कारोबार

Previous12Next
Date : 25-Jan-2020

सेल स्थापना दिवस पर 25 साल की समर्पित सेवा के लिए कर्मी दीर्घ सेवा पुरस्कार से सम्मानित

छत्तीसगढ़ संवाददाता

भिलाई नगर, 25 जनवरी। महारत्न कम्पनी स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) की स्थापना दिवस पर भिलाई इस्पात संयंत्र में 24 जनवरी को आयोजित विभिन्न समारोहों में खान, संयंत्र और नॉन वर्कस क्षेत्रों में सेवारत् 1174 कर्मचारियों को जिनमें संयंत्र सहित माइंस के 132 कार्यपालक एवं 1042 गैर-कार्यपालक शामिल हैं, को कंपनी की 25 साल के समर्पित सेवा के लिए दीर्घ सेवा पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

सर्वप्रथम केन्द्रीय इस्पात मंत्री का सेल कार्मिकों के लिये विडियो सन्देश दिखाया गया एवं सभी उपस्थितों द्वारा सेवा शपथ भी ली गई। संयंत्र के मानव संसाधन विकास केन्द्र में आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बीएसपी के सीईओ अनिर्बान दासगुप्ता ने मुख्य महाप्रबंधक से उप महाप्रबंधक स्तर तक के अधिकारियों को दीर्घ सेवा पुरस्कार से सम्मानित किया।

इस अवसर पर संयंत्र के कार्यपालक निदेशकगण एवं वरिष्ठ अधिकारीगण विशेष रूप से उपस्थित थे। मुख्य अतिथि अनिर्बान दासगुप्ता ने संयंत्र की समर्पित सेवा के 25 वर्षों के इस महत्वपूर्ण मील का पत्थर को प्राप्त करने वाले अधिकारियों की टीम को बधाई दी।

श्री दासगुप्ता ने सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र को दीर्घकालिक सेवा देने वाले अधिकारियों की सराहना करते हुए चुनौतीपूर्ण समय में संयंत्र की प्रगति के लिए उनके योगदान की भी प्रशंसा की। जिनके वर्षों की योगदान से संयंत्र ने उत्कृष्टता के साथ महान ऊँचाइयाँ हासिल किया है।

उन्होंने दीर्घ सेवा अवार्ड के प्राप्तकर्ताओं से आग्रह किया कि वे अपने अनुभव का लाभ संयंत्र को सेवा के रूप वापस देवें, ताकि टीम भिलाई और भी मजबूती हासिल कर सके।  उन्होंने अवार्ड प्राप्तकर्ताओं को प्रोत्साहित किया कि वे भविष्य की चुनौतियों का सामना करने के लिए स्वयं को तैयार करें।

इसी क्रम में संयंत्र के अन्य अधिकारियों एवं कार्मिकों को उनके विभाग प्रमुखों संबंधित विभागों में दीर्घ सेवा अवार्ड से सम्मानित किया गया। इस दौरान कार्यपालक निदेशकगणों ने भी 25 वर्ष की सेवा प्रदान करने और दीर्घ सेवा अवार्ड प्राप्त करने वाले अधिकारियों को बधाई दी। इस अवसर पर संयंत्र के महाप्रबंधकों और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ऑफिसर्स एसोसिएशन के पदाधिकारीगण उपस्थित थे।


Date : 25-Jan-2020

मैट्स में दो दिवसीय नेशनल सेमीनार, विद्यार्थियों को नवीनतम प्रौद्योगिकी प्रबंधन, चुनौतियों की जानकारी दी

रायपुर, 25 जनवरी। मैट्स स्कूल ऑफ  मैनेजमेंट स्टडीस एंड रिसर्च मैट्स युनिवर्सिटी द्वारा दो दिवसीय नेशनल सेमीनार का आयोजन किया गया है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि धमतरी कलेक्टर रजत बसंल रहे। शुक्रवार को पहले दिन इसकी थीम मैनेजमेंट प्रैक्टिस एंड मार्डन ऐरा आपॉच्र्युनिटीस एंड चैलेंजेस थी। इस मौके पर वीर बहादुर पूर्वांचल युनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो.डॉ. राजा राम यादव ने कहा कि आज टेक्नोलॉजिकल एडवांसमेंट के बाद हमारी नवीनतम प्रौद्योगिकी का प्रबंधन करने में जरूर चुनौती मिल रही है, जिनका सामना विद्यार्थियों को करना है। इन चुनौतियों को स्वीकार कर आगे बढऩे की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को इस पर फोकस करना है तभी मैनेजमेंट में अच्छी तरह से कार्य कर सकते हैं। उन्होंने विद्यार्थियों को नवीनतम प्रौद्योगिकी प्रबंधन, चुनौतियों की जानकारी दी। सेमिनार में राज्य और अन्य राज्यों के शोधार्थियों-प्रोफेसरों ने 40 से अधिक रिसर्च पत्र प्रस्तुत किए। सेमिनार में प्रदेश सहित अन्य राज्यों से आए शोधार्थियों ने मैनेजमेंट प्रैक्टिस एंड मॉडर्न ऐरा आपॉच्युनिटीस एंड चैलेंजेस पर प्रजेंटेशन दिया। बेस्ट प्रजेंटेशन को चेयरपर्सन प्रो. एके श्रीवास्तव रविशंकर युनिवर्सिटी ने सर्टिफिकेट दिया।

इस अवसर पर मैट्स विवि के प्रो.वाइस चांसलर डॉ. दीपिका ढांड ने मैनेजमेंट एवं मॉडर्न ऐरा पर संबोधित किया। कार्यक्रम चांसलर गजराज पगारिया और रजिस्ट्रार गोकुलनंद पंडा उपस्थित रहे।


Date : 25-Jan-2020

बाल जीवन ज्योति में विविध कार्यक्रम, आयोग के सदस्यों द्वारा बच्चों को चाकलेट, बिस्कीट एवं मिठाई दी गई

रायपुर, 25 जनवरी। राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर पुरानी बस्ती स्थित बाल जीवन ज्योति में कार्यक्रम आयोजित की गई, जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में इंदिरा जैन व विशिष्ट अतिथि श्यामा द्विवेदी रही।

इस दौरान बच्चों  के लिए नींबू दौड़, कुर्सी दौड़ प्रतियोगिता रखी गर्ई। इसके पश्चात बच्चों ने नृत्य एवं गायन की मोहक प्रस्तुति दी। आयोग के सदस्यों द्वारा बच्चों को चाकलेट, बिस्कीट एवं मिठाई दी गई।

इस अवसर पर बाल आयोग के सदस्य व बाल जीवन ज्योति के स्टाफ  मौजुद रहे। बाल जीवन ज्योति की अधीक्षक संगीता गग्गी ने आभार व्यक्त किया।


Date : 24-Jan-2020

हर्षित हार्मोनी में आवास मेला के साथ बेस्ट ऑफर, यदि रजिस्ट्री की प्रक्रिया 30 दिन के भीतर पूरी कराते हैं, तो पजेशन मिलने तक सालाना किराया जो की 60 हजार से 1.44 लाख रुपए होता है बिल्डर्स की ओर से दिया जाएगा

रायपुर, 24 जनवरी। रियल एस्टेट सिंघानिया बिल्डकॉन प्रा.लि. द्वारा आवासीय प्रोजेक्ट हर्षित हार्मोनी में 24 से 26 जनवरी तक आवास मेला का आयोजन किया गया है। जिसमें अलग-अलग साइज की प्रापर्टी पर यदि रजिस्ट्री की प्रक्रिया 30 दिन के भीतर पूरी कराते हैं, तो पजेशन मिलने तक सालाना किराया जो की 60 हजार से 1.44 लाख रुपए होता है बिल्डर्स की ओर से दिया जाएगा। प्रोजेक्ट साइट पर निर्माण की प्रक्रिया तेजी से चल रही है।

सिंघानिया बिल्डकॉन के चेयरमैन सुबोध सिंघानिया ने बताया कि प्रापर्टी बायर्स के लिए यह सबसे अच्छा मौका है। रियल एस्टेट के क्षेत्र में ग्राहकों के बजट के अनुरूप प्रापर्टी होगा। 450 वर्गफीट में तैयार आस्था विला जिसकी कीमत मात्र 12.51 लाख रुपए, अनमोल विला 16.71 लाख, आशिर्वाद विला 24.71 लाख, अमृत विला 29.61 लाख, अर्चना विला 37.31 लाख रुपए की वास्तविक कीमत पर उपलब्ध है। जिसमें रजिस्ट्री, जीएसटी, बिजली से लेकर सब कुछ शामिल हैं। सुबोध सिंघानिया ने बताया कि 24 से 26 जनवरी तक आयोजित हर्षित हार्मोनी के आवास मेला में बुकिंग कराने के साथ 30 दिन के भीतर रजिस्ट्री की प्रक्रिया को पूरी करवा लेते हैं तो बिल्डर्स की ओर से तयशुदा किराए की राशि भी पजेशन मिलने तक (लगभग साल भर) उपलब्ध करायी जाएगी। जिसमें आस्था विला के लिए 5 हजार रुपए, अनमोल विला 6 हजार रुपए, आर्शिवाद विला 8 हजार रुपए, अमृत विला 10 हजार रुपये और अर्चना विला में 12 हजार रुपए मासिक किराया शामिल है। सालाना 60 हजार से लेकर 1.44 लाख रुपए तक बचत कर सकते हैं।


Date : 24-Jan-2020

चेम्बर ने टैक्स सेटलमेंट स्कीम व मंडी शुल्क के संबंध में मुख्यमंत्री से मुलाकात कर सौंपा ज्ञापन

रायपुर, 24 जनवरी। छत्तीसगढ़ चेम्बर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के प्रदेश अध्यक्ष जैन जीतेन्द्र बरलोटा, महामंत्री लालचन्द गुलवानी, कोषाध्यक्ष प्रकाश अग्रवाल, प्रवक्ता द्वय ललित जैसिंघ एवं योगेश अग्रवाल ने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से बजट पूर्व चर्चा में चेम्बर प्रदेश अध्यक्ष जैन जीतेन्द्र बरलोटा एवं चेयरमेन पूरनलाल अग्रवाल ने मुलाकात कर टैक्स सेटलमेंट स्कीम, सरल समाधान स्कीम एवं मंडी शुल्क समाप्त करने हेतु ज्ञापन सौंपा गया।

चेंबर पदाधिकारियों ने बताया कि ज्ञापन में टैक्स सेटलमेंट स्कीम-जीएसटी आने के पूर्व वेट इत्यादि से संबंधित पुराने प्रकरणों, जिसमें कर, ब्याज एवं पेनाल्टी की राशि बकाया है, उनके निष्पादन हेतु टैक्स सेटलमेंट स्कीम लाई जानी चाहिए। जिससे पुराने प्रकरणों की वसूली एवं मुकदमेंबाजी समाप्त हो जायेगी। सरल समाधान स्कीम, जिसमें वेट इत्यादि से संबंधित लंबित कर निर्धारण प्रकरणों के लिये वर्ष 2015-2016, 2016-2017, 2017-2018/01 हेतु सरल समाधान स्कीम लाई जानी चाहिए। मंडी शुल्क से मुक्त करने हेतु-छत्तीसगढ़ की राईस मिलें प्रदेश के बाहर से भी धान आयातित कर प्रसंस्करण कर चावल बनाती है। इन्हें मंडी शुल्क से मुक्त किया जाए, निराश्रित कर समाप्त करने-विगत कई वर्षों से मंडी द्वारा मंडी टैक्स के साथ 20 पैसा प्रति सैकड़ा निराश्रित टैक्स वसूला जाता है। यह टैक्स बांग्लादेश के शरणार्थी जब भारत में आये थे तब से लगा है। इसे समाप्त किया जाना चाहिए, ग्रामीण क्षेत्रों में धान खरीदने की लिमिट छोटे व्यापारियों के लिये मात्र 4 क्ंिवटल है, वर्तमान में इसे 40 क्ंिवटल तक की छूट दी जाए, इससे छोटे व्यापारियों को लायसेंस की प्रथा से मुक्ति मिलेगी।


Date : 24-Jan-2020

देश-भक्ति और देश-गर्व बढ़ाने प्रदेश में अपने तरह का पहला आयोजन अविनाश ग्रुप द्वारा, तीन लैंडमार्क परियोजनाओं में गणतंत्र दिवस के उपलक्ष पर फैराया 50 फ़ीट ऊंचा तिरंगा

रायपुर, 24 जनवरी। अविनाश ग्रुप अपने तीन लैंडमार्क प्रोजेक्ट, अविनाश टाइम स्क्वेयर नया रायपुर में, अविनाश ट्विनसिटी कुम्हारी में और अविनाश मेट्रोपोलिस भिलाई में गणतंत्र दिवस पर 50 फीट ऊंचा तिरंगा लहराया जाएगा। अविनाश ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर आनंद सिघानिया ने बताया कि अविनाश ग्रुप अपने सामाजिक सरोकार के प्रति जागरुक है। लोगों में देशभक्ति और देश के प्रति गर्व की भावना को बढ़ाने प्रदेश में इस तरह का पहला आयोजन किया है।


Date : 24-Jan-2020

रियलिटी एक्सपो में ऑफर्स की सौगात, अविनाश ग्रुप के स्टाल में सभी प्रोजेक्ट, आवासीय प्लाट, बजट होम्स  से लेकर लग्जरी फ्लैट्स और स्वतंत्र मकान, व्यावसायिक योजनाओं के सभी बेस्ट ऑप्शन मिलेंगेे

रायपुर, 24 जनवरी। अविनाश ग्रुप द्वारा इंडोर स्टेडियम बूढ़ातालाब में गुरुवार से रियलिटी एक्सपो की शुरूआत की। जहां स्पॉट बुकिंग पर सोने के सिक्के सहित कई ऑफर्स की सौगात दिया जा रहा है। इस संबंध में अविनाश ग्रुप के प्रबंध संचालक आनंद सिंघानिया ने बताया कि अविनाश ग्रुप के स्टाल में सभी प्रोजेक्ट, आवासीय प्लाट, बजट होम्स  से लेकर लग्जरी फ्लैट्स और स्वतंत्र मकान, व्यावसायिक योजनाओं के सभी बेस्ट ऑप्शन मिलेंगेे। जो लोग जल्द ही अपने घर का सपना पूरा करना चाहते हैं उनके लिए अविनाश ग्रुप के रेडीे टु मूव आवास उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि स्टाल में अविनाश ग्रुप के सभी प्रोजेक्ट जैसे नया रायपुर, सड्डू विधानसभा रोड व टाटीबंध क्षेत्र की जानकारी एक ही स्टाल में लोगों को दी जाएगी।


Date : 24-Jan-2020

एनपीए 5 साल में दोगुना, 30000 करोड़ पहुंचा
नई दिल्ली, 22 जनवरी । सरकारी क्षेत्र की बीमा कंपनी होने के नाते भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) को भरोसे का प्रतीक माना जाता है। देश के करोड़ों लोगों ने आंख मूंदकर अपनी गाढ़ी कमाई का बड़ा हिस्सा एलआईसी की योजनाओं में लगाया है। लेकिन हाल के वर्षों की कई घटनाएं इस ओर संकेत कर रही हैं कि एलआईसी के पास मौजूद नकदी के बड़े भंडार पर जोखिम बढ़ रहा है।
बैंकों जैसी गलती!
भारी नकदी के भंडार पर बैठे होने की वजह से एलआईसी सरकार के लिए भी संकटमोचन का काम करती रही है, इसने सार्वजनिक कंपनियों और बैंकों के शेयर खरीद कर उनको बचाने का काम किया है। लेकिन एलआईसी के नवीनतम बहीखाता देखने से कई चौंकाने वाली जानकारी सामने आती है।
एलआईसी भी वैसी ही गलती करती दिख रही है, जैसा निजी क्षेत्र को हजारों करोड़ के लोन बांटकर सार्वजनिक बैंकों ने किया है। इस वित्त वर्ष यानी 2019-20 के पहले छह महीनों (अप्रैल-सितंबर) में एलआईसी की गैर निष्पादित संपत्ति यानी एनपीए में 6.10 फीसदी की बढ़त हुई है। यह एनपीए निजी क्षेत्र के यस बैंक, आईसीआईसीआई, एक्सिस बैंक के करीब ही है। कभी बेस्ट एसेट क्वालिटी के लिए ये मशहूर ये निजी बैंक बदले माहौल में बढ़ते एनपीए से परेशान दिख रहे हैं।
2019-20 की दूसरी तिमाही में यस बैंक का सकल एनपीए 7.39 फीसदी, आईसीआईसीआई का एनपीए 6.37  फीसदी और एक्सिस बैंक का एनपीए 5.03 फीसदी पहुंच गया था।
राहुल गांधी ने जताई चिंता
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस बारे में चिंता जताते हुए बुधवार को एक ट्वीट भी किया है। उन्होंने कहा कि करोड़ों ईमानदार लोग एलआईसी में निवेश करते हैं, क्योंकि उनको इस पर भरोसा होता है। लेकिन मोदी सरकार एलआईसी को नुकसान पहुंचाकर इसके भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है और लोगों के भरोसे को नष्ट कर रही है।
कई कंपनियों को दिया है लोन
असल में सार्वजनिक कंपनी एलआईसी ने टर्म लोन और नॉन-कन्वर्टबिल डिबेंचर (एनसीडीएस) के रूप में कई कॉरपोरेट कंपनियों को लोन दिया है। एलआईसी के पास करीब 36 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति या नकदी है। 30 सितंबर, 2019 तक एलआईसी का एनपीए बढक़र 30,000 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।
पिछले पांच साल में इसके एनपीए में दोगुना बढ़त हुई है और यह कुल एसेट का 6.10 फीसदी हो गया है। पहले एलआईसी की गैर निष्पादित संपत्ति 1.5 से 2 फीसदी तक रही है। तमाम प्रतिस्पर्धा के बावजूद एलआईसी अभी काफी मजबूत है और करीब दो-तिहाई प्रीमियम में इसकी हिस्सेदारी है।
कौन हैं एलआईसी के डिफॉल्टर
एलआईसी से कर्ज लेकर दबा लेने वाली डिफॉल्टर कंपनियों में कई बड़े नाम शामिल हैं। इनमें एस्सार पोर्ट, गैमन, आईएल और एफएस, डेक्कन क्रॉनिकल, भूषण पावर, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज, आलोक इंडस्ट्रीज, अमट्रैक ऑटो, एबीजी शिपयार्ड, यूनिटेक,जीवीके पावर और जीटीएल शामिल हैं। इन कंपनियों ने को एलआईसी ने टर्म लोन और एनसीडी के रूप में कर्ज दिया है।
इनमें से कई डिफॉल्टर से पैसा वापस मिलना काफी मुश्किल है। वैसे यह सच है कि एलआईसी को साल में 2,600 करोड़ से ज्यादा का मुनाफा होता है और उसने अपने बहीखातों में इन एनपीए के लिए 90 फीसदी से ज्यादा का प्रावधान कर रखा है। लेकिन कई दिवालिया हो चुकी कंपनियों के मामले में पैसा मिलना मुश्किल है और इनको दिया कर्ज बट्टे खाते में ही डालना पड़ेगा यानी एलआईसी को भारी नुकसान हो सकता है।(आजतक)
 


Date : 23-Jan-2020

यातायात पुलिस विभाग द्वारा आयोजित सडक़ सुरक्षा सप्ताह की विविध प्रतियोगिता में युगांतर के 6 विद्यार्थियों का शानदार प्रदर्शन

छत्तीसगढ़ संवाददाता

राजनांदगांव, 23 जनवरी। युगांतर पब्लिक स्कूल के 6 विद्यार्थियों ने जिला यातायात पुलिस विभाग द्वारा आयोजित सडक़ सुरक्षा सप्ताह की विविध प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन किया। चित्रकला प्रतियोगिता के ग्रुप ए ऋद्धिमा अग्रवाल तथा ग्रुप डी में आन्या अग्रवाल ने प्रथम स्थान अर्जित किया। जबकि  ग्रुप ए में रिया शुक्ला ने तृतीय स्थान अर्जित किया। निबंध प्रतियोगिता में श्रीचा मूंदड़ा ने तृतीय स्थान अर्जित किया। वाद-विवाद का परिणाम भी काफी उत्साहजनक रहा। वाद-विवाद के पक्ष में अचला सिंह ने प्रथम तथा विपक्ष में आर्यन तृतीय रहे।

विद्यालय के प्राचार्य, चेयरमैन मिश्रीलाल गोलछा, युगांतर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशनंस के अध्यक्ष सुशील कोठारी, प्रबंध समिति के सभी निदेशकों, एकेडमिक हेड शैलजा एम. नायर, हिंदी विभागाध्यक्ष वीएन राय, हिंदी शिक्षक वीके पांडे, राजेश चौबे, शिक्षिका सुनीता सिंह, नीराजना तिवारी, चित्रकला शिक्षक अजय चौरसिया, ज्ञानेश पटेल ने इन विद्यार्थियों को बधाई दी है।


Date : 23-Jan-2020

ब्रिक्स मैथ्स आनलाईन परीक्षा में शकुंतला विद्यालय के 14 विद्यार्थी सफल

छत्तीसगढ़ संवाददाता

भिलाई नगर, 23 जनवरी। ब्रिक्स मैथ्स आनलाईन परीक्षा में सफल हुए विद्यार्थियों ने कहा कि मैथ्स स्वयं में मास्टर होता है। इसी कला में निपुण शकुन्तला के 14 विद्यार्थियों में विश्व पटल पर मास्टर रोल दिखाया।

ब्राजील, रसिया, इण्डिया, चीन और दक्षिण अफ्रीका के संयुक्त तत्वावधान में ब्रिक्स मैथ्स आनलाईन परीक्षा कक्षा पहली से बारहवीं के विद्यार्थियों के लिए अक्टूबर 2019 में आयोजित की गई। जिसे दो चरणों में सम्पन्न कराया गया। इस प्रतियोगिता में शकुन्तला विद्यालय से कुल 175 विद्यार्थियों ने भाग लिया।  परीक्षा के अंतिम चरण में विद्यालय के 14 विद्यार्थी कक्षा बारहवीं के साहिल चौधरी, हर्ष गुप्ता, ऋतिक कुमार, नवनीत पंचायन, हरीश पटेल, अनुराग राठौर, प्रणव साहू, शंशाक साहू और जीजीशा विजयी रहे। इसी प्रकार कक्षा नवमीं से साहिल कौशिक, अमित पंचायन, हर्ष  साहू, अर्थव द्विवेदी और अनुभव राठौर ने बाजी मारी। अंतर्राष्ट्रीय स्तर की इस परीक्षा में सफल हुए छात्रों को शकुन्तला ग्रुप ऑॅफ स्कूल्स के डायरेक्टर संजय ओझा एवं प्राचार्य विपिन ओझा ने बधाई दी। इस उपलब्धि पर एसएस गौतम, प्राचार्या आरती मेहरा, मैनेजर ममता ओझा, व्ही दुबे, अभय दुबे, विभोर ओझा, उप प्राचार्या जी रंजना कुमार, अनिता नायर, हेड मिस्ट्रेस अर्चना मेश्राम, सीनियर मिस्ट्रेस बलजीत कौर, प्रभारी राजेश वर्मा एवं समस्त शिक्षक-शिक्षिकाओं ने छात्र-छात्राओं को बधाई दी।

 


Date : 23-Jan-2020

हाथकरघा बुनकरों की बुनाई कला को भारी प्रतिसाद, प्रदेश के हाथकरघा बुनकरों द्वारा निर्मित डिजाईन कोसा साड़ी डेऊस मटेरियल एवं शत प्रतिशत कॉटन सिंगल एवं डबलबेड चेक चादर आकर्शण का केन्द्र बनी हुई है

रायपुर, 23 जनवरी। छत्तीसगढ़ शासन ग्रामोद्योग विभाग, संचालक ग्रामोद्योग हाथकरघा के सौजन्य से जिला हाथकरघा कार्यालय बिलासपुर के माध्यम से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं वर्षगाठ के उपलक्ष्य एवं 26 जनवरी 2020 गणतंत्र दिवस के अवसर पर आयोजित छत्तीसगढ़ के कोसा एवं सूती हाथकरघा वस्त्र प्रदर्शनी में प्रदर्शित बुनकरों की कोसा एवं सूती वस्त्रों की उत्कृश्ठ बुनाई कला को बहुत अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। छत्तीसगढ़ प्रदेश के हाथकरघा बुनकरों द्वारा निर्मित डिजाईन कोसा साड़ी डेऊस मटेरियल एवं शत प्रतिशत  कॉटन सिंगल एवं डबलबेड चेक चादर आकर्शण का केन्द्र बनी हुई है।

प्रदेश के छुईखदान बुनकर सहकारी समिति मर्यादित छुईखदान, जिला-राजनांदगांव गत 40 वर्षों से हाथकरघा पर कॉटन वस्त्रों का उत्पादन कर विपणन के कार्य में संलग्न है उनके बुनकरों द्वारा उत्पादित चादर, टॉवेल, गमछा की गुणवंता बहुत अच्छी होने के कारण सभी बहुत पसंद करते है। उक्त षासकीय हाथकरघा वस्त्र प्रदर्शनी का आयोजित  20 से 26 जनवरी  तक स्थान राघवेन्द्र राव सभा भवन बिलासपुर (छग) में किया गया है। प्रदर्शनी के आयोजन का मुख्य उद्देष्य छत्तीसगढ़ प्रदेश के कोसा एंव सूती हाथकरघा बुनकरों की कला एंव उत्कृश्ट डिजाईनों को आम नागरिक तक सीधे पहुचाना तथा छत्तीसगढ़ के बुनाई कला से परिचय करना है। प्रदेश के बुनकरों कलाकारों को सीधे आम नागरिकों से जोडक़र विपणन सुविधा उपलब्ध कराते हुये नीत नवीन डिजाईन के विकास हेतु सुझाव प्राप्त करना है। तथा प्रदेष के बुनकरों की सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति को सदृष्ठ करना है।

 


Date : 23-Jan-2020

ज्ञान गंगा एजुकेशनल एकेडेमी में वार्षिक खेल उत्सव सम्पन्न, खेलों से न केवल शारीरिक सुदृढ़ता आती है अपितु निर्णय लेने की क्षमता भी विकसित होती है

रायपुर, 23 जनवरी। छात्र जीवन को संस्कारित करने हेतु जितनी भी विधायें हैं उनमें खेल सर्वोत्तम विधा है। खेलों से न केवल शारीरिक सुदृढ़ता आती है अपितु निर्णय लेने की क्षमता भी विकसित होती है। आपसी सद्भाव, भाईचारा और टीम भावना का विकास भी खेलों के माध्यम होता है। तन स्वस्थ्य तो मन स्वस्थ्य भी तभी चरितार्थ होगा जब छात्र जीवन में खेलों की  प्रति जोश और जज्बा पैदा किया जाये। विद्यालय जहां अध्ययन के प्रति सजग है वहीं छात्रों के सर्वागीण विकास हेतु गीत, संगीत चित्रकारी तथा खेलो की उत्तम व्यवस्था भी यहां निहित है। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर खेल प्रतिभा को निखारने के लिये ज्ञान गंगा खेल प्रांगण में 20  से 22 जनवरी तक वार्षिक खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया।

इस खेल उत्सव का रंगारंग समापन मुख्य सचिव छग विधानसभा सीएस गंगराडे के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। दीप प्रज्वलन तथा गुब्बारे उडाकर कार्यक्रम की शुरूआत हुई। सर्वप्रथम संास्कृतिक कार्यक्रमों की शानदार प्रस्तुति हुई जिसमें पीपी 1  से कक्षा 10वी तक के छात्र-छात्राओं ने मनमोहक प्रस्तुति से सभी का मन मोह लिया। तत्पश्चात् डम्बल ड्रील, एयरोबिक्स का अद्भुत प्रदर्शन किया गया।


Date : 23-Jan-2020

नेशनल गैरेज में टाटा अल्ट्रोज हैजबैक द गोल्ड स्टैण्डर्ड का हर्षोल्लास के साथ अनावरण

रायपुर, 23 जनवरी। नेशनल गैरेज और टाटा मोटर्स के लिए स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जायेगा। अत्यंत हर्षोल्लास के साथ नेशनल गैरेज ने आज अल्ट्रोज-प्रीमियम-हैजबैक-द गोल्ड स्टैण्डर्ड का लांच किया गया। गाड़ी का अनावरण श्रीमती लीलावती शाह एवं श्रीमती मौलिका शाह ने किया। नेशनल गैरेज के सीनियर स्टाफ मेंम्बर्स के साथ अत्ंयत आकर्षक नृत्य के साथ स्नेहिल अल्ट्रोज का दुल्हन की तरह स्वागत किया गया। इस अवसर पर टाटा मोटर्स लिमि. के टेरीटरी सेल्स मैनेजर श्री अभिलाष तिवारी भी विशेष रूप से उपस्थित थे।

अत्याधुनिक फीचर्स जैसे- टॉप 2 अल्ट्रोज, 90 डिग्री ओपनेबल डोर्स और इस श्रेणी में प्रथम बार ऐसे फीचर्स दिये हैं जो सभी ग्राहकों को अचंभित कर देंगे। यह गाड़ी डीजल एवं पेट्रोल प्रत्येक वर्जन 5-5 वेरीयेंट में उपलब्ध है। इस गाड़ी की कीमत वेरीयेंट के अनुसार: अल्ट्रोज एक्स ई पेट्रोल रू. 5.29 लाख, एक्स ई डीजल रू. 6.99 लाख, एक्स एम पेट्रोल रू. 6.15 लाख, एक्स एम डीजल रू. 7.75 लाख, एक्स टी पेट्रोल रू. 6.84 लाख, एक्स टी डीजल रू. 8.44 लाख, एक्स जेड पेट्रोल रू. 7.44 लाख, एक्स जेड डीजल रू. 9.04 लाख तथा एक्स जेड (ओ) पेट्रोल रू. 7.69 लाख, एक्स जेड (ओ) डीजल रू. 9.29 लाख है।

इस अवसर पर शहर के गणमान्य नागरिकगण, नेशनल गैरेज के सम्माननीय ग्राहकगण, अग्रणी फायनेंसर एवं बैंकर्स उपस्थित थे। सभी ने नयी अल्ट्रोज गोल्ड को सराहा है। नेशनल गैरेज के प्रबंध संचालक शशांक शाह ने बताया कि अल्ट्रोज-प्रीमियम-हैजबैक है। इस श्रेणी में हुंडई की आई-20 ए, मारूती बलेनो, होण्डा जैज और टोयोटा ग्लेंजा गाडिय़ां उपलब्ध है। Ÿशशांक शाह ने विश्वास जताया कि ग्राहकों के उत्साह से प्रतीत  होता है कि यह गाड़ी सेल्स में सबसे अग्रणी रहेगी। कीमतों की घोषणा के बाद अच्छी बुकिंग का प्रतिसाद मिला है। शशांक शाह ने बताया कि इस माह हमें 20 अल्ट्रोज मिलने की उम्मीद है और सभी गाडिय़ां हाथों हाथ डिलिवर्ड हो जायेगी।

 


Date : 23-Jan-2020

मॉडर्न इंग्लिश स्कूल में नृत्य प्रतियोगिता, जिसमें  छात्र-छात्राओं ने छत्तीसगढ़ी लोक नृत्य, राजस्थानी नृत्य, भांगड़ा, फिल्मी नृत्य, क्लासिकल नृत्य एवं पारंपरिक शैली की मनमोहक प्रस्तुति दी 

भाटापारा, 23 जनवरी। मॉडर्न इंग्लिश स्कूल में नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ तृप्ति वाढेर, वीणा साहू, मेघा वर्मा, प्राचार्या प्रीति ताम्हणे एवं कोऑडिर्नेटर टी आर साहू द्वारा किया गया। इस अवसर पर कौशल मिश्रा एवं जया देवांगन उपस्थित थे।

प्रतियोगिता में कक्षा एलकेजी से आठवीं तक के 74 से अधिक छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया। प्रतियोगिता के दौरान छात्र-छात्राओं ने विभिन्न प्रकार के पोशाकों के माध्यम से अपनी सुंदर नृत्य का प्रदर्शन किया। जिसमें छत्तीसगढ़ी लोक नृत्य, राजस्थानी नृत्य, भांगड़ा, फिल्मी नृत्य, क्लासिकल नृत्य एवं पारंपरिक शैली की मनमोहक प्रस्तुति दी गई. कक्षा एलकेजी के गु्रप बी में प्रथम समीक्षा बाजपेई, द्वित्तीय तोरल देवांगन, तृतीय स्थान लावण्या कुर्रे एवं सांत्वना पुरस्कार माधवी साहू, तेजल साहू ने प्राप्त किया।

इसी तरह कक्षा पहली व दूसरी से प्रथम स्थान दुर्गेश्वरी साहू, द्वितीय स्थान डिंपल सेन, तृतीय स्थान लक्ष्य चौरसिया, रिया दुबे और सांत्वना पुरस्कार अनुग्रह बेंजामिन व समृद्धि कारिया को मिला। कक्षा छठवीं से आठवीं में प्रथम स्थान उवर्शी चक्रधारी, द्वितीय स्थान श्रेया यादव, तृतीय स्थान विनस मानिकपुरी तथा सांत्वना पुरस्कार खुशबू देवांगन, घटारानी साहू, विशाल साहू, संजना शर्मा को मिला. प्राचार्या ने निर्णयिकाओं को स्मृति चिन्ह प्रदान कर आभार व्यक्त किया।


Date : 23-Jan-2020

नई दिल्ली, 23 जनवरी । साल का वह वक्त आ गया है, जब ज़्यादातर नौकरीपेशा मौजूदा वित्तवर्ष में की गई बचत और निवेश के सबूत जुटाकर अपने-अपने ऑफिसों में जमा करने की कवायद में जुटे नजर आते हैं। इन्हीं में से एक होती है इनकम टैक्स एक्ट की धारा 80सी के तहत की गई बचत और निवेश, जिस पर सभी को टैक्स में छूट दी जाती है, और इसी में शामिल होती है बीमा के प्रीमियम के तौर पर जमा कराई गई रकम, होम लोन की किश्तों में ब्याज के साथ-साथ चुकाई गई मूलधन की रकम, बच्चों की पढ़ाई पर ट्यूशन फीस के रूप में खर्च की गई रकम, राष्ट्रीय बचत पत्रों (हृस्ष्ट) में निवेश की गई रकम और लोक भविष्य निधि में निवेशित राशि। इस धारा के तहत कुल मिलाकर 1,50,000 रुपये प्रतिवर्ष तक की रकम पर आपको कोई टैक्स नहीं देना पड़ता है, सो, इस धारा के अंतर्गत किया गया निवेश आज की तारीख में आपका टैक्स बचाने के साथ-साथ आपको भविष्य में आर्थिक सुरक्षा भी देता है।
लोक भविष्य निधि (पीएफएफ) में प्रतिवर्ष अधिकतम 1,50,000 रुपये का निवेश किया जा सकता है, और इस पर सरकार आज की तारीख में 7.9 प्रतिशत प्रतिवर्ष ब्याज देती है, जो आपकी बचत में ही जुड़ता चला जाता है। यह खाता किसी भी डाकखाने (पोस्ट ऑफिस) या बैंकों की चुनिंदा शाखाओं में खोला जा सकता है, और इसमें जमा कराई गई राशि ठीक 15 साल बाद आपको बमय ब्याज वापस मिल जाती है। इसमें सबसे एहम पहलू यह है कि यह सरकारी योजना ईईई श्रेणी की है, जिसका अर्थ है कि आपको न सिर्फ निवेश की गई रकम पर टैक्स में छूट हासिल होती है, बल्कि उस पर मिलने वाला ब्याज भी करमुक्त होता है, और परिपक्वता के समय मिलने वाली सम्पूर्ण राशि पर भी कोई आयकर नहीं देना पड़ता।
लेकिन इन 15 सालों में आप कितनी रकम जमा कर पाएंगे, कुल कितनी रकम आपको हासिल होगी, और एक पीपीएफ खाते से आप कुल मिलाकर कितनी रकम बचा पाएंगे। अगर कोई शख्स अपने पीपीएफ खाते में हर साल पूरी रकम, यानी 1,50,000 रुपये जमा कराता है, और ब्याज दर में कोई परिवर्तन नहीं होता है, तो उसे खाते की परिपक्वता के समय थोड़े-बहुत नहीं, पूरे 43,60,517 रुपये हासिल होंगे, जिस पर उसे कोई टैक्स नहीं देना होगा। यानी 15 साल तक हर साल 1,50,000 रुपये जमा करते हुए आपने खाते में कुल 22,50,000 रुपये जमा किए थे, और अब आपको 21,10,517 रुपये का करमुक्त ब्याज मिलेगा।
लेकिन सबसे दिलचस्प पहलू यह है कि आपके पीपीएफ खाते से आपको सिर्फ यह ब्याज ही हासिल नहीं होगा, बल्कि 15 साल तक निवेश के दौरान भी आपने खासी रकम बचा ली होगी। जी हां, इस 1,50,000 रुपये के निवेश की बदौलत मौजूदा आयकर दरों के हिसाब से आपने हर साल अधिकतम 46,800 रुपये का इनकम टैक्स भी बचाया है (अगर आपकी आय 30 प्रतिशत कर की स्लैब में आती है)। अगर आपकी आय 20 प्रतिशत आयकर की स्लैब में आती है, तब भी आप कम से कम 31,200 रुपये प्रतिवर्ष टैक्स के रूप में बचा सकते हैं।
सो, अगर मोटा-मोटा हिसाब लगाया जाए, तो ब्याज के तौर पर 15 साल की समाप्ति के बाद मिलने वाली 21,10,517 रुपये की रकम के अलावा आप 7,02,000 रुपये आयकर के रूप में भी बचा सकते हैं, सो, पीपीएफ खाते से आपने कुल मिलाकर 22,50,000 रुपये के निवेश पर 28,12,517 रुपये कमाए, जिन पर आपको किसी भी तरह का कोई टैक्स नहीं देना होगा।(एनडीटीवी)
 


Date : 21-Jan-2020

रियल एस्टेट कंपनी अविनाश ग्रुप द्वारा ग्राहकों को रायपुर व नया रायपुर में बिजनेस को साकार करने का सुनहरा अवसर, कमर्शियल प्रोजेक्ट में प्री रेंटेड शॉप्स व ऑफिस के विकल्प उपलब्ध

रायपुर, 21 जनवरी। रियल एस्टेट कंपनी अविनाश गु्रप द्वारा ग्राहकों को रायपुर व नया रायपुर में बिजनेस को साकार करने का सुनहरा अवसर प्रदान कर रही है। अविनाश गु्रप के कमर्शियल प्रोजेक्ट में 150 से 4000 स्क्वैयर फीट शॉप व ऑफिस के विकल्प उपलब्ध है।

इस संबंध में आंनद सिघांनिया ने बताया कि अविनाश गु्रप के सभी कमर्शियल प्रोजेक्ट अत्याधुनिक सुविधाओं से निर्मित है, जो रायपुर एवं नया रायपुर के सर्वश्रेष्ठ व्यवसायिक परिसर है और इकोनोमिक रेट में उपलब्ध है। साथ ही उन्होंने बताया कि इस कमर्शियल प्रोजेक्ट में ऑफिस, शॉप, वेयरहाउस, गोडाउन एवं इन्डस्ट्रीयल प्लॉट्स के विकल्प उपलब्ध है। सभी प्रोजेक्ट शहर के प्रमुख व्यवसायिक महत्व की लोकेशन पर है तथा रेडी पजेशन एवं अंडर कन्सट सारे प्रोजेक्ट में पार्किंग, लिफ्ट फैस्लिटी, पावर बैकअप इत्यादि है। 

अविनाश टाईम्स स्क्वेयर, सेक्टर-19 नया रायपुर में स्थित है ‘अविनाश टाईम्स स्क्वेयर’ अपनी बेजोड़ संरचना एवं बेमिसाल आर्किटेक्चर के लिए बहुचर्चित हो चुका है। नया रायपुर में 8100 स्क्वेयर फीट में फैला तथा 11000 स्क्वेयर में बिजनेस शॉपिंग मॉल के साथ एक सस्टेनेबल कमर्शियल कॉम्प्लेक्स प्राइम लोकेशन में तैयार हैै। जिसमें 500 स्क्वेयर से शॉप व ऑफिस के विकल्प है।

श्री सिंघानिया ने बताया कि रायपुर में पंडरी स्थित श्याम प्लॉजा में सर्वसुविधायुक्त 500 स्क्वेयर फीट से शुरु शॉप एवं ऑफिस उपलब्ध है। औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा में अविनाश ग्रुप का कमर्सियल प्रोजेक्ट अविनाश लॉजिस्टीक पार्क, जो की छत्तीसगढ़ का प्रथम लॉजस्टीक पार्क है। करीब 25 एकड़ पर पूर्ण विकसित प्लॉट, गोदाम व वेयर हाऊस है, जो उद्योग व्यापार व निवेश के लिए बेहतर विकल्प है। 

 इस परियोजना के अंतर्गत 10 हजार वर्गफूट से लेकर 4 एकड़ तक के विकसित प्लॉट क्रेताओं के लिए उपलब्ध है, जिसका पजेशन तुरंत दिया जा रहा है तथा कुछ उद्योग व्यापारियों नेे लघु उद्योग बनाकर प्रोडक्शन शुरू कर दिया है। अविनाश लॉजिस्टीक पार्क में उच्चकोटी की सुविधाएं दी गई है।


Date : 20-Jan-2020

अविनाश अतुल्य में महालोन मेला को मिला शानदार रिस्पोंस, प्रबंध संचालक आनंद सिंघानिया ने बताया कि इस परियोजना का ले-ऑऊट, कालोनी विकास अनुमति और भवन निर्माण अनुज्ञा जैसी अनुमति तथा स्वीकृति सक्षम अधिकारियों से प्राप्त है

रायपुर, 20 जनवरी। अविनाश ग्रुप द्वारा बस्तर की राजधानी जगदलपुर में ’अविनाश अतुल्य’, बहुमंजिला आवासीय प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य पूरी तेजी पर है और पूर्णता की ओर है। इस प्रोजेक्ट को लेकर जगदलपुरवासी बहुत उत्साहित है ग्राहकों के लिए अविनाश अतुल्य में विगत दो दिवासी महालोन मेला का आयोजन किया गया था, जिसमें जगदलपुरवासियों का शानदार रिस्पोंस मिला। इस दौरान यहां ग्राहकों ने फ्लैट बुक कराया, फ्लैट बुकिंग करने पर सोने के सिक्के दिए गए। यह आवासीय परियोजना जगदलपुर के प्राईम लोकेशन-गीदम रोड, एन.एच.-16 सूर्या कॉलेज के पास स्थित है। जी 5 बहुमंजिला आवासीय परियोजना में कुल 180 अपार्टमेंट और 12 पेंट हाउस का निर्माण किया जा रहा है जिसके अनुसार ब्लॉक- ए.,बी., और डी. में 2 बी.एच.क.े और 3 बी.एच.के. अपार्टमेंट रहेंगें जबकि ब्लॉक-सी में एल.आई.जी. समूह के लिए 1 बी.एच.के. के अपार्टमेंट रहेंगें।

अविनाश ग्रुप के प्रबंध संचालक आनंद सिंघानिया ने बताया कि इस परियोजना का ले-ऑऊट, कालोनी विकास अनुमति और भवन निर्माण अनुज्ञा जैसी अनुमति तथा स्वीकृति सक्षम अधिकारियों से प्राप्त है।

 

 

 


Date : 20-Jan-2020

सकारात्मक सोच हर कदम पर सफलता हासिल करने में मदद करती है-चौधरी, व्यापार महोत्सव के तीसरे दिन उमड़े लोग

छत्तीसगढ़ संवाददाता

भिलाई नगर, 20 जनवरी। छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज भिलाई द्वारा आयोजित व्यापार महोत्सव 2020 के तीसरे दिन आयोजन स्थल में भारी संख्या में लोग उमड़े। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व आईएएस ओपी चौधरी व पूर्व विधायक व प्रदेश चेंबर ऑफ कामर्स के संरक्षक श्रीचंद सुंदरानी, चेम्बर प्रदेश अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा, शिक्षाविद् संजय ओझा, ट्रांसपोर्ट व्यवसायी इंद्रजीत सिंह, प्रभुनाथ बैठा, सीए अमित चिमनानी, दुर्ग निगम के वरिष्ठ पार्षद अब्दुल गनी, भिलाई चेम्बर अध्यक्ष भीमसेन सेतपाल थे। अतिथियों ने अलग-अलग सेगमेंट के स्टॉल का भ्रमण किया और व्यापारियों से वस्तुओं के संबंध में फीडबैक लिया।

मुख्य अतिथि ओपी चौधरी ने कहा कि हमारी सोच और कुछ कर गुजरने की क्षमता ही हमारे सफलता का मार्ग निर्धारित करती है। उन्होंने बताया कि उनके दादा से लेकर पिता और अब स्वयं उनका भी व्यापार से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं रहा है। बावजूद इसके उनका मानना है कि सकारात्मक सोच आपको हर कदम पर सफलता हासिल करने में मदद करती है। जिंदगी में सफलता के लिए खुद सूत्र बनाएं और अपने हिसाब से रणनीति तैयार करें। श्री चौधरी ने कहा कि अपने आप को वैल्यू देना सीखें, जीवन मूल्यवान है। सफलता या असफलता से बिल्कुल भी नहीं घबराना चाहिए। घटनाओं को सकारात्मक लें, जो जैसा सोचता है वैसा ही करता और बनता है।

श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि सभी व्यापारियों को एकजुट लाने का यह प्रयास बहुत ही सराहनीय है। व्यापार हित के लिए सभी की एकजुटता बहुत जरूरी है और उन्होंने भिलाई चेंबर के प्रयास की सराहना की। कार्यक्रम संयोजक द्वय गारगी शंकर मिश्रा एवं अजय भसीन ने सभी अतिथियों का स्मृति चिन्ह भेंटकर उनका अभिनंदन किया।

व्यापार महोत्सव में 130 अलग-अलग सेगमेंट के स्टॉल लगे हैं। इन रोजमर्रा की जरूरतों की चीजों के अलावा, रेडिमेट, हैंडलूम, फर्नीचर, रियल स्टेट, इलेक्ट्रानिक्स, मोबाइल, ऑटो मोबाइल, बैकिंग, बीमा, ज्वेलरी, इंटीरियर, डेली नीड्स के स्टॉल सहित फुड स्टॉल भी लगाए गए हैं। लोगों को यहां खरीदारी के साथ फुड जोन में एक से बढक़र एक व्यंजनों का लुत्फ उठाने का मौका मिल रहा है। साथ ही लाइव स्टेज के दौरान कलाकारों की परफार्मेंस भी लोगों ने इंज्वाय किया। भिलाई चेंबर द्वारा व्यापार महोत्सव के साथ ही विभिन्न विषयों से संबंधी तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन भी किया गया है। जिसमें स्टार्टअप सहित प्लानिंग, नेतृत्व बाडिंग, सेल्स एंड मार्केटिंग एवं बिजनेस ग्रोथ विषय पर कार्यशाला हुई। इस अवसर पर सीए चेतन तरवानी, कैट के प्रदेश अध्यक्ष अमर परवानी, डॉ. विनय अग्रवाल, संदीप अग्रवाल सहित अन्य अतिथिगण एवं युवा मौजूद रहे।


Date : 20-Jan-2020

‘सक्षम-2020’ संरक्षण क्षमता महोत्सव आरंभ, इसके माध्यम से प्रदेश में ‘ईंधन अधिक न खपाएं-आओ पर्यावरण बचाएं’ स्लोगन के साथ जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है

रायपुर, 20 जनवरी। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने रायपुर के नवीन विश्राम गृह में विगत दिनों आयोजित समारोह में संरक्षण क्षमता महोत्सव ‘सक्षम-2020’ का शुभारंभ किया। इसके माध्यम से प्रदेश में ‘ईंधन अधिक न खपाएं-आओ पर्यावरण बचाएं’ स्लोगन के साथ जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।

देश की सरकारी तेल कम्पनियों द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से 16 जनवरी से 15 फरवरी तक संरक्षण क्षमता महोत्सव का आयोजन किया गया है। इस अवसर पर मंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा प्रदेश में स्वच्छ पर्यावरण, पीने का साफ पानी अन्य ऊर्जा संसाधनों के संरक्षण के साथ ही बहुमूल्य संसाधनों की उपलब्धता के लिए कई उपाय किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि विकास के लिए ऊर्जा बहुत जरूरी है और ऊर्जा का संरक्षण वर्तमान समय की मांग है। श्री भगत ने सरकारी तेल कम्पनियों द्वारा तेल, गैस और पर्यावरण संरक्षण के इस आंदोलन को एक बड़ा अभियान के रूप में चलाने और दैनिक जरूरतों में संरक्षण को लागू करने पर बल दिया। उनका कहना है कि ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में युवाओं, गृहणियों, किसानों और वाहन चालकों की क्षमता में सुधार के लिए ऊर्जा कुशल उपकरणों पर विभिन्न जागरूकता और प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू किया जाना चाहिए। कार्यक्रम का आयोजन पेट्रोलियम संरक्षण अनुसंधान संघ द्वारा किया गया। इस अवसर पर सरकारी तेल कम्पनियों के प्रबंधक, अधिकारी, व्यापारी, वितरक, परिवहनकर्ताओं सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित रहे।

       

 


Date : 19-Jan-2020

भारतीय रेलवे की आवश्यकता को पूरा करने के लिए बीएसपी ने प्राइम रेल्स के उत्पादन में 37 फीसदी की दर्ज की वृद्धि, सीईओ ने कार्मिकों व अधिकारियों को बधाई दी 

छत्तीसगढ़ संवाददाता

भिलाई नगर, 19 जनवरी। भिलाई इस्पात संयंत्र ने भारतीय रेलवे की आवश्यकता को पूरा करने के लिए रेल्स के उत्पादन पर जोर देते हुए इस वित्त वर्ष में 17 जनवरी को ही विगत वित्तीय वर्ष 2018-19 के प्राइम यूटीएस 90 रेल्स के उत्पादन की कुल मात्रा को पार कर लिया है। भिलाई इस्पात संयंत्र के सीईओ अनिर्बान दासगुप्ता ने 18 जनवरी को रेल्स उत्पादन करने वाली यूनिवर्सल रेल मिल और रेल एंड स्ट्रक्चरल मिल का दौरा करने के साथ ही रेल्स उत्पादन हेतु रेल ब्लूम्स का उत्पादन करने वाले स्टील मेल्टिंग शॉप्स-2 और 3 का दौरा कर कार्मिकों व अधिकारियों को बधाई दी।

संयंत्र के सीईओ अनिर्बान दासगुप्ता ने यूआरएम, आरएसएम, एसएमएस 2 और एसएमएस 3 के सदस्यों को बधाई देते हुए कहा कि हमें भारतीय रेलवे को वायदे के अनुरूप इस वित्तीय वर्ष में 13.5 लाख टन प्राइम यूटीएस 90 रेल्स की आपूर्ति सुनिश्चित करनी है इस हेतु अपने उत्पादन की गति को बढ़ाते हुए चुनौतीपूर्ण लक्ष्य को पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास करना है। संबंधित विभागों के प्रमुखों ने सीईओ को यह आश्वस्त किया कि वे पूरी प्रतिबद्धता के साथ इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। वर्तमान वित्त वर्ष में 17 जनवरी तक संयंत्र ने प्राइम यूटीएस 90 रेल्स में पिछले वित्तीय वर्ष में इसी अवधि के मुकाबले 37.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करते हुए रेल्स उत्पादन में एक लम्बी छलांग लगाई है। वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान, 17 जनवरी तक यूनिवर्सल रेल मिल ने 4 लाख 6 हजार 361 टन प्राइम यूटीएस 90 रेल्स का उत्पादन किया जो कि पिछले वित्त वर्ष के इसी अवधि के उत्पादन से 50.8 प्रतिशत अधिक है। इसी प्रकार चालू वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान 17 जनवरी तक रेल एवं स्ट्रक्चरल मिल ने 5 लाख 79 हजार 540 टन प्राइम यूटीएस 90 रेल्स का उत्पादन किया जो कि पिछले वित्त वर्ष के इसी अवधि के उत्पादन से 29.7 प्रतिशत अधिक है।

 

 


Previous12Next