बस्तर

बंगाल हिंसा के विरोध में भाजपा ने दिया धरना
05-May-2021 9:28 PM (43)
 बंगाल हिंसा के विरोध में भाजपा ने दिया धरना

जगदलपुर, 5 मई । बंगाल हिंसा के विरोध में आज राष्ट्रीय आह्वान पर भारतीय जनता पार्टी ने धरना प्रदर्शन किया। भाजपा कार्यकर्ता व पदाधिकारियों ने अपने-अपने निवास के सामने काली पट्टी बाँध कर बैनर पोस्टर के साथ बंगाल हिंसा के विरोध में दोपहर 2 बजे से 5 बजे तक धरने में बैठे रहे और धरना के समापन में बंगाल हिंसा में मृत भाजपा कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि दी।

भाजपा प्रदेश महामंत्री किरण देव, भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री केदार कश्यप, पूर्व सांसद दिनेश कश्यप, भाजपा जिलाध्यक्ष रुपसिंह मंडावी, डॉ.सुभाऊ कश्यप, पूर्व विधायक संतोष बाफना भी अपने निवास स्थान के सामने धरने पर बैठे व बंगाल हिंसा का पुरजोर विरोध किया।

 किरणदेव ने कहा कि प्रायोजित हिंसा का शिकार बंगाल में भाजपा कार्यकर्ता हो रहे हैं, जिनके घर, दुकानों में लूटपाट कर उनकी निर्मम हत्याएं की जा रही है। तृणमूल कांग्रेस के इशारे पर घटनायें हो रही है और कांग्रेस सहित समूचा विपक्ष चुप है। ऐसा कृत्य घोर निंदनीय हैं।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता केदार कश्यप ने कहा कि चुनाव नतीजे के बाद बंगाल में टीएमसी बदले की घृणित राजनीति कर रही है। भाजपा कार्यकर्ताओं व उनके परिवारों पर हिंसक हमले लगातार जारी है। राजनीति का यह काला अध्याय है,जिस पर विपक्षी राजनीतिक दलों का कथित मौन भी सबके सामने है। समूचे देश में भाजपा द्वारा बंगाल हिंसा का आज विरोध किया जा रहा है।

रुपसिंह मंडावी ने बंगाल हिंसा की तीव्र निंदा करते हुए कहा कि बंगाल में राजनीतिक हिंसा प्रयोजित है, भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या टीएमसी के गुंडों द्वारा की गयी है। मानवता को शर्मसार करने वाले ऐसे कृत्यों पर कांग्रेस भी खामोश है। यह इन जैसी राजनीतिक पार्टियों का मूल चरित्र है, जो निंदनीय व शर्मनाक है। पूर्व विधायक संतोष बाफना ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस का चेहरा बंगाल में हो रही खूनी घटनाओं से उजागर हो गया है। भाजपा कार्यकर्ताओं की निर्मम हत्याओं पर ममता बेनर्जी मुँह नहीं खोल रही है। समूचा विपक्ष भी मुँह बंद किये बैठा है। नफरत व दुर्भावना की घृणित राजनीति देश देख रहा है। जिसकी जितनी निंदा की जाय, वह भी कम है। धरने  में बैदूराम कश्यप,लच्छूराम कश्यप,विद्याशरण तिवारी, वेदवती कश्यप,कमलचंद भंजदेव,योगेन्द्र पांडे,श्रीनिवास मिश्रा,श्रीधर ओझा,रामाश्रय सिंह आदि शामिल रहे।

अन्य पोस्ट

Comments