गरियाबंद

मजदूर महासम्मेलन को लेकर बनी रणनीति, कई निर्णय
28-Sep-2021 4:33 PM (50)
मजदूर महासम्मेलन को लेकर  बनी रणनीति, कई निर्णय

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
नवापारा-राजिम, 28 सितंबर।
राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस (इंटक) प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में इंटक प्रदेश कार्यसमिति द्वारा विभिन्न विषयों पर विचार विमर्श कर महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये। बैठक में प्रदेश इंटक कांग्रेस के सभी विंग के प्रदेशाध्यक्ष एवं छ.ग. जिला पदाधिकारी सम्मलित हुए।

बैठक में 23 अक्टूबर को प्रदेश स्तरीय विशाल मजदूर महासम्मेलन इंटक राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मंत्री चन्द्रशेखर दुबे उर्फ ददई बाबा की उपस्थिति में आयोजित करने का निर्णय लिया गया। 
इंटक प्रदेशाध्यक्ष दीपक दुबे एवं उपाध्यक्ष टिकेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि विशाल मजदूर महासम्मेलन 24 अक्टूबर को रायपुर में होगी। जिसके लिए पूर्व मंत्री व पूर्व सांसद व इंटक राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर दुबे 23 अक्टूबर को रायपुर आ रहे हैं। उनके आगमन पर भव्य स्वागत एयरपोर्ट से राजीव भवन तक प्रदेश भर से पहुचे इंटक पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं द्वारा की जाएगी। 

राजीव भवन में झीरम घाटी के शहीदों को इंटक राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर दुबे श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे, वहीं दूसरे दिन 24 अक्टूबर को छत्तीसगढ़ इंटक द्वारा आयोजित विशाल श्रमिक मजदूर महासम्मेलन में बतौर अतिथि सम्मिलित होंगे। श्रमिक सम्मेलन में एसईसीएल, एनटीपीसी, सीएसबी, भिलाई स्टील प्लांट, एनएमडीसी, बाल्को एलुमिनियम प्लांट सहित प्राइवेट सेक्टर के स्टील, पावर एवं खनन क्षेत्र में कार्यरत श्रमिक, शकर कारखाना के श्रमिक, यूनियन के पदाधिकारी भाग लेंगे। साथ ही एफसीआई, वेयरहाउस के हमाल, बिजली विभाग के मेंटेनेंस ठेका श्रमिक, सब स्टेशन के कर्मचारी, प्रायवेट हास्पिटल के कर्मचारी व सरकार के 102 एवं 108 में कार्यरत कर्मचारी, स्कूल के कर्मचारी व असंगठित क्षेत्र में कार्यरत श्रमिक, बड़े छोटे वाहन चालक बड़ी संख्या में शामिल होंगे।

श्री दुबे एवं श्री ठाकुर ने बताया कि वर्तमान राज्य सरकार ने मजदूर किसान के हित में अनेकों क्रांतिकारी निर्णय लिए हंै। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा भूमिहीन किसान मजदूर न्याय योजना लागू किया है एवं प्रायवेट सेक्टर में 90 प्रतिशत छत्तीसगढिय़ो को रोजगार देने के निर्णय लिया है, जिस पर छत्तीसगढ़ सरकार की सम्मान राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा किया जाएगा। इसके अलावा श्रमिकों की न्यायोचित मांगों पर सरकार का ध्यानाकर्षण करेंगे। साथ ही बस्तर नगरनार स्टील प्लांट के निजीकरण के विरोध में आवाज बुलंद करते हुए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा उक्त प्लांट को चलाने की निर्णय पर केंद्र सरकार को उक्त प्लांट राज्य सरकार के हाथों सौपने की मांग रखेंगे। राज्य में पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार के 15 साल कार्यकाल में श्रमिकों की निरंतर शोषण हुई है। उन्हें 12 घण्टा कार्य करने विवश बिना पीएफ ईएसआई दिए कार्य लेते रहे हैं जिस पर संयुक्त जांच दल बनाकर श्रमिकों के कार्य समय वेतन राज्य सरकार के मूलभूत सुविधाओं मिल रहे हैं या नहीं, इस पर जांच की मांग करते हुए प्रायवेट सेक्टर पर कार्यरत 3 वर्ष से अधिक ठेका श्रमिकों को रेगुलर करने की मांग रखेंगे। 

श्रमिक महासम्मेलन में देश भर से इंटक के राष्ट्रीय एवं प्रदेश पदाधिकारी व ट्रेड यूनियन पदाधिकारी पहुंचेंगे। कार्यक्रम को सफल बनाने इंटक पदाधिकारी जुटे हुए हंै। श्री दुबे ने बताया कि 2 अक्टूबर गांधी जयंती की दिन से प्रदेश भर में श्रमिकों की निशुल्क पंजीयन कैम्प जिला ब्लाक एवं श्रमिक बाहुल्य क्षेत्रों में की जाएगी। 

पत्रकारवार्ता में इंटक प्रदेशाध्यक्ष दीपक दुबे, प्रदेश उपाध्यक्ष टिकेन्द्र सिंह ठाकुर, प्रदेश महामंत्री रजनीश सेठ, असंगठित इंटक प्रदेश अध्यक्ष संजु तिवारी, युवा इंटक प्रदेशाध्यक्ष चंद्रेश सिंह, महिला इंटक प्रदेशाध्यक्ष सुनीता दुबे, इंटक कार्यकारी अध्यक्ष उमेश रगड़े, इंटक रायपुर जिलाध्यक्ष देवानंद वर्मा, युवा इंटक अध्यक्ष भावेश दीवान, सुनील बरेठ, अवधेश दुबे सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।
 

अन्य पोस्ट

Comments