बस्तर

क्षेत्रीय रेशम उत्पादन अनुसंधान, केंद्र में कृषक कौशल प्रशिक्षण
25-Sep-2020 9:21 PM 4
 क्षेत्रीय रेशम उत्पादन अनुसंधान, केंद्र में कृषक कौशल प्रशिक्षण

जगदलपुर, 25 सितंबर। स्थानीय क्षेत्रीय रेशम उत्पादन केंद्र द्वारा कृमि पालन केंद्र सोनारपाल में भारत सरकार के दक्षता वृद्धि कार्यक्रम अंतर्गत 5 दिवसीय कृषक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जा रहा है । गत 21 सितंबर को इसका शुभारंभ हुआ और 25 सितंबर तक यह शिविर चलेगा। इस शिविर में 2 गांव के 20 कृषक रेशम से संबंधित विभिन्न दिशाओं में अपनी क्षमता बढ़ाने के उद्देश्य से शामिल हो रहे हैं।

कार्यक्रम का उद्घाटन आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी डॉ. केके मिश्रा के मुख्य आतिथ्य में हुआ। कार्यक्रम के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही सैनिटाइजेशन का भी पूरा ध्यान रखा गया। मुख्य अतिथि की आसंदी से डॉ. केके मिश्रा ने कहा कि सभी को कुबेर 19 से उन्होंने  प्रशिक्षणार्थियों को अर्जुन  आसन खाद बचाव के लिए विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों का कड़ाई से पालन करना चाहिए। इस दौरान उन्होंने शरीर की इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए आयुर्वेद में प्रचलित दवाओं के संबंध में भी जानकारी दी। काढ़ा  बनाने की विधि के साथ ही  उसका नियमित सेवन करने के संबंध में भी जानकारी दी साथी अनिवार्य रूप से मास्क का उपयोग करने और बार बार साबुन से हाथ धोने की सलाह दी। उन्होंने कीट पालन के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के साथी इस दौरान होने वाले हादसों से निपटने के लिए प्राथमिक उपचार के संबंध में भी जानकारी दी।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए वैज्ञानिक सुनील कुमार मिश्रा ने प्रशिक्षणार्थियों को तसर रेशम से जुड़े खाद्य पौधों की परिचालन, रेशम कीट पालन, रेशम कीट बीज उत्पादन रेशम कोसा के धागाकारण के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों को अर्जुन, आसन खाद्य पौधों के रखरखाव एवं परभक्षी से बचाव के संबंध में विस्तार से बताया। इस दौरान संस्थान के वरिष्ठ तकनीकी सहायक एस के परीच्छा,  प्रक्षेत्र सहायक कार्तिक राम सिदार ने भी प्रशिक्षणार्थियों को कोविड-19 के संबंध में विशेष जानकारियां दी।

अन्य पोस्ट

Comments