छत्तीसगढ़ » बीजापुर

किसानों को भ्रमित करना बंद करें विधायक, खाद समस्या की जिम्मेदार सरकार - मुदलियार
07-Aug-2021 9:08 PM (74)

   वोट बैंक की राजनीति छोड़ किसानों की चिंता करें विधायक - घासीराम    

भोपालपटनम, 7 अगस्त। रासायनिक उर्वरक खाद की किल्लत को लेकर स्थानीय विधायक विक्रम मंडावी ने केंद्र सरकार पर खाद उपलब्ध नहीं करने का आरोप लगाया है, जिस पर भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने पलटवार करते हुए जिम्मेदारी से भागने और भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है।

इस समय कृषि कार्य के बीच किसान रासायनिक उर्वरक खाद को लेकर खासा परेशान हैं चूंकि खाद की अनुपलब्धता के चलते किसान बाजार का चक्कर काट रहे हैं,इस समस्या को लेकर स्थानीय विधायक विक्रम मंडावी ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि केंद्र सरकार राज्य को खाद उपलब्ध नहीं करवा रही है ।

इस पर भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार और किसान मोर्चा जिला अध्यक्ष घासीराम नाग ने साझा प्रेस विज्ञप्ति जारी कर विधायक के बयान पर पलटवार किया है। जिला अध्यक्ष श्री मुदलियार ने कहा है विधायक को सिर्फ अपनी लोकप्रियता एवं स्वहित की चिंता है, इन्हें किसानों की कोई चिंता नहीं है। इस समय किसानों की समस्या पर ध्यान देना चाहिए था।

भाजपा जिलाध्यक्ष ने आगे कहा है कि राज्य सरकार खपत अनुसार मांग पत्र केंद्र सरकार को दिया था, मांग पत्र में 11.75 लाख मैट्रिक टन खाद की मांग की गई थी, जिसे केंद्र ने समयनुसार उपलब्ध करवाया था, लेकिन राज्य सरकार ने मुनाफ़ा कमाने के फेर में खाद को प्राइवेट व्यापारियों को बेच दिया, जिसके चलते खाद संकट की स्थिति बनी हुई है। अगर विधायक अपनी विफलता को छुपाने ये कहते हैं कि केंद्र सरकार ने मांग अनुसार खाद नहीं दिया है तो वे अपनी सरकार से मांग करें और श्वेतपत्र जारी करवायें, आखिर झूठ के बल पर कब तक चलेंगे। सरकार की जवाबदेही है इस वक्त किसानों को खाद उपलब्ध करवाना। हर बात के लिए केंद्र सरकार को दोषी ठहराना उचित नहीं है, कांग्रेस की जनविरोधी नीतियों को जनता अब समझ चुकी है। विधायक को जनता को गुमराह करने की नाकाम कोशिशों से अब बाज आना चाहिए।

वहीं भाजपा किसान मोर्चा जिला अध्यक्ष घासीराम नाग ने विधायक को अपनी नाकामी छुपाने के लिए जनता और किसानों में भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है। श्री नाग ने आगे कहा कि क्षेत्रीय विधायक और कांग्रेस सरकार आखिर कब तक केंद्र सरकार की आड़ लेकर बचते  रहेंगे, जिम्मेदारी से भागने का प्रयास विधायक कर रहे हैं। किसान इनकी मंशा समझ चुके हैं। विधायक को वोट बैंक की राजनीति छोड़ किसानों के हित मे चिंता कर उन्हें तत्काल खाद उपलब्ध कराना चाहिए। जिले के व्यापारी तेलंगाना राज्य से खाद लाकर मोटे दाम में बेच रहे हैं और किसान मजबूरी में ले रहे हैं। सरकार किसान हितैषी होने की बात करती है जो महज जुमला नजर आ रहा है।

बीमार पत्रकार का हाल जानने पहुंचे विधायक
06-Aug-2021 9:06 PM (78)

   इलाज के लिए की 50 हजार की आर्थिक मदद   

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर,  6 अगस्त। कुछ माह से लगातार बीमार चल रहे जिले के वरिष्ठ पत्रकार समैया पागे से शुक्रवार को क्षेत्रीय विधायक विक्रम मंडावी मिलने पहुंचे। उन्होंने पत्रकार पागे से मिलकर उन्हें इलाज के लिए 50 हजार रुपये की आर्थिक मदद कर इलाज के लिए आगे भी हर सम्भव मदद का भरोसा दिया।

 बीजापुर जिले के वरिष्ठ पत्रकार समैया पागे का उपचार हैदराबाद में हो रहा है। इलाज के कारण उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। शुक्रवार बीजापुर पहुंचे विधायक विक्रम मंडावी से स्थानीय पत्रकारों ने मिलकर इस बात की उन्हें सूचना दी। विधायक विक्रम तत्काल बीमार पत्रकार से मिलने उनके घर पहुंचे,घर पहुंच पत्रकार पागे  का हाल चाल पूछा और उन्हें  50 हजार रुपये की आर्थिक मदद दी। साथ ही विधायक विक्रम ने पत्रकार पागे को आगे भी इलाज में हर सम्भव मदद का भरोसा दिया है।

इस अवसर पर विधायक के साथ जिला पंचायत अध्यक्ष शंकर कुडियम,जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष लालू राठौर,बस्तर विकास प्राधिकरण सदस्या श्रीमती नीना रावतिया उद्दे, मीडिया प्रभारी राजेश जैन सहित बीजापुर के पत्रकार  भी मौजूद रहे।  पत्रकार समैया पागे ने मदद के लिए विधायक का आभार व्यक्त किया है।

दो दिन में पूरी नहीं हुई मांग, तो राजधानी में होगा प्रदर्शन-फेडरेशन
05-Aug-2021 8:59 PM (50)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 5 अगस्त। लंबित मांगों को लेकर अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन की बैठक सम्पन्न हुई, जिसमें फेडरेशन के पदाधिकारियों ने साफ कहा है कि सात अगस्त तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाता है, तो प्रदेश भर के कर्मचारी राजधानी पहुंचकर धरना प्रदर्शन करेंगे।

बुधवार को खण्ड समन्वयक कार्यालय में अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन की जिला इकाई की बैठक फेडरेशन के जिला अध्यक्ष मोहम्मद जाकिर खान व संयोजक केडी राय की मौजूदगी में सम्पन्न हुई। बैठक में लंबित महंगाई भत्ता सहित विभिन्न मांगों को लेकर चर्चा की गई। फेडरेशन के जिला सचिव कैलाश रामटेके ने बताया कि बैठक में संघ के सभी पदाधिकारियों ने लंबित मांगों के त्वरित निराकरण की मांग की है। इसमें विभिन्न विभागों के वेतन विसंगति, पंचायत शिक्षकों की अनुकंपा नियुक्ति सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा की गई।

बैठक में जिला संयोजक केडी राय ने कहा कि आगामी सात अगस्त तक अगर उनकी लंबित मांगों को पूरा नही किया जाता है तो आठ अगस्त को प्रदेश भर के कर्मचारी राजधानी में धरना प्रदर्शन करेंगे। जिलाध्यक्ष मोहम्मद जाकिर खान ने समस्त शासकीय सेवकों से अपील करते हुए कहा कि यदि उनकी मांगे पूरी नहीं होती है तो सभी आठ अगस्त को राजधानी पहुंचे। वहीं फेडरेशन के संरक्षक ए सुधारक, उपाध्यक्ष महेश शेट्टी व कोषाध्यक्ष बालेन्द्र राठौर ने फेडरेशन से जुड़े सभी कर्मचारियों से एक होकर संघर्ष करने की अपील की है।

 सचिव रामटेके बताया कि बैठक के दौरान संगठन का भी विस्तार किया गया हैं। इसमें छग स्वास्थ्य कर्मचारी संघ से सदाशिव दुर्गम, छग शालेय शिक्षक संघ बीजापुर  से तरुण सेमल, उसूर से नागेश झाड़ी, भोपालपटनम से संजय चिंतुर को फेडरेशन का सहसचिव बनाया गया हैं। इस अवसर पर शिक्षक संघ के कामेश्वर दुब्बा, पेंशनर कल्याण संघ के कुस्टुड जुमड़े, वाहन चालक संघ के बालेन्द्र राठौर, सहायक शिक्षक फेडरेशन के महेश शेट्टी, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संघ के गणपत गुरला, छग स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के पी शरद व पांडुराम मस्के मौजूद रहे।

इसके अलावा बैठक में जिस संगठन के पदाधिकारी मौजूद नहीं हो सके, उन्होंने दूरभाष पर अपनी सहमति व्यक्त कर दी है।

बाघों के आंकड़े उजागर कर निशाने पर आये उपसंचालक
04-Aug-2021 8:54 PM (70)

   शिकारियों को न्यौता दे रही आईटीआर-पूर्व वनमंत्री    

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 4 अगस्त। पिछले दिनों इंद्रावती टाइगर रिजर्व के उपसंचालक ने बाघों का आंकड़ा सार्वजनिक कर विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं। पूर्व वनमंत्री ने आरोप लगाया है कि इंद्रावती टाइगर रिजर्व बाघों के आंकड़ों को उजागर कर सीधे तौर पर शिकारियों को न्यौता दे रही है।

ज्ञात हो कि इंद्रावती टाइगर रिजर्व का क्षेत्र बाघों के संरक्षित वाला क्षेत्र हैं। सरकार बाघों के संरक्षण व उनके संवर्धन के लिए योजनाएं संचालित कर उनके सुरक्षित विचरण के लिए लगातार काम कर रही है। लेकिन बीते दिनों इंद्रावती टाइगर रिजर्व के उपसंचालक ने पांच बाघों के आंकड़े उजागर कर न सिर्फ बाघों के संरक्षण पर सवालिया निशान लगाया है, बल्कि शिकारियों को भी सीधे तौर पर न्यौता दे दिया है। इंद्रावती टाइगर रिजर्व के उपसंचालक डीके मेहर के बाघों के आंकड़े सार्वजनिक करने पर पूर्व वनमंत्री महेश गागड़ा ने उन्हें निशाने पर ले लिया हैं।

पूर्व वनमंत्री ने कहा कि उपसंचालक को बाघों के आंकड़े उजागर नहीं करना चाहिए था। उन्होंने कहा कि कुछ दिनों पहले ही बाघ के खाल के साथ बीजापुर के कांग्रेस नेता व सरकारी कर्मचारियों को जगदलपुर में पकड़ा गया था। इसके चंद दिनों बाद चन्दूर के दो लोगों को बाघ के खाल के साथ तेलंगाना के मुनगु में पकड़ा गया। यहां तेलंगाना वन विभाग ने वन अधिनियम के तहत कार्रवाई की।

पूर्व वनमंत्री गागड़ा का कहना है कि यह सब देखने के बाद ये पता चलता है कि यहां इंद्रावती टाइगर रिजर्व में जो अमला होना चाहिए था, दरअसल वो अमला यहां नहीं है। भौगोलिक स्थिति को देखते हुए सुरक्षा मापदंडों के तहत विभाग को आंकड़ा उजागर नहीं करना चाहिए था। उन्होंने इसे इंद्रावती टाइगर रिजर्व की घोर लापरवाही बताया है। 

उल्लखनीय है कि कुछ दिन पहले इंद्रावती टाइगर रिजर्व के उपसंचालक डीके मेहर ने मीडिया को बताया था कि वर्ष 2018 में यहां से तीन मल के सैम्पल भेजे गए थे। इसके बाद पांच सैम्पल भेजे गए थे। जिसमें पांच बाघों की पुष्टि राष्ट्रीय बाघ संरक्षण अभिकरण ने की है।

सरकार के संरक्षण में रेत माफियाओं के हौसले बुलंद - मुदलियार
03-Aug-2021 8:34 PM (59)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर,  3 अगस्त। जिले में इन दिनों मनमाने तरीके से बढ़े रेत की कीमत को लेकर अब भाजपा भी इसके विरोध में सामने आ गई है। भाजपा जिलाध्यक्ष ने रेत माफियाओं पर सरकार का संरक्षण होने का आरोप लगाया हैं।

 बीजापुर भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने बयान जारी कर आरोप लगाया कि प्रशासन के सांठगांठ से इन दिनों रेत माफियाओं ने रेत का दाम आसमान पहुंचा दिया है। इसके चलते प्रशासन भी निष्क्रिय है। वहीं सरकार माफिय़ाओं को संरक्षण दे रही है। जिससे उनके हौसले बुलंद हंै।

श्री मुदलियार ने अपने बयान में कांग्रेस सरकार और प्रशासन पर रेत माफियाओं को संरक्षण देने का सीधा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि भद्रकाली, तारलागुड़ा में प्रशासन से सांठगांठ कर अनुमति से अधिक रेत भण्डारण किया गया है। उन्होंने कहा है कि जिला प्रशासन  अत्यधिक भंडारण किये गए रेत को केवल दिखावा के दृष्टि से जुर्माना से दण्डित किया गया है जो पर्याप्त नही है। उन्होंने उक्त भण्डारण रेत को विधि पूर्वक नीलामी करने की मांग की हैं।

श्री मुदलियार ने कहा कि जिले के रेत ठेकेदार अनुमति से अधिक भण्डारण कर मनमानी दर तय कर रहे हैं। इसकी खबर प्रशासन को नही होना निष्पक्षता पर संदेह को दर्शाता है। आसमान छूती रेत के दर से निजी निर्माण कार्यों में असर पड़ रहा है। इस विषय को प्रशासन संज्ञान में लेते हुए तत्काल आवश्यक कार्रवाई करें।

 उन्होंने कहा कि जब हजार पंद्रह सौ में मिलने वाली रेत अब सीधे चार से पांच हजार में मिलने लगी है। तो ऐसे में आम गरीब  पक्का मकान का सपना भी नही देख सकता, इसका प्रभाव प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बन रहे मकानों पर भी पड़ रहा है।

किसानों ने दिया धरना, सौंपा ज्ञापन
03-Aug-2021 8:33 PM (59)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 3 अगस्त। मंगलवार को जिले के किसानों ने अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन कर  राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।

यहां नैमेड में आयोजित किसानों ने अपनी पांच प्रमुख मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया।  किसानों ने जिले के गोदामों में यूरिया डीएपी आदि की व्यवस्था पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराने, 15 क्विंटल धान की बजय 20 क्विंटल लेने, किसानों को 2500 प्रति क्विंटल एक मुस्त दिए जाने, पूर्व सरकार की दो साल के बोनस देने का वायदा किया गया था, उसे कोरोना काल में देने तथा किसानों के ऋण माफ करने की मांग किसानों ने महामहिम राज्यपाल से की हैं। किसानों ने अपनी मांगों का ज्ञापन लैम्प्स प्रबधंक को सौंपा।

इस अवसर पर सरपंच गुड्डू कोरसा, मनोज कोरसा, रमेश कुमार,आशु मोडियाम, चिन्ना ताती, लक्ष्मण मिच्चा, शंकर तेलम, बुच्ची हपका, महेंद्र सकनी, जयमती सहित कुटरू पदेडा भैरमगढ़ के किसान मौजूद रहे।

स्कूलों की तालाबंदी हुई खत्म, खुले 174 स्कूल
03-Aug-2021 5:35 PM (87)

डेढ़ साल बाद बजी स्कूल की घंटिया, बच्चों के चेहरे पर लौटी खुशी 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर,  3 अगस्त।
डेढ़ साल के लंबे जद्दोजेहद के बाद सोमवार को सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों में घंटियां बजी और बच्चों की आधी क्षमता के साथ कक्षाएं शुरू हुईं। लम्बे इंतजार के बाद स्कूल खुलने से बच्चों में उत्साह और उमंग का माहौल  देखा गया वहीं पढ़ाई शुरू होने से पलकों ने राहत की सांस ली ।  

बीजापुर ब्लॉक के 23 संकुलों के 173 स्कूल शाला प्रबन्धन समिति और पालकों की सहमति से शासन के निर्देशानुसार कोविड नियम के तहत आधी क्षमता के साथ प्रारम्भ किये गए।  2 अगस्त से स्कूल शुरू होने पर सभी जगहों पर समारोह आयोजित कर बच्चों का स्वागत किया गया। नगर पालिका अध्यक्ष बेनहुर रावतिया, जनपद उपाध्यक्ष सोनू पोटाम, पार्षद कलाम खान, जिला शिक्षा अधिकारी प्रमोद ठाकुर , बीईओ मोहम्मद ज़ाकिर खान व बीआरसी कामेश्वर दुब्बा की मौजूदगी में जनपद प्राथमिक शाला, जनपद माध्यमिक शाला, बालक उमावि बीजापुर , पोटा केबिन बीजापुर में शाला प्रवेश उत्सव समारोह पूर्वक आयोजित कर बच्चों का तिलक गुलाल से स्वागत कर लड्डू से मुंह मीठा किया गया। इस दौरान बच्चों को पुस्तक गणवेश पेन का वितरण किया गया। गंगालूर में जनपद उपाध्यक्ष सोनू पोटाम, सरपंच राजू कलमू और शाला प्रबंधन समिति के सदस्यों की उपस्थिति में उत्साह और उमंग के साथ स्कूल फिर से शुरू किए गए।          

 गंगालूर के मिडिल स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में बच्चों को तिलक और मिठाई के साथ स्वागत कर पुस्तक गणवेश के साथ मास्क भी वितरण किया गया।  बच्चों और शिक्षकों का कोविड जांच कर मास्क उपयोग करने की समझाइश दी गई । इस अवसर पर उपस्थित जनप्रतिनिधियों तथा शाला विकास समिति के सदस्यों ने बच्चों को शुभकामनाएं देते हुए नियमित रूप से सुरक्षा मानक के साथ स्कूल आकर पढ़ाई करने के लिए प्रेरित किया। बीजापुर के 23 संकुल गंगालूर तोडक़ा गोंगला पुसनार, बुरजी ,पीडिया चेरपाल, रेड्डी , पदेडा संजयपारा ,तुमनार , पेदाकोड़ेपाल, कैका, नेमेड़, दुगोली, धनोरा, बोरजे, तोयनार, इटपाल, डिपोपारा बीजापुर,  पूजारीपारा बीजापुर ,बीजापुर ब में एसएमसी प्रस्ताव के आधार पर सभी स्कूल प्रारम्भ किये गए । एक स्कूल हलबापारा शांति नगर शिक्षक के कोरोना संक्रमित होने से आज शुरू नही किया जा सका।
 

पहले दिन नदी-नालों को पार कर शिक्षक पहुंचे स्कूल
03-Aug-2021 3:38 PM (73)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बीजापुर,  3 अगस्त।
पिछले डेढ़ साल कोरोना संक्रमण के बाद स्कूल खोलने की कवायद के बीच बीजापुर ब्लॉक के अति संवेदनशील व दुर्गम क्षेत्र में 6 स्कूल के शिक्षक नदी नालों के तेज बहाव की बाधाओं को पार कर बच्चों के बीच स्कूल पहुंचे। स्कूल पहुंचकर शिक्षकों ने राष्ट्रगान के साथ भारत माता के जयकारे लगाए और बच्चों का तिलक और मिठाई के साथ स्वागत कर विधिवत कक्षाओं का संचालन शुरू किया।

बीजापुर ब्लॉक के मिंगाचल नदी के पार बसे गांव आज भी पहुंचविहीन इलाके के रूप में जाने जाते हैं। यह इलाका अतिसंवेदनशील होने के कारण आसानी से आवागमन करना संभव नहीं है। चिन्नाजोजेर के शिक्षक हेमलाल रावटे, जारगोया के शिक्षक सुधीर नाग और आनन्द ओडेट, चेरकंटी के शिक्षक राजू पुजारी, पदमुर के शिक्षक शिवचरण पाण्डे, कोटेर के शिक्षक रामचंद्रम वारगेम और नदीपारा पैदाकोडेपाल के शिक्षक  सुरेन्द यादव ने नदी के तेज बहाव की बाधाओं को पार कर स्कूल प्रारम्भ करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 

लगातार बारिश के कारण इन इलाकों में नदी नाले उफान पर हैं । इन हालातों में शासन के निर्देशों के अनुरूप बच्चो के बीच पहुंचकर स्कूल शुरू करना एक चुनौती थी। इन हालातों में इन शिक्षकों ने बाधाओं को दूर करने का बीड़ा उठाया और पहुंच गए अपने गांव के बच्चों के बीच शिक्षा की अलख जगाने।
 

 

कोरोना नियमों के साथ खुले स्कूल, गंगालूर में मना शाला प्रवेश उत्सव
02-Aug-2021 9:06 PM (222)

बीजापुर, 2 अगस्त। राज्य सरकार के निर्देश पर आज से जिले में कोरोना नियमों के साथ स्कूलों को खोल दिया गया हैं। कक्षा आठवीं दसवीं बारहवीं व प्राथमिक स्कूलों की कक्षाएं प्रारंभ हो गई है। इसी के तहत सोमवार को गंगालूर में शाला प्रवेश उत्सव मनाया गया।

जनपद प्राथमिक शाला गंगालूर में आयोजित शाला प्रवेश उत्सव में स्थानीय जनप्रनिधि व शिक्षा अधिकारी मौजूद रहे। यहां कार्यक्रम में मुख्य अतिथि शिक्षा समिति अध्यक्ष सोनू पोटाम ने स्कूल खुलने पर छात्रों को बधाई दी। साथ ही उन्होंने छात्रों से कोरोना गाइडलाइन का विशेष रूप से पालन करने को कहा। उन्होंने इससे पहले नवप्रवेशी बच्चों को तिलक लगाकर उनका स्वागत किया। बच्चों को गणवेश व पुस्तकों का वितरण कर उन्हें रोजाना स्कूल आने के लिए प्रोत्साहित किया। वही खण्ड शिक्षा अधिकारी मोहम्मद जाकिर खान ने कहा कि प्रत्येक शिक्षक व बच्चे रोजाना मास्क पहनकर स्कूल आएं। उन्होंने कहा कि कोरोना प्रोटोकॉल के तहत स्कूलों में नियमित रूप से सेनेटाइजर व साफ सफाई होती रहे। साथ ही शिक्षकों से बच्चों के स्वास्थ्य का विशेष रूप से ध्यान रखने की बात कही। शाला प्रवेश उत्सव के दौरान जनपद प्राथमिक शाला गंगालूर को गुब्बारों से सजाया गया था।

 इस अवसर पर सरपंच राजू कलमू, पूर्व सरपंच मंगल राणा, उप सरपंच लच्छू हेमला, नरेंद्र हेमला, प्रधान अध्यापक एम. श्रीनिवास व कन्या शाला की प्रधान अध्यापिका बेलारानी दुर्गम सहित स्कूल स्टाफ व वार्डपंच मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन  प्रा.आ. एम. श्रीनिवास व संकुल समन्वयक रमन झा ने किया।

शहीद जवानों की याद में रोपे पौधे
01-Aug-2021 8:51 PM (170)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 1 अगस्त। शहीद जवानों की स्मृति में त्यौहार पोदला ऊरस्कना के तहत वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित की गई, जिनमें थाना व कैम्पों में विभिन्न प्रजातियों के पौधे जवानों ने रोपे।

ज्ञात हो कि बस्तर के आईजी पी. सुंदरराज के निर्देश पर 1 से 9 अगस्त तक शहीद जवानों की स्मृति में पोदला ऊरस्कना के तहत वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम मनाया जाना है। इसी के तहत रविवार को जिले के भैरमगढ़, भोपालपटनम, बीजापुर व उसूर के थाना परिसरों व कैम्पों में जवानों द्वारा विभिन्न प्रजातियों के पौधे रोपे गए। इस दौरान जिलाबल व छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवानों ने थाना व कैम्प परिसरों की साफ सफाई कर वृक्षारोपण कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

भुगतान को लेकर दो पक्षों में मारपीट
31-Jul-2021 8:51 PM (64)

   थाने पहुंचा मामला, काउंटर एफआईआर दर्ज     

बीजापुर,  31 जुलाई। शुक्रवार की रात पैसों के लेनदेन को लेकर दो पक्षों में मारपीट हो गई। घटना में एक को एक व्यक्ति मामूली रूप से घायल हो गया। दोनों तरफ से थाने में हुई शिकायत के बाद काउंटर एफआईआर दर्ज की गई है।

यहां पीएमजीएसवाय विभाग में सडक़ निर्माण का काम कर रहे ठेकेदार जुनैद खान व अब्दुल खान उनकी जेसीबी वाहन चलाने वाले सत्यम पागे और राजकुमार पागे बचे हुए पैसे लेने ठेकेदार के पहुंचे थे। इसी बीच दोनों पक्षों में विवाद हो गया और मामला मारपीट शुरू हो गई।

 शुक्रवार की रात करीब 8 बजे नगर के पुराना बस स्टैंड के करीब सनराइज होटल के पास हुए इस घटना में अब्दुल खान पर चाबी से वार करने पर उन्हें हाथ व सीने में मामूली चोट आई है। रात में ही सभी को जिला अस्पताल ले जाकर एमएलसी कराया गया।

कोतवाली प्रभारी शशिकांत भारद्वाज ने बताया कि दोनों पक्षों की शिकायत पर काउंटर एफआईआर दर्ज कर लिया गया हैं। उन्होंने घटना में चाकू के इस्तेमाल की बात से इंकार करते हुए चाबी से चोट पहुंचने की बात कही है।

खाद की किल्लत ने बढ़ाई किसानों की परेशानी
29-Jul-2021 9:02 PM (90)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर,  29 जुलाई। जिले में इन दिनों औसत से कम बारिश जहां किसानों को डरा रही है, वहीं बुआई के बीच किसान खाद के लिए भटक रहे हैं।

 दरअसल बीजापुर जिले की 17 समितियों में 3500 मीट्रिक तक खाद की जरूरत है, जिसमें अब तक महज 750 मीट्रिक टन यूरिया और डीएपी खाद ही उपलब्ध हो पाया है। बीजापुर जिले में अब किसान खाद को लेकर असमंजस में हैं, वहीं प्रशासन खाद जल्द मुहैया कराने का दावा कर रही है।

 जिले के बासागुड़ा लैम्प्स में खाद की मारामारी को लेकर किसान नाराज हैं। आरोप है कि यहां तय तादाद से कम खाद है, जिसकी वजह से खींचतान मची हुई है। किसान खाद को लेकर भटक रहे हैं। आरोप है कि समय से सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। समय से खाद नहीं मिलने से किसानों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

वहीं इस मामले में बीजापुर कलेक्टर का कहना है कि अभी 750 मीट्रिक टन खाद हमने 17 समितियों के माध्यम से बांट दिया है। जैसे ही डिमांड की गई खाद आएगी, उसे भी बांट दिया जाएगा। वहीं सहकारी बैंक के अधिकारी की माने तो पहले जो रेक जगदलपुर में लगाया जाता था, अब वह रेक बलौदाबाजार में लग रहा है। जिसकी वजह से सप्लाई में दिक्कत आ रही है।

खाद की किल्लत को देखते हुए बीजापुर विधायक कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे से मिले, जहां उन्होंने कृषि मंत्री को जिले में खाद की मांग को लेकर मांग पत्र सौंपा। जिले में करीब 2800 मीट्रिक तक खाद की जरूरत है।

छापा, दुकान से 91 बोरी खाद जब्त
29-Jul-2021 8:59 PM (110)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर,  29 जुलाई। बुधवार को जिला मुख्यालय बीजापुर से 55 किमी दूर भोपालपटनम में तहसीलदार और कृषि अधिकारियों ने दुकान में छापा मारा। दुकान में लगभग 91 बोरी रासायनिक उर्वरक शासन की बिना अनुमति से बेचते हुए पाया गया। जिस पर तहसीलदार ने अमले के साथ मिलकर आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत कार्रवाई की। एसडीएम ने बताया कि भोपालपटनम के एक व्यापारी के दुकान में छापामारी की गई थी, जिसमें 91 रासायनिक यूरिया की बोरियों की जब्ती कर आवश्यक वस्तु अधिनियम की धाराओं के तहत कार्रवाई की जा रही है।

शालेय शिक्षक संघ ने वर्चुअल धरना-प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन
29-Jul-2021 8:35 PM (105)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 29 जुलाई। छग शालेय शिक्षक संघ के प्रांतीय आह्वान पर गुरुवार को प्रदेश के समस्त जिलों में वर्चुअल धरना प्रदर्शन कर विभिन्न मांगों को लेकर मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन के माध्यम से ज्ञापन सौंपा गया।

बीजापुर जिले में जिलाध्यक्ष प्रहलाद जैन एवं जिला सचिव कैलाश रामटेके के नेतृत्व में संघ ने एसडीएम देवेश ध्रुव को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में राज्य सरकार से माँग की गई है कि प्रथम नियुक्ति तिथि से वरिष्ठता, पदोन्नति, समयमान वेतन प्रदाय किया जाये, सहायक शिक्षकों की वेतन विसंगति दूर किया जाये, शिक्षक पंचायत नगरीय निकायों में लंबित अनुकंपा नियुक्ति दी जाये, लंबित मँहगाई, भत्ता, संविलियन वेटेज, पुराना पेंशन, स्वैच्छिक स्थानांतरण, संविलियन के पूर्व लंबित एरियर्स राशि आदि मांगें हैं।

संगठन के जिला सचिव कैलाश रामटेके ने बताया कि जिले के सैकड़ों शिक्षकों ने वर्चुवल धरना प्रर्दशन कर अपनी माँगो से शासन-प्रशासन को अवगत कराया है।

जिलाध्यक्ष प्रहलाद जैन ने प्रेस वार्ता में बताया कि दिवंगत पंचायत शिक्षकों के परिवार के सदस्य दर -दर भटक रहे हैं बारिश मे भी रायपुर मे धरना दे रहे हैं। हालांकि संगठन वार्ता की पहल का स्वागत करेगा,  किंतु त्वरित व समाधानकारक पहल के अभाव में संगठन उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होगा। संगठन को आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि सरकार समस्त विषयों पर अविलंब व समाधानमूलक निर्णय लेगी। इस दौरान ब्लाक पदाधिकारी एवं जिला पदाधिकारी चारों विकासखण्ड से शामिल हुये।  ज्ञापन सौंपने वालों में प्रमुख रुप से शिव कुमार पूनेम, रामदास मण्डावी, कृष्णा गोंदी, महादेव चापा, वसीम खान, नंद कुमार मारकोण्डा, संजय चिंतुर,कैलाश जंगम, देवीसिंह कश्यप,मधु मोरला, अरुण सिंह शामिल रहे।

नक्सलियों ने लगाए बैनर, शहीदी सप्ताह मनाने फरमान
29-Jul-2021 7:00 PM (73)

भोपालपटनम, 29 जुलाई। भोपालपटनम से मट्टीमरका मार्ग नल्लमपल्ली चौक के पास  माओवादियों के द्वारा बैनर-पोस्टर लगाए गए। उन बैनर-पोस्टरों में 28 जुलाई से 3 अगस्त तक नक्सली शहीदी सप्ताह के रूप में मनाने का जिक्र किया गया है। यह बैनर पोस्टर नेशनल पार्क एरिया कमेटी का बताया जा रहा है।
 

शहीदी सप्ताह मनाने फरमान, नक्सलियों ने लगाए बैनर
29-Jul-2021 3:41 PM (93)

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
भोपालपटनम, 29 जुलाई
। भोपालपटनम से मट्टीमरका मार्ग नल्लमपल्ली चौक के पास  माओवादियों के द्वारा बैनर-पोस्टर लगाए गए। उन बैनर-पोस्टरों में 28 जुलाई से 3 अगस्त तक नक्सली शहीदी सप्ताह के रूप में मनाने का जिक्र किया गया है। यह बैनर पोस्टर नेशनल पार्क एरिया कमेटी का बताया जा रहा है।

 

गुरुपूर्णिमा पर भाजपा ने किया सेवानिवृत्त व कार्यरत प्रधान अध्यापकों का सम्मान
28-Jul-2021 6:27 PM (84)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भोपालपटनम, 28 जुलाई।
भाजपा के जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार के मार्गदर्शन व भोपालपटनम के मण्डल अध्यक्ष वेंकटेश्वर यालम के नेतृत्व में गुरुपूर्णिमा के अवसर पर सेवानिवृत्त व कार्यरत  प्रधान अध्यापकों का सम्मान कोविड नियमों को ध्यान में रखते हुए घर-घर जाकर उन्हें फूलमाला पहनकर शाल श्रीफल व मिठाई भेंट कर सम्मान किया गया।
सम्मानित सेवानिवृत्त प्रधान अध्यापकों में मदास चिंनोड प्रा आ भोपालपटनम  सुधाकर प्राचार्या भोपालपटनम अकबर खान प्रा.आ आनकारी सुधाकर प्रा आ  गुनलापेंटा शकुन्तला पडि़शालावार प्रा आ सुशीला नैकुल प्रा आ गेररगुड़ा राममूर्ति तामडी गोल्ला गुड़ा प्रा आ मलैया तामडी  प्रा आ सरदार खान प्रा आ रामचेन्द्रम तामडी प्रा आ कार्यरत अध्यापकों में यालम शेंकर प्रा आ उल्लूर  उमादेवी एडला आदि को सम्माननित किया गया। 

इस अवसर पर भाजपा के पिछड़ा वर्ग मोर्चा जिला अध्यक्ष पी संतोष कुमार जिला आरटीआई प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मुर्गेश शेट्टी जिला एनजीओ प्रकोष्ठ के सह सयोजक के श्रीनिवास मण्डल के उपाध्यक्ष सीताराम तोडेंम पूर्व पार्षद ए श्रीनिवास पिछडा वर्ग मोर्चा मण्डल महामंत्री मुरली चेट्टी मण्डल महा मंत्री एल स्वामी  गुनलापेंटा के  सरपंच व कार्यकर्ता व मण्डल के पदाधिकारी उपस्थित थे।

 

महीनों से स्ट्रीट लाईटें बंद, सडक़ पर मवेशियों का जमावड़ा, हो रहे हादसे
28-Jul-2021 6:18 PM (101)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भोपालपटनम, 28 जुलाई।
भोपालपटनम में बीते कई महीनों से स्ट्रीट लाईट व सौर ऊर्जा के लाईट नहीं जलने से रात में नगरवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। भोपालपटनम नगर पंचायत में आये दिन मवेशियों के जमावड़ा नगर के गलियों में व हाईवे पर रहता है। जिससे हादसे हो रहे हैं। 

भोपालपटनम ब्लॉक में बहुत से पंचायतों में गौठान बनाए गए हैं। बावजूद इसके नेशनल हाइवे में मवेशियों के जमावड़ा होना समझ से परे है। भोपालपटनम के नाका से तिमेड इंद्रावती नदी पूल तक मवेशिया रोड़ पर सोये रहते है, जिसके कारण आये दिन हादसे होते रहते है। ज्ञात हो कि  कुछ दिन पहले संगमपल्ली के आसपास लगभग 9-10 मवेशियों को एक ट्रक चालक ने रौंद दिया था। 

स्थानीय लोगों का कहना है कि  छत्तीसगढ़ शासन द्वारा करोड़ों लाखों खर्चकर गोधन योजना के तहत सभी पंचायतों में गौठानों का निर्माण किया गया। जब तक जिम्मेदारी कर्मचारी व अधिकारी अपनी जवाबदेही ना समझे तब तक सरकार के द्वारा बनाये गए इन महत्वकांक्षी योजनाओं का कोई औचित्य नहीं है। 

स्थानीय लोगों का कहना है कि  भोपालपटनम नगर चारों तरफ पहाड़ों व जंगलों से गिरा हुआ है, जिससे बरसात के समय शाम होते ही रोड़ पे जहरीली सांप बिच्छु निकलने का डर रहता है और रोड़ पर मवेशी भी खड़े रहते हैं, जिससे कोई भी अनहोनी घटना हो सकता है। जिसको देखते हुए जिम्मेदार अधिकारी समय रहते इस गम्भीर समस्या को निराकरण का उपाय करें, जिससे क्षेत्र के जनता को इस समस्या से निजात मिल सके।
 

उर्वरक और बीज की कमी के लिए मोदी सरकार जिम्मेदार - नीना
25-Jul-2021 10:25 PM (79)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर,  25 जुलाई। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सदस्य व प्रदेश कांग्रेस कमेटी संचार समिति की सदस्य नीना रावतीया उद्दे ने कहा कि भाजपा किसानों के नाम पर महज घडिय़ासी आंसू बहा रही है। राज्य में खाद की कमी के कुछ जगहों पर जो हालात बने हैं, उसके लिए भाजपा की केंद्र सरकार जिम्मेदार है।

श्रीमती उद्दे ने एक बयान जारी कर कहा कि केंद्र सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा मंगाए गए लगभग 11 लाख टन उर्वरकों की समय पर आपूर्ति नहीं की जा रही है। राज्य को अभी तक जितनी आपूर्ति होनी थी, केंद्र ने उसका आधे से भी कम सिर्फ 45 फीसदी ही आपूर्ति की। सीएम भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री से राज्य को तीन लाख मीट्रिक टन अतिरिक्त उर्वरकों की मांग की थी, केंद्र ने इस पर भी कोई जबाब नहीं दिया।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार की छत्तीसगढ़ के किसानों के प्रति बदनीयती इसी से झलकती है कि छत्तीसगढ़ को केन्द्र ने उसको आबंटित खाद पर 45 प्रतिशत ही दिया है, जबकि मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, गुजरात, पंजाब, हरियाणा जैसे राज्यों को मोदी सरकार ने वहां के लिये आवंटित कोटे का 90 प्रतिशत सप्लाई पूरा कर दिया है। एआईसीसी सदस्य  ने भाजपा नेताओं से पूछा कि बताएं किस भाजपा विधायक-सांसद ने केंद्र से छत्तीसगढ़ को सरकार के द्वारा मांगे गए उर्वरकों की आपूर्ति शीघ्र करने के लिए पहल की, या कोई पत्र लिखा। क्या राज्य के किसानों के हित में भाजपा नेताओं का कोई नैतिक अधिकार नही बनता?

उन्होंने आगे कहा कि राज्यो को यूरिया देना केंद्र का काम है।

पूरे देश मे यूरिया की सप्लाई सही नही हो रही तो उसके पीछे मोदी सरकार जबाबदेह है। प्रधानमंत्री मोदी ने आकाशवाणी से प्रसारित मन की बात कार्यक्रम में कहा था कि उनकी सरकार आजादी की 75वीं वर्षगांठ 2022 तक देश में यूरिया की कमी आधा करने की दिशा में काम कर रही है। बिना किसी वैकल्पिक व्यवस्था के केंद्र सरकार राज्यों में किसानों तक यूरिया की सप्लाई का कोटा अघोषित रूप से कम करना शुरू कर दिया है। ताकि मोदी द्वारा घोषित यूरिया की खपत कम करने का लक्ष्य 2022 तक पूरा हो सके। कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ के किसानों से कहा कि वे फिक्र न करें, राज्य में कांग्रेस सत्ता में है और कांग्रेस के रहते छत्तीसगढ़ के किसानों का अहित नहीं हो सकता है।

मांगों को ले सर्व आदिवासी समाज का बेमुद्दत धरना-प्रदर्शन '
22-Jul-2021 9:01 PM (136)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

भोपालपटनम,  22 जुलाई।  भोपालपटनम  में सर्व आदिवासी समाज द्वारा प्रदेश व्यापी संवैधानिक अधिकारों के लिए 19 जुलाई से अनिश्चितत्कालीन धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। ब्लॉक मुख्यालय में यह आंदोलन सर्व आदिवासी  समाज के जिला अध्यक्ष अशोक तालण्डी के नेतृत्व में प्रारंभ किया गया।

सर्व आदिवासी समाज के प्रदेश कार्यकारणी की बैठक आयोजित कर सर्व सम्मति से लिये गए निर्णय अनुसार समाज के संवैधानिक अधिकार एवं ज्वलन्त समस्याओं के निराकरण की मांग व लगातार प्रताडऩा के विरोध में 19  जुलाई से समाज के संवैधानिक मुद्दों पर ब्लाक स्तरीय धरना-प्रदर्शन कर राष्ट्रपति व  राज्यपाल  व प्रदेश  के मुख्यमंत्री व मुख्य सचिव को 13 सूत्रीय मांग पत्र  ज्ञापन के माध्यम से मांगों को प्रेषित किया जा रहा है।

संघ का कहना है कि वर्तमान सरकार बार-बार पत्राचार करने पर भी हमारे आदिवासी समाज पर प्रताडऩा अत्याचार शोषण पर लगाम नहीं लगा पा रही है। अनुसूचित क्षेत्रों की संवैधानिक प्रावधानों की अवहेलना कर उल्लंघन किया जा रहा है। इस हेतु आदिवासी संगठन चरणबद्ध आंदोलन करने की निर्णय लिया है।  तेरह सूत्रीय मांगों पर सरकार 15 दिवसों के अन्दर उचित निर्णय नहीं लेने पर आंदोलन की द्वितीय चरण को जिला मुख्यालयों में करने का फैसला लिया गया है।

इस धरना प्रदर्शन में गोंडवाना समाज का ब्लाक अध्यक्ष श्री अल्वा मडनैया गोटाइगुड़ा सरपंच श्री सीताराम तोडेंम  सालिकराम नागवंशी वेंकटेश्वर यालम और समाज के ग्रामीण व  प्रमुख लोग उपस्थित थे।

गौठानों में चारागाह नहीं, नोडल अफसर के एक माह के वेतन पर रोक
21-Jul-2021 8:57 PM (88)

बीजापुर, 21 जुलाई। राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी नरवा गरवा धुरवा बाड़ी योजना के तहत बनाये गए गौठानों में चारागाह नहीं होने के चलते कलेक्टर के निर्देश पर जिला पंचायत सीईओ ने योजना के नोडल अधिकारी का एक माह के वेतन पर रोक लगाने की कार्यवाही की हैं। 

उल्लेखनीय है कि जिले के 122 गौठानों में केवल 82 जगहों पर ही चारागाह विकसित किये गए हैं, वहीं 24 जगहों पर काम पूरा कर लिया गया है, जबकि अन्य जगहों पर काम काफी धीमा चल रहा हैं। कलेक्टर रितेश अग्रवाल गौठानों की नियमित समीक्षा व निरीक्षण कर रहे हैं। निरीक्षण के दौरान गौठानों में चारागाह की अपेक्षित प्रगति न होने से उन्होंने नाराजगी जताई और सीईओ जिला पंचायत को संबंधितों पर कार्यवाही के निर्देश दिए।

 कलेक्टर के निर्देश पर कार्यवाही करते हुए जिला पंचायत सीईओ रवि साहू ने गौठान के नोडल अधिकारी मनीष सोनवानी की जुलाई की सैलेरी पर रोक लगाई हैं।

कलेक्टर ने 31 जुलाई तक चारागाह में फेंसिंग, बुवाई आदि के कार्य को पूर्ण करने के निर्देश दिए है। यदि किसी पंचायत के सचिव / ग्राम रोजगार सहायक के द्वारा उक्त कार्य को गंभीरता से नहीं करेंगे, तो एकपक्षीय अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए सेवा से बर्खास्त करने हेतु निर्देश दिए गए है।

ज्ञात हो कि कलेक्टर ने विगत सप्ताह निरीक्षण के दौरान गौठान के कार्य में लापरवाही बरतने के कारण दो अधिकारियों को नोटिस व दो सचिवों के वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिए हंै।

डीए की मांग को ले फेडरेशन ने सौंपा ज्ञापन
20-Jul-2021 9:11 PM (78)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 20 जुलाई। अपनी लंबित मांग महंगाई भत्ता व डीए को लेकर जिला कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन ने यहां मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा।

कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के प्रांतीय आव्हान पर मंगलवार को फेडरेशन के जिलाध्यक्ष मोहम्मद जाकिर खान व जिला संयोजक केडी राय के नेतृत्व में कर्मी जिला कार्यालय पहुंच अपनी लंबित मांग महंगाई भत्ता देने व डीए की मांग को लेकर मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम देवेश ध्रुव को ज्ञापन सौंपा गया। फेडरेशन के पदाधिकारियों ने बताया कि इससे पूर्व दिसम्बर 2020 में 14 सूत्रीय मांग को लेकर कलम रख मशाल उठा आंदोलन तीन चरण किया जा चुका हैं। केंद्र सरकार जनवरी 2020 का चार, जुलाई 2020 का तीन एवं जनवरी 2021 के चार प्रतिशत सहित कुल ग्यारह प्रतिशत महंगाई भत्ता भुगतान करने का निर्णय लिया गया हैं। इसमें केंद्र के कर्मचारियों को कुल 28 फीसदी महंगाई भत्ता मिलेगा। जबकि राज्य के कर्मचारियों को बारह फीसदी महंगाई भत्ता मिल रहा हैं, जो न्यायोचित नहीं हैं। बता दें कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को रोकने शासकीय सेवकों ने दिन रात परिश्रम किया। वर्तमान में महंगाई काफी बढ़ गई हैं। जिसे देखते हुए फेडरेशन ने प्रदेश के शासकीय सेवकों व पेंशनरों को देय तारीख से सोलह फीसदी महंगाई भत्ता स्वीकृत करने की मांग सीएम से की गई है।

इस अवसर फेडरेशन आरडी झाड़ी, ईश्वर झाड़ी, तालण्डी नारायण, पुनेम सत्यम, डी सुबबैया सहित सभी तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ, वाहन चालक संघ, वन कर्मचारी संघ, चतुर्थ श्रेणी संघ, छग शालेय शिक्षक संघ, पंचायत सचिव संघ, पटवारी संघ, कृषि संघ, अनियमित कर्मचारी संघ, स्वास्थ्य कर्मचारी संघ, लोक निर्माण विभाग संघ, वेटनरी संघ, पेंशनर कल्याण संघ, लिपिक संघ  तथा सहायक शिक्षक संघ ने फेडरेशन को अपना समर्थन दिया है।

मांगों को ले सडक़ों पर उतरे हजारों आदिवासी
17-Jul-2021 8:59 PM (58)

   भोपालपटनम व आवापल्ली में रैली निकाली, सौंपा ज्ञापन    

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

भोपालपटनम/बीजापुर, 17 जुलाई। शनिवार को भोपालपटनम व आवापल्ली मुख्यालय में हजारों आदिवासियों ने आठ सूत्रीय मांगों को लेकर रैली निकाली। रैली के बाद राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया।

रेत खदानों का ठेका निरस्त कर इन्हें पंचायतों को देने, महंगाई कम करने, सिलगेर गोलीकांड में दोषियों को सजा देने, हर गांव में उप स्वास्थ्य केंद्रों की स्थापना करने, ऑनलाइन पढ़ाई बंद कर स्कूलों को खोलने, लोकल संसाधनों को विदेश भेजना बंद करने की मांग की गई हैं। भोपालपटनम ब्लाक मुख्यालय में निकली रैली फारेस्ट नाका से होते हुए तहसील कार्यालय पहुंची। यहां ग्रामीणों ने एसडीएम हेमेंद्र भुआर्य को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।

इस रैली में करीब 35 पंचायतों के बड़ी संख्या में आदिवासी शामिल थे। वहीं ऐसी ही रैली उसूर ब्लॉक के मुख्यालय आवापल्ली में निकाली गई। यहां रैली में 19 पंचायतों से आये हजारों ग्रामीण शामिल हुए। रैली सामुदायिक भवन से तहसील कार्यालय तक निकाली गई और यहां भी राज्यपाल के नाम आठ सूत्रीय मांगों का ज्ञापन तहसीलदार शिवनाथ बघेल को सौपा गया। इस दौरान ग्रामीणों ने पहुंचविहीन क्षेत्रों में बारिश से पूर्व राशन भंडारण करने की मांग भी रखी हैं।

रैली में भोपालपटनम से सरपंच संघ अध्यक्ष अशोक मढ़े, टिंगे चिन्नाबाई, मिच्चा समैया, सुनील उद्दे, रमेश पामभोई, नवनियुक्त कृषक कल्याण परिषद के सदस्य व जिला पंचायत सदस्य बसंत राव ताटी, चापा सरिता, सुरेंद्र चापा, निर्मला मरपल्ली, मिच्चा मुतैया, अश्विनी यालम, सुनील गुरला, नागैया, मीना वासम, अनिता यालम, कमला पारेट, संतोष मेकल व सरस्वती कोरम मौजूद रहे।

वहीं आवापल्ली की रैली में जनपद अध्यक्ष अनिता तेलम, उपाध्यक्ष बीरा बोयना, रत्ना सोढ़ी, मुन्ना कुरसम, सुकलु पुनेम, नागेश अंगनपल्ली, नोप्पो मोजे, मिनाक्षी नल्ली, प्रवीण यालम, नारायण मुडिय़म व कोरैया कारम सहित सरपंच जनपद सदस्य व ग्रामीण मौजूद रहे।

ताटी बने कृषक कल्याण परिषद के सदस्य
16-Jul-2021 8:58 PM (206)

बीजापुर, 16 जुलाई। भोपालपटनम क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य व वरिष्ठ कांग्रेस नेता बसन्त राव ताटी को राज्य सरकार ने कृषक कल्याण परिषद का सदस्य नियुक्त किया हैं। उनकी इस नियुक्ति से भोपालपटनम सहित जिले भर में खुशी का माहौल है।

कृषक कल्याण परिषद के नवनियुक्त सदस्य बसन्त राव ताटी ने इस ‘छत्तीसगढ़’ से फोन पर चर्चा करते हुए बताया कि उन्हें जो जिम्मेदारी सौंपी गई हैं, इसे वे एक दुर्लभ अवसर मानते हैं। उन्होंने बताया कि उनकी कोशिश रहेगी कि वे इस नये दायित्व के तहत कृषकों की प्रमुख समस्याओं को चिन्हित कर उनके स्थाई समाधान की दिशा में कुछ ठोस उपाय करने में राज्य सरकार का सहयोग करेंगे। साथ ही क्षेत्र के कृषकों की समस्याओं के समाधान के लिए वे हमेशा प्रयास करते रहेंगे।

 श्री ताटी ने इस महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दिए जाने पर पार्टी आला कमान, सीएम, पीसीसी चीफ, कृषि मंत्री, आबकारी मंत्री, बस्तर सांसद व बीजापुर विधायक का आभार व्यक्त किया है। साथ ही उन्होंने क्षेत्र की जनता के प्रति भी कृतज्ञता व्यक्त की है।

जिला अस्पताल में अन्नपूर्णा परोस रही मरीजों को स्वादिष्ट भोजन
16-Jul-2021 8:55 PM (88)

   प्रोटीन के साथ सफाई का रख रहे ख्याल     

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बीजापुर, 16 जुलाई। इन दिनों यहां जिला अस्पताल में मरीजों को दिये जाने वाला भोजन काफी स्वादिष्ट व पौष्टिक हैं। जिले के सरकारी जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों को अब शुद्ध और पौष्टिक भोजन मिल रहा है। दरअसल हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि जो खाना मरीजों को मिल रहा है उस खाने को दैनिक ‘छत्तीसगढ़’ की टीम ने भी टेस्ट किया है। 

तीन माह पहले मेस के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा निविदा आमंत्रित की गई थी। इस निविदा में अन्नपूर्णा नाम की स्वसहायता समूह को टेंडर मिला। मेस प्रबंधक आनंद सांईपाल बताते हंै कि उन्होंने तीन साल हैदराबाद में रहकर होटल मैनेजमेंट में कुकिंग की डिग्री ली है। मरीजों को अच्छा व पौष्टिक खाना मिल सके, इसलिए इस काम में आनंद की माँ प्रतिमा पाल भी उनका साथ दे रही है। इसके अलावा उनके साथ  चार स्थानीय युवतियां भी उनकी मदद को है। दंतेवाड़ा जिले के बचेली के रहने वाले आनंद बताते हैं, उन्हें जिस दिन यह टेंडर मिला था। उसी दिन से उन्होंने ठान ली थी कि मरीजों की सेवा करने का ये अच्छा अवसर है। वे उन्हें शुद्ध व पौष्टिक भोजन देंगे, ताकि उन्हें घर के खाने की कमी महसूस न हो सके। और जल्द ही वे स्वस्थ हो।

कैंटीन संचालक बताते है, उन्हें रोजाना 120 लोगों के लिए खाना तैयार करना होता हैं। और इसकी प्रक्रिया सुबह 6 बजे कैंटीन पहुंचते ही शुरू हो जाती है।  सुबह 8 बजे के नाश्ते में मरीजों को इडली, पोहा, उपमा, दलिया, ड्राई रोस्ट मूंगफली, अंडे जैसे नाश्ते दिए जाते है। ताकि मरीजों को प्रोटीन मिल सके और वो जल्द ही स्वस्थ हो सके, फिर दोपहर के 12 बजे लंच और शाम  6 से 7 बजे के बीच मरीजो को रात्रि का भोजन दिया जाता है। मरीजों के साथ उनके घर के एक सदस्य को भी खाना दिया जाता हैं। मरीजों को दिए जाने वाली खाने की थाली एयर लॉक कर दिया जाता है। इसके लिए वे क्लीन पैक रेप का इस्तेमाल करते है। जिससे कि खाने में किसी तरह के बैक्टीरिया न जा सके।

घर के मसलों से सब्जी होती है तैयार

 अन्नपूर्णा स्वसहायता समूह की संचालिका प्रतिमा पाल ने बताया कि काम के साथ साथ हमें मरीजों की सेवा करने का मौका मिला है। वे बताती हंै  कि मरीजों के लिए वह जो सब्जी तैयार करती है। उसका मसाला वे घर पर ही तैयार करती हैं। जो बाहर से मसाले हम लेते हैं, उनमें कभी हानिकारक मसाले होते है जो आम लोगों को भी पचाने में दिक्कत होता है और मरीजों को दिक्कत न हो, इसलिए मैं अपने हाथों से पिसा मसाला ही डालती हूँ। साथ ही दाल में हींग का इस्तेमाल किया जाता है। ताकि खाना पचने में आसान हो जाये।

मरीजो के खाने में रखते है प्रोटीन और फैट का ख्याल

 हैदराबाद से 3 साल तक कुकिंग की डिग्री हासिल करने वाले आनंद बताते हंै कि वे हर रोज अस्पताल में भर्ती मरीजों के खाने के लिए  बाजार से ताजी सब्जियां खरीद कर लाते हैं। साथ ही उच्च क्वालिटी के चावल का प्रयोग करते है। सबसे ज्यादा ख्याल वह मरीजों को दिए जाने वाले खाने में  प्रोटीन, फैट और तापमान सही मात्रा में हो।

गर्भवती महिलाओं का रखते है विशेष ध्यान

 जिला अस्पताल में  अन्नपूर्णा नाम से कैंटीन चलाने वाले माता और पुत्र ने बताया कि गर्भवती महिलाओं को वे 4 बार खाना देते हैं,  जिसमें प्रोटीन से भरे स्प्राउट्स, सलाद और मौसमी फल शामिल हंै। क्योंकि गर्भवती माताओं के शरीर मे ताकत की अत्यधिक आवश्यकता होती है, इसलिए 1 महीने की गर्भवती से लेकर डिलीवरी के 5 दिन तक वे गर्भवती महिलाओं के खाने में विशेष ध्यान रखते हंै।

 सिविल सर्जन डॉ. अभय तोमर ने बताया कि यहां पहले की तुलना में खाने की क्वालिटी में काफी सुधार देखने को मिल रहा है। अन्नपूर्णा मरीजों के खाने में विशेष ध्यान दे रही हंै।