oct-2021 5:13 PM (29)

राजनांदगांव, 8 अक्टूबर। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत पैन इंडिया अवेरनेस एण्ड आउटरीच अभियान का प्रथम चरण 2 से 24 अक्टूबर तक तथा द्वितीय चरण 25 अक्टूबर से 14 नवम्बर तक संचालित किया जा रहा है। जिसके तहत जिला न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण राजनांदगांव विनय कुमार कश्यप के मार्गदर्शन में प्राधिकरण द्वारा गठित पैनल अधिवक्ता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं पैरालीगल वालंटियर के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को कानूनी जानकारी दी जा रही है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण राजनांदगांव द्वारा विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया जा रहा है। जिसका शुभारंभ जिला मुख्यालय तथा अधीनस्थ तालुका विधिक सेवा समिति डोंगरगढ़, खैरागढ़, अंबागढ़ चौकी एवं छुईखदान में प्रभात फेरी निकालकर किया गया। 

जिला एवं तहसील अंतर्गत 353 ग्रामों में विधिक जागरूकता शिविरों का आयोजन किया जा चुका है। यह शिविर 14 नवम्बर तक जारी रहेगा। ग्रामों के साथ-साथ यह शिविर न्यायालय परिसर एवं अन्य स्थानों में भी शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त जिला जेल राजनांदगांव व उपजेल डोंगरगढ़, खैरागढ़ में एक-एक खण्डपीठ का गठन कर जेल लोक अदालत का आयोजन भी सुनिश्चित कराया गया।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव  देवाशीष ठाकुर ने बताया कि कार्यक्रम अंतर्गत विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा कार्य-योजना के अनुसार जिले के सभी ग्रामों, रेल्वे स्टेशनों, स्कूलों, महाविद्यालयों एवं अन्य सार्वजनिक स्थानों पर विधिक जागरूकता शिविरों आयोजित की जा रही है। पैनल अधिवक्ताओं एवं पैरालीगल वालंटियर की 11 टीम प्रतिदिन 5-6 ग्रामों में कानूनी जानकारी नागरिकों को दे रहे हैं। 

इसके अतिरिक्त जिले के न्यायाधीशगण का भी सहयोग लिया जा रहा है। अभियान के दौरान प्रमुख दिवस जैसे गांधी जंयती, मानसिक स्वास्थ्य दिवस, अंतर्राष्ट्रीय बालिका शिशु दिवस, विश्व विद्यार्थी दिवस, संयुक्त राष्ट्र दिवस, विधिक सेवा दिवस, बाल दिवस पर भी विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। सभी न्यायालय परिसर में लीगल एंड क्लीनिक हेंल्प डेस्क की स्थापना की गई है। जिसमें जरूरतमंद पक्षकारों को नि:शुल्क विधिक सहायता एवं विधिक जानकारी प्रदान की जा रही है।

प्राधिकरण द्वारा ग्राम पंचायत में ग्राम सभा के माध्यम से पैरालीगल वालिंटियर्स द्वारा ग्रामवासी को उपयुक्त स्थल पर उपस्थित होने और संबंधित ग्राम के ग्राम सचिव व जनप्रतिनिधियों का सहयोग व समन्वय के लिए प्रयास किया जा रहा है। इस संबंध में समुचित निर्देश हेतु जिला पंचायत एवं जनपद पंचायतों तथा जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग से अपील किया गया है कि वे अभियान में अपना महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान कर सफल बनाएं। अभियान अंतर्गत नालसा की विधिक सेवा योजनाओं, नालसा एप्प, डाक के माध्यम से विधिक सहायता, नि:शुल्क विधिक सलाह एवं सहायता, मोटर यान दुर्घटना एक्ट अंतर्गत कानूनी जानकारी, हमर अंगना योजना के तहत घरेलू हिंसा, पीडि़त क्षतिपूर्ति योजना, करूणा योजना आदि के अंतर्गत विधिक जानकारी जन-जन तक पहुंचाया जा रहा है। यूट्यूब चैनल में जन-चेतना, जिसमें सरल भाषाओं में कानूनी जानकारी अपलोड की गई है। विधिक सेवा प्राधिकरण इसके माध्यम से प्रत्येक निर्धन वर्ग तक पहुंच कर अथक प्रयास पर कार्यरत है।  

 

मोदी ने किया पीएम केयर से स्थापित ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन
08-Oct-2021 4:47 PM (37)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
राजनांदगांव, 8 अक्टूबर।
प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने कल उत्तराखंड से वर्चुअल मोड में राज्यों के विभिन्न जिलों में पीएम केयर से स्थापित ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया। इस दौरान कलेक्टोरेट सभाकक्ष से सांसद संतोष पाण्डेय एवं कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा जुड़े रहे।
 इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष गीता साहू, विधायक प्रतिनिधि लीलाराम भोजवानी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी, डीपीएम गिरीश कुर्रे सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
 

तेंदुए के हमले में दंपत्ति समेत 3 जख्मी
08-Oct-2021 2:42 PM (37)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 8 अक्टूबर।
मोहला वन परिक्षेत्र के माडिंगपीडिंग (धेनु) गांव में गुरुवार देर रात को तेन्दुए के हमले में एक दंपत्ति समेत तीन ग्रामीण जख्मी हो गए हैं। रात करीब 10 बजे घर में सोए दंपत्ति पर हमला करने के बाद तेन्दुए ने एक और ग्रामीण पर हमला कर घायल कर दिया। 
मिली जानकारी के मुताबिक माडिंगपीडिंग धेनु में लालसिंह नुरेटी और उनकी पत्नी नवेश्वरी नुरेटी रात को खाना खाने के बाद सो रहे थे। एकाएक एक तेन्दुए ने दोनों पर हमला कर दिया। हमले के बाद शोरगुल मचते देखकर तेन्दुआ वहां से भागने लगा। भागते हालत में भी तेन्दुए ने एक अन्य ग्रामीण श्यामसिंह गोटा को भी पंजा मारकर घायल कर दिया। 

रात को गांव में तेन्दुए की मौजूदगी से अफरा-तफरी मच गई। किसी तरह एम्बुलेंस से तीनों घायलों को मोहला के सरकारी अस्पताल लाया गया। गंभीर हालत का हवाला देकर चिकित्सकों ने तीनों को राजनांदगांव जिला चिकित्सालय रिफर कर दिया। 
इस संबंध में वन एसडीओ आरके गजभिये ने ‘छत्तीसगढ़’  को बताया  कि तेन्दुए के हमले की घटना की जानकारी ली जा रही है। मौके पर जाकर वस्तुस्थिति का पता लगाया जा रहा है। 

सूत्रों का कहना है कि माडिंगपीडिंग धेनु गांव से सटे मोतीपुर के ग्रामीणों ने ही तेन्दुए को अवैध रूप से पाला था। इस मामले से वन महकमा बेखबर था। मिली जानकारी के मुताबिक तेन्दुए के हिंसक वारदात के बाद मोतीपुर के बाशिंदों के खिलाफ गांव में नाराजगी है। इस बीच मोहला पुलिस ने घायलों को अस्पताल से राजनांदगांव भेजने के लिए तत्परतापूर्वक कार्रवाई की। पुलिस और वन महकमा घटनाक्रम पर नजर रखे हुए हैं। 
 

महाराष्ट्र गया हाथी दल फिर लौटा
08-Oct-2021 2:41 PM (29)

राजाडेरा जंगल बना स्थाई ठिकाना

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 8 अक्टूबर।
मोहला के अंदरूनी जंगल राजाडेरा में हाथियों का झुंड स्थाई ठिकाना बना सकता है। पखवाड़ेभर से इसी जंगल में हाथियों का दल जमा हुआ है। महाराष्ट्र के सीमावर्ती जंगलों में दाखिल होने के बाद फिर से हाथियों का झुंड राजाडेरा में लौट आया है। वहीं मोहला ब्लॉक के ही दूसरे इलाके मिस्प्री, हिडक़ोटोला और रानकट्टा से भी विचरण कर हाथी राजाडेरा में ही लौट गए हैं। 

वन महकमे के लिए हाथियों की मौजूदगी परेशानी का कारण बनी हुई है। हाथियों के जंगल में डेरा जमाने से मैदानी अमले को सुरक्षा के लिहाज से हाथियों पर निगरानी रखने के लिए परेशानी उठानी पड़ रही है। इस इलाके के ग्रामीण हाथियों के चहल-कदमी से डरे-सहमे हुए हैं। 
वन महकमे के शीर्ष अफसरों का कहना है कि राजाडेरा की प्राकृतिक स्थिति हाथियों को भा रही है। इस जंगल में बांस, केला और मक्के की फसल होने से हाथियों को पर्याप्त खानपान मिल रहा है। राजाडेरा  का घना जंगल भी हाथियों के रहवास के लिए अनुकूल माना जा रहा है। हाथियों के दल ने अब तक मामूली ही नुकसान पहुंचाया है। कहीं-कहीं फसलों को हाथियों ने रौंद दिया। वहीं कच्चे मकानों को भी हाथियों ने धराशाही किया है। राजाडेरा के आसपास घने जंगलों में मिस्प्री और हिडक़ोटोला भी शामिल है, लेकिन हाथियों को वहां की परिस्थितियां अनुकूल नहीं लग रही है।

इस संबंध में मानपुर वन डिवीजन के एसडीओ आरके गजभिये ने ‘छत्तीसगढ़’ से कहा कि हाथियों को संभवत: राजाडेरा की प्राकृतिक वादियां अनुकूल लग रही है। जिसके चलते दल घूम-फिरकर सी जंगल में लौट रहा है। यह संभावना है कि स्थाई रूप से हाथी अगले कुछ दिनों तक इसी जंगल में जमे रह सकते हैं। उधर मैदानी अमले को सतर्कतता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। जंगल के बाशिंदों को हाथियों से बचाव के उपाय भी बताए गए हैं। हाथियों के निर्धारित आवाजाही वाले रास्तों में ग्रामीणों को बाधा नहीं पहुंचाने की सलाह दी गई है। 
मिली जानकारी के मुताबिक दो दर्जन हाथियों में कुछ बच्चे भी शामिल हंै। बच्चों की सुरक्षा को लेकर हाथी जरा भी इंसानी दखल पसंद नहीं करते हैं। यही कारण है कि हाथियों के साथ छेड़छाड़ नहीं करने और दूर रहने की जानकारी ग्रामीणों को मैदानी अमले की ओर से दी जा रही है। 

पुलिस का ढीला रवैया और देर से एफआईआर कवर्धा हिंसा की असल वजह- अभिषेक
08-Oct-2021 2:40 PM (43)

एडीजी समेत अफसरों पर राजनीति करने का आरोप

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 8 अक्टूबर।
कवर्धा में हुए हिंसा को लेकर राजनांदगांव के पूर्व सांसद अभिषेक सिंह ने खुलकर घटना के लिए पुलिस के ढीले रूख और देर से एफआईआर दर्ज करने को असल वजह बताते कहा कि दो पक्षों के बीच शुरू हुए विवाद का पटाक्षेप मौके पर ही किया जा सकता था। पुलिस की लापरवाही से एक शांत शहर हिंसाग्रस्त वातावरण में चला गया। अब पुलिस अपनी कारगुजारियों को छुपाने के लिए एकतरफा भाजपा नेताओं पर मामला बना रही है। 

कवर्धा पुलिस द्वारा अपने ऊपर दर्ज किए गए आपराधिक प्रकरण को लेकर श्री सिंह ने कहा कि पुलिस जानबूझकर एकपक्षीय कार्रवाई कर रही है। इससे साफ जाहिर हो रहा है कि पुलिस दो समुदाय के बीच छिड़े विवाद को सही तरीके से संभालने में नाकाम रही है। 
‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा करते श्री सिंह ने कहा कि 3 अक्टूबर से शुरू हुए झंडा लगाने की घटना में पुलिस तमाशबीन होकर खड़ी रही। सिंह का आरोप है कि एक विशेष वर्ग द्वारा झंडा लगाने के दौरान थाना प्रभारी ने ही दुर्गेश नामक युवक को बुलाया। जिसके चलते एक वर्ग ने युवक की बेदम पिटाई कर दी। 

श्री सिंह ने कहा कि कवर्धा शहर को सोची समझी रणनीति के तहत ही सांप्रदायिक झगड़े में झोंका गया। पुलिस यदि तत्परता दिखाते कार्रवाई करती तो आज हालात भयावह नही होते। 
पूर्व सांसद का आरोप है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एडीजी अब पूरे मामले में पुलिस की नाकामियों को छुपाने के लिए भाजपा को दोषी ठहरा रहे है। पुलिस ने लाठीचार्ज कर भी लोगों को भडक़ने के लिए विवश किया। श्री सिंह ने कहा कि कवर्धा का इतिहास हमेशा से भाई-चारा की संस्कृति का रहा है। दो पक्षों को आपस में भिडऩे के लिए एक कृत्रिम माहौल बनाया गया। 

‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में श्री सिंह ने कहा कि किसी भी विवाद का हल तुरंत कदम उठाना ही एकमात्र सशक्त जरिया है। पुलिस की कमजोरी से शहर जल गया। 
उन्होंने ‘छत्तीसगढ़’ अखबार के माध्यम से कवर्धा के बांशिदों से अपील में कहा कि सयंम रखकर शांति का माहौल बनाए। किसी भी तरह के भ्रामक तथ्यों पर ध्यान न दें। खुद पर एफआईआर दर्ज पर उन्होंने कहा कि मीडिया के जरिए जानकारी मिली है। पुलिस की ओर से अब तक कोई जानकारी नहीं पहुंची है।

डेढ़ साल बाद नवरात्र में खुले मंदिरों के पट
07-Oct-2021 7:34 PM (48)

देवी दर्शन के लिए पहले दिन भक्तों का तांता

छत्तीसगढ़ संवाददाता

राजनांदगांव, 7 अक्टूबर। कोरोना संक्रमण की मार से करीब डेढ़ साल से नवरात्र के मौके पर बंद पड़े मंदिरों के पट खोल दिए गए हैं। देवी दर्शन के लिए पहले दिन लोगों का मंदिरों में तांता लगा रहा। मां बम्लेश्वरी समेत जिलेभर के बड़े मंदिरों को दर्शनार्थ खोलने की प्रशासनिक अनुमति दी गई है। इसके लिए कुछ नियम-शर्तें भी बनाई गई है। मंदिरों में पहुंचे भक्तों ने मां का दर्शन करते अपनी कामना रखी।

करीब डेढ़ वर्ष बाद कोरोना संक्रमण का असर कम होने के बाद मंदिरों को खोला गया है। देवी दर्शन करने के लिए गुरुवार सुबह से लोग सपरिवार मंदिरों तक पहुंचने लगे। मां बम्लेश्वरी के ऊपर और नीचे मंदिर में दर्शन करने के लिए लोग सुबह से ही पहुंचे। इधर पंडालों में समितियों द्वारा प्रतिमा स्थापना के लिए तैयारी दिखाई दी। प्रशासन ने मूर्ति के लिए एक निश्चित मापदंड तय कर दिया है। विशालकाय मूर्तियों की अपेक्षा प्रशासनिक अनुमति के तहत ही मूर्तियों की स्थापना के निर्देश जारी किए गए हैं। मां दुर्गा के उपासकों को इस साल दर्शन करने की अनुमति से काफी राहत मिली है।

मिली जानकारी के मुताबिक शहर के प्रमुख पंडालों में ही देवी की स्थापना की जाएगी। गुरुवार देर शाम तक मूर्तियों को पंडालों में स्थापित किया जाएगा। वहीं सेवा भजन मंडली को लेकर भी प्रशासन ने एहतियात बरतने के साथ सेवा भजन करने की अनुमति दी है। शहर के मां पाताल भैरवी मंदिर, शीतला मंदिर, पुराना बस स्टैंड स्थित काली माई मंदिर समेत अन्य मंदिरों में आज सुबह से ही भक्त दर्शन के लिए पहुंचे। इधर शहर के नंदई, बांसपाई पारा, दुर्गा चौक, स्टेशनपारा समेत अन्य स्थानों के पंडालों समेत ग्रामीण क्षेत्रों में भी मां दुर्गा प्रतिमा की स्थापना की जा रही है।

मां बम्लेश्वरी के दर्शन के लिए पोर्टल में रजिस्टे्रशन करा सकेंगे श्रद्धालु
07-Oct-2021 7:32 PM (62)

कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लाना आवश्यक

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

राजनांदगांव, 7 अक्टूबर। आगामी क्वांर नवरात्र में डोंगरगढ़ स्थित मॉँ बम्लेश्वरी के दर्शन के लिए श्री बम्लेश्वरी मंदिर ट्रस्ट द्वारा दर्शन रजिस्ट्रेशन पोर्टल https://portal.bamleshwari.org  तैयार किया गया है। सीमित प्रतिबंधों के साथ श्रद्धालुओं को दर्शन की अनुमति होगी। दर्शन पोर्टल में पंजीयन कराकर ई-पास प्राप्त कर दर्शनार्थी माता के दर्शन कर सकेंगे। पदयात्रा, मेला एवं मीनाबाजार इस दौरान प्रतिबंधित रहेगा। दर्शन के दौरान श्रद्धालुओं को अपने साथ कोविड-19 टीकाकरण अथवा कोविड-19 की टेस्ट रिपोर्ट साथ में लेकर आना अनिवार्य होगा।

मां बम्लेश्वरी दर्शन बुक करने के लिए  https://portal.bamleshwari.org वेब पेज पर लॉगिन करें। प्रति लॉगिन आईडी में अधिकतम 10 व्यक्ति रजिस्टर किये जा सकते हैं। सभी श्रद्धालुओं को रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य है। यात्रियों को दोनों मंदिरों में दर्शन हेतु अलग-अलग समय आबंटित किया जाएगा। दर्शनार्थियों को एक निश्चित संख्या में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। मास्क के बिना प्रवेश नहीं दिया जाएगा। श्रद्धालुगण सेनेटाइजर, मास्क आदि स्वयं लेते हुए आएं। केवल देवी दर्शन की अनुमति होगी, जो व्यक्ति बिना मास्क के पाए जाएंगे उनकी टेस्टिंग की जाएगी। मंदिर दर्शन के दौरान कोविड-19 गाइडलाइन का पालन किया जाना अनिवार्य है।

मुख्यमंत्री गौरव अलंकरण शिक्षादूत से सम्मानित हुए शिक्षक
07-Oct-2021 5:09 PM (28)

राजनांदगांव, 7 अक्टूबर। खैरागढ़ विधायक देवव्रत सिंह ने खैरागढ़ विकासखंड के प्राथमिक शाला कुसियारी के शिक्षक ललित कुमार साहू को मुख्यमंत्री गौरव अलंकरण शिक्षादूत सम्मान से जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान खैरागढ़ में आयोजित कार्यक्रम में सम्मानित किया। 
शिक्षक ललित कुमार साहू स्कूल के बच्चों को नित नए नवाचार के माध्यम से आगे बढऩे के लिए प्रेरित कर रहे हंै। उनके द्वारा खेल-खेल में शिक्षा, कबाड़ से जुगाड़, साहित्यिक गतिविधियों एवं सांस्कृतिक गतिविधियों, टीएलएम का निरंतर प्रयोग आदि कार्यों में विशेष रूप से ध्यान दिया जाता है। जिससे बच्चों में शिक्षा के प्रति उत्साह बना रहता है और कक्षा में बच्चों की उपस्थिति भी हमेशा अच्छी रहती है। शिक्षक श्री साहू द्वारा कोरोना के समय मोहल्ला क्लास लगाकर बच्चों को शिक्षा प्रदान की गई।
जिससे बच्चों में पढ़ाई के प्रति रूचि बनी रहे।
कार्यक्रम में यशोदा नीलाम्बर वर्मा, विकासखंड शिक्षा अधिकारी महेश भुआर्य, प्राचार्य तारिणी सिंह , बीआरसी भगत सिंह, संकुल समन्वयक विभाश पाठक, निमेश सिंह, धृतेंद्र सिंह, निखिल सिंह, रामेश्वर वर्मा, मीडिया प्रभारी कोमल कोठारी सहित अन्य शिक्षक उपस्थित थे।

गर्भावस्था में लिंग की जांच करवाना अपराध : श्रीवास्तव
07-Oct-2021 5:09 PM (31)

प्रोफेशन के साथ नैतिक मूल्योंं का पालन करना बहुत जरूरी 

अवैध सोनोग्राफी सेंटर सील 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
राजनांदगांव, 7 अक्टूबर।
प्री कॉन्सेप्शन एण्ड प्री नेटल डॉयग्नोस्टिक टेक्निक (पीसीपीएनडीटी) एक्ट अंतर्गत गत् दिनों कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला सलाहकार समिति के सदस्यों, जिला स्तरीय निरीक्षण एवं निगरानी समिति के सदस्यों व शासकीय एवं निजी रेडियोलॉजिस्ट का प्रशिक्षण आयोजित किया गया। 

राज्य नोडल अधिकारी पीसीपीएनडीटी संयुक्त संचालक डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव ने कहा कि गर्भावस्था में लिंग की जांच करवाना अपराध है और ऐसा करने एवं कराने वाले दोनों को कानून कड़ी सजा देता है। इससे भ्रूण हत्या जैसे जघन्य अपराध को बढ़ावा मिलता है। हमारे प्रदेश में माता एवं बहनों को ऊंचा दर्जा दिया गया है। सभी सोनोग्राफी सेंटर में हिन्दी, अंग्रेजी एवं छत्तीसगढ़ी भाषा में एकरूपता के साथ जागरूकता के लिए गर्भावस्था में लिंग जांच अपराध है, संबंधी बोर्ड अनिवार्य रूप से लगाएं। इसके साथ ही बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं अभियान से संबंधित पोस्टर भी लगाएं। 

उन्होंने बताया कि आज गंडई विकासखंड सोनोग्राफी सेन्टर का बिना किसी पूर्व सूचना के आकस्मिक निरीक्षण किया गया तथा नियमानुसार संचालित नहीं होने पर सेंटर को सील करने की कार्रवाई की गई। उन्होंने कहा कि नियमों का पालन नहीं होने की स्थिति में आगे भी इस तरह की कार्रवाई की जाएगी। डॉक्टर के प्रोफेशन के साथ नैतिक मूल्योंं का पालन करना बहुत जरूरी है। 

उन्होंने कहा कि सोनोग्राफी मशीन का जिस स्थान एवं भवन के लिए रजिस्ट्रेशन किया गया है, वही होना चाहिए। इसके साथ ही फार्म एफ समय पर स्वास्थ्य विभाग के वेबसाईट में अपलोड होना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी अयोग्य व्यक्ति सेे क्लीनिक में सेवाएं न लें। शासन द्वारा पीसीपीएनडीटी एक्ट के संबंध में संशोधन या नये दिशा-निर्देश की जानकारी रखें। 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने राज्य से आए अधिकारियों का आभार व्यक्त करते कहा कि समय-समय पर ऐसे प्रशिक्षण होते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि पीसीपीएनडीटी एक्ट के तारत्मय में सभी सोनोग्राफी सेन्टर सर्तकता के साथ नियमों का पालन करें। उन्होंने कहा कि गर्भावस्था में लिंग चयन विधि के विरूद्ध है। यह सभी सोनोग्राफी सेंटर में बोर्ड में लिखा होना चाहिए। पीसीपीएनडीटी कन्सलटेन्ट डॉ. वर्षा राजपूत ने बताया कि बालिका लिंगानुपात पर ध्यान देते कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने पीसीपीएनडीटी एक्ट में रजिस्ट्रेशन के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने बताया कि यह कानून 1994 में लागू हुआ था तथा लिंग चयन होने की स्थिति में उसके दुरूपयोग की आशंका को ध्यान में रखते यह कानून लाया गया है। उन्होंने सोनोग्राफी सेन्टर संचालकों को ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन एवं रिनिवल के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने सोनोग्राफी मशीन से संबंधित आवश्यक दिशा-निर्देश एवं फार्म एफ भरने के संबंध में बताया। उन्होंने कहा कि सभी सोनोग्राफी सेन्टर में रजिस्ट्रेशन सर्टीफिकेट, डॉक्टर का नाम एवं अन्य जानकारी डिस्प्ले करें। 
इस अवसर पर उप संचालक स्वास्थ्य विभाग डॉ. महेन्द्र सिंह, जिला अभियोजन अधिकारी नारायण कन्नौजे, उप संचालक जनसंपर्क डॉ. उषा किरण बड़ाईक, समाजसेवी शारदा तिवारी, स्वास्थ्य विभाग के अखिलेश चोपड़ा एवं सोनोग्राफी सेन्टर के संचालक उपस्थित थे।
 

भाजपा महिला मोर्चा में फिर घमासान
07-Oct-2021 4:58 PM (28)

महिला आयोग पूर्व सदस्य रेखा मेश्राम की महामंत्री से कहा-सुनी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
राजनांदगांव, 7 अक्टूबर।
अंतर्कलह से जूझ रही भाजपा के साथ महिला मोर्चा में भी घमासान मचा हुआ है। भाजपा महिला मोर्चा की दक्षिण मंडल की महामंत्री गीता साहू ने पूर्व महिला आयोग सदस्य रेखा मेश्राम तथा माधुरी जैन के खिलाफ बीते दिनों सियासी मतभेद के चलते हुए विवाद को लेकर भाजपा जिलाध्यक्ष मधुसूदन यादव से लिखित में शिकायत की है। महिला आयोग की पूर्व सदस्य श्रीमती मेश्राम और माधुरी जैन पर शिकायतकर्ता ने निजी रूप से टिप्पणी करने के साथ बुरा बर्ताव करने के मामले को लेकर संगठन से कार्रवाई करने की भी मांग की है।

बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले पार्टी कार्यालय में गीता साहू की मौजूदगी में रेखा मेश्राम और माधुरी जैन ने निजी जिंदगी से जुड़े मामलों को लेकर सख्त टिप्पणी की। इस बात से आहत होकर गीता साहू ने जब आपत्ति की तो रेखा मेश्राम ने भडक़ते हुए चुप रहने की नसीहत दी। 

बताया जा रहा है कि आपसी विवाद के बीच गीता साहू के निजी जिंदगी से जुड़े विषयों को लेकर भी टिप्पणी की गई है। इससे दुखी होकर महामंत्री गीता साहू ने जिलाध्यक्ष मधुसूदन यादव के नाम पर एक आवेदन देते हुए कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। सूत्रों का कहना है कि श्रीमती साहू ने पार्टी के अन्य प्रमुख नेताओं को भी घटना से अवगत कराते हुए कार्रवाई करने के लिए आवेदन दिया है। 

हालांकि जिलाध्यक्ष श्री यादव ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि घटना के संबंध में किसी तरह का आवेदन अब तक नहीं दिया गया है। उन्होंने कहा कि अन्य नेताओं को दिए गए आवेदन के संबंध में जानकारी नहीं है। 
इस संबंध में गीता साहू ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि शिकायत के विषय पर जिलाध्यक्ष ही अधिकृत जानकारी दे पाएंगे। यह पार्टी का अंदरूनी मामला है। 

ज्ञात हो कि भाजपा महिला मोर्चा में खींचतान पूरे चरम पर है। कुछ महीनों पहले हुए महिला मोर्चा की नियुक्तियों को लेकर जमकर विवाद हुआ था। विवादित चेहरों को महिला संगठन में शामिल किए जाने से उठा विवाद बमुश्किल आला नेताओं के दखल के बाद पटाक्षेप हुआ।
 

सडक़ हादसे में एक ही गांव के तीन युवकों की मौत
07-Oct-2021 4:56 PM (146)

नवरात्र की खुशी मातम में बदली 

गंडई का चकनार गांव शोक में डूबा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
राजनांदगांव, 7 अक्टूबर।
भीषण सडक़ हादसे में एक ही गांव के तीन युवकों की मौत से नवरात्रि की तैयारी में जुटे गंडई से सटे चकनार गांव मातम में डूबा हुआ है। मंगलवार देर रात को एक पेट्रोल पंप के सामने खड़ी कंटेनर में भिडऩे से कार में सवार तीन युवकों की मौत हो गई। सडक़ किनारे खड़ी कंटेनर को तेज रफ्तार में युवकों की कार ने पीछे से सीधा ठोंक दिया। जोरदार टक्कर मारने के चलते तीनों तीनों युवकों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। 

मिली जानकारी के मुताबिक चकनार गांव के कौशल साहू, निखिल जंघेल और बाबूलाल शोरी रात करीब 10 बजे तेज रफ्तार में कार में सवार थे। इसी बीच कार ने पीछे से कंटेनर को ठोंक दिया। पुलिस सूत्रों का कहना है कि इस लोमहर्षक घटना में कार के परखच्चे उड़ गए। वहीं तीनों युवकों की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। कड़ी मशक्कत के बाद तीनों युवकों के शव को बाहर निकाला गया। 

मिली जानकारी के मुताबिक कार की रफ्तार तेज होने के कारण तीनों युवकों की जान चली गई। कंटेनर को ठोंकने के कारण युवकों की कार बुरी तरह से कंटेनर में फंस गई। कार का सामने और कंटेनर का पिछला हिस्सा आपस में फंस गया। तीनों युवकों की मौत की खबर से चकनार गांव में माहौल गमगीन हो गया। घंटों की कोशिश के बाद किसी तरह युवकों के शव को बाहर निकाला गया। 

इस बीच बुधवार दोपहर बाद तीनों युवकों के शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया। एक ही गांव के तीन युवकों की जान जाने की घटना से समूचा गांव सदमे में है। तीन अलग-अलग परिवारों के नौजवानों को खोने से गांव में नवरात्र की तैयारी भी सिमट गई। घटना से परिवार के लोग सकते में है।

 

इंटरनेट सेवाएं ठप होने से व्यापार और सरकारी कामकाज दूसरे दिन भी चौपट
07-Oct-2021 4:39 PM (35)

ऑनलाइन सेंटर परेशानी में

छत्तीसगढ़ संवाददाता
राजनांदगांव, 7 अक्टूबर।
बुधवार से बंद पड़ी इंटरनेट सेवाएं गुरूवार को भी बहाल नहीं हुई। इंटरनेट की सुविधा से लैस ऑनलाईन सेंटर दूसरे दिन भी परेशानी में पड़े रहे। खासतौर पर जिओ नेटवर्क के ग्राहकों के लिए पिछला 24 घंटा कामकाज के लिहाज से परेशानी बढ़ाने वाला रहा। मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में डजओ नेटवर्क तकनीकी कारणों से ठप रहा। बिना इंटरनेट के सरकारी और गैर सरकारी कार्यालयों समेत मोबाइल धारकों के काम पर प्रतिकूल असर रहा। डजओ के अलावा एयरटेल व आइडिया मोबाइल ग्राहक भी इंटरनेट बंद होने से दिक्कत में रहे। इंटरनेट सुविधा के ध्वस्त होने से सर्वाधिक नुकसान साइबर और ऑनलाइन सेंटरों को हुआ। 

नौकरी और अन्य वैध दस्तावेज बनाने के लिए सेंटर पहुंचे लोगों को मायूस होकर वापस लौटना पड़ा। इंटरनेट के जरिये रोज होने वाले कार्य एकदम से थमा गए। बैंकों में भी सेवाएं नहीं होने सेे ग्राहकों को रकम स्थानांतरित करने में परेशानी हुई। हालांकि कुछ सरकारी विभागों में विशेष साप्टवेयर होने से महत्वपूर्ण कार्य निपटाया गया। दैनिक कार्यों के लिए इंटरनेट एक सशक्त जरिया है। यही कारण है कि लोगों को बगैर इंटरनेट कार्य करने में मानसिक तनाव केे दौर से भी गुजरना पड़ा। तहसील कार्यालय में प्रशासनिक काम पर भी इंटरनेट ठप होने से बुरा असर रहा। आय-जाति और आधार कार्ड बनाने के लिए पहुंचे जरूरतमंद लोगों को उल्टे पांव वापस लौटना पड़ा। बुधवार सुबह एकाएक मोबाइल और इंटरनेट सेवा के बंद होने से सोशल मीडिया भी थम गया। वाट्सअप और फेसबुक समेत अन्य मैसेजिंग सेवाओं के बंद होने से हाहाकार की स्थिति बनी हुई है। पिछले दो दिनों सेे इंंटरनेट बंद होने के कारण लोगों को व्यापारिक कामकाज में घाटा भी उठाना पड़ा। एसएमएस सेवा बंद होने से ग्राहकों को आवश्यक संदेश देने अड़चने खड़ी रही।

 

कवर्धा घटना: सीएम-वन मंत्री का भाजयुमो ने फूंका पुतला
07-Oct-2021 4:38 PM (37)

एक वर्ग पर एकतरफा कार्रवाई के खिलाफ में प्रदर्शन

छत्तीसगढ़ संवाददाता
राजनांदगांव, 7 अक्टूबर।
कवर्धा में दो समुदाय के बीच हुए विवाद की घटना में पुलिस की एक पक्ष के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई का आरोप लगाते हुए गुरुवार को भाजयुमो ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और वन मंत्री मोहम्मद अकबर का पुतला फूंका। 
भाजयुमो का आरोप है कि दंगे में कार्रवाई के नाम पर एक ही समुदाय को पुलिस द्वारा निशाना बनाया जा रहा है। पुलिस के इस रवैये से पीडि़त समुदाय में नाराजगी व्याप्त है। स्थानीय मानव मंदिर चौक में भाजयुमो अध्यक्ष मोनू बहादुर सिंह के नेतृत्व में सीएम और वन मंत्री का पुतला फूंकते हुए कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की। भाजयुमो जिलाध्यक्ष बहादुर का आरोप है कि कवर्धा में हुए हादसे की निंदा संगठन करता है, लेकिन कार्रवाई के लिए सिर्फ एक समुदाय को जिम्मेदार ठहराते हुए पुलिसिया कार्रवाई की जा रही है। दोनों समाज के जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई करना न्यायसंगत होगा, लेकिन राज्य सरकार और अफसरों के इशारे पर एक ही कौम को जिम्मेदार ठहराते हुए गिरफ्तार कर रही है। बहादुर ने अपनी मांग में कहा कि कानून व्यवस्था दोबारा न बिगड़े इसके लिए शासन-प्रशासन को ध्यान रखना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि कवर्धा के सुकुन-शांति को भंग करने के लिए मुख्यमंत्री और वन मंत्री जिम्मेदार हैं। इसलिए दोनों का पुतला जलाकर विरोध किया गया है। इस दौरान सरकार विरोधी भाजयुमो कार्यकर्ताओं ने नारे भी लगाए। पुतला फूंकने के दौरान तरूण लहरवानी, आलोक श्रोती, किशुन यदु, प्रखर श्रीवास्तव, आशीष जैन, शरद सिन्हा, आशीष डोंगरे समेत अन्य कार्यकर्ता शामिल थे। वहीं सीएसपी लोकेश देवांगन, कोतवाली टीआई अलेक्जेंडर किरो, बसंतपुर टीआई आशीर्वाद रहटगांवकर, पुलिस जवान भोला सिंह प्रदर्शन के दौरान मौजूद थे।
 

युगांतर में गांधी-शास्त्री जयंती मनी
05-Oct-2021 6:29 PM (28)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 5 अक्टूबर।
युगांतर पब्लिक स्कूल में गाँधी और शास्त्री जयंती संस्था के प्राचार्य, चेयरमैन सुरेश अग्रवाल एवं एकेडमिक हेड शैलजा एम नायर की उपस्थिति में मनाई गई। इस दौरान अतिथियों के द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के तैल्य-चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की गई। 

इस उपलक्ष्य में आयोजित प्रार्थना सभा में गाँधी जी के प्रिय भजनों का गान किया गया। इनमें वैष्णव जन ते तेने कहिए, रघुपति राघव राजा राम प्रमुख रहे। विद्यार्थियों ने अपनी कविता एवं भाषण के माध्यम से शानदार प्रस्तुतियाँ दीं। इनमें मृणनयनी भंडारकर, खुशी बया, श्रेयांक साहू, मृणालिनी रेड्डी, अभिषेक दास, अभिनव साहू, दीप्ति मानकर, भूमि अग्रवाल, अरविंद अनंत, गीतांजलि ठाकुर, शिवम महावर, प्रगति मजमुदार, श्रुति साहू, स्वस्तिका शर्मा, युवराज चौहान, महिमा हलदर, सार्थक वैष्णव, कार्तिक नायर की प्रस्तुतियाँ सराहनीय रही। सभी विद्यार्थियों ने अपनी प्रस्तुतियों के माध्यम से गाँधी जी एवं शास्त्री जी के पद-चिहों पर चलने का संकल्प लिया।       

इस कड़ी में चेयरमैन सुरेश अग्रवाल ने कहा कि महात्मा गांधी जी और शास्त्री जी का पूरा जीवन प्रेरणादाई है। उन्होंने आगे कहा कि संस्था में इस तरह का रचनात्मक आयोजन से विद्यार्थियों को नई प्रेरणा मिलती है। उन्होंने विद्यार्थियों को मंच में विचारों के  प्रस्तुतिकरण के समय प्रसंग परिवर्तन करने की कला भी बताई। प्राचार्य ने भी सभी विद्यार्थियों को गांधी जी एवं शास्त्री जी के पद-चिंहों में चलने का आव्हान किया। प्रार्थना-सभा के अंत में सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं एवं विद्यार्थियों के द्वारा महात्मा गांधी एवं शास्त्री जी के तैल्य-चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की गई।
 

भाजपा ने चलाया स्वच्छता पखवाड़ा अभियान, पर्यावरण संरक्षण की शपथ दिलाई
05-Oct-2021 6:28 PM (49)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 5 अक्टूबर।
स्वच्छता पखवाड़ा अभियान में भारतीय जनता पार्टी दक्षिण मंडल में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये गये। इस दौरान पर्यावरण संरक्षण की शपथ दिलाई गई।
मां शीतला मंदिर प्रांगण सोनारपारा में भाजयुमो दक्षिण मंडल द्वारा स्वच्छता अभियान, लखोली वार्ड शीतला मंदिर प्रांगण में स्वच्छता अभियान दक्षिण मंडल महिला मोर्चा द्वारा, इंदिरा सरोवर लोहार पारा में स्वच्छता अभियान दक्षिण मंडल व्यापारी प्रकोष्ठ द्वारा, राशन बैग का वितरण वार्ड नं 40 नंदाई कुंआ चौक में जिला अल्पसंख्यक मोर्चा द्वारा, लखोली जनता कालोनी में वृक्षारोपण दक्षिण मंडल अल्पसंख्यक मोर्चा द्वारा किया गया। 

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष खूबचंद पारख, जिला भाजपा अध्यक्ष मधुसुदन यादव, जिला भाजपा भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता नीलू शर्मा, उपाध्यक्ष राजेन्द्र गोलछा, पर्यावरण कार्यक्रम के प्रदेश प्रभारी गणेश शंकर मिश्रा, महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. रेखा मेश्राम थीं। 

गणेश शंकर मिश्रा ने पर्यावरण संरक्षण की शपथ दिलाई राजनंदगांव भारतीय जनता पार्टी पर्यावरण संरक्षण के प्रदेश प्रभारी गणेश शंकर मिश्रा ने राजनांदगांव का दौरा किया एवं कुमर्दा एवं डोंगरगांव के क्षेत्र में कई सभाओं को संबोधित किया।
मीडिया सेल द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार इसी कड़ी में गणेश शंकर मिश्रा ने स्थानीय नंदई, मोहारा, इंदिरा सरोवर, जनता कॉलोनी लखोली में तालाब सफाई अभियान का आगाज किया एवं वृक्षारोपण अभियान भी संपन्न कराया। मिश्रा ने लोगों को प्लास्टिक सामान न अपनाने की शपथ भी दिलाई।  उनके साथ जिला प्रभारी सावन वर्मा, मूलचंद लोधी, किसुन यदु एवं मनोज निरवाणी सहित सभी कार्यकर्ता उपस्थित थे।
 

यूपी सरकार को बर्खास्त करने की मांग
05-Oct-2021 6:16 PM (32)

राजनांदगांव, 5 अक्टूबर। प्रदेश किसान कांग्रेस के महामंत्री व जिला पंचायत सदस्य महेंद्र यादव ने जारी विज्ञप्ति में आरोप लगाया है कि  उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में केन्द्र सरकार के तीन कृषि कानून को वापस लेने की शांतिपूर्ण ढंग से मांग करने वाले किसानों को वाहन से रौंदकर देश के अन्नदाता किसानों का नरसंहार किया है,  जिसकी जितनी निंदा की जाए कम है। महेन्द्र यादव ने यूपी सरकार को बर्खास्त करने  तथा किसानों के हत्यारे को फांसी की सजा दिया जाने की मांग की है।

आगे कहा कि देश के अन्नदाता अपने साथ हो रहे अन्याय के लिए लंबे अरसे से संघर्ष कर रहे हैं, जो केन्द्र की भाजपा सरकार की किरकिरी बनी हुई है जिसे दूर करने के लिए भाजपा की सोची समझी रणनीति है।  किसानों की नरसंहार से भाजपा के चाल और चरित्र एक बार फिर देश के सामने उजागर हो गया है।

महेंद्र यादव ने कहा है कि केन्द्र की मोदी सरकार हिटलरशाही है, जिसके इशारे पर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार किसानों की आवाज को दबाने के लिए किसानों की हत्या करने में उतारू हो गया है। 

 

2 अक्टूबर को जिला न्यायालय परिसर से निकाली गई प्रभात फेरी
05-Oct-2021 5:16 PM (38)

14 नवम्बर तक विशेष जागरूकता

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 5 अक्टूबर।
राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली के निर्देशानुसार आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत 2 अक्टूबर 2021 से 14 नवम्बर 2021 तक ‘पेन इंडिया लीगल अवेयरनेस आउटरिच’ अभियान के तहत विशेष जागरूकता अभियान एवं 2 अक्टूबर गांधी जयंती के अवसर पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा जिला न्यायालय परिसर राजनांदगांव से प्रभात फेरी निकाली गई। जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री विनय कुमार कश्यप ने प्रभात फेरी को हरी झंडी दिखाकर रैली का शुभारंभ किया। उन्होंने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के मोबाईल वैन को ग्रामीण एवं दूरस्थ अंचल क्षेत्रों में प्रचार-प्रसार के लिए रवाना किया। रैली में जिला न्यायालय के समस्त न्यायाधीश, अधिवक्ता, पुलिस लाईन के आरक्षक, एकलव्य विद्यालय पेण्ड्री के विद्यार्थी, विधिक सेवा प्राधिकरण के कर्मचारी एवं पैरालीगल वालिंटियर्स शामिल थे। रैली जिला न्यायालय परिसर राजनांदगांव से प्रारंभ होकर लालबाग चौक, तुलसीपुर चौक से ममता नगर रोड, भदौरिया चौक होते हुए जिला न्यायालय परिसर में समाप्त की गई।
 

हत्या की गुत्थी सुलझने के ठीक पहले बदली जांच की दिशा
05-Oct-2021 5:06 PM (40)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 5 अक्टूबर।
लालबाग थाना क्षेत्र के ग्राम इंदामरा के 12 वर्ष के देवेश कुमार पिता हीरा सिंह साहू की हत्या का रहस्य करीब साढ़े तीन माह बाद भी नहीं खुल पाया है। सीसी टीवी कैमरों के फुटेज के आधार पर पुलिस गुत्थी सुलझाने के बेहद करीब पहुंच गई थी। संदेहियों पर शिकंजा भी कसा जा चुका था, लेकिन उसी दौरान थाना प्रभारी बदल गए। उसके बाद जांच की दिशा ही बदल गई। अब नार्को टेस्ट की बात कही जा रही है।

घटना जून की 21 तारीख की है। देवेश शाम करीब 5.30 बजे के बाद लापता हुआ था। चौथे दिन उसकी लाश डोंगरगढ़ क्षेत्र के देवकट्टा गांव में बांध में मिली थी। पैर व हाथ रस्सी से बंधे थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला घोंटकर हत्या की बात सामने आई है। पुलिस ने शुरुआत में हत्या की जांच बेहद तेजी से शुरू की थी। इसी बीच का सीसी टीवी फुटेज भी खंगाला गया। दो संदेही बाइक सवार को इसी के आधार पर ट्रेश किया ही जा रहा था, लेकिन बाद में एकदम धीमी हो गई। जांच की दिशा भी अचानक बदल गई। तबसे मामला ठंडे बस्ते में है।

राजमिस्त्री का काम करने वाले मृतक के पिता हीरा सिंह साहू मजदूरी करते हैं। देवेश उनका इकलौता बेटा था। परिवार में पत्नी व दो बेटियां हैं। सभी को संदेह गांव के उस व्यक्ति व उसकी पत्नी पर है जिनके साथ दो साल पहले विवाद हुआ था। यह पुलिस को दिये गये बयान में भी दर्ज है। गांव वालों को भी उन्हीं लोगों पर ही शक है। उनका सबसे बड़ा सवाल यही है कि भला 12 साल के बच्चे की किसी से ऐसी क्या दुश्मनी हो सकती है। मामला पुरानी व आपसी रंजिश का ही है। इसके बाद भी पुलिस मामले को नहीं सुलझा सकी है।

मोबाइल के लोकेशन से भी मिला था सुराग
बताया गया कि साहू परिवार को अपने बेटे की हत्या में गांव के ही एक परिवार पर संदेह है। पीडि़त परिवार के इस बयान के बाद पुलिस ने उसी दिशा में जांच आगे भी बढ़ाई थी। संदेही का मोबाइल लोकेशन भी निकाला गया था। पहला लोकेशन शाम 5.30 बजे राजनांदगांव व करीब छह बजे इंदामरा का लोकेशन मिला था। आधे घंटे बाद संदेही के मोबाइल का लोकेशन सुकुलदैहान गांव था। शाम सात बजे घटनास्थल के पास का लोकेशन मिला था।

जल्द ही न्याय का भरोसा
मृतक के पिता हीरा सिंह साहू ने बताया कि उन्होंने कई बार लालबाग थाना जाकर जांच की स्थिति जाननी चाही। बाद में पुलिस अधीक्षक से भी मुलाकात कर उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत कराया। सभी जांच जारी होने व नार्को टेस्ट कराने की बात तो कह रहे हैं, लेकिन नतीजा अब तक कुछ नहीं निकल सका है। उम्मीद है कि जल्द ही हमारे परिवार को न्याय मिलेगा।
 

शिक्षा गुणवत्ता पर सकारात्मक प्रयास के लिए संकल्प
05-Oct-2021 5:00 PM (36)

ब्लॉक के तीन दर्जन हाईस्कूल व हायर सेंकेंण्डरी प्राचार्यों की कार्यशाला 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
अंबागढ़ चौकी, 5 अक्टूबर।
ब्लॉक मुख्यालय में विकासखंड के 36 हाईस्कूल व हायर सेंकेंण्डरी प्राचार्यों की कार्यशाला हुई, जिसमें शिक्षा विभाग के अधिकारियो व नोडल अधिकारियो ने शिक्षा गुणवत्ता के लिए सकारात्मक प्रयास पर चर्चाएं की और इसे विभिन्न प्रयोगों व उपायों के माध्यम से विद्यार्थियों को मजबूत बनाने की दिशा में काम करना शुरू किया। 

कार्यशाला में प्राचार्यों व स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने स्वीकार किया कि गुजरा हुआ डेढ़ वर्ष कोरोना महाामरी के कारण स्कूल शिक्षा विभाग व विद्यार्थियों के लिए एक कठिन दौर रहा। महामारी में लाकडाउन के चलते स्कूल बंद, विद्यार्थियों की आनलाईन कक्षाएं व आनलाईन परीक्षाएं तथा जनरल प्रमोशन से विद्यार्थियों के शैक्षणिक स्तर में गिरावट आई है एवं विभाग को आपेक्षित परिणाम नहीं मिले। 

 प्राचार्यों व शिक्षा अधिकारियों ने माना कि महामारी के दौरान आनलाईन कक्षाओं व मोहल्ला क्लास के माध्यम से अध्ययन अध्यापन व्यवस्था बनाने का प्रयास जरूर हुआ, लेकिन यह प्रयास अपेक्षाकृत परिणाम नहीं दे पाया। कार्यशाला में प्राचार्यों ने अब शिक्षा गुणवत्ता में सकारात्मक प्रयास के लिए संकल्प लिया। 

कार्यशाला में जिला सहायक परियोजना अधिकारी शिवकुमार पंाडे ने पढ़ई तुंहर दुवार 2.0 के निर्देशों के क्रियान्वयन, हस्तलिखित पुस्तिका, प्रोजेक्ट निर्माण, विज्ञान प्रयोग सहित अन्य योजनाओं पर प्रकाश डालते हुए प्राचार्यों के प्रश्नों का जवाब दिया। 
 बीईओ एस.के.धीवर ने विभागीय योजनाओं की जानकारी देते हुए सभी कार्यों व निर्देशों का ईमानदारी से पालन करने का सुझाव दिया। कार्यशाला में एबीईओ रूपेष तिवारी, बीआरसी मोज मरकाम, पी.एल.साहू सहित ब्लाक के सभी हाईस्कूल व उमाषा के प्राचार्यगण शामिल हुए।  
पढई तंहर दुवार 2.0 को सफल बनाने के लिए जिला नोडल अधिकारी सिंघाभेडी उमाशा के प्राचार्य आर.बी.सिंह ने प्राचार्यों को शिक्षा गुणवत्ता पर सकारातमक प्रयास करने के लिए विस्तार से प्रशिक्षण दिया।