राष्ट्रीय

मायावती का कांग्रेस पर तंज, बोली-भाजपा की तरह प्रियंका कर रही लोकलुभावन वादे
22-Oct-2021 1:05 PM (54)

लखनऊ, 22 अक्टूबर | बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की उत्तर प्रदेश के चुनाव को लेकर घोषणाओं पर तंज कसा है और कहा कि कांग्रेस ने चुनावी छलावे के तहत भाजपा व सपा की तरह ही अनेकों प्रकार के लोक लुभावन वादे करने शुरू कर दिए हैं।

मायावती ने शुक्रवार को तीन ट्वीट करके कांग्रेस के साथ भाजपा पर भी हमला बोला है और उनको सुझाव भी दिए हैं। मायावती के इस हमले में कांग्रेस पर अधिक ही प्रहार हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने चुनावी छलावे के तहत भाजपा व सपा की तरह ही अनेकों प्रकार के लोक लुभावन वादे आदि करने शुरू कर दिए हैं, जिसके तहत इस पार्टी ने यूपी में सरकार बनने पर उत्तीर्ण छात्राओं को स्मार्टफोन व स्कूटी देने की बात कही है, लेकिन मूल प्रश्न यह है कि इनपर विश्वास कौन व कैसे करे।

उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस की राजस्थान व पंजाब में सरकार है तो क्या इन्होंने ऐसा कुछ वहाँ करके दिखाया है, जो लोग उनकी बातों पर यकीन करे लें? नहीं किया है तो फिर लोग उनपर विश्वास कैसे करें? यही वजह है कि कांग्रेस व भाजपा आदि पार्टियों के दावों व वादों के प्रति जन विश्वास की घोर कमी है।

बसपा मुखिया मायावती ने कहा कि जनता से छल व वादाखिलाफी आदि के कारण कांग्रेस के बुरे दिन चल रहे हैं तथा इन्हीं कुछ खास कारणों से भाजपा के भी बुरे दिन शुरू हो चुके हैं। 'अच्छे दिन' का सपना दिखाकर लोगों पर महंगाई, गरीबी व बेरोजगारी आदि का पहाड़ तोड़ने का खामियाजा तो भाजपा को भी भुगतना पड़ेगा।

गौरतलब हो कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में महिलाओं को 40 फीसदी टिकट देने का एलान करने के बाद कांग्रेस ने गुरुवार को एक और बड़ी घोषणा की है। यूपी कांग्रेस ने एलान किया है कि प्रदेश में सरकार बनने पर इंटर पास छात्राओं को एक-एक स्मार्ट फोन वितरित किया जाएगा। वहीं, ग्रेजुएट हो चुकी छात्राओं को इलेक्ट्रॉनिट स्कूटी दी जाएगी। (आईएएनएस)

कर्नाटक : 9 साल जेल में रहने के बाद पिता-पुत्र बरी
22-Oct-2021 1:01 PM (47)

दक्षिण कन्नड़ (कर्नाटक), 22 अक्टूबर | दक्षिण कन्नड़ जिले की तीसरी अतिरिक्त जिला एवं सत्र अदालत ने विट्टाला मालेकुडिया और उनके पिता लिंगप्पा मालेकुडिया को बरी कर दिया है, जिन्हें 9 साल पहले नक्सलियों से संबंध रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। गुरुवार को दोनों को बरी कर दिया गया।

नक्सल विरोधी बल (एएनएफ) ने 3 मार्च 2012 को नक्सली होने के आरोप में पिता और पुत्र को गिरफ्तार किया था।

उनके घर की तलाशी के दौरान, एएनएफ अधिकारियों ने स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह पर एक किताब, एक दूरबीन और अन्य 36 वस्तुओं को हिरासत में लिया था। चुनावों के बहिष्कार पर उनके लेखन को एक देशद्रोही कृत्य माना गया। मामला वेनूर थाने में दर्ज किया गया था। एएनएफ की चार्जशीट में छठे आरोपी के रूप में विट्टाला मालेकुडिया और सातवें आरोपी के रूप में उनके पिता लिंगन्ना मालेकुडिया का उल्लेख किया गया है।

गिरफ्तारी के समय विट्टाला मालेकुडिया मंगलुरु विश्वविद्यालय में पत्रकारिता में प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रहे थे। वह हिरासत में रहते हुए परीक्षाओं में शामिल हुए थे। विट्ठल मालेकुडिया की हथकड़ी में परीक्षा लिखने की तस्वीरें वायरल हुई थीं।

न्यायाधीश बसप्पा बलप्पा जकाती ने उन्हें बरी करने का आदेश दिया। बरी किए गए लोगों की ओर से अधिवक्ता दिनेश उलेपाडी पेश हुए। (आईएएनएस)

सेना की 39 महिला अफसरों की सुप्रीम कोर्ट में बड़ी जीत, मिलेगा स्थायी कमीशन
22-Oct-2021 12:56 PM (22)

नई दिल्ली: भारतीय सेना की 39 महिला अफसरों को सुप्रीम कोर्ट में बड़ी जीत मिली है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को इन महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने का निर्देश दिया है और कहा है कि इससे संबंधित आदेश जल्द जारी किया जाय. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने 25 अन्य महिला अफसरों को स्थायी कमीशन ना देने के कारणों के बारे में विस्तृत जानकारी देने का भी केंद्र सरकार को निर्देश दिया है.

इसके साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा कि आपने जिन महिला अधिकारियों को स्थाई कमीशन नहीं देने का फैसला किया है उन पर लिखित में एफिडेफिट दें कि क्या हमारे फैसले में उन सभी का स्थाई कमीशन कवर नहीं होता है.

सुनवाई के दौरान केंद्र की ओर से पेश एडिशनल सॉलिसिटर जनरल संजय जैन और वरिष्ठ वकील आर बालासुब्रममण्यन ने जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस बीवी नागरत्ना की बेंच को बताया कि 72 में से एक महिला अफसर ने सर्विस से रिलीज करने की अर्जी दी है. इसलिए सरकार ने 71 मामलों पर पुनर्विचार किया है. इनमें से 39  स्थायी कमीशन की पात्र पाई गई हैं.

केंद्र सरकार ने कोर्ट को बताया कि 71 में से 39 को स्थायी कमीशन दिया जा सकता है. इसके साथ ही केंद्र ने कहा कि 71 में से 7 चिकित्सकीय रूप से अनुपयुक्त हैं, जबकि 25 के खिलाफ अनुशासनहीनता के गंभीर मामले हैं और उनकी ग्रेडिंग खराब है.

सुप्रीम कोर्ट में सेना की महिला अधिकारियों की ओर से दायर अवमानना याचिका पर सुनवाई करते हुए 8 अक्टूबर को सेना से कहा था कि इसे अपने स्तर पर सुलझाया जाय. कोर्ट ने कहा था कि ऐसा ना हो कि इस मामले में भी हमें कोई आदेश फिर से देना पड़े.  

महिला अधिकारियों की मानें तो सुप्रीम कोर्ट ने 25 मार्च 2021 को फैसला सुनाया था कि जिन महिलाओं के स्पेशल सेलेक्शन बोर्ड में 60 फीसदी अंक से मिले हैं और जिनके खिलाफ डिसिप्लिन और विजिलेंस के मामले नहीं हैं उन महिला अधिकारियों को सेना परमानेंट कमीशन दे. बावजूद इसके इन महिला अफसरों को स्थाई कमीशन अब तक नही दिया गया.

10 अगस्त को इन महिलाओं ने रक्षा मंत्रालय और सेना को कानूनी नोटिस भेजा था, उसका भी कोई जवाब नही मिला तब जाकर इन महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. (ndtv.in)

 

वैक्सीनेशन में VIP कल्चर हावी नहीं होने दिया : टीकाकरण का आंकड़ा 100 करोड़ होने पर पीएम मोदी
22-Oct-2021 12:55 PM (18)

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना वैक्सीनेशन का आंकड़ा 100 करोड़ होने पर देश को संबोधित किया और कहा कि  21 अक्टूबर को भारत ने100 करोड़ वैक्सीन डोज़ का कठिन लेकिन असाधारण लक्ष्य प्राप्त किया है. इस उपलब्धि के पीछे 130 करोड़ देशवासियों की कर्तव्यशक्ति लगी है, इसलिए ये सफलता भारत की सफलता है, हर देशवासी की सफलता है. दुनिया के दूसरे बड़े देशों के लिए वैक्सीन पर रिसर्च करना और वैक्सीन खोजना आसान था, क्योंकि वे पहले से ही इसमें महारत हासिल किए हुए थे. भारत इन देशों की बनाई वैक्सीन्स पर ही निर्भर था. आज कई लोग भारत के वैक्सीनेशन प्रोग्राम की तुलना दुनिया के दूसरे देशों से कर रहे हैं. भारत ने जिस तेजी से 100 करोड़ का आंकड़ा पार किया, उसकी सराहना भी हो रही है.

100 करोड़ वैक्सीन ने बीमारी के दौरान उठ रहे हर सवाल का जवाब दे दिया है

पीएम मोदी ने आगे कि लेकिन इसमें एक बात अक्सर छूट जाती है कि हमने ये शुरुआत कहां से की. भारत के लोगों को वैक्सीन मिलेगी भी या नहीं? क्या भारत इतने लोगों को टीका लगा पाएगा कि महामारी को फैलने से रोक सके? कई सवाल थे, लेकिन आज ये 100 करोड़ वैक्सीन डोज हर सवाल का जवाब दे रही है.

कोरोना संकट काल के 19 महीनों में दसवीं बार पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन दिया.

    19 मार्च 2020 को पहला संबोधन, जनता कर्फ्यू का ऐलान
    24  मार्च 2020 को दूसरा संबोधन, 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान
    3 अप्रैल 2020 को तीसरा संबोधन, बिजली बंद कर दीपक जलाने का आव्हान ताकि स्वास्थ्यकर्मियों का उत्साह बढ़ाया जा सके
    14 अप्रैल 2020 को चौथा संबोधन, तीन मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान
    12 मई 2020 को पाँचवा संबोधन, 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज घोषित
    30 जून 2020 को छठा संबोधन, अन्न योजना का नवंबर तक विस्तार करने का ऐलान
    20 अक्तूबर 2020 को सातवां संबोधन, वैक्सीन आने तक नागरिकों से लापरवाही न बरतने का आग्रह
    20 अप्रैल 2021 को आठवां संबोधन, कहा कोविड नियमों का पालन हो तो लॉकडाउन जरूरी नहीं
    7 जून 2021 नौवां संबोधन, वयस्कों को मुफ्त वैक्सी देने का ऐलान
    आज दसवां संबोधन, सौ करोड़ टीकों पर

वैक्सीनेशन अभियान में VIP कल्चर हावी नहीं होने दिया
पीएम मोदी ने कहा कि सबको साथ लेकर देश ने ‘सबको वैक्सीन-मुफ़्त वैक्सीन' का अभियान शुरू किया. गरीब-अमीर, गांव-शहर, दूर-सुदूर, देश का एक ही मंत्र रहा कि अगर बीमारी भेदभाव नहीं करती तो वैक्सीन में भी भेदभाव नहीं हो सकता.  इसलिए ये सुनिश्चित किया गया कि वैक्सीनेशन अभियान पर VIP कल्चर हावी न हो. हमारे लिए लोकतंत्र का मतलब है-‘सबका साथ'. भारत का पूरा वैक्सीनेशन प्रोग्राम विज्ञान की कोख में जन्मा है. वैज्ञानिक आधारों पर पनपा है और वैज्ञानिक तरीकों से चारों दिशाओं में पहुंचा है. हम सभी के लिए गर्व करने की बात है कि भारत का पूरा वैक्सीनेशन प्रोग्राम, Science Born, Science Driven और Science Based रहा है.

वोकल फॉर लोकल का मंत्र अपनाएं
उन्होंने आगे कहा कि पीएम जैसे स्वच्छ भारत अभियान, एक जनआंदोलन है, वैसे ही भारत में बनी चीज खरीदना, भारतीयों द्वारा बनाई चीज खरीदना, वोकल फॉर लोकल होना, ये हमें व्यवहार में लाना ही होगा. मैं आपसे फिर ये कहूंगा कि हमें हर छोटी से छोटी चीज, जो मेड इन इंडिया हो, जिसे बनाने में किसी भारतवासी का पसीना बहा हो, उसे खरीदने पर जोर देना चाहिए और ये सबके प्रयास से ही संभव होगा.

उन्होंने आखिर में देश की जनता से आग्रह किया कि कवच कितना ही उत्तम हो, आधुनिक हो, सुरक्षा की पूरी गारंटी हो, तब भी जब तक युद्ध चल रहा है, हथियार नहीं डाले जाते.  हमें अपने त्योहारों को पूरी सतर्कता के साथ ही मनाना है. देश बड़े लक्ष्य तय करना और उन्हें हासिल करना जानता है, लेकिन इसके लिए हमें सतत सावधान रहने की जरूरत है.हमें लापरवाह नहीं होना है. (ndtv.in)
 

OSD फोन टैपिंग मामले में पूछताछ के लिए दिल्ली पुलिस के पास पहुंचे राजस्थान के CM अशोक गहलोत
22-Oct-2021 12:55 PM (24)

नई दिल्ली: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के OSD फोन टैपिंग मामले में आज दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच रोहिणी दफ्तर पहुंचे. क्राइम ब्रांच ने 17 अक्टूबर को नोटिस जारी कर 22 अक्टूबर को पेश होने के लिए कहा था. उनसे फोन टेपिंग मामले में पूछताछ होगी. (ndtv.in)
 

किसानों के प्रदर्शन स्थल पर एक और शख्स की निहंग ने की पिटाई, मुर्गा न देने पर तोड़ दी टांग
22-Oct-2021 12:54 PM (20)

सोनीपत: दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर जहां किसानों का लंबे समय से विरोध-प्रदर्शन चल रहा है, वहां एक और निहंग ने एक शख्स की पिटाई कर दी है. आरोप है कि निहंग ने कथित तौर पर मुफ्त में मुर्गा नहीं देने पर मनोज पासवान नाम के एक मजदूर की टांग तोड़ दी. मनोज बिहार का रहने वाला है और कई वर्षों से वहां मजदूरी करता है. पुलिस ने आरोपी निहंग को धर दबोचा है.

बताया जा रहा है कि जब पीड़ित मनोज पासवान विरोध-प्रदर्शन स्थल से अपना रिक्शा लेकर गुजर रहा था, तभी निहंग ने उसका रास्ता रोका और उससे कथित तौर पर मुफ्त में मुर्गा देने को कहा. जब मनोज ने इससे इनकार किया तो नहिंग ने कथित तौर पर उसकी पिटाई कर दी और उसकी टांग तोड़ दी. सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल मनोज को अस्पताल में भर्ती कराया है.

बता दें कि कुछ दिनों पहले इसी प्रदर्शन स्थल से निहंगों ने पंजाब के एक मजदूर लखबीर सिंह की पीट-पीटकर नृशंस तरीके से हत्या कर दी थी और उसके बाएं हाथ की कलाई और एक पैर काट दिया था. लखबीर पर कथित तौर पर गुरु ग्रंथ साहिब के अपमान का निहंगों ने आरोप लगाया था. (ndtv.in)
 

बहादुरगढ़ में ट्रक ने मारी कार को टक्कर, 8 की मौत, गोगामेड़ी से दर्शन करके लौट रहा था परिवार
22-Oct-2021 12:54 PM (17)

नई दिल्ली: हरियाणा के बहादुरगढ़ में बड़ा दर्दनाक सड़क हादसा हुआ है, जिसमें एक ही परिवार के आठ लोगों की मौत हो गई. मरनेवालों में 3 महिलाएं और एक बच्ची भी शामिल है. ये हादसा  केएमपी एक्सप्रेसवे पर हुआ, जहां तेज रफ्तार ट्रक ने गाड़ी को पीछे से टक्कर मारी. ट्रक चालक मौके से फरार है. पुलिस मामले की जांच में जुटी है. पीड़ित परिवार यूपी के फिरोजाबाद का रहने वाला था. फिरोजाबाद के नगल अनूप गांव के लोग गोगा मेड़ी से दर्शन करके घर लौट रहे थे. ये लोग किराये कि अर्टिका गाड़ी लेकर निकले थे. हादसे के समय गाड़ी में 11 लोग सवार थे.  केएमपी रोड पर गाड़ी को लघुशंका के लिए रोका गया था.  इस हादसे में गाड़ी का ड्राइवर, एक महिला और एक बच्ची ही बच पाए हैं.

बता दें कि हादसे के वक्त चालक और एक महिला गाड़ी से बाहर से इसलिए उन्हें चोट नहीं लगी, वहीं एक घायल बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है. घायल बच्ची को इलाज के लिए बहादुरगढ़ के सामान्य अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. छोटी बच्ची के पैर में गंभीर चोटें आई हैं. पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है. ट्रक चालक की तलाश की जा रही है.

इस हादसे में साफ है कि ट्रक चालक ने खड़ी कार में टक्कर मार दी. पिछले दिनों पंजाब से भी खबर आई थी, जहां एक कार ने सड़क के कोने पर खड़ी लड़कियों को कुचल दिया था. जालंधर फगवाड़ा हाइवे पर धनोवाली के पास सोमवार सुबह एक तेज रफ्तार ब्रिजा कार ने दो युवतियों को कुचल डाला. हादसे में एक युवती की मौके पर ही मौत हो गई. मृतका की पहचान धन्नोवाली की रहने वाली नवजोत कौर के रूप में हुई है. बताया जा रहा है कि नवजोत कौर कॉस्मो हुंडई में काम करती थी. वह अपनी सहेली के साथ पैदल ही जा रही थी कि तेज रफ्तार कार ने दोनों को चपेट में ले लिया. हादसे में नवजोत की मौके पर ही मौत हो गई थी. (ndtv.in)

यूपी सरकार की याचिका पर ट्विटर इंडिया के पूर्व एमडी मनीष माहेश्वरी को SC का नोटिस
22-Oct-2021 12:53 PM (17)

नई दिल्ली : ट्विटर इंडिया के पूर्व एमडी मनीष माहेश्वरी के खिलाफ लोनी में FIR का मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जवाब मांगा है. दरअसल, यूपी पुलिस की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने मनीष माहेश्वरी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा. इस मामले को लेकर गाजियाबाद पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है. CJI एनवी रमना ने कहा कि हमें इस मामले को सुनना होगा. दरअसल, गाजियाबाद पुलिस ने कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले को दी चुनौती है. कर्नाटक हाईकोर्ट ने गाजियाबाद पुलिस को यह निर्देश दिया कि वे ट्‌विटर के एमडी के खिलाफ कोई सख्त कदम न उठाएं. गौरतलब है कि गाजियाबाद में एक वृद्ध का वीडियो वायरल हुआ था, जिसके बाद एमडी के खिलाफ शिकायत दर्ज की गयी थी.

बता दें कि कर्नाटक हाईकोर्ट ने ट्विटर इंडिया के एमडी मनीष माहेश्वरी को बड़ी राहत देते हुए यूपी पुलिस के उस नोटिस को रद्द कर दिया है, जिसमें उनको जांच के लिए बुलाया गया था.शुक्रवार को अपना फैसला सुनाते हुए हाईकोर्ट ने कहा कि सेक्शन 41 ए के तहत नोटिस का भेजा जाना ऐसा लगता है कि किसी दुर्भावनापूर्ण से ये भेजा गया है. सेक्शन 160 के तहत नोटिस भेजा जाना चाहिए. इस मामले में यूपी पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर इसे चुनौती दी है. (ndtv.in)
 

ड्राइंग रूम में लगाई है चाणक्य की तस्वीर, 3.5 दशक से कर रहे BJP का चुनाव प्रबंधन, गुजरात में ऐसे तोड़ी थी कांग्रेस की कमर
22-Oct-2021 12:53 PM (21)

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अमित शाह को मौजूदा राजनीति का चाणक्य और चुनाव जिताऊ राजनेता कहा जाता है. इसके पीछे उनका चुनावी रणकौशल, आंकड़ों की बाजीगरी, माइक्रो लेवल पर प्लानिंग, नए टैलेंट को अपने साथ करने की शक्ति, धुर राजनीतिक विरोधियों को भी तोड़कर आत्मसात कर लेने की कला और हर हाल में पार्टी के विस्तार की अद्भुत क्षमता है.

नरेंद्र मोदी के साथ निभाई शुरुआती भूमिका:
1990 के दौर में जब गुजरात में राजनीतिक उथल-पुथल मची थी और राज्य में सत्ताधारी कांग्रेस के सामने बीजेपी एकमात्र बड़ी विपक्षी पार्टी थी, तब अमित शाह ने गुजरात बीजेपी के तत्कालीन संगठन सचिव नरेंद्र मोदी के निर्देशन में पार्टी के प्राथमिक सदस्यों का न केवल आंकड़ा जुटाया था बल्कि उसका दस्तावेजीकरण भी किया था. यह बीजेपी के लिए एक चुनावी ताकत बनकर उभरा था. इससे बीजेपी गुजरात के ग्रामीण स्तर तक फैल गई और 1995 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी सत्ता में आ गई. इसके बाद से बीजेपी ने गुजरात में फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा.

हालांकि, 1995 में बनी बीजेपी की सरकार 1997 में गिर गई लेकिन बीजेपी कार्यकर्ताओं में जोश जाग चुका था. इस दौरान अमित शाह ने गुजरात प्रदेश वित्त निगम के अध्यक्ष के तौर पर दूसरा बड़ा करिश्मा कर डाला था. उन्होंने निगम को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड करवा डाला. इसके बाद उन्होंने गुजरात में सहकारी आंदोलन पर कांग्रेस की पकड़ कुंद कर डाली और आंकड़ों की कलाबाजी से सहकारी बैंकों, डेयरियों और कृषि मंडियों तक पैठ बना वहां के चुनाव जीतने शुरू कर दिए.

मुंबई में गुजराती परिवार में हुआ जन्म:
22 अक्टूबर, 1964 को मुंबई में जन्मे अमित शाह की पॉलिटिकल एंट्री 19 साल के तेज तर्रार नवयुवक के तौर पर 1983 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में हुई. करीब ढाई साल बाद ही उन्होंने बीजेपी ज्वाइन कर लिया और अगले ही साल बीजेपी युवा मोर्चा के सदस्य बन गए.  पार्टी ने उन्हें सबसे पहला प्रोजेक्ट अहमदाबाद नगर निगम चुनाव में नारणपुरा वार्ड की जिम्मेदारी दी, जहां उन्होंने जीत दिलाई. इसके बाद वह युवा मोर्चा के कोषाध्यक्ष फिर राज्य सचिव बनाए गए.

अटल-आडवाणी का कर चुके चुनाव प्रबंधन:
1989 के लोकसभा चुनावों में उन्हें गांधीनगर सीट पर लालकृष्ण आडवाणी के चुनाव प्रबंधन का काम सौंपा गया. इसके बाद लगातार 2009 तक अमित शाह आडवाणी के लिए गांधीनगर में चुनाव प्रबंधन करते रहे. जब पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गांधीनगर से चुनाव लड़ा था, तब भी अमित शाह ने ही चुनाव प्रबंधन का काम संभाला था.

शुद्ध शाकाहारी हैं शाह:
अपने ड्राइंग रूम में चाणक्य और सावरकर की तस्वीर लगाने वाले अमित शाह विशुद्ध शाकाहारी हैं. उन्होंने पहला चुनाव 1997 में लड़ा. उन्होंने सरखेज विधान सभी सीट पर हुए उपचुनाव में 25,000 वोटों के अंतर से जीत दर्ज की थी. इसके अगले ही साल यानी 1998 के चुनावों में उन्होंने इसी सीट से 1.30 लाख वोटों को अंतर से बड़ी जीत दर्ज की थी. इसके बाद उन्होंने इसी सीट से 2002 और 2007 का भी चुनाव जीता.साल 2012 में उन्होंने नरनपुरा से चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की.

केंद्रीय राजनीति में चुनाव जिताऊ भूमिका:
साल 2013 में उन्होंने केंद्रीय राजनीति में कदम रखा. उन्हें पार्टी महामंत्री बनाया गया. उन्होंने देशभर में व्यापक दौरे किए और 2014 के चुनावों की व्यापक रणनीति बनाई. शाह ने सभी राज्यों में छोटे-छोटे दलों के साथ गठबंधन किया. इसके तहत उन्होंने खासतौर पर पिछड़ी, अति पिछड़ी जाति के कई नेताओं के बीजेपी के साथ लाया और पार्टी को ब्राह्मणों और बनियों की पार्टी की इमेज से बाहर निकालने की कोशिश की.

इसका असर 2014 के चुनावों में नरेंद्र मोदी की प्रतिभा के प्रदर्शन के तालमेल के साथ दिखा और पार्टी को बड़ी जीत हासिल हुई. 2019 के आम चुनावों से पहले उन्होंने न केवल बीजेपी को 11 करोड़ कार्यकर्ताओं की पार्टी बनाया बल्कि मोदी सरकार की योजनाओं से लाभान्वित लोगों का डेटा जुटाकर उसे वोट बैंक में तब्दील करने में बड़ी सार्थक भूमिका निभाई. (ndtv.in)
 

क्रूज ड्रग्‍स मामले में अनन्‍या पांडे से आज लगातार दूसरे दिन पूछताछ करेगी NCB
22-Oct-2021 12:52 PM (19)

मुंबई : अभिनेत्री अनन्या पांडे से गुरुवार को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने करीब दो घंटे तक पूछताछ की. एनसीबी ने अनन्‍या के मुंबई स्थित घर पर छापा मारा और क्रूज ड्रग्‍स मामले की जांच के लिए उनका लैपटॉप और मोबाइल फोन भी जब्त किया था. इस महीने की शुरुआत में आर्यन खान और अन्य को इसी मामले में गिरफ्तार किया गया था. अनन्या पांडे को आज सुबह 11 बजे फिर से पूछताछ के लिए बुलाया गया है. गुरुवार को अनन्‍या अपने पिता और अभिनेता चंकी पांडे के साथ एनसीबी कार्यालय पहुंची थी.

22 वर्षीय अभिनेत्री अनन्‍या पांडे ने साल 2019 में फिल्मों में डेब्यू किया था. उनका नाम कथित तौर पर 2 अक्टूबर को क्रूज पर आयोजित एक रेव पार्टी के दौरान जब्त ड्रग्स मामले में एक आरोपी के व्हाट्सएप चैट में सामने आया था.

एनसीबी के एक अधिकारी ने कहा, "उनसे पूछताछ की जा रही है इसका मतलब यह नहीं है कि वह आरोपी है."

शाहरुख खान के 23 वर्षीय बेटे आर्यन खान, उनके दोस्त अरबाज मर्चेंट और कई अन्य लोगों को क्रूज पर छापे के बाद एनसीबी अधिकारियों द्वारा गिरफ्तार किया गया था. आर्यन खान के खिलाफ मामला पूरी तरह से उनके व्हाट्सएप चैट पर आधारित है, उनके पास से कोई ड्रग्‍स नहीं मिली है.

अनन्‍या पांडे और आर्यन खान उन स्‍टार किड्स में शामिल हैं, जिन्‍हें आपसी मेल-जोल के लिए जाना जाता है. अनन्‍या और आर्यन की बहन सुहाना दोनों बेस्‍ट फ्रेंड हैं.

आर्यन खान 8 अक्‍टूबर से जेल में हैं. बुधवार को उन्‍हें कोर्ट ने जमानत देने से मना कर दिया था और कहा था कि उनके व्‍हाट्सएप चैट से गैरकानूनी ड्रग्‍स गतिविधियों में उनकी संलिप्‍तता का पता चलता है.
(ndtv.in)

यूपी में सेना में भर्ती कराने के नाम पर युवाओं को ठगने के आरोप में 6 गिरफ्तार
21-Oct-2021 8:46 PM (55)

चंदौली (उत्तर प्रदेश), 21 अक्टूबर | चंदौली पुलिस ने सेना में नौकरी भर्ती के नाम युवाओं से धोखाधड़ी करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है और इसके 6 सदस्यों को धनपुर से गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक अमित कुमार ने कहा कि गिरोह के सरगना की उपस्थिति के संबंध में, जिसे जबलपुर पुलिस द्वारा एक मामले में दर्ज किया गया था। स्पेशल विपंस एण्ड टैक्टिस (स्वाट) की निगरानी सेल और धनापुर पुलिस की एक संयुक्त टीम ने बुधवार को चाहनिया-धनपुर मार्ग की घेराबंदी की और सेना की वर्दी में चार धोखेबाजों को ले जा रही एक एसयूवी को रोक लिया था।

वाहन से दो पिस्तौल, एक सेना की टोपी और जाली दस्तावेज बरामद किए गए। पुलिस ने उन्हें पूछताछ के लिए हिरासत में लिया और एसयूवी को जब्त कर लिया।

गिरफ्तार लोगों की पहचान रविकांत यादव, रिंकू सिंह यादव, रोहित यादव उर्फ धुक्कू, देवेंद्र श्रीवास्तव, विकास सिंह और दीपक यादव के रूप में हुई है।

उनके पास से एक मोटरसाइकिल, दो देशी पिस्तौल, जिंदा कारतूस, सेना की वर्दी, नौ मोबाइल फोन, एटीएम कार्ड, पासबुक और विभिन्न बैंकों की चेक बुक, कंप्यूटर, जाली दस्तावेज और नकली टिकट बरामद किए गए हैं।

पूछताछ के दौरान रविकांत ने खुलासा किया कि वह अनुचित तरीकों से सेना में भर्ती होने में कामयाब रहा, लेकिन सत्यापन प्रक्रिया के दौरान प्रशिक्षण सत्र से बाहर कर दिया गया, जिसके बाद उसने एक गिरोह बनाया और सेना में भर्ती की तैयारी कर रहे युवाओं को निशाना बनाना शुरू कर दिया।

उसके गिरोह ने सेना भर्ती प्रक्रिया के लिखित और मेडिकल टेस्ट को पास करने के लिए प्रत्येक उम्मीदवार से पांच लाख रुपये लिए। उसने ऐसे 20 से अधिक उम्मीदवारों को निशाना बनाया और उनसे लिए गए रुपयों को घर, मोटरसाइकिल और शौक पूरे करने पर खर्च करता था।(आईएएनएस)

कांग्रेस ने मुझ पर भरोसा न कर अपने ही हितों को नुकसान पहुंचाया : अमरिंदर
21-Oct-2021 8:45 PM (79)

 चंडीगढ़, 21 अक्टूबर | लोगों के हितों की सेवा के लिए अपना खुद का राजनीतिक संगठन शुरू करने की घोषणा के दो दिन बाद पंजाब के दो बार मुख्यमंत्री रह चुके अमरिंदर सिंह ने गुरुवार को एआईसीसी महासचिव हरीश रावत की आलोचना करते हुए कहा कि कांग्रेस ने उन पर भरोसा न करके और पार्टी को नवजोत सिंह सिद्धू जैसे 'अस्थिर व्यक्ति' के हाथों में देकर अपने हितों को नुकसान पहुंचाया है।

उनके मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने एक ट्वीट में अमरिंदर सिंह के हवाले से कहा, "आपकी आशंका यह है कि मैं पंजाब में कांग्रेस के हितों को नुकसान पहुंचाऊंगा.. हरीश रावत जी, तथ्य यह है कि पार्टी ने मुझ पर भरोसा न करके और पंजाब कांग्रेस को नवजोत सिंह सिद्धू जैसे अस्थिर व्यक्ति के हाथों में देकर अपने स्वयं के हितों को नुकसान पहुंचाया है, जो कि केवल खुद के प्रति वफादार हैं।"

ट्वीट्स की एक श्रृंखला में, अमरिंदर सिंह ने रावत, जो पंजाब मामलों के प्रभारी हैं, से पूछा, "हरीश रावत जी, आज आप मुझ पर मेरे प्रतिद्वंद्वी अकाली दल को साढ़े चार साल तक मदद करने का आरोप लगा रहे हैं। क्या इसलिए आपको लगता है कि मैं पिछले 10 सालों से उनके खिलाफ कोर्ट केस लड़ रहा हूं? और 2017 के बाद से मैंने पंजाब में कांग्रेस के लिए सभी चुनाव क्यों जीते हैं?"

पूर्व मुख्यमंत्री की प्रतिक्रिया रावत के यह कहने के एक दिन बाद आई है कि अमरिंदर की नई पार्टी बनाने की घोषणा से पंजाब में कांग्रेस को नुकसान नहीं होगा।

रावत ने कहा कि यह वास्तव में राज्य में कांग्रेस के प्रतिद्वंद्वियों के वोटों को विभाजित करेगा। रावत ने कहा, "हमारा वोट चरणजीत सिंह चन्नी सरकार के प्रदर्शन पर निर्भर करेगा। चन्नी ने जिस तरह से शुरुआत की है, उसने पंजाब और पूरे देश के सामने एक अच्छी छाप छोड़ी है।"

इस बीच, राज्य पार्टी अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह को तीन काले कृषि कानूनों के वास्तुकार के तौर पर दोषी ठहराया।

सिद्धू ने कृषि कानूनों के अमल में आने पर खेती में बड़े उद्योगपतियों का दखल बढ़ने के किसानों के आरोपों के संदर्भ में ट्वीट करते हुए कहा, "तीन काले कानूनों के वास्तुकार.. जो अंबानी को पंजाब की किसानी में लाए.. जिन्होंने एक-दो बड़े कॉर्पोरेट के लाभ के लिए पंजाब के किसानों, छोटे विक्रेताओं और मजदूरों को बर्बाद किया।"

सिद्धू ने हालांकि इस ट्वीट में अमरिंदर सिंह का सीधे तौर पर नाम तो नहीं लिया, लेकिन इसके साथ उनका एक वीडियो साझा कर उन्हें कृषि कानूनों का वास्तुकार करार दिया।(आईएएनएस)

अदाणी पर आई खबरों के खिलाफ निवेशकों के आवेदन की जांच कर रही अहमदाबाद क्राइम ब्रांच
21-Oct-2021 8:44 PM (67)

गांधीनगर, 21 अक्टूबर | अहमदाबाद पुलिस की अपराध शाखा ने तीन स्टॉक निवेशकों द्वारा दायर एक आवेदन की जांच करते हुए दावा किया है कि अदाणी समूह पर भ्रामक समाचार रिपोर्टों के कारण उनके निवेश पर भारी नुकसान हुआ है और इसके पीछे एक साजिश का आरोप लगाते हुए, एक संपादक सहित दो मीडिया हाउस के चार पत्रकारों को तलब किया है। अहमदाबाद के कुछ निवेशकों ने अपराध शाखा के समक्ष एक आवेदन दायर कर आरोप लगाया कि अदाणी समूह में एफपीआई की संदिग्ध हिस्सेदारी के बारे में भ्रामक, असत्य और असत्यापित कहानी प्रकाशित करके देश के निवेशकों को धोखा देने की देशव्यापी साजिश रची गई है।

अहमदाबाद अपराध शाखा के पुलिस निरीक्षक निखिल ब्रह्मभट्ट ने आईएएनएस से कहा, "सीआरपीसी की धारा 160 के प्रावधानों के तहत जांच अधिकारी समन जारी कर सकता है और हमने आवेदन के संबंध में एक प्रमुख समाचार चैनल के एंकर के साथ-साथ एक संपादक सहित एक प्रमुख वित्तीय समाचार पत्र के तीन पत्रकारों को तलब किया है। आवेदन अदाणी समूह के बारे में भ्रामक समाचारों के कारण भारी नुकसान का दावा करने वाले अहमदाबाद के तीन निवेशकों द्वारा दायर किया गया।"

उन्होंने कहा, "अपराध शाखा ने आवेदन के संबंध में सभी चार पत्रकारों के साथ-साथ स्टॉक एक्सचेंज के अधिकारी के बयान दर्ज किए हैं। हम आवेदन की जांच कर रहे हैं और जांच कर रहे हैं कि क्या टीवी मीडिया आउटलेट्स द्वारा स्पष्ट इरादों और इससे संबंधित अन्य चिंताओं के साथ साजिश रची गई थी। अगर एसीबी को आवेदन में किए गए दावों में कोई योग्यता मिलती है, तो हम मीडिया आउटलेट्स के खिलाफ औपचारिक शिकायत दर्ज करेंगे।"

पुलिस ने कहा कि आवेदन चैनल और अखबार द्वारा उपरोक्त विषय पर प्रसारित समाचारों के आधार पर दायर किया गया था। आवेदन के अनुसार, उस दिन 'भ्रामक और असत्यापित समाचार' प्रसारित करके देश के निवेशकों के खिलाफ साजिश रची जा रही थी।

आवेदन में कहा गया है कि अदाणी समूह की कंपनियों के शेयरों में भारी गिरावट आई, जिससे निवेशकों को नुकसान हुआ। याचिका में कहा गया है कि अहमदाबाद के कुछ निवेशकों को समाचार चैनल द्वारा चलाए जा रहे इस तरह के 'भ्रामक अभियान' के कारण भारी मौद्रिक नुकसान हुआ।(आईएएनएस)

सुप्रीम कोर्ट पैनल ने असम सरकार से काजीरंगा वाइल्डलाइफ कॉरिडोर्स में अवैध निर्माण हटाने को कहा
21-Oct-2021 8:43 PM (632)

 गुवाहाटी, 21 अक्टूबर | सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित केंद्रीय अधिकार प्राप्त समिति (सीईसी) ने असम सरकार से काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व के नौ चिन्हित वाइल्डलाइफ कॉरिडोर्स (वन्यजीव गलियारों) में किए गए अवैध निर्माण को हटाने के लिए तत्काल कार्रवाई करने को कहा है। असम वन विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि सीईसी के सदस्य-सचिव अमरनाथ शेट्टी ने मुख्य सचिव जिष्णु बरुआ को लिखे पत्र में चार सप्ताह के भीतर कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है।

पत्र में कहा गया है, "यह अनुरोध किया जाता है कि 12 अप्रैल, 2019 के सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का उल्लंघन करते हुए किए गए सभी निर्मार्णों को हटाने के लिए तत्काल कार्रवाई की जाए और नौ चिन्हित एनिमल कॉरिडोर्स में किसी भी नए निर्माण की अनुमति न दी जाए।"

सीईसी ने केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के एकीकृत क्षेत्रीय कार्यालय, गुवाहाटी, प्रमुख हेमेन हजारिका द्वारा 10 सितंबर को प्रस्तुत निरीक्षण रिपोर्ट का भी उल्लेख किया है, जिसमें वन उप महानिरीक्षक (मध्य) लैक्टिटिया जे. सिएमियोंग की रिपोर्ट संलग्न है, जो कि '12 अप्रैल, 2019 के सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के उल्लंघन पर पेश की गई है।'

अधिकारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने पहले निजी भूमि पर नए निर्माण पर रोक लगा दी थी, जो काजीरंगा के नौ पहचाने गए गलियारों का हिस्सा है, जो 2,400 से अधिक एक सींग वाले भारतीय गैंडों का घर है।

शीर्ष अदालत ने इन गलियारों में सभी तरह के खनन पर भी रोक लगा दी थी।

काजीरंगा के निदेशक, कर्मश्री पी. शिवकुमार के साथ, सिएमियोंग ने अगस्त में नौ गलियारों में से आठ पर निर्माण गतिविधियों का अध्ययन किया था।

सीईसी के पत्र में कहा गया है कि एनिमल कॉरिडोर के नौ में से पूरे आठ हिस्सों को पार करने के बाद फील्ड स्तर पर निरीक्षण किया गया, जहां पाया गया कि चारों तरफ अवैध निर्माण हुआ है।

पैनल सदस्य की ओर से लिखे गए पत्र में कहा गया है कि अवैध निर्माणों के अलावा, केएनपी और टीआर के जानवरों के लिए सबसे बड़ी दिक्कत ट्रकों आदि की उपस्थिति से है। हाल के दिनों में यह देखा गया है कि ट्रक, टैंकर और अन्य वाहन सड़क पर पार्क करने के लिए रुक रहे हैं। पत्र में कहा गया है कि इससे जंगली जानवरों की आवाजाही में अनावश्यक बाधा पैदा होती है।

इसमें यह भी कहा गया है कि निरीक्षण के दौरान 500 से अधिक ट्रक और वाहन देखे गए थे और कार्बी-आंगलोंग हिल रेंज से निकलने वाली नदियों और नालों के पानी का उपयोग ड्राइवरों और सहायकों द्वारा स्नान करने और वाहनों की धुलाई के लिए किया जा रहा था, जिससे काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान की ओर जाने वाला पानी प्रदूषित हो रहा था।

इसके अलावा पत्र में इस बात की ओर भी इशारा किया गया है कि ऑटोमोबाइल गैरेज से तेल और ग्रीस, वाहन धोने से अपशिष्ट जल, ढाबों और होटलों से आने वाला सीवेज पानी डिफालो नदी में प्रवेश कर रहा है, जो काजीरंगा की जीवन रेखा है। वहीं ध्वनि प्रदूषण के कारण भी उद्यान का वातावरण बिगड़ने की बात कही गई है।(आईएएनएस)

स्पेन ने 3 टन कोकीन की तस्करी करने वाले डच-तुर्की गिरोह का किया भंडाफोड़
21-Oct-2021 8:42 PM (43)

 नई दिल्ली, 21 अक्टूबर | स्पेनिश पुलिस ने 17 अक्टूबर को कोकीन तस्करों के एक डच गिरोह को हिरासत में लिया है, जिसमें ज्यादातर तुर्की मूल के लोग हैं। वे सेलबोट्स से लैटिन अमेरिकी देशों से यूरोप में कोकीन की तस्करी कर रहे थे। स्पेन की पुलिस ने कोस्टा डेल सोल के तट से दूर सेलबोट 'गोल्डवासर' पर एक अभियान चलाया था। पुलिस को शुरू में सेलबोट पर 2.5 टन कोकीन मिली, लेकिन जब नाव को उत्तर-पश्चिमी स्पेन के विगो में ले जाया गया, तो 500 किलो और कोकीन मिली। जब्त की गई तीन टन कोकीन इस ऑपरेशन को स्पेनिश पुलिस के लिए सबसे बड़े ड्रग भंडाफोड़ में से एक माना जा रहा है। पुलिस ने गिरोह के सदस्यों के घरों में एक साथ अभियान चलाया, जहां उन्होंने हथियार और लगभग 35,000 यूरो नकद जब्त किए।

अभियान के तहत गिरोह के 60 वर्षीय नेता समेत कम से कम पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है। डच नागरिक तुर्की मूल के हैं और गिरोह के सदस्यों में एक स्वीडन के साथ-साथ अमेरिकी नागरिक और लैटिन अमेरिकी के भी हैं।

ग्लोबल ऑर्गनाइज्ड क्राइम इंडेक्स 2021 में तुर्की 12वें स्थान पर है, जिसे 28 सितंबर, 2021 को ग्लोबल इनिशिएटिव अगेंस्ट ऑर्गनाइज्ड क्राइम द्वारा प्रकाशित किया गया था। वहीं, ईरान (7.10), अफगानिस्तान (7.08) और इराक (7.05) को छोड़कर, तुर्की का आपराधिकता स्कोर 10 में से 6.89 था, जो यूरोप के साथ-साथ एशिया में किसी भी अन्य देश की तुलना में अधिक था।

सूचकांक 'अपराधिक', 'आपराधिक मार्केट', 'आपराधिक अभिनेताओं' और 'रेजिलिएंस' और उनकी उप-श्रेणियों की श्रेणियों में देशों और क्षेत्रों में अपराध की जांच करता है।

6.4 अंकों के साथ तुर्की आपराधिक श्रेणी में दुनिया भर में 13वें स्थान पर है। वहीं, मानव ट्रैफिकिंग में 7.0, मानव तस्करी में 9.0, वनस्पति अपराधों में 4.0 और जीव अपराधों में 3.0 अंक प्राप्त किए हैं।

हथियारों की तस्करी रैंकिंग में डेमोक्रेटिककांगो और इराक के साथ पहला स्थान साझा करते हुए तुर्की मानव ट्रैफिकिंग रैंकिंग में सबसे ऊपर है।

क्रिमिनल एक्टर्स इंडेक्स में तुर्की ने 7.38 स्कोर किया और 12वें स्थान पर रहा। इसने 'माफिया-शैली के समूहों' में 8.0, 'आपराधिक नेटवर्क' में 7.5, 'राज्य-एम्बेडेड आपराधिक अभिनेताओं' में 9.0 और 'विदेशी अभिनेताओं' में 5.0 स्कोर किया है।

स्टेट-एम्बेडेड एक्टर्स श्रेणी में, तुर्की सीरिया के बाद दूसरे स्थान पर है, जिसने 10 में से 10 स्कोर किए हैं। डेमोक्रेटिक कांगो, दक्षिण सूडान और अफगानिस्तान ने भी इस श्रेणी में 9.0 स्कोर किया है।

तुर्की, जो रिपोर्ट में 'उच्च अपराध दर-निम्न विरोध' श्रेणी में 57 देशों में शामिल है। रेजिलिएंस इंडेक्स में संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देशों में 151वें स्थान पर है। तुर्की का औसत रेजिलिएंस स्कोर 3.54 है और उप-श्रेणियों में इसके स्कोर क्षेत्रीय अखंडता में 6.5, एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग सिस्टम में 2.0, आर्थिक विनियमन क्षमता में 4.0, पीड़ित और गवाह समर्थन में 4.0, अपराध की रोकथाम में 3.5 और गैर-राज्य के खिलाफ अभिनेता में 3.5 पर हैं।

तुर्की नशीले पदार्थों की तस्करी का गढ़ बनता जा रहा है। 'मिडास-बैलेस्ट्रिंक' नामक वर्तमान स्पैनिश पुलिस ऑपरेशन की तैयारी 2019 में की गई थी, जब स्पेनिश पुलिस ने समुद्र के द्वारा कोकीन के परिवहन के संदिग्ध लोगों को निर्धारित करने के लिए खुफिया काम किया था। बाद में, पुलिस ने कोस्टा डेल सोल और जिब्राल्टर के बीच नौकायन करने वाली नौकाओं पर फोकस किया।

बाद में, स्पेनिश अधिकारियों ने निर्धारित किया कि ड्रग गिरोह ने 'गोल्डवासर' सेलबोट खरीदा था। तुर्की ने वर्तमान सरकार के समर्थन से एक सुस्थापित अपराध नेटवर्क विकसित किया है। इस नेटवर्क का भंडाफोड़ करने में माफिया डॉन सेदत पीकर का काफी महत्वपूर्ण योगदान रहा है, जिसे सरकार की मदद से पकड़ा गया था। उसके खुलासे से पता चला है कि सरकार हथियारों की तस्करी, मानव तस्करी और अब मादक पदार्थों की तस्करी में शामिल है।(आईएएनएस)

प्रयागराज में एक वन्यजीव फोटोग्राफर ने देखा दुर्लभ प्रजाति का उल्लू
21-Oct-2021 8:41 PM (52)

प्रयागराज (यूपी), 21 अक्टूबर | प्रयागराज में एक दुर्लभ और लुप्तप्रजाति का उल्लू (स्ट्रिक्स ओसेलटा) देखा गया है। एक वन्यजीव फोटोग्राफर और कैंसर सर्जन, डॉ अर्पित बंसल ने उल्लू की दुर्लभ प्रजाति की एक तस्वीर क्लिक की है।

मध्य भारत के जंगलों में पाए जाने वाले मटमैले लकड़ी के उल्लुओं को 2016 से इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर (कवउठ) की रेड लिस्ट में 'खतरनाक प्रजाति' के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

डॉ बंसल ने चित्तीदार उल्लू, जंगल उल्लू, खलिहान उल्लू और भारतीय स्कॉप्स उल्लू को भी क्लिक किया है, जो सभी विलुप्त होने के खतरे का सामना कर रहे हैं।

डॉ बंसल ने कहा कि भारत में पाई जाने वाली पक्षियों की 1,349 प्रजातियों में से वह 887 फोटो खींच चुके हैं।

भारत में उल्लुओं की कुल 36 प्रजातियाँ पाई जाती हैं और डॉक्टर ने उनमें से 32 की तस्वीरें खींची हैं।

डॉ बंसल ने कहा, मोटेल्ड वुड उल्लू एक नई प्रजाति है जो मैंने पहली बार शहर में इबर्ड डॉट ओर.के अनुसार फोटो खिंचवाई थी। यह हरिश्चंद्र रिसर्च इंस्टीट्यूट (एचआरआई) परिसर के पास झूंसी क्षेत्र में फोटो खिंचवाया गया था। इसके साथ, मैंने कुल पांच लुप्तप्राय क्लिक किए हैं।

उन्होंने कहा, यह एक दुर्लभ खोज है और हमें लोगों को जागरूक करने की जरूरत है ताकि वे पक्षी की रक्षा करने में मदद कर सकें।

जैसा कि एक आम प्रथा है, दिवाली के दौरान देश में काले जादू के नाम पर उल्लू को अवैध रूप से पकड़ा जाता है और उसकी बलि दी जाती है।

भारतीय लोककथाओं के अनुसार, उल्लू ज्ञान और सहायकता का प्रतिनिधित्व करता है, और भविष्यवाणी करने की शक्ति रखता है। अठारहवीं शताब्दी के दौरान उल्लुओं के प्राणी संबंधी पहलुओं को बारीकी से अवलोकन के माध्यम से विस्तृत किया गया।

जिला वन अधिकारी (डीएफओ) प्रयागराज, रमेश चंद्र ने कहा कि पक्षी प्रेमियों और संरक्षणवादियों द्वारा प्रयागराज में पिछले कुछ वर्षों में 250 से अधिक पक्षी प्रजातियों को देखा गया है।

हम शहर और उसके आसपास उल्लू की कुछ प्रजातियों जैसे जंगल उल्लू, चित्तीदार उल्लू, कॉलर वाले स्कॉप्स उल्लू, छोटे कान वाले उल्लू और रॉक ईगल उल्लू की उपस्थिति से अवगत है। लुप्तप्राय धब्बेदार लकड़ी के उल्लू को देखना अच्छी खबर है और उन्हें नुकसान से बचाने के लिए सभी प्रयास किए जाएंगे।(आईएएनएस)

उत्तराखंड: 64 की मौत, 3500 लोग का रेस्क्यू, 16 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया
21-Oct-2021 8:40 PM (60)

 नई दिल्ली, 21 अक्टूबर | उत्तराखंड में आई अचानक तेज बरसात के कारण हुए घटनाओं में अभी तक 64 व्यक्तियों की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु हो चुकी हैं। बरसात और इससे जुड़ी आपदाओं के कारण विभिन्न स्थानों पर फंसे 3500 लोगों को रेस्क्यू किया गया, जबकि 16 हजार लोगों को एहतियातन सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। पहाड़ी राज्य में एनडीआरएफ की 17 टीमें, एसडीआरएफ की 7 टीमें, पीएसी की 15 कम्पनियां और पुलिस के 5 हजार जवान अभी भी बचाव व राहत में लगे हैं। डिजास्टर फंड में उत्तराखण्ड को पहले से ही 250 करोड़ रूपए की राशि दी गई है। इससे राहत व बचाव का कार्य किया जा रहा है। केंद्र एवं उत्तराखंड सरकार ने निर्णय लिया है कि उत्तराखंड के आपदाग्रस्त व जलभराव वाले क्षेत्रों में मेडिकल टीमें भेजी जाएं ताकि बीमारियों को फैलने से रोका जा सके। क्षतिग्रस्त बिजली लाईनों को पूरी तरह जल्द से जल्द ठीक की जाए।

उत्तराखंड में 17, 18 और 19 अक्टूबर को आई तेज बारिश एवं उसके बाद उत्पन्न हुई स्थितियों के कारण अब तक 64 व्यक्तियों की मृत्यु हो चुकी है। राज्य सरकार ने बताया कि भारी बारिश का अलर्ट मिलने के तत्काल बाद मुख्यमंत्री स्तर पर समीक्षा की गई। तुरंत इन्सीडेंस रेस्पोंस सिस्टम को राज्य व जिला स्तर पर सक्रिय कर दिया गया। एहतियातन तीर्थ यात्रियों और पर्यटकों को सुरक्षित स्थानों पर रोक लिया गया।

साथ ही स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्रों में अवकाश घोषित कर दिया गया। विभिन्न माध्यमों से यात्रियों और जनसाधारण को भी अलर्ट किया गया। ट्रैकर्स को भी अलर्ट किया गया।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बताया कि उत्तराखंड में नदियों के जलस्तर पर लगातार नजर रखी जा रही है। इस संबंध में आवश्यक कदम भी उठाए गए हैं। आईएमडी के अनुसार सामान्य रूप से 1.1 मिमि बारिश होती है जबकि अभी 122.4 मिमि बारिश हुई। इन दो दिनों में सभी जगह रिकार्ड बारिश हुई। परंतु सही समय पर अलर्ट और तदनुसार एहतियात कदम उठाने से हानि को कम किया जा सका। प्रदेश में इस समय एनडीआरएफ की 17 टीमें तैनात हैं।

उत्तराखंड सरकार के मुताबिक गुरुवार को नकेन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने प्रदेश के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर हालात का जायजा लिया। उनके साथ उत्तराखण्ड के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जरनल (सेवानिवृत) गुरमीत सिंह, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी थे।

गुरुवार को जौलीग्रांट में केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने उच्च स्तरीय बैठक में प्रदेश में आपदा की स्थिति और संचालित राहत व बचाव कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार देवभूमि की हर सम्भव सहायता करेगी।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और केंद्र से मिले सहयोग पर आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सेना, एनडीआरएफ, सीडब्ल्यूसी, बीआरओ के साथ मिलकर राज्य सरकार आपदा की तीव्रता को कम कर सकी। लोगों को अधिक से अधिक राहत पहुंचाने का पूरा प्रयास किया जा रहा है। चारों धाम की यात्रा शुरू की जा चुकी है।

राज्य सरकार का कहना है कि चारधाम यात्रियों को पहले ही सुरक्षित स्थानों पर रोक दिया गया। इसी का परिणाम है कि अभी तक चारधाम यात्रियों में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। यात्रा अब शुरू भी कर दी गई है। सभी एजेंसियां समय पर सक्रिय हो गई थी। प्रधानमंत्री जी ने मुख्यमंत्री से बात कर समय पर राज्य को हेलीकाप्टर उपलब्ध कराए।

भारत सरकार से हर सम्भव सहयोग दिया जा रहा है। सेंटर वाटर कमीशन और सिंचाई विभाग में भी आपदा के दौरान अच्छा समन्वय रहा।(आईएएनएस)

जलवायु संबंधी लंबित मुद्दों को सीओपी26 पर हल किया जाना चाहिए : भारत
21-Oct-2021 8:39 PM (34)

 नई दिल्ली, 21 अक्टूबर | भारत के पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने मजबूत जलवायु कार्रवाई की तात्कालिकता पर जोर देते हुए गुरुवार को 2020 के बाद के लिए दीर्घकालिक जलवायु वित्त की स्थापना की प्रक्रिया शुरू करने और विकसित देशों द्वारा 100 अरब डॉलर की प्रतिबद्धता लक्ष्य की पूर्ति की आवश्यकता को रेखांकित किया। वह यूरोपीय संघ के कार्यकारी उपाध्यक्ष, यूरोपीय ग्रीन डील, फ्रैंस टिमरमैन के साथ आयोजित द्विपक्षीय बैठक में बोल रहे थे, जिसमें दोनों पक्षों ने सीओपी26, यूरोपीय संघ-भारतीय जलवायु नीतियों और द्विपक्षीय सहयोग से संबंधित जलवायु मुद्दों की एक विस्तृत श्रृंखला पर चर्चा की।
आगामी सीओपी26 के संबंध में, ब्रिटेन के ग्लासगो में 31 अक्टूबर से होने वाला वार्षिक संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, "पारस्परिक रूप से, राष्ट्रीय प्राथमिकताओं और परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुएसभी महत्वपूर्ण लंबित मुद्दे जैसे कि अनुच्छेद 6, सामान्य समय सीमा, उन्नत पारदर्शिता ढांचा आदि को हल किया जाना चाहिए।"

दोनों पक्षों ने स्वीकार किया कि भारत और यूरोपीय संघ को संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज (यूएनएफसीसीसी) और पेरिस समझौते के पूर्ण और प्रभावी कार्यान्वयन को सक्षम करने के लिए सीओपी 26 के सफल परिणाम प्राप्त करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए, जिस पर काम करने के लिए सरकारों द्वारा 2015 में हस्ताक्षर किए गए थे। पूर्व-औद्योगिक युग की तुलना में वैश्विक तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक बनाए रखने के लिए उत्सर्जन को प्रतिबंधित करना।

यादव ने पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की एक विज्ञप्ति में कहा कि अक्षय ऊर्जा, ई-वाहनों सहित टिकाऊ परिवहन, ऊर्जा दक्षता, वन और जैव विविधता संरक्षण आदि के प्राथमिकता वाले क्षेत्रों को कवर करते हुए हरित संक्रमण की दिशा में भारत की महत्वाकांक्षी जलवायु कार्य योजनाओं पर प्रकाश डाला गया।

जलवायु कार्रवाइयों पर भारत के नेतृत्व की सराहना करते हुए टिमरमैन ने कहा कि 2030 तक भारत के 450 गीगावाट अक्षय ऊर्जा के महत्वाकांक्षी लक्ष्य की पूरी दुनिया प्रशंसा कर रही है।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि दोनों पक्ष जलवायु और पर्यावरण पर द्विपक्षीय सहयोग को और मजबूत करने का पता लगा सकते हैं, विशेष रूप से उन तरीकों और साधनों पर जो कम कार्बन मार्गो को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।(आईएएनएस)

100 करोड़ कोरोना टीकाकरण पर क्या कुछ बोली कांग्रेस? जानें
21-Oct-2021 8:25 PM (67)

देश में कोविड-19 रोधी टीकों की दी गई खुराकों की संख्या 100 करोड़ के पार होने के मसले पर कांग्रेस ने केंद्र सरकार को घेरा है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान तंज कसते हुए कहा कि आज एक फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार प्रपंच कर अपना पीठ थपथपा रही है. लेकिन इससे सरकार का अपराध कम नहीं हो जाता.
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सरकार से कई सवाल भी पूछे. उन्होंने पूछा कि 74 करोड़ व्यस्क भारतीयों को 106 करोड़ वैक्सीन कब तक लगेगा. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने दिसंबर तक सभी को टीका लगा देने का दावा किया था लेकिन 70 दिन में 106 करोड़ टीके कब और कैसे लगेंगे? इसके साथ ही उन्होंने कहा कि दोनों टीके लगाने के मामले में भारत 20 देशों में 19वें नंबर पर है. उन्होंने कहा कि सरकार कहती है कि मुफ्त में टीके दिए जा रहे हैं लेकिन 125000 करोड़ रुपए तेल की कीमत बढ़ाकर ले लिए. इसके अलावा सुरजेवाला ने कोरोना महामारी के दौरान आपराधिक लापरवाही और देशवासियों की जान से खिलवाड़ करने का आरोप लगाते हुए जवाब मांगा. कांग्रेस ने कोरोना जांच कमीशन बनाने की भी मांग की.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा कि देश में कोविड-19 रोधी टीकों की दी गई खुराक की संख्या 100 करोड़ के पार होने का श्रेय केंद्र सरकार को दिया जाना चाहिए. लोकसभा सदस्य थरूर ने इस पर ट्वीट किया, ‘‘यह सभी भारतीय नागरिकों के लिए गर्व का विषय है. सरकार को इसका श्रेय देते हैं।’’

उन्होंने यह भी कहा, ‘‘कोविड महामारी की दूसरी लहर के दौरान भीषण कुप्रबंधन और टीकों का ऑर्डर देने में विलंब के बाद सरकार अब आंशिक रूप से क्षतिपूर्ति कर पाई है. वह अपनी पहले की विफलताओं के लिए जवाबदेह है’’

उधर थरूर के ट्वीट के जवाब में कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने कहा, ‘‘सरकार को श्रेय देना उन लाखों परिवारों का अपमान है जिन्हें कोविड महामारी के कुपबंधन के कारण पीड़ा झेलनी पड़ी और इसके असर के चलते वे अब भी पीड़ा बर्दाश्त रहे हैं’’उन्होंने जोर देकर कहा, ‘‘श्रेय लेने से पहले प्रधानमंत्री को इन परिवारों से माफी मांगनी चाहिए. इसका श्रेय वैज्ञानिकों और चिकित्सा बिरादरी को जाता है’’

बहरहाल कांग्रेस वैक्सीनेशन को लेकर आक्रामक नजर आ रही है और भयंकर महामारी के दौरान हुई गलतियों का केंद्र सरकार से हिसाब-किताब मांग रही है.(abplive)

नवाब मलिक के इस बयान पर NCB अधिकारी समीर वानखेड़े की तीखी प्रतिक्रिया, बोले- उनके खिलाफ लीगल एक्शन लूंगा
21-Oct-2021 8:23 PM (70)

क्रूज़ ड्रग्स मामले में एनसीपी नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक जांच एजेंसी एनसीबी पर लगातार निशाना साध रहे हैं. आज नवाब मलिक ने पुणे के मावल इलाके में एक सभा को संबोधित करते हुए एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े को खुली चुनौती दी. उन्होंने कहा कि साल भर के भीतर समीर वानखेड़े को सलाखों के पीछे भेज देंगे, इसे खुली चुनौती समझें. इस बयान पर समीर वावखेड़े ने नवाब मलिक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है.

नवाब मलिक ने कहा, "समीर वानखेडे को मैं खुली चुनौती देता हूं साल भर के भीतर तुम्हारी नौकरी जाएगी, तुम्हारा जेल जाना निश्चित है. तुम्हारे किए हुए फर्जीवाड़े को जनता के सामने हम लाएंगे. समीर वानखेड़े के पिता और उनके घर के लोग सभी बोगस हैं. मेरे दामाद को जेल के सलाखों के पीछे भेजा और अब मुझे फोन करता है. किसके कहने पर यह सब कर रहा है. तुम्हारे पिता कौन हैं इसका जवाब दो ना. तुम्हारे पिता से मैं डरता नहीं हूं. तुमको जेल की सलाखों के पीछे भेजें बगैर मैं चैन की सांस नहीं लूंगा."

एनसीबी के ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े ने एबीपी न्यूज़ को बताया की वो जल्द की महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक के ख़िलाफ़ लीगल एक्शन लेंगे. उन्होंने कहा, "नवाब मलिक ने मेरे ऊपर जो आरोप लगाए वो ग़लत हैं. मैंने जब से सर्विस ज्वाइन की है, तब से कभी भी दुबई नहीं गया हूं. मैं मेरी बहन के साथ मालदीव नहीं गया था. मैंने सरकार से आधिकारिक रूप से छुट्टी ली थी और अपने पैसे से अपने परिवार के साथ ट्रिप पर गया था. मेरी बहन अलग से मालदीव गई थी."

समीर वानखेड़े ने कहा कि नवाब मलिक बार बार मेरे परिवार की महिलाओं पर निशाना साध रहे हैं. ये ग़लत बात है और इसके लिए मैं जल्द ही कोर्ट जाने वाला हूं और कानूनी कार्रवाई करूंगा. (abplive)

ICMR के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव बोले- कमाल का अचीवमेंट
21-Oct-2021 8:21 PM (48)

देश में कोरोना वैक्सीनेशन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार हो गया है. इस उपलब्धि को छूने के बाद आइसीएमआर के डायरेक्टर जनरल डॉ बलराम भार्गव ने कहा कि भारत के सभी लोगों की मदद के कारण ही यह संभव हो पाया है. हिदायत देते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना के टीके लगाए जा रहे हैं लेकिन लोगों को अभी भी सतर्क रहने की जरूरत है. 

कितनी बड़ी उपलब्धि है ये?

यह बहुत ही कमाल का अचीवमेंट है सिर्फ हेल्थ केयर वर्कर फ्रंटलाइन वर्कर साइंटिस्ट या सरकार के लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है, हर नागरिक के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है और ये सिर्फ भारत के नागरिक नहीं दुनिया के हर एक नागरिक के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है 100 करोड़  टीकाकरण होना.

किस तरीके से यह वैक्सीन रोल आउट हुआ है यह पूरी सरकार की अप्रोच थी फिर चाहे वो हमारे आइसीएमआर ही स्वास्थ्य मंत्रालय हो या सरकार हो हर किसी ने पूरे ताकत से एक साथ मिलकर बहुत काम किया है और अब देखिए 100 करोड लोगों का टीकाकरण हो गया है. एक ऐसी उपलब्धि जिसको आप ऐसे देखे कि स्वास्थ्य मंत्रालय का पहले से ही यूनिवर्सल इम्यूनाइजेशन प्रोग्राम चल रहा था उसके बाद इसको शुरू किया और यह इतना अच्छा हो रहा है.

वैक्सीनेशन होने से राहत है हमारे लिए अभी भी डर है?

तो हमारा सीरो सर्वे हुआ था उस में दिखाया गया है कि एडल्ट पापुलेशन में सिरोप्रवैलेंस पाया गया और अभी 100 करोड लोगों को टीकाकरण हुआ है तो कुछ राहत तो है लेकिन दूसरे डोज जरूर लगानी है पूरा टीकाकरण होना चाहिए और सभी लोगों को डोज लगनी चाहिए और इस साल थोड़ा सा त्योहारों में बहुत ही सतर्क रहें और बिना वजह के यात्रा ना करें. अगले साल उम्मीद है कि सब कुछ पहले जैसे मना सकेंगे, टीकाकरण के बाद भी सावधानी बरतें, मास्क पहनते रहे , 2 गज की दूरी बनाए रखें यह जरूरी है.

क्या हम एंडेमिक की तरफ बढ़ रहे है?

यह कहना मुश्किल है कि हम एंडेमिक की तरफ जा रहे हैं लेकिन यह कहना चाहूंगा कि अभी दूसरी लहर अभी तक खत्म नहीं हुई है अभी भी कैसे आ रहे हैं कुछ मौतें भी हो रही है तो अभी दूसरी रहरी खत्म नहीं हुई है. अभी नहीं कह सकते है.

क्या तीसरी वेव आ सकती है?

जिस तरह से टीकाकरण हुआ है जिस तरह से सीरो प्रिवलेंस में भी पाया एंटीबॉडी पाई गई है और अगर हम आगे सावधानी बरते हैं तो उम्मीद कम है कि तीसरी लहर आएगी

18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को दी गई वैक्सीन तो बच्चों को कब मिलेगी वैक्सीन?

जब भी कोई वैक्सीन आती है तो उसका रिसर्च होती है. उस का जानवरों पर फिर उसके बाद अलग-अलग चरणों की इंसानों पर ट्रायल होते हैं और फिर जो उसका डाटा होता है इस रिसर्च का उससे ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया के पास भेजा जाता है जिस पर एक्सपर्ट कमेटी विचार विमर्श करती है और उसके बाद उस पर विचार विमर्श के बाद आगे बढ़ता है और उसके बाद कोविड की जो नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी बोर्ड के सामने जाता है फिर उसमें देखा जाता है कि किसको दिया जाना है कब तक दिया जाए कैस दिया जाए इस पर चर्चा होगी और उसके बाद के फैसला होगा.

कब तक पूरा हो जाएगा 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों का टीकाकरण?

हम चाहते हैं कि कम से कम वयस्क आबादी 94 करोड़ के करीब है वह पूरी तरह वैक्सीनटेड हो जाए हैं हम उसी की तरह कोशिश कर रहे हैं. (abplive)

Aryan Khan Drugs Case: एनसीबी ने शाहरुख खान के घर 'मन्नत' पहुंचकर दिया नोटिस, जेल में बंद आर्यन खान से जुड़ी जानकारी मांगी
21-Oct-2021 8:19 PM (85)

ड्रग्स केस की जांच कर रही नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) की टीम गुरुवार की दोपहर करीब एक बजे बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख के घर 'मन्नत' पहुंची और ऑर्थर जेल में बंद आर्यन खान से जुड़ी जानकारी मांगी है. शाहरुख खान की मैनेजर पूजा को मन्नत में एक नोटिस एनसीबी की तरफ से दिया गया है. इस नोटिस में आर्यन के एजुकेशन समेत अन्य चीजों से जुड़े डॉक्यूमेंट्स परिवार से मांगे गए हैं.

इसमें एनसीबी की तरफ से आर्यन के मेडिकल हिस्ट्री के साथ ही अगर कोई दवा लेते हैं तो उसके प्रेस्क्रिप्शन देने को कहा गया है. इसके अलावा, विदेश में जहां-जहां पर डॉक्यूमेंट्स हैं वो मांगे गए हैं.

एनसीबी के वरिष्ठ अधिकारी वीवी सिंह अपनी टीम के साथ पहुंचे थे. क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान आर्थर रोड जेल में बंद हैं. इससे पहले सुबह शाहरूख खान आर्थर रोड में आर्यन खान से मिलने के लिए पहुंचे थे. वह वहां पर करीब 15 मिनट रूके और उसके बाद बिना मीडिया से बात किए हुए वापस लौट गए.

 

जेल के एक अधिकारी ने बताया कि शाहरुख खान ने अपने बेटे के साथ 15 से 20 मिनट बिताए, दोनों के बीच शीशा था और उन्होंने ‘इंटरकॉम’ पर बात की. बातचीत के दौरान चार सुरक्षा कर्मी वहां मौजूद थे. अधिकारी ने बताया कि अभिनेता को जेल नियमावली के तहत उनके बेटे से मिलने की अनुमति दी गई और उन्हें कोई विशेष सहूलियत नहीं दी गई. शाहरुख के वहां पहुंचने पर कई मीडियाकर्मी और स्थानीय लोग जेल के बाहर एकत्रित हो गए थे. जेल परिसर के बाहर भी पुलिस कर्मियों की तैनाती बढ़ा दी गई थी.

कोविड-19 वैश्विक महामारी के मद्देनजर जेल में अभी तक कैदियों को परिवार के सदस्यों से मिलने की अनुमति नहीं थी. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि गुरुवार की सुबह से ही परिवार के सदस्यों को कैदियों से मिलने की अनुमति दी गई है. स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) ने तीन अक्टूबर को मुंबई के तट से एक क्रूज़ नौका से मादक पदार्थ जब्त करने के मामले में आर्यन (23) और कुछ अन्य लोगों को गिरफ्तार किया था.

महानगर स्थित एक विशेष अदालत ने बुधवार को आर्यन खान को जमानत देने से इनकार कर दिया था और कहा था कि प्रथम दृष्टया प्रतीत होता है कि वह मादक पदार्थ संबंधी गतिविधियों में नियमित तौर पर शामिल थे. अदालत ने कहा था कि व्हाट्सऐप चैट से भी प्रथम दृष्टया प्रतीत होता है कि वह मादक पदार्थ तस्करों के संपर्क में थे. आर्यन खान ने अब निचली अदालत के आदेश के खिलाफ बंबई उच्च न्यायालय का रुख किया है, जो 26 अक्टूबर को उनकी याचिका पर सुनवाई करेगा.

अनन्या पांडेय के घर पहुंची एनसीबी की टीम

इससे पहले, केन्द्रीय जांच एजेंसी ने मुंबई के बांद्रा स्थित बॉलीवुड एक्ट्रेस अनन्या पांडे के घर पहुंची. एनसीबी की टीम अनन्या के घर से कुछ सामान भी साथ लेकर गई है. अनन्या पांडेय फिल्म एक्टर चंकी पांडेय की बेटी हैं. 

इधर, मुंबई क्रूज ड्रग्स केस में सुनवाई करते हुए बुधवार को मुंबई सेशंस कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी, जिसके बाद उनके वकीलों ने तुरंत बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील दायर कर निचली अदालत के आदेश को चुनौती दे दी. अब उनके वकील ने बॉम्बे हाईकोर्ट में बेल की अर्जी दी है. वहीं बॉम्बे हाईकोर्ट में आर्यन खान की जमानत पर 26 अक्टूबर यानी मंगलवार को सुनवाई होगी. जिसका मतलब है कि आर्यन को अभी 26 अक्टूबर तक जेल में ही रहना पड़ेगा. मालूम हो कि आर्यन खान के वकील सतीश मानशिंदे ने जज से शुक्रवार या सोमवार को बेल पर सुनवाई करने की अपील की थी लेकिन जिस्टिस sambre ने सुनवाई को 26 अक्टूबर को फिक्स कर दी. (ndtv.in)

Shahrukh Khan को अपना दूसरा पिता मानती हैं Ananya Panday, खास बॉन्डिंग पर कही थी एक बात
21-Oct-2021 8:15 PM (51)

ड्रग्स केस की आंच एक्ट्रेस अनन्या पांडे (Ananya Panday) के घर तक पहुंच चुकी है. बहरहाल, आज हम आपको ड्रग केस से इतर अनन्या के किंग खान की फैमिली से कैसे रिलेशन हैं इसके बारे में बताएंगे. एक्ट्रेस अनन्या पांडे, शाहरुख़ खान (Shahrukh Khan) की बेटी सुहाना खान (Suhana Khan) और बेटे आर्यन खान की बेहद अच्छी दोस्त हैं. अनन्या को अक्सर सुहाना और आर्यन खान के साथ समय बिताते देखा गया है. वहीं, एक बार किसी इंटरव्यू में सुहाना ने यह भी बताया था कि शाहरुख़ खान उनके दूसरे पिता की तरह हैं.
अनन्या ने साल 2019 में दिए इंटरव्यू में कहा था कि, ‘शाहरुख़ खान सर मेरी बेस्ट फ्रेंड (सुहाना) के पिता हैं और हम साथ में आईपीएल मैच देखने भी जा चुके हैं. हम लोगों ने काफी अजीबोगेरीब और मजेदार काम किए हैं और उन्होंने हमारे साथ फोटोशूट भी करवाया था’. अनन्या आगे कहती हैं, ‘ शाहरुख़ सर हमेशा हमें मोटिवेट किया करते थे और उन्होंने कई मर्तबा हमारे वीडियो लेते हुए हमें ऐसा फील करवाया जैसे हम बेस्ट एक्ट्रेस हों’. आपको बता दें कि अनन्या पांडे ने करण जौहर के प्रोडक्शन में बनी फिल्म ‘स्टूडेंट ऑफ़ द इयर 2’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था. अनन्या अब तक बॉलीवुड की कुछ अन्य फिल्मों में काम कर चुकी हैं जिनमें ‘पति पत्नी और वो’ और ‘खाली पीली’ आदि शामिल है. बहरहाल, आपको बताते चलें कि शाहरुख़ खान की मुसीबतें फिलहाल कम होने का नाम नहीं ले रहीं हैं. शाहरुख़ खान के बेटे आर्यन खान को 2 अक्टूबर को एनसीबी ने हिरासत में लिया था जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. फिलहाल आर्यन आर्थर रोड जेल में बंद हैं. (abplive)

Mumbai में भी मना एक अरब टीकाकरण का जश्‍न : केक कटा, रंगोली सजी और कोरोना वारियर्स हुए सम्‍मानित
21-Oct-2021 7:55 PM (62)

मुंबई, 21 अक्टूबर : कोरोना टीकाकरण के मामले में भारत ने गुरुवार को बड़ी उपलब्धि हासिल की. देश ने आज कोरोना टीकाकरण में 100 करोड़ डोज का 'बड़ा आंकड़ा' पार कर लिया है. सौ करोड़ टीकाकरण में बड़ा योगदान करने वाला महाराष्ट्र (Maharashtra) दूसरे नम्बर पर है. यहां भी 100 करोड़ टीके का जश्न मना. महानगर मुंबई (Mumbai) के सबसे बड़े वैक्‍सीनेशन सेंटर पर केक कटा, रंगोली सजाई गई और कोरोना योद्धाओं को सम्मानित किया गया. देश का सबसे पहला कोविड मेक शिफ़्ट हॉस्पिटल, बीकेसी जंबो सेंटर रहा. इसे शहर के सबसे बड़े वैक्‍सीनेशन सेंटर होने का ज़िम्मा सौंपा गया.

बीकेसी जंबो सेंटर के डीन डॉ राजेश डेरे कहते हैं, 'वैक्सीन से ख़ौफ़ से लेकर वैक्सीन की क़िल्लत और वैक्सीन के लिए लोगों की लम्बी लम्बी क़तार…यह सेंटर हर चीज का गवाह रहा. आज राहत यह है कि 9 महीनों में मुंबई के 97% अडल्ट्स पहली डोज़ के साथ वैक्‍सीनेट हो चुके हैं,जबकि 56% से ज़्यादा दोनो डोज़ ले चुके हैं.'

टीकाकरण की स्पीड में उत्तर प्रदेश के बाद महाराष्ट्र दूसरे नम्बर पर है जहां अब तक 9 करोड़ 32 लाख को टीका लग चुका है. वैसे आंकड़े बताते हैं कि  अगस्त और सितम्बर की तुलना में अक्टूबर के दो हफ़्तों में टीकाकरण की रफ़्तार में क़रीब 25-30% की कमी आई है.कारण साफ़ है कि ज़्यादातर को टीका लग चुका है और दूसरी डोज़ का इंतज़ार है. खौफ के कारण टीका लगवाने से अब तक हिचक रहे लोगों को भी सरकार और प्रशासन मनाने के लिए कई अभियान चला रहा है.(ndtv.in)

क्रूज ड्रग्स केस : दो घंटे की पूछताछ के बाद अनन्या पांडे NCB दफ्तर से निकलीं
21-Oct-2021 7:29 PM (58)

मुंबई, 21 अक्टूबर : आर्यन खान ने जुड़े क्रूज शिप ड्रग्‍स मामले में बॉलीवुड अभिनेत्री अनन्या पांडे  (Ananya Panday) करीब दो घंटे की पूछताछ के बाद NCB ऑफिस से रवाना हो गई हैं. अनन्‍या शाम को पूछताछ के लिए नारकोटिक्‍स कंट्रोल ब्‍यूरो (NCB) के ऑफिस पहुंची थी.उनके साथ पिता पिता चंकी पांडे भी थे. गौरतलब है कि गुरुवार को NCB की एक टीम, अनन्या के घर पहुंची थी. टीम ने अनन्या को मामले में पूछताछ के लिए बुलाया था जिसके बाद वे  शाम में पूछताछ के लिए एनसीबी ऑफिस पहुंची हैं. एनसीबी ने अनन्‍या का लैपटॉप और फोन जब्‍त कर लिया है. दरअसल, आर्यन मामले में व्हाट्सएप चैट में उनका नाम आया था. क्रूज ड्रग्स पार्टी मामले में बॉलीवुड एक्‍टर शाहरुख खान (Shah rukh khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan)इस माह की शुरुआत  से कैद में हैं. बुधवार को सेशन कोर्ट ने उनकी जमानत अर्जी खारिज की थी, जिसमें उन्होंने व्हाटसऐप चैट का हवाला भी दिया था, जिसमें एक्ट्रेस का नाम भी सामने आया था.

सेशन कोर्ट ने कहा था कि आर्यन के व्‍हाट्सएप चैट से प्रथम दृष्‍टया पता चलता है कि वह नियमित रूप से मादक द्रव्‍य से जुड़ी गतिविधियों (illicit drug activities of narcotic substances)में काम कर रहा था. ' आर्यन खान से मिलने आज उनके पिता शाहरुख खान आर्थर रोड जेल पहुंचे थे. दोनों के बीच 15 से 20 मिनट बात हुई. दोनों के बीच एक शीशे की दीवार थी. बातचीत के बाद शाहरुख जेल से निकल गए. आज आर्यन की न्यायिक हिरासत भी खत्म हो रही है. हाईकोर्ट में आर्यन की जमानत अर्जी पर सुनवाई मंगलवार को होगी.

बताया जा रहा है कि एनसीबी ने कोर्ट में आर्यन के जो ड्रग्स से संबंधित वॉट्सऐप चैट सौंपे हैं, उनमें एक नई एक्‍ट्रेस के साथ भी ड्रग्‍स को लेकर बातचीत है, हालांकि, उस समय ये  एक्‍ट्रेस कौन है, इस पर कोई खुलासा नहीं हुआ था. अब हाईकोर्ट में न सिर्फ केस पर नए सिरे से बहस होगी, बल्‍क‍ि सेशंस अदालत की ऑर्डर कॉपी को देखते हुए उन बिंदुओं पर भी गौर करना होगा, जिस कारण कोर्ट ने जमानत नहीं दी गई. अनन्‍या पांडे ने बॉलीवुड में करण जौहर की फिल्म स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2 से कदम रखकर पहचान बनाई. अभी तक अनन्या पांडे ने 'पति पत्नी और वो' और 'खाली-पीली' जैसी फिल्में की हैं. (ndtv.in)