विशेष रिपोर्ट

रायपुर, दारू के समुद्र का रेट घोटाला पहुंच रहा 300 करोड़...
रायपुर, दारू के समुद्र का रेट घोटाला पहुंच रहा 300 करोड़...
Date : 01-Aug-2019

दारू के समुद्र का रेट घोटाला पहुंच रहा 300 करोड़...

विशेष संवाददाता
रायपुर, 1 अगस्त (छत्तीसगढ़)।
छत्तीसगढ़ सरकार के एक सबसे कुख्यात और भ्रष्ट आबकारी विभाग में बरसों से राज करने वाले संविदा अफसर एस.आर. सिंह को धरती निगल गई है, या आसमान खा गया है, पता नहीं, लेकिन एसीबी-ईओडब्ल्यू उन्हें खोजने की बात जरूर कर रही है। भाजपा सरकार के पिछले पूरे पन्द्रह बरसों में आबकारी विभाग पर अकेले राज करने वाले, बार-बार संविदा नियुक्ति पाने वाले एस.आर. सिंह के भ्रष्टाचार की जांच किसी किनारे पहुंचती दिख रही है।

जानकार सूत्रों के अनुसार अलग-अलग कंपनियों से अलग-अलग ब्रांड की शराब खरीदने में रेट तय करते हुए जो घपले पकड़े गए हैं, वे कागजातों पर साबित होते दिख रहे हैं। एसीबी-ईओडब्ल्यू ने आबकारी विभाग के कई अफसरों और कर्मचारियों के बयान लेने के बाद अब इस भ्रष्टाचार का जो हिसाब लगाया है, उसमें एस.आर. सिंह के काम के एक हिस्से में ही तीन सौ करोड़ रूपए से अधिक का भ्रष्टाचार कागजों पर अब तक मिल गया है। 

भाजपा सरकार के रहते हुए भी आबकारी विभाग का भ्रष्टाचार सबकी जानकारी में था, और विभागीय अफसरों से लेकर मंत्री तक सबकी भागीदारी इसमें चर्चा में रहती थी। इस विभाग में पूरे भाजपा शासनकाल में मंत्री इसी एक भ्रष्ट अधिकारी एस.आर. सिंह के मार्फत सारा काम करते रहे, और कई मामलों में इस अफसर के ऊपर के अफसरों को भी सिर्फ दस्तखत करने के लिए कह दिया जाता था। अभी जांच में यह बात सामने आ रही है कि एस.आर.सिंह के बनाए गए कागजों पर ऐसी ही कार्रवाई करने के हुक्म मंत्री की तरफ से रहते थे। एस.आर. सिंह को रिटायर होने के बाद भी संविदा पर नियुक्त करने का सिलसिला ऐसा चला कि एक के बाद एक, आधा दर्जन से अधिक बार एस.आर. सिंह को संविदा नियुक्ति मिलती चली गई, और यह अफसर आबकारी विभाग को किसी स्थाई बार मालिक की तरह चलाते रहा। इसे बीच में रखकर शासन में बैठे सारे बड़े लोग अपनी मर्जी से शराब कंपनियों को कुचलने का काम करते रहे, या उन्हें सिर पर बिठाने का काम करते रहे। सरकार की शराब खरीदी की मनमानी के खिलाफ कुछ शराब कंपनियां हाईकोर्ट तक गईं कि सरकार कारोबारियों के बीच कैसा भेदभाव कर रही है। 

शराब के रेट तय करने में हुए भ्रष्टाचार की जांच जारी है, और अब तक एस.आर. सिंह के खिलाफ करीब तीन सौ करोड़ की गड़बड़ी पकड़ाई है, और आगे जांच जारी है। 

करोड़ों की संपत्ति का पता चला था...
एसआर सिंह के यहां अप्रैल में एक साथ छापेमारी हुई थी। छापे के दौरान उनकी करीब 15 करोड़ की संपत्ति का खुलासा हुआ है। इसमें रायपुर के बोरियाकलां में एक मकान, बिलासपुर में 2 मकान और 1 प्लाट का पता चला है। उनके मध्यप्रदेश के अनूपपुर में 3 मकान और जमीन हैं।
समुद्र राम सिंह का मुंगेली में करीब 10 एकड़ का फार्म हाउस भी है। साथ ही उनकी कई अन्य संपत्तियों के दस्तावेज भी मिले हैं। अनूपपुर में ही 40-50 एकड़ का भव्य फार्म हाउस का पता चला है। रायपुर, बिलासपुर और मध्यप्रदेश के करीब 8 ठिकानों में एक साथ कार्रवाई की गई थी। तब से एसआर सिंह गायब हैं। उनका देवपुरी के रावतपुरा कॉलोनी के अलावा बिलासपुर के नेहरू नगर में भी बंगला है। 

 

 

Related Post

Comments