छत्तीसगढ़ » बीजापुर

Previous1234Next
25-Sep-2020 8:47 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 25 सितंबर। छत्तीसगढ़ शासन के स्कूल शिक्षा सचिव आलोक शुक्ला शैक्षणिक व्यवस्था का जायजा लेने बीजापुर पहुंचे तथा भैरमगढ़ व धनोरा में संचालित मोहल्ला क्लास का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान शिक्षा सचिव ने मोहल्ला क्लास की निरंतर संचालन की समीक्षा की साथ ही बच्चों से गणित के सवाल भी पूछे और हाजिर जवाबी से प्रभावित भी हुए। शिक्षा सचिव के दौरे में कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल, सीईओ जिला पंचायत पोशनलाल चंद्राकर, डीएफओ अशोक पटेल, डीईओ डी समैया, डीएमसी विजेंद्र राठौर, बीईओ बीआरसी संकुल समंवयक मौजूद रहे।

निरीक्षण के पश्चात शिक्षा सचिव ने अंग्रेजी मीडियम स्कूल का भ्रमण किया और आवश्यक सुविधाओं से रूबरू हुए। शिक्षक भर्ती और बच्चों के प्रवेश की जानकारी ली गई। भवन के जीर्णोद्धार का कार्य जल्द पूरा करने तथा प्रयोग शाला व पुस्तकालय को मॉडल के रूप में विकसित करने निर्देश दिए। भ्रमण के दौरान शिक्षकों की समस्या की बात सामने आने पर शिक्षा सचिव ने दो दिवस के भीतर शिक्षकों की कमी और मांग के संबध में जानकारी भेजने के निर्देश दिए।

भ्रमण में शिक्षा सचिव ने भैरमगढ़ के संजय पारा में संचालित मोहल्ला क्लास का निरीक्षण किया जहा तीन शिक्षकों प्रभात चौहान, इंदु देवांगन और कमलेश साहू  द्वारा 60 बच्चो के साथ अध्यापन का कार्य किया जा रहा था। यहां के शिक्षकों ने वीडियो ऑडियो सामग्री का संग्रह कर खेल के माध्यम से बच्चों को रुचिकर शिक्षा दी जा रही है। शिक्षकों व बच्चों के लगन व मेहनत को देखकर सचिव श्री शुक्ला ने सरहना की। इस दौरान शिक्षा सचिव ने बच्चों से किताब पढऩे को कहा तथा किताब के बीच से सवाल किए जिसका बच्चो ने तत्परता से जवाब दिया। यहां के मोहल्ला क्लास में बच्चों को ड्राइंग पेंटिंग और रंगोली भी सीखाया जा रहा है जिसे देख शिक्षा सचिव प्रसन्न हुए। भैरमगढ़ के बाद बीजापुर के धनोरा में संचालित मोहल्ला क्लास का निरीक्षण किया गया तथा बच्चों से पहाड़ा सुना गया। शिक्षा सचिव के सवालों का जवाब हाजिर जवाबी के साथ बच्चों ने दिया। इस दौरान शिक्षा सचिव ने शिक्षकों से मोहल्ला क्लास के नियमित संचालन की जानकारी ली तथा निरंतरता बनाए रख बच्चों को नियमित शिक्षा देने हेतु प्रेरित किया। हॉयर सेकेंडरी स्कूल धनोरा में संचालित ऑनलाइन क्लास की भी जानकारी ली गई। यहां के शिक्षक रामलाल गांधरला ने 98 क्लास लेने व बच्चों को नियमित क्लास से लाभान्वित करने की जानकारी दी।

 

 

 

 


23-Sep-2020 10:56 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बीजापुर, 23 सितंबर। बुधवार को लंकापल्ली गांव में मवेशी चरा रहे ग्रामीण पर भालू ने हमला कर घायल कर दिया। जख्मी हालत में ग्रामीण को इलमिडी उप स्वास्थ्य लाकर भर्ती कराया गया है।

मिली जानकारी के मुताबिक लंकापल्ली निवासी शंकर बुरका दोपहर में अपने मवेशियों को जंगल में चरा रहा था। इसी बीच जंगलों के बीच से अचानक निकल कर आए भालू ने शंकर पर हमला कर दिया।

घायल शंकर जैसे तैसे अपने आपको भालू के चंगुल से छूटकर भाग निकला और जख्मी हालत में घर पहुंचा। भालू के हमले से शंकर के एक हाथ में गहरी चोट पहुंची है। उसे परिजनों ने इलाज के लिए इलमिडी उपस्वास्थ्य केन्द्र लाकर भर्ती करा दिया है।

 


22-Sep-2020 10:28 PM

भोपालपटनम, 22 सितम्बर। कोरोना महामारी के प्रकोप से बचाव के लिए अधिकारियों ने समाज के प्रमुख और जनप्रतिनिधियों से की रायशुमारी की गई। इस महामारी से बचने के लिए सभी लोगों ने अपने अपने सुझाव दिये।

      क्षेत्र में बढ़ते कोरोना मरीजों के संख्या को देखते हुए एसडीएम उमेश पटेल ने सर्व समाज के प्रमुख और जनप्रतिनिधियों की बैठक सामुदायिक भवन में की, सभी समाज के प्रमुख लोगों से व्यक्तिगत सुझाव मांगे सभी ने अपने अपने सुझाव दिया। जिला पंचायत सदस्य बसंत ताटी ने कहा कि द्रुत गति से फैल रहें कोरोना बीमारी को रोकने के लिए सम्पूर्ण तालाबंदी होना चाहिए और द्वय पड़ोसी राज्यों से आने वालो पर अंकुश लगाने के साथ ही सघनता से जांच होना चाहिए। जब प्रदेश के साथ ही अन्य संभागो  में तथा ज्यादातर जिलो में तालाबंदी हो चुकी है। इस क्षेत्र में तालाबंदी करने में क्या परेशानी। ज्ञात हो कि इस क्षेत्र में 100 बिस्तर वाला चिकित्सालय है जिसमें वर्तमान में लगभग 79 मरीज हैं।अगर अभी अंकुश नही लगाया गया तो स्थिति भयावह हो सकता है।श्री ताटी द्वारा जो कहा गया काबिलेतारीफ है। जनपद पंचायत अध्यक्षा श्रीमती मरपल्ली ने कहा कि कोरोना बीमारी की रोकथाम के लिए प्रत्येक पंचायत में प्रचार प्रसार करना चाहिए। अमीर खान ने नगर में साफ सफाई के लिए, विशेष ध्यान देने हेतु सुझाव दिया। चेताल समैया ने कहा कि घर घर जाकर जांच कर उन्हें वही दवाईयां दे तो अच्छा रहेगा। कुछ लोगों का कहना था कि लोग चिकित्सक समुदाय में जाने से डर रहे हैं। एसडीएम उमेश पटेल ने कहा कि इस बीमारी से घबराने की जरूरत नहीं है सावधान रहें और नियमों का पालन करे। अगर आपको इस प्रकार के लक्षण हैं या और कोई बीमारी तो बेहिचक चिकित्सालय जाए,मै भी इस बीमारी से पीड़ित था अब स्वस्थ हूं। 

        इस क्षेत्र में तालाबंदी को लेकर भी लोगों में नाना प्रकार की बातें किया जा रहा है। कुछ व्यापारी सम्पूर्ण तालाबंदी के पक्ष में है। उनका कहना है कि आज है, तो कल है। इस बैठक में जनपद पंचायत सीईओ एवं एसडीएम श्री. बंजारे और तहसीलदार  शिवनाथ बघेल आदि गणमान्य शामिल थे।


22-Sep-2020 10:18 PM

जनप्रतिनिधि बोले पांच महीने से पंचायतों में काम ठप

बीजापुर, 22 सितंबर। जिला प्रशासन द्वारा ग्राम पंचायतों को हर साल मिलने वाले चौदहवें वित्त आयोग की राशि पर रोक लगा दिए जाने से सरपंच संघ नाराज हो गया है। संघ ने दो दिनों के भीतर लगे रोक को हटाने की मांग की है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो जिले के सरपंच सामूहिक रूप से इस्तीफा दे देंगे।

मंगलवार को सांस्कृतिक भवन में जिला सरपंच संघ की बैठक रखी गई थी। इसमें जिला पंचायत अध्यक्ष शंकर कुडिय़म, नीना रावतिया उद्दे, जनपद अध्यक्ष राधिका तेलम भी मौजूद रहे। बैठक में मौजूद पंचायत प्रतिनिधियों का कहना था कि जिला प्रशासन ने पांच महीने से 14वें वित्त आयोग की राशि पर रोक लगा दी है। इससे पंचायतों के अधिकार का न केवल हनन हो रहा है। बल्कि पांच माह से पंचायत के विकास कार्य ठप पड़ गए है।

 जनप्रतिनिधियों ने कहा कि पूरे प्रदेश में सिर्फ बीजापुर जिला ही एक मात्र है, जहां जिला प्रशासन ने 14वें वित्त आयोग की राशि पर रोक लगाकर पंचायतों के अधिकारों का हनन करने की कोशिश की है। सरपंच संघ ने विधायक और कलेक्टर से दो दिनों में इसे बहाल करने की मांग रखी है। ऐसा न करने पर जिले भर के सरपंच अपने पदों से सामूहिक रूप से इस्तीफा दे देंगे।

इस विषय पर कलेक्टर रितेश अग्रवाल से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि इस संबंध में सरपंच संघ और जनप्रतिनिधियों से बात की गई है। जो भी कार्य 14वें वित्त के तहत  पंचायतों में पूर्ण हो गए हैं, उनकी सूची, स्टीमेट बनाकर हमें  दे दे, उसके आधार पर राशि पंचायतों को दे दी जाएगी।


22-Sep-2020 10:13 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 22 सितम्बर। नक्सलियों ने एक बार फिर गंगालूर क्षेत्र में जनअदालत लगाकर चार ग्रामीणों पर पुलिस का मुखबिर होने का आरोप लगाकर उनकी हत्या कर दिए जाने की खबर सामने आई है। हालांकि खबर लिखे जाने तक घटना की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई थी।
 
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक गंगालूर थाना क्षेत्र के पीडिया गांव में सोमवार को नक्सलियों ने जनअदालत लगाई थी। इसमें सावनार, डोडी तुमनार और पीडिया के ग्रामीण शामिल थे। यहां नक्सलियों ने सावनार के एक डोडी तुमनार के एक और पीडिय़ा के दो ग्रामीणों की पुलिस मुखबिरी के आरोप में हत्या किए जाने की खबर है। 

हालांकि बीजापुर एसपी कमलोचन कश्यप ने ऐसी किसी घटना की जानकारी होने से इंकार किया है। खबर लिखे जाने तक घटना की पुष्टि नहीं हो सकी थी। 
ज्ञात हो कि पंद्रह से बीस दिन पूर्व भी इसी इलाके के मेटापाल में नक्सलियों ने दो दर्जन से ज्यादा ग्रामीणों का अपहरण कर उनमें से चार ग्रामीणों को जनअदालत लगाकर मौत के घाट उतार दिया था।


22-Sep-2020 5:40 PM

महीने भर में बीजापुर में 9 की हत्या

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर, 22 सितंबर।
मंगलवार को बासागुड़ा थाना क्षेत्र के फुतकेल गांव में नक्सलियों ने फिर एक ग्रामीण की हैंडपम्प के रॉड से सर पर वार कर हत्या कर दी। एसपी कमलोचन कश्यप ने घटना की पुष्टि की है।

एसपी ने बताया कि घटना सोमवार रात लगभग 8.30 बजे की है। मृतक ग्रामीण दासर रमन्ना (35) फुतकेल गांव का रहने वाला था। सोमवार की रात करीब 20 से 25 नक्सली इस किसान के यहां आ धमके और ग्रामीण को उसकी पत्नी और बच्चों के सामने घर से निकाला और हैंडपंप के रॉड से ग्रामीण के सर पर वार कर उसकी हत्या कर दी। एसपी ने बताया कि शव के पास से कोई नक्सली पर्चा नहीं मिला है। 

बताया जा रहा है कि ग्रामीण खेती-किसानी करता था और एक छोटी सी सायकल की दुकान भी चलाता था। नक्सलियों को शक था कि ग्रामीण पुलिस मुखबिरी करता है। 

इधर, एक महीने में नक्सलियों ने अब तक जिले में 9 लोगों की हत्या की है। जिसमें एक एएसआई, एक रेंजर, पुलिस के जवान और ग्रामीण शामिल है। 

हत्या में नहीं हुआ बंदूक का इस्तेमाल 
नक्सलियों ने जिले के जिन 9 लोगों की हत्याओं की है दरअसल उक्त घटनाओं में नक्सलियों ने कहीं भी बंदूक का इस्तेमाल नहीं किया है। नक्सलियों ने हत्या की सभी वारदातों को सिर्फ धारदार हथियारों का उपयोग कर किया है।


21-Sep-2020 9:48 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 21 सितंबर। बीजापुर में सोमवार दोपहर को मिरतुर से जवानों को लेकर दंतेवाड़ा जा रही एक बस नदी में पलट गई। हालांकि इस हादसे में किसी भी जवान को चोट नहीं पहुंची है। सभी जवान सुरक्षित दंतेवाड़ा पहुंच गए हंै।

मिली जानकारी के मुताबिक दो दिन पहले दंतेवाड़ा व बीजापुर जिले के सुरक्षाबलों द्वारा संयुक्त रूप से एंटी नक्सल अभियान चलाया जा रहा था। सोमवार को अभियान खत्म होने के बाद दंतेवाड़ा से आये जवान मिरतुर से तीन बसों में सवार होकर दंतेवाड़ा जा रहे थे। दो बस पहले निकल चुकी थी। तीसरी बस जब नदी रपटा पार कर रही थी। इसी बीच नदी का जलस्तर बढ़ गया और बस अनियंत्रित होकर रपटा से पलट गई। बस में करीब 35 जवान सवार थे। इस हादसे में किसी भी जवान को कोई चोट नहीं पहुंची है। सभी जवान सुरक्षित दंतेवाड़ा पहुंच गए हंै।

बीजापुर एसपी कमलोचन कश्यप ने बताया कि सोमवार की दोपहर 2 बजे के करीब यह हादसा उस वक्त हुआ, जब जवान दंतेवाड़ा वापस लौट रहे थे। उन्होंने बताया कि घटना की जानकारी लगते ही मिरतुर थाना से जवानों ने घटनास्थल पहुंचकर बस में सवार जवानों को बाहर निकाला और उन्हें दंतेवाड़ा के लिए रवाना किया।

ज्ञात हो कि मिरतुर थाना से  4 किमी दूर हुए इस हादसे में सभी डीआरजी के जवान थे। जो बाल-बाल बच गए।


21-Sep-2020 9:44 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 21 सितंबर। भैरमगढ़ थाना क्षेत्र के चिहका गांव में एक पूर्व सहायक आरक्षक की अज्ञात हमलावरों ने हत्या कर शव चिहका गांव के रास्ते में फेंक दिया। घटना को लोग नक्सली वारदात से जोड़कर देख रहे हंै।

बेदरे थाना में पदस्थ पूर्व आरक्षक बज्जी अटामी(33) को ड्यूटी से नदारद रहने के चलते ढाई महीने पहले बर्खास्त कर दिया गया था। वह वर्तमान में भैरमगढ़ के कोष्टापारा रह रहा था। सूत्रों के मुताबिक पूर्व सहायक आरक्षक किसी काम से चिहका गया हुआ था। जिसे कुछ अज्ञात हमलावरों ने तीर धनुष से पेट पर वार कर उनकी हत्या कर दी। हालांकि अभी तक घटना का वास्तविक कारण पता नहीं चल पाया है। लेकिन क्षेत्र के लोग इसे नक्सली घटना से जोड़कर देख रहे हंै।


21-Sep-2020 9:43 PM

बीजापुर, 21 सितंबर। यहां से 35 किमी दूर जांगला थाना क्षेत्र के बड़े तुंगाली व छोटे तुंगाली के बीच नक्सलियों द्वारा प्लांट किया गया विस्फोटक जवानों ने बरामद कर उसे वहीं निष्क्रिय कर दिया।

पुलिस के मुताबिक बीते दिनों सीआरपीएफ व जिला बल के जवानों की संयुक्त पार्टी नक्सल विरोधी अभियान पर जांगला थाना क्षेत्र के पोटेनार जैवारम व दुरदा की ओर निकली हुई थी। इसी दौरान जवानों को सूचना मिली कि बड़े तुंगाली व छोटे तुंगाली के बीच जंगल में नक्सलियों ने आईईडी प्लांट कर रखा है। जवानों तत्काल स्पॉट पर पहुंचकर आईईडी को बाहर निकाला और उसे वहीं डिफ्यूज कर दिया।


21-Sep-2020 5:08 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भोपालपटनम (बीजापुर), 21 सितम्बर।
बीती रात नक्सलियों ने जगदलपुर-निजामाबाद हाइवे के चेरपल्ली और रुद्राराम के बीच लगभग 2 किमी दूरी तक पर्चे फेंके। जिसमें उल्लेख है कि हमारे आंदोलन के इलाकों में पुलिस द्वारा की गई झूठी मुठभेड़ों, अत्याचार व पुलिस कैम्पों के विरोध में संघर्ष तेज करें। इसी से संबंधित बैनर भी बांधे गए हैं। उक्त पर्चे  मद्देड ऐरिया कमेटी द्वारा फेंके गए हैं।


20-Sep-2020 7:42 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 20 सितंबर। भोपालपटनम जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को हटाने सरपंच व सचिव संघ लामबंद हो गए हंै। सीईओ को तत्काल पद से हटाने की मांग को लेकर उन्होंने सीईओ जिला पंचायत पोषण लाल चंद्राकर को ज्ञापन सौंपा है।

 भोपालपटनम ब्लॉक के सरपंच  व सचिव संघ ने शनिवार को बीजापुर पहुंचकर जिला पंचायत सीईओ से मिलकर उन्हें भोपालपटनम जनपद पंचायत के सीईओ को हटाई की मांग करते हुए उन पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि जनपद पंचायत भोपालपटनम के डिप्टी कलेक्टर मनोज बंजारे के द्वारा पूरे ग्राम पंचायत के सरपंच को मानसिक रूप से प्रताडि़त करते है, एवं अभी तक कोई काम का प्लानिंग नहीं किए हंै और हर कार्य में बाधा पहुंचा रहे है ं। कोविड 19 के संकटकाल के समय शासन की महत्वाकांक्षी योजनाओं का संचालन ठीक ढंग से नहीं किया जा रहा है। साथ ही योजना के बारे में गलत जानकारी  कलेक्टर बीजापुर को लिख के दे रहे हैं । सीईओ श्री बंजारे द्वारा आज तक 3 माह से कोई बैठक नहीं लिया गया।  समस्त ग्राम पंचायतों का कोई भी निर्माण कार्य जाँच कर कुछ ना कुछ निर्माण कार्य में त्रुटि निकलकर पेमेट नहीं दिया जाता है और न ही नोटिस दिया जाता है। स्वयं कार्य करके भ्रष्टाचार करने का निर्णय ले रहे है। सीईओ जनपद पंचायत के रवैये के कारण क्षेत्र मेंं ग्रामीण विकास बाधित हो रहा है।

सरपंच व सचिवों ने कहा कि  जल्द ही उनकी मांगोंं को पूरा नहीं  किया गया तो वे आगामी दिनों में  आंदोलन करने के लिए बाध्य हो जाएंगे।


20-Sep-2020 3:47 PM

जल्द नहीं हटाने पर दी आंदोलन की चेतावनी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 20 सितंबर। भोपालपटनम जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को हटाने सरपंच व सचिव संघ लामबंद हो गए हंै। सीईओ को तत्काल पद से हटाने की मांग को लेकर उन्होंने सीईओ जिला पंचायत पोषण लाल चंद्राकर को ज्ञापन सौंपा है।

भोपालपटनम ब्लॉक के सरपंच  व सचिव संघ ने शनिवार को बीजापुर पहुंचकर जिला पंचायत सीईओ से मिलकर उन्हें भोपालपटनम जनपद पंचायत के सीईओ को हटाई की मांग करते हुए उन पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि जनपद पंचायत भोपालपटनम के डिप्टी कलेक्टर मनोज बंजारे के द्वारा पूरे ग्राम पंचायत के सरपंच को मानसिक रूप से प्रताडि़त करते है, एवं अभी तक कोई काम का प्लानिंग नहीं किये है और हर कार्य में बाधा पहुंचा रहे है । कोविड 19 के संकटकाल के समय शासन की महत्वाकांक्षी योजनाओं का संचालन ठीक ढंग से नहीं किया जा रहा है। साथ ही योजना के बारे में गलत जानकारी  कलेक्टर बीजापुर को लिख के दे रहे हैं । सीईओ श्री बंजारे द्वारा आज तक 3 माह से कोई बैठक नहीं लिया गया।  समस्त ग्राम पंचायतों का कोई भी निर्माण कार्य जाँच कर कुछ ना कुछ निर्माण कार्य में त्रुटि निकलकर पेमेट नहीं दिया जाता है और न ही नोटिस दिया जाता है । स्वयं कार्य करके भ्रष्टाचार करने का निर्णय ले रहे है । सीईओ जनपद पंचायत के रवैये के कारण क्षेत्र में ग्रामीण विकास बाधित हो रहा है। 

सरपंच व सचिवों ने कहा कि  जल्द ही उनकी मांगों को पूरा नही  किया गया तो वे आगामी दिनों में  आंदोलन करने के लिए बाध्य हो जाएंगे।

 


19-Sep-2020 9:04 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 19 सितंबर। भारत के नियाग्रा के रूप में प्रसिद्ध चित्रकोट और तीरथगढ़ जैसे कई जलप्रपात बस्तर के जंगलों में है। इनमें से कई जलप्रपात अब भी रोशनी में नहीं आ सके हंै। हालांकि आदिवासियों को इन झरनों के बारे में कई वर्षों से जानकारी है। लेकिन आम पर्यटकों की पहुंच इन झरनों तक नहीं होने से बाहर के कोई पर्यटक यहां तक नहीं पहुंच पाते।

बीजापुर जिले के लंकापल्ली गांव में एक मनमोहक झरना लंकापल्ली जलप्रपात है। बीजापुर जिला मुख्यालय से इस जलप्रपात की दूरी लगभग 44 किमी है। नक्सली क्षेत्र होने के चलते लोग इस झरने के तरफ आ नहीं पाते। लंकापल्ली जलप्रपात के घने जंगलों और खूबसूरत पहाड़ों के बीच करीब 100 फ़ीट ऊपर से पानी गिरते हुए खूबसूरत जलप्रपात का दृश्य दिखाई देता है। यहां का दृश्य इतना मनोरम और सुंदर दिखाई देता है कि जो भी पर्यटक इस झरने का दीदार करता है,वह दुबारा यहां आने की इच्छा जरूर जताता है।

ऐसे पहुंचे लंकापल्ली जलप्रपात

 बीजापुर जिला मुख्यालय से 30 किमी का सफर कर आवापल्ली तहसील पहुंचेंगे। आवापल्ली से 10 किमी का सफऱ कर इलमिड़ी। फिर इलमिड़ी से 3 किमी का सफर कर लंकापल्ली गांव। इस गांव से 3 किमी का पैदल सफर कर लंकापल्ली जलप्रपात तक पहुंचा जा सकता है और आप जब इस झरने पर पहुंचेंगे तो आपकी पूरी थकान एक क्षण में गायब हो जाएगी।

ग्रामीणों की मदद से पहुंचे लंकापल्ली जलप्रपात

जब पत्रकारों की टीम अपने सफर पर निकली तो हमारे सामने दो नदियों को पार करना था और इन नदियों से हमें अपने दुपहिया वाहनों को भी पार करना था। बरसात की वजह से इन नदियों का जलस्तर बढ़ चुका था, लेकिन हमने हार नहीं मानी और ग्रामीणों ने हमारी वाहनों को नदी के उस पार पहुंचाया और ग्रामीण हमारे गाइड बने और हमें लंकापल्ली जलप्रपात पहुंचाया।

साल भर जलप्रपात का दीदार करने के लिए आते हंै लोग

इस लंकापल्ली जलप्रपात का दीदार करने के लिए साल भर हजारों की संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं। जिसमें ज्यादातर जिले के और बस्तर के युवा पहुंचते हंै। नव वर्ष में युवाओं का पिकनिक स्पॉट बन जाता है यह जलप्रपात। बारिश के महीने में अपनी सुंदरता से यह जलप्रपात सबको अपनी और आकर्षित करता है।

 


15-Sep-2020 9:50 PM

बीजापुर, 15 सितंबर। यहां सीएएफ की पायनियर प्लाटून में पदस्थ एक आरक्षक पिछले तीन दिनों से लापता है। जवान का सुराग पाने में पुलिस के हाथ अब तक खाली है। मिली जानकारी के मुताबिक बिलासपुर निवासी सीएएफ जवान मल्लूराम सूर्यवंशी रविवार की सुबह 5 बजे से बीजापुर के नए पुलिस लाइन से फरार है। बताया गया है कि जवान पिछले कुछ दिनों से मानसिक तनाव से गुजर रहा था। साथ उसकी मनोदशा भी ठीक नहीं थी। इधर लापता जवान की पतासाजी में पुलिस जुटी हुई है। लेकिन तीन दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ खाली है।


15-Sep-2020 9:25 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 15 सितंबर। गंगालूर क्षेत्र के ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ गंभीर आरोप लगाते हुए रैली निकाली। ग्रामीणों ने इस बार कोरोना का अफवाह फैलाकर उगाही करने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं सीएमएचओ को बदलने की मांग भी की है।

मंगलवार को बीजापुर ब्लाक के गंगालूर क्षेत्र के  चेरपाल, गंगालूर, पदेडा, सावनार, पालनार, कोरचोली, मनकेली, गोरना व बुडला पुसनार के सैकड़ों ग्रामीणों ने गंगालूर से पामलवाया तक एक रैली निकाली। ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि गंगालूर क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग के लोग बिना कोरोना लक्षण वालों को बेवजह उठा लाकर अस्पतालों में भर्ती कर रहे हैं। इतना ही नहीं उनका खाने-पीने व इलाज भी ढंग से नहीं किया जा रहा है।

ग्रामीणों का आरोप है कि सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना का अफवाह फैलाकर उसके नाम से अवैध वसूली की जा रही है। ग्रामीणों का कहना था कि इससे पूर्व भी कोरोना संक्रमण को लेकर ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन को ज्ञापन दिया था। किंतु उस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

इधर, आज सौंपे गए ज्ञापन में ग्रामीणों ने मांग की है कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी की जगह नए प्रभारी नियुक्त किया जाए, उप स्वास्थ्य केंद्र गंगालूर के प्रभारी सहित वर्तमान के सभी स्टाफ को हटाकर नए डॉक्टर और स्टाफ की नियुक्ति किया जाए, वहीं चेरपाल उप स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी एवं स्टाफ को तत्काल हटाकर नए डॉक्टर व स्टाफ की नियुक्ति किया जाए। कोरोना संक्रमण के चलते ग्रामीणों की रैली पामलवाया में ही रोक दी गई। यहां से प्रशासनिक अफसर ग्रामीणों के बीच पहुंचे और उनकी मांगों का ज्ञापन लिया।


15-Sep-2020 9:22 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 15 सितंबर। जिले में कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के लिए एक्टिव सर्विलांस दलों द्वारा डोर-टू-डोर जाकर सर्दी-खांसी, बुखार आदि लक्षण वाले व्यक्तियों का सर्वेक्षण करने सहित उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। वहीं इन लक्षणों वाले व्यक्तियों को दवाई देने के साथ ही होम क्वॉरंटीन में रहने सहित सजगता संबंधी दिशा-निर्देशों का अनुपालन करने की समझाईश दी जा रही है। एक्टिव सर्विलांस दलों द्वारा अन्य प्रांत या जिलों से आने वाले लोगों का सर्वेक्षण करने सहित सर्दी-खांसी, बुखार लक्षणों वाले व्यक्तियों का कोरोना जांच कर इन्हें होम क्वॉरंटीन में अनिवार्य रूप से रहने समझाईश दी जा रही है।

4 सितम्बर को जिले में कुल 3986 परिवारों का डोर-टू-डोर सर्वेक्षण किया गया, जिसमें 65 व्यक्तियों में सर्दी-खांसी तथा बुखार के लक्षण पाये गये। इन सभी लोगों का स्वास्थ्य जांच कर उन्हे नि:शुल्क दवाई उपलब्ध कराई गई। वहीं उक्त सभी व्यक्तियों को एहतियात बरतने सहित होम क्वारंटीन में रहने कहा गया। एक्टिव सर्वलांस दलों द्वारा भैरमगढ़ ब्लॉक में 1179 परिवारों, बीजापुर ब्लॉक में 388, उसूर ब्लॉक में 407 तथा भोपालपटनम ब्लॉक में 1124 परिवारों का घर-घर जाकर सर्वेक्षण किया गया। वहीं नगर पालिका परिषद बीजापुर सहित नगर पंचायत भैरमगढ़ एवं भोपालपटनम में कुल 620 परिवारों का डोर-टू-डोर सर्वेक्षण किया गया। एक्टिव सर्विलांस दलों द्वारा उक्त सर्वेक्षित सभी परिवारों के लोगों को कोविड-19 के संक्रमण संबंधी सलाह दी गई। वहीं बुखार या ठंड लगने, थकान, शरीर में दर्द, सिर दर्द, स्वाद या सुंगध का पता नहीं लगने, गले में खरास, नाक बहने, उल्टी-दस्त होने पर तत्काल नजदीकी कोरोना जांच केन्द्र में जाकर जांच कराये जाने की समझाईश दी गई।

ज्ञातव्य है कि जिले में जिला अस्पताल सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भोपालपटनम, आवापल्ली, गंगालूर, भैरमगढ़ और नेलसनार में कोविड-19 की जांच सुविधा उपलब्ध है। इसके साथ ही हरेक ब्लॉक में दो-दो मोबाइल टीम द्वारा कोविड-19 का परीक्षण किया जा रहा है।


13-Sep-2020 10:14 PM

बीजापुर, 13 सितंबर। यहां से तीन किमी दूर कोतापल के जंगल में एक आरक्षक का शव पेड़ पर लटका हुआ मिला। पुलिस ने जवान का शव बरामद कर पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है।

मिली जानकारी के मुताबिक बीजापुर थाना में पदस्थ आरक्षक किशोर अजमेरा निवासी गोटाईगुड़ा भोपालपटनम की लाश रविवार की सुबह कोतापल के जंगल में लटकी हुई मिली। इसकी खबर लगने के बाद पुलिस ने मौके पर जाकर शव को अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। टीआई शशिकांत भारद्वाज ने बताया कि घटना का कारण अभी पता नहीं लग पाया है। पुलिस मामले की हर एंगल से जांच कर रही है।


13-Sep-2020 9:37 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 13 सितंबर। जिले में कोविड-19 संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु एक्टिव सर्विलांस दलों द्वारा घर-घर जाकर सर्दी, खांसी, बुखार आदि लक्षण वाले व्यक्तियों का सर्वेक्षण करने सहित उनका स्वास्थ्य जांच किया जा रहा है। इसके साथ ही अन्य प्रांत या जिलों से आने वाले लोगों का सर्वेक्षण किया जा रहा है तथा उक्त लक्षण वाले व्यक्तियों का कोरोना जांच किया जा रहा है। इसी कड़ी में 12 सितम्बर को जिले में कुल 4660 परिवारों का घर-घर जाकर सर्वेक्षण किया गया, जिसमें 181 लोगों में सर्दी, खांसी तथा बुखार के लक्षण पाये गये। इन सभी लोगों का जांच कर उन्हें दवाई उपलब्ध कराई गई।

सर्विलांस दलों द्वारा 12 सितम्बर को नगरपालिका परिषद बीजापुर में 590, नपं भैरमगढ़ में  99 तथा नपं भोपालपटनम में 66 परिवारों का घर-घर जाकर सर्वेक्षण किया गया। वहीं भोपालपटनम ब्लाक में 1753, बीजापुर ब्लाक में 392, भैरमगढ़ में  1345 तथा उसूर ब्लाक में 415 परिवारों का डोर-टू-डोर सर्वे किया गया। उक्त सर्वेक्षित सभी परिवारों के लोगों को कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु परामर्श दी गई।

 कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने जिले में कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम संबंधी दिशा-निर्देशों का अनुपालन करने का आग्रह जनसाधारण करते हुए कहा है कि जिले के किसी भी नागरिक को सर्दी, खांसी, बुखार और सांस लेने में दिक्कत आदि लक्षण दिखायी देने पर तुरंत अस्पताल पहुंच कर कोरोना की जांच कराएं। कोरोना वायरस के अन्य लक्षण भी संक्रमित होने के बाद आम तौर पर 2 दिन से लेकर 14 दिन के भीतर उभरने लगते हैं, जिसमें बुखार या ठंड लगना, थकान, शरीर में दर्द, सिर दर्द, स्वाद व सुगंध का न आना, गले में खरास, नाक बहना, उल्टी एवं दस्त का होना भी कोरोना वायरस के लक्षण हैं। इस प्रकार के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत नजदीकी कोरोना जांच केन्द्र में पहुंचकर कोरोना जांच करायें। कोरोना संक्रमण से मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है, बचाव ही सबसे आसान तरीका है। इस दिशा में मास्क पहनें, सेनेटाईजर का उपयोग करें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलें। भीड़ वाले जगहों में जाने से बचें और सजगता के साथ अपने आप का बचाव करें। कोरोना के लक्षण दिखायी देने पर बिना किसी भय के तत्काल अपना परीक्षण अवश्य करवायें।

  जिला अस्पताल बीजापुर सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भोपालपटनम, आवापल्ली, गंगालूर, भैरमगढ़ और नेलसनार में कोविड-19 की जांच की जा रही है। इसके साथ ही जिले के प्रत्येक ब्लाक में दो-दो मोबाईल टीम के द्वारा कोविड-19 का परीक्षण किया जा रहा हैं। जिले के सभी नागरिकों से आग्रह है कि कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के लिए जिला प्रशासन को सक्रिय सहयोग प्रदान करें। इसके साथ ही जनसाधारण किसी भी प्रकार की भ्रामक जानकारी या अफवाह से बचें और अफवाह फैलाने वाले व्यक्तियों के बारे में जानकारी प्रदान करें।


13-Sep-2020 9:33 PM

राजेश और रमेश को भाई-बहनों ने पढ़ाई के लिए बढ़ाया मनोबल

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बीजापुर, 13 सितम्बर। जिले के धुर नक्सल प्रभावित इलाके के सामान्य कृषक परिवारों के बच्चों ने देश की सर्वोच्च इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मेन्स को क्रेक कर अपनी मेहनत और लगन को साबित कर दिखाया है। वहीं साधनों की कमी तथा दूरस्थ इलाके से होने के बावजूद इस सर्वोच्च इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में अपना परचम लहराकर अन्य बच्चों के लिए प्रेरणास्रोत बन गए हैं।

 जिले के एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय भैरमगढ़ में अध्ययनरत अनिल तेलम, राजेश गोटा और रमेश वेंजाम जेईई मेन्स क्रेक करने के बाद अब जेईई एडवांस की परीक्षा में सम्मिलित होंगे, ताकि इन्हें आईआईटी, एनआईटी जैसी उच्च प्रौद्योगिकी संस्थानों में पढ़ाई करने का अवसर मिल सके। कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने जिले के दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों के इन बच्चों की सफलता पर उन्हें बधाई देने के साथ ही जेईई एडवांस परीक्षा की बेहतर तैयारी और इस परीक्षा में सफल होने के लिए शुभकामनाएं दी है। उन्होंने उक्त बच्चों की अच्छी तैयारी के लिए आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराने का निर्देश सम्बंधित अधिकारियों को दिया है।

जेईई मेन्स क्वालीफाई करने वाले इन बच्चों में भोपालपट्टनम निवासी राजेश गोटा और बीजापुर एरमनार निवासी रमेश वेंजाम ने बताया कि उनकी पढ़ाई-लिखाई उनके भाई-बहन करवा रहे हैं। राजेश के पिताजी का निधन हो चुका है और बड़े भाई नागेश गोटा एवं महेश गोटा खेती-किसानी कर उसकी पढ़ाई पर पूरा ध्यान दे रहे हैं। राजेश भी अपने भाईयों के सपने को साकार करने के कृतसंकल्प है और पढ़ाई पर पूरा ध्यान केंद्रित कर दिया है। उसने बताया कि अब तो हर हालत में जेईई एडवांस की बेहतर तैयारी करना है।

एरमनार के रमेश वेंजाम तो अपने माता लक्ष्मी वेंजाम तथा दो छोटी बहनों विमला एवं रमीला के साथ समय-समय पर खेती-किसानी करते हैं। इसके बावजूद पढ़ाई के प्रति पूरी तरह समर्पित हैं। रमेश ने बताया कि उसके छोटी बहन विमला और रमीला गुदमा तथा धनोरा में क्रमश: 10 वीं और 8 वीं पढ़ रहे हैं। रमेश ने अपनी सफलता के लिए गुरुजनों के प्रेरणा तथा मार्गदर्शन का स्मरण करते हुए बताया कि शिक्षकों ने उसे निरन्तर आगे बढऩे के लिये प्रोत्साहित किया, जिससे वह अच्छी तैयारी कर पाया।

जिले के आवापल्ली निवासी अनिल तेलम के पिता शिक्षक हैं, इसलिए वह अपने लक्ष्य के प्रति सजग है और जेईई एडवांस की योजनाबद्ध ढंग से तैयारी कर परीक्षा में सफल होकर इंजीनियरिंग की उच्च शिक्षा हासिल करने कटिबद्ध है।

 इन बच्चों के प्राचार्य  गोविंद राम जैन ने बताया कि घोर माओवाद प्रभावित इलाके के इन बच्चों की सफलता से हम सभी खुश हैं, लेकिन अब इनके जेईई एडवांस परीक्षा की तैयारी तथा इस परीक्षा में सफलता पर हम लोगों का ध्यान है। इस ओर बच्चों को आवासीय सुविधा उपलब्ध करवा कर उन्हें बेहतर तैयारी करवाएंगे।

जिले के सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्रीकांत दुबे इन बच्चों की सफलता से प्रभावित होकर कहते हैं कि अब उक्त बच्चों को जेईई एडवांस परीक्षा की तैयारी करवाने पूरा ध्यान देंगे, इस दिशा में उक्त बच्चों को उनके शिक्षकों के साथ ही अन्य विशेषज्ञ शिक्षकों से मार्गदर्शन सुलभ कराया जाएगा।


13-Sep-2020 9:15 PM

नक्सली घटना पर संदेह-एसपी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर, 13 सितंबर।
आज तोयनार थाना क्षेत्र के ग्राम दुपेली से 2 किमी आगे मिड़ते में एक सहायक आरक्षक पर कुछ अज्ञात हमलावरों ने दिन दहाड़े कातिलाना हमला कर दिया। धारदार हथियारों से किये गए हमले में जवान बुरी तरह से घायल हो गया है। उन्हें बेहतर उपचार के लिए रायपुर भेज दिया गया है।

इस संबंध में एसपी कमलोचन कश्यप ने कहा कि नक्सली घटना पर संदेह है। परिवारों से इस मामले पर बात हुई है। आपसी रंजिश का मामला भी हो सकता है। मामला दूसरा लग रहा। पूरे मामले की पुलिस तफ्तीश कर रही है, अभी तक इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है।

कुटरू थाना में पदस्थ केतुलनार निवासी सहायक आरक्षक लच्छू माड़वी पर कुछ अज्ञात हमलावरों ने जानलेवा हमला कर बुरी तरह से घायल कर दिया। घायल जवान के खून से लथपथ होने के बाद बेहोशी की हालात में गिर जाने से मृत समझ कर हमलावर भाग खड़े हुए। 

गंभीर अवस्था में जवान को बेहतर इलाज के लिए बीजापुर लाने के बाद गंभीर स्थिति को देखते हुए हेलीकॉप्टर से रायपुर भेज दिया गया है। जवान की स्थिति नाजुक बनी हुई है। घटना रविवार दोपहर 12 बजे के करीब मिड़ते चौक में हुई है। पुलिस इसे नक्सली घटना पर संदेह कर तफ्तीश में जुटी है। घटना में 8 से 9 अज्ञात हमलावरों की संख्या में शामिल होना बताया जा रहा है। 

घायल जवान 2 माह से बीजापुर पुलिस लाइन में डीआरजी के रूप में ड्यूटी कर रहा है। वर्तमान में बीजापुर के जेल बाड़ा के पास रहता है। जवान लच्छू माडवी आज अपने मोटरसाइकिल से मिड़ते गांव किसी काम से जा रहा था, मिड़ते चौक के पास अचानक 8 से 9 की संख्या में अज्ञात हमलावरों ने जवान के ऊपर धारदार हथियार से हमला कर दिया। 

बताया जा रहा है कि घटना में 3 महिला भी शामिल थीं। जवान बुरी तरह से घायल होने बाद गिर पड़ा। लोगों की चीख पुकार करने के बाद बेहोशी की हालत में पड़े जवान को मृत समझकर हमलावर भाग खड़े हुए।

घटना की जानकारी मिलने के बाद तुरन्त पुलिस मौके पर पहुंची। जवान का खून काफी निकल चुका था। बताया गया है सिर पर बहुत ज्यादा चोट पहुची है। जिससे जवान संभल नहीं पाया और गिर पड़ा। पुलिस इलाज के लिए बीजापुर लेकर आई। फिलहाल जवान की हालत नाजुक बताई जा रही है। उन्हें बेहतर उपचार के लिए रायपुर भेज दिया गया है। जवान का मोटरसाइकिल के साथ साथ मोबाइल भी हमलावर अपने साथ ले गए।


Previous1234Next