राष्ट्रीय

बंगाल चुनाव : आज तीसरे मोर्चे की ताकत दिखाएंगे कांग्रेस व वाम दल
28-Feb-2021 3:54 PM 38
बंगाल चुनाव : आज तीसरे मोर्चे की ताकत दिखाएंगे कांग्रेस व वाम दल

कोलकाता, 28 फरवरी | कोलकाता के ब्रिगेड परेड मैदान में हाई वोल्टेज विधानसभा चुनाव से पूर्व तीसरे मोर्चे की ताकत दिखाने के लिए सीपीएम के नेतृत्व वाले वाम मोर्चा और कांग्रेस पहली बार रविवार को एक संयुक्त रैली करने जा रहे हैं। हुगली के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी के नेतृत्व वाले भारतीय सेक्युलर फ्रंट (आईएसएफ) भी इस विशाल रैली में हिस्सा लेगा।

पश्चिम बंगाल के विभिन्न जिलों के हजारों वामपंथी और कांग्रेस समर्थकों ने शनिवार रात से ही ट्रेनों और बसों से कोलकाता में प्रवेश करना शुरू कर दिया था। हावड़ा और सियालदह रेलवे स्टेशन पर शिविर खोले गए। दोनों दलों ने कई जुलूस निकाले, सोशल मीडिया पर व्यापक अभियान चलाकर लोगों से रैली में भाग लेने के लिए कहा।

तीन-पक्षीय चुनावी गठबंधन के 'पोस्टर बॉय' और पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्जी इस रैली से नदारद रहेंगे क्योंकि वह इस बार खराब स्वास्थ्य के कारण इसमें शामिल नहीं हो पाएंगे। बंगाल का वाम नेतृत्व चाहता था कि भट्टाचार्जी मेगा शो में उपस्थित हों और उन्होंने पूर्व सीपीआई-एम पोलित ब्यूरो सदस्य से अनुरोध भी किया था। लेकिन, आखिरी समय में पूर्व मुख्यमंत्री ने पार्टी को एक पत्र भेजा और कहा कि वह इस रैली में शामिल होने में असमर्थ हैं।

इस मेगा रैली में सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, राज्य सचिव सूर्यकांत मिश्रा, वाम मोर्चा अध्यक्ष बिमान बोस, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी, आईएसएफ के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी और अन्य नेता उपस्थित रहेंगे। सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस नेता और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी रैली में शामिल होंगे।

वाम-कांग्रेस और आईएसएफ गठबंधन इस विशाल रैली के माध्यम से आगामी विधानसभा चुनाव के लिए अपने प्रचार की शुरुआत करेंगे।

गौरतलब है कि वाम मोर्चा अध्यक्ष बिमान बोस तैयारियों का जायजा लेने के लिए शनिवार दोपहर परेड मैदान गए थे। उन्होंने कहा कि यह अब तक की सबसे बड़ी ब्रिगेड बैठकों में से एक होगी।

वाम मोर्चा और कांग्रेस ने पहले ही सीट-साझाकरण समझौते को अंतिम रूप दे दिया है। वाम दलों और आईएसएफ के बीच भी बातचीत हो गई है क्योंकि दोनों दलों ने नव-गठित राजनीतिक संगठन के लिए 30 सीटों पर सहमति व्यक्त की है। सूत्रों ने हालांकि कहा कि कांग्रेस और आईएसएफ के बीच सीट बंटवारे की बातचीत अभी भी जारी है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रदीप भट्टाचार्य ने कहा कि यह गठबंधन तृणमूल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जनविरोधी और सांप्रदायिक राजनीति का विकल्प प्रस्तुत करने वाला है। (आईएएनएस)
 

अन्य पोस्ट

Comments