रायपुर

सक्षम योजना ने दिया सहारा, परिवार का हो रहा अब आसानी से गुजारा
30-Nov-2020 4:39 PM 31
सक्षम योजना ने दिया सहारा, परिवार  का हो रहा अब आसानी से गुजारा

सफलता की कहानी

रायपुर, 30 नवंबर। जीवन मे सुख-दु:ख लगा रहता है। यही जीवन की सच्चाई भी है। जब केवल दु:ख का स्थायी बसेरा जीवन मे हो जाय, तो यह और ज्यादा कष्टदायक हो जाता है। ऐसे समय मे उम्मीद की किरण एक मात्र सहारा होती है।विवाह के कुछ साल बाद ही पति की मृत्यु से परिवार पर दु:ख का पहाड़ टूट पड़ा।परिवार चलाना मुश्किल हो गया।समय बीतता गया और आर्थिक उपार्जन का कोई स्त्रोत नही होने पर घर की स्थिति खराब होती गयी। कभी काम मिल जाय तो उस दिन का गुजारा हो जाता था,परंतु जिस दिन मजदूरी नही मिली उस दिन को काटना बड़ा मुश्किल हो जाता था। 

 यह बाते बताते हुए शुक्रवारी बाजार गुढिय़ारी में रहने वाली श्रीमती अंबिका साहू की आंखे  नम हो जाती है। असमय पति की मृत्यु ने अम्बिका के जीवन को अंधकारमय कर दिया। ऐसे समय मे मदद की बहुत जरूरत थी। आंगनबाड़ी केंद्र शुक्रवारी बाजार गुढिय़ारी में मेरे बच्चे जाते थे। एक दिन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सुश्री जया सिन्हा एवं पर्यवेक्षक ने मुझे महिला एवं बाल विकास विभाग में संचालित सक्षम योजना की जानकारी दी। मैंने इस योजना के तहत ऋ ण हेतु आवेदन किया।

ऋ ण राशि मिलने के बाद मैंने  एक ठेला खरीदा और मोहल्ले में घूमकर सब्जी बेचना शुरू किया। इसके साथ ही साथ में अपने घर पर भी आलू प्याज और हरी सब्जी बेचना शुरू किया। सब्जी के व्यवसाय से आमदनी होना शुरू हुआ। अब पहले की अपेक्षा घर चलाना आसान हो गया। मेरा जीवनयापन अभी अच्छे से चल रहा है यह सब मुझे सक्षम योजना से प्राप्त ऋण राशि से ही संभव हो सका है। अभी मेरे पास दो ठेले हो चुके हैं एक में आलू,प्याज, अदरक, लहसुन और एक ठेले में हरी हरी साग-सब्जी एवं पापड़ अचार भी रखती हूं। 

सक्षम योजना से मेरी जैसी अनेक विधवा महिलाओं को अच्छा मौका मिला है। शासन की यह बहुत अच्छी पहल है जिससे कि हम स्वयं का व्यवसाय कर अपना जीवन यापन कर सके। इसके लिए मैं सरकार तथा महिला एवं बाल विकास विभाग  को बहुत-बहुत धन्यवाद देती हुँ जिन्होंने मुझे इस विकट परिस्थिति से बाहर निकालने में मदद की।

अन्य पोस्ट

Comments