विचार / लेख

करतारपुर कॉरिडोर के बारे में 10 सवालों के जवाब
करतारपुर कॉरिडोर के बारे में 10 सवालों के जवाब
Date : 07-Nov-2019

भारत और पाकिस्तान में चर्चित करतारपुर कॉरिडोर 9 नवंबर को खुलने वाला है। इसे लेकर दोनों देशों के बीच समझौता हो चुका है और कई सांसद, विधायक व मंत्री करतारपुर जाने वाले पहले जत्थे का हिस्सा बनने जा रहे हैं।
दोनों देशों के बीच हुए समझौते में भारतीय पासपोर्ट धारकों एवं ओसीआई (भारतीय विदेशी नागरिकता) कार्ड धारकों के लिए वीजा मुक्त यात्रा, भारत के हिस्से को जोडऩे के लिए रावी नदी के डूबे क्षेत्र पर पुल निर्माण और रोज़ाना कम से कम पाँच हजार श्रद्धालुओं को दर्शन की इजाजत शामिल है।
पहले जत्थे में पंजाब के विधायक, सांसद, केंद्रीय मंत्रियों में हरसिमरत कौर व हरदीप सिंह पुरी शामिल होंगे। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह इस पहले जत्थे की अगुवाई करेंगे।
भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत की तरफ से और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पाकिस्तान की तरफ से कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे।
करतारपुर कॉरिडोर पंजाब स्थित डेरा बाबा नानक को करतारपुर स्थित दरबार साहेब से जोड़ेगा। इससे पहले लोगों को वीजा लेकर लाहौर के रास्ते दरबार साहेब जाना पड़ता था जो एक लंबा रास्ता था।
अब दोनों देशों के लोगों को इस यात्रा के लिए वीजा की जरूरत नहीं होगी।
लंबे समय से सिख करतारपुर कॉरिडोर की मांग करते रहे हैं ताकि तीर्थयात्री दरबार साहेब दर्शन के लिए जा सकें।
पिछले साल भारत और पाकिस्तान सरकार ने करतारपुर कॉरिडोर की नीव रखी थी। इसे लेकर दोनों देशों के बीच कुछ विवाद भी हुआ और दोनों ने अपनी-अपनी शर्तें सामने रखीं थी। अंत में दोनों देश एक समझौते पर पहुंच गए।
अब जैसे-जैसे कॉरिडोर खुलने की तारीख़ नज़दीक आ रही है तो लोगों के बीच भी चर्चा बढ़ गई है। पढि़ए करतारपुर साहेब से जुड़े कुछ सामान्य सवालों के जवाब -
करतारपुर कॉरिडोर कब खुल रहा है?
कॉरिडोर 9 नवंबर, 2019 को खुलेगा।
क्या करतारपुर कॉरिडोर वीज़ा मुक्त है?
करतारपुर कॉरिडोर के लिए कोई वीजा नहीं है।
यहां जाने की फीस क्या है?
ये 20 डॉलर है। जो लोग 9 और 12 नवंबर को जाएंगे उन्हें फीस का भुगतान नहीं करना होगा। 12 नवंबर को 550वीं गुरुनानक जयंती है।
20 डॉलर रुपये में कितने होते हैं?
लगभग 1400 रुपये।
क्या आपको पासपोर्ट ले जाने की जरूरत है?
यह करतारपुर कॉरिडोर के लिए ऑनलाइन आवेदन के दौरान जरूरी है। अब पाकिस्तानी पीएम इमरान ख़ान ने घोषणा की है कि पासपोर्ट की जरूरत नहीं है और सिर्फ वैध पहचान पत्र लाना होगा।
करतारपुर कॉरिडोर को किसने फंड किया है?
दोनों सरकारों ने अपनी-अपनी तरफ से इसमें फंड दिया है।
आप करतारपुर कैसे जा सकते हैं?
आप ऑनलाइन पंजीकरण के लिए ये वेबसाइट द्धह्लह्लश्चह्य://श्चह्म्ड्डद्मड्डह्यद्धश्चह्वह्म्ड्ढ५५०.द्वद्धड्ड.द्दश1.द्बठ्ठ/ देख सकते हैं।
डेरा बाबा नानक से दरबार साहेब करतारपुर तक की दूरी कितनी है?
दोनों के बीच दूरी 4.6 किमी. है।
आप अपने पंजीकरण की ताजा जानकारी कहां देख सकते हैं?
आपको पंजीकरण के बाद नोटिफिकेशन प्राप्त होगा। इसके अलावा आप गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर भी देख सकते हैं।
क्या अनिवासी भारतीय (एनआरआई)भी करतारपुर कॉरिडोर से जा सकते हैं?
जिस व्यक्ति के पास ओसीआई कार्ड है वो करतारपुर कॉरिडोर से जा सकता है। अन्य लोगों को वीज़ा के लए आवेदन करना होगा।
क्यों अहम है ये जगह
सोमवार को होने वाले कार्यक्रम को भारत और पाकिस्तान के रिश्तों के लिए अहम माना जा रहा है।
करतारपुर साहिब पाकिस्तान में आता है लेकिन इसकी भारत से दूरी महज़ साढ़े चार किलोमीटर है।
अब तक कुछ श्रद्धालु दूरबीन से करतारपुर साहिब के दर्शन करते रहे हैं। ये काम बीएसएफ़ की निगरानी में होता है।
श्रद्धालु यहां आकर दूरबीन से सीमा पार मौजूद करतापुर साहेब के दर्शन करते हैं।
मान्यताओं के मुताबिक, सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक 1522 में करतारपुर आए थे। उन्होंने अपनी जिंदगी के आखिरी 18 साल यहीं गुजारे थे।
माना जाता है कि करतारपुर में जिस जगह गुरु नानक देव का देहावसान हुआ था वहां पर गुरुद्वारा बनाया गया था।
दोनों देशों के बीच समझौते में क्या है
कोई भी भारतीय किसी भी धर्म या मज़हब को मानने वाला हो। उसे इस यात्रा के लिए वीज़ा की जरूरत नहीं होगी।
यात्रियों के लिए पासपोर्ट और इलेक्ट्रॉनिक ट्रैवेल ऑथराइजेशन (ईटीए) की जरूरत होगी।
ये कॉरिडोर पूरे साल खुला रहेगा।
भारतीय विदेश मंत्रालय यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं की लिस्ट 10 दिन पहले पाकिस्तान को देगा।
हर श्रद्धालु को 20 डॉलर यानि कऱीब 1400 रुपये देने होंगे।
एक दिन में पाँच हज़ार लोग इस कॉरिडोर के जरिए दर्शन के लिए जा सकेंगे।
अभी अस्थाई पुल का इस्तेमाल किया जा रहा है और आने वाले वक्त में एक स्थाई पुल बनाया जाएगा।
श्रद्धालुओं को इस यात्रा के लिए ऑनलाइन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। ये पोर्टल गुरुवार से शुरु हो चुका है। आवेदकों के मेल और मैसेज के ज़रिए चार दिन पहले उनके आवेदन के कन्फर्मेशन की जानकारी दी जाएगी। (बीबीसी)

 

 

 

Related Post

Comments