खेल

Previous123456789...224225Next
30-Jul-2021 8:01 PM (45)

नई दिल्ली, 30 जुलाई: टोक्यो ओलंपिक में क्वार्टर फाइनल में एंट्री कर चुकी भारतीय हॉकी टीम (Indian Hockey Team) का शानदार प्रदर्शन जारी है. शुक्रवार को भारत ने मेजबान जापान (India beat Japan) को 5-3 से हरा दिया. भारत के लिए सिमरनजीत सिंह, शमशेर सिंह और नीलकांता शर्मा ने 1-1 गोल किया. वहीं गुरजंत सिंह ने 2 गोल दागे. जापान की ओर से टनाका, वतनाबे और मुराटा कजूमा ने गोल किया. बता दें ये भारत की लगातार तीसरी जीत है. ऑस्ट्रेलिया से हार झेलने के बाद भारतीय टीम ने स्पेन, अर्जेंटीना के बाद अब जापान को भी हरा दिया है. मेजबान जापान इस ओलंपिक में एक भी मैच नहीं जीत पाया.

भारतीय टीम पिछले दो मैचों में जीत के बाद उत्साह और आत्मविश्वास के साथ जापान के खिलाफ उतरी. भारत की ओर से पहला गोल 13वें मिन में हरमनप्रीत सिंह ने किया. हरमनप्रीत ने पेनल्टी कॉर्नर पर जापानी गोलकीपर टाकाशी योशीकावा को छकाया. पहले क्वार्टर में एक ही गोल हुआ. इसके बाद दूसरा क्वार्टर शुरू होते ही भारत ने दूसरा गोल दाग दिया. सिमरनजीत सिंह और गुरजंत सिंह की जोड़ी ने मिलकर भारत को 2-0 से आगे कर दिया. सिमरनजीत के बेहतरीन पास को गुरजंत ने आसानी से गोल पोस्ट में डाल दिया. हालांकि 19वें मिनट में जापान ने पलटवार कर भारतीय खेमे में थोड़ी खलबली जरूर मचाई. डिफेंडर बिरेंद्र लाकड़ा की एक गलती का केंटा टनाका ने फायदा उठाया और उन्होंने पलक झपकते ही गोलपीकर श्रीजेश को छका दिया. पहला हाफ खत्म होने तक भारत को 2-1 की बढ़त हासिल रही.

दूसरे हाफ में भारत ने दागे 3 गोल
दूसरा हाफ शुरू होते ही भारत को बड़ा झटका लगा. जापान की ओर से कोटा वतनाबे ने गोल दाग जापान को 2-2 की बराबरी पर ला खड़ा किया. हालांकि जापान की ये खुशी एक मिनट के बाद ही उस वक्त गायब हो गई जब 34वें मिनट में शमशेर सिंह ने नीलकांता शर्मा के शॉट को अपनी हॉकी स्टिक से मोड़कर गेंद को गोल पोस्ट में दाग दिया. भारत 3-2 से आगे हो गया. 51वें मिनट में नीलकांता शर्मा ने एक बार फिर कमाल दिखाते हुए भारत को 4-2 से आगे कर दिया. 5 मिनट बाद गुरजंत सिंह ने अपना दूसरा गोल दागा. उन्होंने वरुण कुमार से मिले पास का भरपूर फायदा उठाते हुए जापानी गोलकीपर को आसानी से छका दिया. इस तरह भारत 5-2 से आगे हो गया. हालांकि 59वें मिनट में टनाका ने एक और गोल दाग जापान की ओर से तीसरा गोल किया लेकिन समय समाप्त होने तक भारत 5-3 से आगे रहा और उसने टोक्यो ओलंपिक में अपनी चौथी जीत दर्ज कर ली. (hindi.news18)

 


30-Jul-2021 7:26 PM (32)

टोक्यो, 30 जुलाई : महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) के सेमीफाइनल में जगह बना ली है. उन्होंने लगातार दूसरे ओलंपिक में अंतिम-4 में जगह बनाई. सिंधु ने मेजबान जापान की अकाने यामागुची को सीधे गेम में 21-13, 22-20 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बना ली है. पीवी सिंधु ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीता था. वे एक और मुकाबला जीत लेती हैं तो उनका मेडल पक्का हो जाएगा. ऐसे में वे बैडमिंटन में दो मेडल जीतने वाली भारत की पहली खिलाड़ी बन जाएंगी.

मुकाबले का पहला अंक मेजबान खिलाड़ी अकाने यामागुची को मिला. इसके बाद स्कोर 2-2 से बराबर हाे गया. फिर यामागुची ने 4-2 की बढ़त बना ली. फिर स्कोर 5-3, 6-4, 6-5 से यामागुची के पक्ष में रहा. पहली बार सिंधु को 7-6 की बढ़त मिली. इसके बाद उन्होंने यामागुची को मौका नहीं दिया. इसके बाद सिंधु  8-6, 8-7, 9-7, 10-7, 11-7 से आगे रहीं. फिर 17-11, 18-11, 18-12, 18-13, 19-13, 20-13 की बढ़त सिंधु के पक्ष में रही. अंत में सिंधु ने यह गेम 21-13 से 23 मिनट में जीत लिया.

सिंधु ने दूसरे गेम में बढ़त गंवाई

दूसरे गेम में पीवी सिंधु ने अच्छी शुरुआत की थी. एक समय वे 10-5 और 15-11 की बढ़त के साथ आसान जीत की ओर बढ़ रही थी. लेकिन इसके बाद अकाने यामागुची ने वापसी की और स्कोर 15-15 से बराबर कर दिया. इसके बाद स्कोर 18-18 से बराबर हुआ. यामागुची इसके बाद 20-18 की बढ़त बनाकर गेम जीतने के करीब थीं. लेकिन भारतीय खिलाड़ी पीवी सिंधु ने इसके बाद लगातार 4 अंक बनाकर गेम 22-20 से जीतकर मुकाबला अपने नाम किया. यह गेम 33 मिनट तक चला. मुकाबला 56 मिनट तक चला.

सेमीफाइनल में चीन की दो खिलाड़ी भिड़ेंगी

पीवी सिंधु का सेमीफाइनल में ताई जू यिंग या रतनाचोक इंतानोन से मुकाबला शनिवार 31 जुलाई को होना है. ताइवान की ताई जू और थाईलैंड की इंतानोन के बीच इस इवेंट का चौथा क्वार्टर फाइनल होना है. यह मैच जीतने वाली खिलाड़ी ही पीवी सिंधु से टकराएगी. महिला सिंगल्स के दूसरे सेमीफाइनल में दो चीनी खिलाड़ियों चेन यूफेई और ही बिंगजाओ के बीच मुकाबला होना है. ही बिंगजाओ ने जापान की नोजोमी ओकुहारा को हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई है. चेन यूफेई ने कोरिया की एन से यंग को हराया.

सुशील की बराबरी का मौका

ओलंपिक में व्यक्तिगत खेलों की बात की जाए तो बतौर भारतीय खिलाड़ी सिर्फ सुशील कुमार ही दो मेडल जीत सके हैं. रेसलर सुशील ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था. फिर 2012 लंदन ओलंपिक में उन्होंने सिल्वर मेडल पर कब्जा किया. 1900 में भारत की ओर से एथलेटिक्स में नॉर्मन प्रिचार्ड ने दो सिल्वर मेडल जीता था. हालांकि वे मूलत: ब्रिटेन के थे. (hindi.news18)

 


30-Jul-2021 2:09 PM (22)

टोक्‍यो ओलिंपिक से भारत के लिए एक अच्छी खबर आई है. महिला वेटलिफ्टर मीराबाई चानू के सिल्‍वर मेडल जीतने के बाद देश की एक अन्‍य खिलाड़ी ने भी मेडल सुनिश्चित कर ली थी. भारत की महिला बॉक्‍सर लोवलिना बोरगोहैन ने 69 किग्रा भार वर्ग में चीनी ताईपेई की प्रतिद्वंद्वी चेन को सेमीफाइनल में जगह बना ली है. अपनी इस जीत के साथ ही लोवलिना ने कम से कम ब्रांज मेडल सुनिश्‍चित कर लिया है. यदि वे सेमीफाइनल में हार भी गईं तो भी ब्रांज मेडल सुनिश्चित कर लिया है. वैसे यह देखना दिलचस्‍प होगा कि लोवलिना सेमीफाइनल मैच जीतकर खुद को गोल्‍ड या सिल्‍वर मेडल की होड़ में शामिल कर पाती हैं या नहीं. देश निश्चित रूप से असम की इस धाकड़ बॉक्‍सर से ब्रांज से बड़े मेडल की उम्‍मीद लगाए है. लोवलिना का का सेमीफाइनल में शीर्ष वरीयता की तुर्की की बुसानेज सुरमेनेली से मुकाबला होना है.

वैसे लोवलिना ने आज जैसे ही अपना क्‍वार्टर फाइनल मुकाबला जीतकर कम से कम एक मेडल सुनिश्चित किया, देश झूम उठा. उसने सेमीफाइनल मुकाबला जीतकर इस मेडल को और चमकदार (गोल्‍ड या सिल्‍वर) बनाने की उम्‍मीद लगाई जा रही है. असम के सीएम हिमांता बिस्‍व सरमा ने ट्वीट करके उन्‍हें बधाई दी. हिमांता ने लिखा, 'यह 'बड़ा पंच' (बड़ी जीत) है. आप हमें गौरवान्वित करती रहेंगी और देश का झंडा ऊंचा बुलंद करती रहेगी. '

केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी ट्वीट करके लोवलिना को सेमीफाइनल में पहुंचने पर बधाई दी. उन्‍होंने लिखा, 'बहुत अच्‍छे @LovlinaBorgohai, सुबह उठते ही देश को शानदार खबर मिली. आपकोएक्‍शन में देखने के लिए हम टीवी से 'चिपके' रहे.'

लोकसभा अध्‍यक्ष ओम बिरला, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु और उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने भी लोवलिना की जीत पर खुशी जताई है. उन्‍होंने लिखा, ' आपने हमें 'लालची' बना दिया. लोवलिना, अपने हर पंच में देश के एक अरब लोगों की ताकत महसूस करिए तथा अपने मेडल को और चमकदार बनाइए.' (ndtv.in)
 


30-Jul-2021 1:25 PM (18)

नई दिल्ली. भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने ऐतिहासिक जीत दर्ज कर कांस्य पदक पक्का कर लिया है. भारतीय महिला तीरंदाज दीपिका कुमारी क्वार्टर फाइनल में कोरिया की अन सान से 0-6 से हारकर टोक्यो ओलंपिक से बाहर गईं. भारतीय महिला टीम ने करो या मरो मुकाबले में आयरलैंड को 1-0 से हरा दिया है. भारत की तरफ नवनीत कौर ने कप्तान रानी रामपाल के शानदार पास पर गोल दागा. मनु भाकर और राही सरनोबत 25 मीटर पिस्टल वर्ग के फाइनल में नहीं पहुंच सकीं. भारत के अविनाश साबले ने टोक्यो ओलंपिक की 3000 मीटर स्टीपलचेस स्पर्धा में अपना ही राष्ट्रीय रिकॉर्ड बेहतर करते हुए अपनी हीट रेस में सातवां स्थान हासिल किया. साबले ने दूसरी हीट में 8 :18.12 समय निकाला और मार्च में फेडरेशन कप में बनाया 8 :20.20 का अपना ही रिकॉर्ड तोड़ा. टोक्यो ओलंपिक की पदक तालिका में जापान टॉप पर बरकरार है.भारत के लिए अब तक वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रजत पदक जीता है.(news18.com)


30-Jul-2021 10:01 AM (23)

 

नई दिल्ली. दुनिया की नंबर एक तीरंदाज दीपिका कुमारी ने पूर्व विश्व चैम्पियन रूसी ओलंपिक समिति की सेनिया पेरोवा को रोमांचक शूट ऑफ में हराकर टोक्यो ओलंपिक  महिला सिंगल्स के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया. पांच सेटों के बाद स्कोर 5-5 से बराबरी पर था. दीपिका ने दबाव का बखूबी सामना करते हुए शूट ऑफ में परफेक्ट 10 स्कोर किया और रियो ओलंपिक की टीम रजत पदक विजेता को हराया.

एक तीर के शूट ऑफ में शुरुआत करते हुए रूसी तीरंदाज दबाव में आ गई और सात ही स्कोर कर सकी जबकि दीपिका ने दस स्कोर करके मुकाबला 6-5 से जीता. तीसरी बार ओलंपिक खेल रही दीपिका ओलंपिक तीरंदाजी इवेंट के अंतिम आठ में पहुंचने वाली पहली भारतीय तीरंदाज बन गई. क्वार्टर फाइनल में दीपिका का सामना कोरिया की अन सान से होगा जिसने एक सेट से पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए जापान की रेन हायाकावा को 6-4 से हराया. रैंकिंग दौर में कोरिया की सान ने 25 साल पुराना ओलंपिक रिकॉर्ड तोड़कर आखिरी तीन तीर पर परफेक्ट 10 स्कोर किया था. दीपिका और अन सान का सामना इसी जगह पर टोक्यो 2020 टेस्ट टूर्नामेंट में 2019 में हुआ था लेकिन भारतीय खिलाड़ी को पराजय का सामना करना पड़ा था.

मैच के बाद दीपिका ने कहा, ‘‘अब आगे और कठिन होता जायेगा. मुझे बेहतर प्रदर्शन करना होगा. उम्मीद है कि ऐसा कर सकूंगी. नर्वस होने पर जीत नहीं पाऊंगी. ’’ सेनिया के खिलाफ 4-2 और 5-3 से बढ़त बनाने के बावजूद मुकाबला शूट ऑफ तक जाने के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘ मैं नर्वस हूं. मैंने शुरुआत अच्छी की लेकिन ओलंपिक का दबाव होता है.’’ दीपिका ने शानदार शुरुआत करके 2-0 से बढ़त बना ली थी और दूसरे तीर पर परफेक्ट स्कोर किया जबकि रूसी खिलाड़ी सात ही स्कोर कर सकी. दूसरे सेट में 19-17 की बढ़त लेने के बाद दीपिका को नौ की जरूरत थी जिससे उनकी बढ़त 4-0 हो जाती लेकिन उन्होंने सात स्कोर किया जबकि रूसी खिलाड़ी ने 10 अंक लेकर स्कोर 2-2 कर दिया. चौथे सेट में दीपिका एक भी 10 नहीं लगा सकी जिससे मुकाबला पांचवें सेट तक खिंचा.

टोक्यो ओलंपिक Live: दीपिका कुमारी अंतिम-8 में, मनु भाकर-राही सरनोबत फाइनल्स से चूकीं

दीपिका ने पांचवें सेट में 5-3 की बढ़त बना ली थी लेकिन फिर दबाव उन पर हावी हो गया और उन्होंने सेट गंवा दिया जिससे मुकाबला शूट ऑफ तक चला गया. शूट ऑफ में पेरोवा ने सात का स्कोर किया जबकि दीपिका ने परफेक्ट 10 लगाया. दीपिका के पति अतनु दास शनिवार को अंतिम 16 के मैच में जापान के ताकाहारू फुरूकावा से खेलेंगे जो 2012 ओलंपिक में रजत पदक और यहां टीम कांस्य जीत चुके हैं.(news18.com)


30-Jul-2021 7:59 AM (29)

नई दिल्ली. दुनिया की नंबर एक तीरंदाज दीपिका कुमारी ने पूर्व विश्व चैम्पियन रूसी ओलंपिक समिति की सेनिया पेरोवा को रोमांचक शूट ऑफ में हराकर टोक्यो ओलंपिक महिला सिंगल्स के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया. भारत के अविनाश साबले ने टोक्यो ओलंपिक की 3000 मीटर स्टीपलचेस स्पर्धा में अपना ही राष्ट्रीय रिकॉर्ड बेहतर करते हुए अपनी हीट रेस में सातवां स्थान हासिल किया. साबले ने दूसरी हीट में 8 :18.12 समय निकाला और मार्च में फेडरेशन कप में बनाया 8 :20.20 का अपना ही रिकॉर्ड तोड़ा. टोक्यो ओलंपिक की पदक तालिका में जापान टॉप पर बरकरार है.भारत के लिए वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रजत पदक जीता है. मीराबाई तो स्वदेश लौट चुकी हैं लेकिन उनके बाद भारत के लिए कोई पदक नहीं जीत पाया है. (news18.com)

 


29-Jul-2021 9:01 PM (29)

टोक्यो, 29 जुलाई | भारतीय रोवर्स अर्जुन लाल जाट और अरविंद सिंह यहां चल रहे टोक्यो ओलंपिक में पुरुष लाइटवेट डबल स्कल्स इवेंट में गुरूवार को ओवरऑल 11वें स्थान पर रहे। फाइनल बी रेस में भारतीय जोड़ी छह मिनट 29.66 सेकेंड का समय लेकर छठे स्थान पर रही। स्पेनिश जोड़ी 6:15.45 समय लेकर पहले और पोलैंड 6:16.01 समय के साथ दूसरे स्थान पर रहा।

ओलंपिक में किसी भी भारतीय रोविंग दल द्वारा 11वां स्थान अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।

भारतीय स्कलर्स ने सेमीफाइनल में 6:24.41 का समय लिया था जो उनका सर्वश्रेष्ठ समय था। लेकिन वे शीर्ष तीन में स्थान बनाने में नाकाम रहे थे और फाइनल में नहीं पहुंच सके थे। आयलैंड ने 6:05.33 समय लेकर पहला स्थान हासिल किया था। (आईएएनएस)


29-Jul-2021 5:40 PM (30)

नई दिल्ली. ओलंपिक निशानेबाजी में एक बार फिर शीर्ष खिलाड़ियों के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ ने कोचिंग स्टाफ को ‘पूरी तरह’ से बदलने का वादा किया है. रियो ओलंपिक (2016) की तरह टोक्यो में भी भारतीय निशानेबाजों का प्रदर्शन अब तक निराशाजनक रहा है. भारत के रिकॉर्ड 15 निशानेबाजों ने इन खेलों का टिकट कटाया था, लेकिन भारतीय दल अब गलत कारणों से सुर्खियों में है जिसमें टीम में गुटबाजी की खबरें भी सामने आ रही हैं. इस बीच एनआरएआई के प्रमुख रनिंदर सिंह ने मनु भाकर और जसपाल राणा के बीच विवाद के बारे में कुछ खुलासे किए हैं.

जसपाल राणा और मनु भाकर के बीच विवाद ओलंपिक से पहले का है. ओलंपिक से तकरीबन तीन महीने पहले मार्च में नई दिल्ली में मनु भाकर की 25 मीटर पिस्टल इवेंट में जसपाल राणा सफेद रंग की टीशर्ट पहन कर आए थे, जिस पर हाथ से एक संदेश लिखा हुआ था. यह संदेश मनु भाकर ने खुद हाथ से लिखकर राणा को भेजा था. वह इवेंट के दौरान इस टीशर्ट को पहनकर घूम रहे थे, जिसमें मनु भाकर को चिंकी यादव के हाथों गोल्ड मेडल गंवाना पड़ा था.

इस टीशर्ट पर लिखा था- ”मिल गई ना खुशी… आपको और अभिषेक को मुबारक हो… अपना इगो मुबारक हो…” ओलंपिक में खराब प्रदर्शन के बाद यह घटना सुर्खियों में आ गई है और सवाल उठ रहे हैं कि इस विवाद की वजह से ओलंपिक से तीन महीने पहले क्या जसपाल राणा और मनु भाकर की जोड़ी को तोड़ने का फैसला ठीक था? एनआरएआई ने पदक की उम्मीद मनु भाकर का जूनियर राष्ट्रीय कोच जसपाल राणा के साथ मनमुटाव होने के बाद भारत के पूर्व निशानेबाज और कोच रौनक पंडित को उन्हें प्रशिक्षित करने का जिम्मा दिया. सिंह ने कहा कि उन्होंने उन दोनों के बीच चीजों को सुलझाने की कोशिश की थी.

इस पर रनिंदर सिंह का कहना है कि जसपाल राणा लगातार इस बात पर जोर दे रहे थे कि मनु भाकर को ओलंपिक में तीन इवेंट में उतारना ठीक नहीं है. ऐसे में खुद मनु और उनके परिवार को जसपाल का यह व्यवहार असंवेदनशील लग रहा था. उन्होंने कहा कि मैं खुद भी नहीं समझ पा रहा था कि जसपाल ऐसा क्यों कर रहे हैं. वो तो हमेशा ही चयन के आधार पर ही भरोसा करते थे. उन्होंने जसपाल राणा को नकारात्मक बताया.

एनआरएआई के प्रमुख रनिंदर सिंह ने कहा, ‘‘निश्चित रूप से प्रदर्शन उम्मीदों के अनुरूप नहीं है और मैंने कोचिंग और सहयोगी सदस्यों में बदलाव की बात कही है.’’ उन्होंने यह बातें राइफल और पिस्टल निशानेबाजों द्वारा मिश्रित टीम स्पर्धाओं के क्वालीफिकेशन चरणों को पार करने में विफल रहने के बाद कही. उन्होंने कहा कि महासंघ और अन्य संबंधित हितधारकों ने खेलों के लिए निशानेबाजों को तैयार करने में मदद करने के लिए हर संभव प्रयास किया. इसमें ओलंपिक चैंपियन अभिनव बिंद्रा के नेतृत्व वाले पैनल की सिफारिशों को लागू करना शामिल है, जो पांच साल पहले रियो दि जिनेरियो में निराशाजनक प्रदर्शन के बाद बना था. (news18.com)


29-Jul-2021 2:44 PM (22)

टोक्यो ओलंपिक में भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु का शानदार प्रदर्शन जारी है. पीवी सिंधु टोक्यो ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में जगह बना चुकी है. पूरे भारत को सिंधु से मेडल की उम्मीद है. सिंधु ने क्वार्टर फाइनल मुकाबले में जगह बनाने के बाद अपनी कामयाबी का राज खोला है. सिंधु का कहना है कि वह ओलंपिक की शुरुआत से ही मैच दर मैच रणनीति पर चल रही हैं. सिंधु आगे आने वाले मुकाबलों में भी इस सिलसिले को जारी रखेंगी.

मौजूदा विश्व चैयन अब सिंधु कम से कम कांस्य पदक से महज एक कदम दूर हैं लेकिन उसके लिए उन्हें जापान की अकीनो यामागुची को हराना होगा, जिनसे उनका क्वार्टर फाइनल में सामना होगा. रियो ओलंपिक में रजत पदक जीत चुकीं सिधु ने गुरुवार को मुशाशीनो फॉरेस्ट प्लाजा कोर्ट नम्बर-3 पर डेनमार्क की मिया ब्लीचफेट को सीधे गेम में हराया. सिंधु ने 41 मिनट तक चले मुकाबले में मिया के खिलाफ 21-15, 21-13 से जीत दर्ज की.

यामागुची की बात की जाए तो उन्होंने प्री-क्वार्टर फाइनल में दक्षिण कोरिया की गायुन किम को 2-0 से हराया. यामागुची ने यह मै 21--17, 21-18 से जीता. मैच के बाद सिंधु ने कहा कि कई लोगों ने उन्हें टूर्नामेंट के महत्व को समझाया है और यह भी कहा है कि इस टूर्नामेंट में मैच दर मैच की रणनीति पर चलना बेहतर होगा.

बड़े टूर्नामेंट में शानदार रहा है सिंधु का प्रदर्शन
सिंधु ने बीडब्ल्यूएफ वेबसाइट से बातचीत के दौरान कहा, ''बहुत से लोगों ने मुझसे यह कहा है. मैं इसे एक तारीफ के रूप में लूंगी. लेकिन मेरे लिए हर मैच महत्वपूर्ण है. हर बिंदु पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है, न कि सिर्फ मैच पर.''

सिंधु ने हमेशा बड़े टूर्नामेंटस में अच्छा प्रदर्शन किया है, जो पांच साल पहले रियो डी जनेरियो में जीते गए रजत पदक और विश्व चैंपियनशिप में उनके प्रदर्शन से स्पष्ट है. विश्व चैम्पियनशिप में उन्होंने 2019 में स्वर्ण पदक जीता था. इससे पहले 2017 और 18 में सिंधु ने रजत और 2013-2014 में कांस्य पदक जीता था. (abplive.com)
 


29-Jul-2021 1:24 PM (54)

 

नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट टीम को बुधवार को श्रीलंका के खिलाफ दूसरे टी20 में 4 विकेट से हार मिली. दूसरे टी20 में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में 132 रन बनाए लेकिन गेंदबाजों के मुफीद इस पिच पर टीम इंडिया इस स्कोर का बचाव नहीं कर सके. श्रीलंका ने 6 विकेट गंवाकर 2 गेंद पहले ही लक्ष्य हासिल कर लिया. इस तरह सीरीज 1-1 से बराबर हो गई. पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने टीम इंडिया की हार के बाद बताया कि आखिर शिखर धवन की टीम से कहां गलती हो गई? सहवाग के मुताबिक शिखर धवन ने पिच के हिसाब से अपने गेंदबाजों का इस्तेमाल नहीं किया. सहवाग की मानें तो कप्तान धवन नवदीप सैनी को बीच के ओवरों में नवदीप सैनी का इस्तेमाल कर सकते थे और उन्हें स्पिन फ्रेंडली पिच पर नीतीश राणा का इस्तेमाल करना चाहिए था.

सहवाग ने क्रिकबज के साथ बातचीत में कहा, ‘चक्रवर्ती ने दिखाया है कि आप उन्हें आखिरी ओवरों में गेंदबाजी करा सकते हैं और केकेआर के लिए उन्होंने ऐसा भी किया है. पावरप्ले के बाद जब कुलदीप यादव और राहुल चाहर ने विकेट ली थी तो उस समय नीतीश राणा से दो ओवर कराए जा सकते थे. शायद वहां धवन चूक गए. अंत में जिस तरह से रन बने वो काफी दुख देते हैं. चाहे आप जो मर्जी कहो कि आप नए लड़कों को मौका दे रहे हो लेकिन आपकी प्राथमिकता मैच जीतना ही होनी चाहिए.’

सहवाग कप्तान होते तो क्या करते?
सहवाग ने कहा कि अगर वो कप्तान होते तो नवदीप सैनी से बीच में जरूर ओवर कराते. सहवाग बोले, ‘मैं चक्रवर्ती का इस्तेमाल आखिरी के ओवरों में करता और कुलदीप यादव के अनुभव का भी फायदा उठाता. तेज गेंदबाजों को अंत के ओवरों में चौके लग सकते हैं. इस पिच पर स्पिनर्स को खेलना मुश्किल था.’

IND VS SL, 3rd T20I: तीसरे टी20 में 2 और खिलाड़ी कर सकते हैं डेब्यू, जानिए किसे मिलेगा Playing 11 में मौका?

नवदीप सैनी को नहीं मिला एक भी ओवर
बता दें दूसरे टी20 मैच में भारत 6 गेंदबाजों के साथ उतरा था. लेकिन शिखर धवन ने पांच ही गेंदबाजों का इस्तेमाल किया. चेतन सकारिया महंगे साबित हुए इसके बावजूद उन्हें अंत के ओवरों में गेंदबाजी कराई गई. वहीं नवदीप सैनी से एक भी गेंद नहीं फेंकवाई गई. इसके अलावा नीतीश राणा भी टीम में थे जो अपनी ऑफ स्पिन से बल्लेबाज को बांध सकते हैं लेकिन कप्तान धवन ने उनका भी इस्तेमाल नहीं किया. नतीजा श्रीलंकाई टीम ने मैच जीत लिया.(news18.com)


29-Jul-2021 11:13 AM (43)

अमेरिकी जिमनास्ट सिमोन बाइल्स की 'अपनी मानसिक सेहत को हर चीज़ पर प्राथमिकता' देने की तारीफ़ हो रही है. बाइल्स टोक्यो ओलंपिक में महिला टीम के फ़ाइनल से अलग हो गई हैं.

अमेरिकी ओलंपिक टीम के प्रमुख, कई जिमनास्ट और दूसरे खेलों से जुड़े लोगों ने खुलकर बाइल्स के फ़ैसले का समर्थन किया है.

अपने वॉल्ट के बाद 24 वर्षीय बाइल्स ये कहते हुए ओलंपिक से अलग हो गईं कि उन्हें अब अपनी मानसिक सेहत पर ध्यान देना है.

फ़ैसले की सराहना
अमेरिकी ओलंपिक और पैरालंपिक समिति की मुख्य कार्यकारी अधिकारी सारा हर्शलैंड ने कहा-हमें आप पर गर्व है.

उन्होंने कहा, "हम हर दूसरी चीज़ पर अपनी मानसिक सेहत को सबसे अधिक महत्व देने के आपके फ़ैसले की सराहना करते हैं और आपके आगे के सफ़र में पूरे सहयोग और अमेरिकी टीम के सभी संसाधनों के समर्थन का भरोसा देते हैं."

अमेरिकी टीम ने साल 2011, 2014, 2015, 2018 और 2019 में वर्ल्ड टाइटल जीता है और लंदन और रियो ओलंपिक में गोल्ड मेडल अपने नाम किया है.

13.766 के अपने ओलंपिक करियर के सबसे कम स्कोर के बाद बाइल्स एरीना से बाहर चली गईं, लेकिन जब उनकी टीम की सहयोगी रजत पदक प्राप्त कर रहीं थीं तो वो उनका समर्थन करने के लिए वापस लौट आईं. इस स्पर्धा में रशियन ओलंपिक समिति की टीम ने स्वर्ण और ब्रिटेन ने कांस्य पदक जीता.

बाइल्स ओलंपिक और विश्व कप में 30 बार चैम्पियन रही हैं और उन्हें ओलंपिक इतिहास की सबसे अधिक पदक जीतने वाली एथलीट (पुरुष या महिला) बनने के लिए टोक्यो में चार पदक जीतने थे.

टोक्यो ओलंपिक पदक तालिका: किस देश को अब तक कितने मेडल
चीन की इस खिलाड़ी ने गोल्ड मेडल जीता लेकिन इस तस्वीर पर भारी नाराज़गी
उन्हें ग्रेटेस्ट ऑफ़ आल टाइम-जीओएटी (अब तक सबसे महान) कहा जाता रहा है.

जमैका की जिमनास्ट दानूसिया फ्रांसिस ने कहा, "मैं आपके बारे में नहीं जानती लेकिन बाइल्स ने सभी को अपनी मानसिक सेहत को हर दूसरी चीज़ पर तरज़ीह देने के लिए प्रेरित किया है. वो एक सच्ची महारानी हैं. वो जीओएटी हैं, कई मायनों में."

'ग्रेटेस्ट ऑफ़ आल टाइम'

2012 की कांस्य पदक विजेता और ब्रिटेन की पूर्व महान जिमनास्ट बेथ ट्वेडल ने बीबीसी वन से कहा, "2013 के बाद से वो हर स्पर्धा में अजेय रही हैं और वो जब भी किसी स्पर्धा में जाती थीं तो सबको लगता था कि वही जीतने वाली हैं, ऐसा संभव है."

उन्होंने कहा, "वो इतनी मज़बूत थीं कि वो ये कह सकीं कि मैं आज ठीक नहीं हूँ और मुझे अपनी टीम के बाक़ी साथियों में भरोसा है. वो आगे आएँगी और अपना रूटीन पूरा करेंगी. हमें ये सुनिश्चित करना होगा कि हर एथलीट की सेहत और सलामती सर्वोपरि है."

फ्रांस की जिमनास्ट मेलेनी डे जीसस डोज़ सैंटोस कहती हैं, "हमने कभी बाइल्स को इस तरह नहीं देखा था. मैं ये कहना चाहूँगी कि ये आसान नहीं है क्योंकि वो बाइल्स हैं और हर किसी की नज़र उन पर है. उन पर भारी मानसिक दबाव होता है."

जापान की जिमनास्ट माई मुराकामी ने कहा, "उनके लिए ये बहुत असामान्य है. लेकिन अगर आप भारी दबाव में होते हैं तो इसका असर आपके शरीर पर पड़ता ही है."

बाइल्स दूसरे पायदान पर रहीं और ये उनका छठा ओलंपिक मेडल था. इसके अलावा वो 2013 से 2019 के बीच 19 वर्ल्ड टाइटल जीत चुकी हैं.

वो टोक्यो ओलंपिक के सभी पाँच फ़ाइनल में अपनी जगह पक्की कर चुकी हैं लेकिन ये स्पष्ट नहीं है कि वो अब आगे हिस्सा लेंगी या नहीं.


वीडियो कैप्शन,
मीराबाई चानू के चैंपियन बनने की कहानी

बाइल्स ने कहा, "हम देखेंगे कि क्या करना है, हम धीरे-धीरे हालात से निबटेंगे और देखें कि क्या होता है."

20 साल की जोर्डन चाइल्स महिला फ़ाइनल टीम में उनकी जगह उतरेंगी. चाइल्स कहती हैं, "ये बहुत बड़ा निर्णय है. मैं एक बड़ी और महान एथलीट की जगह लेने जा रही हूँ. मैं बहुत ख़ुश है कि मैं ऐसा करने जा रही हूँ."

"हाँ वो अब तक की सबसे महान हैं (जीओएटी), मैं दुनिया को ये दिखाना चाहती हूँ कि आप ना सिर्फ़ बेमिसाल लोगों की जगह ले सकते हैं बल्कि हम ये काम एक साथ रहकर भी कर सकते हैं."

टीम की सदस्य 18 वर्षीय सुनीसा ली ने कहा, "हम सब बहुत तनाव में थे. ईमानदारी से कहूँ तो उस पल हमें पता नहीं था कि क्या हो रहा है. वो सिमोन बाइल्स हैं. असल में वो ही तो टीम को लेकर चलती हैं."

ओलंपिक एथलीट भी इंसान ही होते हैं
पूर्व ओलंपिक चैंपियन और अमेरिका की रिटायर्ड जिमनास्ट एली रइसमैन कहती हैं, "मेरा जी घबरा रहा है. ये बहुत परेशान करने वाला है. मैं जानती हूँ कि सभी एथलीट अपने पूरे जीवन इसी पल का सपना देखती हैं. मैं बस ये दुआ करती हूँ कि बाइल्स ठीक हों."

वो कहती हैं, "ये दबाव बहुत ज़्यादा होता है, मैं ये देख रही थी कि जैसे-जैसे ओलंपिक नज़दीक आ रहा था, उन पर दबाव बढ़ता जा रहा था, ये बहुत परेशान करने वाला है."

"हमें ये याद रखना चाहिए कि ओलंपिक एथलीट भी इंसान होते हैं और वो अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दे रहे होते हैं. जब आपका जीवन इतने भारी दबाव में होता है तब आपको उस पल अपने जीवन का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होता है."

बाइल्स के लिए दूसरे खेलों और खेल के बाहर की दुनिया से भी समर्थन के संदेश आए.

समर्थन में संदेश
दुनिया के महानतम मुक्केबाज़ों में शामिल मैनी पैचमैन ने कहा, "जो एक बार चैंपियन होता है, हमेशा चैंपियन रहता है."

वहीं दो बार गोल्ड मेडल जीतने वाली अमेरिका की एल्पाइन स्कायर मिकेएला शिफ़रीन ने कहा, "मुस्कुराती रहो क्योंकि तुम्हारी मुस्कान सुनहरी है."

एबीए खिलाड़ी कार्ल एंथोनी टाउंस ने कहा, "आपके लिए सिर्फ़ प्यार और सकारात्मकता."

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक दिवस मनाने की क्या है कहानी, टोक्यो ओलंपिक की तैयारी और भारत की मुश्किल
दोराबजी टाटा: खिलाड़ियों को अपने ख़र्चे पर ओलंपिक भेजने वाले शख़्स
वहीं अमेरिका के रिटायर्ड फीगर स्केटर एडम रिपोन ने कहा, "जिस दबाव में सिमोन थीं, मैं उसकी सिर्फ़ कल्पना ही कर सकता हूँ. उसके लिए प्यार भेज रहा हूँ. ये भूल जाना आसान है कि वो भी एक इंसान हैं."

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा, "हम सब भाग्यशाली हैं कि हमने उनके प्रदर्शन को देखा है, वो अब भी अब तक की महान खिलाड़ी हैं. वो हमारे प्यार और समर्थन की हक़दार हैं.'

यूनिसेफ़ यूएसए ने एक ट्वीट में कहा, "एक सच्ची रोल मॉडल बनने के लिए और दुनिया को ये दिखाने के लिए आपका शुक्रिया कि अपनी मानसिक सेहत को प्राथमिकता देना कोई ग़लत बात नहीं है." (bbc.com)


29-Jul-2021 10:05 AM (30)

टोक्यो, 29 जुलाई| भारत के सुपर हेवीवेट मुक्केबाज सतीश कुमार यहां जारी टोक्यो ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में पहुंच गए हैं। सतीश ने प्लस 91 किलोग्राम भार वर्ग के अंतिम-16 दौर के मुकाबले में गुरुवार को जमैका के रिकाडरे ब्राउन को 4-1 से हराया।(आईएएनएस)


29-Jul-2021 10:03 AM (33)

टोक्यो, 29 जुलाई | भारत के अग्रणी पुरुष तीरंदाज अतानु दास यहां जारी टोक्यो ओलंपिक में पुरुषों की व्यक्तिगत स्पर्धा के प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुंच गए हैं। अतानु ने युमेनोशीमा फाइनल फील्ड पर हुए अपने राउंड ऑफ 16 मुकाबले में दक्षिण कोरिया के जिनयेक ओह को टाईब्रेकर के बाद 6-5 से हराया।

इससे पहले अतानु ने राउंड ऑफ 32 के मुकाबले में ताइवान के यू चेंग डेंग को 6-4 से हराया था।

यह मुकाबला भी काफी रोमांचक रहा। एक समय दोनों खिलाड़ी 4-4 की बराबरी पर थे लेकिन अंतिम सेट में अतानु ने 26 के मुकाबले 28 अंक लेकर जीत हासिल की।(आईएएनएस)


29-Jul-2021 9:21 AM (36)

टोक्यो. भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली है. टीम ने अपने चौथे मुकाबले में 2016 रियो ओलंपिक की गोल्ड मेडलिस्ट अर्जेंटीना की टीम को 3-1 से मात दी. टीम की यह चार मैचों में तीसरी जीत है. टीम को न्यूजीलैंड, स्पेन और अर्जेंटीना के खिलाफ जीत मिली है. भारत को सिर्फ ऑस्ट्रेलिया से हार मिली. टीम ग्रुप-ए के अपने अंतिम मुकाबले में 30 जुलाई को मेजबान जापान से भिड़ेगी.

मैच में भारत और अर्जेंटीना दोनों ने सधी शुरुआत की. पहले क्वार्टर में कोई गोल नहीं हुआ. दूसरे क्वार्टर में दोनों ही टीमें गोल नहीं कर सकीं. हाफ टाइम तक स्कोर 0-0 से बराबर था. दोनों ही टीमों ने पहले 30 मिनट में एक भी पेनल्टी कॉर्नर हासिल नहीं किए थे. 43वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर पर वरुण कुमार ने गोल करके भारत को 1-0 की बढ़त दिलाई.

चाैथे क्वार्टर में भारत ने दो गोल किए

अर्जेंटीना ने चौथे क्वार्टर में वापसी की. 48वें मिनट में मैको स्कूथ ने पेनल्टी कॉर्नर पर गोल करके स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया. इसके बाद दोनों टीमों ने आक्रामक खेल दिखाया. 58वें मिनट में भारत की ओर से विवेक सागर ने मैदानी गोल करके टीम को 2-1 की बढ़त दिला दी. फिर 59वें मिनट में हरमनप्रीत सिंह ने कॉनर्र पर गोल करके टीम को 3-1 की अजेय बढ़त दिलाई. भारत को कुल 8 कॉर्नर मिले और दो में भारत ने गोल किए.

भारत ग्रुप में दूसरे नंबर पर

तीसरी जीत के साथ भारतीय हॉकी टीम ग्रुप-ए में 9 अंक के साथ दूसरे नंबर पर है. ऑस्ट्रेलिया ने सभी 4 मुकाबले जीते हैं और 12 अंक के साथ टीम टॉप पर है. स्पेन, न्यूजीलैंड और अर्जेंटीना तीनों टीम के 4-4 मैच के बाद 4-4 अंक हैं. लेकिन गोल औसत के आधार पर स्पेन तीसरे, न्यूजीलैंड चौथे और अर्जेंटीना की टीम पांचवें स्थान पर है. मेजबान जापान के 4 मैच में 1 अंक हैं. टीम ने अब तक कोई मुकाबला नहीं जीता है.(news18.com)


29-Jul-2021 8:44 AM (26)

नई दिल्ली. रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता और विश्व चैंपियन पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक की महिला एकल बैडमिंटन स्पर्धा के एकतरफा प्री क्वार्टर फाइनल मुकाबले में डेनमार्क की मिया ब्लिचफेल्ट को सीधे गेम में हराकर अंतिम आठ में जगह बनाई. आखिरी तीन मिनट में दो गोल करने वाली भारतीय टीम ने रियो ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता अर्जेंटीना को 3-1 से हराकर टोक्यो ओलंपिक की पुरूष हॉकी स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया. पिछले मैच में स्पेन को हराने के बाद भारतीय टीम ने लगातार अच्छा प्रदर्शन जारी रखते हुए यह महत्वपूर्ण मुकाबला जीता. अपना पहला ओलंपिक खेल रही भारत की ‘युवा ब्रिगेड’ ने इस जीत में सूत्रधार की भूमिका निभाई और भारत को हॉकी में चार दशक बाद ओलंपिक पदक जीतने के और करीब पहुंचा दिया. भारत के लिये वरुण कुमार ने 43वें, विवेक सागर प्रसाद ने 58वें और हरमनप्रीत सिंह ने 59वें मिनट में गोल दागे. टोक्यो ओलंपिक में भारत के खाते में अभी तक एक ही पदक आया है जो वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रजत के तौर पर जीता. इसके बाद उसे दूसरे पदक की तलाश है. (news18.com)


29-Jul-2021 8:35 AM (44)

टोक्यो, 29 जुलाई | अंतिम क्वार्टर में किए गए दो शानदार गोलों की मदद से भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने गुरुवार को खेले गए अपने चौथे ग्रुप मैच में मौजूदा ओलंपिक चैम्पियन अर्जेटीना को 3-1 से हरा दिया। भारत की यह चार मैचों में तीसरी जीत है। अब उसके खाते में 9 अंक हो गए हैं और वह अपने ग्रुप-ए में आस्ट्रेलिया (12) के बाद मजबूती से दूसरे क्रम पर विराजमान है। भारतीय टीम का अगले दौर में जाना तय हो गया है।

भारत के लिए वरुण कुमार ने 43वें, विवेक सागर प्रसाद ने 58वें और हरमनप्रीत सिंह ने 59वें मिनट में गोल किए। अर्जेटीना के लिए एकमात्र गोल 48वेंमिनट में स्कुथ कासेला ने किया।

शुरुआत के दो क्वार्टर गोलरहित जाने के बाद भारत ने तीसरे क्वार्टर के अंत में गोल कर 1-0 की लीड ली थी। भारत के लिए यह गोल वरुण कुमार ने पेनाल्टी कार्नर पर किया था।

अब भारत के सामने इस गोल को बचाए रखने की जिम्मेदारी। दूसरी ओर, मौजूदा चैम्पियन ने अपने हमले तेज कर दिए। इसी क्रम में 47वें मिनट में उसे पेनाल्टी कार्नर मिला, जिसे 48 मिनट में गोल में बदलकर स्कुथ कासेला ने स्कोर 1-1 कर दिया।

अब मामला फिर वही हो गया था जो तीसरे क्वार्टर के मध्य तक था। अब दोनों टीमें आगे निकलने के लिए होड़ लगा रहीं। इस होड़ में भारत को सफलता मिली। उसने 58वें मिनट में गोल कर 2-1 की लीड ले ली

भारत के लिए यह गोल विवेक सागर ने किया। यह एक मैदानी गोल था।

इस गोल से उत्साहित भारत ने फिर हमला किया और 59वें मिनट में पेनाल्टी कार्नर हासिल किया। इस पर गोल कर हरमनप्रीत सिंह ने भारत की यादगार जीत पक्की कर दी।

अब भारत को अपने अंतिम ग्रुप मैच में मेजबान जापान से भिड़ना है।(आईएएनएस)


29-Jul-2021 8:20 AM (44)

टोक्यो, 29 जुलाई| भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु यहां जारी ओलंपिक खेलों की बैडमिंटन स्पर्धा के महिला एकल मुकाबलों के क्वार्टर फाइनल में पहुंच गई हैं। अब सिंधु पदक से महज एक कदम दूर हैं। रियो ओलंपिक में रजत पदक जीत चुकीं सिधु ने गुरुवार को मुशाशीनो फॉरेस्ट प्लाजा कोर्ट नम्बर-3 पर डेनमार्क की मिया ब्लीचफेट को सीधे गेम में हराया। सिंधु ने 41 मिनट तक चले मुकाबले में मिया के खिलाफ 21-15, 21-13 से जीत दर्ज की।

सिंधु ने ग्रुप जे में टॉप पर रहे हुए नॉकआउट दौर के लिए क्वालीफाई किया था। उन्होंने अपने दोनों ग्रुप चरण के मैच जीते थए।

बैडमिंटन में अब सिंधु से ही पदक की उम्मीद है। पुरुष एकल में बी. साई प्रणीत और पुरुष युगल में सात्विक साईराज वेंकीरेड्डी तथा चिराग शेट्टी की जोड़ी पहले ही बाहर हो चुकी है। (आईएएनएस)


28-Jul-2021 8:11 PM (47)

नई दिल्ली. ओलंपिक में क्वालिफाई करने वाली पहली भारतीय तलवारबाज भवानी देवी ने भले ही टोक्यो में कोई पदक ना जीता हो लेकिन आज वो देश की चहेती बन चुकी हैं. इस महिला तलवारबाज को देश सलाम कर रहा है. खुद पीएम मोदी ने उन्हें पूरे देश के लिए एक प्रेरणा बताया था. बता दें भवानी देवी ने पहले दौर में 15-3 से एकतरफा जीत दर्ज कर देश का दिल जीत लिया था लेकिन दूसरे दौर में उन्हें वर्ल्ड नंबर 3 खिलाड़ी मेनन ब्रूनेट से 15-7 से हार झेलनी पड़ी. अपनी हार के बाद भवानी देवी ने ट्विटर पर देश से माफी मांगी थी. भवानी देवी ने बुधवार को बताया कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया?

भवानी देवी ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'जब मैंने क्वालिफाई किया था तो मुझे काफी सपोर्ट मिला. दरअसल मैं हमेशा मेडल जीतने के बारे में सोचती हूं और दूसरे दौर में हार से मैं थोड़ा निराश थी. मेरी विरोधी बहुत अच्छी थी लेकिन मैं उसे हराना चाहती थी. मानती हूं कि मेरा पहला ओलंपिक है लेकिन ऐसा कहीं नहीं लिखा है कि आप पहले ओलंपिक में मेडल नहीं जीत सकते. इसलिए हार के बाद मैं थोड़ा भावुक हो गई थी.'

पीएम मोदी के पोस्ट से बढ़ा हौंसला
भवानी देवी ने कहा कि हार के बाद पीएम मोदी ने जिस तरह उनका हौंसला बढ़ाया, उसने उनको काफी राहत दी. भवानी ने कहा, 'मेरी हार के बाद पीएम मोदी ने जो पोस्ट किया उससे मेरा हौंसला बढ़ा. मुझे फैंस से भी अच्छे संदेश मिले. अच्छी बात ये है कि लोग तलवारबाजी पसंद करते हैं जो कि इस खेल के लिए बहुत अच्छी बात है. मुझे सरकार से हमेशा समर्थन मिला. जब किरेन रिजीजू खेल मंत्री थे तो वो अकसर मुझे फोन कर दबाव ना लेने की बात कहते थे. साथ ही वो हमेशा मदद के लिए तैयार रहते थे.'(news18.com)


28-Jul-2021 7:10 PM (66)

भारत और श्रीलंका के बीच खेले जाने वाले दूसरे टी20 के होने या ना होने को लेकर जो संस्पेंस था, वो अब खत्म हो गया है. अब यह साफ हो गया कि भारत और श्रीलंका के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज़ का दूसरा मैच आज रात आठ बजे से कोलंबो के आर प्रेमदासा स्टेडियम में खेला जाएगा. हालांकि, पहले इस मैच को कल यानी मंगलवार को खेला जाना था, लेकिन स्पिन ऑलराउंडर क्रुणाल पांड्या के कोरोना पॉजिटिन होने के कारण मैच को एक दिन के लिए स्थगित कर दिया गया था.  

आठ खिलाड़ी दूसरे टी 20 से हुए बाहर 

रिपोर्ट के मुताबिक, क्रुणाल पांड्या और उनसे निकट संपर्क में आए कुल सात खिलाड़ी दूसरे टी20 में टीम इंडिया का हिस्सा नहीं होंगे. हालांकि, इससे कप्तान शिखर धवन के लिए प्लेइंग इलेवन का चयन काफी मुश्किल हो गया है. 

श्रीलंका के खिलाफ होने वाले दूसरे टी20 में सलामी बल्लेबाज़ पृथ्वी शॉ, मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज़ सूर्यकुमार यादव, स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या, लेग स्पिनर राहुल चाहर, मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज़ मनीष पांडे, विकेटकीपर बल्लेबाज़ ईशान किशन और स्पिन ऑलराउंडर कृष्णप्पा गौतम भारतीय टीम का हिस्सा नहीं होंगे. 

इन पांच खिलाड़ियों को मिला मौका 

श्रीलंका दौरे पर जो पांच भारतीय खिलाड़ी नेट गेंदबाज और स्टैंडबाय के रूप में टीम के साथ गए थे. अब उन्हें रेगुलर सदस्य के तौर पर टीम में शामिल कर लिया गया है. इसमें ईशान पोरेल, संदीप वारियर, अर्शदीप सिंह, साई किशोर और सिमरजीत सिंह का नाम शामिल है. 

देवदत्त पडिकल, नितीश राणा और ऋतुराज गायकवाड़ का डेब्यू तय 

जानकारी के मुताबिक, सलामी बल्लेबाज़ देवदत्त पडिकल और टॉप ऑर्डर के खिलाड़ी नितीश राणा और ऋतुराज गायकवाड़ का दूसरे टी20 में डेब्यू करना तय है. हालांकि, इनमें पडिकल कप्तान शिखर धवन के साथ ओपनिंग कर सकते हैं. वहीं चार नंबर पर ऋतुराज गायकवाड़ और पांच नंबर पर नितीश राणा खेल सकते हैं.  (abplive)


28-Jul-2021 9:08 AM (38)

नई दिल्ली. भारतीय तीरंदाज टोक्यो ओलंपिक की टीम स्पर्धाओं से बाहर होने की निराशा को दूर कर बुधवार (28 जुलाई) को होने वाली व्यक्तिगत प्रतियोगिताओं की कठिन चुनौतियों का सामना करेंगे.  टोक्यो ओलंपिक में अबतक भारत सिर्फ एक ही पदक जीत पाया है. वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू ने भारत को सिल्वर मेडल दिलाया है. हालांकि इसके बाद भारतीय टीम को नाकामी ही हाथ लगी है. बुधवार को एक बार फिर नई उम्मीदों के साथ भारतीय एथलीट मैदान में होंगे. रियो ओलंपिक की सिल्‍वर मेडलिस्‍ट बैडमिंटन स्‍टार पीवी सिंधु  महिला एकल ग्रुप चरण में उतरेंगी. टोक्यो में इस 26 वर्षीय खिलाड़ी को भारत की तरफ से स्वर्ण पदक की सबसे बड़ी उम्मीद माना जा रहा है. मुक्‍केबाजी में 75 किग्रा वर्ग में राउंड 16 में भारत की पूजा रानी चुनौती पेश करेंगी. स्‍टार तींरदाज दीपिका कुमारी महिला अंतिम 32 वर्ग में उतरेंगी. (news18.com)


Previous123456789...224225Next