छत्तीसगढ़ » बिलासपुर

Previous1234Next
Date : 02-Apr-2020

लोगों को यातनाएं दी गईं पर कई पुलिस अधिकारी काबिल, प्रशासन का सहयोग करें, मुफ्त राशन वितरण जारी है- पांडेय

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बिलासपुर, 2 अप्रैल ।
विधायक शैलेष पांडेय ने कहा है कि जनता के ऊपर लाठियां बरसाई गईं और तरह-तरह की यातनाएं और दुव्र्यवहार किया गया लेकिन हमें पुलिस और प्रशासन का पूरा सहयोग करना है। उन्होंने कहा कि जिन किसी भी जरूरतमंद को जरूरत है वे उन्हें फोन, एसएमएस करके सूचना दें उन्हें घर तक राशन पहुंचाया जाएगा।

एक बयान में पांडेय ने शहर के लोगों से कहा कि मुझ पर हुई एफआईआर को लेककर आपको विचलित होना या घबराना नहीं है। इस वक्त आप संकट में हैं और इस परिस्थिति में सभी को एक दूसरे के साथ रहना चाहिए। जिले में बहुत काबिल पुलिस व प्रशासन के अधिकारी काम कर रहे हैं लेकिन दुख की बात है कि जनता पर लाठियां बरसाई गईं और तरह-तरह की यातनाएं और दुर्व्यवहार किया गया। हमें पुलिस प्रशासन का सहयोग करना है तथा कानून का किसी प्रकार का उल्लंघन नहीं करना है। मुझ पर हुई एफआईआर दुर्भाग्यजनक है लेकिन मैं अपने कर्तव्य और दायित्वों का पूरी गंभीरता से पालन कर रहा हूं। साथ-साथ पुलिस प्रशासन और शासन के निर्देशों का पालन भी कर रहा हूं। इस संकट की घड़ी में अपने घर पर रहें, भीड़-भाड़ के इलाकों से बचें और कोरोना वायरस के संक्रमण से अपने-आप को बचायें। इस दुख की घड़ी में मैं आपके साथ हूं। पांडेय ने कहा कि वे राशन का नि:शुल्क वितरण का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं यदि कोई दिक्कत आ रही हो तो उन्हें मोबाइल पर फोन करके या एसएमएस करके सूचना दें।
 


Date : 02-Apr-2020

नन्हीं रूबी ने गुल्लक तोडक़र कोरोना राहत के लिए दान किया

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 2 अप्रैल। सीपत की रूबी नाम की एक 12 साल की बालिका ने अपना और अपने भाई के  गुल्लक में जमा 11 सौ 12 रुपए को कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष में दान कर दिया है। उसका कहना है कि उसके पिता की भी मौत एक असाध्य बीमारी से हो गई थी इसलिये नहीं चाहती कि कोरोना के कारण किसी को अपना मां-बाप खोना पड़े।

कक्षा-आठवीं की 12 वर्षीय छात्रा रूबी ने  बुधवार को सीपत तहसील कार्यालय पहुंचकर तहसीलदार संध्या नामदेव को 11 सौ 12 रुपए दान कर उसे मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कराने  कहा। रूबी ने बताया कि उसके पिता की मृत्यु एक बड़ी बीमारी से हो चुकी है। इसलिए वह नहीं चाहती कि किसी के मम्मी-पापा की मौत किसी बीमारी के कारण हो। रूबी और उसके भाई ऋषभ ने दो वर्षों में अपने गुल्लक में 11 सौ 12 रुपए जमा किए थे।  रूबि ने कहा वह चाहती है कि इन रुपयों से कोरोना पीडि़तों का इलाज हो।

इसकी जानकारी सांसद साव को भी मिली। उन्होंने आज दिल्ली से मोबाइल पर रूबी से बातचीत की। सांसद ने रूबी से पूछा कि इतनी कम उम्र में देश और दुनिया की बात और सेवा की बातें कहां से सीखीं। रूबी ने बताया कि चाचा ने बताया कि कोरोना बहुत खतरनाक बीमारी है। इससे लोगों की मौत हो रही है। किसी को घर से बाहर नहीं निकलना है। सांसद साव ने ऋषभ और उसके चाचा हेमंत से बातचीत की। उन्होंने कहा कि जैसे ही लाकडाउन खत्म होगा, वे रूबी और ऋषभ से जरूर मिलने पहुँचेंगे।


Date : 02-Apr-2020

बिलासपुर में कोरोना की एकमात्र मरीज स्वस्थ हुईं 

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 2 अप्रैल। बिलासपुर में कोरोना की एकमात्र पॉजिटिव पाई गई कोरोना मरीज स्वस्थ हो चुकी हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी देकर घर भेज दिया गया है। अब बिलासपुर में कोरोना संक्रमित किसी मरीज का रिकॉर्ड नहीं है। हालांकि उनके सम्पर्क में आने वाले लोग अभी क्वारंटाइन पर बने रहेंगे। 

रामा लाइफ सिटी की एक 65 वर्षीय महिला का कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आया था। वह कुछ समय पहले संयुक्त अरब अमीरात से घूमकर लौटी थीं। आने के बाद उनका सिम्स चिकित्सालय में चेकअप किया गया था और ब्लड सैंपल परीक्षण के लिए एम्स रायपुर भेजा गया था। तीसरी बार आज आई रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना के लक्षण महिला से समाप्त हो चुके हैं। महिला को इस दौरान अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां से डॉक्टरों ने उन्हें छुट्टी देने कहा है। 

महिला के पॉजिटिव रिपोर्ट के कारण उनके ड्राइवर और घरेलू नौकर को तथा तीन रिश्तेदारों के परिवार को उनके घरों में क्वारंटाइन करके रखा गया था। निर्धारित 14 दिन तक उन्हें क्वारंटाइन में रखा जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी इस जानकारी को लोगों से शेयर किया है। 


Date : 01-Apr-2020

अपोलो चिकित्सकों व कर्मचारियों ने महापौर को सौंपा 10.90 लाख का चेक

बिलासपुर, 1 अप्रैल। अपोलो अस्पताल बिलासपुर के चिकित्सकों और सभी कर्मचारियों ने मिलकर कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए 10 लाख 90 हजार रुपये का सहयोग दिया है। अपोलो के जनसम्पर्क अधिकारी देवेश गोपाल और अन्य अधिकारियों, कर्मचारियों ने इस राशि का चेक महापौर रामशरण यादव को सौंपा।इस अवसर पर सभापति शेख नजीरूद्दीन भी उपस्थित थे। इस राशि का उपयोग नगर-निगम द्वारा गरीबों के लिए चलाये जा रहे भोजन एवं खाद्यान्न के नि:शुल्क वितरण में किया जायेगा। यह राशि अपोलो अस्पताल प्रबंधन से अलग वहां कार्यरत चिकित्सक, अधिकारियों व कर्मचारियों की ओर से प्रदान की है। अस्पताल प्रबंधन ने शहर के अनेक हिस्सों को सेनेटाइज करने का निर्णय लिया है।


Date : 01-Apr-2020

ग्रामीण क्षेत्रों के युवा बेरिकेट लगाकर कर रहे पहरेदारी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
करगीरोड (कोटा), 1 अप्रैल।
कोरोनो वायरस के संक्रमण से बचने 21 दिनों के लॉकडाउन को लेकर शहरी-क्षेत्रों की अपेक्षा ग्रामीण-क्षेत्रों में जागरूकता काफी देखी जा रही है। कोटा-विकासखंड के करका, करपीहा-धनरास, पीपरपारा-छेरकाबाँधा, बिल्लीबंद, अमाली, लखोदना, खुरदुर अमने, नेवसा सहित काफी सारे ग्राम-पंचायतों के ग्रामीणों, युवा-वर्ग व अन्य लोगों के द्वारा अपने-अपने ग्राम पंचायत के सीमा पर ही बैरिकेट्स लगाकर युवा ग्रामीण वॉलंटियर बकायदा मास्क लगाकर लगातार पहरेदारी कर रहे हैं।

 एक प्रकार से पुलिस एवं प्रशासन का सहयोग कर लोगों को जागरूक कर रहे हैं, ना ही गांव से कोई बाहर जाने का प्रयास कर रहा है, ना ही किसी दूसरे गांव से आने वाले लोगों को अपने गांव में प्रवेश दिया जा रहा है।  यहां तक की दूसरे प्रदेश से कमाने खाने गए लोग अगर वापस अपने गांव लौट रहे हैं, तो भी उनको जल्दी से गांव के अंदर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है, बल्कि इन्हें 14 दिनों तक गांव से बाहर रहने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है, ताकि सामने वाला कोरोना वायरस से अगर संक्रमित हो तो पूरा गांव संक्रमित ना हो सके। साथ ही इस बात का भी ख्याल रखा जा रहा है, कि अगर कोई स्वास्थ्य को लेकर या फिर रोजमर्रा की जिंदगी में उपयोग की जाने वाली वस्तुओं अगर आवश्यक हो तभी ग्रामीण जन गांव से बाहर निकलने का प्रयास करते हैं।
 


Date : 01-Apr-2020

सीएनल चर्च द्वारा कोटा पुलिस को फल-सेनिटाइजर वितरित

छत्तीसगढ़ संवाददाता
करगीरोड  (कोटा), 1 अप्रैल।
कोटा मसीही समाज के सीएनल चर्च के द्वारा कोटा पुलिस को फल-सेनिटाइजर वितरण उनका आभार जताया। कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में लॉकडाउन है। कोरोनो के खतरे के बीच पुलिस व प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी दिन-रात अपने जान की परवाह की बगैर अपने घर परिवार को छोडक़र आमजनों की सुरक्षा में तैनात हैं, यही नहीं आमजनों को रोजमर्रा के जरूरत के समानों दवाइयां, राशन की सामग्री तक उनके घर पहुंचा कर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।


सामाजिक संगठनों सहित अन्य वर्गों के द्वारा पुलिस-विभाग के आला अधिकारियों सहित पुलिस के जवानों को कोरोनो से बचाव हेतु मास्क-सिनेटाइजर उपलब्ध कराया जा रहा है। इसी कड़ी में कुछ दिनों पहले एसडीओपी कोटा की उपस्थिति में वेलकम डिस्टलरी प्रबंधन के द्वारा पुलिस के अधिकारियों व जवानों को मास्क-सिनेटाइजर उपलब्ध कराया गया था, जो कि ये सिलसिला लगातार जारी है। इसी कड़ी में कोटा मसीही समाज के सीएनल चर्च के पादरी लरेन्सराज व अधिवक्ता हरीश लाल द्वारा आज कोटा थाना प्रभारी कोटा आर.के.सोरी की उपस्थिति में कोटा थाने के समस्त स्टाफ को फल व सेनेटाईजर वितरण किया गया। वर्तमान परिस्थितियों में कोटा पुलिस के द्वारा आमजनों के हित में किये जा रहे कार्यों की  कोटा मसीही समाज के सीएनल चर्च के पादरी लरेन्सराज व अधिवक्ता हरीश लाल ने आभार जताया।
 


Date : 01-Apr-2020

कोरोना : 501 कैदी रिहा, करीब  हजार और बाहर आएंगे

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 1 अप्रैल। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की हाईपावर कमेटी की सिफारिश के बाद प्रदेश की जेलों से 501 कैदियों को रिहा कर दिया गया है। अभी करीब 1000 कैदियों की और रिहाई संभावित है।

रिहा पांच सौ कैदियों में 350 विचाराधीन कैदी हैं जिन्हें अंतरिम जमानत दी गई है। सजायाफ्ता 120 कैदियों को पैरोल पर छोड़ा गया है। इन सभी को फिलहाल 30 अप्रैल तक राहत मिली है।  इसी तरह 31 ऐसे कैदी रिहा कर दिये गये हैं, जिनकी सजा लगभग पूरी हो चुकी है।

ज्ञात हो कि पिछले शनिवार को हाईकोर्ट जस्टिस व राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष की एक हाईपावर कमेटी ने कोरोना महामारी की आशंका को देखते हुए जेलों से लगभग 1500 कैदियों की रिहाई का रास्ता निकाला था।

प्रदेश की जेलों में बंद छत्तीसगढ़ राज्य के निवासी ऐसे कैदी जिनको किसी मामले में अधिकतम सात साल की सजा हो सकती है या दी गई है उन्हें जेलों से रिहा करने का निर्णय लिया गया। ऐसे बंदी जिनके मामले की सुनवाई चल रही हो उन्हें 30 अप्रैल तक की निजी मुचलके पर अंतरिम जमानत दी जा रही है। ऐसे बंदी जिन्हें सात साल तक की सजा सुनाई जा चुकी है और जेल में तीन माह या उससे अधिक की अवधि व्यतीत कर चुके हों उन्हें 30 अप्रैल तक पैरोल पर छोड़ा जा रहा है। ऐसे कैदी जिन्हें सात साल की सजा मिल चुकी है और कैद की अवधि लगभग पूरी होने वाली है, उन्हें भी रिहा किया जा रहा है। इन बंदियों की ओर से अपने जिलों के विधिक सेवा प्राधिकरण में जिला जज की ओर से नियुक्त किये गये विशेष जजों के समक्ष प्रस्तुत किया जा रहा है।

 

 


Date : 01-Apr-2020

हाईकोर्ट जज सहित प्रदेश के सभी न्यायिक अफसर, कर्मी एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देंगे

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 1 अप्रैल। छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के आग्रह पर उच्च न्यायालय के सभी जजों, रजिस्टार जनरल कार्यालय के सभी अधिकारी व प्रदेश के सभी न्यायिक अधिकारियों और कर्मचारियों ने अपने एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री कोरोना राहत कोष में दान देने का निर्णय लिया है।

हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल नीलम चंद सांखला द्वारा दी गई जानकारी में बताया गया है कि यह सर्वविदित है कि कोरोना महामारी ने दुनिया सहित देश के लाखों लोगों के जीवन पर संकट खड़ा कर दिया है। इसे देखते हुए मुख्य न्यायाधीश की मंशा है कि इस अभूतपूर्व संकट से निपटने के लिए किये जा रहे प्रयासों में न्यायिक क्षेत्र से जुड़े लोगों को भी मदद करनी चाहिये। उन्होंने हाईकोर्ट के सभी जजों, रजिस्ट्री कार्यालय के अधिकारियों, कर्मचारियों, प्रदेश के सभी अधीनस्थ न्यायालयों के न्यायिक अधिकारियों और कर्मचारियों से अनुरोध किया कि वे अपने एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री कोरोना राहत कोष में देकर सहयोग करें।


Date : 01-Apr-2020

70 मजदूरों के लिए न ठहरने की जगह थी न भोजन की व्यवस्था, विधिक सेवा प्राधिकरण ने मदद की

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 1 अप्रैल। बिलासपुर के एक निजी कंस्ट्रक्शन साईट में लॉक डाउन में फंसे मजदूरों की जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने सुध ली। प्राधिकरण के निर्देश पर प्रशासन ने सभी 70 श्रमिकों के ठहरने व भोजन व इलाज की व्यवस्था की है।

राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण को यह जानकारी मिली कि मंगला महर्षि स्कूल के पास एक निजी कंस्ट्रक्शन साईट में 70 मजदूर फंसे हैं। इनके ठहरने की कोई व्यवस्था नहीं है। खाने का सामान भी नहीं है। लॉक-डाउन के कारण कहीं आना-जाना भी संभव नहीं हो रहा है।  इनके साथ एक बच्ची भी है जो बीमार है। बच्ची के बीमार होने की जानकारी मालिक को दी गई। मालिक ने उसे निजी डॉक्टर के पास भेजा। सभी मजदूर लोरमी, तखतपुर क्षेत्र के रहने वाले हैं।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष एन डी तिगाला ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सर्विलांस अधिकारी व सिविल लाइन टीआई को निर्देश दिया। इसके बाद अधिकारी ने मौके पर पहुंच कर सभी श्रमिकों का नाम पता दर्ज किया और उनके ठहरने, खाना व बीमार बच्ची के उपचार की व्यवस्था की गई।

विधिक सेवा प्राधिकरण की हेल्पलाइन नंबर 15100 पर लगातार देश-प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर फंसे मजदूरों को मदद करने की सूचना आ रही है। प्राधिकरण की ओर से इन्हें मदद भी पहुंचाई जा रही है। इसी क्रम में शहडोल के जयसिंह नगर थाना क्षेत्र के पथरिया टोला ग्राम की निवासी सिया बाई सोनी की बेटी ने हेल्पलाइन नंबर पर फोन करके बताया कि बच्चे और मां घर पर अकेले हैं और उनके पास खाने के लिए कुछ नहीं है। शहडोल विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्यम से उन्हें राशन भेजकर सहायता पहुंचाई गई।


Date : 01-Apr-2020

कोरोना के चलते विवि बंद, सीवीआरयू के सभी विभागों में ऑनलाइन पढ़ाई शुरू, कोर्स यू-ट्यूब पर भी अपलोड होंगे

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 1 अप्रैल। डॉ सी. वी. रामन विश्वविद्यालय में कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए लॉक डाउन के बाद अब ऑनलाइन कक्षाएं शुरू की गई हैं। वीडियो कांफें्रसिंग ऐप के माध्यम से विश्वविद्यालय सभी विभागों में ऑनलाइन कक्षाएं शुरू हो गई हैं। विद्यार्थियों की पढ़ाई को लेकर विश्वविद्यालय गंभीर है । नई टेक्नोलॉजी से सभी क्लासेस लग रही हैं, और निर्धारित समय पर सभी कोर्स पूरे किए जाएंगे।

विश्वविद्यालय के कुलसचिव गौरव शुक्ला ने बताया कि यह समय बहुत ही संघर्ष का है और इस चुनौती को स्वीकार करने के लिए हमें बड़े बदलाव करने की जरूरत है। इसीलिए डिजिटल प्लेटफॉर्म सबसे अच्छा विकल्प है। यही कारण है कि विश्वविद्यालय ने ऑनलाइन क्लासेस शुरू करने का फैसला लिया और कक्षाएं भी प्रारंभ हो गई है। विश्वविद्यालय के सभी 32 विभागों की कक्षाएं सोमवार से शुरू की गई हैं । इसके लिए ऑनलाइन क्लासेस का टाइम टेबल भी जारी किया गया है।  इसमें वीडियो कांफें्रसिंग ऐप के माध्यम से क्लासेस लगाई जा रही हैं, एक तरफ प्रोफेसर ऑनलाइन लेक्चर देते हैं और दूसरी ओर विद्यार्थी ऑनलाइन सीधे जुड़ कर इस लेक्चर को देखकर सुनकर समझ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसके साथ विश्वविद्यालय की अन्य गतिविधियां जो घर पर रहकर कार्य की जा सकती है, प्रारंभ की गई हैं । शुक्ला ने बताया कि हम तकनीकी युग में  हैं और युवाओं के बीच काम कर रहे हैं । निश्चित रूप से इसका लाभ मिलना चाहिए । इसीलिए हमने ऑनलाइन कक्षाएं शुरू की हैं । अच्छी बात एक यह भी है कि शत प्रतिशत विद्यार्थी बड़े उत्साह के साथ इस वीडियो लेक्चर को सुन रहे हैं और घर बैठे ही उनकी पढ़ाई जारी है।

यू-ट्यूब पर भी उपलब्ध होंगे लेक्चर

ऑनलाइन क्लासेज के सभी लेक्चर यू-ट्यूब, विश्वविद्यालय की वेबसाइट और सोशल मीडिया पर भी लोड किए जाएंगे । साथ ही विद्यार्थियों को ई-मेल से भी सभी मटेरियल उपलब्ध कराए जाएंगे।  जिससे कि जो विद्यार्थी ऑनलाइन क्लास अटेंड नहीं कर पाए हैं ,वह जब समय मिले तो और अपनी सुविधा के अनुसार उसे देख सकेंगे।

ऑनलाइन टीचिंग की दी गई है ट्रेंनिग- प्रोफेसर दुबे

कुलपति प्रो. रवि प्रकाश दुबे ने बताया कि विद्यार्थियों के लिए यह सबसे अच्छा समय है कि वह अपने घर पर अपनी पढ़ाई पर केंद्रित रहें। समय का बेहतर उपयोग करने के लिए ऑनलाइन क्लासेज शुरू की गई है। इसमें बहुत ही सुविधाजनक तरीके से विद्यार्थी जुड़ रहे हैं और नये अनुभव के साथ पढ़ाई हो रही है। विश्वविद्यालय प्रबंधन ने इसके लिए ऑनलाइन टीचिंग ट्रेनिंग प्रोग्राम भी किया था। हमारे अध्यापक तकनीकी रूप से अपडेट हैं। विश्वविद्यालय प्रशासन विधार्थियों की पढाई का नुकसान नहीं होने देगा।

 

 


Date : 01-Apr-2020

दुबई से लौटने के बाद जिला अस्पताल की डॉक्टर ने 23 ऑपरेशन कर दिये, क्वारंटाइन पर भेजी गई

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 1 अप्रैल। जिला अस्पताल के अंतर्गत स्थित मातृ-शिशु अस्पताल में कार्यरत चिकित्सक डॉ. कृष्णा मित्तल दुबई से घूमकर बिलासपुर आईं और बिना किसी को सूचना दिये ड्यूटी पर आ गईं। इस बीच उन्होंने 23 ऑपरेशन भी कर डाले। जानकारी मिलने पर उन्हें होम क्वारंटाइन पर भेज दिया गया है। डॉक्टर ने जिनका ऑपरेशन किया और जिन लोगों के सम्पर्क में वह आई हैं उन पर भी नजर रखी जा रही है।

जिला अस्पताल की डॉ. कृष्णा मित्तल की ड्यूटी मातृ-शिशु चिकित्सालय में हैं। बीते फरवरी माह में वह दुबई की यात्रा पर गई थीं और एक मार्च को वापस लौटीं। शासन का निर्देश आने के बावजूद उन्होंने इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग या जिला प्रशासन को नहीं दी। उन्होंने ड्यूटी ज्वाइन कर ली और मरीजों को देखती रहीं। इस दौरान उन्होंने 23 ऑपरेशन भी किये। मामला उजागर होने के बाद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रमोद महाजन ने उन्हें होम क्वारंटाइन पर भेज दिया है। अब उन्हें 14 दिन तक अलग-थलग घर पर रहना होगा, जिस पर नियमानुसार निगरानी भी रखी जायेगी। स्वास्थ्य विभाग ने उन सभी लोगों से सम्पर्क शुरू कर दिया है जिनका डॉ. मित्तल ने ऑपरेशन किया या अन्य किसी तरह से उपचार किया। इन सभी का स्वास्थ्य परीक्षण किया जायेगा और आवश्यकतानुसार उनको भी क्वारंटाइन किया जाएगा।


Date : 01-Apr-2020

एनटीपीसी द्वारा 50 हजार का सहयोग

बिलासपुर, 1 अप्रैल। करोना वायरस से लडाई के लिये एनटीपीसी सीपत की महिलाओं की सामाजिक संस्था, संगवारी महिला समिति ने 50 हजार रुपये का सहयोग राशि प्रदान की  है।

उक्त 50 हजार रूपये का चेक रेड क्रास सोसायटी के पदाधिकारियों को उनके कार्यालय में सौंपा गया। संगवारी महिला समिति आसपास के गांवों में महिलाओं एवं बच्चों के विकास के साथ ही जरूरतमंदों को आवश्यकतानुसार अपना सहयोग प्रदान करती हैं।

कोरोना वायरस से बचाव हेतु अपनी भूमिका का निर्वहन करते हुए रेडक्रास सोसायटी बिलासपुर को सहयोग किया गया। उक्त राशि का उपयोग दवाईयों एवं अन्य उपकरणों के लिए किया जा सकेगा। यह पहल महिला संगवारी समिति की अध्यक्ष कमला पद्मकुमार के नेतृत्व में की गई।


Date : 01-Apr-2020

कांग्रेस से जुड़े अधिवक्ताओं ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में 1 लाख दिए

बिलासपुर, 1 अप्रैल। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी विधि विभाग की ओर से कोरोना से निपटने के लिए 1 लाख 1 हजार एक सौ ग्यारह रुपये की मदद की गई है।  विधि विभाग के प्रदेश अध्यक्ष संदीप दुबे ने बताया कि यह राशि विधि मंत्री मो. अकबर के माध्यम से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भेजी गई है। दुबे ने बताया कि संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा ने अधिवक्ताओं से कोरोना राहत कोष में सहयोग देने का आग्रह किया था। कांग्रेस विधि विभाग भविष्य में हरसंभव तरीके कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा किये जा रहे उपायों में साथ देगा। कांग्रेस विधि विभाग से जुड़े अधिववक्ता प्रदेश के विभिन्न स्थानों में लगातार जरूरतमंदों को राशन पहुंचाने का काम भी कर रहे हैं।


Date : 01-Apr-2020

तबलीगी जमात के 25 प्रचारक क्वारंटाइन में, कनाडा के युवक की भी तलाश

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 1 अप्रैल। तबलीगी जमात के दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मरकज में शामिल लोगों के सम्पर्क में आने की आशंका के चलते शहर के दो मस्जिदों में 17 लोगों को क्वारंटाइन करके रखा गया है। इसके अलावा 9 लोगों को होम क्वारंटाइन पर रखा गया है। वहीं कनाडा से आकर बिलासपुर में कुछ दिन रुके एक युवक की भी तलाश की जा रही है जिसके इस मरकज में भाग लेने की जानकारी सामने आई है, जिसकी तलाश की जा रही है।

दिल्ली में तबलीगी जमात में पांच हजार से ज्यादा लोगों के एकत्र होने और इसमें 800 से ज्यादा विदेश से आए लोगों के शामिल होने की खबर के बाद छत्तीसगढ़ में भी अलर्ट किया गया है। बिलासपुर में तबलीगी जमात में किसी के शामिल होने की जिला प्रशासन के पास कोई सूचना नहीं है पर शामिल लोगों के सम्पर्क में आने की आशंका से कुल 25 लोगों को क्वारंटाइन पर रखा गया है। इनमें से 9 लोग डबरीपारा स्थित जामा मस्जिद में, 8 लोग यदुनंदननगर स्थित शबा मस्जिद में 28 अप्रैल तक आइसोलेशन पर तथा 8 लोग होम क्वारंटाइन पर रखे गये हैं। 

इसके अलावा यह भी सूचना आई है कि कनाडा का एक युवक यहां के एक होटल में 11 मार्च को रुका था। उक्त युवक के दिल्ली के मरकज में शामिल होने की जानकारी भी आई है। स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन उक्त युवक के बारे में तथा उसके सम्पर्क में आने वालों के बारे में जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही है। पुलिस ने शहर के अनेक मस्जिदों में इस बारे में सूचनाएं एकत्र करने की कोशिश आज की।
 


Date : 01-Apr-2020

सांसद साव ने लिखी सीएम को चिट्ठी, नये पेन्ड्रा जिले में कोरोना से निपटने के संसाधन नहीं 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बिलासपुर, 1 अप्रैल।
सांसद अरुण साव ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर पेन्ड्रा-गौरेला-मरवाही जिले में आवश्यक प्रशासनिक व स्वास्थ्य संसाधन उपलब्ध कराने की मांग की है।

मुख्यमंत्री को लिखे गये पत्र में सांसद ने कहा कि पेन्ड्रा-गौरेला-मरवाही अभी नया जिला बना है । एक जिले की आवश्यकता के अनुरूप यहां आवश्यक प्रशासनिक संसाधन और स्वास्थ्य सुविधाएं बिल्कुल ही नहीं हैं. स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं के बराबर है क्योंकि यहां न तो 100 बिस्तर का हॉस्पिटल है और न ही अभी जिला हॉस्पिटल स्थापित हुआ है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में न तो आवश्यक उपकरण है और न ही आवश्यक नर्सिंग स्टाफ है। वर्तमान परिस्थिति में कोरोना महामारी से लडऩे के लिए यहां संसाधनों की अत्यन्त कमी है। अत: इस क्षेत्र को विशेष क्षेत्र मानते हुए आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने का कष्ट करें।
 

 


Date : 01-Apr-2020

हाईकोर्ट जस्टिस सहित प्रदेश के सभी न्यायिक अधिकारी, कर्मचारी एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देंगे

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बिलासपुर, 1 अप्रैल। छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के आग्रह पर उच्च न्यायालय के सभी जजों, रजिस्टार जनरल कार्यालय के सभी अधिकारी व प्रदेश के सभी न्यायिक अधिकारियों और कर्मचारियों ने अपने एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री कोरोना राहत कोष में दान देने का निर्णय लिया है।

हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल नीलम चंद सांखला द्वारा दी गई जानकारी में बताया गया है कि यह सर्वविदित है कि कोरोना महामारी ने दुनिया सहित देश के लाखों लोगों के जीवन पर संकट खड़ा कर दिया है। इसे देखते हुए मुख्य न्यायाधीश की मंशा है कि इस अभूतपूर्व संकट से निपटने के लिए किये जा रहे प्रयासों में न्यायिक क्षेत्र से जुड़े लोगों को भी मदद करनी चाहिये। उन्होंने हाईकोर्ट के सभी जजों, रजिस्ट्री कार्यालय के अधिकारियों, कर्मचारियों, प्रदेश के सभी अधीनस्थ न्यायालयों के न्यायिक अधिकारियों और कर्मचारियों से अनुरोध किया कि वे अपने एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री कोरोना राहत कोष में देकर सहयोग करें।


Date : 01-Apr-2020

सीएनल चर्च द्वारा कोटा पुलिस को फल-सेनिटाइजर वितरित

छत्तीसगढ़ संवाददाता
करगीरोड (कोटा), 1 अप्रैल।
कोटा मसीही समाज के सीएनल चर्च के द्वारा कोटा पुलिस को फल-सेनिटाइजर वितरण उनका आभार जताया। कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में लॉकडाउन है। कोरोनो के खतरे के बीच पुलिस व प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी दिन-रात अपने जान की परवाह की बगैर अपने घर परिवार को छोड़कर आमजनों की सुरक्षा में तैनात हैं, यही नहीं आमजनों को रोजमर्रा के जरूरत के समानों दवाइयां, राशन की सामग्री तक उनके घर पहुंचा कर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

सामाजिक संगठनों सहित अन्य वर्गों के द्वारा पुलिस-विभाग के आला अधिकारियों सहित पुलिस के जवानों को कोरोनो से बचाव हेतु मास्क-सिनेटाइजर उपलब्ध कराया जा रहा है। इसी कड़ी में कुछ दिनों पहले एसडीओपी कोटा की उपस्थिति में वेलकम डिस्टलरी प्रबंधन के द्वारा पुलिस के अधिकारियों व जवानों को मास्क-सिनेटाइजर उपलब्ध कराया गया था, जो कि ये सिलसिला लगातार जारी है। इसी कड़ी में कोटा मसीही समाज के सीएनल चर्च के पादरी लरेन्सराज व अधिवक्ता हरीश लाल द्वारा आज कोटा थाना प्रभारी कोटा आर.के.सोरी की उपस्थिति में कोटा थाने के समस्त स्टाफ को फल व सेनेटाईजर वितरण किया गया। वर्तमान परिस्थितियों में कोटा पुलिस के द्वारा आमजनों के हित में किये जा रहे कार्यों की  कोटा मसीही समाज के सीएनल चर्च के पादरी लरेन्सराज व अधिवक्ता हरीश लाल ने आभार जताया।


Date : 01-Apr-2020

ग्रामीण क्षेत्रों के युवा बेरिकेट लगाकर कर रहे पहरेदारी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
करगीरोड (कोटा), 1 अप्रैल।
कोरोनो वायरस के संक्रमण से बचने 21 दिनों के लॉकडाउन को लेकर शहरी-क्षेत्रों की अपेक्षा ग्रामीण-क्षेत्रों में जागरूकता काफी देखी जा रही है। कोटा-विकासखंड के करका, करपीहा-धनरास, पीपरपारा-छेरकाबाँधा, बिल्लीबंद, अमाली, लखोदना, खुरदुर अमने, नेवसा सहित काफी सारे ग्राम-पंचायतों के ग्रामीणों, युवा-वर्ग व अन्य लोगों के द्वारा अपने-अपने ग्राम पंचायत के सीमा पर ही बैरिकेट्स लगाकर युवा ग्रामीण वॉलंटियर बकायदा मास्क लगाकर लगातार पहरेदारी कर रहे हैं।

 एक प्रकार से पुलिस एवं प्रशासन का सहयोग कर लोगों को जागरूक कर रहे हैं, ना ही गांव से कोई बाहर जाने का प्रयास कर रहा है, ना ही किसी दूसरे गांव से आने वाले लोगों को अपने गांव में प्रवेश दिया जा रहा है। 

यहां तक की दूसरे प्रदेश से कमाने खाने गए लोग अगर वापस अपने गांव लौट रहे हैं, तो भी उनको जल्दी से गांव के अंदर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है, बल्कि इन्हें 14 दिनों तक गांव से बाहर रहने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है, ताकि सामने वाला कोरोना वायरस से अगर संक्रमित हो तो पूरा गांव संक्रमित ना हो सके। साथ ही इस बात का भी ख्याल रखा जा रहा है, कि अगर कोई स्वास्थ्य को लेकर या फिर रोजमर्रा की जिंदगी में उपयोग की जाने वाली वस्तुओं अगर आवश्यक हो तभी ग्रामीण जन गांव से बाहर निकलने का प्रयास करते हैं।

 


Date : 29-Mar-2020

कोरोना का बहाना कर दूसरे गंभीर मरीजों को हाथ लगाने के लिए तैयार नहीं 108 एम्बुलेंस के कर्मी 
सचिव कह रहीं-108 की सेवाओं में कोई बदलाव नहीं किया गया 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बिलासपुर, 29 मार्च। 
कोरोना महामारी से बचाव में लगे होने का बहाना लेकर 108 एम्बुलेंस के कर्मियों ने दूसरे गंभीर मरीजों को मदद करने से हाथ खींच लिया है। बिलासपुर में हाल ही में दो मामले आये, जिसमें एक वृद्ध महिला को अस्पताल पहुंचाने से यह कहकर इंकार कर दिया गया कि 108 की ड्यूटी इस समय सिर्फ कोरोना पीडि़तों के लिए है। दूसरे में आज सुबह सर्दी-खांसी के एक मरीज को यह कहकर अस्पताल पहुंचाने से मना कर दिया कि वह कोरोना पीडि़त होगा। 

निहारिक बारिक सिंह, स्वास्थ्य सचिव एवं प्रभारी सचिव बिलासपुर का कहना है कि 108 एम्बुलेंस की सर्विस पूरे प्रदेश में पहले की तरह यथावत है। इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है। जिन मामलों के बारे में आप बता रहे हैं, मेरी जानकारी में नहीं है।

लॉकडाउन और कोरोना के चलते स्वास्थ्य विभाग पर इस समय अतिरिक्त जिम्मेदारी डाली गई है पर यह बाकी पीडि़त मरीजों को उनके हाल पर छोड़ देने का जरिया भी बना लिया गया है। महाराष्ट्र मंडल टिकरापारा निवासी मीरा पिल्लई (70 वर्ष) तीन दिनों से बीमार चल रही थीं। शुक्रवार को तबियत ज्यादा बिगडऩे पर परिवार के लोगों ने 108 को डायल लिया। आश्वासन के बावजूद एक घंटे तक एम्बुलेंस के नहीं पहुंची तो दुबारा फोन किया गया। दूसरी ओर से बताया गया कि सभी एम्बुलेंस सिर्फ कोरोना मरीजों की सेवा में लगे हैं। कोरोना की पुष्टि होने पर ही एम्बुलेंस भेजा जाएगा। पीडि़त महिला का भाई लगातार लोगों से मदद की गुहार लगाता रहा किन्तु कोरोना के भय से कोई सामने नहीं आया। रात को दो बजे कोतवाली पुलिस को फोन किया गया। पुलिस ने पेट्रोलिंग पार्टी भेजी लेकिन एम्बुलेंस की व्यवस्था वह भी नहीं कर पाई। पीडि़त परिवार रायपुर में पदस्थ एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के परिवार से है। पिल्ले परिवार ने अपने परिचितों के माध्यम से रेलवे के अधिकारियों से मदद मांगी तब रेलवे की एम्बुलेंस से मरीज को अस्पताल पहुंचाया जा सका। 

इसके ठीक उलट हुए वाकये में खूंटाघाट, रतनपुर के एक वृद्ध राकेश चौहान की शनिवार की रात तबियत बिगड़ गई। उनकी बेटी ने रात करीब दो बजे एम्बुलेंस के लिए फोन किया। एम्बुलेंस सुबह आई और बाहर खड़ी हो गई। उसने परिवार के लोगों से जानना चाहा कि क्या तकलीफ है? बताया गया कि सर्दी-खांसी है और सांस लेने में तकलीफ हो रही है। एम्बुलेंस बिना घर में घुसे और मरीज को देखे बिना वापस हो गई। एम्बुलेंस में बैठे स्टाफ ने कहा कि यह कोरोना वायरस का केस हो सकता है। यह एम्बुलेंस कोरोना मरीजों को लेकर जाने लायक नहीं है। पीडि़त मरीज के परिचित नंदकुमार कश्यप को इस बात की जानकारी मिली तो उन्होंने रायपुर में अपने सम्पर्कों से बात की, तब रतनपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सक ने घर पहुंचकर उनकी तबियत देखी। मरीज को दवाएं दी गई है और अब उनकी हालत में सुधार भी है। 

 


Date : 29-Mar-2020

कोरोना मरीजों को रखने के लिए निजी अस्पताल को देखा स्वास्थ्य अधिकारियों ने 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
बिलासपुर, 29 मार्च।
कोरोना संक्रमित संभावित मरीजों के उपचार के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जिले के एक निजी चिकित्सालय आरबी अस्पताल का अवलोकन किया है। आपात स्थिति में इस अस्पताल की सेवाएं ली जाएंगी। 
जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रमोद महाजन ने बताया कि बिलासपुर में अब तक केवल एक संक्रमित मरीज मिला है जिसका उपचार चल रहा है। शेष अन्य संदिग्ध मरीजों को सिम्स के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। यदि भविष्य में संक्रामक मरीजों की संख्या में वृद्धि होती है तो एहतियातन आरबी हास्पिटल के प्रबंधन से बातचीत की गई है। वहां उपलब्ध सुविधाओं का अवलोकन किया गया है। यदि कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में वृद्धि होती है तो इस अस्पताल में उन्हें भर्ती किया जाएगा।
जरूरतमंदों को अनाज बांटा हाजी मुबस्सीर हुसैन ने
रायगढ़, 29 मार्च। समाज सेवक ने 26 मार्च को शहर की पिछड़ी बस्तियों में जिनमें चाँदमारी, इंदिरानगर, प्रेम प्रताप कालोनी में सौ से अधिक चिन्हांकित जरूरतमन्दों को राशन का समान (आटा, दाल, चावल, आलू, प्याज, तेल, नमक और मसाले)का वितरण किया। शहर के मधुवन पारा निवासी व्यवसाई हाजी मुबस्सीर हुसैन की इस पहल की हर कोई  प्रशंसा करता दिख रहा है।


Previous1234Next