छत्तीसगढ़ » कोरबा

Previous12Next
Date : 21-Sep-2019

फरार अनाचारी चढ़ा पुलिस के हत्थे

कोरबा, 21 सितंबर। बलात्कार के आरोपी को पुलिस ने उसके घर से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी बुधराम आयाम ने बीते दो सितंबर को पसान थाना क्षेत्र की एक युवती जो दुकान से घर वापस लौट रही थी, के साथ दुष्कर्म किया था। घटना के बाद  परिजनों ने उसे पेंड्रा के अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां से चिकित्सकों ने उसे बिलासपुर सिम्स रेफर कर दिया। इस मामले के फरार आरोपी को पुलिस ने उसके घर से गिरफ्तार किया है।

 


Date : 21-Sep-2019

एएनएम ने लगाया बीएमओ पर शारीरिक-मानसिक उत्पीडऩ का आरोप

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 21 सितंबर।
एक उप स्वास्थ्य केंद्र की एएनएम ने कोरबा बीएमओ पर कार्रवाई का डर दिखाकर शारीरिक व मानसिक उत्पीडऩ का गंभीर आरोप लगाया है। एएनएम का कहना है कि उप स्वास्थ्य केंद्र मुख्यालय में रुकने को मजबूर करते हैं और रात में शराब के नशे में अन्य सहकर्मियों के साथ आ जाते हैं। कई बार वे कह चुके हैं कि मैं रात को आऊं या तुम आ रही हो। पीडि़ता ने इसकी शिकायत एसपी व कलेक्टर को लिखित में की है। वहीं बीएमओ ने आरोप को मनगढ़ंत व झूठा करार दिया है। उन्होंने आरोप को नकारते हुए इसे उनके खिलाफ साजिश बताया है। 

एएनएम ने लिखित तौर पर कलेक्टर व एसपी से गत दिनों शिकायत की है, जिसमें कहा गया है कि कोरबा के बीएमओ डॉ. दीपक राज अस्पताल भवन में ही रात को रहने लिए दबाव डाल रहे हैं। उनका कहना है कि भवन में रहने से मुख्यालय में रहना माना जाता है, जबकि उप स्वास्थ्य केंद्र बस्ती से अलग एकांत स्थान पर है। गांव में ही मैं किराए में मकान लेकर रहने लगी। रात को आने वाले प्रसव के मामले में भी उपस्थित हुई। उसके बाद भी अस्पताल में रहने के लिए दबाव डाला जाता रहा। यहां तक मकान मालिक को मकान खाली करा देने कहा। 180 दिवस का मातृत्व अवकाश स्वीकृत होने के बाद भी 60 दिन का वेतन भुगतान किया गया। शाम सात बजे के बाद ही बीएमओ चार कर्मियों के साथ आते हैं। एएनएम ने कहा कि 14 सितंबर को एसपी कार्यालय में अपना बयान दर्ज करा चुकी हूं। इसकी जानकारी होने पर बीएमओ के सहयोगी लिपिककर्मी मुझे प्रकरण वापस लेने दबाव बनाने लगे। रात में घर आकर मुझे डराते धमकाते हुए कहा कि प्रकरण वापस ले लो, वरना अंजाम बुरा होगा। प्रार्थिया ने पुलिस से कहा है कि अनैतिक संबंध बनाने का प्रयास करने वाले बीएमओ के खिलाफ विधि सम्मत कार्रवाई कर मुझे न्याय दिलाएं।

70 हजार की गड़बड़ी का भी जिक्र
शिकायत में 70 हजार के फंड घोटाला का भी जिक्र किया गया है। एएनएम की मानें तो ग्राम स्वास्थ्य समितियों का संचालन पीएचसी प्रभारी व उप स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ स्वास्थ्य कार्यकर्ता संयुक्त रूप से करते हैं, लेकिन समिति का संचालन पीएचसी प्रभारी को दिए जाने की जगह बीएमओ ने खुद अपने पास रखा। बीएमओ ने मुझसे पांच बार अलग-अलग समय पर ब्लैंक चेक लिया। साथ ही  यह दबाव डाला जा रहा है कि खर्च की जानकारी फर्जी बिल व वाउचर संलग्न कर रिकॉर्ड दुरूस्त करे।

आरोप झूठा व मनगढं़त-बीएमओ
इस संबंध में बीएमओ डॉ. राज का कहना है कि एएनएम का लगाया गया आरोप मनगढं़त व झूठा है। मेरे कार्यकाल में रानी धनराजकुंवर देवी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का चहुंमुखी विकास हुआ है। कई पुरस्कार भी प्राप्त हुए हैं। मेरे कार्य के प्रति सजगता को देखते हुए कुछ लोग मेरे खिलाफ दुष्प्रचार व अनर्गल आरोप लगा रहे हैं, ताकि मेरी छवि को धूमिल व मान-सम्मान को ठेस पहुंचा सकें।


Date : 21-Sep-2019

बिजली विभाग की व्यवस्था से परेशान क्षेत्रवासी  माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के बैनर तले तुलसीनगर सब स्टेशन के सामने 23 से करेंगे भूख हड़ताल

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 21 सितंबर।
कोरबा जिले सहित बांकीमोंगरा जोन अंतर्गत बिजली विभाग की व्यवस्था से परेशान क्षेत्रवासी अब माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के बैनर तले विद्युत विभाग के तुलसी नगर कार्यालय के सामने 23 सितम्बर से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करेंगे।

माकपा के जिला सचिव प्रशांत झा ने सरकार और प्रशासन की आलोचना करते हुए कहा कि ऊर्जाधानी जिला होते हुए भी यहाँ के नागरिक ऊर्जा संकट से जूझ रहे हैं। शहरों के साथ ग्रामीण क्षेत्र का बुरा हाल बना हुआ है। माकपा नेता ने आरोप लगाया कि एक ओर तो नागरिकों को बिजली से वंचित किया जा रहा है वहीं दूसरी और हजारों करोड़ रुपयों के बकायदार  उद्योगपतियों और औद्योगिक समूहों को सस्ती दरों पर बिजली दी जा रही है।

विद्युत समस्या से परेशान क्षेत्रवासी चरणबद्ध आंदोलन के तहत पुतला दहन, रैली, घेराव कर चुके हैं लेकिन विभाग के अधिकारियों की नींद नहीं खुली। अब जनता माकपा के साथ आर-पार की लड़ाई के लिए तैयार हैं। 

 


Date : 21-Sep-2019

कोल उद्योग में आंदोलन को लेकर यूनियन नेता सक्रिय, उत्पादन के साथ डिस्पैच भी रोकेंगे आंदोलनकारी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 21 सितंबर।
कोयला उद्योग में एफडीआई लागू करने को लेकर श्रमिक संगठन आंदोलन की चेतावनी दे चुके हैं। 24 सितंबर को प्रस्तावित एक दिवसीय हड़ताल में चार श्रमिक संगठन शामिल होंगे। आंदोलन के दौरान कोयला उत्पादन के साथ डिस्पैच को भी रोक दिया जाएगा। आंदोलन को सफल बनाने में यूनियन के नेता जुटे हुए हैं।

एसईसीएल में हड़ताल को व्यापक रूप से सफल बनाने के लिए एटक, एचएमएस, सीटू तथा इंटक की बैठक आयोजित की गई। इस दौरान एटक के वरिष्ठ नेता दीपेश मिश्रा ने कहा कि मौजूदा केंद्र की सरकार कोयला क्षेत्र में सौ फीसदी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) और कोयले के वाणिज्यिक खनन को मंजूरी देने का फैसला लिया है। इससे कोल इंडिया पूरी तरह तबाह हो जाएगा और मजदूर सडक़ पर आ जाएंगे। 

उन्होंने कहा कि इस देश में जब विदेशी कोयले कंपनियां व्यापक पैमाने पर उत्पादन के जरिए अपनी लागत को किफायती बनाने से कीमतों को लेकर कोल इंडिया का एकाधिकार पूरी तरह खत्म हो जाएगी। उन्होंने कहा कि कोल इंडिया का वर्तमान उत्पादन लागत औसतन 13 सौ रुपये प्रति टन है और ईंधन आपूर्ति करार के आधार पर उसे प्रति टन कोयले की कीमत करीब 1370 रुपये मिलती है। इसी तरह कोल इंडिया अपने कर्मचारियों पर 38 हजार करोड़ रुपये प्रति वर्ष खर्च करती है।

 उन्होंने कहा कि विदेशी कंपनियां जब कम कीमत पर कोयला का उत्पादन करेगी तो बाजार में बने रहने के लिए कोल इंडिया को भी अपने उत्पादन लागत को घटाना पड़ेगा। इसका सीधा असर मजदूरों की कल्याणकारी सुविधाओं पर पड़ेगा और भविष्य में कोयला मजदूरों के वेज रिवीजन पर भी इसका प्रतिकूल असर पड़ेगा। इसके फलस्वरूप केंद्रीय श्रम संगठनों ने सरकार के फैसले की खिलाफत करते हुए 24 सितंबर को कोयला उद्योग में एक दिवसीय हड़ताल की घोषणा की है। एचएमएस के वरिष्ठ नेता ए विश्वास ने कहा कि यह सरकार पूरी तरह मजदूर विरोधी है। इसी तरह कामरेड जनक दास एवं इंटक के तरुण गोस्वामी ने भी हड़ताल को सफल बनाने का आव्हान किया। इस दौरान एनके दास, राजू श्रीवास्तव, राजेश पांडे, मृत्युंजय कुमार, सुभाष सिंह, फजल खान, एनके साव, भैरव प्रसाद, सुनील शर्मा, अजय सिंह, अनूप सरकार, दिनेश साहू, डीपी सिंह, उज्जवल बनर्जी, ए चौबे, राजकुमार साहू, अशोक लोद, मनहरण पटेल सहित अन्य उपस्थित थे।

बैठक से बनाई दूरी
कोयला उद्योग में एफडीआई के खिलाफ प्रस्तावित हड़ताल को टालने केंद्रीय कोयला मंत्री की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में कोई भी श्रमिक संघ शामिल नहीं हुआ। सीआईएल एवं कोयला मंत्रालय अब नए सिरे से वार्ता के लिए पहल करने जुट गए हैं। श्रमिक नेताओं के बयान से कर्मियों के मध्य भ्रम की स्थिति निर्मित होते जा रही है। इधर श्रम संघ प्रतिनिधियों ने बैठक कर आंदोलन की रूपरेखा बनानी शुरू कर दी है।

 

 


Date : 20-Sep-2019

लगातार भारी वाहनों के परिचालन के कारण टाटीनाला पुल मार्ग पर आई दरार

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 20 सितंबर।
कटघोरा-बिलासपुर राष्ट्रीय राजमार्ग की हालत जर्जर है। जर्जर सड़क के कारण आए दिन मार्ग पर जाम की स्थिति निर्मित होती है। जाम व खराब सड़क के कारण अधिकांश वाहन चालक एप्रोच रोड पाली-पोड़ी से होकर रतनपुर होते हुए बिलासपुर पहुंचते हैं। इस मार्ग पर बना पुल लगातार भारी वाहनों के परिचालन के कारण क्षतिग्रस्त हो गया है। पुल मार्ग पर दरार आ गई है जिसके कारण शुक्रवार को मार्ग से यातायात बाधित रहा। पीडब्ल्यूडी एवं सेतु निर्माण विभाग के अधिकारी मुआयना के लिए मौके पर पहुंचे हुए थे। 

पाली-पोड़ी के बीच टाटीनाला में पुल का निर्माण कराया गया है। यह पुल भारी वाहनों के आवागमन के लिए प्रतिबंधित है। पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा पुल के दोनों ओर इससे संबंधित सूचना बोर्ड भी लगाया गया है, लेकिन विभाग केवल बोर्ड लगाकर अपने कर्तव्यों से इतिश्री करता आ रहा था। प्रतिबंध के बाद भी लगातार पुल मार्ग से भारी वाहन गुजर रहे थे, जिसका परिणाम यह हुआ कि पुल मार्ग में बड़ी दरार आ गई है। वहीं पुल के आसपास की मिट्टी भी धंसने लगी है। इस खतरे को देखते हुए पुल मार्ग से आवागमन बंद करा दिया गया है। विभागीय अधिकारी व्यवस्था सुधारने जुटे हुए हैं। 

धंवईपुर-ढेलवाडीह बाइपास मार्ग पुल भी जर्जर
2014 में सामान्य आवागमन के लिए निर्मित धंवईपुर-ढेलवाडीह बाइपास मार्ग को जोडऩे वाला पुल पूरी तरह से जर्जर हो चुका है। अहिरन नदी पर निर्मित पुल दोनों छोर से इतना जर्जर हो चुका है कि स्लैब के लिए लगाई गई छड़ें अब दिखाई देने लगी है। छड़ को सीमेंट और गिट्टी ऊपर से नीचे तक छोड़ चुकी है। लिहाजा पुल में छेद होने के कारण नीचे तल दिखाई दे रहा है। सड़क में आवागन बंद नहीं किया गया तो कभी भी बड़ी घटना घट सकती है। अहिरन नदी में वर्षों पहले निर्मित पुल का उद्देश्य ढेलवाडीह और धंवईपुर दोनों गांव को जोडऩा था। बाइपास मार्ग निर्माण के पहले आवागमन सामान्य था। मार्ग बनने के बाद कभी सामान्य लगने वाला पुल अब सबसे अनिवार्य बन गया है। पुल के ऊपर से प्रतिदन सैकड़ों वाहनों का आवागमन होता है। पुल का निर्माण सेतु निगम ने कराया था। समय-समय पर होने वाली मरम्मत विभाग की ओर से नहीं कराए जाने पर पुल अब ढहने की कगार है। इन सभी बातों की जानकारी होने के बाद भी सेतु निगम मौन बैठा हुआ है। पुल की लंबाई 200 मीटर है। 1.30 करोड़ से तात्कालिक समय में निर्मित पुल का उपयोग अब भारी वाहनों के लिए होने लगा है। पुल में ढेलवाडीह, सिंघाली खदान से निकलने वाले ट्रकों का आवागमन होता है। कटघोरा, कोरबा के अलावा अंबिकापुर को यह पुल कॉलरी क्षेत्र से जोड़ता है। कोयला भरे भारी वाहनों के अलावा ऑयल कंपनी की ट्रकें भी सर्वाधिक चलती है। सड़क दशा इतनी दयनीय हो चुका है कि पुल के दोनों छोर स्लैब ध्वस्त हो चुकी है। स्लैब के लिए बिछाई गई छड़ अब दिखाई दे रही है।

 दुर्घटना की आशंका के बाद भी मार्ग में आवागमन धड़ल्ले से जारी है। मार्ग सुधार के लिए शासन से राशि मांगी गई, जो अब तक शुरू नहीं हुई है।

 


Date : 20-Sep-2019

बंदर का आतंक बरपा, दर्जनों को काटा, वन विभाग ने पकड़कर स्थानीय जंगल में छोड़ दिया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 20 सितंबर।
पिछले एक सप्ताह से ग्राम कोरकोमा में बंदर का आतंक बरपा हुआ है। बंदर के आतंक को देखते हुए वन विभाग ने उसे पकड़कर स्थानीय जंगल में छोड़ दिया था। 

जंगल से पुन: गांव में पहुंचा वानर और भी खतरनाक हो गया है। पिछले चार-पांच दिन के भीतर बंदर ने दर्जनों लोगों को काटकर जख्मी कर दिया है जिसकी सूचना पर वन अमला बंदर को पकडऩे पिंजरा लेकर कोरकोमा पहुंचा हुआ है। बंदर को पकडऩे की कवायद की जा रही है। ज्ञात रहे कि कोरबा ब्लाक के ग्राम कोरकोमा में पिछले कुछ समय से बंदर ने उत्पात मचाया हुआ है। स्कूली बच्चों, शिक्षकों और ग्रामीणों को बंदर काटकर जख्मी कर चुका है। काफी मशक्कत के बाद उसे वन विभाग ने पकड़ लिया था। पकडऩे के बाद उसे गांव से दूर छोडऩे की बजाय स्थानीय जंगल में ही छोड़ दिया गया था, जहां से पुन: बंदर लौटकर गांव में आ धमका है जो लोगों के घर के छप्पर को बिगाडऩे के साथ लोगों को काटकर नुकसान पहुंचा रहा है। ग्रामीण बतात हैं कि पिछले दिनों उक्त बंदर पर कुछ कुत्तों ने हमला कर दिया था। माना जा रहा है कि कुत्तों के काटने के कारण बंदर का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है। कोरकोमा के अलावा पास के गांव ढेंगुरडीह में भी बंदर ने कई लोगों को काटा है।


Date : 20-Sep-2019

संस्था प्रयास में अध्ययनरत व एजुकेशन हब के 6 बच्चों की तबियत बिगड़ी, जिला चिकित्सालय में भर्ती

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 20 सितंबर।
संस्था प्रयास में अध्ययनरत व एजुकेशन हब स्याहीमुड़ी में रह रहे छात्रावासी बच्चों में से 6 की तबियत कल रात ज्यादा बिगड़ गई। बेहोश होने पर इन्हें आनन-फानन में जिला चिकित्सालय लाकर भर्ती कराया गया। आज सुबह मामला उजागर होने पर प्रशासन हरकत में आया।

 इससे पहले 10 सितंबर को एजुकेशन हब व प्रयास के बच्चों ने छात्रावास अधीक्षिका तथा प्राचार्य के द्वारा दुव्र्यवहार करने एवं पर्याप्त भोजन नहीं देने के साथ बीमार पडऩे पर तत्काल उपचार कराने की बजाय सीरियस होने पर अस्पताल ले जाने की शिकायत की थी।  

पूर्व में यहां के बच्चों ने प्रदर्शन कर छात्रावास अधीक्षिका पार्वती कुजूर व प्राचार्य विजय चौहान पर गंभीर आरोप लगाए जिसमें अधीक्षिका द्वारा उन्हें किराए के घर में रहने की बात कह कम भोजन देने के लिए कहा जाता था। बीमार पडऩे पर समुचित उपचार नहीं कराने व सीरियस होने पर ईलाज कराने जैसी शिकायत की गई। मौके पर पहुंचे सहायक आयुक्त आदिवासी विकास एनके दीक्षित के समक्ष अधीक्षिका ने शिकायतों से इनकार किया। 10 सितंबर को बरसते पानी में विद्यार्थियों के प्रदर्शन व मांग पर अधीक्षिका को हटा दिया गया लेकिन वे आज भी यहां काम कर रही हैं।

18 सितंबर की आधी रात प्रयास के 6 बच्चों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिला अस्पताल के महिला वार्ड में कक्षा 10वीं की छात्रा कु. हरिता कंवर राजनांदगांव, मुचाकी कविता सुकमा व रीना राजनांदगांव तथा पुरूष वार्ड में कक्षा 10वीं के छात्र मनीष कुमार नारायणपुर, 9वीं के छात्र शिवम अग्रवाल बैकुंठपुर व आकाश राणा महासमुंद भर्ती है। हरिता कंवर की तबियत काफी दिनों से खराब बताई जा रही है और उसके शरीर में मात्र 3 ग्राम रक्त होने से वह कल रात को बेहोश हो गई थी। सीरियस होने पर अस्पताल लाया गया। बाकी बच्चे वायरल फीवर से पीडि़त बताए गए हैं, जिनकी भी हालत बिगडऩे व कुछ बच्चों के बेहोश होने के बाद उन्हें अस्पताल लाना मुनासिब समझा गया। बच्चों के परिजनों को सूचना दी गई जो कोरबा पहुंचे। हरिता की मां यशोदा का कहना है कि छात्रावास में पर्याप्त और पौष्टिक भोजन नहीं मिलने के कारण उसकी बेटी कमजोर हुई है और सही ढंग से ईलाज नहीं कराया गया। 

इनका उपचार कर रहे डॉ. मनमीत थवाईत ने बताया कि हरिता की हालत रात में गंभीर थी, जिसे रक्त चढ़ाया गया। इस बच्ची को काफी पहले अस्पताल ले आना चाहिए था। बुधवार की रात बेहोशी की हालत में इसे लाया गया और यदि थोड़ी देर होती तो जान का खतरा हो सकता था। 

एडीएम ने जाना हाल, कहा-जांच होगी
अतिरिक्त कलेक्टर प्रियंका महोबिया प्रशासन की ओर से बच्चों का हाल जानने जिला अस्पताल में पहुंचीं और बच्चों से जानकारी ली। चिकित्सकों से भी इनके स्वास्थ्य के बारे में पूछा व हर आवश्यक उपचार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्कूल प्रबंधन की शिकायत मिली है जिसकी जांच कराई जाएगी। इस दौरान एडीएम के साथ एजुकेशन हब के नवपदस्थ छात्रावास अधीक्षक विरेन्द्र साहू भी थे। 

रूटीन चेकअप के बाद भी बिगड़े हालात
छात्रावास प्रबंधन की ओर से बताया गया कि यहां के सभी बच्चों का रूटीन चेकअप कराया जाता है। मामूली तकलीफ होने पर निकटस्थ गोपालपुर के सरकारी अस्पताल में ईलाज भी कराया जाता है। बच्चों को कुछ दिन पहले सर्दी-बुखार होने पर दवाईयां उपलब्ध कराई गई थीं। सवाल यह है कि जब बच्चों का रूटीन चेकअप होता है और उन्हें दवाईयां भी दी गई थी तो फिर बच्चों की हालत क्यों बिगड़ती चली गई? हालत बिगडऩे पर उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती न कराकर दवाओं के सहारे रखा गया और कुछ बच्चों के बेहोश व सीरियस होने के बाद भी अस्पताल लाया जाना इन बच्चों के द्वारा पूर्व में इस संबंध में कही गई बात सच हुई है।


Date : 20-Sep-2019

केन्द्र में घुसकर आंगनबाड़ी केन्द्र कार्यकर्ता को बेईज्जत करने का प्रयास, गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 20 सितंबर।
भरी दुपहरी एक युवक द्वारा मिनी आंगनबाड़ी केन्द्र की कार्यकर्ता से बेईज्जत करने का प्रयास का मामला सामने आया है। युवक को गिरफ्तार कर जेल दाखिल करा दिया गया है।

जानकारी के अनुसार घटना पसान थाना क्षेत्र में 12 सितंबर की दोपहर करीब 2 बजे घटित की गई। बस स्टैण्ड पसान निवासी रितेश गुप्ता के द्वारा मिनी आंगनबाड़ी केन्द्र में घुसकर अकेली मौजूद कार्यकर्ता के साथ जबरदस्ती करने का प्रयास किया गया।  शोर मचाने पर रितेश वहां से भाग निकला। इसके बाद पीडि़ता के द्वारा मामले की रिपोर्ट लिखानी चाही गई किंतु उस पर तरह-तरह के दबाव डालकर व लोकलाज का भय दिखाकर समझौता कराने का प्रयास किया जाने लगा। आखिरकार ये लोग अपने प्रयास में नाकाम रहे और 18 सितंबर की रात पसान थाना पहुंची पीडि़ता ने आपबीती बताई। उसकी रिपोर्ट के आधार पर आरोपी रितेश गुप्ता के विरूद्ध कई धाराओं के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया। थाना प्रभारी निरीक्षक लीलाधर राठौर के मार्गदर्शन में एसआई डीआर मनहर ने मातहतों के साथ घेराबंदी कर आरोपी रितेश गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया। 


Date : 19-Sep-2019

बच्चों ने मानव श्रृंखला बनाकर दिया प्लास्टिक फ्री का संदेश

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 19 सितंबर।
प्लास्टिक फ्री कोरबा एवं स्वच्छता के प्रति जनजागरूकता लाने आज सरस्वती शिशु मंदिर कोरबा पूर्व के छात्र-छात्राओं ने मानव श्रृंखला का निर्माण एवं स्वच्छता रैली का आयोजन कर प्लास्टिक का उपयोग न करने, गीला सूखा कचरा अलग-अलग देने तथा आसपास गदंगी न फैलाने का संदेश लोगों तक पहुंचाया।

यहां उल्लेखनीय है कि आयुक्त राहुल देव के मार्गदर्शन में नगर पालिक निगम कोरबा द्वारा प्लास्टिक फ्री कोरबा का महाअभियान चलाया जा रहा है, जिसमें विद्यालयीन छात्र-छात्राओं के साथ-साथ नगर के व्यवसायिक व स्वयंसेवी संगठनों, महिला स्वसहायता समूहों का भरपूर सहयोग मिल रहा है। इसी कड़ी में आज सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल कोरबा पूर्व के छात्र-छात्राओं ने मानव श्रृंखला का निर्माण किया तथा स्वच्छता रैली निकाली। उन्होने इसके माध्यम से प्लास्टिक का उपयोग न करने, गीला एवं सूखा कचरा अलग-अलग डस्टबिन में संग्रहित करने तथा सफाईमित्र को सूखा व गीला कचरा पृथक-पृथक देने,  अपने आसपास गदंगी न फैलाने, सार्वजनिक स्थानों पर कचरा न डालने का संदेश दिया। 

विद्यालय के प्राचार्य आर.के. देवांगन एवं विद्यालय के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने इस कार्य में भरपूर सहयोग दिया। इस मौके पर वरिष्ठ स्वच्छता निरीक्षक सुनील वर्मा, पी.आई.यू. सुनील द्विवेदी, स्वच्छता पर्यवेक्षक अजीतकुमार परमहंस, रामप्रसाद मिर्री के साथ स्वच्छ केारबा स्काड की टीम उपस्थित रही। 100 किलो प्लास्टिक अपशिष्ट किया एकत्रित- नगर पालिक निगम कोरबा द्वारा प्लास्टिक फ्री कोरबा के अभियान के तहत शहर के विभिन्न स्थानों, बुधवारी बाजार, सरस्वती शिशु मंदिर, अंधरीकछार स्कूल चैक से होते हुए आई.टी.आई चैक एवं बालको रोड में सड़क के किनारे बिखरे हुए प्लास्टिक अपशिष्ट को चुनकर एकत्रित करने का अभियान चलाया तथा 100 किलो प्लास्टिक अपशिष्ट को एकत्र किया।


Date : 16-Sep-2019

युवक खुदकुशी, दो महिला सहित 6 को भेजा जेल  

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 16 सितंबर।
एक महिला से छेडख़ानी के आरोप में पंचायत द्वारा अपमानित किए जाने के बाद खुदकुशी करने वाले युवक के मौत के बाद 2 महिला सहित 6 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर आज कोर्ट में पेश किया जहाँ उनकी जमानत खारिज कर सभी को जेल दाखिल करा दिया गया। ज्ञात हो कि एक महिला के साथ छेडख़ानी किये जाने के आरोप में पंचायत की बैठक कर छिन्दपानी निवासी युवक बलराम कश्यप को अपमानित किया गया था।उसके साथ गाली गलौज की गई थी और लोगों ने मिलकर भरी पंचायत में युवक को चप्पल हाथ और मुक्के से जमकर पिटाई की थी तथा उसपर 50 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया था।

 सार्वजनिक तौर पर अपमानित होने के बाद युवक ने खुदकुशी कर ली थी। घटना के बाद आरोपियों ने अपनी बचाव के लिए पीडि़त परिवार पर दबाव डालकर अपनी बेगुनाही का इकरारनामा लिखवा लिया था और पुलिस को बिना सुचना दिए मृतक की लाश का गुपचुप तरीके से अंतिम संस्कार किया जा रहा था।मामले की जानकारी पाली पुलिस को होने के बाद तत्काल मौके पर पहुँची पुलिस ने जलती चिता बुझाकर लाश जब्त कर लिया था।इस दौरान लाश लगभग 90 फीसदी जल गई थी जिसे फारेंसिक जांच हेतु लैब भेज दिया गया।मामले में जांच उपरान्त पुलिस ने 12 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया।

जिसमे ग्राम भादापारा पाली निवासी भारत सिंह अगरिया,कुमारी बाई अगरिया,राधा बाई अगरिया,रमेश कुमार अगरिया,संतोष अगरिया,भादापारा के सरंपच दिलाराम नेताम,छिंदपानी के सचिव राजकुमार कश्यप,शोभाराम जगत,पंच रामेश्वर,शोभाराम पटेल,झड़ीराम पटेल और छेदीलाल पटेल को आरोपी बनाया गया।उक्त आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज होने उपरान्त सभी फरार हो गए थे।जहाँ पुलिस ने मुखबीर तंत्र के माध्यम से जानकारी हासिल कर संभावित ठिकानों पर दबिश देकर कुमारीबाई अगरिया,राधाबाई अगरिया,रमेश कुमार अगरिया,भारत सिंह अगरिया,सुरेश अगरिया एवं ग्राम पंचायत चोढा में पदस्थ सचिव राजकुमार कश्यप को गिरफ्तार कर आज पाली जेएमएफसी न्यायलय में पेश किया ।जहाँ से उन सभी की जमानत खारिज करते करते हुए जेल भेज दिया गया।अन्य आरोपी अभी भी फरार है जिनकी तलाश पुलिस कर रही है।
 


Date : 16-Sep-2019

सड़क हादसे में ससुर-दामाद की मौत

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 16 सितंबर।
दीपका क्षेत्र में तेज रफ्तार ट्रेलर ने बाइक को जोरदार टक्कर मार दी। हादसे में बाइक सवार ससुर-दामाद की मौत हो गई। वहीं एक अन्य की हालत गंभीर है। पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेज दिया है। दुर्घटना को अंजाम देने के बाद अज्ञात आरोपी वाहन चालक फरार हो गया। 

जानकारी के अनुसार दीपका थाना अंतर्गत रैनपुर निवासी मंगल सिंह व उसका दामाद बबलू उर्फ गुलाब सिंह बाइक क्रमांक सीजी-12एडब्ल्यू-3622 से पोड़ी से रंजना जा रहे थे। इस दौरान उनके साथ बाइक में छतराम कंवर भी सवार था। बाइक को बबलू उर्फ गुलाब सिंह चला रहा था। वे रैनपुर सरकारी स्कूल के पास पहुंचे थे कि सामने से आ रही एक ट्रेलर ने उनकी बाइक को जोरदार टक्कर मार दी। हादसे में तीनों को गंभीर चोट आई थी। उपचार के लिए उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उपचार के दौरान ससुर-दामाद की मौत हो गई। वहीं छतराम की हालत गंभीर है। बताया जाता है कि तीनों ग्राम बतरा में आयोजित दशगात्र कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे।

सड़क हादसे में एक अन्य की मौत
जिले के पाली थाना क्षेत्रांतर्गत अलग अलग घटनाओं में सड़क हादसे के शिकार दो लोगों की उपचार के दौरान के मौत हो गई। वहीं पाली शांतिनगर निवासी जगन्नाथ सारथी उम्र 46 पिता जगदीश सारथी को14 सितंबर को अज्ञात बाईक चालक ने पाली हाईस्कूल के सामने ठोकर मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया था। जिसे उपचार के लिए बिलासपुर लाईफ केयर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहां गत रात्रि उसकी मौत हो गई।

 


Date : 16-Sep-2019

कुल्हे के दर्द से परेशान था मरीज डॉ. शतदल नाथ ने दी नई जिंदगी

 सिद्धिविनायक हास्पिटल में किया जटिल ऑपरेशन

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 16 सितंबर।
एक मरीज कुल्हे के दर्द से परेशान था। कई डॉक्टरों से ईलाज कराया पर दर्द से राहत नहीं मिली। आखिर सिद्धि विनायक हास्पिटल में डॉ. शतदल नाथ व उनकी टीम ने साढ़े 3 घंटे जटिल ऑपरेशन कर मरीज की सफल सर्जरी की। कोरबा निवासी लय प्रसाद 24 वर्ष पिछले एक साल से दाहिने कुल्हे के दर्द से पीडि़त था। विभिन्न डॉक्टरों से सलाह लेने पर उसे दर्द निवारक दवाईयों से अपना काम चलाना पड़ता था। ऐसे में परिजनों के कहने पर मरीज लय प्रयास ने अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. शतदल नाथ से जांच कराने उनके हास्पिटल सिद्धिविनायक हास्पिटल पहुंचा। जहां डॉ. नाथ ने मरीज की जांच व एक्स-रे तथा सिटी स्कैन के सहारे यह निष्कर्ष निकाला कि मरीज के दाहिने कुल्हे की हड्डी में एक तरह का भुरभुरापन है। जिसे विज्ञान की भाषा में आस्टिमोलिटिक लिसन कहते हैं। डॉ. नाथ ने विभिन्न वैज्ञानिक जनरल का अध्ययन करने के बाद मरीज का ऑपरेशन करने का निर्णय लिया। मरीज के भुरभूरे हड्डी को निकालकर उसे अच्छी हड्डी चिकित्सकीय भाषा में बोन ग्राफ्टिंग किया गया। साथ में कुल्हे की हड्डी कमजोर होने पर पैर से फिबुला हड्डी को निकालकर कुल्हे में स्क्रूब की तरह लगा दिया गया जिसे बॉयोलिजिकल नाइलिंग कहते हैं। मरीज तीव्र गति से स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर रहा है। इस तरह के जटिल ऑपरेशन में डॉ. शतदल नाथ व उनकी टीम किरण कंवर, गोवर्धन ने भी सहयोग किया। यह काफी हर्ष का विषय है कि कोरबा शहर में भी इस तरह के जटिल ऑपरेशन होने लगे हैं। ऐसे ऑपरेशन के लिए लोगों को बड़े शहरों का रूख करना पड़ता था। साथ ही भारी-भरकम खर्च भी होता था। लेकिन डॉ. नाथ के प्रयास से जटिल ऑपरेशन में सफलता प्राप्त हुई है।

 


Date : 16-Sep-2019

यात्री ट्रेनों को रद्द कर दिए जाने पर​ रेल प्रशासन के खिलाफ संघर्ष समिति ने चलाया जनजागरण अभियान

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 16 सितंबर।
यात्री ट्रेनों को रद्द कर दिए जाने से कोरबा के लोगों को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। खासकर एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन रद्द होने से यात्री परेशान हैं। उनके मन में रेल प्रबंधन के खिलाफ भारी आक्रोश है। रेलवे के इस तानाशाही रवैय्ये को लेकर रेल संघर्ष समिति चरणबद्ध आंदोलन कर रहा है। चरणबद्ध आंदोलन के तहत रविवार को हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। वहीं सोमवार को सुनालिया चौक से संजय नगर रेलवे क्रासिंग होते हुए पवन टॉकीज पुराना रेल फाटक तक जनजागरण अभियान चलाया गया। इस दौरान आमजनों के साथ रेल संघर्ष समिति के लोगों ने रेल प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। मंगलवार को सर्वमंगला पुल से स्टेशन मार्ग तक प्रतिकात्मक विरोध प्रदर्शन किया जाएगा

सांसद ने भी अव्यवस्था को लेकर रेल प्रबंधन को चेताया
सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत ने हसदेव एक्सप्रेस व लोकल ट्रेन को रद्द करने सहित रेलवे स्टेशन में व्याप्त अव्यवस्था, सेकेंड एंट्री गेट सहित पार्किंग सहित अन्य मुद्दों को लेकर रेलवे को पत्र लिखा था। रेलवे महाप्रबंधक के साथ रायपुर में सांसदों की हुई बैठक में रेल सुविधा से जुड़े मुद्दों को रखा गया। रेल प्रबंधन ने स्पष्ट किया कि हसदेव एक्सप्रेस सप्ताह में 5 दिन चलेगी व दो दिन रख-रखाव के लिए बंद रहेगी। इस पर कड़ी आपत्ति जताई गई। तब रेल प्रबंधन ने कहा कि इसके लिए पिट लाइन का निर्माण कर अव्यवस्था को जल्द दूर करेंगे। लोकल ट्रेन क्रमांक 68731 से 68734 चार ट्रेनों को नियमित चलाने का आदेश रेल प्रबंधन ने दिया है। सांसद ने हसदेव एक्सप्रेस व लोकल ट्रेन की लेट-लतीफी दूर करने, रेलवे स्टेशन में व्याप्त अव्यवस्था, सेकेंड एंट्री गेट सहित पार्किंग की समस्या से अवगत कराते हुए निराकरण करने पर जोर दिया।


Date : 16-Sep-2019

अंतागढ़ विधानसभा उप-चुनाव के दौरान हुई लोकतंत्र की हत्या के मामले में मंतुराम पवार के बयान में रमन-जोगी का फूंका पुतला

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 16 सितंबर।
प्रदेश के अंतागढ़ विधानसभा उप-चुनाव के दौरान हुई लोकतंत्र की हत्या के मामले में मंतुराम पवार के बयान में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और नागरिक आपूर्ति निगम (नान) भ्रष्टाचार के मामले में शिवशंकर भट्ट के बयान में पूर्व मख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का नाम आने से पूर्व मुख्यमंत्रियों की संलिप्तता उजागर हुयी है। इन मामलों की जॉच प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ाने की मांग कर आज प्रदेश कांग्रेस के निर्देशानुसार जिला कांग्रेस द्वारा टीपी नगर चौक पर धरना प्रदर्शन कर डॉ. रमन सिंह एवं अजीत जोगी का पूतला फूंका गया।

 


Date : 15-Sep-2019

दो पक्षों में मारपीट, एक पक्ष ने पास खड़ी कार में आग लगा दी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 15 सितंबर।
शुक्रवार की देर रात मानिकपुर चौकी क्षेत्र के डिपरा पारा में दो पक्षों के बीच जमकर मारपीट हुई। मारपीट की शिकायत के बाद भी चौकी पुलिस मौके पर नहीं पहुंची तो एक पक्ष ने पास खड़ी कार में आग लगा दी। 

आगजनी की घटना में कार पूरी तरह से जलकर राख हो गई है। वहीं मारपीट में एक पक्ष के चार लोग घायल हुए है। जिन्हें उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के अनुसार डिपरापारा निवासी राजकुमार यादव 30 वर्ष के घर के बाहर कुछ लोग गाली गलौच कर रहे थे। जिसे राजकुमार ने मना किया था।

 मना किए जाने पर युवकों ने राजकुमार व उसकी पत्नी तथा भाई व बहू की जमकर पिटाई कर दी। मारपीट में चारों घायल हो गए है। बताया जाता है कि मारपीट की सूचना कुछ लोगों ने चौकी पुलिस को दी थी। लेकिन पुलिस नहीं पहुंची। जिसके बाद मारपीट करने वालों ने कार में आग लगा दी। इस घटना से लोग जहां सहमे हुए है। वहीं पुलिस की कार्यशैली को लेकर गहरा आक्रोश है। 


Date : 15-Sep-2019

हसदेव एक्सप्रेस का परिचालन नहीं हुआ नियमित, होगा आंदोलन

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 15 सितंबर।
यात्री गाडिय़ों को रद्द कर दिए जाने से कोरबा की जनता आक्रोशित है। रेल प्रबंधन के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूट रहा है। रेल संघर्ष समिति के चेतावनी के बाद भी हसदेव एक्सप्रेस का परिचालन नियमित करने पर रेल प्रबंधन ने अब तक कोई सकारात्मक पहल नहीं की गई है। ।

 रेल प्रबंधन ने रैक नहीं होने की बात कह ट्रेन सप्ताह में दो दिन बंद रखने पर अड़ा हुआ है। इससे यात्रियों को रायपुर आवागमन में काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। संघर्ष समिति इसका विरोध जताते हुए 15 सितंबर को हस्ताक्षर व 16 को जनसंपर्क अभियान चलाएगी। इसके बाद 17 सितंबर को रेल प्रबंधन का पुतला फूंका जाएगा।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के बिलासपुर मंडल की ओर से कोरबा से चलने वाली यात्री ट्रेनों को लगातार निरस्त किए जाने से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दबाव के बाद पिछले डेढ़ साल से पटरी पर चल रही दो मेमू लोकल को नियमित करने का आदेश रेल प्रबंधन ने जारी किया, पर अब कोरबा-रायपुर-कोरबा के मध्य चल रही हसदेव एक्सप्रेस को बंद करने का सिलसिला शुरू कर दिया गया है।

 हसदेव एक्सप्रेस को 30 सितंबर तक सप्ताह में दो दिन निरस्त रखने की घोषणा की गई है। इससे क्षेत्र के यात्रियों को कोरबा-रायपुर के मध्य एक दिन में अप-डाउन करने की सुविधा बंद हो गई। हसदेव एक्सप्रेस बंद किए जाने पर संघर्ष समिति ने चरणबद्ध आंदोलन की रूपरेखा बैठक में तैयार की। निर्णय लिया गया कि रेल प्रशासन के खिलाफ आंदोलन लगातार जारी रहेगा, जब तक कि सभी ट्रेनों को यथावत नहीं चलाया जाता। इसके साथ ही 15 सितंबर को दोपहर दो से शाम चार बजे तक रेलवे स्टेशन के सामने हस्ताक्षर अभियान चलाकर लोगों से आंदोलन के लिए सहयोग मांगा जाएगा। 

16 सितंबर को दोपहर एक से तीन बजे तक संजय नगर रेलवे क्रॉसिंग से पुराना पवन टॉकीज उषा कॉम्प्लेक्स रेलवे क्रॉसिंग तक विरोध रैली निकाल जनसंपर्क अभियान चलाया जाएगा। 17 सितंबर को आंदोलन करते हुए रेल अधिकारियों का पुतला फूंका जाएगा। समिति ने लगातार तीन दिन चलने वाले रेलवे के खिलाफ प्रदर्शन में बढ़चढकऱ भागीदारी निभाने का निर्णय लिया है। 

 

 


Date : 15-Sep-2019

पाली से गुजरी एनएच सडक़ बनी दलदल, आए दिन फंस रहे वाहन, हो रहे हादसे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 15 सितंबर।
पाली नगर से होकर गुजरी एनएच मुख्य मार्ग आफत की सडक़ बनी हुई है। राष्ट्रीय राजमार्ग होने के बाद भी सडक़ दयनीय स्थिति में है। मार्ग दलदल में तब्दील है। मार्ग से वाहनों का गुजरना इतना दुश्कर है कि आए दिन वाहन कीचड़ में फंस रहे है। मार्ग पर पानी भरा हुआ है। ग्रामीण बताते है कि बारिश के पानी निकासी की व्यवस्था नहीं होने से बरसाती पानी सडक़ पर भर जाता है। जिसके कारण मार्ग पर बड़े-बड़े गड्ढे हो चुके है। 

कई बार मुरूम व गिट्टी डालकर गड्ढों को पाटने का प्रयास किया गया। लेकिन उपाए कारगर सिद्ध नहीं हुआ। फिर गिट्टी बोल्डर डालकर मार्ग को चलने योग्य बनाने का प्रयास किया गया। परंतु इसमें भी लगातार वाहनों के आवाजाही के कारण सफलता नहीं मिली। मार्ग पर दुपहिया वाहन गिरकर घायल हो रहे है। वहीं भारी वाहन , स्कूली वैन व एंबुलेंस कीचड़ में फंस रहे है। ज्ञात रहे कि इस मार्ग से 24 घंटे कोल परिवहन में लगी हाईवा , ट्रेलर व कैप्सुल सहित अन्य भारी वाहन गुजरते है। जिसके कारण हर घंटे जाम की स्थिति पैदा होती है। जर्जर सडक़ सुधार की शिकायत कई बार की जा चुकी है। लेकिन इसके बाद भी सडक़ सुधार को लेकर विभागीय अधिकारी गंभीर नहीं है। 


Date : 15-Sep-2019

हसदेव एक्सप्रेस का परिचालन नहीं हुआ नियमित, होगा आंदोलन-जनता 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 15 सितंबर।
यात्री गाडिय़ों को रद्द कर दिए जाने से कोरबा की जनता आक्रोशित है। रेल प्रबंधन के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूट रहा है। रेल संघर्ष समिति के चेतावनी के बाद भी हसदेव एक्सप्रेस का परिचालन नियमित करने पर रेल प्रबंधन ने अब तक कोई सकारात्मक पहल नहीं की गई है। । रेल प्रबंधन ने रैक नहीं होने की बात कह ट्रेन सप्ताह में दो दिन बंद रखने पर अड़ा हुआ है। इससे यात्रियों को रायपुर आवागमन में काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। संघर्ष समिति इसका विरोध जताते हुए 15 सितंबर को हस्ताक्षर व 16 को जनसंपर्क अभियान चलाएगी। इसके बाद 17 सितंबर को रेल प्रबंधन का पुतला फूंका जाएगा।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के बिलासपुर मंडल की ओर से कोरबा से चलने वाली यात्री ट्रेनों को लगातार निरस्त किए जाने से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दबाव के बाद पिछले डेढ़ साल से पटरी पर चल रही दो मेमू लोकल को नियमित करने का आदेश रेल प्रबंधन ने जारी किया, पर अब कोरबा-रायपुर-कोरबा के मध्य चल रही हसदेव एक्सप्रेस को बंद करने का सिलसिला शुरू कर दिया गया है।

 हसदेव एक्सप्रेस को 30 सितंबर तक सप्ताह में दो दिन निरस्त रखने की घोषणा की गई है। इससे क्षेत्र के यात्रियों को कोरबा-रायपुर के मध्य एक दिन में अप-डाउन करने की सुविधा बंद हो गई। हसदेव एक्सप्रेस बंद किए जाने पर संघर्ष समिति ने चरणबद्ध आंदोलन की रूपरेखा बैठक में तैयार की। निर्णय लिया गया कि रेल प्रशासन के खिलाफ आंदोलन लगातार जारी रहेगा, जब तक कि सभी ट्रेनों को यथावत नहीं चलाया जाता। इसके साथ ही 15 सितंबर को दोपहर दो से शाम चार बजे तक रेलवे स्टेशन के सामने हस्ताक्षर अभियान चलाकर लोगों से आंदोलन के लिए सहयोग मांगा जाएगा। 

16 सितंबर को दोपहर एक से तीन बजे तक संजय नगर रेलवे क्रॉसिंग से पुराना पवन टॉकीज उषा कॉम्प्लेक्स रेलवे क्रॉसिंग तक विरोध रैली निकाल जनसंपर्क अभियान चलाया जाएगा। 17 सितंबर को आंदोलन करते हुए रेल अधिकारियों का पुतला फूंका जाएगा। समिति ने लगातार तीन दिन चलने वाले रेलवे के खिलाफ प्रदर्शन में बढ़चढकऱ भागीदारी निभाने का निर्णय लिया है। 

 

 

 


Date : 14-Sep-2019

आधी रात 20 हाथियों ने ग्रामीणों को घेरा, मकान तोड़ा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 14 सितंबर।
पिछले दिनों कोरबा वनमंडल के गुरूमुड़ा क्षेत्र के जंगल में हाथियों के दल ने आधी रात दस्तक देकर कुछ परिवारों को घेरा था जिन्हें 112 की टीम ने सुरक्षित बाहर निकाला था। इस घटना के बाद 12 सितंबर की आधी रात करीब 20 हाथियों ने कटघोरा वनमंडल के कोरबी सर्किल के ग्राम आमाटिकरा में दस्तक दी। घनी आबादी क्षेत्र में पहुंचे हाथियों की चिंघाड़ से ग्रामीणों में दहशत फैल गई। इनमें डॉयल 112 की टीम का आरक्षक बांगो कोबरा-1 वाहन का चालक संजय लकरा का परिवार भी फंसा रहा जिसने डॉयल 112 को फोन कर सूचना दी। संजय के घर को घेरकर तोडऩे के साथ फसल को नुकसान पहुंचाया। 112 की टीम व हाथी मित्रदल ने जान जोखिम में डालकर संजय व अन्य ग्रामीणों के परिवार को सुरक्षित बाहर निकाला। इस पूरी कार्रवाई में आरक्षक विनोद खलखो, चालक नीरज पाण्डेय, हाथी मित्रदल प्रभारी मुद्रिका प्रसाद डिक्सेना, बीट प्रभारी अशोक श्रीवास, रवि कुमार का सहयोग रहा।

वन और पहाड़ी मार्गों पर पहुुंचना दुष्कर
स्थानीय लोगों के अनुसार यहां यह बताना लाजिमी है कि वन विभाग ने हाथी मित्रदल को भारी भरकम गजराज वाहन गश्त के लिए सौंपा है किंतु वन और पहाड़ी मार्गों में हाथियों से निपटने के लिए वाहन का पहुंचना दुष्कर होता है। इसके अलावा मित्रदल को किसी तरह के सुरक्षा उपकरण व लाइटिंग की सुविधा भी नहीं दी गई है जिससे घटनास्थल पर जाने और बचाव में दिक्कत होती है। हाथी मित्रदल ने मात्र तीन अधेड़ उम्र के कर्मचारियों को पूरे वनमंडल क्षेत्र की कमान संभालने का जिम्मा सौंपा गया है जबकि 5 युवा वनकर्मी कमाऊ बीट में प्रभार पर हैं।

 


Date : 14-Sep-2019

गोदाम में चोरी करने वाला चढ़ा पुलिस के हत्थे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 14 सितंबर।
दो दिन पूर्व राताखार चौक स्थित गोदाम का ताला तोडकऱ चोरों ने लैपटॉप व नगदी सहित अन्य सामानों की चोरी कर ली थी। मामले को सुलझाते हुए पुलिस ने चोरी के आरोपी को गिरफ्तार कर उसके पास से चोरी किया गया लैपटॉप व नगदी बरामद किया है। 

मामले का खुलासा करते हुए सिटी कोतवाली निरीक्षक दुर्गेश शर्मा ने बताया कि राताखार चौक मदरसा के पास निवासरत विनोद साहू पिता स्व. शिव साहू के राताखार चौक स्थित  गोदाम का ताला तोडकऱ चोरों ने नगदी व सिक्का सहित आठ हजार रूपए एवं एचपी कंपनी का लैपटॉप चोरी कर लिया था। चोरी की रिपोर्ट पर पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ धारा 457, 380 के तहत अपराध कायम कर पतासाजी शुरू की। 

इसी बीच पुलिस को सूचना मिली कि रामसागर पारा निवासी संजय सतनामी पिता राजू सतनामी 19 वर्ष शराब पीने व पिलाने के लिए अपने दोस्तों को बुला रहा है। उसके पास अत्याधिक मात्रा में सिक्के होने की सूचना भी पुलिस को मिली। इस अधार पर पुलिस ने संजय को पूछताछ के लिए कोतवाली लाया। 

पूछताछ में उसने गोदाम में चोरी करना कबूल कर लिया। उसकी निशानदेही से पुलिस ने चोरी किया गया माल व मशरूका बरामद कर लिया है। पुलिस ने मामले को 24 घंटे के भीतर सुलझाया है। 


Previous12Next