छत्तीसगढ़ » बीजापुर

12-Jul-2020 10:58 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बीजापुर, 12 जुलाई।
जिले के 298 लोगों को बोर खुदवाने और वाहन दिलवाने के नाम पर करीब दो करोड़ की ठगी करने वाले आरोपी को कुटरू पुलिस ने शुक्रवार की रात दबोच लिया। उसे सीजेएम कोर्ट में पेश किया जा रहा है। 

कुटरू एसडीओपी एसएच ठाकुर ने बताया कि दो साल पहले डीएनके कॉलोनी कोण्डागांव निवासी गौरीशंकर दास ने बीजापुर जिले के 298 लोगों से रकम ऐंठी थी। उसने लोगों को बोर खुदवाने, टै्रक्टर दिलाने, डोजर दिलवाने, शो रूम और पुरानी गाडिय़ों के किस्त की रकम पटाने के नाम पर एक करोड़ पच्यासी लाख रूपए की ठगी की। 
एसडीओपी के मुताबिक एनएमडीसी में नौकरी लगाने के नाम पर भी उसने दीगर जिलों के युवाओं से बीस-बीस हजार रूपए लिए। एसएच ठाकुर ने बताया कि ठगे गए कुटरू के युवक बोदीराम वाचम की शिकायत पर गौरीशंकर दास के खिलाफ थाने में धारा 420, 34 के तहत मामला कायम किया गया। पुलिस उसे कोण्डागांव से पकड़कर लाई। उसके घर की तलाशी ली गई लेकिन वहां पैसे नहीं मिले। उसके बैग में कागजात मिले। उसने अपराध स्वीकार किया है। 

 


12-Jul-2020 10:57 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 12 जुलाई। एक तरफ देश प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामले लगातार सामने आ रहे है। वहीं दूसरी तरफ बीजापुर से एक राहत देने वाली खबर सामने आई है। महिला बाल विकास अधिकारी और दो अन्य पॉजिटिव लोगों के संपर्क में आए 39 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इससे बीजापुर के लोगों ने थोड़ी राहत की सांस ली है। अभी भी 200 से ज्यादा लोगों की रिपोर्ट आनी बाकी है।

सीएमएचओ डॉ. बीआर पुजारी ने बताया कि महिला बाल विकास अधिकारी के अलावा मंगनार के एक ग्रामीण, क्वॉरंटीन में रहे कीस्टोन कंपनी के एक कर्मी जो कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, इन तीनों के संपर्क में आए 39 लोगों की अभी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं इसके अलावा जिले के 200 से ज्यादा लोगों की रिपोर्ट आना अभी बाकी है। उन्होंने बताया कि आईसीडीएस अफसर के परिवार का यहां आइसोलेशन में रख कर इलाज किया जा रहा है। 
ज्ञात हो कि बीजापुर में लगातार कोरोना पॉजिटिव केस सामने आने के बाद लोगों में हड़कंप मच गया था। इधर रविवार को 39 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद लोगों ने राहत महसूस की है।

 


09-Jul-2020 9:09 PM

बीजापुर, 9 जुलाई। जिले में गुरुवार को कोरोना बम फुट गया। अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 18 हो गई है। जिसमें 17 एक्टिव केस है और एक कोरोना मरीज ठीक होकर वापस लौट आये हैं। 

 गुरुवार को  सीआरपीएफ के 8 जवान कोरोना पॉजिटिव मिले हंै, वहीं जेईडी कॉलोनी के 5 लोग में कोरोना की पुष्टि हुई है। कलेक्टर रितेश अग्रवाल ने कोरोना मरीजों के पॉजिटिव पाए जाने की पुष्टि की है।


07-Jul-2020 9:26 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बीजापुर, 7 जुलाई।
बिलासपुर से लौटे महिला एवं बाल विकास विभाग के एक आला अफसर कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इनके साथ अब कोरोना पॉजीटिव की संख्या जिले में पांच हो गई है। 

सूत्रों के मुताबिक सीआरपीएफ की 229 बटालियन के दो जवान कोरोना से संक्रमित थे और इनमें से एक स्वस्थ हो चुका है। वहीं तेलंगाना से आए एक मजदूर भी संक्रमित पाया गया। इसे मुरकीनार में कंटेनमेंट जोन में रखा गया है। भैरमगढ़ के मंगलनार में तेलंगाना से आए एक संक्रमित मजदूर को क्वारंटीन सेंटर में रखा गया है। बताया गया है कि महिला बाल विकास विभाग के एक अधिकारी एक जुलाई को बिलासपुर से लौटे थे और उनका सैंपल 2 जुलाई को लिया गया। चार जुलाई को उनका सेंपल भेजा गया था। इसकी रिपोर्ट मंगलवार को आई। वे कोरोना पॉजीटिव पाए गए। 

18 लोग प्राइमरी कॉन्टेक्ट में 
सीएमएचओ डॉ. बीआर पुजारी ने बताया कि महिला एवं बाल विकास विभाग के कोरोना पीडि़त अधिकारी के प्रायमरी कॉन्टेक्ट की फेहरिस्त में 18 नाम हैं। इनमें उनके घर वाले भी हैं। फिलहाल अधिकारी को मांझीगुड़ा स्थित आइसोलेशन सेंटर में रखा जा रहा है। 

कार्यालय में सेनिटाइजेशन 
अफसर के कोरोना पीडि़त पाए जाने के बाद जिला प्रशासन से सख्त रवैया अपनाना शुरू किया है। पालिका की ओर से उनके कार्यालय में सेनेटाइजेशन किया गया। इधर, कलेक्टोरेट में भी सेनेटाइजेशन का काम चल रहा है। इधर, अब कलेक्टोरेट परिसर में बगैर हाथ धोए  प्रवेश की पाबंदी है। इसके लिए गेट में ही एक गार्ड और एक भृत्य की ड्यूटी लगाई गई है। 

राहगीरों को सलाह
पुलिस और पालिका की ओर से मंगलवार को राहगीरों को रोककर कोविड 19 से बचने के उपाय के बारे में समझाइश दी गई। उन्हें बार-बार हाथ धोने एवं मास्क का इस्तेमाल करने कहा गया। इधर, जिला प्रशासन  ने बस स्टैण्ड में आने वाले मुसाफिरों की स्क्रीनिंग जरूरी कर दी है। इसके  लिए दो शिफ्ट में तीन-तीन स्वास्थ्य कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। सुबह नौ से रात आठ बजे तक एक डॉक्टर व दो नर्सों को तैनात किया जा रहा है। 

 

 


05-Jul-2020 9:19 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बीजापुर, 5 जुलाई।
जिले के भोपालपटनम ब्लॉक के वाडला के एक गांव में गाज से ग्यारह मवेशियों की मौत हो गई। घटना शनिवार शाम की बताई गई है।
जानकारी के मुताबिक शनिवार की शाम पांच बजे के करीब आकाशीय बिजली (गाज) गिरने से भोपालपटनम तहसील के ग्राम वडला के आश्रित ग्राम पोलेम निवासी मड़े कापा पिता जोगा के 11 पशुओं की एक साथ मौत हो गई। इसमें 7 गाय एवं 4 बैल शामिल हंै।

 ग्राम पटेल मड़े शुकरैया ने इसकी सूचना क्षेत्रीय जिला पंचायत सदस्य बसंत राव ताटी को दी। उन्होंने तत्काल इस घटना की सूचना भोपालपटनम तहसीलदार शिवनाथ बघेल एवं थाना प्रभारी वीरेंद्र चंद्रा को दी और वे खुद घटनास्थल पर पहुंच कर ग्राम पंचायत वडला के सरपंच मड़े भीमसेन एवं पटेल मेड शुकरैया सहित उपस्थित ग्रामीणों से पूरी घटनाक्रम के संबंध में चर्चा की। मौके पर पहुंचे हल्का पटवारी जितेंद्र गंधरला ने भी घटनास्थल का मुआयना कर उपस्थित ग्रामीणों के समक्ष पंचनामा तैयार किया है। 

जिला पंचायत सदस्य बसंत राव ताटी ने पीडि़त किसान मड़े कापा को अतिशीघ्र मुआवजा राशि दिलाने की बात कही। ताटी ने संपूर्ण घटनाक्रम की जानकारी क्षेत्रीय विधायक विक्रम शाह मंडावी को भी दी है। विधायक ने उक्त घटना पर अफसोस जताते हुए पीडि़त किसान को हरसंभव मदद दिलाने की बात कही है।

 

 


04-Jul-2020 10:00 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बीजापुर,  4 जुलाई। 
बस्तर रेंज के आईजी पी. सुंदरराज ने कहा है कि अंदरूनी इलाकों में लोगों का भरोसा हौले-हौले जीतने की कोशिश रंग लाने लगी है और यही जिले की तरक्की का पैरामीटर भी है। उन्होंने बताया कि पामेड़ में बिजली लाने तेलंगाना से करार की प्रक्रिया अभी चल रही है। 

यहां पत्रकारों से चर्चा में बस्तर आईजी पी. सुंदरराज ने कहा कि हम विकास, विष्वास एवं सुरक्षा को लेकर काम कर रहे हैं और इसमें प्रषासन ही नहीं बल्कि अर्धसैनिक बलों के साथ अच्छा तालमेल है। वे हर कदम पर साथ दे रहे हैं। आईजी ने कहा कि हर साल जमीनी हालत की रणनीतिक समीक्षा होती है और इसमें जमीनी हकीकत पर गौर किया जाता है। ये भी देखा जाता है कि अभी चुनौतियां क्या हैं। अभी गौर किया गया है कि जहां तक लोगों का भरोसा जीत लेने की बात है, इसमें पॉजीटिव रिजल्ट आए हैं। पहले जहां फोर्स नहीं जा सकती थी, अब वहां हौले-हौले फोर्स आगे बढ़ रही है। पहले कभी कभार फोर्स से जनता अंसतुष्ट थी, अब ऐसी कोई शिकायत नहीं आ रही है। इसमें सीआरपीएफ, कोबरा, सीएएफ, डीएफ एवं डीआरजी का बड़ा योगदान है। लोगों का विश्वास जीते बिना विकास के पथ पर आगे नहीं बढ़ा जा सकता है। हमें लड़ाई जनता के लिए लडऩी है। पामेड़ सरीखे जटिल इलाके में सड़क बन गई है और अब वहां बिजली लाने तेलंगाना से अनुबंध किया जा रहा है। पत्रवार्ता में कलेक्टर रितेश अग्रवाल, सीआरपीएफ डीआईजी कोमल सिंह, एसपी कमलोचन कश्यप, सीआरपीएफ के कमाण्डेंट, पी कुजूर, यादवेन्द्र सिंह यादव, एके चौधरी, एके भट्टाचार्य, प्रेम मकन एवं दीगर आला अफसर मौजूद थे। 

लोगों के लिए है अधोरचना
आईजी पी सुंदरराज ने साफ किया कि अंदरूनी इलाकों में सड़क, पुल, बिजली, पानी और हॅास्पिटल समेत दीगर संरचनाएं और सुविधाएं फोर्स नहीं, अपितु लोगों के लिए है और उनकी मांग पर ही अधोरचना विकसित की जा रही है। आवापल्ली-उसूर, इलमिड़ी, फरसेगढ़-कुटरू एवं सड़कों के कई प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। अभी पामेड़ के लोगों को चेरला के रास्ते फिर अपने ही जिले में आना पड़ता है। लोगों की मांग पर उसूर की सड़क पर भी काम होगा। इधर, तर्रेम तक सड़क बन गई है।  थाने और चौकियों को समग्र विकास के केन्द्र के तौर पर विकसित किया जाएगा। खेती और दीगर रोजगार के जरिए युवाओं को काम मिलेगा। 

शहादत के बाद भी पीछे नहीं हटी फोर्स
आईजी ने कहा कि सड़क निर्माण के दौरान सुऱक्षा में लगे कई जवानों ने ष्षहादत पाई। इसमें कई जवान घायल भी हुए लेकिन फोर्स पीछे नहीं हटी । अब तो अंदरूनी इलाकों के लोग भी तरक्की की बात को लेकर  आने लगे हैं  और ये अच्छा इशारा है। 

 


04-Jul-2020 9:58 PM

बीजापुर, 4 जुलाई। शुक्रवार को नक्सलियों ने जवानों को सब्जी सप्लाई करने वाली गाड़ी को आग के हवाले कर दिया। घटना कुटरू थाना क्षेत्र के अंतर्गत की है।

 घटना की जानकारी देते हुए एसपी कमलोचन कश्यप ने बताया कि शुक्रवार को बाजार का दिन था। 709 गाड़ी कुटरू से करकेली जा रही थी। उसी वक्त 8 से 10 नक्सली सड़क पर आ गए और गाड़ी को रास्ते पर रोक दिया। उसके बाद उसकांपटनम औऱ बंदेपारा के जंगलों में सब्जी गाड़ी को मुख्यमार्ग से 400 मीटर अंदर ले गए और गाड़ी में आग लगा दी। एसपी ने बताया कि इस गाड़ी से जवानों के लिए सब्जी की सप्लाई होती थी जो करकेली, रानिबोदली कैम्प में जवानों को सब्जी पहुंचाने का कार्य करती थी। नक्सलियों ने गाड़ी मालिक के साथ भी मारपीट की और गाड़ी को जलाकर जंगल की ओर भाग गए।

 

 


04-Jul-2020 9:57 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
बीजापुर, 4 जुलाई।
भले ही नक्सलियों ने कोरोना के शक में अपने मेंबर सुमित्रा चेपा (36) को संगठन से निकाल दिया लेकिन उसका कोरोना टेस्ट निगेटिव आया। फिर उसमें संगठन छोड़ मुख्यधारा से जुड़ जाने की पॉजिटिव सोच पैदा हुई। 

बस्तर के आईजी पी. सुंदरराज, कलेक्टर रितेश अग्रवाल, सीआरपीएफ के डीआईजी कोमल सिंह, एसपी कमलोचन कष्यप, सीआरपीएफ के कमाण्डेंट यादवेन्द्र सिंह यादव, एके चौधरी, एके भट्टाचार्य, पी कुजूर एवं प्रेम मकन के समक्ष सुमित्रा के अलावा पांच लाख के इनामी नक्सली मड़कम देवा उर्फ माडा ने शनिवार को आत्म समर्पण कर दिया।

 थाना बासागुड़ा क्षेत्र के कोरसागुड़ा निवासी मड़कम देवा जगरगुण्डा-बासागुड़ा का एरिया कमेटी मेंबर और जनताना सरकार का अध्यक्ष था। वह कई वारदातों में शामिल था, वहीं सुमित्रा मोदकपाल थाना क्षेत्र के पेद्दाकवाली की निवासी हंै। वह कंपनी नंबर एक की प्लाटून नंबर तीन की मेंबर थी। बारह जून को उसे चार माओवादियों के साथ उसके घर भेज दिया गया। संदिग्ध परिस्थिति में मिलने पर सीआरपीएफ की 170 बटालियन ने उससे पूछताछ की और फिर उसे क्वारंटीन में रखा गया। उसे टीबी की शिकायत पाई गई है। उसका इलाज चल रहा है। आत्मसमर्पित दोनों नक्सलियों को दस-दस हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि दी गई। आईजी ने कहा कि दोनों का पुनर्वास नीति का लाभ दिया जाएगा। 

 


02-Jul-2020 9:58 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 2 जुलाई। गुरुवार को जिला मुख्यालय व भैरमगढ़ मुख्यालय में शालेय शिक्षा कर्मी संघ ने संविलियन दिवस मनाया। इस दौरान संघ के सदस्यों ने बाबा साहेब की प्रतिमा पर पहुंचकर केक काटकर एक दूसरे को खिलाकर खुशी जाहिर की। 

ज्ञात हो कि 1 जुलाई 2018 को लगभग एक लाख बीस हजार शिक्षाकर्मियों को तत्कालीन रमन सरकार द्वारा संविलयन कर पूर्ण शिक्षक का दर्जा दिया गया था। इसलिए प्रतिवर्ष शिक्षाकर्मियों द्वारा प्रतिवर्ष 1 जुलाई को संविलियन दिवस मनाया जाता है।

       गुरुवार को बीजापुर जिला मुख्यालय मे संघ के जिला सचिव कैलाश रामटेके, जिला महामंत्री वसीम खान,ब्लाक अध्यक्ष विजय चापड़ी संघ के सक्रिय सदस्य अरुण सिंह आदि ने संविधान निर्माता बाबा साहेब अंबेडकर की प्रतिमा के समक्ष केक काटकर संविलियन दिवस मनाया। वहीं भैरमगढ़ ब्लाक में जिलाध्यक्ष प्रहलाद जैन व ब्लाक अध्यक्ष शिव कुमार पूनेम, अमृतलाल ठाकुर, रघुराम सोनवानी, स्वाती गौराहा व जैनो कुंजाम आदि ने पौधारोपण कर संविलियन दिवस मनाया। ब्लाक उसूर के अध्यक्ष तेलम लच्छमैया व सचिव अनिल झाड़ी ने बताया कि सभी शिक्षकों ने एक दूसरे को बधाई देकर संविलियन दिवस मनाया।

  भोपाल पटनम के ब्लाक अध्यक्ष करन सिंह ने बताया कि सभी साथी शिक्षकों ने केक काटकर एक दूसरे का मुँह मीठा कर संविलियन दिवस मनाया। इस अवसर पर एट्टी राजन्ना, हुंगाराम गोंदी, हरीश उप्पल, राकेश ठाकुर, दुर्गेश नेताम, नंद कुमार सिन्हा, परमेश्वर पाटिल आदि शिक्षक उपस्थित थे।

    इसके साथ ही  प्रांताध्यक्ष वीरेन्द्र दुबे ने वर्चुअल बैठक लेकर बताया कि वर्तमान मुख्यमंत्री भूपेल बघेल ने घोषणा कि 1 जुलाई 2020 को समस्त बचे हुये शिक्षा कर्मियों का संविलियन किया जाएगा। इसके साथ ही प्रदेश से अब शिक्षा कर्मी शब्द समाप्त होता है, इसलिए अब शालेय शिक्षा कर्मी संघ को अब छग शालेय शिक्षक संघ के नाम से जाना जाएगा। छग शालेय शिक्षक संघ ने उम्मीद जताई है कि सरकार अपनी घोषणा के अनुरूप जल्द ही बचे हुये शिक्षकों के लिए संविलियन आदेश जारी करेगी।

 

 

 


01-Jul-2020 9:53 PM

बीजापुर, 1 जुलाई। यहां 25 जून को सीआरपीएफ के 229 बटालियन के एक अफसर में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया था। बुधवार को इसी बटालियन के दूसरे अफसर में भी कोरोना के लक्षण पाए गए हंै। जांच के बाद उनकी भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उनका उपचार चल रहा है।

सीआरपीएफ के डीआईजी कोमल सिंह ने घटना की पुष्टि की है। वहीं स्वास्थ्य विभाग के सीएमएचओ डॉ. बी आर पुजारी ने बताया कि संक्रमित हुए अफसर की उम्र लगभग 30 से 32 साल है। वे 15 जून को वायुमार्ग से प्रयागराज से दिल्ली फिर दिल्ली से रायपुर लौटे थे। रायपुर से निजी वाहन से 16 जून को बीजापुर में अपने कैम्प पहुंचे थे। यहां पहुंचने पर उन्हें महादेव घाटी स्थित 229 बटालियन में क्वॉरंटीन किया गया था।  विदित हो कि जिले में जो पहला कोरोना पॉजिटिव अफसर मिले थे। ये उन्हीं के साथ निजी वाहन से रायपुर से बीजापुर लौटे थे। दोनों सीआरपीएफ के अधिकारी रैंक के ऑफिसर है। उसी वाहन में इनके साथ 2 और सीआरपीएफ के जवान रायपुर से आये थे। इन दोनों का भी सेम्पल जांच के लिए भेजा गया है। दोनों की रिपोर्ट आना बाकी है।


01-Jul-2020 9:48 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 1 जुलाई। जिले के अंतिसंवेदनशील गंगालूर क्षेत्र के दूरस्थ व पहुंच विहीन इलाकों में ग्रामीणों की मांग पर 4 गांवों में स्कूल प्रारंभ करने की स्वीकृति कलेक्टर रितेश अग्रवाल ने दी है। क्षेत्र के ग्रामीणों ने 5 सूत्रीय मांगो में प्रशासन से स्कूल खोलने की मांग रखी थी जिसपर त्वरित कार्रवाई करते हुए कलेक्टर ने 15 सालों से बंद पड़े स्कूलों को फिर से चालू कर अस्थायी शेड निर्माण की स्वीकृति दी है। 

विकासखण्ड बीजापुर के गंगालूर क्षेत्र के अधिकांश स्कूल संवेदनशील एवं पहुंचविहीन क्षेत्र होने के कारण सलवा-जुडूम अभियान के दौरान से लगभग 15 सालों से बंद पड़े है। गत 29 जून को गंगालूर इलाके के ग्रामीणों ने 5 सूत्रीय मांगों को लेकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा था। ग्रामीणों की मांग पर कलेक्टर ने तत्काल गंगालूर ईलाके के पेददाजोजेर, कमकानार, मल्लूर, और बुरजी में 04 स्थानों पर अस्थायी शेड के साथ स्कूल प्रारंभ करने की स्वीकृति दी है। उक्त सभी स्थानों पर स्कूल प्रारंभ करने के लिए बच्चों का सर्वे किया जा रहा है जिसमें तकरीबन 300 से ज्यादा बच्चों के दर्ज होने की संभावना है। इन स्कूलों के संचालन के लिए कलेक्टर के मागदर्शन में शिक्षा विभाग द्वारा पाठ्य-पुस्तक, मध्यान्ह भोजन, बर्तन, टाटपटटी, गणवेश आदि आवश्यक सामाग्री की व्यवस्था की जा रही है। वर्तमान में शेड निर्माण होने तक ग्रामीणों द्वारा अस्थायी झोपड़ी निर्माण किया जा रहा है। 

उल्लेखनीय है कि सलवा-जुडूम के दौरान जिले के सैकड़ों स्कूल बंद हो गये थे, जिसके चलते इन ईलाकों के बच्चे शिक्षा से वंचित हो रहे थे। इस स्थिति को गंभीरता से लेते हुये कलेक्टर ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि कोई भी बच्चा ड्रॉप आऊट व अप्रवेशी न रहे, इसके लिए हरसंभव प्रयास कर शिक्षा के क्षेत्र में शत-प्रतिशत बच्चों की भागीदारी सुनिश्चित करें।