राष्ट्रीय

ऐसी विकेटों पर बल्लेबाजों को अपना बैट पहली लाइन में रखना चाहिए : वेंगसरकर
28-Feb-2021 7:32 PM 28
ऐसी विकेटों पर बल्लेबाजों को अपना बैट पहली लाइन में रखना चाहिए : वेंगसरकर

खुर्रम हबीब 

अहमदाबाद, 28 फरवरी | पूर्व भारतीय कप्तान दिलीप वेंगसरकर करीब तीन दशकों तक इंग्लैंड के खिलाफ उनकी ही पिच लॉडर्स पर हावी रहने के अलावा घर में भी स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ एक मास्टर बल्लेबाज थे। कटक के विकेट पर उनके करियर की सर्वश्रेष्ठ 166 रनों पारी (श्रीलंका के खिलाफ) एक ऐसी पारी है, जो उनकी क्षमता को बयां करता है।

भारत और इंग्लैंड के बीच दूसरे और तीसरे टेस्ट के लिए क्रमश : चेन्नई और अहमदाबाद में बल्लेबाज स्पिन-अनुकूल पिचों पर बल्लेबाज परेशानियों का सामना कर रहे हैं। भारत के लिए 115 टेस्ट मैच खेलने वाले वेंगसरकर ने ऐसे तरीके बताए, जिससे कि ऐसी पिचों पर स्पिनरों का सामना किया जा सके।

भारत ने मुश्किल विकेट पर आखिरी दो टेस्ट जीते हैं और वेंगसरकर का कहना है कि ऐसी पिचों पर बल्लेबाजी करते समय बल्लेबाजों को कई बातों का ध्यान रखना चाहिए।

उन्होंने कहा, " हमारे (भारत) के लिए फायदा यह था कि हम गुणवत्तापूर्ण स्पिनरों के खिलाफ स्थानीय क्रिकेट और घरेलू क्रिकेट खेलने के आदी हैं। जिससे हमें काफी मदद मिली। आम तौर पर आप देखते हैं कि जब गेंद सीम कर रही है या टर्न हो रही है, तो आपको रनों के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी। जब गेंद घूम रही होती है, तो किसी को बहुत देर तक खेलना चाहिए। इसके अलावा, आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि डिफेंस करने के लिए आपका बल्ला पहली लाइन में होना चाहिए।"

रविचंद्रन अश्विन के खिलाफ बल्लेबाजी करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, इस पर उन्होंने कहा, " सबसे पहली और महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको यह देखना होगा कि आप किस तरह के विकेट पर बल्लेबाजी कर रहे हैं और फिर उसी के अनुसार आप परिस्थितियों के अनुसार ढलते हैं। अश्विन टॉप क्लास के स्पिनर हैं। इसलिए जब आप टॉस क्लास स्पिनर की भूमिका निभा रहे होते हैं, तो आप जानते हैं कि वह किसी चीज पर निर्भर होगा। उन्हें अपनी आस्तीन पर कुछ और (अतिरिक्त) विविधता मिली है, इसलिए आपको यह अनुमान लगाना होगा कि वह आगे क्या करने वाले है। यह बहुत महत्वपूर्ण है। यह सब विकेट और मैच की स्थिति पर निर्भर करता है। आप यह नहीं कह सकते कि मैं इस तरह या उस तरह से बल्लेबाजी करूंगा, आपको तब और वहां सुधार करना होगा।"

वेंगसरकर को लॉडर्स मैदान से काफी लगाव था। वह लॉडर्स में तीन टेस्ट शतक लगाने वाले एकमात्र बल्लेबाज हैं।

यह पूछे जाने पर कि ये कैसे संभव हुआ तो उन्होंने कहा, " उन दिनों इंग्लैंड का दौरा करते समय, हम काउंटी टीमों के खिलाफ अधिक मैच खेलते थे, यानी टेस्ट क्रिकेट के बाहर के मैच। इससे हमें विशेषकर इंग्लैंड में परिस्थितियों के अनुकूल होने में मदद मिली। एक बार जब आप परिस्थितियों के अनुकूल हो जाते हैं, तो आप बीच में अधिक समय बिता सकते हैं और रन बना सकते हैं, ताकि आपको आत्मविश्वास मिले। इसने मुझे आत्मविश्वास दिया।" (आईएएनएस)

 

अन्य पोस्ट

Comments