छत्तीसगढ़ » कोरिया

Previous123456Next
24-Sep-2020 6:23 PM

बैकुंठपुर, 24 सितंबर। कोरिया जिले में निर्माणाधीन ग्राम पंचायत भवन के लिए जंगल के हरे-भरे पेड़ों की बलि दी जा रही है। वहीं वन विभाग पंचायत के नाम पर कार्रवाई ना करके मजदूरों के नाम पर पीओआर काट कर कार्रवाई कर रहा है। 

इस संबंध में बहराशि रेंज अंतर्गत रांपा बीट के डिप्टी रेंजर जगन्नाथ प्रसाद शर्मा की मानें तो जो लकड़ी काटा है उसी के खिलाफ अपराध दर्ज होगा, जब उनसे सवाल किया गया कि आखिर कटी लकड़ी जहां उपयोग हो रही है वो भी तो दोषी है, तो उन्होंने कहा कि मैं छुट्टी पर था, जब मुझे पता चला तो मैंने कार्रवाई करने को कहा है। मेरे पास मामले की जांच रिपोर्ट आएगी तब मैं कुछ बता पाउंगा। 

कुछ देर बार बीट के फारेस्टर बृजेश द्विवेदी ने फोन कर पूछा कि आप कार्रवाई के संबंध में पूछ रहे थे, मौके पर जो मिले मेट और मजदूरों के खिलाफ कार्रवाई मेरे द्वारा की गई है, मैंने कार्रवाई में लिखा है कि पंचायत भवन निर्माण में ये लकड़ी लगाई जा रही थी। आगे जांच के बाद और लोगों पर भी कार्रवाई होगी।  

जानकारी के अनुसार कोरिया जिले के भरतपुर तहसील के ग्राम रांपा में नवीन ग्राम पंचायत भवन के निर्माण का कार्य जारी है, चूंकि आसपास वन क्षेत्र है, जिससे निर्माण कार्य के लिए सैकड़ों छोटे हरे भरे पेडों को काट डाला गया। जिसके बाद वन विभाग ने कटे पेड़ों का पीओआर कार्य में लगे मजदूरों नारेन्द्र सिंह, विजय बहादूर, और चंद्रप्रताप सिंह के नाम काट दिया। जबकि कार्य ग्राम पंचायत के द्वारा करवाया जा रहा था। यहां कुल 117 लकड़ी जो कि अधिकांश गीली पाई गयी है बरामद की गई। 

वहीं ग्रामीणों की मानें तो नींव के लिए दो फुट की खुदाई की गई है बाहर से मिट्टी लाकर पटाई की जा रही है। वहीं फर्जी जॉब कार्ड दिखाकर कुछ लोगों को काम करते दिखाया जा रहा है। 

इधर पौधारोपण, उधर कटाई

एक ओर राज्य सरकार कुछ माह पूर्व ही वनक्षेत्रों में पौधारोपण को बढावा देने करोडों रूपए खर्च कर दिए, एक ओर पौधे लगाए जाते रहे, वहीे दूसरी ओर जिले भर में बनाए जा रहे है नवीन ग्राम पंचायत भवन के निर्माण कार्य में छोटे-छोटे हजारों पेड़ों की बलि दे दी गई। 


24-Sep-2020 6:22 PM

बैकुंठपुर, 24 सितंबर। कोरिया जिले में बुधवार को फूटे खाड़ा डेम के बाद बैकुंठपुर के राजस्व अमले ने दिन भर में दर्जनों प्रकरण तैयार कर लिए है, दूसरी ओर बुधवार को राज्य सरकार के आला अधिकारियों के फोन दिनभर जिला प्रशासन के आला अधिकारियों को तमाम कार्यवाही कर जानकारी भेजे जाने के लिए आते रहे।  

बुधवार को कोरिया जिलामुख्यालय बैकुंठपुर विकासखंड का खाड़ा जलाशय के फूट जाने के बाद संसदीय सचिव के तत्काल मुआवजा देने के निर्देश पर राजस्व अमला मौके पर पहुंचा, पटना के बाद विभाग के सेकेट्री ने कलेक्टर को फोन कर किसानों के हुए नुकसान के आंकलन की रिपोर्ट तलब की, जिसके बाद बैकुुंठपुर तहसीलदार ़ऋचा सिंह के साथ राजस्व अमला मौके पर पहुंचा और दिनभर प्रकरण बनाते रहे। संसदीय सचिव के निर्देश पर कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल में आशीष डवरे और संजीव सिह काजू के साथ कार्यकर्ताओं ने कोई किसान छूट ना जाए इसके लिए दिनभर क्षेत्र में किसानों की सुध लेते देखे गए। वहीं अधिकारियों का कहना है कि डेम काफी पुराना था, इस पर उनकी किसी भी तरह की कोई गलती नहीं है।

मई 2020 में की गई थी मांग 

ईएंडएम विभाग के पत्र के बाद संसदीय सचिव अम्बिका सिंहदेव के 15 मई 2020 के पत्र के बाद जिला प्रशासन से बैकुंठपुर विकासखंड के 20 जलाशयों के लिए 27.41 लाख रू की राशि की मांग की गई थी। काम ई एंड एम विभाग को करना था, जिसमें गेज मध्यम परियोजना के लिए 8.46 लाख, झुूमका परियोजना के लिए 7.50 लाख, आनी, जामपानी, चंपाझर, सलबा और खरवत के लिए 25-25 हजार, खाडा जलाशय के लिए 60 हजार, गदबदी, चारपारा, गोबरी, और कसरा नलकूप के लिए 50-50 हजार, छरछा जलाशय, सिलफोड़ा, जगतपुर के लिए 30-30 हजार, मुरमा, अमहर, गणेशपुर के लिए 60-60 हजार, शासकीय नलकूप पटना के लिए 1.50 लाख और शासकीय नलकूप डुमरिया के लिए 5 लाख रू की स्वीकृति मिलनी थी। 

मिट्टी और पत्थर से पटे खेत

भाजपा के मंडल अध्यक्ष कपिल जायसवाल की मानें तो डेम के फूटने से ज्यादातर किसानों के खेत मिट्टी और बडे बडे पत्थरों से पट चुके है, ऐसे में शासन उनके खेत बनाकर दे ताकि उन्हें अतिरिक्त खर्च ना करना पड़े, मुआवजा के साथ किसानों की यह मांग है कि उनके बन बनाए खेतों को भी दुरूस्त किया जाना चाहिए। श्री जायसवाल ने बताया कि डेम के फूटने से सबसे ज्यादा नुकसान बांध के पास लेग खेतों को हुआ है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि सबसे जरूरी है अधिकारियों पर उनकी लापरवाही पर कार्यवाही ताकि आगे से ऐसी लापरवाही ना हो सके।


24-Sep-2020 6:07 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

बैकुंठपुर, 24 सितंबर। बुधवार को खाड़ा जलाशय फूटने के कारण तीन गांव खांडा, खोडरी एवं कसरा के सैकड़ों किसानों का सैकड़ों एकड़ फसल बर्बाद हो गया है। गुरुवार को भाजपा जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में कई पदाधिकारियों ने मौके पर जाकर स्थिति का जायजा लिया और किसानों से बात की।

भारतीय जनता पार्टी जिला अध्यक्ष कृष्ण बिहारी जायसवाल, पूर्व मनेन्द्रगढ़ विधानसभा क्षेत्र विधायक श्याम बिहारी जायसवाल, जिला उपाध्यक्ष शैलश शिवहरे, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रेणुका सिंह, जिला पंचायत सदस्य सुनीता कुर्रे, नपा उपाध्यक्ष सुभाष साहू, मण्डल अध्यक्ष कपिल जायसवाल ने आज खाड़ा जलाशय पहुच कर घटना का जायजा लिया, इसी दौरान ग्रामीणों से मिलकर उनका दर्द भी साझा किया।

इस दौरान भाजपाइयों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि जिन किसानों का फसल बर्बाद हुआ है उनका तत्काल प्रकरण तैयार कर मुआवजा दिया जाए, जिससे किसानों को जल्द राहत मिल सके।

उसी दौरान भाजपा नेताओं ने आरोप लगाते हुए कहा हैं कि जब ग्राम पंचायत खांडा के ग्रामीणों ने बांध लीक होने की जानकारी जल संसाधन विभाग को 3 दिन पहले ही दी थी तब विभाग का कोई भी कर्मचारी बांध को देखने तक नहीं आया। बांध का गेट काफी समय से खराब था यदि सही समय पर गेट बना रहता और जहां लीक हो रहा था उसे भी सही वक्त पर ठीक मरम्मत कराया गया होता तो आज इतना बड़ा नुकसान नहीं हुआ होता। नाकामी छुपाने सत्ता पक्ष जबरन की राजनीति कर रही है। इस मुद्दे पर भाजपा किसानो के साथ है किसी का हक़ मारा गया या मुआवज़ा बनाकर बाटने में लेट हुआ तो सड़क पर उतर कर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। आज सैकड़ों किसानों का फसल बर्बाद हुआ है वह संबंधित अधिकारी, कर्मचारियों की लापरवाही के कारण हुआ है। संबंधित ऐसे लापरवाह दोषी अधिकारी कर्मचारियों के ऊपर तत्काल कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। जिससे भविष्य में इस तरह की और दूसरी घटना न हो।


24-Sep-2020 5:55 PM

मनेंद्रगढ़, 24 सितंबर। सविप्रा उपाध्यक्ष विधायक गुलाब कमरो ने कोविड पेशेंट फीडबैक रिपोर्ट में पूरे प्रदेश में कोरिया जिले को दूसरा रैंक मिलने पर कलेक्टर कोरिया व सीएमएचओ सहित समस्त स्वास्थ्य कर्मियों, कोरोना योद्धाओं को बधाई प्रेषित कर जिले को मिले सम्मान पर आभार व्यक्त किया है। उल्लेखनीय है कि राज्य शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा फीडबैक सर्वे में जिले के कंचनपुर स्थित कोविड हॉस्पिटल में उपलब्ध स्वास्थ्य सुविधा, जांच, बेहतर इलाज व व्यवस्था पर कोरिया को प्रदेश में दूसरा रैंक प्राप्त हुआ है।
 


24-Sep-2020 5:55 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
मनेन्द्रगढ़, 24 सितंबर।
साइकिल में सब्जी रखकर एक बुजुर्ग बाजार में बेचने के लिए घर से निकला था, तभी रास्ते में उसकी तबीयत बिगड़ गई और इलाज के अभाव में उसकी सडक़ पर मौत हो गई। 

खडग़वां ब्लाक अंतर्गत ग्राम पंचायत धवलपुर निवासी 61 वर्षीय बुजुर्ग देवनारायण बुधवार को मनेंद्रगढ़ में साप्ताहिक बाजार होने के कारण साइकिल पर सब्जी लेकर शहर बेचने के लिए निकला था। सुबह करीब 10.30 बजे रास्ते में ग्राम पंचायत बंजी के भोटूपथरा के पास अचानक उसकी तबीयत बिगडऩे और वह तड़पने लगा। बुजुर्ग को तड़पता देख वहां से गुजर रहे कई राहगीरों ने 108 पर कॉल कर उसके इलाज के लिए मदद मांगी, लेकिन बताया जाता है कि कोविड में एंबुलेंस के बिजी होने का कारण बताकर कोई मदद नहीं पहुंचाई गई। अंतत: सडक़ पर तड़प-तड़प कर बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया। 
 


23-Sep-2020 10:27 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 23 सितम्बर। जनकपुर थानांतर्गत में एक नाबालिग को उसके घर से भगाकर ले जाने एवं दुष्कर्म किए जाने का मामला प्रकाश में आने पर पुलिस द्वारा आरोपी युवक को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया।

पीडि़ता के पिता ने जनकपुर पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई कि 14 सितंबर को वह अपनी बड़ी बेटी के घर गया हुआ था, व उसकी पत्नी रोजगार गारंटी में काम करने गई हुई थी। 16 वर्षीया उसकी नाबालिग पुत्री घर पर अकेली थी। शाम को पत्नी काम करके घर लौटी तो पुत्री गायब थी। उसने कहा कि 15 सितंबर को जब वह अपनी बड़ी बेटी के घर से वापस लौटा तो पत्नी ने उसे नाबालिग बेटी के घर पर नहीं होने की जानकारी दी। पिता ने अपनी रिपोर्ट में बेटी को अज्ञात व्यक्ति के द्वारा बहला-फुसला कर अपने साथ ले जाने की आशंका जताई।

रिपोर्ट पर पुलिस द्वारा विवेचना आरंभ की गई और 21 सितंबर को 1.30 बजे मनेंद्रगढ़ थानांतर्गत ग्राम शंकरगढ़ से नाबालिग को बरामद कर लिया गया। नाबालिग के कथन पर ग्राम शंकरगढ़ माझा पारा निवासी आरोपी 19 वर्षीय नान्हू के खिलाफ धारा 363, 366, 376(2)(ढ), 4,6 पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज कर आरोपी को 22 सितंबर को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया।

 

 

 


23-Sep-2020 10:17 PM

नियमितीकरण की मांग को लेकर बेमियादी हड़ताल पर हैं 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
मनेन्द्रगढ़, 23 सितंबर।
नियमितीकरण की मांग को लेकर बेमियादी हड़ताल पर गए जिले के करीब 300 एनएचएम कर्मचारियों ने मंगलवार को हड़ताल के दौरान कर्मचारियों पर की जा रही कार्रवाई से नाराज होकर सामूहिक त्याग पत्र दे दिया है।

छत्तीसगढ़ प्रदेश एनएचएम कर्मचारी संघ कोरिया के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, प्रवक्ता, सह संरक्षक एवं मीडिया प्रभारी ने संयुक्त हस्ताक्षरित विज्ञप्ति जारी कर कहा कि छत्तीसगढ़ प्रदेश एनएचएम कर्मचारी संघ के सभी सदस्य राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा के विभिन्न पदों पर योजना प्रारंभ होने से आज पर्यंत कार्यरत हैं, लेकिन हमारी मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं हो पा रही है। सभी एनएचएम कर्मचारी बार-बार समस्याओं एवं मांगों से शासन-प्रशासन को अवगत करा रहे हैं, बावजूद इसके सकारात्मक कदम शासन द्वारा नहीं उठाया गया है। एनएचएम कर्मचारियों द्वारा की जा रही हड़ताल के फलस्वरूप दंडात्मक कार्रवाई की जा रही है।

इधर, एनएचएम अधिकारी-कर्मचारियों के त्याग पत्र से जिले की कोविड-19 की समस्त रिपोर्टिंग, जांच एवं सैंपलिंग प्रभावित हो रही है। कोविड में प्रति दिवस हजारों सैंपलिंग होती थी, जो आज सिमट कर दो अंकों तक पहुंच गई है। होम हाइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमित मरीजों को पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधा नहीं मिल पा रही है। जिले की मातृत्व स्वास्थ्य, गैर संचारी रोग मधुमेह, हाईपर टेंशन, कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों की स्क्रिीनिंग नहीं हो पा रही है। मलेरिया, टीबी एवं कुष्ठ के मरीजों को दवाईयों का वितरण नहीं हो पा रहा है। एनआरसी में भर्ती मरीजों को वापस घर जाना पड़ रहा है। 

छत्तीसगढ़ प्रदेश एनएचएम कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि दमनकारी नीति अपनाते हुए कर्मचारियों को नौकरी से निकाला जा रहा है जिसे ध्यान में रखकर जिले के सभी कर्मचारियों ने सामूहिक रूप से अपना त्याग-पत्र दे दिया है।
---


23-Sep-2020 1:48 PM

चंद्रकांत पारगीर

बैकुंठपुर, 23 सितंबर (‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता)। बुधवार सुबह 6 बजे कोरिया जिलामुख्यालय से लगा हुए खाड़ा जलाशय बांध फूट गया, जिसके बाद उसका पानी करीब दो दर्जन गांवों की फसल को बर्बाद करते हुए भांडी के सिलफोड़वा जलाशय में भरने लगा। हलांकि इसके वेस्टवेयर से पानी की निकासी जारी रही।

किसान अपनी खड़ी फसल को बर्बाद होते देख रहे थे। मौके पर जल संसाधन विभाग के अधिकारी भी पहुंचे हुए थे। उधर, बांध के फूटने की खबर पर काफी संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। वहीं काफी संख्या में लोग कई घंटे मछली पकडऩे में लगे रहे। 

बैकुंठपुर विधायक व संसदीय सचिव अंबिका सिंहदेव ने राज्य के जल संसाधन मंत्री को मामले की पूरी जानकारी दी। इसके अलावा जिला प्रशासन के अधिकारियों से चर्चा कर जल्द से जल्द किसानों की बर्बाद फसल का मूल्यांकन कर मुआवजा देने को कहा, इसके अलावा मामले की जांच कर कार्रवाई के लिए भी निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ वो और हमारी पूरी सरकार खड़ी हुई है, उन्हें निराश नहीं किया जाएगा। 

कोरिया जिले के बैकुंठपुर तहसील स्थित खाड़ा जलाशय बांध का बड़ा हिस्सा बीच में से फूट गया, जिसके बाद बांध में लबालब भरा पानी खाडा से निकलकर कई गांवों में लगी फसल चौपट करते हुए सिलफोड़वा बांध में पानी भरने लगा, यहां का स्लूस गेट तक पूरा डूब चुका है। इस बांध के फूटने को लेकर ग्रामीणों में काफी दहशत व्याप्त है। उधर, खाड़ा में बांध के फूटने की खबर आग की तरह ग्रामीण क्षेत्रो में फैल गई, जिसके बाद काफी संख्या में ग्रामीण बांध को देखने पहुंच गए, बैकुंठपुर से खाड़ा जाने वाले मार्ग की पुलिया के उपर से पानी बहने लगा। ग्रामीणों से बताया कि उन्होंने पहली बार इस तरह बांध को टूटते हुए देखा है, इससे उनकी खडी फसल का बड़ा नुकसान हो गया है। 

फूटने से बच जाता बांध

ग्रामीणों की मानें तो बीेते 3 दिन से बांध के बीचोंबीच से पानी का रिसाव जारी था, इसकी जानकारी जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को ग्रामीणों ने दी भी थी, परन्तु विभाग ने इस ओर कोई ध्यान नहीं किया। वही इस बांध का वेस्ट वेयर जुलाई में ही शुरू हो गया था, बांध में पानी भरा होने के बाद भी विभाग के अधिकारियों ने इस ओर देखने की जरूरत नहीं समझी। जिसके कारण पानी का दबाव बढता गया और आज बुधवार को अंतत: बांध बीच में से टूट गया। यदि 15 दिन पहले बांध के दोनों गेट खोल दिए गए होते तो बांध को बचाया जा सकता था। 

दो बड़े गेट हैं बांध में
खाड़ा जलाशय बांध में दो बड़े गेट है। नियमानुसार बांध को फूटने से बचाने के लिए उसमें लगे गेटों को खोल दिया जाता है। गेट बनाए ही इसीलिए होते है, परन्तु इस बांध में लगे 2 बाय 2 के दो गेटों को रहते नहीं खोला जा सका। बांध के टूटने की यह सबसे बड़ी वजह बताई जा रही है। विभागीय सूत्रों की मानें तो पानी से भरे इस बांध के दोनों गेट खराब थे, उनपर बोरी में रेत डालकर उन्हें बंद कर दिया गया था। 

बरसों से गेट का मरम्मत नहीं
बताया जा रहा है कि 8 साल से जल संसाधन विभाग ईएंडएम विभाग से गेटों की मरम्मत का कार्य नहीं करवा रहा है। दरअसल, जल संसाधन विभाग ईएंडएम विभाग के गेट को लेकर जानकार लोगों से बांधों के गेट नहीं बनवाते हैं। गेट रिपेयर का काम ना टेक्निकल इंजीनियरों के द्वारा किया जा रहा है। जिले भर के बांधों में लगे गेटों का यही हाल है। बिना तकनीकी ज्ञान के गेटों का रखरखाव किया जा रहा है, जिसका खामियाजा खाड़ा के बांध के टूटने से किसानों को भुगतना पड़ा है। 

सिलफोड़वा का गेट खराब
जल संसाधन विभाग जलाशयों में लगे गेट खुद रिपेयर करते हैं। गेट को बोरी में रेत भरकर बंद कर देते है। खाड़ा बांध से बहकर पानी सिलफोड़वा बांध में इकट्ठा हो रहा है, परन्तु इसके गेट का रॉड खराब होने के कारण इससे काफी कम मात्रा में पानी निकल रहा है।

कई बांधों का यही हाल
जल संसाधन विभाग की लापरवाही के कारण कई बांध फूटने के आसार नजर आ रहे हैं। बताया जाता है कि बैकुंठपुर तहसील का मुरमा बांध भी लीक कर रहा है। यह भी कभी भी फूट सकता है। वहीं खडग़वां का सलका बांध और बैकुंठपुर का सिलफोड़वा बांध के फूटने की बात जानकार बता रहे हंै। वहीं भरतपुर का तरतोरा बांध की मिट्टी भी कुछ माह पूर्व धंस चुकी है, यहां भी हाल बेहाल है। इसके अलावा महाराजपुर जलाशय का नाला क्लोजर की मिट्टी के धंस जाने के बाद वहां की स्थिति भी खराब बताई जा रही है। कुछ एनिकट और बांध के फूटने और मिट्टी बहने की घटना बीते दो महीने में सामने भी आई है परन्तु प्रशासन मौन है।


22-Sep-2020 10:17 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बैकुंठपुर, 22 सितंबर।
सोमवार की रात शहर के सिविल इंजीनियर की पत्नी की मौत के बाद मृतका के परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद नायब तहसीलदार की उपस्थिति में मृतका का पोस्टमार्टम किया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक चंद्रमोहन सिंह स्वयं थाने पहुंचे और मामले की जांच के निर्देश दिए। 

इस संबंध में सिटी कोतवाली प्रभारी विमलेश दुबे ने बताया कि मामले में दोनो पक्षों के बयान लिए जा रहे हैं, पोस्टमार्टम हो रहा है। रिपोर्ट के आने के बाद कार्रवाई की जाएगी। 

वहीं नायब तहसीलदार भीष्म पटेल ने कहा कि मामले में पंचनामा बनाकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। सीएमएचओ को डॉक्टरों की टीम बनाकर पोस्टमार्टम करने के लिए निर्देशित किया गया है। 

कोरिया जिला मुख्यालय बैकुंठपुर के सिविल इंजीनियर पीयूष अवधिया का विवाह कुरूद निवासी कमल नारायण गुप्ता की पुत्री कृतिका गुप्ता से नवंबर 2019 में हुआ। 

पीयूष के पिता श्री अवधिया के अनुसार सोमवार की रात 11.30 से 12 बजे के बीच उनकी बहू ने अपने कमरे का दरवाजा बंद कर लिया और फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, जिसके बाद उनके पुत्र पीयूष ने कमरे का दरवाजा तोडक़र उसे बाहर निकाला और तत्काल उसे जिला अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। हमने इसकी जानकारी बहू के परिवार को तुरंत दी। 

इधर, कुरूद से बैकुंठपुर पहुंचे मृतका के पिता कमल नारायण गुप्ता का कहना है कि उन्होंने स्वयं फोन किया तब उनके दामाद के पिता ने उन्हें बताया कि उनकी पुत्री ने आत्महत्या कर ली है, उसके बाद हम लोगों ने कई बार फोन लगाया परन्तु दामाद के परिवार ने फोन रिसीव नहीं किए। 

मंगलवार की सुबह से ही मामले को लेकर शहर भर के काफी लोग जिला अस्पताल पहुंचे, वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक चंद्रमोहन सिंह भी थाने पहुंचकर पीडि़त परिवार से मुलाकात किए और सिटी कोतवाली प्रभारी को जांच कर कार्यवाही के निर्देश दिए।  उसके बाद नायाब तहसीलदार भीष्म पटेल की मौजूदगी में शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को शव सौंप दिया गया, पुलिस ने घटनास्थल की वीडियोंग्राफी करवाई, इसके बाद पोस्टमार्टम के पूर्व नायाब तहसीलदार की उपस्थिति में वीडियोंग्राफी हुई, मौके पर दोनों पक्ष के लोग मौजूद थे, शरीर पर चोट के निशान को लेकर वहां काफी विवाद की स्थिति बन गई थी। इसके बाद पंचनामा के बाद सीएमएचओ को टीम बनाकर पोस्टमार्टम करने के निर्देश दिए गए, जिसके बाद डॉक्टरों की टीम ने शव का पोस्टमार्टम किया। पुलिस की माने तो अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही सच सामने आ पाएगा। 

मेरी पुत्री की हत्या की गई - कमलनारायण 
मृतका के पिता कमल नारायण गुप्ता का कहना है कि शादी के बाद उनकी पुत्री दो बार घर आई थी, एक बार राखी और दूसरी बाद होली में, उसे दामाद छोडऩे आए परन्तु लेने नहीं आए। उससे बहुत काम करवाते थे, सोमवार की शाम 4 बजे कृतिका का फोन आया था वो काफी हड़बड़ी में थी, उसने सिर्फ इतना कहा कि उसके पति से लेकर किसी का भी फोन आए तो आप लोग मत उठाना, उसके बाद उसने फोन काट दिया और फिर देर रात उसकी मौत की खबर हमें मिली। मेरी पुत्री की हत्या हुई है, मैंने जांच की मांग की है। मृतका का भाई ओंकार गुप्ता का कहना है कि शादी के बाद से ही उसे अकेले कमरे में रखा जाता था, कई तरह से प्रताडि़त किया जाता था, उन्होंने बताया कि लडक़े के क्रियाकलाप को लेकर वो बहुत परेशान रहती थी। उसे हमारे घर में बात नहीं करने देते थे।

आरोप गलत- अवधिया
पीयूष अवधिया के पिता श्री अवधिया ने बताया कि पुत्री के वियोग में जो आरोप लगा रहे है एकदम गलत है, जो हुआ वो बेहद अफसोसजनक है, मैं खुद सदमें में हूं। बहू को हम अपनी पुत्री की तरह रखा करते थे। कभी कभार काम वाले नहीं आते तो हल्का फुल्का काम घर में करना पड़ता था, बात नहीं करने देने की बात गलत है, बहू के पास हमेशा मोबाइल होता था, वो बात करती थी। बेटा और बहू के बीच क्या था उसे मैं नहीं बता सकता। हमने किसी ने भी कोरोना होने की बात नहीं कही। जैसे ही उसने कमरे का दरवाजा बंद किया तत्काल जब तक दरवाजा खोलते तब तक वो खुद आत्महत्या का प्रयास कर चुकी थी, उसे फौरन बिना देरी किए जिला अस्पताल लेकर आए। उनको जितना दुख है उससे कहीं ज्यादा दुख मुझे भी है। 


21-Sep-2020 6:41 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
चिरमिरी, 21 सिंतबर।
जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) के संस्थापक सदस्य एवं प्रदेश प्रतिनिधि शाहिद महमूद ने कोरिया कलेक्टर और उत्कृष्ट इंग्लिश मीडियम स्कूल चिरमिरि के अध्यक्ष को पत्र लिख कर चिरमिरि के उत्कृष्ट इंग्लिश मीडियम स्कूल में कक्षा पहली में निर्धारित सीट 40 को बढ़ाकर 80 करने की मांग की है। 

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने मई 2020 में उत्कृष्ट इंग्लिश मीडियम स्कूल पूरे प्रदेश में खोलने का ऐतिहासिक निर्णय लेते हुवे शहरी क्षेत्रों में उत्कृष्ट इंग्लिश मीडियम स्कूल योजना सरकार ने लागू किया है, जिससे क्षेत्र के बच्चों को इंग्लिश मीडियम स्कूल में पढऩे का मौका मिलेगा। इस योजना के अंतर्गत प्रारम्भ में जिला मुख्यालय,नगर निगम,नगर पालिका या नगर पंचायत में न्यूनतम एक एक स्कूल खोले जाने की योजना है,तथा मई महीने में ही शासन द्वारा 40 उत्कृष्ट विद्यालय की सूची जारी कर दी गई है,जिसमें कोरिया जिला में मात्र 1 स्कूल बैकुंठपुर सम्मिलित था तथा प्रदेश के बड़े शहरों में शुमार चिरमिरि नगर निगम का नाम नहीं था,जबकि बलरामपुर जिले में 3 नगर पंचायतों में विद्यालय खोलने की सूची में शामिल थे। क्षेत्रीय सांसद एवं कलेक्टर कोरिया के संज्ञान में यह बात आने के बाद कि पहले 40 विद्यालयों की सूची में चिरमिरि का नाम शामिल नहीं है। तब सांसद और कलेक्टर कोरिया के प्रयास और अनुसंशा से दूसरे सूची में अगस्त माह में उत्कृष्ट इंग्लिश मीडियम स्कूल की सूची में शामिल हुआ और चिरमिरि में खोलने की स्वीकृति मिली,जिसके लिए चिरमिरि की जनता सदैव  मुख्यमंत्री ,सांसद  और कलेक्टर कोरिया की आभारी रहेगी। उक्त विद्यालय के शैक्षणिक सेटअप भर्ती एवं छात्रों की भर्ती प्रक्रिया प्रारंभ है,तथा कक्षा पहली के प्रवेश हेतु विद्यालय हेतु लाइवलीहुड नवीन भवन को चयनित किया गया है। उक्त विद्यालय भवन सर्व सुविधायुक्त है तथा कक्षों की कमी भी नहीं है, इस विद्यालय में कक्षा 1ली में प्रवेश हेतु 40 सीट निर्धारित हैं,और करीब 390 प्रवेश आवेदन फॉर्म आये हैं। जितना बड़ा चिरमिरि क्षेत्र है,उस हिसाब से ये 40 सीट बहुत ही कम है,तथा अधिकांश बच्चे प्रवेश से वंचित रह जाएंगे। सरकार की मंशा पूर्ण करने हेतु न्याय हित में इसे बढ़ाया जाना अति आवश्यक है। इसके लिए पर्याप्त जगह स्कूल भवन में है,इस महत्वपूर्ण योजना का लाभ अधिक से अधिक लोगों को मिलना चाहिए तभी इस योजना का उद्देश्य पूर्ण हो सकेगा। मुख्यमंत्री के छात्रों के प्रति सोच को और मजबूती मिलेगी। छात्र हित में चिरमिरि के उत्कृष्ट इंग्लिश मीडियम स्कूल में कक्षा 1 ली में 40 के स्थान पर सीट बढ़ाकर कम से कम 80 किया जावे। उक्ताशय के पत्र की प्रतिलिपी मुख्यमंत्री,अध्यक्ष छत्तीसगढ़ विधानसभा,सांसद कोरबा,शिक्षा मंत्री, प्रभारी मंत्री कोरिया को भी भेजा गया है।
 

 


19-Sep-2020 9:40 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बैकुंठपुर, 19 सितंबर। कोरिया जिला मुख्यालय बैकुंठपुर से लगे ग्राम पंचायत खरवत के कुछ अंश को नपा बैकुण्ठपुर में शामिल करने हेतु छग राजपत्र में अधिसूचना का प्रारंभिक प्रकाशन होने की खबर के साथ ही ग्राम पंचायत खरवत के समस्त ग्राम वासियों ने संयुक्त हस्ताक्षरित आवेदन कलेक्टर कोरिया को सौंपकर ग्राम पंचायत खरवत के किसी भी अंश का नपा बैकुण्ठपुर नगरीय निकाय में शामिल न किये जाने की मांग की है।

उन्होंने कलेक्टर को सौंपे आवेदन में उल्लेख किया है कि वर्ष 2009 में ग्राम पंचायत खरवत को नगर पालिका शिवपुर चरचा में शामिल किया गया था जो कि ग्राम पंचायत की ग्राम सभा के प्रस्ताव के बिना नगरीय निकाय में शामिल किया गया था जिसे लेकर ग्राम सभा द्वारा आपत्ति दर्ज करायी गयी थी।  बाद में लोगों के द्वारा विरोध किये जाने के बाद कुछ माह पूर्व नगरीय निकाय की सीमा से अलग कर ग्राम पंचायत बना दिया गया। अब फिर ग्राम पंचायत खरवत के कुछ अंश भाग को नगरीय निकाय बैकुंठपुर सीमा में शामिल किया जा रहा है जिसका ग्राम वासियों के द्वारा विरोध किया जा रहा हैं और इसे लेकर कलेक्टर केा ज्ञापन सौंपकर नगरीय सीमा से हटाकर स्वतंत्र ग्राम पंचायत के रूप मे रखे जाने की मांग करते हुए बताया गया कि ग्राम पंचायत में चुनाव संपन्न हो चुके है और उनके चुने प्रतिनिधियों द्वारा अच्छे से कार्य किया जा रहा है जिससे कि ग्राम पंचायत के निवासी खुश हैं। वहीं पूर्व में लगभग 10 वर्ष नगरीय निकाय क्षेत्र में शामिल रहने से लोगों केा काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा था।

महत्वपूर्ण योजनाओं का लाभ नहीं

पूर्व में लंबे वर्षों तक नगरीय निकाय शिवपुर चरचा में शामिल रहे ग्राम पंचायत खरवत के ग्रामीणों ने आवेदन में बताया कि नगरीय निकाय में शामिल होने से ग्रामीणों केा कई महत्वपूर्ण योजनाओं का लाभ नही मिल पा रहा था। ग्रामीणों ने अपने आवेदन में उल्लेख किया है कि नगरीय निकाय क्षेत्र में शामिल होने से राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना,कृषि संबंधी योजना,इंदिया आवास योजना,सहित अनेक योजना का लाभ नगरीय निकाय में नही मिल पाती है। बल्कि नपा द्वारा विभिन्न कर का बोझ उठाना पडता है।

बिजली पानी साफ-सफाई भगवान भरोसे

ग्रामीणों ने कलेक्टर केा सौंपे अपने ज्ञापन में उल्लेख किया है कि नपा क्षेत्र में रहने कई प्रकार की परेशानी होती है। ग्रामीणों के अनुसार नगरीय क्षेत्र में रहने के बावजूद क्षेत्र में बिजली पानी साफ सफाई भगवान भरोसे रहती है।रोजगार मजदूरी का साधन नही होने से क्षेत्र के किसान मजदूरों की हालत दयनीय है।नालियों तालाबों की स्थिति बदतर है।  


19-Sep-2020 9:38 PM

बैकुंठपुर, 19 सितंबर। छग प्रदेश एनएचएम कर्मचारी संघ के आव्हान पर जिला इकाई संघ द्वारा स्वास्थ्य विभाग के संविदा कर्मचारी 19 सितंबर से अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चले गये। इसके पूर्व संघ द्वारा इसकी सूचना उच्च अधिकारियों को दी गयी थी।

संघ का कहना है कि विगत 15 वर्षों से स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ बनाने में जी जान से अपनी सेवा दे रहे हैं। वर्तमान प्रदेश सरकार ने अपने चुनावी घोषण पत्र में संविदा कर्मचारियों के नियमितीकरण की घोषणा की थी लेकिन अभी तक इस दिशा में पहल शुरू नहीं हो पायी है। सरकार के कर्मचारी विरोधी रूख के विरोध में छग प्रदेश एनएचएम कर्मचारी संघ ने एक सूत्रीय मांग नियमितीकरण को लेकर प्रदेशभर के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चले गये। जिसका समर्थन कई अन्य विभागों के संविदा कर्मचारियों ने दी।

उल्लेखनीय है कि वर्तमान में स्वास्थ्य विभाग में ज्यादातर विभिन्न पदों पर संविदा तौर पर ही अधिकारी कर्मचारी कार्यरत है। ऐसी स्थिति में संविदा कर्मचारियों के अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चले जाने से निश्चित रूप से स्वास्थ्य विभाग की विभिन्न योजनाओं के काम पर इसका असर पड़ेगा। साथ ही स्वास्थ्य सुविधाओं को नियमित बनाये रखने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।


19-Sep-2020 9:33 PM

छत्तीसगढ़ संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 19 सितम्बर। छत्तीसगढ़ प्रदेश एनएचएम कर्मचारी संघ के आह्वान पर प्रदेश के 13 हजार स्वास्थ्य कर्मचारी शनिवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। एनएचएम कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने से कोविड 19 से संबंधित 90 फीसदी कार्य प्रभावित हो रहे हैं।

कोविड के मरीजों की परेशानियों को देखते हुए कोरिया जिला एनएचएम कर्मचारियों द्वारा मोबाइल नंबर जारी कर जरूरी स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं। मनेंद्रगढ़ विकासखंड के कोविड मरीजों हेतु मोबाइल नंबर 8349078527 जारी किया गया है। उक्त नंबर पर 24 घंटे संविदा एनएचएम चिकित्सक उपलब्ध रहेंगे, साथ ही ऐसे मरीज जिन्हें छत्तीसगढ़ शासन दवा उपलब्ध कराने में असमर्थ है एनएचएम कर्मचारी उन्हें भी नि:शुल्क दवा उपलब्ध कराएंगे।

एनएचएम कर्मचारियों का कहना है कि उनका विरोध सरकार की गलत नीतियों से है, जनता से नहीं है। बेमियादी हड़ताल पर गए एनएचएम कर्मचारियों ने जनता को हो रही परेशानियों के लिए उनसे माफी मांगते हुए विश्वास दिलाया है कि सरकार के विरुद्ध हड़ताल करते हुए भी जनता की सेवा हेतु वे 24 घंटे उपलब्ध रहेंगे। साथ ही आम जनता से हड़ताल में उनका साथ देने एवं एक सूत्रीय मांग नियमितीकरण को सरकार तक पहुंचाने में उनकी मदद करने का आह्वान किया है।

इधर सविप्रा उपाध्यक्ष विधायक गुलाब कमरो से संगठन ने वीडियो कॉल के माध्यम से अपनी बात रखी। जिस पर उन्होंने प्रदेश के मुखिया तक उनकी मांग पहुंचाने का भरोसा दिलाते हुए कहा कि वे कोरोना वॉरियर्स के साथ हैं, साथ ही कोरोना संकट की इस घड़ी में कर्मचारियों से काम पर लौटने की भी अपील की।


19-Sep-2020 9:32 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बैकुंठपुर, 19 सितंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिवस के दिन से भाजपा द्वारा सेवा सप्ताह कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस दौरान प्रधानमंत्री के जन्म दिवस के दिन जिला मुख्यालय बैकुण्ठपुर स्थित भाजपा कार्यालय में कोरोना वॉरियर्स का सम्मान किया गया। इसके बाद गत दिवस स्थानीय प्रेमाबाग मंदिर परिसर में भाजपा जिला अध्यक्ष कृष्ण बिहारी जायसवाल के नेतृत्व में भाजपा पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं द्वारा पौधरोपण किया गया। इस अवसर पर बैकुंठपुर मण्डल अध्यक्ष भानू पाल, विपिन बिहारी जायसवाल, महेंद्र वैद्य, अशोक वर्मा, घनश्याम साहू, पिंटू, आदि शामिल रहे।


19-Sep-2020 5:41 PM

कार्रवाई होगी-सीएमएचओ

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बैकुंठपुर, 19 सितंबर।
कल पटना थाना क्षेत्र की एक नाबालिग रेप पीडि़ता व उसके परिजनों को मेडिकल के लिए भटकना पड़ा। एसपी के हस्तक्षेप के बाद जिला अस्पताल में पीडि़ता का मेडिकल करवाया गया। 

इस संबंध में सीएमएचओ डॉ. रामेश्वर शर्मा का कहना है कि पहली गलती तो पटना से ही हुई, वहां पदस्थ चिकित्सक को ही देखना था, परन्तु जिला अस्पताल में भी आई पीडि़ता को भी बिना जांच भेजना गलत है, मंै भी नोटिस भेज रहा हूं, कार्रवाई होगी।

घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार बीते 18 सितंबर को पटना थाना क्षेत्र में एक 12 वर्षीया बालिका के साथ बलात्कार की घटना सामने आयी जिस पर परिजनों ने पटना थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी। जिसके बाद पटना पुलिस ने पीडि़ता व परिजनों को लेकर उसका मेडिकल जांच कराने हेतु पटना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गये जहां उपस्थित महिला चिकित्सक ने पीडि़ता का मेडिकल जांच करने से मना करते हुए कहा कि उसे जिला अस्पताल ले जाएं। उनका कहना था कि नाबालिग होने के कारण वो उसका मेडिकल नहीं कर सकती, जबकि नियमानुसार उन्हें तत्काल पीडि़ता का मेडिकल करना था, इसके अलावा बैकुंठपुर जिला अस्पताल भेजने के पूर्व पीडि़ता का रेफर भी पटना अस्पताल प्रबंधन को बनाना था। इसके बाद पुलिस पीडि़ता व परिजनों के साथ जिला चिकित्सालय बैकुंठपुर मेडिकल आई। यहां लाते ही ड्यूटी पर तैनात महिला चिकित्सक ने नियमों का हवाला देकर पीडि़ता का मेडिकल के लिए सीएमएचओ सहित सीएस से बात की। नियमों को दरकिनार बिना रेफर बनाए जाने की बात बताई और जांच के लिए वापस पटना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जाने की सलाह देकर जांच नहीं करने की बात कही। जिसके बाद पीडि़ता के साथ पहुंचे टीआई ने मामले की जानकारी एसपी को दी और मामला दुबारा सीएस और सीएमएचओ के पास पहुंचा और फिर बैकुंठपुर जिला अस्पताल में ही पीडि़ता का मेडिकल करवाया गया। मामले की जानकारी पर सीएमएचओ नोटिस जारी करने की बात कह रहे हंै। 


19-Sep-2020 5:38 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
मनेन्द्रगढ़, 19 सितंबर।
पुलिस ने नौकरी लगाने के नाम पर लाखों की ठगी करने वाले फरार आरोपी को बिलासपुर से गिरफ्तार कर लिया है।

पीडब्ल्यूडी कॉलोनी मनेंद्रगढ़ निवासी 27 वर्षीय विजय शंकर विश्वकर्मा ने मनेंद्रगढ़ पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई कि वर्ष 2014 में उसकी नौकरी लगवाने के नाम पर बिलासपुर सिरगिटी निवासी शिव यादव ने उससे 3 लाख 20 हजार रूपए नगद व बैंक के माध्यम से ठगी की है। शिकायत पर पुलिस ने धारा 420 के तहत केस दर्ज कर विवेचना में लिया। 

विवेचना के दौरान पता चला कि आरोपी शिव यादव एवं उसके भाई सुशील यादव ने मिलकर 3 लाख 20 रूपए की ठगी कर आपस में बांट ली थी। आरोपी शिव यादव को पूर्व में गिरफ्तार कर न्यायालय पेश किया गया, जहां से जेल वारंट बनने पर आरोपी को जेल दाखिल किया गया। प्रकरण में आरोपी 35 वर्षीय सुशील यादव उर्फ कल्लू निवासी वार्ड नंबर 19 धुमा हाई स्कूल के पास सिरगिटी बिलासपुर फरार था, जिसकी तलाश की जा रही थी।

पुलिस को आरोपी सुशील यादव के अपने घर सिरगिटी में छिपे होने की सूचना मिली। जिस पर तत्काल टीम रवाना कर आरोपी को घेराबंदी कर पकडक़र मनेंद्रगढ़ थाने लाया गया। थाना लाकर पूछताछ करने पर आरोपी ने अपना जुर्म करना स्वीकार कर लिया। फरार आरोपी सुशील यादव को 19 सितंबर को गिरफ्तार कर न्यायालय न्यायिक रिमांड पर पेश किया गया।  


19-Sep-2020 5:37 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 19 सितंबर। शनिवार को मनेंद्रगढ़ नपाध्यक्ष प्रभा पटेल ने सोशल मीडिया पर पॉजिटिव होने की जानकारी दी। पिछले एक सप्ताह में सविप्रा उपाध्यक्ष भरतपुर-सोनहत विधायक गुलाब कमरो, मनेंद्रगढ़ विधायक डॉ. विनय जायसवाल, नपाध्यक्ष प्रभा पटेल और उपाध्यक्ष कृष्णमुरारी तिवारी संक्रमित हो चुके हैं और स्वयं को होम आइसोलेट कर अपने संपर्क में आए लोगों से कोरोना की जांच कराने व अपने स्वास्थ्य का विशेष ख्याल रखने की अपील की है।

सबसे पहले 13 सितंबर को भरतपुर-सोनहत विधायक गुलाब कमरो कोरोना संक्रमित हुए। इसके बाद सबसे पहले 17 सितंबर को मनेंद्रगढ़ नगर पालिका उपाध्यक्ष कृष्णमुरारी तिवारी भी कोरोना की चपेट में आ गए। इसके अगले ही दिन 18 सितंबर को मनेंद्रगढ़ विधायक डॉ. विनय जायसवाल ने भी कोरोना की जांच कराई और उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई। वहीं आज शनिवार को मनेंद्रगढ़ नपाध्यक्ष प्रभा पटेल भी कोरोना से संक्रमित हो गईं। 

सोशल मीडिया पर उन्होंने अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी साझा करते हुए बताया कि विगत दो दिनों से मुझे हल्का बुखार और शरीर दर्द की शिकायत थी। आज जांच कराने पर मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। आप सभी प्रियजनों से निवेदन है कि जो भी इन दिनों मेरे संपर्क में आए हों, वे सभी अपना कोरोना टेस्ट जरूर करवाएं तथा अपनी सेहत का ख्याल रखें।


19-Sep-2020 2:48 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बैकुंठपुर, 19 सितंबर।
कोरिया जिले के बिशुनपुर हायर सेकेंड्री स्कूल के प्राचार्य को स्कूल शिक्षा विभाग के अवर सचिव ने निलंबित कर दिया है, उन खिलाफ शिक्षक-शिक्षिकाओं व बच्चों के साथ अमर्यादित व्यवहार करने की शिकायत सामने आई थी।

जानकारी के अनुसार शाउमावि विशुनपुर के प्राचार्य जीवन लाल रात्रे के खिलाफ उन्हीं के स्कूल की कई शिक्षक-शिक्षिकाओं ने आरोप लगाया था कि उनके द्वारा कोरोना काल के दौरान स्कूल आने के साथ उन्हें प्रताडि़त किया जा रहा है। स्कूल आने के बाद भी उन्हें गैरहाजिर दिखाया जा रहा है, इसके अलावा बच्चों से फीस वसूली जा रही हैं जिसके बाद उन्होंने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री से लेकर जिला शिक्षा अधिकारी को की थी। जिसके बाद राज्य सरकार के स्कूल शिक्षा विभाग ने प्राचार्य के विरूद्ध शिक्षिकाओं एवं छात्र-छात्राओं के साथ अमर्यादित व्यवहार करने संबंधी शिकायत, आरोप प्रारंभिक जांच में प्रमाणित पाया जाना बताया। विभाग ने श्री रात्रे के उक्त कृत्य को छत्तीसगढ़ सिविल सेवा (आचरण) नियम 1965 के नियम-3 के विपरित गंभीर कदाचार बताया। इसलिए, राज्य शासन द्वारा जीवन लाल रात्रे प्राचार्य(टी) शाउमावि विशुनपुर, जिला कोरिया को छत्तीसगढ़ सिविल सेवा (वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) नियम, 1966 के नियम-9(1)(क) के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। तया इनका मुख्यालय, कार्यालय संभागीय संयुक्त संचालक (शिक्षा) अम्बिकापुर नियत किया है।


18-Sep-2020 7:49 PM

पति, सास-ससुर व अन्य 4 गिरफ्तार

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

मनेन्द्रगढ़, 18 सितम्बर। जनकपुर थानांतर्गत कर्री गांव में एक विवाहिता की जलाकर हत्या मामले में पुलिस ने महिला के पति, ससुर और अन्य चार आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

पुलिस के मुताबिक मृतका के भाई राम गोपाल को 16 सितम्बर को कर्री गांव के पंच महेश ने फोन कर बताया कि उसकी बहन समरिया जल गई है जिसे 108 एम्बुलेंस से जनकपुर अस्पताल ले जाया गया है। घटना की सूचना पाकर राम गोपाल अपने पिता के साथ अस्पताल पहुंचा। अस्पताल पहुंचने पर देखा कि उसकी बहन समरिया का पूरा शरीर जला हुआ था। बहन ने उसे बताया कि पति शिव कुमार व उसका ससुर दोनों मिलकर उसके शरीर पर मिट्टी तेल डालकर माचिस से आग लगाए हैं जिससे उसका पूरा शरीर जल गया है। बहन ने बताया कि उसे आग के हवाले करने में गांव के पड़ोस के कुछ लोगों ने भी मदद की है। मरणासन्न कथन के बाद पुलिस ने महिला के पति शिव कुमार अहिरवार, ससुर दीनदयाल अहिरवार, परसन अहिरवार, धनिया बाई, अखिलेश अहिरवार और सत्तन राम को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड में भेज दिया गया।

थाना प्रभारी अजय कुमार बघेल ने बताया कि आस् दिन मृतका और ससुराल पक्ष के बीच चरित्र शंका को लेकर लड़ाई-झगड़ा होता रहता था। बीते दिन झगड़ा इतना बढ़ गया कि महिला के पति व ससुर समेत अन्य चार लोगों ने महिला के ऊपर मिट्टी तेल डालकर जला दिया, जहां अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।


18-Sep-2020 7:25 PM

जनता कांग्रेस के संस्थापक सदस्य ने पूछे विधायक से सवाल

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
चिरमिरी, 18 सितंबर।
चिरमिरी के वर्तमान जलसंकट पर पिछले दिनों हुई घटनाक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुये जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के संस्थापक एवं कोर कमेटी के सदस्य शाहिद महमूद ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि विधायक ने माना कि कुरासिया अंडरग्राउंड खदान में अति वृष्टि, मोटर डूबने तथा क्षमता से ज्यादा पानी भरने के कारण जहां खदान का काम बंद हो गया, वहीं कॉलोनियों में वाटर सप्लाई भी प्रभावित हुआ, लेकिन चिरमिरी नगर निगम के कुरासिया के 7 वार्डों के निवासी या मतदाता जल संकट से जब घिरे थे तब ऐसी स्थिति में एसईसीएल के कमजोर पडऩे पर क्या नगर पालिक निगम चिरमिरी के अपंग या सूरदास बने रहना उचित या सही था? यह सवाल आज जनमानस में खड़ा हुआ है। 

आगे कहा कि भरपूर संसाधन तथा लगभग 35 टन पानी टैंकरों से सुसज्जित नगर निगम चिरमिरी होने के बावजूद भी उसे छोडक़र आपके द्वारा एसईसीएल पर दबाव बनाना कहीं किसी गलत नीति या स्वार्थ से प्रेरित कोई योजना तो नहीं है ? सस्ती लोकप्रियता प्राप्त करने का कोई इवेंट तो नहीं था? जो सार्वजनिक हो गया और जनता जान गई। दिन में एसईसीएल के जीएम के बंगले के नल काट कर रात के अंधेरे में ऑफिसर एसोसिएशन के पास बिना समर्थकों के चुप चाप जाना कौन सी मजबूरी थी? ये सब सार्वजनिक होने के बाद अब कुछ बताने को नहीं रह गया है। सवाल यह उठता है कि विधायक जी एसईसीएल पर लगातार दबाव बनाने में अपना समय व्यर्थ करते रहे। वहीं अगर सच्चे और नि:स्वार्थ रूप से एक बार भी निगम चिरमिरी आयुक्त या चिरमिरी महापौर को फोन कर देते तो निगम के लगभग 35 पानी टैंकरों से कुरासिया में पानी लबालब हो जाता और फिर कुरासिया के सातों वार्डों में पानी सुचारू रूप से चालू हो जाता। एसईसीएल के टैंकरों की जरूरत ही नहीं पड़ती। 

उन्होंने कहा कि जब सुबह चाय की चुस्की का दिखावा जब आप कर रहे थे उसी समय पानी वाले बाबा के नाम से ख्याति प्राप्त समाज सेवक लखन श्रीवास्तव मनेंद्रगढ़ वाले अपने निजी पानी के टैंकरों से क्षेत्र के लोगों के सूखे कंठ को तरल करने का निस्वार्थ कार्य कर रहे थे, यहां तक कि लखन लाल के टैंकरों ने तो आपके घर के करीब तक जाकर आपके वार्ड में भी जहां महापौर, विधायक दोनों रहते हैं वहां के लोगों को भी पानी उपलब्ध कराया है।  जिससे हमारे साथ जनमानस यह जानने को उत्सुक है कि निगम चिरमिरी में आपकी पत्नी के महापौर रहते हुए भी आपने निगम चिरमिरी को पूरी तरह जल प्रदाय में सक्रिय क्यों क्यों नहीं किया?  जबकि ये आपका और महापौर जी का जनता के प्रति नैतिक दायित्व है। अगर आपकी सोच यह रही कि लोगों की परेशानियों और जल संकट अवगत कराने के लिए जीएम चिरमिरी के घर का पाइप काटना जरूरी था तो फिर आपने निगम चिरमिरी को जगाने के लिए निगम महापौर कंचन जायसवाल व निगमायुक्त के घरों का पाइप लाइन क्यों नहीं काटा?


Previous123456Next