राष्ट्रीय

13-Apr-2021 7:18 PM 29

नई दिल्ली, 13 अप्रैल:  कोरोना वायरस संक्रमण के हालात का जायजा लेने के लिए 53 सेंट्रल टीम जिलों में हैं. महाराष्ट्र में 24.66% वीकली पॉजिटिविटी दर है. आरटीपीसीआर (RTPCR) टेस्ट का प्रतिशत कम है. छत्तीसगढ़ में आरटीपीसीआर टेस्ट 28-30% ही हो रहे हैं. आईसीएमआर ने कहा है कि मोबाइल टेस्टिंग भी प्रयोग में लाया जा सकता है. केंद्र सरकार के स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह बात कही. उन्होंने कोरोना की वैक्सीन को लेकर कहा कि राज्यों के पास 1,67,20,693 टीके उपलब्ध हैं. अप्रैल के अंत तक के लिए पाइपलाइन में 2, 01,22,960 डोज हैं. 

भूषण ने कहा कि ''यूपी में आरटीपीसीआर टेस्ट 44% हो रहे हैं और वीकली पॉजिटिविटी में राइजिंग ट्रेंड है. पंजाब में आरटीपीसीआर टेस्ट 70% हो  रहे हैं और वीकली पॉजिटिविटी थोड़ी सी कमी के साथ अभी 8% है. कर्नाटक में आरटीपीसीआर टेस्ट 92% हो रहे हैं और वीकली पॉजिटिविटी 6.45% है. गुजरात में आरटीपीसीआर टेस्ट 48% और वीकली पॉजिटिविटी  5% से कम पर ऊपर जा रही है. मध्य प्रदेश में आरटीपीसीआर टेस्ट 73% और वीकली पॉजिटिविटी 13% है. तमिलनाडु में आरटीपीसीआर टेस्ट 98% और वीकली पॉजिटिविटी 7% ये बढ़ रही है.''

उन्होंने कहा कि ''दिल्ली में आरटीपीसीआर टेस्ट 62% और वीकली पॉजिटिविटी 8% है. हरियाणा में आरटीपीसीआर टेस्ट 91% और वीकली पॉजिटिविटी 11.5% है. केरल फिर से केस बढ़ रहे हैं. आरटीपीसीआर टेस्ट 43% है और वीकली पॉजिटिविटी 8% है.''

राजेश भूषण ने टीकों की उपलब्धता को लेकर कहा कि ''राज्यों को 13 करोड़ 10 लाख डोज दिए गए हैं. उपयोग किए गए और खराब हुए डोजों की कुल संख्या 11,43,69,677 है. राज्यों के पास 1,67,20,693 टीके उपलब्ध हैं. अप्रैल के अंत तक के लिए पाइपलाइन में 2, 01,22,960 डोज हैं.'' 

नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि ''कल 71 हज़ार जगहों पर टीकाकरण होगा. तीसरी Vaccine अब स्पूतनिक आ गई है. यह हमें मिल गई है. विदेश में बनी Vaccine भारत आएंगी, वो यहां यूज होंगी. ब्रिज स्टडी होगी और रेगुलेटर डाटा को देखेंगे. Pfizer, moderna, J and J भी आगे हैं.''

उन्होंने कहा कि ''रेमडिसीवर इन्वेस्टिगेशनल ड्रग है, उन व्यक्तियों के लिए जो अस्पताल में दाखिल होंगे. घर में यूज नहीं करना है. जो ऑक्सीजन पर हैं अस्पताल में, उस सिचुएशन में दिया जा सकता है. यह अस्पताल में ही मिलेगा. रेसनल यूज होना चाहिए रेमडिसिवर का. इसका एक्सपोर्ट रोक दिया गया है, सुधार आ गया है, दिक्कत नहीं है. डॉक्टरों से आग्रह है कि जहां जरूरी लगे वहीं प्रिस्क्राइब कीजिए.''

वीके पॉल ने कहा कि ''5 पिलर के साथ ये लड़ाई लड़नी है. मास्क, Vaccine को क्यों नहीं अपना रहे, अपनाएंगे तो मामले गिरेंगे ही. मास्क को लेकर मुहिम चलाने की ज़रूरत है. बढ़ते हुए Curve को रोकना हमारी जिम्मेदारी है. यह देशव्यापी समस्या है.''

वीके पॉल ने कहा कि ''सेकंड वेव को संभालना है. इम्युनिटी बढ़ाने के लिए कुछ गाइडलाइंस हैं उन्हें अपनाइए. च्यवनप्राश, हल्दी के दूध का सेवन, काढ़ा पीजिए, योग कीजिए. आयुर्वेदाचार्य से सलाह ले सकते हैं. अगली बार 'रॉकेट' स्लो हो जाएगा.''


13-Apr-2021 7:13 PM 30

मुंबई,13 अप्रैल : महाराष्ट्र के मंत्री असलम शेख (Aslam Shaikh)ने मंगलवार को आरोप लगाया कि कुछ सेलिब्रिटी लोग और क्रिकेट खिलाड़ी कथित तौर पर कोरोना वायरस संक्रमण के गंभीर लक्षण (Covid symptoms) नहीं होने के बावजूद बड़े अस्पतालों में भर्ती हो गए हैं जिसके कारण अस्पतालों में बेड भरे हुए हैं.संवाददाताओं से बातचीत में शेख ने दावा किया कि फिल्म उद्योग के लोगों और क्रिकेट खिलाड़ियों ने प्रमुख निजी अस्पतालों में लंबे समय से बेड घेर रखे हैं.राज्य के कपड़ा मंत्री शेख ने कहा, ‘‘फिल्म जगत के कुछ लोग और कुछ क्रिकेट खिलाड़ी संक्रमण के मामूली लक्षण होने अथवा कोई लक्षण नहीं होने के बावजूद प्रमुख निजी अस्पतालों में भर्ती हो गए हैं और लंबे समय से बिस्तरों को घेरे हुए हैं.''

शेख ने कहा कि यदि ये लोग अस्पतालों में भर्ती होने से बचते तो राज्य में कोरोना वायरस से पीड़ित जरूरतमंद मरीजों को भर्ती किया जा सकता था. गौरतलब है कि कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के साथ ही महाराष्ट्र सरकार बेड क्षमता बढ़ाने के लिए काम कर रही है. उसने अगले पांच से छह हफ्ते में मुंबई में मैदानों में तीन विशालकाय अस्पतालों की स्थापना की घोषणा की है. मुंबई में कोरोना वायरस के कुल 5,27,119 मामले हैं. यहां 12,060 संक्रमितों की मौत हो चुकी है. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक मुंबई में 90,267 संक्रमितों का इलाज चल रहा है.

गौरतलब है कि भारत में कोरोना केसों की रफ्तार इस समय थमने का नाम नहीं ले रही है. मंगलवार यानी 13 अप्रैल को देश में लगातार 7वें दिन एक लाख से ज़्यादा कोरोनावायरस के नए केस मिले हैं. पिछले 24 घंटे में 1,61,736 नए COVID-19 मामले दर्ज हुए हैं. ऐसा लगातार तीसरा दिन है, जब देश में एक दिन में डेढ़ लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैं. पिछले 24 घंटों में 879 मौतें हुई हैं. 

 

 


13-Apr-2021 7:09 PM 33

पणजी (गोवा), 13 अप्रैल: गोवा फॉरवर्ड पार्टी (GFP) ने राज्य की भारतीय जनता पार्टी (BJP) नीत सरकार पर ‘गोवा विरोधी नीतियां' अपनाने का आरोप लगाया और मंगलवार को वह राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) से अलग हो गई. 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा में GFP के तीन विधायक हैं और पार्टी के गठबंधन से अलग होने से प्रमोद सावंत सरकार की स्थिरता पर कोई आंच नहीं आएगी क्योंकि विजय सरदेसाई नीत पार्टी सत्तासीन गठबंधन का हिस्सा नहीं है. गौरतलब है कि GFP ने 2017 में NDA को मनोहर पार्रिकर की अगुवाई में बीजेपी की सरकार बनवाने के लिए समर्थन दिया था. हालांकि पर्रिकर के 2019 में निधन के बाद प्रमोद सावंत की अगुवाई वाली सरकार में जीएफपी के तीन मंत्रियों को स्थान नहीं मिलने से पर्टियों के बीच संबंध थोड़ा तल्ख हुए थे.

GFP की राज्य कार्यकारी समिति और राजनीतिक मामलों की समिति ने मंगलवार को बैठक की. इसके बाद पार्टी के अध्यक्ष विजय सरदेसाई ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिख कर NDA से अलग होने के पार्टी के निर्णय के बारे में सूचना दी.सरदेसाई ने पत्र में कहा,‘‘ मैं आपको गोवा फॉरवर्ड पार्टी (GFP) के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) से औपचारिक रूप से अलग होने की सूचना देने के लिए पत्र लिख रहा हूं. इसमें कोई शक नहीं है कि NDA के साथ हमारे संबंध जुलाई 2019 में ही समाप्त हो गए थे,पुन:विचार की कोई गुंजाइश नहीं है.''

उन्होंने दावा किया कि पिछले दो वर्षों में बीजेपी ने गोवा विधानसभा के सत्रों में लगातार ‘गोवा विरोधी नीतियां' पेश की है.
पार्टी ने आरोप लगाया कि जुलाई 2019 से गोवा में नेतृत्व ने राज्य की जनता से मुंह फेर लिया है,जो चहुंमुखी विकास की आस उनसे लगा कर बैठी थी. पत्र में कहा गया कि पार्टी गोवा की संस्कृति, लोगों और विरासत की रक्षा करने के लिए लगातार काम करने के वास्ते प्रतिबद्ध है. (ndtv.in)


13-Apr-2021 7:06 PM 33

अमेरिका की नियामक संस्‍था ने जॉनसन & जॉनसन के कोरोना वैक्‍सीन पर अस्‍थायी रोक लगाने की अनुशंसा की है. 6 लोगों में ब्‍लड क्‍लॉटिंग के मामले आने के बाद यह अनुशंसा की गई है.यूएस फूड एंड ड्रग एडिमिनिस्‍ट्रेशन (US FDA) की ओर से एक ट्वीट में कहा गया है, 'आज FDA और CDCgov ने जॉनसन & जॉनसन के कोविड-19 वैक्‍सीन के बारे में बयान जारी किया है. हम ऐहतियात के तौर पर इस वैक्‍सीन के इस्‍तेमाल पर रोक की अनुशंसा करते हैं. '

रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (CDC) और खाद्य एवं औषधि प्रशासन (FDA) ने मंगलवार को एक संयुक्त बयान में कहा कि वह टीकाकरण के कुछ दिनों बाद छह महिलाओं में खून के थक्के जमने और प्लेटलेट की संख्या घटने की रिपोर्टों की जांच कर रहा है.बयान में कहा गया है कि इस टीके की अमेरिका में 68 लाख से अधिक खुराक दी जा चुकी है.

गौरतलब है कि इससे पहले खून के थक्‍के जमने (Blood clot fears) को लेकर आईं चिंताओं के चलते कुछ यूरोपीय देश AstraZeneca वैक्‍सीन पर भी अस्‍थायी तौर पर रोक लगा लगा चुके हैं. इन देशों में जर्मनी, इटली, फ्रांस जैसे देश भी शामिल हैं.AstraZeneca Vaccine को सिर्फ यूरोपीय देशों ने नहीं रोका है, एशियाई देश इंडोनेशिया ने भी उसके इस्तेमाल को टालने की घोषणा की है जबकि यह वैक्सीन अन्य वैक्सीनों के मुकाबले सस्ती है. (ndtv.in)

 


13-Apr-2021 7:04 PM 39

रूस में ईजाद की गई स्पुतनिक वी वैक्सीन को भारत में आपात इस्तेमाल के लिए अनुमति मिल गई है. जानकारों को उम्मीद है कि इससे देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में बड़ी मदद मिलेगी. जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ इस टीके के बारे में.

 डॉयचे वैले पर चारु कार्तिकेय की रिपोर्ट- 

भारत में जल्द ही कोरोना वायरस के खिलाफ कोविशील्ड और कोवैक्सीन के अलावा एक और वैक्सीन लोगों को लगनी शुरू हो जाएगी. रूस में ईजाद किए गए टीके स्पुतनिक वी को भारत में आपात इस्तेमाल की अनुमति मिल गई है. देश में दवाओं के राष्ट्रीय नियामक डीजीसीआई ने यह अनुमति दी है.

ध्यान देने लायक बात यह है कि इस टीके का दूसरे और तीसरे चरण का ट्रायल अभी चल ही रहा है, इसलिए अभी इसके सीमित इस्तेमाल की अनुमति दी गई है. हालांकि स्पुतनिक वी को कम से कम तीस देशों में कोरोना से बचाव के लिए लोगों को दिया जा रहा है. कई लोगों ने भारत में भी इसके इस्तेमाल की अनुमति का स्वागत किया है.

क्या अलग है स्पुतनिक वी में?

स्पुतनिक वी का पूरा नाम गैम-कोविड-वैक कंबाइंड वेक्टर वैक्सीन है. इसे रूसी सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के शोध संस्थान गमालेया इंस्टिट्यूट ने ईजाद किया है. इसे फिलहाल 18 साल और उस से ज्यादा उम्र के लोगों को देने के लिए अनुमति दी गई है. टीका लेने वालों को इसकी दो खुराकें लेनी होंगी और दोनों खुराकों के बीच 21 दिनों का अंतर देना होगा. भारत के टीकाकरण कार्यक्रम के तहत इस समय दो टीके दिए जा रहे हैं - कोविशील्ड और कोवैक्सिन.

स्पुतनिक वी इन दोनों से अलग इसलिए है क्योंकि इसकी दोनों खुराकों में दो अलग अलग सामग्री का इस्तेमाल होता है. इनमें दो अलग अलग किस्म के एडिनोवायरस वेक्टर का इस्तेमाल किया गया है, जबकि बाकी दोनों वैक्सीनों में एक ही वेक्टर का इस्तेमाल होता है. दो एडिनोवायरस वेक्टर के इस्तेमाल से शरीर में ज्यादा लंबे समय तक इम्युनिटी बनी रहती है. इससे पहले इसी रूसी संस्थान ने इबोला वायरस बीमारी के लिए भी इसी तर्ज पर टीका बनाया था.

यह कोरोना से कितनी सुरक्षा देती है?

पिछले साल अगस्त में जब रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने स्पुतनिक वी की घोषणा की थी, तो उस समय वैज्ञानिक समुदाय ने इसकी आलोचना की थी और कहा था कि इसे बनाने में जो जल्दबाजी और गोपनीयता बरती गई है उसकी वजह से इस पर भरोसा करना मुश्किल है. लेकिन बाद में रूस में इसका तीसरे चरण का ट्रायल किया गया और इसके नतीजे विज्ञान की प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय पत्रिका 'साइंस' में छपे.

इन नतीजों में दावा किया गया कि यह कोविड-19 से 91.6 प्रतिशत सुरक्षा देती है. तुलना के लिए कोविशील्ड और कोवैक्सिन दोनों की सुरक्षात्मकता 80 से अधिकतम 90 प्रतिशत तक पाई गई है. इसके अलावा अभी तक कहीं भी इसके कोई गंभीर दुष्परिणाम नहीं पाए गए हैं. 

यह भारत में कब से मिलेगी?

भारत में डॉक्टर रेड्डीज लैबोरेट्रीज कंपनी इसे बना रही है. डॉक्टर रेड्डीज के अलावा रूस ने भारत में पांच दवा कंपनियों के साथ समझौते किए हैं, जिनमें ग्लैंड फार्मा, हेटेरो बायोफार्मा, पनाशिया बायोटेक, स्टेलिस बायोफार्मा और वरचो बायोटेक शामिल हैं. उम्मीद है कि सभी कंपनियां एक साल में कुल मिला कर 85 करोड़ खुराकें बनाएंगी.

दावा किया जा रहा है कि अप्रैल के अंत तक टीके की सीमित मात्रा में खुराकें उपलब्ध करा दी जाएंगी, यानि टीकाकरण कार्यक्रम में इसे शामिल किए जाने में अभी कुछ हफ्तों का इंतजार बाकी है. (dw.com)

 


13-Apr-2021 6:52 PM 26

मुंबई, 13 अप्रैल महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया जा सकता है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आज रात साढ़े 8 बजे राज्य के लोगों को संबोधित करेंगे. इस दौरान लॉकडाउन का एलान कर सकते हैं.

इससे पहले आज महाराष्ट्र के मंत्री असलम शेख ने कहा कि सरकार कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए कुछ नयी पाबंदी के बारे में दिशा-निर्देश जारी करेगी. मुंबई के प्रभारी मंत्री शेख ने कहा, ‘‘महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कोविड-19 कार्यबल के सदस्यों से बात कर चुके हैं. उन्होंने विपक्षी दलों के नेताओं और उद्योगों के प्रतिनिधियों के साथ भी चर्चा की है. हमने सप्ताहांत लॉकडाउन, रात्रि कर्फ्यू और अन्य उपायों को आजमा लिया है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘कोरोना वायरस की कड़ी को तोड़ने के लिए हम आज नया दिशा-निर्देश लागू करेंगे. (मंगलवार की) घोषणा में समूचे राज्य के लिए मानक संचालन प्रक्रिया तय की जाएगी.’’

बता दें कि पिछले सप्ताह सर्वदलीय बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लॉकडाउन लागू करने का संकेत दिया था. कांग्रेस नेता असलम शेख ने कहा कि सरकार ने कारोबारियों और उद्योगों के प्रतिनिधियों से बात की है और उनकी चिंताओं को समझने का प्रयास किया.

कोविड-19 कार्यबल के सदस्यों के बयान पर टिप्पणी करते हुए शेख ने कहा, ‘‘कुछ सदस्यों ने कहा कि अगर लॉकडाउन की घोषणा होती है तो यह कम से कम 21 दिनों के लिए होना चाहिए जबकि कुछ सदस्यों ने कहा कि 14 दिनों का लॉकडाउन होना चाहिए.’’

बता दें कि महाराष्ट्र में कोरोना के नए मामलों में बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है. रविवार को राज्य में कोरोना संक्रमण के सर्वाधिक 63,294 मामले आए थे . वहीं सोमवार को 51,751 मामले आए थे. (abplive.com)


13-Apr-2021 6:48 PM 31

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़े हैं उसके बावजूद लॉकडाउन नहीं लगाया गया. उन्होंने कहा कि जनता ने खुद ही नया प्रयोग किया है जहां पर वे खुद इस बात का फैसला करते है कि क्या खोलना और क्या बंद रखना है. इसके लिए क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप बना है, जिसमें समाज सेवा के प्रतिनिधि भी शामिल हैं. उन्होंने कहा कि राशन की दुकानों समेत आवश्यक सेवाओं को बंद नहीं किया गया है. हालांकि, भीड़ इकट्ठा करने वाली गतिविधियों को बंद किया है. लेकिन, जिस तेजी से संक्रमण फैल रहा है इसकी उन्होंने कभी कल्पना नहीं की थी.

ऑक्सीजन की नहीं किल्लत

एबीपी न्यूज से खास बातचीत में सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि राज्य में ऑक्सीजन की कोई किल्लत नहीं है. उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की आपूर्ति को लेकर लगातार हम केन्द्र सरकार के संपर्क में हैं. इसके अलावा, झारखंड से ऑक्सीजन मंगाई जा रही है. मध्य प्रदेश के सीएम ने आगे कहा कि संक्रमण की चेन को तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है. लॉकडाउन उसका विकल्प नहीं है. इसके लिए अलग रास्ता निकाल है, जिसका नाम 'कोरोना कर्फ्यू' दिया गया है.

रेमडेसिवीर वैक्सीन का किया इंतजाम

शिवराज चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही बढ़ती मांगों को देखते हुए समय रहते ही रेमडेसिवीर वैक्सीन का इंतजाम कर लिया. इसके लिए प्राइवेट कंपनियों से भी टाय-अप किया गया. उन्होंने कहा कि जब भी बाजार में किसी भी चीज की मांग बढ़ती है तो उसकी काला बाजारी बढ़ जाती है. लेकिन, इस वैक्सीन के अलावा हमने दूसरे विकल्पों पर भी काम किया है, जो इसमें कारगर है.

अस्पतालों में बढ़ाए बेड्स

शिवराज चौहान ने कहा कि राज्य में संक्रमितों की संख्या तेजी के साथ बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि हम पूरी ताकत के साथ बढ़ रहे हैं. अस्पतालों में बिस्तर की संख्या बढ़ा रहे हैं. इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर में हम सरकारी स्तर और प्राइवेट स्तर पर भी लगातार बेड्स की संख्या बढ़ा रहे हैं. उन्होंने कहा कि  कई जगहों पर हम होटल को ही प्राइवेट अस्पताल में कन्वर्ट कर देंगे. अब बढ़ाकर 36 हजार से ज्यादा बेड कर दी है. वैक्सीनेशन का काम तेजी के साथ चला रहे हैं.


13-Apr-2021 4:09 PM 16

भारत सरकार द्वारा आयोजित भूराजनीतिक सम्मेलन रायसीना डायलॉग 13 से 16 अप्रैल तक वर्चुअल रूप में आयोजित किया जाएगा. यह सम्मेलन का छठा संस्करण है और इस बार इसमें 50 देश और बहुराष्ट्रीय संगठन हिस्सा ले रहे हैं. 

    डॉयचे वैले पर चारु कार्तिकेय की रिपोर्ट 

भूराजनीति और भूअर्थशास्त्र के ताजा हालात की समीक्षा करने वाला रायसीना डायलॉग सम्मेलन 2016 में शुरू हुआ था. हर साल इसका आयोजन भारत का विदेश मंत्रालय और थिंक-टैंक 'आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन' मिल कर करते हैं. इस साल कोरोना वायरस महामारी की वजह से इसका आयोजन पूरी तरह वर्चुअल रूप से किया जा रहा है.

50 देशों और बहुराष्ट्रीय संगठनों के सदस्य इस बार सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं. विदेश मंत्रालय के अनुसार 80 से भी ज्यादा देशों से 2,000 से ज्यादा लोगों ने सम्मेलन के लिए पंजीकरण कराया है. इस साल सम्मेलन की थीम है "#वायरलवर्ल्ड: आउटब्रेक्स, आउटलायर्स एंड आउट ऑफ कंट्रोल."

चर्चा के विषय रहेंगे - "किसका बहुराष्ट्रवाद? संयुक्त राष्ट्र का पुनर्गठन और संबंधित विषय; आपूर्ति श्रृंखलाओं को सुरक्षित रखना और उनमें विविधता उत्पन्न करना; वैश्विक 'पब्लिक बैड्स": देशों, व्यक्तियों और संगठनों की जवाबदेही तय करना; इंफोडेमिक: बिग ब्रदर के युग में 'नो ट्रुथ' दुनिया में राह तलाशना; और ग्रीन स्टिमुलस: जेंडर, वृद्धि और विकास में निवेश.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक वीडियो संदेश के साथ सम्मेलन की शुरुआत करेंगे. रवांडा के राष्ट्रपति पॉल कगामे और डेनमार्क के प्रधानमंत्री मेट्टे फ्रेडेरिक्सेन पहले सत्र में मुख्य अतिथि होंगे. आगे के सत्रों में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मोर्रिसन और यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल भी हिस्सा लेंगे.

इसके अलावा सम्मेलन में कई देशों के पूर्व प्रधानमंत्री भी हिस्सा लेंगे और मौजूदा विदेश मंत्री भी हिस्सा लेंगे. इनमें फ्रांस, पुर्तगाल, जापान, इटली, ईरान, तुर्की और कई अन्य देश शामिल हैं. फ्रांस के विदेश मंत्री जां-ईव लु द्रिआं इस समय भारत के दौरे पर हैं. वह सम्मेलन में दिल्ली से ही जुड़ेंगे और उसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर से भी अलग से मिलेंगे. (dw.com)

 


13-Apr-2021 3:05 PM 19

भोपाल, 13 अप्रैल : कोरोना महामारी के दौर में जबलपुर में रेलवे पुलिस का लापरवाह और अमानवीय चेहरा सामने आया है. कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए एक ओर तो हर स्तर के प्रयास किए जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ जबलपुर में रेलवे पुलिस खुलेआम कोरोना पॉजिटिव आरोपी को हथकड़ी पहनाकर सड़क पर घुमाते हुए जेल तक ले जा रही है.

एक वीडियो फुटेज सामने आया है, जिसमें देखा जा सकता है कि जीआरपी का एक प्रधान आरक्षक बकायदा पीपीई किट पहनकर दो आरोपियों को हथकड़ी लगाकर ले जाते हुए दिख रहा है. दोनों आरोपियों में एक कोरोना पॉजिटिव है तो दूसरा स्वस्थ है.

दोनों आरोपियों को चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. अदालत में पेश करने के बाद अदालती आदेश पर दोनों आरोपियों का कोविड टेस्ट कराया गया, जिनमें से एक आरोपी पॉजिटिव निकला. लेकिन हद दर्जे की लापरवाही करते हुए पुलिस आरोपियों के लिए वाहन की व्यवस्था करने के बजाय उन्हें हथकड़ी लगाकर खुलेआम सड़क पर घुमाते हुए जेल ले गई.

हवाला दिया जा रहा है कि पुलिस की गाड़ी खराब होने के चलते दोनों आरोपियों को पैदल ले जाया गया है. कोरोना पॉजिटिव आरोपी को दूसरे स्वस्थ आरोपी के साथ हथकड़ी लगाकर पैदल ले जाते हुए जिसने भी देखा उसके रोंगटे खड़े हो गए और हर किसी ने पुलिस के इस कदम पर सवाल खड़े कर दिए.

कोरोना को रोकने के लिए प्रशासन की ओर से खास सतर्कता बरती जा रही है, बावजूद इसके जबलपुर के रेल पुलिस की यह लापरवाही समझ से परे है. कोरोना संक्रमित आरोपी को दूसरे स्वस्थ आरोपी के साथ पैदल घुमाने का यह वीडियो जबलपुर में जमकर वायरल हो रहा है जिससे पुलिस महकमे से लेकर प्रशासन और रेल पुलिस में खासा हड़कंप मचा हुआ है. (ndtv.in)
 


13-Apr-2021 2:54 PM 25

नई दिल्ली, 13 अप्रैल । कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर कहा है कि कोविड—19 महामारी के इलाज के लिए उपयोग में लाई जाने वाली दवाइयों और आवश्यक उपकरणों पर छूट दी जाए और साथ ही गरीबों के खाते में 6,000 रुपये महीने के डाले जाए। सोनिया गांधी ने कहा कि राज्यों में वैक्सीन की कमी है और इसे प्राथमिकता पर उपलब्ध कराया जाना चाहिए।

उन्होंने उन सभी वैक्सीनों को अनुमति प्रदान किए जाने की भी बात कही है, जिन्हें मंजूरी दे दी गई है।

कोरोना संक्रमण के चलते प्रवासी मजदूरों का एक बार फिर से पलायन शुरू हो गया है। ऐसे में इन्हें कुछ राहत पहुंचाने के लिए सोनिया गांधी ने अपील की है कि केंद्र सरकार द्वारा ऐसी किसी योजना को लागू किया जाए, जिसके तहत जरूरतमंदों के खाते में हर महीने 6,000 स्थानांतरित हो क्योंकि कोरोना के प्रसार पर काबू पाने के चलते लगाए गए लॉकडाउन या कर्फ्यू से इनकी जिंदगी काफी प्रभावित हुई है।

उन्होंने कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों संग बैठक करने के बाद यह पत्र लिखा। पार्टी द्वारा सभी के टीकाकरण के लिए एक सोशल मीडिया अभियान भी शुरूआत की गई है।

देश में इस वक्त टीकों की संख्या में आई कमी का जिक्र करते हुए पार्टी ने कहा कि वैक्सीन के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाए और देशवासियों को पहले टीके की खुराक उपलब्ध कराई जाए।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा, "देश को कोविड—19 वैक्सीन की जरूरत है। कृपया अपनी आवाज उठाएं क्योंकि एक सुरक्षित जिंदगी पर सबका अधिकार है।" (अईएएनएस)
 


13-Apr-2021 2:53 PM 23

वाराणसी, 13 अप्रैल | वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद की प्रबंधन समिति अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद समिति ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के समक्ष एक तत्काल याचिका दायर कर वाराणसी की एक स्थानीय अदालत द्वारा 8 अप्रैल को सुनाए गए उस फैसले पर रोक लगाने की मांग की है, जिसके तहत भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा पूरे परिसर के पुरातात्विक सर्वेक्षण किए जाने की अनुमति दी गई है। सोमवार को दायर अपनी याचिका में प्रबंधन समिति ने कहा है कि इस आदेश को बिना किसी नियम के अवैध ढंग से पारित किया गया है।

इस बीच, सुन्नी वक्फ बोर्ड के द्वारा भी मंगलवार को वाराणसी अदालत के दिए गए फैसले के खिलाफ अपील दायर की जाएगी।

वरिष्ठ अधिवक्ता फरमान अहमद नकवी और सैयद अहमद फैजान द्वारा दायर अंजुमन इंतेजामिया की याचिका में कहा गया है कि निचली अदालत ने उपासना स्थल (विशेष प्रावधान) अधिनियम, 1991 और सिविल प्रक्रिया संहिता के आदेश 7 नियम 11 की संपूर्ण लिखित प्रस्तुतियों और प्रयोज्यता को अनदेखा कर दिया है।

अंजुमन इंतेजामिया के वकील फरमान अहमद नकवी ने कहा, "हमने याचिका दायर की है और अदालत से अनुरोध किया है कि वह तत्काल प्रभाव से इस पर सुनवाई करें क्योंकि मामला गंभीर है।"

याचिका में कहा गया है कि इस मामले पर इलाहाबाद कोर्ट का फैसला पहले से ही सुरक्षित है, लेकिन वाराणसी की अदालत विपरीत पक्ष की बातों को सुन रही है।  (आईएएनएस)
 


13-Apr-2021 2:48 PM 47

मुजफ्फरनगरा, 13 अप्रैल | उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। जहां ससुरालियों के उत्पीड़न से तंग आकर एक महिला ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, लेकिन हैरानी की बात तो ये है कि उसे बचाने के बजाए सुसराल वाले घटना का वीडियो बनाते रहे। मृतक कोमल के माता-पिता ने आरोप लगाया है कि उसके ससुराल वाले उसे दहेज के लिए तंग करते थे, जिससे परेशान होकर उसने यह कदम उठाया।

हालांकि पुलिस ने महिला के ससुर और सास को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि उनके पति, आशीष और उनके देवर फरार हैं।

वीडियो में साफ दिख रहा है कि उसने गले में चुन्नी बांधी, फंदे में गांठ लगाई और लटक गई। लेकिन ससुराल वालों ने उसे बचाना ज्यादा जरुरी नहीं समझा और बाहर खड़े होकर वीडियो बनाते रहे।

जैसे ही वह फांसी पर लटक जाती है, तब एक आदमी आवाज देकर कहता है कि "अपने आप लटक रही है।"

आदमी की आवाज उसके ससुर के जैसी लग रही है।

एसपी (सिटी) अर्पित विजयवर्गीय ने इस बात की पुष्टि की है कि वीडियो को उस कमरे के बाहर से रिकॉर्ड किया गया है, जिसमें महिला ने खुद को फांसी लगाई है। उन्होंने कहा, लड़की के ससुरालवालों ने उसे (महिला) खुदकुशी करने से रोकने की कोशिश की थी।

कोमल और आशीष की शादी सितंबर 2019 में हुई थी।

पीड़िता के पिता अनिल कुमार ने पुलिस को बताया, "मैंने शादी के समय उसके परिवार को 5 लाख रुपये और एक बाइक दी थी। लेकिन लड़के के पिता देवेंद्र, मां सविता और भाई सचिन खुश नहीं थे। लगभग छह महीने पहले उन्होंने कोमल की पिटाई भी की थी और उसे घर से निकाल दिया था।"

उन्होंने कहा, "दो महीने पहले फिर से1.2 लाख रुपये की मांग की गई थी। उन्होंने कहा था कि अगर दहेज नहीं दोगे तो आशीष की शादी किसी और से शादी करा देंगे। इन चारों ने मिलकर मेरी बेटी की हत्या कर दी।"

आशीष, उसके भाई और उसके माता-पिता पर अब धारा 304 बी (दहेज के लिए हत्या), 498 ए (विवाहित महिला के साथ क्रूरता) और आईपीसी की धारा 506 (आपराधिक धमकी) और दहेज निषेध अधिनियम की धारा 3 (दहेज लेना या देना) और 4 (दहेज मांगना) के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

छपार पुलिस स्टेशन के एसएचओ यशपाल सिंह ने कहा, "महिला के सास-ससुर को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन आशीष और उसका भाई सचिन फरार हैं। हम उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लेंगे।" (आईएएनएस)
 


13-Apr-2021 2:47 PM 22

आरा, 12 अप्रैल | बिहार के भोजपुर जिले के उदवंतनगर थाना क्षेत्र में एक व्यक्ति ने बगीचे की रखवाली कर रहे एक वृद्ध की हत्या कर दी और फिर उसे जला दिया। इसके बाद इस घटना से आक्रोशित लोगों ने आरोपी की भी जमकर पिटाई कर दी, जिससे उसकी मौत हो गई। बाद में ग्रामीणों ने उसके शव को भी जला दिया। पुलिस ने दोनों अधजले को शवों को बरामद कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि सोमवार को बकरी गांव के रहने वाले डिगरी चौधरी (70) गांव में ही आम के एक बगीचे की रखवाली कर रहे थे। इसी दौरान मुटुर यादव वहां पहुंचा और अचानक बुजुर्ग की पिटाई करने लगा, जिससे उसकी मौत हो गई।

मुटुर इसके बाद पास पड़े सूखे पत्ते को इकट्ठा किया और उससे बुजर्ग के शव को जला दिया।

बताया कि जाता है आरोपी मानसिक रोगी था। गांव के कुछ लोगों की नजर मुटुर पर पड़ी। आक्रोशित गांव वाले पहले तो बुजुर्ग के अधजले शव को आग से बाहर निकाला और फिर आरोपी की जमकर पिटाई कर दी, जिससे उसकी भी मौत हो गई। बाद में इसके शव को भी जलाने की कोशिश की गई।

सूचना मिलने के बाद घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने दोनों अधजले शवों को बरामद कर लिया है।

आरा (सदर) के अनुमंडल पुलिस अधिकारी पंकज रावत ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है। दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। घटना को लेकर गांव में तनाव व्याप्त है। गांव के लोग अभी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। (आईएएनएस)
 


12-Apr-2021 10:04 PM 30

जम्मू, 12 अप्रैल | जम्मू एवं कश्मीर के डोडा जिले में सोमवार को एक सड़क दुर्घटना में आठ यात्रियों की मौत हो गई और चार गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस सूत्रों ने बताया कि ठठरी-गंडोला मार्ग पर एक मिनी बस, चालक के नियंत्रण से बाहर हो गई और डोडा शहर से 42 किलोमीटर दूर कलनई नदी में जा गिरी।

पुलिस ने कहा, "इस दुर्घटना में आठ यात्री मारे गए और 4 गंभीर रूप से घायल हो गए। बचाव अभियान शुरू हो चुका है।"

मिनी बस डोडा से चिल्ली गांव की ओर जा रही थी।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि इस बीच, जम्मू शहर के एक हेलीकॉप्टर को गंभीर रूप से घायल यात्रियों के बचाव के लिए लगाया गया है।

दुर्घटना के समय मिनी बस में यात्रा करने वाले यात्रियों की सही संख्या का पता लगाया जा रहा है। (आईएएनएस)


12-Apr-2021 8:43 PM 33

नई दिल्ली, 12 अप्रैल | उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी टीसीएल ने सोमवार को भारत के बाजार में महज 1,999 रुपये की शुरूआती कीमत पर तीन ट्रू वायरलेस स्टीरियो (टीडब्ल्यूएस) ईयरबड लॉन्च किए। कंपनी ने एक बयान में कहा कि फ्लिपकार्ट पर 15 अप्रैल से एस150, एस200 और एसीटीवी500 ईयरबड क्रमश: 1,999 रुपये, 3,999 रुपये और 4,499 रुपये में उपलब्ध होंगे।

टीसीएल मोबाइल में कंट्री मैनेजर सुनील वर्मा ने कहा, "इस लॉन्च के साथ, हम अपने ऑडियो सेगमेंट का विस्तार करने और टीडब्ल्यूएस श्रेणी को आगे बढ़ाने के लिए तैयार हैं। हमारा उद्देश्य हमारे उपभोक्ताओं की जीवन शैली से मेल खाने वाले प्रीमियम उच्च गुणवत्ता वाले उत्पाद प्रदान करना है।"

एस150 में आईपीएक्स4 वॉटरप्रूफिंग, एक लंबे समय तक चलने वाली बैटरी और स्मार्ट कंट्रोल है, जो एक स्पर्श के साथ सहज आनंद देता है।

यह एक बार चार्ज करने पर साढ़े तीन घंटे तक संगीत सुनने का समय प्रदान करता है और चाजिर्ंग केस के साथ 20 घंटे तक संगीत का आनंद लिया जा सकता है।

दूसरा वैरिएंट, एस200, कॉम्पैक्ट ईयरबड्स है, जो बिना टैंग्ल्स के बिना बास-संचालित ऑडियो का अनुभव देता है।

उपभोक्ता इस डिवाइस के साथ क्रिस्टल-क्लियर कॉल का अनुभव भी प्राप्त कर सकेंगे।

वहीं एसीटीवी500 शक्तिशाली 6 मिमी ड्राइवरों के साथ बनाया गया है। यह 33 घंटे की बैटरी लाइफ प्रदान करता है।

कंपनी ने कहा कि इयरबड्स आईपीएक्स5 सर्टिफाइड हैं, जो यूजर्स को एक्सरसाइज के दौरान इसका इस्तेमाल करने पर अतिरिक्त आत्मविश्वास प्रदान करते हैं।(आईएएनएस)


12-Apr-2021 8:34 PM 43

नई दिल्ली, 12 अप्रैल (आईएएनएस)| एक सरकारी विशेषज्ञ पैनल ने भारत में रूसी निर्मित कोविड टीका, स्पुतनिक-वी के आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण को मंजूरी दे दी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने यह जानकारी दी। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी की मंजूरी देने के बाद, आईएएनएस को बताया, एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित कोविशील्ड और भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोवैक्सीन के बाद यह तीसरी वैक्सीन होगी।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के डॉ. एन.के. अरोड़ा ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, "हालांकि, मुझे अभी इसकी मंजूरी के बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है, लेकिन अगर इसे मंजूरी मिल जाती है तो यह भारत के लिए अच्छी खबर होगी।"

इस वैक्सीन की विशेषताओं के बारे में बताते हुए, अरोड़ा ने कहा, "स्पुतनिक दो डोज का टीका है। पहली खुराक की संरचना दूसरी खुराक से अलग होगी और पहली खुराक और दूसरी के बीच कम से कम तीन से चार सप्ताह का अंतर होना चाहिए। प्रकाशित आंकड़ों से पता चलता है कि इसमें 91 प्रतिशत प्रभावकारिता है। इस पर कुछ और स्पष्टता भी जल्द आएगी।"


12-Apr-2021 8:32 PM 21

मुंबई, 12 अप्रैल (भाषा)। भ्रष्टाचार और कार्यालय के दुरुपयोग के आरोपों की अपनी जांच में आगे बढ़ते हुए, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 14 अप्रैल को पूछताछ के लिए बुलाया है। (19:42) 

[Central Bureau of Investigation.] जांच से जुड़े सीबीआई अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, "हमने देशमुख से 14 अप्रैल को हमारे कार्यालय में अपना बयान दर्ज करने के लिए कहा है।"

यह पहली बार है कि बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश पर भ्रष्टाचार और कार्यालय के दुरुपयोग के आरोपों में 6 अप्रैल को प्रारंभिक जांच (पीई) दर्ज करने के बाद सीबीआई ने देशमुख को पूछताछ के लिए बुलाया है।


12-Apr-2021 8:03 PM 18

कोयंबटूर,12 अप्रैल: तमिलनाडु में पुलिस के एक उपनिरीक्षक (Sub-Inspector) द्वारा यहां एक रेस्तरां के कर्मचारियों और ग्राहकों के साथ कथित तौर पर मारपीट किए जाने का मामला सामने आया है. घटना का वीडियो वायरल होने के बाद उसका तबादला पुलिस नियंत्रण कक्ष में कर दिया गया है.वायरल वीडियो में कत्तूर थाने में तैनात पुलिस उपनिरीक्षक रविवार रात 10.20 बजे रेस्तरां में प्रवेश करते और फिर कोविड-19 रोधी नियमों के उल्लंघन की बात कहकर वहां के कर्मचारियों और ग्राहकों को डंडे से पीटता दिखाई दे रहा है.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटना में होसूर निवासी पांच पर्यटकों के समूह में शामिल एक महिला मामूली रूप से घायल हुई है.
रेस्तरां मालिक ने उपनिरीक्षक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद पुलिस आयुक्त ने घटना की जांच के आदेश दिए और आरोपी पुलिस उपनिरीक्षक का तबादला पुलिस नियंत्रण कक्ष में कर दिया गया है.(ndtv.in)

 


12-Apr-2021 8:02 PM 16

हरिद्वार में 12 वर्षों के अंतराल पर आयोजित होने वाले कुंभ मेला 2021 का आज दूसरा शाही स्नान था. इस दौरान सुबह 10 बजे तक 17 लाख श्रद्धालु गंगा में डुबकी लगाने पहुंचे, वहीं दोपहर 12 बजे तक यह आंकड़ा 21 लाख को पार कर गया. लेकिन उत्तराखंड समेत देशभर में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार का खौफ हरिद्वार में नहीं के बराबर दिखा. सोशल डिस्टेंस और कोरोना के नियम भूलकर लाखों की संख्या में पहुंचे लोगों ने कुंभ स्नान किया.

देशभर में कोरोना की दूसरी लहर ज्यादा खतरनाक तरीके से सामने आ रही है, लेकिन हरिद्वार में 12 वर्षों में आयोजित होने वाले कुंभ मेले में इस महामारी का खौफ नहीं है. यही वजह रही कि कुंभ के दूसरे शाही स्नान के दिन सोमवार को गंगा नदी में डुबकी लगाने वालों की संख्या 21 लाख को पार कर गई. 

कोरोना की रोकथाम के लिए देशभर में भीड़-भाड़ लगाने पर पाबंदी जैसे नियमों के बीच हरिद्वार में सोमवार को हर की पौड़ी पर नागा साधुओं और देश के कोने-कोने से पहुंचे साधु-संतों के शाही स्नान के दौरान बड़ा अलौकिक दृश्य दिख रहा था.

शाही स्नान के लिए देशभर से पहुंचे साधु-संत अपने साथ त्रिशूल, गदा, कमंडल आदि लेकर भी आए थे. हर की पौड़ी पर हजारों की संख्या में इन साधुओं ने जब गंगा में प्रवेश किया, उस समय पूरा माहौल भक्तिमय हो उठा. 

कोरोनाकाल में कुंभ मेले में स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के चेहरे पर गजब का उत्साह दिख रहा था. संक्रमण के डर से बेखबर श्रद्धालु जयघोष करते हुए गंगा में प्रवेश कर रहे थे. श्रद्धालुओं से खचाखच भरे हर की पौड़ी घाट पर बड़ी संख्या में युवा भी मौजूद थे, जो अलग-अलग राज्यों से कुंभ मेले में आए हैं. (news18.com) 


12-Apr-2021 7:54 PM 31

नई दिल्ली: कांग्रेस  ने सोमवार को कहा कि सरकार को ‘इवेंटबाजी' और कोविड रोधी टीके का निर्यात बंद कर सभी जरूरतमंद लोगों के लिए टीके की व्यवस्था करनी चाहिए. पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सभी लोगों को कोविड रोधी टीका लगाने की पैरवी करते हुए कहा कि यह देश की जरूरत है क्योंकि सुरक्षित जीवन हर नागरिक का अधिकार है.

उन्होंने पार्टी की ओर से ‘स्पीकअप फॉर वैक्सीन्स फॉर ऑल' हैशटैग से चलाए गए सोशल मीडिया अभियान के तहत यह टिप्पणी की. कांग्रेस ने सभी नागरिकों को टीका लगाए जाने की मांग करते हुए यह अभियान चलाया है. राहुल गांधी ने इस अभियान के तहत एक वीडियो जारी कर कहा, ‘‘मोदी जी, आपने कहा था कि कोरोना संकट के खिलाफ लड़ाई तीन हफ्ते में जीतनी है. आपने घंटी बजवा दी, थाली बजवा दी, मोबाइल फोन लाइट जलवा दी, लेकिन कोरोना संकट आगे बढ़ता गया. अब दूसरी लहर है, लाखों लोग कोरोना वायरस के संक्रमण के शिकार हो रहे हैं.''

उन्होंने ट्वीट भी किया, "385 दिन में भी कोरोना से लड़ाई नहीं जीत पाए- उत्सव, ताली-थाली बहुत हो चुके अब देश को वैक्सीन दो!"  (ndtv.in)

उन्होंने तंज कसते हुए कहा, ‘‘आप इवेंटबाजी बंद करिए. जिसको भी टीके की जरूरत है उसे टीका दिलवाइए. टीके का निर्यात बंद करिए. गरीब लोगों को सीधे आर्थिक मदद करिए.''इससे पहले, कांग्रेस नेता ने ट्वीट किया, ‘‘कोरोना रोधी टीका देश की जरूरत है. आपको इसके लिए अपनी आवाज उठानी चाहिए. सुरक्षित जीवन हर किसी का अधिकार है.''

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने इस अभियान के तहत ट्वीट किया, ‘‘....क्योंकि सबके लिए टीका जुमला न बन... क्योंकि सरकार इवेंट से ज्यादा जनता पर ध्यान दे.... क्योंकि सबको जानने का हक है कि पीएम केयर के नाम पर इकट्ठा फंड कहां खर्च हो रहा है... क्योंकि टीका बाहर भेजने की बजाय, सरकार हर भारतीय को टीका देने पर ध्यान केंद्रित करे.''
कांग्रेस के कई अन्य नेताओं ने भी इस अभियान के तहत सरकार से सबके लिए कोरोना रोधी टीका उपलब्ध कराने की मांग की.

गौरतलब है कि देश में एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के 1,68,912 नए मामले सामने आने के साथ ही सोमवार को संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,35,27,717 हो गए. संक्रमण के कारण 904 लोगों की मौत होने से मृतकों की संख्या 1,70,179 हो चुकी है.