राष्ट्रीय

कानपुर में मिला प्रदेश का पहला जीका वायरस का मरीज, जांच के लिए दिल्ली से पहुंची टीम
24-Oct-2021 10:09 PM (48)

उत्तर प्रदेश में जीकी वायरस ने एंट्री कर लही है. दरअसल, प्रदेश में जीका वायरस का पहला मरीज कानपुर में मिला है. जीका वायरस के मरीज मिलने के बाद दिल्ली से विशेषज्ञों की टीम कानपुर पहुंची और मरीज के संपर्क में आए लोगों के सैंपल लिए गए. इसके बाद सभी लोगों के सैंपल को जांच के लिए भेजे दिए गए हैं. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मरीज वायुसेना स्टेशन का कर्मचारी है.

उन्हें फिलहाल एयरफोर्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है. लक्षणों के आधार पर अस्पताल प्रबंधन ने उसका सैंपल जांच के लिए पुणे भेजा था. जीका वायरस से पीड़ित वायु सेना वारंट अधिकारी पिछले कई दिनों से बुखार से पीड़ित थे. वायरस के प्रसार की जांच के लिए दस टीमों का गठन किया गया है.

रोकथाम के लिए बनी 10 टीमें

कानपुर में जैसे ही जीका वायरस के मरीज की पुष्टि हुई वैसे ही इस वायरस के रोकथाम के लिए और जांच के लिए 10 टीमों को कानपुर भेज दिया गया है. यह टीम वायरस का प्रसार के रोकथाम का काम करेगी और पता करेगी की आखिर कैसे वायरस का प्रसार हुआ. उत्तर प्रदेश में एयरफोर्स के वारंट अफसर एमएम अली चार-पांच दिन से बुखार से पीड़ित थे. जब उनकी जांच कर सैंपल को पुणे भेजा गया तब उन्हें जीका वायरस होने की पुष्टि हुई. जीका वायरस से पीड़ित एमएम अली पोरखपुर के रहने वाले हैं.

जिलाधिकारी ने बुलाई बैठक

जिलाधिकारी ने विशाख ने एयरफोर्स अस्पताल समेत कई मेडिकल कॉलेज के स्वास्थ्य विशेषज्ञों के साथ बैठक बुलाई. इसके अलावा जिलाधिकारी ने नगर निगम को फॉगिंग और मच्छर मारने की दवा का छिड़काव करने के लिए कहा है. जिलाधिकारी ने बताया कि यह प्रदेश का पहला मामला है. इसके रोकथाम के लिए उचित कदम उठाए जा रहे हैं. ( abplive)

गवाह प्रभाकर का दावा- समीर वानखेड़े को पैसे देने की हुई थी बात, BJP नेता बोले- 22 दिनों से कहां थे गायब?
24-Oct-2021 10:07 PM (63)

क्रूज ड्रग्स मामले के मुख्य गवाह केपी गोसावी के प्राइवेट बॉडीगार्ड ने एनसीबी (नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो) मुंबई के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर गंभीर आरोप लगाए हैं. गोसावी के प्राइवेट बॉडीगार्ड प्रभाकर सईल ने एक एफिडेविट के जरिए आरोप लगाया है. सादे कागज को पंचनामा बताते हुए उनके हस्ताक्षर कराए गए. बता दें कि केपी गोसावी क्रूज ड्रग्स मामले में 9 गवाहों में से एक है. एनसीपी नेता नवाब मलिक ने भी केपी गोसावी के क्रूज ड्रग्स पार्टी में बतौर गवाह शामिल होने को लेकर सवाल खड़े किए थे. केपी गोसावी वही शख्स है, जिनकी आर्यन खान के साथ ली हुई सेल्फी वायरल हुई थी.

प्रभाकर सईल के आरोप

प्रभाकर ने अपने एफिडेविट के जरिए दावा किया है कि जिस रात क्रूज पर एनसीबी ने छापेमारी की उस वक्त वह केपी गोसावी के साथ था. प्रभाकर ने खुलासा करते हुए दावा किया है कि क्रूज पर जब्ती की कार्रवाई को लेकर उसके पास कोई जानकारी नहीं है. इतना ही नहीं पैसे के लेनदेन के संबंध में भी चौंकाने वाली बातें प्रभाकर ने अपने हलफनामे में की है. प्रभाकर ने बताया कि सैम डिसूजा नाम के शख्स को केपी गोसावी के साथ पहली बार एनसीबी दफ्तर के नीचे देखा. क्रूज पर छापेमारी के दौरान कुछ वीडियो भी शूट करने का दावा प्रभाकर ने किया है, जिसमें से एक वीडियो में केपी गोसावी आर्यन खान की किसी से फोन पर बात करा रहे हैं.

प्रभाकर ने आरोप लगाया कि केपी गोसावी और सैम डिसूजा को 25 करोड़ रुपये की बात करते हुए उन्होंने सुना है. 18 करोड़ पर बात बनी, ऐसा कहते हुए भी सुना है. प्रभाकर का दावा है कि गोसावी और सैम डिसूजा ने कथित तौर पर 8 करोड़ रुपये एनसीबी के अधिकारी समीर वानखेड़े को देने की बात कही है. वहीं, प्रभाकर ने यह भी दावा किया है कि केपी गोसावी और सैम डिसूजा की मुलाकात सुपरस्टार शाहरुख खान की मैनेजर पूजा ददलानी से मुंबई के लोअर परेल इलाके में नीली कलर की मर्सिडीज कार में हुई है, जहां इन तीनों के बीच मुलाकात भी हुई.

राउत बोले- मामले पर संज्ञान ले महाराष्ट्र

शिवसेना सांसद संजय राउत ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल से इस मामले में संज्ञान लेते हुए कार्रवाई की मांग की है. रावत ने एक वीडियो ट्वीट कर सवाल पूछा है कि गवाह से सादे कागज पर हस्ताक्षर कराने का मामला गंभीर है. राउत ने कहा कि सीएम उद्धव ठाकरे भी कह चुके हैं कि ड्रग्स के आरोपों के जरिए महाराष्ट्र को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है, जो बातें सामने निकल कर आई है, वह कई सवाल खड़े कर रहे हैं, लिहाजा मामले को गंभीरता से लेने की जरूरत है.

प्रभाकर 22 दिनों से कहां थे गायब?

बीजेपी विधायक और प्रवक्ता राम कदम ने प्रभाकर के किए खुलासे के बाद सवाल पूछा है कि 22 दिनों बाद यह बयान क्यों सामने आया है? जो भाषा पिछले कुछ दिनों से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, एनसीपी प्रमुख शरद पवार कर रहे हैं और मंत्री नवाब मलिक समीर वानखेड़े और उनकी अधिकारियों को 48 घंटे पहले जेल भेजने का दावा कर रहे हैं उसके बाद प्रभाकर की ओर से इस तरह का खुलासा कई सवाल खड़े करता है. सवाल यह है कि क्या प्रभाकर पर कोई दबाव बनाया जा रहा है. ड्रग्स के माफियाओं को बचाने की कोशिश महाराष्ट्र सरकार में बैठे लोग क्यों कर रहे हैं, इसका जवाब जनता को देना होगा. ( abplive)

'क्या होता है कांग्रेस का गठबंधन?' : लालू यादव ने साधा कांग्रेस पर निशाना
24-Oct-2021 9:02 PM (51)

नई दिल्ली, 24 अक्टूबर: राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने रविवार को कांग्रेस की निंदा की और एक सहयोगी के रूप में पार्टी की उपयोगिता पर सवाल उठाते हुए हैरानी जताई कि क्या उनकी पार्टी को विधानसभा की एक सीट राष्ट्रीय पार्टी के लिये छोड़ देनी चाहिए ताकि कांग्रेस वहां से अपनी जमानत भी गंवा सके. राज्य में इस सीट के लिए उपचुनाव होने वाला है. लालू से जब पूछा गया कि विधानसभा की दो सीटों पर हो रहे उपचुनाव में उनकी पार्टी राष्ट्रीय दल को एक सीट नहीं दे रही है तो ऐसे में क्या इसे एक तरह से गठबंधन में टूट के तौर पर देखा जाए, उन्होंने पलटकर पूछा, 'क्या होता है कांग्रेस का गठबंधन?'

उन्होंने कहा, 'क्या हमें एक सीट (कांग्रेस को) हारने के लिए देनी चाहिए? जिससे वह अपनी जमानत भी गंवा सके?' उन्होंने कांग्रेस नेता भक्त चरण दास का भी उपहास किया जो पार्टी के बिहार प्रभारी हैं और राजद पर निशाना साधते रहे हैं. दास ने हाल ही में कहा था कि कांग्रेस अब राज्य में राजद के नेतृत्व वाले गठबंधन का हिस्सा नहीं है.

कुशेश्वर स्थान से अपने उम्मीदवार को मैदान में उतारने के राजद के फैसले ने कांग्रेस को नाराज कर दिया है. कांग्रेस ने 2020 में इस सीट से विधानसभा चुनाव लड़ा था. विधानसभा चुनावों में राजद के बेहतर स्ट्राइक रेट की तुलना में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन ने लालू की पार्टी के नेताओं के एक वर्ग को गठबंधन में राष्ट्रीय पार्टी की भूमिका पर सवाल उठाने का मौका दे दिया है. राजद का मानना है कि कांग्रेस को उसकी वास्तविक क्षमता से ज्यादा संख्या में सीटें दे दी गई थीं. (ndtv.in)

सड़क पर गुजर रहे आर्मी को एक छोटे बच्चे ने Salute किया, जवाब में प्यार मिला
24-Oct-2021 9:01 PM (45)

सोशल मीडिया पर हमेशा कोई न कोई वीडियो वायरल होता ही रहता है. आर्मी के वीडियोज़ लोगों को काफी प्रभावित करते हैं. आज भी एक वीडियो वायरल हुआ है. वायरल वीडियो पर कई कमेंट्स (Social Media) और रिएक्शन्स आ रहे हैं. वायरल वीडियो सभी हिन्दुस्तानियों (Indian Army Viral Video) को देखना चाहिए. ये वीडियो इतना शानदार है कि देखकर कोई भी सलाम करेगा.

वीडियो में देखा जा सकता है कि एक बच्चा अपने पिता के साथ सड़क पार कर रहा था. तभी उसे एक आर्मी की गाड़ी दिखी. आर्मी की गाड़ी देखते ही वो बच्चा सड़क पर रुका और आर्मी की गाड़ी को सलाम किया. जवाब में गाड़ी पर मौजूद आर्मी ने सैल्यूट किया. ये वीडियो सभी का दिल छू ले रहा है. वायरल वीडियो में प्यार दिख रहा है.

इस वीडियो को Rashmi Mandpe नाम के फेसबुक यूज़र ने अपने फेसबुक अकाउंट पर शेयर किया है. इस वीडियो पर कई कमेंट्स भी आ रहे हैं. एक यूज़र ने लिखा है-सलाम है इस बच्चे को. वहीं एक अन्य यूज़र ने लिखा है- ऐसा वीडियो दिल को छू लेता है. (ndtv.in)

'अफगानिस्तान आतंकवाद का अड्डा न बने, यह सुनिश्चित करना प्राथमिकता" : ब्रिटेन की विदेश मंत्री
24-Oct-2021 9:00 PM (34)

मुंबई, 24 अक्टूबर: ब्रिटेन की विदेश मंत्री एलिजाबेथ ट्रस ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा कि ब्रिटेन की प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना है कि अफगानिस्तान आतंकवाद का अड्डा ना बने. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि ब्रिटेन कहीं भी आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं करता.उन्होंने उस सवाल का सीधा जवाब नहीं दिया, जब उनसे पूछा गया कि क्या तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान से अमेरिकी और ब्रिटेन के सैनिकों को और ज्यादा सावधानी से हटाया जाना चाहिए था. उन्होंने कहा, 'हमारी प्रमुख प्राथमिकता अब यह सुनिश्चित करना है कि अफगानिस्तान आतंकवाद का केंद्र न बने और यह स्थिर रहे और मानवीय संकट में न बदल जाए. इसलिए मैं भारत सहित दोस्तों और सहयोगियों के साथ काम कर रही हूं.'

यह पूछे जाने पर कि पाकिस्तान से संचालित आतंकवाद पर ब्रिटेन का क्या रुख है, खासकर कश्मीर में हाल ही हुए हमलों को लेकर तो उन्होंने कहा, 'मैं कहीं भी आतंकवाद बर्दाश्त नहीं करती.'

मंत्री ट्रस ने मुंबई तट पर यूके के विमानवाहक पोत HMS Queen Elizabet के डेक पर एनडीटीवी से बातचीत की. यह युद्धपोत संयुक्त रक्षा अभ्यास के लिए भारतीय जलक्षेत्र में तैनात है.  (ndtv.in)

बिकरू हत्याकांड: पुलिसकर्मी की विधवा पत्नी ने लगाया राहत उपायों में भेदभाव का आरोप
24-Oct-2021 8:54 PM (39)

कानपुर, 24 अक्टूबर | पिछले साल बिकरू नरसंहार में शहीद हुए एक कांस्टेबल की विधवा पत्नी ने परिवार को अनुग्रह राशि प्रदान करने में भेदभाव का आरोप लगाया है। कांस्टेबल राहुल की पत्नी दिव्या ने विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) के पद पर नियुक्ति की मांग की है और कहा है कि वह अब इस मामले में न्यायिक समाधान की मांग करेंगी।

हाल ही में गोरखपुर के एक होटल में पुलिस की छापेमारी के दौरान मारे गए एक मृत व्यापारी की पत्नी को कानपुर विकास प्राधिकरण (केडीए) में ओएसडी के रूप में नियुक्त किया गया था।

दिव्या ने निराशा व्यक्त करते हुए शहीदों की याद में आयोजित कार्यक्रमों को महज औपचारिकता करार दिया।

3 जुलाई, 2020 को कानपुर के बिकरू गांव में सशस्त्र हमलावरों के हमले में, पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र मिश्रा सहित आठ पुलिस कर्मी शहीद हो गए थे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतक के परिजनों को सरकारी नौकरी, पेंशन और आर्थिक सहायता देने की घोषणा की थी।

मृतक डीएसपी की बेटी को घटना के दो महीने बाद ओएसडी बनाया गया था।

शहीद कांस्टेबल बबलू कुमार के भाई को उसी पद पर नियुक्त किया गया था, जबकि उप-निरीक्षकों नेबू लाल, महेश कुमार और कांस्टेबल जितेंद्र पाल के परिवार के सदस्यों ने जवाब देने के लिए समय मांगा था। सब-इंस्पेक्टर अनूप सिंह और कॉन्स्टेबल सुल्तान की पत्नियों ने फिजिकल टेस्ट पास नहीं किया था।(आईएएनएस)

मप्र में कांग्रेस को लगा एक और झटका, बड़वाह के विधायक भाजपा में शामिल
24-Oct-2021 8:53 PM (47)

भोपाल, 24 अक्टूबर | मध्य प्रदेश में कांग्रेस केा एक और बड़ा झटका लगा है जब उसके बड़वाह से विधायक सचिन बिरला ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। बिरला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में बड़वाह में आयोजित सभा में भाजपा में शामिल हो गए। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कमल नाथ ने इसे सौदेबाजी की राजनीति बताया है। मुाख्यमंत्री चौहान खंडवा संसदीय क्षेत्र के बड़वाह विधानसभा क्षेत्र के बेडिया में जनसभा केा संबांधित करने गए थे। यहां आयोजित सभा में कांग्रेस के विधायक सचिन बिरला भाजपा में शामिल हुए। बिरला ने पिछला चुनाव जीता था और वे यहां के जनाधार वाले नेता है।

कांग्रेस विधायक सचिन बिरला को भाजपा में शामिल करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने अंगवस्त्र पहनाकर स्वागत किया। भाजपा में शामिल होते हुए बिरला ने कहा कि उनका एक ही लक्ष्य है क्षेत्र का सर्वांगीण विकास। जब कमल नाथ मुख्यमंत्री थे, तब उनके पास समय नहीं होता था। वहीं जब शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री बने तो उन्होंने क्षेत्र के विकास के अधिकारियों को निर्देश दिए।

कांग्रेस विधायक के भाजपा में जाने पर कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कमल नाथ ने कहा, भाजपा ने सौदेबाजी व बोली से प्रदेश में अपनी सरकार बनायी क्योंकि जनता ने तो उन्हें चुनावों में नकार दिया था , घर बैठा दिया था।

उन्होंने आगे कहा, अब प्रदेश में हो रहे इन चार उपचुनावों में भी भाजपा ने जनता का मूड देख लिया है। भाजपा को संभावित परिणामो का अंदेशा हो चला है, उनका जनाधार खत्म हो चुका है। जनता अब उनको एक पल भी सत्ता में देखना नही चाहती है तो अब अपनी सरकार व खोये जनाधार को बचाने के लिये भाजपा एक बार फिर सौदेबाजी कर प्रदेश की राजनीति को कलंकित करने में व लोकतंत्र में जनता को मिले वोट के अधिकार का अपमान करने में लग गयी है।

उन्होंने आगे कहा, शिवराज अपनी कुर्सी बचाने के लिये आप कितनी भी सौदेबाजी की राजनीति कर लो, लेकिन आपकी यह कुर्सी अब बचने वाली नही है क्योंकि जनता आपको नकार चुकी है और आपकी इस सौदेबाजी की राजनीति को इन चुनावों में वह मुँह तोड़ जवाब देगी।(आईएएनएस)

बंगाल के बर्दवान मेडिकल कॉलेज में भर्ती 1,200 बच्चों में से 9 की हुई मौत
24-Oct-2021 8:52 PM (34)

कोलकाता, 24 अक्टूबर | अधिकारियों ने रविवार को कहा कि दुर्गा पूजा के बाद कोविड धीरे-धीरे राज्य में वापस आ रहा है। पिछले एक महीने में पश्चिम बंगाल के बर्दवान मेडिकल कॉलेज में सांस की गंभीर समस्या के साथ 1,200 से अधिक बच्चों को भर्ती कराया गया था, उनमें से नौ बच्चों की मौत हो गई है। हालांकि डॉक्टरों ने दावा किया कि बुखार और खांसी के कारण सांस लेने में तकलीफ रेस्पिरेटरी सिंकाइटियल वायरस (आरएसवी) का परिणाम है और इसका कोविड से कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन बड़ी संख्या में प्रभावित बच्चे जिला स्वास्थ्य प्रशासन के लिए चिंता का कारण बन गए हैं।

मेडिकल कॉलेज के बाल रोग विभाग के प्रमुख कौस्तव नायक ने कहा कि पिछले एक महीने में, 1200 से अधिक बच्चों को तेज बुखार, खांसी, सर्दी और सांस की तीव्र समस्याओं के साथ भर्ती कराया गया है और हम उनमें से नौ को नहीं बचा सके। वे छह महीने से कम उम्र के थे और शारीरिक रूप से कमजोर थे। हमने सभी बच्चों का परीक्षण किया है और उन सभी का कोविड टेस्ट नकारात्मक पाया गया है।

नायक के मुताबिक, इससे प्रभावित होने वाले सभी बच्चे एक साल से कम उम्र के हैं और छह महीने से कम उम्र के बच्चे इस बीमारी की चपेट में सबसे ज्यादा आते हैं।

उन्होंने कहा कि वर्ष के इस समय में, बच्चे मौसम परिवर्तन के कारण प्रभावित होते हैं, लेकिन यह दो सप्ताह से अधिक नहीं रहता है। इस वर्ष लगातार बारिश के कारण थोड़ा अधिक समय लग रहा है। हम बीमारी को नियंत्रित करने के लिए उपाय कर रहे हैं ।

डॉक्टरों के अनुसार, आरएसवी से प्रभावित रोगी को पहले दो दिनों में खांसी और जुकाम होगा और फिर उन्हें सांस लेने में तकलीफ होगी और कुछ मामलों में यह गंभीर भी हो जाता है।

नायक ने कहा कि हमने इस स्थिति को संभालने के लिए 200 से अधिक बिस्तरों के साथ दो अतिरिक्त वार्ड बनाए हैं। हमें इलाज के लिए ऑक्सीजन और नेबुलाइजर्स की जरूरत है। हमें उम्मीद है कि अगले कुछ हफ्तों में स्थिति नियंत्रण में आ जाएगी।

राज्य का स्वास्थ्य विभाग स्थिति के विकास पर कड़ी नजर रख रहा है और अस्पताल के अधिकारियों को संक्रमण दर, उपचार प्रोटोकॉल और बच्चों की स्थिति पर दैनिक अपडेट भेजने के लिए कहा है।

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि यदि बच्चा एक वर्ष से अधिक का है तो चिंता की कोई बात नहीं है, लेकिन छह महीने से कम उम्र के बच्चे इस बीमारी की चपेट में सबसे ज्यादा आते हैं। इसलिए हमने एक नवजात वार्ड खोलने के लिए कहा है, ताकि इन बच्चों की अलग से देखभाल के साथ इलाज किया जा सके।(आईएएनएस)

बिहार के सियासत की दिशा तय करेगा उपचुनाव परिणाम, नीतीश की साख भी दांव पर लगी
24-Oct-2021 8:51 PM (34)

मनोज पाठक 

पटना, 24 अक्टूबर | बिहार में दो विधानसभा क्षेत्रों में होने वाले उपचुनाव को लेकर सभी दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। कहा जा रहा है कि इस उपचुनाव का परिणाम न केवल सभी दलों के भविष्य की दिशा तय करेगी बल्कि राज्य के आनेवाली सियासत का संकेत भी देगी। इस बीच, माना यह भी जा रहा है कि इस उपचुनाव में नीतीश कुमार के चेहरे की साख भी दांव पर रहेगी।

जद (यू) के साथ मिलकर बिहार में सरकार चला रही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) हालांकि केंद्र और राज्य सरकार को राजग की बताकर डबल इंजन की सरकार कहकर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के जीत का दावा कर रही है।

बिहार के कुशेश्वरस्थन और तारापुर विधानसभा सीटों के लिए हो रहे उपचुनाव में राजग की ओर से जदयू ने अपने प्रत्याशी उतारे हैं, जबकि विपक्षी दलों के महागठबंधन में फूट पड गई है। राजद और कांग्रेस के प्रत्याशी इस उपचुनाव में आमने-सामने हैं। पिछले साल हुए बिहार विधानसभा चुनाव में इन दोनों सीटों पर जदयू के प्रत्याशी विजयी हुए थे।

जद (यू) के वरिष्ठ नेता और बिहार के पूर्व मंत्री नीरज कुमार कहते हैं कि इस उपचुनाव में नीतीश कुमार का जादू चलेगा। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के विकास के नाम पर बिहार में फिर से हमें वोट मिलेगा। लोग फिलहाल के शासनकाल और पूर्व के शसनाकल की तुलना कर वोट देंगे।

वैसे, बिहार की राजनीति फिजां में यह सवाल तैर रहा है कि इस उपचुनाव में जद (यू) के पूर्व अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नतीश कुमार की साख भी दांव पर लगी है। कहा जा रहा है कि उपचुनाव का परिणाम अगर अनुकुल रहा तब तो माना जाएगा कि नीतीश कुमार आज भी सियासत के बड़े ब्रांड हैं और उनके चेहरे का जादू बरकरार है। अगर, परिणाम उलट हुआ तो तय है उनपर न केवल विपक्ष का ही नहीं सहयोगी का भी दबाव बढेगा।

जद (यू) के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा सधे अंदाज में कहते हैं कि मतदाता अब विकास के नाम पर वोट देते हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के विकास की चर्चा पूरा देश करता है, उसका फायदा इस उपचुनाव में भी मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि राजद आगे अपने परिवार को बचाए।

वैसे, यह भी कहा जा रहा है कि जद (यू) अगर अपनी दोनों सीटों पर कब्जा बरकरार रखता है, तब नीतीश की अहमियत गठबंधन में बढ़ेगी।

भाजपा के विधायक संजीव चौरसिया का कहना है कि बिहार और केंद्र में एक ही गठबंधन की सरकार होने का लाभ बिहार को मिल रहा है। इस उपचुनाव में भी डबल इंजन का लाभ मिलेगा।

कहा जा रहा है कि यह उपचुनाव भले ही दो सीटों पर हो रहा है, लेकिन इसकी महत्ता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सभी मुख्य पार्टियों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है।

कहा जा रहा है कि यह उपचुनाव का परिणाम यह भी साबित कर देगा कि सत्ताधरी गठबंधन उठान पर है या ढलान पर है। इस उपचुनाव का परिणाम राजद और कांग्रेस के लिए भी अहम माना जा रहा है। इन दोनों दलों को परिणम से पता चल जाएगा कि बिना गठबंधन के चुनाव मैदान में जाने से लाभ होगा या अकेले जाने से। इसके अलावे कांग्रेस को अपनी ताकत का भी यह उपचुनाव परिणाम एहसास कराएगा।

बहरहाल, इस उपचुनाव का परिणाम बिहार की राजनीति में सिर्फ परिणाम भर नहीं बल्कि दलों की ताकत का एहसास कराएगी और राज्य की सियासत की दिशा भी तय करेगी।

उल्लेखनीय है कि बिहार की दो कुशेश्वरस्थान और तारापुर विधानसभा उपचुनाव के लिए 30 अक्टूबर को मतदान होना है।(आईएएनएस)

कैलाश विजयवर्गीय नहीं चाहते थे कि भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच हो, लेकिन भारतीय टीम को दी शुभकामनाएं
24-Oct-2021 8:35 PM (33)

खंडवा, 23 अक्टूबर : लंबे अरसे के बाद टी-20 वर्ल्ड कप में रविवार को भारत और पाकिस्तान के बीच मैच खेला जाना है. लोग भारत-पाक मैच को लेकर बड़े उत्साह में हैं. हालांकि देश में एक धड़ा ऐसा भी है जो इस मैच के खिलाफ है. भाजपा के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का कहना है कि वह मन से चाहते थे कि यह मैच न हो. लेकिन भारत - पाक मैच को लेकर उन्होंने भारतीय टीम को शुभकामनाएं भी दीं.

बता दें कि भारत-पाकिस्तान मैच को लेकर योग गुरु बाबा रामदेव भी कुछ ऐसा ही सोचते हैं. खंडवा लोकसभा उपचुनाव में भाजपा केंडिडेट के समर्थन में सभा करने खंडवा पहुंचे भाजपा के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से जब मीडिया ने भारत-पाकिस्तान मैच को लेकर सवाल किया तो उन्होंने दुःखी मन से कहा कि वह नहीं चाहते थे कि यह मैच खेला जाए.

हालांकि विजयवर्गीय ने भारतीय टीम को जीत के लिए शुभकामनाएं जरूर दीं. बता दें कि योग गुरु रामदेव भी कह चुके हैं कि आतंकवाद और क्रिकेट एक साथ नहीं हो सकता.  (ndtv.in)

 

भारत पाकिस्तान के मैच से पहले ये बोल गए सलमान ख़ान, वीडियो हा रहा है वायरल
24-Oct-2021 8:33 PM (91)

आज का दिन क्रिकेट फैंस के लिए महत्वपूर्ण है. आज सोशल मीडिया पर हर जगह इंडिया और पाकिस्तान ही हो रहा है. जहां देखिए वहां दोनों टीमों के बारे में चर्चा हो रही है. दुबई में रविवार यानि आज भारत-पाकिस्तान (India Vs Pakistan) के बीच महामुकाबला शुरू होने जा रहा है. मुकाबला से पहले बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान (Salman Khan) का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि सलमान खान टीम इंडिया को चीयर करते हुए नजर आ रहे हैं. ये वीडियो सोशल मीडिया पर बहुत तेज़ी से वायरल हो रहा है.
29 सेकंड के इस वीडियो क्लिप में देखा जा सकता है कि सलमान खान के साथ आयुष शर्मा (Ayush Sharma) भी नजर आ रहे हैं. वीडियो में सलमान खान लोगों से मैच देखने की अपील करते हैं. साथ ही कहते हैं कि अगर मैं शूटिंग के लिए नहीं गया, तो निश्चित तौर पर इस मैच को घर में बैठकर देखूंगा. वहीं, अरबाज और सोहैल पापा के साथ तो ये मैच देखेंगे ही. इस वीडियो को स्टार स्पोर्ट्स इंडिया ने अपने ट्विटर हैंडल @StarSportsIndia से शेयर किया है. वायरल वीडियो पर बहुत सारे कमेंट्स भी आ रहे हैं. (ndtv.in)
 

पंजाब में लोगों से जुड़े वास्तविक मुद्दों पर हो चर्चा : कैप्टन की 'पाक दोस्त' पर जुबानी जंग के बीच बोले सिद्धू
24-Oct-2021 8:32 PM (35)

चंडीगढ़, 23 अक्टूबर: कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने रविवार को कहा कि राज्य से जुड़े वास्तविक मुद्दों पर फिर से चर्चा शुरू होनी चाहिए जिसका संबंध हर पंजाबी और आने वाली पीढ़ी से है. सिद्धू ने इस बात पर जोर दिया कि वह राज्य के वास्तविक मुद्दों से पीछे नहीं हटेंगे. सिद्धू का यह बयान ऐसे समय में आया है जब पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम के साथ दोस्ती को लेकर पंजाब के कई कांग्रेस नेताओं और पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बीच जुबानी जंग तेज हो गयी है.

सिद्धू ने ट्वीट कर कहा, 'पंजाब से जुड़े वास्तविक मुद्दों पर फिर से चर्चा शुरू होनी चाहिए जिसका संबंध हर पंजाबी और हमारी आने वाली पीढ़ियों से है. हम उस वित्तीय आपातकाल का मुकाबला कैसे करेंगे जोकि एक बड़े संकट के रूप में हमारे दरवाजे पर दस्तक देने के लिए तैयार है. मैं राज्य से संबंधित वास्तविक मुद्दों को लेकर किसी भी कीमत पर पीछे नहीं हटूंगा.'


हाल ही, दिल्ली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के सी वेणुगोपाल और हरीश रावत के साथ अपनी बैठक के दौरान सिद्धू ने पार्टी नेतृत्व द्वारा बनाए गए 18 सूत्री एजेंडे पर चिंता जताई थी. इस 18 सूत्री एजेंडे में 2015 की बेअदबी के मामलों और ड्रग्स माफिया के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई शामिल है. प्रदेश अध्यक्ष ने कहा था कि पंजाब के लोग शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी की पिछली सरकार के शासन के दौरान 2015 में गुरु ग्रंथ साहिब के अपमान के विरोध में फरीदकोट के कोटकपुरा और बहबल कलां में प्रदर्शनकारियों पर पुलिस फायरिंग के लिए न्याय की मांग करते हैं.

 

सिद्धू ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में विभिन्न मुद्दों का उल्लेख करते हुए कहा कि विशेष कार्य दल (एसटीएफ) की रिपोर्ट के मुताबिक मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले गिरोह में “बड़ी मछली” की गिरफ्तारी होनी चाहिए. सिद्धू ने कहा कि पार्टी के पास ‘अपूर्णीय क्षति' और ‘क्षति नियंत्रण' में से चुनाव करने का अंतिम मौका है.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट कर कहा, 'हमारे सामने अपूर्णीय क्षति और क्षति नियंत्रण के अंतिम अवसर में से चुनाव करने का आखिरी मौका है. राज्य के संसाधनों को निजी कंपनियों की जेबों में जाने के बजाय उन संसाधनों को कौन वापस लाएगा? हमारे महान राज्य की समृद्धि के लिए उसके पुनरुत्थान की पहल का नेतृत्व कौन करेगा.' सिद्धू ने पार्टी अध्यक्ष को लिखे पत्र में कहा था कि यह चुनावी राज्य के “पुनरुत्थान और ऋणमुक्ति के लिये आखिरी मौका” है.

सिद्धू ने अपने तीसरे ट्वीट में कहा, 'धुंध को साफ करें, पंजाब के पुनरुद्धार के रोडमैप पर वास्तविक सूरज की तरह चमकें, स्वार्थी निहित स्वार्थों की रक्षा करने वालों को दूर करें और केवल उस मार्ग पर ध्यान केंद्रित करें जो “जितेगा पंजाब, जितेगी पंजाबियत और जितेगा हर पंजाबी' की ओर ले जाएगा.'

कांग्रेस अध्यक्ष को लिखे पत्र में, सिद्धू ने “पंजाब मॉडल के साथ 13-सूत्री एजेंडे को 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी के घोषणापत्र का हिस्सा” बनाने की वकालत की है.  (ndtv.in)

PM मोदी का कल यूपी दौरा, 'पीएम आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना' की करेंगे शुरुआत
24-Oct-2021 8:30 PM (31)

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को उत्तर प्रदेश का दौरा करेंगे. यहां पर वे 'पीएम आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना' लॉन्च करने जा रहे हैं. यह पूरे देश में स्वास्थ्य के आधारभूत ढांचे को मज़बूत करने की राष्ट्रव्यापी योजना है. इसका मकसद ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में सार्वजनिक स्वास्थ्य ढांचे में आई कमियों को दूर करना है. पांच लाख से अधिक आबादी वाले सभी जिलों में क्रिटिकल केयर सेवाएं उपलब्ध होंगी. सभी जिलों में इंटीग्रेटेड पब्लिक हेल्थ लैब बनाई जाएंगी.

इसके अलावा स्वास्थ्य के लिए एक तथा वायरोलॉजी के लिए चार नए राष्ट्रीय संस्थान स्थापित होंगे, वहीं, बीमारियों पर निगरानी के लिए आईटी आधारित निगरानी व्यवस्था बनेगी. न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक, इस योजना के तहत 10 राज्यों में 17,788 ग्रामीण और शहरी स्वास्थ्य और उपचार केंद्रों को सहयोग किया जाएगा. साथ ही सभी राज्यों में 11,024 शहरी स्वास्थ्य व उपचार केंद्रों की स्थापना की जाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसके अलावा उत्तर प्रदेश में नौ नए मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन भी करेंगे और वाराणसी को 5200 करोड़ रुपए से अधिक की 28 विकास परियोजनाओं का तोहफा भी देंगे. इनमें रिंग रोड, पार्किंग, कैथी संगम पर्यटन विकास, रामनगर एसटीपी और पुल के निर्माण शामिल हैं. भाषा के मुताबिक, इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया भी उपस्थित रहेंगे. (ndtv.in)

 

स्वास्थ्य मंत्रालय की ऑनलाइन खरीददारी करने की सलाह पर व्यापारी संगठन नाराज
24-Oct-2021 8:28 PM (36)

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर: कुछ दिनों पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से एक विज्ञापन के माध्यम से लोगों से कोविड से सुरक्षा के लिए बाजारों में न जाकर ऑनलाइन खरीददारी करने का आग्रह किया गया है. इसका व्यापारियों के संगठन चैम्बर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (CTI) ने विरोध किया है. सीटीआई के चेयरमैन बृजेश गोयल और अध्यक्ष सुभाष खंडेलवाल ने कहा है कि एक तरफ तो देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  लोकल पर वोकल पर जोर देते हुए देश की जनता से ज्यादा से ज्यादा देशी  सामान खरीदने की अपील करते हैं तो वहीं दूसरी तरफ उसी सरकार का स्वास्थ्य मंत्रालय लोगों से घर बैठे ऑनलाइन खरीददारी करने का आग्रह करके प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत के सपने के विपरीत जाकर लोगों को सलाह दे रहा है.

सीटीआई ने कहा है कि स्वास्थ्य  मंत्रालय का यह निर्णय व्यापारियों को बेहद नागवार गुजरा है. स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा दिया गया विज्ञापन सीधे तौर पर  देश के आठ करोड़ और दिल्ली के नौ लाख खुदरा व्यापारियों  पर कड़ा आघात है और  सीधे तौर पर भारत के संविधान में निहित मौलिक अधिकार का उल्लंघन है जो किसी भी प्रकार के भेदभाव को रोकता है और ऑनलाइन एवं ऑफलाइन व्यापारियों में भेदभाव करता है.  

बृजेश गोयल ने कहा कि केन्द्र सरकार पूरी तरह से ई कॉमर्स कंपनियों के दवाब में काम कर रही है. पिछले 5 साल से व्यापारी एक ई कॉमर्स रेगुलेटरी ऑथॉरिटी का गठन करने की मांग कर रहे हैं जिस पर केन्द्र सरकार ध्यान नहीं दे रही है.

सीटीआई के महासचिव विष्णु भार्गव और रमेश आहूजा ने बताया कि ई कॉमर्स पर सरकार का कोई स्पष्ट रुख न होने के कारण देश भर के व्यापारियों में बेहद भ्रम की स्तिथि है. एक तरफ केंद्रीय वाणिज्य मंत्री  पियूष गोयल जोरदार शब्दों में देश के क़ानून एवं नियमों का पालन करने की बात समय-समय पर कर रखें हैं वहीं दूसरी ओर पहले नीति आयोग, फिर सरकार के कुछ मंत्रालय और अब स्वास्थ्य  मंत्रालय ऑनलाइन शॉपिंग को बढ़ावा दे रहा है. कोई भी सरकारी निकाय यह नहीं कह रहा कि विदेशी ई कॉमर्स कंपनियों को कानून और नियमों का पालन करना चाहिए नहीं तो उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए. साफ़ तौर पर सरकार अथवा सम्बंधित सरकारी विभाग देश के नियमों और कानून की रक्षा करने में बेहद असफल साबित हुए हैं. यह एक कटु सत्य है. 

उन्होंने कहा है कि न जाने विदेशी कंपनियों का सरकार पर क्या दवाब है जिसके कारण किसी भी विषय पर कोई निर्णय नहीं हो पा रहा है.   भारत का वर्तमान ऑनलाइन व्यवसाय विदेशी वित्त पोषित ई-कॉमर्स कंपनियों के अस्वस्थ व्यापारिक नीतियों के चलते अत्यधिक दूषित हो चुका है तथा इन कंपनियों ने देश के कानूनों और नियमों की अवहेलना करने और अपने प्रभुत्व का दुरुपयोग करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है.

विदेशी निवेश वाली ऑनलाइन कंपनिया सस्ते दामों पर माल बेचकर देश के ऑफलाइन खुदरा विक्रेताओं को बर्बादी की कगार पर ला खड़ा किया है और त्योहारों के समय ही अच्छी बिकवाली की उम्मीद में बैठे देश के रिटेल व्यापारियों के साथ ये बड़ा धोखा है जो कि पिछले साल और इस साल दोनों समय में कोविड के वक्त सरकार के साथ मजबूती से खड़े रहे हैं. अपने देश के व्यापारियों की रोजी रोटी पर सरकार के इस सीधे आघात को अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.  (ndtv.in)

केंद्रीय कृषि मंत्री ने माना देश में खाद की है शॉर्टेज, बोले- कृषि कानूनों पर अधिकांश किसान और यूनियन साथ
24-Oct-2021 8:26 PM (31)

भोपाल, 23 अक्टूबर : केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने बढ़ते खाद संकट (Fertilizer Crisis) पर कहा कि खाद का थोड़ा सा शॉर्टेज (Shortage Of Fertilizer) है. अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर खाद के दाम बढ़े हैं. कोशिश की जा रही है कि डीएपी की आपूर्ति ठीक से करें. साथ ही उन्‍होंने किसानों से अन्‍य विकल्‍पों पर विचार करने की भी अपील की. वहीं कृषि कानूनों (Agriculture Law) और किसान आंदोलन पर तोमर ने कहा कि यह कानून किसानों के हित के लिए लाए गए हैं. उन्‍होंने कहा कि देशभर के अधिकतर किसान बिल के समर्थन में हैं. कुछ लोगों का बिल को लेकर मतभेद है. उनके साथ भी संवेदनशीलता से चर्चा की है.

कृषि मंत्री ने कहा, "कृषि सुधार बिल किसानों के भले के लिए लाए गए हैं. अधिकांश किसान इसके समर्थन में हैं, अधिकांश यूनियन बिलों के समर्थन में खड़ी हुइ र्है. कुछ लोगों के साथ हमारे मतभेद थे, उनसे भी हमने संवेदनशीलता के साथ चर्चा की है. आने वाले कल में जब भी वो चाहेंगे और अन्‍य कोई प्रस्‍ताव लेकर आएंगे तो भारत सरकार चर्चा जरूर करेगी."

इसके साथ ही उन्‍होंने कहा, '' सामान्‍य तौर पर डीएपी फर्टिलाइजर का शॉर्टेज है, क्‍योंकि हम डीएपी को इंपोर्ट करते हैं और उसके भाव भी बढ़े हैं.  पिछले सीजन में जब भाव बढ़े थे तो एक बैग पर 1200 रुपये की सब्सिडी देने का निर्णय मोदीजी ने किया था, जिससे किसानों पर भार न बढ़े. अब एक बार‍ फिर भाव बढ़ा तो 1600 रुपये प्रति बैग डीएपी पर सब्सिडी का निर्णय हुआ है. ''

तोमर ने कहा कि डीएपी को मंगाया जा रहा है और कोशिश की जा रही है कि आपूर्ति ठीक से की जाए. उन्‍होंने किसानों से कहा कि हमें अन्‍य विकल्‍पों का भी उपयोग करते रहना चाहिए.  (ndtv.in)

पंजाब कांग्रेस में नहीं थमी कलह: 'जिन उद्देश्यों के लिए CM बने चन्नी, वे नाकाम', मनीष तिवारी का अपनी ही सरकार पर हमला
24-Oct-2021 8:20 PM (46)

चंडीगढ़, 23 अक्टूबर: पंजाब कांग्रेस में अभी भी अंदरुनी कलह थमने का नाम नहीं ले रही है. पंजाब से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और पार्टी के पूर्व प्रभारी हरीश रावत पर पलटवार किया है. उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि राज्य में जिन मुद्दों को हल करने के लिए नए मुख्यमंत्री की नियुक्ति हुई थी, वो सभी फेल रहे हैं.

इंडियन एक्सप्रेस को दिए हरीश रावत के एक इंटरव्यू का जिक्र करते हुए तिवारी ने उनके नेतृत्व में कांग्रेस में अमरिंदर सिंह बनाम नवजोत सिंह की लड़ाई को नहीं सुलझाने का आरोप लगाया. तिवारी ने कहा कि जिस समिति ने प्रत्यक्ष रूप से कथित और वास्तविक शिकायतों को सुना, उसके निर्णय में एक गंभीर त्रुटि थी.

उन्होंने पूछा कि पार्टी विधायकों और अन्य गणमान्य लोगों को उत्तेजित करने वाले मुद्दों पर अब तक क्या प्रगति हुई है? लूट, ड्रग्स, अवैध रेत खनन जैसे मुद्दों का क्या हुआ? क्या इस दिशा में कुछ भी प्रगति हुई?

तिवारी ने कहा, "सीएम बनाम पीसीसी अध्यक्ष की लड़ाई में क्या आपको लगता है कि पंजाब के लोग इस डेली सोप ओपेरा से घृणा नहीं करते होंगे? विडंबना यह है कि जिन लोगों ने सबसे अधिक उल्लंघन की शिकायतें की, दुर्भाग्य से वे सभी स्वयं सबसे खराब अपराधी बने हुए हैं."हरीश रावत ने अपने इंटरव्यू में कहा था कि मनीष तिवारी जी हमारे बहुत वरिष्ठ नेता हैं, बहुत सक्षम, बुद्धिमान हैं लेकिन उन्हें पंजाब की जमीनी स्थिति को समझना चाहिए. यह सिर्फ सुरक्षा का मामला नहीं है, बल्कि सरकार के बने रहने का भी मामला है. जब विधायक बगावत कर रहे होते हैं तो सरकार की स्थिरता खतरे में पड़ जाती है...माननीय सीएम (सिंह) ने शायद ही कभी सीएलपी की बैठक बुलाई हो, या अपने विधायकों के साथ इन मुद्दों को संबोधित किया हो.  (ndtv.in)

आईआईएम, लखनऊ ने 100 प्रतिशत प्लेसमेंट देकर रिकॉर्ड बनाया
24-Oct-2021 3:35 PM (47)

लखनऊ, 24 अक्टूबर | इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट-लखनऊ (आईआईएम-एल) ने एग्री-बिजनेस मैनेजमेंट में पोस्टग्रेजुएट इन मैनेजमेंट (पीजीपी) और पीजीपी के 562 छात्रों के लिए 567 ऑफर हासिल कर 100 फीसदी समर प्लेसमेंट हासिल किया है। उच्चतम वेतन 3.4 लाख रुपये प्रति माह रहा, जबकि औसत वेतन 1.3 लाख रुपये प्रति माह रहा।

आईआईएम-एल की एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, 41 प्रतिशत छात्रों को 1.5 लाख रुपये और उससे अधिक का वेतन ऑफर किया गया। औसत वेतन 1.2 लाख रुपये प्रति माह था।

छात्रों ने देश भर के शीर्ष भर्ती करने वालों के साथ परामर्श, वित्त, सामान्य प्रबंधन, आईटी/विश्लेषिकी, विपणन और संचालन में भूमिकाओं में ग्रीष्मकालीन प्लेसमेंट देखा।

140 से अधिक नियोक्ताओं में कई नए भी शामिल थे।

लीगेसी रिक्रूटर्स में एक्सेंचर, आदित्य बिड़ला ग्रुप, एडोब, अल्वारेज एंड मार्सल, अमेजन, एवेंडस कैपिटल, एक्सिस बैंक, बैन एंड कंपनी, बोफा सिक्योरिटीज, बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप, सिटी ग्रुप, कोका कोला, कोलगेट-पामोलिव, डेलॉइट, ड्यूश बैंक, डिजनी स्टार, फ्लिपकार्ट, गोल्डमैन सैक्स, गूगल, हिंदुस्तान यूनिलीवर, आईटीसी, जेपी मॉर्गन चेस, किर्नी, मास्टरकार्ड एडवाइजर्स, मैकिन्से एंड कंपनी, मीडिया डॉट नेट, माइक्रोसॉफ्ट, मोंडेलेज, पेप्सिको, पर्नोड रिकार्ड, प्रॉक्टर एंड गैंबल, पीडब्ल्यूसी और टाटा, अन्य शामिल थे।

पहली बार भर्ती करने वालों में एयर एशिया, एलायंस बर्नस्टीन, आर्थर डी लिटिल, एटलसियन, बार्कलेज, सीडीसी ग्रुप और किम्बर्ली क्लार्क शामिल थे। (आईएएनएस)

भारतीय लैपटॉप बाजार में चिप की कमी ने नए ब्रांडों को किया प्रभावित
24-Oct-2021 3:34 PM (41)

मोहम्मद वकार हैदर

नई दिल्ली, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)| पिछले साल शाओमी और रीयलमी जैसे लोकप्रिय स्मार्टफोन ब्रांडों ने भारत में लैपटॉप बाजार में प्रवेश किया, तो उनसे मौजूदा दिग्गजों को प्रभावित करने की उम्मीद थी। हालांकि, चिप की कमी और आपूर्ति की कमी ने इस लैपटॉप बाजार को प्रभावित किया है।

उद्योग के विशेषज्ञों के अनुसार, चिप की कमी ने स्मार्टफोन निमार्ताओं के लैपटॉप श्रेणी में प्रवेश करने की समस्या दोगुना बढ़ा दी।

नवकेंद्र सिंह, अनुसंधान निदेशक, क्लाइंट डिवाइसेस और आईपीडीएस, आईडीसी इंडिया ने कहा, "भारत में पारंपरिक पीसी बाजार (डेस्कटॉप, नोटबुक और वर्कस्टेशन सहित) एचपी इंक, लेनोवो और डेल मजबूत बना रहा क्योंकि दूसरी तिमाही में शिपमेंट में साल-दर-साल 50.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

नोटबुक पीसी ने सभी श्रेणी में तीन-चौथाई से अधिक हिस्सेदारी जारी रखी है और 2021 के दूसरी तिमाही में 49.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो लगातार चौथी तिमाही में 2 मिलियन से अधिक इकाइयों के साथ है। डेस्कटॉप ने भी रिकवरी का संकेत दिया है।

प्रभु राम, हेड, इंडस्ट्री इंटेलिजेंस ग्रुप, सीएमआर के अनुसार, महामारी के कारण घर से काम करना और ऑनलाइन क्लास से संबंधित पीसी की मांग बढ़ रही है।

राम ने आईएएनएस से कहा, "मौजूदा आपूर्ति श्रृंखला बाधाओं के बावजूद, त्योहारी सीजन में पीसी बाजार के नेता अपने ब्रांड की प्रमुखता और बाजार हिस्सेदारी हासिल करना जारी रखेंगे।"

एचपी ने भारत पीसी बाजार में 33.6 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ अपनी बढ़त बनाए रखी क्योंकि इसके शिपमेंट में सालाना 54.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई। डेल टेक्नोलॉजीज ने 22.1 प्रतिशत हिस्सेदारी और इस साल की दूसरी तिमाही में 86.1 प्रतिशत की प्रभावशाली वृद्धि के साथ दूसरा स्थान जारी रखा।

लेनोवो ने इस साल की दूसरी तिमाही में 17.8 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ तीसरा स्थान बनाए रखा था।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के रिसर्च फेलो अरविंद सूरज ने कहा कि नए ब्रांडों के साथ हमेशा विश्वास का मुद्दा अहम होता है।  (आईएएनएस)

सियासी दलों में मची किसान हितैषी बताने की होड
24-Oct-2021 3:31 PM (35)

भोपाल 24 अक्टूबर | किसानों की समस्याएं किसी से छुपी नहीं है मगर सियासी दल हमेशा से अपने को किसान हितैषी बताते रहे हैं । मध्यप्रदेश में इन दिनों उपचुनाव में सियासत गर्मा रखी है तो राजनीतिक दल एक बार फिर अपने को किसान हितैषी और दूसरे को किसान विरोधी बताने में तुले हुए हैं। राज्य के तीन विधानसभा क्षेत्रों और एक लोकसभा क्षेत्र में उप चुनाव हो रहे हैं और यहां मतदान 30 अक्टूबर को होना है। जिन क्षेत्रों में चुनाव हो रहे हैं उनमें से अधिकांश इलाके ग्रामीण हैं। इसका आषय है कि यह इलाके किसान बाहुल्य है। यही कारण है कि अब किसानों को लुभाने और भरवाने की दोनों राजनीतिक दलों भाजपा और कांग्रेस द्वारा हर संभव कोशिश की जा रही है।

चुनावी सभाओं का दौर जारी है । इन सभाओं में भाजपा की ओर से किसानों को हर संभव सुविधा, फसल का उचित दाम दिलाने के लिए जारी प्रयासों का ब्यौरा दिया जा रहा है तो वहीं कांग्रेस की ओर से केंद्र और राज्य सरकार की नीतियों पर सवाल उठाए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 77 लाख किसानों के खातों में 1540 करोड़ रुपए सिंगल क्लिक से अंतरित की और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी किसानों के कल्याण और उनकी आय दोगनी करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसी के परिणामस्वरूप साल में तीन बार दो-दो हजार रूपए की तीन किस्त कुल छह हजार रूपए प्रधानमंत्री मोदी की ओर से किसानों के खाते में जारी किए जाते हैं। इसी को आगे बढ़ाते हुए राज्य सरकार द्वारा चार हजार रूपए प्रतिवर्ष मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना के अंतर्गत किसानों के लिए जारी करने का निर्णय कोरोना काल में लिया गया।

मुख्यमंत्री चौहान ने बिजली के बढ़ते संकट पर कहा कि पूरी दुनिया में बिजली का संकट है, पर हम सिंचाई के लिए बिजली की कमी नहीं आने देंगे। साथ ही खाद की उपलब्धता रहेगी।

खाद की ब्लैक मार्केटिंग करने वालों को सीधे जेल भेजा जाएगा। खाद की विदेशों से आपूर्ति होती है। राज्य सरकार खाद आपूर्ति के संबंध में वितरण व्यवस्था में किसी भी प्रकार की कठिनाई न हो, इसके लिए लगातार निगरानी रखी जा रही है।

एक तरफ जहां किसानों को हर संभव मदद का दावा कर रही है तो दूसरी ओर कांग्रेस किसानों की स्थिति और उनके सामने गहराई खाद व बिजली की समस्या केा उठा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री चौहान पर झूठी घोषणाएं करने का आरोप लगाते हुए कहा कि शिवराज सरकार के 18 वर्षों में यदि किसी का विकास हुआ है तो सिर्फ़ घोषणाओं का हुआ है।

कमल नाथ ने आगे कहा कि भाजपा ने हमे जो प्रदेश सौंपा था तब किसानो की आत्महत्या ,बेरोजगारी ,भ्रष्टाचार ,महिलाओं पर अत्याचार में देश में नंबर वन था। हमारी सरकार ने 27 लाख किसानांे का कर्ज माफ किया था। आज किसान न्याय के लिए भटक रहा है ,उसे उसकी फसल का सही दाम नहीं मिल रहा।

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने अपने शासन काल का जिक्र करते हुए कहा कि 100 रुपए में 100 यूनिट बिजली प्रदान की, किसानों को आधी दर पर बिजली दी ,सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि बढ़ाई ,किसानों का कर्ज माफ किया , एक हजार गौशालाओ का काम शुरू करवाया ,वहीं पिछड़े वर्ग के आरक्षण को बढ़ाया। (आईएएनएस)

जम्मू-कश्मीर में 'प्रतिबंध' पर महबूबा ने केंद्र पर साधा निशाना
24-Oct-2021 3:29 PM (37)

श्रीनगर, 24 अक्टूबर | चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत के बयान के बाद केंद्र पर निशाना साधते हुए जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने रविवार को कहा कि केंद्रशासित प्रदेश की स्थिति से निपटने के लिए सरकार के पास 'दमन' ही एकमात्र तरीका है। महबूबा ने ट्वीट किया, "कश्मीर को खुली जेल में बदलने के बाद भी, बिपिन रावत का बयान कोई आश्चर्य की बात नहीं है क्योंकि दमन जम्मू-कश्मीर की स्थिति से निपटने का एकमात्र तरीका है। यह उनके आधिकारिक कथन का भी खंडन करता है कि यहां सब ठीक है।"

उन्होंने कहा, "सामूहिक गिरफ्तारी, अपनी मर्जी से इंटरनेट को निलंबित करने, लोगों की तलाशी लेने (बच्चों को भी नहीं छोड़ने), बाइक और दोपहिया वाहनों को जब्त करने और नए सुरक्षा बंकर स्थापित करने जैसे कड़े, कठोर और दमनकारी उपाय करने के बाद क्या करना बाकी है?"

सीडीएस ने कथित तौर पर कहा था कि अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद लगाए गए प्रतिबंध आतंकवादी हमलों के कारण कश्मीर में वापस आ सकते हैं। (आईएएनएस)

भोपाल में भारत-पाक मैच का मजा ले सकेंगे 'ड्राइव इन सिनेमा' में
24-Oct-2021 3:28 PM (33)

भोपाल, 24 अक्टूबर | क्रिकेट में मैच हो भारत और पाकिस्तान के बीच तो इसका मजा हर कोई लेना चाहता है। रविवार की 'शाम को यह मुकाबला रोचक होने की संभावना है और क्रिकेट प्रेमी इस मुकाबले का भरपूर आनंद ले सकें, इसके लिए मध्य प्रदेश की राजधानी में खास इंतजाम किए गए हैं। इसका ड्राइव इन सिनेमा में लाइव टेलीकॉस्ट किया जाएगा। इसका आनंद लेने के लिए कुछ जेब हल्की जरुर करना होगी।

पर्यटन विकास निगम ने ड्राइव इन सिनेमा में रविवार की 'शाम केा सात बजे से भारत बनाम पाकिस्तान 20-20 हाई-वोल्टेज क्रिकेट मैच का लाइव टेलीकास्ट का इंतजाम किया है।

पर्यटन विकास निगम से मिली जानकारी के अनुसार से आईसीसी जी 20 वल्र्ड कप 2021 के दोनों देशों के मध्य खेले जाने वाले मैच के प्रसारण और दर्शकों की सुविधाओं के मद्देनजर परिसर में सभी आवश्यक तैयारियाँ की गई हैं। मैच का लाइव टेलीकास्ट प्रदेश की सबसे बड़ी स्क्रीन 21 सौ फुट (70 गुणा30) पर होने पर दर्शक मैच का अद्वितीय आनंद ले सकेंगे। ड्राइव इन सिनेमा पर मैच देखने के लिए 250 रुपये खर्च करना होंगे।

ड्राइव इन सिनेमा से जुड़े लोगों की मानें तो मैच के दौरान लगने वाले हर चौके और छक्के पर म्यूजिक बजेगा। इसके साथ ही परिसर में संचालित फूड कोर्ट से क्रिकेट लवर्स अपना मनपसंद फूड भी आर्डर कर सकेंगे, जो कि उनकी कार में सर्व किया जाएगा।

वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जी 20-20 में भारतीय टीम के अच्छे प्रदर्षन के लिए शुभकामनाएं देते हुए कहा, कि मुझे पूरा विश्वास है कि टी-20 विश्व कप-2021 में हमारे जाँबाज खिलाड़ी भारत को शानदार विजय दिलाएंगे।

मुख्यमंत्री चौहान ने विश्वास व्यक्त करते हुए प्रेरक काव्य पंक्तियाँ भी सुनाईं, झंडा ऊँचा रहे हमारा-विजयी विश्व तिरंगा प्यारा। (आईएएनएस)

पंजाब कांग्रेस में अराजकता जारी : मनीष तिवारी
24-Oct-2021 3:27 PM (36)

नई दिल्ली, 24 अक्टूबर | पंजाब कांग्रेस की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। आनंदपुर साहिब से कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने रविवार को पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रभारी हरीश रावत पर आरोप लगाया कि पंजाब में सोप ओपेरा अभी भी जारी है। तिवारी जी-23 का एक प्रमुख चेहरा भी हैं। उन्होंने एक बयान में कहा, जिसे ट्वीट किया गया था, "मैंने ऐसी अफरातफरी और अराजकता कभी नहीं देखी, जो आज पंजाब कांग्रेस में हो रही है। एक पीसीसी अध्यक्ष द्वारा एआईसीसी की बार-बार खुली अवहेलना, सहकर्मी बच्चों की तरह एक-दूसरे से सार्वजनिक रूप से झगड़ते हैं।"

उन्होंने कहा, "पिछले 5 महीनों से यह पंजाब में कांग्रेस बनाम कांग्रेस है। क्या हमें लगता है कि पंजाब के लोग इस डेली सोप ओपेरा से ऊबे नहीं हैं? विडंबना यह है कि जिन लोगों ने इन सबकी शिकायत की, वे दुर्भाग्य से स्वयं सबसे खराब अपराधी बने हुए हैं।" (आईएएनएस)

कर्नाटक के डॉक्टर ने इंजेक्शन के ज्यादा डोज देकर पत्नी की हत्या की
24-Oct-2021 3:26 PM (40)

दावणगेरे, 24 अक्टूबर  | कर्नाटक के दावणगेरे जिले में एक महिला की मौत के नौ महीने बाद, उसके डॉक्टर पति को काले जादू के प्रभाव में इंजेक्शन देकर पत्नी को मारने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने रविवार को इस की जानकारी दी। न्यामती तालुक के रामेश्वरा गांव के रहने वाले डॉक्टर चन्नकेशप्पा (45) की पत्नी शिल्पा लो ब्लड प्रेशर से पीड़ित थीं, जिसके चलते उसने अपनी पत्नी को डेक्सामेथासोन इंजेक्शन का ओवरडोज दे दिया था। जिसके बाद शिल्पा बहुत बीमार हो गई और अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई थी। घटना 11 फरवरी की है।

शिल्पा के माता-पिता ने गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। हालांकि, शुरूआती चरणों में आरोपी निर्दोष प्रतीत हुए, प्रारंभिक जांच से पता चला कि चन्नबसप्पा एक अमीर जमींदार और एक शराबी था। वह कैसीनो और जुआ भी खेलता था।

पुलिस के मुताबिक, वह काले जादू में भी विश्वास करता था। काले जादूगरों ने उन्हें खजाना पाने के लिए मानव बलि देने की सलाह दी थी। पुलिस ने कहा कि आरोपी ने अपनी पत्नी को मानव बलि के रूप में देने का फैसला किया और ओवरडोज के इंजेक्शन से उसकी हत्या कर दी।

फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (एफएसएल) की रिपोर्ट ने पुष्टि की कि इंजेक्शन की अधिक मात्रा देने कारण उनकी पत्नी की मृत्यु हो गई, बाद में पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया। उनके खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की है। (आईएएनएस)

मॉडल को बहका कर एक महिला और उसके सहयोगियों ने बनाई फिल्म, मामला दर्ज
24-Oct-2021 3:23 PM (34)

लखनऊ, 24 अक्टूबर | एक मॉडल को एक महिला और उसके साथियों ने नशीला पदार्थ पिलाकर नग्न अवस्था में वीडियो बनाकर उसे ब्लैकमेल किया गया। इसके बाद पीड़ित से इंटरनेट पर अपलोड किए गए वीडियो को हटाने के लिए 5 लाख रुपये की मांग की गई। यह घटना यहां विभूति खंड थाना क्षेत्र के एक गेस्ट हाउस में हुई, जहां पीड़िता को स्क्रीन टेस्ट के लिए आने को कहा गया।

महिला ने शनिवार को थाने में शिकायत दर्ज कर आरोप लगाया कि आरोपियों ने उसका वीडियो विभिन्न सोशल मीडिया साइटों पर अपलोड कर दिया है और उसे हटाने के लिए 5 लाख रुपये का भुगतान करने के लिए धमकी दी जा रही हैं।

पुलिस ने कहा कि पीड़िता एक दीया वर्मा नामक एक महिला के संपर्क में आई जिसने उसे वैष्णवी फिल्म प्रोडक्शंस के साथ काम करने की पेशकश की और उसे मॉडलिंग और फिल्मों में लॉन्च करने का वादा किया।

आरोपी दीया ने बाद में पीड़िता को अनूप ओझा, वरुण तिवारी, आयुष मिश्रा, प्रिया मिश्रा और संदीप विश्वकर्मा से मिलवाया और कहा कि वे उसके साथी हैं।

गेस्ट हाउस में, पीड़िता को कुछ नशीले पदार्थों से युक्त कुछ पीने को दिया गया और फिर कपड़े दिए गए और उसे पहनने के लिए चेंजिंग रूम में जाने के लिए कहा गया।

उसने आरोप लगाया, "उन्होंने मेरी तब फिल्म बनाई जब मैं ड्रेस बदल रही थी और बाद में मुझे वीडियो दिखाया। उन्होंने मुझे एक अश्लील फिल्म में अभिनय करने की धमकी दी या वे मेरा वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड कर देंगे। जब मैं उनके दबाव में नहीं आई और कोई भी अश्लील काम करने से इनकार कर दिया। मैंने उनसे दृश्यों और वीडियो को हटाने के लिए कहा। इसके लिए उन्होंने मुझसे 5 लाख रुपये की मांग की। जब मैंने उन्हें देने से इनकार किया, तो उन्होंने वीडियो को इंटरनेट पर अपलोड कर दिया और तब से मुझे परेशान कर रहे हैं और पैसे की मांग कर रहे हैं।"

एसएचओ, विभूति खंड, चंद्र शेखर सिंह ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ जहर देने, रंगदारी, सूचना और प्रौद्योगिकी अधिनियम और आईपीसी की अन्य धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है और आगे की जांच जारी है। (आईएएनएस)

J&K के शोपियां में आतंकियों का CRPF टीम पर हमला, क्रॉस फायरिंग में एक आम नागरिक की मौत
24-Oct-2021 3:05 PM (18)

नई दिल्ली : दक्षिण कश्मीर के शोपियां के ज़ैनपुरा में सीआरपीएफ और आतंकियों के बीच क्रॉस फायरिंग में एक आदमी की मौत हो गई है. जानकारी के मुताबिक, रविवार सुबह साढ़े दस बजे सीआरपीएफ और पुलिस की टीम पेट्रोलिंग पर जा रही थी. इसी दौरान घात लगाए आतंकियों ने पेट्रोलिंग टीम पर हमला कर दिया. सीआरपीएफ की ओर से भी जवाबी कार्रवाई की गई. दोनों ओर से फायरिंग में एक आदमी को गोली लग गई. बाद में इस शख्स की मौत हो गई. सीआरपीएफ और पुलिस पूरे इलाके की घेराबंदी कर आतंकियों की तलाशी के लिए अभियान चला रही है.

फायरिंग में मारे गए शख्स की पहचान सेब विक्रेता शाहिद एजाज के रूप में हुई है. उनकी मौत को लेकर तरह-तरह के बयान सामने आ रहे हैं. सोशल मीडिया पर एजाज के शव की तस्वीर भी वायरल हुई. 

पुलिस का कहना है कि वह मामले की जांच कर रही है और शुरुआती रिपोर्टों के मुताबिक क्रॉस फायरिंग में एजाज की मौत हुई है. गौरतलब है कि पिछले करीब एक माह में घाटी में आतंकियों ने आम नागरिकों को कई बार निशाना बनाया है. खासकर गैर कश्मीरियों की हत्या की गई है. बिहार और यूपी के प्रवासी मजदूरों या दुकानदारों की गोली मारकर हत्या किए जाने की घटनाओं से तनाव है. कुछ दिनों पहले आतंकियों ने श्रीनगर में कश्मीरी पंडित और दवा कारोबारी माखन लाल बिंदरू की भी गोली मार कर हत्या कर दी थी. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी जम्मू-कश्मीर के दौरे पर हैं.

हालांकि सुरक्षाबलों का आतंकियों के खात्मे का अभियान ठंडा नहीं पड़ा है. सुरक्षाबलों ने शोपियां, पुलवामा और दक्षिण कश्मीर के कई अन्य जिलों में कई बड़े आतंकियों को ढेर किया है. पुंछ के भाटा दुरियां के घने जंगलों में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच 14 दिनों से ऑपरेशन चल रहा है. सुरक्षाबलों का कहना है कि उन्होंने आतंकियों को बेहद छोटे इलाके में घेर लिया और वो अब 1-2 दिन के मेहमान हैं. (ndtv.in)