खेल

Previous123456Next
Posted Date : 21-Nov-2017
  • सऊदी अरब, यूनाइटेड अरब अमीरात सहित देश के 2700 बच्चे शामिल

    बेमेतरा, 21 नवंबर। सी.बी.एस.ई. दिल्ली एवं एलन्स पब्लिक स्कूल के द्वारा आयोजित नेशनल एथलेटिक्स प्रतियोगिता का स्कूल के विशाल मैदान में आगाज करते हुए भब्य रूप में देश के अलग-अलग राज्यो से आये स्कूली प्रतिभागियों के बीच कलेक्टर कार्तिकेय गोयल , पुलिस अधीक्षक धर्मेन्द्र गर्ग, अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी मिनाल चौबे सीबीएसई दिल्ली के गोविंद मुदलियार, एलन्स पब्लिक स्कूल के संचालक कमलजीत अरोरा, प्राचार्य रामचंद्रन ने खेल प्रतियोगिता का माँ सरस्वती की तैल चित्र पर दीप प्रज्वलित कर उद्घाटन किया। 
    मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित कलेक्टर कार्तिकेय गोयल ने कहा कि बेमेतरा में इस प्रतियोगिता का आयोजन को गौरव बताते हुए देश के अलग- अलग राज्यों व अन्य देश से आये हुए बच्चों को खेल की भावना को समझाते हुए इस बात का उल्लेख किया कि जितना पढ़ाई महत्वपूर्ण है उतना ही बच्चों में खेल के प्रति पलको को रुचि डालना चाहिए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि कई प्रतिभागी ऐसे भी है जो छत्तीसगढ़ में पहली बार आये हैं। इस खेल के माध्यम से जहा अपनी प्रतिभाएं दिखाएंगे , वही एक दूसरे के अच्छे दोस्त बन कर भी यहाँ से जाएंगे, ताकि जब वे अपने शहर या वतन जाएंगे तो उन्हें एहसास होगा कि वे इस खेल के माध्यम से मिले थे। उन्होंने यह भी कहा कि गुणी विद्ययार्थी बनने के लिए स्वस्थ मन की जरुरत है, और स्वस्थ मन के लिए स्वस्थ तन की जरूरत होती है। अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी मिनाल चौबे ने कहा कि मैडल जितने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। जब हम किसी चीज को पाने के लिए इच्छा रखते हैं तो उसके लिए एक लक्ष्य लेकर चलना होता है, तभी हम उस लक्ष्य को पा सकते हैं। साथ ही इस दौरान खेल के कई बारीकियों से प्रतिभागियों को जानकारी को जानकारी दी।
     खेल के माध्यम से अब केरियर बनाने की काफी संभावनाएं बन गई है, लेकिन खेल के साथ- साथ पढ़ाई की भी आवस्यकता है। जिले के पुलिस अधीक्षक धर्मेन्द्र गर्ग ने कहा कि की नेशनल एथलेटिक प्रतियोगिता को ई छोटे से शहर को पार्टिसिपेट का मौका मिलना जिले के साथ-साथ छत्तीसगढ़ के लिए भी गौरव की बात कहते हुए इतना बड़ा कार्यक्रम को ऑर्गनाइजेशन करने पर एलन्स पब्लिक स्कूल संस्था को बधाई दी। समारोह के अंत में एलन्स पब्लिक स्कूल के डायरेक्टर कमल जीत अरोरा ने अपनी संस्था के माध्यम से इस प्रतियोगिता को आगाज करने का अवसर मिलने पर कहा कि हमारे संस्था व शहर के लिए सौभाग्य का विषय है। साथ ही उन्होंने इस बात का उल्लेख किया की आने वाला समय खेल ही एक ऐसी प्रतियोगिता है जो शांति व भाई चारे के प्रतीक है और आज अगर दुनिया में अपनी ताकत दिखानी है तो राज्य व देश तथा प्रतिभगी को खेलो में मेहनत कर हमें मजबूत करना पड़ेगा। 
    इससे पहले देश के अलग- अलग राज्यों तथा खाड़ी देश के बहरीन , कुवैत, सल्तनत ऑफ ओमान, कतर, किंगडम ऑफ सौदीअरब, यूनाइटेड अरब अमीरात के 2700 अतिथि खिलाड़ी अपने-अपने कोच व मैनेजर की उपस्थिति में परेड करते हुए मैदान में मार्च पास्ट किया। इसके पश्चात प्रतिभागी बच्चों को खेल भावना की शपथ दिलाई गई। कार्यक्रम के अंत में एलन्स पुब्लिक स्कूल के छात्र-छात्राओं के द्वारा भारतीय संस्कृति व छत्तीसगढग़ढिया बोली जाने वाली गीतों के माध्यम से सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति दी। इस अवसर पर जनपद उपाध्यक्ष सनत धर दिवान, समाधान महाविद्यालय के अविनाश तिवारी, अवधेश पटेल, प्रिया,प्राचार्य रामचंन्द्रन, अरोरा, पुष्कल अरोरा, सीबीएसई ऑब्जर्वर संजय चौहान, गोविंद मुदलियार, सुनील शर्मा, अनिल सोनी, पूजा शर्मा, अरुण पाल एवं आये हुए प्रतिभागियों के पालक, शिक्षक व एलन्स स्कूल परिवार उपस्तिथित थे।

    ...
  •  


Posted Date : 21-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 21 नवंबर । श्री लंका के खिलाफ जारी टेस्ट सीरीज के लिए तमिलनाडु के विजय शंकर को भारतीय टीम में जगह दी गई है। उन्हें तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की जगह शामिल किया गया है। इंटरनैशनल टीम में पहली बार एंट्री पाने वाले विजय के बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं कि वह पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी की टीम सीएसके की ओर से 2014 में एक मैच खेल चुके हैं। हालांकि, इस मैच में उनकी परफॉर्मेंस आकर्षक नहीं रही थी। उन्होंने एक ओवर में 19 रन दे डाले थे। 
    डोमेस्टिक क्रिकेट में शंकर चुनिंदा बल्लेबजों में शामिल हैं, जो लगातार प्रदर्शन करते हैं। 32 फर्स्ट क्लास क्रिकेट में उनका एवरेज लगभग 50 (49.43) का है। इस दौरान उनके नाम 1671 रन में 5 सेंचुरी और 10 हाफ सेंचुरी दर्ज है।
    वह 2017 में सनराइजर्स हैदराबाद के हिस्सा रहे। उन्होंने 4 मुकाबले खेले और 50.50 की एवरेज से 101 रन बनाए। उनका बेस्ट स्कोर नॉट आउट 63 रन रहा। बता दें कि इसी टीम से डेविड वॉर्नर और शिखर धवन भी खेलते हैं। नेहरा भी इसी टीम का हिस्सा रहे।
    विजय शंकर का जन्म 26 जनवरी, 1991 को तमिलनाडु के नेलेई में हुआ था। फिलहाल वह अपनी फैमिली के साथ चेन्नै में रहते हैं। रणजी ट्रोफी में वह तमिलनाडु की ओर से खेलते हैं। इस टीम का हिस्सा आर. अश्विन और मुरली विजय भी हैं।
    अब अपनी तेज रफ्तार गेंदों से बल्लेबाजों को डराने वाले शंकर ने करियर की शुरुआत ऑफ स्पिनर के तौर पर की थी। बाद में उन्होंने खुद को दाएं हाथ के तेज गेंदबाज के तौर पर विकसित किया। अब वह टीम में ऑलराउंडर के तौर पर खेलते हैं।
    शंकर की फैमिली में दो और क्रिकेटर हुए। उनके पिता एच. शंकर अपने समय के अच्छे क्रिकेटर रहे, लेकिन बड़े लेवल पर नहीं खेल सके। वहीं, उनके भाई अजय टीएनसीए डिविजन लीग में खेलते हैं।
    विजय के रोल मॉडल हैं पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ऐडिलेड में खेली गई मैच विनिंग पारी 233 और नॉट आउट 72 रन द्रविड़ की पारी उन्हें काफी पसंद है। 26 साल के इस ऑलराउंडर को 2017 में विजय हजारे ट्रोफी और देवधर ट्रोफी के लिए तमिलनाडु का कप्तान बनाया गया था।(नवभारत टाईम्स)

     

    ...
  •  


Posted Date : 21-Nov-2017
  • कोलकाता, 21 नवंबर । टीम इंडिया और श्रीलंका के बीच कोलकाता में खेले गए सीरीज के पहले टेस्ट मैच में एक ऐसा रिकॉर्ड बना गया जो भारतीय सरजमीं पर बहुत दुर्लभ है। दरअसल, कोलकाता टेस्ट में टीम इंडिया के स्पिन गेंदबाजों को एक भी विकेट नहीं मिला है। मैच में श्रीलंका के सभी 17 विकेट तेज गेंदबाजों को मिले हैं और भारत के दोनों स्पिनर खाली हाथ ही लौटे।
    भारतीय सरजमीं पर खेले गए पिछले 262 टेस्ट मैचों में यह पहला मौका है जब अपने ही घर में खेलते हुए भारतीय स्पिनर्स एक भी विकेट लेने में कामियाब नहीं हुए हैं। ईडन गार्डन्स में टीम इंडिया तीन तेज गेंदबाज और दो स्पिनर्स के साथ उतरी थी। लेकिन विकेट बटे शमी, भुवी और उमेश के बीच में वहीं जडेजा-अश्विन रहे खाली हाथ।
    टीम इंडिया ने अब तक कुल 516 मैच खेले हैं। इसमें 262वें मैच के बाद ऐसा पहली बार हुआ है, जब टीम इंडिया के किसी स्पिनर को घरेलू मैदान पर खाली हाथ रहना पड़ा हो। श्रीलंका के 17 विकेट में से 8 विकेट भुवनेश्वर कुमार ने लिए, 6 विकेट मोहम्मद शमी ने लिए और 3 विकेट उमेश यादव के खाते में गए।
    हालांकि श्रीलंका की ओर से दिलरुवन परेरा खुशकिस्मत रहे थे, जिन्होंने मैच में 3 विकेट लिए। परेरा ने पहली पारी में 2 और दूसरी पारी में 1 विकेट लिया। श्रीलंका की ओर से सबसे ज्यादा कामयाब गेंदबाज सुरंगा लकमल रहे। उन्होंने इस मैच में कुल 7 विकेट झटके। वहीं दासुन शनाका को पांच तो लाहिरू गमागे ने 3 विकेट लिए।(आजतक)

     

    ...
  •  


Posted Date : 21-Nov-2017
  • कोलकाता के ईडन गार्डन्स की बात करें, तो इस ग्राउंड का 'हिटमैन' के नाम से मशहूर भारतीय ओपनर रोहित शर्मा से खास कनेक्शन है. रोहित ने यहां तीन साल पहले वनडे इतिहास का सबसे बड़ा स्कोर (264 रन) बनाया था. लेकिन यहां की पिच अब भारत के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को रास आने लगी है. उन्होंने इस ग्राउंड पर रोहित की तरह वर्ल्ड रिकॉर्ड तो नहीं बनाया है, लेकिन यहां उनका प्रदर्शन लाजवाब है. आंकड़े इसके गवाह हैं.

    '4 विकेट हॉल'- किफायती भारतीय गेंदबाज बने

    श्रीलंका के खिलाफ कुल 8 विकेट लेकर वर्षा प्रभावित कोलकाता टेस्ट को रोमांचक बनाने वाले भुवनेश्वर मैन ऑफ द मैच रहे. यह मैच भले ही ड्रॉ रहा, लेकिन आखिरी दिन 11 ओवर में महज 8 रन देकर 4 विकेट लेने वाले भुवनेश्वर ने मैच में सनसनी पैदा कर दी थी. किसी पारी में (4 विकेट हॉल) सबसे कम रन देकर 4 या इससे ज्यादा विकेट लेने की बात करें, तो भुवनेश्वर टेस्ट क्रिकेट में किफायती भारतीय गेंदबाज बन गए. वेंकटपति राजू ने 1993 में श्रीलंका के खिलाफ चंडीगढ़ में 12 रन देकर 6 विकेट चटकाए थे.
    ईडन पर भुवनेश्वर के पिछले तीन मुकाबले, चटकाए 14 विकेट

    वहीं, ईडन में भुवनेश्वर के प्रदर्शन की बात करें, तो उन्होंने पिछले तीन मुकाबले में यहां 14 विकेट निकाले हैं. इन तीन मैचों में एक आईपीएल का मुकाबला, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक वनडे समेत श्रीलंका के खिलाफ सोमवार को खत्म हुआ टेस्ट मैच शामिल है.

    - 4-0-20-3: आईपीएल-10 (15 अप्रैल 2017) सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से खलते हुए कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ 20 रन देकर 3 विकेट लिये थे

    -6.1-2-9-3: वनडे इंटरनेशनल (21 सितंबर 2017) ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 9 रन देकर 3 विकेट चटकाए थे

    -27-5-88-4 (पहली पारी), 11-8-8-4 (दूसरी पारी) (16-20 नवंबर 2017) श्रीलंका के खिलाफ कोलकाता टेस्ट में कुल 8 विकेट झटके (आजतक)।

    ...
  •  


Posted Date : 21-Nov-2017
  • टीम इंडिया और श्रीलंका के बीच कोलकाता में खेला गया 3 मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला रोमांचक मोड़ पर पहुंचकर ड्रॉ हो गया और भारतीय टीम यह मैच जीतने से महज 3 विकेट दूर रह गई. यह बड़ा दिलचस्प रहा कि श्रीलंका पहले तीन दिन तक यह मुकाबला जीतने की स्थिति में था, लेकिन टीम इंडिया ने ऐसा पासा पलटा कि अंत में श्रीलंकाई चीतों के मैच ड्रॉ कराने में पसीना छूट गया.

    बारिश से प्रभावित इस मैच में ग्रीन टॉप पिच पर श्रीलंकाई कप्तान दिनेश चांडीमल ने टॉस जीता और गेंदबाजी का फैसला किया. उनके फैसले को सही साबित करते हुए सुरंगा लकमल ने महज 17 रन के स्कोर पर बिना कोई रन दिए भारतीय टॉप ऑर्डर को बिखेर दिया. दूसरे दिन यही भूमिका दासुन शनाका ने निभाते हुए टीम इंडिया का स्कोर 74/5 कर दिया.

    तीसरे दिन एक छोर संभालकर संघर्षपूर्ण पारी खेल रहे चेतेश्वर पुजारा भी ५२ रन बनाकर आउट हो गए इसके बाद 93 रनों के अंदर श्रीलंकाई गेंदबाजों ने भारतीय पारी को समेट दिया. टीम इंडिया 172 रनों पर ऑल आउट हो गई थी. भारत की पहली पारी के 172 रनों के जवाब में श्रीलंका ने 294 रन बनाकर 122रनों की बड़ी बढ़त हासिल की और खुद को मैच जीतने की स्थिति में पहुंचा दिया.

    लेकिन चौथे दिन भारतीय बल्लेबाज कुछ और ही सोचकर आए थे. शिखर धवन और लोकेश राहुल ने 166 रनों की ओपनिंग साझेदारी कर टीम को बेहतरीन शुरुआत दी और रही सही कसर पांचवें दिन कप्तान विराट कोहली ने अपना 18वां टेस्ट शतक जड़कर पूरी कर दी और श्रीलंका की मैच जीतने की उम्मीदों पर पानी फेर दिया. भारत ने पांचवें दिन श्रीलंका को जीत के लिए 231 का लक्ष्य दिया.

    लेकिन इसके बाद जो हुआ वो किसी ने सोचा नहीं होगा और खुद श्रीलंकाई टीम भी इस पर यकीं नहीं कर पाई होगी. शमी और भुवी की जोड़ी ने श्रीलंका को एक के बाद एक ऐसे झटके दिए कि वह संभल ही नहीं पाया. इन दोनों ने मिलकर ड्रॉ की तरफ बढ़ रहे इस मैच में टीम इंडिया के लिए जीत की उम्मीदें जगा दी और श्रीलंका के 7 बल्लेबाजों को 75 रन के स्कोर पर पवेलियन भेज दिया.

    भारत यह मुकाबला जीतने से सिर्फ 3 विकेट दूर था और शमी और भुवी की घातक गेंदबाजी से श्रीलंकाई बल्लेबाजों के पसीने छूटने लगे थे. लेकिन, खराब रोशनी के कारण खेल समय से पहले समाप्त कर दिया गया, नहीं तो परिणाम भारत के पक्ष में जा सकता था. दिलचस्प बात यह रही कि इस मैच में श्रीलंका ने सभी 17 विकेट तेज गेंदबाजों ने लिए. भुवनेश्वर कुमार ने मैच में सबसे ज्यादा 8 विकेट, वहीं मोहम्मद शमी ने 6 तो उमेश यादव ने 3 विकेट झटके.(आजतक)।

    ...
  •  


Posted Date : 20-Nov-2017
  • कोलकाता, 20 नवंबर: बारिश से प्रभावित कोलकाता टेस्‍ट रोमांचक उतार-चढ़ाव के बाद ड्रॉ रहा है. मैच के अंतिम दिन का खेल टीम इंडिया के लिहाज से बेहतरीन रहा. कप्‍तान विराट कोहली की नाबाद शतकीय पारी (104) की बदौलत भारतीय टीम ने अपनी दूसरी पारी 8 विकेट पर 352 रन बनाकर घोषित की. शिखर धवन और केएल राहुल ने भी अर्धशतक बनाए. मैच में जीत के लिए श्रीलंका के सामने 231 रन का लक्ष्‍य था. इस समय तक ऐसा लग रहा था कि मैच नीरस ड्रॉ के रूप में समाप्‍त होगा. लेकिन श्रीलंका की दूसरी पारी की शुरुआत से ही भारतीय तेज गेंदबाजों ने विकेट लेने का जो सिलसिला शुरू किया उसके बाद जीत की उम्‍मीद बंधने लगी. लेकिन समय की कमी भारत की जीत की राह में आड़े आ गई. 26.3 ओवर के बाद जब मेहमान टीम का स्‍कोर सात विकेट पर 75 रन था जब अम्‍पायरों ने खेल समाप्‍त घोषित कर दिया. टीम इंडिया के लिए भुवनेश्‍वर कुमार ने सर्वाधिक चार विकेट लिए. शमी ने दो और उमेश यादव ने एक विकेट लिया.

    श्रीलंका की दूसरी पारी : भुवनेश्‍वर ने दिखाई चमक 
    जवाब में श्रीलंका को दूसरी पारी के पहले ही ओवर में समरविक्रमा (0) का विकेट गंवाना पड़ा. उन्‍हें ओवर की आखिरी गेंद पर भुवनेश्‍वर कुमार ने बोल्‍ड किया. जल्‍दी ही दिमुथ करुणारत्‍ने (1)भी आउट हो गए जिन्‍हें मो. शमी ने बोल्‍ड किया. तीसरे विकेट के रूप में लाहिरु तिरिमाने (7)और चौथे विकेट के रूप में एंजेलो मैथ्‍यूज (12)के आउट होने से श्रीलंका टीम मुश्किल में आ गई. तिरिमाने को जहां भुवनेश्‍वर ने अजिंक्‍य रहाणे से कैच कराया, वहीं मैथ्‍यूज को उमेश ने एलबीडब्‍ल्‍यू किया. मैथ्‍यूज के खिलाफ उमेश की अपील को ग्राउंड अम्‍पायर ने खारिज कर दिया था लेकिन तीसरे अम्‍पायर ने फैसला भारत के पक्ष में दिया. इसके बाद दिनेश चंदीमल और निरोशन डिकवेला ने पांचवें विकेट के लिए 41 रन जोड़कर संघर्ष करने का प्रयास किया. श्रीलंका का पांचवां विकेट कप्‍तान दिनेश चंदीमल (20 रन, 33 गेंद) के रूप में गिरा, जिन्‍हें मोहम्‍मद शमी ने बोल्‍ड किया.

    श्रीलंका का छठा विकेट निरोशन डिकेवला (27 रन, 36 गेंद, दो चौके, दो छक्‍के) के रूप में गिरा जिन्‍हें भुवनेश्‍वर ने एलबीडब्‍ल्‍यू किया. इस फैसले के खिलाफ डिकेवला ने रिव्‍यू लिया लेकिन फैसला उनके खिलाफ ही रहा. इसी ओवर में अम्‍पायर ने दिलरुवान परेरा को भी एलबीडब्‍ल्‍यू आउट दे दिया था लेकिन तीसरे अम्‍पायर ने फैसला बल्‍लेबाज के पक्ष में दिया. श्रीलंका का स्‍कोर जब सात विकेट पर 75 रन था तब अम्‍पायरों ने खेल समाप्‍त घोषित कर दिया. इस तरह मैच ड्रॉ समाप्‍त हुआ.

    विकेट पतन: 0-1 (समरविक्रमा, 0.6), 2-2 (करुणात्‍रने, 3.3), 14-3 (तिरिमाने, 8.1), 22-4 (मैथ्‍यूज, 11.5), ,69-5 (चंदीमल, 20.4),  ,69-6 (डिकवेला, 23.1), ,75-7 (परेरा, 25.2)

    भारत की दूसरी पारी: विराट कोहली का नाबाद शतक
    भारतीय टीम ने पांचवें दिन एक विकेट पर 171 रन से आगे खेलना शुरू किया. तेज शुरुआत की. सुरंगा लकमल की ओर से फेंके गए पारी के 41वं ओवर में 5 रन बने. इसके अगले ओवर में गमागे के ओवर में चेतेश्‍वर पुजारा ने लगातार दो गेंदों पर चौके जमा दिए. इस ओवर में 10 रन बने. पारी के 45वें ओवर में टीम इंडिया को केएल राहुल (79 रन, 125 गेंद, आठ चौके) का विकेट गंवाना पड़ा, जिन्‍हें सुरंगा लकमल ने बोल्‍ड किया. आज पांचवें दिन चेतेश्‍वर पुजारा ने एक अहम उपलब्धि हासिल की. वे किसी टेस्‍ट के पांचों दिन बल्‍लेबाजी करने वाले भारत के तीसरे खिलाड़ी बने. उनके अलावा रवि शास्‍त्री और एमएल जयसिम्‍हा भी यह कमाल कर चुके हैं. भारतीय पारी के 53वें ओवर में सुरंगा लकमल ने दो विकेट लेकर भारतीय टीम को मुश्किल में डाल दिया. उन्‍होंने पहले चेतेश्‍वर पुजारा (22) को दिलरुवान परेरा से कैच कराया और फिर अजिंक्‍य रहाणे (0) को एलबीडब्‍ल्‍यू कर दिया. रहाणे इस मैच की दोनों पारियों में नाकाम रहे.

    भारतीय टीम प्रबंधन ने आश्‍चर्यजनक फैसला लेते हुए रहाणे के आउट होने के बाद रवींद्र जडेजा को बल्‍लेबाजी के लिए भेजा.हालांकि जडेजा लंबी पारी नहीं खेल पाए. उन्‍हें 9 रन के निजी स्‍कोर पर स्पिनर दिलरुवान परेरा ने तिरिमाने से कैच कराया. लंच के समय तक भारतीय टीम की बढ़त 129 रन तक पहुंच गई थी. टीम का स्‍कोर पांच विकेट पर 251 रन था. लंच के बाद विराट ने अपना 15वां अर्धशतक पूरा किया. इस दौरान उन्‍होंने 80 गेंदों का सामना करते हुए छह चौके लगाए. लंच के बाद टीम इंडिया का छठा विकेट आर. अश्विन (7) के रूप में गिरा जिन्‍हें दासुन शनाका ने बोल्‍ड किया. सातवें विकेट के रूप में विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा (5रन, 23 गेंद) शनाका के ही शिकार बने. उन्‍हें समरविक्रमा ने कैच किया. भारतीय टीम का आठवां विकेट भुवनेश्‍वर कुमार के रूप में गिरा जिन्‍हें गमागे ने दिलरुवान परेरा से कैच कराया.

    विकेटों के इस पतन के बीच विराट कोहली की शानदार बल्‍लेबाजी जारी थी. वे तेजी से अपना स्‍कोर बढ़ाकर शतक के करीब पहुंचते जा रहे थे. उनका शतक 119 गेंद पर 12 चौकों और दो छक्‍कों की मदद से पूरा हुआ. कोहली के साथ मोहम्‍मद शमी 12 रन बनाकर नाबाद रहे. श्रीलंका के लिए सुरंगा लकमल और दासुन शनाका ने तीन-तीन विकेट लिए. इससे पहले मैच के चौथे दिन भारत की दूसरी पारी के दौरान केएल राहुल और शिखर धवन के बीच शतकीय साझेदारी हुई.इन दोनों बल्‍लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 166 रन की साझेदारी की. हालांकि धवन (94 रन, 116 रन, 11 चौके, दो छक्‍के) करियर का सातवां टेस्‍ट शतक बनाने से चूक गए. उन्‍हें दाशुक शनाका ने विकेटकीपर डिकेवला से कैच कराया. चौथे दिन की समाप्ति पर केएल राहुल 73 रन बनाकर नाबाद थे. 

    विकेट पतन: 166-1 (धवन, 37.1), 192-2 (राहुल, 44.2), 213-3 (पुजारा , 52.2), 213-4 (रहाणे, 52.6), 249-5 (जडेजा , 65.5), 269-6 (अश्विन, 73.5), 281-7 (साहा , 79.3), 321-8 (भुवनेश्‍वर, 85.4)

    श्रीलंकाई पारी: तीन खिलाड़ि‍यों ने जमाए अर्धशतक 
    मैच के चौथे दिन श्रीलंका के तीन बल्‍लेबाजों ने अर्धशतक जमाए. लाहिरु तिरुमाने, एंजेलो मैथ्‍यूज और निचले क्रम के रंगना हेराथ की अर्धशतकीय पारियों की बदौलत श्रीलंका टीम पहली पारी में 294 के स्‍कोर तक पहुंचने में कामयाब रही थी. भारत के लिए भुवनेश्‍वर और शमी ने चार-चार विकेट लिए. दो विकेट उमेश यादव के खाते में आए.

    इससे पहले, मैच के तीसरे दिन श्रीलंका ने अपनी पहली पारी में चार विकेट पर 165 रन का स्‍कोर बनाया था. भारतीय टीम को पहली दो सफलताएं भुवनेश्‍वर कुमार ने दिलाईं. उन्‍होंने पहले दिमुथ करुणारत्‍ने (8) को एलबीडब्‍ल्‍यू किया और इसके बाद अपने अगले ही ओवर में आक्रामक अंदाज में बैटिंग कर रहे सदीरा समरविक्रमा (23 रन, 22 गेंद, तीन चौके) को विकेटकीपर साहा से कैच करा दिया. श्रीलंका टीम को 165 के स्‍कोर तक पहुंचाने में लाहिरु तिरिमाने (51) और एंजेलो मैथ्‍यूज (52) का अहम योगदान रहा. इन दोनों बल्‍लेबाजों को तेज गेंदबाज उमेश यादव ने आउट किया. मैच का पहला और दूसरा दिन बारिश से बुरी तरह प्रभावित रहा था.

    विकेट पतन: 29-1 (करुणारत्‍ने, 4.5), 34-2 (समरविक्रमा , 6.4), 133-3 (तिरिमाने, 36.2), 138-4 (मैथ्‍यूज, 38.5), 200-5 (डिकवेला, 52.5), 201-6 (शनाक, 53.3), 201-7 (चंदीमल, 54.2), 244-8 (परेरा, 68.6), ,290-9 (हेराथ, 82.3), 294-10 (लकमल, 83.4)

    इससे पहले भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 172 रन बनाकर आउट हुई थी. चेतेश्‍वर पुजारा ने टीम इंडिया के लिए सर्वाधिक 52 रन की पारी खेली थी. श्रीलंका के तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल ने अपनी गेंदबाजी से भारतीय बल्‍लेबाजों की कठिन परीक्षा लेते हुए चार विकेट हासिल किए थे. (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 20-Nov-2017
  •     
    कोलकाता, 20 नवंबर : टीम इंडिया के स्टार टेस्ट बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने श्रीलंका के खिलाफ कोलकाता टेस्ट में एक बेहद खास रिकॉर्ड अपने नाम किया है. दरअसल, पुजारा ईडन गार्डन में खेले जा रहे पहले टेस्ट के पांचों दिन बल्लेबाजी करने के लिए उतरे हैं. ऐसा करने वाले वह दुनिया के 9वें और भारत के तीसरे बल्लेबाज बन गए हैं. सबसे पहले यह रिकॉर्ड 57 साल पहले भारतीय बल्लेबाज एमएल जयसिम्हा द्वारा कोलकाता में ही बनाया गया था. 

    चेतेश्वर पुजारा ने कोलकाता टेस्ट के पहले दिन नाबाद 8 रन, दूसरे दिन नाबाद 39 रन, तीसरे दिन 5 रन, चौथे दिन नाबाद 2 रन और पांचवें दिन 22 रन बनाए. पुजारा से पहले यह कारनामा करने वाले भारतीय एमएल जयसिम्हा और रवि शास्त्री थे. मजे की बात ये रही कि इन दोनों ने भी ईडन गार्डन्स में यह उपलब्धि हासिल की थी.

    एमएल जयसिम्हा ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता में ही 1960 में टेस्ट मैच के पांचों दिन बल्लेबाजी की थी. वहीं रवि शास्त्री भी 1984 में इंग्लैंड के खिलाफ ईडन गार्डंस मैदान पर टेस्ट मैच के पांच दिन बल्लेबाजी करने क्रीज पर उतरे थे. इसके अलावा टेस्ट मैच में लगातार पांच दिन तक क्रीज पर उतरने वाले बल्लेबाजों में जयसिम्हा, रवि शास्त्री के अलावा जेफ्री बॉयकॉट, किम ह्यूज, एलन लैंब, एड्रियन ग्रिफिथ, एंड्रू फ्लिंटॉफ और एल्विरो पीटरसन का नाम शामिल था और अब पुजारा भी इस क्लब में शामिल हो गए हैं.

    टेस्ट क्रिकेट में लगातार पांच दिन बल्लेबाजी करने वाले बल्लेबाज

    1. एमएल जयसिम्हा (भारत) बनाम ऑस्ट्रेलिया कोलकाता 23 जनवरी 1960

    2. जेफ्री बॉयकॉट (इंग्लैंड) बनाम ऑस्ट्रेलिया नॉटिंघम 28 जुलाई 1977

    3. किम ह्यूज (ऑस्ट्रेलिया) बनाम इंग्लैंड लॉर्ड्स 28 अगस्त 1980

    4. एलन लैंब (इंग्लैंड) बनाम वेस्टइंडीज लॉर्ड्स 28 जून 1984

    5. रवि शास्त्री (भारत) बनाम इंग्लैंड कोलकाता 31 दिसंबर 1984

    6. एड्रियन ग्रिफिथ (वेस्टइंडीज) बनाम न्यूजीलैंड हैमिल्टन 16 दिसंबर 1999

    7. एंड्रू फ्लिंटॉफ (इंग्लैंड) बनाम भारत मोहाली 9 मार्च 2006

    8. एल्विरो पीटरसन (साउथ अफ्रीका) बनाम न्यूजीलैंड वेलिंग्टन 23 मार्च 2012

    9. चेतेश्वर पुजारा (भारत) बनाम श्रीलंका कोलकाता 16 नवंबर 2017

    कोलकाता टेस्ट में पुजारा की बल्लेबाजी

    पहले दिन: 8* रन 32 गेंद

    दूसरे दिन: 39* रन 70 गेंद

    तीसरे दिन: 5 रन 15 गेंद

    चौथे दिन: 2* रन 9 गेंद

    पांचवें दिन: 22 रन 51 गेंद 

    ...
  •  


Posted Date : 20-Nov-2017
  •  नई दिल्ली 15 नवंबर: भले ही दुनिया के सभी बल्लेबाज टेस्ट क्रिकेट को बेस्ट क्रिकट मानते हैं. सभी बल्लेबाजों का कहना यहीं होता है कि टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाज का संपूर्ण टेस्ट हो जाता है. लेकिन फिर भी टेस्ट क्रिकेट को देखने उतने दर्शक नहीं पहुंच पाते, जितने वनडे या टी-२० मैच को देखने पहुंचते हैं. एक दो देशों के अलावा जहां भी टेस्ट क्रिकेट होता है वहां स्टेडियम की अधिकतर सीट खाली रहती है. मौजूदा समय में इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, भारत और साउथ अफ्रीका जैसे देशों को छोड़ दिया जाए तो कहीं भी इतने दर्शक टेस्ट मैच को देखने नहीं आते. वहीं बात करें वनडे और टी-२० मैचों की तो इस दौरान स्टेडियम खचाखच भरा होता है, दर्शक खूब इंज्वॉय करते है. जानकारों का यह भी मानते हैं कि टेस्ट क्रिकेट में पांच दिन का समय लगता है और इतना समय किसी के पास नहीं होता है कि वो पांचों दिन स्टेडियम में मैच देखने पहुंचे. उनका यह भी कहना है कि टेस्ट क्रिकेट को दर्शक ऊबाउ सोचते हैं और बल्लेबाजी भी काफी धीमी होती है और मैच का नतीजा भी नहीं निकलता, इसलिए दर्शक मैच देखने नहीं जाते.

    लेकिन दर्शकों को टेस्ट क्रिकेट ने इस साल काफी मजेदार पल दिए हैं. इस साल खेले गए टेस्ट मैचों में ज्यादातर मैचों के नतीजे निकले हैं,जिससे दर्शकों ने खूब इंज्वॉय किया. साल २०१७ ने तो जैसे टेस्ट क्रिकेट को बदल कर रख दिया. इस साल अब तक ३७ टेस्ट मैच खेले गए हैं, जिनमें से ३३ मैचों के नतीजे निकले हैं. पहले अधिकतर टेस्ट मैच ड्रॉ हो जाते थे. जिसकी वजह से दर्शकों की रुचि टेस्ट मैचों में कम हो रही थी. लेकिन फिर से टेस्ट क्रिकेट को लेकर दर्शकों में काफी क्रेज बढ़ा है. यह कहना गलत नहीं होगा कि टेस्ट मैचों के नतीजे इसी तरह आते रहे तो ज्यादा दर्शक मैच देखने स्टेडियम में पहुंचेंगे.

    बात करें वर्ष २०१४ से लेकर २०१७ के बीच तो अब तक करीब १६८ टेस्ट मैच खेल गए हैं, जिनमें १४० टेस्ट मैचों के नतीजे निकल कर सामने आए हैं. इन आंकड़ों को देखकर तो यहीं लगता है जैसे टेस्ट क्रिकेट बदलाव की दौर में है, इसलिए दर्शकों में क्रेज बढ़ना जायज भी है. टेस्ट क्रिकेट को लेकर आईसीसी ने भी इन दिनों कई कदम उठाए है. टेस्ट मैचों को रोमांचक बनाने के लिए आईसीसी ने डे-नाइट टेस्ट मैचों का आयोजन भी शुरू कर दिया है. आईसीसी अब टेस्ट लीग भी लेकर आने वाली है, जिससे निश्चित तौर पर दर्शकों का क्रेज इसके लिए बढ़ जाएगा.

    टेस्ट क्रिकेट में निकल रहे नतीजों को लेकर जानकारों का कहना है कि टी-२० मैचों के प्रभाव की वजह से ऐसा हो रहा है. हर क्रिकेटिंग नेशन में अब टी-२० लीग खेला जाता है, जिससे बल्लेबाज अब खुलकर खेलने लगे हैं. इसी कारण से टेस्ट मैचों में तेजी आई है.  (एनडीटीवी)।

    ...
  •  


Posted Date : 19-Nov-2017
  • कोलकाता, 19 नवंबर। मौसम के प्रकोप से प्रभावित कोलकाता टेस्?ट मैच फिलहाल ड्रॉ की ओर बढ़ता नजर आ रहा है। भार के 172 रन के स्?कोर के जवाब में श्रीलंका ने जब अपनी पहली पारी 294 रन पर खत्?म करते हुए 122 रन की बढ़त ली तो मेहमान टीम का पलड़ा भारी नजर आ रहा था। लेकिन भारतीय ओपनरों ने दूसरी पारी में जबर्दस्त बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। कम रोशनी के कारण चौथे दिन का खेल जब समाप्त घोषित किया गया, उस समय टीम इंडिया की दूसरी पारी का स्कोर दो विकेट पर 171 रन था। लोकेश राहुल 73 और चेतेश्वर पुजारा 2 रन बनाकर नाबाद थे। शिखर धवन (94) आउट होने वाले एकमात्र बल्लेबाज रहे। टीम इंडिया की श्रीलंका पर बढ़त अब 49 रन की हो गई है। इससे पहले श्रीलंका टीम ने सुबह चार विकेट पर 165 रन से आगे खेलना शुरू किया और पूरी टीम 292 रन बनाकर आउट हो गई। टीम के तीन बल्?लेबाजों लाहिरु तिरिमाने, एंजेलो मैथ्यूज और रंगना हेराथ ने अर्धशतक बनाए। भारत के लिए मो। शमी और भुवनेश्?वर कुमार ने चार-चार विकेट लिए। भारतीय टीम ने अपनी पहली पारी में 172 रन बनाए थे।
    भारत की दूसरी पारी के दौरान श्रीलंका की ओर से पहला ओवर सुरंगा लकमल ने फेंका जिसमें एक रन बना। दूसरे ओवर में केएल राहुल ने लाहिरु गमागे के ओवर में तीन चौके लगा दिए। पारी के तीसरे ओवर में शिखर धवन ने लकमल को चौका लगाकर खाता खोला। दूसरी पारी के दौरान भारत के ये दोनों ओपनर विश्वास से भरे दिख रहे थे। शुरुआती तीन दिनों के बाद विकेट भी धीरे-धीरे बल्लेबाजों के लिए मददगार होता जा रहा था। चायकाल के बाद राहुल ने अपना 10वां अर्धशतक पूरा किया। उन्?होंने इस दौरान 65 गेंदों का सामना करते हुए सात चौके लगाए। इसके कुछ देर बाद धवन ने भी टेस्ट में अपना चौथा अर्धशतक पूरा किया। इस दौरान उन्होंने 74 गेंदों का सामना करते हुए सात चौके जमाए। दोनों बल्लेबाजों के बीच शतकीय साझेदारी भी पूरी हुई। शतकीय साझेदारी पूरी करने के बाद इन दोनों बल्लेबाजों ने जल्द ही 150 रन जोड़ डाले। इस दौरान एक समय राहुल से स्कोर में पीछे चल रहे शिखर धवन ने तेजी से रन जोड़े और अपने साथी से आगे निकल गए। हालांकि धवन (94 रन, 116 रन, 11 चौके, दो छक्के) करियर का सातवां टेस्?ट शतक बनाने से चूक गए। उन्हें दाशुक शनाका ने विकेटकीपर डिकेवला से कैच कराया।  
    विकेट पतन : 166-1 (धवन, 37।1)
    श्रीलंकाई पारी : तीन खिलाडिय़ों ने जमाए अर्धशतक 
    मैच के चौथे दिन भारत की ओर से पहला ओवर मो। शमी ने फेंका जो मेडन रहा। शुरुआत में चंदीमल की तुलना में डिकवेला ज्यादा आक्रामक रुख अपनाए हुए थे। दिन का पहला चौका भी उन्हीं के बल्ले से निकला। श्रीलंका स्कोर 200 रन पहुंचने के तुरंत बाद भारतीय टीम तीन विकेट जल्दी-जल्दी गिराने में सफल हो गई। पारी के 53वें ओवर में शमी ने निरोशन डिकेवला (35) को आउट किया। शमी की गेंद पर उनका कैच कप्तान विराट कोहली ने लपका। अगले ओवर में भुवनेश्वर ने दासुन शनाका (0)को आउट कर दिया। शमी ने इसके बाद श्रीलंका के कप्तान दिनेश चंदीमल (28 रन, 57 गेंद, तीन चौके) को विकेटकीपर साहा से कैच कराकर भारत को दिन की तीसरी सफलता दिलाई। चार विकेट पर 200 रन बनाकर चुकी श्रीलंका के देखते ही देखते 201 रन पर सात बल्?लेबाज आउट हो चुके थे।
    पारी के 57वें ओवर में अम्पायर ने दिलरुवान परेरा को भी शमी की गेंद पर एलबीडब्ल्यू दे दिया था लेकिन रिव्यू में फैसला श्रीलंकाई बल्लेबाज के पक्ष में आया। कप्तान विराट कोहली ने आश्चर्यजनक रूप से लेग स्पिनर रवींद्र जडेजा को 60 ओवर की गेंदबाजी के बाद आक्रमण पर लगाया। मैच के तीसरे दिन जडेजा ने एक भी ओवर नहीं फेंका था। श्रीलंका का आठवां विकेट दिलरुवान परेरा (5) के रूप में गिरा जिन्हें शमी ने साहा से कैच कराया। दिलरुवान और हेराथ के बीच आठवें विकेट के लिए 43 रन की साझेदारी हुई। लंच के समय श्रीलंका का स्?कोर 8 विकेट पर 263 रन था।
    लंच के बाद भुवनेश्वर कुमार ने परेशानी बन रहे रंगना हेराथ (67) को शमी के हाथों कैच कराकर भारत को 9वीं सफलता दिलाई। आखिरी विकेट सुरंगा लकमल (16) के रूप में गिरा जिन्हें शमी ने बोल्ड किया। भारत के लिए भुवनेश्वर और शमी ने चार-चार विकेट लिए। दो विकेट उमेश यादव के खाते में आए।
    इससे पहले, मैच के तीसरे दिन श्रीलंका ने अपनी पहली पारी में चार विकेट पर 165 रन का स्कोर बनाया था। भारतीय टीम को पहली दो सफलताएं भुवनेश्वर कुमार ने दिलाईं। उन्होंने पहले दिमुथ करुणारत्ने (8) को एलबीडब्ल्यू किया और इसके बाद अपने अगले ही ओवर में आक्रामक अंदाज में बैटिंग कर रहे सदीरा समरविक्रमा (23 रन, 22 गेंद, तीन चौके) को विकेटकीपर साहा से कैच करा दिया। श्रीलंका टीम को 165 के स्कोर तक पहुंचाने में लाहिरु तिरिमाने (51) और एंजेलो मैथ्यूज (52) का अहम योगदान रहा। इन दोनों बल्लेबाजों को तेज गेंदबाज उमेश यादव ने आउट किया। भारत के लिए भुवनेश्वर कुमार और उमेश यादव ने दो-दो विकेट लिए। मैच का पहला और दूसरा दिन बारिश से बुरी तरह प्रभावित रहा था।
    विकेट पतन : 29-1 (करुणारत्ने, 4.5), 34-2 (समरविक्रमा , 6.4), 133-3 (तिरिमाने, 36.2), 138-4 (मैथ्.यूज, 38.5), 200-5 (डिकवेला, 52.5), 201-6 (शनाक, 53.3), 201-7 (चंदीमल, 54.2), 244-8 (परेरा, 68.6), ,290-9 (हेराथ, 82.3), 294-10 (लकमल, 83.4)
    इससे पहले भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 172 रन बनाकर आउट हुई थी। चेतेश्वर पुजारा ने टीम इंडिया के लिए सर्वाधिक 52 रन की पारी खेली थी। श्रीलंका के तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल ने अपनी गेंदबाजी से भारतीय बल्लेबाजों की कठिन परीक्षा लेते हुए चार विकेट हासिल किए थे। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 19-Nov-2017
  • वॉशिंगटन, 19 नवम्बर। इस वर्ष यूएस ओपन में भाग लेते समय अमरीका की स्टार टेनिस खिलाड़ी वीनस विलियम्स के फ्लोरिडा स्थित घर में करीब 4 लाख डॉलर की चोरी हुई थी। स्थानीय मीडिया ने शुक्रवार को इसका खुलासा किया। वीनस यूएस ओपन में खेल रही थीं जब एक से पांच सितंबर के बीच उनके घर पर चोरी हुई। हालांकि पुलिस ने यह नहीं बताया कि कौन सी वस्तुएं चोरी हुई हैं। वीनस टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स की बड़ी बहन हैं। उन्होंने यह भी कहा कि चोरी की जांच की जा रही है और अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की गई है।  (एजेंसियां)

    ...
  •  


Posted Date : 19-Nov-2017

Posted Date : 18-Nov-2017
  • तीसरे दिन श्रीलंका का स्‍कोर 4 विकेट पर 165 रन
    तिरिमाने ने 51 और एंजेलो मैथ्‍यूज ने 52 रन बनाए
    भारत की पहली पारी 172 रन पर सिमट गई थी

    कोलकाता, 18 नवम्बर : श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्‍ट मैच में दबाव अब टीम इंडिया पर है. पहली पारी में विराट कोहली ब्रिगेड की ओर से बनाए गए 172 रन के स्‍कोर के जवाब में श्रीलंका ने पहली पारी में चार विकेट पर 165 रन बना लिए हैं. मेहमान टीम अब भारत के स्‍कोर से महज 7 रन ही पीछे है. खराब रोशनी के कारण शनिवार का खेल जब समाप्‍त घोषित किया गया, उस समय कप्‍तान दिनेश चंदीमल 13 और निरोशन डिकवेला 14 रन बनाकर क्रीज पर थे. श्रीलंका टीम को 165 के स्‍कोर तक पहुंचाने में लाहिरु तिरिमाने (51) और एंजेलो मैथ्‍यूज (52) का अहम योगदान रहा. भारत के लिए भुवनेश्‍वर कुमार और उमेश यादव ने दो-दो विकेट लिए. इससे पहले भारतीय टीम ने आज तीसरे दिन अपनी पारी पांच विकेट पर 74 रन से आगे शुरू की और पूरी टीम 172 रन बनाकर आउट हो गई. चेतेश्‍वर पुजारा ने सर्वाधिक 52 रन बनाए. श्रीलंकाई तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल ने सर्वाधिक चार विकेट लिए.

    श्रीलंकाई पारी: भुवी और उमेश यादव ने लिए है दो-दो विकेट
    श्रीलंकाई बल्‍लेबाजी के दौरान भारत की ओर से पहला ओवर भुवनेश्‍वर कुमार ने फेंका, जिसकी पहली ही गेंद पर सदीरा समरविक्रमा ने चौका जमा दिया. भारतीय टीम को पहली दो सफलताएं भुवनेश्‍वर कुमार ने दिलाईं. उन्‍होंने पहले दिमुथ करुणारत्‍ने (8) को एलबीडब्‍ल्‍यू किया और इसके बाद अपने अगले ही ओवर में आक्रामक अंदाज में बैटिंग कर रहे सदीरा समरविक्रमा (23 रन, 22 गेंद, तीन चौके) को विकेटकीपर साहा से कैच करा दिया. पहले क्रम पर बल्‍लेबाजी के लिए आए तिरिमाने को उस समय जीवनदान मिला जब उमेश यादव की गेंद पर पहली स्लिप पर शिखर धवन ने उनका कैच ड्रॉप कर दिया. तिरिमाने उस समय 27 रन पर थे.

    तिरिमाने और मैथ्‍यूज ने शानदार बल्‍लेबाजी करते हुए श्रीलंका का स्‍कोर 100 रन के पार पहुंचा दिया.चायकाल तक श्रीलंका का स्‍कोर दो विकेट पर 113 रन था. टीम इंडिया के कप्‍तान विराट कोहली ने आश्‍चर्यजनक रूप से रवींद्र जडेजा से इस समय तक गेंदबाजी नहीं कराई थी.चायकाल के बाद तिरिमाने ने अपना 5वां अर्धशतक पूरा किया. इस दौरान उन्‍होंने 86 गेंदों का सामना करते हुए आठ चौके लगाए. तिरिमाने और मैथ्‍यूज की जोड़ी जब भारत के लिए मुश्किल बन रही थी तभी तेज गेंदबाज उमेश यादव टीम के लिए तीसरी सफलता लेकर आए. उन्‍होंने तिरिमाने (51 रन, 94 गेंद, आठ चौके) को स्लिप में विराट कोहली से कैच कराया. इन दोनों बल्‍लेबाजों के बीच 99 रन की साझेदारी हुई. इसी दौरान एंजेलो मैथ्‍यूज ने भी अर्धशतक पूरा किया. उन्‍होंने इसके लिए 88 गेंदों का सामना करते हुए आठ चौके लगाए. उमेश ने अपने अगले ही ओवर में सेट हो चुके एंजेलो मैथ्‍यूज (52 रन, 94 गेंद, आठ चौके) को भी केएल राहुल से कैच करा दिया. जल्‍दी-जल्‍दी दो विकेट गिरने से ईडन गार्डंस में मौजूद क्रिकेटप्रेमियों में खुशी की लहर दौड़ गई. उमेश यादव के अगले ही ओवर में अम्‍पायर ने डिकवेला को विकेट के पीछे कैच आउट दे दिया था, लेकिन रिव्‍यू में थर्ड अम्‍पायर ने फैसला पलट दिया. इसके बाद चंदीमल और डिकवेला ने अपनी बल्‍लेबाजी से तीसरा दिन सुरक्षित निकाल दिया. खराब रोशनी के कारण तीसरे दिन का खेल भी जल्‍दी समाप्‍त घोषित करना पड़ा.

    विकेट पतन: 29-1 (करुणारत्‍ने, 4.5), 34-2 (समरविक्रमा , 6.4), 133-3 (तिरिमाने, 36.2), 138-4 (मैथ्‍यूज, 38.5)

    इससे पहले, तीसरे दिन भारत ने पांच विकेट पर 74 रन से आगे खेलना शुरू किया. चेतेश्‍वर पुजारा ने स्पिन गेंदबाज रंगना हेराथ की गेंद पर चौका जमाकर अपना 16वां अर्धशतक पूरा किया.  उन्‍होंने 108 गेंदों का सामना करते हुए 10 चौके जमाए. पुजारा (52 रन, 117 गेंद, 10 चौके) अर्धशतक पूरा करने के बाद ज्‍यादा देर नहीं टिके.उन्‍हें गमागे ने बोल्‍ड किया. उनके आउट होने से टीम इंडिया के सम्‍मानजनक स्‍कोर तक पहुंचने के अभियान को बड़ा झटका लगा. पुजारा के आउट होने के बाद रवींद्र जडेजा बैटिंग के लिए आए, उन्‍होंने कुछ देर खामोश रहने के बाद स्पिनर दिलरुवान परेरा की गेंद पर बेहतरीन छक्‍का जमाया. साहा भी अपनी पारी को आगे बढ़ाते जा रहे थे. वैसे, साहा को जीवनदान भी मिला जब दिलरुवान परेरा की गेंद पर विकेटकीपर निरोशन डिकवेला स्‍टंपिंग चूक गए. साहा का स्‍कोर इस समय 25 रन था.

    पारी का 52वां ओवर श्रीलंका के लिए दो सफलताएं लेकर आया. इस ओवर में रवींद्र जडेजा (22 रन, 37 गेंद, दो चौके, एक छक्‍का) और ऋद्धिमान साहा (29 रन, 83 गेंद, छह चौके) के विकेट लिए. ये दोनों विकेट स्पिन गेंदबाज दिलरुवान परेरा के खाते में गए. मजे की बात यह रही कि दोनों ही फैसले तीसरे अम्‍पायर ने दिए. भारतीय टीम का नौवां विकेट भुवनेश्‍वर कुमार (13रन, 17 गेंद, एक चौका) के रूप में गिरा जिन्‍हें तेज गेंदबाज लकमल ने विकेटकीपर डिकवेला से कैच कराया. नौ विकेट गिरने के बाद मो. शमी और उमेश यादव ने आक्रामक शॉट लगाते हुए भारतीय स्‍कोर को 150 रन के पार पहुंचाया. टीम इंडिया का आखिरी विकेट मो. शमी (24रन, तीन चौके) के रूप में गमागे के खाते में गया. उमेश यादव छह रन बनाकर नाबाद रहे. श्रीलंका के लकमल ने चार विकेट लिए. लाहिरु गमागे, दासुन शनाका और दिलरुवान परेरा के खाते में दो-दो विकेट आए.भारतीय पारी खत्‍म होते ही लंच ब्रेक घोषित कर दिया गया.

    विकेट पतन: 0-1 (राहुल, 0.1), 13-2 (धवन, 6.2), 17-3 (विराट, 10.1), 30-4 (रहाणे, 17.2), 50-5 (अश्विन, 25.6), 79-6 (पुजारा, 37.2), 127-7 (जडेजा, 51.2), 128-8 (साहा, 51.5), 146-9 (भुवनेश्‍वर, 56.2), 172-10 (शमी, 59.3)

    मैच के दूसरे दिन टीम इंडिया ने तीन विकेट पर 17 रन से आगे खेलना प्रारंभ किया था. अजिंक्‍य रहाणे ज्‍यादा देर नहीं टिके और केवल चार रन बनाने के बाद आउट हो गए. उनका कैच मध्‍यम गति के गेंदबाज दासुन शनाका की गेंद पर विकेटकीपर डिकवेला ने लपका. चार स्‍थापित बल्‍लेबाजों के आउट होने के बाद भारतीय टीम को सम्‍मानजनक स्थिति में पहुंचाने का सारा दबाव चेतेश्‍वर पुजारा पर आ गया था. भारतीय टीम का पांचवां विकेट रविचंद्रन अश्विन (4 रन, 29 गेंद) के रूप में गिरा, जिन्‍हें शनाका ने करुणारत्‍ने के हाथों कैच कराया. इससे पहले, मैच में पहले दिन बल्‍लेबाजी करते हुए भारत की शुरुआत निराशाजनक रही थी और टीम ने 17 रन पर ही तीन विकेट गंवा दिए थे.वर्षा के कारण पहले दो दिन का खेल बुरी तरह प्रभावित हुआ है. (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 18-Nov-2017
  • कोलकाता, 18 नवंबर : श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्‍ट में भारतीय की पहली पारी महज 172 रन पर सिमट गई है. मैच के तीसरे दिन भारतीय टीम ने आज पांच विकेट पर 74 रन से आगे खेलना शुरू किया और पूरी टीम 59.3 ओवर में 172 रन बनाकर आउट हो गई. मैच के पहले दो दिन बारिश के कारण बुरी तरह प्रभावित रहे थे और केवल 31.5 ओवर का खेल ही संभव हो पाया था. मददगार विकेट पर श्रीलंका के तेज गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और लगातार भारत के विकेट झटके. भारतीय पारी में चेतेश्‍वर पुजारा ने सर्वाधिक 52 रन बनाए. विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा ने 29 रन का योगदान दिया. श्रीलंका के लिए सुरंगा लकमल ने सर्वाधिक चार विकेट लिए. भारतीय पारी खत्‍म होते ही लंच ब्रेक घोषित कर दिया गया.

    तीसरे दिन भारत ने पांच विकेट पर 74 रन से आगे खेलना शुरू किया. चेतेश्‍वर पुजारा ने स्पिन गेंदबाज रंगना हेराथ की गेंद पर चौका जमाकर अपना 16वां अर्धशतक पूरा किया. इस दौरान उन्‍होंने 108 गेंदों का सामना करते हुए 10 चौके जमाए. चेतेश्‍वर पुजारा (52 रन, 117 गेंद, 10 चौके) अर्धशतक पूरा करने के बाद ज्‍यादा देर नहीं टिके. उन्‍हें गमागे ने बोल्‍ड किया. उनके आउट होने से टीम इंडिया के सम्‍मानजनक स्‍कोर तक पहुंचने के अभियान को बड़ा झटका लगा. पुजारा के आउट होने के बाद रवींद्र जडेजा बैटिंग के लिए आए, उन्‍होंने कुछ देर खामोश रहने के बाद स्पिनर दिलरुवान परेरा की गेंद पर बेहतरीन छक्‍का जमाया. साहा भी अपनी पारी को आगे बढ़ाते जा रहे थे. इस दौरान साहा को जीवनदान भी मिला जब दिलरुवान परेरा की गेंद पर विकेटकीपर निरोशन डिकवेला स्‍टंपिंग चूक गए. साहा का स्‍कोर इस समय 25 रन था.

    पारी का 52वां ओवर श्रीलंका के लिए दो सफलताएं लेकर आया. इस ओवर में रवींद्र जडेजा (22 रन, 37 गेंद, दो चौके, एक छक्‍का) और ऋद्धिमान साहा (29 रन, 83 गेंद, छह चौके) के विकेट लिए. ये दोनों विकेट स्पिन गेंदबाज दिलरुवान परेरा के खाते में गए. मजे की बात यह रही कि दोनों ही फैसले तीसरे अम्‍पायर ने दिए. भारतीय टीम का नौवां विकेट भुवनेश्‍वर कुमार (13रन, 17 गेंद, एक चौका) के रूप में गिरा जिन्‍हें तेज गेंदबाज लकमल ने विकेटकीपर डिकवेला से कैच कराया. नौ विकेट गिरने के बाद मो. शमी और उमेश यादव ने आक्रामक शॉट लगाते हुए भारतीय स्‍कोर को 150 रन के पार पहुंचाया. टीम इंडिया का आखिरी विकेट मो. शमी (24रन, तीन चौके) के रूप में गमागे के खाते में गया. उमेश यादव छह रन बनाकर नाबाद रहे. श्रीलंका के लकमल ने चार विकेट लिए. लाहिरु गमागे, दासुन शनाका और दिलरुवान परेरा के खाते में दो-दो विकेट आए.

    विकेट पतन: 0-1 (राहुल, 0.1), 13-2 (धवन, 6.2), 17-3 (विराट, 10.1), 30-4 (रहाणे, 17.2), 50-5 (अश्विन, 25.6), 79-6 (पुजारा, 37.2), 127-7 (जडेजा, 51.2), 128-8 (साहा, 51.5), 146-9 (भुवनेश्‍वर, 56.2), 172-10 (शमी, 59.3)

    मैच के दूसरे दिन टीम इंडिया ने तीन विकेट पर 17 रन से आगे खेलना प्रारंभ किया था. अजिंक्‍य रहाणे ज्‍यादा देर नहीं टिके और केवल चार रन बनाने के बाद आउट हो गए. उनका कैच मध्‍यम गति के गेंदबाज दासुन शनाका की गेंद पर विकेटकीपर डिकवेला ने लपका. चार स्‍थापित बल्‍लेबाजों के आउट होने के बाद भारतीय टीम को सम्‍मानजनक स्थिति में पहुंचाने का सारा दबाव चेतेश्‍वर पुजारा पर आ गया था. भारतीय टीम का पांचवां विकेट रविचंद्रन अश्विन (4 रन, 29 गेंद) के रूप में गिरा, जिन्‍हें शनाका ने करुणारत्‍ने के हाथों कैच कराया.

    इससे पहले, मैच में पहले दिन बल्‍लेबाजी करते हुए भारत की शुरुआत निराशाजनक रही थी और पहली ही गेंद पर केएल राहुल (0) आउट हो गए थे. उन्‍हें सुरंगा लकमल की गेंद पर विकेटकीपर डिकेवला ने कैच किया. भारतीय टीम को जल्‍द ही शिखर धवन के रूप में दूसरा विकेट गंवाना पड़ा. धवन (8 रन, 11 गेंद, एक चौका) को लकमल ने बोल्‍ड किया.पारी के 11वें ओवर में कोहली (0 रन, 11 गेंद) को सुरंगा लकमल ने एलबीडब्‍ल्‍यू कर दिया. अम्‍पायर के निर्णय पर कोहली ने डीआरएस का भी सहारा लिया लेकिन फैसला उनके खिलाफ रहा.

    मैच में टीम इंडिया फिलहाल मुश्किल में फंसी नजर आ रही है. वैसे, तीन टेस्‍ट की सीरीज में टीम इंडिया को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. इस के पीछे कारण भी हैं. टीम इंडिया ने इस साल जुलाई-अगस्त में श्रीलंका को तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-0 के एकतरफा अंतर से हराया था. रिकॉर्ड भी भारतीय टीम के पक्ष में है. भारतीय टीम ने अब तक श्रीलंका से अपनी सरजमीं पर एक भी टेस्ट मैच नहीं गंवाया है. एक बार पहले भी भारत, श्रीलंका के खिलाफ स्वदेश में क्लीन स्वीप (1993-94 में) कर चुका है. 

    वैसे, भारत अगर तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में श्रीलंका का सूपड़ा साफ करने में सफल रहता है तो उसकी घरेलू सरजमीं पर जीत की संख्या 100 पर पहुंच जाएगी और यह उपलब्धि हासिल करने वाला वह ऑस्ट्रेलिया (234) और इंग्लैंड (212) के बाद केवल तीसरा देश होगा. भारत ने अब तक अपनी सरजमीं पर 261 टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें से 97 में उसे जीत और 52 में हार मिली है जबकि 111 मैच ड्रॉ और एक टाई रहा है. अभी स्वदेश में सर्वाधिक जीत के रिकॉर्ड के मामले में भारत चौथे स्थान पर है. दक्षिण अफ्रीका ने अपनी सरजमीं पर 98 जीत दर्ज की हैं लेकिन उसे दिसंबर के आखिरी सप्ताह तक अपनी धरती पर कोई टेस्ट मैच नहीं खेलना है.

    भारतीय टीम : विराट कोहली (कप्‍तान), शिखर धवन, लोकेश राहुल, चेतेश्‍वर पुजारा, अजिंक्‍य रहाणे, रविचंद्रन अश्विन, ऋद्धिमान साहा, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्‍वर कुमार, उमेश यादव और मो. शमी.

    श्रीलंका टीम: दिनेश चंदीमल (कप्‍तान), दिमुथ करुणारत्‍ने, सदीरा समरविक्रमा, लाहिर तिरुमाने, एंजेलो मैथ्‍यूज, निराशन डिकवेला, दासुन शनाका, दिलरुवान परेरा, रंगना हेराथ, सुरंगा लकमल और लाहिरु गमागे. (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • कोलकाता, 17 नवंबर: टीम इंडिया के स्टार टेस्ट बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने अपने धैर्य और एकाग्रता का फिर से बेजोड़ नमूना पेश करते हुए एक छोर संभाले रखा. लेकिन दूसरे छोर से श्रीलंका के तेज गेंदबाज दासुन शनाका ने दो विकेट झटके जिससे भारत पहले टेस्ट मैच के दूसरे दिन पांच विकेट पर 74 रन तक पहुंचा.

    पुजारा एकमात्र भारतीय बल्लेबाज रहे जिन्होंने बादलों भरे मौसम में घसियाली पिच पर श्रीलंका के गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ मोर्चा संभाले रखा. पुजारा ने फिर से बेहतरीन रक्षात्मक तकनीक का नमूना पेश किया और केवल खराब गेंदों पर ही रन जुटाए. वह अभी 47 रन बनाकर खेल रहे हैं.

    पुजारा सुबह आठ रन के स्कोर पर बल्लेबाजी के लिए उतरे. उन्होंने 102 गेंद का सामना करते हुए अपनी नाबाद 47 रनों की पारी में नौ चौके जमाए. वह अपने अर्धशतक से केवल तीन रन दूर हैं. भारत के तीसरे नंबर के इस बल्लेबाज ने बेहतरीन संयम बरतकर पारी आगे बढ़ाई. उन्होंने ढीली गेंदों का इंतजार किया और उन्हीं पर शॉट जमाए.

    जब पुजारा 24 रन पर थे, तो उनके हाथ के निचले हिस्से पर गेंद लगी. 25वें ओवर में लाहिरू गामागे की उछाल लेती हुई शॉर्ट पिच गेंद उनके हाथ पर लगी और इस बल्लेबाज ने दर्द से कराहते हुए तुरंत दस्ताना निकाला.

    अगले ही ओवर में शनाका ने अश्विन का विकेट झटका. लेकिन पुजारा इससे विचलित हुए बिना, संयम के साथ खेलते रहे. उन्होंने ढीली गेंदों का इंतजार किया और बारिश के कारण पहले सेशन के रूकने तक बाउंड्री से ही रन जुटाए.

    बारिश के कारण लंच निर्धारित समय से दस मिनट पहले लिया गया. कल सिर्फ 11.5 ओवर डाले गए थे और आज भी केवल 21 ओवर का खेल ही संभव हो पाया.

    सीरीज के पहले टेस्ट मैच के बारिश से प्रभावित पहले दिन सुरंगा लकमल ने तीन विकेट चटकाकर शानदार प्रदर्शन किया था, लेकिन आज शनाका अपने प्रदर्शन से सुर्खियों में आए जिन्होंने सुबह अजिंक्य रहाणे (04) और रविचंद्रन अश्विन (04) को आउट कर 23 रन देकर दो विकेट हासिल किए थे.(आजतक)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • कोलकाता, 17 नवम्बर । सीरीज की शुरुआत से पहले भले ही श्री लंका की टीम को बैकफुट पर आंका जा रहा हो, लेकिन ईडन गार्डेंस की नई नवेली पिच पर श्री लंका की टीम को वह शुरुआत मिल गई, जिसकी उसे तलाश थी। इसका श्रेय जाता है लंकाई टीम के तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल को, जिन्होंने मैच की पहली बॉल से ही अपनी टीम के हित में काम शुरू कर दिया। सुरंगा ने बिना कोई रन खर्च किए भारत की 3 विकेट अपने नाम कर अपनी टीम को वह शुरुआत दिला दी, जिसकी उसे दरकार थी। 
    बारिश से प्रभावित इस मैच में टॉस होने में ही एक सेशन से ज्यादा का समय लग गया। दूसरे सत्र के दौरान जब टॉस हुआ, तो सिक्का मेहमान टीम के पक्ष में गिरा और कैप्टन दिनेश चंडीमल ने परिस्थियों को भांपते हुए पहले बोलिंग का निर्णय लिया। तीस वर्षीय सुरंगा लकमल ने कैप्टन के इस फैसले को सही साबित करने में देर नहीं लगाई और मैच की पहले ही बॉल पर केएल राहुल को कॉट बिहाइंड आउट करा दिया। 
    पहली गेंद पर विकेट निकालने के बाद लकमल पेस और स्विंग की जबर्दस्त लयकारी पेश कर रहे थे। पहले ही ओवर में बैटिंग पर आए चेतेश्वर पुजारा ने उनका सामना बहुत ध्यान और धीरज के साथ किया। लेकिन लकमल फास्ट बोलिंग को मिल रही सपॉर्टिंग कंडीशंस का फायदा जमकर उठा रहे थे। राहुल के बाद उन्होंने शिखर धवन को अपना दूसरा शिकार बनाया। भारत का स्कोर अभी 13 रन पर 2 विकेट ही था। इससे लकमल संतुष्ट नहीं हुए अपनी बोलिंग का कहर बरपाना जारी रखा। 
    लंकाई टीम को अभी सबसे बड़े विकेट की दरकार थी। लकमल ने यह काम भी किया और मैच के 11वें ओवर में उन्होंने अपनी टीम को सबसे बड़ी सफलता भी दिलाई। यह विकेट था कैप्टन विराट कोहली का। कोहली अपना खाता भी नहीं खोल पाए थे कि सुरंगा लकमल ने उन्हें एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया। इस सफलता के बाद लंकाई टीम मेजबान टीम पर पूरी तरह हावी थी। लकमल ने अभी एक भी रन खर्च नहीं किया है और वह 3 विकेट अपने नाम कर चुके हैं। 
    अपने करियर का 40वां टेस्ट मैच खेल रहे लकमल दुनिया के ऐसे दूसरे गेंदबाज बने हैं, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में बगैर कोई रन खर्च किए 3 विकेट अपने नाम किए हैं। उनसे पहले यह कारनामा ऑस्ट्रेलिया के रिची बेनो ने भारत के खिलाफ ही दिल्ली टेस्ट में किया था। इस तरह अभी तक 6 ओवर फेंक चुके लकमल ने कोई रन खर्च नहीं किया है और वह 3 विकेट झटक चुके हैं। भारत की हालत और भी पतली हो सकती थी, अगल लंका की टीम को दूसरे छोर से भी मदद मिलती, लेकिन दूसरे छोर से बोलिंग कर रहे लाहिरू गामागे बोलिंग के लिए इतनी शानदार कंडीशंस में भी कोई प्रभाव नहीं छोड़ पाए हैं। (नवभारत टाईम्स)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 17 नवम्बर । सात विम्बल्डन खिताब जीतने वाली टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स गुरुवार को अरबपति दोस्त और सोशल न्यूज वेबसाइट रेडिट के सह-संस्थापक एलेक्शिज ओहानियन से शादी की, 36 व्रषीय सेरेना और 34 वर्षीय एलेक्शिज काफी समय से साथ रह रहे हैं और 11 हफ्ते पहले ही वो एक बेटी के माता-पिता बने हैं।

    शादी न्यू ऑर्लियंस में हुई, जिसमें जानीमानी हस्तियों ने शिरकत की। सूत्रों के अनुसार सेरेना और एलेक्शिज शादी पर पैसा खर्च करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कहा जा रहा है कि शादी पर करीब सात करोड़ रुपय खर्च किए गए।
    इसके पहले सेरेना बुल्गारिया के 25 साल के टेनिस खिलाड़ी ग्रिगोर दिमित्रोव को डेट कर रही थीं लेकिन ये अफेयर ज्यादा समय नहीं चला। दिमित्रोव इन दिनों 30 वर्षीय रुसी टेनिस स्टार मारिया शारापोवा को डेट कर रहे हैं।(डेलीमेल)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • कोलकाता: श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्‍ट में भारतीय टीम फिलहाल मुश्किल स्थिति में है. बारिश और खराब रोशनी के कारण पहले दिन केवल 12 ओवर का खेल संभव हो पाया जिसमें टीम इंडिया ने महज 17 रन के स्‍कोर पर तीन महत्‍वपूर्ण विकेट गंवा दिए. टीम ने पहले दिन केएल राहुल (0), शिखर धवन (8) और कप्‍तान विराट कोहली के विकेट गंवाए थे. दूसरे दिन 32.5  ओवर के बाद भारतीय टीम का स्‍कोर पांच विकेट पर 74 रन है. दूसरे दिन आउट होने वाले बल्‍लेबाज अजिंक्‍य रहाणे (4) और रविचंद्रन अश्विन (4) हैं. चेतेश्‍वर पुजारा 47 रन और ऋद्धिमान साहा 6 रन बनाकर क्रीज पर हैं. बारिश के कारण खेल रोकना पड़ा है.

    पारी के 14वें ओवर में पुजारा ने दासुन शनाका को दो चौके लगाकर भारतीय टीम के स्‍कोर को आगे बढ़ाया. अगले ओवर में रहाणे ने लकमल की गेंद पर चौका लगाकर खाता खोला. हालांकि इस स्‍कोर में विश्‍वास की झलक नहीं थी. रहाणे ज्‍यादा देर नहीं टिके और केवल चार रन बनाने के बाद आउट हो गए. उनका कैच मध्‍यम गति के गेंदबाज दासुन शनाका की गेंद पर विकेटकीपर डिकवेला ने लपका. चार स्‍थापित बल्‍लेबाजों के आउट होने के बाद भारतीय टीम को सम्‍मानजनक स्थिति में पहुंचाने का सारा दबाव चेतेश्‍वर पुजारा पर आ गया था. भारतीय टीम का पांचवां विकेट रविचंद्रन अश्विन (4 रन, 29 गेंद) के रूप में गिरा, जिन्‍हें शनाका ने करुणारत्‍ने के हाथों कैच कराया. 50 के स्‍कोर पर पांच विकेट गिरने के कारण ऐसा लग रहा था कि टीम इंडिया के लिए 100 रन का आंकड़ा छूना भी मुश्किल होगा. नमी के कारण तेज गेंदबाजों को विकेट से काफी मदद मिल रही थी.

    इससे पहले, मैच में पहले दिन बल्‍लेबाजी करते हुए भारत की शुरुआत निराशाजनक रही और पहली ही गेंद पर केएल राहुल (0) आउट हो गए. उन्‍हें सुरंगा लकमल की गेंद पर विकेटकीपर डिकेवला ने कैच किया. भारतीय टीम को जल्‍द ही शिखर धवन के रूप में दूसर विकेट गंवाना पड़ा. धवन (8 रन, 11 गेंद, एक चौका) को लकमल ने बोल्‍ड किया.पारी के 11वें ओवर में कोहली (0 रन, 11 गेंद) को सुरंगा लकमल ने एलबीडब्‍ल्‍यू कर दिया. अम्‍पायर के निर्णय पर कोहली ने डीआरएस का भी सहारा लिया लेकिन फैसला उनके खिलाफ रहा.

    विकेट पतन: 0-1 (राहुल, 0.1), 13-2 (धवन, 6.2), 17-3 (विराट, 10.1), 30-4 (रहाणे, 17.2), 50-5 (अश्विन, 25.6)

    मैच में टीम इंडिया फिलहाल मुश्किल में फंसी नजर आ रही है. वैसे, तीन टेस्‍ट की सीरीज में टीम इंडिया को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. इस के पीछे कारण भी हैं. टीम इंडिया ने इस साल जुलाई-अगस्त में श्रीलंका को तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-0 के एकतरफा अंतर से हराया था.श्रीलंका के खिलाफ पिछली टेस्‍ट सीरीज की ही तरह टीम इंडिया यदि इस बार भी सीरीज में 3-0 से क्‍लीन स्‍वीप करने में कामयाब रही तो विराट कोहली कप्‍तान के रूप में एक बड़ी उपलब्धि अपने नाम करने में सफल हो जाएंगे. परिस्थितियां ही नहीं, रिकॉर्ड भी भारतीय टीम के पक्ष में है. भारतीय टीम ने अब तक श्रीलंका से अपनी सरजमीं पर एक भी टेस्ट मैच नहीं गंवाया है. एक बार पहले भी भारत, श्रीलंका के खिलाफ स्वदेश में क्लीन स्वीप (1993-94 में) कर चुका है. विराट कोहली की अगुवाई में टीम क्लीन स्वीप करती है तो वह भारत के सबसे सफल कप्तानों की सूची में महेंद्र सिंह धोनी के बाद दूसरे स्थान पर काबिज हो जाएंगे.

    कोहली की कप्तानी में भारत ने अब तक 29 टेस्ट मैचों में से 19 में जीत दर्ज की तथा वह धोनी (60 टेस्ट में 27 जीत) और सौरव गांगुली (47 टेस्ट में 21 जीत) के बाद तीसरे नंबर पर हैं. क्‍लीन स्‍वीप की स्थिति में कोहली के खाते में कप्‍तान के रूप में 22 जीत हो जाएंगी और वे सौरव गांगुली को पछाड़ देंगे.

    भारत अगर तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में श्रीलंका का सूपड़ा साफ करने में सफल रहता है तो उसकी घरेलू सरजमीं पर जीत की संख्या 100 पर पहुंच जाएगी और यह उपलब्धि हासिल करने वाला वह ऑस्ट्रेलिया (234) और इंग्लैंड (212) के बाद केवल तीसरा देश होगा. भारत ने अब तक अपनी सरजमीं पर 261 टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें से 97 में उसे जीत और 52 में हार मिली है जबकि 111 मैच ड्रॉ और एक टाई रहा है. अभी स्वदेश में सर्वाधिक जीत के रिकॉर्ड के मामले में भारत चौथे स्थान पर है. दक्षिण अफ्रीका ने अपनी सरजमीं पर 98 जीत दर्ज की हैं लेकिन उसे दिसंबर के आखिरी सप्ताह तक अपनी धरती पर कोई टेस्ट मैच नहीं खेलना है.

    भारतीय टीम : विराट कोहली (कप्‍तान), शिखर धवन, लोकेश राहुल, चेतेश्‍वर पुजारा, अजिंक्‍य रहाणे, रविचंद्रन अश्विन, ऋद्धिमान साहा, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्‍वर कुमार, उमेश यादव और मो. शमी.

    श्रीलंका टीम: दिनेश चंदीमल (कप्‍तान), दिमुथ करुणारत्‍ने, सदीरा समरविक्रमा, लाहिर तिरुमाने, एंजेलो मैथ्‍यूज, निराशन डिकवेला, दासुन ससंका, दिलरुवान परेरा, रंगना हेराथ, सुरंगा लकमल और लाहिरु गमागे. (ndtv)

    ...
  •  


Posted Date : 16-Nov-2017
  • कोलकाता, 16 नवंबर : भारत और श्रीलंका के बीच गुरुवार से ईडन गार्डन्स स्टेडियम में शुरू हुए पहले टेस्ट मैच के पहले दिन पहले बारिश और श्रीलंकाई पेसर सुरंगा लकमल ने खेल बिगाड़ा और फिर खराब रोशनी के कारण दिन का खेल जल्दी खत्म कर दिया गया.

    हालांकि बारिश के अलावा मेजबान टीम को श्रीलंका के तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल ने खासा परेशान किया. भारत ने दिन का अंत तीन विकेट के नुकसान पर 17 रनों के साथ किया. यह तीनों विकेट लकमल ने छह ओवरों में बिना कोई रन दिए लिए हैं.

    भारत ने लोकेश राहुल (0), शिखर धवन (8), कप्तान विराट कोहली (0) के रूप में तीन अहम विकेट खो दिए हैं. स्टम्प्स तक चेतेश्वर पुजारा आठ रन बनाकर नाबाद हैं जबकि उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने अभी खाता नहीं खोला.

    लकमल से ज्यादा खाली गेंदें फेंकने का रिकार्ड वेस्टइंडीज के जेरोम टेलर के नाम है. उन्होंने 2015 में दक्षिण अफ्रीका में लगातार 40 खाली गेंदें फेंकी थी. वहीं लकमल ने 36 गेंदों पर लगातार कोई भी रन नहीं दिया है.

    इससे पहले दिन का पहला सत्र बारिश की भेंट चढ़ गया. दूसरे सत्र की शुरुआत में टॉस हुआ लेकिन इसके बाद भी बारिश आती-जाती रही और मैच बीच-बीच में रूकता रहा. अंतत: खराब रोशनी के कारण तय समय से पहले दिन का खेल समाप्ति की घोषणा कर दी गई.

    आज के नुकसान की भरपाई करने के लिए दूसरे दिन शुक्रवार को मैच की शुरुआत तय समय से पहले की जा सकती है.

    टॉस होने से पहले बारिश ने दस्तक दी और लगातार जारी रही. इसी बीच कुछ देर के लिए बारिश रूकी, लेकिन कुछ देर बाद फिर शुरू हो गई. इसी कारण पहले सत्र का खेल नहीं हो सका और भोजनकाल की घोषणा कर दी गई.

    मैच की शुरुआत दूसरे सत्र में हुई और लकमल ने पहली ही गेंद पर राहुल को विकेट के पीछे निरोशन डिकवेला के हाथों कैच करा दिया.

    विकेट से मिल रही अतिरिक्त उछाल का लकमल ने फायदा उठाया और लगातार भारतीय बल्लेबाजों को परेशान करते रहे. इसी बीच धवन उनकी गेंद को जल्दी खेलने के प्रयास में बोल्ड हो गए.

    इसके बाद बारिश आ गई और कुछ देर के लिए खेल रोक दिया गया. कुछ देर बाद मैच फिर शुरू हुआ और भारत ने कोहली के रूप में तीसरा विकेट खोया. वह लकमल की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए.

    कोहली के जाने के बाद तकरीबन दो ओवरों का खेल खेला गया, लेकिन खराब रोशनी के कारण मैच समय से पहले समाप्त कर दिया गया.  (एजेंसी)

    ...
  •  


Posted Date : 15-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 15 नवंबर: भारत की टेनिस सनसनी सानिया मिर्जा आज 31 साल की हो गई हैं. सानिया का जन्म 15 नवंबर 1986 को मुंबई में हुआ था लेकिन उनका बचपन हैदराबाद में बीता. हैदराबाद से ही सानिया ने टेनिस की शुरुआत की.

    कम उम्र में ही सफलता के झंडे का गाड़ने वाली सानिया ने अपनी करियर की शुरुआत साल 1999 में की. उस समय सानिया की उम्र महज 14 साल थी, जब उन्होंने वर्ल्‍ड जूनियर टेनिस चैंपियनशिप में हिस्सा लिया था.

    साल 2000 में सानिया ने पाकिस्तान में खेले गए इंटेल जूनियर चैंपियनशिप जी-5 मुक़ाबले में सिंगल और डबल मुक़ाबले में जीत हासिल की. डबल मुक़ाबलों में सानिया की जोड़ी पाकिस्तान के जाहरा उमर खान के साथ थी.

    विवादों से रहा है नाता
    सानिया मिर्जा का नाम हमेशा किसी ना किसी विवादों में आता रहा है. मुस्लिम परिवार से होने के कारण साल 2005 में एक मुस्लिम समुदाय ने उनके खेलने के खिलाफ फ़तवा तक जारी कर दिया था. इस सामुदाय ने टेनिस खेलते समय सानिया के कपड़े को लेकर आपत्ति जताई थी. इतना ही नहीं पाक क्रिकेटर शोएब मलिक के साथ शादी रचाने के बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी. तेलंगाना के एक बीजेपी नेता ने उन्हें पाकिस्तान की बहु तक कह दिया था.

    बेस्‍ट सिंगल्‍स रैंकिंग वाली भारतीय खिलाड़ी
    सानिया भारत की बेस्‍ट सिंगल्‍स रैंकिंग वाली खिलाड़ी हैं. सानिया वर्ल्‍ड रैंकिंग में 27वें नंबर तक पहुंची हैं. सिंगल्‍स में यह उनकी अब तक की बेस्‍ट रैंकिंग है. यह किसी भी भारतीय महिला टेनिस खिलाड़ी की बेस्‍ट रैंकिंग है. सानिया मिर्जा ने मार्टिना हिंगिस के साथ मिलकर डबल्‍स में नंबर 1 स्थान भी हासिल किया था.

    ग्रैंड स्लैम
    ग्रैंड स्लैम की बात करें तो सानिया ने सबसे पहले साल 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन का मिक्स डबल्स खिताब जीता था इसके बाद साल 2012 में फ्रेंच ओपन मिक्स डबल्स का खिताब, 2014 में यूएस ओपन मिक्स डबल्स खिताब और 2015 में विंबलडन का युगल खिताब भी अपने नाम किया.

    मेडल्स
    सानिया मिर्जा ने एफ्रो एशियाई, एशियाई और कॉमनवेल्थ गेम्स खेलों को मिलाकर कुल 12 मेडल्स अपने नाम किया. एफ्रो एशियाई खेलों में सानिया ने कुल मिलाकर चार गोल्ड मेडल जीता है. एशियाई खेलों में सानिया ने एक गोल्ड, तीन सिल्वर और दो ब्रॉन्ज मेडल जीते जबकि कॉमनवेल्थ गेम्स में एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल जीता है.

    पुरस्कार
    सबसे पहले साल 2004 में सानिया को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. इसके बाद साल 2006 में उन्हें पद्म श्री अवॉर्ड मिला. इसी साल सानिया को डब्‍ल्‍यूटी का 'मोस्‍ट इम्‍प्रेसिव न्‍यू कमर' का अवॉर्ड भी दिया दिया गया. (एबीपी न्यूज़)

    ...
  •  


Posted Date : 15-Nov-2017
  • कोलकाता, 15 नवम्बर। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने कोलकाता के ईडन गार्डन स्टेडियम में जारी प्रेक्टिस सेशन के दौरान अपनी दरियादिली का परिचय दिया। इंडिया और श्रीलंका की टीम 16 नवंबर से तीन मैचों की टेस्ट सिरीज का पहला मैच ईडन गार्डन में खेलने जा रही है।
    टीम इंडिया के कप्तान कोहली ईडन गार्डन में बैटिंग प्रेक्टिस कर रहे थे। मोहम्मद सामी कोहली को बॉलिंग करा रहे थे लेकिन कोहली सामी की एक बॉल हिट करने से चूक गए। ये बॉल नेट को पार करते हुए टेलीविजन टीम के सदस्य के सिर पर जा लगी।
    कोहली ये देखते ही प्रेक्टिस सेशन रोककर टीम के फिजीयोथेरेपिस्ट को बुलाया और चोटिल व्यक्ति के पास पहुंचे। कोहली इससे पहले भी अपनी दरियादिली दिखाते हुए 15 नेत्रहीन कुत्तों को गोद ले चुके हैं। बंगलुरु स्थित चार्लीज एनिमल रेस्क्यु सेंटर ने अप्रेल में सोशल मीडिया पर इस बारे में जानकारी दी थी।  (बीबीसी)

    ...
  •  




Previous123456Next