राजनीति

राजनीतिक संकट के बाद माकन राजस्थान कांग्रेस के प्रमुख बने
17-Aug-2020 4:54 PM (51)

जयपुर, 17 अगस्त (आईएएनएस)| राजस्थान को आखिरकार अजय माकन के रूप में नया कांग्रेस प्रमुख मिल गया है, जिन्होंने राज्य में पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अविनाश पांडे का स्थान लिया है। राजस्थान में सियासी संकट दिल्ली के पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के हस्तक्षेप से सुलझा लिया गया। पूर्व उप मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस प्रमुख सचिन पायलट हाल ही में अपने खेमे के 18 विधायकों के साथ दिल्ली गए थे और कहा था कि गहलोत सरकार अल्पमत में है। हालांकि, बाद में कांग्रेस नेताओं प्रियंका गांधी वाड्रा, राहुल गांधी, अहमद पटेल और वेणुगोपाल के प्रयासों से एक सुलह के बाद वे जयपुर वापस आ गए।

पायलट ने कांग्रेस आलाकमान के साथ अपनी बैठक के दौरान उन्हें उन मुद्दों से अवगत कराया जो उनके मुताबिक पार्टी को नुकसान पहुंचा रहे थे।

पायलट की सिफारिश पर, उनकी और उनकी टीम द्वारा दर्ज की गई शिकायतों को देखने के लिए एक तीन सदस्यीय समिति का गठन किया गया। इस टीम में अजय माकन, अहमद पटेल और के सी वेणुगोपाल शामिल हैं।

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने आईएएनएस को बताया, " अविनाश पांडे ने राज्य कांग्रेस के प्रमुख के तौर पर अपने कर्तव्यों का सही पालन नहीं किया। पार्टी राज्य प्रमुख होने के नाते वह राज्य और कांग्रेस आलाकमान के बीच नोडल अधिकारी थे। हालांकि, वह चुप रहे। पायलट और गहलोत के बीच बढ़ते मतभेद और हाईकमान को मामले की जानकारी नहीं दी।"

उन्होंने कहा कि हालांकि राज्य में संगठनात्मक और सरकारी ढांचे को संतुलित करने के लिए एक नई समिति का गठन किया गया था, लेकिन पार्टी और सरकार को परेशान करने वाले मुद्दों को हल करने के लिए कोई बैठक नहीं बुलाई गई। डेढ़ साल में कोई राजनीतिक नियुक्ति नहीं की जा सकी।

इस बीच, तीन-सदस्यीय समिति में माकन को शामिल करने के साथ कांग्रेस कार्यकर्ता उम्मीद से भरे दिखे और कहा कि माकन ने हाल के संकट के दौरान कड़ी मेहनत की और विधायकों से फीडबैक लिया जो आलाकमान को भेजा गया था। माकन का मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ पुराना संबंध है क्योंकि गहलोत उस समय कांग्रेस के महासचिव थे जब माकन दिल्ली से सांसद थे।

2013 में राजस्थान की स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष होने के नाते वे राजस्थान कांग्रेस के अधिकांश विधायकों और पदाधिकारियों के संपर्क में रहे हैं।

माकन, राहुल गांधी के काफी करीबी माने जाते हैं और यूपीए सरकार में केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं।

चीन मसले पर राहुल ने फिर साधा निशानाकहा-पीएम के सिवाय सबको सेना पर विश्वास
16-Aug-2020 1:51 PM (69)

नई दिल्ली, 16 अगस्त। चीन से भारत की तनातनी को लेकर केंद्र सरकार पर लगातार निशाना साध रहे कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर तंज कसा है। उन्होंने रविवार को ट्वीट करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। राहुल गांधी ने ट्वीट में लिखा है, सभी को भारतीय सेना की क्षमता और शौर्य पर विश्वास है। सिवाय प्रधानमंत्री के, जिनकी कायरता ने ही चीन को हमारी जमीन लेने दी। जिनका झूठ सुनिश्चित करेगा कि वो चीन के पास ही रहेगी।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को भी चीन मुद्दे पर सरकार पर निशाना साधा था। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था, भारत सरकार लद्दाख में चीनी इरादों का सामना करने से डर रही है। जमीनी हकीकत संकेत दे रही है कि चीन तैयारी कर रहा है और मोर्चा साधे है। प्रधानमंत्री के व्यक्तिगत साहस की कमी और मीडिया की चुप्पी की भारत को बहुत भारी कीमत चुकानी होगी।

राहुल गांधी लगातार बड़े मुद्दों पर सरकार को समय-समय पर घेरते हैं। हाल ही में उन्होंने देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था। राहुल गांधी ने ट्वीट में एक वीडियो शेयर करते हुए कोरोना का ग्राफ दिखाया था। इस ट्वीट में राहुल ने कोरोना कर्व को भयावह बताते हुए लिखा है कि ये सपाट नहीं बल्कि डराने वाला है। राहुल ने प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा है, अगर ये पीएम की संभली हुई स्थिति है तो बिगड़ी हुई स्थिति किसे कहेंगे।

उससे पहले राहुल गांधी केंद्र सरकार की ओर से लाए गए पर्यावरण प्रभाव आकलन मसौदे को लेकर सरकार को इस मुद्दे पर घेरा था. राहुल गांधी ने ट्विटर पर मां सोनिया गांधी का एक लेख शेयर करते हुए कहा केंद्र सरकार को पर्यावरण प्रभाव आकलन मसौदा वापस लेना चाहिए।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, प्रकृति हमें तभी बचाएगी जब वो खुद सुरक्षित होगी। भारत सरकार को देश के पर्यावरण नियमों के साथ छेड़छाड़ करनी बंद करनी चाहिए। सबसे पहला जरूरी कदम है ईआईए मसौदे को वापस लेना। (hindi.news18.com)

राजस्थान में गहलोत सरकार ने जीता विश्वास मत
14-Aug-2020 5:00 PM (79)

जयपुर, 14 अगस्त (आईएएनएस)| राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने विधानसभा में विश्वास मत जीत लिया है। इसके साथ ही सदन की कार्यवाही 21 अगस्त तक स्थगित कर दी गई है। इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा और कहा कि ऐसे समय में जब पूरी दुनिया कोरोनावायरस से लड़ रही है, बीजेपी सरकार गिराने का काम कर रही है। 

क्लिक करें और यह भी पढ़ें : राजस्थान फ्लोर टेस्ट : भाजपा पर बरसे गहलोत, बोले- 100 चूहे खाकर बिल्ली हज को चली
 

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने राजस्थान को गोवा या मध्यपदेश नहीं बनने दिया। गहलोत ने कहा कि पूरी पार्टी संगठित है और एकजुट है। 

आपको बता दें कि सचिन पायलट के व्रिदोह के बाद गहलोत सरकार पर संकट के बादल छा गए थे, लेकिन अब सरकार खतरे से बाहर है। 

बिहार चुनाव में देवेंद्र फडणवीस की एंट्री बीजेपी दे सकती है अहम जिम्मेदारी
14-Aug-2020 3:15 PM (54)

नई दिल्ली, 14 अगस्त। बिहार विधानसभा चुनाव में महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस को पार्टी की तरफ से अहम जिम्मेदारी मिल सकती है। ऐसा बताया जा रहा है कि बिहार चुनाव में फडणवीस सक्रिय भूमिका में रहेंगे। गुरुवार को बिहार कोर ग्रुप की बैठक में फडणवीस ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हिस्सा लिया था। सूत्रों की मानें तो फडणवीस को बिहार में बीजेपी का चुनाव प्रभारी बनाया जा सकता है।
वर्तमान में भूपेंद्र यादव यादव बिहार बीजेपी के प्रभारी हैं और वह महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के समय वहां बीजेपी के चुनाव प्रभारी थे। बिहार में 2015 के विधानसभा चुनाव में अनंत कुमार चुनाव प्रभारी और धर्मेंद्र प्रधान और भूपेन्द्र यादव सहचुनाव प्रभारी थे। भूपेन्द्र यादव तब भी बिहार बीजेपी के प्रभारी थे।
इसे एक्टर सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले के मद्देनजऱ भी इसे जोड़ कर देखा जा रहा है। देवेंद्र फडणवीस ने सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच के लिए मुंबई पहुंचे बिहार पुलिस के अधिकारी को क्वॉरंटाइन करने पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि यह वास्तव में बहुत अजीब है कि महाराष्ट्र सरकार बिहार पुलिस को अपने कर्तव्यों का पालन करने की अनुमति न देकर अनावश्यक संदेह के घेरे में आ रही है। फडणवीस ने कहा था कि कोविड -19 महामारी के दौर में आधिकारिक सार्वजनिक सेवा करने वाले अधिकारियों के मूवमेंट को रोकने के लिए उन्हें क्वॉरंटाइन में नहीं रखा जा सकता है।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के रहस्य को सुलझाने के बजाय, इस तरह के व्यवहार से जांच को लेकर लोगों में भारी नाराजगी और अविश्वास पैदा होगा। (khabar.ndtv.com)

हर किसी तक पहुंचे कोरोना-टीका, मोदी अभी बनाएं रणनीति-राहुल
14-Aug-2020 3:10 PM (59)

नई दिल्ली, 14 अगस्त। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने जानलेवा कोरोना वायरस की वैक्सीन पर सरकार को सलाह दी है। राहुल गांधी ने कहा है कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को वैक्सीन की उपलब्धता और उचित वितरण सुनिश्चित करने पर अभी से अपनी रणनीति बना लेनी चाहिए। राहुल ने कहा है कि वैक्सीन देश के सभी लोगों तक पहुंचनी चाहिए।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘भारत कोविड-19 वैक्सीन तैयार करने वाले देशों में से एक होगा. ऐसे में यह सुनिश्चित करने के लिए स्पष्ट रूप से परिभाषित, समावेशी रणनीति की जरूरत है। जिससे वैक्सीन की उपलब्धता और उचित वितरण को किफायती बनाया जा सके।’ कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार को ऐसा अभी करना चाहिए।
गौरतलब है कि दुनिया के कई देशों समेत भारत में भी कुछ स्थानों पर कोरोना वायरस के वैक्सीन का परीक्षण चल रहा है। इस बीच देश में कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में 64 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए। आज संक्रमण के कुल मामले बढक़र 24 लाख 61 हजार से ज्यादा हो गए। जबकि एक दिन में  करीब एक हजार मौत के साथ मरनेवालों का आंकड़ा बढक़र 48 हजार पर पहुंच गया है।

राहुल गांधी कोरोना वायरस पर सरकार के मुखर आलोचक रहे हैं। महामारी की शुरुआत से ही उन्होंने सरकार को गंभीरता बरतने की सलाह देने का काम किया है। इससे पहले राहुल गांधी ने भारत में बढ़ते कोरोना के मामलों से जुड़े ग्राफ को साझा कर प्रधानमंत्री मोदी पर कटाक्ष किया था। उन्होंने ट्विटर पर लिखा था, ‘कोरोना का ग्राफ कम नहीं हो रहा है बल्कि भयावह होता जा रहा है। अगर ये पीएम की ‘संभली हुई स्थिति’ है तो बिगड़ी स्थिति किसे कहेंगे?’ (abplive.com)
 

विपक्ष के पास इसलिए बिठाया, क्योंकि सीमा पर सबसे ताकतवर योद्धा को भेजा जाता है-पायलट
14-Aug-2020 2:56 PM (58)

जयपुर, 14 अगस्त। राजस्थान विधानसभा का सत्र शुरू हो चुका है। आज बारिश की वजह से सदन की कार्यवाही शुरू होने में थोड़ी देरी हुई। सत्र के शुरू होते ही विधानसभा को 1 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। शोक प्रस्ताव के बाद सदन की कार्यवाही को स्थगित किया गया था। 1 बजे कार्यवाही शुरू होते ही गहलोत सरकार में कानून और संसदीय कार्य मंत्री शांति कुमार धारीवाल ने विश्वास प्रस्ताव पेश किया। सचिन पायलट ने सदन में अपने भाषण की शुरूआत करते हुए कहा, मुझे विपक्ष के पास इसलिए बिठाया गया, क्योंकि सीमा पर सबसे ताकतवर योद्धा को भेजा जाता है।

सचिन पायलट ने अपनी सीट में हुए बदलाव के बारे में बोलते हुए कहा, इस सरहद पर कितनी भी गोलीबारी हो, मैं कवच और भाला लेकर सरकार को बचाने के लिए खड़ा हूं। मुझे सरहद पर बिठाया गया है, सरहद पर सबसे मजबूत योद्धा को भेजा जाता है। पायलट ने सदन में बीजेपी के उप-नेता राजेंद्र राठौड़ को उनके भाषण के बीच में रोककर यह बात कही।

विधानसभा सत्र की कार्यवाही शुरू होते ही गहलोत सरकार ने विश्वास प्रस्ताव पेश किया। संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने इस दौरान कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यहां (राजस्थान) बीजेपी को छठी का दूध याद दिला दिया। यहां हमने गोवा और मध्य प्रदेश नहीं बनने दिया। इतना ही नहीं, गहलोत सरकार के मंत्री शांति धारीवाल ने राज्यपाल कलराज मिश्र को रबर स्टैंप तक बता डाला।

राजस्थान विधानसभा में सत्र के पहले दिन 4 बीजेपी और 4 कांग्रेस विधायक विश्वास प्रस्ताव पर बोलेंगे। बीजेपी नेता राजेंद्र राठौड़ ने गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, तू इधर-उधर की बात न कर, ये बता कि काफिला कहां लुटा। 35 दिन पूरी सरकार बाड़े में बंद थी। कांग्रेस में नेताओं में एक दूसरे के प्रति संदेह है। कल कुछ टूटे दिल मिले। ये तूफान से पहले की शांति राजस्थान को कहां ले जाएगी। (khabar.ndtv.com)

राजस्थान में कांग्रेस ने पेश किया विश्वास प्रस्ताव
14-Aug-2020 2:10 PM (114)

हमने यहां गोवा-एमपी नहीं बनने दिया-शांति धारीवाल

जयपुर, 14 अगस्त। राजस्थान में कांग्रेस के बीच मची आंतरिक कलह का पटाक्षेप हो चुका है। बीते सोमवार राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात की थी। जिसके बाद वह एक बार फिर कांग्रेस के हाथ से हाथ मिलाते हुए नजर आए। राजस्थान में आज (शुक्रवार) से विधानसभा का विशेष सत्र शुरू हो चुका है, यानी एक ओर गहलोत सरकार के एजेंडों में कई बिलों को पास कराना होगा, तो वहीं अविश्वास-विश्वास प्रस्ताव को लेकर सियासी संग्राम भी शुरू हो गया है। 

दरअसल भारतीय जनता पार्टी ने अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया था। जिसके बाद मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा था कि वह सदन में विश्वास प्रस्ताव लेकर आएंगे। दोपहर में सत्र की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस के प्रमुख व्हिप महेश जोशी ने विश्वास प्रस्ताव को लेकर स्पीकर को नोटिस दिया। जिसके बाद गहलोत सरकार में कानून और संसदीय कार्य मंत्री शांति कुमार धारीवाल ने सदन में विश्वास प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि हमने यहां (राजस्थान) गोवा, एमपी नहीं बनने दिया।

विधानसभा सत्र के पहले दिन यानी आज बीजेपी ने अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की घोषणा की थी। नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने कहा था, हम अपने सहयोगी दलों के साथ विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव ला रहे हैं। बीजेपी द्वारा अविश्वास प्रस्ताव लाने की खबरों के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, हम खुद विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव लाएंगे।

आज बारिश की वजह से सदन की कार्यवाही शुरू होने में थोड़ी देरी हुई। सत्र के शुरू होते ही राजस्थान विधानसभा को 1 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। शोक प्रस्ताव के बात सदन की कार्यवाही को स्थगित किया गया। 1 बजे कार्यवाही शुरू होते ही गहलोत सरकार में कानून और संसदीय कार्य मंत्री शांति कुमार धारीवाल ने विश्वास प्रस्ताव पेश किया।

मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि अशोक गहलोत ने यहां (राजस्थान) बीजेपी को छठी का दूध याद दिला दिया। यहां हमने गोवा, मध्य प्रदेश नहीं बनने दिया। गहलोत सरकार के मंत्री शांति धारीवाल ने राज्यपाल कलराज मिश्र को रबर स्टैंप बताया।

राजस्थान विधानसभा में आज 4 बीजेपी और 4 कांग्रेस विधायक विश्वास प्रस्ताव पर बोलेंगे। सदन में बीजेपी के उप-नेता राजेंद्र राठौड़ ने अपनी बात रखते हुए कहा, तू इधर-उधर की बात न कर, ये बता कि काफिला कहां लुटा। 35 दिन पूरी सरकार बाड़े में बंद थी। कांग्रेस में नेताओं में एक दूसरे के प्रति संदेह है। कल कुछ टूटे दिल मिले। ये तूफान से पहले की शांति राजस्थान को कहां ले जाएगी।

बीते मंगलवार सचिन पायलट के जयपुर पहुंचते ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जैसलमेर के लिए निकल गए थे, जहां कांग्रेस के करीब 100 विधायकों को रखा गया था। सीएम गहलोत ने कहा था कि कांग्रेस विधायक इस राजनीतिक टकराव से स्वाभाविक रूप से परेशान हैं, लेकिन हर किसी को आगे बढऩा चाहिए।
संवाददाताओं से बात करते हुए अशोक गहलोत ने कहा, जिस तरह से ये पूरा घटनाक्रम हुआ, उससे विधायक वास्तव में परेशान थे। मैंने उन्हें समझाया कि कभी-कभी हमें सहनशील होने की आवश्यकता होती है। हमें राष्ट्र, राज्य और लोगों की सेवा करनी है और लोकतंत्र को बचाना है।

बीते दिन कांग्रेस विधायक दल की बैठक को संबोधित करते हुए सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि जो बातें हुईं, उन्हें भूल जाएं। सचिन पायलट से मुलाकात करने के बाद सीएम ने बैठक में कहा, जो बातें हुईं, उन्हें अब भूल जाओ। हम इन 19 विधायकों के बिना भी बहुमत साबित कर देते लेकिन फिर वह खुशी नहीं मिलती क्योंकि अपने तो अपने होते हैं।

सीएम गहलोत ने कहा, हम खुद विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव लाएंगे। जिन विधायकों को कोई समस्या है, जो रूठे हैं वो मुझसे अकेले आकर मिल सकते हैं। इसके पीछे गहलोत का संदेश बीती बातों यानी कड़वाहट को भुलाकर आगे बढऩे का रहा।

राजस्थान विधानसभा के विशेष सत्र से एक दिन पहले यानी गुरुवार को हुई बैठक में पर्यवेक्षक और कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल की मौजूदगी में सीएम अशोक गहलोत और उनके पूर्व डिप्टी सचिन पायलट की मुलाकात हुई। दोनों नेताओं ने एक-दूसरे से हाथ मिलाया और मुस्कुराए। पायलट इस बैठक के लिए सीएम गहलोत के आधिकारिक आवास पहुंचे थे।

मुख्यमंत्री आवास पर अशोक गहलोत के खिलाफ पूर्व में बागी तेवर अपनाने वाले अन्य विधायक भी पहुंचे थे। बैठक के लिए गहलोत खेमे के विधायकों को होटल से मुख्यमंत्री आवास ले जाया गया। केसी वेणुगोपाल की मौजूदगी में विधायक दल की बैठक आयोजित हुई। (khabar.ndtv.com)

बिहार चुनाव में अहम भूमिका निभा सकते हैं देवेंद्र फडणवीस
14-Aug-2020 2:01 PM (33)

नई दिल्ली, 14 अगस्त (आईएएनएस)| भारतीय जनता पार्टी महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को बिहार विधानसभा चुनाव में उतारने की तैयारी में है। उन्हें राज्य का चुनाव प्रभारी बनाया जा सकता है। यह जानकारी पार्टी सूत्रों ने दी है। बिहार चुनाव के मोर्चे पर फडणवीस को लगाने के पीछे उनकी नेतृत्व क्षमता, चुनावी रणनीति बनाने में कुशलता के साथ ही सुशांत सिंह राजपूत फैक्टर को भी अहम वजह माना जा रहा है। भाजपा की नेशनल यूनिट के एक नेता ने आईएएनएस से देवेंद्र फडणवीस को बिहार चुनाव में अहम जिम्मेदारी मिलने की पुष्टि की, हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि अभी औपचारिक घोषणा होनी बाकी है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि जिस तरह से सुशांत सिंह राजपूत का मामला सुर्खियों में आया है बिहार के लोग महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार से नाराज हैं और वे भावनात्मक रूप से इस पूरे मामले से जुड़े हैं। ऐसे में महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के राजनीतिक प्रतिद्वंदी देवेंद्र फडणवीस को बिहार चुनाव के मोर्चे पर लगाकर पार्टी बड़ा दांव चलने की कोशिश में है। फडणवीस उद्धव ठाकरे सरकार पर लगातार हमलावर रहे हैं। बीजेपी अगर सुशांत सिंह राजपूत के मामले को चुनावी मुद्दा बनाएगी तो फडणवीस इसमें कारगर भूमिका निभा सकते हैं। 

पार्टी के एक दूसरे नेता ने आईएएनएस से कहा कि राष्ट्रीय महासचिव और बिहार के प्रभारी भूपेंद्र यादव महाराष्ट्र चुनाव में भी प्रभारी रहे थे। उस वक्त देवेंद्र फडणवीस और उन्होंने मिलकर धारदार चुनावी रणनीति बनाई थी। यह अलग बात है कि गठबंधन से शिवसेना के अलग हो जाने के कारण महाराष्ट्र में सरकार नहीं बन सकी। लेकिन पार्टी का प्रदर्शन और स्ट्राइक रेट अपेक्षा के अनुरूप था। ऐसे में चुनावी रणनीति बनाने में कुशल माने जाने वाले दोनों नेताओं की जोड़ी के जरिए भाजपा बिहार में सफलता हासिल करना चाहती है।

राजस्थान में बसपा ने अपने 6 दलबदलू विधायकों को व्हिप जारी किया
14-Aug-2020 12:11 PM (40)

नई दिल्ली / जयपुर, 14 अगस्त (आईएएनएस)| बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने राजस्थान में फ्लोर टेस्ट के दौरान अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ वोट करने के लिए अपने पूर्व विधायकों को एक व्हिप जारी किया है। गौरतलब है कि शुक्रवार से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र के दौरान फ्लोर टेस्ट आयोजित किया जा सकता है। पिछले साल बसपा के छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए थे। इसे बसपा ने अवैध करार दिया था और अदालत में चुनौती दी थी।

यह व्हिप पार्टी महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा द्वारा जारी किया गया है। उन्होंने छह विधायकों को दसवीं अनुसूची के सेक्शन 2 (1) (ए) के तहत जारी व्हिप के अनुसार वोट करने या दसवीं अनुसूची के 2 (1) (बी) के तहत अयोग्यता का सामना करने के निर्देश दिए हैं।

यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी गया, लेकिन राजस्थान हाईकोर्ट में यह मामला लंबित होने के कारण कोई आदेश पारित नहीं किया गया।

याचिकाकर्ता ने कोर्ट में दावा किया कि राजस्थान में 7 दिसंबर, 2018 को हुए विधानसभा चुनाव में बसपा द्वारा जारी किए गए टिकटों पर पार्टी के छह विधायक चुने गए थे।

ये छह विधायक -- संदीप यादव, वाजिब अली, दीपचंद खेरिया, लखन मीणा, जोगेंद्र अवाना और राजेंद्र गुढ़ा हैं, जिन्होंने बाद में सितंबर 2019 में कांग्रेस का दामन थाम लिया था।

सचिन पायलट के साथ हुए विवाद के बाद कांग्रेस सरकार विधायकों की संख्या के मामले में सुरक्षित है, क्योंकि पार्टी के पास आवश्यक बहुमत से अधिक विधायक हैं। वहीं कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक में पायलट और अशोक गहलोत ने पार्टी ऑब्जर्वर की मौजूदगी में हाथ मिलाया।

वहीं सीएलपी की बैठक से पहले दोनों नेता -- अशोक गहलोत और सचिन पायलट भी मिले।

बैठक में गहलोत ने बीती बात को भुलाने का आह्वान करते हुए कहा, "अपने ताउ अपने होते हैं। हम इन 19 विधायकों के बिना भी सदन के पटल पर बहुमत साबित कर सकते थे, लेकिन तब चारों ओर खुशी नजर नहीं आएगी।"

गहलोत ने आगे कहा, "हम खुद ही अविश्वास प्रस्ताव को आगे बढ़ाएंगे। हम अपने उन विधायकों की शिकायतों को भी हल करेंगे जो हमसे नाराज हैं।"

वहीं भाजपा ने गुरुवार को घोषणा की कि वह विशेष विधानसभा सत्र शुरू होने पर गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी।

भाजपा की चाल... सिंधिया समर्थक मंत्रियों की जासूसी
13-Aug-2020 5:47 PM (54)

सिंधिया समर्थक मंत्रियों के विभागों में कद्दावर अफसरों की नियुक्ति कर उनके हाथ-पैर बाँध दिए गए हैं, ऐसे में कई मंत्री सिंधिया से भी नाराज, वे खुद को घुटन में महसूस कर रहे हैं

पंकज मुकाती 
(राजनीतिक विश्लेषक)

शिवराज सिंह चौहान, चूकने वाले राजनेता नहीं हैं। वे ज्योतिरादित्य सिंधिया के बढ़ते कद को बौना करने का कोई मौका नहीं छोड़ते। सिंधिया समर्थकों को वे लम्बी पारी नहीं खेलने देंगे। चौथी बार के मुख्यमंत्री के मुँह से शहद और चेहरे पर भोलापन जरूर है, पर वे हैं भीतर उतने से ही शातिर। सिंधिया के समर्थक मंत्रियों को बड़े पद भले मिल गए हो पर उनकी कमान शिवराज ने पिछले दरवाजे से अपने हाथ में ले ली हैं। शिवराज ने अपने खास अफसरों को इन मंत्रियों के विभागों का जिम्मा दे दिया है।

ऐसे में सभी मंत्री बेहद बेचैन और गुस्सा हैं। शिवराज ने तबादले में चुन-चुनकर अफसरों की नियुक्ति की है। अब ऐसे मंत्रियों के विभागों की फाइल आगे बढऩा मुश्किल हैं। एक तरह से सिंधिया समर्थकों के विभाग शिवराज के अफसर ही चलाएंगे। ये मंत्री सिर्फ शोभा की सुपारी बने रहेंगे। सूत्रों के अनुसार भाजपा हाईकमान भी सिंधिया के जिद के आग झुक भले गया हो, पर वो पूरे अधिकार सिंधिया को नहीं देना चाहता। एक तरह से सिंधिया के मंत्रियों के बाड़ाबंदी कर दी गई है। कुछ मंत्रियों ने दबी जुबान ये भी कहना शुरू कर दिया इससे तो कांग्रेस में ही अच्छे थे। 

मध्यप्रदेश में तबादलों की जो सूचियां पिछले दिनों आई उसने साबित कर दिया कि भाजपा ने सिंधिया के खिलाफ राजनीति शुरू कर दी है। कुछ बड़े और दबंग अफसरों की नियुक्ति ने इस पर मुहर लगा दी है। कई कद्दावर और शिवराज के करीबी अफसरों की नियुक्ति सिंधिया समर्थक मंत्रियों के विभागों में की गई है।

ऐसे नियुक्तियों ने मंत्रियों के हाथ-पैर बाँध दिए हैं। कई मंत्री नाराज है। खासकर तुलसी सिलावट और गोविन्द सिंह राजपूत तो अपने विभागों में कोई काम ही नहीं करा पा रहे। शिवराज इन दोनों को हर हल में नाकाबिल साबित करना चाहते हैं। इसके पीछे साफ़ रणनीति है सिंधिया के दो करीबियों को कमजोर करना। एक तरफ से मंत्रियों के विभागों में शिवराज ने जासूस नियुक्त कर दिए हैं।

देरी का फायदा उठाया
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जब देखा कि सिंधिया जिद पर अड़े हैं। विभागों से लेकर ट्रांसपोर्ट कमिश्नर तक में उनकी चल रही है। ऐसे में शिवराज ने मंत्रिमंडल के साथ ही अफसरों के जरिये खुद को मजबूत कर लिया। सिंधिया सर्मथक मंत्रियों में इसे लेकर गुस्सा है। सूची देखेंगे तो साफ़ झलकता है कि शिवराज के करीबी मंत्रियों के यहां कमजोर अधिकारी नियुक्त किये गए। जबकि सिंधिया समर्थकों के विभागों की कमान ऐसे अफसरों को सौंपी गई जो हर फाइल में कोई रेड लाइन लगाकर उसे रोक सके।

नरोत्तम मिश्रा से भी तकरार सामने आया
शिवराज के सामने मुख्यमंत्री पद के दावेदार के तौर पर उभर रहे नरोत्तम मिश्रा को विभाग में राजेश राजौरा की नियुक्ति कर दी गई है। नरोत्तम और राजेश राजौरा के बीच कभी भी अच्छे सम्बन्ध नहीं रहे। अफसरशाही और कैबिनेट में सभी ये बात अच्छे से जानते हैं कि राजेश राजौरा कभी भी मंत्रियों की नहीं सुनते। वे अपने हिसाब से काम करने के आदि हैं।

अब सिंधिया समर्थकों के विभाग पर नजर डालते हैं। तुलसी सिलावट के विभाग में अब एसएम मिश्रा की नियुक्ति कर दी गई है। बिसाहू लाल सिंह के विभाग में फैज अहमद किदवई जैसा नाम है। राजवर्धन सिंह दत्ती गांव के विभाग में अब विवेक पोरवाल प्रमुख रहेंगे।

क्या उपचुनाव के नतीजों तक मंत्रियों की बाड़ाबंदी की गई ?
राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार ऐसा कभी होता नहीं। मंत्री अपनी पसंद के अफसर रखते आये हैं। मंत्री और अफसरों के बीच सम्बन्ध अच्छे न होंगे तो कभी भी कोई काम आगे नहीं बढ़ सकेगा। भाजपा की रणनीति से जुड़े रहे लोगों का मानना है कि सिंधिया का जो कद भाजपा में बड़ा और भविष्य के लिहाज से चमकदार दिखाया जा रहा है, ऐसा है नहीं।

भाजपा नहीं चाहती कि उपचुनाव के नतीजों तक सिंधिया समर्थकों के विभागों में कोई बड़े फैसले हो सके। साथ पार्टी एक रणनीति के तहत इन मंत्रियों पर नजर रखे हुए हैं। बहुत संभव है कि चुनाव के नतीजों के बाद बड़े स्तर पर मंत्रियों के पर कतरे जाएँ। खासकर तुलसी सिलावट और गोविन्द सिंह राजपूत के कद को भाजपा कमजोर करना चाहती है। (politicswala)

महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर 'छोटे दलों' में संशय
12-Aug-2020 4:29 PM (81)

मनोज पाठक 

पटना, 12 अगस्त (आईएएनएस)| बिहार के विपक्षी महागठबंधन में अब तक सार्वजनिक तौर पर भले ही सीटों के विभाजन का फॉमूर्ला तय नहीं हुआ है, लेकिन अंदरखाने में कहा जा रहा है कि इसके लिए गठबंधन में शामिल दलों के बीच कई दौर की बातचीत हो गई है। इस बीच हालांकि कांग्रेस ने 243 विधानसभा सीटों में से 80 सीटों पर दावा ठोंक दिया है। इधर, इसे लेकर गठबंधन में शामिल छोटे दल संशय की स्थिति में हैं। 

महागठबंधन में शामिल प्रमुख दल कांग्रेस के 80 सीटों पर दावा ठांेकने के बाद अन्य छोटे दल सकते में आ गए हैं। हालांकि सूत्रों का यह भी कहना है कि महागठबंधन इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए प्रमुख घटक राजद और कांग्रेस के बीच 163 और 80 फॉमूर्ला बनाकर सीट बंटवारे के सौदे के करीब पहुंच गए हैं। 

फिलहाल बिहार में 243 विधानसभा सीटें में से 81 पर राजद और 27 पर कांग्रेस का कब्जा है। सूत्रों का कहना है कि दोनों दल इस पर भी सहमत हो गए हैं कि राजद अपने 163 सीटों के कोटे से विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) सहित महागठबंधन के अन्य दलों को समायोजित करने की कोशिश करेगी, जबकि कांग्रेस, राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा को समायोजित करेगी।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता सदानंद सिंह ने कहा है कि विधानसभा चुनाव में पार्टी कम से कम 80 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इससे कम सीटों पर पार्टी चुनाव मैदान में नहीं जाएगी। उन्होंने अपनी मांग से पार्टी आलाकमान को भी अवगत करा दिया है। 

उन्होंने यहां तक कहा, "हमारी 80 सीटों की मांग कोई नई नहीं है। हाल में पार्टी के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल के साथ हुई बैठक में भी यह मुद्दा उठाया गया था। कांग्रेस राष्ट्रीय स्तर की पार्टी है। पिछले चुनाव में महागठबंधन में जनता दल यूनाइटेड भी सहयोगी था, लेकिन इस बार जदयू महागठबंधन का हिस्सा नहीं है। ऐसे में उसकी हिस्सेदारी वाली सीटों पर कांग्रेस की दावेदारी बनती है।"

इधर, राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी भी स्वीकार करते हुए कहते हैं कि सीट बंटवारे को लेकर बातचीत चल रही है, लेकिन अब तक बहुत कुछ साफ नहीं है। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि हमलोग एक मजबूत गठबंधन चाहते हैं। 

इधर, गठबंधन में समन्वय समिति नहीं बनने पर अभी भी नाराजगी बनी हुई है। गठबंधन में शामिल छोटे दल के नेता खुलकर तो कुछ खास नहीं बोलते लेकिन एक नेता ने नाम नहीं प्रकाषित करने की षर्त पर इतना जरूर कहते हैं कि समन्वय समिति बने बिना सीट बंटवारे की बात बेमानी है। हमलोग गठबंधन में षामिल है, किसी खास दल से गठबंधन थोडे हुए है कि खास पार्टी हमें सीट देगी। 

बहरहाल, बिहार में समय पर चुनाव होने के आहट के साथ ही पार्टियों में सीट बंटवारे को लेकर रस्साकसी शुरू हो गई है। अब देखने वाली बात है कि किसके हिस्से में कितनी सीटें आती हैं।

गहलोत बोले-भूलो और माफ करो, तो पायलट ने कहा-टेस्ट मैच ड्रॉ
12-Aug-2020 4:14 PM (69)

जयपुर, 12 अगस्त। राजस्थान कांग्रेस में चल रहे सियासी ड्रामे के खत्म होने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा कि अब विधायकों को भूल जाओ और माफ करो के रास्ते पर चलना चाहिए। उन्होंने कहा कि अब भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो। देश के हित में, प्रदेश के हित, प्रदेशवासियों के हित में, डेमोक्रेसी के हित में। उन्होंने कहा कि यह डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई है। ऐसे में सभी भूलो और माफ करो की स्थिति में रहें। 

उधर पहले सचिन पायलट के समर्थन में गए विधायक विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि यह टेस्ट मैच था जो ड्रॉ हो चुका है। उन्होंने कहा, हम बागी नहीं हैं। हमने पार्टी के खिलाफ कुछ नहीं कहा था। मैंने मजाकिया तौर पर कहा था कि यह एक टेस्ट मैच है। अब मैच ड्रॉ हो चुका है और हम अब फिर पवेलियन में लौट आए हैं।

अशोक गहलोत ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि यह लड़ाई डेमोक्रेसी के हित में है। इसमें हमारे विधायकों ने इतना साथ दिया। 100 से ज्यादा विधायकों का एक साथ इतने लंबे समय के लिए रुकना, ऐसा हिंदुस्तान के इतिहास में कभी नहीं हुआ होगा। यह डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई है। आगे भी जारी रहेगी हमारी लड़ाई। उन्होंने कहा, सब मिलकर चलें। प्रदेश के लोगों ने विश्वास करके सरकार बनाई थी, हमारी जिम्मेदारी है कि उसे बनाए रखें और प्रदेश की सेवा करें, सुशासन बनाए रखें और कोरोना से मुकाबला करें।

गहलोत ने कहा कि यह जीत प्रदेश के लोगों की जीत है। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेशवासियों ने हमारे विधायकों को फोन कर-करके हौसलाअफजाई की है। उन्होंने कहा कि सरकार स्थिर होनी चाहिए। ऐसे में हमें दोबारा दोगुनी शक्ति से उनकी सेवा करनी है।

गहलोत ने अपने पूरे सियासी उठापटक में अपने साथ रुके हुए विधायकों की नाराजगी की खबर पर कहा कि विधायकों की नाराजगी स्वाभाविक है। गहलोत ने कहा- उनकी नाराजगी स्वाभाविक है, जिस रूप में यह एपिसोड हुआ उन्हें इतने दिन होटलों में रहना पड़ा, उनकी नाराज होना स्वाभाविक था लेकिन मैने इन विधायकों को समझाया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अब सब मिलकर राज्य के विकास के लिए काम करेंगे।

मतभेद के पूरे मामले पर विश्वेंद्र सिंह ने कहा, हम बागी नहीं हैं। हम सरकार के कामकाज को लेकर नाखुश थे। जैसा कि पायलट जी ने कहा था कि नेतृत्व के साथ कुछ समस्याएं थीं। हमने पार्टी हाई कमान से बात करने के बाद मामला साफ कर लिया है। उन्होंने कहा, जैसा कि मैंने कहा था यह एक टेस्ट मैच था, जो अब ड्रॉ हो गया है। आलाकमान के दखल के बाद अब दोनों टीमों में सुलह हो गया है और हम दोबारा पवेलियन में लौट आए हैं। (khabar.ndtv)

बागी विधायकों का दिल जीतने की कोशिश करूंगा-गहलोत
11-Aug-2020 2:39 PM (56)

जयपुर, 11 अगस्त (आईएएनएस)| सचिन पायलट और उनके खेमे के कांग्रेस विधायकों के बागी तेवरों से उत्पन्न संकट का समाधान होने के बाद, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को कहा कि वह उनकी शिकायतों को जानने और उनका दिल जीतने की कोशिश करेंगे। गहलोत कांग्रेस विधायक दल की बैठक की अध्यक्षता करने के लिए जैसलमेर रवाना होने से पहले मीडिया से बात कर रहे थे, जहां उनके खेमे के विधायक रह रहे हैं।

उन्होंने कहा, "बतौर मुख्यमंत्री अपने विधायकों का दिल जीतना मेरी जिम्मेदारी है, अगर उनके पास मुझसे नाराज होने का कोई कारण है। हम यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि उनसे क्या वादे किए गए थे और क्यों वे नाराज हैं।"

गहलोत ने बताया कि कांग्रेस आलाकमान द्वारा विधायकों की शिकायतों को देखने के लिए 3 सदस्यीय समिति बनाई गई है।

हालांकि, कांग्रेस में पायलट की वापसी पर जब गहलोत की राय जानने की कोशिश की गई तो वह इस सावल को टाल गए। इससे पहले, मुख्यमंत्री ने पूर्व उममुख्यमंत्री को 'निकम्मा' और 'नकारा' तक कह डाला था। 

जुलाई में उपमुख्यमंत्री और पीसीसी प्रमुख के पद से बर्खास्त किए गए पायलट पार्टी नेतृत्व से मिलने के बाद सड़क मार्ग से राज्य की राजधानी जयपुर लौट रहे हैं और उनका समर्थकों द्वारा विभिन्न स्थानों पर स्वागत किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने भाजपा पर भी निशाना साधते हुए कहा कि उनकी सभी योजनाएं और अनुमान बुरी तरह विफल रही हैं।

उन्होंने कहा, "उस स्थिति की कल्पना कीजिए जब उनके द्वारा हायर किए गए 3 विमान खड़े ही रह गए क्योंकि विधायकों ने एक नई जगह जाने से इनकार कर दिया था। वे कैम्पिंग के लिए भी अपने विधायकों को ले जाना चाहते थे, वह भी नहीं किया जा सका। मंगलवार को एक होटल में विधायकों की एक बैठक भी होने वाली थी, वह भी रद्द हो गया। देखिए, वे कितनी बुरी तरह से विफल हुए हैं।"

गहलोत ने कहा कि वह कांग्रेस के उन विधायकों का बहुत सम्मान करते हैं जो एक महीने तक होटलों में रहे और उनमें से एक भी प्रतिद्वंद्वी खेमे में शामिल नहीं हुआ। 

उन्होंने जोर देते हुए कहा कि राजस्थान में कांग्रेस सरकार 5 साल पूरे करेगी और अगले विधानसभा चुनाव में भी सत्ता में आएगी। 

राहुल को फिर से कांग्रेस अध्यक्ष बनाने की मांग
11-Aug-2020 2:34 PM (78)

तिरुअनंतपुरम, 11 अगस्त (आईएएनएस)| कांग्रेस नेता राहुल गांधी को फिर से पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। केरल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रमेश चेन्निथला ने मंगलवार को कहा कि राहुल गांधी ही देश में ऐसे नेता हैं जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विकल्प हो सकते हैं। चेन्निथला ने राहुल गांधी को एक पत्र लिख कर पार्टी का फिर से अध्यक्ष बनने की अपील की है।

चेन्निथला ने कहा, "मोदी सरकार के सत्तावादी शासन का एक मात्र विकल्प राहुल गांधी हैं। ऐसे वक्त जब कि कुछ मीडिया हाउस एक तरफा खबरें चला रहे हैं, राहुल गांधी ही एक ऐसे नेता हैं जो अन्याय के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं।"

उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता राहुल गांधी के कांग्रेस पार्टी का फिर से अध्यक्ष बनने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। अगर ऐसा होता है तो इससे पार्टी कार्यकतार्ओं में नया जोश पैदा होगा और फिर हम पुराने मुकाम पर पहुंच पाएंगे ।

उन्होंने कहा कि मौजूदा पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी की तबीयत खराब रहती है, ऐसे में पार्टी एक अभूतपूर्व संकट के दौर से गुजर रही है ।

चेन्निथला ने कहा, "बीजेपी की कुटिलता और मजबूती की काट के लिए आपके युवा और गतिशील नेतृत्व की काफी जरूरत है। आपने जो चुनाव की हार की जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया था उससे पार्टी की लोकतांत्रिक जड़ों को काफी मजबूती मिली है । लेकिन अब वक्त आ गया है कि आप अपने फैसले पर फिर से विचार करें । पांच राज्यों में चुनाव आने वाले हैं।"

राहुल गांधी को लिखे पत्र के अंत में चेन्निथला ने उनसे अपील की कि पूरे देश के कांग्रेस कार्यकर्ता और उदारवादी जनता की आकांक्षा के मद्देनजर आप देश को फिर से लोकतांत्रिक परम्परा की ओर ले चलें ।

पायलट की वापसी कांग्रेस के लिए फिर बड़ी मुश्किल !
11-Aug-2020 12:58 PM (63)

जयपुर, 11 अगस्त। दिल्ली में सचिन पायलट की राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात के बाद उनकी कांग्रेस से नाराजगी दूर हो गई है। पार्टी उनकी बगावत को शांत कर राहत की सांस ले पाती कि इससे पहले राजस्थान से एक और खबर आ गई है। अब अशोक गहलोत के खेमे के विधायक जो इस समय जैसलमेर के होटल में हैं, इस नए घटनाक्रम से नाराज हो गए हैं। 

दरअसल रविवार को हुई कांग्रेस विधायकों की बैठक में सीएम अशोक गहलोत के करीबी और कैबिनेट मंत्री ने कहा था कि अब बागी विधायकों की वापसी वे नहीं चाहते हैं। उनका ये बयान एक तरह से अशोक गहलोत का बयान माना जा रहा था। लेकिन सोमवार को अचानकर घटनाक्रम बदल गया तो अब ये विधायक खुद को ठगा से महसूस कर रहे हैं। विधायकों के नाराजगी को दूर करने के लिए सीएम अशोक गहलोत, संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल, संयम लोढ़ा और महेंद्र चौधरी जैसलमेर पहुंच रहे हैं। 

कल रात से ही विधायकों की ओर से मुख्यमंत्री को जैसलमेर बुलाए जाने की मांग की गई थी, जिसके बाद  प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे और राष्ट्रीय मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मुख्यमंत्री को विधायकों की भावना से अवगत कराया गया कि पायलट कैंप की घर वापसी से जैसलमेर में टिकाए गए विधायकों में नाराजगी बढ़ी है। देर रात तक विधायकों की बैठकें लेकर उन्हें मनाने का दौर चलता रहा। फिलहाल खबर है कि पायलट के कैंप विधायक अब दिल्ली से शाम 4 बजे तक जयपुर पहुंच जाएंगे।

इससे पहले देर रात सचिन पायलट ने ट्वीट कर सोनिया, राहुल, प्रियंका गांधी सहित कांग्रेस नेताओं को धन्यवाद दिया है। उन्होंने कहा कि वह राजस्थान की जनता से किए गए वादों को पूरा करने के लिए खड़े हैं। इससे पहले सोमवार की शाम को उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि यह एक वैचारिक मुद्दा था जिसको पार्टी में हित में उठाना उचित था।  (khabar.ndtv.com)

संप्रग शकुनियों की भयावह साजिशों से पार नहीं पा सका : तिवारी
02-Aug-2020 5:38 PM (81)

नई दिल्ली, 2 अगस्त (आईएएनएस)| राहुल गांधी के करीबी राज्यसभा सदस्यों द्वारा 10 साल के संप्रग शासन के दौरान कांग्रेस के प्रदर्शन के बारे में आत्मनिरीक्षण की बात कहने की बहस के बीच, पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने रविवार को पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का बचाव किया। उन्होंने भाजपा पर हमला किया और उसे 'शकुनी' कह डाला। आनंदपुर साहिब निर्वाचन क्षेत्र के सांसद तिवारी ने ट्वीट किया, "दुर्भाग्य से संप्रग अपने खिलाफ साजिशों से पार नहीं पा सका। शकुनियों से भरी दुनिया में इसकी अगुवाई सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह जैसे सज्जन लोगों ने किया था और कर रहे हैं।"


जब आईएएनएस ने तिवारी से उनकी 'शकुनी' टिप्पणी के बारे में संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि भाजपा ने तत्कालीन संप्रग सरकार के खिलाफ भयावह अभियान का नेतृत्व किया।

तिवारी ने संकेत दिया कि भयावह अभियान 2जी और कोयला ब्लॉक आवंटन मुद्दा था, जिसमें भाजपा ने कैग रिपोर्ट का हवाला देते हुए भ्रष्टाचार का आरोप लगाया, जिसके कारण 2014 के चुनाव में संप्रग की हार हुई।

तिवारी ने कहा कि संप्रग सरकार की उपलब्धि को पीएमओ अभिलेखागार में देखा जा सकता है और सरकार ने आरटीआई, आरटीई, मनरेगा, खाद्य सुरक्षा और अन्य विकासात्मक कार्यों में बहुत काम किया है।

कांग्रेस के लिए वोट बैंक ज्यादा महत्वपूर्ण था, मुस्लिम महिलाओं का जीवन नहीं: स्मृति ईरानी
31-Jul-2020 1:08 PM (65)

नई दिल्ली, 31 जुलाई (आईएएनएस)| देश में तीन तलाक कानून लागू होने के एक साल पूरे होने पर शुक्रवार को मोदी सरकार के तीन केंद्रीय मंत्रियों ने देश भर की मुस्लिम महिलाओं को वीडियो कांफ्रेंसिंग से संबोधित किया। मुस्लिम महिला अधिकार दिवस पर बोलते हुए केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि 1980 के दशक में कांग्रेस के पास मुस्लिम बहनों के हक में फैसला करने का मौका था, लेकिन उनके लिए वोट ज्यादा महत्वपूर्ण था मुस्लिम बहनों का जीवन नहीं। स्मृति ईरानी ने कहा कि सही जंग उन बहनों ने लड़ी, जिन्होंने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया जिन्होंने इस नाइंसाफी से सभी के लिए जंग लड़ी। उन्होंने कहा कि आज का दिन सिर्फ मुसलमान बहनों का दिन नहीं है, बल्कि हर महिला का दिन है, जो चाहती है कि महिलाओं को हर दिन समाज में सम्मान मिले।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि माना जाता है कि महिलाओं की लड़ाई महिलाएं लड़ती हैं लेकिन हमारे देश का इतिहास रहा है, सभ्यता और परंपरा रही है कि जब तक कोई कुरीति समाज के सामने प्रस्तुत होती है, तो भाई भी अपना योगदान देने से चूकते नहीं।

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संसद और संसद के बाहर मुस्लिम महिलाओं के अधिकार के लिए जंग छेड़ दी। आज का दिन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देने का दिन है, जिनकी वजह से देश की मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से छुटकारा मिल सका। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में 2014 से बड़े बदलाव लाने में सफल हुए हैं।

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साहसिक फैसले की वजह से तीन तलाक से मुस्लिम बहनों को छुटकारा मिल सका। तीन तलाक कानून लागू होने के बाद देश में तीन तलाक से जुड़े मामलों की संख्या में 82 प्रतिशत की कमी हुई है।

रविशंकर प्रसाद, नकवी और महिला एवं ईरानी ने इस दौरान वाराणसी, लखनऊ, मुंबई आदि स्थानों की मुस्लिम महिलाओं से वीडियो कांफ्रेंसिंग से बात की। सभी महिलाओं ने तीन तलाक कानून को लेकर अपने अनुभव साझा किए।

 

सच्चाई छिपाना 'देशद्रोह' और उसे बाहर लाना 'देशभक्ति' है: राहुल
27-Jul-2020 1:17 PM (66)

नई दिल्ली, 27 जुलाई (आईएएनएस)| पूर्व कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने सोमवार को लद्दाख में चीनी घुसपैठ को लेकर मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि "सच्चाई को छुपाना" और चीन को भारतीय भूमि पर कब्जा करने की अनुमति देना "राष्ट्रविरोधी" है जबकि लोगों का ध्यान इस ओर खींचना "देशभक्ति" है। गांधी ने श्रृंखला में अपना चौथा वीडियो संलग्न करते हुए एक ट्वीट में कहा, "चीनी लोगों ने भारतीय भूमि पर कब्जा कर लिया है। इस सच्चाई को छिपाना और उन्हें इसे लेने की अनुमति देना देशद्रोह है। जबकि लोगों का ध्यान इस ओर आकर्षित कराना देशभक्ति है।"

'चीन पर कठिन सवाल' शीर्षक वाले वीडियो में केरल के वायनाड से कांग्रेस सांसद ने कहा, "एक भारतीय के रूप में, मेरी पहली प्राथमिकता देश और उसके लोग हैं।"

सरकार पर हमला करते हुए गांधी ने कहा, "आप ऐसे लोगों पर कैसी प्रतिक्रिया देते हैं जो चीन पर प्रधानमंत्री से आपके सवाल कहते हैं?"

कांग्रेस नेता ने कहा, "अब, यह बहुत स्पष्ट है कि चीनी हमारे क्षेत्र में प्रवेश कर चुके हैं। यह चीज मुझे परेशान करती है। यह मेरे खून को उबालता है कि कुछ अन्य देश हमारे क्षेत्र में कैसे आ सकते हैं?"

उन्होंने कहा, "अब यदि आप एक राजनेता के रूप में चाहते हैं कि मैं चुप रहूं और अपने लोगों से झूठ बोलूं, जबकि मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं क्योंकि मैंने सैटेलाइन तस्वीरें देखी हैं।"

राहुल ने आगे कहा, "मैंने सेना के पूर्व अधिकारियों से बात की है। यदि आप चाहते हैं कि मैं झूठ बोलूं कि चीनियों ने इस देश में प्रवेश नहीं किया है तो मैं झूठ नहीं बोलूंगा। मैं ऐसा नहीं करूंगा। मुझे परवाह नहीं है कि इससे मेरा पूरा करियर नरक में चला जाए पर मैं झूठ नहीं बोलूंगा। मुझे लगता है कि जो लोग हमारे देश में चीनियों के घुसने के बारे में झूठ बोल रहे हैं, वे लोग राष्ट्रवादी नहीं हैं।"

उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि जो लोग झूठ बोल रहे हैं और कह रहे हैं कि चीनी, भारत में नहीं हैं, वे देशभक्त नहीं हैं। इसलिए मुझे परवाह नहीं है इसकी कीमत मुझे राजनेता के तौर पर चुकानी पड़े।"

बता दें कि सर्वदलीय बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा था कि चीन ने भारत की भूमि में प्रवेश नहीं किया है। इसके बाद 17 जुलाई को, गांधी ने अपना पहला वीडियो जारी किया था और सरकार की विदेश नीति पर सवाल उठाया।

 

 

राजस्थान स्पीकर सीपी जोशी ने सुप्रीम कोर्ट से वापस ली याचिका
27-Jul-2020 12:31 PM (97)

अब अदालती नहीं राजनीतिक लड़ाई लड़ेगी कांग्रेस

नई दिल्ली, 27 जुलाई। राजस्थान में मचे सियासी घमासान  के बीच बागी विधायकों के मामले में विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी थी, लेकिन इससे पहले ही स्पीकर ने याचिका वापस ले ली है। स्पीकर की ओर से पेश हुए सीनियर एडवोकेट कपिल सिब्बल ने कोर्ट में ये जानकारी दी। अब कांग्रेस राजस्थान में सियासत की लड़ाई अदालत में नहीं लड़ेगी, बल्कि अब राजनीतिक लड़ाई लड़ी जाएगी।

सूत्रों का कहना है कि स्पीकर की सुप्रीम कोर्ट में जल्दबाजी में दाखिल की गई याचिका के कारण राजस्थान हाईकोर्ट को 1992 के खीटो होलहान जजमेंट का सहारा लेना पड़ा। होलोहान जजमेंट एक नजीर बन गई है और हाईकोर्ट ने इसी को ध्यान में रखते हुए स्पीकर को 19 बागी विधायकों के खिलाफ कार्रवाई करने से रोक दिया। इसलिए अब स्पीकर ने याचिका वापस ली है।

इस मामले में सचिन पायलट और अन्य बागी विधायकों की याचिका पर शुक्रवार को राजस्थान हाईकोर्ट का फैसला आना था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस मामले की सुनवाई सोमवार को किए जाने के मद्देनजर हाईकोर्ट ने अपना फैसला न सुनाकर यथास्थिति बरकरार रखने को कहा। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल ने कहा कि वो शुक्रवार को आए हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दे सकते हैं।

राजस्थान में राजनीतिक संकट के बीच राजस्थान विधानसभा का सत्र बुलाने के लिए अशोक गहलोत मंत्रिमंडल ने रविवार को राज्यपाल कलराज मिश्र को संशोधित प्रस्ताव भेजा। राजभवन सूत्रों के मुताबिक अशोक गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्रा को कैबिनेट से पास करवा कर जो एजेंडा विधानसभा सत्र बुलाने के लिए भेजा है, उसमें बहुमत साबित करने का कोई जिक्र नहीं है। इसमें सिर्फ कोरोना पर चर्चा और कुछ बिल पास करवाने के अलावा, विधायी कार्यो के लिए सत्र बुलाने का निवेदन किया गया है। 

दूसरी ओर, राजस्थान में बड़े घटनाक्रम के बीच बहुजन समाज पार्टी  ने पिछले साल कांग्रेस में शामिल होने के लिये पार्टी छोडऩे वाले 6 विधायकों को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के दौरान सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ मतदान करने का रविवार को व्हिप जारी किया।

इस बीच सचिन पायलट की बगावत के कारण राज्य में सियासी संकट में फंसी कांग्रेस आज सभी राज्यों में राजभवन के बाहर प्रदर्शन करने जा रही है। राजस्थान में सियासी संकट को लेकर इस मामले को लेकर कांग्रेस शुरू से बीजेपी पर हमलावर रही है। अब कांग्रेस ने ऐलान किया है कि सोमवार सुबह 11 बजे देश भर के राजभवनों यानी राज्यपालों, उप राज्यपालों के आवास के बाहर बीजेपी के खिलाफ लोकतंत्र बचाओ- संविधान बचाओ की मांग के साथ कांग्रेस कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन करेंगे।  (hindi.news18.com)

कांग्रेस विधायकों का राजभवन में धरना खत्म, अब आज रात होगी कैबिनेट बैठक
24-Jul-2020 9:19 PM (152)

जयपुर, 24 जुलाई। राजस्थान में सियासी घमासान तेज हो गया है। हाईकोर्ट के फैसले के बाद सीएम अशोक गहलोत अपने समर्थकों के साथ राजभवन पहुंचे। अब विधायकों का राजभवन में धरना खत्म हो गया है। विधायक बसों के जरिए होटल फेर मोंट के लिए रवाना हो रहे हैं। आगे की रणनीति तय करने के लिए अब आज रात 9.30 बजे गहलोत कैबिनेट की एक अहम बैठक रखी गई है। राज्यपाल से चर्चा के बाद कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि सीएम गहलोत बहुमत साबित करना चाहते हैं, कोरोना संकट पर विधानसभा सत्र बुलाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि गवर्नर ने हमें बताया कि वह संविधान का पालन करेंगे। सुरजेवाला ने कहा, हम राज्यपाल को मानते हैं। आज 9.30 बजे राज्य कैबिनेट की बैठक होगी। राज्यपाल के नोट पर गौर किया जाएगा और आज ही राज्यपाल को जवाब भेजा जाएगा।

जानकारी के मुताबिक, गहलोत कैबिनेट की बैठक आज रात करीब 9.30 बजे होगी। सीएम अशोक गहलोत बैठक की अध्यक्षता करेंगे। बताया जा रहा है कि सीएम निवास पर होने वाली इस बैठक में विधानसभा सत्र बुलाने का प्रस्ताव पारित किया जाएगा। आज ही कैबिनेट का प्रस्ताव राज्यपाल को भेजा जाएगा।

विपक्ष पर साधा निशाना
वहीं, राज्यपाल से मुलाकात के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए सीएम गहलोत ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। मुख्यमंत्री गहलोत ने सभी विधायकों से कहा, गांधीवादी तरीके से पेश आना है। ये हमारे राजप्रमुख हैं संविधान के हैड हैं। हम कोई टकराव नहीं चाहते। उन्होंने कहा कि ऐसा देश के इतिहास में कभी नहीं हुआ कि राज्यपाल महोदय ने विधानसभा सेशन आहूत करने के लिए मंजूरी न दी हो। राज्यपाल महोदय कैबिनेट के निर्णयों से बाउंड होते हैं। लगता है कि ऊपर से दबाव के कारण विधानसभा सत्र बुलाने के कैबिनेट के प्रस्ताव को अभी तक मंजूरी नहीं मिली है।


सीएम गहलोत ने लगाया बड़ा आरोप
सीएम अशोक गहलोत ने कहा, हमने विधानसभा सत्र बुलाने की मांग की है। विधानसभा में हम बहुमत सिद्ध करेंगे। कोरोना पर चर्चा भी करेंगे। हमने गुरुवार रात को ही राज्यपाल से सत्र को लेकर निवेदन किया था। आज हमने फिर कहा है कि राज्यपाल सत्र बुलाने पर फैसला करें। उन्होंने कहा कि राज्यपाल को बोल्ड डिसीजन लेना चाहिए। उम्मीद करते हैं कि जल्दी राज्यपाल अपना फैसला सुनाएंगे। फैसला आने तक हम धरना देंगे। उन्होंने कहा हमेशा विपक्ष विधानसभा सत्र बुलाने की मांग करता है। यहां सत्ता पक्ष विधानसभा सत्र बुलाने की मांग कर रहा है। ऐसा क्या षड्यंत्र है कि विधानसभा सत्र बुलाने की अनुमति नहीं दी जा रही है। वहीं, राजभवन घेराव बयान पर सीएम अशोक गहलोत ने कहा, यह बयान राजनीतिक बयान था। भैरोंसिंह शेखावत ने भी राजभवन में धरना दिया था। बीजेपी के नए नेताओं को इसकी जानकारी नहीं होगी।

भाजपा द्वारा राजस्थान में लोकतंत्र की हत्या के षडय़ंत्र के खिलाफ कल सुबह 11 बजे सभी जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा धरना प्रदर्शन किया जायेगा। 

बीजेपी ने बताया पॉलिटिकल ड्रामा
इधर, कांग्रेस की पूरी कवायद को बीजेपी ने पॉलिटिकल ड्रामा करार दिया है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री में जिस भाषा का इस्तेमाल किया है वो नैतिकता और पद के आधार पर नहीं बोली जा सकती। उन्होंने जनता को उकसाने का काम किया है। पूनिया ने कहा कि मुख्यमंत्री और गृह मंत्री ने आपराधिक कृत्य किया है। राजभवन में धरने का नाटक चल रहा है। हाउस का फ्लोर हो तय करेगा कि सरकार के पास बहुमत है या नहीं। वहीं, उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि राजभवन का दृश्य अमरूदों का बाग जैसा हो गया है। संविधान के प्रावधानों के प्रतिकूल है जल्द सत्र बुलाने की मांग। उन्होंने कहा कि कोरोना के चलते परीक्षाएं तक स्थगित हो गई हैं। आखिर इतनी बौखलाहट क्यों?

सचिन पायलट का आरोपों से इंकार
इधर, सचिन पायलट समूह का दावा है कि हमारे ऊपर केन्द्र को पार्टी बनाने का आरोप गलत है। ये आपत्ति महेश जोशी के वकील ने कोर्ट में दर्ज की थी कि ये संविधान में बदलाव का मामला है। यदि इसमें केन्द्र पार्टी नहीं है तो याचिका डिफेक्टिव है, इसलिए हमें केंद्र को पार्टी बनाना पड़ा बार-बार केंद्र और बीजेपी के साथ नाम जोडक़र हमें बदनाम करने की कोशिश की जा रही है। हमारा बीजेपी से कोई संबंध नहीं, हम कांग्रेस में हैं और रहेंगे।

सीएम गहलोत का दावा- हमारे पास स्पष्ट बहुमत
सीएम गहलोत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि अभी राज्यपाल से फोन पर बात की है। उन्होंने कहा कि सोमवार से हम विधानसभा सत्र चाहते हैं। हरियाणा में मौजूद विधायकों की बात करते हुए उन्होंने कहा कि किस तरह का दबाव उन पर पड़ रहा है? किस कारण से रोका गया?  हमारे पास स्पष्ठ बहुमत है। हमारे साथी बीजेपी की देखरेख में बंधक है, जोकि वहां से छूटना चाहते हैं। कईयों की आँखों में आंसू आ रहे हैं, वो वापस आना चाहते है। (hindi.news18.com)

हालात बने तो पायलट बन सकते हैं सीएम-राजस्थान भाजपाध्यक्ष
24-Jul-2020 6:00 PM (85)

जयपुर, 24 जुलाई (आज तक)। राजस्थान के रण में लगातार सियासी उठापटक का खेल जारी है। शुक्रवार को हाई कोर्ट का फैसला आना है, इससे पहले भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने बड़ा बयान दिया है। सतीश पूनिया का कहना है कि अगर प्रदेश में परिस्थितियां बनती हैं, तो सचिन पायलट भी राजस्थान के मुख्यमंत्री बन सकते हैं।

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बोले कि सचिन पायलट मुख्यमंत्री बनने के लिए ही बगावत किए हैं और देश में ऐसा इतिहास रहा है कि जिनके पास कम विधायक रहे हैं, वह भी मुख्यमंत्री बने हैं।

जब सतीश पूनिया से उन परिस्थितियों के बारे में सवाल हुआ तो उन्होंने कहा कि कई बार ऐसे समीकरण बनते हैं, जब छोटे दल के लोग मुख्यमंत्री बनते हैं। हालांकि, बीजेपी ने अभी तक कोई फैसला नहीं लिया है क्योंकि अभी तक राजस्थान में राजनीतिक हालात स्पष्ट नहीं है।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपने अंतर्विरोध की वजह से खत्म हो रही है, जहां पर सचिन पायलट जैसे नेता को पार्टी छोडऩी पड़ रही है। कांग्रेस का इतिहास रहा है कि हाथ से निकल के नेता अपने आप को स्थापित किए हैं।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के विधानसभा सत्र बुलाए जाने के सवाल पर पूनिया ने कहा कि जब मामला कोर्ट में है, तब विधानसभा का सत्र नहीं बुलाया जा सकता है क्योंकि दो संवैधानिक संस्थाएं आपस में अपने अधिकार को लेकर नहीं टकरा सकती हैं।

बीजेपी नेता ने कहा कि सरकार को हाई कोर्ट के फैसले और सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करना चाहिए और उसके बाद ही सदन की बैठक बुलानी चाहिए। गौरतलब है कि कांग्रेस की ओर से लगातार आरोप लगाया जा रहा है कि सचिन पायलट और भारतीय जनता पार्टी मिलकर गहलोत सरकार को गिराना चाहते हैं। दूसरी ओर सचिन पायलट की ओर से कहा जा रहा है कि वह अभी भी कांग्रेस पार्टी में हैं और पार्टी के अंदर रहकर ही अपनी लड़ाई लड़ेंगे।

खरीद-फरोख्त का आरोपी मुझे वसुंधरा से मिलाना चाहता था-पूर्व बसपा विधायक
20-Jul-2020 4:09 PM (105)

जयपुर, 20 जुलाई (आईएएनएस)। राजस्थान के विधायक राजेंद्र गुडा ने रविवार को यहां कहा कि खरीद-फरोख्त मामले के आरोपी संजय जैन ने उनसे कुछ महीने पहले संपर्क किया था और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मिलाने के लिए भी कहा था।

गुडा बसपा के पांच अन्य विधायकों के साथ कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। गुडा ने कहा, जैन मुझे भाजपा विधायकों से मिलाना चाहता था। उसने मुझसे यह भी कहा कि मैं वसुंधरा राजे से मिलूं। उस समय हम कांग्रेस में शामिल नहीं हुए थे और हम बसपा विधायक के रूप में थे। उन्होंने कहा कि भाजपा ने कांग्रेस सरकार को गिराने की साजिश एक लंबे समय से शुरू कर दी थी।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा ने दो दिन पहले तीन आडियो क्लिप जारी किए थे, जिसमें कथित तौर पर कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और जैन के बीच विधायकों की खरीद-फरोख्त से संबंधित बातचीत शामिल थी।

गुडा ने पुष्टि की कि वह गहलोत सरकार के साथ हैं। उन्होंने कहा, हमारी सरकार सदन में बहुमत साबित करेगी, क्योंकि इसके पास संख्या है। सचिन पायलट के बगावती सुर के बाद से कांग्रेस सरकार एक बड़े संकट का सामना कर रही है। पायलट ने घोषणा की थी कि गहलोत सरकार अल्पमत में है, क्योंकि उनके पास 30 विधायकों का समर्थन है।

उसके बाद से ही गहलोत खेमे के विधायक एक पांच सितारा होटल में डेरा जमाए हुए हैं, जबकि पायलट खेमे के विधायक मानेसर के एक होटल से निकलने के बाद कथित तौर पर दिल्ली में विभिन्न होटलों में ठहरे हुए हैं।

बसपा प्रमुख मायावती ने शनिवार को गहलोत सरकार पर बसपा के छह विधायकों को तोडऩे का आरोप लगाया था और राजस्थान में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि गहलोत ने बसपा के साथ धोखा किया और कुछ महीने पहले इसके छह विधायकों को कांग्रेस में शामिल करा लिया।
मायावती ने कहा, गहलोत भाजपा पर आरोप लगा रहे हैं कि वह उनके विधायकों को तोड़ रही है, लेकिन उन्होंने खुद राजस्थान में बसपा के छह विधायकों को तोडक़र यही काम किया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि गहलोत ने खुलेआम दल-बदल कानून का उल्लंघन किया है और बसपा के साथ दूसरी बार धोखा किया है। उन्होंने बसपा विधायकों को कांग्रेस में शामिल करा लिया। उन्होंने मांग की, राज्यपाल कलराज मिश्र को राज्य में राजनीतिक अस्थिरता का संज्ञान लेना चाहिए और राष्ट्रपति शासन की सिफारिश करनी चाहिए।

शेखावत बोले-राजस्थान में रेप-मर्डर, गहलोत देख रहे मुगल-ए-आजम
20-Jul-2020 12:48 PM (63)

जयपुर, 20 जुलाई। कोरोना संकट के बीच राजस्थान में जारी सियासी संघर्ष खत्म होने के नाम ही नहीं ले रहा है। सत्ता पक्ष और विपक्ष एक-दूसरे पर आरोप लगाने में जुटे हुए हैं। अब केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य में रेप और हत्या की घटनाएं हो रही हैं जबकि मुख्यमंत्री मुगल-ए-आजम देख रहे हैं।

गजेंद्र सिंह शेखावत ने ट्वीट कर कहा कि टोंक, अलवर, जयपुर, रामगढ़ और कल जालोर में बेटियों के बलात्कार और हत्या की घटनाएं झकझोर देने वाली हैं, लेकिन गहलोत जी अपने विधायकों के साथ होटल फेयरमोंट में मुगल-ए-आजम देखने में व्यस्त हैं। शर्मनाक!!!

टोंक, अलवर, जयपुर, रामगढ़ और कल जालोर में बेटियों के बलात्कार और हत्या की घटनाएं झकझोर देने वाली हैं, लेकिन गहलोत जी अपने विधायकों के साथ होटल फेयरमोंट में मुग़ल-ए-आजम देखने में व्यस्त हैं।

दूसरी ओर, राजस्थान टेप मामले में रविवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय माकन ने अजय माकन ने कहा कि जिन लोगों के नाम एफआईआर में हैं, वे पुलिस की जांच में सहयोग क्यों नहीं दे रहे हैं। एसओजी की टीम को वॉयस सैंपल क्यों नहीं लेने दिया जा रहा है।

उन्होंने कहा, जब केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत का नाम एफआईआर में है, जब उनकी आवाज ऑडियो टेप में है तो वे मंत्री पद पर क्यों बने हुए हैं। कांग्रेस मांग करती है कि वे अपना पद छोड़ें या सरकार उन्हें हटाए ताकि वे जांच को प्रभावित न कर सकें। अगर उन्हें लगता है कि टेप में उनकी आवाज नहीं है तो जांच होने तक उन्हें अपना पद छोड़ देना चाहिए।

अजय माकन ने इस प्रकरण में 5 सवाल दागे जिसमें गजेंद्र शेखावत से जुड़ा सवाल भी दागा गया। उन्होंने कहा कि जब केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत द्वारा यह कहा गया कि कथित ऑडियो टेप में आवाज उनकी नहीं तो फिर वह सामने आकर अपना वॉयस सैंपल देने से इनकार क्यों कर रहे हैं? उन्होंने कहा कि शेखावत को कोई मोरल अथॉरिटी नहीं है जो अपने पद पर बने रहें। उन्हें इस्तीफा देना चाहिए। जांच में सहयोग देना चाहिए और वॉयस सैंपल देना चाहिए।

इस बीच कथित ऑडियो टेप मामले में मानेसर के रिजॉर्ट में रुके विधायकों (सचिन पायलट खेमा) से पूछताछ के लिए पहुंची एसओजी टीम वापस लौट आई। एसओजी टीम को रिजॉर्ट के अंदर जाने नहीं दिया गया। रिजॉर्ट प्रबंधन ने रात का हवाला देते हुए कल सुबह आने के लिए कहा है।

इससे पहले भी राजस्थान पुलिस की स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) की टीम शुक्रवार शाम मानेसर पहुंची थी। तब भी टीम को सीधे अंदर जाने नहीं दिया गया था। करीब डेढ़ घंटे के इंतजार के बाद एसओजी टीम को होटल में एंट्री की परमिशन दी गई थी।

हालांकि वहां एसओजी टीम को कांग्रेस के विधायक भंवरलाल शर्मा नहीं मिले तो टीम वापस लौट आई।

राजस्थान में कुछ ऑडियो टेप वायरल हुए हैं जो विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़ा हुआ है। इसे देखते हुए अशोक गहलोत सरकार ने केस दर्ज करा रखा है। इस मामले में सीएम गहलोत का कहना है कि विरोधी उनकी सरकार को गिराने के लिए डील कर रहे थे। इसी मामले में शनिवार को संजय जैन को कोर्ट में पेश किया गया, जहां बाद में कोर्ट ने उसे रिमांड पर भेज दिया।

विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े 3 ऑडियो क्लिप सामने आए हैं। इन ऑडियो क्लिप में संजय जैन नाम के एक शख्स की आवाज होने का दावा भी किया जा रहा है। एसओजी ने संजय जैन को गिरफ्तार किया था।(aajtak.intoday.in)

गहलोत पर अब माया का हमला
18-Jul-2020 4:53 PM (86)

जयपुर, 18 जुलाई । राजस्थान में कांग्रेस पार्टी के बागी विधायकों या सचिन पायलट को हाईकोर्ट से शुक्रवार को भले ही अंतरिम राहत मिली हो लेकिन प्रदेश के अशोक गहलोत सरकार ने उन्हें चौतरफा घेरना शुरू कर दिया है। सरकार के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने शुक्रवार को एसओजी में एफआईआर दर्ज कराने के साथ ही भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में भी एफआईआर दर्ज करा दी है। इस बारे में एसओजी के डीजी आलोक त्रिपाठी की ओर कहा गया है कि ब्यूरों में जो एफआईआर दर्ज की गई है वो भ्रष्टाचार को लेकर हुई है। 

हॉर्स ट्रेडिंग मामले दोनों जांच एजेंसियों में पहले से ही जांच कर रही है और अब सरकार ऑडियो क्लिप्स मामले में भी कानूनी शिकंजा कसने की तैयारी में है। उधर, बीएसपी सुप्रीमो मायावती भी इस सियासी दंगल में कूद पड़ी हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा है कि गहलोत ने पहले दल-बदल कानून का खुला उल्लंघन और बीएसपी के साथ लगातार दूसरी बार दगाबाजी करके पार्टी के विधायकों को कांग्रेस में शामिल कराया है। अब जग-जाहिर तौर पर फोन टेप कराके इन्होंने एक और गैर-कानूनी व असंवैधानिक काम किया है।

राजस्थान पुलिस के विशेष कार्यबल यानी एसओजी ने शुक्रवार को राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार को अस्थिर करने के लिये विधायकों की खरीद फरोख्त वाले ओडियो टेप में कथित रूप से नाम आने पर संजय जैन को गिरफ्तार कर लिया है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एटीएस एवं एसओजी) अशोक राठौड के अनुसार जैन को सोशल मीडिया पर वायरल हुई ऑडियो रिकॉर्डिंग के आधार पर दर्ज प्राथमिकी के सिलसिले में पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस के अनुसार जैन को बृहस्पतिवार और शुक्रवार को पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया है। गहलोत सरकार को गिराने के कथित षडयंत्र वाले सोशल मीडिया पर वायरल हुए तीन ओडियो टेप में से एक टेप में कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा, गजेन्द्र सिंह और संजय जैन के बीच कथित बातचीत के खिलाफ जांच की मांग को लेकर कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी की ओर से देशद्रोह का मामला दर्ज करवाया गया था। एसओजी ने विधायकों की कथित खरीद फरोख्त और कथित ओडियो टेप रिकार्डिंग मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 124 ए (देशद्रोह) और 120 बी (षडय़ंत्र)के तहत शुक्रवार को दो प्राथमिकी दर्ज की। (navbharattimes.indiatimes.com)

केंद्रीय मंत्री तक सरकार गिराने की साजिश की आंच, पायलट को राहत
18-Jul-2020 1:46 PM (74)

नई दिल्ली, 18 जुलाईराजस्थान का सियासी घमासान  थमने का नाम नहीं ले रहा है। राज्य के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पालयट  के खेमे ने स्पीकर के नोटिस को हाईकोर्ट में चुनौती देकर स्पष्ट कर दिया है कि वे पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। हाईकोर्ट ने पायलट खेमे को राहत देते हुए फिलहाल कार्रवाई पर रोक लगा दी है। 

सचिन पायलट और अन्य बागी विधायकों को कांग्रेस की ओर से अयोग्य ठहराए जाने संबंधी नोटिस पर चुनौती देने वाली याचिका पर राजस्थान हाईकोर्ट ने सुनवाई करते हुए प्रस्तावित कार्रवाई को मंगलवार तक के लिए टाल दिया है। इस बीच, कांग्रेस ने एक ऑडियो टेप जारी करके केंद्र सरकार में मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत पर राजस्थान में अपनी सरकार के खिलाफ बागी विधायकों के साथ मिलकर साजिश रचने का आरोप लगाया। इस मामले में एफआईआर भी दर्ज की गई है।

बागी विधायकों की ओर से स्पीकर के नोटिस को चुनौती देने संबंधी याचिका पर सोमवार को हाईकोर्ट में फिर सुनवाई होगी। फिलहाल, कोर्ट ने राजस्थान विधानसभा के स्पीकर को सचिन पायलट समेत अन्य बागी विधायकों पर मंगलवार तक कोई कार्रवाई नहीं करने का आदेश दिया है।

पायलट खेमे की ओर से वकील हरीश साल्वे ने सुनवाई के दौरान कहा कि सदन से बाहर हुई कार्यवाही के लिये अध्यक्ष नोटिस जारी नहीं कर सकते और नोटिस की संवैधानिक वैधता नहीं है। पायलट खेमे का पक्ष साल्वे और मुकुल रोहतगी रख रहे हैं जबकि अभिषेक मनु सिंघवी दूसरे पक्ष की ओर से दलीलें पेश कर रहे हैं।

यदि बागी विधायकों को अयोग्य घोषित किया जाता है तो बहुमत साबित करने के लिए विधायकों की संख्या का आंकड़ा कम हो जाएगा। इससे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की राह और आसान हो जाएगी क्योंकि उन्हें सामान्य स्थिति की तुलना में और कम विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी।

इस बीच, कांग्रेस ने बीजेपी पर एक बार फिर राजस्थान की गहलोत सरकार को अस्थिर करने के लिए साजिश रचने का  आरोप लगाया है. कांग्रेस ने एक मीडिया ब्रीफिंग में ऑडियो टेप की ट्रांसस्क्रिप्ट को पढक़र सुनाया। कांग्रेस की ओर से आरोप लगाया गया कि ऑडियो टेप में यह आवाजें शेखावत और बागी विधायक भंवर लाल शर्मा एवं संजय जैन की हैं।

कांग्रेस की ओर से कुछ ऑडियो टेप की बात सामने आने के बाद राजस्थान पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत, संजय जैन और कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। एसओजी ने संजय जैन को गिरफ्तार कर लिया है।
वहीं, कांग्रेस ने सचिन पायलट का साथ देने वाले बागी विधायकों भंवर लाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह पर कड़ी कार्रवाई करते हुए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इसके पहले विश्वेंद्र सिंह कांग्रेस सरकार में कैबिनेट मंत्री थे, पिछले मंगलवार को पार्टी ने उनसे कैबिनेट मंत्री का पद भी छीन लिया था।

ऑडियो टेप आने के बाद केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की ओर से सफाई दी गई है। शेखावत ने ऑडियो क्लिप में अपनी आवाज होने से ही इनकार किया है। उन्होंने कहा कि ऑडियो रिकॉर्डिंग में मेरी आवाज नहीं हैं। मैं किसी भी जांच के लिए तैयार हूं।
कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि सचिन पायलट लगातार खुद को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाने की मांग करते रहे और जब तक उनकी यह मांग मान नहीं ली जाती, उन्होंने पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मिलने तक से इनकार कर दिया।
बता दें कि राजस्थान में सियासी संकट उस समय शुरू हुआ जब विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोपों की जांच कर रही एसओजी ने सचिन पायलट को पूछताछ के लिए बुलाया। इसके बाद सचिन पायलट और उनके खेमे के 20 से अधिक विधायकों ने सीएम अशोक गहलोत के खिलाफ बागी तेवर अपना लिए थे।

कांग्रेस की ओर से कहा गया था कि पायलट विधायकों को लेकर वापस जयपुर आएं और पार्टी नेतृत्व के सामने अपनी बात रखे। कांग्रेस की विधायक दल की दो बैठकों से भी पायलट और उनके समर्थक दूर रहे। जिसके बाद पार्टी ने पायलट के खिलाफ सख्त रुख अपनाते हुए उप मुख्यमंत्री और राज्य कांग्रेस अध्यक्ष के पद से बर्खास्त कर दिया था। उनके दो विश्वस्तों को भी मंत्री पद से हटा दिया गया था। (ndtv)