कोण्डागांव

आवर्ती चराई गोठानों को भी किया जाएगा आजीविका केन्द्र के रूप में विकसित
03-Mar-2021 9:29 PM 17
   आवर्ती चराई गोठानों को भी किया जाएगा आजीविका केन्द्र के रूप में विकसित

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोण्डागांव, 3 मार्च। कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा ने जिले के वनांचलों में बने आवर्ती चराई वाले गोठानों में पहुंच निरीक्षण किया। इस दौरान वे भाखरा, करंजी, मालगांव व बड़ेघोड़सोड़ा पहुंचे। जहां सर्वप्रथम उन्होंने भाखरा व करंजी स्थित आवर्ती चराई गोठानों को देखा एवं वहां बन रहे वर्मी कम्पोस्ट की अच्छी गुणवत्ता की प्रशंसा की।

 कुगाडग़ारकापाल में निर्माणाधिन अंडा उत्पादन केन्द्र का निरीक्षण किया। इस केन्द्र में लगभग आठ हजार से अधिक मुर्गियों से अंडे का उत्पादन किया जाना हैं। इस केन्द्र के पूर्णरूप से कार्यशील होने के बाद पांच हजार से अधिक अंडे प्रतिदिन प्राप्त होंगे। इसके पश्चात मारकण्डेय नाला में नरवा विकास योजना अंतर्गत किये जा रहे उन्नयन कार्य का भी निरीक्षण किया।

 कलेक्टर ने रास्ते में वनप्रबंधन समिति के स्वसहायता समूह द्वारा इमली व अन्य वनोपजों की खरीदी को देखा। मौके पर डीएफ ओ कोण्डागांव उत्तम गुप्ता ने बाजार में व्यापारियों द्वारा इमली की खरीदी के दौरान शासन द्वारा तय न्यूनतम समर्थन मूल्य 36 रूपए से कम पर खरीदी करने के लिए फ टकार लगाई।

साथ ही मौके पर उपस्थित ग्रामीणों से अपने वनोपजों को शासन द्वारा तय न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम में ना बेचने की अपील की और कहा कि एमएसपी से कम यदि बाजार में वनोपजों का मूल्य प्राप्त हो रहा हो तो नजदीकी वन प्रबंधन समिति पर जा कर ही वनोपजों का विक्रय करे। तत्पश्चात उन्होंने मालगांव एवं बड़ेघोड़सोड़ा में बने आवर्ती चराई गोठानों में जाकर वर्मी कम्पोस्ट के निर्माण एवं गोबर खरीदी का जायजा लिया साथ ही उपस्थित ग्रामीणों से ग्राम की समस्याओं पर चर्चा की।

अनंतपुर के जंगलों में गागड़ा ग्राम के समीप पुरातन काल से निर्मित मेढर तालाब में पहुंच कलेक्टर ने वहां रहने वाले विभिन्न प्रजातियों पक्षियों के मनमोहक दृश्य का अवलोकन किया। इस दौरे में जिला पंचायत सीईओ डीएन कश्यप, डीएफओ उत्तम गुप्ता, जनपद पंचायत सीईओ अमित भाटिया, एसडीओ फोरेस्ट एस पटेल, एसडीओ कृषि उग्रेश देवांगन एवं एडीएफ शिवा चित्ता सहित अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

अन्य पोस्ट

Comments