राजपथ - जनपथ

छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : बैठक क्यों हुई, अटकलें जारी...
छत्तीसगढ़ की धड़कन और हलचल पर दैनिक कॉलम : राजपथ-जनपथ : बैठक क्यों हुई, अटकलें जारी...
Date : 19-Feb-2020

बैठक क्यों हुई, अटकलें जारी...

पिछले दिनों राहुल गांधी ने दिल्ली में सीएम भूपेश बघेल, डॉ. चरणदास महंत, टीएस सिंहदेव और ताम्रध्वज साहू के साथ बैठक की। बैठक में प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी पीएल पुनिया और अध्यक्ष मोहन मरकाम भी थे। यह खबर आई कि राहुल ने सरकार के कामकाज की समीक्षा की है, मगर बैठक के औचित्य को लेकर पार्टी के भीतर कयास लगाए जा रहे हैं।

वैसे तो हाल ही में प्रदेश में सरकार और संगठन के बीच बेहतर तालमेल के लिए समन्वय समिति का गठन किया गया है, लेकिन राहुल की बैठक में समन्वय समिति के कई सदस्यों को नहीं बुलाया गया था।  चुनिंदा नेताओं के साथ बैठक की जरूरत क्यों पड़ी, इसको लेकर भी पार्टी नेता अंदाजा लगा रहे हैं। 

सुनते हैं कि प्रदेश के दिग्गज नेता पिछले कुछ समय से हाईकमान के समक्ष सीएम-सरकार के खिलाफ कानाफूसी कर रहे थे। किसी तरह की अप्रिय स्थिति पैदा हो, उससे पहले ही राहुल गांधी ने प्रमुख नेताओं को एक साथ बिठाकर वस्तुस्थिति जानने की कोशिश की। ताकि समस्या का मौके पर ही इलाज किया जा सके। बैठक में सरकारी योजना और चुनाव नतीजों पर सामान्य चर्चा हुई, मगर बैठक में किसी भी नेता ने सीएम-सरकार के कामकाज पर कोई सवाल खड़े नहीं किए। ऐसे में राहुल करते भी तो क्या, सबको मिलजुलकर काम करने की मसीहाई नसीहत देकर रवाना कर दिया। पीठ पीछे जाकर कोई कुछ भी कहे, सामने जब कुछ कहा नहीं गया तो राहुल क्यों और क्या करते?

दूसरी तरफ अभी मुख्यमंत्री के अमरीका जाने से राजनीतिक उबाल कुछ ठंडा पड़ा हुआ था, लेकिन इस बीच उनके संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी ने अपने फेसबुक पेज पर एक फोटो पोस्ट की है जिसमें वे मुख्यमंत्री के दूसरे सलाहकार विनोद वर्मा, और दो अन्य करीबी लोगों के साथ प्रियंका गांधी से मिलते हुए दिख रहे हैं। जाहिर तौर पर यह तस्वीर दिल्ली में मुलाकात की दिखती है, और मुख्यमंत्री के इतने करीबी इतने लोगों को कांगे्रस हाईकमान की इतनी करीबी प्रियंका से मिलने पर काफी कुछ कहने का मौका तो मिला ही होगा।

कबाड़ का बाजार बंगला
अफसरों में बहुत से ऐसे रहते हैं जिन्हें सामानों का भुगतान नहीं करना पड़ता। नतीजा यह होता है कि सामान बढ़ते चलते हैं, और हर बार तबादले पर एक ट्रक बढ़ जाती है। ऐसे लोगों में भी अगर परिवार में किसी को कबाड़ जमा करके रखने का शौक हो, तो मुसीबत और बढ़ जाती है। राज्य में तैनात अखिल भारतीय सेवा के एक जोड़े के साथ ऐसी ही दिक्कत हो गई है। पति-पत्नी में से एक गैरजरूरी सामानों से छुटकारा चाहते हैं, और दूसरे की चाहत अखबारों की रद्दी तक को सम्हालकर रखने की है। नतीजा यह है कि नया सामान आते जाता है, जिसका भुगतान आमतौर पर करना नहीं पड़ता, और पुराना सामान भी जमा रहता है जिससे बंगले के कुछ कमरे भर जाते हैं। जब तक जिलों के बड़े बंगलों में तैनाती रहती थी, तब तक तो किसी तरह काम चल जाता था, वहां भी बंगले के अहाते में टीन के शेड बनवाकर गोदाम की तरह सामान रखना पड़ा, लेकिन राजधानी में तो बंगले सीमित आकार के ही मिलते हैं, और उनमें गोदाम जोडऩे की सहूलियत भी नहीं रहती है। नतीजा यह हुआ है कि यह परिवार इतने सामानों से लद गया है कि जरूरत के वक्त सामान ढूंढना मुमकिन नहीं होता, और तलाश से बचने के लिए एक बार फिर किसी को कहकर सामान बुलवा लिया जाता है। ऐसे ही एक मातहत विभाग के छोटे अफसर को बंगले के इंतजाम के लिए रखा गया है, जिसका कहना है कि बंगले में से ही सामान निकालकर सामने रख दिया जाए तो भी साहब और मैडम को पता नहीं चलेगा कि वह बाजार से आया है, या उनके घर में ही पैक पड़ा हुआ सामान है। ऐसे मातहत विभाग में अब यह मजाक चल निकला है कि मनोचिकित्सक से कहकर कबाड़प्रेम का इलाज करवाया जाए, वरना इससे बड़ा बंगला मिलने में तो अभी दस बरस बाकी हैं। 

खुद नंगे हो रहे हैं...
सोशल मीडिया पर अपनी असहमति पर आधारित आलोचना लिखने में कुछ लोग इतने हमलावर हो जाते हैं कि दूसरे की इज्जत मटियामेट हो या न हो, अपनी खुद की इज्जत जरूर मिट्टी में मिला लेते हैं। खासकर जब किसी महिला पर हमला करना हो, तब अगर उसके साथ बलात्कार की धमकी पोस्ट की जाए, उसके गुप्तांगों के साथ क्या सुलूक करना चाहिए यह पोस्ट किया जाए, तो उस महिला का चाहे जो हो, पोस्ट करने वाला तो बलात्कार की मानसिकड्डता वाला दिखता ही है। अब यह तो इस देश का सबसे कड़ा आईटी कानून लागू करने वाले अफसर केंचुए की तरह के बिना रीढ़ वाले प्राणी हैं, इसलिए वे कुछ चुनिंदा मामलों को छोड़कर और कुछ नहीं करते, वरना हर दिन छत्तीसगढ़ जैसे छोटे राज्य में भी दर्जन भर लोग गिरफ्तार होते, और कुछ हफ्तों में ही जेल के बाहर बचे मर्दों की बलात्कारी मानसिकता ठंडी पड़ जाती। फिलहाल तो दिल्ली से छत्तीसगढ़ आई वामपंथी नेता बंृदा करात के खिलाफ जहर उगलने वालों ने बंृदा का तो नुकसान नहीं किया, खुद अपना चाल-चलन और अपनी सोच जरूर उजागर कर दी। सोशल मीडिया एक ऐसी दुधारी तलवार है जिसमें अपने तरफ की धार अधिक घातक होती है।

(rajpathjanpath@gmail.com)

Related Post

Comments