Today Picture

  • जरा सी दिखने वाली चींटियों में कितनी ताकत होती है यह देखना हो तो इन तस्वीरों में वह साबित होता है। इंडोनेशिया में फोटोग्राफर इको आदियंतो ने अपने घर के बगीचे में चींटियों का यह खेल देखा। बुनकर चींटी कही जाने वाली यह चींटी करीब 5 ग्राम वजन की होती है, लेकिन वह 200 ग्राम तक के वजन के कीड़े को इस तरह उठाकर ले जा रही है। इनके बारे में विज्ञान बताता है कि ये अपने वजन से सौ गुना तक उठा सकती हैं। इतनी निजी ताकत के अलावा ये चींटियां एक-दूसरे के साथ मिलकर काम करने के लिए भी जानी जाती हैं और मिलकर ढोना भी करती हैं। इंसान अगर अपने बदन के वजन के मुकाबले इतनी ताकत रखते तो वे साढ़े 4 टन तक का वजन उठा पाते जो कि तीन कारों जितना होता।

    ...
  •  


  • छत्तीसगढ़ संवाददाता 
    रायपुर, 14 जुलाई। अच्छी बारिश के अभाव में प्रदेश में खेती पिछडऩे लगी है। बारिश नहीं होने से खेत सूखने लगे हैं और समय पर धान की रोपाई नहीं हो पा रही है। किसानों का कहना है कि आगामी कुछ दिनों में झमाझम बारिश नहीं होने से धान की बोनी-रोपाई प्रभावित हो सकती है। 
    प्रदेश में करीब साढ़े 36 लाख हेक्टेयर में धान बोनी का लक्ष्य रखा गया है। करीब 35 फीसदी खेतों में धान की बोनी पूरी हो चुकी है।  वहां अंकुरण के साथ धान के पौधे तैयार हो रहे हैं। किसान बाकी खेतों की बोनी की तैयारी में लगे हैं, लेकिन अच्छी बारिश नहीं होने से वे सभी परेशान हैं। आगामी कुछ दिनों में दोबारा बोनी की नौबत भी आ सकती है।  
    किसानों का कहना है कि करीब आठ-दस दिनों से प्रदेश में अच्छी बारिश नहीं हुई है। अधिकांश खेत सूख गए हैं। अंकुरित धान बीज सूख कर नष्ट होने की स्थिति में हैं। धान के  छोटे पौधे मुरझाने लगे हैं। वे धान की रोपाई करना चाहते हैं, पर उनके खेतों में पानी नहीं हैं। कई किसान तालाब-डबरी के आसपास थरहा को रखकर उसे मुरझाने से बचाने में लगे हैं। वहीं हजारों किसान बाकी खेतों की बोनी का इंतजार कर  रहे हैं। 

    ...
  •  


  • सावन  का दूसरा सोमवार

    ...
  •  


  • कोलंबो !  कप्तान अभिषेक शर्मा (4 विकेट) की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत ने अंडर-19 एशिया कप के फाइनल में शुक्रवार को मेजबान श्रीलंका को 34 रनों से मात देते हुए खिताब पर कब्जा जमा लिया। आर.प्रेमदासा स्टेडियम में खेले गए इस मैच में भारत ने श्रीलंका के सामने 274 रनों का लक्ष्य रखा था। श्रीलंका की टीम लक्ष्य हासिल नहीं कर पाई और 48.4 ओवरों में 239 रनों पर ढेर हो गई।

    भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए हिमांशु राणा (71) और शुभम गिल (70) की बेहतरीन पारियों की मदद से निर्धारित 50 ओवरों में आठ विकेट के नुकसान पर 273 रन बनाए थे।

    इसके बाद कप्तान की आगुआई में भारतीय गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन कर जीत हासिल की। अभिषेक के अलावा राहुल चाहर ने तीन और यश ठाकुर ने एक विकेट लिया। अभिषेक को मैन ऑफ द मैच चुना गया और राणा को प्लेयर ऑफ द सीरीज का खिताब मिला।

    लक्ष्य का पीछा करने उतरी श्रीलंका को मनचाही शुरुआत नहीं मिली। ठाकुर ने विश्वा चतुरंगा (13) को 27 के कुल योग पर आउट कर भारत को पहली सफलता दिलाई। दूसरे छोर पर रेवेन केली (62) लगातार रन बना रहे थे। उन्हें हसिथा बोयागोदा (37) का साथ मिला और दोनों ने मिलकर टीम का स्कोर 105 पहुंचा दिया।

    दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 78 रन की साझेदारी की। बोयागोदा को अभिषेक ने अपना पहला शिकार बनाया। केली ने तीसरे विकेट के लिए कामिंडु मेंडिस के साथ मिलकर 53 रन जोड़ लिए थे लेकिन अभिषेक ने केली को पवेलियन भेज इस साझेदारी की अंत किया। केली का विकेट 158 के कुल स्कोर पर गिरा।

    मेंडिस को भी अभिषेक ने अपना तीसरा शिकार बनाया और मेजबानों को बैकफुट पर धकेल दिया। यहां से श्रीलंका की टीम संभल नहीं पाई लगातार अंतराल पर विकेट गंवाती रही। 225 के कुल स्कोर पर उसने अपने तीन विकेट गंवाए।

    ठाकुर ने प्रवीण जयाविकरामा को रन आउट कर श्रीलंका की पारी को समेटा।

    इससे पहले भारत के शीर्ष क्रम ने इस मैच में अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन मध्यक्रम और निचला क्रम अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठा सका।

    राणा के साथ पारी की शुरुआत करने आए पृथ्वी शॉ (39) ने भारत को अच्छी शुरुआत दी। दोनों ने पहले विकेट के लिए 67 रन जोड़े। शॉ को जयाविकरमा ने पवेलियन भेजा। भारत के रन बटोरने का सिलसिला यहां नहीं रुका।

    राणा ने इसके बाद शुभम के साथ पारी को आगे बढ़ाया और तीसरे विकेट के लिए 88 रन जोड़ते हुए बड़े स्कोर की नीव रखी। जयाविकरमा ने एक बार फिर अपनी टीम को सफलता दिलाई और राणा को पवेलियन भेजा। राणा ने 79 गेंदों में छह चौके और एक छक्का लगाया। वह 155 के कुल स्कोर पर पवेलियन लौटे।

    कप्तान अभिषेक (29) ने शुभम का साथ दिया और टीम का स्कोर 200 के पार ले गाए। लेकिन 209 के कुल स्कोर पर कप्तान पवेलियन लौट गए। जयाविकरमा ने 224 के कुल स्कोर पर शुभम को आउट कर भारत को बड़ा झटका दिया।

    उनके जाने के बाद भारतीय टीम लड़खड़ा गई और 245 रनों तक उसने अपने सात विकेट गंवा दिए। कमलेश नागरकोटी ने अंतिम ओवरों में 14 गेंदों में 23 रन की पारी खेल टीम को 273 के स्कोर तक पहुंचाया।

    श्रीलंका की तरफ से जयाविकरमा और निपुन रनसिका ने तीन-तीन विकेट लिए। थिसारू रासमिका के हिस्से एक विकेट आया।

    ...
  •