खेल

Previous123456789...1617Next
13-Jul-2020 4:33 PM

स्पीलबर्ग (आस्ट्रिया), 13 जुलाई ।  लुईस हैमिल्टन ने रविवार को यहां पोल पोजीशन से शुरुआत करते हुए स्टायरियन ग्रां प्री का खिताब जीता जो उनके करियर की 85वीं जीत है और इससे वह माइकल शूमाकर के फॉर्मूला वन के रिकॉर्ड से छह जीत दूर रह गए हैं।

शूमाकर ने अपनी अधिकतर जीत फेरारी के साथ दर्ज की थी लेकिन अभी उनकी पुरानी टीम संघर्ष कर रही है। पिछली चार रेस में दूसरी बार चार्ल्स लेकरेक और सेबेस्टियन वेटेल रेस पूरी नहीं कर पाए।

हैमिल्टन ने रिकॉर्ड 89वीं बार पोल पोजीशन से शुरुआत की और रेस के दौरान कोई उन्हें खास चुनौती पेश नहीं कर पाया। वह मर्सीडीज के अपने साथी वलटारी बोटास से 13.7 सेकेंड के लिये आगे रहे। रेड बुल के मैक्स वर्सटाप्पन तीसरे स्थान पर रहे। बोटास ने पिछले महीने आस्ट्रियाई ग्रां प्री का खिताब जीता था। (एजेंसी)


13-Jul-2020 4:29 PM

मैड्रिड, 13 जुलाई । सेविला ने मालोर्का को 2-0 से हराकर स्पेनिश फुटबॉल लीग ला लिगा में अपनी लगातार चौथी जीत दर्ज की जिससे वह चैंपियन्स लीग के अगले सीजन के लिये क्वॉलीफाई करने के करीब भी पहुंच गया। फॉरवर्ड लुकास ओकामपोस और यूसुफ एन नेसेरी ने सेविला की तरफ से गोल किए। इससे सेविला की टीम चौथे स्थान पर अपनी जगह पक्की करने से केवल एक अंक पीछे रह गई है।

यूरोप के टॉप क्लब प्रतियोगिता चैंपियन्स लीग में चोटी के चार स्थानों पर रहने वाली टीमें भाग लेती हैं। सेविला के अभी एटलेटिको मैड्रिड के समान 66 अंक हैं लेकिन गोल अंतर के कारण वो चौथे स्थान पर है। वो पांचवें स्थान के विल्ला रीयाल से नौ अंक आगे है, और एक अंक हासिल करने पर उसका कम से कम चौथा स्थान सुनिश्चित हो जाएगा।

सेविला 2018 में चैंपियन्स लीग के क्वॉर्टर फाइनल में पहुंचा था, लेकिन मौजूदा सीजन के लिए क्वॉलीफाई नहीं कर पाया था। इस बार उसे यूरोपा लीग में खेलना है जहां उसका सामना रोमा से होगा। इस बीच वेलेंसिया को लेगानेस से 1-0 से हार का सामना करना पड़ा, जिससे उसके अगले सीजन में यूरोपा लीग में जगह बनाने की उम्मीदों को झटका लगा है। वेलेंसिया ने एक पेनल्टी किक भी गंवायी जबकि लेगानेस की तरफ से रूबेन पेरेज ने 18वें मिनट में पेनल्टी को गोल में बदला। इस रिजल्ट से वेलेंसिया नौवें स्थान पर खिसक गया है।

पांचवें और छठे स्थान पर रहने वाली टीमें यूरोपा लीग में जगह बनाती हैं। वेलेंसिया और छठे स्थान की टीम गेटाफे के बीच तीन अंक का अंतर है। अन्य मैचों में एथलेटिक बिलबाओ ने लेवांटे पर 2-1 की जीत से यूरोपा लीग में क्वालीफाई करने की उम्मीदें बरकरार रखी। रॉल गर्सिया के दो गोल से दर्ज की गयी इस जीत से एथलेटिक सातवें स्थान पर पहुंच गया है। एक अन्य मैच में इबार ने अंकतालिका में अंतिम स्थान पर चल रही एस्पेनयोल को 2-0 से हराया। एस्पेनयोल की यह लगातार सातवीं हार है। (एजेंसी)


13-Jul-2020 4:21 PM

 वेस्टइंडीज ने इंग्लैंड को 4 विकेट से हराया

साउथैम्पटन, 13 जुलाई । वेस्टइंडीज ने रविवार को इंग्लैंड को 3 टेस्ट मैच की सीरीज के पहले टेस्ट मैच में 4 विकेट से हराकर सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली। मैच के बाद वेस्टइंडीज टीम के कप्तान जेसन होल्डर ने कहा कि उनकी अभी तक की अपनी सबसे बड़ी और शानदार जीतों में से एक है। कोरोनावायरस के कारण मार्च के मध्य से बंद पड़ी क्रिकेट की शुरुआत इस सीरीज से हो रही है। 

मैच के बाद कप्तान होल्डर ने कहा, हमारी अभी तक की सर्वश्रेष्ठ जीतों में से एक है। कल (शनिवार) का दिन काफी मुश्किल था। लंबा था और गेंदबाज लगातार गेंदबाजी कर रहे थे। उन्होंने अपना सब कुछ दिया। यह टेस्ट क्रिकेट का मुश्किल दिन।
तीन टेस्ट मैच की सीरीज के पहले टेस्ट में वेस्टइंडीज ने इंग्लैंड को 4 विकेट से हराकर 1-0 की बढ़त बना ली है। इंग्लैंड की टीम अपनी दूसरी पारी में अच्छी वापसी की थी लेकिन पुछल्ले उसके बल्लेबाज एक बार फिर फ्लॉप हुए, जिससे विंडीज की टीम को वह 200 रन का ही लक्ष्य दे पाई। जोफ्रा आर्चर ने अपनी घातक फास्ट बोलिंग के दम पर इंग्लैंड की मैच में वापसी जरूर कराई थी। लेकिन इसके बाद जे. ब्लैकवुड और रोस्टन चेज की जोड़ी ने उसे पहले मुश्किल से निकाला और फिर ब्लैकवुड के 95 रनों की बदौलत मैच में जीत अपने नाम कर ली।

लंबे अरसे बाद खेलने के बारे में होल्डर ने कहा, मैं नहीं समझता कि कोई भी टीम जानती थी कि यह कैसे होगा। घर पर बैठकर सबकुछ करना। हमें खेलने का मौका मिला लेकिन मानसिक तौर पर आप कभी तैयार नहीं होते हो। लेकिन यह इच्छाशक्ति थी। हम जानते थे कि क्या दाव पर है।

ब्लैकवुड ने तब जिम्मेदारी संभाली जब वेस्टइंडीज ने तीन विकेट 27 रन पर गंवा दिए थे। ब्लैकवुड ने इसके बाद एक छोर संभाला और मैच का रुख मोड़ दिया। ब्लैकवुड ने इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स की गेंद पर मिडऑफ पर कैच थमाने से पहले से 95 रन बनाए। उन्होंने 154 गेंदों की पारी में 12 चौके लगाए। ब्लैकवुड ने रोस्टन चेस (37) के साथ चौथे विकेट के लिए 73 रन और शेन डोरिच (20) के साथ पांचवें विकेट के लिए 68 रन की उपयोगी साझेदारियां कीं, जो मैच का टर्निंग पाइंट साबित हुआ।

विंडीज ने दूसरी पारी की जिस तरह शुरुआत की थी उसे देखकर लग नहीं रहा था कि जीत उसके हिस्से आएगी। टीम ने 27 रनों तक ही अपने तीन विकेट खो दिए थे। क्रेग ब्रैथवेट चार, शरमाह ब्रूक्स शून्य और शई होप 9 रन बनाकर पविलियन लौट लिए थे, जबकि ब्रैथवेट के साथ पारी की शुरुआत करने आए जॉन कैम्पवेल रिटायर्ड हर्ट हो गए थे जो बाद में बल्लेबाजी करने आए और आठ रन बनाकर नाबाद लौटे।

ब्लैकवुड अपने शतक और टीम को जीत के करीब ले जा रहे थे। वह जब अपने शतक से पांच रन दूर थे तभी इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स ने उन्हें पविलियन भेज दिया। उन्होंने 154 गेंदों पर 12 चौकों की मदद से 95 रन बनाए। उनका विकेट 189 रनों पर गिरा और लगा कि यहां इंग्लैंड शायद मैच में वापसी कर ले। हालांकि इंग्लैंड की घातक गेंदबाजी का कैम्पबेल और कप्तान जेसन होल्डर ने डटकर सामना किया और टीम को जीत दिलाकर लौटे।

इससे पहले इंग्लैंड ने दिन की शुरुआत 8 विकेट के नुकसान पर 284 रनों के साथ की थी। मार्क वुड (2) और आर्चर (23) के विकेट गिरने के साथ ही इंग्लैंड की दूसरी पारी समाप्त हो गई। इंग्लैंड की दूसरी पारी में जैक क्रॉले ने 76, डॉम सिब्ले ने 50, कप्तान स्टोक्स ने 46 और रोरी बर्न्स ने 42 रन बनाए। विंडीज के लिए शैनन गैब्रिएल ने पांच विकेट लिए, जबकि रोस्टन चेज और अल्जारी जोसेफ ने दो-दो विकेट लिए। जेसन होल्डर को एक विकेट मिला।

मैच को लेकर उन्होंने कहा, अगर हमें कल विकेट मिल जाते तो इससे हमारा काम और आसान हो जाता लेकिन हमने आज वापसी की। होल्डर ने टीम की जीत के हीरो रहे जे. ब्लैकवुड की तारीफ की, जिन्होंने शुरुआती विकेट जल्दी गिर जाने के बाद एक छोर संभाले रखा और 95 रनों की मैच विनिंग पारी खेली। 
होल्डर ने कहा, उनकी पारी शानदार है। जब वह आउट हुए मैं काफी निराश हुआ। वह इसी तरह से खेलते हैं। वह हमेशा प्रयास करते हैं और आज उनका दिन था। (आईएएनएस)
 


13-Jul-2020 4:08 PM

नई दिल्ली, 13 जुलाई।  भारतीय टीम ने 13 जुलाई 2002 को नेटवेस्ट ट्रोफी के फाइनल में इंग्लैंड को हराया था। टीम इंडिया ने 326 के लक्ष्य को हासिल किया था। दो विकेट से मिली यह जीत भारतीय टीम के इतिहास में काफी मायने रखती है। यह जीत इस लिहाज से भी काफी अहम हो जाती है कि इसमें युवा खिलाडिय़ों ने सबसे अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 

सचिन तेंडुलकर जब आउट होकर पविलियन लौटे तो भारत का स्कोर पांच विकेट पर 146 रन था। ऐसे में युवराज सिंह और मोहम्मद कैफ ने मिलकर भारत को संकट से उबारा। युवराज के आउट होने के बाद भी कैफ जमे रहे और भारत को जीत दिलाकर ही लौटे। युवराज और कैफ के बीच 121 रनों की पार्टनरशिप हुई थी। युवराज के आउट होने के बाद हरभजन सिंह ने कैफ का अच्छा साथ दिया और सातवें विकेट के लिए 47 रन जोड़े। मोहम्मद कैफ ने नाबाद 87 रन बनाए। कैफ फाइनल में मैन ऑफ द मैच बने। 

18 साल बाद भी कैफ को वह जीत याद है। वह कहते हैं, उस जीत ने भारतीय क्रिकेट को हमेशा के लिए बदलकर रख दिया। उस जीत ने बताया कि हम बड़े स्कोर का पीछा कर सकते हैं। इस जीत ने बताया कि हम बड़े फाइनल जीत सकते हैं। भारतीय फैंस इस मैच को इसलिए याद करते हैं क्योंकि 1983 के वर्ल्ड कप फाइनल की जीत के बाद यह लॉर्ड्स पर भारत की सबसे बड़ी जीत थी। 

कैफ ने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के साथ खास बातचीत में उस मैच को याद करते हुए कहा, 'मुझे इस मैच की एक और खास इमेज याद है। जब मैं इलाहाबाद लौटा तो मुझे खुली जीप पर ले जाया गया। मेरे घर का पांच-छह किलोमीटर का सफर तय करने में मुझे करीब तीन-चार घंटे का वक्त लगा। 

इलाहाबाद के रहने वाले कैफ कहते हैं जब वह स्टेशन से बाहर निकले तो सड़क के दोनों ओर लोग फूल-मालाएं लेकर खड़े हुए थे। उन्होंने कहा, लोग नारे लगा रहे थे। जब मैं छोटा था तो मैंने अमिताभ बच्चन को चुनाव जीतने के बाद अपने गृह नगर (इलाहाबाद) में यूं खली जीप में घूमते देखा था। उस दिन, मुझे ऐसा लगा जैसे मैं अमिताभ बच्चन हूं। (नवभारत टाईम्स)


13-Jul-2020 4:06 PM

नई दिल्ली, 13 जुलाई । टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली अपने आक्रामक रवैये के लिए मशहूर रहे हैं। गांगुली की कप्तानी में ही टीम इंडिया ने आक्रामक होकर खेलना शुरू किया, उन्होंने हमेशा फ्रंट से टीम को लीड किया है। 'दादा' और बंगाल टाइगर के नाम से मशहूर रहे गांगुली विरोधी टीम से आंख में आंख मिलाकर सामना करते थे। कई बार मैदान पर हुई कहासुनी का हिस्सा भी गांगुली बन चुके हैं। श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर रसेल अर्नाल्ड के साथ भी एक छींटाकशी उनकी काफी चर्चा में रही थी। श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा ने बताया कि किस तरह उस किस्से के बाद गांगुली श्रीलंका के ड्रेसिंग रूम में पहुंच गए थे।

2002 चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल मैच खेला जा रहा था। पिच पर डेंजर एरिया में दौडऩे के लिए अर्नाल्ड को चेतावनी मिली थी, उसके बावजूद वो ऐसा करने से बाज नहीं आ रहे थे, जिसके बाद गांगुली को गुस्सा आ गया था। हाल में श्रीलंका के पूर्व कप्तान संगकारा ने बताया कि मैच के बाद गांगुली श्रीलंकाई ड्रेसिंग रूम में पहुंच गए थे। उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स के क्रिकेट कनेक्टेड शो पर कहा, मुझे एक किस्सा याद है, जिसमें वनडे मैच में गांगुली की अर्नाल्ड के साथ तीखी बहस हो गई थी। मैच के बाद गांगुली ड्रेसिंग रूम में सभी खिलाडिय़ों से बात करने के लिए आए और कहा कि मैच के दौरान इस तरह की दिक्कतें ना खड़ी करें। अगर यह बात ज्यादा खिंची तो वो सस्सेंड भी हो जाते। हमने उनसे कहा कि इस बारे में परेशान होने की जरूरत नहीं है, हम इस बात को और बड़ा नहीं बनाएंगे और सब सही हो जाएगा।

अर्नाल्ड ने यह किस्सा याद करते हुए ही गांगुली को उनके 48वें जन्मदिन की बधाई दी थी। अर्नाल्ड ने उस मैच की क्लिप शेयर करते हुए गांगुली को बर्थडे विश किया था। गांगुली इस समय भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष हैं। वो भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक गिने जाते हैं। 2002 चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल मैच बारिश में धुल गया था, जिसके बाद भारत और श्रीलंका ने वो खिताब शेयर किया था। (लाइव हिन्दुस्तान)


12-Jul-2020 4:30 PM

नई दिल्ली, 12 जुलाई । केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने खेल संस्कृति बनाने की आवश्यकता पर जोर देते हुए शनिवार को कहा कि भारत में लोगों को और यहां तक कि संसद में उनके कुछ सहयोगियों को खेलों की समझ बेहद ही सीमित है। रिजिजू इस बात को लेकर आश्चर्यचकित थे कि उनके सहयोगियों को लगा कि ज्योति कुमारी, कंबाला जॉकी श्रीनिवास गौड़ा और रामेश्वर गुर्जर जैसे सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोरने वाले ओलंपिक संभावित थे।

ज्योति कुमारी कोविड-19 महामारी के दौरान अपने बीमार पिता को साइकिल पर बैठाकर गुरुग्राम से बिहार तक ले गई थी। कर्नाटक के गौड़ा के बारे में दावा किया गया था कि उन्होंने लगभग 11 सेकंड में 100 मीटर कर दौड़ पूरी की। रिजिजू ने ईएलएमएस खेल संस्थान और अभिनव बिंद्रा संस्थान द्वारा आयोजित हाई परफोरमेंस लीडरशिप कार्यक्रम के लॉन्च के मौके पर कहा, खेलों के बारे में भारतीय समाज में ज्ञान बहुत कम है। मैं अपने संसद के सहयोगियों को नीचा नहीं दिखाना चाहता हूं, लेकिन उन्हें भी इसका ज्ञान नहीं है।

उन्होंने कहा,  क्रिकेट के बारे में हर कोई जानता है, अंग्रेज लोगों ने हमारे दिमाग में डाल दिया है कि खेल में दूसरी टीम को हराना होता है। लेकिन इसके अलावा, कोई ज्ञान नहीं है, सब सिर्फ स्वर्ण पदक चाहते हैं।

मई के महीने में 15 साल की ज्योति कुमारी साइकिल पर बीमार पिता को बैठाकर आठ दिनों में गुरुग्राम से अपने पैतृक गांव तक का 1200 किलोमीटर का सफर तय की थी। भारतीय साइकिल महासंघ ने उसे ट्रायल का प्रस्ताव दिया जिसे ज्योति ने ठुकरा दिया। ज्योति के बारे में रिजिजू ने कहा, यह लड़की कोविड-19 के कारण पैदा हुई कठिन परिस्थितियों में अपने पिता को गुडग़ांव (गुरुग्राम) से बिहार तक साइकिल पर ले गई थी। यह दुखद बात थी, लेकिन मेरे कुछ सहयोगियों ने ऐसी कल्पना की कि वह साइकिलिंग में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतेगी।

उन्होंने कहा, देखिये ज्ञान की कमी लोगों को इस तरह से सोचने के लिए मजबूर करती है, बिना यह जाने कि साइकिल के प्रारूप क्या हैं और ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के लिए क्या मानक हैं, बस कुछ भी बोलने से नहीं होगा। इससे पहले गौड़ा और मध्य प्रदेश के गुर्जर भी मिट्टी के मैदानों में दौड़ के कारण सोशल मीडिया सनसनी बने जिसके बाद इन दोनों की तुलना ओलंपिक में कई स्वर्ण जीतने वाले फर्राटा धावक उसेन बोल्ट से की गयी। उन्हें ट्रायल के लिए बुलाया गया था।

रिजिजू ने कहा, कर्नाटक में भी एक मामला था, एक बैलगाड़ी की प्रतियोगिता में कोई श्रीनिवास था। लोगों को यह न लगे कि हम स्थिति से अवगत नहीं हैं इसलिए भारतीय खेल प्राधिकरन (साइ) ने उसे ट्रायल के लिए बुलाया। खेल मंत्री ने कहा, मुझे बताया गया था कि वह विश्व स्तरीय धावक के लिए उपयुक्त नहीं है, लेकिन यह महत्वपूर्ण नहीं है। लोगों ने कहना शुरू कर दिया कि हमें एक ऐसा व्यक्ति मिला है जो ओलंपिक चैंपियन उसेन बोल्ट से तेज है। हमें प्रतिभा की पहचान करनी है, लेकिन लोगों में समझ की कमी को देखिये।

उन्होंने देश में खेल संस्कृति की कमी पर भी जोर देते हुए कहा कि भारत ओलंपिक में अधिक स्वर्ण पदक जीतने के लिए यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि खेल को लेकर पूरा माहौल बदले।

उन्होंने कहा, इन सभी वर्षों में जिस चीज ने मुझे परेशान किया वह यह था कि हम भारत में एक खेल संस्कृति क्यों नहीं बना पा रहे हैं। अभिनव बिंद्रा को बीजिंग में स्वर्ण मिला। हमारी हॉकी टीम मास्को में स्वर्ण पदक जीती थी। इससे खुशी होती है लेकिन ऐसे अधिक अवसरों के लिए कोई सामूहिक प्रयास नहीं होता है।

रिजिजू ने कहा, भारत में निश्चित रूप से एक खेल परंपरा है, लेकिन दुर्भाग्य से हमारे पास खेल संस्कृति नहीं है। बिंद्रा को स्वर्ण मिले इतने साल हो गए हैं। सौभाग्य से 1996 ओलंपिक से अब तक हम पदक तालिका में जगह बनाने में सफल रहे लेकिन भारत जैसे बड़े देश के लिए यह काफी नहीं है।

उन्होंने कहा, हमें यह सुनिश्चित करने के लिए देश में पूरे वातावरण (खेल से जुड़े) को बदलना होगा कि ऐसे क्षण अधिक आये। हम केवल एक या दो आइकॉन (खिलाड़ी) नहीं रख सकते, सिर्फ एक या दो पदक का जश्न नहीं मना सकते है।(एजेंसी)


12-Jul-2020 4:16 PM

ज्यूरिख (स्विट्जरलैंड), 12 जुलाई । स्विट्जरलैंड के स्टार टेनिस खिलाड़ी रोजर फेडरर ने कहा है कि खेलों में सफल होने के लिए उनके पिता ने उन्हें दो साल का अल्टीमेटम दिया था। 20 बार के ग्रैंड स्लैम विजेता फेडरर ने कहा कि शुरुआती दिनों में जब उनके माता-पिता ने उन्हें पेशेवर बनने के लिए आर्थिक रूप से समर्थन दिया, तो उन्हें यकीन नहीं था कि उनके बेटे को प्रतिस्पर्धात्मक खेलों में सफलता मिलेगी। 

पूर्व वर्ल्ड नंबर-1 फेडरर ने डिए जीट से कहा, मेरे माता-पिता ने मेरी टेनिस कोचिंग का भुगतान करने के लिए एक वर्ष में 30,000 स्विस फ्रैंक (आज की कीमत के हिसाब से करीब 24 लाख रुपये) खर्च किए। लेकिन एक पेशेवर खिलाड़ी बनने की मेरी क्षमता पर उन्हें संदेह था। 

उन्होंने कहा, जब मैं 16 साल का था, तो मैंने उनसे पूछा कि टेनिस में 100 फीसदी शामिल होने के लिए क्या मुझे स्कूल छोड़ देना चाहिए। मेरे पिता ने मुझे सफल होने के लिए दो साल दिए। उन्होंने मुझसे कहा कि अगर मैं असफल रहा या पेशेवर खिलाड़ी नहीं बन पाया, तो मुझे स्कूल वापस जाना पड़ेगा। मैंने उनसे कहा कि मुझ पर भरोसा रखिए और किस्मत से मैं जूनियर में वल्र्ड नंबर 1 बन गया।(आईएएनएस)


12-Jul-2020 4:13 PM


 डीआरएस के बचाव में सचिन
नई दिल्ली, 12 जुलाई । क्रिकेट लीजेंड सचिन तेंदुलकर का मानना है कि इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) को अंपायर कॉल्स से डिसीजन रिव्यू सिस्टम (डीआरएस) को मुक्त करना चाहिए। यह फैसला पूरी तरह से उस पर निर्भर करता है, जो तकनीक दिखाती है। उन्होंने कहा कि कितने फीसदी गेंद स्टंप्स को हिट कर रही थी यह मैटर नहीं करता, यदि डीआरएस दिखाता है कि गेंद स्टंप को हिट कर रही थी तो उसे आउट दिया जाना चाहिए। 

सचिन के कहा कि अगर गेंद स्टंप्स पर लग रही है, तो फिर ऑन फील्ड अंपायर के फैसले की परवाह किए बिना बल्लेबाज को आउट देना चाहिए। इसके साथ ही सचिन ने आईसीसी से एलबीडब्ल्यू के मामले में अंपायर कॉल के प्रावधान को हटाने पर विचार करने के लिए भी कहा है।

उन्होंने कहा कि इस बात का कोई प्रभाव नहीं पडऩा चाहिए कि मैदान पर खड़े अंपायर ने क्या फैसला दिया है। तकनीक का यह उद्देश्य है। सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट करते हुए कहा, हम जानते हैं कि तकनीक भी मनुष्य की तरह 100 फीसदी सही नहीं होती। तेंदुलकर ब्रायन लारा के साथ डिसीजन रिव्यू सिस्टम पर 100एमबी एप पर चर्चा कर रहे थे। 

सचिन ने कहा, जब टीम मैदान पर खड़े अंपायर से नाखुश होती है, तभी वह तीसरे अंपायर के पास जाती है। इसके बाद टेक्नोलॉजी पर भरोसा करना चाहिए। दोनों के बीच में कुछ नहीं होना चाहिए। जैसा कि टेनिस में होता है या तो गेंद अंदर  होती है या लाइन के बाहर। जब एक बार आपने तकनीक के इस्तेमाल का निर्णय कर लिया तो आपको उस पर भरोसा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर गेंद सिर्फ स्टंप्स को छूकर भी निकल जाए, तो भी फैसला गेंदबाज के हक में होना चाहिए। 

तेंदुलकर की इस बात का हरभजन सिंह ने भी समर्थन किया है। उन्होंने ट्वीट किया, आपसे 1000 फीसदी सहमत हूं पाजी। यदि गेंद स्टंप्स को छू रही है या किस कर रही है तो उसे आउट दिया जाना चाहिए। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि गेंद स्टंप्स के कितने हिस्से को छू रही थी। खेल की बेहतरी के लिए कुछ नियम बदले जाने चाहिए। यह निमय भी ऐसा ही है।(लाइव हिन्दुस्तान)


12-Jul-2020 4:09 PM

नई दिल्ली, 12 जुलाई। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने शनिवार को यह साफ कर दिया कि टीम इंडिया दिसंबर में ऑस्ट्रेलिया का दौरा करेगी। हालांकि गांगुली ने उम्मीद जताई है कि टीम के खिलाडिय़ों के लिए वहां क्वारंटाइन का समय कुछ कम किया जाए। 

ऑस्ट्रेलिया ने कोविड- 19 वायरस को मेलबर्न में छोड़कर बाकी पूरे देश में नियंत्रित कर लिया है। हाल ही में मेलबर्न शहर में कोविड- 19 केसों की संख्या में उछाल देखने को मिला था। 

दादा ने कहा, हां, हां, हमने इस दौरे की मंजूरी दे दी है। दिसंबर में हम वहां आएंगे। हमें बस यह उम्मीद है कि हमारे खिलाडिय़ों के लिए क्वारंटाइन के दिनों को वहां कुछ कम किया जाएगा। टीम इंडिया को यहां 4 टेस्ट मैच की सीरीज खेलनी है। 
बोर्ड के अध्यक्ष गांगुली ने कहा, क्योंकि हम यह नहीं चाहते कि खिलाड़ी इतनी दूर जाएं और दो सप्ताह के लिए होटल के कमरों में जाकर बैठ जाएं। यह बहुत-बहुत कष्टकारी और निराशाजनक होगा। 

उन्होंने कहा, और जैसा मैंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड मेलबर्न को छोड़कर बेहद अच्छी स्थिति में हैं। इसी को ध्यान में रखकर हम वहां का दौरा कर रहे हैं और उम्मीद करता हूं कि क्वारंटीन के दिन कम होंगे और हम क्रिकेट में वापसी कर पाएंगे।

कोरोना वायरस के वैश्विक संक्रमण के बाद दुनिया भर के देश हेल्थ प्रोटोकॉल फॉलो करते हुए विदेशी नागरिकों को या विदेश से आने वाले अपने नागरिकों को अपनी सीमा में आने के बाद सुरक्षा की दृष्टि से उन्हें 14 दिन क्वारंटीन कर रहे हैं। 
सौरव गांगुली ने संकेत दिये हैं इस साल के इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का आयोजन खाली स्टेडियमों में किया जा सकता है और कहा है कि कोविड-19 महामारी के बावजूद इस निलंबित प्रतियोगिता को आयोजित करने के लिये सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है।

वेस्ट इंडीज की टीम इन दिनों इंग्लैंड दौरे पर 3 टेस्ट मैचों की सीरीज खेल रही है। इस सीरीज से पहले उनके खिलाडिय़ों ने भी 14 दिन क्वॉरंटीन में बिताए और इसके पाकिस्तान की टीम इंग्लैंड से खेलेगी और उनके खिलाड़ी भी 14 दिन क्वारंटीन में रहे। ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टीम इंडिया की (नवभारत टाईम्स)
 


12-Jul-2020 4:04 PM

नई दिल्ली, 12 जुलाई । पूर्व भारतीय क्रिकेटर और उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए हैं। चौहान के इस घातक संक्रमण के लिए पॉजिटिव पाए जाने की जानकारी शनिवार देर रात मिली, जब पूर्व भारतीय क्रिकेटरों आकाश चोपड़ा और आरपी सिंह ने ट्वीट करके उनके जल्द उबरने की कामना की। 

आकाश चोपड़ा ने ट्वीट किया, चेतन चौहान भी कोविड-19 के लिए पॉजिटिव पाए गए हैं। उनके जल्द उबरने की कामना करता हूं।

आरपी सिंह ने लिखा, अभी सुना कि चेतन चौहान कोरोना वायरस के लिए पॉजिटिव पाए गए हैं। उनके जल्द उबरने की कामना करना हूं।

चौहान का शुक्रवार को कोरोना वायरस परीक्षण किया गया था और 72 साल के इस पूर्व क्रिकेटर को लखनऊ के संजय गांधी पीजीआई अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

चौहान के परिवार के सदस्यों का भी कोविड-19 परीक्षण होगा और फिलहाल उन्हें घर में ही आइसोलेशन में रखा गया है। उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल में चौहान के पास सैनिक कल्याण, होमगार्ड, पीआरडी और नागरिक सुरक्षा मंत्रालय हैं। लोकसभा के पूर्व सदस्य चौहान उन कुछ पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों में शामिल हैं, जो इस वायरस से संक्रमित हुए हैं। 

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी और स्कॉटलैंड के माजिद हक संक्रमित पाए जाने के बाद इस बीमारी से उबर गए हैं। चौहान ने भारत की ओर से 1969 से 1978 के बीच 40 टेस्ट में 2084 रन बनाए। इस दौरान उनका औसत 31.57, जबकि सर्वश्रेष्ठ स्कोर 97 रन रहा। उन्होंने सात वनडे इंटरनैशनल मैचों में 153 रन भी बनाए। 

चौहान और सुनील गावस्कर की सलामी जोड़ी काफी सफल रही। दोनों ने 1970 के दशक में 10 बार शतकीय साझेदारी की और मिलकर तीन हजार से अधिक रन बनाए। चौहान ने घरेलू क्रिकेट में दिल्ली और महाराष्ट्र की ओर से खेलते हुए काफी रन बनाए।(भाषा)


12-Jul-2020 1:48 PM

नई दिल्ली, 12 जुलाई । स्टार भारतीय धाविका दुती चंद ने साल 2018 में 30 लाख रुपये की बीएमडब्ल्यू 3 सीरीज कार खरीदी थी। लेकिन अब पैसों की कमी के कारण वह इसे बेचना चाहती हैं। दरअसल, दुती 2021 में होने वाले टोक्यो ओलंपिक की तैयारियों के लिए पैसे एक_े करना चाहती हैं, जिस कारण उन्होंने यह फैसला लिया है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण फिलहाल कोई बड़ा खेल इवेंट नहीं हो पा रहा है। इस कारण खिलाडिय़ों को स्पॉन्सर भी नहीं मिल रहे हैं। ऐसे में पैसों की कमी के कारण दुती काफी परेशान हैं। इसलिए अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए वह अपनी पसंदीदा कार बेचने को मजबूर हैं।
कार बेचना ही एकमात्र उपाय- चंद
दुती चंद ने कहा कि स्पॉन्सरशिप की कमी और किसी प्रतियोगिता के न होने की वजह से उनके पास पैसे हासिल करने का एकमात्र रास्ता कार बेचना ही है। उन्होंने कहा, कोरोना महामारी की वजह से सभी प्रतियोगिताएं रद्द हैं। ओलंपिक के लिए स्पॉन्सरशिप भी नहीं है। मैंने अपने सारे पैसे खर्च कर दिए हैं और पिछले कुछ महीनों में मेरी कमाई नहीं हुई है। इस लिए मेरे पास कार बेचने के सिवाय दूसरा विकल्प नहीं है।
दुती एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के अंडर ट्रेनिंग नहीं करती है। यही कारण है कि उन्हें फेडरेशन से किसी तरह की मदद भी नहीं मिल पा रही है। दरअसल, वह राज्य सरकार के संरक्षण और केआईआईटी यूनिवर्सिटी के स्पॉन्सर पर ट्रेनिंग करती हैं।
पैसे कामाउंगी तो दोबारा खरीद लूंगी कार- दुती
बीएमडब्ल्यू सीरीज 3 के रूप में दुती ने अपनी पहली लग्जरी कार खरीदी थी, लेकिन कठिन समय में वह इसे बेचने पर मजबूर हैं। उन्होंने कहा, मैं इससे परेशान नहीं हूं। मैं अपनी प्रतियोगिताओं के दम पर कार खरीदने में सक्षम हुई थी। मैं दोबारा से प्रतियोगिता में हिस्सा लूंगा, पैसे कमाउंगी और अपने लिए लग्जरी कार खरीदूंगी। फिलहाल मेरा फोकस 2021 ओलंपिक और ट्रेनिंग पर है। (www.abplive.com)
 


12-Jul-2020 1:40 PM

नई दिल्ली, 12 जुलाई । भारतीय क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ साल के अंत में होने वाली क्रिकेट सीरीज कप्तान विराट कोहली के लिए करियर को नई राह देने वाली होगी। गांगुली ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि मैं दिसंबर तक अध्यक्ष पद पर रहूंगा या नहीं, लेकिन कप्तान का यह कार्यकाल मापदंड होगा।
सौरव गांगुली ने इंडिया टुडे के ई-इंस्पिरेशन के एपिसोड में कहा, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यह सीरीज मील के पत्थर की तरह होगी।’ गांगुली ने कहा, ‘मैं कोहली के संपर्क में हूं, मैं कोहली को कह रहा हूं कि आपको फिट रहना होगा। आपने छह महीने से क्रिकेट नहीं खेला है। आपको सुनिश्चित करना होगा कि आपके सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज दौरे के लिए तैयार और फिट रहें। 
गांगुली ने कहा, ‘चाहे मोहम्मद शमी हो या जसप्रीत बुमराह या ईशांत शर्मा या फिर हार्दिक पंड्या जब वे ऑस्ट्रेलिया पहुंचे तो अपनी टॉप मैच फिटनेस पर होने चाहिए।’
पूर्व भारतीय कप्तान ने इस महामारी के बीच बोर्ड के संचालन में आ रही परेशानियों का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘यह अवास्तविक है। चार महीने से हम मुंबई में अपने कार्यालय नहीं गए। बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में यह मेरा सातवां या आठवां महीना है जिसमें से चार महीने कोरोना वायस की भेंट चढ़ गए।’
पदाधिकारियों के कार्यकाल को सीमित करने वाले लोढ़ा समिति के प्रशासनिक सुधारों के अनुसार गांगुली और शाह का कार्यकाल इस महीने खत्म हो रहा है। सौरव गांगुली को अक्टूबर 2019 में 9 महीने के लिए बीसीसीआई का अध्यक्ष बनाया गया था, इसके मुताबिक 31 जुलाई को गांगुली का कार्यकाल खत्म हो रहा है। इसके बाद वह कूलिंग ऑफ पीरियड पर चले जाएंगे। (aajtak.intoday.in)
 


11-Jul-2020 4:39 PM

नई दिल्ली, 11 जुलाई। कोरोना वायरस महामारी के कारण रद्द होने के बावजूद विम्बलडन 620 खिलाडिय़ों को पुरस्कार राशि के रूप में 1.25 करोड़ डॉलर बांटेगा। ऑल इंग्लैंड क्लब ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की। बीमा प्रदाता कंपनी के साथ सलाह मश्विरे के बाद क्लब के अधिकारियों ने कहा कि मुख्य ड्रॉ में भाग लेने वाले 256 में से प्रत्येक खिलाड़ी को 31,000 डालर की राशि दी जाएगी।

वहीं जो 224 खिलाड़ी क्वालीफाइंग में भाग लेते, उन्हें प्रत्येक को 15,600 डॉलर की राशि मिलेगी। ऑल इंग्लैंड क्लब के मुख्य कार्यकारी रिचर्ड लुईस ने कहा कि चैम्पियनशिप के रद्द होने के तुरंत बाद हमने अपना ध्यान इस बात पर लगा दिया कि हम उन लोगों की कैसे मदद कर सकते हैं जो विम्बलडन को आयोजित करने में सहायता करते हैं। 

इसके साथ ही 120 खिलाड़ी युगल स्पर्धाओं में हिस्सा लेते। प्रत्येक को 7,800 डॉलर, व्हीलचेयर स्पर्धा में भाग लेने वाले 16 खिलाडिय़ों को 7,500 डॉलर और क्वैड (चार खिलाडिय़ों की) व्हीलचेयर स्पर्धा में भाग लेने वाले चार खिलाडिय़ों को 6,200 डॉलर दिए जाएंगे। (एजेंसी)


11-Jul-2020 4:17 PM

नई दिल्ली, 11 जुलाई ।  क्रिकेट के खेल में जितनी अहमियत एक बल्लेबाज की होती है उतनी ही गेंदबाज की भी होती है। आक्रामक गेंदबाजी की वजह से कई बार मैच का रुख पूरी तरह से बदल जाता है। वैसे तो क्रिकेट की दुनिया में आज तक कई शानदार और महान गेंदबाज हुए हैं जिनके भरोसे उनकी टीम ने कई बार जीत हासिल की है, इसी वजह से क्रिकेट के खेल में गेंदबाजी काफी अहम है. यूं तो मैदान पर हर गेंदबाज ज्यादा से ज्यादा रन बचाकर विकेट झटकना चाहता है, लेकिन कई बार ऐसा हो नहीं पाता। न चाहते हुए भी गेंदबाज अपने स्पेल में बहुत ज्यादा रन दे देते हैं। भारतीय गेंदबाजों के नाम जिन्होंने वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन दिए हैं। 

इस लिस्ट में भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व शानदार गेंदबाज अनिल कुंबले  का नाम सबसे पहले आता है।  कुंबले ने सालों तक टीम को इंटरनेशनल मैचों में जीत दिलवाने में अहम भूमिका निभाई। इसके अलावा कुंबले टेस्ट क्रिकेट में भी सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज हैं। लेकिन वनडे क्रिकेट में उनकी गेंदबाजी टीम इंडिया को काफी महंगी पड़ी है। कुंबले ने अपने 17 साल के करियर में 271 वनडे मैच खेले जिनमें उन्होंने 10,412 रन दिए हैं। इस दौरान उन्होंने 337 विकेट भी चटकाए हैं।

भारत के एक और लाजवाब गेंदबाज हरभजन सिंह का नाम यहां दूसरे नंबर पर दर्ज है। अपनी शानदार गेंदबाजी की वजह से भज्जी ने अपना नाम दुनिया के शानदार गेंदबाजों में लिखवा लिया है। वनडे क्रिकेट में हरभजन सिंह ने अब तक 236 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 8,973 रन खर्च किए हैं। साथ ही हरभजन के नाम इन मैचों में 269 विकेट भी दर्ज हैं. भज्जी वैसे काफी किफायती गेंदबाज हैं, लेकिन करियर के आखिरी पड़ाव पर आने के बाद उनकी गेंदबाजी टीम के लिए थोड़ी महंगी साबित हुई है।

तीसरे नंबर पर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ  का नाम दर्ज है. इस बेहतरीन गेंदबाज ने साल 1991 से साल 2003 तक कुल 229 वनडे मैचों में हिस्सा लिया, जिनमें उन्होंने 8,847 रन दिए. जवागल श्रीनाथ ने अपने वनडे क्रिकेट करियर में 315 विकेट अपने नाम लिखवाए हैं. हरभजन की तरह श्रीनाथ भी करियर के आखिरी दौर में महंगे बॉलर बन गए थे. आप सभी को याद होगा कि कैसे 2003 वर्ल्ड कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों ने श्रीनाथ की जमकर पिटाई की थी और उनका यही प्रदर्शन टीम इंडिया की हार का सबसे बड़ा कारण बना था। (जी न्यूज)


11-Jul-2020 4:10 PM

नई दिल्ली, 11 जुलाई। टीम इंडिया के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज किरन मोरे ने बताया है कि किस तरह से पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज सलीम मलिक एक बार उन्हें बैट से मारना चाहते थे। उन्होंने बताया कि यह किस्सा 1989 में कराची के नैशनल स्टेडियम पर खेले गए टेस्ट मैच का है। यह वही मैच था, जिसमें सचिन तेंदुलकर और वकार यूनिस ने डेब्यू भी किया था। उस किस्से को याद करते हुए मोरे ने बताया कि वो मलिक को उनकी भाषा में जवाब देने की कोशिश कर रहे थे, जिसके बाद उन्हें पूर्व क्रिकेटर ने धमकाया था।

इतना ही नहीं मोरे ने कहा कि अगर उस समय स्टंप्स माइक्रोफोन्स होते तो खेल और ज्यादा मजेदार और रोमांचक हो जाता। उन्होंने कहा, जब भी भारत-पाकिस्तान सीरीज होती है, स्लेजिंग होती ही है। जब हम 1989 में पाकिस्तान गए थे, मैंने सलीम मलिक को कराची टेस्ट में स्लेज किया था और वो बैट से मुझे मारने आ गए थे। मैंने उन्हें पंजाबी में एक बहुत खराब शब्द कहा था, पंजाबी ऐसी भाषा थी, जो हम लोगों के लिए कॉमन थी। दरअसल वो काफी मजेदार किस्सा था। मुझे लगता है कि उस समय माइक्रोफोन्स होने चाहिए थे, यह सबके लिए काफी मजेदार हो जाता।

भारत और पाकिस्तान के बीच वो टेस्ट मैच ड्रॉ हुआ था। भारत ने दूसरी पारी में तीन विकेट गंवाकर 96 ओवर खेल डाले थे। मलिक ने पहली पारी में 36 रन और दूसरी पारी में नॉटआउट 102 रन बनाए थे। मोरे ने इसके अलावा गद्दाफी स्टेडियम पर जावेद मियांदाद के 100वें टेस्ट का भी एक किस्सा सुनाया। उन्होंने कहा, लाहौर में टेस्ट मैच खेला जा रहा था, जो जावेद मियांदाद का 100वां टेस्ट मैच था। मनिंदर सिंह गेंदबाजी कर रहे थे, और वो बल्लेबाजी के लिए आए थे। तीसरा या चौथा ओवर था, उनके खिलाफ एलबीडब्ल्यू की अपील हुई। उन्होंने मुझसे कहा कि क्यों अपील कर रहे हो तुम, यह मेरा 100वां टेस्ट मैच है, मैं सेंचुरी मारूंगा और घर लौटूंगा। वो मैच भी ड्रॉ रहा था और मियांदाद ने 145 रन बनाए थे। (लाइव हिन्दुस्तान)


11-Jul-2020 4:07 PM

नई दिल्ली, 11 जुलाई । वेस्टइंडीज के टी20 वल्र्ड कप विजेता कप्तान डेरेन सैमी ने 'ब्लैक लाइव्स मैटर (बीएलएम)' पर दक्षिण अफ्रीका के पूर्व खिलाडिय़ों द्वारा आलोचना का सामना कर रहे लुंगी नगिदी का समर्थन किया है। हरफनमौला सैमी उन क्रिकेटरों में शामिल है, जिन्होंने क्रिकेट में नस्लवाद के मुद्दे को सबसे पहले उठाया था।

सैमी ने ट्विटर पर लिखा कि नगिदी की आलोचना से पता चलता है कि इस मुद्दे पर बोलना क्यों जरूरी है। सैमी ने ट्वीट किया, 'यह तथ्य है कि कुछ पूर्व खिलाडिय़ों को 'बीएलएम' आंदोलन पर नगिदी के रुख से परेशानी है, यही कारण है कि हम अश्वेत लोगों के मुद्दे पर यहां हैं। हम तुम्हारे साथ हैं।'

इस हफ्ते की शुरुआत में नगिदी ने कहा था, नस्लवाद का मुद्दा कुछ ऐसा है जिसे हमें वैसे ही बहुत गंभीरता से लेने की जरूरत है जैसे बाकी दुनिया कर रही है।'
दक्षिण अफ्रीका के पूर्व क्रिकेटरों पैट सिमकॉक्स, बोएटा डिप्पेनार और विकेटकीपर रूडी स्टेन को हालांकि उनकी बात नागवार गुजरी, जिन्होंने देश के श्वेत किसानों पर हो रहे हमले के मुद्दे पर चुप रहने पर नगिदी पर निशाना साधा था।
इन खिलाडिय़ों ने कहा था कि नस्लवाद के खिलाफ 'बीएलएम'मुद्दे का साथ देने चाहिए, लेकिन अपने देश के श्वेत किसानों की जानवरों की तरह हत्या पर चुप्पी साधने वालों का वे समर्थन नहीं कर सकते।(आजतक)


11-Jul-2020 3:59 PM

नई दिल्ली, 11 जुलाई । कोरोना वायरस महामारी कहर पूरे देश में देखने को मिल रहा है, पश्चिम बंगाल भी इससे अछूता नहीं है। इसी कड़ी मे अब कोलकाता के ईडन गार्डन्स को भी कोविड-19 के जंग में इस्तेमाल किया जाएगा, कोलकाता पुलिस के लिए इस स्टेडियम को क्वारंटीन सेंटर में बदला जाएगा। कोलकाता पुलिस ने क्वारंटीन की सुविधा मुहैया कराने के लिए बंगाल क्रिकेट संघ से मदद मांगी है। 

पश्चिम बंगाल की राजधानी में कोरोना संक्रमण का केस लगातार बढ़ रहा हैं, ऐसे में कोलकाता पुलिस ने बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष अभिषेक डालमिया को चिट्ठी लिखकर स्टेडियम में अस्थायी क्वारंटीन सेंटर बनाने के लिए 5 ब्लॉक्स के इस्तेमाल की इजाजत मांगी है। स्पेशल कमिनश्नर जावेद शमीम और CAB  के अधिकारियों के बीच एक इमरजेंसी मीटिंग हुई। इसके बाद ईडन गार्डन्स का संयुक्त निरीक्षण किया गया। इस दौरान CAB के अध्यक्ष अभिषेक डालमिया और सचिव स्नेहाशीष गांगुली शामिल मौजूद थे।

क्वारंटीन सेंटर तैयार करने के लिए ईडन के E, F, G और H ब्लॉक्स के नीचे की जगह का इस्तेमाल होगा। अगर और ज्यादा जगह की जरूरत पड़ी, तो ब्लॉक छ्व का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। ग्राउंड्समैन और दूसरे कर्मचारियों को स्टेडियम के अंदर B, C, K और रु ब्लॉक में डॉर्मिटरी और अन्य सुरक्षित जगहों पर ट्रांस्फर किया जाएगा। अब तक कोलकाता पुलिस के 500 से भी ज्यादा जवान कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए हैं। अभिषेक डालमिया ने कहा कि मुश्किल की इस घड़ी में प्रशासन की मदद और समर्थन करना हमारा फर्ज है।(एएनआई)


11-Jul-2020 3:33 PM

इंग्लैंड-वेस्टइंडीज टेस्ट 
साउथम्पटन, 11 जुलाई ।  साउथम्पटन में इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच पहला टेस्ट मैच खेला जा रहा है। 117 दिनों के बाद कोई इंटरनेशनल मैच खेला जा रहा है, ऐसे में फैन्स के बीच इस टेस्ट मैच को लेकर उत्साह चरम पर है। कोरोना वायरस  के कारण आईसीसी ने नए नियम के साथ टेस्ट मैच को कराने की कोशिश की है जिसमें खिलाडिय़ों को जश्न मनानें के क्रम में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। लेकिन टेस्ट मैच के दौरान गेंदबाज और फील्डर सोशल डिस्टेंसिंग को भूल गए हैं और पहले की ही तरह विकेट गिरने पर जश्न मनाते नजर आए हैं। यहां तक कि इंग्लैंड के दिग्गज तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने वेस्टइंडीज के बल्लेबाज रॉस्टन चेस का विकेट चटकाया तो साथी खिलाड़ी को गले से भी लगाते हुए नजर आए। ऐसे में एक बार फिर सवाल खड़ा हो गया है कि आखिर में खिलाड़ी ऐसी भूल कैसे कर रहे हैं। यही नहीं इंग्लैंड की पारी के दौरान भी वेस्टइंडीज खिलाड़ी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करते दिखे थे और विकेट गिरने के बाद एक साथ खड़े नजर आए थे। किसी भी खिलाड़ी ने 2 गज की दूरी का पालन मैच के दौरान नहीं किया। खिलाड़ी एक दूसरे की पीठ भी थपथपाते नजर आए तो वहीं हाई फाइव भी करते दिखे हैं। 

यहां तक कि क्रिकेट कमेंट्री करने वाले कमेंटेटर नासिर हुसैन ने भी कमेंट्री करते समय सोशल डिस्टेंसिंग की बात की थी। गौतरलब है कि पहले टेस्ट में इंग्लैंड ने टॉस जीता था और पहली पारी में केवल 204 रन ही बना पाई थी। वेस्टइंडीज की ओर से कप्तान होल्डर ने 6 विकेट चटकाए थे। इसके बाद वेस्टइंडीज ने शानदार बल्लेबाजी पहली पारी में की और 318 रन बनाए। इंग्लैंड की ओर से सबसे ज्यादा विकेट बेन स्टोक्स ने झटके। स्टोक्सने 4 विकेट लिए तो वहीं एंडरसन के नाम 3 विकेट दर्ज हुए। तीसरे दिन के खेल खत्म तक इंग्लैंड की टीम ने दूसरी पारी में बिना कोई विकेट खोए 15 रन बना लिए थे। इंग्लैंड की टीम वेस्टइंडीज से पहली पारी के आधार पर अभी भी 99 रन पीछे है। 

जेम्स एंडरसन अबतक 587 विकेट चटका चुके हैं। 13 विकेट लेते ही एंडरसन टेस्ट क्रिकेट में 600 विकेट लेने वाले दुनिया के पहले तेज गेंदबाज बन जाएंगे। अबतक किसी भी तेज गेंदबाज ने 600 विकेटों का आंकड़ा नहीं पार किया है। वर्तमान में एंडरसन टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले चौथे गेंदबाज हैं। एंडरसन से आगे मुरलीधरन, शेन वार्न और अनिल कुंबले हैं। टेस्ट क्रिकेट में अभी तक केवल स्पिन गेंदबाजों ने 600 से ज्यादा विकेट झटके हैं। ऐसे में एंडरसन के पास विश्व रिकॉर्ड बनाने का अहम मौका है।(एनडीटीवी)


11-Jul-2020 3:29 PM

नई दिल्ली, 11 जुलाई । भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट का बड़ा स्टार होने के बावजूद अपने निजी जीवन में काफी साधारण तरीके से रहना पसंद करते हैं। धोनी न तो सोशल मीडिया पर ज्यादा सक्रिय रहते हैं न ही मीडिया के साथ इंटरव्यू करते नजर आते हैं। वह हमेशा औरों से हटकर काम करते नजर आते हैं, चाहे वह सेना में ट्रेनिंग लेना हो या फिर लॉकडाउन में जैविक खेती करना। धोनी ने फैसला किया है कि अब वह किसी तरह के ऐड और प्रमोशन इवेंट का हिस्सा नहीं बनेंगे। उनके बचपन के करीबी दोस्त और मैनेजर मिहीर दिवाकर ने इसकी वजह बताई है।

धोनी आए दिन किसी न किसी वजह से खबरों में रहते हैं। कभी उनके रिटायरमेंट को लेकर ट्रेंड शुरू हो जाता है तो कभी कोरोना में उनके दिए दान को लेकर चर्चा शुरू हो जाती है। हालांकि इन सबके बीच धोनी ने कभी किसी चीज पर कोई बयान या सफाई नहीं दी। वह हमेशा ही इन सबसे दूर रहते हैं। उनकी पत्नी साक्षी जरूर समय-समय पर सोशल मीडिया पर ट्रोलर्स को जवाब देती रहती है लेकिन धोनी ने कभी ऐसा नहीं किया। (न्यूज18)


10-Jul-2020 7:50 PM

नयी दिल्ली, 10 जुलाई (वार्ता)। हॉकी इंडिया के अध्यक्ष मोहम्मद मुश्ताक अहमद ने निजी और पारिवारिक कारणों से अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है।

हॉकी इंडिया के कार्यकारी बोर्ड ने शुक्रवार को आपात बैठक कर मणिपुर के ज्ञानेन्द्रो निंगोमबम को मुश्ताक अहमद के स्थान पर कार्यवाहक अध्यक्ष नियुक्त कर दिया। हॉकी इंडिया को मुश्ताक अहमद का इस्तीफ़ा पत्र सात जुलाई को प्राप्त हुआ था जिसमें उन्होंने निजी और पारिवारिक प्रतिबद्धताओं का हवाला देते हुए अपना पद छोडऩे की पेशकश की थी।

हॉकी इंडिया की आपात कार्यकारी बोर्ड बैठक में मुश्ताक मोहम्मद का इस्तीफ़ा मंजूर कर लिया गया है।

 


Previous123456789...1617Next