खेल

Previous123Next
Date : 20-Nov-2019

नई दिल्ली, 20 नवंबर। भारत और बांग्लादेश के बीच 22 नवंबर से कोलकाता के ईडन गार्डन्स में डे-नाइट टेस्ट मैच खेला जाना है। मैच पिंक बॉल से खेला जाएगा। टीम इंडिया के दिग्गज स्पिनर हरभजन सिंह ने पिंक बॉल से गेंदबाजी को लेकर कुछ बातें कही हैं। भज्जी का मानना है कि फ्लड लाइट्स के बीच पिंक बॉल से गेंदबाजी कर रहे रिस्ट स्पिनर्स काफी खतरनाक साबित हो सकते हैं। भज्जी का मानना है पिंक बॉल से गेंदबाजी कर रहे रिस्ट स्पिनर्स को समझ पाना बल्लेबाजों के लिए आसान नहीं होगा।

ये पहला मौका होगा, जब भारत और बांग्लादेश डे-नाइट टेस्ट मैच का हिस्सा होंगे। भारत में भी पहली बार ही डे-नाइट टेस्ट खेला जा रहा है। हर कोई ये देखना चाहता है कि डे-नाइट टेस्ट में पिंक बॉल किस तरह का बर्ताव करती है। भज्जी ने कहा,  अगर आप देखोगे तो कलाई के स्पिनर फायदे की स्थिति में हैं क्योंकि गुलाबी गेंद में सीम को देखना (काले धागे के कारण) काफी मुश्किल होता है।' भारत के पास कुलदीप यादव के रूप में कलाई का स्पिनर है लेकिन हरभजन चयन मामलों पर बात नहीं करना चाहते। 
उन्होंने कहा, ये टीम मैनेजमेंट का फैसला होगा और मैं टिप्पणी नहीं कर सकता। लेकिन इससे पहले बांग्लादेश को तेज गेंदबाजी की अनुकूल पिच पर भारतीय गेंदबाजों का सामना करना होगा। उन्होंने कहा, और साथ ही सभी को पता है कि कोलकाता में सूरज ढलने के समय साढ़े तीन से साढ़े चार के समय तेज गेंदबाज सबसे अधिक नुकसान पहुंचाते हैं। लेकिन अगर हमें भविष्य में अधिक डे-नाइट टेस्ट मैच खेलने हैं तो स्पिनरों को लेकर अधिक जानकारी जुटाने की जरूरत है।
हरभजन ने याद दिलाया कि 2016 दिलीप ट्रॉफी में गुलाबी गेंद से कुलदीप कितने खतरनाक गेंदबाज बन गए थे। उन्होंने कहा, अगर आपको दिलीप ट्रॉफी याद है तो कोई भी कलाई से कुलदीप की गेंद को प्रभावी तरीके से नहीं समझ पा रहा था। उस टूर्नामेंट में लेग स्पिनरों को काफी विकेट मिले थे। भज्जी ने इस दौरान ये भी बताया कि क्यों रिस्ट स्पिनर्स ज्यादा मददगार होंगे। उन्होंने कहा, जब उंगली का स्पिनर गेंदबाजी करता है तो गेंद सीम के साथ रिलीज की जाती है जिससे कि टर्न और उछाल मिले। जब आप गुगली करते हो तो सीम को समझना मुश्किल हो जाता है। 
उन्होंने हालांकि कहा कि मुथैया मुरलीधरन जैसे स्पिनर पिंक बॉल से काफी प्रभावी हो सकते हैं। भारत के महानतम स्पिनरों में से एक हरभजन ने कहा, लेकिन मुथैया मुरलीधरन जैसे अपवाद हो सकते हैं जो उंगली का स्पिनर होने के बावजूद खतरनाक हो सकता है। पिंक एसजी बॉल हालांकि स्पिनरों के लिए चुनौती हो सकती है क्योंकि दूधिया रोशनी में इसका रंग बरकरार रखने के लिए रंग की अतिरिक्त परत लगाई गई है। (लाइव हिन्दुस्तान)

 


Date : 20-Nov-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता
राजनांदगांव, 20 नवंबर।
हॉकी राजनांदगांव के तत्वावधान में आयोजित मंगलवार को चौथे दिन ईस्ट जोन विरूद्ध साउथ जोन के मध्य खेला गया। इसमें दोनों ही टीमों के बीच बड़ा ही रोमांचक मैच देखने को मिला। 
मैच के 6वें मिनट में साउथ जोन के सोनू निषाद ने गोल किया। मैच के 19वें मिनट में नवीन यादव ने गोल किया। मैच 32वें मिनट में प्रांजल यादव ने गोल किया और मैच 37वें मिनट में साउथ जोन के समीर यादव ने गोल किया। 
मैच के 49वें व 55वें मिनट में विजय साहू ने गोल किया। निर्धारित समय में दोनों ही टीम 3-3 के बराबरी पर रही। मैच के निर्णायक तौफीक अहमद व कार्तिक यादव थे। टेक्निकल टेबल में हारून खान और संतोष चोकन्द्रे ने अपनी सेवाएं दी।

 


Date : 20-Nov-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता

भिलाई नगर, 20 नवंबर। बीसीसीआई द्वारा मेन्स अन्डर 23 चैम्पियनशिप में कल देहरादून में छत्तीसगढ़ विरूद्ध हैदराबाद के मध्य मैच खेला गया। जिसमें हैदराबाद को छत्तीसगढ़ ने दो विकेट से पराजित किया।
छत्तीसगढ़ ने टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण करने का निर्णय लिया। हैदराबाद 48.3 ओवर में 195 रन बनाकर ऑलआउट हो गई जिसमें अलकांति प्रणय ने 40 रन, ऐल्गानी गौद ने 14 रन, राहुल बुद्धि ने 31 रन, मिकिल जयसवाल ने 60 रन, गदुगु ने 12 रन बनाए। छत्तीसगढ़ की ओर से बॉलिंग करते हुए आनन्द राव ने 9 ओवर में 29 रन देकर 4 विकेट, गगनदीप सिंह ने 9.3 ओवर में 23 रन देकर 3 विकेट, उत्कर्ष तिवारी ने 10 ओवर में 43 रन देकर 1 विकेट, एम बिन्नी सेमुएल ने 6 ओवर में 38 रन देकर 1 विकेट, आशीष पाण्डे ने 4 ओवर में 19 रन देकर 1 विकेट लिए। 
छत्तीसगढ़ ने 49.1 ओवर में 8 विकेट खोकर 196 रन बनाए, जिसमें आशीष पाण्डे ने 26 रन, प्रतीक यादव ने 37 रन, संजीत देसाई ने 50 रन, आनन्द राव ने 22 रन, जी सत्य विकास शर्मा ने 21 रन बनाए। हैदराबाद की ओर से बॉलिंग करते हुए कार्तिकेय ने 7 ओवर में 39 रन देकर 1 विकेट, चित्ताबोइना यादव ने 10 ओवर में 25 रन देकर 2 विकेट, मिकिल जयसवाल ने 10 ओवर में 33 रन देकर 3 विकेट, ऐल्गानी गौद ने 6.1 ओवर में 36 रन देकर 1 विकेट लिए। मैच को छत्तीसगढ़ ने 2 विकेट से जीत लिया।

 


Date : 20-Nov-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता

राजिम, 20 नवंबर। नेशनल इंटर डिस्ट्रिक्ट जूनियर एथलेटिक्स प्रतियोगिता तिरुपति(आंध्रप्रदेश) में 23 से 25 नवम्बर को आयोजित है। स्पर्धा में भाग लेने के लिए गरियाबंद जिला एथलेटिक्स संघ के 11 खिलाड़ी रवाना हुए। 
खिलाडिय़ों में अर्जुन साहू, अर्पण श्रीवास, डिकेश निषाद, आर्यन वर्मा, सुधांशु जोन, शेलेंद्र निर्मरकर, शिव धुरु, लेखपाल सोनवानी, टकेश्वर बंजारे, दुर्गेश धुरु, ओमनारायण साहू, टीम मैनेजर गिरवर निषाद, कोच कैलाश साहू, बुधलाल नेगी रवाना हुए।
 इस अवसर पर एथलेटिक्स संघ के अध्यक्ष शरद पारकर, सचिव हरीश निषाद, उपाध्यक्ष खिलेश साहू, महेश धुरु, पूरन यादव, गीतेश्वर साहू, सत्यवान निषाद उपस्थित थे। सभी ने जिला टीम के खिलाडिय़ों को बधाई दी।

 


Date : 20-Nov-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता
धमतरी, 20 नवंबर।
एनएसयूआई इंटर स्कूल स्पोर्ट्स इवेंट के पांचवें दिन पांच खेलों का आयोजन अलग-अलग मैदानों पर किया गया। कुश्ती गोकुलपुर स्कूल मैदान , वॉलीबॉल सेंट जेवियर्स स्कूल, शतरंज, रंगोली व मेहंदी सरस्वती शिशु मंदिर आमातालब में हुआ । 
वालीबॉल में कूल जिले के 14 टीमों ने भाग लिया जिसमें पहला सेमीफाइनल सेंट जेवियर्स धमतरी व शासकीय विद्यालय भाठागांव के मध्य हुआ। जिसमें शासकीय विद्यालय भाठागांव की टीम ने फायनल में जगह बनाया। दूसरा सेमीफाइनल किरण पब्लिक स्कूल कुरूद व मॉडल स्कूल के मध्य हुआ जिसमें किरण पब्लिक स्कूल जीती । 
किरण पब्लिक स्कूल कुरूद व शासकीय विद्यालय भाठागांव के मध्य हुए फाइनल मुकाबले में शासकीय विद्यालय भाठागांव की टीम विजेता बनी। वालीबॉल को सफल बनाने जय श्रीवास्तव, प्रीतम सिन्हा, बसंत सिन्हा के साथ खेल शिक्षक नवनीत पचौरी, सतीश साहू, मनीष साहू, कमलेश देशमुख उपस्थित रहे । 
कुश्ती में जिले से 58 खिलाडिय़ों ने भाग लिया जिसे 8 वर्गो में बांटा गया। 38 किग्रा वर्ग में प्रथम येणेश साहू (शासकीय माध्यमिक शाला गोकुलपुर) व द्वितीय अंगद टंडन (सराय स्कूल मकेश्वर वार्ड) रहे। 41 किग्रा वर्ग में प्रथम गनपत निर्मलकर (बॉयस स्कूल धमतरी) व द्वितीय रोशन कवर (शासकीय विद्यालय गोकुलपुर) रहे। 44 किग्रा वर्ग प्रथम यश वाल्मीकि (नूतन इंग्लिश स्कूल) व द्वितीय दीपेश कवर (शासकीय विद्यालय गोकुलपुर) रहे। 48 किग्रा प्रथम संदीप बंजारे (गल्र्स स्कूल धमतरी), द्वितीय गैंदलाल यादव (शासकीय विद्यालय गोकुलपुर) रहे । 52 किग्रा वर्ग प्रथम रितेश पेंदरिया (नूतन हिन्दी स्कूल) द्वितीय नागेश भोयर (शासकीय विद्यालय गोकुलपुर) रहे । 57 किग्रा वर्ग उत्तम सार्वा (नूतन हिंदी स्कूल), द्वितीय लीलाधर साहू (सरस्वती शिशु मंदिर आमातालब) रहे। 62 किग्रा वर्ग में जयश सार्वा (ज्ञान अमृत धमतरी), द्वितीय टेकराम साहू (शासकीय विद्यालय सोरम) रहे। 70 किग्रा वर्ग आदित्य बंजारे (अंजुमन स्कूल), द्वितीय भरत पांडे (मॉडल स्कूल) रहे । कुश्ती को सफल बनाने विजय यादव, नुमेश यादव, पुरुषोत्तम यदु, पूरन सोनी व मनोज साहू उपस्थित रहे। कुश्ती के शुभारंभ के अवसर पर जिलाध्यक्ष मोहन लालवानी, विजय देवांगन उपस्थित रहे । 
 रंगोली व मेहंदी में कुल 17 प्रतिभागियों ने भाग लिया जिसमें प्रथम, द्वितीय व तृतीय आने वाले प्रतिभागियो की घोषणा 24 नवम्बर को किया जायेगा ।
शतरंज में जिले से कुल 48 खिलाड़ी ने भाग लिया। शतरंज को सफल बनाने तेजप्रताप साहू, राहुल साहू, अजय सिन्हा, खिलाड़ी कुमार,शुभम साहू, तोषण देवांगन व एनएसयूआई के कार्यकर्ता उपस्थित रहे । 
एनएसयूआई जिलाध्यक्ष राजा देवांगन ने सभी खिलाडिय़ों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि खिलाडिय़ों के खेल में रूचि को देखते हुए यह आयोजन कराया गया और प्रतिवर्ष एनएसयूआई इसे कराते रहेगी।

 


Date : 20-Nov-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता
राजनांदगांव, 20 नवंबर।
शासकीय खूबचंद बघेल महाविद्यालय भिलाई-3 दुर्ग में गत् दिनों आयोजित राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में राजनांदगांव जिले की टीम ने अपने सभी मैच जीतते लगातार 5 वर्ष से विजेता होने का गौरव हासिल किया।
कमला कॉलेज की क्रीड़ाधिकारी डॉ. नीता एस.नायर ने बताया कि गत् 11 नवंबर को अपने पहले मैच में कोरबा जिले को 50 अंक से पराजित किया। 12 नवंबर को आयोजित सेमीफाइनल में दुर्ग जिले को  60 अंक से पराजित किया एवं फाइनल में बिलासपुर जिले को 38 अंक  से पराजित किया। राजनांदगांव जिले की टीम के 10 खिलाडिय़ों का चयन अंतरविश्वविद्यालयीन प्रतियोगिता के लिए किया गया। जिसका आयोजन वाराणसी में किया जा रहा है। ये खिलाड़ी हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग का प्रतिनिधित्व उक्त प्रतियोगिता में करेंगे। जिसमें  सुमन उर्वशा, छाया, पूनम, मैनो, संतोषी, सरस्वती, लता, संगीता, कान्ता एवं मोना शामिल है।  महाविद्यालय में डीडी साहू एवं ललित साहू द्वारा विगत कई वर्षों से छात्राओं को कबड्डी का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जिसके फलस्वरूप राजनांदगांव जिले की कई छात्राओं ने राष्ट्रीय स्तर पर जिले का नाम रोशन किया है। उनकी इस सफलता में कमला कॉलेज की प्राचार्य डॉ. सुमन सिंह बघेल, डॉ. नीता एस. नायर क्रीड़ाधिकारी एवं प्राध्यापकों ने छात्राओं को शुभकामनाएं दी। 

 

 

 


Date : 20-Nov-2019

अर्चिमन भादुड़ी
कोलकाता, 20 नवंबर । बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने जब बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) के सामने डे-नाइट टेस्ट मैच का प्रस्ताव रखा तो उस पर विचार के लिए बोर्ड ने समय लिया। भारत और बांग्लादेश के बीच सीरीज का दूसरा और अंतिम टेस्ट मैच शुक्रवार से डे-नाइट फॉर्मेट में खेला जाएगा। 
जब टीम ढाका से इस दौरे के लिए रवाना हो रही थी, उससे एक दिन पहले ही बीसीबी अपने खिलाडिय़ों को इस फॉर्मेट में खेलने के बारे में समझाने में कामयाब रहा। तब मैच के लिए सिर्फ तीन हफ्ते का समय बचा था।
साइक्लोन बुलबुल के कारण कोलकाता शहर में इस टेस्ट मैच की तैयारियों में बाधा भी आई। पिच क्यूरेटर सुजान मुखर्जी और उनकी टीम ने तीन साल पहले देश के पहले आधिकारिक पिंक-बॉल मैच-सीएबी सुपर लीग फाइनल के लिए मैदान तैयार किया था। इसी टीम को पहले डे-नाइट टेस्ट मैच के लिए पिच को तैयार करना था जिन्होंने काफी मेहनत से काम को पूरा किया। अब ईडन गार्डन्स भारत के पहले पिक बॉल टेस्ट मैच के लिए तैयार है, जो शुक्रवार से शुरू होगा। बीसीसीआई के मुख्य क्यूरेटर आशीष भौमिक पिच को देखने के लिए कोलकाता शहर में वापस आ गए हैं। 
गांगुली ने यूं ही नहीं चुना ईडन 
कई विशेषज्ञों का मानना है कि गांगुली ने गुलाबी गेंद के टेस्ट के लिए सबसे उपयुक्त जगह का चयन किया है क्योंकि ईडन गार्डन्स में इसे सफल बनाने के लिए सभी चीजें मौजूद हैं। पिंक बॉल अब भी ज्यादा नहीं बनाई जाती हैं, कम से कम भारत में तो फिलहाल इस बॉल का प्रचलन नहीं है। इसलिए अब भी कई बातों को लेकर चिंता हैं। डे-नाइट मैच दलीप ट्रोफी के दौरान तीनों सेशन में कूकाबूरा गेंदों के साथ खेले गए थे लेकिन आगामी टेस्ट मैच के लिए एसजी गेंदों का उपयोग किया जाएगा। 
काली मिट्टी से चिकनी सतह 
गुलाबी गेंद के साथ मुख्य समस्या इसकी उम्र (खेलने का समय) रही है। पारंपरिक लाल गेंद को लेदर से ज्यादा रंग मिलता है, तो वहीं पिंक बॉल मुख्य रूप से एक रंगीन उत्पाद है। जितना अधिक इसका उपयोग किया जाता है, संभावना है कि यह अपना मूल रंग खो देती है। लाल गेंद के मैट फिनिश के बजाय, गुलाबी रंग में बाहरी चमक होती है और ऐसे में घास एक अहम भूमिका निभाती है। ईडन पिच में पहले से ही एक अच्छा ग्रास कवर (घास) है लेकिन यहां हरा आउटफील्ड है जो गेंद को लंबे समय तक चलने में मदद करेगा। इसके अलावा, यहां की काली मिट्टी एक चिकनी सतह बनाती है जो गेंद की बाहरी सतह को भी देर तक खेलने में मदद करेगी। 
ईडन की मिट्टी सबसे अलग 
दिलीप ट्रॉफी के मैचों के दौरान गेंद के अपना रंग और आकार तेजी से खोने के बारे में शिकायतें मिली थीं, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि ईडन पर ऐसा होने की संभावना नहीं है। एक ग्राउंड्समैन ने कहा, उत्तर भारत की मिट्टी ईडन गार्डन्स (कोलकाता) से काफी अलग है। यह संभवत: गुलाबी गेंद से होने वाले क्रिकेट मैचों के लिए सबसे उपयुक्त है।
मैदान पर असमान उछाल 
क्यूरेटर मुखर्जी और उनकी टीम के सदस्यों के लिए बड़ी मुश्किल सही जल संतुलन बनाए रखना है। पिछले कुछ दिनों से पानी नहीं डालने से तेज धूप ने ऊपरी सतह को सूखा बना दिया है लेकिन देश के इस हिस्से में मानसून के लंबे समय तक रहने और बुलबुल के प्रभाव के कारण सतह के नीचे पानी रह सकता है जो मैदान पर कुछ असमान उछाल पैदा कर सकता है। 
ओस की अहम भूमिका 
आउटफील्ड में सतह के नीचे की यही पानी सूर्यास्त के बाद ओस की तरह रहेगा। हालांकि विशेषज्ञों को लगता है कि ओस इस मैच में भूमिका निभा सकती है। ग्राउंड्समैन हालांकि ऐंटी ड्यू स्प्रे के साथ रहेंगे। बल्लेबाज ओस में खेलने को लेकर पसंद करेंगे, क्योंकि इससे गेंद गीली हो जाएगी और सूर्यास्त के बाद स्विंग की संभावना कम हो जाएगी। अगर यह सूखी रहती है, तो बल्लेबाजी करना मुश्किल हो सकता है। 
टॉस जीते तो चुनेंगे बल्लेबाजी 
टॉस जीतने वाली टीम के कप्तान पहले बल्लेबाजी करना पसंद कर सकते हैं, क्योंकि मुकाबला दोपहर में 1 बजे शुरू होगा। ईडन में लंच और टीम के बीच के समय बल्लेबाजी करना ऐतिहासिक तौर पर बेहतर माना जाता है। अगर इस दौरान किसी भी टीम को अपनी पारी शुरू करनी होती है, तो शीर्ष क्रम का झुकाव बल्लेबाजी होगी। 
रिवर्स स्विंग नहीं होगी 
जो भी टेस्ट का परिणाम हो सकता है, विशेषज्ञ लगभग दो चीजों के बारे में निश्चित हैं - स्पिनरों के लिए लगभग कोई भूमिका नहीं होगी और रिवर्स स्विंग भी नहीं होगी। रिवर्स स्विंग केवल तब होती है जब गेंद का एक हिस्सा खुरदरा हो जाता है लेकिन चमकदार गेंद से ऐसा संभव नहीं है।(टाईम्स न्यूज)
 


Date : 19-Nov-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता
भिलाई नगर, 19 नवंबर।
बीसीसीआई द्वारा वुमेन्स अंडर-23, टी-20 ट्रॉफी गुन्टूर आंध्रप्रदेश में कल छत्तीसगढ़ विरूद्ध चंडीगढ़ के मध्य मैच खेला गया। जिसमें चंडीगढ़ को छत्तीसगढ़ ने हराया।
छत्तीसगढ़ प्रदेश ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया और 20 ओवर में 3 विकेट खोकर 122 रन बनाए। यशी पाण्डे ने 10 रन, देविका वैद्य ने 26 रन, मनप्रीत कौर ने 37 रन, शिवी पाण्डेय ने 34 रन बनाए।  चंडीगढ़ की ओर से बॉलिंग करते हुए नन्दनी शर्मा ने 4 ओवर में 25 रन देकर 1 विकेट, काशवी गौतम ने 4 ओवर में 17 रन देकर 1 विकेट, अमनजोत कौर ने 4 ओवर में 25 रन देकर 1 विकेट लिए। चंडीगढ़ टीम 16.1 ओवर में 44 रन बनाकर ऑलआउट हो गई जिसमें अमनजोत कौर ने 14 रन, शिवांगी यादव ने 14 रन, काशवी गौतम ने 4 रन, निकिता ने 5 रन बनाए। छत्तीसगढ़ की ओर से बॉलिंग करते हुए ज्योति नट ने 3.1 ओवर में 5 रन देकर 2 विकेट, श्रद्धा वैष्णव ने 3 ओवर में 6 रन देकर 1 विकेट, शिवानी यादव ने 4 ओवर में 6 रन देकर 3 विकेट, मनप्रीत कौर ने 3 ओवर में 10 रन देकर 4 विकेट लिए। मैच को छत्तीसगढ़ ने 78 रनों से जीत लिया।

 


Date : 19-Nov-2019

दुमका, 19 नवंबर। झारखंड के दुमका में ट्रक की चपेट में आने से दो नेशनल लेवल फुटबॉलरों की मौत हो गई है। यह घटना मंगलवार (19 नवंबर) सुबह 4 बजे पुसारो पुल के पास की है। मिली जानकारी के मुताबिक बताया जा रहा है कि ट्रक और बाइक की टक्कर की वजह से यह हादसा हुआ। 

बताया जा रहा है कि इस हादसे में ट्रक और बाइक दोनों पुल की रेलिंग तोड़ते हुए नीचे गिर गए। ट्रक ड्राइवर के बारे में अभी कुछ पता नहीं चल पाया है। दोनों खिलाड़ी कुशपहाड़ी में ग्रामीण लेवल फुटबॉल मैच सोमवार को खेलकर लौट रहे थे।
रात होने के कारण दोनों खिलाडी़ वहीं रुक गए थे, लेकिन जब मंगलवार की सुबह वह दोनों वापस अपने घर की ओर जा रहे थे। इस दौरान ट्रक ने दोनों की बाइक को टक्कर मार दी। टक्कर इतनी भयानक थी कि बाइक और ट्रक दोनों ही अपना संतुलन खो बैठे और नीचे की तरफ जा गिरे। बता दें कि मृतक अजय हांसदा तीन बार नेशनल फुटबॉल मैच में झारखंड टीम का प्रतिनिधित्व कर चुका था, जबकि रोहित मुर्मू एक बार नेशनल खेल चुका था। दोनों देवघर में रहकर फुटबॉल की तैयारी कर रहे थे। दोनों फुटबॉलर दुमका जिले के रहने वाले थे। (लाइव हिन्दुस्तान)

 

 


Date : 19-Nov-2019

होबार्ट, 19 नवंबर । होबार्ट हरिकेंस की विकेटकीपर एमिली स्मिथ को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की भ्रष्टाचार रोधी नीति के उल्लंघन के कारण महिला बिग बैश लीग से बैन कर दिया गया। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की वेबसाइट के अनुसार, ‘एमिली ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट किया जो दो नवंबर को बर्नी के वेस्ट पार्क में खिलाडिय़ों और मैच अधिकारियों के लिए सीमित क्षेत्र में बनाया गया था। इसमें सिडनी थंडर के खिलाफ हरिकेंस की प्लेइंग इलेवन की भी जानकारी थी।’ 
माना जा रहा है कि प्लेइंग इलेवन का इस्तेमाल मैचों पर सट्टेबाजी और नकद पुरस्कार देने वाली ‘फेंटसी’ लीग के लिए किया जा सकता था। सीए ने बयान में पुष्टि की कि यह वीडियो मैच शुरू से एक घंटा पहले डाला गया। यह मैच हालांकि बारिश के कारण एक भी गेंद फेंके बिना रद्द हो गया और इसमें टॉस भी नहीं हो पाया।
उल्लेखनीय है कि बिग बैश लीग में प्लेइंग इलेवन का खुलासा टॉस के दौरान किया जाता है। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया इस तरह के नियमों को लेकर काफी सख्त होती है। (नवभारत टाईम्स)
 


Date : 19-Nov-2019

सावर (बांग्लादेश), 19 नवंबर । चिन्मय सुतार और शुभम शर्मा के शानदार प्रदर्शन से भारत ने सोमवार को यहां एसीसी एमर्जिंग टीम्स कप में हॉन्ग कॉन्ग को 120 रन से हरा दिया। भारत अब सेमीफाइनल में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से भिड़ेगा। सुतार ने 85 गेंद में नाबाद 104 जबकि शुभम ने 55 गेंद में नाबाद 65 रन की पारी खेली जिससे भारत ने 50 ओवर में पांच विकेट पर 322 रन बनाए। 
सलामी बल्लेबाज और विकेटकीपर बीआर शरत ने भी 90 गेंद में 90 रन की पारी खेली। शुभम ने गेंदबाजी में भी कमाल दिखाते हुए 32 रन देकर चार विकेट चटकाए जिससे भारत ने हॉन्ग कॉन्ग को 47.3 ओवर में 202 रन पर ढेर कर दिया। शाहिद वसीफ ने हॉन्ग कॉन्ग की ओर से 84 गेंद में सर्वाधिक 68 रन बनाए। 
भारत बुधवार को सेमीफाइनल में ढाका में पाकिस्तान से भिड़ेगा जबकि एक अन्य सेमीफाइनल में मेजबान बांग्लादेश का सामना अफगानिस्तान से होगा। फाइनल ढाका में 23 नवंबर को खेला जाएगा। भारत लीग चरण में बांग्लादेश के बाद दूसरे स्थान पर रहा था। भारत को लीग चरण में मेजबान टीम के खिलाफ हार झेलनी पड़ी थी।(नवभारत टाईम्स)
 


Date : 19-Nov-2019

नई दिल्ली, 19 नवंबर । डेविस कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले भारत को झटका लगा है। भारत के स्टार टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना कंधे की चोट की वजह से मैच नहीं खेलेंगे। उन्होंने टूर्नामेंट में नहीं उतरने का फैसला किया है।
माना जा रहा था कि 39 साल के रोहन बोपन्ना 29-30 नवंबर को खेले जाने वाले मैच में दिग्गज लिएंडर पेस के जोड़ीदार होंगे। अब उनकी जगह प्लेइंग स्क्वॉड में जीवन नेदुन्चझियान को मौका दिया जाएगा। सोमवार को रोहन बोपन्ना ने एमआरआई स्कैन कराया और फिर कैप्टन रोहित राजपाल को बताया।
इधर, न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, अनुभवी भारतीय पुरुष युगल टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना ने कंधे की चोट के कारण पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले डेविस कप मुकाबले के लिए भारतीय टीम से अपना नाम वापस ले लिया है। बोपन्ना के टीम से बाहर होने के बाद अब जीवन नेदुंचेझियान को टीम में जगह मिल सकती है। आठ सदस्यीय टीम में बाएं हाथ के नेदुंचेझियान को तीन रिजर्व खिलाडिय़ों में रखा गया था।
कोच जीशान अली ने कहा, बोपन्ना ने नाम वापस लेने की वजह कंधे की चोट बताया है। सोमवार को उनके कंधे का एमआरआई स्कैन हुआ है, जिसे उन्होंने हमारे साथ साझा किया है। बोपन्ना देश के शीर्ष युगल खिलाड़ी हैं। (आजतक)
 


Date : 19-Nov-2019

अबु धाबी, 19 नवंबर । क्रिस लिन ने अबु धाबी के शेख जाएद स्टेडियम में मराठा अरेबियंस की ओर से खेलते टीम अबु धाबी के खिलाफ 30 गेंदों पर 91 रनों की तूफानी पारी से टी-10 में धूम मचा दी। लिन ने अपनी पारी में नौ चौके और सात छक्के लगाकर कहर बरपाया। इस ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज की नाबाद 91 रनों की पारी टी-10 लीग का सर्वोच्च स्कोर है।
29 साल के क्रिस लिन ने करिश्माई पारी की बदौलत अपनी टीम को स्कोर को निर्धारित 10 ओवरों में दो विकेट के नुकसान पर 138 रनों तक पहुंचाया। मराठा अरेबियंस ने टीम अबु धाबी को 24 रनों से हराकर एक और शानदार जीत दर्ज की।
क्वींसलैंड के बल्लेबाज क्रिस लिन को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की नीलामी से पहले कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) ने रिलीज कर दिया है। केकेआर ने उन्हें आईपीएल 2018 की नीलामी में 9.6 करोड़ रुपये में खरीदा था और उन्हें अगले सीजन में बनाए रखा था।
मराठा अरेबियंस टीम के साथी युवराज सिंह ने लिन की विध्वंसक पारी के लिए तारीफ की है। उन्होंने कहा, मैंने आईपीएल में उन्हें देखा है। उन्होंने केकेआर को कुछ बेहतरीन शुरुआत दी है। मुझे यह नहीं समझ में आ रहा है कि उन्होंने टीम में क्यों नहीं रखा गया। मुझे लगता है कि यह एक खराब फैसला है। शाहरुख खान (टीम ओनर) को संदेश भेजना चाहिए। पीठ में ऐंठन के कारण युवराज सिंस इस मैच में नहीं खेले। टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर को उम्मीद है कि वह बुधवार को कर्नाटक टस्कर्स के खिलाफ अपनी टीम के अगले मैच से पहले फिट हो जाएंगे।(आजतक)
 


Date : 19-Nov-2019

कोलकाता, 19 नवंबर । भारतीय कप्तान विराट कोहली और उपकप्तान अजिंक्य रहाणे शुक्रवार से बांग्लादेश के खिलाफ होने वाले दिन-रात टेस्ट मैच के लिए सबसे पहले कोलकाता पहुंचेंगे। बांग्लादेश और भारत की टीमें 22 नवंबर से कोलकाता के ईडन गार्डन्स स्टेडियम में पहली बार दिन-रात प्रारूप का टेस्ट मैच खेलेंगी, जिसमें गुलाबी गेंद का इस्तेमाल किया जाएगा।
स्थानीय टीम मैनेजर सम्राट भौमिक ने पीटीआई को बताया कि कोहली और रहाणे मंगलवार सुबह करीब नौ बजकर 40 मिनट पर पहुंचेंगे, जबकि बाकी टीम बाद में आएगी। बताया जाता है कि अभी यह तय नहीं है कि कप्तान कोहली ईडन गार्डन्स जाकर पिच का मुआयना करेंगे या नहीं।
टीमों के आगमन की जानकारी देते हुए भौमिक ने बताया कि कोहली और रहाणे के अलावा रोहित शर्मा बुधवार तडक़े करीब दो बजे, जबकि मोहम्मद शमी और उमेश यादव इसी दिन सुबह नौ बजकर 35 मिनट पर कोलकाता पहुंचेंगे। तीसरे गेंदबाज ईशांत शर्मा मंगलवार रात 10 बजकर 45 मिनट पर और बाकी टीम बांग्लादेश टीम के साथ मंगलवार दोपहर 12.30 बजे पहुंचेगी। भारतीय टीम इंदौर में पहला टेस्ट मैच पारी और 130 रनों से जीतकर दो मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 से आगे है।(आजतक)

 


Date : 18-Nov-2019

भिलाई नगर, 18 नवंबर। बीसीसीआई द्वारा आयोजित सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी-2019 (टी-20) में कल सेक्टर-16 स्टेडियम चंडीगढ़ में छत्तीसगढ़ विरूद्ध हैदराबाद के मध्य मैच खेला गया। जिसमें हैदराबाद ने छत्तीसगढ़ को हराया।

हैदराबाद ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया। हैदराबाद ने 20 ओवर में 3 विकेट खोकर 174 रन बनाये जिसमें तन्मय अग्रवाल ने 90 रन, संदीप ने 41 रन बनाए। छत्तीसगढ़ की ओर से बॉलिंग करते हुए वीरप्रताप सिंह ने 2 विकेट, आशुतोष सिंह ने 1 विकेट लिए। छत्तीसगढ़ ने 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 153 रन बनाये जिसमें हरप्रीत सिंह भाटिया ने 62 रन, आशुतोष सिंह ने 23 रन बनाए। हैदराबाद की ओर से बॉलिंग करते हुए मोहम्मद सिराज, चामा एवं मेहदी हसन ने 2-2 विकेट, गंगापुरम ने 1 विकेट लिए। मैच को हैदराबाद ने 21 रनों से जीत लिया।

 


Date : 18-Nov-2019

नई दिल्ली, 18 नवंबर। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच हमेशा ही कड़ी स्पर्धा रही है। हाल ही में एशेज सीरीज में दोनों टीमें 2-2 से बराबर रही थीं। इस सीरीज में ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने तीसरे टेस्ट में नाबाद 135 रनों की पारी खेली थी। इंग्लैंड को जीत के लिए 359 रन बनाने थे और उनके 9 विकेट 286 रनों पर गिर चुके थे, लेकिन स्टोक्स ने लीच के साथ अंतिम विकेट के लिए 76 रन बनाकर मैच जितवा दिया और सीरीज को 1-1 पर ले आए। यह ऐतिहासिक जीत एकबार फिर से उस समय सुर्खियों में आ गई है, जब बेन स्टोक्स की अपनी नई किताब ऑन फायर: माई स्टोरी इंग्लैंड्स समर के कुछ अंश सामने आए।

इस किताब में बेन स्टोक्स ने लिखा है कि डेविड वॉर्नर ने उनसे कुछ ऐसे शब्द कहे थे, जिसने उन्हें अविश्वसनीय पारी खेलने को प्रेरित किया। स्टोक्स ने लिखा, बहुत से ऑस्ट्रेलियन खिलाड़ी मुझे गलत शॉट खेलने के लिए उकसा कर रहे थे। लेकिन सबसे ज्यादा डेविड वॉर्नर मेरा ध्यान बांटने की कोशिश कर रहे थे।

हालांकि, ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेनने कहा कि बेन स्टोक्स किताब बेचने के लिए डेविड वॉर्नर का नाम इस्तेमाल कर रहे हैं। एशेज डेविड वॉर्नर की कमबैक टेस्ट सीरीज थी। एक साल के प्रतिबंध के बाद वह टीम में लौट रहे थे। गौरतलब है कि मार्च 2018 में स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर सैंडपेपर कांड में फंस गये थे तो और दोनों पर एक एक साल का प्रतिबंध लग गया था।

टिम पेन ने कहा, मैं डेविड वॉर्नर के बराबर में ही खड़ा था, लेकिन उन्होंने बेन स्टोक्स को न तो कोई गाली दी और न ही स्लेजिंग की। ऐसा लग रहा था कि दोनों अच्छे दोस्त हैं। स्टोक्स ने किताब की बिक्री बढ़ाने के लिए वॉर्नर के नाम का इस्तेमाल किया। मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूं। (लाइव हिन्दुस्तान)

 

 


Date : 18-Nov-2019

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 18 नवंबर।
अन्तराष्ट्रीय ओलम्पिक कमेटी से मान्यता प्राप्त किक बॉक्सिंग खेल की अंतरराष्ट्रीय संस्था वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ किकबॉक्सिंग ऑर्गेनाइजेशन (वाको)  एवं टर्की किक बॉक्सिंग फेडरेशन के तत्वाधान में सीनियर वर्ग के वर्ल्ड किक बॉक्सिंग चैंपियनशिप का आयोजन 23 नवंबर से 1 दिसंबर तक टर्की के अंटालया में आयोजन किया जा रहा है। जिसमे विश्व के 6 7 देशों के लगभग 747 खिलाड़ी एवं ऑफिसियल हिस्सा लेंगे। उक्त प्रतियोगिता में भारतीय किकबॉक्सिंग का 9 सदस्यी दल वाको इंडिया किक बॉक्सिंग फेडरेशन के अंतर्गत अध्यक्ष संतोष कुमार अग्रवाल के नेतृत्व में हिस्सा ले रहा है। 
फेडरेशन ने भारतीय दल के प्रशिक्षक का दायित्व तारकेश मिश्रा को दिया है। तारकेश वाको  इंडिया किक बॉक्सिंग फेडरेशन एवं छत्तीसगढ़ किक बॉक्सिंग एसोसिएशन के महासचिव भी हैं, इनके  नेतृत्व एवं प्रशिक्षण से जिले एवं राज्य के किकबॉक्सिंग खिलाड़ी लगातार राज्य,राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर मेडल जीत रहे हैं। साथ ही एसजीएफाई, यूनिवर्सिटी गेम्स में भी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। एसोसिएशन द्वारा जिले में सीएमए- छत्तीसगढ़ मार्शल आर्ट एवं किकबॉक्सिंग एकेडमी का संचालन भी किया जा रहा जहां खिलाडिय़ों को आधुनिक उपकरणों एवं तकनीक के साथ प्रशिक्षण दिया जा रहा है। श्री मिश्रा ने बताया की भारतीय टीम 23 नवंबर को दिल्ली के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से अंटालिया टर्की के लिए प्रस्थान करेगी चयनित खिलाडिय़ों का विशेष प्रशिक्षण शिविर मैसूर में आयोजित किया गया था जिसमें इटली के कोच मैनुअल ऑडियो में आकर खिलाडिय़ों को किक बॉक्सिंग के अंतरराष्ट्रीय स्तर के दांवपेच भी सिखाए थे।  
राज्य की खिलाड़ी ममता ने  प्रशिक्षक श्री मिश्रा के साथ खेल मंत्री उमेश  पटेल से सौजन्य भेंट की, माननीय मंत्री जी ने वर्ल्ड चेम्पियनशिप में अच्छा प्रदर्शन कर पदक जीतने हेतु प्रोत्साहित किया। 

 


Date : 18-Nov-2019

अबू धाबी, 18 नवंबर। पूर्व पाकिस्तानी लेग स्पिनर मुश्ताक अहमद का मानना है कि भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय संबंधों में सुधार करने के लिए दोनों देशों के बीच फिर से क्रिकेट बहाल होनी चाहिए। भारत-पाकिस्तान ने 2013 के बाद से कोई भी द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली है। हालांकि दोनों टीमें आईसीसी टूर्नामेंटों में एक-दूसरे के खिलाफ खेलती आ रही है। मुश्ताक ने यहां एक लीग से इतर कहा, मेरा मानना है कि भारत-पाकिस्तान के बीच फिर से क्रिकेट संबंध शुरू होनी चाहिए। मुझे लगता है कि क्रिकेट के जरिए दोनों देश अपने संबंधों को सुधार सकती है। क्रिकेट फैन्स के चेहरे पर प्यार, आनंद और खुशी लाती है।
उन्होंने कहा, इसलिए, यह जरूरी है कि दोनों देश एक-दूसरे के खिलाफ क्रिकेट खेले क्योंकि फैन्स उन्हें फिर से खेलते देखना चाहते हैं। जब भी भारत-पाकिस्तान के बीच मुकाबला होता है तो फिर काफी प्रतिस्पर्धात्मक हो जाता है। मुझे लगता है कि एशेज से भी बड़ी है भारत-पाकिस्तान की सीरीज।
हाल में भारत-पाकिस्तान के बीच शुरू किए गए करतारपुर कॉरिडोर को, दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों की सुधार में एक सकारात्मक कदम माना जा रहा है। 49 साल के इस पूर्व लेग स्पिनर ने कहा, जब हम क्रिकेट खेलेंगे तो चीजें आसान हो जाएंगी। यह नेताओं को बातचीत करने और चीजों को सही रास्ते पर लाने का मौका देगा।
 इसलिए मेरा मानना है कि दोनों सरकारों के बीच बातचीत होनी जरूरी है।
उन्होंने कहा, दोनों देशों को बैठकर मौजूदा हालातों और अपनी समस्याओं पर चर्चा करनी चाहिए। करतारपुर कॉरिडोर का खुलना दोनों देशों के बीच एक अच्छी शुरूआत है। जब बातचीत होगी तो तभी चीजें हल हो सकती है और खेल, खासकर क्रिकेट इसमें बड़ी भूमिका निभा सकता है। (लाइव हिन्दुस्तान)

 


Date : 18-Nov-2019

नई दिल्ली, 18 नवंबर । तमाम क्रिकेट पंडित इस बात से इत्तेफाक रखते हैं कि टीम इंडिया का पेस बोलिंग अटैक फिलहाल अपने स्वर्णिम दौर में है। भारत के पास तेज गेंदबाजों की जो मजबूत फेहरिस्त है उसमें इस वक्त एक नाम खूब चमक बिखेर रहा है और वह है- मोहम्मद शमी। इंदौर में बांग्लादेश के खिलाफ पारी की विजय को शामिल करते हुए लंबे फॉर्मेट में भारत की हालिया जीतों में शमी की गेंदबाजी टीम के लिए बड़ा प्लस पॉइंट बनकर सामने आया है। 
यह सही है कि चोट के कारण बाहर चल रहे जसप्रीत बुमराह देश के नंबर वन फास्ट बोलर होने के साथ-साथ दुनिया के भी सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाजों में शुमार हैं, लेकिन उनके बरक्स शमी का प्रदर्शन भी कहीं से कमतर नहीं है। बुमराह के साथ तो शमी ने घातक कॉम्बिनेशन बनाया ही है, उनकी गैरमौजूदगी में उनकी कमी नहीं महसूस होने दी है। 
दूसरी पारी के उस्ताद 
टेस्ट मैचों की दूसरी पारी में कप्तान विराट कोहली के पास शमी एक अचूक अस्त्र की तरह हैं। आंकड़े भी तस्दीक करते हैं कि टेस्ट की दूसरी पारी में पिछले दो वर्षों में शमी भारत के ही नहीं, दुनिया के सबसे कामयाब गेंदबाज हैं। शमी ने इस दौरान 20 पारियों में 51 विकेट झटके हैं जो किसी भी गेंदबाज से ज्यादा हैं। इस मामले में ऑस्ट्रेलिया के पैट कमिंस 48 विकेटों के साथ दूसरे और साउथ अफ्रीकी पेसर कागिसो रबाडा 34 विकेटों के साथ तीसरे नंबर पर हैं। 
शमी, ईशांत और उमेश की तिकड़ी ने इंदौर में 14 विकेट झटकते हुए मैच भारत की झोली में डाला जिसमें सात विकेट अकेले शमी के थे। दूसरी पारी के इस स्पेशलिस्ट बोलर की स्किल से दिग्गज सुनील गावसकर इस कदर प्रभावित हुए कि उनकी तुलना एक लेपर्ड से करते हुए कहा कि शमी जब गेंद फेंकने के लिए दौड़ भरते हैं तो ऐसा लगता कि कोई तेंदुआ शिकार पर झपट्टा मारने जा रहा हो। लिटिल मास्टर के मुताबिक, शमी की सीम और कलाई की पोजिशन शानदार है। 
रिवर्स स्विंग में महारथ 
भारतीय उपमहाद्वीप के विकेटों को तेज गेंदबाजों का 'मरघट' माना जाता है, लेकिन शमी ने इस धारणा को तोड़ा है। वह इन सपाट विकेटों पर भी बल्लेबाजों के लिए दुस्वप्न की तरह हैं। वजह है कि दाएं हाथ के इस गेंदबाज के पास तेज रफ्तार और सटीक लाइन-लेंथ तो है ही, विकेट के दोनों तरफ स्विंग कराने की भी गजब की क्षमता है। इसके अलावा उन्होंने पुरानी गेंद के साथ रिवर्स स्विंग की कला भी सीख ली है, जिससे कि वह टेस्ट में 30-40 ओवर बीतने के बाद एकाएक और मारक हो जाते हैं। 
हाल ही में साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भारत को मिली जोरदार जीत के दौरान भी शमी के रिवर्स स्विंग आर्ट ने खूब वाहवाही बटोरी थी। टीम इंडिया के बोलिंग कोच भरत अरुण का मानना है, शमी के पास शुरू से रफ्तार थी। पेसरों की आपसी तुलना तो सही नहीं है लेकिन आप सभी गेंदबाजों पर निगाह दौड़ाते हैं तो शमी के पास शायद सबसे बेहतरीन सीम पोजिशन है। इसके साथ स्पीड को मेंटेन करने के लिए उन्होंने अपनी फिटनेस पर काफी काम किया है।(नवभारत टाईम्स)

 

 


Date : 18-Nov-2019

हैदराबाद, 18 नवंबर । क्रिकेट के मैदान पर अक्सर कई हादसे होते रहते हैं और खिलाडिय़ों की जान चली जाती है। हैदराबाद में भी एक क्लब मैच के दौरान एक क्रिकेटर की मौत हो गई हालांकि इसकी वजह कोई हादसा या चोट नहीं थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार को एक वनडे लीग मैच के दौरान 41 साल के बल्लेबाज वीरेंद्र नाइक की मौत हो गई। वो हैदराबाद में मारडपल्ली स्पोर्टिंग क्लब के खिलाड़ी थे और उन्होंने रविवार को शानदार अर्धशतक भी ठोका था लेकिन आउट होने के बाद वो पैवेलियन लौटे और वहां उनकी मौत हो गई।
अंग्रेजी अखबार डेक्कन क्रॉनिकल की खबर के मुताबिक वीरेंद्र नाइक की मौत की वजह दिल का दौरा बताया जा रहा है। वीरेंद्र के भाई अविनाश ने पुलिस को बताया कि वीरेंद्र छाती के रोग की दवाई खा रहे थे। वीरेंद्र नाइक का शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है और उसके बाद उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। वीरेंद्र नाइक महाराष्ट्र के सावंतवाड़ी के रहने वाले थे, जहां उनका क्रियाकर्म होगा।
रिपोर्ट के मुताबिक वीरेंद्र नाइक ने रविवार को हुए मुकाबले में 66 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी। वीरेंद्र नाइक विकेट के पीछे कैच आउट हुए थे। बताया जा रहा है कि वीरेंद्र नाइक अंपायर के फैसले से नाखुश थे, उन्हें लगा था कि गेंद ने उनके बल्ले का किनारा नहीं लिया है। वीरेंद्र जैसे ही पैवेलियन पहुंचे उनका सिर दीवार से टकराया और वो नीचे गिर गए। इसके बाद उनके साथी खिलाड़ी उन्हें कार में अस्पताल में ले गए जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। वीरेंद्र ने सिकंदराबाद के यशोदा अस्पताल में आखिरी सांस ली।
ऐसा पहली बार नहीं है कि क्रिकेट के मैदान पर दिल का दौरा पडऩे से किसी क्रिकेटर की मौत हुई हो। हैदराबाद में ही पिछले साल 27 जनवरी को एक डे नाइट मैच के दौरान एंथनी की मौत हो गई थी। पिछले साल भोपाल में भी अरविंद हनोतिया नाम के क्रिकेटर ने मैदान पर दम तोड़ दिया था।(न्यूज18)

 

 


Previous123Next