सुकमा

जिंदगी से जंग लड़ रहे बामन को इंतजार है पीएम आवास का
25-Sep-2020 9:28 PM 6
 जिंदगी से जंग लड़ रहे बामन को इंतजार है पीएम आवास का

छत्तीसगढ़ संवाददाता

तोंगपाल, 25 सितम्बर। सुकमा जिले के विकासखण्ड छिन्दगढ़ में मधुमेह से पीडि़त युवक हाथ और पैरों की अंगुलिया भी धीरे धीरे खो रहा है और जिंदगी से जंग लडऩे के बीच उसे अपनी पत्नी व तीन बच्चों के रहने हेतु पीएम आवास की उम्मीद शासन से है।

जानकारी के अनुसार सुकमा जिले के वि.ख.छिन्दगढ़ के ग्रा.पं. कुमाकोलेंग के धुरनक्सल प्रभावित ग्राम नयापारा के 35 वर्षीय युवक बामन जो मधुमेह रोग से पीडि़त है व इस रोग के कारण उसके हांथ और पैर की अंगुलियां गल गई हैं व पूरे शरीर मे घाव हो गया है। जीवन यापन हेतु कुछ भी कार्य करने में असमर्थ बामन अपने तीन बच्चों एवं पत्नि के  साथ छोटी सी झोपड़ी में रहता हैं वो भी टूटफूट गई है जिसमें बारिश का पानी भी भर जाता है व रहने लायक नहीं है। अपनी परेशानी को पंचायत व ग्राम सभा में कई दफा बताने के बाद भी आज तक बामन को पीएम आवास स्वीकृत नहीं हो पाया है जिससे बामन व उसका परिवार बहुत दुखी है।

कोरोना काल के प्रारंभ होते ही दवा बंद

बामन ने बताया कि उसका इलाज रायपुर से चल रहा था, परन्तु कोरोना काल के शुरू होते ही उसकी दवा बन्द हो गई है, क्योंकि बसों का संचालन बन्द हो गया था और गरीब बामन के पास इतने पैसे नही थे कि वो गाड़ी बुक करवाकर रायपुर जा पाए। साथ ही उसे इस बात की भी जानकारी नहीं थी कि उसकी दवा पास के शहरों में भी मिल सकती है

'छत्तीसगढ़' ने बामन की तश्वीर व वीडियो तोंगपाल के डॉ. अनिल टण्डन को दिखाया तो डॉ. टण्डन का कहना था कि बामन को लेप्रोसी (कुष्ठ रोग) भी हो सकती है जिसके कारण उसके हाथ व पैरों की यह हालत हो गई हैं क्योंकि इस रोग में निरन्तर दवा लेनी पड़ती है।

अन्य पोस्ट

Comments