बस्तर

फर्जीवाड़े की जांच रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग पर आमरण अनशन आज से
16-Oct-2020 10:13 PM 8
  फर्जीवाड़े की जांच रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग पर आमरण अनशन आज से

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 16 अक्टूबर। बस्तर जिला स्कूल आश्रम छात्रावास शासकीय चतुर्थ वर्ग कर्मचारी कल्याण संघ ने शुक्रवार को जिला पत्रकार भवन में पत्रकारवार्ता आयोजित कर बताया कि वर्ष 2014 में आदिम जाति विकास सहायक आयुक्त कार्यालय के द्वारा चतुर्थ वर्ग कर्मचारियों की भर्ती में हुए फर्जीवाड़े की जांच रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग को लेकर संघ के अध्यक्ष प्रभुनाथ पाणिग्रही 2 अक्टूबर से अपने निवास स्थान ग्राम सुधापाल में अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठे हैं, लेकिन अब तक किसी भी जनप्रतिनिधि या प्रशासनिक अधिकारी द्वारा उनकी सुध नहीं ली गई है। शासन-प्रशासन के रवैया को देखते हुए 17 अक्टूबर से वे अन्न-जल त्याग कर आमरण अनशन शुरू करेंगे। यह जानकारी पत्रकार वार्ता के दौरान संघ के सचिव रामनाथ कौशिक ने पत्रकारों को दी ।

इस दौरान उन्होंने आरोप लगाया कि 2014 में चतुर्थ वर्ग कर्मचारियों की भर्ती में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की गई है। इस गड़बड़ी का उजागर युवक कांग्रेस के द्वारा भी किया गया था, लेकिन वर्तमान में कांग्रेस की सरकार है और इस मामले की जांच जो की गई है और उसकी रिपोर्ट भी आ चुकी है लेकिन उसे सार्वजनिक नहीं किया जा रहा है।

संघ यह मांग कर रही है कि उस जांच रिपोर्ट को सार्वजनिक किया जाए और दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए। दो अक्टूबर से संघ के अध्यक्ष उपवास पर बैठे हैं, लेकिन कोई भी जनप्रतिनिधि या प्रशासनिक अधिकारी इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। इस उपेक्षा के चलते संघ के अध्यक्ष द्वारा 17 अक्टूबर से अन्न जल त्याग कर आमरण अनशन किया जाएगा।

 एफआईआर दर्ज कर कार्यवाही किए जाने के सवाल पर संघ के सदस्यों ने कहा कि पहले संसद की लड़ाई लड़ेंगे और उसके बाद न्यायालय की शरण लेंगे। उन्होंने मीडिया से भी इस मामले में सहयोग मांगा। पत्रकार वार्ता के दौरान संघ के अन्य पदाधिकारी व सदस्यगण भी उपस्थित थे।

अन्य पोस्ट

Comments