बिलासपुर

आंशिक मूक बालिका के साथ चचेरे भाई ने किया रेप, गर्भपात में चाचा-चाची, दादा व गांव के रसूखदारों ने दिया साथ
30-Sep-2020 9:37 PM 6
 आंशिक मूक बालिका के साथ चचेरे भाई ने किया रेप, गर्भपात में चाचा-चाची, दादा व गांव के रसूखदारों ने दिया साथ

बिलासपुर, 30 सितंबर। तेरह साल की कम बोल पाने वाली लड़की के साथ उसका चचेरा भाई ही रेप करता रहा। जब उसे गर्भ ठहर गया, चाची-चाचा और दादा ने मिलकर उसका गर्भपात करा दिया। गर्भपात कराने का फैसला पंचायत में लिया गया। मामला वहीं रफा-दफा हो जाता, यदि पीडि़त बालिका की मां ने थाने के चक्कर काटकर इसकी रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई होती। पुलिस ने चार गिरफ्तारियां इस मामले में की है। आगे और भी लोग गिरफ्तार किये जा सकते हैं।

घटना बिलासपुर जिले के बेलगहना पुलिस चौकी के गांव का है। एक 13 साल की बालिका अपने चाचा-चाची के यहां रहती थी। जबकि उसकी मां इसी गांव में कुछ दूर अलग घर में रहती है। करीब 20 दिन पहले वह बेटी से मिलने गई तो उसकी हालत ठीक नहीं लगी। उसने बेटी से पूछा तो हकलाते हुए टूटे-फूटे शब्दों में पूरी घटना बता दी। पीडि़त बालिका ने बताया कि चाचा का लड़का उसके साथ गलत काम करता है। उसे गर्भ ठहर गया था तो कोरबा ले जाकर एक प्राइवेट अस्पताल में उसका गर्भपात भी करा दिया गया है। पीडि़ता की मां बच्ची को लेकर तुरंत बेलगहना थाने गई। पुलिस ने वहां उसकी रिपोर्ट नहीं लिखी और कह दिया ठीक है तस्दीक करेंगे। बाद में पुलिस को लगा कि शिकायत गंभीर है और पीडि़ता को भगाने से उन्हें लेने के देने पड़ जायेंगे, तो वह खुद ही पीडि़ता और उसकी मां के पास पहुंची। घटना की जानकारी कोटा पुलिस थाने में दी गई, जिसके अधीन बेलगहना चौकी है।

गांव वालों से पूछताछ करने पर पुलिस को पता चला कि इस गर्भपात के बारे में गांव के प्राय: सभी लोगों को पता है। पीडि़त का चचेरा भाई अपने घर में रहने वाली नाबालिग बहन से ही रेप कर रहा था। इस दौरान उसे गर्भ ठहर गया। तब चाचा चाची और दादा ने उसे पहले जड़ी-बूटी खिलाई लेकिन उसका गर्भ नहीं गिरा। तब वे लोग बालिका को कोरबा के एक निजी चिकित्सालय में ले गये। वहां उसका गर्भपात कराया गया।

पीडि़ता की मां ने जो लिखित शिकायत दर्ज कराई है उसमें बताया गया है कि लड़की के गर्भवती होने की जांच यहां की मितानिन ने की थी। इसके बाद आंगनबाड़ी सहायिका व सरपंच तक भी जानकारी पहुंची। गांव के प्रमुख लोगों की सरपंच ने बैठक बुलाई और सबकी सलाह पर ही पीडि़त लड़की का गर्भपात चोरी-छिपे कराया गया। इन सभी को घटना की जानकारी पुलिस को, बाल विकास विभाग को, बाल संरक्षण समिति आदि को देनी चाहिये थी लेकिन उन्होंने मिलकर मामले को दबा दिया। पीडि़त लड़की की मां ने इनकी परवाह नहीं करते हुए पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई। उसने गर्भपात तथा मामले को छिपाने में भूमिका निभाने वाले इन सबकी गिरफ्तारी की गुहार लगाई है।

कोटा थाना प्रभारी प्रकाश कांत ने बताया कि पीडि़ता के चचेरे भाई, चाचा-चाची और दादा को धारा 313, 376, 34 तथा पॉक्सो एक्ट 6 के तहत गिरफ्तार कर लिया गया है। अन्य लोगों की भूमिका भी जांच की जा रही है।

अपराध 4 और अन्य के नाम से ही दर्ज है। जिसकी भी संलिप्तता पाई जाएगी, उसे गिरफ्तार किया जाएगा।

अन्य पोस्ट

Comments