सामान्य ज्ञान

पुलिस ने चोरों के अंतरराज्यीय गिरोह को किया गिरफ्तार




गाजियाबाद। कवि नगर पुलिस ने मुठभेड़ के बाद विद्युत तार चोर अंतरराज्यीय गिरोह के चार चोरों को दबोचा है। इनसे 950 मीटर तार, तार कटिंग के उपकरण, तमंचा और चाकू बरामद हुए हैं। शुक्रवार को एसएसपी दीपक कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि पकड़े गए चोरों में गिरोह सरगना फिरोज निवासी बाबूगढ़, मोहित चौधरी निवासी पिलखुवा, योगेंद्र निवासी याद नगर हापुड़ और छोटू उर्फ सुरेंद्र बीबीनगर बुलंदशहर है।

इन्होंने चोरी का तार स्वर्णजयंतीपुरम से मटियाला गांव जाने वाले रास्ते पर बनी पानी की टंकी के पास अर्द्घ निर्मित खंडहरनुमा भवन में छिपाया हुआ था, जिसे गुरुवार रात वाहन में भरकर बेचने की फिराक में थे।

मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने दबिश दी तो चोरों ने उन पर फायरिंग कर दी। जवाब में पुलिस ने भी फायरिंग की और घेराबंदी कर आरोपियों को दबोच लिया। इनकी निशानदेही पर विद्युत खंभों से काट कर चोरी किया हुआ 70 हजार रुपए कीमत का करीब 140 किलोग्राम एल्युमीनियम तार (950 मीटर) बरामद हुआ, जो इन्होंने गुलावठी बुलंदशहर, मुरादनगर, शामली, बागपत, मेरठ आदि स्थानों से चोरी किया था। इनके खिलाफ बुलंदशहर, गाजियाबाद, मेरठ और एटा में पहले भी केस दर्ज हैं। इसके अलावा एटा, बुलंदशहर और मेरठ से चारों पहले भी जेल गए हैं। एसएसपी ने बताया कि इनके खिलाफ एनएसए के तहत भी कार्रवाई की जाएगी।

साथ ही यह भी जांच की जा रही है कि विद्युत विभाग के कर्मचारी तो इनके साथ नहीं मिले हुए हैं। यह गिरोह नए-नए क्षेत्रों में चोरी करता था, जहां विद्युतीकरण हो रहा हो। रेकी करने के बाद वारदात करते थे। चोरी के बाद दोबारा उन स्थानों पर नहीं जाते थे।

यह लोग करंट चलती हुई लाइनों के तारों पर चेन और रस्सा फेंक कर शट डाउन कराते थे, इसके बाद खंभों पर चढ़ कर मोटे व असरदार उपकरणों से कनेक्शन को काटकर तारों को चोरी करते थे। गिरोह के अन्य सदस्य जो चोरी किए गए तारों को संभल, मेरठ और दिल्ली में ठिकाने लगाते हैं, उनकी तलाश की जा रही है।




Related Post

Comments