छत्तीसगढ़ » जान्जगीर-चाम्पा

Date : 21-Sep-2019

दर्जनों काम पूरे, कई जगहों पर विकास अधूरा 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जांजगीर-चांपा, 21 सितंबर।
ऐतिहासिक भीमा तालाब के पास स्थित वार्ड क्रमांक 14 बाजारपारा में मूलभूत सुविधाओं की अभी भी कमी है। वार्ड पार्षद के रूप में आशुतोष गोस्वामी दूसरी बार चुने गए हैं। वर्तमान में वे नगरपालिका जांजगीर-नैला के उपाध्यक्ष पद पर आसीन हैं। इससे पहले वर्ष 2004 के चुनाव में उनकी मां मीना गोस्वामी पार्षद चुनीं गई थी। उसके बाद वर्ष 2009 में हुए चुनाव से अब तक यानी दो पंचवर्षीय आशुतोष गोस्वामी पार्षद चुने गए हैं। 

वार्ड के तीन चुनावों में वार्ड पार्षद आशुतोष गोस्वामी का वर्चस्व रहा है, जिनके द्वारा वार्ड में विकास के अनेक कार्य कराए गए हैं, लेकिन अभी भी कई जगहों पर सीसी रोड, नाली निर्माण, विद्युत पोल सहित पेयजल की समस्या बरकरार है। वार्डवासियों का कहना है कि पार्षद द्वारा वार्ड की समस्याओं के समाधान और विकास के लिए शिद्दत से काम किया जा रहा है। वे सभी के सुख-दुख में भी पहुंचते हैं, लेकिन कुछ जगहों पर अभी भी विकास की जरूरत है, जिसमें गेड़ी डबरी का सौंदर्यीकरण, नाली निर्माण, सीसी रोड मरम्मत सहित विद्युत पोल की स्थापना शामिल है। 

वार्ड पार्षद आशुतोष गोस्वामी का कहना है कि पिछले नौ-दस वर्षों से मेरे द्वारा वार्ड में विकास के दर्जनों कार्य कराए गए हैं। वार्ड की समस्याओं को दूर करने का प्रयास किया गया। इससे पहले मेरी माताजी के कार्यकाल में भी कई विकास कार्य हुए। इसी वजह से वार्डवासियों ने मुझे लगातार दूसरी बार पार्षद चुना। 

मकरम प्रसाद टंडन, वार्डवासी ने बताया कि वार्ड में साफ-सफाई की कमी है। बुधवार को जब साप्ताहिक बाजार लगता है, उसके बाद कई दिनों तक बाजार की साफ-सफाई नहीं होती। वार्ड में नियमित साफ-सफाई जरूरी है। 

रज्जन सारथी, वार्डवासी ने कहा कि वार्ड में कई जगहों पर बिजली पोल की जरूरत है। बाकी मैं जहां रहता हूॅ, वहां नाली निर्माण सहित साफ-सफाई की आवश्यकता है।

गुल मोहम्मद, वार्डवासी का कहना है कि वार्ड में निर्मित सीसी रोड की मरम्मत की जरूरत है। सड़क पर जगह-जगह गड्ढे हैं। रात में चलने में परेशानी होती है। स्ट्रीट लाइट भी नहीं जलती। 

फूलसाय, वार्डवासी ने बताया कि घरों से निकलने वाले गंदे पानी की निकासी की समस्या है। वार्ड की नालियां जाम हैं, जिसकी नियमित साफ-सफाई नहीं होती। नाली में ढक्कन भी नहीं लगे हैं। 

निलेश यादव, वार्डवासी ने बताया कि वार्ड की सड़कों की नियमित साफ-सफाई नहीं होती। कचरा वाले कंटेनर वार्ड में आते ही नहीं हैं, जिससे वार्ड के खाली जगहों पर कचरा फेंकना पड़ता है। 

वार्ड में कराए गए कार्य
पंद्रह जगहों में सीसी रोड निर्माण, विद्युत पोल की स्थापना, नाली निर्माण, बाजार हॉट व सामुदायिक भवन का निर्माण, वार्ड में पेयजल की व्यवस्था 

वार्ड में ये कार्य जरूरी
सीसी रोड निर्माण, नाली निर्माण, गेड़ी डबरी का सौंदर्यीकरण, पाइप लाइन का विस्तार,विद्युत पोल की स्थापना।


Date : 19-Sep-2019

केएसके मामले में त्रिपक्षीय वार्ता में बनी सहमति

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जांजगीर-चांपा, 19 सितंबर।
कलेक्टर जेपी पाठक के निर्देश पर जिला श्रम पदाधिकारी कार्यालय में केएसके महानदी पावर कंपनी के अधिकारियो व श्रमिक संगठन के पदाधिकारियों की सयुंक्त बैठक हुई। बैठक में अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी श्रीमती लीना कोसम व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती मधुलिका सिंह के समक्ष दोनो पक्षों ने अपनी-अपनी बात रखी। प्रबंधक व श्रमिक संगठन के पदाधिकारियो ने पावर प्लांट चालू रखने एवं शांति व्यवस्था बनाने के लिए सहमति दी।

अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी ने कहा कि पावर कंपनी और श्रमिकों को आपसी समन्वय से कार्य करना होगा। कानून का उल्लंघन करने पर नियमानुसार कड़ी कार्यवाही की जाएगी। किसी भी प्रकार की भ्रम की स्थिति निर्मित न करें। आपसी संवाद की स्थिति बनी रहे। श्रम कानून का पालन करवाने में जिला प्रशासन श्रमिको और कंपनी प्रबंधको का सहयोग करेगा। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती मधुलिका सिंह ने प्रबंधको से कहा कि कंपनी परिसर की आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करें। अनाधिकृत व्यक्तियों का परिसर मे प्रवेश प्रतिबंधित करे। सीसी कैमरा चालू हालत में रखेे। शांति व्यवस्था भंग होने की स्थिति में पुलिस को तत्काल सूचना दें। श्रीमती मधुलिका सिंह ने मजदूर संघ के पदाधिकारियो से कहा कि सोशल मीडिया के उपयोग में साइबर एक्ट का पालन करें। किसी भी प्रकार की भ्रम की स्थिति निर्मित ना करें। कंपनी प्रबंधन के अधिकारियो व श्रमिक संगठन के पदाधिकारियो ने आपसी समन्वय से काम करने पर सहमति व्यक्त की। श्रमपदाधिकारी केके सिंह ने श्रम कानून के प्रावधानों की संक्षिप्त जानकारी दी। बैठक में केएसके महानदी पावर कंपनी के प्रेसिडेंट जीपी राव, वरिष्ठ महाप्रबंधक वेणु गोपाल, डिप्टी जनरल मैनेजर अजय अग्रवाल, मैनेजर राजू कुमार, श्रमिक संगठन के पदाधिकारियों में सुमित प्रताप सिंह, बलराम गिरी गोस्वामी, रवि नोरगे, रवि साहू, लोभन सिंह, विश्वनाथ प्रताप सिंह राय संहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

 


Date : 19-Sep-2019

लायंस क्लब चांपा ने कपड़े वितरण कर मनायी विश्वकर्मा जयंती 

चांपा, 19 सितंबर। लायंस क्लब इंटरनेषनल की चांपा ईकाई द्वारा 18 सितंबर को लायन राजेश अग्रवाल (अध्यक्ष लायंस क्लब चांपा) की अध्यक्षता में ग्राम अफरीद में स्थित तिलक सेवा संस्थान के बच्चों को वस्त्र (जींस, पेंट, शर्ट, टी-षर्ट इत्यादि) एवं फल का वितरण किया गया। इस अवसर पर लायन राजेष अग्रवाल ने अपनी उद्बोधन में कहा कि जरूरतमंद की सहायता करना लायंस क्लब का उद्देष्य है और इसी कड़ी में आज यह पुनित कार्य किया गया। लायंस क्लब के पूर्व डिस्ट्रिक्ट गवर्नर लायन डॉ. व्ही. के अग्रवाल ने इस सेवा कार्य के लिए लायंस क्लब चांपा को बधाई दी एवं उनकी प्रषंसा की। उक्त कार्यक्रम में लायन राजेष अग्रवाल, लायन डॉ. व्ही. के. अग्रवाल(पी.डी.जी.), लायन डॉ. के. पी. राठौर, लायन बजरंग अग्रवाल, लायन मोहन गुलाबानी, लायन रमेष देवांगन, लायन रामप्रपन्न देवांगन, लायन उत्तमप्रकाष देवांगन एवं तिलक सेवा संस्थान के सम्माननीय सदस्य एवं बच्चें उपस्थित थे।

विश्वकर्मा जयंती मनी
लायंस इंग्लिश हायर सेकेण्डरी स्कूल चांपा में 17 सितंबर को विश्वकर्मा जयंती मनाई गई। इस अवसर पर प्राचार्य अजिता वी. के. एवं ट्रांसपोर्ट प्रभारी श्री अविनाश चंद्रा के नेतृत्व में भगवान श्री विष्वकर्मा की तैलीय चित्र पर पुष्प अर्पित कर उनकी पूजा-अर्चना की गई।


Date : 19-Sep-2019

गौ संरक्षण के लिए भूख हड़ताल करेंगे गौसेवक

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जांजगीर-चांपा, 19 सितंबर।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का ड्रीम प्रोजेक्ट नरवा, गरवा, घुरवा, बारी का क्रियान्वयन शहरी क्षेत्र में नहीं हो पा रहा है, जिसके चलते सडक़ों पर बैठे मवेशी जहां दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं तो वहीं इन मवेशियों की वजह से लोगों की भी जान जा रही है। इस गंभीर समस्या का निराकरण करने प्रयास गौसेवा संस्थान ने कलेक्टर को ज्ञापन देकर दस दिनों का अल्टीमेटम दिया है। इसके बाद उन्होंने इस समस्या को लेकर भूख हड़ताल की चेतावनी दी है।

आपकों बता दें कि प्रयास गौसेवा संस्थान विगत 4 वर्षों से गौसेवा के क्षेत्र में कर्मठ गौ सेवकों द्वारा दुर्घटना में घायल गायो का नि:शुल्क इलाज के साथ ही गौसेवा के क्षेत्र में अनेक प्रयास किया जा रहा है। जिस तरह आए दिन सडक़ पर बैठे मवेशियों के दुर्घटनाग्रस्त  होने से चिंतित होकर इस संस्थान ने अब सडक़ पर उतरने का मूड बनाया है। उन्होंने अपने ज्ञापन में कहा है कि पूरे चांपा नगर के मुख्यमार्गों व अन्य सभी मार्गो में मवेशियों का जमावड़ा देखने को रोज मिल रहा है जिस कारण प्रतिदिन मवेशी दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं। आवेदन में उन्होंने कहा है कि इस ज्वलंत समस्या से जिला प्रशासन, नगर प्रशासन, वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों को बार बार अनुनय विनय किया गया लेकिन किसी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। ऐसे में सभी गौसेवकों व नगर युवाओं ने कलेक्टर सहित अन्य प्रशासनिक अफसरों से मिलकर इस समस्या से अवगत कराते हुए इसके निराकरण की मांग की। उन्होंने जिले सहित चांपा नगर के मुख्यमार्ग व अन्य सभी मार्गों से सभी गायों व मवेशियों को उचित स्थान पर स्थान्तरित कर उनके चारा, पानी व चिकित्सा की उचित व्यवस्था करने की मांग की। 

 


Date : 19-Sep-2019

जिले की सभी सीटों पर शिवसेना लड़ेगी निकाय चुनाव

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जांजगीर-चांपा, 19 सितंबर।
शिवसेना के प्रदेश कार्यकारिणी अध्यक्ष मधुकर पाण्डेय जिला प्रवास पर जांजगीर पहुंचे थे। उन्होंने जांजगीर के हाटल ग्रीन पार्क में जिले के सभी पदाधिकारियोंं की बैठक ली। बैठक की अध्यक्षता शिवसेना जिलाध्यक्ष ठा.ओंकार सिंह गहलौत ने की। 

मधुकर पाण्डेय ने कहा कि नगरीय निकाय चुनाव में पार्टी जांजगीर-चांपा जिले के सभी वार्डों में दमखम के साथ चुनाव लडेगी। जिले में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव में कार्यकर्ताओं के दम पर शिवसेना परचम लहराएगी। इसके लिए पूरी ताकत के साथ मेहनत भी किया जा रहा है। आगामी दिनों में शिवसेना तीसरी शक्ति के रूप में स्थापित होगी।

प्रदेश महासचिव प्रेमशंकर महिलांगे ने कहा कि आने वाले नगरीय निकाय चुनाव में शिवसेना प्रत्याशियों का चयन गंभीरता से करते हुए मैंदान में उतरेगी। इसके लिए लगातार कार्यकर्ताओं को दिशा-निर्देश दिया जा रहा है। कार्यक्रम अध्यक्ष ठा.ओंकार सिंह गहलौत ने कहा कि जिले के अधिकांश पंचायतों में सरपंच व सचिव द्वारा आवास योजना, शौंचालय योजना, पेंशन योजना सहित शासकीय कार्यों में अनियमितता के खिलाफ लगातार शिवसेना विरोध दर्ज कर जनहित से जुडे समस्याओं को शासन प्रशासन के समक्ष लाते रही है। 

बैठक को प्रदेश सचिव एचएन सिंह ने भी संबोधित किया। बैठक में चंदन धीवर, दिलेश्वर विश्वकर्मा (जिला सचिव), राजेन्द्र चन्द्रा (जिला उपाध्यक्ष), चन्द्रशेखर बरेठ, शुभम राजपूत, हुलेश चन्द्रा, संतोष बरेठ, सौरभ केशरवानी (जिला कार्यकारिणी), धनाराम साहू (किसान सेना जिलाध्यक्ष), कार्तिक साहू (विधान सभा प्रभारी चन्द्रपुर), डा. बलभद्र पटेल (ब्लॉक अध्यक्ष सक्ती), इंजीनियर धीरज बरेठ (ब्लॉक अध्यक्ष बलौदा), पवन मनहर (ब्लॉक प्रभारी अकलतरा), मोहन सारथी (अध्यक्ष आटो चालक सेना), पंचराम सिदार, संतराम, धनंजय रात्रे, श्रीमती रूखमणी साहू (महिला सेना ब्लॉक अध्यक्ष नवागढ), दीपा लाम्बा, संगीता, चम्पलता सहित बडी संख्या में शिवसैनिक उपस्थित थे।


Date : 19-Sep-2019

दलगत राजनीति से चांपा का हुआ सत्यानाश, इस बार निर्दलीय अध्यक्ष बनने की प्रबल संभावना

कई बड़े नेता चुनाव जीतने के बाद कभी चांपा का उद्धार करने नहीं सोचा

छत्तीसगढ़ संवाददाता

जांजगीर-चांपा, 19 सितंबर। चांपा नगरपालिका चुनाव में इस बार निर्दलीय अध्यक्ष बनने की संभावना जताई जा रही है, क्योंकि शहर के विभिन्न ज्वलंत मुद्दों को लेकर हमेशा से पक्ष और विपक्ष खुद को किनारा करता रहा है। इसके चलते पक्ष और विपक्ष पर हमेशा आपस में भाईचारे का आरोप लगता रहा है। इसके अलावा 15 साल भाजपा और इस बार पांच साल कांग्रेस को मौका दिया गया। लेकिन दोनों ही दल के नेता जनता की अपेक्षाओं में खरा नहीं उतर पाए। इस वजह से यदि इस बार कोई साफ सुथरा चेहरा अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ता है तो उसके जीतने की संभावना काफी प्रबल हो जाता है।

आपकों बता दें कि कागज में भले ही जांजगीर-चांपा जिला अंकित है, लेकिन स्थानीय नेताओं की निष्क्रियता से हमेशा से चांपा उपेक्षित रहा है। इसी उदासीनता के चलते जांजगीर चांपा जिला के बजाय अब नेता व अफसर भी सिर्फ जांजगीर जिला संबोधित करने लगे हैं। यहां तक जिला मुख्यालय सिर्फ जांजगीर है जबकि चांपा के नसीब से सिर्फ बदहाली है। एक समय था जब चांपा की पहचान यहां की विभिन्न विशेषताओं से होती थी लेकिन अब चांपा की पहचान कीचड़ जीर्ण-शीर्ण सड़क़ और गड्ढे से हो रही है।ं चांपा नगरपालिका क्षेत्र के लिए बीते पांच सालों में करोड़ों के विकास कार्य सेंशन हुए, लेकिन चांपा नगरपालिका अध्यक्ष का दुर्भाग्य है कि 80 से 90 प्रतिशत कार्य अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। चांपा के गौरवपथ, रेलवे ओवरब्रिज, रामबांधा तालाब, पेयजल आपूर्ति आदि कई ज्वलंत मुद्दे है, जिसे लेकर चांपा की जनता भाजपा और कांग्रेस से चिढ़ी हुई है और वो इस बार चुनाव में दोनों को मजा चखाने के मूड में है। यह बात कई बार शहर के लोग सोशल मीडिया में बेबाक बोल चुके हैं। आपकों बता दें कि चांपा से कई बड़े नेता चुनाव जीत चुके है लेकिन कुर्सी मिलने के बाद किसी ने चांपा की ओर ध्यान नहीं दिया। इसके चलते आज चांपा की दशा बेहद चिंताजनक है।

रामबांधा तालाब बदहाल

चांपा के लिए रामबांधा तालाब हमेशा से सूर्खियों में रहा है। भाजपा के दौर में उसके सौंदर्यीकरण के नाम लाखों खर्च किया गया, लेकिन बदहाली दूर नहीं हुई। इसके बाद जब नपा में जब कांग्रेस की सत्ता आई तो रामबांधा तालाब सौंदर्यीकरण के लिए करीब आठ करोड़ सेंशन हुआ। इसके कार्य प्रारंभ को लेकर भी काफी राजनीति हुई तो वहीं तालाब के लिए रकम सेंशन कराने को लेकर नेताओं ने खूब वाहवाही लुटी। लेकिन तीन सालों से तालाब अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है तो उसकी सुध किसी को नहीं है, जबकि इतने बड़े तालाब को सूखा देने के बाद जिस तरह पानी की किल्लत हो रही है उसे लेकर शहर के लोग इन्हें कभी माफ नहीं करेंगे।

गौरवपथ का कबाड़ा

एक समय था जब चांपा के लोगों को गौरवपथ पर नाज था लेकिन जब से इस मार्ग में शराब दुकान शुरू हुई तब से इसकी उल्टी गिनती शुरू हो गई। उस समय नपाध्यक्ष पर ही शराब दुकान के लिए जगह मुहैया कराने का आरोप लगा। इसके बाद जब गौरवपथ से भारी वाहनों को गुजारने की अनुमति दी गई तब भी नपाध्यक्ष को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया। भारी वाहनों के चलते गौरवपथ का सत्यानाश हो गया। आज शहर का सबसे खराब मार्ग यही है। बीते दो सालों से शहर के लोग इस गौरवपथ की गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं लेकिन दलगत राजनीति के चलते शहर के लोग त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। इस बार चुनाव में यह अहम मुद्दा होगा।

ब्रिज की गंभीर समस्या

चांपा का गौरवपथ शहर के लिए ज्वलंत मुद्दा है लेकिन यह भी दलगत राजनीति की भेंट चढ़ गया है। सात साल बाद भी ब्रिज का निर्माण पूरा नहीं हो सका है। इस ब्रिज की वजह से जहां कईयों की रोजी रोटी छीन गई तो फाटक बंद होने के बाद लोगों को आवागमन में काफी दिक्कतें हो रही है। हालांकि अभी इस समस्या के लिए शहर के कुछ लोगों ने रेल प्रशासन को जगाने नगाड़ा बजाया था तो वहीं राज्य में जब भाजपा की सरकार थी तब पूर्व नपा उपाध्यक्ष ने भी आंदोलन किया था। लेकिन इसके बाद किसी ने इस ओर प्रयास नहीं किया। अभी ब्रिज की वजह से पूरा स्टेशन क्षेत्र को पार करने में पसीना छूट जा रहा है। इससे लोग आक्रोशित हैं। 


Date : 19-Sep-2019

सशिमं चांपा के छात्रों का हुआ नेत्र परीक्षण

चांपा, 19 सितंबर। सरस्वती शिशु मंदिर उमा विद्यालय चांपा प्राथमिक विभाग मे कक्षा प्रथम से पंचम तक के भैया-बहन का स्वास्थ्य परीक्षण के अन्तर्गत नि:शुल्क नेत्र जांच डॉ. मयंक दुबे, सहयोगी जगदीश्वर पटेल व भारत पटेल ने किया। ऩेत्र चिकित्सक ने कहा अधिकांश भैया-बहन टीवी और मोबाइल नजदीक से देखते हैं जिससे आंख के साथ-साथ शरीर में भी प्रभाव पडता हैै। भैया-बहन को मोबाइल से दूर रखे। समय-समय पर जांच कराते रहे ।

नेत्र परीक्षण में प्रधानाचार्य कृष्ण कुमार पाण्डेय, आचार्य लालाराम पटेल, कल्पना यादव, मोहनलाल यादव, भुनेश्वर प्रसाद यादव, पुष्पा राठौर, निशु राठौर, सदानंद प्रसाद केंवट, रामकुमार पटेल, गीता शर्मा, केश्वरी नामदेव, परमानंद पटेल, रजनी पाण्डेय, उषा देवांगन, सावित्री साहू, अमीना सोनी, सुनीत कुमार स्वर्णकार, अकाशदास कसेर, हरिराम यादव, सुमन सोनी आदि उपस्थित थे। यह जानकारी विद्यालय के प्रसार -प्रचार प्रमुख रीना द्विवेदी ने दी।


Date : 19-Sep-2019

नाले का पुल का एक हिस्सा गिरा, दर्जनों गांवों का संपर्क टूटा

छत्तीसगढ़ संवाददाता

जांजगीर चांपा, 19 सितंबर। जिले के जैजैपुर ब्लॉक के 20 किमी दूर अंतिम छोर पर स्थित सिरली पंचायत में उसड़ नाले में बना पुल का एक हिस्सा टूट कर गिर गया। जिससे दर्जनों गांवों का सक्ती ब्लॉक से संपर्क टूट गया है।

ज्ञात हो कि पुल का निर्माण 8 से 10 वर्ष पहले किया गया था। पुल से आसपास के करीब दर्जनों गांवों के लोगों का आना-जाना होता था। आज सुबह ग्रामीणों ने पुल को टूटे हुए देखा। आक्रोशित ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि पुल निर्माण में घटिया निर्माण सामग्री का उपयोग किया गया था। इससे पुल कमजोर बना और बारिश में ही पुल का ऊपर का हिस्सा टूट गया। 

बता दें कि सक्ती जाने के लिए यह एक सरल रास्ता है जिसमे सक्ती जल्दी पहुँचा जा सकता था। पुल के टूटने के कारण सिरली, रायपुरा, हरदी, आमापाली, झालरौंदा, लोहराकोट, खम्हरिया, भोथिया, आदि का संपर्क टूट गया।


Date : 18-Sep-2019

राज्य की सबसे बड़ी पॉवर कंपनी केएसके में ताला, प्रबंधन और श्रमिकों में चल रही तकरार

छत्तीसगढ़ संवाददाता

जांजगीर-चांपा, 18 सितंबर। छत्तीसगढ़ के सबसे बड़ी केएसके बिजली उत्पादक कंपनी में आखिरकार आज ताला लग ही गया। बताया जा रहा है यह कंपनी बीते कुछ सालों घाटे में चल रही थी तो वहीं केएसके के बिकने की भी खबरें आती रही है। इसके अलावा श्रमिक और प्रबंधन के बीच आए दिन विवाद चलता रहा है। इन सब कारणों से प्लांट बंद हो गया। इधर, केएसके के बंद होने से वहां काम करने वाले चार हजार से अधिक लोगों के सामने रोजी रोटी की समस्या खड़ी हो गई है।

बता दें कि अकलतरा क्षेत्र के ग्राम नरियरा गांव में 3600 मेगावाट की केएसके वर्धा पावर कंपनी स्थापित है। यहां प्रोजेक्ट वर्ष 2011 से शुरू हो गया था लेकिन 600 मेगावाट की पहली यूनिट वर्ष 2013 में शुरू हुई। इसके बाद अन्य यूनिट शुरू होते गई। इस कंपनी का विस्तार करने के लिए बड़े पैमाने पर स्थानीय ग्रामीणों की जमीन अधिग्रहित की गई है। इन्हें मुआवजे के साथ ही कंपनी में नौकरी देने का प्रावधान है, लेकिन कंपनी प्रबंधन पर शुरू से ही वादाखिलाफी का आरोप लगता रहा है। जब से कंपनी शुरू हुई है तब से प्रबंधन और श्रमिकों के बीच स्थायी नौकरी को लेकर विवाद चल रहा है। इसके अलावा यह कंपनी घाटे में चल रही थी, जिसके चलते इस कंपनी के बिकने की भी खबरें आती रही है। इन सब कारणों से केएसके प्रबंधन ने मंगलवार को प्लांट के गेट पर लॉक आउट का बोर्ड लगा दिया।

प्लांट के अधिकारी ने बताया कि श्रमिकों के बीच पिछले महीने भर से टकराव चल रहा था। पिछले हफ्ते भी आंदोलन कर दो दिन के लिए प्लांट बंद किया गया था। बातचीत के बाद प्लांट चालू हुआ था। इसके बाद प्रबंधन ने आज सुबह निर्णय लिया कि इन परिस्थिति में पॉवर प्लांट चला पाना मुमकिन नहीं हो रहा है और पॉवर प्लांट के मुख्य द्वार के सामने लॉक आउट बोर्ड टांग दिया। बताया जाता है इस संयंत्र में 3500 श्रमिक और 600 कर्मचारी कार्यरत हैं। प्रबंधन के लॉक आउट के एक बोर्ड ने करीब 4 हजार से अधिक कर्मचारियों को सडक़ पर ला दिया है।


Date : 17-Sep-2019

जांजगीर के कचरों का डंपिंग यार्ड बना वार्ड नंबर 25 शांति नगर

नाली निकासी, साफ-सफाई सहित कचरों का ढेर, बिजली खंभों की कमी भी

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
जांजगीर-चांपा, 17 सितंबर।
 जिला मुख्यालय जांजगीर वार्ड क्रं. 25 शांति नगर की जनसंख्या करीब 17 सौ है, लेकिन शहर के सबसे पिछड़े और गंदगी भरे वार्ड के रूप में शांति नगर की गिनती होती है। पूरे शहर के कचरे का डंपिंग यार्ड शांति नगर बना हुआ है। इस वजह से पूरे वार्ड में बदबू रहती है। 

वार्ड में नाली की समस्या है। घरों का गंदा पानी वार्ड की सड़क पर फैल जाता है। इससे वार्डवासियों के बीच आए दिन वाद-विवाद की स्थिति निर्मित होती है। वहीं सीसी रोड, वार्ड की साफ-सफाई, पेयजल व्यवस्था सहित बिजली के खंभों की कमी है। वार्ड में सबसे बड़ी समस्या है, वो शहर के कचरों का डंप होना, जिसके लिए कई बार आवाज उठाई जा चुकी है। लेकिन, अब तक समस्या का समाधान नहीं हो सका है। 
वार्ड पार्षद प्रमिला गढ़ेवाल ने बताया कि वार्ड में कई निर्माण कार्य कराए गए हैं। कुछ कराने बाकी हैं। वार्ड की समस्याओं का समाधान करने हरसंभव प्रयास किया जाता है।

समस्या निराकारण की मांग वार्ड में राशन दुकान जरूरी 
पार्षद द्वारा अपने स्तर पर काम कराया गया है, लेकिन अभी भी सीसी रोड व नाली सहित पेयजल की समस्या बनी हुई है। साथ ही वार्ड में राशन दुकान नहीं होने से पीईची विभाग के कार्यालय के पास राशन लेने के लिए जाना पड़ता है, जहां से राशन पचास रूपए में आ जाता है, लेकिन रिक्शा चालक को सौ रूपए देने पड़ते हैं।

-धनाऊ किरण, वार्डवासी नाली निकासी की समस्या
घरों का कचरा फेंकने वार्ड में कंटेनर नहीं है। साथ ही नाली नहीं होने से पानी निकासी की समस्या है। इस वजह से घरों का गंदा पानी बाहर में ही जाम हो जा रहा है, जिससे बदबू और बीमारी फैलने का खतरा बढ़ गया है। पार्षद को बोलने पर रोड किनारे गड्ढा खुदवाया गया है, लेकिन कोई काम का नहीं है। 

-सुरेखा कटकवार, वार्डवासीकंटेनर और नाली की जरूरत
नाली के अभाव में पानी निकासी की समस्या ज्यादा है। इससे घरों का गंदा पानी घर के बाहर रोड में जाम हो जा रहा है। नगरपालिका से सफाईकर्मी कचरा उठाने वार्ड में नहीं आते हैं। इस वजह से घरों का कचरा फेंकने की समस्या है। वार्ड में नाली और कचरा डालने वाले कंटेनर की जरूरत है।

-मालती श्रीवास, वार्डवासी टेपनल और बिजली की समस्या
अटल आवास में टेपनल और बिजली की समस्या पिछले दस सालों से बनी हुई है। नगरीय प्रशासन द्वारा अब तक व्यवस्था नहीं की गई है। थोड़ी दूर में एक ही हैण्डपंप है, जहां से सभी लोग पानी भरते हैं। वहीं अटल आवास के पास में ही पूरे शहर का कचरा डंप किया जाता है। इस संबंध में कई बार कलेक्टर को आवेदन दिया जा चुका है।

गोपाल प्रधान, वार्डवासी नाली और पाइप लाइन की समस्या
वार्ड में नाली निकासी की समस्या है। नाली की नियमित साफ-सफाई नहीं होती। इससे नाली का पानी घरों के अंदर चला जाता है। टेपनल का पाइप भी नाली के अंदर है, जिससे नाली का गंदा पानी पाइप के अंदर चला जाता है। इस समस्या को पार्षद को बता चुके हैं, लेकिन अब तक समस्या का समाधान नहीं हुआ है।
-शांति श्रीवास, वार्डवासी

 


Date : 17-Sep-2019

दीक्षांत समारोह में बलौदा के दो छात्रों को गोल्ड 

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
बलौदा, 17 सितंबर।
शासकीय नवीन महाविद्यालय बलौदा जिला जांजगीर चाम्पा की वर्षा पाटले एवं राजकुमार देवांगन को अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय बिलासपुर के दीक्षांत समारोह में राज्यपाल ने गोल्ड मेडल से सम्मानित किया।
वर्षा पाटले ने हिंदी व राजकुमार देवांगन ने राजनीति विषय में विश्विद्यालय के मेरिट सूची में प्रथम स्थान प्राप्त कर संस्था, परिवार व अंचल को गौरवान्वित किया है। दोनों छात्र प्रारम्भ से ही मेधावी छात्र रहे हैं। वे पढ़ाई के साथ- साथ महाविद्यालय में संचालित राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक के रूप में काम कर चुके हैं। 

इस उपलब्धि के लिए संस्था के प्राचार्य डॉ. ललित कुमार जायसवाल ने दोनों छात्रों, हिंदी के प्राध्यापक एवं कार्यक्रम अधिकारी(रासेयो) डॉ. राजाराम बनर्जी तथा राजनीतिक विज्ञान के प्राध्यापक डॉ. जी सी पाटले को बधाई ज्ञापित किया है। साथ ही छात्रों के उज्जवल भविष्य की कामना के साथ आने वाले दिनों में बेहतर परिणाम के लिए आशा व्यक्त की है। 

 


Date : 17-Sep-2019

पकरिया गांव के नहर में बह रही मासूम को दो युवकों ने बचाया 

जांजगीर-चांपा, 17 सितंबर। पकरिया गांव के दो युवकों ने नहर के तेज बहाव में बह रही दो साल की मासूम बच्ची की जान बचा ली। खबरों के मुताबिक, मुलमुला थानातंर्गत ग्राम पंचायत पकरिया झूलन मेन रोड पर नहर पुल के पास कल दोपहर लगभग 12 बजे गांव की फूलबाई सुमन (55 वर्ष) नहर में नहाने गई थी, वही साथ में महिला की बहू भी नहाने गई थी। दोनों सास-बहू कपड़ा धोने में मग्न थी। इस दौरान उनके साथ में 2 वर्षीय मासूम बच्ची भी नहर गई थी, जो सीढ़ी पर बैठी थी। बच्ची सीढ़ी पर उतरते समय नहर किनारे से गिर कर तेज बहाव में बहने लगी। दादी की नजर बहती हुई पोती पर पड़ी तो दोनों चिल्लाते व रोते हुए सडक़ पर आ गई। नहर में नहाने के लिए खड़े पकरिया के युवक सूरज मनहर व धीरेन्द्र डहरिया से गुहार लगाई। 

दोनों युवकों ने एक साथ पुल के ऊपर से नहर में छलांग लगा दी और उन्होंने काफी मेहनत कर मासूम बच्ची को खोजकर उसे गमछे के सहारे सुरक्षित बाहर निकाल लिया। वहीं बच्ची के पेट में पानी भर गया था। नहर में डूबने की वजह से बच्ची के शरीर पर मामूली चोटें आई है। बच्ची को घटना के तुरंत बाद उपचार के लिए डॉक्टर के पास ले जाया गया जहाँ डॉक्टर ने मासूम बच्ची को खतरे से बाहर बताया है।