बस्तर

जन-जन तक संदेश पहुंचाने इंद्रावती बचाओ अभियान ने किया स्थानीय बोली में प्रचार
26-Sep-2020 7:28 PM 5
जन-जन तक संदेश पहुंचाने इंद्रावती बचाओ अभियान ने किया स्थानीय बोली में प्रचार

लगातार चौथे दिन जारी रखा जन जागरण अभियान

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 26 सितंबर। कोरोना महामारी से बचाव हेतु छेड़े गए अभियान को प्रभावी बनाने आज इंद्रावती बचाओ अभियान ने स्थानीय बोली में गांव-गांव घूमकर जागरण की अलख जगाने अपना योगदान दिया।

लगातार चौथे दिन जारी जन जागरण अभियान के तहत आज इंद्रावती बचाओ अभियान के वरिष्ठ सदस्य और सर्व आदिवासी समाज के उपाध्यक्ष दशरथ कश्यप और अभियान के सक्रिय सदस्य सम्पत झा ने संजय बाज़ार में बाज़ार करने आए ग्रामवासीयों के बीच जाकर हल्बी और भतरी में अपनी बात उन तक पहुँचाई।

उसके बाद दोनों वरिष्ठ सदस्यों ने पिकअप में ग्रामीण क्षेत्रों की राह पकड़ी और गाँव-गाँव जाकर वहाँ के लोगों को कोरोना से बचाव हेतु किन-किन सावधानियों का ध्यान रखना है, उनकी भाषा में उन्हें समझाया। कई जगह नुक्कड़ सभा के रूप में भी उपस्थित लोगों को जागृत करने का प्रयास किया।

इस दौरान अभियान के लोगों ने सेमरा, खमारगाँव, खुटपदर, मारकेल, आमागुड़ा, चोकावाडा, कस्तूरी, नगरनार, उपनपाल, करनपुर, बिजापुट, माड़पाल, मोरठपाल, नेगीगुड़ा, गरावंड खुर्द, कलचा, धोबीगुड़ा आदि गावों के लोगों तक मास्क का प्रयोग, सोशल डिस्टन्सिंग व बार बार हाथ धोने का आग्रह किया।

ग्रामवासियों ने भी सकारात्मक रुख़ दिखाते हुए कोरोना के प्रभाव को कम करने हर संभव सहयोग का भरोसा इंद्रावती बचाओ अभियान के वरिष्ठ सदस्यों को दिया।

अन्य पोस्ट

Comments