अंतरराष्ट्रीय

Previous123456789...1314Next
  • नई दिल्ली, 22 सितंबर । सौंदर्य प्रसाधन बनाने वाली फ्रांसीसी कंपनी लॉरियल की उत्तराधिकारी लिलियन बेटनकोर्ट का 94 साल की उम्र में निधन हो गया है। बेटनकोर्ट के परिवार ने इसकी पुष्टि की है।
    लिलियन बेटनकोर्ट दुनिया की सबसे अमीर महिला थीं। साल 2017 में उनकी कुल संपत्ति 33 बिलियन यूरो (लगभग 25 खरब रुपये) आंकी गई थी। फोब्र्स पत्रिका ने 2017 में दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में उन्हें 14वें नंबर पर रखा था।
    2012 में कंपनी के बोर्ड से अलग होने के बाद भी वह सुर्खियों में रही थीं। आठ लोगों को डिमेंशिया से जूझ रहीं लिलिएन की खराब सेहत का फायदा उठाने का दोषी पाया गया था।
    लॉरियल के चेयरमैन और सीईओ ज्यां-पॉल आगॉन की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, हम सभी लिलियन बेटनकोर्ट को प्यार करते थे। उन्होंने हमेशा कंपनी और कर्मचारियों की देखभाल की। कंपनी की कामयाबी और प्रगति से उनका सीधा जुड़ाव था।
    उन्होंने खुद कई साल तक लॉरियल को कामयाब बनाने में योगदान दिया। एक महान महिला हमें छोड़कर चली गई हैं, हम उन्हें कभी नहीं भूलेंगे। लिलियन बेटनकोर्ट के पिता उजेन श्वेलर ने 1909 में एक कंपनी शुरू की थी जो आज लॉरियल ग्रुप में बदल गई है। (बीबीसी)

    ...
  •  


  • ढाका, 22 सितंबर। म्यांमार के रखाइन राज्य में रोहिंग्या मुस्लिमों के खिलाफ छिड़ी हिंसा के बाद बांग्लादेश पलायन करनेवालों में सबसे ज्यादा संख्या महिलाओं और बच्चों की है। शरणार्थी कैंपों में सीमित सुविधाओं के बीच ढाका के लिए सबसे बड़ी चुनौती गर्भवती महिलाएं हैं। ढाका ट्रिब्यून की मानें तो इन शरणार्थियों में से 80 हजार महिलाएं जल्द ही मां बनने वाली हैं और अब तक 200 बच्चे जन्म ले चुके हैं। इस चुनौती को देखते हुए अब बांग्लादेश सरकार ने शरणार्थियों को बर्थ कंट्रोल किट मुहैया करवाने का फैसला लिया है। 
    बांग्लादेश सरकार के एक मंत्री ने कहा है कि रोहिंग्या मुसलमानों के बीच परिवार नियोजन अभियान चलाया जाएगा। म्यांमार के जातीय अल्पंसख्यक नागरिकों के बड़े पैमाने पर बांग्लादेश में दाखिल होने के बाद इन शरणार्थियों की जनसंख्या में तेजी से बढ़ोतरी की आशंका के बीच मंत्री ने यह बयान दिया है। अधिकारियों ने बताया कि रोहिंग्या समुदाय को अपने परिवार का आकार छोटा रखने के लिए प्रेरित करने की योजना तैयार की जा रही है। उन्हें जन्म नियंत्रण गोलियां और अन्य गर्भ निरोधक दिए जा रहे हैं ताकि वे परिवार नियोजन के साथ ही यौन संचारी रोगों की चपेट में आने से बच सकें। 
    बांग्लादेश के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मोहम्मद नसीम ने बताया, यौन संचारी रोगों और जन्म नियंत्रण के तौर-तरीकों के बारे में रोहिंग्या समुदाय के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए हमने अब तक 6 मेडिकल टीमें बनाई हैं।
    अधिकारियों और विशेषज्ञों ने बताया कि यह पहल अहम है, क्योंकि पिछड़ेपन के शिकार रोहिंग्या समुदाय में प्रजनन दर अधिक है जबकि जन्म नियंत्रण उपायों के बारे में उन्हें कुछ खास पता नहीं है। मंत्री ने यह बयान ऐसे समय में दिया है जब संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (यूएनएफपीए) ने कहा कि 25 अगस्त को शरणार्थियों के आने का सिलसिला हाल में शुरू होने के बाद से दक्षिण-पश्चिमी बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में अस्थायी रोहिंग्या शिविरों में तैनात दाइयों ने कम से कम 200 बच्चे पैदा होते देखा है। संयुक्त राष्ट्र ने 35 प्रशिक्षित दाइयों को शरणार्थी कैंपों में महिलाओं की सहायता के लिए तैनात किया है।  (एजेंसियां)

     

    ...
  •  


  • पल्लव शाह
    न्यूयार्क सिटी, 21 सितंबर (छत्तीसगढ़)। दो सप्ताह के अमेरिका दौरे के अंतिम दिन कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने टाइम स्क्वेयर स्थित होटल मेरिएट में नेशनल ओवरसीज़ कांग्रेस की एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि बढ़ती हुई बेरोजगारी और असहिष्णुता इस समय भारत के एक गंभीर मुद्दा बन गया है। 
    करीब दो हजार लोगों की सभा को भारतीय समयानुसार आज सुबह 5.30 बजे राहुल गांधी ने डेढ़ घंटे तक सम्बोधित किया। उन्होंने सीधे-सीधे किसी पार्टी या व्यक्ति का नाम लिए बिना कहा कि युवाओं को रोजगार दिलाने में विफलता भारत में एक बड़े संकट के रूप में इन दिनों सामने आया है। इसके अलावा सहिष्णुता का संकट भी गहरा हुआ है। इसमें वे लोग जुड़े हैं जिनके हाथ में सत्ता है। 
    कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि महात्मा गांधी, डॉ. अम्बेडकर और सुभाष चंद्र बोस जब देश से बाहर निकले तो उन्होंने अपने ज्ञान और अनुभव का भारत को लाभ पहुंचाया। सभा में उपस्थित सैम पित्रोदा का उल्लेख करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि जब वे कई साल विदेशों में रहकर लौटे तो देश में उन्होंने दूरसंचार क्रांति ला दी। 
    आज हमें इनकी तरह बहुत से अप्रवासी भारतीयों की आवश्यकता है, जो देश की प्रगति की ओर ले जाने में सहायता करें। अप्रवासी भारतीयों को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ बताते हुए राहुल ने कहा कि हम कोई भी नया अन्वेषण करते हैं तो भारत को उससे परिचय कराएं। देश में आपकी जरूरत है। इससे हम देश को 21वीं सदी में नई ऊंचाई तक पहुंचा सकेंगे। राहुल गांधी ने कहा कि आज पंजाब में कृषि को पुनर्जीवित करने की आवश्यकता है। वहां खेती की नई तकनीक की जरूरत है। इस कार्यक्रम में कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा, दीपक हुड्डा भी राहुल गांधी के साथ थे। वे आज वापस भारत के लिए रवाना हो गए। 

    ...
  •  


  • सोल, 21 सितंबर । उत्तर कोरिया ने अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की उनके देश को बर्बाद करने की धमकी को तवज्जो न देते हुए इसकी तुलना 'कुत्ते के भौंकने' से की और कहा कि उत्तर कोरिया इस धमकी से नहीं डरेगा।
    ट्रंप ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए अपने पहले संबोधन में उत्तर कोरिया को चेतावनी दी थी कि अगर उसने अमरीका या उसके सहयोगी देशों पर हमला किया तो अमरीका उसे 'पूरी तरह बर्बादÓ कर देगा।
    संयुक्त राष्ट्र बैठकों के लिए न्यूयॉर्क पहुंचे उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री री योंग-हो को पत्रकारों ने ट्रंप के भाषण से संबंधित सवालों से घेर लिया और उत्तर कोरियाई मंत्री ने एक कहावत से इसका जवाब दिया। उन्होंने कल अपने होटल में प्रवेश करते हुए कहा, एक कहावत है कि कुत्ते कितना भी भौंकते रहे लेकिन कारवां चलता रहता हैं। अगर वे धमकियों से हमें डराने की कोशिश कर रहे हैं तो वे निश्चित रूप से सपना देख रहे हैं। दुनिया से अलग-थलग पड़े और आर्थिक संकट से जूझ रहे उत्तर कोरिया ने कहा कि उसे अमरीका की आक्रामकता से बचाव करने के लिए परमाणु हथियारों की जरूरत है।
    उत्तर कोरिया का लक्ष्य अमरीका के मुख्य भूभाग तक मार करने की क्षमता विकसित करना रहा है और हाल के सप्ताह में उसने अपने परमाणु कार्यक्रम में तेजी लाई है। उत्तर कोरिया ने सितंबर में रॉकेट से ले जाने में सक्षम छोटे हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया। उत्तर कोरिया ने जुलाई में दो अंतरमहाद्विपीय बैलिस्टिक मिसाइलों का भी परीक्षण किया जिसकी जद में अमरीका का मुख्य भूभाग भी है। ट्रंप ने उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन को 'रॉकेट मैनÓ बताया और उन्होंने कहा कि वह एक 'आत्मघाती अभियान' पर है। (भाषा)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 21 सितंबर । नोबल प्राइज विजेता मलाला यूसुफजई ने सिर्फ 2 महीने पहले ही ट्विटर जॉइन किया है और तभी से वह अपनी जिंदगी के कई अहम अपडेट सोशल मीडिया पर शेयर करती रही हैं। ऐसे में शुक्रवार को मलाला ने बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा के साथ एक फोटो शेयर की और अपना फैन मुमेंट सभी को बताया है। यूनिसेफ (यूएनआईसीईएफ) की गुडविल एंबेस्डर प्रियंका चोपड़ा संयुक्त राष्ट्र महासभा में ग्लोबल गोल्स अवॉर्ड्स में शामिल होने पहुंची। इस दौरान यहां मलाला भी मौजूद थीं। ऐसे में मलाला प्रियंका चोपड़ा के साथ अपना एक फोटो शेयर करते हुए लिखा, मैं विश्वास ही नहीं कर पा रही हूं कि मैं प्रियंका चोपड़ा से मिली।
    ऐसे में प्रियंका ने भी मलाला के इस ट्वीट का उतने ही प्यार से रिप्लाई किया। प्रियंका ने मलाला का ट्वीट, रीट्वीट करते हुए लिखा, ओह मलाला, इसके लिए शब्द पर्याप्त नहीं होंगे। मैं विश्वास नहीं कर पा रही हूं कि मैं तुमसे मिली हूं! तुम इतने बड़े दिल वाली एक छोटी सी लड़की हो... और इतनी सारी उपलब्धता। गर्व है।
    प्रियंका ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर मलाला के साथ अपना एक फोटो भी शेयर किया है। प्रियंका ने मलाला के लिए एक लंबा पोस्ट भी लिखा है। प्रियंका ने लिखा, मैं इस लड़की के बारे में एक पूरा उपन्यास लिख सकती हूं कि यह कितनी स्मार्ट, प्रेरक और मजेदार है, लेकिन मैं कम शब्दों में ही इसके बारे में कहना चाहूंगी। मलाला तुम एक अगण्य ताकत हो और यह दुनिया जानती है। तुम हर उस शख्स के लिए एक मिसाल हो जो इस दुनिया को एक बेहतर दुनिया बनाना चाहते हैं। तुम्हारे और तुम्हारे पिता मिस्टर यूसुफजई (जो मुझे कई हद तक मेरे पिता की याद दिलाते हैं) के साथ कुछ घंटे बिता कर मुझे समझ आया कि तुम नए सपनों वाली एक जवान लड़की हो।
    प्रियंका ने लिखा, तुम्हारे चुटकुले, हिंदी फिल्मों के लिए तुम्हारा प्यार और तुम्हारी संक्रमित सी हंसी मुझे हमेशा महसूस कराती है कि तुम्हारे नाजुक से कंधों पर कितनी बड़ी जिम्मेदारी है। तुमसे अपनी हिंदी/ऊर्दू की सीक्रेट भाषा में दोबारा बात करने के लिए बैचेन हूं।  
    प्रियंका चोपड़ा संयुक्त राष्ट्र महासभा के ग्लोबल गोल्स अवॉर्ड्स का हिस्सा बनने पहुंची थीं। प्रियंका बच्चों की शिक्षा के लिए जागरूकता फैला रही हैं। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 21 सितंबर। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अमरीकी दौरे पर हैं। वहां छात्रों से रूबरू हो रहे हैं, अपने भाषणों और साक्षात्कारों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बना रहे हैं। वो देश की नीतियों पर सवाल कर रहे हैं और अपनी पार्टी पर उठने वाले सवालों का भी जवाब दे रहे हैं। छवि निर्माण के लिहाज से उनका यह दौरा काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।
    बीबीसी से बातचीत में वरिष्ठ पत्रकार विनोद शर्मा कहते हैं कि राहुल देश के प्रधानमंत्री और लंबे अरसे तक सत्तारूढ़ रही कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बनना चाहते हैं तो उन्हें विदेश में अपनी अलग छाप छोडऩी होगी। वो कहते हैं कि राहुल गांधी की छवि एक नासमझ व्यक्ति के रूप में बनाई गई। उन्हें नाकाबिल साबित करने की कोशिश की गई। मैं समझता हूं कि अपनी बनाई छवि तोडऩे की दिशा में यह दौरा राहुल के लिए अच्छी शुरुआत है।
    वरिष्ठ पत्रकार तवलीन सिंह राहुल के इस दौरे को बहुत फायदे वाला नहीं मानतीं। वे कहती हैं कि जो बातें राहुल ने अमरीका में कहीं, वह भारत में भी कहते तो भी लोग सुनते।
    तवलीन सिंह के मुताबिक कि वो (राहुल) एक तरह से मोदी की ही नकल कर रहे हैं। मोदी के विदेश दौरे के बाद उनका कद काफी बढ़ा था। मुझे लगता है कि राहुल गांधी भी इसी राह पर चल रहे हैं।
    पहले नरेंद्र मोदी ने विदेशी जमीन पर कांग्रेस की आलोचना की और अब राहुल मोदी की कर रहे हैं। विदेशी जमीन पर इस छींटाकशी को विनोद शर्मा अनुचित मानते हैं। वह कहते हैं कि सरहद पार हम लोग एक हैं। इस परंपरा को हाल के राजनेताओं ने तोड़ा है।
    वो कहते हैं कि पहले के नेताओं ने घर से बाहर एकता का परिचय दिया है। इस परंपरा को आगे भी बनाए रखने की जरूरत है। इसकी अवहेलना सरकार और विपक्ष दोनों तरफ से हो रही है।
    भारत में वंशवाद चलता है, उनका ये बयान कितना सही था, इस पर विनोद शर्मा ने कहा कि वंशवाद पर उन्होंने जो उदाहरण दिए वो सही नहीं थे। वो अच्छे उदाहरण दे सकते थे। वो बांग्लादेश, पाकिस्तान, श्रीलंका के परिवारवाद का उदाहण दे सकते थे।
    वे कहते हैं कि उनको यह कहना चाहिए था कि यह एक अच्छी प्रणाली नहीं है, लेकिन एक समय ऐसा आएगा कि पार्टी में परिवार का उतना हस्तक्षेप नहीं रहेगा।
    इस पर तवलीन सिंह कहती हैं कि वंशवाद का मुद्दा बड़ा है, इसे देश का मतदाता ही खत्म करेगा। क्या भाजपा में वंशवाद नहीं है? क्या इसके बड़े नेताओं ने अपने बच्चों को नहीं बढ़ाया है? लेकिन जिस तरह से राहुल ने यह बात रखी वो ठीक नहीं थी। उन्होंने बिजनेस में वंशवाद की बात की, इस क्षेत्र में वंशवाद तो स्वाभाविक बात है।
    तवलीन सिंह का ये भी मानना है कि राहुल गांधी नरेंद्र मोदी के सामने चुनौती तो हैं, लेकिन उनको अभी बहुत काम करना होगा क्योंकि तीन साल में जो छवि उनकी बनी है वो अच्छी नहीं है।  (बीबीसी)

    ...
  •  


  • न्यूयॉर्क, 20 सितंबर। इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यात्रा का जिक्र करना नहीं भूले। 
    उन्होंने कहा कि इस वर्ष देश में सैकड़ों विश्व नेताओं की मेजबानी की लेकिन उनका मानना है कि अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और नेतन्याहू के भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी की यात्रा सही मायनों में ऐतिहासिक थी।
    मोदी के संबंध में नेतन्याहू ने कहा कि वे इस्राइल, भारत और पूरी मानवता के लिए अंतहीन संभावनाओं की कल्पना करते हैं। नेतन्याहू ने कहा, मैं पिछले साल यहां इस मंच पर खड़ा था और मैंने इस्राइल को लेकर दुनियाभर में आए इस गहरे बदलाव के बारे में बात की थी।
    अब देखिए एक साल में क्या हुआ है, कितनी बार हुआ है। सैकड़ों राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री और अन्य नेता इस्राइल आए, इनमें से कई पहली बार आए।
    उन्होंने कहा, इन यात्राओं में से दो सच में ऐतिहासिक थीं। मई में राष्ट्रपति ट्रंप पहले अमरीकी राष्ट्रपति थे जिन्होंने अपनी पहली विदेश यात्रा में इजरायल को शामिल किया। राष्ट्रपति ट्रंप पश्चिमी दीवार पर खड़े हुए जहां यहूदी लोग या यहूदी लोगों के मंदिर करीब 1,000 वर्ष से हैं। नेतन्याहू ने कहा कि जब राष्ट्रपति ने उन प्राचीन पत्थरों को छूआ तो उन्होंने हमेशा के लिए हमारे दिलों को छू लिया।
    नेतन्याहू ने कहा कि जुलाई में मोदी इस्राइल की यात्रा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बने। उन्होंने विश्व नेताओं से भारतीय प्रधानमंत्री के साथ अपनी मुलाकात भी साझा की।
    नेतन्याहू बोले, आपने शायद तस्वीरें देखी होंगी। हम पोदेरा में बीच पर थे, हमने समुद्र के पानी से नमक अलग करने के पोर्टेबल यंत्र से लैस जीप की सवारी की जिसकी इस्राइली उद्यमियों ने खोज की। हमने भूमध्य सागर में उतरने से पहले अपने जूते निकाले और समुद्र का पानी पिया जिसे कुछ मिनट पहले ही शुद्ध किया गया। पीएम मोदी जुलाई की शुरुआत में इजरायल की यात्रा पर गए थे।  (भाषा)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 20 सितंबर। मैक्सिको में भूकंप ने फिर से भीषण तबाही मचाई। मैक्सिको के मध्य में 7.1 तीव्रता का भूकंप आया। इससे कम से कम 139 लोगों की मौत हो गई और कई इमारतें धराशायी हो गईं। भूकंप की वजह से दहशत में आए लोग सड़कों पर निकल आए। मलबे में फंसे लोगों को निकालने के लिए बचाव कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। साथ ही मलबे में अंदर फंसी दो लड़कियों ने व्हाट्सएप पर मैसेज कर मदद मांगी। घनी आबादी वाली मैक्सिको सिटी और आसपास के राज्यों में भूकंप की वजह से देखते ही देखते कई इमारतें ध्वस्त हो गईं। साथ ही हर जगह मलबा नजर आने लगा। मेयर मिगुएल एंजल मानसेरा ने बताया कि अकेले राजधानी में 44 जगहों पर इमारतें ध्वस्त हुई हैं। बचाव कर्मी मलबे में फंसे लोगों को निकालने के लिए प्रयासरत हैं।
    शहर के दक्षिण में एक प्राथमिक स्कूल की इमारत आंशिक रूप से ध्वस्त हो गई। बचाव कर्मी मलबे में फंसे बच्चों को निकालने में लगे है। वहीं मलबे में अंदर फंसी दो लड़कियों ने व्हाट्सएप पर मैसेज कर मदद मांगी।
    मैक्सिको में वर्ष 1985 में इसी तारीख को भीषण भूकंप आया था जिसमें हजारों लोग मारे गए थे। इस भूकंप से ठीक दो सप्ताह पहले देश के दक्षिण में आए एक अन्य शक्तिशाली भूकंप में 90 लोग मारे गए थे।
    राष्ट्रीय असैन्य रक्षा एजेंसी के प्रमुख लुइस फेलिप पुएन्टे ने ट्वीट कर पुष्टि की कि भूकंप में 139 लोगों की मौत हो गई है। उन्होंने ट्वीट में कहा कि मैक्सिको सिटी के दक्षिण में मोरेलास राज्य में 64 लोगों की मौत हुई है। स्थानीय अधिकारियों ने यहां मृतक संख्या 54 बताई है। पुएन्टे ने बताया कि इसके अलावा राजधानी में 36 लोग, पुएब्ला राज्य में 29 लोग, मैक्सिको राज्य में नौ और गुएरेरो राज्य में एक व्यक्ति की मौत हुई है।
    मेयर मानसेरा ने बताया कि मैक्सिको सिटी में नागरिकों और आपात सहायता कर्मियों ने 50 से 60 लोगों को जीवित निकाला है। अधिकारियों ने बताया कि राजधानी में कम से कम 70 घायलों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है। संघीय गृह मंत्री मिगुएल एंजेल ओसोरियो चोंग ने बताया कि अधिकारियों को अब भी मलबे में कई लोगों के फंसे होने की आशंका है। उन्होंने बताया कि मलबे की प्रकृति की वजह से खोज अभियान की गति धीमी है। (भाषा)

     

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 20 सितंबर । मेक्सिको में कल देर रात भूकंप के जबरदस्त झटके महसूस किये गये। रिक्टर पैमाने पर 7.1 तीव्रता वाले इस विनाशकारी भूकंप में कम से कम 226 लोगों की मौत हो गयी और दर्जनों इमारतें ढह गयीं। इस भूकंप के कारण मेक्सिको सिटी, मोरलियोस और पुएब्ला प्रांतों में भारी तबाही मची है।
    मेक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना नीतो ने बताया कि कोआपा के पास एक स्कूल में 20 से अधिक बच्चे और दो वयस्कों की मलबे में दबकर मौत हो गयी। इसके अलावा 30 बच्चे और 12 वयस्क लापता हैं। प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कर्मियों को भेज दिया गया है और उनका अभियान रात भर जारी रहा। कई लोगों को मलबे से जीवित भी निकाला गया है।
    मेक्सिको सिटी के मेयर ने कहा कि भूकंप के कारण शहर में 44 इमारतें बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गयीं जिनमें एक प्राइमरी स्कूल भी शामिल है और कई मकान जमींदोज हो गये। 
    इससे दो सप्ताह पहले भी मेक्सिको में भीषण भूकंप आया था जिससे कम से कम 98 लोगों की मौत हो गयी थी और संपत्ति का भी भारी नुकसान हुआ था। 
    अमरीकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार भूकंप की तीव्रता 7.1 थी जबकि मेक्सिको के सीस्मोलॉजिकल इंस्टीट्यूट के अनुसार भूकंप की तीव्रता 6.8 बताई गई। भूकंप का केंद्र पड़ोसी प्यूब्ला प्रांत में चियाउतला डि तापिया से सात किलोमीटर पश्चिम में था। (लाइव हिन्दुस्तान)

     

    ...
  •  


  • वाशिंगटन, 20 सितंबर। अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने मंगलवार को पहली बार संयुक्त राष्ट्र महासभा के अधिवेशन को संबोधित किया। इस बहुप्रतीक्षित संबोधन को ट्रंप काल में अमरीका की विदेश नीति की झलक के तौर पर देखा जा रहा था।
    ट्रंप ने साझा हितों में गठजोड़ की बात तो कही, लेकिन विदेशी जमीनों पर राष्ट्र-निर्माण के काम से अमरीका के अलग होने की ओर बढऩे के संकेत भी दिए।
    आठ महीने पहले अमरीका के राष्ट्रपति पद की कुर्सी संभालने वाले ट्रंप ने 193 सदस्य देशों वाले संयुक्त राष्ट्र के सालाना अधिवेशन में परमाणु सक्षम अस्थिर देशों के खतरे के प्रति विश्व नेताओं को सचेत किया और उत्तर कोरिया को सख्त शब्दों में धमकी दी।
    अमरीका के पास बड़ी ताकत और बड़ा धैर्य है, लेकिन वह अपनी और अपने सहयोगियों की रक्षा के लिए मजबूर है। हमारे पास उत्तर कोरिया को पूरी तरह तबाह करने के सिवा कोई विकल्प नहीं होगा।
    रॉकेट मैन अपने और अपने देश के लिए खुदकुशी के मिशन पर है। अमरीका तैयार, सक्षम और तत्पर है पर उम्मीद है कि उसकी जरूरत नहीं पड़ेगी। उत्तर कोरिया पर पाबंदी के प्रस्ताव के समर्थन के लिए चीन और रूस को धन्यवाद, लेकिन इससे भी कहीं ज्यादा करने की जरूरत है।
    हमारी धरती का एक बड़ा संकट कुछ अस्थिर देशों का एक छोटा समूह है- जो हर उस सिद्धांत का उल्लंघन करता है जिस पर संयुक्त राष्ट्र की बुनियाद है। वे न अपने नागरिकों का सम्मान करते हैं और न ही दूसरे देशों की संप्रभुता का।
    आतंकियों और चरमपंथियों ने ताकत जुटा ली है और वे पूरी धरती पर फैल गए हैं। अमरीका हमेशा पूरी दुनिया का, खास तौर से अपने सहयोगियों का अच्छा मित्र रहेगा। लेकिन अब हमारा और फायदा नहीं उठाया जा सकता या हमें एकतरफा समझौतों में नहीं धकेला जा सकता, जहां हमें रिटर्न में कुछ नहीं मिलता। जब तक मैं इस पद पर हूं मैं अमरीका के हित को सबसे ऊपर रखूंगा।
    ईरान से 2015 में हुआ परमाणु समझौता अमरीका के लिए शर्मिंदगी है। ईरान हिंसा निर्यात करने वाला आर्थिक तौर पर जर्जर और अस्थिर देश है। अमरीका अपनी इच्छा दूसरे देशों पर नहीं थोपना चाहता और उनकी संप्रभुता का सम्मान करना चाहता है।
    मुझे ताकत अपने पास रखने के लिए नहीं, बल्कि अमरीकी लोगों को ताकत देने के लिए चुना गया है। राष्ट्रपति के तौर पर मैं हमेशा अमरीका को पहले रखूंगा। जैसे आप लोगों को भी अपने देश को सबसे पहले रखना चाहिए।
    लोगों की जिंदगियां सुधारने के लिए राष्ट्र राज्य आज भी सबसे अच्छा जरिया है। यूक्रेन से लेकर दक्षिण चीन सागर तक हमें संप्रभुता पर आने वाली चुनौतियों को खारिज करना होगा। सीरिया में हम तनाव की स्थिति दूर करना चाहते हैं और एक ऐसे राजनीतिक हल पर पहुंचना चाहते है, जिसमें सीरियाई लोगों का सम्मान हो।
    वेनेजुएला की सरकार अगर अपने देशवासियों का दमन करती रही तो अमरीका आगे की कार्रवाई के लिए तैयार है। वहां लोकतंत्र की पूरी तरह बहाली और राजनीतिक आजादी होनी चाहिए। कुछ देश नरक में जा रहे हैं, लेकिन संयुक्त राष्ट्र इनमें से कुछ भयावह स्थितियों से उबरने में मदद कर सकता है। अमरीका संयुक्त राष्ट्र की फंडिंग का नाजायज बोझ उठाता है।  (बीबीसी)

     

    ...
  •  


  • मॉस्को, 20 सितंबर । अपनी मानवीय समझ की बदौलत 26 सितंबर 1983 को रूस के कर्नल स्तेनिस्लाव पेत्रोव ने पूरी दुनिया को परमाणु युद्ध के भीषण खतरे से बचाया था। उस वक्त पेत्रोव की उम्र 44 साल थी और वह रूस के एयर डिफेंस फोर्स में बतौर कर्नल तैनात थे। उनकी शिफ्ट खत्म होने में अभी कुछ वक्त बचा था जब रडार स्क्रीन पर अलॉर्म बजने लगा। मॉस्को के सीक्रिट कमांड सेंटर से अमरीका पर उन दिनों रूस नजर रखा करता था। 
    कंप्यूटर अलॉर्म पर 5 बैलिस्टिक मिसाइल अमेर आइकन बेस से लॉन्च होने की खबर आई। पेत्रोव ने उस दिन के बारे में बताया था, 15 सेकेंड के लिए हम पूरी तरह से शॉक की स्थिति में थे। उस वक्त हमें क्षण भर में फैसला लेना था कि अब अगला कदम क्या होना चाहिए। मेरे एक हाथ में फोन और दूसरे में इंटरकॉम था। सामने स्क्रीन पर इलेक्ट्रॉनिक मैप फ्लैश कर रहा था। उसी वक्त मैंने फैसला किया कि मिसाइल लॉन्च की यह सूचना गलत हो सकती है।
    इसी साल 19 मई को 79 साल की उम्र में दुनिया बचाने वाले के नाम से मशहूर कर्नल पेत्रोव ने संसार को अलविदा कह दिया। उनकी मौत के खबर की पुष्टि उनके बेटे ने की। उनकी मौत के बारे में दुनिया को काफी बाद में बेटे द्वारा पुष्टि करने पर ही पता चला। जीवन के आखिरी दिनों में पेत्रोव मॉस्को के पास गांव में अकेले ही जीवन बिता रहे थे। वह रूसी सरकार से मिलने वाली पेंशन पर आश्रित थे। 
    पेत्रोव उस वक्त स्टेशन इंचार्ज थे और उन पर सारी जिम्मेदारी थी। अपने फैसले के बारे में कहते हैं कि मैंने यह फैसला अपने अंदर की आवाज को सुनकर किया था। यह पूरी तरह से 50-50 वाला मामला था। इतिहासकारों का मानना है कि कर्नल पेत्रोव के ठंडे दिमाग और सूझबूझ से भरे फैसले ने पूरी दुनिया को भयानक तबाही से बचाया। 
    वॉशिंगटन पोस्ट को दिए अपने एक इंटरव्यू में कर्नल ने कहा था, जब लोग एक युद्ध की शुरुआत करते हैं तो यह सिर्फ 5 मिसाइलों के बीच ही नहीं रहता। उस वक्त बजे गलत अलॉर्म के बारे में बाद में पता चला कि यह मिसाइल लॉन्च के कारण सूरज की किरणों के प्रभाव से था। कर्नल पेत्रोव की इस समझदारी के बारे में दुनिया को 1998 में सोवियत मिसाइल डिफेंस के एक कमांडर की लिखी किताब के प्रकाशन के बाद पता चला।  (टाईम्स न्यूज)

     

    ...
  •  


  • समारा (रूस), 20 सितंबर । रूस में एक डॉक्टर की शर्मनाक करतूत सामने आई है। एक महिला की ब्रेस्ट सर्जरी करने के दौरान डॉक्टर ने उसका रेप किया। रेप के बाद अपने शर्मनाक कृत्य को सही ठहराते हुए डॉक्टर ने महिला पर आकर्षक दिखने का दोष भी मढ़ दिया। 
    31 साल की पीडि़त महिला ने बताया कि वह डॉक्टर के पास प्लास्टिक सर्जरी के लिए गई थी। महिला के अनुसार, रिकवरी के लिए मैं एक रूम में थी और सर्जरी प्रक्रिया के कारण बेहोशी सी हालत थी। सर्जन उस वक्त ही मेरे कमरे में आया और मेरे साथ घटिया हरकत की।
    पीडि़ता ने कहा- डॉक्टर ने मुझे चॉकलेट का डिब्बा थमाकर कहा कि तुम्हें अपनी इस हालत के लिए खुद को ही दोष देना चाहिए। तुम बहुत ज्यादा आकर्षक हो और तुम्हें सारा दोष इसलिए अपने पर लेना चाहिए। दो बच्चों के पिता डॉक्टर ने शुरुआत में आरोपों से इंकार किया लेकिन बाद में उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया। डॉक्टर को 6 साल की सजा सुनाई गई है। (डेली मेल)

    ...
  •  


  • न्यूयॉर्क, 19 सितंबर। अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी एवं सलाहकार इवांका ट्रंप ने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सत्र से इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात की। 
    इवांका ने सुषमा को करिश्माई विदेश मंत्री बताया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, मैं लंबे समय से भारत की कुशल एवं करिश्माई विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का सम्मान करती हूं। उनसे मिलना सम्मान की बात है। भारत में नवंबर में वैश्विक उद्यमिता शिखर सम्मेलन (जीईएस) में अमरीकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने जा रहीं इवांका ने दोनों देशों में महिला उद्यमिता एवं कार्यबल विकास पर चर्चा की। भारत और अमरीका 28 से 30 नवंबर तक हैदराबाद में जीईएस की सह-मेजबानी करेंगे। जीईएस विश्वभर में उभरते उद्यमियों, निवेशकों और व्यापारिक नेताओं की वार्षिक सभा है। 
    सुषमा स्वराज ने अमरीकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन और जापान के विदेश मंत्री तारो कोनो से भी मुलाकात की।   (भाषा)

    ...
  •  


  • इंग्लैंड, 19 सितंबर। स्कूली बच्चियों को अश्लील तस्वीरें भेजने के लिए फुसलाने के इरादे से इंटरनेट पर खुद को जस्टिन बीबर का हमशक्ल दिखाने वाले एक शख्स को इंग्लैंड में 15 साल की सजा सुनाई गई है।
    30 साल के इस शख्स का नाम योहान रामखिलावन है और इसने 14 यौन अपराध करने की बात स्वीकार कर ली है। इनमें एक छह साल की बच्ची का यौन शोषण भी शामिल है। रामखिलावन को स्टैफर्ड क्राउन कोर्ट ने सजा सुनाई।
    रामखिलावन ने इंटरनेट से एक किशोर की तस्वीर उठाई थी और उस तस्वीर को लड़कियों को फुसलाने के लिए बनाई गई फर्जी सोशल मीडिया प्रोफाइल्स में इस्तेमाल किया था।
    वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस ने कहा कि मॉरिशस में जन्मा रामखिलावन इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप, स्काइप और फेसबुक के माध्यम से 12 से 17 साल की उम्र की लड़कियों से बातचीत शुरू करता था। फिर वह बातों को अंतरंग विषयों की तरफ घुमाता था और फिर नग्न तस्वीरों की मांग करता था।
    कुछ पीडि़तों को तो कैमरे के सामने सेक्स से जुड़ी हरकतें करने के लिए भी मजबूर कर दिया गया था। उन्हें धमकी दी गई थी कि अगर ऐसा नहीं किया तो उनकी अश्लील तस्वीरों को परिजनों या दोस्तों को भेज दिया जाएगा।
    वेस्ट मिडलैंड्स पुलिस ने उस वक्त जांच शुरू की थी जब मैनचेस्टर में 12 साल की बच्ची को मेसेज भेजे जाने का मामला सामने आया था। आईपी ऐड्रेस को ट्रेस करते हुए पुलिस वॉलसल के एक घर तक जा पहुंची थी।
    आखिरकार रामखिलावन को मार्च में हर्ड्सफील्ड के विक्टोरिया लेन से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस को उसके यहां से सैकड़ों अश्लील तस्वीरें मिली हैं। यहीं से पता चला कि उसने कॉवेंट्री, वॉलशल, लैनार्क, लिवरपूल, सैंट आइव्स, शोरहैम-बाइ-सी और लंदन के ईस्ट हैम में भी बच्चों को शिकार बनाया है।
    कंप्यूटर की जांच में यह भी जानकारी मिली कि रामखिलावन ने न्यूजीलैंड, ब्राजील, यूएई और रूस में भी लड़कियों से संपर्क किया था। रामखिलावन ने शुरू में तो यौन शोषण और बच्चों की अश्लील तस्वीरें रखने जैसे अपराध करने से इंकार किया, मगर वुल्वरहैम्पटन क्राउन कोर्ट में मुकदमे के दौरान उसने अपराध स्वीकार कर लिए थे।  (बीबीसी)

     

    ...
  •  


  • बीजिंग, 19 सितंबर। सेक्स डॉल किराए पर देने वाली चीन की एक कंपनी ने आलोचना और विवादों के बीच ये सर्विस दूसरे दिन ही बंद कर दी है। टच नाम की कंपनी ने गुरुवार को बीजिंग में पांच तरह के सेक्स डॉल किराए पर देने की सेवा शुरू की थी, लेकिन शिकायतों और आलोचनाओं के बाद कंपनी को इस सेवा को बंद करने का फैसला करना पड़ा।
    चीनी सोशल मीडिया वीबो पर कंपनी ने लिखा है कि सेवा के नकारात्मक प्रभाव के लिए माफी मांगते हैं। कंपनी ने कहा है कि सेक्स डॉल अश्लील नहीं थे। वो आगे भी उन लोगों के लिए काम करती रहेगी जो सेक्स को पसंद करते हैं।
    कंपनी ने कहा कि सेवा दो दिनों तक चली और इस दौरान बहुत सारे लोगों ने इसमें दिलचस्पी जताई। बीबीसी को भेजे ईमेल में कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि ट्रायल के लिए हम लोगों ने दस सेक्स डॉल बनाए थे। कई लोगों ने सकारात्मक प्रतिक्रियाएं दी हैं।
    कंपनी ने लिखा है कि चीन में इसे चलाना बहुत मुश्किल है। पुलिस के साथ इस पर काफी विवाद हुए थे।
    चीनी मीडिया के मुताबिक कंपनी सेक्स डॉल का एक दिन का किराया करीब तीन हजार रुपए वसूलती थी। सेक्स डॉल चीनी, कोरियाई और रूसी महिला की तरह बनाए गए थे। एक डॉल तो फिल्मों की वंडर वूमन की तरह थी। कंपनी ने वीबो पर उन सभी लोगों को दोगुना भरपाई करने का वादा किया है, जिन्होंने सेवा बुक थी और उन्हें मिल नहीं पाई। जारी बयान में कंपनी ने कहा है कि वो सुरक्षित और स्वस्थ सेक्स को बढ़ावा देने के लिए काम करती रहेगी। सेक्स डॉल के अलावा कंपनी कई तरह के सेक्स टॉय भी बेचती है।  (बीबीसी)

    ...
  •  


  • लंदन, 18 सितंबर । लंदन की ट्यूब ट्रेन में हुए विस्फोट के सिलसिले में स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस की आतंकवाद विरोधी विंग ने एक और व्यक्ति को गिरफ्तार किया। इस विस्फोट में 30 लोग घायल हुए थे। ब्रिटेन के गृहमंत्री ने कहा कि एक और व्यक्ति की गिरफ्तारी बताती है कि हमलावर अकेला नहीं था।
    पुलिस ने बताया कि पश्चिमी लंदन के हाउंस्लो में अधिकारियों ने 21 साल के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया। इससे पहले बीते शनिवार की सुबह केंट पुलिस ने डोवर में 18 साल के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। दोनों संदिग्धों से दक्षिणी लंदन के पुलिस थाने में पूछताछ की जा रही है। गृहमंत्री ने टीवी पर एक बयान में कहा कि ब्रिटेन में खतरे के स्तर को आंकने वाले ज्वाइंट टेररिस्ट अनालिसिस सेंटर ने बहुत अधिक गंभीर से गंभीर कर दिया है। 
    इससे पहले रुड ने कहा था कि दूसरी गिरफ्तारी बताती है कि इस हमले को अंजाम देने वाला हमलावर अकेला नहीं था।
    मेट्रोपॉलिटन पुलिस के सीनियर अधिकारी नील बसु ने एक बयान में कहा कि मेट्रोपॉलिटन पुलिस और काउंटर टेररिज्म पॉलिसिंग नेटवर्क के उसके सहयोगी इस कायराना अपराध के लिए जिम्मेदार लोगों की शिनाख्त करने, उनका पता लगाने और उन्हें गिरफ्तार करने के लिए 24 घंटे काम कर रहे हैं।
    शुक्रवार को स्थानीय समयानुसार सुबह करीब आठ बजकर 20 मिनट पर दक्षिणी लंदन के अंडरग्राउंड पार्सन्स ग्रीन स्टेशन पर एक ट्यूब ट्रेन में हुए आईईडी विस्फोट में 30 लोग घायल हो गए थे। (एबीपी न्यूज/एजेंसी)

     

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 18 सितंबर। उत्तर कोरिया के दुस्साहसिक मिसाइल परीक्षणों के चलते कोरियाई प्रायद्वीप में युद्ध की आशंका के बीच भारत पर भी दबाव बढ़ता जा रहा है। वरिष्ठ राजनयिक सूत्रों के हवाले से अमरीका की ओर से भारत पर लगातार यह दबाव बनाया जा रहा है कि वह उत्तर कोरिया से सभी तरह के संबंध तोड़ दे।
    सूत्रों के मुताबिक पिछले हफ्ते ही जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे की भारत यात्रा के दौरान दोनों देशों के संयुक्त घोषणा पत्र में उत्तर कोरिया को संयुक्त चुनौती बताया गया है। इसमें उत्तर कोरिया से उसका परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम भी वापस लेने का आग्रह किया गया है। लेकिन इतने से अमरीकी पक्ष संतुष्ट नहीं है और पिछले कुछ महीने से लगातार वह भारत से आग्रह कर रहा है कि उत्तर कोरिया से नाता तोड़ ले।
    सूत्र बताते हैं कि आबे की भारत यात्रा से कुछ पहले भी अमरीका ने भारतीय पक्ष को अपनी मंशा से अवगत कराया था। दो महीने के भीतर दूसरी बार अमरीका की ओर से भारत को यह संदेश भेजा गया है। इससे पहले जुलाई में वरिष्ठ अमरीकी राजनयिक ने नई दिल्ली की यात्रा की थी। तब भी अमरीकी प्रशासन की ओर से उन्होंने भारत सरकार से ऐसा ही आग्रह किया था। साथ ही यह भी इच्छा जताई थी कि पूर्वी एशिया के संकट (उत्तर कोरिया की चुनौती) के समाधान की दिशा में भारत अपनी मजबूत और प्रभावी भूमिका निभाए।
    वैसे इस घटनाक्रम से जुड़े सूत्रों की मानें तो भारत भी उत्तर कोरिया से दूर होने का मन बना रहा है। और जरूरत पडऩे पर पूरब में सक्रिय भूमिका भी निभा सकता है। इसका एक सबसे अहम कारण पाकिस्तान भी बताया जाता है। जानकारों के मुताबिक उत्तर कोरिया को चोरी छिपे परमाणु और मिसाइल तकनीक पाकिस्तान ने ही बेची थी। इसमें पाकिस्तान के विवादास्पद परमाणु वैज्ञानिक एक्यू खान ने अहम भूमिका निभाई थी।  (द हिंदू)

     

    ...
  •  


  • वुसतुल्लाह खान
    पाकिस्तान से, 18 सितंबर । इस वक्त पाकिस्तान में मीडिया को कौमी असेंबली के हलका (निर्वाचन क्षेत्र) 120 लाहौर उपचुनाव का बुखार चढ़ा हुआ है। इसी चुनाव क्षेत्र ने नवाज शरीफ को तीन बार प्रधानमंत्री के सिंहासन तक पहुंचाया। इस बार उनकी पत्नी बेगम कुलसुम नवाज ने पाला मारा और तहरीक-ए-इंसाफ की उम्मीदवार यास्मिन राशिद को लगभग 15 हजार वोटों से हरा दिया।
    मगर इस चुनाव के नतीजों से भी ज्यादा अहम बात जिसकी तरफ मीडिया का ध्यान कम गया वो ये है कि मुस्लिम लीग नवाज और तहरीक-ए-इंसाफ के बाद तीसरे नंबर पर एक ऐसे निर्दलीय उम्मीदवार ने पांच हजार वोट लिए जिसे लश्कर-ए-तैयबा उर्फ जमात-उद-दावा के लीडर हाफिज मोहम्मद सईद का समर्थन हासिल है।
    जबकि आसिफ अली जरदारी की पार्टी को सिर्फ ढाई हजार वोट मिले। शेख मोहम्मद याकूब का चुनाव प्रचार जमात-उद-दावा के पेट से डेढ़ महीने पहले निकली मिल्ली मुस्लिम लीग के वर्कर्स ने किया। यूं समझिए कि जो ताल्लुक बीजेपी का आरएसएस से है वही ताल्लुक मिल्ली मुस्लिम लीग का हाफिज सईद की जमात उद दावा से है।
    मगर चूंकि मिल्ली मुस्लिम लीग अभी चुनाव आयोग में नामांकित नहीं, इसलिए उसके उम्मीदवार ने निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ा। मिल्ली मुस्लिम लीग ने चुनाव प्रचार में अच्छा-खासा पैसा खर्च किया।
    उसकी रैलियों में हाफिज सईद के पोस्टर भी नजर आए, हालांकि चुनाव आयोग ने सख्ती से मना किया है कि जिन लोगों पर चरमपंथ का आरोप है उनका नाम चुनाव प्रचार में इस्तेमाल नहीं हो सकता।
    खुद हाफिज सईद जनवरी से अपने घर में कैद हैं। मिल्ली मुस्लिम लीग का अपनी पैदाइश के चंद हफ्ते बाद ही चुनाव में हिस्सा लेना और तीसरे नंबर पर आना इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि जबसे राष्ट्रपति ट्रंप और बीजिंग में ब्रिक्स नेताओं की बैठक की तरफ से पाकिस्तान को कहा गया है कि वो अपने यहां ऐसे गिरोहों को रोके जिनपर इलाके में चरमपंथ फैलाने का आरोप है।
    तब से पाकिस्तानी सरकार में दो तरह की बहस चल रही है। सिविलियन हुकूमत चाहती है कि विदेश नीति में कड़ा बदलाव लाया जाए क्योंकि अब सिर्फ ये कहने से दुनिया मुतमइन नहीं होगी कि पाकिस्तान का अतिवादी संगठनों से कोई लेना-देना नहीं।
    दूसरी तरफ से ये दलील दी जाती है कि अगर अतिवादियों को राष्ट्र की राजनीतिक धारा में शामिल कर लिया जाए तो हम दुनिया से कह सकते हैं कि हमने इनलोगों को एक नया रास्ता सुझाया है जिसमें चरमपंथ की कोई गुंजाइश नहीं।
    पर मुश्किल ये है कि अगर कल के चरमपंथी आज के लोकतांत्रिक सियासत का हिस्सा अपने उसी नजरिए के साथ बनते हैं जिससे बाकी दुनिया चिंतित है तो ऐसी स्थिति में उन्हें मुख्यधारा में लाने का खुद देश को क्या लाभ होगा।
    एक जानेमाने टीकाकार खालिद अहमद का मानना है कि अगर हाफिज सईद कौमी सियासत का हिस्सा बनते हैं तो ऐसा नहीं होगा कि हाफिज साहब अपना अतिवादी नजरिया छोड़ देंगे।
    बल्कि इन जैसों के आने से देश की सियासत भी चरमपंथ के रास्ते पर चल सकती है। और तब तो हाफिज सईद के पीछे लाखों वोट भी होंगे। तब उन्हें कौन और कैसे कंट्रोल करेगा। ये तजुर्बा शेर की पीठ पे सवारी का जानलेवा शौक भी साबित हो सकता है। और ये नौबत भी आ सकती है कि सरकार अंतरराष्ट्रीय पाबंदियों से बचने के चक्कर में किसी खाई में न जा गिरे। (बीबीसी)

     

    ...
  •  


  • वाशिंगटन, 18 सितंबर। इस महीने की शुरुआत में आए चक्रवात इरमा के प्रभाव से कैरिबियाई द्वीप के लोग अभी उबर भी नहीं पाए हैं कि अब उन्हें चक्रवात मारिया का सामना करना पड़ेगा। मारिया 120 किलोमीटर की तेज हवाओं के साथ पूर्वी कैरिबियाई की ओर बढ़ रहा है। इसकी जानकारी अमरीकी राष्ट्रीय चक्रवात सेंटर (एनएचसी) ने दी है। कैरिबियाई द्वीप पर चक्रवात संबंधी चेतावनी जारी की गई है। यहां के लोग अभी भी इरमा के विध्वंस से उबर नहीं पाए हैं।
    एनएचसी ने कहा कि पहले यह चक्रवात श्रेणी वन में था, जो कि सफीर-सिम्पसन स्केल के पांच प्वांइट में सबसे नीचे है। यह अभी बारबाडोस से 225 किलोमीटर दूर उत्तर पूर्व में है। इसमें बताया गया है कि सोमवार की रात में मारिया का केंद्र लीवार्ड द्वीप में होगा तथा मंगलवार को यह उत्तर-पूर्वी कैरिबियाई समुद्र तक पहुंचेगा। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


  • वाशिंगटन, 18 सितंबर. अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन को रॉकेट मैन कहते हुए उनका मखौल उड़ाया है। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के बाद उत्तर कोरिया के लोगों द्वारा ईंधन लेने के लिए लगने वाली लंबी कतारों को लेकर भी व्यंग्य किया। ट्रंप ने रविवार को ट्वीट कर कहा कि मैंने बीती रात दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून से बात की। मैंने उनसे पूछा कि रॉकेट मैन कैसा है। उत्तर कोरिया में गैस लेने के लिए बड़ी-बड़ी कतारें लग रही हैं। बहुत बुरा है।
    एफे के मुताबिक, गैस लाइनों का उल्लेख पिछले सप्ताह संयुक्त राष्ट्र द्वारा उत्तर कोरिया पर लगाए गए नए प्रतिबंधों के संकेतक के रूप में किया गया है। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र ने उत्तर कोरिया में होने वाले पेट्रोल के आयात में कटौती कर दी थी। इसका देश की अर्थव्यवस्था पर हुए असर की अभी पुष्टि नहीं की गई है।
    इससे पहले रविवार को अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने उत्तर कोरिया पर दबाव बनाते हुए उसे चेताया कि अगर उसने परमाणु एवं बैलिस्टिक मिसाइल अभियान को खत्म नहीं किया तो उसे नष्ट कर दिया जाएगा। अमरीका और उसके सहयोगी देशों के अधिकारियों द्वारा प्योंगयांग को काबू में करने के तरीके खोजने के बीच, अमरीकी राष्ट्रपति मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगे और बैठक के इतर गुरुवार को जापान और दक्षिण कोरिया के अपने समकक्षों से मिलेंगे।
    संयुक्त राष्ट्र में वाशिंगटन की राजदूत निक्की हैले ने न्यूयार्क में आगामी बैठक से पहले दबाव बनाने का प्रयास किया और कहा कि अगर उत्तर कोरिया अमरीका या उसके सहयोगी देशों के लिए गंभीर खतरा पैदा करता है तो उत्तर कोरिया को नष्ट कर दिया जाएगा। (एजेंसियां)

    ...
  •  




Previous123456789...1314Next