राजनीति

लालू की छोटी बेटी रोहिणी का CM नीतीश पर हमला, बोलीं- बिहार नहीं संभल रहा तो कुर्सी छोड़ें, सुशील मोदी को भी लपेटा
19-May-2021 8:09 AM (255)

 

-संजय कुमार

पटना. राष्‍ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद यादव की छोटी बेटी रोहिणी आचार्य पिछले कुछ दिनों से बिहार की राजनीति में लगातार दिलचस्‍पी लेती दिख रही हैं. कोरोना संकट के इस दौर में एक दिन में ताबड़तोड़ नौ ट्वीट कर रोहिणी ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ ही भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्‍यसभा सांसद सुशील मोदी को निशाने पर लिया है. हाल के दिनों तक राजनीतिक बयानबाजी से दूर रहीं रोहिणी के इन बयानों से राजनीतिक हलकों में उनकी सक्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है.

यही नहीं, पिछले दिनों बक्‍सर में गंगा में मिली लाशों को लेकर बॉलीवुड एक्‍ट्रेस कंगना रानौत के उस बयान पर रोहिणी आचार्य ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी, जिसमें कंगाना ने लाशों को नाइजीरिया का बताया था. उस समय रोहिणी ने कंगना को आंख की अंधी और दिमाग के पैदल बताते हुए कहा था कि राज्यसभा सीट या सीधे मुख्‍यमंत्री बनने की खातिर मानवता का गला घोंटती यह दलाली ठीक नहीं है. वहीं, बिहार की राजनीति में पहले से सक्रिय लालू की बड़ी बेटी और मौजूदा राज्‍यसभा सांसद मीसा भारती इन दिनों सोशल मीडिया पर उतना सक्रिय नहीं दिख रही हैं.

रोहिणी ने सुशील मोदी का बताया 'ट्विटर मियां' 

रोहिणी आचार्य ने एक ट्वीट में अपने पिता लालू प्रसाद यादव के बड़े आलोचक रहे बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी पर बड़ा हमला बोला है. सुशील मोदी के इस आरोप पर कि लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी ने कोरोना वैक्‍सीन नहीं लेकर टीकाकरण के खिलाफ लोगों को उकसाया है पर रोहिणी ने पलटवार किया है. उन्‍होंने ट्वीट किया है कि पहले सरकार वैक्सीन लाकर दे तो सही. सुशील मोदी को जनता के बीच जाकर देखने की नसीहत देते हुए रोहिणी ने उन्‍हें 'ट्विटर मियां' की उपाधि से नवाज डाला है. इसके साथ उन्‍होंने सुशील मोदी को झूठ का पुलिंदा तक करार दिया है. रोहिणी आचार्य ने यह आरोप भी लगाया कि वे कमीशन की खातिर एम्बुलेंस चोरों से मिले हुए हैं. जबकि एक अन्‍य ट्वीट में रोहिणी ने सुशील मोदी पर निशाना साधते हुए लिखा है,' वैक्सीन और इंजेक्शन विदेश भेजकर कमीशन की खातिर खुलासा मियां ने अपने परिवार में टीका लगवा कर जनता को मरने के लिए छोड़ दिया है. वे जीवन रक्षक उपकरणों और वैक्सीन को विदेश भेजकर पैसा वसूली में डूबे हैं और लालू-राबड़ी का चालीसा पाठ कर अपने कुकर्मों को मिटाने में लगे रहते हैं.'
सीएम नीतीश को बताया 'कुर्सी कुमार'

यही नहीं, रोहिणी आचार्य ने कचरे के ठेले पर कोरोना मरीज की लाश का जिक्र करते हुए इसे मानवीय संवेदना को तार-तार करने वाली घटना बताया है. इसके अलावा अपने एक ट्वीट में रोहिणी ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के विकास मॉडल को मानवता को शर्मसार करने वाला बताते हुए ट्वीट किया कि बिहार में पग-पग पर महिलाओं की अस्मत लूटी जा रही है, लेकिन सरकार अंधी, गूंगी और बहरी बन गई है. दूसरे ट्वीट में उन्‍होंने मुजफ्फरपुर बालिका गृह सामूहिक दुष्‍कर्म कांड की याद दिलाते हुए लिखा है कि बालिका गृह के संरक्षक से कोई भला क्या फरियाद करें? उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को कुर्सी कुमार की संज्ञा देते हुए लिखा है कि अगर उनसे बिहार संभल नहीं रहा तो वे कुर्सी से उतर क्‍यों नहीं जाते हैं? (news18.com)

6 साल में केजरीवाल सरकार ने एक भी राशन कार्ड नहीं बनाया : बीजेपी
18-May-2021 8:46 AM (165)

नई दिल्ली, 17 मई| भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई ने केजरीवाल सरकार पर जनता को मुफ्त राशन की योजना से वंचित करने का आरोप लगाया है। दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता ने पूछा है कि दिल्ली में केजरीवाल ने सरकार ने अब तक 'वन नेशन वन राशन कार्ड' योजना क्यों नहीं लागू की?

प्रदेश अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता ने कहा कि मोदी सरकार की ओर से मिले राशन में दिल्ली की दुकानों में हो रही भारी मिलावट को संरक्षण कौन दे रहा है? पिछले 6 सालों में केजरीवाल सरकार ने एक भी नया राशन कार्ड क्यों नहीं बनवाया? अगर मोदी सरकार दिल्ली के 72 लाख कार्डधारियों को 2 महीने के लिए मुफ्त राशन दे रही है तो दिल्ली सरकार क्या कर रही है? क्या अगले 2 महीने के लिए केजरीवाल सरकार 72 लाख कार्डधारियों के लिए मुफ्त राशन उपलब्ध करायेगी?

आदेश कुमार गुप्ता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के आदेश के बावजूद दिल्ली सरकार ने प्रवासी मजदूरों को राशन और गरीब व दिहाड़ी मजदूरों को सामुदायिक राशन के माध्यम से पका हुआ भोजन क्यों नहीं दिया। सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के आदेश के बावजूद दिल्ली सरकार ने प्रवासी मजदूरों को राशन और गरीब व दिहाड़ी मजदूरों को सामुदायिक राशन के माध्यम से पका हुआ भोजन क्यों नहीं दिया?

अदालत में आपको कौन बचाएगा ग्रेट गुरु? सिद्धू का अमरिंदर पर फिर निशाना
13-May-2021 9:44 PM (141)

 

चंडीगढ़. पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. चुनावों से पहले कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह की आपसी कलह थमने का नाम नहीं ले रही है. गुरुवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह से कहा कि ''वह साथियों के कंधों पर बंदूक रखकर चलाना बंद करें.''

दरअसल, राज्य के कुछ मंत्रियों ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधने के लिये सिद्धू के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी, जिसके बाद सिद्धू ने यह बात कही. क्रिकेट की दुनिया से राजनीति में आए सिद्धू ने हाल ही में अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए उनसे 2015 की बेअदबी की घटनाओं में न्याय दिलाने की मांग की थी. पंजाब के फरीदकोट जिले में हुईं उन घटनाओं में गुरु ग्रंथ साहिब के कई फटे हुए पन्ने बिखरे पड़े मिले थे. इन घटनाओं के दो दिन बाद हुई पुलिस गोलीबारी में दो प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई थी.

कोर्ट में आपको कौन बचाएगा ग्रेट गुरु?

सिद्धू ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए पूछा, ''अदालत में आपको कौन बचाएगा ग्रेट गुरु?'' उन्होंने ट्वीट किया, ''कल और आज भी, मेरी आत्मा गुरु साहिब के लिये न्याय मांगती रही है. आने वाले कल भी इस मांग को दोहराता रहूंगा. पंजाब की अंतरात्मा की आवाज पार्टी लाइन से ऊपर है. पार्टी के साथियों के कंधों पर बंदूक रखकर चलाना बंद कीजिये. आप प्रत्यक्ष रूप से जिम्मेदार और जवाबदेह हैं. अदालत में आपको कौन बचाएगा ग्रेट गुरू?''
क्यों बढ़ा सिद्धू और अमरिंदर सिंह के बीच विवाद?

पंजाब तथा हरियाणा उच्च न्यायालय ने पिछले महीने 2015 के कोट कपूरा गोलीबारी मामले की जांच रिपोर्ट को खारिज कर दिया था, जिसके बाद से सिद्धू अमरिन्दर सिंह पर हमला बोल रहे हैं. वह 2015 में हुईं बेअदबी की घटनाओं और पुलिस गोलीबारी के मामले में न्याय में हुई कथित देरी को लेकर सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री पर बार-बार निशाना साध रहे हैं.

इससे पहले, पंजाब के मुख्यमंत्री ने सिद्धू को पूरी तरह अनुशासनहीन बताया था. पंजाब के चार मंत्रियों ने अमरिन्दर सिंह पर निरतंर हमले करने के लिये बुधवार को सिद्धू के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी. उन्होंने कहा कि सिद्धू आम आदमी पार्टी और भाजपा के इशारे पर पार्टी की राज्य इकाई पर हमले कर रहे हैं.

इन चार मंत्रियों में बलबीर सिद्धू, विजय इंदर सिंगला, भारत भूषण आशू और गुरप्रीत सिंह कंगार शामिल हैं. इनके अलावा तीन अन्य मंत्रियों ने भी कांग्रेस आलाकमान से सिद्धू के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का अनुरोध किया था. (news18.com)

बंगाल के 2 भाजपा विधायकों ने पार्टी के निर्देश पर दिया इस्तीफा
13-May-2021 8:10 AM (286)

कोलकाता, 12 मई| पश्चिम बंगाल में भाजपा के विधायकों की संख्या बुधवार को 77 से घटकर अब 75 हो गई। दो विधायकों ने पार्टी के निर्देश पर विधानसभा से इस्तीफा दे दिया। ये दोनों सांसद हैं। ये विधानसभा चुनाव जीते और विधायक बने, लेकिन इनका सांसद बने रहना पार्टी के लिए ज्यादा फायदेमंद रहेगा। कूच बिहार के सांसद निशीथ प्रमाणिक जिले के दिनहाटा से विधायक चुने गए थे। इसी तरह

राणाघाट के भाजपा सांसद जगन्नाथ सरकार नदिया जिले के शांतिपुर से जीतकर विधायक बने, लेकिन दोनों ने बुधवार को विधानसभा अध्यक्ष बिमान बनर्जी को अपना इस्तीफा सौंप दिया।

प्रमाणिक ने कहा, "हमने पार्टी के फैसले का पालन किया है। पार्टी ने फैसला किया है कि हमें अपनी विधानसभा सीटों से इस्तीफा दे देना चाहिए।"

कूच बिहार के सांसद ने राज्य में चुनाव के बाद की हिंसा के बाबत कहा, "कूच बिहार के लोगों ने तृणमूल कांग्रेस को खारिज कर दिया है, इसलिए वे (तृणमूल) हिंसा का सहारा ले रहे हैं। अब उपचुनाव होगा। भाजपा फिर जीतेगी।"

भाजपा के एक सूत्र ने कहा, "आधिकारिक घोषणा समय की बात है। पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व उत्सुक है कि दोनों सांसद बने रहें।"

भाजपा ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में चार लोकसभा सांसदों को मैदान में उतारा था। प्रमाणिक और सरकार के अलावा, पार्टी ने लॉकेट चटर्जी और बाबुल सुप्रियो को मैदान में उतारा था, जबकि राज्यसभा सदस्य स्वपन दासगुप्ता पांचवें सांसद थे। दासगुप्ता ने तारकेश्वर सीट से अपना नामांकन दाखिल करने से पहले इस्तीफा दे दिया था, मगर वह विधानसभा चुनाव हार गए। लॉकेट चटर्जी और बाबुल सुप्रियो भी हार गए।

तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा, "बीजेपी ने बंगाल चुनाव में चार लोकसभा सांसद और एक राज्यसभा सांसद को मैदान में उतारा था। उनमें से तीन चुनाव हार गए और दो जीते। इन दो विजयी विधायकों ने आज इस्तीफा भी दे दिया। दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी ने चुनाव में शून्य हासिल करने का विश्व रिकॉर्ड बनाया।" (आईएएनएस)

भारत को फिलिस्तीन मस्जिद पर इजरायली हमलों की निंदा करनी चाहिए : महाराष्ट्र कांग्रेस
13-May-2021 8:04 AM (129)

मुंबई, 13 मई | महाराष्ट्र कांग्रेस ने बुधवार को मांग की है कि केंद्र में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार को रमजान के पवित्र पवित्र महीने के अंत में यरुशलम में अल अक्सा मस्जिद पर इजरायल के हमलों की कड़ी निंदा करनी चाहिए। बड़ी संख्या में मुसलमानों की मौत हुई है और कई घायल हुए। पूर्व मंत्री और कार्यकारी अध्यक्ष नसीम खान के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की और इस आशय का एक ज्ञापन सौंपा।

खान ने कहा, "भारत सरकार को इजरायली सशस्त्र बलों द्वारा किए गए इन अत्याचारों की निंदा करनी चाहिए और एक स्पष्ट संदेश देना चाहिए कि भारत फिलीस्तीनियों के पीछे मजबूती से खड़ा है।"

प्रतिनिधिमंडल में पूर्व सांसद उबैदुल्ला के. आजमी, पूर्व विधायक यूसुफ अबरहानी, रजा अकादमी के संयोजक सईद नूरी और अन्य लोगों ने राज्यपाल को बताया कि यरुशलम में जब लोग नमाज अदा कर रहे थे तो निर्दोष बच्चों और महिलाओं पर इजराइली सैनिकों द्वारा गोलों से अंधाधुंध हमले किए गए। अल अक्सा मस्जिद - मक्का और मदीना के बाद इस्लाम में तीसरा सबसे पवित्र स्थल माना जाता है, वहां हमले किए गए।

प्रतिनिधिमंडल ने इन हमलों की तुलना

हिटलर के यहूदियों के नरसंहार के साथ

करते हुए कहा कि इससे भारतीय और वैश्विक मुस्लिम भाईचारे में भारी गुस्सा है।

(आईएएनएस)

सोनिया ने चुनावों में कांग्रेस की हार की जांच के लिए समिति बनाई
12-May-2021 9:02 AM (157)

नई दिल्ली, 11 मई| अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में पार्टी के नुकसान के कारणों की जांच के लिए एक समिति का गठन किया है। इस समिति की अध्यक्षता महाराष्ट्र के लोक निर्माण विभाग के मंत्री अशोक चव्हाण करेंगे, जबकि पूर्व मंत्री सलमान खुर्शीद, मनीष तिवारी और विंसेंट पाला इसके सदस्य हैं। दूसरे सदस्य तमिलनाडु के सांसद जोति मणि हैं। समिति दो सप्ताह में अपनी रिपोर्ट देगी।

तिवारी हैं जो उस समूह का हिस्सा थे जिसने संगठनात्मक चुनावों के लिए सोनिया गांधी को पत्र लिखा था।

इससे पहले, सोनिया गांधी ने सीडब्ल्यूसी की बैठक में कहा था, "मैं हर पहलू को देखने के लिए एक छोटा पैनल स्थापित करने का इरादा रखती हूं, जो इस तरह के उलटफेर का कारण बने और बहुत जल्दी रिपोर्ट करें। हमें स्पष्ट रूप से समझने की आवश्यकता है कि हम क्यों विफल रहे।"

उन्होंने कहा, सीडब्ल्यूसी की बैठक हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों के परिणामों पर चर्चा के लिए बुलाई गई थी। उन्होंने कहा कि पार्टी को लगे गंभीर झटकों से सबक लेने की जरूरत है।

उन्होंने आगे कहा, "ये असुविधाजनक सबक देंगे, लेकिन अगर हम वास्तविकता का सामना नहीं करते हैं, अगर हम तथ्यों को नहीं देखते हैं, तो हम सही सबक नहीं ले पाएंगे।"

बैठक के दौरान, सभी राज्य प्रभारियों ने पार्टी के पश्चिम बंगाल प्रभारी जितिन प्रसाद के साथ कहा कि पीरजादा अब्बास सिद्दीकी द्वारा गठित भारतीय धर्मनिरपेक्ष मोर्चा (आईएसएफ) के साथ गठबंधन के बारे में अपने विचार प्रस्तुत किए। उन्होंने कहा कि सिद्दीकी ने राज्य में कांग्रेस की संभावनाओं को चौपट कर दिया।

सूत्रों ने कहा कि केरल के पार्टी प्रभारी तारिक अनवर ने सीडब्ल्यूसी को बताया कि कांग्रेस अति आत्मविश्वास में आ गई, जिस कारण राज्य में उसकी हार हुई और जब तक उसे इस बात का अहसास हुआ, तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

पार्टी के असम प्रभारी जितेंद्र सिंह ने जानकारी दी कि तरुण गोगोई के बाद कांग्रेस का राज्य में कोई बड़ा चेहरा नहीं था, जबकि रायजोर दोल जैसे छोटे दलों ने भी पार्टी के वोट में हिस्सेदारी की।  (आईएएनएस)
 

सोनिया गांधी को नड्डा का पत्र अहंकार का संकेत : कांग्रेस
12-May-2021 8:29 AM (190)

नई दिल्ली, 12 मई | कांग्रेस ने मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र दिए जाने के तुरंत बाद भाजपा पर 'अहंकारी' होने का आरोप लगाया और कहा कि मुद्दे उठाकर सरकार को सुझाव देना विपक्षी दलों का कर्तव्य है। सोनिया गांधी को लिखे पत्र में नड्डा ने उनकी पार्टी पर हमला करते हुए कहा कि महामारी के खिलाफ लड़ाई में, इसके पूर्व प्रमुख राहुल गांधी सहित कांग्रेस के शीर्ष नेताओं के आचरण को 'नकल और क्षुद्रता' के लिए याद किया जाएगा।

कांग्रेस महासचिव अजय माकन ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि देश में स्थिति दयनीय है। सोमवार को बिहार के बक्सर जिले में गंगा नदी में लोगों के शव तैरते हुए देखे गए थे।

माकन ने कहा, सरकार इलाज, पर्याप्त टीके और ऑक्सीजन मुहैया कराने में तो विफल रही ही, यहां तक कि सम्मानजनक अंतिम संस्कार करने में भी असमर्थ है। उन्होंने सरकार से अहंकार छोड़ने और लोगों की मदद करने के लिए कहा।

पार्टी ने कहा कि भाजपा को 'राजधर्म' का पालन करना चाहिए। कांग्रेस केवल अपना कर्तव्य निभा रही है और सरकार को महामारी से निपटने में अपनी गलती स्वीकार करनी चाहिए और सभी के लिए मुफ्त टीकाकरण शुरू करना चाहिए। कांग्रेस ने कोविड की स्थिति पर एक सर्वदलीय बैठक की अपनी मांग भी दोहराई।

नड्डा पर हमला करते हुए, कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने एक ट्वीट में कहा, कांग्रेस को आरोपपत्र लिखने के बजाय, नड्डा को चाहिए कि देश को कोविड-19 की दूसरी लहर के नरक की आग में धकेलने के लिए भाजपा की ओर से माफीनामा लिखें।(आईएएनएस)

पलानीस्वामी तमिलनाडु विधानसभा में विपक्ष का नेता चुने गए
11-May-2021 8:31 AM (117)

चेन्नई, 10 मई| तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी राज्य के अगले विपक्ष के नेता होंगे। सोमवार को यहां पार्टी मुख्यालय में आयोजित विधायकों और वरिष्ठ नेताओं की तीन घंटे की बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री को एआईएडीएमके के विधायक दल का नेता चुना गया। वह स्वाभाविक रूप से विधानसभा में विपक्ष के नेता बन जाएंगे।

पार्टी नेताओं ने पार्टी विधायकों और पदाधिकारियों की बैठक के बाद विधानसभा सचिव के.श्रीनिवास को एआईएडीएमके विधायक दल के नेता के रूप में पलानीस्वामी के नाम का प्रस्ताव पत्र सौंपा।

यह पहली बार है, जब एआईएडीएमके विधायक दल के नेता की घोषणा पार्टी के भीतर बहुत विरोध के बाद की गई।

पार्टी को विधानसभा में अपने मुख्य सचेतक और उप नेता के नाम की घोषणा करना बाकी है।

पूर्व उपमुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष पी. धनपाल के नाम का प्रस्ताव पार्टी विधायक दल के नेता के रूप में रखा था, जिसका पलानीस्वामी के समर्थक विधायकों ने विरोध किया। बाद में पलानीस्वामी के नाम पर सहमति बनी।

नवनिर्वाचित विधायक 11 मई, मंगलवार को शपथ लेंगे और विधानसभाा अध्यक्ष 12 मई को चुने जाएंगे।

अध्यक्ष को मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता द्वारा चुना जाना है और विपक्ष के नेता का चयन 12 मई से पहले होना है। (आईएएनएस)

अमित शाह बोले, विपक्ष का कोविड पर 'राजनीति करना' निंदनीय
10-May-2021 7:33 PM (116)

नई दिल्ली, 10 मई | केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को विपक्ष पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जब केंद्र लोगों के जीवन की सुरक्षा के लिए हर संभव उपाय अपना रहा है, तब कोविड-19 संकट पर राजनीति की जा रही है। शाह ने ट्वीट किया, "केंद्र ने नागरिकों के जीवन की सुरक्षा के लिए एक बहुआयामी दृष्टिकोण अपनाया है। मोदी सरकार कोविड को नियंत्रित करने के लिए काफी प्रयास कर रही है, मगर विपक्षी नेता हमेशा की तरह राजनीति करना जारी रखे हुए हैं।"

गृहमंत्री ने एक ट्वीट में एक दैनिक में प्रकाशित केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के 'डिसइनफॉर्मेशन क्राइसिस' शीर्षक आलेख का उल्लेख करते हुए टिप्पणी की : "प्रकाश जावड़ेकर जी का लेख पढ़ें।"

आलेख में, जावड़ेकर ने लिखा है कि कैसे जनवरी की शुरुआत में देशभर में कोविड की स्थिति में काफी सुधार हुआ था और रोजाना आने वाले नए मामलों की संख्या लगातार घट रही थी।

हालांकि, उन्होंने कहा, केरल में संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े और रोजाना आने वाले नए मामलों में लगभग एक तिहाई मामलों की रिपोर्ट वहीं से आ रही थी।

6 जनवरी को, मंत्री ने आलेख में उल्लेख किया, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने केरल सरकार को लिखा था और तत्काल कदम उठाने का आग्रह किया था।

"अगले दिन, एक उच्च-स्तरीय केंद्रीय टीम राज्य में भेजी गई थी। यह पिछले साल के कई उदाहरणों में से एक था - विशेष रूप से पिछले कुछ महीनों में - जो केंद्र सरकार के कठोर निगरानी प्रयासों को उजागर करता है और भारत भर में कोविड के मामलों में तेजी से वृद्धि को रोकने के लिए त्वरित कार्रवाई की गई थी।"

जावड़ेकर ने लिखा है, "मुझे यह याद है कि इस मिथक का प्रसार किया जा रहा था कि केंद्र सरकार ने पहली लहर के बाद गेंद कोविड प्रबंधन के पाले में डाल दिया और पिछले कुछ महीनों से इसे पूरी तरह से राज्यों पर छोड़ दिया है।"

मंत्री ने कहा कि 'सच्चाई से आगे कुछ भी नहीं है', सार्वजनिक स्वास्थ्य राज्य का विषय होने के बावजूद, केंद्र सरकार कोविड प्रबंधन में सक्रिय रही है, क्योंकि एक महामारी को राष्ट्रीय स्तर के समन्वय और पर्याप्त संसाधनों की आवश्यकता होती है।

उन्होंने लिखा, "सामने से नेतृत्व करना और राज्यों को काफी सहयोग और मार्गदर्शन प्रदान करना जारी रखा गया। फरवरी 2020 से, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय मामले के रुझानों की निगरानी कर रहा है, राज्यों की तैयारियों का मूल्यांकन कर रहा है, तकनीकी विशेषज्ञता प्रदान कर रहा है और राज्य एवं जिला स्तर पर बनाई गईं प्रतिक्रिया रणनीतियों के अनुसार देखरेख कर रहा है।" (आईएएनएस)

अयोध्‍या पंचायत चुनाव: हिंदू बाहुल्य गांव में अकेले मुस्लिम ने जीता प्रधानी का चुनाव
10-May-2021 12:54 PM (327)

-केबी शुक्ला

फैजाबाद. उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों के परिणाम आ चुके हैं. इन सबके बीच यूपी के फैजाबाद जिले में गांव रजनपुर में एक ऐसे मुस्लिम प्रधान ने जीत दर्ज की है. जिस गांव की पहचान बहुसंख्यक गैर-मुस्लिम वोटर के रूप में होती है. जी हां अयोध्या के रुदौली विधानसभा क्षेत्र के मवई ब्लाक के रजनपुर गांव में हाफ़िज अजीम उद्दीन ने हिंदू बहुल क्षेत्र में प्रधान का पद जीतकर यह साबित कर दिया है रजनपुर गांव में हिंदू मुस्लिम एकता कायम है. बहुसंख्यक लोग भी अल्पसंख्याक व्यक्ति को अपना प्रतिनिधि चुन सकते हैं.

बता दें कि मवई ब्लॉक के रजनपुर गांव के हिंदू बाहुल्य क्षेत्र के लोग एक मुस्लिम व्यक्ति को अपना प्रधान चुना है. हालांकि प्रधान के चुनाव में कई हिंदू प्रत्याशी भी प्रधान का चुनाव लड़ रहे थे, लेकिन हिंदुओं ने अपना प्रतिनिधि एक मुसलमान व्यक्ति को चुना. अब इस गांव की चर्चा पूरे जनपद में हो रही है कि हिंदू बाहुल्य से गांव में अकेला मुसलमान प्रधान बन सकता है.

सीएम योगी बोले- संक्रमितों के इलाज में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं, ओवरचार्जिंग पर होगी कड़ी कार्रवाई

हाफिज अजीमुद्दीन रजनपुर में अपने परिवार के साथ अकेले रहते हैं. राजनपुर गांव में केवल यही एक परिवार मुस्लिम परिवार रहता है और हिम्मत कर हाफिज अजीमुद्दीन ने प्रधान का पर्चा दाखिल कर दिया और उन्हें उम्मीद भी नहीं थी कि हिंदू बाहुल्य से गांव में हिंदू लोग उन्हें अपना प्रतिनिधि चुनेंगे. जहां एक तरफ हिंदू मुस्लिम नफरत की चिंगारी भड़क उठती है. वहीं नफरती लोगों को रजनपुर गांव के लोगों ने मुंह तोड़ जवाब दिया है.
प्रधानों का शपथ ग्रहण टला

वहीं ग्राम प्रधानी के चुनाव के बाद ग्राम पंचायतों का गठन और ग्राम प्रधानों व क्षेत्र पंचायत सदस्यों के शपथ ग्रहण को फ़िलहाल टाल दिया गया है. साथ ही जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख के अप्रत्यक्ष चुनाव पर भी ग्रहण लग गया है. पंचायतीराज विभाग से मिल रही जानकारी के मुताबिक नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों, क्षेत्र पंचायत सदस्यों और जिला पंचायत अध्यक्ष व ब्लॉक प्रमुखों के चुनाव के लिए जो प्रस्ताव मुख्यमंत्री ऑफिस को भेजा गया था उसे लौटा दिया गया है. बताया जा रहा है कि ग्रामीण इलाकों में फैले कोरोना संक्रमण की वजह से फिलहाल सभी कार्यक्रम रोक दिए गए हैं. (news18.com)

भाजपा बंगाल में हिंदू वोटों को मजबूत करने में क्यों विफल रही
10-May-2021 8:07 AM (152)

-सैबाल गुप्ता 

कोलकाता, 10 मई| पश्चिम बंगाल विधानसभा में भाजपा हालांकि 2016 की तुलना में 2021 में तीन से बढ़कर 77 तक पहुंच गई है। 74 सीटों की पर्याप्त वृद्धि हुई है, लेकिन बहुमत के आंकड़े 121 से नीचे रही।

पिछले लोकसभा चुनावों में भाजपा की सफलता नरेंद्र मोदी-अमित शाह के बैनर तले हिंदू वोटों के अत्यधिक ध्रुवीकरण का नतीजा थी, लेकिन 2021 के विधानसभा चुनावों में, भगवा खेमा उस समय हिंदू समर्थन के स्तर को बनाए रखने में नाकाम रहा। पिछले आम चुनाव में अपनी अपेक्षाओं और अपने प्रदर्शन से बहुत नीचे।

राज्य में किए गए कुछ प्रमुख सर्वेक्षणों के अनुसार, पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा का हिंदू वोटों का हिस्सा 2016 में 12 प्रतिशत से बढ़कर 57 प्रतिशत या कुल मिलाकर लगभग तीन-पांच प्रतिशत था, लेकिन आश्चर्यजनक रूप जब भाजपा हिंदू समर्थन हासिल करने के लिए जमकर प्रचार कर रही थी, तो यह घटकर 50 प्रतिशत रह गया - 7 प्रतिशत का पर्याप्त क्षरण, जिसने इसे अपने इच्छित लक्ष्य तक पहुंचने से रोक दिया।

दिलचस्प बात यह है कि दूसरी ओर, तृणमूल कांग्रेस, जिसने 2016 के विधानसभा चुनावों में 43 प्रतिशत हिंदू वोट हासिल किए थे, लगभग 11 प्रतिशत का नुकसान हुआ और 2019 के लोकसभा चुनावों में 32 प्रतिशत पर आ गई, लेकिन आश्चर्यजनक रूप से यह 39 प्रतिशत हिंदू वोटों का समर्थन हासिल करने में कामयाब रहा, फिर भी भाजपा को हार का सामना करना पड़ा।

इस 7 प्रतिशत का विधानसभा चुनाव में गणित के पीछे महत्वपूर्ण योगदान था। हिंदू वोट के समर्थन के अलावा, तृणमूल लगभग 75 प्रतिशत मुस्लिमों के समर्थन को हासिल करने में सफल रही और इसने उन्हें चुनाव में जीत दिलाई।

भाजपा खेमा हिंदू वोट के एक हिस्से की वफादारी के पीछे संभावित कारणों का पता लगाने की कोशिश कर सकता है, लेकिन एक बात तय है कि एनआरसी और सीएए मुद्दे राज्य की निम्नवर्गीय हिंदू जातियों के बीच अच्छे से नहीं चल पाए।

हालांकि भाजपा सवर्णों की निष्ठा को बनाए रखने में सफल रही, लेकिन मतुआ, महिषी और आदिवासियों जैसी निचली जातियों ने भगवा खेमे से दूरी बना ली। (आईएएनएस)

बंगाल भाजपा के नेताओं ने कहा, केंद्रीय नेतृत्व जमीनी हकीकत भांप नहीं पाया
09-May-2021 8:26 AM (195)

नई दिल्ली, 9 मई| पश्चिम बंगाल की 294 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा तीन सीटों से बढ़कर 77 तक पहुंच गई, इसके बावजूद, पार्टी के कई नेताओं को लगता है कि केंद्रीय नेतृत्व जमीन पर जनता का मूड भांप नहीं पाया और स्थानीय नेतृत्व ने भी अनदेखी की, यही वजह है कि पार्टी सत्ता पाने से चूक गई। पश्चिम बंगाल में सरकार बनाने में पार्टी की विफलता के कारणों को सूचीबद्ध करते हुए, जिसे केरल के साथ भगवा पार्टी द्वारा अंतिम सीमा माना गया था, पश्चिम बंगाल के नेताओं ने आईएएनएस को बताया कि निर्णय लेने में राज्य नेतृत्व की बहुत कम भागीदारी थी, वहां देश के अन्य हिस्सों से, खासकर उत्तर भारत से केंद्रीय नेताओं की बहुत अधिक तैनाती और एक विश्वसनीय और प्रभावी बंगाली नेतृत्व पेश करने में विफलता।

पश्चिम बंगाल भाजपा इकाई में एक वर्ग को लगता है कि अगर केंद्रीय नेतृत्व ने स्थानीय कैडर को सुना होता तो परिणाम बेहतर हो सकता था। भाजपा के एक नेता ने दावा किया, "स्थानीय नेता लोगों के साथ अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं और उनके मुद्दों के बारे में जानते हैं, लेकिन उनकी अनदेखी करके केंद्रीय नेतृत्व पूरी तरह से डिस्कनेक्ट हो गया।"

पश्चिम बंगाल के पूर्व भाजपा प्रमुख और त्रिपुरा और मेघालय के पूर्व राज्यपाल तथागत रॉय ने टिकट वितरण और राज्य इकाई के मामलों के लिए केंद्रीय नेतृत्व की ओर से राज्य इकाई में नियुक्तियों की भूमिका की खुलेआम आलोचना की। रॉय ने राज्य प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय, सह प्रभारी अरविंद मेनन, शिव प्रकाश और राज्य इकाई के प्रमुख दिलीप घोष को हार के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए ट्वीट किया था, इन लोगों ने वैचारिक रूप से संचालित भाजपा कार्यकर्ताओं और धर्मनिरपेक्ष स्वयंसेवकों का हर संभव अपमान किया है जो 1980 के दशक से ही पार्टी के लिए लगातार काम कर रहे थे।

विधानसभा चुनावों में हारने वाले कुछ लोगों सहित पश्चिम बंगाल के अन्य भाजपा नेताओं ने कहा, पार्टी के चुनाव मामलों का प्रबंधन करने के लिए सौंपे गए सभी केंद्रीय नेता स्थानीय कैडर के फीडबैक की अनदेखी करते हुए अपने होमवर्क करने में विफल रहे और उन्होंने तानाशाह के रूप में काम किया।

पश्चिम बंगाल भाजपा के एक नेता ने दावा किया कि पार्टी के रणनीतिकारों ने एक विश्वसनीय स्थानीय चेहरा पेश करने में विफल रहे और इसे बंगाली (ममता बनर्जी) बनाम गैर बंगाली (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह) बना दिया। टीएमसी ने इसका इस्तेमाल किया और लगातार हम पर हमला किया और प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को पर्यटक बुलाया। मोदी, शाह और अन्य लोगों सहित अधिकांश स्टार प्रचारकों ने हिंदी में वोटरों को संबोधित किया। इससे ममता बनर्जी के कथन को बल मिला कि भाजपा एक बाहरी पार्टी है, जिसमें बंगाली पहचान और संस्कृति का कोई सम्मान नहीं है।

स्थानीय भाजपा इकाई का यह भी मानना है कि बतौर मुख्यमंत्री एक स्थानीय विश्वसनीय चेहरा पेश नहीं किए जाने से पार्टी राज्य के बुद्धिजीवियों और शहरी इलाकों में बंगाली भद्रलोक को आकर्षित करने में विफल रही।  (आईएएनएस)

दमोह की हार भाजपा में कई नेताओं का कम करेगी सियासी कद
08-May-2021 8:06 AM (138)

भोपाल, 7 मई| मध्य प्रदेश के दमोह विधानसभा में हुए उपचुनाव में भाजपा के उम्मीदवार राहुल लोधी को बड़ी हार का सामना करना पड़ा है। इस हार की बड़ी वजह जनता में लोधी और स्थानीय भाजपा के नेताओं के खिलाफ बड़ा असंतोष माना जा रहा है। साथ ही भितरघात ने भी बड़ी भूमिका निभाई है।

राज्य में सत्ता परिवर्तन के बाद हुए 28 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव में भाजपा ने 19 स्थानों पर जीत दर्ज की थी और कांग्रेस नौ स्थानों पर जीती थी। उसके बाद दमोह से कांग्रेस के तत्कालीन विधायक राहुल लोधी ने भी विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दिया और भाजपा में शामिल हो गए, इसके चलते उपचुनाव हुआ। दलबदल करने के कारण स्थानीय लोग राहुल लोधी से खासे नाराज थे और यह बात चुनावी नतीजों में भी सामने नजर आई।

दमोह बुंदेलखंड का वह जिला है जहां से केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल सांसद हैं। साथ ही यहां से छह बार चुनाव जीतने का रिकॉर्ड पूर्व मंत्री जयंत मलैया के नाम पर है। इतना ही नहीं भाजपा का अपना वोट बैंक भी है उसके बावजूद भाजपा के उम्मीदवार को हार का सामना करना पड़ा है।

सूत्रों की माने तो पार्टी ने दमोह क्षेत्र से हार के कारणों की रिपोर्ट भी तलब की है, साथ ही समीक्षा भी शुरू कर दी है। प्रारंभिक तौर पर पार्टी के सामने जो बातें आई हैं उनमें भितरघात के साथ नेताओं का कमजोर होता जनाधार भी है, इसलिए संभावना इस बात की जताई जा रही है कि कई नेताओं पर जहां गाज गिर सकती है, वहीं कई ताकतवर नेताओं के कद भी छोटे किए जा सकते हैं।

सूत्रों का कहना है कि भाजपा में इस बात को लेकर खासी चिंता है कि सत्ता और संगठन ने चुनाव जीतने के लिए सारा जोर लगाया और जनमानस के मन को टटोलने की हर संभव कोशिश की। उसके बाद पार्टी को हार का सामना करना पड़ा है।

इस हार के लिए दमोह जिले के तमाम कददावर नेताओं की निष्क्रियता, जातिवादी राजनीति और जनमानस में घटते उनके प्रभाव को माना जा रहा है। पार्टी भी दमोह के जरिए यह संदेश देने की कोशिश कर सकती है कि जो नेता भी जनता से दूरी बढ़ाएंगे और उनके खिलाफ असंतोष होगा ऐसों का कद कम किया जाएगा चाहे वह कितना भी ताकतवर और प्रभावशाली नेता क्यों न हो।  (आईएएनएस)

बंगाल चुनाव में भाजपा के 7 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हुई
07-May-2021 8:53 AM (146)

साईबाल गुप्ता 
कोलकाता, 6 मई|
पश्चिम बंगाल में हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में चुनाव लड़ने वाले 292 उम्मीदवारों में से सात भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवारों की जमानत जब्त हुई है।

अपमानजनक हार झेलने वाले भगवा पार्टी के सात उम्मीदवार भागावंगोला, लालगोला, रघुनाथगंज, कैनिंग ईस्ट, भांगर, हरिहरपारा और सुजापुर विधानसभा क्षेत्र से उम्मीदार थे।

निर्वाचन डिपॉजिट उम्मीदवार द्वारा अपना नामांकन जमा करते समय जमा की गई राशि होती है। चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार, राज्य विधानसभा चुनावों के लिए यह राशि 10,000 रुपये होती है। हालांकि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों के लिए यह राशि 5,000 रुपये निर्धारित है।

मुर्शिदाबाद जिले के भागावंगोला विधानसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार महबूब आलम को भारी हार का सामना करना पड़ा, क्योंकि वह अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार से 137,088 मतों के अंतर से हार गए। तृणमूल के इदरीस अली को आलम के 16,707 मतों के मुकाबले 153,795 वोट मिले, जो कुल वोटों का महज 7.2 प्रतिशत है।

इसके अलावा मालदा जिले के सुजापुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार एस. के. जियाउद्दीन को तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार मोहम्मद अब्दुल गनी के खिलाफ भारी हार का सामना करना पड़ा। गनी को जियाउद्दीन के 14,789 वोटों के मुकाबले 152,445 वोट मिले, जो कि कुल वोटों का मात्र 7.1 प्रतिशत है।

वहीं दक्षिण 24 परगना जिले के कैनिंग ईस्ट से तृणमूल उम्मीदवार सोकाट मोल्ला ने भाजपा के अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कालीपदा नस्कर को 87,059 मतों के अंतर से हराया। मोल्ला को जहां 121,562 वोट मिले, वहीं नस्कर को 34,503 वोटों से ही संतोष करना पड़ा और उन्हें कुल वोटों का महज 14.5 प्रतिशत ही मिल पाया।

इसी तरह मुर्शिदाबाद जिले के रघुनाथगंज विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी को कुल मतों के केवल 14.9 प्रतिशत मत ही हासिल हो सके। जहां बीजेपी के गोलम मुदस्सुर को 28,251 वोट मिले, वहीं तृणमूल के उम्मीदवार अक्रुज्जमन को 126,343 वोटों प्राप्त हुए।

दक्षिण 24 परगना जिले के मेटियाब्रुज विधानसभा क्षेत्र से तृणमूल के उम्मीदवार अब्दुल कहलके मोल्ला ने भाजपा के अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी रामजीत प्रसाद को 84,282 मतों के अंतर से हराया। मोल्ला को प्रसाद के 31,357 मतों के मुकाबले 102,660 वोट मिले, जो कुल वोटों का 16 प्रतिशत है।

इसी तरह, मुर्शिदाबाद जिले के लालगोला से भाजपा उम्मीदवार अपने तृणमूल प्रतिद्वंद्वी से 78,363 मतों के अंतर से हार गए और वह वोट शेयर का केवल 15.4 प्रतिशत ही पा सके।

दक्षिण 24 परगना जिले के भांगर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा उम्मीदवार सोमी हती तीसरे स्थान पर चली गईं और उन्हें आईएसएफ के जीते हुए उम्मीदवार नौशाद सिद्दीकी के 109,063 मतों के मुकाबले केवल 38,726 वोट मिले।  (आईएएनएस)

पूर्व राज्यपाल तथागत रॉय ने बंगाल में KDSA पर उठाए सवाल, कहा- तृणमूल के कचरे को BJP में दी जगह
06-May-2021 3:25 PM (181)

कोलकाता. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस के हाथ बीजेपी को मिली करारी हार के बाद से प्रदेश नेतृत्व में तकरार छिड़ गई है. पार्टी के वरिष्ठ नेता और मेघालय तथा त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल तथागत रॉय ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष, शिव प्रकाश, अरविंद मेनन और प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय सहित बीजेपी के अन्य नेतृत्व के फैसले पर सवाल उठाया है.

तथागत रॉय ने ट्वीट करते हुए कहा, 'पश्चिम बंगाल में जिस तरह से बीजेपी की हार हुई है उसे देखते हुए अगर पार्टी में बड़े बदलाव नहीं किए गए तो जो कार्यकर्ता जमीनी स्‍तर पर पार्टी को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं वो भी पार्टी का साथ छोड़ देंगे और ये पश्चिम बंगाल में पार्टी का अंत होगा.' उन्‍होंने कहा कि मैं इस हार के लिए केंद्र सरकार को दोष नहीं देता.

1.3 अरब वाले देश में केंद्रीय नेतृत्व जो भी आदेश देता है उसे राज्य में मौजूद नेता ही आगे बढ़ाते हैं लेकिन यहां ऐसा नहीं है. बंगाल में मौजूद पार्टी के नेताओं को कुछ पता ही नहीं है. अब मैं आपको राज्‍य में बीजेपी के पिछड़ने के दो कारण बता रहा हूं. पहला तृणमूल से आया हुआ कचरा जिसने बीजेपी का दामन थामा.

जो कार्यकर्ता 1980 से पार्टी के लिए लगातार काम कर रहे हैं उन्‍हें तृणमूल के हाथों उत्‍पीड़न झेलना पड़ रहा है. लेकिन केडीएसए उनके बचाव में नहीं गए, उन्हें वापस लड़ने के लिए प्रेरित भी नहीं किया. इसके बजाय वे तृणमूल से आने वाले कचरे के टिकट बांटने और 7-सितारा होटलों से आराम फरमाने की कोशिश करते रहे. अब पार्टी कार्यकर्ताओं को उत्‍पीड़न का सामना करना पड़ रहा है. वे उम्मीद कर रहे हैं कि बंगाल में तूफान शांत हो जाएगा.

तथागत रॉय ने कहा है कि 'कैलाश-दिलीप-शिव-अरविंद (केडीएसए) ने बंगाल में दिल से काम करने वाले कार्यकर्ताओं का अपमान किया है. इन चारों नेताओं ने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री का नाम कीचड़ में मिला दिया है' (news18.com)

विधानसभा चुनाव नतीजे: कांग्रेस पश्चिम बंगाल से साफ़, केरल में नाकाम और असम में बेअसर
03-May-2021 9:39 PM (140)

-दिलनवाज़ पाशा
"पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुड्डुचेरी की जनता ने अगले पाँच साल के लिए अपना जनमत दे दिया है. हम इन चुनाव परिणामों को पूरी विनम्रता और ज़िम्मेदारी से स्वीकार करते हैं."

चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश के चुनावी नतीजों में मिली बुरी हार के बाद कांग्रेस ने ये बयान जारी करके अपनी हार को एक बार फिर स्वीकार कर लिया है.

हाल के सालों में पार्टी को इस तरह का बयान कई बार जारी करना पड़ा है. बिहार में हार के बाद भी पार्टी ने नतीजों को 'विनम्रता से स्वीकार' कर लिया था.

इन विधानसभा चुनावों में सबसे अहम रहा पश्चिम बंगाल, जहाँ कांग्रेस गठबंधन का खाता तक नहीं खुल सका. कांग्रेस ने वामपंथी दलों के साथ गठबंधन किया था, जिसे महाजोट कहा जा रहा था.

बंगाल ने नहीं माना विकल्प

SANJAY DAS/BBC
माना जा रहा था कि मुशर्दिबाद और मालदा ज़िलों की सीटों पर परंपरागत रूप से कांग्रेस और कुछ दूसरे इलाक़ों में वामपंथियों को वोट मिल सकते हैं और उनका एक साथ आना उन्हें कुछ सीटें दिला सकता है, लेकिन परिणाम दिखा रहे हैं कि बंगाल की जनता ने इस महाजोट को विकल्प माना ही नहीं.

राजनीतिक विश्लेषक उर्मिलेश कहते हैं, "लेफ़्ट और कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में विशाल रैली की थी, लेकिन बावजूद इन्हें एक भी सीट नहीं मिली. लेफ़्ट और कांग्रेस दोनों ही ग़ायब हो गए. पश्चिम बंगाल के लिए कहा जा सकता है कि जो लड़ाई में थे वही नतीजों में हैं. यहाँ टीएमसी और बीजेपी के बीच आमने-सामने की लड़ाई थी. जो किसी भी कारण से बीजेपी के ख़िलाफ़ थे वो तृणमूल कांग्रेस के साथ हो गए."

कांग्रेस गठबंधन की बुरी हार को ही बीजेपी ममता बनर्जी की ऐतिहासिक जीत की वजह बता रही है. बीजेपी के सोशल मीडिया प्रमुख अमित मालवीय ने एक टिप्पणी में कहा, "कांग्रेस और लेफ़्ट के सफ़ाए ने पश्चिम बंगाल में बीजेपी को सत्ता में आने से रोक दिया है."

पिछले विधानसभा चुनावों में लेफ़्ट और कांग्रेस को पश्चिम बंगाल में कुल मिलाकर 76 सीटें मिली थीं. इस बार शून्य मिला है. पार्टी की यहाँ चुनाव लड़ने में कितनी दिलचस्पी रही ये इससे ही पता चलता है कि राहुल गांधी ने पश्चिम बंगाल में सिर्फ़ दो विधानसभा क्षेत्रों में रैलियाँ की.

विश्लेषक मानते हैं कि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के करिश्मा करने की उम्मीद भी नहीं थी. यहाँ चुनाव अभियान बेहद विभाजनकारी रहा और चुनाव दो दलों तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच ही रह गया.

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस पार्टी को सिर्फ़ 3.02 प्रतिशत वोट ही मिल सके, जबकि पिछले चुनावों में पार्टी को यहाँ 12.25 प्रतिशत वोट मिले थे.

कांग्रेस पर नज़र रखने वालीं राजनीतिक विश्लेषक अपर्णा द्विवेदी कहती हैं, "कांग्रेस पश्चिम बंगाल में कुछ कर पाएगी, ऐसी उम्मीद किसी ने नहीं की थी. ख़ुद कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता मान चुके थे कि पार्टी यहाँ लड़ाई में नहीं है. पार्टी ने एक और ग़लती गठबंधन में चुनाव लड़कर की. कांग्रेस क्षेत्रीय पार्टियों के साथ गठबंधन करके अपनी रही-सही ज़मीन भी गँवा रही है, ऐसा पहले भी देखा गया है."

असम में नहीं बनी बात


DILIP SHARMA/BBC
कांग्रेस को सबसे ज़्यादा उम्मीदें असम और केरल से थीं. असम में प्रियंका गांधी ने धुआंधार चुनाव प्रचार किया और बदरुद्दीन अजमल की पार्टी एआईयूडीएफ़ से गठबंधन भी किया था.

2016 में असम में कांग्रेस को 26 सीटें मिली थीं, इस बार पार्टी को 29 सीटें मिली हैं, लेकिन पिछले चुनावों के मुक़ाबले पार्टी का वोट शेयर कम हुआ है. 2016 विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को 31 प्रतिशत वोट मिले थे, जबकि इस बार 30 प्रतिशत वोट ही मिले हैं.

बीजेपी गठबंधन ने असम में 75 सीटें जीतीं. यह राज्य में बीजेपी का दूसरा कार्यकाल होगा, यानी बीजेपी की एंटी इन्कम्बेंसी का फ़ायदा कांग्रेस नहीं उठा पाई और बीजेपी ने 126 सीटों वाली विधानसभा में अपने साझीदारों के साथ मिलकर आसानी से बहुमत का आँकड़ा पार कर लिया.

कांग्रेस ने असम चुनावों में पूरी ताक़त झोंक दी थी, गठबंधन सहयोगियों ने भी पूरी मेहनत की थी लेकिन कांग्रेस इस बार कुछ सीटें तो बढ़ा सकी लेकिन बहुमत तक नहीं पहुँच सकी.

DILIP SHARMA/BBC
राजनीतिक विश्लेषक इसे पार्टी के लिए बड़े झटके के तौर पर देख रहे हैं. उर्मिलेश कहते हैं, "असम में कांग्रेस इससे बहुत बेहतर कर सकती थी. सीटें बढ़ने के बावजूद इसे कांग्रेस पार्टी की नाकामी और हार की तरह ही देखा जाना चाहिए."

वहीं अपर्णा द्विवेदी मानती हैं कि असम बीजेपी का मज़बूत गढ़ बन चुका है, ऐसे में कांग्रेस के लिए रास्ते वहाँ आसान नहीं थे. अपर्णा कहती हैं, "जिन-जिन राज्यों को कांग्रेस हार जाती है वहाँ उसकी वापसी मुश्किल हो जाती है. असम में भी यही हुआ है. कांग्रेस का जनाधार यहाँ ख़त्म हो गया है. शायद कांग्रेस ये समझ नहीं पा रही है कि उसकी ज़मीन खिसक गई है."

अपर्णा कहती हैं, "बीजेपी जानती थी कि वह असम में मज़बूत है इसलिए ही पार्टी ने अपना पूरा फ़ोकस पश्चिम बंगाल पर किया. कांग्रेस के पास असम में बहुत ज़्यादा अवसर नहीं थे. प्रियंका गांधी ने ज़रूर मेहनत की, लेकिन उसके भी वांछित नतीजे नहीं मिल सके."

विजयन के आगे बेदम


TWITTER@VIJAYANPINARAYI
कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी चुनौती केरल में सत्ता में वापसी करने की थी. केरल का अभी तक का इतिहास है कि हर पाँच साल बाद वहाँ परिवर्तन होता है लेकिन मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) की अगुवाई में एलडीएफ़ लगातार दूसरी बार सत्ता हासिल करने में कामयाब रहा है.

राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि केरल में कांग्रेस की हार पार्टी की राष्ट्रीय राजनीति में उम्मीदों को भी झटका है. सबसे बड़ा झटका राहुल गांधी के लिए है जो अमेठी में चुनाव हारने के बाद अब केरल के वायनाड से सांसद हैं. उन्होंने पिछले कुछ महीनों में दक्षिण भारत में, और ख़ास तौर पर केरल में, उत्तर भारत की तुलना में राजनीतिक तौर पर सक्रियता दिखाई थी.

अपर्णा कहती हैं, "अमेठी में हारने के बाद राहुल गांधी ने केरल को ही अपना गढ़ बनाया है, ऐसे में केरल में जीतना पार्टी के लिए बड़ी चुनौती थी. कांग्रेस ने चुनाव अभियान के दौरान अपनी पूरी ताक़त केरल में लगा दी थी. ये राहुल गांधी के लिए अपना सियासी रास्ता मज़बूत करने का भी अवसर था. ऐसे में कांग्रेस की यहाँ हार बेहद निराशाजनक है."

केरल में 140 सदस्यों वाली विधानसभा में लेफ़्ट गठबंधन (एलडीएफ़) को 93 सीटें मिली हैं, दरअसल एलडीएफ़ ने न सिर्फ़ अपनी सत्ता क़ायम रखी है, बल्कि 2016 के मुक़ाबले उसने दो सीटों की बढ़त हासिल की है. वहीं कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन (यूडीएफ़) को 40 सीटें मिली हैं जो पिछले चुनावों से छह कम हैं. कांग्रेस की अपनी एक सीट कम हुई है.

कोविड महामारी के बीच एलडीएफ़ ने केरल में सत्ता में वापसी की है. ये अपने-आप में एक इतिहास भी है क्योंकि केरल में जनता हर पाँच साल में सत्ताधारी पार्टी को बदल देती है.

अपर्णा द्विवेदी मानती हैं कि हाल के सालों में कांग्रेस के लिए राजनीति में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है और इसकी एक बड़ी वजह ये है कि पार्टी ने अपने खोए हुए ज़मीनी जनाधार को हासिल करने की कोई गंभीर कोशिश नहीं की है.

अपर्णा कहती हैं, "पिछले सात सालों से राजनीति कांग्रेस के हित में नहीं जा रही है. कांग्रेस जितनी जल्दी ये समझ ले उतना उसके लिए बेहतर होगा. इसका कारण ये है कि कांग्रेस ज़मीनी स्तर पर ख़त्म होती जा रही है. गठबंधन कर-करके कांग्रेस ने दूसरे दलों को अपनी ताक़त दे दी है, लेकिन दूसरों से उसे कहीं कुछ हासिल नहीं हुआ है."

तमिलनाडु और पुड्डुचेरी

जिन पाँच राज्यों में चुनाव हुए हैं, वहाँ सिर्फ़ तमिलनाडु में ही कांग्रेस सत्ताधारी गठबंधन का हिस्सा रहेगी. यहाँ कांग्रेस को 16 सीटें मिली हैं जो पिछले चुनावों के मुक़ाबले दोगुनी हैं, 2016 में आठ सीटें ही मिल पाई थीं.

वहीं केंद्र शासित प्रदेश पुड्डुचेरी में भी कांग्रेस ने सत्ता गँवा दी है. वहाँ पार्टी को सिर्फ़ आठ सीटें मिली हैं पिछले चुनावों में जीती हुई नौ सीटें पार्टी ने गँवा दी है.

यानी कांग्रेस को हर जगह हार ही हार देखने को मिली है, उसके लिए मामूली राहत की बात ये हो सकती है कि तमिलनाडु और असम में उसकी सीटों की तादाद बढ़ी है, लेकिन उसका कोई ठोस राजनीतिक लाभ उसे नहीं मिलने जा रहा है.

इन चुनावों में कांग्रेस के लिए एक राहत की बात ये भी है कि उसने मध्य प्रदेश के दमोह उप-चुनाव को जीत लिया है.

बीजेपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दमोह उप-चुनाव को अपनी नाक का मुद्दा बना लिया था. यहाँ जीत हासिल करके टूटी हुई कांग्रेस को राज्य में ज़रूर कुछ मनोबल मिलेगा. (bbc.com/hindi)

असम चुनावः बदरुद्दीन अजमल के कारण बीजेपी से पिछड़ गई कांग्रेस?
03-May-2021 9:26 PM (161)

दिलीप कुमार शर्मा
गुवाहाटी से, 3 मई :
असम विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने कांग्रेस और मौलाना बदरुद्दीन अजमल की पार्टी ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ़) के गठबंधन को पछाड़कर नया रिकॉर्ड बनाते हुए सत्ता में वापसी की है.

दरअसल बीजेपी असम में लगातार दूसरी बार सरकार बनाने वाली पहली ग़ैर कांग्रेस पार्टी है.

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में अपनी पार्टी की जीत पर एक ट्वीट कर कहा, "असम के लोगों ने एनडीए के विकास एजेंडे और राज्य में लोक समर्थक ट्रैक रिकॉर्ड वाली हमारी सरकार को फिर से आशीर्वाद दिया है. मैं असम के लोगों को इस आशीर्वाद के लिए धन्यवाद देता हूँ. मैं एनडीए के कार्यकर्ताओं की कड़ी मेहनत और लोगों की सेवा में उनके अथक प्रयासों की सराहना करता हूँ."

भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने भी असमिया भाषा में एक ट्वीट कर शांति, सुशासन और विकास की राजनीति को फिर चुनने के लिए असम की जनता का हृदय से आभार व्यक्त किया.

लेकिन क्या सही में इस बार असम का विधानसभा चुनाव विकास की राजनीति के इर्द गिर्द रहा या फिर सामने आए चुनावी नतीजे सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के कारण ज़्यादा प्रभावित हुए?

असल में इस बार के असम विधानसभा चुनाव में एनआरसी, नागरिकता संशोधन क़ानून, चाय श्रमिकों की मज़दूरी, छह जनजातियों के जनजातिकरण से लेकर बेरोज़गारी जैसे कई अहम मुद्दे थे, लेकिन इन सबसे बीजेपी के प्रदर्शन पर कोई फर्क नहीं पड़ा.

DILIP SHARMA/ BBC
हिमंत बिस्वा सरमा

क्या रहे कारण?

वैसे तो इन चुनावी नतीजों को लेकर राजनीतिक समीक्षक कई अलग-अलग कारण बता रहे हैं, लेकिन इनमें अधिकतर लोगों का यह मानना है कि कांग्रेस के लिए मौलाना बदरुद्दीन अजमल को साथ लेना बहुत महंगा साबित हुआ.

असम के वरिष्ठ पत्रकार बैकुंठ नाथ गोस्वामी की मानें, तो कांग्रेस-एआईयूडीएफ़ के गठबंधन के सहारे बीजेपी को सांप्रदायिक ध्रुवीकरण करने का अच्छा मौक़ा मिल गया.

असम में बीजेपी की इस जीत पर गोस्वामी ने बीबीसी से कहा, "इस बार के चुनाव में सीएए-एनआरसी, जनजातिकरण, चाय श्रमिकों की मज़दूरी जैसे मुद्दों को देखते हुए ऐसा लग रहा था कि बीजेपी के लिए इस बार का चुनाव बेहद कठिन होगा. लेकिन कांग्रेस के नेतृत्व में जो महागठबंधन बना, उसमें बदरुद्दीन अजमल की पार्टी को साथ लेने से बीजेपी के लिए हिंदू वोटरों को एकजुट करना आसान हो गया. "

DILIP SHARMA/BBC
"बीजेपी नेताओं ने अपनी चुनावी रैलियों में इस गठबंधन को लेकर आक्रामक रवैया अपनाया. लोगों से यह कहा गया कि अगर महागठबंधन की जीत होती है तो बदरुद्दीन अजमल राज्य के मुख्यमंत्री बन जाएँगे और असम में घुसपैठियों का बोलबाला हो जाएगा. राज्य में हर तरफ़ मस्जिदों का निर्माण किया जाएगा. लिहाज़ा चुनावी रैलियों में आए मतदाता ख़ासकर ग्रामीण मतदाता सीएए जैसे मुद्दे भूल गए."

"सामने आए चुनावी नतीजों से यह बात अच्छी तरह समझी जा सकती है कि ऊपरी असम की जिन 60-62 सीटों पर बीजेपी को नुक़सान होने का अनुमान लगाया जा रहा था, वहां पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन कर दिखाया. क्योंकि सीएए का सबसे ज़्यादा विरोध ऊपरी असम में ही हुआ था. लेकिन इसके बाद भी वहाँ लोगों ने बीजेपी को ही वोट डाला."

गोस्वामी कहते है, "इसके अलावा प्रमुख विपक्षी पार्टी के तौर पर कांग्रेस यहाँ के मतदाताओं को यह विश्वास दिलाने में नाकाम रही कि राज्य में वह बीजेपी का विकल्प है. प्रदेश कांग्रेस के नेताओं के बीच जो आपसी मतभेद थे वो जनता के सामने आ गए थे. "

"दूसरी तरफ बीजेपी सरकार की कुछ प्रमुख योजनाओं में महिला मतदाताओं को काफी फायदा दिया गया. ओरुनोदोई योजना में महिलाएँ लाभार्थी काफ़ी थी, वो वोट भी पार्टी के पक्ष में गया. इसके अलावा पिछली बार बोडोलैंड में 12 सीटें जीतने वाली बीपीएफ़ पार्टी बीजेपी से अलग होने के बाद महागठबंधन में तो शामिल हुई, लेकिन उसके खराब प्रदर्शन के कारण महागठबंधन को कोई फ़ायदा नहीं हुआ. बीपीएफ़ बोडोलैंड में आधी सीट भी नहीं ला सकी."

महिलाओं का समर्थन


DILIP SHARMA/BBC
बीजेपी सरकार ने परिवार की प्राथमिक देखभाल करने वाली महिलाओं को ओरुनोदोई योजना के तहत 830 रुपए प्रतिमाह बतौर वित्तीय सहायता देने की योजना शुरू की थी, जिसका फायदा करीब 17 लाख परिवार को पहुँचाया गया था. आँकड़े बताते है कि इस योजना का फ़ायदा मुसलमान महिलाओं को भी मिला. लिहाज़ा इस बार बड़ी संख्या में महिलाओं ने बीजेपी को वोट किया.

गोस्वामी की मानें, तो सीएए के विरोध के बाद राज्य में बने दो राजनीतिक दल असम जातीय परिषद और राइजोर दल ने भी महागठबंधन को काफ़ी नुकसान पहुँचाया. इन दो पार्टियों ने जो किया वही काम असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी कई राज्यों के चुनावों में करती रही है.

एक नई क्षेत्रीय पार्टी होने के बावजूद असम जातीय परिषद ने सत्तारूढ़ बीजेपी के बराबर 92 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए. इससे महागठबंधन के उम्मीदवारों के वोट बँट गए.

सांप्रदायिक ध्रुवीकरण

असम की राजनीति को लंबे समय कवर कर रहे वरिष्ठ पत्रकार नव कुमार ठाकुरिया बीजेपी की जीत के पीछे सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को सबसे बड़ा कारण मानते है.

वो कहते है, "कांग्रेस-एआईयूडीएफ़ के एक साथ आने से असम के निचले इलाक़े के मुसलमान वोटर एक साथ आ गए. ठीक उसी तरह ऊपरी असम में इसके ख़िलाफ़ हिंदू वोटर भी एकजुट हो गए. "

"एआईयूडीएफ़ के साथ गठबंधन कर कांग्रेस ने केवल इस चुनाव में ही नुक़सान नहीं उठाया है, बल्कि आगे भी पार्टी को नुक़सान उठाना पड़ेगा. क्योंकि कांग्रेस में अब इस बात को लेकर काफी घमासान होने वाला है और हो सकता है कि पार्टी में जो ग़ैर-मुसलमान विधायक और नेता है वो बीजेपी में चले जाएँ."

लेकिन क्षेत्रीय पार्टी असम गण परिषद (एजीपी) के इस अच्छे प्रदर्शन के पीछे क्या कारण है?

इस सवाल का जवाब देते हुए पत्रकार ठाकुरिया कहते है, "असम गण परिषद के अच्छे प्रदर्शन का कारण बीजेपी का एलायंस पार्टनर होना है. असमिया क़ौमपरस्ती और भारतीय राष्ट्रवाद दोनों साथ में है लिहाजा जो वोटर क्षेत्रीयतावादी पार्टी के लिए वोट डाल रहा है वो खुद को सुरक्षित महसूस कर रहा है. वह कांग्रेस के महागठबंधन में इसलिए नहीं गया क्योंकि उसके वोट का फायदा अजमल की पार्टी को मिलेगा."

ठाकुरिया की मानें तो सीएए विरोध से बने नए राजनीतिक दलों से कांग्रेस महागठबंधन को कोई ख़ास नुक़सान नहीं हुआ. क्योंकि असम आंदोलन के बाद जब 1985 में एजीपी ने सरकार बनाई थी उस समय भी पार्टी ने 126 सीटें नहीं जीती थी.

वो कहते हैं कि, "किसी भी पार्टी के लिए लोगों का सेंटीमेंट जरूर होता है लेकिन ऐसा नहीं है कि पूरा बहुमत किसी एक पार्टी को ही मिल जाए. सीएए का विरोध करने वाले जो वोटर थे वो भी बँट जरूर गए और उसका कुछ हिस्सा नई पार्टियों को गया होगा."

लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि 2021 के विधानसभा चुनाव राज्य की राजनीति को एक तरह से बदल दिया है. ऐसा कहा जा रहा है कि अब राज्य में प्रमुख मुक़ाबला बीजेपी और एआईयूडीएफ़ के बीच ही होगा जो पूरी तरह सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के लिए लड़ा जाएगा. (bbc.com/hindi)

कुलदीप सेंगर की बीवी का टिकट काट BJP ने पूर्व MLC की पत्नी का ऐन वक्त पर करवाया नामांकन
16-Apr-2021 8:51 AM (163)

-अनुज गुप्‍ता

उन्नाव. उत्तर प्रदेश के उन्नाव में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में नामांकन प्रक्रिया गुरुवार को समाप्त हो गई. बता दें कि यहां उन्नाव जिला पंचायत अध्यक्ष पद की सीट ‘हॉट’ बनी हुई है. दरअसल, वार्ड नंबर-22 (फतेहपुर चौरासी तृतीय) सीट से कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी और निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष संगीता सेंगर का बीजेपी ने समर्थन रद्द कर दिया था. अब इसी सीट पर पार्टी ने क्षत्रिय प्रत्याशी के तौर पर दिवंगत एमएलसी अजीत सिंह की पत्नी शकुन सिंह को प्रत्याशी घोषित किया है. शकुन सिंह ने नामांकन पर्चा दाखिल कर अपनी दावेदारी पेश कर दी है. शकुन की एंट्री से जिले की राजनीतिक सियासत गरम हो गई है.

नामांकन के दौरान प्रत्याशी के साथ काफी संख्या में समर्थक पहुंचे, जिन्हें कलेक्ट्रेट से दूर रोका गया. वहीं, नामांकन स्थलों पर भारी संख्या में फोर्स तैनात रहा. उन्नाव में तीसरे चरण में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की रणभेरी बज चुकी है. उन्नाव में 26 अप्रैल को मतदान होगा. उन्नाव में 1040 ग्राम प्रधान, 1319 क्षेत्र पंचायत और 51 जिला पंचायत सदस्य पद के साथ ही 12902 ग्राम पंचायत सदस्य पद पर नामांकन प्रक्रिया 15 अप्रैल को समाप्त हो गई.

...जब संगीता का कटा टिकट
बता दें कि 7 अप्रैल को बीजेपी समर्थित प्रत्याशी की जारी सूची में जेल में बंद पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष को वार्ड नंबर 22 फतेहपुर चौरासी तृतीय सीट से बीजेपी ने समर्थन देकर प्रत्यशी घोषित किया था. इसके बाद विपक्ष व रेप पीड़िता ने बीजेपी की छवि पर सवाल खड़े कर संगीता सेंगर के बीजेपी समर्थित प्रत्याशी पर हमला बोल दिया. राजनीतिक सरगर्मी बढ़ता देख 11 अप्रैल को बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने बयान जारी कर संगीता सेंगर का समर्थन रद्द कर दिया.
फतेहपुर चौरासी तृतीय सीट भी रिक्त हो गई. काफी उठापटक के बीच नामांकन के आखिरी दिन 15 अप्रैल की शाम करीब 4 बजे पूर्व बीजेपी एमएलसी अजीत सिंह की पत्नी शकुन सिंह पर बीजेपी ने आखिरी समय पर दांव लगाया और पार्टी समर्थित प्रत्याशी घोषित किया. शकुन सिंह ने अपने बेटे बीजेपी नेता शशांक शेखर सिंह के साथ नामांकन कराया है.

बीजेपी से चुनावी मुकाबला
पूर्व एमएलसी की पत्नी शकुन सिंह इससे पहले भगवंतनगर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुकी हैं. वहीं 2017 में अजीत सिंह के पुत्र शशांक शेखर सिंह ने सपा/बीएसपी के गठबंधन में बीएसपी प्रत्याशी के तौर पर भगवंतनगर विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में थे और बीजेपी प्रत्याशी मौजूदा यूपी विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित ने चुनाव जीता था. शशांक शेखर सिंह दूसरे नंबर पर रहे थे.

शकुन सिंह बोलीं- जनता का विश्‍वास हमारे साथ
बीजेपी समर्थित प्रत्याशी शकुन सिंह ने नामांकन कराने के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि पार्टी ने समर्थन दिया है. जनता का विश्वास हमारे साथ है, जनता चुनाव जरूर जिताएगी. स्वर्गीय एमएलसी अजीत सिंह के पुत्र शशांक शेखर सिंह ने कहा कि पार्टी ने समर्थन दिया है, इसका आभार है. अपने पिता (अजीत सिंह) के पदचिन्हों पर चल रहा हूं. जनता की मदद के लिए हर समय तत्पर हूं और तत्पर रहूंगा. (news18.com)

बंगाल चुनावी संग्राम- 5 : शिल्पांचल के चुनाव मैदान में युवा प्रत्याशियों के हौसले बुलंद
11-Apr-2021 1:09 PM (142)

जामुडिय़ा सीट से माकपा प्रत्याशी आयशी घोष को ग्रामीण महिलाओं से काफी उम्मीदें

  स्टारडम के बदौलत आसनसोल दक्षिण सीट में जमकर प्रचार कर रही तृणमूल प्रार्थी सायनी घोष  

पश्चिम बर्धमान की नौ सीटों में एक सीट बाराबनी में भाजपा ने भी खड़ा किया भाजयुमो नेता अरिजीत को  


बिकास के शर्मा
आसनसोल, 11 अप्रैल (‘छत्तीसगढ़’)।
राजनीति की दुनियां में युवाओं का क्रेज बढ़ा है। इसी वजह से पश्चिम बर्धमान जिले की नौ में से चार सीटों पर युवाओं बुलंद हौसले युवाओं में ही मिलती है यही कारण है कि अपनी बुलंद हौसले को लेकर कई युवा चेहरे चुनाव के मैदान में कूदे हैं। युवा चेहरों को चुनाव लडऩे का मौका देने में तृणमूल कांग्रेस और सीपीआईएम सबसे आगे है। सीपीआईएम ने लगभग क्षेत्रों में युवा चेहरों को ही उतारा है। दूसरे स्थान पर तृणमूल कांग्रेस है और तीसरे स्थान पर भाजपा है। केवल पश्चिम बर्दवान की नौ विधानसभा क्षेत्रों की अगर बात करें तो यहां की जामुडिय़ा और पांडवेश्वर से माकपा ने युवा चेहरे को उतारा है। तृणमूल कांग्रेस की बात करें तो इसने भी आसनसोल दक्षिण से युवा चेहरा सायनी घोष को चुनाव लडऩे का मौका दिया है। इनके अलावा इन नौ विधानसभा से कई निर्दलीय युवा चेहरे भी अपने से उम्र में बड़े धुरंधर चेहरों को मात देने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं।

जेएनयू कैंपस में हमले के बाद सुर्खियों में आयी आयशी घोष
जामुडिय़ा से सीपीआईएम की 26 वर्षीय प्रत्याशी आयशी घोष जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्र संघ की अध्यक्ष भी हैं जो पश्चिम बंगाल की ही रहने वाली हैं। छात्र संघ की राजनीति में परचम लहराने के बाद अब आयशी राजनीति के असल मैदान में अपनी किस्मत आजमाने के लिए मैदान में उतरीं हैं। वर्ष 2020 में जब जेएनयू में हमलावर घुसे थे तो उस समय आयशी घोष की फोटो खूब वायरल हुई थी और उन्हें चोट भी आयी थी। उस समय अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने आकर आयशी का समर्थन किया था। तब से आयशी सुर्खियों में आयीं। जामुडिय़ा सीट से वर्ष 2016 में सीपीआईएम के ही जहांआरा खान जीते थे। इस बार आयशी तृणमूल कांग्रेस के 67 वर्षीय हरेराम सिंह को मुकाबला देने के लिए मैदान में उतरीं हैं।

सायनी घोष (आसनसोल दक्षिण क्षेत्र में बच्चों से मिलतीं तृणमूल प्रार्थी सह अभिनेत्री सायनी घोष)

टॉलीवूड अभिनेत्री सायनी सोशल मीडिया पर वायरल
परदे की दुनियां से सीधे राजनीति में कदम रखने वाली 28 वर्षीय सायनी घोष को तृणमूल कांग्रेस ने आसनसोल दक्षिण से प्रत्याशी बनाकर मैदान में उतारा है। हीरेंद्र लीला पत्रानविश स्कूल जादवपुर से 10+2 पास सायनी ने कम समय में ही परदे की दुनियां में खूब सुर्खियां बटोरी। जीटीवी पर आने वाले एपिसोड दीदी नंबर वन से सायनी घोष सुर्खियों में आयीं। इसके बाद उनकी सुर्खियों को देखते हुए तृणमूल कांग्रेस ने आसनसोल दक्षिण से इन्हें प्रत्याशी बनाया है। अपने चुनावी इलाके में सायनी बुलंद हौसेले के साथ पसीना भी बहा रहीं हैं। यहां भाजपा की प्रत्याशी प्रख्यात फैशन डिजाइनर 48 वर्षीय अग्निमित्रा पाल को चुनावी मैदान में पस्त करने के लिए पूरा दमखम लगा रहीं है। हालांकि यह सीट पहले तृणमूल के ही तापस राय जीता करते थे। लेकिन इस बार तृणमूल कांग्रेस ने तापस राय का सीट चेंज कर दिया है उन्हें रानीगंज भेज दिया गया है।

अपने से 22 वर्ष बड़े को देंगे टक्कर अरिजीत
भाजपा ने बाराबनी में भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के युवा चेहरे 29 वर्षीय अरिजीत राय को चुनाव मैदान में उतारा है। अपने काम व पार्टी में अच्छी पकड़ रखने के बदौलत अरिजीत राय को दोबारा युवा मोर्चा का जिला ध्यक्ष बनाया गया था। इस बार भाजपा ने अरिजीत को युवा मोर्चा से सीधे चुनाव के मैदान में भेज दिया है। अरिजीत ने कला संकाय में नेताजी सुभाष ओपन विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल की है। यहां से तृणमूल के विधायक रहे 51 वर्षीय विधान उपाध्याय को टक्कर देने के लिए मैदान में उतरे हैं।

कई युवा निर्दलीय ने भी धुरंधरों को टक्कर देने को तैयार
पश्चिम बर्दवान की नौ सीटों पर कई युवा चेहरों ने निर्दलीय व अन्य पार्टी के प्रत्याशी के रूप में नामांकन भी किया है। इनमें आसनसोल उत्तर से एआईएमआईएम के 26 वर्षीय दानिश अजीज, दुर्गापुर पूर्व से निर्दलीय नयन मंडल, आसनसोल दक्षिण से निर्दलीय के रूप में 28 वर्षीय शिउली रुईदास, कुल्टी विधानसभा से बसपा के प्रत्याशी के रूप में 28 वर्षीय बापी रविदास, रानीगंज से निर्दलीय के रूप में 28 वर्षीय अभिजीत बाउरी, पूर्वाचल महापंचायत के प्रत्याशी के रूप में 29 वर्षीय नीरज रजक भी युवा चेहरा बन कर चुनावी मैदान में धुरंधरों से लड़ाई लडऩे के लिए नामांकन किया है।
(मूलत: पश्चिम बंगाल के निवासी लेखक युवा पत्रकार हैं और आईसीएफजे, यूएसए, के फेलो रहे हैं)

बंगाल चुनावी संग्राम- चार : कुल्टी में स्थानीय मुद्दों को भूल, हाई कमान के नाम पर चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी
05-Apr-2021 9:00 PM (419)

तृणमूल कांग्रेस मुख्यमंत्री ममता, भाजपा प्रधानमंत्री मोदी के नाम पर मांग रही वोट
प्रार्थी सह विधायक की सरल छवि को भुनाने में जुटी तृणमूल, कांग्रेस कर रही तीसरे विकल्प का दावा 
पिछली बार की तरह इस बार भी तृणमूल के उज्जवल चटर्जी और भाजपा के डॉ अजय कुमार पोद्दार में सीधा मुकाबला

बिकास के शर्मा

आसनसोल, 5 अप्रैल (‘छत्तीसगढ़’) । पश्चिम बर्धमान जिले की अहम सीट कुल्टी विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी डॉ अजय कुमार पोद्दार जहाँ एक ओर कुल्टी क्षेत्र में प्रचार के दौरान लोगों को विधायक उज्जवल चटर्जी को एक निष्क्रिय जनप्रतिनिधि के रूप में बताकर अपने पक्ष में मतदान करने की अपील कर रहे हैं, तो वहीँ तृणमूल प्रार्थी श्री चटर्जी पिछले 10 दिनों में इलाके में घूमते हुए पार्टी सुप्रीमो और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को तीसरी बार जिताने के लिए वोट मांगते नजर आ रहे हैं। कुल्टी में चाहे सत्ताशीन तृणमूल हो अथवा मुख्य विपक्षी होने को दावा ठोकने वाली भाजपा, दोनों ही दलों ने स्थानीय मुद्दों को भूलकर अपने-अपने दलों के शीर्ष नेताओं के नाम पर चुनाव प्रचार अभियान शुरू किया। झारखंड के धनबाद जिले की सीमा लगा कुल्टी इलाका मूल रूप से एक समय एशिया के प्रसिद्ध ईस्को कारखाना और कोलियरियों के लिए पूरे पश्चिम बंगाल में जाना जाता था। साथ ही वहां के बराकर नगर की गल्ला मंडी की भी तीन दशक पूर्व एक विशेष ख्याति थी, जो नियामतपुर के विकसित होने एवं कल्याणेश्वरी रोड स्थित रेल ब्रिज पर बड़े वाहनों की आवाजाही बंद कर दिए जाने से प्रभावित हुई है। चुनाव को लेकर फ़िलहाल कुल्टी क्षेत्र के मतदाताओं में शांति है। कुछ लोग बदलाव की बात पर मौन स्वीकृति देते हुए आपको लोग मिल जायेंगे, तो स्थानीय विधायक के समर्थकों की एक लंबी फेहरिस्त भी तृणमूल कांग्रेस के लिए चुनाव में कारगर साबित हो सकती है। भाजपा प्रत्याशी डॉ पोद्दार ने कहा- 'तीन बार से उज्जवल चटर्जी विधायक हैं और पंद्रह वर्ष तक कुल्टी नगरपालिका के अध्यक्ष भी रहे किंतु क्या इलाके में कोई नए उद्योगों या रोजगारों का सृजन करने में उन्होंने कोई प्रयास भी किये हैं? कुल्टी में बदलाव निश्चित होगा और भाजपा को एक लाख मत प्राप्त होंगे।'

इस सीट पर तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधी टक्कर है, हालांकि गठबंधन समर्थित कांग्रेस प्रत्याशी भी अपने जीत को लेकर दावा करते नजर आ रहे हैं। कांग्रेस प्रार्थी चंडी चटर्जी ने कहा कि साल 2016 में गठबंधन उम्मीदवार ने 43 हजार वोट लाये थे, जिसका सीधा अर्थ है कि हमें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।  श्री चटर्जी की मानें तो जनता तृणमूल कांग्रेस और भाजपा से तंग आ चुकी है क्यों कि दोनों ही दलों ने लोगों के अंदर आपसी भेदभाव को पैदा किया है और सांप्रदायिक राजनीति को आधार बनाकर चुनाव की वैतरणी पार लगाना चाहते हैं, ऐसे में संयुक्त मोर्चा एक ठोस विकल्प जनता के सामने है।
  
कुल्टी सीट तृणमूल कांग्रेस के लिए इस लिए भी अहम मानी जा रही है कि वर्ष 2006 में वाममोर्चा को मिले भारी बहुमत के दौरान भी तत्कालीन फॉरवर्ड ब्लॉक विधायक मानिकलाल आचार्या को टीएमसी प्रत्याशी सह निवर्तमान विधायक श्री चटर्जी ने 17 हजार मतों से पराजित किया था। उसके बाद से आज तक टीएमसी ही लगातर तीन बार चुनाव जीत चुकी है। कुल्टी सीट पर आगामी 26 अप्रैल को मतदान होगा और किसी भी दल के प्रत्याशी ने अभी तक नामांकन पर्चा नहीं भरा है।  

जनसंपर्क अभियान के दौरान अपने समर्थकों संग भाजपा प्रार्थी 

लोकसभा चुनावों की बढ़त से भाजपा के हौसले बुलंद
विधानसभा क्षेत्र वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने आसनसोल सीट से गायक बाबुल सुप्रियो को टिकट दिया था।  उस वक्त कुल्टी विधानसभा इलाका उनके लिए काफी माकूल रहा और उन्होंने 42 हजार मतों से बढ़त हासिल की थी। एक तृणमूल नेता ने नाम छिपाने की शर्त पर बताया कि तब तृणमूल विधायक श्री चटर्जी के लिए पार्टी आलाकमान को जवाब देना मुश्किल हो गया था कि आखिर क्यों भाजपा को वहां से बढ़त मिली। श्री चटर्जी ने पार्टी के कुछ पार्षदों पर अपना रोष भी व्यक्त किया था। वर्ष 2019 में मोदी लहर लोगों के और सर चढ़कर बोला और कुल्टी से भाजपा ने 72 हजार मतों से विधानसभा इलाके से बढ़त हासिल की थी। इसके बाद कुल्टी में तृणमूल कांग्रेस ने ब्लॉक अध्यक्ष महेश्वर मुखर्जी को पद से हटाकर पूर्व नपाध्यक्ष विमान आचार्या को आसीन किया था। भाजपा संयोजक राजेश सिन्हा ने बताया कि उनकी पार्टी इलाके में केंद्र की मोदी सरकार की योजनाओं का लाभ जनता को भाजपा के कार्यकर्ताओं ने घर-घर पहुंचाया। जिसकी बदौलत आज संगठन काफी मजबूत दिखाई दे रहा है। श्री सिंहा ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले इस बार पार्टी की स्थिति ज्यादा मजबूत है और सदस्यता भी तीन गुना बढ़ी है।
 
हिंदी भाषियों को आकर्षित कर रहे सभी दल
इस बार के चुनाव में भाजपा ज्यादा सक्रियता के साथ प्रचार करती हुई दिखाई दे रही है, तो वहीं तृणमूल नेताओं की मानें तो उन्हें जीत को लेकर कोई शंका नहीं है। राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो भाजपा द्वारा हिंदी भाषी प्रत्याशी दिए जाने के कारण तृणमूल के लिए बंगाली वोटर्स के बीच में कम और हिंदी भाषी मतदाताओं के बीच ज्यादा काम किया जा रहा है। साथ ही तृणमूल ने हिंदी भाषी संग दीदी कार्यक्रम के तहत पिछले डेढ़ माह में कुल्टी क्षेत्र में आधा दर्जन कार्यक्रमों के माध्यम से एक दशक में राज्य सरकार द्वारा हिंदी भाषियों के लिए किये गए की कार्यों को जनता से साझा किया है। भाजपा नेता विभाष सिंह ने बताया कि चुनाव के पूर्व और भाजपा के बढ़ते जनाधार से परेशान होकर तृणमूल कांग्रेस को हिंदी भाषियों की याद आई है। लेकिन तृणमूल कांग्रेस हिंदी प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष मनोज यादव ने कहा कि भाजपा अपनी बहिरागत सोच से कभी उबर नहीं पायेगी। उनकी मानें तो कुल्टी ही नहीं अपितु पूरे राज्य में डेढ़ सौ वर्षों से भी अधिक समय से हिंदी भाषी रह रहे हैं। उनके हितों की रक्षा किसी पूर्वर्ती सरकार नहीं बल्कि केवल तृणमूल कांग्रेस ने ही की है। श्री यादव ने कहा कि भाजपा यहाँ के हिंदी भाषियों को बाहरी मानती है, जबकि तृणमूल भाजपा की सोच को बहिरागत मानती है। उन्होंने दावा किया कि कुल्टी के हिंदी भाषी मतदाता तृणमूल प्रार्थी के साथ पिछले चुनाव में भी थे और इस बार भी हैं।

सभी प्रत्याशियों का डोर-टू-डोर प्रारंभ
चुनाव की तिथि के नजदीक आते ही सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपनी-अपनी रणनीति के तहत तैयारियां शुरू कर दी हैं। भाजपा प्रार्थी ने अपने प्रचार की शुरुआत कल्याणेश्वरी मंदिर में पूजा कर की थी तो तृणमूल प्रत्याशी श्री चटर्जी भी बिना किसी तामझाम के अपने समर्थकों संग क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान चला रहे हैं। दीवार लेखन और सोशल मीडिया पर प्रचार एक साथ ही दोनों प्रत्याशियों द्वारा किया जा रहा है। कांग्रेस प्रार्थी को वाममोर्चा का समर्थन होने की वजह से कुछ स्थानों पर उनका भी दीवार लेखन दिखाई दे रहा है। लेकिन उनके जनसंपर्क अभियान में अभी थोड़ी शिथिलता है। भाजपा प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए परिवर्तन और अबकी बार 2 सौ पार के नारों के माध्यम से जनता को लुभा रही है तो स्थानीय तृणमूल कांग्रेस कर्मी सीएम एवं निवर्तमान विधायक की साफ़ छवि को हथियार बनाकर प्रचार में जुटी है।

2016 में 19488 से हुई थी तृणमूल की जीत
पिछले विधानसभा चुनाव में निवर्तमान विधायक श्री चटर्जी ने चुनाव जीता था। उन्होंने भाजपा प्रत्याशी डॉ पोद्दार को 19,488 वोटों से हराया था। तृणमूल कांग्रेस को जहाँ 68,952 मत प्राप्त हुए थे वहीँ भाजपा को 49,464 वोट मिले थे। गठबंधन की ओर से कांग्रेस ने अभिजीत आचार्या (बाप्पा) को टिकट दिया था और वे 42,895 वोट लाकर तीसरी स्थान पर रहे थे। वर्तमान में श्री आचार्या भाजपा के सदस्य हैं, जिनकी बदौलत भाजपा प्रार्थी कुल्टी के दक्षिण-पश्चिम इलाके में खुद को मजबूत करने में जुटे हुए हैं। हालांकि श्री आचार्या बहुत खुलकर पार्टी के लिए प्रचार करते हुए पूरे कुल्टी इलाके में नजर नहीं आ रहे हैं।
(मूलतः पश्चिम बंगाल के निवासी लेखन युवा पत्रकार हैं और आईसीएफजे, यूएसए, के फेलो रहे हैं)

बंगाल चुनाव के पहले 2 चरणों में 60 में से 50 से अधिक सीटें जीतेगी भाजपा : शाह
02-Apr-2021 9:51 PM (342)

नई दिल्ली, 2 अप्रैल | केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के पहले दो चरणों में 60 सीटों में से 50 से अधिक सीटों पर जीत दर्ज करेगी। राज्य में पहले चरण में 27 मार्च को 30 सीटों पर और दूसरे चरण में एक अप्रैल को 30 सीटों पर चुनाव हुआ था।

पश्चिम बंगाल में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए, शाह ने कहा, "बंगाल चुनाव के पहले दो चरण में भाजपा 60 में से 50 से अधिक सीटें जीत रही है और दीदी (मुख्यमंत्री ममता बनर्जी) खुद नंदीग्राम से हार रही हैं।"

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि गुरुवार की समीक्षा बैठक के बाद पार्टी को नंदीग्राम जीतने का भरोसा है। उन्होंने कहा, "भारी प्रतिक्रिया मिली है और नंदीग्राम से प्राप्त रिपोर्ट्स से पता चलता है कि अधिकारी (सुवेंदु) आराम से जीत रहे हैं।"

ममता बनर्जी का सामना नंदीग्राम से भाजपा के सुवेंदु अधिकारी के साथ हुआ था, जो कि विधानसभा चुनाव से पहले ही तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भगवा पार्टी में शामिल हुए हैं। 

गुरुवार को मतदान समाप्त होने से पहले, भाजपा ने दावा किया कि अधिकारी चुनाव जीत रहे हैं। अधिकारी ने गुरुवार को वोट डालने के बाद कहा था, "नंदीग्राम के हर व्यक्ति के साथ मेरे व्यक्तिगत संबंध हैं। मुझे चुनाव जीतने का पूरा विश्वास है।" (आईएएनएस)

बंगाल में 175 या इससे अधिक सीटें जीतेगी भाजपा : बिप्लब देब
02-Apr-2021 9:37 PM (393)

अगरतला, 2 अप्रैल| भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को हराकर जीत हासिल करेगी और इसके साथ ही असम में सत्ता बरकरार रखेगी। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने शुक्रवार को यह बात कही। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी 294 सदस्यीय पश्चिम बंगाल विधानसभा में 175 या अधिक सीटों पर जीत दर्ज करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा, "असम में कांग्रेस या किसी अन्य विपक्षी पार्टी का कोई अस्तित्व नहीं है। भाजपा असम में पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता बनाए रखेगी। चुनाव के बाद असम में विपक्षी सदस्य मुक्त विधानसभा होगी।"

त्रिपुरा में सीपीआई-एम और कांग्रेस का कोई अस्तित्व नहीं होने का दावा करते हुए देब ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास मिशन के प्रभाव से हर कोई भाजपा में शामिल हो रहा है। (आईएएनएस)

असम ईवीएम विवाद : पीठासीन अधिकारी निलंबित, दोबारा चुनाव के आदेश
02-Apr-2021 6:47 PM (511)

गुवाहाटी, 2 अप्रैल | चुनाव आयोग ने गुरुवार शाम को भाजपा उम्मीदवार की पत्नी के वाहन में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पाए जाने के बाद दक्षिणी असम के एक मतदान केंद्र पर दोबारा चुनाव कराने का आदेश दिया है। चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा कि पीठासीन अधिकारी और तीन अन्य अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही रतबारी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत इंदिरा एम.वी. मतदान केंद्र पर दोबारा मतदान करवाने के आदेश दिए हैं।

बयान में कहा गया है, "हालांकि ईवीएम की सील बरकरार पाई गई थी, लेकिन फिर भी एहतियात के तौर पर इंदिरा एम.वी. मतदान केंद्र में दोबारा मतदान कराने का निर्णय लिया गया है।

आयोग ने घटना के बारे में विशेष पर्यवेक्षक से रिपोर्ट भी मांगी है।

बयान में कहा गया है कि करीमगंज ईवीएम मशीन ले जा रहे अधिकारियों की कार खराब हो गई, जिसके बाद वे पास से गुजर रहे एक निजी वाहन में बैठ गए, जहां 50 से अधिक लोगों ने पथराव शुरू कर दिया।

कनैसिल (करीमगंज जिले के अंतर्गत) में भीड़ ने आरोप लगाया कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की जा रही थी। निजी कार पड़ोसी पथरकंडी निर्वाचन क्षेत्र के भाजपा उम्मीदवार कृष्णेंदु पॉल की पत्नी की थी।

बयान में कहा गया है कि गुरुवार की रात हुई भारी बारिश और सड़कों पर कीचड़ होने के कारण मतदान कर्मियों की आधिकारिक कार खराब हो गई और फिर वे अपने निजी ईवीएम और अन्य सामग्रियों के साथ वाहन के स्वामित्व की जांच किए बिना एक निजी वाहन पर सवार हो गए।

घटना की जानकारी मिलने के तुरंत बाद, जिला पुलिस अधीक्षक (एसपी) के साथ करीमगंज के जिला चुनाव अधिकारी घटनास्थल पर रात 10.20 बजे वहां पहुंचे। गुरुवार की रात को पथराव के दौरान, करीमगंज के एसपी मयंक कुमार को मामूली चोट लग गई और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए हवा में गोली चलाने का सहारा लेना पड़ा। (आईएएनएस)

गुटबाजी से केरल में कांग्रेस को हो सकता है नुकसान
26-Mar-2021 2:32 PM (308)

सैय्यद मोजिज इमाम जैदी 

नई दिल्ली, 26 मार्च | विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस में गुटबाजी बढ़ गई है और सूत्रों का कहना है कि कई नेताओं के पार्टी से बाहर होने के बाद केरल में कांग्रेस टुकड़ों में बंटी नजर आ रही है।

राज्य में पार्टी पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी और विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला के बीच बंटी हुई है, लेकिन अब एक और गुट उभरकर सामने आ रहा है जिसका नेतृत्व राहुल गांधी के करीबी और पार्टी के महासचिव के.सी. वेणुगोपाल कर रहे हैं।

पार्टी के हाई प्रोफाइल नेता पी.सी. चाको और कई अन्य नेताओं के जाने के बाद गुटबाजी साफ नजर आ रही है। हालांकि, सोनिया गांधी के समय पर हस्तक्षेप करने के कारण पूर्व केंद्रीय मंत्री के.वी. थॉमस पार्टी में रुक गए गए। सूत्रों का कहना है कि मामला अभी भी खत्म नहीं हुआ है और यदि पार्टी चुनाव हारती है तो इसकी वजह गुटबाजी ही होगी।

सूत्रों का कहना है कि वेणुगोपाल के बढ़ते दबदबे से पार्टी के नेता खफा हैं, क्योंकि उन्होंने पर्यवेक्षकों और स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्यों के जरिए उम्मीदवारों के नाम आगे बढ़ाने की कोशिश की। लिहाजा बाद में सोनिया गांधी ने हस्तक्षेप करके मामले को सुलझाया।

सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस महासचिव तारिक अनवर इस तनाव को दूर करने और विधानसभा चुनाव में पार्टी को एलडीएफ के खिलाफ एकजुट रखने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं। राहुल गांधी खुद भी खासतौर पर इस राज्य पर ध्यान दे रहे हैं। अगले हफ्ते वे 2 दिन तक यहां प्रचार भी करेंगे और राज्य के नेताओं से मिलेंगे। जाहिर है कांग्रेस राज्य में वापसी करने के लिए पूरी ताकत लगा रही है और पार्टी इसके लिए मजबूत चेहरा सामने रख रही है। चूंकि राहुल गांधी वायनाड से सांसद भी हैं इसलिए भी इन चुनावों में कांग्रेस की प्रतिष्ठा दांव पर है।

वैसे पूर्व मुख्यमंत्री ए.के. एंटनी के समर्थक उन्हें मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर आगे ला रहे हैं, लेकिन उन्होंने यह स्पष्ट कर दिया है कि वह इस दौड़ में नहीं हैं। उन्होंने साफ कह दिया है, "राज्यसभा में मेरा कार्यकाल अगले साल पूरा हो रहा है और उसके बाद मैं तिरुवनंतपुरम लौटने की योजना बना रहा हूं। मैंने साफ कर दिया है कि मेरा राज्य की राजनीति में कोई रोल नहीं है और 2004 में भी मैं यह कह चुका हूं।" हालांकि उन्होंने कहा कि वह राज्य में पार्टी के लिए प्रचार कर रहे हैं और उनके बेटे अनिल के. एंटनी राज्य कांग्रेस के सोशल मीडिया हेड हैं।  (आईएएनएस)
 

गाल में बोले अमित शाह, 'खेला होबे से हम डर जाएंगे क्या दीदी'?
25-Mar-2021 7:24 PM (143)

कोलकाता, 25 मार्च| गृहमंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल के झारग्राम में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि झारग्राम हरे भरे जंगल और लाल मिट्टी की भूमि है। आदिवासी भाइयों ने वर्षों से इस भूमि की संस्कृति संजो कर रखा है। मां, माटी मानुष का नारा देकर दीदी सत्ता में तो आई, लेकिन आपके लिए कुछ नहीं किया। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, "मैं आपके क्षेत्र की कठिनाइयों को जानता हूं, लेकिन कुछ कठिनाई ऐसी हैं जो पूरे बंगाल की है। दीदी जहां जहां घूमती हैं वहां लोगों और निर्दोष आदिवासियों को डराती हैं- खेला होबे, खेला होबे। अरे दीदी आप हमें क्या डराती हो, खेला होबे से हम डर जाएंगे क्या। दीदी आपको मालूम नहीं है, बंगाल का छोटा बच्चा भी फुटबॉल खेलता है, आपके 'खेला होबे' से कोई नहीं डरता।"

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, "पश्चिम बंगाल में आदिवासियों को प्रमाण पत्र चाहिए होता है तो पटवारी को कट मनी देना होता है, हमने तय किया है कि आदिवासियों के लिए ऑनलाइन प्रमाण पत्र की व्यवस्था करके 'कट मनी' को खत्म करेंगे। बंगाल के लिए गरीबों के हक का चावल व गेहूं जो नरेन्द्र मोदी जी भेजते हैं, वो टीएमसी के गुंडे खा जाते हैं। भाजपा सरकार बनने के बाद हम ऐसी व्यवस्था करेंगे कि आपके हक का राशन आपको ही मिले।"  (आईएएनएस)