कोरिया

जांच में नहीं मिली गलती, फिर नहीं दिया जा रहा कार्यभार
21-Feb-2021 8:23 PM 48
जांच में नहीं मिली गलती, फिर नहीं दिया जा रहा कार्यभार

   सीईओ को पत्र लिखकर लगाई न्याय की गुहार    

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

चिरमिरी, 21 फरवरी। जनपद पंचायत खडग़वां के पोंडी क्लस्टर में कार्यरत एक महिला पीआरपी ने जिला पंचायत के सीईओ को पत्र लिखकर मिशन संचालक के खिलाफ प्रताडि़त करने तथा षड्यंत्र पूर्वक कार्य से पृथक करने का आरोप लगाया है।

पत्र में महिला पीआरपी ने यह भी कहा है कि उसकी शिकायत पर जनपद पंचायत खडग़वां के सीईओ ने जांच भी कराई। जांच में उसकी कोई गलती नही मिलने के बावजूद उसे कार्यभार नही दिया जा रहा है।

पत्र में महिला पीआरपी पुनीता ने कहा है कि वह जनपद पंचायत खडग़वां के क्लस्टर पोंडी में विगत 3 वर्षों से कार्य कर रही है। आज से 3 वर्ष पूर्व भी मेरे द्वारा कलस्टर में कार्य किया गया है, जिसमें समूह गठन, ग्राम संगठन का गठन, समूह का रजिस्टर सुधार करवाना, बैंक लिंकेज का प्रकरण तैयार कारवाना एवं अन्य जो भी कार्य जिला एवं विकासखण्ड  कार्यालय द्वारा लिखित या मौखिक रूप से कहा जाता था, उस कार्य को समय सीमा में मेरे द्वारा पूर्ण कराया गया है।

यदि कार्य को पूरा करने में फील्ड में कही भी समस्या आती थी, उसको जिला कार्यालय द्वारा बड़े ही अच्छी तरीके से समझाया जाता था। यहां तक कि पीआरपी को जिला के पूर्व डीपीएम रवि सर के द्वारा पूरा सहयोग दिया जाता रहा है। परन्तु पिछले एक वर्ष से जब से जिला मिशन प्रबंधक के रूप में नए सर आये है, तब से केवल पीआरपी को धमकी दी जाती है।

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत खडग़वां को पत्र के माध्यम से बताया गया कि सम्बंधित माह का मेरा मानदेय नही आया है। तब एसएलआरएम के लेखा प्रभारी द्वारा फोन के माध्यम से मुझे कहा गया कि आपको कार्य से पृथक कर दिया गया है, इसलिये जब तक आप अनापत्ति पत्र कलस्टर से बनवाकर जमा नहीं करेंगे, तब तक मानदेय नही मिलेगा। तब मेरे द्वारा अनापत्ति पत्र बनाकर उस पर कलस्टर संगठन के पदाधिरियों के द्वारा हस्ताक्षर करने को कहा गया तो उनके द्वारा हस्ताक्षर करने से मना कर दिया गया। मेरे द्वारा कलस्टर संगठन के पदाधिकारियों से कारण पूछे जाने पर बताया गया कि आपके द्वारा जब तक किट जमा नही किया जायेगा, तब तक हम हस्ताक्षर नहीं करेंगे। मैने पूछा कौन सा किट तो वो बोले हम नही जानते, हमको हस्ताक्षर करने के लिये मना किया गया है।

उन्होंने बताया कि  4 माह होने जा रहे है, 2 माह का मानदेय नही दे रहे है  और ना ही जांच उपरांत  निर्णय ही बता रहे है। कि मुझे कलस्टर अंतर्गत कार्य करना है या नही करना है।

  महिला पीआरपी पुनिता रजक ने जिला पंचायत कोरिया के सीईओ से मांग की है वे कि उसके पत्र पर सहानुभूति पूर्वक विचार करते हुये आवश्यक कार्यवाही करें तथा उसे न्याय दिलाए।

अन्य पोस्ट

Comments