बस्तर

कोरोना की मार, फूलों की मांग घटी, किसानों-कारोबारियों में निराशा
22-Oct-2020 10:08 PM 27
 कोरोना की मार, फूलों की मांग घटी, किसानों-कारोबारियों में निराशा

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 22 अक्टूबर। इस वर्ष नवरात्रि व दशहरा महापर्व में फूलों की मांग घटने से फूलों की खेती करने वाले किसान और व्यवसाय से जुड़े लोगों में निराशा है। शासन-प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए मंदिरों में फूल और प्रसाद चढ़ाने पर प्रतिबंध लगाया गया है, इससे भी नवरात्रि व दशहरा के इंतजार में बैठे व्यवसाइयों की आर्थिक स्थिति भी गड़बड़ा गयी है।

कोरोना महामारी के चलते सभी व्यवसाय प्रभावित हुए हैं। इसी क्रम में फूलों की खेती करने वाले किसान और व्यवसाय करने वाले व्यवसायियों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। प्रतिवर्ष दशहरा एवं नवरात्रि के समय फूलों की मांग काफी संख्या में होती है, लेकिन इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते फूलों की मांग बहुत कम हो गई है।

शासन प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए मंदिरों में फूल व प्रसाद चढ़ाने की अनुमति नहीं किए जाने से इस व्यवसाय से जुड़े लोग दुखी हैं। फूल व नारियल का व्यवसाय करने वाली महिला ने बताया कि इस वर्ष लॉकडाउन के चलते पिछले नवरात्रि में भी व्यवसाय नहीं हुआ था और इस नवरात्रि में भी सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंध के चलते फूल और प्रसाद का विक्रय नहीं हो पा रहा है। इसके चलते हमारा जीवन यापन करना भी मुश्किल हो गया है। यही कारण है कि इस वर्ष कुछ किसानों ने भी परिस्थिति को भांपते हुए फूलों की खेती नहीं की है, केवल खेतों की मेड़ पर ही कुछ फूल के पौधे लगाए थे लेकिन उनसे उत्पादन होने वाले फूल को बेचने के लिए भी परेशानी हो रही है।

 फूलों की खेती करने वाले किसान कामेश्वर प्रसाद पानीग्राही ने अपनी परेशानियों को बताते हुए कहा कि  पिछले वर्ष में लगभग 25-30 हजार रुपये के फूल  का विक्रय किया था,  लेकिन इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते  उन्होंने फूलों की खेती ही नहीं की, केवल अपने खेत के मेड़ों पर कुछ  गेंदा के फूल लगाए थे। उसे विक्रय करने में भी उन्हें परेशानी हो रही है। 

फूलों की मांग घटने से निश्चित ही फूलों की खेती करने वाले किसान परेशान हैं, लेकिन अभी उनकी उम्मीद आने वाली दिवाली पर्व पर टिकी हुई है। उनका मानना है कि दीपावली में लोग अपने घरों को सजाने के लिए निश्चित ही फूलों की खरीदी करेंगे।

अन्य पोस्ट

Comments