छत्तीसगढ़ » कोरबा

Previous123456Next
Date : 04-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 4 अप्रैल।
वेदांता समूह द्वारा पहले ही कटिबद्धता प्रकट करते हुए 100 करोड़ रुपए की एक निधि की घोषणा की गई है जिसके माध्यम से तीन क्षेत्रों - पूरे देश में दिहाड़ी कामगारों की आजीविका, स्वास्थ्य रक्षा तथा देश भर के अपने विभिन्न संयंत्रों में कर्मचारियों और अनुबंध के अंतर्गत कार्यरत सहभागियों को कोरोना वाइरस से उत्पन्न परिस्थितियों से जूझने की दिशा में मदद करना है। वेदांता समूह ने देश के 10 लाख दिहाड़ी कामगारों तक भोजन पहुंचाने का उठाया बीड़ा है। अगले एक महीने तक प्रतिदिन 50 हजार से अधिक घुमंतु पालतू पशुओं के लिए चारा उपलब्ध कराया जाएगा।

देश में ही व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों के निर्माण की दिशा में वेदांता समूह ने वस्त्र मंत्रालय के साथ अनुबंध किया है। इसके लिए चीन से 23 मशीनों का आयात किया जाएगा। जिला अस्पतालों के साथ किए गए समझौते के अंतर्गत सोशल डिस्टेंसिंग के लिए परिसरों में मार्किंग की जाएगी। अस्पतालों को दवाइयां, स्वास्थ्य उपकरण और निष्किटित करने वाले स्प्रे उपलब्ध कराए जाएंगे। रायपुर स्थित बालको मेडिकल सेंटर में आइसोलेशन वार्ड स्थापित किया गया है। कोरबा में 100 बिस्तरों वाला अस्पताल संचालित है। राजस्थान के जोधपुर में वेदांता समूह ने अपने बड़े केयर्न सेंटर ऑफ एक्सीलेंस को प्रशासन को सौंप दिया है ताकि उसे क्वारेंटाइन सेंटर में बदला जा सके। देश भर के ग्रामीण क्षेत्रों में पिछले लगभग एक हफ्ते के दौरान एक लाख से अधिक मास्क, 15500 से अधिक साबुन तथा सैनिटाइजर्स वितरित किए गए हैं। कोरोना के प्रति सावधानी और उससे बचाव के लिए देश भर के 263 गांवों में सैनिटाइजेशन और जागरूकता अभियान संचालित किए गए हैं।

कोविड-19 महामारी से कर्मचारियों के बचाव के लिए अपोलो अस्पताल की मदद से 24 घंटे हफ्ते के सातों दिन स्वास्थ्य रक्षा हेल्पलाइन संचालित है। अपने सभी प्रचालन क्षेत्रों में वेदांता समूह ने अपने कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए संबंधित जिला प्रशासनों के मार्गदर्शन में रक्षात्मक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई हैं। अपने प्रचालन क्षेत्रों में स्थानीय नागरिकों की तत्कालिक मदद के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष के माध्यम से वेदांता समूह के कर्मचारी अपने एक दिन के वेतन का योगदान देंगे।

वेदांता समूह के चेयरमैन  अनिल अग्रवाल ने कहा है कि '' यह सुनिश्चित करना हमारी जिम्मेदारी है भूख से किसी की जिंदगी खतरे में न आ जाए। शासन से मेरी यह अपील है कि वह पलायन करने वाले मजदूरों को कम से कम 8000 रुपए प्रतिमाह की मदद अगले तीन महीने तक करे। शासन ने आवश्यक उत्पादों के आवागमन को मंजूरी दी है। यह भी महत्वपूर्ण है कि ट्रक ड्राइवरों के लिए ढाबा और खाने के दूसरे स्टॉल हाइवे पर खुले रहें। इस दिशा में पहल के लिए हम किसी भी प्रकार के सहयोग के लिए तैयार हैं।’’ श्री अग्रवाल यह जोड़ते हैं कि '' छोटे एवं मझोले उपक्रमों के साथ ही महत्वपूर्ण उद्योग जो देश की अर्थव्यवस्था को सतत बनाए रखने में योगदान करते हैं, वे 25 फीसदी कार्यबल के साथ प्रचालन में रहें। यह इसलिए क्योंकि वे आवश्यक सेवाएं उपलब्ध कराते हैं तथा सतत प्रक्रिया श्रेणी के अंतर्गत प्रचालित किए जाते हैं एवं विश्व स्वास्थ्य संगठन के सुझाए सुरक्षा एवं हाइजीन के मानदंडों का पालन करते हैं।’’
 


Date : 04-Apr-2020

 कोरबा, 4 अप्रैल। कोरोना वायरस के संक्रमण के मौजूदा हालातों में राज्य शासन ने सभी राशन कार्ड धारकों को अप्रैल एवं मई माह का राशन एक साथ इसी माह उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। शासन के निर्देश अनुसार ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में दो माह की राशन की वितरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस दौरान होम क्वारेंटाईन में रहने वाले लोगों को शासन द्वारा उनके घरों तक राशन पहुंचाकर देने की व्यवस्था की जा रही है। होम क्वारेंटाईन में रहने वाले लोगों को उनके राशन कार्ड के हिसाब से निर्धारित मात्रा में राशन कोटवार, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, ग्राम पंचायत सचिव अथवा वालिंटियर्स के माध्यम से पहुंचाया जायेगा। किसी भी परिस्थिति में होम क्वारेंटाईन में रखे गये लोगों को घर से बाहर निकलने नहीं दिया जायेगा। इस संबंध में राज्य शासन के गाईड लाईन मिलने के बाद कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने सभी राशन दुकानों से संबद्ध राशन कार्डो के आधार पर परीक्षण कर होम क्वारेंटाईन में रखे गये लोगों की सूची तैयार करने के निर्देश अधिकारियों को दिये हैं। 
 


Date : 04-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 4 अप्रैल।
कोरबा के रामसागर पारा में कोरोना पाजिटिव्ह मरीज के मिलने के बाद पूरे इलाके को आईसोलेट कर दिया गया है। इस इलाके से संचालित थोक गल्ले की दुकानें फुटकर दुकानों को राशन की आपूर्ति नहीं कर पा रही हैं। लोगों को आसानी से निर्धारित दर पर राशन सामग्री उपलब्ध कराने के लिए जिला प्रशासन द्वारा आईसोलेट इलाके की थोक राशन दुकानों को अस्थायी तौर पर सुनालिया स्थित मल्टीलेबल पार्किंग और टीपी नगर स्थित स्टेडियम में लगाने का निर्णय लिया गया है।

 कलेक्टर किरण कौशल की अध्यक्षता में आज कोरोना वायरस नियंत्रण के लिए बने जिला स्तरीय कोर गु्रप की बैठक में इस बाबत निर्णय लिया गया। रामसागर पारा की थोक दुकानों में रखे सामान और राशन सामग्री को भी एक समय में एक गाड़ी और दो हमालों के माध्यम से अस्थायी दुकानों तक पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। राशन समाग्री को अस्थायी दुकानों तक ले जाने के दौरान सेनेटाईजेशन और कोरोना नियंत्रण के अन्य दिशा निर्देशों तथा सावधानियों का पालन सुनिश्चित करने का निर्देश कलेक्टर श्रीमती कौशल ने दिया है। कोर गु्रप की बैठक में एसपी श्री अभिषेक मीणा, एडीम श्री संजय अग्रवाल सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे। 

बैठक में अधिकारियों ने बताया कि जिले में राशन सामाग्रियों और सब्जियों की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता है। वर्तमान परिस्थितियों में जिले में चावल की 50 क्विंटल की प्रतिदिन की आवश्यकता है जिसके विरूद्ध थोक-फुटकर दुकानों पर दो हजार क्विंटल चावल वर्तमान में उपलब्ध है। 

इसी प्रकार 10 क्विंटल प्रतिदिन की आवश्यकता के आधार पर जिले में लगभग 60 क्विंटल दाल उपलब्ध है। जिले में 70 क्विंटल गेहूं की प्रतिदिन आवश्यकता के विरूद्ध 300 क्विंटल से अधिक गेहूं थोक एवं फुटकर दुकानों में उपलब्ध है। अधिकारियों ने यह भी बताया कि जिले में आटे की प्रतिदिन अनुमानित खपत 100 क्विंटल के आसपास है और दुकानों में पांच सौ क्विंटल आटे की उपलब्धता वर्तमान दौर में है। कलेक्टर श्रीमती कौशल ने कोरोना वायरस के कारण जिले में लॉक डाउन की स्थिति में जरूरी चीजों, राशन सामाग्रियों और सब्जियों के दाम नियंत्रित रखने और सामाग्रियों की काला बाजारी रोकने के लिए तहसीलदारों तथा निरीक्षण दलों को लगातार दुकानों पर औचक निरीक्षण करने के निर्देश दिए।
 


Date : 04-Apr-2020

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 4 अप्रैल। 
कोरबा में  लंदन से लौटे कोरोना पॉजिटिव मरीज पर जुर्म दर्ज करने के 72 घंटे बाद अब उसके पिता को सह आरोपी बनाया गया है। पिता पर आरोप है कि उसने अपने बेटे का गुनाह  छुपाया, बल्कि उसने अपने बेटे को वो छूट भी दी, जिसकी वजह से कई अन्य लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। फिलहाल आरोपी मरीज रायपुर के एम्स में भर्ती है। युवक 18 मार्च को लंदन से कोरबा लौटा था और अपने विदेश से लौटने की बात जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग से छुपायी थी। युवक ने इस दौरान आइसोलेशन के गाइडलाइन की धज्जियां उड़ा दी और बेरोक-टोक इधर-उधर घूमता रहा। इस दौरान उसके कमरे में नौकरों की भी आवाजाही बनी रही तो वो पिता के दफ्तर में जाकर मीटिंग भी करने लगा। इस पूरे मामले में कोतवाली पुलिस ने लोगों ने पूछताछ की तो उसके पिता की भी बड़ी लापरवाही सामने आयी, जिसके बाद उसके पिता के खिलाफ भी मामला दर्ज कर लिया गया है। इससे पहले आरोपी युवक के खिलाफ पहले से ही 188, 269, 270, 271 की धारा पर मामला दर्ज किया गया है। 
 


Date : 03-Apr-2020

अनाज बैंक गठित कर जरूरतमंदों को दिलाएं राशन- ज्योत्सना

कोरबा, 3 अप्रैल। कोरबा लोकसभा क्षेत्र की सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत ने कोरबा जिले के अंतर्गत तहसील व ब्लॉक स्तर पर जरूरतमंदों के लिए अनाज बैंक का गठन करने पत्र लिखा है। इस अनाज बैंक का संचालन एसडीओ स्तर के अधिकारी द्वारा किया जाए। अनाज बैंक का प्रचार-प्रसार दूरभाष नंबर के साथ पूरे जिले में किया जाए तथा जिले के प्रबुद्धजनों से अपील की जाए कि जो अनाज, दाल एवं अन्य आवश्यक वस्तुएं दान के रूप में देना चाहते हैं, उसे इस अनाज बैंक में जमा कराएं। इस अनाज बैंक का मुख्य उद्देश्य एकत्रित उपलब्ध अनाज को जरूरतमंद ग्रामीणों का चिन्हांकन कर राज्य शासन द्वारा जारी दिशा निर्देशों का पालन करते हुए उन तक वितरित कराने की व्यवस्था करना है। सांसद श्रीमती महंत ने कोरबा कलेक्टर के अलावा लोकसभा क्षेत्र के कोरिया, पेण्ड्रा, गौरेला, मरवाही कलेक्टरों को भी इस संबंध में पत्र लिखा है।


Date : 03-Apr-2020

सूखे पत्तों से फैली गैरेज-वाहन जलकर राख

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 3 अप्रैल।
लॉकडाउन के कारण दुकानें बंद है, ऐसे ही बंद पड़े एक गैरेज में अचानक आग लग गई। जिससे गैरेज में रखे वाहन जलकर राख हो गए। आग लगने की घटना में संचालक को भारी आर्थिक क्षति उठानी पड़ी है। डायल 112 के जवानों ने मौके पर उपस्थित लोगों की मदद से आग पर काबू पाया।

रामपुर चौकी अंतर्गत एमपीनगर में शिव आटो पार्ट्स  नामक दुकान संचालित है। संचालक द्वारा दुकान बंद रखा गया था। इस दौरान गुरुवार की दोपहर लगभग चार बजे गैरेज के बाहर खड़ी वाहन में अचानक आग लग गई। साथ ही उसके गैरेज में भी आग लगी हुई थी। जब लोगों की नजर पड़ी तो उन्होंने तत्काल इसकी सूचना डायल 112 को दी। सूचना मिलते ही डायल 112 के जवान मौके पर पहुंचे। उन्होंने आम लोगों की मदद से गैरेज में लगी आग पर काबू पाया, लेकिन जब तक आग पर काबू पाया जाता, वाहन बुरी तरह जलकर राख हो चुके थे। अगर समय रहते डायल 112 के जवान मौके पर पहुंचकर आग पर काबू नहीं पाते तो गैरेज के भीतर रखे पेट्रोल व मोबिल में भी आग पहुंच सकता था। क्षेत्र के लोगों की मानें तो गैरेज के पास फैले सूखे पत्तों के कारण आग लगी होगी।
 


Date : 03-Apr-2020

तौलीपाली में हाथियों ने रौंदी फसल

कोरबा, 3 अप्रैल। कोरबा एवं कटघोरा वन मंडल में हाथियों का उत्पात लगातार जारी है। क्षेत्र में 15 हाथियों का झुंड विचरण कर रहा है। केंदई रेंज के परला बीट में विचरण कर रहे दो हाथी बीती रात कोरबा वन मंडल के कुदमुरा रेंज पहुंच गए, जहां हाथियों ने तौलीपाली में जमकर उत्पात मचाया। हाथियों ने तीन किसानों की फसल को चौपट कर दिया। तौलीपाली से आगे बढ़ते हुए कई किसानों की फसल को हाथियों ने नुकसान पहुंचाया है। उत्पात की खबर मिलते ही वन विभाग के अधिकारी कर्मचारी ग्राम तौलीपाली पहुंचे थे, जहां नुकसानी का सर्वे किया गया। हाथियों को खदेडऩे की योजना बनाई गई है। बताया जा रहा है कि देर रात हाथियों को खदेडऩे  की कार्रवाई की जाएगी। कोरबी सर्किल के चोटिया एनएच 130 टोल नाका के पास स्थित पहाड़ी पर 32 हाथियों का झुंड विचरण कर रहा है, जिसकी खबर मिलते ही कोरबी परिक्षेत्र सहायक एमके साहू, बीट प्रभारी नागेंद्र जायसवाल, अशोक श्रीवास सहित वन अमला निगरानी करने में जुटा रहा। हाथियों के झुंड गांव की ओर न घुस जाए, इसे लेकर वन अमला सतर्कता बरत रहा है।
 


Date : 03-Apr-2020

पीएम रिपोर्ट में पत्नी की  हत्या का खुलासा, पति पर एफआईआर

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 3 अप्रैल।
विगत नौ दिन पूर्व जटगा चौकी क्षेत्र के केशलपुर में एक महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। ससुरालियों ने महिला की मौत बुखार से होना बताया था, जबकि मायके पक्ष ने पति पर हत्या का संदेह जाहिर किया था। पीएम रिपोर्ट में महिला के चेहरे को कपड़े से दबाकर हत्या किए जाने का खुलासा किया। मामले में पुलिस ने संदेही पति के खिलाफ हत्या का अपराध पंजीबद्ध किया है।

कटघोरा थाना के जटगा चौकी अंतर्गत केशलपुर निवासी अंजनी बाई यादव (26) विगत 23 मार्च को बुखार होने पर बुखार की दो गोली खाकर सो गई थी। अगली सुबह जब परिजन उठे तो उन्होंने देखा कि अंजनी की मौत हो चुकी है। घटना की सूचना चौकी पुलिस को दी गई। पति मोतीलाल यादव (29) ने पुलिस को बयान दिया कि पत्नी अंजनी बाई यादव की तबीयत खराब थी, जिसकी वजह से उसकी मौत हुई है, वहीं मायके पक्ष ने मामले को संदिग्ध बताते हुए हत्या का आरोप लगाया था।

चूंकि मृतका नवविवाहिता थीं। मजिस्ट्रेट के समक्ष पोस्टमार्टम कराया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पाया गया कि कपड़े से चेहरे को बलपूर्वक दबाकर अंजनी की हत्या की गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलते ही पुलिस ने संदेही पति मोतीलाल यादव के खिलाफ धारा 302 के तहत हत्या का अपराध पंजीबद्ध किया है।
पुलिस ने बताया कि वर्ष 2018 में नवापारा धवईपुर निवासी अंजनी बाई यादव का विवाह केशलपुर निवासी मोतीलाल यादव के साथ हुआ था। पति-पत्नी के बीच हुए विवाद के बाद से अंजनी बाई यादव अपने मायके में रह रही थी। आपसी समझौते के बाद 18 मार्च को ही वह अपने ससुराल केशलपुर आई थी।

रघुनंदन प्रसाद शर्मा थाना प्रभारी कटघोरा ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतका के चेहरे को बलपूर्वक कपड़े से दबाकर हत्या किए जाने की पुष्टि हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के उपरांत संदेही उसके पति के खिलाफ हत्या का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना की जा रही है।
---


Date : 03-Apr-2020

लॉकडाउन में भंडारा , कार्रवाई

कोरबा, 3 अप्रैल। देश भर में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर लॉकडाउन किया गया है। संक्रमण से बचने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने हिदायत दी जा रही है। लोग अपने घरों में ही रहकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं, लेकिन इसके बाद भी कुछ लोगों पर मनाही का असर नहीं हो रहा है। पाली क्षेत्र में रामनवमी के अवसर पर भंडारा का आयोजन किया गया था। जानकारी मिलते ही पुलिस ने तत्काल मौके पर पहुंचकर भंडारा को रोका। आयोजनकर्ता के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की है। पाली थानांतर्गत ग्राम पोड़ी निवासी कौशल पटेल द्वारा अपने घर पर ही रामनवमी के अवसर पर भंडारा का आयोजन किया गया था, जहां बड़ी संख्या में ग्रामीण भंडारे में प्रसाद ग्रहण करने पहुंचे हुए थे। इसकी जानकारी मिलते ही पुलिस व प्रशासन की टीम हरकत में आ गई। तत्काल मौके पर पहुंचकर भंडारे में पहुंचे ग्रामीणों को वहां से जाने के लिए कहा  गया। पुलिस ने आयोजनकर्ता के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर मामले की जांच शुरू कर दी है। बताया जाता है कि कौशल पटेल के पुत्र को घर पर ही आइसोलेट किया गया है, हालांकि वह भंडारे में शामिल नहीं हुआ था।

 


Date : 03-Apr-2020

कोरोना संक्रमित छात्र के संपर्क में आने वाले 25 में से 24 की जांच रिपोर्ट निगेटिव

छत्तीसगढ़ संवाददाता

कोरबा, 3 अप्रैल। कोरोना संक्रमित छात्र के संपर्क में आने वाले 25 में से 24 की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। अकलतरा से कोरबा तक संक्रमित छात्र को लेकर आने वाले वाहन चालक की जांच रिपोर्ट अभी नहीं मिली है।

कोरबा के रामसागर पारा में रहने वाले लंदन रिटर्न छात्र के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की रिपोर्ट आने के बाद उसके संपर्क में आने वाले 28 लोगों की पहचान कर ली है। इसमें छात्र के चार पारिवारिक सदस्य और घर में काम करने वाले सात कामगार भी शामिल हैं। इसके साथ ही छात्र के तीन दोस्तों को भी ट्रेस किया गया है। (बाकी पेजï 5 पर)

अकलतरा से लेकर कोरबा तक आने वाले ड्रायवर के साथ-साथ छात्र के रायपुर स्थित रिश्तेदारों और रायपुर के आफिस में काम करने वाले 14 लोगों की पहचान भी कर ली गई है। इन सभी को एहतियातन तत्काल आइसोलेशन में रखा गया है। इनमें से अब तक 25 लोगों के गले और नाक के स्वाब का सैंपल लेकर एम्स रायपुर जांच के लिए भेजे गये हैं और 24 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। अकलतरा से कोरबा तक संक्रमित छात्र को लेकर आने वाले वाहन चालक की जांच रिपोर्ट अभी नहीं मिली है।

चौबीस लोगों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी सभी अगले 14 दिनों तक होम आईसोलेशन में रखने के निर्देश दिए गये हैं।  संक्रमित छात्र के संपर्क मेें आने वाले उसके तीन दोस्तों को भी कोरबा में होम आईसोलेशन में रखा गया है। इन सभी को घर से किसी भी स्थिति में बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी गई है। स्वास्थ्य विभाग के दिशा निर्देशों के आधार पर यह तीनों दोस्त अभी सबसे लो रिस्क पर हैं। तीनों दोस्तों को कोरोना संक्रमण से संबंधित किसी भी प्रारंभिक लक्षण के उभरने पर तत्काल स्वास्थ्य विभाग को सूचित करने कहा गया है।


Date : 03-Apr-2020

कटघोरा की मस्जिदों में रूके 30 जमातियों के भी लिए सैम्पल

छत्तीसगढ़ संवाददाता

कोरबा, 3 अप्रैल। कटघोरा की मक्का मस्जिद और जामा मस्जिद में रूके तीस जमातियों पर प्रशासन की कड़ी निगाह है। कलेक्टर किरण कौशल ने महाराष्ट्र और दिल्ली से आये इन सभी जमातियों को मस्जिदों में ही आईसोलोशन में रखने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं।

मक्का मस्जिद में लगभग 35 दिन पहले 25 फरवरी को दिल्ली से आकर 14 जमाती रूके हैं, वहीं कामठी महाराष्ट्र से 16 लोग दो मार्च को पुरानी बस्ती की जामा मस्जिद कटघोरा पहुंचे हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण की संभावना को देखते हुए एहतियात के तौर पर इन सभी 30 जमातियों का गले और नाक के स्वाब का सैंपल मेडिकल टीम द्वारा लिया गया। इन सैंपलों को अब रायपुर स्थिति अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स जांच के लिए भेजा जा रहा है।

कटघोरा की मक्का मस्जिद में रूके 14 लोगों में से 13 मुस्तफाबाद दिल्ली के रहवासी हैं, जबकि एक झारखंड के गढ़वा जिले के मखातू का निवासी है। लगभग एक माह से अधिक समय पहले आये इन लोगों को प्रशासन ने एहतियातन मस्जिदों में ही आइसोलेशन में रखा है।

जिला प्रशासन की मेडिकल टीम ने 29 मार्च को इनका स्वास्थ्य परीक्षण किया है। सभी लोग पूरी तरह से स्वस्थ हैं। इसी तरह कटघोरा की जामा मस्जिद में रूके कामठी महाराष्ट्र के 16 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण दो बार 24 एवं 26 मार्च को मेडिकल टीम द्वारा किया जा चुका है। जिला प्रशासन द्वारा इन सभी लोगों पर कड़ी निगाह रखी जा रही है। सभी को मस्जिद से बाहर नहीं निकलने, भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर नहीं जाने और मस्जिद में रहने के दौरान आपस में एक-एक मीटर की दूरी बनाये रखने की हिदायत भी दी गई है।

 


Date : 03-Apr-2020

एक मार्च के बाद विदेश से कोरबा आने वाले सभी लोगों की होगी कोरोना जांच

विदेशों से लौटे पांच लोगों के भेजे गए सैंपल

छत्तीसगढ़ संवाददाता

कोरबा, 3 अप्रैल। कोरबा जिले से आज ऐसे पांच लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) रायपुर भेजे गये। ज्ञात हो कि कोरोना  वायरस के बढ़ते संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए राज्य सरकार ने एक मार्च के बाद विदेशों से छत्तीसगढ़ आये सभी लोगों की जांच अनिवार्य कर दी है। इसके साथ ही राज्य शासन के स्वास्थ्य विभाग ने ऐेसे विदेश यात्रियों की जिलेवार सूची भेजकर उनके गले और नाक के स्वाब सैम्पल तत्काल लेकर भेजने के निर्देश जिला प्रशासन को दिये हैं।

कोरबा जिले से कुल सात विदेश यात्रियों के सेम्पल भेजने के लिए सूची प्राप्त हुई थी। इन सभी यात्रियों ने अमेरिका, यूनाईटेड किंगडम, मलेशिया की यात्रा की है और वे एक मार्च के बाद कोरबा पहुंचे हैं। इनमें से दो लोगों के सेम्पल पहले ही भेजे जा चुके हैं। जिनमें से एक की रिपोर्ट पॉजिटिव और दूसरे की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज शेष पांच लोगों के सेम्पल भी जांच के लिए भेज दिये गये हैं।

राज्य शासन द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए पिछले एक महिने में विदेशों से आए लोगों की पूरी जानकारी पासपोर्ट कार्यालयों सहित अन्य माध्यमों से प्राप्त कर ली गई है और जिलेवार सूची तैयार कर लोगों को स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा टे्रस भी कर लिया गया है। परंतु फिर भी किसी भी कारणवश विदेश यात्रा कर वापस लौटे लोग यदि इस सूची में शामिल नहीं हों तो जन स्वास्थ्य की दृष्टि से ऐसे लोगों से खुद ही अपनी यात्रा की जानकारी देने की अपील की गई है। आमजन भी ऐसे लोगों के बारे में जिला स्तरीय कंट्रोल रूम पर 07759- 228548 या टोल फ्री नंबर 104 पर फोन करके जानकारी जिला प्रषासन तक पहुंचा सकते हैं।

कलेक्टर ने की अपील

कलेक्टर किरण कौशल ने एक मार्च के बाद विदेश यात्रा कर कोरबा लौटे सभी लोगों से अपील की है कि वे अपनी विदेष यात्रा की जानकारी जिला प्रशासन को अनिवार्यत: देवें और जांच के लिए अपने सेम्पल देने जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी या पास के स्वास्थ्य केंद्र में सम्पर्क करें।

श्रीमती कौशल ने कहा है कि राज्य में जितने भी कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं उनमें से अधिकांश विदेष यात्रा से लौटे हैं। ऐसी स्थिति में पिछले एक महिने में विदेशों से कोरबा लौटने वाले लोगों के कोरोना संक्रमित होने की संभावना बढ़ गई है और उनकी जांच जरूरी है। कलेक्टर ने ऐसे सभी लोगों से अपनी यात्रा की जानकारी देने और सेम्पल देकर जांच कराने का आग्रह भी किया है।


Date : 02-Apr-2020

निजामुद्दीन के मरकज में शामिल हुए कोरबा के 20 लोग आइसोलेशन में, सैंपल भेजे गए

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 2 अप्रैल। 
दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए मुस्लिम धर्मावलंबियों के मरकज में शामिल हुए 20 लोगों को जिला प्रशासन ने कोरबा में ट्रेस कर लिया है। इनमें से पंद्रह लोग राताखार की अंजुमन इस्लाहुल मुस्लमीन मस्जिद में रूके हुए थे जबकि पांच लोगों को कोरबा शहर में अलग-अलग जगहों से चिन्हांकित किया गया है। सभी 20 लोगों को बुधवार को गेवरा के सीईआई हास्टल में आइसोलेशन में रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इन सभी 20 लोगों के स्वाब सेम्पल कोरोना जांच के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर भेज दिये हैं। 

कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने एसपी अभिषेक मीणा के साथ गेवरा हास्टल का दोपहर को निरीक्षण किया। इन लोगों को कमरों में ही सभी व्यवस्थाएं जिला प्रशासन द्वारा मुहैया करा दी गई हैं। सुरक्षा के भी पर्याप्त इंतजाम किये गये हैं। पुलिस कर्मियों का पहरा गेवरा हास्टल में लगाया गया है, साथ ही मेडिकल टीम भी तैनात की गई है। आइसोलेट किये गये लोगों को भोजन, पानी के लिए भी पूरी व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा कर दी गई है। कोरबा में आईसोलेट हुए मरकज में शामिल होने वाले इन लोगों में मुस्तफा बाग दिल्ली के छ:, नेहरू बिहार दिल्ली के दो, गाजियाबाद के तीन और सुंदरनगरी दिल्ली, नागलोई दिल्ली, पुरानी दिल्ली तथा बेगुसराय बिहार का एक-एक व्यक्ति शामिल हैं।

 आईसोलेट हुए इन लोगों में से एक ने बताया कि वे 12 मार्च को रात 10 बजे से 13 मार्च को दोपहर दो बजे तक निजामुद्दीन में हुई तबलीगी जमात के मरकज में शामिल हुए थे। उन्होंने यह भी बताया कि मुस्लिम धर्म की मानव कल्याण से जुड़ी बातों और सीखों के प्रचार-प्रसार के लिए वे लोग कोरबा आये हैं। यह सभी लोग दिल्ली से नागपुर, बिलासपुर होते हुए 15 मार्च को कोरबा पहुंचें हैं और तभी से राताखार की मस्जिद में रूके थे।

कटघोरा की दो मस्जिदों में मिले 30 अन्य जमाती भी प्रशासन की निगरानी में
कटघोरा के पूछापारा की मक्का मस्जिद और पुरानी बस्ती की जामा मस्जिद में भी 30 मुस्लिम धर्मावलंबियों की पहचान प्रशासन ने की है। इनमें से मक्का मस्जिद पूछापारा में 14 लोग रूके हैं जो कि पिछली 25 फरवरी को कटघोरा पहुंचे हैं। इसी तरह कामठी महाराष्ट्र से 16 लोग दो मार्च को पुरानी बस्ती की जामा मस्जिद कटघोरा पहुंचे हैं। मक्का मस्जिद में रूके 14 लोगों में से 13 मुस्तफाबाद दिल्ली के रहवासी हैं, जबकि एक झारखंड के गढ़वा जिले के मखातू का निवासी है। लगभग एक माह से अधिक समय पहले आये इन लोगों को भी प्रशासन ने एतिहातन मस्जिदों में ही आइसोलेशन में रखा है। जिला प्रशासन की मेडिकल टीम ने 29 मार्च को इनका स्वास्थ्य परीक्षण किया है और यह सभी लोग पूरी तरह से स्वस्थ हैं। इसी तरह कटघोरा की जामा मस्जिद में कामठी महाराष्ट्र के 16 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण दो बार 24 एवं 26 मार्च को मेडिकल टीम द्वारा किया जा चुका है। जिला प्रशासन द्वारा इन सभी लोगों पर कड़ी निगाह रखी जा रही है। 

 


Date : 02-Apr-2020

लॉकडाउन के दौरान कोतवाली के पास गर्भवती महिला मिली बदहवास

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा,  2 अप्रैल।
पुलिस लोगों से सख्ती के साथ लॉकडाउन का पालन करा रही है. ताकि वे कोरोना वायरस के संक्रमण से बच सकें, वहीं पुलिस जरूरतमंदों का प्रत्यक्ष  तौर पर मदद कर मानवता का परिचय भी दे रही है। ऐसा ही एक मामला सामने आया, जिसमें गर्भवती दर्द से कराह रही थी। पुलिस ने उसे न सिर्फ रैन बसेरा में ठहराया, बल्कि इलाज के लिए अस्पताल भी दाखिल कराया है। 

कोतवाली पुलिस की गश्ती टीम क्षेत्र में गश्त पर निकली थी। टीम की नजर ओवरब्रिज के नीचे बदहवासी की हालत में पड़ी महिला पर गई। पुलिस करीब पहुंची तो महिला दर्द से कराह रही थी। पूछताछ करने पर उसने अपना नाम मुन्नी बाई बताई। उसने किसी तरह कोलकाता के होने की जानकारी दी। इसके अलावा महिला कुछ भी बोल पाने में असमर्थ थी।  इसकी जानकारी नगर कोतवाल दुर्गेश शर्मा को दी गई। नगर कोतवाल श्री शर्मा के निर्देश पर गश्ती टीम में शामिल महिला आरक्षक प्रतिभा राय अद्र्धविक्षिप्त गर्भवती महिला को अपने साथ जिला अस्पताल परिसर स्थित रैन बसेरा ले गई। महिला आरक्षक ने रैन बसेरा के कर्मचारी को पूरे मामले से अवगत कराइ। इसके साथ ही महिला को रैन बसेरा में ठहराया गया। बताया जा रहा है कि सुबह महिला को जिला अस्पताल में दाखिल कराया गया।


Date : 02-Apr-2020

पहाड़ी कोरवाओं को बांटे गए राशन सामग्री

कोरबा, 2 अप्रैल। राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र पहाड़ी कोरवाओं की मदद के लिए लोग सामने आ रहे हैं। बुधवार को भी छत्तीसगढ़ हेल्प वेलफेयर सोसायटी ने भी गांव पहुंचकर कोरवा परिवारों को राशन सामग्री प्रदान की है। पहाड़ी कोरवाओं की मदद के लिए सरकारी व निजी संस्था सामने आ गए हैं। मंगलवार को स्त्रोत संस्था प्रमुख डिक्सन मसीह ने गांव पहुंचकर खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराया था, वहीं बुधवार को छत्तीसगढ़ वेलेफेयर सोसायटी के अध्यक्ष राणा मुखर्जी, टीसी रमानी, लव भाई व रामू रेलवानी गांव पहुंचे। उन्होंने दुधीटांगर के अलावा आसपास के गांवों में बसे पहाड़ी कोरवाओं को चावल, दाल के अलावा सब्जी समेत अन्य खाद्य पदार्थ प्रदान किए हैं। समाजसेवी संस्थाओं से मिली मदद के बाद पहाड़ी कोरवाओं के सामने लॉकडाउन के दौरान भोजन की समस्या दूर हो जाएगी।


Date : 02-Apr-2020

एसईसीएल ने दी 108 करोड़ की एडवांस रायल्टी

कोरबा, 2 अप्रैल। कोरोना से जंग के लिए सरकारी और निजी औद्योगिक प्रतिष्ठान भी शासन प्रशासन को सहयोग प्रदान कर रहे हैं। इसी कड़ी में एसईसीएल के कोरबा जिले में स्थित चार प्रोजेक्ट्स गेवरा, दीपका, कुसमुंडा, कोरबा ने सयुंक्त रूप से 108 करोड़ रुपये की एडवांस रॉयल्टी का भुगतान किया। यह रॉयल्टी जिले में दी गई है। ज्ञात हो कि साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड कोल इंडिया की सबसे बड़ी कंपनी है। एसईसीएल के एनएमडीसी ने छत्तीसगढ़ सरकार को 200 करोड़ रुपये की रॉयल्टी का भुगतान किया है।
 


Date : 02-Apr-2020

खदान कर्मियों को नहीं मिले मास्क व सेनिटाइजर, रोष 

कोरबा, 2 अप्रैल। बलगी परियोजना खदान में कर्मियों को मास्क व सेनिटाइजर नहीं मिला है, जिससे उनमें रोष है। यहां के कर्मचारियों ने बताया कि उन्हें प्रबंधन द्वारा अब तक न तो मास्क दिया गया है और न ही सेनेटाइजर की व्यवस्था खदान से बाहर से लेकर भीतर तक की गई है और न ही वितरण किया गया है। सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन प्रबंधन नहीं करा पा रहा है। बलगी खदान प्रबंधक पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कर्मचारियों ने मास्क व सेनेटाइजर वितरण की मांग की है।
 


Date : 02-Apr-2020

मानिकपुर खदान ने लगातार छठवें साल हासिल किया सौ फीसदी टारगेट 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 2 अप्रैल।
मानिकपुर को इस वर्ष  49 लाख टन कोल उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया था जिसे विपरीत पपरिस्थितियों के बावजूद लक्ष्य को हासिल किया। इस वित्तीय वर्ष में ओबीआर 89.97 लाख क्यूबिक मीटर एवं 48.71 लाख टन का कोल डिस्पैच किया गया। मनिकपुर लगतार 6 वर्षों से कोल उत्पादन का लक्ष्य हासिल कर रहा है।

 महाप्रबंधक मानिकपुर इलियास हुसैन ने मानिकपुर के कार्य संस्कृति की प्रशंसा करते हुए कहा कि सभी कर्मचारी एवं अधिकारियों के लगन एवं परिश्रम का प्रतिफल है। सभी बधाई के पात्र है। मुझे पूरा विश्वास है कि अगले वर्ष भी इसी तरह जो भी लक्ष्य दिया जाएगा वो आप सभी के सहयोग से पूरा करेंगे। सभी विभाग प्रमुख,  यूनियन प्रतिनिधि मुख्य प्रबंधक (खनन) मनोज कुमार, एल बी देवांगन, मुख्य प्रबंधक (ई/एम) एचके गुप्ता ,सुरक्षा अधिकारी मनीष सिंह, वरि प्रबंधक उत्खनन डी के सिंह, सिविल विभाग प्रभारी सुधीर पांडेय, उपप्रबंधक कार्मिक विनोद सिंह ने सभी को बधाई दी।


Date : 02-Apr-2020

वायरस से निपटने की दिशा में उत्कृष्ट कार्य 

कोरबा। कोरोना वायरस से निपटने की दिशा में उत्कृष्ट कार्य कर रहे जिला पुलिस के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के प्रति अपना सम्मान प्रकट करते हुए बालको प्रबंधन ने ड्यूटी पर तैनात जवानों को मास्क और सैनिटाइजर वितरित किए। इसके साथ ही पुलिसकर्मियों को दिए अपने शुभकामना संदेश में बालको के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक  अभिजीत पति ने कहा कि बालको परिवार को पुलिस की दृढ़ता, शौर्य और कर्तव्यनिष्ठा पर गर्व है। बालको के प्रशासन एवं सिक्योरिटी प्रमुख अवतार सिंह ने अपनी टीम के साथ पुलिसकर्मियों को मास्क और सैनेटाइजर वितरित किए।


Date : 02-Apr-2020

कोरोना संक्रमित छात्र ने नहीं दी लंदन से वापसी की जानकारी, एफआईआर दर्ज

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 2 अप्रैल।
कोरबा में कोरोना से संक्रमित पाये गये लंदन रिटर्न छात्र के विरूद्ध कार्यपालिक दण्डाधिकारी ने कोतवाली थाने में एफआईआर दर्ज करा दी है। 

छात्र ने अपनी लंदन से वापसी की जानकारी और विदेश यात्रा के इतिहास को छुपाते हुए शासकीय अस्पताल या टोल फ्री हेल्पलाईन 104 पर सूचित नहीं किया था। छात्र के विरूद्ध धारा-188, 269, 270 एवं 271 के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। प्राथमिकी कोरबा के तहसीलदार एवं कार्यपालिक दण्डाधिकारी सोनित मेरिया ने दर्ज कराई है। सोमवार ही लंदन में पढऩे वाले इस छात्र की कोरोना की जांच पॉजिटिव आई थी और जिला प्रशासन ने तत्परता से छात्र को रायपुर स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में दाखिल कराया है। 

छात्र 18 मार्च को लंदन से मुंबई-रायपुर होते हुए कोरबा आया था। छात्र अपनी विदेश से आने की जानकारी छिपाते हुए कोरबा शहर में यत्र-तत्र घूमता रहा। जिससे आमजनों में कोरोना के संक्रमण की संभावना बन गई। इसके साथ ही छात्र द्वारा जिले में लागू धारा-144 के निर्देशों का उल्लंघन भी किया गया। 18 मार्च को लंदन से वापसी के बाद छात्र ने अपनी विदेश यात्रा के इतिहास को छिपाया और छत्तीसगढ़ शासन द्वारा कोरोना वायरस के नियंत्रण तथा रोकथाम के लिये लागू दिशा-निर्देषों का उल्लंघन करते हुए स्वयं को न तो होम आईसोलेट किया और न ही अपने मुंह-नाक को मास्क से ढंका। 

लंदन से लौटने के बाद छात्र रायपुर हवाई अड्डे से रायपुर में ही अपने परिचित के घर भी गया और कोरबा आगमन के बाद पिता के ट्रांसपोर्ट नगर स्थित कार्यालय में भी उसका आना-जाना रहा। 22 वर्षीय छात्र ने छत्तीसगढ़ एपिडेमिक डिसिस कोविड-19 रेगुलेशन अधिनियम 2020 की कण्डिका 8 एवं 9 का उल्लंघन किया है।
 जिसके कारण उसके विरूद्ध कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।
 


Previous123456Next