विष्णु नागर

29-Sep-2020 3:27 PM

-विष्णु नागर

हिंदी लेखक शायद भारत का एकमात्र ऐसा प्राणी है, जिससे सबको मुफ्त सेवा चाहिए। हाँ धन्यवाद या थैंक्स जरूर कभी-कभी उसके हिस्से आ जाता है। वह भी सामने वाले की इच्छा पर है। धन्यवाद नहीं दिया तो लेखक उस पर मुकदमा तो नहीं कर देगा! करेगा तो लालची से लालची वकील भी भगा देगा : कहेगा आपका दिमाग तो ठीक है? इस न्यू इंडिया में दिमाग को ठीक रखना, लिखने से बड़ी चुनौती है।

ताजा संदर्भ यह है कि कल मेरे पास एक साहित्य संपादिका का संदेश आया कि आप फलां लेखक पर दो हजारों शब्दों का संस्मरणात्मक लेख एक सप्ताह में भेज दीजिए। अपना परिचय और तस्वीर भी साथ में। हमारे लिए यह संस्मरण एक उपलब्धि होगी और आगे भी हमें आपसे इसी तरह के सहयोग की अपेक्षा रहेगी। मतलब सारी अपेक्षाएं उन्हें लेखक से हैं। उन्हें लेखक का मोबाइल नंबर जरूर कहीं से मालूम है मगर लेखक का परिचय तक मालूम नहीं है,न वे गूगल पर उसकी तस्वीर ढूँढ सकती हैं। उन्हें मेरा या अन्य जिन लेखकों के बारे में कुछ पता नहीं होगा। बस किसी साहित्यप्रेमी ने उन्हें मेरा नाम और मोबाइल नंबर दे दिया है।ऐसा पहले भी कई बार हुआ है।

ऊपर से आग्रह 2000 शब्दों का भी है और समय भी एक सप्ताह का है। सब कुछ हम उनकी थाली में परोस दें और वे जीमने का कष्ट अवश्य कर लेंगे। 
पूरे पत्र में भुगतान का कोई उल्लेख नहीं था। मैंने लिखा सम्मानजनक भुगतान करेंगे तो अवश्य लिख देंगे। जवाब आया हम तो खुद इस पक्ष में हैं..  अखबार नया है, यह जो रविवारीय संस्करण हम आरंभ कर रहे हैं वगैरह यानी मुफ्त में आप लिख दीजिए और लिखते रहिए। मैंने क्षमा माँग ली। उन्होंने इतना अवश्य किया कि शुक्रिया दे दिया।

यह सही है कि मैं अवकाश प्राप्त हूँ मगर अवकाश प्राप्त का अर्थ इतना खाली होना भी नहीं होता कि तुम अखबार चलाओ, मुझसे एक हफ्ते में दो हजार शब्दों का आलेख भी चाहो और मैं फटाफट लिखने बैठ भी जाऊँ और मिलने के नाम पर ठनठन गोपाल! आखिर क्योंं किसी व्यावसायिक संस्थान के लिए मुफ्त लिखें? तुम्हारा अखबार नया है वगैरह, यह मेरी जिम्मेदारी नहीं। और न आप इससे पहले मुझे जानते थे,न अब जानते हैं, क्यों करूँ यह तकलीफ। इस समय में कुछ बेहतर पढ़ूँगा, लिखूँगा और हो सकता है, मित्रों और परिवारजनों से गप ही लड़ाऊँ या टीवी देखूँ या सोशल मीडिया देखूँ। आपको फलां लेखक पर लिखवाना है तो जो लिखे, उससे लिखवाइए। और वैसे भी उन पर लिखने में मुझसे सक्षम बहुत हैं।

हाँ मेरा फेसबुक या अन्यत्र लिखा, मेरे कुछ मित्र छाप लेते हैं पूछ कर, यह अलग बात है। एक लेखक के तौर पर नये पाठकों तक पहुँचने की इच्छा भी रहती है लेकिन आप कमाई करेंगे तो एक लेखक को उसका पारिश्रमिक भी तो मिलना चाहिए। आप सबको पैसा देंंगे, बस लेखक को नहीं! वैसे हमसब लेखक बिना किसी आर्थिक या अन्य अपेक्षा के भी लिखते रहते हैं मगर वह जो लिखने को मन करता है, वह लिखते हैं और उन्हें देते हैं, जिनसे हमारा किसी तरह का कोई साबका है। वैसे फेसबुक पर लगभग रोज लिखता हूँ तो कोई आर्थिक क्या कोई और अपेक्षा भी नहीं रहती। कुछ रचनात्मक लिखा और किसी ने कहा कि हमें कुछ दीजिए और मन किया कि इसे छपवा लेने में बुराई नहीं तो सादर दे दिया मगर किसी के आदेश पर उनके बताए विषय पर क्यों लिखें?और आप क्या हैं,कौन हैं, हम नहीं जानते। आप भी हमारे बारे में कुछ नहीं जानते।

लिखने के बदले पारिश्रमिक मिले, तब भी यह लेखक का चुनाव होगा कि वह लिखे या न लिखे। और कहाँ लिखें, कहाँ न लिखे।

हिंदी जगत में लेखक से हर कोई मुफ्तिया काम करने की अपेक्षा रखता है। कितने हैं,जो उसके बदले कुछ देना चाहते हैं?और देते भी हैं तो क्या वह अक्सर सचमुच सम्मानजनक होता है? प्रकाशक आमतौर पर रायल्टी देना नहीं चाहते। देते भी हैं तो मात्र बहलाते हैं, उस राशि बताते हुए भी शर्म आती है, जबकि उन्हें देते हुए शर्म नहीं आती। छोटी पत्रिकाओं के लिए आप कुछ लिखते हैं तो यह मानकर ही चलते हैं कि अंक की एक प्रति मिलेगी। वही आपका पारिश्रमिक है मगर कई लघु पत्रिकाएं इतना सार्थक काम कर रही हैं कि उनका सहयोग करने की इच्छा रहती है।और सहयोग करते ही हैं तमाम लेखक।इस तरह हिंदी का कोई भी लेखक काफी मुफ्त सेवा करता रहता है मगर इसका अर्थ यह भी नहीं कि हर कोई उसे लिखनेत्सुक समझ ले, टेकन फार ग्रांटेड ले ले!

एक तरह से लेखक को सामान्यत: उसके परिश्रम का कोई प्रतिदानतो नहीं ही मिलता, ऊपर से तोहमतें भी उसे ही सबसे ज्यादा मिलती हैं। ऐसा क्यों कर दिया, क्यों कह दिया,क्यों  लिख दिया, वहाँ क्यों चले गए, वहाँ क्यों नहीं गए, उसकी प्रशंसा  या निंदा क्यों कर दी। बाकी रचनात्मक काम करने वालों के बारे में तो मानकर चला जाता है कि उन्हें तो समझौते करने ही हैं मगर लेखक का जरा सा विचलन उसे जनवादी से कलावादी और कलावादी से अलेखक बना दे सकता है।


06-Sep-2020 12:29 PM

-विष्णु नागर 
मोदीजी की सबसे बड़ी खूबी यह है कि उन्हें एक वही काम नहीं आता,जो उन्हें आना चाहिए, बाकी सारे काम आते हैंं। मसलन वे प्रधानमंत्री हैं। उन्हें इसका भरपूर से भी भरपूर फायदा उठाना आता है मगर इस नाते जो उन्हें आना चाहिए, वह नहीं आता। मसलन वे प्रधानमंत्री बने, तब इकनॉमी ठीक-ठाक चल रही थी। उनके होते हुए भी यह इसी तरह चलती रहे, यह उन्हें बर्दाश्त नहीं हुआ। उन्हें इकानामी पर अपनी मोहर लगवाना थी। उन्होंने फटाफट नोटबंदी की और कहा कि देखो अभी इससे कालाधन छूमंतर हुआ जाता है और साथ में आतंकवाद भी गायब हो जाएगा। कोई बात नहीं करोड़ों लोग हैरान-परेशान हुए, कुछ लाइन में लगे- लगे मर गए, तो क्या! मरना -जीना तो ऊपरवाले के हाथ में है, एक्ट ऑफ गॉड है। चलो अब जीएसटी ले आते हैं। व्यापारियों की समस्या एक ही झटके मेंं खत्म। ये अलग बात है कि इससे व्यापारी ही खत्म हो जानेवाले थे। वह तो शुक्र है कि बालों-बाल बच गए। इतने से संतोष नहीं हुआ तो सारे देश में लॉकडाउन करवा दिया। कहा कि व्यापारी भाइयो, इस बार बर्बादी में तुम अकेले नहीं हो, फैक्ट्री-कारखानेदार, मजदूर, रेहड़ीवाले सभी शामिल हैं। तुम्हारे मन को इससे शांति मिलेगी कि बर्बादी संयुक्त है। जीएसटी की तरह इस बार तुम अकेले नहीं हो। और दिखाऊँ काबिलीयत, चलो इकॉनामी को मैं शून्य से भी नीचे-27 पर ले आता हूँ। अब खुश! नहीं? चलो अभी वक्त है। मेरे कमाल देखते जाओ।

अब क्या-क्या गिनाएँ उनकी ऐसी महान ‘उपलब्धियाँ’! यह विषय इतना विस्तृत और गहन है कि इस पर ‘मोदी चरित मानस’ की रचना संभव है। इसके लिए आधुनिक तुलसीदास चाहिए और जहाँ तक दृष्टि जाती है, कोई दीखता नहीं। वैसे मोर और अन्य कविताएँ लिखकर मोदीजी ने साबित कर दिया है कि अपने मानस के तुलसीदास वे स्वयं हो सकते हैं। यह काम वे लॉकडाउन में करें तो यह रचना अमरग्रंथों की श्रेणी में सम्मिलित हो जाएगी। इससे भक्तों के सामने संकट पैदा हो जाएगा कि वे रामचरित मानस पढ़ें या ‘मोदीचरित मानस’!

तो खैर इस तरह वह देश की सारी समस्याएँँ ‘हल’ करते चले जा रहे हैं। रुके नहीं, थमे नहीं, पीछे मुडक़र नहीं देखा कभी। बेरोजगारी एक बड़ी भारी समस्या थी, चाय-पकोड़ा उद्योग का पुनरुत्थान करके उसे हल कर दिया। कोरोना को उन्होंने ताली-थाली बजवाकर छूमंतर करा दिया। और जो समस्याएँ छूमंतर नहीं हो सकींं, उनके लिए जवाहर लाल नेहरू जिम्मेदार थे! फिर भी उन्होंने अपने ऊपर नेहरूजी के बनाए सरकारी उपक्रमों को बेचने की जिम्मेदार ली और बेशक उसे मन-प्राण से पूरा कर रहे हैं। और जहाँ वे कुछ नहीं कर पाए, वहाँ कम से कम नाम तो बदलवा ही दिए। रेसकोर्स रोड अब लोककल्याण मार्ग है। मुगलसराय स्टेशन अब दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन है।योजना आयोग अब नीति आयोग है। सूरज का नाम सूरज और चाँद का नाम चाँद इसलिए है क्योंंकि ये नाम न नेहरू जी ने दिए थे, न मुगलों ने!

ऐसे सारे काम मोदीजी को खूब आते हैं। जंगल कटवा कर प्रकृति से प्रेम करना आता है। मोर पर कविता लिखना आता है। नगाड़ा बजाना आता है।योग करना और करवाना आता है। अंबानी के प्राडक्ट का विज्ञापन करना और अडाणी के खिलाफ सारे केस पक्ष में निबटवाना आता है। डिजाइनर कपड़े पहनना आता है। गुफा में तपस्या करना आता है। ज्ञान बघारना तो उन्हें इतना आता है कि बड़े-बड़े विद्वान शर्म से चुल्लू भर पानी में डूबने की ट्रेनिंग ले रहे हैं। मन है नहीं मगर मन की बात करना आता है। कभी अपने को इस योजना, कभी उस कार्यक्रम के माध्यम से लांच और रिलांच और रि-रि-रि लांच करना आता है। ऊँची से ऊँची मूर्ति बनवाने में उनका सानी नहीं। बच्चों को परीक्षा पास करवाना और खुद फर्जी डिग्री लेना आता है। भाषण देना और उसमें विशेष रूप से फेंकने की कला में उनका स्थान वही है, जो कला में पिकासो और कविता में कालिदास का है। फर्जी को असल बनाना उन्हें आता है। जरूरी बातों पर चुप रहना और फालतू बातों पर ट्वीट पे ट्वीट करना आता है। मीडिया से लेकर अदालत तक के मैनेजमेंट के वह जगद्गुरु हैं।उन्हें वह सब करना भी आता है, जिसका वे प्रधानमंत्री पद बनने से पहले विरोध करते थे। उन्हें अपने सारे विरोधियों को नाना प्रकार से ‘ठीक’ करना आता है।उन्हें ट्रंपादि चुनिंदा लोगों की झप्पीशप्पी इतनी जोर से लेना आता है कि सामने वाले की साँस घुट जाए! आँकड़ों और झूठ का घनघोर उत्पादन करने वाला तो उनके जैसा पराक्रमी देश के इतिहास में कभी हुआ नहीं। हिंदू-मुस्लिम करना तो जैसे उनके डीएनए में है।

इसके अलावा वह हर हफ्ते-पंद्रह दिन में एक नया नारा ईजाद करते हैं। परेशानी के बायस बन चुके नारों को लोग किस प्रकार भूलें, ये कला उन्हें आती है। उन्होंने आज तक ये इंडिया और वो इंडिया और वो भी इंडिया, ऐसे न जाने कितने इंडिया बनवा डाले हैं कि उन्हें भी अब याद नहीं कि ऐसे कितने बन और मिट चुके हैं। अभी ‘न्यू इंडिया’ बना रहे थे, अभी-अभी आत्मनिर्भर इंडिया बनाने लगे। एक- दो महीने बाद कोई और इंडिया बनाने लगेंगे। उनसे जो चाहे बिकवा लो, इंडिया तो बिकवा ही लो मगर इस नारे के साथ बिकवाना पड़ेगा कि मैं देश नहीं बिकने दूँगा।


05-Sep-2020 1:25 PM

-विष्णु नागर

भक्तों और वोटरों को इस सच्चाई की गाँठ बाँध लेना चाहिए कि लोकतंत्र वगैरह तो सब ठीक है। तुम-हम वोट देते हैं, यह भी ठीक ही है मगर सच ज्यादा संगीन है। हमें मालूम है मगर हम इसे स्वीकार नहीं करते, भक्त तो आज बिल्कुल ही मंजूर नहीं करेंगे कि वोट नहीं, बड़े सेठों के नोट लोकतंत्र का असली सारतत्व बन चुके हैं। इस भयानक मंदी में जब अर्थव्यवस्था माइनस 27 तक आ पहुँची है, जो आजादी के बाद आज तक नहीं हुआ था, मगर सेठ मुकेश अंबानी की संपत्ति फिर भी बढ़ रही है। देश डूब रहा है, वह विदेशी कंपनियाँ खरीद रहा है। तुम्हारी छोटी-मोटी नौकरी चली जाती है, धंधा पिट जाता है। कई आत्महत्या कर चुके हैं और कई और करेंगे अभी लेकिन सेठ साहब जीडीपी, भारत और वैश्विक मंदी से परे जा चुके हैं।

समस्त सेठ समाज अभी भी लगभग खुश है। नाराजगी थोड़ी है, वह औपचारिक है, दोस्ताना है। क्यों? क्योंकि तुम्हारे वोट और तुम्हारे हिंदुत्व से ज्यादा ताकतवर है, सेठ का पैसा, उसका समर्थन। जिस दिन सेठों ने तुम्हारे हिंदुत्व से हाथ खींच लिया, तुम्हारा हिंदुत्व भाँप की तरह आकाश में विलीन हो जाएगा और हाँ तुम्हीं हमसे ज्यादा हिंदुत्व विरोधी नजर आओगे, हाँ तुम्हीं। मोदीजी को गाली देने वालों की अग्रिम पंक्ति में हमसे आगे तुम रहोगे।

इन एंकर-एंकरानियों की भक्ति और वीरता कटी पतंग की तरह गोते खाते हुए नीचे आ जाएगी, माइनस के भी माइनस में चली जाएगी। ये एंकर-एंकरानियाँ मोदीजी की कृपा पर नहीं,चैनल मालिक की मेहरबानी पर निर्भर हैं। ये सेठ चाहें तो जिसको चाहें, धूल चटा दें और पहले अच्छे -अच्छों को चटाई भी है। हिंदुत्व तुम्हारे लिए है, ईज आफ डूइंग बिजनेस, आत्मनिर्भरता उनके लिए है। सेठ हिंदुत्व से पगलाया हुआ नहीं है, उसे यह भी ‘सूट’ करता है, इसलिए चुप है, समर्थक जैसा नजर आता है। जिस दिन हिंदुत्व उसे भार की तरह नजर आएगा,वह मोदीजी से कहेगा, रिवर्स गेअर में गाड़ी ले लो और मोदीजी खुशी-खुशी ले लेंगे। और नहीं लेंगे तो देखना जो विकल्पहीनता तुम्हें-हमें आज नजर आती है, अचानक भारत में विकल्पों की भरमार हो जाएगी। इस खेल को जो नहीं समझता, समझना नहीं चाहता, उसके लिए शब्द तो मेरे पास हैं मगर लिखूंगा नहीं।


04-Sep-2020 8:26 PM

विष्णु नागर

वही जस्टिस अरुण मिश्रा-जो प्रशांत भूषण मामले के कारण कुचर्चित होकर अवकाश ले चुके हैं-उनका एक और विवादास्पद निर्णय आया है-दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में रेलवे के किनारे बसी 48 हजार झुग्गी झोपडिय़ों को हटाने के बारे में।सरकार का पक्ष है कि राजनीतिक दखलअंदाजी के कारण ये झुग्गी झोपडिय़ाँ बसी हुई हैं।

मैं इन झुग्गी झोपडिय़ों के पक्ष में हजार तर्क नहीं दूँगा मगर एक सवाल उठाऊँगा-जो मशहूर जनपक्षधर अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज उठाते रहे हैं-कि सरकार कोई हो, अदालत कोई हो, उसके निशाने पर हमेशा झुग्गी बस्तियाँ क्यों रहती हैं? हर शहर में और हमारे दिल्ली महानगर में लाखों कारें और स्कूटर-मोटर साइकिलें वगैरह बारहों महीने सडक़ और पटरियों को घेरे रहती हैं। इस पर किसी सरकार का ध्यान क्यों नहीं जाता? जाएगा भी नहीं। किसी अदालत का भी नहीं जाएगा। आदेश कभी निकलता भी है तो अगले दिन फुस्स हो जाता है।

वजह है मध्यवर्ग-उच्च मध्यवर्ग की मजबूत, हल्लेबाज ब्रिगेड। वह सरकार की हवा टाइट कर देगी।मोदीजी जैसे शूरवीरों को भी जगह दिखा देगी। दूसरा यह वाहन उद्योग बहुत ताकतवर है।खरबों रुपये इसमें लगे हैं-देशी कम, विदेशी उद्योगपतियों के। चाहे जितना प्रदूषण फैले, चाहे जितनी दुर्घटनाओं में चाहे जितने लोग मरें, वैश्विक स्तर पर सरकारों में सहमति है कि किसी भी कीमत पर इसे बढ़ाना है। इसके लिए कोई कीमत अधिक नहीं। तीसरा इस तरह के निर्णय से कारपोरेट हित भी जुड़े हैं। झुग्गियों से जो जमीन खाली होगी, वह रेलवे निजीकरण की प्रक्रिया में कारपोरेट जगत को लाभ देगी और कारपोरेट जगत के लाभ में सरकार का और विपक्ष का, दोनों का हित है।   

समान नहीं,तो असमान सही, मगर है।

और गरीबों की कोई लाबी तो है नहीं,चाहे उनकी तादाद करोड़ों में हो। ज्यादा से ज्यादा झुग्गी उजाड़ोगे तो वे रो लेंगे। गुस्सा करेंगे, तोडफ़ोड़ करेंगे, कुछ मर जाएँगे, कुछ मार दिए जाएँगे। गोदी चैनल इनके खिलाफ मुसलसल आंदोलन चला देंगे।

एक रवीश कुमार इनके पक्ष में ज्यादा से ज्यादा दो दिन-तीन दिन करुण दृश्य दिखा देगा। दो चार एनजीओवालों-वकीलों को बोलने का मौका दे देगा। रवीश को भी मालूम है कि इससे कुछ होगा नहीं।

उधर कारें, स्कूटर, मोटरसाइकिलें बदस्तूर सडक़ों-पटरियों को घेरे रहेंगी। उनसे किसी नियम कानून का उल्लंघन नहीं होगा, चाहे आप देश की ऊँची से ऊँची अदालत जाकर देख लो, सडक़ पर आंदोलन करके देख लो। ज्यादा करोगे तो हममें से कोई अर्बन नक्सल बना दिया जाएगा। पड़े रहो जेल में। होगा वही,जो जयश्री राम चाहेंगे और जयश्रीराम का मतलब यहाँ राजनीतिक राम हैं,भाजपा के, मोदीजी के राम हैं। राम भी सबके अलग-अलग हैं अब।


02-Sep-2020 2:05 PM

-विष्णु नागर

किराए के घर बदलने का सबका अपना- अपना एक दिलचस्प इतिहास होता है। मेरा भी है।

शाजापुर में तो जैसा भी था, अपना मकान था, घर था। घर बदलना क्या होता है, किराएदार होना क्या होता है, इसका कोई अनुभव नहीं था। वहाँ ज्यादातर दोस्तों के अपने मकान थे। कुछ के पिता छोटे-मोटे अफसर थे, उनके पिता का स्थाानांंतरण होता रहता था, इसलिए वे किराए के मकानों मेंं रहते थे मगर दोस्त खुद तब किराएदार-मकानमालिक संबंधों के बारे में कुछ जानते न रहे होंगे। कभी यह विषय हमारी बातचीत में आया नहीं। वहाँ उस समय वैसे किराएदार मिल जाना ही बड़ी बात थी, तो तंग भी कौन करता! हमारे कच्चे मकान में भी आठ, दस और पाँच रुपये महीने के तीन किराएदार थे मगर मेरी माँँ ने उन्हें कभी तंग किया, यह याद नहीं।

दिल्ली आने के बाद ही मैं किराएदार बना, घर पर घर बदले। उनकी गिनती करने बैठूँगा तो शायद गड़बड़ा जाऊँ। बहुत आरंभ मेंं करीब एक महीने तक नार्थ एवेन्यू के एक फ्लैट की छत पर रात को सोनेभर की सुविधा मिली। नित्यकर्म की सुविधा भी वहाँ नहीं थी लेकिन कडक़ी के दिनों में सोने का ठिकाना मुफ्त में मिला तो शिकायत कैसी? शुक्रिया सर्वेश्वरजी, शुक्रिया कमलेशजी। आप दोनों इस दुनिया में नहीं हैं तो क्या हुआ, शुक्रिया।

उसके बाद हमारी सवारी किराए के मकान के लिए पहली बार यमुना पार के लिए चली।तब कहावत थी कि सारे दुखिया जमना पार।हम कौनसे तब सुखिया थे, सो उधर ही चल पड़े। ऐसे ही घूमते -घामते ,पूछते एक गली के एक छोटे दूकानदार के पास पहुँचे। उसने अभी-अभी कुछ एक-एक कमरे किराए पर देने के लिए बनाए थे। मेरे सीमित साधनों की दृष्टि से वह कमरा अच्छा लगा।टीमटाम कुछ था नहीं अपने पास। दिन में तो सब वहाँ सुहावना था। रात को वहाँ भयंकर मच्छर थे। उनसे बचाव का अपने पास कोई साधन नहीं था। दो दिन में वह घर बदला। उसका किराया था- तब 30 रुपये महीना। मकान मालिक से शिकायत की तो उस भले आदमी ने कहा, एक और कमरा है मेरे पास खाली पर यह उससे छोटा है। किराया 20 रुपये महीने।सीधे दस रुपये महीने की बचत मुझे हो रही थी। रहे होंगे उस कमरे में कोई छह महीने या शायद ज्यादा। अस्थायी रूप से आर्थिक स्थिति कुछ सुधरी तो एक बेहतर जगह छत पर एक कमरा और किचन ले लिया। इस बीच माँ को भी ले आया। इस बार किराया था 60 या पैंसठ रुपये। मकान मालिक- खासकर मालकिन काफी भली औरत थी। मुझे बहुत सीधा-अच्छा लडक़ा मानती थी, जो मैं था भी (मियांमि_ू) मगर सारा गड़बड़झाला मकान मालिक की लडक़ी ने किया। वह तब रही होगी- कोई चौदह-पंद्रह साल की। मैं इक्कीस का। उसकी बड़ी बहन एक और किराएदार से प्रेम करती थी। वह छोटामोटा व्यापारी था। उसकी माँ को भी इस प्रेम का पता था। वह खुद भी चाहती थी, यह मामला बढ़े और शादी तक पहुँचे। दोनों परिवार पंजाबी थे।

इधर उसकी छोटी बहन को भी बड़ी से प्रेम करने की प्रेरणा प्राप्त हुई होगी। उसे मैं इसका सुपात्र नजर आया। वह मेरी अनुपस्थिति में मेरी माँ का हालचाल लेने के बहाने आई और किताबों के बीच प्रेमपत्र रख गई। शाम को आया तो देखा।

अब अपना सीधापन एक न एक दिन गायब होना ही था। प्रेम घर चलकर आए तो हम भी कैसे रुक सकते थे! इतने भी सीधे, इतने भी बेवकूफ नहीं थे। अपनी और उसकी प्रेम करने में योग्यता-अयोग्यता, खतरे और संभावना पर विचार कौन करता तब!

उसी फ्लोर पर एक और शादीशुदा, दो बच्चोंवाले परिवार का मुखिया हमारे इस बढ़ते प्रेम का दुश्मन बना हुआ था। वह अपने कमरे के दरवाजे और खिडक़ी को हल्का सा उघड़ा रखता था। प्रेमिका ने इन दिनों छत पर कपड़े सुखाने की जिम्मेदारी ले रखी थी। वह आती और हम उसके नजदीक जाकर कुछ कहने की कोशिश करते तो वह हरामी खाँसखुँस कर रेड अलर्ट जारी कर देता। अरे भई तू शादीशुदा, तेरी बीवी सुंदर, तेरे दो बच्चे हैं। उम्र तेरी कोई बत्तीस-पैंतीस साल। मकान मालिक की तीन में से कोई लडक़ी, उस नाटे खूसट से प्रेम करे, इसकी कोई संभावना नहीं। तू भी किराएदार, हम भी किराएदार। तो तू काहे को दालभात में मूसलचंद बना हुआ है! ईष्र्या हो रही हो तो बीवी से ज्यादा प्रेम कर, बच्चों पर ध्यान दे और अपनी दुकान पर जा, खा-पी, मौज कर। पर नहीं साहब। जासूसी में लगे हुए हैं। उसे इस काम पर मकान मालिक ने लगानहीं रखा था, फिर भी स्वयंसेवक बने हुए हैं, चौकीदार बने हुए हैं।

उस चौकीदार ने हालत यह कर दी कि हम उसके हाथ भी क्या दो चार उँगली को जरा सा छूने से आगे न बढ़ सके।बस खतोकिताबत तक मामला सिमटकर रह गया। वह उस लडक़ी की माँ को भी भड़ाकाता था मगर हमारा उन पर इंप्रेशन इतना अच्छा था कि इसका उन पर कोई असर नहीं हो रहा था,यह बाद में पता चला। वह मान ही नहीं सकती थी कि मैं यानी यह नौजवान ऐसी ‘नीच’ हरकत भी कर सकता है!भली औरतों के ऐसे भोलेपन की अभ्यर्थना ही की जा सकती है।

मामला प्रेमपत्रों का हो और लंबा चले तो एक न एक दिन भांडा फूट ही जाता है पर इस सत्य का ज्ञान तब नहीं था। ज्ञान होता भी तो ज्ञानी बने रहना संभव नहीं था। एक दिन बालिका नहा रही थी। बाथरूम का ऊपर का हिस्सा हमेशा से खुला रहता था। इतनी ही हिम्मत थी कि प्रेमपत्र फेंकने का साहस किया। बालिका की उस पर नजर नहीं पड़ी। पत्र बाथरूम में पड़ा रहा और बालिका नहाकर बाहर आ गई।बस जी हमारे भलेपन की शामत आ गई। मकान मालकिन ने होहल्ला मचाना रणनीतिक दृष्टि से उचित नहीं समझा। वह मेरे पास आईं और धमकाया कि जान बचाना हो तो आज ही मकान ढूँढ कर सामान ले जा। इसके बाप को पता लगा तो तुझे काट डालेगा। और मैं तुझे सीधा समझती थी, यह तो दोहराया ही और बताया भी कि तेरी शिकायत तो मिली थी पर मैंने विश्वास नहीं किया। हम प्रेम में कटने-मरने तो आए नहीं थे दिल्ली। फौरन रणजीत नगर में नया मकान ढूँढा, सामान समेटा। वहाँ फायदा यह था कि पास ही शादीखामपुर में नेत्रसिंह रावत रहते थे, मेरे अभिन्न। उनके यहाँ जाना-मिलना आसान हो गया।

कान पकड़े कि अब से मकानमालकिन की लडक़ी या पड़ोसन से प्रेम नहीं करेंगे और इस एक प्रतिज्ञा पर हम अटल रहे। रंजीत नगर में एक कमरा -किचन था। शायद किराया 80 रुपये था।पास में एक और परिवार रहता था। उसका मुखिया एक दर्जी था। उसकी दो लड़कियाँ थीं। बड़ी कर्कशा थी, छोटी बेहद सीधी सादी, डरपोक। छोटी स्कूल जाती थी, बड़ी नहीं मगर छोटी बहन पर बहुत हुकुम चलाती थी। छोटी बेचारी जवाब नहीं दे पाती थी। सहती रहती थी। छोटी पर दया आती थी और प्रेम भी उमड़ता था। आँखों-आँखों में वह शायद समझ भी गई होगी मगर हमने इस बार कोई रिस्क नहीं ली। दूध के जले थे, तो हमने छाछ को फूँक-फूँक कर पीना भी मुनासिब नहीं समझा। छाछ को छुआ तक नहीं। प्रेम के क्षेत्र में कायर बने रहे क्योंकि पहले प्रेम के प्रेमपत्र के अलावा कुछ पल्ले नहीं पड़ा था।कुल ठोस उपलब्धि यही थी।

फिर शायद कम किराए के मकान के चक्कर में उसी इलाके में दूसरा कमरा लिया, उसमें किचन नहीं था। कुछ महीने ही रहे होंगे कि टाइम्स ऑफ इंडिया समूह में प्रशिक्षु पत्रकार की नौकरी के लिए बंबई प्रस्थान किया। दिलचस्प बात यह थी कि आखिरी दिन हमारे सामने रहनेवाली किसी अधेड़ औरत को पता चला कि हम सबकुछ छोड़छाड़ दिल्ली से जा रहे हैं। माँ भी मेरे साथ थी तो घर में कुछ सामान भी था। अचानक उसका हमारे प्रति प्रेम और सहानुभूति उमड़ पड़ी। वह मदद के लिए आ गई और जो भी हमारे पास छोडक़र जाने लायक सामान था, वह गरीब औरत माँगकर ले गई। एक तरह से उसने हमारी समस्या कम की।
ये था किस्सा आजतक। इंतजार करें कल तक।...


30-Aug-2020 1:53 PM

-विष्णु नागर
यह देश आजकल सुशांत सिंह राजपूतमय है।आज की तारीख में सुशांंत की आत्महत्या इतना पापुलर सब्जेक्ट है कि उसने मोदीजी की ‘पापुलरिटी’ को पीछे ढकेल दिया है। पहले टीवी चैनल और अखबार मोदीजी से शुरू होकर मोदीजी के एजेंडे पर खत्म होते थे। फिलहाल देश के हालात 180 डिग्री बदले हुए लग रहे हैं। अब सुबह होती है, शाम होती है, रात होती है, सुशांत-सुशांत-सुशांत सुनते- सुनते जिंदगी तमाम होती है। यही कारण है कि मेरा विषय भी इस बार बदला हुआ है। सबको समय के साथ चलना पड़ता है, चाहे समय साथ चले, न चले। क्षमा करें मोदीजी इस बार चाहकर भी पूरी तरह आपकी सेवा में उपस्थित नहीं हो पा रहा हूँ। इसका मुझे अपार दुख है मगर इसके लिए मैं नहीं आपकी सीबीआई, ईडी, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो, आपके सुब्रमण्यम स्वामी, आपकी परमभक्ता कंगना रनौत, आपके टीवी चैनल, अखबार सब जिम्मेदार हैं। सबने मिल कर इस सोये हुए लेखक को जगा दिया है कि हे मूरख मोदी-मोदी क्या करता है, सारी दुनिया आज सुशांत- सुशांत कर रही है और तू इस हकीकत से मुँँह फेरे बैठा है। तू भी सुशांत-सुशांत कर।

वाकई वे सही हैं। सुशांत की आत्महत्या को ढाई महीने से ज्यादा हो गए हैं मगर चौबीस घंटे चलनेवाला यह सीरियल इतना अधिक पापुलर है कि लगता है कि कोरोना खत्म हो सकता है मगर ये खत्म नहीं होगा। रहस्य, रोमांच, रोमांस, फाइट, कामेडी सब के सब मसाले इसमें इतनी अच्छी तरह समाहित हैं कि इसे स्पांसर की कोई कमी नहींं। ऐसी हालत में अगर यह 2024 तक भी चलता रहे तो आश्चर्य नहीं और ऐसा हुआ तो खतरा यह है कि जनता कहीं यह न कहने लगे कि मोदीजी जाओ, सुशांतजी आओ। आपके हितचिंतक होने के नाते मैं यह बात आज ही बताए दे रहा हूँ, कल मत कहना कि नहींं बताया था। आपको असली चुनौती अब राहुल गाँधी नहीं, सुशांत सिंह दे रहा है। जो आज मेरी बात पर हँस रहे हैं कि कोई देश मर चुके आदमी को भी कभी प्रधानमंत्री बना सकता है, तो वे 2024 तक इस सीरियल की पापुलरिटी बनाए रखकर खुद नतीजा देख लें।उन्हें असलियत का पता चल जाएगा।मौत के बाद ऐसी जबरदस्त पापुलरिटी पानेवाला कोई भी शख्स उस दुनिया मेंं चैन से नहीं बैठ सकता और इस दुनिया में आए बगैर रह नहीं सकता!

सुशांत सीरियल की, मोदी सीरियल से ज्यादा पापुलरिटी होने की ठोस वजह है। मोदीजी अपने सीरियल में अकेले ही सबकुछ कर लेज्ञते हैं। एक्टर, एक्ट्रेस, कैरेक्टर एक्टर, विलन, निर्देशक, कैमरामैन, स्पाटबाय, स्क्रिप्ट राइटर, ड्रेस डिजाइनर, बैकग्राउंड म्यूजिशियन, लाइटमैन यानी सब वही होते हैं।वह किसी के लिए कुछ छोड़ते नहीं क्योंकि कोरोना-काल में भी उन्हें दिन में अ_ारह घंटे काम करने का रिकॉर्ड मेनटेन करना है। उधर मरणोपरांत सुशांत सिंह ने ऐसी कोई कसम नहीं खाई है! अपने सीरियल का हीरो वह जरूर है मगर बाकी सारे रोल उसने दूसरों को दिए हैं। रिया चक्रवर्ती डबल रोल में है। वह हिरोइन भी है और प्राण का महिला अवतार भी। सुशांत ने अपने पिता, बहन, वकील, आदित्य ठाकरे, महेश भट्ट, शाहरुख खान, करण जौहर, बिहार पुलिस, महाराष्ट्र पुलिस, सीबीआई, ईडी, ड्रग कंट्रोल ब्यूरो के अधिकारियों, एंकरों, क्राइम रिपोर्टरों आदि सबको एक्टिव रोल दे रखा है। इनमें से कुछ के लिए तो अभिनय का यह पहला मौका है और रोल धाँसू मिला है। मंजे हुए अभिनेताओं ने भी इसे पुण्य का काम समझ कर फीस लेने से मना कर दिया है। अभी भी वेकेंसीज बची हैंं। सीरियल आगे बढ़ता जाएगा, एक्टर बढ़ते जाएँगे। इस सीरियल में कोई पर्दे पर आकर फिर गुम नहीं हो जाता, इसलिए इसके फेल होने का कोई चांस नहीं है। वह सीरियलों में फिल्म ‘शोले’ है। इसके अलावा दोनों सीरियलों में एक बड़ा फर्क और भी है। मोदीजी का सीरियल आता है तो अभक्त कोटि के हम अधम मनुष्य टीवी बंद कर देते हैं मगर भक्तगण अगरबत्ती जलाकर, आलथी-पालथी मारकर प्रणाम की मुद्रा में मोदी वचनामृतों का पान करते हैं। सुशांत सीरियल को भक्त हो या अभक्त, सब लोग खा पीकर, रिलैक्स होकर आराम से बैठकर देखते हैं। सासें, बहुओं से कहती हैं : ‘बहू, छोड़ काम, बाद में कर लेना। तू तो आ मेरे पास आ और बैठ के ये देख’। बहुओं के सामने ऐसे अद्भुत क्षण जीवन में यदाकदा ही आते हैं। वे भी सास के आग्रह पर उनके पैर छुकर बगल में बैठ जाती हैं। किसी को कोई टेंशन नहीं होता। इसलिए भी यह फेल नहीं हो सकता।

वैसे भी आज की तारीख में देश की सबसे बड़ी कोई चिंता है तो सुशांत की आत्महत्या है। कोरोना नहीं, बेरोजगारी और अर्थव्यवस्था नहीं, चीन नहीं, पाकिस्तान नहीं। राममंदिर तक बताइए ठंडे बस्ते में है। उधर खतरा मोदीजी के द्वार पर दस्तक दे रहा है कि मोदीजी संभलो, सुशांत से बचो। अभी भी वक्त है। वैसे खतरा अमिताभ बच्चन, सलमान खान आदि की पापुलरिटी को भी कम नहीं है। वे भी संभल जाएँ तो उनके फिल्मी भविष्य के लिए अच्छा है!


29-Aug-2020 11:40 AM

साठ साल का सफर पूरा कर 'कादम्बिनी' आखिर लाकडाउन की बलि चढ़ा दी गई- बाल पत्रिका 'नंदन' के साथ। 'कादम्बिनी' से हालांकि मेरा संबंध बारह साल पहले ही छूट गया था और अब वह पत्रिका मुझे भेजा जाना भी बंद हो चुका था मगर उसके अतीत से पहले पाठक के रूप में और बाद में उसके संपादक के समकक्ष जिम्मेदारी संभाल चुकने के कारण उससे एक लगाव था, इसलिए यह खबर मेरे लिए भी दुखद है।टाइम्स ऑफ इंडिया समूह की राह पर देर से ही सही, हिंदुस्तान टाइम्स समूह भी आ गया। कादम्बिनी प्रबंधन की उपेक्षा का शिकार तो मेरे कार्यकाल से पहले ही होने लगी थी।मेरे समय महीने में एक या दो बार कादम्बिनी का जो विज्ञापन हिन्दुस्तान टाइम्स और हिंदुस्तान में छपता था, उसे भी बाद में बंद कर दिया गया था। उसका आकार तथा कुछ और परिवर्तन मेरे न चाहते हुए भी किए गए थे कि इससे नये विज्ञापन आएँगे। न विज्ञापन लाए गए, न प्रसार संख्या बढ़ाने के कोई प्रयास हुए। खैर। वैसे लिखना तो चाहता था कादम्बिनी से अपने संबंधों के बारे में पहले ही मगर टलता रहा और कल वह दिन भी आ गया कि उसकी अंत्येष्टि के बाद श्रद्धांजलि देनी पड़ रही है।

मेरे आरंभिक दिनों में बच्चों के दो ही मासिक ऐसे थे, जो आकर्षित करते थे-पराग और नंदन। चंदामामा भी काफी मशहूर था,उसका बड़ा पाठकवर्ग था मगर वह मेरी पसंद कभी नहीं बन सका। इसी प्रकार सांस्कृतिक मासिकों में कादम्बिनी और नवनीत थे। मैं कोई 1965 के आसपास कादम्बिनी का पाठक बना हूँगा। जब मैंने कादम्बिनी पढ़ना शुरू किया था, तब इसके संपादक रामानंद दोषी हुआ करते थे और तब मुझे यह पत्रिका नवनीत के साथ ही अच्छी लगती थी। कहना कठिन था कि कौनसी बेहतर थी।कब राजेन्द्र अवस्थी कादम्बिनी के संपादक बने और उनके रहते आरंभ में यह पत्रिका कैसी थी, यह मेरी स्मृति में दर्ज नहीं है। 1997 में हिन्दुस्तान अखबार से जुड़ने के बाद भी इसमें कोई दिलचस्पी पैदा नहीं हुई क्योंकि इसकी छवि प्रबुद्ध लोगों में खराब बन चुकी थी। यदाकदा इसे पलटकर भी यही छवि पुष्ट होती थी। अवस्थी जी शायद बिक्री के फार्मूले के तौर पर उसे जादूटोना, तंत्रमंत्र,ज्योतिष आदि की पत्रिका बना दिया था, खासकर अपने आखिरी कुछ वर्षों में। इस कारण चिढ़ सी पैदा हो गई थी।क्या पता था कि मैं भी कभी इससे जुड़ूँगा!

मैं तो दैनिक हिन्दुस्तान में विशेष संवाददाता था, जो मैं नवभारत टाइम्स में भी था। तत्कालीन संपादक लाए थे, कुछ कहकर, कुछ सोचकर। उन्हें करने नहीं दिया गया या जो भी रहा हो, इस संस्थान में आना तब कुल मिलाकर घाटे का सौदा ही लग रहा था। तब नवभारत टाइम्स की जो साख थी, वह हिन्दुस्तान की नहीं थी।खैर आए तो काम तो करना ही था। तब हिन्दुस्तान टाइम्स समूह और टाइम्स ऑफ इंडिया समूह दोनों की छवि यह थी कि यहाँ की नौकरी, सरकारी नौकरी जितनी ही पक्की है और यह बात तब के लिए सही भी थी। दोनों संस्थानों में यूनियनों का दबदबा था। हिन्दुस्तान टाइम्स समूह में तो कुछ ज्यादा ही था।इस कारण यहाँ आने पर भी नौकरी छूटने का डर नहीं था।

जो मुझे लाए थे,वह संपादक बदले। दूसरे आए,वह भी बदले। फिर मृणाल पांडेय हिन्दुस्तान की प्रमुख संपादक बन कर आईं। आने के करीब दो साल बाद 2002 के अंत में कभी वह प्रबंधन को यह विश्वास दिला पाईं कि कादम्बिनी और नंदन का भी कायाकल्प करना जरूरी है। पता नहीं क्या सोचकर मृणालजी ने कादम्बिनी का एसोसिएट एडिटर बनने का प्रस्ताव मेरे सामने रखा। मेरे लिए यह आश्चर्यजनक था,हालांकि इससे पहले वह मुझसे पूछ चुकी थीं हिंदुस्तान अखबार के रविवारीय संस्करण का एसोसिएट एडीटर बनने के लिए मगर प्रबंधन ने तब आपत्ति की थी कि हम विशेष संवाददाता को सीधे यह पद नहीं दे सकते लेकिन जब कादम्बिनी की बात आई तो प्रबंधन ने यह मंजूर कर लिया।मैं कादम्बिनी में लाया गया फरवरी, 2003 में और क्षमा शर्मा नंदन में। नियुक्ति पत्र हमें जनवरी, 2003 से मिला था मगर सुना यह कि अवस्थीजी ने प्रबंधन से कहा कि हमने इतने वर्ष इस संस्थान की सेवा की है तो कम से कम हमें साल के पहले महीने में तो रिटायर मत कीजिए। यह बात मान लेनी भी चाहिए थी और मान ली गई। इस कारण सब मानने लगे थे कि अवस्थी जी बड़े पावरफुल हैं और उन्होंने मृणालजी के इरादों पर चूना फेर दिया है। इस कारण यह जानते हुए भी कि फरवरी से मैं ही कादम्बिनी का सर्वेसर्वा होनेवाला हूँ, एक धनंजय सिंह को छोड़कर स्टाफ के किसी सदस्य की हिम्मत नहीं हुई मुझसे मिलने की। धनंजय सिंह वहाँ असंतुष्ट थे और मेरा आना उनके लिए सुखद था। वह समय-समय पर वहाँ के समाचार देते रहते थे।

बहरहाल एक फरवरी को मैंने और क्षमाजी ने अपने-अपने पद संभाले। उस कक्ष में उस कुर्सी पर बैठे,जिस पर पूर्व संपादक बैठा करते थे। एसोसिएट एडीटर होते हुए भी मृणालजी यह स्पष्ट कर चुकी थीं कि सबकुछ मुझे ही देखना है,उनका कोई हस्तक्षेप नहीं होगा। इसलिए इस जिम्मेदारी की खुशी भी थी और यह भय भी था कि क्या इसे मैं संभाल पाऊँगा मगर आशंका पर खुशी और रोमांच हावी था। आशंका इसलिए भी हावी नहीं थी कि अब मैं पक्की नौकरी की बजाए तीन साल के कांट्रेक्ट पर था और यह सोचकर गया था कि जो होगा, देखा जाएगा। हद से हद घर बैठा दिया जाएगा। देखेंगे। इतना खतरा उठाना चाहिए।
मृणालजी के सहयोग और समर्थन से पत्रिका का कायाकल्प करने की कोशिश की। भूत-प्रेतों, ज्योतिष, बाबाओं का निष्कासन पहले ही अंक से किया, जो मार्च, 2003 को सामने आया।कवर पर ईंट ढोती मजदूर औरत थी क्योंकि 8 मार्च को महिला दिवस था। अभी अंक आँखों के सामने नहीं है मगर इस अंक में विश्वनाथ त्रिपाठी का निराला की कविता में आँखों के वर्णन पर था। बाद में भी उनका भरपूर सहयोग मिलता रहा। अपने छात्रों के बारे में उन्होंने एक सीरीज लिखी, जो बाद में पुस्तकाकार रूप में सामने आई। यह अपनी तरह की दुर्लभ पुस्तक है। प्रिय कहानीकार और मित्र मधुसुदन आनंद तब तक कहानी लिखने से विरक्त से हो चुके थे, उन पर भावनात्मक दबाव डालकर उनसे कहानी लिखवाई। गुणाकर मुले जैसे अत्यंत विश्वसनीय विज्ञान लेखक से लिखवाया।

आधुनिक और महत्वपूर्ण लेखकों से इसे जोड़ने का सिलसिला बहुत आगे तक बढ़ा। भीष्म साहनी, कृष्णा सोबती आदि सब बड़े लेखक जुड़ते चले गए।
जो किया, नहीं किया, इस पर ज्यादा लिखना ठीक नहीं।बगैर अंधविश्वासों का खेल खेलते हुए (मासिक भविष्यफल का एक स्तंभ छोड़कर) इसे विज्ञान और वैज्ञानिक सोच की लोकप्रिय-पठनीय पत्रिका बनाए रखने का प्रयत्न किया। तब के.के.बिरला जीवित थे, उन्होंने स्वयं मुझे बुला कर शाबाशी दी। मृणालजी तो खुश थी ही, पाठक भी। स्टाफ ने भी जिसकी जितनी योग्यता थी, सहयोग किया। सबसे दोस्ताना संबंध बना। हरेक का जन्मदिन सब मिल कर प्रेस क्लब में मनाते। बीयर पीनेवाले बीयर पीते।

मेरा सौभाग्य रहा कि मेरे निजी सहायक बलराम दुबे रहे, जो योग्य और विश्वसनीय रहे। बाकी सभी संपादकीय सहयोगियों का सहयोग भी मिला। मेरे कार्यकाल में हरेप्रकाश उपाध्याय, पंकज पराशर,शशिभूषण द्विवेदी, ऋतु मिश्रा जैसे योग्य लोग आए।

2008 में जब कादम्बिनी छोड़कर नई दुनिया के दिल्ली संस्करण में आना मेरे लिए जीवन का बहुत दुविधाजनक निर्णय था। जिन मृणालजी ने यह बड़ी जिम्मेदारी सौंपी थी, उन्हें छोड़कर जाना सबसे कठिन था मगर मित्र आलोक मेहता से पुराने और घरेलू संबंध थे। वही मुझे इस संस्थान में लाए थे। फिर दैनिक में फिर से काम करने का अपना आकर्षण भी था। मृणालजी ने स्वाभाविक ही बुरा माना। दुखद संयोग की मृणालजी भी उसके बाद वहाँ ज्यादा समय तक नहीं रहीं मगर उन्हें नई-नई जिम्मेदारियां मिलती गईं और अभी भी वह हेरल्ड समूह में हैं। उन्होंने जो लोकतांत्रिक स्वतंत्रता मुझे दी थीं, उसके लिए मैं हमेशा आभारी रहूँगा।

आखिरी दिन सब मुझे नीचे तक छोड़ने आए, सिवाय एक को छोड़कर, जिन्हें मैंने पुराने स्टाफ में योग्य मानकर सबसे अधिक आगे बढ़ाया था। वह उस समय भावी संपादक से अपनी निष्ठा जताने के लिए उनके पास आकर बैठ गए थे और उनकी पीठ मेरी तरफ थी।


26-Aug-2020 12:47 PM

-विष्णु नागर
अक्सर मैं विज्ञापनों पर नजर नहीं डालता, पत्नी ने ‘ज्योतिष’ के नाम पर छपे विज्ञापनों की ओर ध्यान दिलाया, जिनका दरअसल ‘ज्योतिष’  से भी कोई संबंध नहीं है। ये तथाकथित तांत्रिकों के विज्ञापन हैं, जिनकी संख्या यहाँ कम नहीं, 37 है। ये दिलचस्प विज्ञापन हैं। ऐसे ही घर आए एक पर्चे के बारे में पहले लिखा जा चुका है।अगर कोई वैज्ञानिक- तार्किक सोच का व्यक्ति है, तो उसका इन विज्ञापनों को पढक़र मनोरंजन होगा। 

सबसे पहले इस बात ने मुझे आकर्षित किया कि उन्होंने वशीकरण, मुठकरनी, लव मैरिज, गृह क्लेश, मनचाही शादी, प्यार में धोखा, दुश्मन से छुटकारा, गड़ा धन निकालने, सौतन की समस्या आदि-आदि ऐसी तमाम समस्याओं का हल ‘तत्काल’ करने का वायदा किया है। किसी ने तो केवल तीन घंटे का समय माँँगा है, किसी ने दो ही घंटे का और किसी ने तो एक घंटे का और एक ने तो महज एक मिनट का समय मांगा है। ‘तत्काल सेवा’ के ये कुछ अनुपम उदाहरण हैंं। कंप्यूटर से भी किसी विषय पर सामग्री सर्च करना हो तो इससे अधिक समय लग जाता है। इनमें से कुछ तो कंप्यूटर से भी तेज हैंं! कुछ का अनुभव कहता है कि एक घंटा, दो घंटे, तीन घंटे का समय देना चाहिए ताकि अपने बैंक अकाउंट में पैसा आ जाए या नकद मिल जाए, तभी समाधान बताएं। इससे यह असर भी पड़ता है कि तांत्रिक महाराज सोच- समझकर, तंत्र क्रिया करके, समस्या को गंभीरता से लेते हुए समाधान देते हैं। वे उन चालू तांत्रिकों में से नहीं हैंं, जो एक मिनट या पाँच मिनट में समाधान पकड़ा देते हैं। एक मिनट या पाँच मिनट वालों का भी बाजार है और घंटे,दो घंटे या तीन घंटे वालों का भी मार्केट है।

एक और दिलचस्प बात यह है कि कुछ तो 102त्न या 101त्न समाधान का दावा करते हैं लेकिन कोई- कोई तो 1000त्न का । एक महागुरु गंगाराम का दावा तो एक लाख प्रतिशत गारंटीड समाधान का है। मेरा गणित अच्छा नहीं है और मैंने कभी सुना भी नहीं पहले की समस्या का हजार फीसदी या एक लाख प्रतिशत समाधान क्या होता है। 100त्न तो समझ में आ जाता है, 101त्न कहने का भी रिवाज है यानी उम्मीद से कुछ ज्यादा ही अच्छा समाधान लेकिन यह दस हजार या एक लाख प्रतिशत  ‘गारंटीड समाधान’ क्या होता है, समझने में नाकामयाब हूूँ क्योंकि समाधान की यह ‘गारंटीड तकनीक’ और इसका गणित बिल्कुल नया है।

बहुत से तांत्रिक समस्या के ‘फ्री समाधान’ का दावा करते हैं, कुछ काम के बाद फीस लेते हैं। कुछ अपनी फीस पहले बता देते हैं। कोई 501 रुपये लेता है, कोई 1050 रुपये, कोई 650 रुपये, कोई 551 रुपये।

501 से 1050 रुपये तक की फीस का भी और फ्री में मिलने वाले समाधान का भी अपना आकर्षण है। सामान्य ढंग से सोचने की बात है कि कोई व्यक्ति एक हजार या पाँच हजार या अधिक रुपये देकर विज्ञापन छपवा रहा है , तो मुफ्त समाधान क्या देता होगा! यह ‘ग्राहक’ को फँसाने का एक तरीका है।तय फीस में उसी किस्म की सुरक्षा है, जो दुकान में ‘एक दाम’ के बोर्ड लगे होने से मिलती है। ‘गारंटीड समाधान’ का वायदा तो हर तथाकथित तांत्रिक देता है। कोई-कोई ‘ओपन चैलेंज’ भी देते हैं, जैसे एक ‘विश्व प्रसिद्ध’ सीताराम जी ने दिया है। दुकानदार दुकान पर लिख कर रखता है -‘फैशन के इस युग में माल की गारंटी नहीं’ लेकिन यह तो साहब ‘खुला चैलेंज’ देते हैं। ‘विश्व प्रसिद्ध’ की बीमारी भी हम लोगों को लगी हुई है। यह पता नहीं कौन सा ‘विश्व’ है और वहां कौन सी और किस बात की इनकी ‘प्रसिद्धि’ है।

एक शर्मा जी 15 बार ‘गोल्ड मेडलिस्ट’ हैंं और एक पंडित विशाल ‘सेवन टाइम गोल्ड मेडलिस्ट’ हैं। य ह सात और पंद्रह बार वाले ‘गोल्ड मेडलिस्ट’ किस बात के ‘गोल्ड मेडलिस्ट’हैंं, खुद ही जानेंं। क्या पता ‘तंत्र विद्या’ का भी अपना कोई ‘तंत्र’ हो, जो मेडल बाँटता हो या विशुद्ध से भी विशुद्ध से भी ‘परिशुद्ध’ मेडल देता हो।वैसे यह धंधा किस तरह झूठ और धोखेबाजी पर आधारित है, इसका पता इसी अखबार में छपे दो विज्ञापन देते हैं।
 
एक पंडित दुर्गा प्रसाद का विज्ञापन कहता है- ‘शब्दों के जाल में न फँसेंं।’ एक तांत्रिक ‘उस्ताद मोइन जी सम्राट’ के विज्ञापन की शुरुआत ऐसे होती है-’ ‘तांत्रिक बाबाओं के रूप में बैठे हैं शैतान, फिर कैसे होंगे काम।’ अब ये चेतावनी देनेवाले खुद क्या होंगे, क्या नहीं,कौन जाने लेकिन ये विज्ञापन यह तो बता ही देते हैं कि शब्द जाल बिछाकर शैतानी हरकत करने वाले बहुत हैं बल्कि यह पूरा धंधा ही इस पर निर्भर है। वैसे खुद अखबार वाले विज्ञापन के अंत में अंग्रेजी में सूचना देते हैं कि ये वर्गीकृत विज्ञापन तथ्यों में जाए बगैर प्रकाशित किए जाते हैं और इनके दावों के लिए अखबार जिम्मेदार नहीं है। (23 दिसंबर, 2014 को लिखित)
(हाल ही में अनुज्ञा बुक्स से प्रकाशित ‘एक नास्तिक का धार्मिक रोजनामचा’ से।)


21-Aug-2020 4:51 PM

-विष्णु नागर 
बिहार और पश्चिम बंगाल में अक्टूबर में चुनाव होने के आसार हैं।ऐसे समय में 'मैला आँचल और' परती : परिकथा' जैसी बड़ी रचनाओं के लेखक फणीश्वरनाथ रेणु के जन्मशताब्दी वर्ष में यह याद करना समीचीन होगा। आज से 48 वर्ष पहले इस अविस्मरणीय लेखक ने भी एक बार विधानसभा चुनाव लड़ने का साहस या कहें कि दुस्साहस किया था। उन्होंने फारबिसगंज विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था और वही हुआ, जो एक निर्दलीय उम्मीदवार के साथ अक्सर होना होता है।
1952 तक वह सोशलिस्ट पार्टी के माध्यम से राजनीति में सक्रिय थे। मजदूर और किसान मोर्चे पर भी वह डटे रहे थे मगर उन्हें जल्दी ही यह समझ में आ गया कि राजनीति में लेखक की स्थिति दूसरे दर्जे की होती है। हर पार्टी का अपना एक 'तबेला' होता है। इसके चारों तरफ दीवारें खींच कर वह अपने 'कमअक्ल' कामरेडों को इधर-उधर आकर्षित होने से बचाती है। उनके अपने ऐसे कड़े अनुभव रहे।एक बार एम एन राय की विचारधारा से जुड़े एक कलाकार के साथ उन्हें देख लिया गया तो अगले दिन पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने उन्हें बुलाया और एमएन राय के विरुद्ध भाषण पिला दिया। अपने एक अच्छे मित्र और कम्युनिस्ट छात्र नेता से वह मिला करते थे। एक बार रामवृक्ष बेनीपुरीजी ने उन्हें देख लिया तो समझाया कि क्यों उन्हें कम्युनिस्टों से बातें नहीं करनी चाहिए। यह भी उन्होंने देखा कि नेता आत्म प्रचार से ऊपर नहीं उठ पाते। यह भी समझ में आया कि दलगत राजनीति में बुद्धिजीवी से भी अपेक्षा रहती है कि वह अपनी बुद्धि गिरवी रख कर पार्टी का काम करे। वहाँ किसी व्यक्ति, किसी गुट का होना भी आवश्यक है। ये सब पाबंदियाँ, तुच्छताएँ उन्हें रास नहीं आ रही थीं। वह 1952 के प्रथम आम चुनाव से पहले ही दलगत राजनीति को विदा कहने का मन बना चुके थे।

इन सब कारणों से उस पार्टी से भी भरोसा उठ गया था, जिसके लिए बरसों उन्होंने लगन से काम किया था मगर उनका विश्वास समाजवादी आदर्शों और जयप्रकाश नारायण में अंत तक बना रहा। वह सक्रिय राजनीति से दूर थे मगर निस्पृह नही थे। वह अपने अनेक उपन्यासों को इसका प्रमाण मानते थे। वह राजनीति के प्रति आभारी थे कि उसने उन्हें गाँव-गाँव जाने का मौका दिया, लोगों को, उनकी संस्कृति और भाषा को जानने का अवसर दिया। बतौर एक लेखक उन्हें बनाया।

पटना में जब एक संवाददाता सम्मेलन में रेणु जी ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ने के अपने निर्णय की घोषणा की और अगले दिन जब यह खबर बिहार के दैनिक समाचार पत्रों में छपी, तब वहां के बुद्धिजीवियों में हलचल सी मची।उन्हें जाननेेवालेे इस फैैसले से चकित थे कि रेणु के सिर पर यह क्या भूत सवार हो गया है। जब राजनीति में थे, तब तो चुनाव लड़ा नहीं, अब क्यों लड़ रहे हैं? जिस पार्टी- पोलिटिक्स से घबरा कर इन्होंने उससे दूरी बनाई थी, उसमें फिर से क्यों पड़ रहे हैं? और चुनाव लड़ना ही था तो किसी पार्टी से टिकट माँगते। इतने बड़े लेखक को कोई भी पार्टी टिकट दे देती। उन्हें करीब से जानने वाले लोग नामांकन पत्र भरने के बाद से इसे वापिस लेने की आखिरी तारीख तक इंतजार करते रहे कि शायद उनका मन बदल जाए,अपना नामांकन वे वापस ले लें। इस बीच कुछ दलों उन्हें अपना समर्थन देने की पेशकश भी की। रेणु ने ऐसे सभी प्रस्ताव ठुकरा दिए।इस बीच वह पटना से अपने चुनाव क्षेत्र फारबिसगंज में पर्चा दाखिल करने और अपनी उम्मीदवारी का प्रचार करने चले गए।

रेणु ने चुनाव लड़ने के चार बड़े कारण बताए थे। एक तो उनके क्षेत्र में पहली बार राजनीति हिंदू-मुसलमानों को बांटने मेंं सफल हुई थी। इस संघर्ष में बहुत से लोग जख्मी हुए थे। कुछ गिरफ्तारियां हुई थीं, मुकदमे चले थे। गांव के सैकड़ों लोग महीनों कचहरी में परेशान किए गए थे ।एक और घटना ने उन्हें विचलित किया था। उनके गांव में भूख से दो गरीबों की मौत हो गई थी। क्षेत्र के विधायक ने इसे भूख से हुई मौत बताया मगर सरकार ने हमेशा की तरह इससे इनकार किया।इसके बाद उस विधायक ने दूसरी बार इस बारे में अपना मुंह नहीं खोला।दूसरा कारण एम ए तक जिस नौजवान ने सर्वप्रथम स्थान प्राप्त किया था, उसे कहीं नौकरी नहीं मिल रही थी। चुने हुए प्रत्याशियों में उसका नाम पहले स्थान पर होते हुए भी उसे नौकरी नहीं दी जाती थी। रेणु के यह सलाह देने पर कि उसे क्षेत्र के विधायक और सांसद से इस बारे में मिलने चाहिए। उसका जवाब था कि इनकी वजह से ही यह सब हो रहा है। गुस्से में आकर उसने रेणु को भी नहीं बख्शा। उसने कहा कि आप जैसे लोग राजनीति से निर्विकार हो गए, उसी कारण यह सब हो रहा है। उनके क्षेत्र में 14 निरपराध आदिवासी संथाल मार मार दिए गए थे। इसके बाद उन्हें लगा कि अब भी वह कुछ नहीं करते तो वे अपनी ही निगाह में गिर जाएँगे।

नामांकन भरने के बाद रेणु ने फैसला किया कि वह अपने इलाके के कई प्रमुख स्थानों के लोगों को बुलाकर उनसे अपनी उम्मीदवारी के बारे में उनकी राय जानने की कोशिश करेंगे। अगर वे उन्हें अपने प्रतिनिधि के योग्य न समझेंं तो वह अपना नामांकन वापस ले लेंगे। इस सिलसिले में चार गोष्ठियों के बाद उन्हें विश्वास हुआ कि उन्हें चुनाव लड़ना चाहिए।जो लोग बोलने आए थे,उनमें कुछ उनके उपन्यासों के वास्तविक पात्र थे, जो उस समय जीवित थे। लाठी, पैसे और जाति की ताकत के बल पर चुनाव जीते जाते थे और रेणु का यह प्रयास था कि इनके बगैर चुनाव लड़कर दुनिया को दिखाया जाए। समाज और तंत्र में प्रवेश करती हुई इन विकृतियों से लड़कर देखा जाए। वह अपनी चुनाव सभाओं में दिनकर, अज्ञेय, शमशेर बहादुर सिंह, सुमित्रा नंदन पंत और रघुवीर सहाय की कविताएं उदृत करते थे। उनका कहना था कि अपने क्षेत्र के साधारण जन के सुख -दुख में सक्रिय रूप से हाथ बँटाने के लिए, अपने लोगों की समस्याओं को मुक्त कंठ से प्रस्तुत करने के लिए वह चुनाव लड़ रहे हैं। समाधान तो सरकार ही कर सकती है लेकिन वह इन समस्याओं को सरकार के सामने रखेंगे और कभी चैन से नहीं बैठेंगे। अकेला और निर्दलीय होने के कारण उनकी आवाज कोई बंद नहीं कर पाएगा।

वैसे तो चुनाव लड़ते समय ही यह स्पष्ट हो गया था कि वह जीतेंगे नहीं लेकिन उस समय लिए गए साक्षात्कारों में जाहिर है कि उन्होंने यह नहींं कहा।जिस समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधि उनके घर आकर अपनी पार्टी के समर्थन उन्हें देने की पर्ची लिखकर छोड़ गया था, वही उनके खिलाफ खड़ा हुआ था।
चुनाव की डुगडुगी बजते ही आदमी किस तरह बदल जाता है, इसका अनुभव उन्हें चुनाव के दौरान हुआ। वह कहते हैं, आप चिनियाबादाम (मूँगफली) वाले से बात कीजिए, आप उससे चिनियाबादाम ले लीजिए लेकिन वो वोट आपको देगा या नहीं देगा, इसके बारे में वह एकदम चुप रहेगा। उनके बारे में यह भी कहा जाने लगा था कि इनकी तो कोई पार्टी नहीं है और अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता। उनके विरोधियों ने नारा लगाया कि बड़े हैं, पद्मश्री टाइटल वाले लेखक हैं लेकिन विधानसभा में जाकर क्या करेंगे? रेणु कहते थे कि भाई एक गरीब आदमी- जिसका नाम वोटर लिस्ट में लिखा हुआ है-वह चुनाव लड़ सकता है या नहीं, यह देखने के लिए मैं खड़ा हुआ हूं। लोगों ने कहा,वैसे खयाल तो बहुत अच्छा है आपका। देखते हैंँ।उनमें कुछ दूर की कौड़ी जाने वाले भी थे। उन्होंने कहा कि यह किताब लिखने के लिए आया है तो इसे वोट देकर क्या होगा?

और जिस दिन वोट पड़े ,उस दिन देखा कि मधुबनी में जो प्रयोग छोटे पैमाने पर हुआ था, वह वहां व्यापक रूप से हो रहा है। गांव-गांव लोग वोट देने जा रहे हैं और खाली वापस आ रहे हैं क्योंकि लाठी लेकर वहाँ गुंडे खड़े हैंं।रेणु को कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार से भी कम वोट मिले।

तब उन्हें लगा था कि नहीं ये लड़के ठीक कहते हैं कि चेंज बैलट के जरिए नहीं होगा। बैलट की डेमोक्रेसी भ्रमजाल है। तब जो निराशा बढ़ी,उसकी तुलना वह प्रेम में असफल हुए उस व्यक्ति से करते हैं,जो कविता करने लगता है।' राजनीति में असफल होकर मैं उपन्यास लिखने लगा लेकिन चुनाव हारने के बाद मैं क्या करूंगा? चुनाव हारने वाला व्यक्ति घर में बीवी तक की निगाह में गिर जाता है। थोड़ा कर्ज उन पर चढ़ गया था।लोगों ने कहा कि चुनाव में अनुभव पर लिखो तो उन्होंने कहा कि मेरा चुनाव चिन्ह नाव था,इसलिए कागज की नाव शीर्षक से एक रिपोर्ताज लिखूंगा लेकिन लगा कि अब कलम छूने का अधिकार उन्हें नहीं है। अगर कुछ थामना है तो दो ही चीजें थाम सकते हैं या तो बंदूक या कलेजा। अब कलेजा थाम कर बैठो।अब कहीं से कुछ नहीं होने वाला,हालांकि बिहार आंदोलन में फिर उन्हें रोशनी दिखी और वह इसके अटूट हिस्से बन गए।


12-Aug-2020 12:54 PM

-विष्णु नागर

‘शुक्रवार’ समाचार साप्ताहिक के संपादक बनने का प्रस्ताव तब आया, जब कादम्बिनी तथा नई दुनिया के बाद मैं घर बैठा था और उम्मीद नहीं थी कि अब कुछ नया करने का अवसर मिलनेवाला है। तभी 2011 के शुरू में-जब मैं चैन्नई कुछ दिनों के लिए गया था मुझे इसके संपादक बनने का प्रस्ताव आया और कहा गया कि मैं जल्दी आऊँ। कारण शायद मौजूदा संपादक को हटाना था, इसलिए यह आपरेशन उन्होंने गुपचुप ढँग से चलाया। मुझे सौदेबाजी करना नहीं आता मगर ठीकठाक प्रस्ताव था, हालांकि इससे पहले जो मिल रहा था, उससे कम था मगर इस बीच मैं घर भी तो बैठा था और एक नई चुनौती भी सामने थी। इसके अलावा शरद दत्त जैसे शुभचिंतक भी बीच में थे, तो मैं तैयार हो गया। तैयार तो हो गया मगर जैसी धुकधुकी ‘कादम्बिनी’ का कार्यभार संभालने के समय थी कि पता नहीं कुछ कर पाऊँगा या नहीं,वैसी ही इस समय भी थी। दैनिक अखबारों में उपसंपादक से लेकर विशेष संवाददाता तक का काम जरूर किया था मगर एक समाचार साप्ताहिक के संपादन की अपनी चुनौतियाँ होती हैं, जिसका किसी भी तरह का कोई पूर्व अनुभव नहीं था। 

इधर समाचार साप्ताहिकों का आकर्षण भी कम होता जा रहा था और इंडिया टुडे गु्रप के हिंदी समाचार साप्ताहिक भी एक बड़ी चुनौती था। उनके पास विशाल और जमाजमाया नेटवर्क था। इनके पास भी अपना एक नेटवर्क तो था मगर इंडिया टुडे के मुकाबले कुछ भी नहीं। फर्क यह था कि इंडिया टुडे समूह पत्र पत्रिकाओं के धंधे में ही है और ये एक बिल्डर का साप्ताहिक था। आर्थिक उदारीकरण के बाद के वर्षों में बिल्डरों ने खूब अनापशनाप कमाया था और वे अपना राजनीतिक रसूख बढ़ाने के लिए पत्र- पत्रिकाएँँ निकाल रहे थे। बहरहाल एक बात कहूँ कि यहाँ इस दौरान ऐसा कोई दबाव नहीं आया, सिवाय इसके कि उसकी अपनी कंपनियों के बारे में कुछ सकारात्मक न छपे तो नकारात्मक भी न छपे।वैसे एक दो बार नकारात्मक छप भी गया था।

पिछले संपादक के समय ‘शुक्रवार’ के मालिकान हर तरह के संसाधनों पर काफी खर्च कर चुके थे मगर नतीजा कुछ खास नहीं नहींं निकला था। तो मुझसे वायदे तो बहुत कुछ किए गए थे मगर जमीन पर प्रचार -प्रसार के लिए कुछ खास किया नहीं गया। विज्ञापन और प्रसार में जो निचले पदों पर लोग थे, उनका वेतन बहुत कम था, इसलिए उनमें उत्साह भी अधिक नहीं था। इस बीच आफिस से काम के नाम पर बाहर जाकर कुछ चतुर सुजान कोई और काम भी करते थे। कुछेक प्रभावशाली मैनेजर के मुँह लगे भी थे। उन्हें डाँटने वगैरह का, उनके साथ बैठकें करने का कोई खास लाभ नहीं था। वेतन कम था तो बड़े अधिकारियों से मिलने का उनका साहस भी कम था। खैर फिर भी एक नेटवर्क था और उसी सीमा में रह कर काम करना था।कुछ कहने- सुनने का थोड़ा नतीजा निकलता था- कभी-कभी। कभी निदेशक-प्रबंधक गोलीबाजी भी किया करते थे।

तय यह किया और मेरी जिम्मेदारी भी यही थी कि जो भी कर सकता हूँ, पत्रिका के संपादन में जो भी बेहतरी कर सकता हूँ, उसी पर केंद्रित करूँ मगर जब कई जगहों से यह सूचना आती थी कि गुरुवार या शुक्रवार को बाजार में आने के तीन या चार दिन में ही प्रतियाँ समाप्त हो जाती हैं, पूरे सप्ताह अंक बाजार में नहीं मिलता तो मन दुखता था। कापी बढ़ाने की बात का असर नहीं होता था।

पहली बैठक में मैंने संवाददाताओं-संपादन विभाग के सहकर्मियों से कहा कि कुछ पुराने अंक देख कर लगता है कि यहाँ हर आदमी संपादकीय लिख रहा है। मित्रो, संपादकीय लिखने के लिए मालिकों ने मुझे नियुक्त किया है। आपको संपादकीय नहीं लिखना है बल्कि रिपोर्ट और विश्लेषण लिखना है। जहाँ भेजा जाए या जहाँ जाने का आपका प्रस्ताव मुझे उचित लगे, वहाँ आपको रिपोर्टिग करना है। पुरानी आदत से जूझने में थोड़ा वक्त उन्हें लगा, जो स्वाभाविक था। रिपोर्टर दफ्तर से बाहर जाने लगे। मैं चूँकि। घर से कई अखबार देखकर आता था, इसलिए बैठक में जो भी विषय, तय होता था, उससे संबंधित सहायक सामग्री कहाँ किस अखबार के किस पृष्ठ पर उपलब्ध है, यह एक पर्ची पर लिखकर उनमें हफ्ते भर बँटवाता रहता था, ताकि किसी तथ्य से वे वंचित न रहें। सारे पक्ष सामने आएँ।

संपादन में भी कठोरता बरतनी होती थी। काफी काट-छाँट करनी होती थी, कुछ छूट गई बातें जोडऩा भी होता था। कुछ पुनर्लेखन भी करना होता था। कोई कापी मेरी नजर से गुजरे बगैर नहीं जा सकती थी। अपने संपादकीय में भी मैं बार बार परिवर्तन-संशोधन करता था। बाहर से काफी सामग्री भी मँगवाता था। कुछ तो पूर्व परिचित थे और कुछ लोग समय के साथ लगातार जुड़ते गए और ऐसी-ऐसी रिपोर्टें तथा आलेख भेजने लगे, जिन्हें कहीं और पाना कठिन था। कविता-कहानी हो या रिपोर्टों की मेरे पास कमी नहीं रही कभी बल्कि अधिकता ही रही। साथियों में भी उत्साह था। अच्छा काम करनेवालों की अच्छी वेतन वृद्धि भी मिलती थी। ‘शुक्रवार’ के नाम से उनकी एक पहचान बन रही थी।हिंदी के अधिक से अधिक लेखकों को जोडऩे का प्रयास रहा।उनका सहयोग भी लगातार मिलता रहा।

साप्ताहिक समाचार पत्रिका का संपादन सचमुच एक बड़ी चुनौती है। सप्ताह के आरंभ मेंं जो दृश्य होता है, वह साप्ताहिक के आखिरी कुछ पृष्ठों के प्रेस में जाने तक काफी कुछ बदल चुका होता है।जो सोचा नहीं था, वह सामने आ जाता है और उसी सप्ताह उसका जाना भी जरूरी होता है। कई बार पहले से तैयार कवर स्टोरी बदलनी पड़ती है-एकदम आखिरी मौके पर। प्रेस में जाने तक धुकधुकी रहती थी कि स्टोरी में कुछ जरूरी छूट न जाए। अंत- अंंत तक खबरों पर नजर रखना होता था। मैंने किसी दैनिक का संपादन तो नहीं किया मगर हर घंटे बदलती-बनती खबरों के बीच समाचार साप्ताहिक की चुनौतियाँँ शायद बड़ी होती हैं।

फिर कवर स्टोरी तथा दूसरी स्टोरी सबसे अलग भी हो, सामग्री हर तरह के पाठकों के लिए हो, इस तरफ भी ध्यान रखना होता था। मैं वहाँ था तो साहित्य अच्छा छपे, इसकी भी सबको अपेक्षा रहती थी। फिर मैंने वार्षिक अंक निकालने की भी योजना बनाई थी। मालिकों को उस पर भी काफी खर्च करना होता था। उसका पाठकों में सम्मान बना रहे और आर्थिक घाटे से भी संस्था को बचाया जाए, ताकि निरंतरता बनी रहे, यह चुनौती भी थी।

बहुत काम था और बहुत समर्पण माँगता था मगर यह सब करने में आनंद भी आता था।ऊब और थकावट नहीं होती थी। सहयोगी पहले से थे, उनमें से अधिकांश बहुत अच्छे थे। रईस अहमद लाली मेरे मुख्य सहयोगी थे। वे पूरे समर्पण से काम करते थे। व्यक्ति और इनसान के रूप में भी वह बेहतरीन हैं। उनसे कहा कोई काम रह जाए, यह हो नहीं सकता था। अशोक कुमार इंडिया टुडे से अवकाश के बाद हमारे साथ आ गए थे। उनसे उनकी जिम्मेदारियों के अलावा लिखवाता भी था। उन्हें समय लगता था मगर लिखते अच्छा थे। लिखवाता वैसे सभी सहयोगियों से था। लालीजी से तो अंतिम क्षण में भी लिखवाया है। नरेन्द्र वर्मा और मधुकर मिश्र भी काफी मेहनत करके कुछ नया लाते थे।आरंभिक कठिनाइयों के बाद पूजा मल्होत्रा बहुत साहसिक रिपोर्टर साबित हुई। कहीं जाने में उन्हें डर नहीं। चिंता मुझे होती थी कि दिल्ली के माहौल में उनके साथ कुछ हो न जाए मगर कोई कोशिश करता भी था तो उस आदमी की शामत आ जाती थी। सगीर किरमानी लिखते तो उम्दा थे ही, शराफत में भी लाजवाब हैं। मेरे सचिव वसीम अहमद भी मेहनती थे। वीरेन्द्र शर्मा को खेल जगत में महारत हासिल थी।

कला विभाग के प्रमुख प्रफुल्ल पलसुलेदेसाई को मैंने अपना काम अपनी तरह करने की पूरी छूट दी थी और उन्होंने कभी निराश नहीं किया। हाँ कवर पर क्या कैसे जाएगा, इसमें मेरा हस्तक्षेप आवश्यक था और मैं करता भी था। हाँ एक और निर्देश था कि पृष्ठों की सजावट हो मगर सामग्री की हत्या की कीमत पर नहीं। इस तरह कोई नहीं था, जिसका सहयोग नहीं मिला, चाहे पहले से नियुक्त लोग या स्वतंत्र मिश्र जैसे मेरे बाद जुड़े लोग। वह रिपोर्टिंग भी करते थे, लिखते भी थे। जो सहयोग साथियों का यहाँ मिला, वह पहले कहीं नहीं।

बीच में प्रबंधन के साथ समस्याएँ आती भी थीं और सुलझती भी थीं वरना इस्तीफा देने के लिए तो मैं हमेशा तैयार रहता ही था। अंत तक आते-आते बिल्डर की आमदनी के स्रोत सूखने लगे थे। उनकी कुछ अन्य कंपनियों की गड़बडिय़ाँ सामने आने लगी थीं। अब साप्ताहिक को पाक्षिक बनाने की बात होने लगी थी। बहुतों को रास्ता दिखाने का दबाव आने लगा था, बाहर से लिखनेवालों से न लिखवाने या भुगतान न करने पर जोर दिया जाने लगा था। फिर एक मैनेजर का घमंड भी बहुत बढ़ चुका था। अप्रैल, 2014 के एक मंगलवार की एक शाम काम खत्म करने के बाद निदेशक केसर सिंह से कहा कि अब यहाँँ मेरा रहना कठिन है। इस्तीफा दिया और चला आया। स्टाफ के किसी सदस्य को भी नहीं बताया। जब वे एक दिन के अवकाश के बाद लौटे और शाम तक उसी संस्थान में कार्यरत एक सज्जन आए और स्टाफ को बताया कि आज से वे संपादक हैं। उसी दिन शाम को सारा संपादकीय स्टाफ घर आया और उनके साथ चाय पीने का आनंद उठाया। आज भी छह साल बाद भी कई पुराने साथी भी संपर्क में रहते हैं और मैं भी उनसे संपर्क रखता हूँ।किसी और का अच्छा लिखा छापने का भी रचनात्मक सुख कम नहीं है, शायद अपने लिखे को छापने-छपवाने से ज्यादा।

सही समय पर सही निर्णय हो गया।जिस साप्ताहिक को कुछ बना पाया था, उसी की लाश मैंने अपने कंधों पर नहीं ढोई। अगले कुछ महीनों में उस संस्था के टीवी चैनल समेत सभी काम ठप्प हो गए। वैसे भी मोदी सरकार आ चुकी थी। ज्यादा स्वतंत्रता के साथ काम करना संभव नहीं रह जाने वाला था।
बहरहाल वे सवा तीन वर्ष कुल मिला कर अच्छे बीते। इस बीच जो तीन वार्षिकांक निकले, उनका भी अच्छा स्वागत हुआ। कुछ तो अब भी उन अंकों को याद करते हैं, तो अच्छा लगता है।


05-Aug-2020 3:30 PM

-विष्णु नागर

आज लालकृष्ण आडवाणी भी मस्त हैं और मोदीजी की तो आज की मस्ती लाजवाब है।आडवाणी जी गए नहीं या बुलाए नहीं गए अयोध्या मगर वे आज के दिन का पूरा श्रेय मोदी जी को कैसे लूट लेने देते,जो हर श्रेय लूट लेने की कला में पारंगत हैं और हर दोष जवाहरलाल नेहरू पर थोप देने की कला में अद्वितीय! तो माननीय आडवाणी जी ने श्रेय का बड़ा हिस्सा अपने पास रखने के लिए आज के दिन को ऐतिहासिक और भावपूर्ण दिन बताया है और इस दिन को लाने में अपनी भूमिका को रेखांकित किया है। वह जानते हैं कि मोदी का क्या भरोसा, अपने एक-डेढ़ घंटे के भाषण में आडवाणी का नाम तक न ले! तो बेचारे ने सोचा अपना विज्ञापन स्वयं ही करना पड़ेगा वरना ये ऐतिहासिक दिन,ऐतिहासिक दिन करेगा मगर मेरा नाम तक ये ‘इतिहास’ से गायब कर देगा। आखिर चेला भी तो मेरा ही है! गर्व से कहोगे आडवाणीजी, मोदी मेरा चेला है। कह दो बस एक बार।

माननीय आडवाणीजी, मोदीभक्तों के अलावा सबको मालूम है कि आपके नेतृत्व में और आपकी उकसावे वाली रामरथ यात्रा ने ही बाबरी मस्जिद को ढहाने का कुकृत्य किया था।यह आप ही थे महाशय, जिसने मस्जिद को ढहाने की वैधता स्थापित करने के लिए उसे ढाँचा बताया था, मुसलमानों के तुष्टिकरण, छद्म धर्मनिरपेक्षता, हिंदुओं के आत्माभिमान को आहत करने का दोष मढ़ा था। आप ही ने मुसलमानों के लिए मोहम्मदी हिन्दू शब्द प्रचलित करने का प्रयास किया था, जो सफल नहीं रहा।

और आप क्यों याद दिलाएँगे कि आपकी इस यात्रा ने कैसा भयंकर सांप्रदायिक विद्वेष फैलाया था और यह भी आपको कैसे याद रहेगा कि मस्जिद ढहाने के बाद कई महीनों तक सांप्रदायिक हिंसा फैली थी, उसमें कम से कम दो हजार लोगों की जानें चली गई थीं। वे जानें भी उतनी ही कीमती थीं, जितनी आपकी और मोदीजी की जान है। और आज तक वह जहर है और बढ़ता जा रहा है।कार्बनडाई आक्साइड इतनी फैल चुकी है कि साँस लेना मुश्किल है। यह आपकी का उपहार है बुजुर्गवार!

यह प्रधानमंत्री भी देश को दी गई आपकी ही भेंट है, जो आपके नमस्कार का जवाब तक नहीं देता।वह उतना भी सम्मान आपकी बुजुर्गीयत का नहीं करता, जितना कांग्रेस किया करती थी।

तो आडवाणीजी आप खुश हैं और आप बुजुर्ग हैं मगर मैं मानता हूँ कि अगर आप भी आज प्रधानमंत्री होते तो शायद वर्तमान वाले से बेहतर नहीं होते। बस ये है कि आप इतिहास के कूड़ेदान में अपनों द्वारा ही आपके जीवित रहते ही फेंक दिए गए हैं और आपके शिष्य को अभी इसमें समय लगेगा। धन्यवाद और आभार कि आप खुश हैं और आपकी खुशी ने आपकी भूमिका की याद और ताजा कर दी है।


31-Jul-2020 12:04 PM

-विष्णु नागर

प्रधानमंत्री बीच- बीच में कुछ अच्छे काम भी करते रहते हैं, जिन पर उनके आलोचकों की दृष्टि नहीं जाती।कोरोना की वजह से ही सही प्रधानमंत्री इस बीच विदेश तो गए ही नहीं, देश में भी एक जगह गये पश्चिम बंगाल के बाढग़्रस्त क्षेत्रों का दौरा करने। असम और बिहार की बाढ़ देखने भी नहीं गए। सोचा होगा सारी बाढ़ें एक जैसी होती हैं। इनमें कोई सेंसेशन नहीं है। छड्डो जी, वेख कर भी की होणा ए। अब कोरोना के आगमन के बाद पहली बार वह विशिष्ट जनता के बीच जाएँगे -अयोध्या में रामलला का मंदिर बनवाने- खतरा उठाते हुए।भगवान राम के लिए वह स्वास्थ्य तो क्या जीवन भी बलिदान कर सकते हैं।

इस बीच प्रधानमंत्री ने कहीं न जाकर देश का सैकड़ों करोड़ रुपया बचाया है, इसकी प्रशंसा की जानी चाहिए थी मगर उनके मंत्रियों तक ने ऐसा नहीं किया तो विरोधियों से ही क्या अपेक्षा रखना! राहुल गाँधी से तो बिल्कुल ही नहीं। शायद मैं पहला व्यक्ति हूँँ, जो इसकी प्रशंसा करने की हिम्मत कर रहा है। शाबाश पट्ठे विष्णु नागर। इसके बावजूद मुझे मालूम है कि इसके लिए मेरी तारीफ स्वयं मोदीजी तो क्या, उनका कोई चंगूमंगू भी नहीं करेगा मगर कोई बात नहीं। अब आदत सी हो गई है इस सबकी। कोरोना की तरह, यह भी एक मजबूरी है। चलिए फिर भी अपन ने अपना धर्म निभा दिया। ऊपरवाले मेरी तरफ से आँख मत मीच लेना, याद रखना मेरे इस योगदान को।

अब मोदीजी का दूसरा अच्छा काम। इधर राममंदिर बन रहा है, उधर पाँच राफेल लड़ाकू विमान भी धूमधाम से भारत पधार गए हैं।मुझे खुशी होती अगर प्रधानमंत्री स्वयं उनका स्वागत करने जाते। नहीं गए, यह मेरे खयाल से गलत हुआ। पर वे प्रधानमंत्री हैं, गलती भी वही करेंगे, उनकी तरफ से मैं तो नहीं कर सकता! एलाऊ भी नहीं है। यह उनका अधिकार क्षेत्र है। राफेल में परमाणु हथियार ले जाने की क्षमता भी है। यानी मोदीजी, भगवान के भरोसे भी हैं और राफेल के भरोसे भी। इसे यूँ भी कह सकते हैं कि उन्हें भगवान से अधिक भरोसा राफेल पर है। प्रशंसक बताते हैं कि इससे बढिय़ा लड़ाकू विमान पाकिस्तान तो क्या चीन के पास भी नहीं है। इसका नाम सुनते ही चीन के होश उड़ गए हैं तो पाकिस्तान का हाल क्या हुआ होगा, आप समझ ही सकते हैं। मोदीजी और गोदी चैनलों के एंकर-एंकरानियाँ, इस पर तो होना चय्ये बल्ले-बल्ले। घर-घर दिए जलने चय्ये थे मगर लोग भी गलती कर रहे हैं। यथा राजा, तथा प्रजा।

वैसे अब ये सब क्या याद करना गलत है कि मनमोहन सरकार 126 राफेल विमानों का सौदा कर रही थी और मोदीजी 36 से ही संतुष्ट कैसे हो गए, यह सीक्रेट है। वैसे कहते हैं, संतोषी सदा सुखी।इस बहाने एक कंगाल उद्योगपति की भी मदद हो गई, अच्छी बात है। वैसे भी मोदीजी को बैंकों को कंगाल करनेवाले मगर खुद संपन्न होकर विदेश भाग जानेवाले उद्योगपतियों को ज्यादा पसंद करते हैं।

ऐसों पर भी वह कृपा करते हैं, जो देशभक्त रहे, लूट कर भागे नहीं। कायर नहीं थे। और ऐसों पर तो उन्हें विशेष कृपा करना चाहिए, जो भागे नहीं मगर देशी-विदेशी बैंकों का पैसा जीम कर यहीं बैठे हैं। वैसे मोदीजी की दयालुता विश्व प्रसिद्ध है। सुना है कि अब यह ब्रह्मांड प्रसिद्ध भी होने जा रही है।इससे भारत का गौरव बहुत बढ़ेगा।इस पर सभी भारतीयों को गर्व होना चाहिए और इसकी अभिव्यक्ति भी गीत, संगीत, नृत्य, कविता, फिल्मों आदि माध्यमों से होना चाहिए।मेरा काम सुझाव देना था, दे दिया। बाकी आपकी इच्छा।मैं अवसर के अनुकूल कविता नहीं लिख पाता हूँ। इस मामले में मैं दिव्यांग हूँ वरना मैं भी पीछे रहनेवालों में नहीं हूँ।

राममंदिर पर तो उत्साह का इजहार मैं पिछले ही हफ्ते कर चुका था। अब फिर से करना चाहता था मगर इस बीच मन पर उदासी की छाया पड़ चुकी है। पता चला कि आडवाणी जी के भगीरथ प्रयत्नों से जो बाबरी मस्जिद गिराई गई थी और दंगे हुए थे (या कराए गए थे), उसके 18 साल बाद जिस मंदिर का शिलान्यास मोदीजी करने जा रहे हैं, वह भव्य तो होगा मगर इतना भव्य भी नहीं होगा कि विश्व का सबसे भव्य और दिव्य मंदिर कहलाने की योग्यता पा सके। और तो और भारत का भी सबसे भव्य-दिव्य कहला सके, इस काबिल भी नहीं हो सकेगा। यह विश्व का पाँचवा और भारत का दूसरा बड़ा मंदिर होगा। सुना है कि यह सुनकर मोदीजी के प्रति भक्तों का विश्वास डोलने लगा है।वे कह रहे हैं, अच्छा हुआ, हमें नहीं बुलाया गया वरना मोदीजी को तो अपनी बदनामी की परवाह नहीं मगर हमें तो अपनी इज्ज़त की परवाह है! खत्म होने दो कोरोना संकट, विरोधस्वरूप अब हम स्वयंसेवक अंगकोरवाट मंदिर जाएँगे, अयोध्या नहीं। उनकी इस बात से तो मैं भी इत्तफाक रखता हूँ और मैंने भी अटैची तैयार रखी है।मैं भी वहीं जाऊँगा।

डिसकस तो मोदीजी की अन्य उपलब्धियों को भी करना चाहता था मगर बहते आँसुओं के बीच मुझसे लिखा नहीं जा रहा। वैसे जाते -जाते इतना कह दूँ कि मोदीजी ने कोरोना को ‘‘जन आंदोलन’’ बना कर अच्छा किया। इस कारण ही शायद रोज पचास हजार लोग इसकी चपेट में रहे हैं। ‘जनांदोलन’ बनाए बिना यह संभव नहीं था। यह भी कमाल है कि उन्होंने अपने बंगले में बैठे- बैठै इसे ‘जनांदोलन’ बना दिया!


26-Jul-2020 5:23 PM

विष्णु नगर 

वैसे तो भगवान श्री राम की किरपा से सभी कुछ बहुत ठीक है।बस यहाँ मंदिरों की कमी अब बहुत खलने लगी है। भव्य मंदिर तो पूरे देश में एक भी नहीं और भगवान श्री राम का तो अखंड भारत में भी नहीं।अयोध्या तक में भव्य तो छोड़ो,टपरिया वाला मंदिर भी नहीं है।ऐसे में अतीव प्रसन्नता की बात है कि अब माननीय प्रधानमंत्री 32 सेकंड के अत्यंत शुभ अभिजीत मुहूर्त में उसकी आधारशिला रखने जा रहे हैंं ,जो अगले आम चुनाव से ठीक पहले तैयार हो जाएगा और मोदी जी द्वारा एक नायाब तोहफे के रूप में राष्ट्र को समर्पित कर दिया जाएगा।ताली।भगवान श्रीराम की जय।मोदी जिंदाबाद।

यह सही है कि इस देश में सरकारी स्कूल भी बहुत हैं,कालेज तो खैर बहुत हैं ही।शिक्षा का आलम यह है कि वहाँ से हर छात्र मोदीजी की तरह योग्य होकर बाहर आ रहा है। अस्पताल तो प्रधानमंत्री ने एक से एक, बढ़िया से बढ़िया गाँव -गाँव में खुलवा दिए हैं। जनता अब बीमार पड़ना सीख चुकी है,ताकि विश्वस्तरीय चिकित्सा सेवा को सफल बनाने में अपना विनम्र योगदान देकर भारत की कीर्ति चहुंओर फैला सके।खेतों में बारह महीने फसलें लहराने लगी हैं। किसान काट- काट कर परेशान भी हैं और खुशहाल भी।फसलों का न्यूनतम क्या अधिकतम मूल्य उन्हें मिल रहा है।कारखानों के मजदूर कमा- कमा कर मोटे और शक्तिशाली हो रहे हैं। इतना अधिक उत्पादन हो रहा है कि चीन-अमेरिका और यूरोप के देश भी हीनभावना से ग्रस्त हो गए हैं।सब तरफ इंडिया का यानी मोदी जी का डंका बज रहा है बल्कि बजानेवाले इतने अधिक हैं कि डंकों का अभाव हो गया है।भारत ने आश्वासन दिया है कि अंबानी-अडाणी प्राइवेट लिमिटेड जल्दी ही डंकों के अभाव की आपूर्ति कर देगी।एक भी प्राणी को डंके के अभाव में मरने नहीं दिया जाएगा।पशु-पक्षी भी माँग करेंगे तो उन्हें भी प्राथमिकता के आधार पर आपूर्ति की जाएगी।एक ही शर्त है कि पेमेंट आनलाइन हो।

इस बीच चीन ने ' मेड इन चाइना ' डंकों की आपूर्ति करने का प्रयास किया था मगर पूरी दुनिया ने इन्हें रिजेक्ट कर दिया।सबने कहा कि जो बात ' न्यू इंडिया ' के मोदी ब्रांड डंके मेंं है, वह शी ब्रांड चीनी डंके में कहाँ! चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग सिर पकड़ कर बैठे गा रहे हैं कि क्या से क्या हो गया बेवफा.. और उन्हें कोई दिलासा दे नहींं रहा।मोदीजी ने ही मानवीयता के नाते उन्हें फोन पर कहा, अब मत करना कभी हमारी जमीन पर कब्जा करने की बदत्तमीजी!करोगे तो घुस के मारूँगा समझे लल्लू! ।फौरन पाँच सेकंड में हमारी जमीन खाली कर दो।नो चूँँ -चाँ।आराम से बैठोगे तो तुम्हारे डंकों पर 'मेड इन इंडिया' की मोहर लगवाकर दुनिया भर में सप्लाई करवा दूँगा।मंजूर हो तो बात करो।उसका नाम मगर मोदी डंका रखना पड़ेगा,वरना तुम जानते हो मुझे।

उधर शी जिनपिंग का इतना बुरा हाल है,इधर भारत सॉरी ' न्यू इंडिया ' में सब तरफ समृद्धि का आलम है।भूख- बीमारी की तो अब याद भी नहीं आती।कोरोना तो लंगोट छोड़कर भाग चुका हैै। मोदीजी ने पिछले छह साल में इतना अधिक कर दिया है कि लोग कह रहे हैं,मोदी जी अब और प्रगति नहीं।अब तो आप एक ठो राममंदिर अयोध्या में बनवा दो और आप बनवाओगे तो भव्य से कम तो बनवा ही नहीं सकतेे! अब देखो चीन की मदद से आपने नर्मदा किनारे, गुजरात में सरदार पटेल की कितनी शानदार और भव्य मूर्ति बनवाई है।इतनी भव्य कि इस कोरोना काल में भी विदेशी पर्यटक भारत सरकार से विशेष अनुमति लेकर स्पेशल फ्लाइट से उसे देखने के लिए टूटे पड़ रहे हैं।एकदूसरे के सिर पर पाँव रख कर पटेल साहब की मूर्ति देखने का आनंद ले रहे हैं।कह रहे हैं कि कोरोना-फोरोना से क्या डरना, अगर जीवन सार्थक करना है तो सरदार पटेल की प्रतिमा देखना जरूरी है। इसके बाद जान भी चली जाए तो वांदा नहीं।रोज दो- चार विदेशी इस भगदड़ में मृत्यु को प्राप्त होकर स्वर्ग का सुख भोगने के लिए धरा से प्रयाण कर रहे हैं मगर किसी को कोई शिकायत नहीं। इस कारण सभी भारतीयों को तो छोड़ो,गुजरातियों तक का वहाँ नंबर नहीं आ रहा है मगर नो प्राब्लम।डालर अतिथि देवो भव।

इधर आप भव्य संसद भवन भी बनवा रहे हो।आपके होते हुए कंगाली भी भव्यता के आड़े नहीं आ सकती।आपकी प्रतिज्ञा है कि इधर संसदीय व्यवस्था को मटियामेट करूँगा,उधर संसद भवन को भव्य बनवाऊँगा। क्या दूरदृष्टि है, क्या पक्का इरादा है! ब्रहमा, विष्णु, महेश सब आपकी अभ्यर्थना कर रहे हैं। पृथ्वी नामक ग्रह पर भारत नामक देश का नाम आपने इतना उज्जवल कर दिया है कि उसकी रोशनी से देवताओं की आँखों चुँधिया रही हैं।उनके अँधे होने का संकट पैदा हो गया है।कृपा करो हे मोदी देव की प्रार्थना वे कर रहे हैं।

तो ऐसे मोदी- राज में एक नहीं,दस करोड़ मंदिर भारत में बनेंगे। एक से एक भव्य और दिव्य। मंदिर ही भारत को जगत गुरु बनाने की असली कुंजी होगी। भारत पहले जगतगुरु था ही इसलिए कि भारत की हर गली,हर कूचे में एक मंदिर हुआ करता था। वह तो विदेशी आक्रांताओं ने सारे ध्वस्त कर दिए और देश में मंदिरों का ऐसा भयंकर अकाल पड़ गया कि लोगों को खेती और उद्योग धंधों में परिश्रम करने को विवश होना पड़ा।अब अयोध्या से नये विश्व गुरू काल का उद्भव हो रहा है। भविष्य में सब वर्णाश्रम धर्म के अनुसार मंदिर की सेवा करेंगे और इस तथा उस जीवन को अर्थवत्ता प्रदान करेंगे।
फिर से तालियाँ।


23-Jul-2020 12:34 PM

-विष्णु नागर

जब रोम जल रहा था और नीरो बंसी बजा रहा था

तो मैंने ही कहा था- ‘वाह-वाह, क्या बात है सम्राट’
जब रोम जल रहा था
और गरीब रोमनों को जलाकर
उन्हें मशालों में तब्दील किया जा रहा था
तो इसके आर्तनाद और चीख के बीच
खाने -पीने का सबसे ज्यादा आनंद
मैंने ही उठाया था
जिसे दो हजार साल बाद भी भूलना मुश्किल है
मैं आज भी सुन रहा हूँ नीरो की बाँसुरी
वही गिलास और वही प्लेट मेरे हाथ में है
वैसा ही है रोशनी का प्रबंध
सम्राट ने अभी पूछा मुझसे : ‘कैसी चल रही है पार्टी
कैसा है प्रबंध, कुछ और पीजिए, कुछ और खाइये’
नीरो मरने के लिए पैदा नहीं होते
न उसकी पार्टी में शामिल होने वाले लोग
अभी कहाँ जला है पूरा रोम
अभी तो मेरा घर भी खाक होना बाकी है
बुझती मशालों की जगह
नई मशालें लाई जा रही हैं
अभी तो पार्टी और भी रंगीन होने वाली है!


22-Jul-2020 1:36 PM

-विष्णु नागर 

एक मित्र ने याद दिलाया कि संसद परिसर में एक बुजुर्ग महिला ने देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का कालर पकड़ कर उनसे पूछा था:' भारत आजाद हो गया, तुम देश के प्रधानमंत्री बन गए, मुझ बुढ़िया को क्या मिला?' नेहरू जी का जवाब था:' आपको ये मिला कि आप प्रधानमंत्री का गिरेबान पकड़ कर खड़ी हैं।'

ऐसी बातें याद मत दिलाया करो मित्रो, रोना आ जाता है। इस युग में बता रहे हो कि आजाद भारत ने इसके नागरिकों को प्रधानमंत्री का गिरेबान पकड़ने तक की आजादी दी है। अब बता रहे हो,जब आज के राजनीतिक शिखर -पुरुष को अपना पुरुषार्थ नेहरू जी के बारे में अल्लमगल्लम झूठ फैलाने में नजर आ रहा है, जब पाठ्यक्रम से भी धर्मनिरपेक्षता गायब की जा रही है। पता नहीं है क्या कि अब यह देशद्रोह की श्रेणी में आता है ! जेल जाना चाहते हो क्या? इस युग में तो अगर कोई सपने में भी प्रधानमंत्री का गिरेबान पकड़ ले तो उसके सपने की स्कैनिंग हो जाएगी और बीच चौराहे पर उसका काम तमाम कर दिया जाएगा और सब उसके वीडियो फुटेज को ' एनज्वाय ' करेंगे।प्रत्यक्षदर्शी उस आदमी की यह हालत होते देख कर हँसेगे, ताली-थाली बजाएँँगे। खुशी से पागल हो जाएँँगे,मिठाई बाँटेंगे ,पटाखे फोड़ेंगे। एक दूसरे के मुँह और सिर पर गुलाल मलेंगे।दिये जलाएँँगे। मोदी जी के जयकारे लगाएँगे, 'जय मोदी हरे' आरती गाएँँगे। और यह सब टीवी चैनलों पर गौरवपूर्वक प्राइम टाइम में दिखाया जाएगा। सिर्फ़ यह नहीं दिखाया जाएगा कि उसकी बीवी दहाड़े मार कर रो रही है, कि उसके बच्चों को समझ में नहीं आ रहा है कि यह आखिर हुआ क्या है,पापा को जमीन पर क्यों लेटाया गया है!इनकी तबीयत खराब है तो इन्हें अस्पताल क्यों नहीं ले जाते? और मृतक की माँँ गश खाकर गिर पड़ी है।

लोग किसी भी तरह के सपना देखने से डरने लगेंगे- चाहे वह 'कौन बनेगा करोड़पति' में सात करोड़ रुपये जीतने का सपना हो!आज अच्छा सपना आया तो कल गिरेबान पकड़नेवाला सपना भी आ सकता है,जैसे उसे आया था! और कोई जरूरी है कि सपना उतना ही भयंकर आए,उससे भयंकर नहीं आएगा!लोग सपने से इतने डरेंगे कि कोई भी सपना आए, लोग रात को उठ बैठेंगे,पसीने -पसीने हो जाएँगे।ईश्वर या अल्लाह से दुआ माँगेंगे कि आइंदा कोई भी सपना न आए। लोग डाक्टर के पास जाएँगे कि डाकसाब ऐसी दवा दो कि नींद आए मगर अच्छे या बुरे सपने न आएँ! सुन कर डाक्टर खुल कर हँसेगा।कहेगा, यही तो मेरी भी समस्या है,मेरी भी बीमारी है,तुमको इसका क्या इलाज बताऊँ!ईश्वर में आस्था रखो,सोने से पहले रात को उसका स्मरण कर लिया करो,मैं भी यही करता हूँ।इसीसे ऊपरवाला बेड़ा पार करेगा तो करेगा वरना मझधार हिम्मत रखो।

मत दिलाया करो इस तरह कि याद बंधु,अब तो आडवाणी भी उनके कंधे पर हाथ रख कर खड़े नहीं हो सकते।वे भी सुरक्षा के लिए खतरा मान लिए जाएँगे और पता नहीं, उनका बाकी जीवन कहाँ और कैसे बीते!

मत रुलाया करो बंधु,मत रुलाया करो।रोने को बहुत कुछ है और अब भी पता नहीं क्यों कोई गाँधी, कोई नेहरू, कोई अंबेडकर, कोई भगत सिंह,कोई लालबहादुर शास्त्री , कोई सीमांत गाँधी,कोई मौलाना आजाद की बातें याद दिला देता है।देखो आजकल 'न्यू इंडिया' बनाया जा रहा है,यह उन सब बातों को भूलने का समय है। बंधु, अतीत में ले जाना बंद करो।ले ही जाना हो तो सभी मुगलों,सभी मुसलमानों के मुँँह पर कालिख पोतने के लिए ले जाओ।ले जाना हो तो इतने पीछे ले जाओ कि सोमनाथ मंदिर तोड़ने का दर्द हरा हो जाए और 2002 का दर्द भूल जाएँ।याद दिलाना हो तो ऐसे तमाम किस्से याद दिलाओ कि हम किस प्रकार उस समय जगद्गुरु थे,जब हमें पता भी नहीं था कि जगत् होता क्या है,हाँ गुरु का पता था!

इस तरह तुम याद दिलाते रहे तो फिर तुम पूरे स्वतंत्रता संघर्ष की याद भी दिलाने लगोगे! मत करो ऐसे उल्टे काम।आज तो वे तुम्हें और हमें शायद माफ कर दें, कल ऐसी याद को वे कानूनन गुनाह घोषित कर देंगे।'झूठ' फैलाने और 'सांप्रदायिक सौहार्द' खत्म करने के आरोप में तुम्हें -हमें अंदर कर देंगे और कोई यानी कोई भी बाहर नहीं ला पाएगा।लोकतंत्र अब हमारे यहाँ बहुत ही अधिक ' विकसित' हो चुका है, बहुत ही ज्यादा।इतना ज्यादा कि दुनिया दाँतों तले ऊँगली दबा रही है और मोदीजी चेतावनी दे रही है कि अरे -अरे, तुम यह क्या कर रहे हो,इतना ' लोकतंत्र ' भी ठीक नहीं है और जरा उस अमित शाह से भी कहो कि गृहमंत्री होकर भी वह क्यों लोकतंत्र का इतना 'विकास' और ' विस्तार ' कर रहा है,क्यों वह आपके और अपने पैरों पर कुल्हाड़ी चला रहा है? रोको उसे और खुद भी रुक जाओ। कदम पीछे की ओर ले जाओ।लोगों को सिखाओ कि पीछे की ओर देखे बिना कदमताल कैसे किया जाता है और इसे देशप्रेम कैसे समझा जाता है!

ये गिरेबान पकड़ने वाली बातें साझा मत किया करो बंधु, और गिरेबान पकड़ने की याद दिलाते हो तो यह बता दिया करो कि ये हकीकत नहीं, किस्से-कहानियाँँ हैं,लोककथाएँ हैं, गप हैं,ये वे सपने हैं,जो तब लोग देख लिया करते थे।ये सच नहीं था।तब भी यही निजाम था,अब भी यही है।आगे भी यही रहेगा।सच अगर कुछ है तो यही है।


22-Jul-2020 1:35 PM

-विष्णु नागर

जिस दिन यह टिप्पणी लिख रहा हूँ उस दिन पता नहीं क्यों सुबह से ही हेमंत कुमार का गाया और बचपन में और विशेषकर स्वतंत्रता दिवस तथा गणतंत्र दिवस पर कई बार सुना यह गाना मन में बारबार गूँजता रहा- ‘इन्साफ की डगर पे बच्चो दिखाओ चल के’। कोई प्रत्यक्ष कारण नहीं है इसका, फिर भी न जाने क्यों मेरे साथ उस दिं ऐसा हुआ। ऐसा भी नहीं है कि इसे पहली बार रेडियो या टीवी पर सुना हो, इसलिए यह मन में गूँज रहा हो। कभी-कभी मेरे साथ ऐसा होता है। कभी मौका मिला तो ऐसी चीजें यू ट्यूब पर सुन लेता हूँ हालांकि उसे कई-कई बार सुनकर भी मन नहीं भरता लेकिन आज इस गाने के मन में गूँजने का कारण क्या यह है कि मैं किसी संयोग से अपने बचपन में लौट आया हूँ? लगता तो नहीं मगर पता नहीं। 1961 में जब दिलीप कुमार-वैजयंती माला की फिल्म ‘गंगा जमुना’ आई थी-जिसका यह गाना है- तब मैं 11 साल का था और मेरे कस्बे में फिल्म का प्रचार करने के लिए स्थानीय अमीन सयानी साहब नई आई फिल्म की खूबियों का बखान करते हुए गली-गली में तांगे में घूमा करते थे। वे थे, तो लगभग अनपढ़ मगर फिल्म के प्रचार का अंदाज उनका इतना जोरदार होता था कि ऐसा हो नहीं सकता था कि उनके प्रचार के बाद कोई सड़ी से सड़ी फिल्म देखने से भी अपने को बचा पाए।

तब पता नहीं था कि यह गाना सुकूनभरी और भरोसा दिलानेवाली आवाज में किसने गाया है और इसे लिखा किसने है, उस उम्र में यह जानने की उत्सुकता भी नहीं होती थी लेकिन शायद हेमंत कुमार की आवाज से भी ज्यादा या यूं कहें कि उनकी आवाज के साथ शकील बदायूंनी के ये बोल बहुत अपील करते थे, इसलिए भी कि यह गाना खासकर बच्चों को संबोधित था। तब स्कूलों में पंडित नेहरू को चाचा नेहरू कहलवाया जाता था और नारा लगवाया जाता था- चाचा नेहरू जिंदाबाद। मुझे तब सचमुच लगता था कि नेहरूजी मेरे चाचा हैं, भले ही मैंने उन्हें दूर से भी कभी देखा नहीं था और शाजापुर जैसे छोटे से पिछड़े कस्बे में उनके आने की कोई उम्मीद भी नहीं थी। जब नेहरूजी नहीं रहे तो पड़ोसी के रेडियो पर उनकी शव यात्रा का वर्णन सुनकर मैं खूब रोया था-शायद किसी नेता के लिए पहली और आखिरी बार। तब लगता था कि जैसे यह गाना नेहरूजी की ओर से हमें दिया गया संदेश है, इसलिए बहुत द्रवित करता था।

अभी-अभी फिर से इसे सुना तो यह गाना फिर से बहुत अच्छा लगा, जबकि पंडित प्रदीप के लिखे और लता मंगेशकर द्वारा गाये जिस गाने को सुनकर नेहरू खूब रोये थे- ‘ओ मेरे वतन के लोगो जरा आँख मे भर लो पानी’ वह गाना न तब मुझे अपील करता था, न अब, जबकि उसी दौरान हुए चीनी हमले के समय मैंने अपने तीन-चार दोस्तों के साथ जूते पालिश करके सेना के जवानों के लिए चंदा जमा करके राष्ट्रीय सुरक्षा कोष में जमा किया था। पिछले न जाने कितने वर्षों से देशभक्ति के बहुत से गीत फालतू लगने लगे हैं। ‘मेरे देश की धरती सोना उगले, उगले हीरा-मोती’ टाइप गीत तो क्षमा कीजिए न तब बर्दाश्त होते थे, न अब। मनोज कुमार ने भावुकताभरी फिल्मी देशभक्ति से नाम बहुत कमाया मगर उनकी सिनेमाई देशभक्ति कभी अच्छी नहीं लगी। उसके बाद भी नकली देशभक्ति का व्यावसायिक उछाल बहुत आता रहा, जिसने चिढ़ को और बढ़ाया ही।

बहरहाल ‘जब इन्साफ की डगर पे’ गीत प्रचलित था, उस दौर में जो बच्चे थे या किशोर थे, उनमें से कई आज इस देश के भाग्यविधाता बने हुए हैं। उस दौर के मोदीजी तो आज देश के प्रधानमंत्री हैं। इन सबने मिलकर देश को जहाँ पहुँचा दिया है, उस जगह पर आकर आज के बच्चों को यह गीत शायद हास्यास्पद ही लगेगा और वे कहेंगे कि क्या पापा (मम्मी) आप बोर कर रहे हो। इस गाने में शकील बदायूं ने नेहरू युग के स्वप्नों, आकांक्षाओं को पिरोया है। इस गीत से पता चलता है कि तब नेता होना गंदी बात नहीं मानी थी, इसीलिए शायद बच्चों से कहा गया है- ‘नेता तुम्हीं हो कल के’। आज तो फिल्मी गानों में भी नेता बनने की बात व्यंग्य में ही कही जा सकती है। आज नेता गली-गली में हैं, उन्होंने डटकर-बेखटके कमाया है, खूब ठाठ हैं उनके, वे चुनाव भी बार-बार जीत जाते हैं मगर जनता के मन में उनके प्रति धेलेभर की भी इज्जत नहीं है। उस दौर के जिन बच्चों से शकील बदायूंनी और हेमंत कुमार ने ‘इन्साफ की डगर पे’ चलने की उम्मीद की थी, उनके लिए जुल्म की डगर पर चलना ही असली इन्साफ है, सच्चाइयों के बल पे आगे बढऩे की जिनसे उम्मीद आशा थी, वे झूठ और बेईमानी का हाथ मजबूती से पकड़ चुके है। जिन्हें संसार को बदलना था, उन्हें संसार ने बदल दिया है पूँजी की सेवा करने के लिए।जिन्हें तनमन की भेंट देकर भारत की लाज बचाना था, वे अपनी इज्जत लुटाने में लगे हैं। अपनों के लिए तो ठीक है मगर परायों के लिए, सबके लिए, न्याय की बात करना उनके लिए असंभव है। इन्सानियत के सर पर इज्जत का ताज नहीं कचरा रखा जा रहा है। बहुत कुछ इस बीच खो गया है, इसलिए इस बीच यह गीत भी खो गया है और इन्साफ की डगर भी।


22-Jul-2020 1:33 PM

विष्णु नागर

अगले साल दिसंबर में सोवियत संघ के पतन और बिखराव के तीन दशक पूरे हो जाएँगे।ऐसा क्यों और कैसे हुआ, इस पर विद्वानों ने बहुत लिखा है और आगे भी लिखेंगे। विद्वत्ता मेरा क्षेत्र नहीं है, इसलिए यहाँ उस विस्तार में जाना मेरा उद्देश्य नहीं। मैं कहना चाहता हूँ कि जो भी हुआ-अच्छा या बुरा-वह तो हो चुका है मगर हम साहित्य के अनौपचारिक विद्यार्थी उसके आज तक बहुत ऋणी हैं। चूँकि सोवियत संघ खत्म हो चुका, उसके खत्म होने का दुनिया में बहुत जश्न भी मनाया जा चुका है, इसलिए उसके एकाध ऋण को भी भूल जाना अनैतिक होगा।उसने इस अर्थ में काफी बड़ा काम किया था कि हमारी अपनी हिंदी और अन्य अनेक भारतीय तथा विदेशी भाषाओं में अपने देश का महान (और विचाराधारात्मक भी)साहित्य विपुलता से उपलब्ध करवाया था।इतना बड़ा काम न पहले किसी और देश ने कभी किया था,न अब कोई कर रहा है।

सोवियत संघ ने हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में यह साहित्य बेहद सस्ते दामों पर और बहुत अच्छे कागज पर उपलब्ध करवाया था। विशेषता यह भी रही कि उसने ये अनुवाद रूसी से सीधे हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में करवाए। बीच में अंग्रेजी को यथासंभव नहीं आने दिया। यही माक्र्स-लेनिन आदि की किताबों के मामले में किया। बाल साहित्य के बारे में भी यही किया। विज्ञान आदि विषयों की पुस्तकों के साथ किया। जो पुस्तकें अंग्रेजी में भी आज तक नहीं आई हैं,उन्हें उसने हिंदी में उपलब्ध करवाया।उदाहरण के लिए मेरा बड़ा बेटा अमेजन पर रसूल हमजातोव का ‘मेरा दागिस्तान’ का अंग्रेजी संस्करण ढूँढ रहा था तो उसे नहीं मिला लेकिन हिंदी की यह लोकप्रिय किताब रही है।

हमारी पीढ़ी और उससे पहले तथा बाद की पीढिय़ाँ इस साहित्य से बहुत लाभान्वित हुई हैं। सोवियत संघ ने ये किताबें कुछ खास शहरों में ही उपलब्ध नहीं करवाई थीं, बल्कि छोटे से छोटे कस्बों में अपनी वैन से हासिल करवाईं। अपने महान साहित्य का प्रसार भी एक राजनीतिक कर्म है, इसे सोवियत नेताओं ने समझा था। यह अलग बात है कि सोवियत संघ का टिका रहना इन किताबों के प्रचार-प्रसार पर निर्भर नहीं था मगर एक राज्य न टिका मगर उसने जो साहित्य हमें उपलब्ध करवाया, वह जरूर टिकाऊ था और आज भी है। उसकी सांस्कृतिक कूटनीति के अन्य सकारात्मक पक्ष भी थे लेकिन वे यहाँ हमारे विषय नहीं। उसने प्रेमचंद आदि बडे लेखकों को रूसी में उपलब्ध करवाया,यह भी एक पक्ष है। हम लोगों की दो- चार कविताओं को भी रूसी के एक संकलन में शामिल किया गया था, आदि।

उस जमाने में तब की महंगाई के हिसाब से हिंदी की किताबें आमतौर पर महंगी थीं, हालांकि उतनी महंगी नहीं थीं, जितनी आज हो चुकी हैंं।उस जमाने में हम जैसों ने ढेर सारी सोवियत किताबें खरीदीं,जो प्रगति प्रकाशन या रादुगा से छप कर आती थीं। अपने बच्चों के लिए भी ये सस्ती और सुंदर किताबें खरीदीं।एक किताब तो मुझे भी बहुत प्रिय थी-‘पापा जब बच्चे थे’।

तोल्सतोय के महाउपन्यास ‘युद्ध और शांति’ से लेकर उनके आरंभिक उपन्यास ‘कज्जाक’ तक और ‘पुनरुत्थान’ तक उपलब्ध हुआ। ‘अन्ना केरनिन्ना’ जैसा उपन्यास न जाने क्यों इनमें नहीं था। इसके अलावा तुर्गनेव, गोगोल, पुश्किन, दास्तोयेव्स्की, गोर्की, चेखव आदि न जाने कितने महान लेखक अक्सर अच्छे अनुवादों में हासिल हुए। ‘पुनरुत्थान’ का अनुवाद तो भीष्म साहनी ने किया था। और भी अच्छे अनुवादक थे।मुनीश सक्सेना,  राजीव सक्सेना, नरोत्तम नागर,मदन लाल मधु आदि।कविताओं के अनुवाद लगभग नहीं हुए या अच्छे नहीं हुए। मसलन ‘मेरा दागिस्तान’ में लेखक की कविताओं के मदनलाल मधु के अनुवाद बेढब हैं।

पत्रकार के नाते हम जैसे पत्रकारों का एक भला सोवियत संघ ने किया कि उसकी लगभग रोज विज्ञप्तियाँ हिंदी में आती थीं।कागज बढिय़ा होता था तो उसकी पीठ पर लिखना सुखकर था। सोवियत कागजों का यह उपयोग अधिक किया। बाकी कुछ लेखकों को पुरस्कार भी मिले,रूस की यात्रा का सुख भी मिला वगैरह मगर हमें जो मिला, वह भी कम न था। 

चीन ने रूस के मुकाबले दस प्रतिशत भी इस मामले में नहीं किया।तथाकथित कम्युनिस्ट देश उत्तरी कोरिया अपने ‘महान’ किम उल सुंग के विचारों के प्रचार में लगा रहा,जिनकी आज किसी को परवाह नहीं। अमेरिका ने अपनी महानता और आधुनिक होने के गुण बहुत गाए। उसका साहित्य से इतना ही वास्ता रहा कि उसने आर्थर केसलर की किताब ‘द्दशस्र ह्लद्धड्डह्ल द्घड्डद्बद्यद्गस्र’ का हिंदी संस्करण शायद ‘पत्थर के देवता’ नाम से उपलब्ध करवाया था,जो शाजापुर के दिनों में किसी से लेकर पढ़ा था।बाद में कहीं नहीं दिखा।


22-Jul-2020 1:26 PM

विष्णु नागर 

हमारे देश में बेचने-खरीदने वाले का धंधा कोरोना काल में भी जोरों पर है। इसमें इतना उछाल आया हुआ है कि कामधंधे भले चौपट हो गए मगर सेंसेक्स ऊपर और ऊपर और ऊपर ही चढ़ता जा रहा है। मैंने सेंसेक्स को दोस्त समझकर कहा कि ए, ताऊ, इस हालत में तो इतना ऊपर मत जा, गिरेगा तो तेरे कलपुर्जे भी नहीं मिलेंगे। उसने कहा, ‘अबे हट, बे कलमघिस्सू। तू क्या जाने हमारा खेल! तूने तो कभी एक पैसा भी शेयर बाजार में नहीं लगाया है।कायर कहीं के, बुझदिल, मुझे शिक्षा देता है! तेरी ये मजाल! तू है क्या चीज।आदमी का चोला पाकर तू मुझसे भिडऩे आया है। तू समझता है, तू मुझसे ताकतवर है? बेट्टा मेरे सामने पूरा बाजार, सारे मंत्री-प्रधानमंत्री शीश नवाते हैं जबकि तेरे ऊपर गली का खजेला कुत्ता भी भोंकने को भी तैयार नहीं होगा। जा पहले गंदे नाले के पानी में अपनी शकल धोकर आ, फिर आकर बात करना। हट जा, मेरी नजरों के सामने से वरना तेरा कत्ल कर दूँगा।

क्यों रे गधे, जब देश बेचनेवाले, देश बेच रहे हैं। बेच-बेच कर एमएलए, मंत्री और सरकारें खरीद रहे हैं, तब तू मुझसे कह रहा है, ज्यादा उछल मत। क्यों नहींं उछलूँ? तुझसे पूछ कर उछलूँगा क्या? और नीचे धड़ाम से गिरा भी तो तेरे पिता श्री का क्या जाता है बे। तू अपने काम से काम रख।

सही कहा, ताऊ तुमने। मैं क्षमा माँगता हूँ। क्षमा बडऩ को चाहिए, छोटन को उत्पात। इतना कह कर मैंने मामला शांत करना चाहा।यह सुन कर उसने कहा, अबे ये कौनसी छोटन-बडऩ भाषा बोल रहा है, हिंदी बोल, हिंदी। अंग्रेजी आती हो तो अंग्रेजी बोल।

खैर मैंने किसी तरह राम-राम करते मामला सुलझाया। संकट टलने के पंद्रह मिनट बाद दिमाग थोड़ा शांत हुआ तो सोचा, वाकई ताऊ सही कह रह था। जब बेचनेवाले बैंक बेच रहे हैं, बीमा कंपनियाँँ बेच रहे हैं, तेल कंपनियाँ, विमान सेवा, हवाई अड्डे, ओनजीसी, भारतीय रेल बेच रहे हैं। एयर इंडिया न बिके तो लोहेलंगर के भाव बेचने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे मैं भी सेंसेक्स बेचारा न उछले तो क्या सुस्त पड़ा रहे?

अरे जब एक सुपर स्टार तेल से लेकर ऐप तक सबकुछ बेच चुका और अभी भी उसका बेचने का हौसला बुलंदी पर है तो सेंसेक्स क्यों मृतप्राय: रहे? अभी वह कोरोना पॉजिटिव हो गया तो इसे भी उसने एक प्राइवेट अस्पताल का विज्ञापन करके भुना लिया। नाम और कमा लिया, नामा इसी से मिलेगा। किसी ने कभी सोचा था कि बेचने वाला स्टार अगर कोरोना पाजिटिव भी हो जाए तो घबराता नहीं, इसे भी बेच देता है! यह पक्का है कि अस्पताल से बाहर आकर, वह कोरोना से लडऩे का अपना ‘साहस’ भी ऊँची कीमत में बेचेगा।इस बीच कोरोना का टीका बन गया तो उसे भी बेचेगा। कोरोना का ब्रांड एंबेसडर वही बनेगा। प्रधानमंत्री की ‘उज्ज्वल छवि’ उसने पहले भी बेची है अब और भी जोरशोर से बेचेगा।

कहानी इन दो पर ही खत्म नहीं होती। क्रिकेट खिलाड़ी तो सरेआम बिकते हैं। फिर उनकी कैप, उनकी शर्ट, उनकी पैंट के घुटने भी बिकती है। बल्ला भी बिकता है।खेल का मैदान भी बिकता है। फिर तरह -तरह के सामान बेचना रह जाता है, तो उसे भी ये खिलाड़ी बेचने लगते हैं। ‘भारतरत्न’ पा जाएँ तो भी ईश्वर की कृपा के वशीभूत होकर ये बेचते रहते हैं।

अभी कुछ युवा कांग्रेसी नेताओं ने भाजपा को अपनी धर्मनिरपेक्षता आस्था बेच दी और सांप्रदायिकता खरीद ली। साथ में राज्यसभा की सीट भी हासिल कर ली। इतना ही नहीं, अपनों को अपने राज्य में मंत्री पद दिलवाकर, अब खुद भी केंद्र में मंत्री बनेंगे। फिर न जाने क्या-क्या खरीदेंगे-बेचेंगे। गैरभाजपाई नेता और एमएलए तो भाजपा मंडी में थोक के भाव खरीदती है। सुनते हैं कि हर विधायकी की कीमत तीस-पैंतीस करोड़ तक है। पचास करोड़ भी हो सकती है और एक राजस्थानी नेता तैयार बैठे हैं। जीवनभर में भी जितनी काली कमाई नहीं होती, वह एक झटके में हो जाती है।ईमान ही तो बेचना होता है, मतदाताओं को धोखा ही तो देना होता है। ईमान कोई कीमती चीज तो है नहीं, दस रुपये के नोट बराबर इसकी वैल्यू है। और धोखा देना तो खैर आज की राजनीतिक शैली है।

खरीदनेवाले में यह आत्मविश्वास होता है कि सबकुछ खरीदा जा सकता है। यह दुनिया एक बाजार के सिवाय कुछ नहीं है। यहाँ न्याय भी खरीदा जा सकता है, गवाह, वकील, जज भी। धर्म, ईमान, इंसानियत सब खरीदे जा सकते हैंं। उन्हें ताज्जुब होता है कि इस दुनिया में ऐसा भी कुछ होता है, जो बिकशनशील नहीं होता, जो खरीदा नहीं जा सकता! उधर जो जितनी जल्दी बिक जाता है, जितनी जल्दी ऊँची सीढिय़ाँ चढ़ जाता है, वह उतना ही ज्यादा गरीबों का हमदर्द होने की घोषणाएँ भी करता रहता है। खुद गरीबी से, पिछड़ी जाति से आने की मुनादी इतनी बुलंद आवाज में करता है कि दूसरे किसी की आवाज सुनाई नहीं देती।वह सत्ता को खरबपतियों को बेच कर आराम से 18-18 घंटे सोता है। वह सोने को ही जागना घोषित कर देता है। हाँ जब कोई अडाणी-अंबानी मोबाइल पर उसे याद करता है तो आधी रात को भी जी सर, कहते-कहते बिस्तर से उठकर खड़ा हो जाता है। जी, जी बस हो गया आपका काम।सुबह हम बेच देंगे, शाम को आप खरीद लेना। नमस्ते-नमस्ते, गुडनाइट, गुडनाइट।