कोरिया

जेल-भूमि पर मकान बनाकर बेचा, गिरफ्तार बिल्डर पर एक और एफआईआर
17-Feb-2021 8:37 PM 41
जेल-भूमि पर  मकान बनाकर बेचा, गिरफ्तार बिल्डर पर एक और एफआईआर

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बैकुंठपुर, 17 फरवरी। बिल्डर के खिलाफ लगातार मामले दर्ज करने एमएलए नगर के लोग अब सामने आ रहे हंै। जेल की सरकारी भूमि को लेकर दूसरा मामला सिटी कोतवाली में दर्ज हो गया है, परन्तु इस मामले में 5 अलग-अलग लोगों की शिकायत पर एक एफआईआर दर्ज की गई है। वहीं जेल में निरूद्ध बिल्डर को लगातार बढ़ते एफआईआर के बाद राहत मिलती नजर नहीं आ रही है।

इस संबंध में सिटी कोतवाली प्रभारी कमलाकांत शुक्ला का कहना है कि 5 अलग-अलग लोगों के एक जैसी शिकायत होने के कारण एक ही एफआईआर दर्ज की गई है, शिकायत पर अब उनके सारे भूमि क्रय संबंधी दस्तावेज खंगाले जा रहे है। मामले की आगे की जांच जारी है।

मां वैष्णव एसोसिएट्स प्रा लि के संचालक बिल्डर संजय अग्रवाल के खिलाफ एमएलए नगर कॉलोनी में रह रहे 5 लोगों ने सिटी कोतवाली में शिकायत दर्ज की, जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

 पुलिस के अनुसार शिकायतकर्ता तापनाथ पाठक, रीता नामदेव, वीणा निकुंज, मनोज राय और मनोज मंडल ने अपनी शिकायत में बताया है कि उन्होंने मां वैष्णव एसोसिएट्स प्रा लि के संचालक बिल्डर संजय अग्रवाल से मकान खरीदा, उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी कि जिस भूमि पर मकान उन्होंने खरीदा है, वो जेल की सरकारी भूमि पर बना हुआ है, वहीं उन्होंने मकान खरीदा है, परन्तु उनकी रजिस्ट्री सिर्फ भूमि की हुई है। सभी शिकायतकर्ताओं ने एक जैसी बात अपने आवेदन में दर्ज कराई है। पुलिस ने धारा 420, 120 बी और 34 के तहत मामला दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है। इससे पहले एक महिला ने भी जेल की सरकारी भूमि को लेकर मामला दर्ज करा चुकी है।

जेल की भूमि पर जनहित याचिका

मां वैष्णव एसोसिएट्स प्रा लि के द्वारा जेल की भूमि की अदला-बदली को लेकर जनहित याचिका हाईकोर्ट बिलासपुर में लगी हुई है।  मामले में कोर्ट में सुनवाई जारी है। याचिकाकर्ता राकेश शर्मा ने जेल की सरकारी भूमि के अदला-बदली पर सवाल खड़े किए हंै, वहीं नगर पालिका ने भी एमएलए नगर की नाप जोंख कर जेल की सरकारी भूमि को मुक्त कराने की कार्रवाई की तैयारी में है, जिसके कारण राजस्व और नगर पालिका की टीम दो-तीन बार सर्वे कर चुकी है, जिसके बाद एमएलए कॉलोनी में निवासरत लोगों में खुद के घर में लगे वर्षों की जमापूंजी जाने का डर समा गया है और अब वे मामले में पुलिस को शिकायत देकर एफआईआर दर्ज करवा रहे हंै।

अन्य पोस्ट

Comments